बीएफ सेक्सी दिखाइए बीएफ

छवि स्रोत,செக்ஸி ஹாட் வீடியோ

तस्वीर का शीर्षक ,

बीपी नंगे: बीएफ सेक्सी दिखाइए बीएफ, तब उनकी सास ने कहा- तूने बहुत अच्छा किया, तुझे ऐसा ही करना चाहिए था.

सेक्सी 2 सेक्सी सेक्सी सेक्सी

मिठाई का डिब्बा देते हुए मैंने रेखा को रिसेप्शन में आने के लिए धन्यवाद कहा. खंडोबा सेक्सीवो भलभला कर झड़ उठी और उसका गर्म गर्म पानी मेरे लंड को महसूस होने लगा था.

कुछ देर के बाद लंड ने चुत पर फ़तेह हासिल कर ली और काफी अन्दर घुस गया. भोजपुरी सेक्सी बीफदोस्तो, आपको मेरी यह दोस्त की मम्मी की चुदाई स्टोरी कैसी लगी मुझे इसके बारे में कमेंट बॉक्स में जरूर बताना.

पता नहीं मुझे क्या हुआ मैंने उसके लंड को मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया.बीएफ सेक्सी दिखाइए बीएफ: विक्रांत मेरी ब्रा के ऊपर से ही मेरी एक एक चूची को दबाते हुए चाटने लगा.

ललिता स्मृति की सगी बहन थी इसलिये ललिता को सेट करके स्मृति को चोदना आसमान के तारे तोड़ने जैसा था.मैंने पूछा- वो कैसे?तो उन्होंने बताया कि सास ने मुझसे फोन पर बात करते हुए देख लिया था लेकिन वो तब कुछ नहीं बोली थीं.

ब्लू पिक्चर सेक्सी मूव्ही - बीएफ सेक्सी दिखाइए बीएफ

मेरी गांड बहुत भारी है क्योंकि मेरे पति ने मेरी चूत से ज्यादामेरी गांड बजाईहै.कुछ देर बाद मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उसके पैरों को अपने कंधे पर रख लिया.

मेरी भूखी नजरों को देख कर गुड़िया बुआ ने भी अपना आंचल थोड़ा ढलका दिया था, जिससे मुझे उनके मम्मों की गहराई और भी अधिक उत्तेजित करने लगी थी. बीएफ सेक्सी दिखाइए बीएफ ये मुझे काफी बाद में पता लगा था कि उनके पति की उम्र उनसे काफी ज्यादा थी.

मेरे सामने बेड पर मेरी दीदी एकदम नंगी चुत खोले हुए नेहा से बात कर रही थीं.

बीएफ सेक्सी दिखाइए बीएफ?

मैंने उसी क्षण निर्णय ले लिया कि अब मैं भी किसी की परवाह नहीं करूंगी. मैं दो तीन मिनट तक बुआ के दोनों स्तनों को बारी बारी से चूसता और मसलता रहा. पर जब भी मेरे को मौका मिलता तो मैं उस फ्लर्ट जरूर करता।एक दिन मेरे घर में सब बाहर जा रहे थे और मैं घर में अकेला था.

बीच बीच में वो रुक कर मेरे होंठों को भी चूस रही थी।लगभग पन्द्रह मिनट तक वो मुझे उसी तरह चोदती रही. दो पल रूक कर उसने कहा- क्या सुभाष भईया … ये किस चुतिये की लुगाई को सरे बाजार … मेरा मतलब है सरे आम ठोक रहे हो?पीछे से एक आदमी ने कहा- अबे, वो चुतिया तेरे ही बगल में बैठा है. कभी एक जांघ फैला कर तो कभी सीधी लेट कर दोनों जांघें आधी उठा कर फैला लेती थी.

मैं अपने दोस्तों की मदद नहीं ले सकता हूं क्योंकि इससे तुम्हारी दीदी का करेक्टर डाउन होगा. और मैं घर जाते ही सबसे पहले उसे अपनी चूत में ले लूँ।राजेश जी ने मेरे कंधे को पकड़ कर हिलाया- ओ मैडम, कहाँ खो गई, क्या डिल्डो के सपने लेने लगी।मैं शर्मा गई. तो उस दिन सासू मां के साथ चुदाई होने के बाद अब मैं अपनी पत्नी को कम ही चोदता था.

दीदी इस समय बहुत अच्छा ब्लो-जॉब दे रही थीं, जिसमें वो बहुत सेक्सी लग रही थीं. तू इसको आगे से पकड़ ले।तो मैंने पकड़ ली।अब जब इस बार भैंसा चढ़ा तो पूरा लन्ड भैंस की चूत में डाल दिया.

लवली से मैंने पूछा- कितने लोगों को बुलाती है तुम्हारी मां?वो बोली- पहले जो मेरे साथ एक वो है और एक दूसरा है.

उसके बाद सलहज ने मुझसे अपनी चूत की प्यास कैसे बुझवायी?दोस्तो, आप सभी को मेरा प्रणाम.

कहां मैं जिया मेम को दूर से ही देख कर मुठ मार लिया करता था और उनको सिर्फ ख्यालों में ही सोच सकता था. अब तो कुछ भी हो जाये, तू कुछ देर के लिए मेरी बीवी है और मैं तेरे साथ जो चाहे वो कर सकता हूं. मैंने कहा- सेक्सी, ये बताओ कि कोई ड्रिंक है?उसने कहा- मिनी बार से ले लो!मैं उठा और तुरंत हॉर्स पावर ड्रिंक ली.

मैं समझ गई कि इसने मेरे गिलास में कोई उत्तेजना बढ़ाने वाली दवा डाली है. मैं उसके बगल में लेट गई और बांहों में सिर रख कर अपनी गर्म सांसें छोड़ने लगी. मैंने उससे सॉरी बोलते हुए एक कपड़े से लंड को पौंछा, तो वो मुस्कुराने लगी और जल्दी से खड़ी होकर मेरे गले लग गयी.

उसके बाद मैंने साधना के दोनों पैर अपने कंधे पर रखे और चुदाई करने लगा.

उसने कहा- क्या?मैं उठा, पैंट से गर्भ रोकने वाली गोली निकाली और उसे खिला दी। वो मान गयी. किसी दूसरे कमरे का नाम सुन कर मेरा दिमाग़ ठनका और मुझे समझ में आ गया कि उस दिन जब मैं शिकायत के बहाने से आया था, तब मुझे इस ऑफिस में कोई क्यों नहीं मिला था. मुझे भी सुमित के होंठों को चूसने में मजा आने लगा और मैं उसकी लार को अपने मुंह में खींचने लगी.

इतनी देर से चूत और गांड की चुदाई करवा रही थी, इतनी देर से कोई नहीं आया तो अब कैसे आ जायेगा?इतना बोल कर उसने मुझे फिर से अपने पास खींच लिया और मुझे अपने साथ चिपका कर लिटा लिया. दोनों कमरों के बीच का दरवाजा खोलकर मैं ललिता के कमरे में आ गया और दो घंटे में उसे दो बार चोदा. मुझे क्या परेशानी होगी भला? अगर प्रदीप ने मुझे पहले बता दिया होता तो मैं पहले ही आ जाता.

वो बोला- क्या हुआ?मैं बोली- तुम अपनी आंखें बंद करो, मुझे शर्म आ रही है.

सीमा- अच्छा, पहले तू ही बता दे कि तू कब शादी कर रहा है?(सीमा मेरे बारे में नहीं जानती थी कि मैं शादीशुदा हूं)मैं- जब तू करेगी तब करूंगा मैं!वैसे तो सीमा मुझसे रात के 10 बजे के बाद ही बात करती थी. मेरी बात सुनकर वो तीनों लाइन में खड़े हो गए और मैं शिबु का लंड छोड़ कर उन तीनों के पैंट निकालने लगी.

बीएफ सेक्सी दिखाइए बीएफ वीर्य निकलने के बाद मैं मां की चूत में ऐसे ही लंड दिये हुए ही उसकी छाती पर लेट गया. जीजा जी दीदी के होंठों को चूमने लगे और मैं दीदी की मस्त गांड को सहलाने लगा.

बीएफ सेक्सी दिखाइए बीएफ ये हिंदी की कामुक कहानिया कुछ महीने पहले की उस समय की है, जब मेरे चचेरे भाई की शादी तय हो गई थी. मुझे देख कर बोलीं- मैंने आपका नाम नाम तो पूछा ही नहीं … क्या है?मैंने उनको अपना नाम मनीष बोला और मैं उनकी अलमारी से सामान निकालने के लिए आगे बढ़ा.

जब नीरा घर में नहीं होती, और मेरा मन कर जाए तो मैं क्या करता हूँ?मैंने पूछा- क्या?वो उठ कर गए किचन में और वापिस आए.

हिंदीबियफ

उस दिन के बाद से हम दोनों मां के सामने चुदाई करते रहते थे और मां देख कर चली जाती थी. मैंने देखा कि मुझे इस रूप में देख कर रवि का लंड उसकी लोअर में ही अलग से दिखने लगा था. मुझे नीचे दी गयी आईडी पर ईमेल करें और कहानी के बारे में अपनी राय जरूर दें.

मैं दीदी की गोरी जांघ को सहलाने लगा, इस समय दीदी ने एक शॉर्ट और झीनी से टी-शर्ट पहनी हुई थी, जिसमें दीदी की ब्रा साफ़ दिख रही थी. अब भट्ठी पूरी तरह से तप रही थी, अपना भुट्टा रेखा की भट्ठी में भूनने के लिए मैं उठा और रेखा के ड्रेसिंग टेबल से क्रीम की शीशी लेकर मैं बेड पर आ गया. उनको मजा आया तो उन्होंने लंड को मुँह में अन्दर ले लिया और मजे से लंड चूसने लगीं.

अन्तर्वासना पर कई लोगों की आपबीती के रूप मेंगर्मागर्म सेक्स कहानियांपढ़कर मैं भी गर्म हो गया.

मेरा हाथ और ऊपर की ओर जाना चाहता था क्योंकि आखिरी मंजिल तो मौसी की चूत ही थी. मैं डर गया था कि वो डांटेंगी मगर उन्होंने कहा- चल उठ जा, मैं तेरा रूम साफ कर देती हूं, पता नहीं क्या क्या गिरा रखा है. भाभी के शब्दों से लग रहा था कि वो मेरी बात का मतलब समझ गयी है और अगर मैं गलत नहीं हूं तो पटाई में आ गयी है.

उन्होंने कहा- सुन तो ले … पहली ये बात किसी को भी पता नहीं चलना चाहिए … किसी को भी मतलब, किसी को भी. एक दो लड़कियों से मैंने बात भी की लेकिन उनकी चूत तक पहुंचने का सफर पूरा ही नहीं हो सका. मैंने कंडोम उठाया तो उसने मना कर दिया और बोली- आज मैं तुम्हारे प्यार को अंदर तक महसूस करना चाहती हूं।मैं लंड डालने की कोशिश करने लगा पर चूत इतनी गीली थी कि उसमें फिसल रहा था.

साथ ही मैं मन में यह भी सोच रही थी कि मैं ऐसे हवस में बह कर ये क्या कर रही हूं! मगर चुदने की ऐसी लालसा थी कि मैं सब कुछ पीछे छोड़ती जा रही थी. कुछ देर चूचियों को पीने के बाद मैं उनकी जांघों के पास घुटनों पर बैठ गया.

उसके बाद हम लोगों ने थोड़ी देर बातें की … फिर वापस से एक बार सेक्स किया. कॉलेज के टाइम में मेरे एक दोस्त मनीष ने दो साल तक मेरी गांड चोदी थी. फिर मैंने पिंकी को उल्टा किया और उसके बाल हैंड शॉवर चलाकर साफ करने लगा.

ये सब राज ही रहेगा और किसी के साथ करूंगी, तो रिस्क हमेशा बना रहेगा.

साथ ही रिया लम्बी लम्बी आहें भी भर रही थी, जो मुझे और उत्तेजित क़र रही थी. मैं जल्दी से अंदर वाले केबिन में घुस गया और फटाक से दरवाजा बंद कर लिया और एक लम्बी गहरी सांस ली. उस समय उसने स्कर्ट और टाईट टॉप पहना हुआ था, जिसमें से उसके चुचियां उभरी हुई दिख रही थीं.

मैंने उसे प्यार से समझाया और धीरे-धीरे उसको किस करते हुए उसके मम्मों को दबाते हुए उसे चुप कराया. मैंने उसके कान में कहा- माँ चूत देगी?वो अब बिल्कुल भी कुछ नहीं बोल रही थी.

क्योंकि अभी तक हम लोगों ने ओरल सेक्स नहीं किया था, वो इससे कुछ गंदा महसूस करती थी. शायद वो इससे पहले भी चुद चुकी थी इसलिए इतनी उतावली हो रही थी लंड लेने के लिए. उनकी बात सुनकर मैं हैरान तो नहीं था, लेकिन तब भी मेरे पसीने छूट गए थे.

ब्लू फिल्म हिंदी पिक्चर फिल्म

फिर मैंने उसे बाथरूम के स्टूल पर बैठा दिया और जैसे ही मैंने पोजीशन ले ली.

फिर मैंने मौसी की चूचियों को पीना शुरू कर दिया और मौसी के मुंह से आह्ह करके सिसकारी निकल गयी. अपने हाथ में मामी के हाथ ले लिए और उनके उनके गले पर जोर से चुंबन करने लगा. उन्होंने मुझे हटाते हुए कहा- क्या कर रहा है तू … हट जा … वो गंदी जगह है.

सुबह कोचिंग जाते हुए मैं उनके फ्लोर पर जाता तो आंटी नंगी होकर मेरे लिये चाय लेकर वेट करती थी. कुछ देर बाद बस चल पड़ी और हम बस में छत से लटकने वाली रॉड पकड़ कर खड़े हो गए. सेक्सी वीडियो हिंदी स्कूलउससे चूचियां चुसवाते हुए ऐसा लगने लगा था कि मेरी जवानी फिर से जवान हो रही है.

जब उसे मेरे तलाक के बारे में पता चला तो उसे बहुत दुख हुआ। उसने बताया कि वो रशिया में रहने लगा है और काम के चलते इंडिया में भी कम ही आता है. उसे चाय पिलाई और उसके साथ बैठ कर सोफ़ा पर बात करने लगा। मैं उसे अपने बचपन की फोटो दिखाने लगा और उससे बातें करने लगा.

वो अपनी गांड उठा कर लंड को चूत के अन्दर डालने की कोशिश कर रही थी और जोर जोर से ‘फ़क मीईई ईई ओह्ह्ह प्लीजज फ़क मीईईईइ हार्ड!’ चिल्लाने लगी. मैंने करिश्मा भाभी की ब्रा के ऊपर से उसके मम्मे बाहर निकाल कर चूसना शुरू कर दिए. पांच मिनट चली इस मालिश और मर्दन के उपरांत मेरा शरीर अकड़ सी खाने लगा और लगा कि जैसे सारी ऊर्जा बाहर फूटने वाली हो.

मगर फिर भी उन सबकी सुंदरता मेकअप से उत्पन्न थी लेकिन पारुल और साधना के शरीर की सुंदरता गजब की थी. तो इनकी पहली चुदाई यादगार बनाने की ज़िम्मेदारी मेरी हुई न!मैं फिर सीधे होकर लेट गई और बोली- चलो, फिर से खेल शुरु करते हैं।सब मुस्कुराए और उठकर बैठ गए।मैं भी उठी तो मनोहर मेरे सिरहाने जाकर घुटने पर बैठ गया।उसने कहा- अबकी बार ऊपर से लंड चूस।मेरे अगल बगल में सनी और विश्वजीत था। रोहन और पूरन, दोनों नीचे की ओर थे।मैं मुँह ऊपर करके मनोहर का लंड चूसने लगी. वो अपनी गांड को वो जोर जोर से आगे पीछे कर रही थी और लंड का स्वाद अपने अन्दर तक महसूस कर रही थी।वो जोर जोर से सिसकारी लेने लगी- आअह्ह ह्ह्ह ओह हह्ह याह्ह हह्ह सीईईई ईईई’ वो तेजी से हिलते हुए झड़ गयी.

थोड़ी ही देर में मैंने दुबारा अपना सारा माल मैडम के मुँह में डाल दिया.

उस नंगी किताब के कवर पर ही एक नंगी फोटो छपी थी और अंदर भी काफी नंगी फोटो थी. वह अपने बाल शीशे में देख देख कर काफी खुश हो रही थी और मैं उसको नंगा देख कर खुश था.

मोहित सिंह मुझसे मुखातिब हुए- मादरचोद तू कौन है … जो मेरी बेटी से अपना लंड चुसवा रहा है?मैं- म. मैंने अपनी ब्लैक ब्रा भी ले ली और तौलिया-साबुन लेकर नहाने के लिए चली गयी. बस में चढ़ने के बाद वो स्कार्फ वाली लड़की बस के आगे बने केबिन में उस आदमी के साथ चली गयी.

ये बात तब की है, जब मैं 19 साल का था और बारहवीं कक्षा में पढ़ता था, हमारे स्कूल में एक शिक्षिका हुआ करती थीं. मैंने भी बिना देर किए, अपने लंड पर थूक लगाया और भाभी की चुत पर लंड का सुपारा ऊपर नीचे रगड़ने लगा. दो मिनट बाद हमने पोजीशन बदल ली और अब मैं मनोहर के ऊपर बैठ कर लंड की सवारी कर रही थी.

बीएफ सेक्सी दिखाइए बीएफ मैंने कईयों को चोदा था लेकिन इस भाभी के साथ जो मजा आ रहा था वो किसी और के साथ अब तक नहीं आया था. निशा आहिस्ता आहिस्ता से आवाजें करने लगी- अम्म … स्स … अम्म … कर रही थी वो.

ડબલ સેક્સ

मैंने पिंकी को एक मेकअप का पैकेट भी लाकर दिया, जिसमें लिपस्टिक, नेल पॉलिश और सारे आइटम थे. रोहित के कंधों को मैंने कस कर पकड़ लिया और मेरी चूत में झटके लगने लगे. वह मेरी लाइफ का पहला और अभी तक का आखिरी किस्सा था लेकिन सच बताऊं तो अच्छा तो मुझे भी बहुत लगा था।उसके बाद न तो मेरे हस्बैंड ही कभी उस बारे में बात करते हैं और न ही कभी मैंने ही उस तरह की कोई इच्छा जाहिर की है.

हमारे मुहल्ले में रहने वाले मीतेश का लिफाफा खोला तो मैं दंग रह गया. आंटी कुछ भी नहीं बोल रही थीं … वो बस आंह आह … करके बेड पर पड़े मज़े ले रही थीं. इंडियन देसी सेक्सी वीडियो फिल्मअमिता उठ ही रही थी कि अगले ने कह दिया- लेटी रह, मुझे भी तेरी गांड ही मारनी है.

उस रात पापा ने मालिश करवाते वक्त लवली से कहा कि कमर के नीचे दर्द हो रहा है.

दूसरों की कहानी पढ़ पढ़ कर बहुत मूठ मारी है। मैं भी सोच रहा था बहुत टाइम से कि अपनी भी चूत चुदाई की कहानी सब तक पहुँचाऊं।वैसे मेरा नाम शुभ है और मैं बरेली का रहने वाला हूं. मैंने भाभी के दोनों पैरों को अपने कंधे पर ले लिया और उनकी चुत को चाटना चालू किया.

किस करने के बाद मैंने उनको छोड़ा नहीं, बस यूं ही उनकी तरफ देखने लगा. फिर उसने मेरी चूत को काफी देर तक चूसा और मेरी टांगों को चौड़ी करके मेरी चूत में अपना लंड पेल दिया. जब मैंने आंखें खोलीं तो पाया कि पीछे एक 50-55 साल का बुड्ढा खड़ा हुआ अपने लंड को निकाल कर हिला रहा था.

मैंने कहा- तो रघु से क्यों मरवा रही थी?मां- वो तो जल्दी झड़ जाता है.

पापा की हालत पहले से ज्यादा कमजोर हो गयी थी इसलिए समाचार सुनकर एक बार मिल आयी।दूसरा महीना लगते ही हम मौसा संग फिर एक सप्ताह के लिए भोपाल गए. वहीं दूसरी तरफ दीदी का पंकज से चुदना और हम दोनों के बीच में ये भाई-बहन का रिश्ता। दिमाग की दही हो रही थी. उसने मुझे अलग-अलग पोजीशन में चोदा।सुहागरात की चुदाई के बाद न जाने कब हमारी आँख लग गई।सुबह सूरज की चमकती रोशनी से मेरी आँख खुली। दिन निकल आया था.

भारतीय सेक्सी व्हिडिओ दाखवाक्योंकि घर वालों को मेरी आदतें मालूम थीं कि मैं काफी लड़कीबाज किस्म का हूं, इसलिए उन्होंने इस बात पर विशेष ध्यान दिया था. जैसे ही मां घोड़ी बनी तो उस आदमी ने माँ के चूतड़ों पर अपनी बेल्ट मारनी शुरू कर दी.

जंगल एक्स

सुभाष बोला- तो हरामखोर तू मेरे कमरे में क्या कर रहा है?उसके दोनों दोस्त जोर जोर से हंसने लगे. चूंकि सर और मैडम की आशिकी के चर्चे मेरे स्कूल में दाखिला लेने से पहले से ही चले आ रहे थे. मैं देखना चाहता था कि परमानन्द मिलने पर वो कैसी हरकतें करती है, कैसी आवाजें करती है.

मैंने लंड निकाला, तो अगले ही पल वो घोड़ी बन गईं और पीछे से चुदाई करने का इशारा करने लगीं. उन्होंने लम्बी सांस भरते हुए कहा- आह … एक तू ही है … जिसे मैं इतनी सुन्दर लगती हूँ … एक मेरे शौहर हैं, जो मेरी तरफ ध्यान ही नहीं देते हैं. (आपके लिए सब हाजिर है)मेरे मैसेज का रिप्लाई भाभी ने दिल वाली इमोजी के साथ किया.

मैं भी आवाज करके उसकी चूत चाटने लगा और उसके पैरों को अपनी पीठ पर करके उसे हवा में उठा कर उसकी चूत चूसने लगा. मेरे झड़ने के बाद हरि ने मुझे एक पैग पिलाया, जिससे मुझे राहत मिल गई. मेरा मन तो बहुत था कि मैं मेम की गांड भी चोद दूं लेकिन मैं सर के सामने कहने में हिचक रहा था इसलिए मैं चुप ही रहा.

पर लंड निकालते ही उसने फिर अपना लंड पूरी ताकत से अंदर डाल दिया।अब मेरी हालत और बुरी हो गई। मेरी आँखों से आँसू आ गए।उसने फिर तीन-चार बार ऐसा किया. मेरे शहर आने के पीछे भी मां का मेरी मौसी पर दोस्त वाला भरोसा ही था.

लेकिन भैंसे की पकड़ मजबूत थी तो इधर उधर नहीं होने दिया।तभी मोसी बोली- हाँ इस बार गया पूरा लौड़ा!मैंने देखा कि भैंसे का लन्ड अभी भी लटक रहा था.

जब मेरा माल निकलने को हो गया तो उसने अपने किसी भी छेद में निकालने से मना कर दिया. सेक्सी बुर चुदाई कहानीअगर इतनी प्यास थी तो मुझे बोल दिया होता?वो बोली- कोई भी मां अपने बेटे के साथ सेक्स संबंध नहीं बना सकती है. xxx मराठी सेक्सीवो अपनी जीभ मेरे मुँह में डालकर हिलाने लगीं … मैं भी जीभ से जीभ रगड़ने लगा. धक्के दे देकर मैंने पूरा लंड अंदर घुसा दिया और पूरा लंड उनकी बड़ी सी गांड में चला गया।उसके बाद मैं लंड को गांड में चला कर गांड चुदाई करने लगा.

उनके चूचे एकदम बाहर की ओर निकले हुए थे, कम से कम 36 इंच की चूचियां तो होंगी ही… भाभी की पतली कमर थी और सबसे अच्छी तो उनकी गांड 42 इंच के आस पास की रही होगी.

यदि घर पर भी मौका मिलता है तो हम भाई बहन का सेक्स का अवसर नहीं छोड़ते हैं. मेरे लंड का साइज 7 इंच है और मोटाई में मेरा लौड़ा खड़ा होने के 3 इंच मोटा हो जाता है. उसके बाद दीदी ने मेरे लंड को मुँह में ले लिया और दो मिनट तक चूसती रहीं.

मैंने दूसरे दिन पीयूष को फोन किया और बोला- मुझे कुछ पेपर्स पर आंटी के साइन चाहिए. लवली, मैं और पापा, हम तीनों भी रात भर आपस में चुदाई का मजा लेते रहे. मैं देखने में बहुत सुंदर और आकर्षक हूं क्योंकि मैं पिछले 5 साल से जिम जा रहा हूं.

सेक्स वीडियो एचडीxxx

रेशमा- ऐसा तो बस आपको लगता है … मेरे पति मुझे पर जरा भी भी ध्यान नहीं देते हैं. उसके बालों में डाई लगने से और हाथों में नेल पॉलिश लगने से वो बहुत मस्त लगने लगी थी … बिल्कुल पोर्न स्टार्स की तरह. मौसा ने मेरी चूत में जीभ दे दी और आवेश में आकर उसको जोर जोर से खींचते हुए काटने लगे.

ऐसा मजा तो मुझे कभी किसी चीज में नहीं मिला था जितना पापा मेरा लंड चूसते हुए दे रहे थे.

मैं ये देख रहा था कि आंटी की नज़रें मेरे पजामे पर मेरे लौड़े पर ही जमी थीं.

मैं अब उनके काफी करीब था और अंदर से आने वाली मुझे उनकी बातें भी सुनाई दे रही थी. ब्रा निकालते ही वो ऊपर से नीचे तक पूरी नंगी हो गयी और मैंने जोर से लंड को रगड़ डाला और मेरा पानी निकल गया. प्राचीन सेक्सकोशिश मैंने पूरी की है कि आपको सारी फीलिंग्स का मजा मिला हो लेकिन फिर भी रियल में करने में बहुत अंतर होता है.

ये कह कर मैंने हाथ में लिया लट्ठ उसे डराने के लिए बिस्तर पर दे कर मारा तो वो कहने लगी- नहीं राहुल, नहीं, मैं तेरी माँ हूँ. फिर मैंने उसे गोद में उठाया और जानबूझकर उसका एक हाथ अपनी पैंट के पास छोड़ा. उसकी चूत एकदम बहुत ज्यादा गर्म हो गयी जो मुझे अपने लंड पर अलग से महसूस हुआ.

मेरे मुंह में पेशाब भरने के बाद उन्होंने मेरे मुंह को बंद कर दिया और मुझे अंदर पीने को कहा. फिर मैंने सुमित से हां कह दी और बोली कि दो दिन के बाद मैं तुम्हारे रूम पर आऊंगी.

मैं कुछ कहता उससे पहले वह घुटने पर होकर घोड़ी बन गई।तो मैंने पूछा – तुम्हें कैसे पता मुझे यही पोज चाहिये?पूजा- ज्यादातर मर्दों को डॉगी स्टाइल पसंद होती है। चलो रुको मत, बजाओ मेरी चूत का बाजा।मैंने बिना वक्त गंवाए पीछे से उसकी चूत में लंड डाल दिया। अब मैंने झटके शुरु कर दिए। मैंने उसकी कमर को कस कर पकड़ा और चोदने लगा.

जब मैंने रिसेप्शन रूम की ओर देखा तो पाया कि उन दो लड़कों में से एक जाग रहा था और मुझे ही देख रहा था. जिया और आकाश के कमरे का नजारा-आकाश अपने रूम में गया तो उस वक्त जिया बाथरूम में नहा रही थी. मेरे मुंह से सीत्कार निकल पड़े- ओह माँ … मर गयी … आह्ह।ऐसा लग रहा था जैसे कि चुदाई का आनन्द मिल रहा है चूत में.

सेक्सी फोटो औरत अब बस इंतजार था कि मम्मी और पट जाये तो पूरा घर ही चुदाईमय माहौल का हो जायेगा. ये सब मुझे पागल कर रहे थे। वो मेरी जांघों से होता हुआ मेरे पैरों तक पहुँच गया और मेरे पैरों की उँगलियाँ चूसने लगा।फिर वो मेरे जांघों को सहलाने लगा और फिर मेरी टाँगों को खोल कर मेरी चूत के आसपास चूमने लगा और पैंटी के ऊपर से ही मेरी चूत चाटने लगा।मेरी पैंटी पहले से ही गीली हो चुकी थी।फिर उसने मेरी पैंटी भी उतार दी और मेरी चूत पर उँगलियाँ टहलाने लगा.

बताइये क्या हाल चाल हैं आपके?भाभी बोली- मैं तो अच्छी हूं, तुम बताओ?मैंने सीधा बोला- नंगा लेटा हुआ हूं मैं तो, आपको याद करके मुठ मार रहा हूं. क्यों न मौसी के जिस्म को नजदीक से देख लूं?मैं उठ कर दूसरी ओर चला गया और मौसी के बगल में जाकर लेट गया. कहानी पर कमेंट्स में भी बतायें कि आपको कहानी में कैसा मजा आ रहा है.

हिंदी सेक्स वीडियो ब्लू

कुछ देर के बाद दीदी का बदन अकड़ गया और उसकी चूत ने ढेर सारा गर्म गर्म पानी छोड़ते हुए मेरे लंड को पूरा अपनी चूत के रस में भिगो दिया. मैंने उनसे पूछा- आंटी, आप पीयूष की शादी कब कर रही हैं?आंटी ने बोला- हां, उसकी बात तो फाइनल हो ही गई है. अगर सिग्नल क्लियर हो तो पहले मैं निकलूंगा और उसके बाद मेरे जाने के दो मिनट बाद तुम बाहर आना.

दो मिनट बाद माँ ने रघु को करथल देकर सीधा किया और उसका कच्छा नीचे खींच दिया. मैं आपको उन भाभी के बारे में क्या बताऊं … बड़ी ही मस्त माल दिख रही थीं.

लेकिन उसी समय मौसा जी ने मेरी नजरों को बचाते हुए मामी जी को एक आंख दबा दी.

जब भी मैं अपनी बॉडी पर मसाज करता हूँ तो मेरा लंड भी खड़ा हो जाता है. वहां पर एक रिक्शावाले के साथ में मजाक मस्ती करने लगी और बातों बातों में मेरी चूत की प्यास जाग गयी. एक दिन की बात है कि मेरा परिवार हैदराबाद घूमने का प्लान बना रहा था.

तुम जो कहोगे मैं वो करने के लिए तैयार हूं लेकिन ये बात किसी को पता नहीं लगनी चाहिए, प्लीज।मैंने जेब में से लाइटर निकल कर जलाया तो मेरी नजर सरिता दीदी पर पड़ी. लेकिन आपके घर पर तो आप अकेले ही हो … तो आप इन्हें कार से निकाल कर अन्दर कैसे रखोगी?मेरी ये बात सुनकर आंटी बोलीं- हां ये तो है … क्या तुम मेरे साथ मेरे घर तक चल चलोगे? मैं तुम्हें वापस छोड़ने आ जाऊँगी. कुछ ही देर में आंटी ने अपनी चूत का पूरा रस मेरे मुँह में गिरा दिया और मैं उनकी चुत का सब पानी पी गया.

कोमल दीदी उसकी बात सुनकर हंसने लगीं और बोलीं- ओके … मोनिका दरवाजा लॉक कर दो, फिर मजे करते हैं.

बीएफ सेक्सी दिखाइए बीएफ: मैंने कुछ देर की चुदाई के बाद लंड खींचा और उसको डॉगी स्टाइल में होने को बोला. मेरी मां की गांड को उन दोनों ने मिल कर मार मार कर टमाटर से भी ज्यादा लाल कर दिया था.

मैं यहां पर न तो भैया का नाम बता सकता हूं और न ही भाभी का नाम बता सकता हूं. मैं बोला- दीदी, राधिका के बारे मैं बात करके मूड खराब मत करना प्लीज!कोमल दीदी ने कहा- यार वो समझती ही नहीं … तो उसकी बात करके भी क्या फायदा!मोनिका उठ कर बैठ गई थी. जब मैंने उसके पेट पर किस करते हुए उसके नीचे छेद पर हाथ लगाया, तो देखा कि उसकी चुत पूरी गीली हो चुकी थी.

और तुम्हारा जो पीछे वाला हिस्सा है उसका तो कोई भी दीवाना हो सकता है.

पति ने भी लगभग 15 मिनट की पारी खेली और फिर मेरे जिस्म का भोग लगा कर प्रसाद के रूप में मेरी चूत में अपना वीर्य भर दिया. इतना बोल कर उसने एक धक्का लगाया और मेरी आह्ह करके चीख निकल निकल गयी. मैंने लंड पेलते हुए कहा- हां चाची कभी नहीं जाऊंगा …मैं जोर जोर से चूत में लंड के धक्के देता रहा.