डर्टी बीएफ

छवि स्रोत,चूत चुदाई सेक्स

तस्वीर का शीर्षक ,

वीडियो भेजो सेक्सी फिल्म: डर्टी बीएफ, इस बार मैंने उन्हें अपनी गोद में उठाया और दीवार के सहारे लगा कर चोदा, इस तरह से चूत चुदाई करना मेरी फेवरिट पोज़िशन है.

सैक्स vidio

फिर थोड़ी देर बाद वह मेरे सारे कपड़े खोल कर मेरे लंड को मुँह में लेने लगी और लॉलीपॉप की तरह लंड चूसने लगी. वीडियो फिल्म ब्लू पिक्चरफिर हम आइडिया सोचने लगे और मेरा आइडिया यह था कि मैंने उनको कहा- आप लेट जाओ!और मैं किचन में जाकर फ़्रिज़ से आइस क्रीम ले आया और उनको लेटा कर आइस क्रीम उनके बूब्ज पे और चूत पे रख दी, वो इतनी ठंडी थी कि उनको पता नहीं क्या होने लगा कि वो बेड की चादर को अपने हाथों से नोचने लगी.

इधर मैंने ज्योति की पैंटी उतार दी और मैं ज्योति की चूत की तरफ आ गया. रानी की सेक्सी वीडियोफिर मेरे पूछने पे पता चला कि दीदी के पति कनाडा में जॉब करते हैं और उनको गए लगभग डेढ़ साल हो गए हैं.

राज ने दरवाजा खोला, वो बाहर निकला, बोला- यार तुम? मधु कहाँ है?मैं हैरानी से बोली- मधु यहाँ नहीं आयी? मैं उसे ही ढूँढती हुई यहाँ आयी हूँ.डर्टी बीएफ: मैंने देखा कि दरवाजे में जरा सी झिरी थी, उसमें से देखा तो मॉम एकदम नंगी होकर फव्वारे के नीचे बैठी हुई अपनी चूत में उंगली कर रही थीं.

मैंने भाभी की टांगों की और बैठ कर टांगों को थोड़ा और खोला और थोड़ा मोड़ कर लण्ड के सुपारे को चूत के छेद पर टिकाया.उनकी चूचियों का मैं इतना बड़ा दीवाना था कि जिस दिन वो आतीं, उस दिन मुझे मुठ मारनी पड़ती थी.

सेक्सी हिंदी इंग्लिश - डर्टी बीएफ

लालजी की यह बात सुनकर मैं खुश हो गई और सोचा ये तो पहले से ही लगता है कि पट गया है.मैंने अपना लंड छोटी चाची की चुत से निकाल के दोनों के सामने कर दिया और झुक कर बड़ी चाची की चुत के रस को चाटने लगा.

उन दोनों की एज हो गई थी, तो वे लोग फ्लैट से ज्यादा बाहर भी नहीं निकलते थे. डर्टी बीएफ प्रेरणा मुझे घूरे जा रही पी और साथ में कातिलाना स्माइल भी दे रही थी.

अब आर्थर ने पोज़ बदलने का निश्चय किया, उसने हम पति-पत्नी को नीचे की ओर खिसकने को कहा और स्वयं बेड से नीचे उतर गया.

डर्टी बीएफ?

उसके बाद मैं उसके ऊपर आया और अपने हाथ से लंड को चूत के द्वार पर टिका कर अंदर धकेल दिया और धकापेल चोदने लगा. मेरी बात सुन कर वो कुछ उदास सी हो गईं और उसी बीच आगे बात बढ़ती कि उनकी सास की आवाज आ गई तो भाभी को जाना पड़ा. गहनों वाले संदूक में ताला बंद किया और बाहर आकर रूम को भी लॉक कर दिया.

तब उसने बताया कि कम्पनी लॉ बोर्ड ने किसी ऑफिसर को कुछ छानबीन करने के लिए कहा हुआ है. अपने ऑफिस से मैं छह साढ़े छह तक घर पर आता था और मेरा बेटा अंकुश करीब 7 बजे घर आता था।तो हुआ यों कि लगभग छः महीने पूर्व एक दिन मैं अपने दफ्तर से दोपहर तीन बजे घर आ गया. उसके पिता जी एक सरकारी विभाग में बहुत बड़े अधिकारी हैं और वो लखनऊ में हमारे घर में ही किराए पे रहते थे.

वैसे शहर में मेरे रिश्तेदार रहते थे, पर पापा नहीं चाहते थे कि मैं वहां जाऊं, इसलिए हॉस्टल में ही रखा. मैंने उधर से बाहर आ कर अपने लिए जगह की व्यवस्था की और रात का इन्तजार करने लगा. फिर मैंने अपने आपको उससे छुड़ाते हुए कहा- अगर किसी ने देख लिया तो गड़बड़ हो जाएगी.

मैंने उधर से बाहर आ कर अपने लिए जगह की व्यवस्था की और रात का इन्तजार करने लगा. मेरी सेक्सी कहानी में अभी तक आपने पढ़ा कि मैंने अपनी बहन और भी को सेक्स करते देखा तो वे दोनों मुझे समझाने लगे कि वे क्या कर रहे थे.

!तब उस आदमी ने अपनी पकड़ को थोड़ा ढीली कर दी और आराम आराम से मॉम के चुचों को मसलने लगा.

मेरे लण्ड को हाथ में पकड़ कर बोली- राज! तुम तो वाकई में मर्द हो, इतना बड़ा हथियार.

आपको कैसी लगी मेरी कहानी, प्लीज मुझे मेल कर के बतायें, मैं उम्मीद करती हूं कि मेरी पहली कहानी आपको पसंद आयेगी।आपकी अपनी साथी[emailprotected]. जब बोबों से मेरा मन भरा तो मैंने उनकी पेंटी उतारी और उनकी टांगों को अपने दोनों हाथों से फैलाकर उनकी योनि के होंठों पर अपने होंठ रखे और अपने मुंह से उनकी योनि को चोदने लगा. बेटी पूजा, अब हम किसी दूसरे स्टाइल से चोदते हैं!”पूजा बोली- अब मैं आपके ऊपर चढ़ कर आपको चोदूँगी.

मेरी उम्र 19 साल की है, पर मेरे दुबले शरीर के कारण कोई भी लड़की मुझे घास नहीं डालती थी. जैसे ही उन्होंने मुझे देखा तो वो हड़बड़ा गईं और अपने आपको वॉशरूम के गेट के पीछे छुपा लिया. इस तरह मैं उसकी चूत में जड़ तक अपने लंड को डालता और फिर से निकाल लेता।थोड़ी देर बाद जब उसका निकलने वाला हुआ तो आरुषि ने मुझे जोर से पकड़ पकड़ लिया और अपने नाखून मेरी कमर में गड़ाने लगी.

वे बोली- राज! बात ये है कि हिमानी के पापा तो बहुत बिजी रहते हैं और मैं घर में बोर होती हूँ, तुम मुझे कुछ कंपनी दे सकते हो?मैंने पूछा- भाभी! जैसा आप कहेंगी, मैं करूँगा.

पद्मिनी को आँखों को खोलना पड़ा, जब उसने सुना कि उसका बापू कितना तड़प रहा है. मुझे बुखार था और होटल में एसी चल रहा था इसलिए मेरा शरीर कांपने लगा. इतनी ही देर में ही घर की घंटी बजी और वो एकदम से उठ गयी और कहती- काम वाली आ गयी!मैंने कहा- अब?तो कहने लगी- अब गेट खोलना ज़रूरी है, ना कि अभी सेक्स करना!मैंने कहा- ठीक है!और हम दोनों सास जवाँई अलग हो गये और वो जाकर गेट खोलने लगी.

अब मेरे सामने उसकी नाजुक, मुलायम चुत खुली पड़ी थी, मुझे उसके दीदार हो गए थे. भाभी ने मेरे सर को अपनी चूचियों की तरफ खींचा तो मैंने उनका एक दूध अपने मुँह में भर लिया और चूसने लगा. दस मिनट बाद लंड निकाल के देखा तो उस पर खून के थोड़े से कतरे लगे हुए थे.

इतनी रात में उनका वहाँ से आना ठीक नहीं, तो प्लीज़ तुम उसके घर चले जाओ.

इस बार अलका ने अपने होंठ थोड़े खोल दिए और मैंने जीभ उसके मुंह में सरका दी. अन्तर्वासना के प्रबुद्ध पाठको, आप मेरी मदद करें, आप ही मुझे बतायें कि मैं क्या करूँ?मैं अब 19 का होने वाला हूँ और वो 21 की हो गई है पर वो आज भी पहले जैसी ही है और मैं थोड़ा बड़ा हो गया हूं.

डर्टी बीएफ एक बार मैंने आपको पापा से चुदते हुए देखा था, आपका जिस्म बहुत खूबसूरत है. जब मैं हाई स्कूल का पेपर खत्म करके अपने घर पर ही गर्मी की छुट्टी बिता रहा था.

डर्टी बीएफ उनकी मादकता से भरे नितम्बों अर्थात चूतड़ों की गोलाई मुझे इतना अधिक आकर्षित करती है कि बस पूछो ही मत. उनसे चुदाई करवा लोगी?मैं बोली- मुझे तो दो से चुदवाने का मन तो पहले से ही था.

जब मुझे मॉम नहीं दिखाई दीं, तो मैंने ध्यान दिया कि बाथरूम से पानी गिरने की आवाज आ रही थी.

அம்மா மகன் செஸ் விதேஒஸ்

मेरी कहानी कोई भी मनघड़न्त नहीं होती, मगर पाठकों की रूचि के अनुसार उसमें कुछ ना कुछ मसाला मिलावट करनी ही होती है. अपना रस किधर निकालूँ?उन्होंने कहा कि उनकी चुत प्यासी है उसी में झड़ जा. कहां गायब हो गए थे? तुमको ढूँढने मैं रोज उस दुकान पर जाती थी कि शायद तुम दिख जाओ.

ने आपने पढ़ा कि पुलिस वाली दो सहेलियों ने मुझे अपने पास ही रख लिया था और मेरा इस्तेमाल चूत गांड चुदाई के लिए करती थी. चूत पर हाथ लगाया तो पूरी गीली हो रही थी, जिससे उसकी पैंटी भी गीली हो रही थी. आह कितनी गरम और गीली चुत थी, मैंने उंगली को निकाला और उस पर लगे पानी को अपने मुँह में लेकर चूस लिया.

उसे कहीं ना कहीं दिल में लग रहा था कि आख़िर वो उसका बेटा है और उसकी देखभाल करेगा.

फिर मैंने मम्मी को बताया कि गाड़ी गिर गई थी और गाड़ी बनवाने में लेट हो गया. उसके बाद हम दोनों दुकान पर गए और दुकान में हिसाब का काम करने लगे।आप सब मुझे फीडबैक दीजिये और बतायें कि मेरी पहली चुदाई की कहानी आप सबको कैसी लगी।[emailprotected]. पापा ने मुझे पूरी नंगी कर दिया और बोले- आज से 13 दिन तक तुम कोई भी कपड़ा नहीं पहनोगी और मेरी रखैल बनकर रहोगी.

मेरा नाम नेहा है, मेरी हाइट भी ठीक है और मैं भी जवानी के दौर में हूँ। मैं गाँव में रही हूँ लेकिन मेरे घर वाले शहर में रहने लगे क्यूंकि हम लोगों का घर शहर में हमारे पापा जी ने ख़रीदा और हम शहर में रहने चले गए।मैं शहर में गयी तो मुझे पता चला कि यहाँ तो बहुत लोग झूठे हैं और झूठे वादे भी करते हैं।मेरी बहुत सारी सहेलियां भी बन गयी जो मेरी पड़ोसी थी. बेटी पूजा, अब हम किसी दूसरे स्टाइल से चोदते हैं!”पूजा बोली- अब मैं आपके ऊपर चढ़ कर आपको चोदूँगी. मेरी इस हरकत से उनकी जोर से सिसकारी निकल गई और काँपती हुए आवाज में भाभी बोल उठीं- आह.

मेरे शरीर का ऊपरी हिस्सा उसी की तरह आवरणरहित था। मैंने हम दोनों के दूध की तुलना की. नीलू बोली- सिर्फ मम्मे ही नहीं, पूरे शरीर पर लगाने से निखार आ जाता है.

मैं पार्क के हनुमान मंदिर वाले गेट पर पहुंचकर उनका इंतज़ार करने लगा. अचानक मेरे दिमाग में एक शानदार आइडिया आया… मैं अपना सांवला लंड अपनी पत्नी की गांड से बाहर निकाल कर उसकी आर्थर द्वारा चोदी जा रही चूत में घुसाने का प्रयत्न करने लगा. रोकने की लाख कोशिश करने के बाद भी आंसू गिरने लगे। किसी तरह रूमाल की तहों की नीचे मुंह छिपाता हुआ उसकी गली से बाहर निकल आया… बहुत रोका लेकिन अंदर से दिल रो रहा था। इतना बड़ा धोखा… अगर उसे यही सब करना था तो मेरे साथ रिलेशन में आया ही क्यों… दिल टूट गया मेरा…रोड पर चलते हुए आंसू पौंछता हुआ बस चला जा रहा था… क्या कमी रह गई थी मेरे प्यार में जो उसने मेरे साथ ऐसा किया?कहानी जारी रहेगी.

फिर मैंने उसको उठाकर अपनी गोद में बैठा लिया और उसके मम्मों को दबाने लगा.

उन्होंने मेरी अंडरवियर को उतार दिया और मेरा लंड सहलाने लगीं और उसे मुँह में लेकर चूसने लगीं. मैंने उसको उठाया और सहारा देकर धीरे धीरे उसको उसके रूम में लेकर गया. यारो, इन हसीन तरीन पांवों को तो मैं चौबीसों घंटे सहला सहला के चाटता रहता, तब भी मेरी नियत न भरती.

करीब दस मिनट के चुम्बन के बाद भाभी ने मुझे अलग किया और किचन की तरफ़ चली गईं. अभी उनकी जवानी को सोच ही रहा था, कि वो बता रही थी- हम दोनों माँ बेटी साथ में योगा करने जाती हैं.

वो मेरे लंड के आगे वाले हिस्से पर अपनी जीभ बहुत मस्त तरीके से घुमा रही थीं. मैंने उसको चूमते हुए कहा- क्या हुआ?उसने सर से इशारा करते हुए कहा- कुछ नहीं. अब नताशा को दर्द नहीं हो रहा था, जिसकी गवाही अब उसकी आवाज दे रही थी… अब वो कराह नहीं रही थी, बल्कि उसके मुंह से मस्ती भरी आहें निकल रही थीं.

शिल्पा राज का सेक्सी वीडियो

उस पार्सल में एक बेल्ट से बंदा हुआ रबर का लंड था, जो 8 इंच लंबा और 2.

थोड़ी देर बाद उसने मेरे सर को अपनी चूत पर दबा दिया और मैं भी मानो उसकी चूत को खा जाना चाहता था. उस वक़्त कहाँ थी आपकी यादाश्त?मैंने फिर से बनते हुए कहा- आप शुक्र करो कि मैंने ससुर जी और सासू जी को नहीं बताया यह सब… वरना वो रात को ही बुआ जी को बुला लेते और आपकी इस हरकत के बारे में बताते. फिर हमने इसी पोज़िशन में आकर सकिंग की, ओरल सेक्स किया और फिर मैंने उनको सीधा लेटा कर बूब्स चाटने शुरू किए.

मैं कुछ हैरान था कि साली को गांड मरवाने में इतना मजा आया कि अब खुद गांड में लंड ले लिया. लेकिन अब जब बना लिया तो मुझे परेशान करने वाला लड़का भी मिल गया और मैं जब उस लड़के से रोज फेसबुक पर बातें करने लगी तो मुझे भी फेसबुक अच्छा लगने लगा. एचडी सेक्सी सनी लियोनउसे पता था कि वो इस हालत में घर नहीं जा सकती, इसलिए वो कैसे ना कैसे ऑफिस पहुँच गई.

तो मैंने वही पुराना डायलॉग मार दिया कि आपकी जैसी हसीन मोहतरमा हमें मिली ही नहीं. वे बड़ी देर तक लगे रहे, फिर हम अलग होकर सो गए।सुबह मेरे सोते में ही वे मेरे चूतड़ सहलाने लगे, फिर मेरे चूतड़ किसी लड़की की छाती की तरह मसलने लगे, दो तीन चुम्मे मेरे चूतड़ों के ले डाले.

मैं भी उसके पास बैठ कर उसे चूमने लगा, जिससे उसकी साड़ी नीचे सरक गई थी. दो चार दफा जब कोशिश करने पर जब मेरी पकड़ ढीली न हुई तो उसने फिर कहा- प्लीज़ मुझे छोड़ दीजिये न… आप ऐसा गलत काम क्यों कर रहे हैं… मैं ऐसी वैसी लड़की नहीं हूँ… आप जाइये अपने घर. इसी तरह पता नहीं कब 3 महीने निकल गए पता ही नहीं चला और भैया की शादी का दिन आ गया।शादी की पूरी तैयारी बहुत अच्छे से की थी, बहुत से कामों की ज़िम्मेदारी मुझे दी गयी थी। आलीशान फार्म हाउस बुक किया गया था जिसमें शादी होनी थी.

फिर मैंने एक और ज़ोर का धक्का दिया तो पूरा लंड भाभी की चूत में समा गया. मैं सोच रहा था कि शशि मुंह बनाएगा, चीखेगा, चिल्लाएगा!परंतु मैं देख कर आश्चर्य चकित रह गया कि शशि का गोरा माशूक चिकना चेहरा शांत था, आंखें हल्के से बंद थीं, ओंठों पर हल्की मुस्कुराहट थी. जैसे ही मैंने अभिलाषा के नाजुक और नर्म उँगलियों वाले हाथ पकड़े, मेरा 8 इंच का लंड मेरे लोअर में तन कर खड़ा हो गया.

उनके बाल खुले हुए थे, सामने की लटें बार बार सामने आ जातीं तो भाभी काम की उलझनों का भाव अपने चेहरे पे लाते हुए उनको पीछे की ओर धकेल देतीं.

वैसे ये उत्कर्ष भी ज्यादा देर नहीं चला, क्योंकि जल्दी ही मैं उसकी गांड मारने लगा, दोनों हमारे मेहमान मेरी पत्नी का मुंह चोदने लगे. जैसे ही कमरे का दरवाजा खोला, सामने वेटर नहीं रमेश खड़ा था और वो कमरे में घुस आया.

फिर मैंने उनको दुबारा उठा लिया और पीछे से लण्ड उनकी गाण्ड में अच्छी तरह से गड़ा दिया. अपने लंड को चूत पर रगड़ने के बाद मैंने एक करारा धक्का लगा दिया तो मेरा आधा लंड अन्दर चला गया. मेरे ज़ोरदार झटकों से सोनिया ऊपर नीचे हिलने लगी, जिससे उसके मोटे मम्मे भी झूलने लगे.

ऐसा बिल्कुल नहीं है कि कानपुर में सुन्दर लड़कियाँ नहीं है लेकिन वो मुझे मेरे नजरिये से बहुत ही अच्छी लगी, वो मेरी लाइफ की पहली और अभी तक की एकमात्र गर्लफेंड है। बाय द वे… ऐसा बिल्कुल नहीं है कि मैं देखने अच्छा नहीं हूँ क्योंकि मेरी एक ही गर्लफेंड है, मैं बहुत खूबसूरत और स्मार्ट बन्दा हूँ. पद्मिनी शरम और हल्के से गुस्से से लाल पीली होते हुए बोली- क्या??हिंदी की सेक्स स्टोरी में चुदाई का मजा लेने के लिए अन्तर्वासना से जुड़े रहिए और मुझे ईमेल करना न भूलिए. वो तो बस चुदाई की फिल्म को देखते हुए अपने लंड को मसल रहा थाबिंदु ने उसके कंधे पर हाथ रख कर पूछा- क्या कर रहे हो?वो हड़बड़ा कर उठा, मगर उसका लंड उसके काबू से बाहर था.

डर्टी बीएफ वो मेरी चूत को देखने के बाद मेरी चूत को सूंघ रहा था और बोल रहा था- आह. मैंने पूछा- क्यों क्या बात है?वो बोली- मुझे अकेले सोने की आदत नहीं है.

ओसी ब्लू सेक्सी

कभी अपने कानों के बुंदों को कुछ करती, तो कभी बैठ के अपने पैरों के बिछुओं के साथ कुछ घसर पसर करती. पर अब उस आदमी का हाथ मॉम की गांड पर नहीं था बल्कि उसने अपने हाथ से मॉम के बड़े बड़े चुचों को ब्लाउज के ऊपर से ही दबोच रखा था. इतने में धीरे से उसने अपना हाथ पेटीकोट के ऊपर से ही मेरी चूत के ऊपर रख दिया और पेटीकोट के ऊपर से, जहां मेरी चूत थी, उस जगह को ज़ोर से दबाने लगा और वहीं अपना हाथ रगड़ने लगा.

दीदी एकदम से कलप उठीं उनके मुँह से गाली निकली- हट क्यों गया मादरचोद. लालजी मेरे पीछे तरफ आके मेरे पैर की एड़ी से मुझे चूमने लगा और चाटने लगा. हिंदी ब्लू पिक्चर इंडियनक्योंकि अभी तक तो पद्मिनी की रज़ामंदी नहीं मिली थी और वह तो नींद में थी… और जो बापू कर रहा था, वह तो बिल्कुल एक चोरी की तरह था.

मैं अलग रूम में सोने जाने लगा तो नेहा दीदी ने बोला- शुभ तुम भी यहीं सो जाओ.

बापू तक़रीबन अपनी बेटी की पेंटी को छूने ही वाला था, मगर तभी पद्मिनी यह कहकर उठ खड़ी हुई- अब मुझको जाना चाहिए. मैंने उनकी गांड पर अपना लंड रखा और बहुत सा थूक लगा कर धीरे से झटका मारा.

वो चुदास से भरी हुई सिसकारियां ले रही थी- ओह्ह… इश इष्ह इश उम्म्ह… अहह… हय… याह… विराट अयेए मजा आ रहा है. नमस्कार दोस्तो, इस नाचीज़ का आप सबकी मदमस्तानी रसभरी मुलायम चूतों और खड़े लंडों को मेरा सलाम. मैंने उसे नहीं रोका, वो थोड़ा ज्यादा उत्तेजित हो गया था और मैं भी धीरे धीरे उसके हरकतों से उत्तेजित होने लगी थी, सो उसका साथ देने लगी.

उसके मुहल्ले के सारे लड़के उसके दीवाने थे मगर वो अपने मुहल्ले में किसी को भाव नहीं देती थी.

जब पद्मिनी का दर्द कम हुआ और वह मज़े से बापू को देखने लगी, तब बापू प्यार से बोला- बेटा दर्द कम हुआ?पद्मिनी ने हाँ में सर हिलाया. लेकिन इन सब बातों के बावजूद हम दोनों बात करते रहे, अब तक हमारी बातें पूरी तरह खुल गयी थीं।हम लोगों ने न्यू ईयर वाले दिन जीजा जी के घर पर ही मिलने का प्रोग्राम बनाया. यास्मीन और निम्मो कह रही थीं कि उनको सबसे ज़्यादा मज़ा चुत चटवाने और फिर लंड को मुँह में लेकर चूसकर उसका पानी पीने में आता है.

सनी लियोनी की सेक्सीलगभग 5 मिनट तक चूत के आस पास मसाज करता रहा क्योंकि चूत के आस-पास मसाज करने से औरतों को बहुत सुकून मिलता है और उन्हें मजा भी आता है. दुबारा बापू ने फिर वही किया और इस बार जैसे ही उसका लंड पद्मिनी की चूत के छेद में घुसने को था, पद्मिनी ने फिर एक चीख़ देते हुए गांड को ऊपर उठा लिया और लंड फिर निकल गया.

सेक्सी ओपन पाठवा

मेरे ऐसे देखने से बहूरानी थोड़ा लजा गयी और उसने मेरा सिर अपने मम्मों पर दबा दिया और लंड पकड़ कर उसे ज़न्नत का रास्ता दिखा दिया. ठीक मेरे सामने और मैं बड़े गौर से उसे देखने लगी।वह भी उस पागल की तरह अर्धउत्तेजित अवस्था में था. मानसिक शारीरिक या फिर सिर्फ बातें करने के लिए, जिस तरह से तुम चाहो या सोचो, मैं तुम्हारे साथ हूं और वो भी जब तक तुम चाहो, बोलो तो लाइफ टाइम के लिए, बोलो तो सिर्फ आज के लिए.

पूजा बोली- ये आप क्या कर रहे हो फूफाजी?रमेश का लन्ड पूजा की चूत से सटा हुआ था और वो पूजा को कस कस के चुम्बन कर रहा था. उसने अच्छी तरह से साबुन लगाया लेकिन पीठ पर उसके हाथ नहीं पहुंचा रहे थे. तभी वो बाहर पोंछा का पानी डालने के लिए झुकीं, तो मुझे उनकी क्लीवेज और ब्रा दिखी.

वर्ना इतना समय मेरे साथ क्यों बितातीं और इतनी बात मुझसे क्यों करतीं. दो दिनों बाद भाई का फोन आया- तुम चिंता मत करो, अगर प्राब्लम है तो मेरे शहर में आ जाओ, मैं तुम्हारा रहने का प्रबंध कर दूँगा. पूरे रास्ते मैं यही सोचता रहा कि मॉम को कैसे सरप्राइज दूंगा, दीदी को कैसे सरप्राइज दूंगा.

उसने जैसे ही दोनों तरफ से खींचा वो झट से नीचे गिर गई और मेरी चुत पूरी नंगी उसके सामने थी. मैंने उसकी शर्ट के बटन खोल दिए, उसने अन्दर लाल रंग की ब्रा पहनी हुई थी.

उसने कहा- क्रिशु मैं तुम्हें कबसे कहना चाहती थी, पर रिश्ते की वजह से डरती थी, मैंने कभी नहीं सोचा था कि हम दोनों ऐसे करेंगे.

मेरी बात सुन कर भाभी भी बोलीं- हां, मैं भी बोर हो रही थी इसलिए तो आई थी. सेक्स नंगा सेक्सउन्होंने पैकेट खोला और सेक्स टॉय देखते ही हल्की सी हंसी उनके सारे चेहरे पे फैल गई. बीपी वीडियो आदिवासीफिर मुझसे इतराते हुये बोलीं- कुछ पियोगे जनाब?मैंने कहा- मुझे तो आज बस तुमको पीना है. वो मेरी चूत की खुशबू को सूंघने के बाद मेरी चूत को अपनी जीभ से चाटने लगा.

और सुबह जब मेरी आँख खुली तो देखा कि मैं बस अकेला और नंगा ही उस कमरे में सो रहा था। वो तो शुक्र था कि मैंने रजाई ओढ़ रखी थी और उस कमरे का दरवाजा भी बन्द था, नहीं तो मेरी क्या हालत होती!मैं जल्दी जल्दी अपने कपड़े पहनने लगा.

इधर मैंने ज्योति की पैंटी उतार दी और मैं ज्योति की चूत की तरफ आ गया. मैंने कहा कि मैंने क्या किया?वो बोली- बाइक पर जो बार बार ब्रेक मारते हो. थोड़ी ही देर में आरुषि अकड़ के झड़ गई और थक कर मेरे ऊपर ही लेट गई।मैंने उसे बेड पर पेट के बल लेटाते हुए उसे घोड़ी बनाया और उसकी गांड पर जीभ से चाटने लगा.

जब मुझे जल्दी है स्कूल जाने की, तभी आप को यह सब बातें करनी है क्या? हमेशा तो आप को खुश करती ही हूँ. मैं जब उसको उठा कर बेड पे ला रहा था, तब उसकी चूची से मेरा हाथ छू रहा था, जिस वजह से मेरा लंड अपने आकार में आ गया था. मैं दिल में भर कर तुम्हारी नंगी चूत को अपनी आँखों में बसा लेना चाहता हूँ.

डॉगी गर्ल सेक्सी वीडियो

अब तक आपने इस कहानी में पढ़ा था कि मेरी मातहत और भरोसे की लड़की ने मेरी सास को अपनी बातों के जाल में उलझा कर ये समझना चाहा था कि उसकी चूत को लंड की जरूरत होती है. वो मुझे अपने कमरे में ले गया क्योंकि मुझे भी अपनी सहेली के भाई से खुल कर चुदवाने का मन था. मैंने भाभी के ब्लाउज को उतार दिया और उनके स्तनों को ब्रा के ऊपर से ही निहारने लगा.

पर ये अब मैं क्या देखता हूँ कि रिंकू भाभी धीरे धीरे अपने हाथ को अपनी चूत के पास सहलाने लगी थीं.

यह बात तब की है, जब मैं यूपी में ही अपने चाचा के घर पर था गाँव में… मैं अपने रूम में सोया हुआ था.

अब यह समझ लो कि मैं एक लड़का हूँ और तुम उसके लंड को अपने मुँह में लेकर चूस रही हो. उसके बाद सभी उन दोनों से दूर-दूर रहने लगे थे।हमारे मास्टर साहब इससे बहुत परेशान रह रहे थे। अभी तक तो यही था कि ऐसा कौन सा झगड़ा हो जो हमारे मास्टर साहब ने सुलझाया न हो, चाहे वह स्कूल का माामला हो या घर का।इन दोनों के घर पर सब सामान्य था, शादी से पहले दोनों खुशमिजाज प्राणी थे।तो फिर …इसी उधेड़ बुन में मास्टर साहब ने यह बात खाते समय हमें बतायी. xxx विडीयोयदि ना करता तो सच में बहुत पछताता भी, सो जब उसके साथ सेक्स किया तो मज़ा भी बहुत आया.

समय के साथ आर्थर ने अपनी जानी-पहचानी रफ़्तार पकड़ ली और मेरी वफादार पत्नी की अब तक पूरी फ़ैल चुकी गांड को अपने गर्दभ लंड से फाड़ता हुआ भयानक चुदाई करने लगा. उनके जाने के बाद मैंने अपने लंड को हाथ से समझाया और उसका पानी निकाला. मैं लंड को चुत पर रख कर रगड़ने लगा वह कराहने लगी और चुत में लंड डालने को बोलने लगी.

अब हम कपड़े पहन कमरा खोल बाहर निकले तो वर्कशॉप के बॉस आ गए थे, दिनेश ने मेरा परिचय कराया- भाई साहब खान साहब, इन्हीं से मैंने पोलीटेक्निक में डिप्लोमा करने के बाद ड्राइवरी सीखी, व मोटर सुधारने का काम सीखा, अब अपलाई करता रहता हूं, इनटरव्यू देता रहता हूं। तब तक जहाँ काम मिले, कर लेता हूं!मैं उन्हें देखते ही पहचान गया था, मैंने कहा- जीजाजी सलाम, मुझे आप भूल गए होंगे. मेरी तकलीफ असहनीय थी, मैं मन ही मन सोच रही थी कि मैं यहाँ क्यों आयी.

फिर उनके बालों को कस कर पकड़ कर सोफा से उठा कर सीधे पंलग पर पटक दिया.

तो फिर उनके पापा जो मम्मी को अब भी चोदा करते थे, उन्हें बताया तो उन्होंने फिर जाकर अपनी बेटियों को सच्चाई बताई! तब उन्हें विश्वास हुआ. वही हाल मेरा है, मुझे रात में नींद नहीं आती है, मैं हमेशा जिस्म की प्यासी रहती हूँ। मैंने पिछले 3 सालों में केवल 10 या 12 बार सेक्स किया होगा, यदि औरत को एक बार सेक्स की लत लग जाए वह फिर सेक्स के बिना नहीं रह सकती, उसकाप्यासा जिस्मकुछ भी करवा सकता है. मैं बैठ गया, भाबी मुझसे चिपक कर बैठ गईं और मैंने अपने हाथ भाबी के ब्लाउज पर फेरने शुरू कर दिए.

मोटी गांड की फोटो हम दोनों नंगे एक दूसरे को लिपटे थे, मैंने उठ कर उसके लंड को मुंह में ले लिया और आराम से हल्के हल्के उसे चाटने लगी. दीदी ने मेरा हाथ पकड़ लिया और कहने लगी कि तुम यहीं मेरे पास रुक जाओ.

अब वो मेरे ऊपर और मैं उसके नीचे था, दोनों के सारे कपड़े पहले ही अलग हो चुके थे, अब बस काण्ड होना बाकी था।जैसे ही मैंने उसको अपने लण्ड पर बैठने का इशारा किया उसने मेरा लण्ड पकड़ के एक टांग दूसरी साइड करके लण्ड को चूत पर सेट किया और पच्च से बैठ गयी. वो मुस्कुराई, बोली- अच्छा! तो सुबह तक ऐसे ही वेट करने का इरादा था क्या?मैं बोला- हां शायद!वो बोली- अच्छा जी, तो मेरे बेड पे क्यूँ आए?मैं बोला- तुम्हारी खूबसूरती निहारने!वो बोली- क्यूँ? कल ही तुमने बोला, सही नहीं हुआ तो अब क्यूँ आए?मैं बोला- तुम्हारा बिहेवियर रयूड था दिन भर मेरे साथ. फिर मैं अपनी बहन की चुची चूसने लगा और उसकी चूत में उंगली भी कर रहा था.

2021 का सेक्सी पिक्चर

फिर आरुषि ने मेरी बनियान उतारी और मेरी छाती को चूमते हुए नीचे लंड पर हाथ फिराने लगी, फिर उसने मेरे अंडरवीयर को खोलते हुए लंड को हाथ में पकड़ा और टोपे को नंगा करके उस पर जीभ फिराने लगी. फिर मैंने उसके पैर ऊपर किये और उसके दोनों पैर ऊपर करके उसके अपने हाथों से पकड़ कर फिर एक बार शुरू हो गया. यह पक्का है कि उसने एक लैंप बुझा हुआ नोटिस कर लिया होगा, किन्तु कुछ बोली नहीं.

उसके पैर मोड़ने की वजह से तो उसकी छोटी सी स्कर्ट और भी ऊपर उठ गयी थी. मेरी पड़ोसन की चूत चुदाई कहानी के प्रथम भागपड़ोसन भाभी की ठरक-1में अब तक आपने पढ़ा कि कोमल भाभी और मैंने एक दूसरे के लंड चूत का रस चुसाई करके निकाल दिया था.

मैंने अपनी वाइफ से बोला- साली… कितने लंड लेगी अपनी चुत में… एक लंड ने तो तेरी चुत फाड़ दी.

फिर बहूरानी मेरे ऊपर झुक गयी; उसके खुले बाल मेरे मुंह पर आ गिरे जिसे उसने मेरे सिर के पीछे करके मेरे मुंह पर एक घरोंदा सा बना दिया और अपनी कमर चलाते हुए मुझसे आंख मिलाते हुए मुझे चोदने लगी. तभी मैंने अचानक ही एक झटका लगा दिया और दीपू की एक घुटती हुई चीख मेरे लबों के बीच रह गई क्योंकि हम दोनों किस कर रहे थे और मुझे पता था कि वो जरूर चीखेगी. राशिदभाई के सामने नंगी हो गयीएकदम? छी…” मुझे एकदम इतनी तेज शर्म आई कि चेहरा तक गर्म हो गया।तो पहन लूं कपड़े और तड़पती रहूं खुजली लिये।” अहाना ने मुंह बनाते हुए कहा।अरे तो सलवार खिसका के मुनिया खोल देती.

ये तो आप सबको कभी न कभी फील हुआ ही होगा कि जब लड़की खुद अपनी मर्जी से आपको किस करती है तो वह पल आपके लिये सबसे कीमती होता है. बस मैं तो नौकरी ज्वाइन करते ही एक बार फिर नए उत्साह से लंड की तलाश में भिड़ गई. मेरे दिमाग में वही पुरानी बात हथौड़े की तरह बज रही थी कि शाहिद भाई और शाजिया अप्पी इसी जगह नंगे पकड़े गये थे।और आज मैंने राशिद और अहाना को पकड़ा था.

तुम्हारे दूध को पकड़ सकता हूँ?उसने कहा कि तुम पकड़े हुए ही हो और कैसे पकड़ना है?मैंने कहा- मतलब मैं इनको देख सकता हूँ.

डर्टी बीएफ: उसने उसकी चुत को खोल खोल कर देखा और इसी बहाने वो अपना मुँह उसकी चूत के पास ले जाता था, जिससे फिल्म में लगे कि जो बनाई जा रही थी कि वो चूस रहा है. एक बार मैं उसके घर गया हुआ था और किसी काम से दोपहर में झुंझुनू शहर आया.

तो चलिए शुरू करते हैं;शुरू करने से पहले सभी लड़कियों और भाभियों से मेरा आग्रह है कि अपनी स्कर्ट, जीन्स, सलवार या पेटीकोट को खिसकाकर अपनी चूत में उंगली करने को तैयार रहे. हवस की लगातार बढ़ती हुई तेज़ी धक्कों की रफ़्तार को और भी तेज़ किये जा रही थी. अगर उसकी एक तरफ से तारीफ़ करने बैठ जाऊं तो सेक्स स्टोरी के लिए भी जगह नहीं बचेगी, इसलिए उस रूप की रानी कह कर आगे की दास्तान का मजा लेते हैं.

ये कह कर मैंने रिकॉर्डिंग चालू कर दी, जिसमें भाभी की चुदाई की आवाजें आ रही थीं.

अंत में मुझसे रहा नहीं गया और मैंने बोल दिया कि मुझे सब पता है कि आप वहां क्या करने जाती हो. इतने में बड़ी चाची ने मुझे बेड पर धक्का देकर बेड पर गिरा दिया और छोटी चाची उठ कर दरवाजा लगाने चली गईं. थोड़ी देर बाद उसने मेरे सर को अपनी चूत पर दबा दिया और मैं भी मानो उसकी चूत को खा जाना चाहता था.