बीएफ वीडियो स्कूल

छवि स्रोत,ब्लू फिल्म नंगी वाली वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

सुहागरात मनाने वाला: बीएफ वीडियो स्कूल, होंठों को मैंने उसके होंठों पर कस दिया और धक्के देते हुए उसको चूसने लगा.

বিএফ এক্স

फिर मैंने अपने लण्ड पर थूक लगा कर उसकी गांड में लंड को अंदर कर दिया।वो सिसकारने लगी और कहने लगी- चोदो मुझे प्लीज़ … फक मी … आह्ह … फक मी … जोर से।ऐसे कहते हुए वो अपनी गांड आगे पीछे करने लगी।मैं झटकों के साथ साथ उसके कूल्हों पर हल्के थप्पड़ मार रहा था।थोड़ी देर में मेरा भी होने ही वाला था. आदिवासी लड़की की चूत में लंडमेरे धक्के पूरी ताकत से लगने लगे और मैं उसके होंठों को चूसते हुए उसकी चूत को लंड से पीटने लगा.

मैंने उस समय कोई हील हुज्जत नहीं की … क्योंकि ये मौक़ा मुझे अमन के साथ बिताने का एक सुनहरा अवसर सा दिख रहा था. देसी गांव की भाभीबहन को देख मुझे शक होने लगा था कि इतनी गरीबी होते हुए भी इसके बदन में ये निखार और ये फिगर की शेप कैसे बनती जा रही है?मैंने बहन पर नजर रखनी शुरू कर दी और फिर मुझे पता चला कि वो रंडी बन चुकी है.

हमारी सेटिंग कैसे हुई?दोस्तो, इस हॉट पड़ोसन की चुदाई स्टोरी में मैंने करोना काल में चुदाई की मस्ती का रस भरने की कोशिश की है.बीएफ वीडियो स्कूल: शालू को इस बात का पता लग गया कि उसका ससुर उसको गंदी नजर से देखता है.

फिर मैंने कहा- आंचल आपके घर में और कौन-कौन है?तो उन्होंने कहा- मैं अकेली ही रहती हूं.जैसे ही उनके झांटों के एरिया पर किस किया तो उन्होंने मेरे सिर को नीचे दबाते हुए खुद ही मेरे होंठों को अपने लंड के टोपे पर लगवा दिया.

हिंदी में मां बेटे की सेक्सी वीडियो - बीएफ वीडियो स्कूल

फिर वो थोड़े गुस्से में बोली- उस हरामी को तो सिर्फ मेरी चूची मसलने से मतलब है.मैं चुप हो गया और शबाना भाभी अपनी पूरी शिद्दत से लंड चुसाई का मजा लेती देती रही.

उसका लंड मेरी चूत में उतर गया और मेरे मुंह से एक तेज आह्ह … निकल गयी. बीएफ वीडियो स्कूल वीर्य हेमा चाची के मुँह से बाहर टपक रहा था, जिसे मैंने अपने हाथ में लेकर कुछ उनके मम्मों पर मल दिया.

वो अपने हाथों से समीज को पकड़ कर चूचियां छुपाने लगी तो मैंने उसको नीचे पटका और उसके होंठों पर हमला बोल दिया.

बीएफ वीडियो स्कूल?

लेकिन मैं फिर भी नहीं रुका, मैं लगातार चाची की चूत में जोर जोर से अपनी उंगलियां पेल रहा था. मैं सोचने लगा मगर दिल में उसके लंड को देखने की ख्वाहिश इतनी मजबूत थी कि मुझे उसकी बात से सहमत होना ही पड़ा. एक तो नेहा के साथ खेलने के चलते मेरा लंड खड़ा था ऊपर से ये कविता की खुशबू और उसकी टाइट ड्रेस देखकर मुझे नशा होने लगा.

ये कहकर वो तीनों मेरे बूब्स पर टूट पड़े और बारी बारी से मेरे बूब्स को दबाने लगा. लंड चुत में सैट करके धीरे धीरे मेरे लौड़े पर बैठ गयी और मेरे होंठों को चूसने लगी. लेकिन आपने मुझे जितने प्यार से चोदा, शायद पहली बार में वह कोई नहीं कर सकता था.

तब तक आंटी ने अपनी नाइटी के ऊपर के तीनों बटन खोल दिए थे और उनकी गदराई हुई चूचियां बाहर निकली हुई दिख रही थीं. मगर आंटी से शायद रुका नहीं गया और वो अर्पित और हर्ष के पास आकर बैठ गयी. बलविंदर ने बोला- ज्यादा मन में मत सोचो … जैसे होंठ को किस करती हो तो वो भी एक स्किन ही है … उसी तरह लंड भी स्किन ही है.

सलमान और मेरी अम्मी जैसे ही अपने कमरे में गए, ये मेरे लिए और भी सुगम हो गया था कि मैं उनके कमरे के अन्दर झांक सकूं और अम्मी का चीटिंग सेक्स देख सकूँ. तो कमेन्ट जरूर करें।[emailprotected]लेखक की पिछली कहानी थी:मकान मालकिन की बेटी ने किराये में लिया लंड.

कुछ देर बाद वो खुद ही बोल पड़ी- यहीं खड़ी रखोगे क्या?मैंने फोन की टॉर्च जलाकर दरवाजा बंद किया और फिर उसको गोद में उठाया और बेड पर ले गया.

कुछ ठीक होते … कुछ नहीं … पर बाबा कोई इल्ज़ाम नहीं देता था।गांव की एक लड़की लाजवंती उर्फ लाजो 22 वर्षीय जवान, काफी दिनों से बीमार चल रही थी.

फिर जब कोई सुंदर सी लड़की या कोई सेक्सी भाभी आती थी तो मैं बैग को हटा लेता था. मामा के मुंह से निकलती सिसकारियां बता रही थीं कि वो कितने आनंद में हैं. बल्कि अगर वो साहिल को देख लेती तो; वो एक बहुत बड़ी चुदक्कड़ लौंडिया है मेरी फ्रेंड वो हमेशा चूत चुदाई की बात करती है.

लंड को चूत में अंदर करने के बाद लड़के ने मेरी बहन की चूत में अपने लंड के हल्के धक्के लगाने शुरू कर दिये. उस दिन उसने शॉर्ट्स और टीशर्ट पहनी थी।फिर से उसको मैं किस करने लगा और साथ ही मैं एक हाथ से शॉर्टस के ऊपर से उसकी चूत रगड़ रहा था. उसके लिए मुझे खुद को दिमागी रूप से तैयार करना था इसलिए मैंने जय को एक और पैग बनाने के लिए कह दिया.

मेरे वीर्य ने निकलना शुरू किया ही था कि शबाना ने अपनी दोनों टांगों से मुझे जकड़ लिया.

अभय की हालत बुरी हो गयी थी; इतना चूस लिया था अंजलि ने उसके लंड को।अंजलि ने अभय को बेड से नीचे खड़ा किया. तो दोस्तो, इस तरह से मेरी बहन ने मेरे चार दोस्तों के साथ अपनी चूत और गांड की चुदाई पूरे जोश में करवाई. पूछने पर बताया कि मेरे आने से पहले ही उसने साफ़ किया है।फिर मैं उसकी दोनों टांगों के बीच में आ गया और अपनी जीभ से उसकी बुर के छेद को चाटने लगा.

सच में उन सबके लंड देखकर मुझे और ज्यादा उत्तेजना होने लगी थी मेरी गांड में खुजली बढ़ गई थी. पर जब पता चला, तो मैंने अलग अलग रिश्तों में होने वाली चुदाइयों के बारे में पढ़ा. सच में मुझे इतना ज्यादा मजा आ रहा था कि मैं अपने शब्दों में बता नहीं सकती.

मुझे ब्रा पैंटी में देख के सब लोग गौर से देखने लग गए और सब बोलने लगे- क्या माल हो यार आप … ब्रा पैंटी में कितनी मस्त लग रही हो.

अब मेरी मौसी से सहन नहीं हो रहा था।लेकिन अभी तक उनके मुख से ये नहीं निकला था कि ‘मुझे चोदो या दूर रहो. मैंने देखा तो सच में उसका लंड कम से कम 9 इंच से कम नहीं होगा और मोटा भी काफी था.

बीएफ वीडियो स्कूल ये मामी सेक्स कहानी आज से 6 महीने पहले की है, जो मेरी मामी के साथ घटी एक सच्ची घटना है. उसने अपने लंड पर कॉन्डम पहन लिया और उसकी चूत पर ऊपर से लण्ड रगड़ने लगा.

बीएफ वीडियो स्कूल दोस्त की बीवी को चोदाई कहानी पर राय देने के लिए आप कमेंट्स में लिखें. जब पूजा भाभी चलती है तो उनके चूतड़ बहुत ज्यादा मटकते हैं।अब मैंने सोच लिया था कि बस अब पूजा भाभी की गांड का गोदाम बनाना है.

उस दिन उसे अपने बेटे को भी लेने जाना था, तो वो मुझसे स्कूल छोड़ते हुए जाने की बोली.

सेक्सी वीडियो दे हिंदी

अब मेरा मन सेक्स से हट चुका था और मैं अब हेमा चाची से चिपकने की बजाए उनसे दूर हट कर लेट गया. उसके हाथ अब रुकने वाले नहीं थेवो शालू की चिकनी पिंडलियों पर हाथ फिराने लगा. उसने झट से मेरे शॉर्ट्स को नीचे कर दिया और मेरे तने हुए लंड को मुंह में भर लिया.

मैम ने उसी लड़के का नाम बताकर उसके पास जाने को बोला जिसको मुझे फंसाना था।मैं फूली नहीं समा रही थी क्योंकि मेरा काम बन गया था. फिर वो बोली- बहुत बदमाश हैं आप!मैं- वैसे आज आपने जो सूट पहना था वो बहुत अच्छा था. मैं उनको देखकर बहुत खुश हुआ।वैसे भी मैं पहले बहुत बार रिया को किस कर चुका था। कभी कभी उसके चूचे दबा देता था.

हेमा चाची ने एक रोमान्टिक सीरियल लगवाने की पेशकश की … और मैंने खड़े होकर रिमोट खोजा और वो सीरियल लगा दिया.

चूंकि ऐसा उसके काम के सिलसिले में अक्सर होता रहता था, ये मुझे मालूम था. आंटी भी उनकी ओर देख रही थी और मूवी में आह्ह … आह्ह … की आवाजें आ रही थीं. फिर वो बोली- मैं इतनी भी बुरी नहीं जितना तुम मुझे समझ रहे हो।मैंने उनको देखा तो वो थोड़ा मुस्करा रही थी।फिर मैं भी उनको देख मुस्करा दिया.

कमरे में आकर मैं अपने कपड़े पहनने लगा।मैडम ने मुझे कपड़े पहनते देखा तो वो उठकर मेरे लिए संतरे का रस ले आई।मैंने रस पिया और मैडम से विदा ली।मैडम बोली- तुझे हफ्ते में कम से कम एक बार मेरी चुदाई करनी पड़ेगी।मैंने मैडम को ओके बोला. इस बार उसने थोड़ी देर बाद मेरे लंड को चूत से हटाकर मुँह में ले लिया और मजे से लंड चूसती रही. प्रणव और उसकी रंडी बहन को बुलाने का जिम्मा मेरा।फिर अनमोल ने मेरी बहन को कॉल किया और उसको बताया कि आज शाम को चार लन्ड से चुदना है उसे।मेरी बहन फटाक से तैयार हो गयी अपनी गैंगबैंग के लिए।अब अनमोल ने मुझसे बाद में कहा- जब वो लोग मेरे घर पर आकर इकट्ठा हो जायेंगे तो तुम ऐसा बोल देना कि तुम चखने के लिये पनीर लाना भूल गए हो और बोलना कि लेने जा रहे हो.

वो सिसकारती हुई बोली- आह अंकल … अब क्या कर रहे हो … इतने दिन से मैं रोक रही थी … तो पास आने की कोशिश कर रहे थे. उसकी साड़ी में भी उसकी पतली कमर और मीडियम आकार की गांड बहुत खूबसूरत लग रही थी.

मैं रोज सुबह 8 बजे की बस से निकलता था और शाम को 7 बजे की बस से लौट आता था. इतना सुनकर मैं उन चारों के बीच में अपने दोनों पैर चौड़े करके लेट गई. मॉम और डैड को किसी जरूरी काम से गांव जाना पड़ गया। मैं और मेरी बहन नहीं जा पाए क्योंकि अगले महीने बोर्ड एग्जाम होने वाले थे।मेरी बहन की एक सहेली थी जिसका नाम रानी था.

मैंने कुछ नहीं कहा और उसकी ठुमकती गांड को देखते हुए उसे आंखों से चोदने का जतन करने लगा.

मैंने मेरा कम्बल, जो अभी भी मेरे पैरों पर पड़ा हुआ था, उठाया और खुद के ऊपर ओढ़ लिया और आँखें फिर से बंद कर लीं और सोचने लगी. प्रेमा तो पूजा-पाठ में व्यस्त रहती थी और वो भानू को पास नहीं फटकने देती थी. यह भाभी हॉट सेक्स कहानी एक सेक्सी लेडी की चूत चुदाई की है जिसके घर मैं बिजली की रिपेयर का काम करने गया था.

मेरा लंड चूत रस से भीग गया; फच्च फच्च … फच्च फच्च … करके लंड अंदर बाहर होने लगा।अब मैंने मामी को अपने ऊपर से उतरने का कहा और उनके मुंह में लंड डालकर घुसाने लगा. अब मैं और मम्मी दोनों एक दूसरे की आँखों में आंखें डाल कर देखने लगे.

प्रिया भाभी के गोरे गोरे मोटे चूचे के ऊपर डार्क ब्राउन कलर के निप्पलों को देखते ही मुँह में पानी आ गया. मैं कई बार अकेली औरत को संतुष्ट करके आता था तो कई बार औरतों के ग्रुप में बुलाया जाता था. उसने अपने दोनों पैर मेरे कंधों पर रख दिए।मैंने उसकी सलवार खींच ली और फिर पैंटी भी उतार दी।अब मैंने उसकी छोटी सी चूत के छेद पर ध्यान दिया.

बच्चों की सेक्सी मूवी

भाभी को किस करते हुए मैं बीच बीच में उनके होंठों को काटे जा रहा था और पीछे से साड़ी ऊपर करके पैंटी की साइड से ही मोटी मोटी गांड को सहला रहा था.

अचानक मुझे महसूस हुआ कि मेरे नाज़ुक मखमली अधनंगे पैरों पर राजेश हल्के हल्के उसके मर्दाना पैर रगड़ रहा है. आपको यह हॉट पड़ोसन की चुदाई स्टोरी कैसी लगी कमेंट करके बता सकते हैं या मेल कर सकते हैं. मैंने अमन को सोफे पर बिठाया और उसके लिए नाश्ता लाने किचन में चली गई.

सबसे पहले मैंने हेमा चाची के लाल और रसीले होंठों को चूसना शुरू कर दिया और उन्हें चुदाई की पोजीशन में लेते अपने लंड को चाची की चूत में डाल दिया. मेरी पिछली कहानी थी:सुहागरात में बीवी की चुत चुदाई और प्यारआज मैं अपने लाइफ की एक और दास्तान मतलब अपनी हॉट वाइफ सेक्स कहानी आप सभी के साथ साझा करने जा रहा हूँ. ब्लू वीडियो भोजपुरीकरीब आधा घंटे तक मेरे जिस्म को चूमने चाटने के बाद उन्होंने मुझे पूरी नंगी कर दिया और कहने लगे- खुशबू बहू … तू तो एकदम माल है रे … कोई भी तुझे अपनी रंडी बना लेगा.

दीदी ने सब अपनी सास को बता दिया तो सास खुश हो गई कि वो दादी बनने वाली हैं।अब दीदी कमरे में आई और उसने बताया कि उसकी सास को बहुत दिनों से पता है कि हम भाई बहन चुदाई करते हैं. मुझे आपके सुझावों का इंतज़ार रहेगा।धन्यवाद।मेरी ईमेल आईडी है[emailprotected]सेक्सी टीचर चुदाई कहानी का अगला भाग:प्रिंसिपल मैडम की चिकनी चूत- 2.

मैंने इस मौके का मजा कैसे लिया?दोस्तो, मैं आपका दोस्त सुमित एक बार फिर से अपनी पारू भाभी की ननद नन्दा की इंडियन चूत की सेक्स स्टोरी के साथ हाजिर हूँ. रानी बहुत गर्म हो गई और सिसकारने लगी- आह्ह … उम्म … आह्ह … आईई … ऊह्ह … ऊईई … उफ्फ … अह्ह …ऐसे करते हुए वो चूत को उसके मुंह पर लगाने लगी. मैं आप सबका शुक्रगुजार हूँ कि आपको मेरी पहली सेक्स कहानीट्रक ड्राइवर से गांड मरवाईपढ़ कर काफी पसंद आई.

तभी खाना खाते समय मेरे लंड के ऊपर सब्जी गिर गयी, तो भाभी अपने रूमाल से लंड पर गिरी सब्जी को साफ़ करने लगीं. मैं दर्द कम करने के लिये झटके धीरे करने लगा और गले पर किस करता रहा।प्रतीक भी धीरे झटके देते हुए दी के बूब्स पर हाथ फेर रहा था।दी की प्यारी सी दर्द भरी आवाज मुझे और भी ज्यादा मजा दे रही थी।थोड़ी देर में जब दी कंफर्टेबल हुई तब कहने लगी- चोदो … दोनों चोदो मुझे … आह्ह … जोर से करो … आह्ह चोदो।यह सुन कर हम दोनों दी को जोर से चोदने लगे।दी चुदते हुए पूरी हिल रही थी. बस दुख इसका था कि अब मैं साहिल से प्यार करने लगी थी और अपना प्यार किसी से चुदे या किसी और को चोदे तब दुख होता है।बहरहाल अब कुछ किया नहीं जा सकता था.

ऊपर वाली छत पर चलते हैं, वहां से किसी को कुछ नहीं दिखेगा और तुम्हारे चाचा भी काम से गांव गए हुए हैं … तो उनका भी डर नहीं है.

कुछ देर उसने मेरी चूत को बहुत तबीयत से चाटा।अब वो खुद मेरे ऊपर आ गया और मेरी चूत में अपने लन्ड को सेट करने लगा. फिर मैंने मैडम के साथ बाथरूम में जाकर फव्वारे के नीचे नहाते हुए उनकी एक और चुदाई की.

घर लौटा तो पता चला कि मेरी दादी माँ और बुआ दूसरे गांव में एक रिश्तेदार के यहां चले गए हैं।ब घर में सिर्फ मैं, रिया और चाचा और उनके बच्चे ही थे।गांव में वैसे सब ताश-पत्ते से खेलते रहते हैं. फिर से मैंने कपड़े से रागिनी की खून भरी गांड को साफ किया।अब साहिल 10 मिनट के लिए रुका जिससे रागिनी को कुछ आराम हो जाए. इसी बीच मैंने साहिल को मुझे काम करते समय मेरी गांड और मेरे झुकने पर मेरी चूचियाँ ताड़ते हुए देखा।सब काम हो गया था.

अर्पित और हर्ष अब दोनों साथ साथ बैठे थे और आंटी उन दोनों के बीच में नीचे बैठी थी. छत से वापस आने के बाद उनका गठीला बदन बार बार मेरे दिमाग में आ रहा था और रात भर मैं उस मस्त लंड की छवि के कारण सो भी नहीं पाई थी. फिर रानी मेरे लंड पर बैठ गयी और उसने कूदना शुरू किया।मेरे लंड पर कूदते हुए वो फिर से बड़बड़ाने लगी.

बीएफ वीडियो स्कूल बलविंदर ने गीले हो चुके चूचों पर एक बार अंतिम बार जोर से चूसा और अलीमा से पूछा- किसके अन्दर कीड़ा रेंग रहा है बेबी!अलीमा एक बार को तो साफ बोलने में हिचक गई मगर फिर भी वो बोली- नीचे बहुत कुछ हो रहा है … खुजली हो रही है. कई बार ऐसा होता था कि दीदी को हम बनी हुई सब्जी दे दिया करते थे क्योंकि वो तो अकेली ही रहती थी.

प्राण्याचे सेक्सी व्हिडिओ

मैं आंटी की चूत में जीभ फिराने लगा और दोनों हाथों से दोनों चूचों को मसले जा रहा था. भानू अपने शरीर का बहुत ध्यान रखता था और इस उम्र में भी खुद को फिट रखे हुए था. अब हमारी रोज फोन पर बात होने लगी थी और सारे दिन मैसेज से बात होने लगी थी.

वो दोनों मजा ले रहे थे कि कोई 40-45 साल का एक आदमी उस क्वार्टर की ओर आ धमका. मैं चाह रहा था कि पूरा लंड एक बार में ही घुस जाये क्योंकि धीरे धीरे करके चोदने में तो उसको बहुत दर्द होने वाला था. ভোজপুরি সেক্সमैंने मामी से पूछा- अभी आप क्या करोगी?मामी बोलीं- कुछ नहीं, सब काम खत्म कर चुकी हूँ … अब बस आराम करूंगी.

मैंने जानबूझकर अपना लंड हेमा चाची की गांड से थोड़ा टच कर दिया और तभी न चाहते हुए भी मेरे मुँह से ‘आह्ह.

अब आगे की भाई की साली को चोदा कहानी:झड़ने के बाद कुछ देर तक हम लेटे रहे. मैंने हिमानी को बेड पर अपनी गोदी में बिठा लिया और उसकी कड़क गांड में अपना मस्त लंड दबाते हुए उसे प्यार करने लगा.

तभी आंटी ने मामी से कहा- भेज देना इसे … याद रखना नहीं तो मां चोद दूंगी तेरी. उसने मेरे फोन पर रिंग कर दी और मैं फिर वहां से खाली सिलेंडर लेकर वापस आ गया. फिर उन दोनों ने क्या किया?नमस्कार मित्रो, मैं पंकज आपके सामने फिर हाज़िर हूँ एक और नई कहानी लेकर।इस ओपन सेक्स कहानी में दो दोस्त और एक मस्त आंटी हैं.

फिर वो तीनों ही जिद करने लगे और फिर मैं भी अपने लिये एक गिलास ले आयी.

ये बहाना बनाकर निकल जाना और मैं तुमको छुपा दूंगा यहीं घर में।वो बताता रहा- पनीर हम पहले ही लाकर रख देंगे. मैंने अपना लंड अपने बीवी के मुँह में डाल दिया और पूरे लंड का पानी उसके मुँह में निकाल दिया, जिसे मेरी बीवी मजे से पी गयी. फिर जब थोड़ी सांस आई तो मैंने उससे पूछा- मजा आया?वह बोली- बहुत!अब हमने कपड़े पहने.

દેશીસેકસીવીડીયોउनके दो मकान हैं जिसमें एक में ये लोग खुद रहते थे और दूसरे को किराये पर दे रखा था. तुम्हारे फ्रेंड सुनील ने बताया था कि तुम मन ही मन मुझे चाहते हो, लेकिन मेरे बॉयफ्रेंड होने की वजह से अपने दिल की बात नहीं कह पा रहे हो.

பஸ் செக்ஸ்

वो अपनी सुहागरात की कहानी बताने लगी और बोली- तेरा जीजा बहुत चोदू इन्सान था. मेरा लण्ड दी के बूब्स के बीच बहुत टाइट तरीके से अंदर बाहर होने लगा।श्वेता अब कभी अपने होंठों को दबा कर मजा जाहिर करती तो कभी आंखों को बंद कर गहरी सांस लेती।उनके चेहरे के भाव देख मैं उनके ऊपर ही झड़ गया। मेरा सारा माल दी के बूब्स और उनके गले में लग गया। दी ने अपनी उंगली से अपने बूब्स का माल चाटा. वो पेटीकोट पहन कर बैठ कर नहा रही थीं, उनके पेटीकोट से दबे हुए चूचे बहुत ही अच्छे और ऐसे दिख रहे थे, जैसे एकदम गोल गोल संतरे हों.

अंजलि बोली- भोसड़ी के … अब मेरी चूत का क्या होगा?उसके बाद वो उसके लंड को फिर से हाथ में लेकर हिलाने लगी. लेकिन वो मुझे कभी निगाह उठा कर भी नहीं देखता।एक शाम को जब मैं घर में अकेली थी तो मैंने अन्तर्वासना पढ़ने लगी. मैंने अपना लण्ड बाहर किया और दी को सीधा करके उसके चेहरे पर पिचकारी मारी।दी के माथे पर, गाल पर और होंठों पर मेरा माल लग गया था। दी ने हंसते हुए होंठों को अपनी जीभ से चाटा और टिशू पेपर से गाल साफ करने लगी।फिर हम लोगों ने अपने आप को साफ किया।रात के 2 बज गए थे। प्रतीक अपने घर जाने को हुआ.

ये कभी कभी ही होता है कि आपको ऐसी जुगाड़ मिल जाती है कि आप उसके साथ चुदाई कर लेते हो, पर आपको चुदाई करने के बाद भी उसका नाम नहीं पता होता है. मैंने आगे हाथ बढ़ाए और माला मैडम की चूचियों को थाम कर धकापेल चुदाई शुरू कर दी. जब मेरी बारी आयी किराया देने की तो …नमस्कार दोस्तो, मैं आपका राज शर्मा स्वागत करता हूं फ्री हिन्दी सेक्स कहानी साइट अन्तर्वासना पर।फ्रेंड्स, मैं गुड़गांव में रहता हूं और मेरे लंड का साइज 7 इंच से कुछ ऊपर है.

मैंने पंखा चला कर चैक किया और भाभी से कहा- लो जी भाभी जी, आपकी हवा चालू हो गई. रोज बस में आने जाने वाली लड़कियों को घूरता रहता था और मेरा अच्छा टाइम पास हो जाता था.

मैंने अपने हाथों और पैरों पर मेहंदी लगवाई और मेहंदी की डिजाइन में अमन का नाम भी लिखवाया.

मौका मिलने पर मैं उसको छू देता हूँ और कभी कभी गलती जताते हुए उसकी जांघ पर हाथ रख कर सहला भी देता था. हिंदी मूवी विडियोअम्मी भी हंस कर बोलीं- हां यार, राणा अब बड़ा हो गया है, उसके सामने मुझे भी बड़ी शर्म आ रही थी कि वो न जाने क्या सोचेगा. হট সেক্সি পিকচারमैंने कुछ नहीं कहा और उस नौ इंच वाली टेबलेट की याद करते हुए चुदाई की कल्पना करने लगा. आंटी ने मुझे चूम कर कहा- जितना मज़ा आज मिला है, उतना आज तक नहीं आया.

ये सब सीन देख कर तो चाची की चूत भी सरसराने लगी और वो मेरे लंड को पकड़ने लगीं.

वो जल्दी से अपनी टांगें फैलाकर बेड पर लेट गयी और मैंने कॉन्डम निकाल लिया. मैं अपने एक हाथ से हेमा चाची की चूची दबा रहा था और दूसरे हाथ से मैंने चाची के बाल पकड़ रखे थे. घर में मैं और मेरी बहन ही थे और हम दोनों के संघर्ष की ही ये कहानी है.

मैंने धीरे से पैन्टी में हाथ डाल दिया, तो देखा कि मेरी बीवी की चूत काफी खुली हुई थी. मेरा लंड पूरे तनाव में भाभी के मोटे और कोमल कूल्हों के बीच में रगड़ खा रहा था. फिर सेठ बोला- सुशीला तो महीने में एक दो बार मेरी सेवा कर के जावे। और इस बार तो उसने हिसाब ही पूरा कर दिया।संतो- कितना हिसाब था उसका?सेठ- 8 हज़ार रुपए थे। एक बार में ही पूरा कर दिया।अब संतो सेठ जी का विरोध नहीं कर रही थी। और सेठ जी उसकी चूची दबा रहे थे।संतो- उसने 8 हज़ार रुपए कहाँ से दिए? उसने मेरे 50 रुपए तो दो महीने से दिए नहीं।सेठ- बता तो मैं दूंगा.

बीपी गाना सेक्सी

इस अचानक हुए प्रहार से मेरा लगभग आधा लंड उसकी चुत की फांकों को चीर कर अन्दर घुस गया. फिर उस दिन दोपहर में स्कूल से आने के बाद उनका बेटा अपने दादा-दादी के साथ चला गया. ये सब मैंने तुरंत अपने फोन में सेव किया और फिर मौके का इंतज़ार करने लगी।एक दिन जब दीदी बाथरूम में नहा रही थी तो उनके फोन पर आलोक का मैसेज आया.

फिर मैंने कहा- आंचल आपके घर में और कौन-कौन है?तो उन्होंने कहा- मैं अकेली ही रहती हूं.

उसी से प्रोत्साहित होकर आज मैं अपनी एक नई सेक्स कहानी आपके सामने रख रहा हूं.

मेरी जीभ मॉम की चूत के अंदर बाहर होने लगी और तभी उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया. मेरी पिछली कहानी थी:नागरिकता के लिए बुढ़िया को चोदा[emailprotected]. नंगी ब्लू फिल्म वीडियोमैंने अपने दोस्त को फोन किया और बुआ के लिए कोई जॉब पूछी।उसने कहा- कपड़े की कंपनी में नौकरी मिल जाएगी।मैंने कहा- ठीक है, मैं कल भेज दूंगा.

फिर अचानक से उसने मेरे गाल पर किस कर दी और अपने हाथ से मेरी गान्ड पर हाथ फेर कर चला गया. जो घटना मैं आपको बताने जा रहा हूं वो मेरे साथ कुछ समय पहले ही हुई थी. लेकिन उस लड़के के बारे में जब मैंने रागिनी को पूरा सच बताया तो वो रोने लगी और बोली- मुझे नहीं मालूम था कि ये ऐसा लड़का है।मैंने रागिनी को समझाते हुए बोला- देखो मुझे पता है कि इस उम्र में ये सब होता है.

9 बज चुके थे, मैं इसी इंतजार में था कि घर के किसी सदस्य को याद आ जाए कि आज की रात मुझे हेमा चाची के यहां रुकना है. वो फिर से मेरे पास आ गया और बोला- छू तो लिये मैंने, एक बार अब दिखा भी दे तेरे बूब्स?मैंने कहा- नहीं.

मेरा मन कर रहा था कि और सब बाद में सोचूंगा, पहले इसको अपने नीचे ले कर एक बार चोद दूं.

मैं- आप खुशबू को ऑर्डर देने के लिए बोले थे!जय- हां … मगर मैं बिजी होने के कारण उसे दुबारा फोन नहीं लगा सका. उसकी गीली हो चुकी पैंटी से एक मस्त मदन रस की महक मुझे मदहोश कर रही थी. वैसे भी मूवी में सीन ही ऐसा चल रहा था कि एक आंटी एक जवान लड़के के लंड को चूसकर फिर चुदने लगी थी.

हॉट फक्किंग और अब रानी की कामुकता भरी आवाज़ बाथरूम में गूंज रही थी।मैं भी उन दोनों की चुदाई देखने के लिए उत्सुक थी. चूंकि मेरे पास भी काम नहीं था और दूसरी तरफ चूत चोदने का मजा भी दिख रहा था.

नीचे आकर मैंने हेमा चाची से कहा- आप नहा लो, मैं अपने घर जाकर नहा लूंगा. बहुत बार मैंने भाभी के नाम की मुठ भी मारी हुई थी।मुझे कभी मुझे ऐसा मौका नहीं मिला था कि मैं भाभी को चुदाई के लिए मना सकूं।उनकी मेरे साथ अच्छी बनती थी. घर आया, तो मैंने किसी अजनबी जनाब को घर की बैठक में अम्मी के साथ गुफ्तगू करते हुए पाया.

అనుష్క సెక్స్ మూవీస్

मैंने कहा- ब्रा तो है ही नहीं इसमें?लड़का बोला- इस टॉप में ब्रा की जरूरत नहीं होती है. बस तू मेरी रंडी बन जा!दीदी ने कहा- साले तू छोटा है मुझसे … मगर तेरा लंड बहुत तगड़ा है। ओह्ह सुमित … बना ले अपनी रंडी मुझे, ले चोद। आआह्ह आअह्ह्ह … चोद साले चोद … और चोद … चोद अपनी दीदी की चूत को … बना दे इसका भोसड़ा साले कुत्ते!मैंने भी अब पूरे जोश में था और बोला- हां साली रंडी ले … चुदवा अपनी चूत को अपने भाई के लंड से. फिर मैंने हंसते हुए कहा- अरे कोई बात नहीं, नटखट है तो थोड़ी बहुत बदमाशी तो करेगी ही.

उसके बाद राज ऊपर चला गया और मैं तथा रंजना चाय पीकर नीचे ही सोने लगीं. उनके मोटे चुचे 38″ के थे और उनकी कमर 32″ की और उनका पिछवाड़ा तो पूरे स्कूल में मशहूर था 40″ का!शायद वो पीछे बहुत बजवाती है इसी लिए उनकी गांड इतनी बड़ी हो रही है।रोज़ की तरह आज भी मेरी मैम साड़ी पहन कर आई थी.

आज भी मैं उस पल को याद करता हूँ।दोस्तो, आपको ये पहली बार सेक्स की स्टोरी कैसी लगी? मुझे ईमेल करके जरूर बतायें।मेरा इमेल है[emailprotected]धन्यवाद।.

भाभी- क्यों? ऐसी कौन सी परी चाहिए आपको!मैंने कहा- मुझे अब तक आपके जैसी कोई परी मिली ही नहीं. इस तरह से दस मिनट तक बिना रुके वो मेरे लंड को चूसती रही और एक बार फिर से मेरा लौड़ा तन गया. जिसके कुछ ही मिनट बाद साहिल का लन्ड फिर से हिलने लगा और देखते देखते फिर उसने विशाल रूप ले लिया.

पीछे आकर बैठने के बाद वो बड़बड़ाता हुआ उसको गाली देने लगा- साली रंडी ने सीट बदलवा दी … इसकी मां की … साली ने सारा मूड खराब कर दिया. वो बोली- वो दोनों कहां हैं?मैंने बताया कि भाभी और प्रिया तो ऊपर वाले कमरे में चली गई. मैंने उसकी चूत पर लंड को कई बार रगड़ा और फिर उसने खुद ही मुझे अपने ऊपर खींच लिया और मेरे होंठों को खाने लगी.

मैं बोला- भाभी कुछ काम था?भाभी- हां, तुम्हारे भईया अभी तक नहीं आये हैं.

बीएफ वीडियो स्कूल: इसलिए मैंने अब देर करना ठीक न समझा और उसकी चूत पर लंड का सुपारा टिका दिया. कुछ पल बाद मैंने शबाना से कहा- चल मेरी शब्बो रानी, अब पोजिशन बदल ले.

पर हेमा चाची जैसी हुस्न की मल्लिका के वहां होते भला मेरा लंड कैसे शान्त हो सकता था. थोड़ा सा पानी मेरे मुँह से बाहर निकलकर मेरी ठोड़ी से गुजरकर गले से होता हुआ मेरी छाती पर रिसने लगा. धीरे-धीरे मैंने अपने बदन को ढीला छोड़ दिया और वो दोनों मेरे बदन को जमकर चूसने लगे.

और अभी कुछ दूर पहुंची थी कि मुझे याद आया कि मैं अपना लॉकेट जो सोने का था उसको वहीं भूल गयी.

तो एकदम से वो उठी और साहिल को एक झटके में उसने नीचे लिटा दिया और खुद उसके ऊपर सवार होकर उसको पहले तो खूब जोश में साहिल को होंठों से अपनी चूत का पानी साफ किया. अचानक मुझे महसूस हुआ कि मेरे नाज़ुक मखमली अधनंगे पैरों पर राजेश हल्के हल्के उसके मर्दाना पैर रगड़ रहा है. मैंने सोचा कि शायद इन दोनों बहनों में काफी खुला रिश्ता होगा इसलिए शेयर करती होंगी ऐसी बातें.