मुंबई का बीएफ वीडियो

छवि स्रोत,आलिया भट बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स करने वाला गोली: मुंबई का बीएफ वीडियो, लगभग 20 मिनट की घमासान चुदाई के बाद अचानक उसने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और पागलों की तरह किस करने लगी.

सेक्सी वीडियो बीएफ हिंदी बीएफ हिंदी

मैंने झट से भाभी को गोद में उठा लिया और उनके गालों और होंठों को चूसने लगा. बीएफ सेक्सी नई फिल्मनेहा अब भी अपना सिर मेरे पैरों की तरफ ही करके लेटी हुई थी, उसकी जांघें खुली हुई थीं, इसलिए उसकी फुली हुई चुत ने अब फिर से मेरा ध्यान अपनी तरफ खींच लिया.

सन्नी मेरे सामने गांड खोले खड़ा था और मैं उसके सामने से पीछे हाथ करके उसकी गांड में उंगली कर रहा था. बीएफ सेक्सी बढ़िया फिल्ममैं उनकी चूत में धक्के लगाने चालू रखता तो खाला फिर गर्म हो जाती थीं.

एक दो बार तो मेरा लंड उसकी गांड के ऊपर से इधर-उधर हुआ, जिसे देखकर वंदना कह रही थी कि मैंने बोला था ना.मुंबई का बीएफ वीडियो: ”यह कह कर मैंने चुदाई थोड़ी तेज कर दी ‘घप घप घपघप …’कौशल्या की वो मीठी दर्द की बंगाली आवाज आने लगी- आह आह आह आह्ह ओरे बाबा धीरे … धीरे … एक्टू धीरे अमार राजा … हम्म आह ऊह्ह!कुछ जबरदस्त शॉट लगाने के बाद वो झड़ने लगी- आअह्ह हम्म आह्ह!उसकी चूत के पानी से चूत और चिकनी हो गयी.

यदि आपने भी लम्बे समय तक किसी जिस्म के लिए आकर्षण प्रेम और संभोग की इच्छा को महसूस किया हो, तो मुझे मेल करके अपना अनुभव बताएं.मैंने उससे मिलने की बात की, तो वो कहने लगी कि जब कभी भैया घर पर नहीं होंगे, तो देखते हैं.

बीएफ वीडियो में फोटो - मुंबई का बीएफ वीडियो

हम दोनों लोग कभी कभी शाम को घूमने जाते थे, तो कॉलोनी के लड़के हम दोनों लोग पर गन्दे कमेंट करते थे.मैंने उसे देख कर एक कुटिल मुस्कान दी और जोर से उसकी बेटी की चूत में उंगली दबा दी.

तुमने मुझे देखा, फिर तुम हंस पड़ीं … तुम्हें मेरी बात मजाक लगी, किन्तु मैं और सिर्फ मैं जानता था कि मैं किस दुविधा में फंसा हूँ. मुंबई का बीएफ वीडियो वो मेरी बहन को अपनी गोद में लेकर चोद रहा था और बोल रहा था कि आज पचास हजार वसूल ही कर लूंगा.

ऐसा बोलते ही सुनील ने फिर से अपना बरमुंडा उतार दिया, टी-शर्ट को फेंक दिया.

मुंबई का बीएफ वीडियो?

फिर उसने मेरे लंड पर हल्के से जीभ फिराना शुरू कर दिया तो मेरे लंड में दोगुना तनाव आ गया. वो चिल्ला रही थी- आह … रॉकी फाड़ दो इस चूत को … आह आज इस साली का भोसड़ा बना दो … आह साली को फाड़ दो … बहुत खुजली होती है. उसकी स्लिम, चिकनी और एकदम फेयर बॉडी देख कर बुड्डों का भी लंड खड़ा हो जाए.

मैंने भी अब जोर से धक्का लगाकर एक ही झटके ने अपने‌ लंड को‌ उनकी चुत की गहराई तक उतार दिया, जिससे एक बार तो भाभी ‘आआआह्ह् … उऊऊच्च्च् …’ कहकर जोरों से कराह उठीं, मगर साथ ही उन्होंने इनाम के तौर पर दोनों हाथों से मेरे सिर को‌ पकड़ कर बड़े ही प्यार से मेरे गालों पर एक चुम्मा भी दे दिया. मैं भी मुस्कुरा दिया फिर हमने अपनी अपनी यूनिफार्म ली और अपनी अपनी ड्यूटी पर पहुँच गए। उसने अपनी ड्यूटी मेरे फ्लोर पर ही लगवाई थी. वो भी मेरी चूत की किसिंग से मदहोश हुई जा रही थी और कामुक आवाज़ें निकाल रही थी.

अपने‌ लंड‌ के सुपारे को नेहा की मुनिया पर घिसते हुए मैंने फिर से एक बार नेहा के चेहरे की तरफ देखा. मैंने कहा- यह कैसे हो सकता है? वह तो मुझसे बड़ी हैं और शादीशुदा हैं. उनकी रखैल बनने के बाद सारी उम्र राज करेगी और जैसे जीना चाहेगी जियेगी.

मैंने कहा- क्या तुम्हें याद है कि आज मेरा जन्मदिन है?जब उसने जन्मदिन की बात सुनी तो वह खुद ही अपने आंसू पौंछने लगी. उस वक्त दोपहर का टाइम था और सब लोग अपने-अपने कमरों में सो रहे थे।पति और राहुल भी बेड पर लेट गए और मैं नीचे ही सो गई.

फ़िर वही हुआ, चुचियों को पकड़ते ही वो गरमा गई और बोली- जल्दी जल्दी चोदो … मेरा भी हो गया … बस बाहर मत निकालना … मुझे अन्दर ही महसूस करना है.

हम लोगों ने बहुत सारे तरीकों से, बहुत सेक्स पोजीशन में लेस्बियन सेक्स किया.

साढ़े अठारह साल की छोटी उम्र में ही मेरी शादी हो गई। मौसी ने अच्छे घर का लड़का ढूंढ़ लिया क्योंकि मैं खूबसूरत थी और जवान भी थी। लड़के की अपनी दुकान थी ऑटो रिपेयर की. क्या आप रॉकी बात कर रहे हैं?जब उसने मेरा नाम लिया तो मैं थोड़ा घबरा-सा गया. एक तो उसने ब्रा नहीं पहनी हुई थी और दूसरा उसकी टी-शर्ट का गला भी काफी गहरा था, जिसके कारण‌ मुझे उसकी चूचियों की घाटी और उस पर निकले हुए हल्के हल्के काले भूरे रंग निप्पल स्पष्ट नजर आ रहे थे.

बताती हूं कि चुदाई कैसे होती है?इस तरह प्रशांत के लंड से मात खाई बेइज्जती का बदला लेने के लिए नीना ने हिम्मत जुटाकर अपना फेवरेट पोज बनाया और चैलेंज दे डाली प्रशांत को चोदने के लिए. धीमे से मैंने उसके मम्मों पे हाथ रखके जोर से उसके मम्मों को दबा दिया, तो उसके मुँह से भी एक मीठी सी आह निकल गयी. अब मेरी शादी हो गयी है, खूबसूरत बीवी है, एक बेबी है, लेकिन चाची का प्यार मुझसे भुलाए नहीं भूलता है.

उस रात खाने के बाद सब लोग अगले दिन की उत्तरायण की तैयारी में लग गए.

मैंने सरिता से पूछा- कहां निकालूं?तो उसने कहा- अन्दर ही निकालो राजा. प्रिया ने मेरे बालों को अपने उंगलियों में पूरा जकड़ लिया था और कस कस कर मेरी जीभ को चूसने लगी. वे मेरी पेंटी के ऊपर से ही चूत की जगह पर चूमते रहे और बोले कि तेरी यह चूत वाली जगह तो पूरी गीली हो गई है.

वो बोली- क्या यार … आपको नहीं आना था तो बोल देते, मैं सुबह से आपके आने के सपने नहीं देखती. कहानी का पहला भाग:मेरी सहेली मेरे ग्रैंडफादर से चुद गयी-1ओह नो … इट्स हॉरिबल. उधर नेहा की मुँह की लार और मेरे लंड से निकलने वाला रस नेहा के मुँह से रिसकर मेरे लंड के सहारे अब मेरी भी जांघों पर फैलने लगा था.

मैं अपने गांव गया, जहाँ चाची ने मुझे बहुत स्नेह दिया और रात को पिछली बार की तरह बदले में उन्हें प्यार दिया.

वो हर एक दिन छोड़ कर आता और मेरी बीवी को रगड़ रगड़ के चोद कर चला जाता. मैंने भी अपनी जीभ से भाभी की चूत पर हल्के से लिक करना शुरू किया और वह तड़पने लगी.

मुंबई का बीएफ वीडियो उसने लाल कलर की ब्रा पहनी थी, ब्रा नई होने के वजह से चमकदार सेक्सी लग रही थी. मैं और मेरी पत्नी बहुत खुले विचारों के हैं, हमको अगर कोई लड़की या शादीशुदा औरत इस तरह की मिलती है तो हम दोनों ही साथ में उसकी चुदाई करते हैं.

मुंबई का बीएफ वीडियो बाद में मेरी बीवी खुशबू ने मुझे बताया कि कविता की उम्र 29 वर्ष होगी. मैंने कमरे का गेट बन्द किया और स्वीटी को बांहों में भरते हुए उसे बेड पर गिरा दिया.

उसने डरती सी आवाज में मुझसे पूछा- आप कब आए?मैंने कहा- जब तुम बाथरूम में थीं, पर तुम बिना कपड़ों के कैसे? बाहर गांड मरवा के आ रही हो क्या?उसने कहा- नहीं वो बस कोई घर पर नहीं था.

गुजराती बीपी पिक्चर

वो नैना से बोली- दीदी, मैं शाम को कॉलेज से सीधा माँ के घर करनाल जाऊंगी. लेकिन मैंने उनकी चिल्लपों को अनसुना करते हुए एक ज़ोर का धक्का लगा दिया. उसने मेरी टी शर्ट और बनियान खोल दी और मेरी चौड़ी छाती पर किस करने लगी.

फिर मैं धीरे-धीरे भाभी के बच्चों को चॉकलेट देने लगा और इस बहाने भाभी के करीब जाने के बहाने ढूँढने लगा. तब तक वह मेरे पीछे आकर खड़ी हो गई, उस वक्त मैं बेडशीट बदल रही थी- मैं आ गयी … ये तुम्हें पसंद नहीं आया क्या?सोनल बोली. अब तक मैं कपड़े पहन चुका था तो वो जोर से सांस लेते हुए बोली- लोग केवल बोलते रहते हैं और कपड़े पहन कर कमरे में बैठे रहते हैं.

अब आप बताओ कि जब ऊपरवाला ही छप्पर फाड़ कर दे रहा है, तो मैं क्यों मना करूँ.

फिर उसने अपनी गांड ऊपर उठा कर लंड को चूत में सैट किया और धीरे धीरे नीचे बैठते हुए पूरा लंड अपनी चूत में ले लिया. मैं जान गई थी कि लड़कों का लंड खड़ा होने के बाद उनको कंट्रोल करने में कितनी परेशानी होने लगती है. वे मजे से मेरे लंड को अपनी चुत से खाते हुए अपने खुद के होंठों को ही काट रही थीं.

राज अंकल बोले- देख सोनू, तेरी मम्मी लगता है जम के चुदवा रही है, पूरी गाड़ी खड़ी कैसे हिल रही है. खैर मैं इस बात से खुश था कि मुझे बिना प्रयास के अपनी हर मनोकामना पूरी होती दिख रही थी. मैंने धीरे से उसकी चूत पे किस किया और फिर मेरे होंठ उसकी चूत की साइड पे चलने लगे.

फिर मैंने अपना अंडरवियर उतारा और अपना लंड उसके हाथों में सौंप दिया. कसम से दोस्तों, मैंने बहुत सी लड़कियों व औरतें से सम्बन्ध बनाये हैं … मगर आज तक प्रिया के जैसी कोई नहीं मिली थी.

सलोनी ने भी तुरंत रेस्पॉन्स किया और वो भी मेरे नीचे को होंठों को चूसने लगी. मैंने अपने चपरासी को आवाज़ लगाई- ये ऑफिस रूम में क्या खुसुर फुसुर चल रही है, ज़रा मुझे भी तो बताओ?मेरे चपरासी शिवा ने मुस्कुराते हुए कहा- सर, वो आज अपने स्कूल में एक नयी टीचर आई हैं, सभी उनके ही बारे में बातें कर रहे हैं. इसलिए मैंने भी अब उसका साथ दिया और अपने सारे कपड़े उतारकर बिल्कुल नंगा हो गया.

मेरी इस हरकत से वो बहुत गर्म हो गयी और मुझे कहने लगी- साले मादरचोद … अगर प्यासी छोड़ दिया तो घर जाते ही तेरी गांड टूटेगी.

क्योंकि मुझे अकेले ड्रिंक करने की आदत नहीं है।मैंने उसे ‘हाँ’ कर दी।वो दो ड्रिंक ले के आई. और फिर पापा उठे और मॉम की जाँघें फैलाकर अपना मुरझाया हुआ लण्ड चूत में पेलने लगे लेकिन पापा का लण्ड मॉम की चूत में ठीक से घुस भी नहीं पा रहा था क्योंकि उनका लण्ड ठीक से खड़ा नहीं होता था. करीब 5 मिनट बाद पापा झड़ गये और उनके ऊपर गिर गये और लण्ड का पानी मॉम की चूत में छोड़ दिया और आहह उउहह करके झड़ गये।तब हम दोनों भी उठकर अपने कमरे में आ गयी.

नेहा ने हँसते हुए कहा- तो अब देख ले, सीट का पर्दा बन्द कर देते हैं. पुणे छोड़ते ही सारे जेंट्स बस के पिछले हिस्से में आ गये और अपना ड्रिंक का प्रोग्राम शुरू कर दिया.

अब मुझसे भी नहीं रहा गया तो मैंने भी उसके कपड़े निकालने शुरू कर दिए ताकि मैं भी उसके दूध पी सकूं. आज दोनों बच्चे साथ ही यहाँ सोने वाले हैं भाभी जी, आप चिंता ना करना. फिर उन्होंने मेरे ऊपर आकर अपना लंड मेरी चूत पर सेट किया और एक जोरदार धक्का लगाया जिससे उनका आधा लंड मेरी चूत में घुस गया.

बांगलादेश सेक्सी व्हिडिओ

रात के करीब 12 बजे मेरे पति मेरे पास आये और मुझे वहाँ से जगा कर नीचे कमरे में ले आये। कमरे में आते ही मेरे पति ने नीचे ज़मीन पर एक चादर बिछाई और लेट गए और मुझे बोले- आ जा।मैं उनकी बगल में लेट गयी.

फिर मैं तेज़ धार छोड़ते हुए उसके मुँह में ही झड़ गया और उसी वक्त उसकी चूत ने भी पिचकारी जैसा पानी छोड़ दिया. अगर वो कोई असली लंड भी होता तो भी इतनी मुश्किल नहीं होती क्योंकि लंड जल्दी से अन्दर बाहर होता है, जिससे वो एक जगह टिक कर नहीं बैठता. उसके बाद राहुल ने कई बार मेरी चूत और गांड की चुदाई की लेकिन जो मज़ा मुझे पहले दिन आया था वह मज़ा आज तक दोबारा नहीं मिला.

चूंकि रात थी … और ज्यादा हल्ला आदि करने से कोई भी जाग सकता था, इसलिए हम दोनों बस किस तक ही सीमित रहे. कुछ जिन्हें रास्ते में उल्टी हुई और कुछ जेंट्स जिनको ड्रिंक्स ज़्यादा हो गयी, वो लोग बस में आराम कर रहे थे. मारवाड़ी देसी सेक्स बीएफउसने अपना मुँह मेरे चेहरे की तरफ किया, उसकी गर्म सांसें साफ सुनाई दे रही थीं.

घर के कामों में दिन गुजर गया और रात हो गयी, मैं बेड पर बैठे जेठ जी का इंतजार कर रही थी. अबकी बार उसका धक्का काफी ज़ोरदार था जिससे लंड पूरा मेरी चूत में समा गया और मुझे मज़ा आने लगा.

मुझे भी केवल 2-3 दिन का काम बाकी था तो मैंने कहा कि ठीक है, तुम परेशान मत हो मैं शाम को आ जाऊंगा. सब अलग-अलग छतों पर थे। मैं भी राहुल के बगल में आकर लेट गयी और राहुल से बातें करने लगी। बात करते करते मैं सो गई और राहुल भी सो गए थे. प्रिया काफी समझदार निकली, वो मेरे होंठों को छोड़कर मुझसे थोड़ा अलग हो गयी और उसने खुद ही अपनी टी-शर्ट को पूरा बाहर निकाल दिया.

अब मैं अपने कपड़े खोल चुका था क्योंकि मेरा लन्ड पहले बिताई रात के बारे में सोचकर और आज देखे नीलम के रूप की वजह से अकड़कर तना हुआ था और उसे कैद करके रख पाना अब मेरे बस में नहीं था। मैं बिल्कुल नंगा बैठा हुआ था. उसका दर्द भी मजे में बदल गया और वो भी मेरे लंड पर कूद कूद कर चुदवा रही थी. ”यह कह कर मैंने चुदाई थोड़ी तेज कर दी ‘घप घप घपघप …’कौशल्या की वो मीठी दर्द की बंगाली आवाज आने लगी- आह आह आह आह्ह ओरे बाबा धीरे … धीरे … एक्टू धीरे अमार राजा … हम्म आह ऊह्ह!कुछ जबरदस्त शॉट लगाने के बाद वो झड़ने लगी- आअह्ह हम्म आह्ह!उसकी चूत के पानी से चूत और चिकनी हो गयी.

मैंने एक और धमाकेदार धक्का लगा कर अपना पूरा लंड भाभी की चूत अन्दर डाल दिया.

फिर शाम को 4 बजे फोन आया और उसने कहा कि मैं ट्रेन से आ रही हूँ … और मैं मिरज जंक्शन तक की ट्रेन से आऊंगी, आपको वहीं आना है … मैं वहां दस बजे तक पहुंच जाऊंगी. जब मेरे लंड को लेकर सोनू मेरी छाती पर लेटी तो मैंने अपना हाथ उसके चूतड़ों से नीचे ले जाते हुए उसकी चूत और अपने लंड को छूकर देखा.

फिर दुबारा थोड़ा तेल डाला और ज़ोर लगाया तो मेरा पूरा लंड मैम की गांड में अन्दर चला गया. थोड़ी देर बाद एक बंदे ने अपना लंड मेरी चुत पर रखा और जोर से धक्का दे दिया. मैंने कहा- क्या मेरे साथ मेरे काम पर जाना है? तुम्हारी दुकान खोलने में तो समय है?तो वो बोली- नहीं, तुम तैयार हो कर काम पर चले जाना और मैं तुम्हारा सामान ले कर घर आ जाऊँगी.

अगले दिन भाभी ने बताया कि कल सोनू आई थी, मैंने उसके सामने तुम्हारी बहुत तारीफ कर दी है और वह तुमसे बहुत इम्प्रेस हुई है. फिर वो दौड़ता हुआ बाथरूम में गया और वीर्य थूक कर कुल्ला करके वापस आ गया. अपना मुँह नीचे करके मैंने उसकी चुत को चूम लिया और जैसे ही मैंने उसे चूमा ‘ओयह्ह्ह …’ कराहते हुए प्रिया ने एक जोर की सांस ली और अपनी कमर को ऊपर हवा में उठा लिया.

मुंबई का बीएफ वीडियो बिल्कुल चिकना बदन … एक रोयां तक नहीं था उसके बदन पर … तभी मेरा ध्यान उसकी चिकनी चुत ने खींच लिया, जिसको देखने के लिये तो मैं मरा जा रहा था. मैंने पूछा- भाभी मैं समझ नहीं पाया कि मजबूत हो जाएंगे से क्या मतलब हुआ है?भाभी ने मुझे सब बताते हुए कहा- मेरे पति मुझे खुश नहीं कर सकते और मेरी भूख नहीं मिटा सकते.

செக்ஸ் வீடியோ ட்ரிபிள் எக்ஸ்

इससे नेहा के हाथ अब अपने आप ही मेरे सिर पर आ गए और वो मस्त होकर मुँह से हल्की हल्की सिसकारियां भरने लगी. वो नीचे से अपनी कमर उठा-उठाकर चिल्ला रही थीं और बड़बड़ा रही थीं- आहहह और चोदो मेरी चूत को … आज मत छोड़ना … इसे भोसड़ा बना देना. यह मेरी पहली कहानी है साथियो, इसलिए कहानी में कोई गलती दिखे तो मैं पहले ही आप सभी भाभी, चाची, दीदी, साली लोगों से माफ़ी माँगता हूँ.

तुझे नहीं पता कि मेरा लौड़ा कितना बड़ा है? तुझे यह देखने के बाद पता चल गया था, फिर भी तूने कहा कि डाल और फाड़ दे मेरी चूत. उन लोगों की भी नाईट हमारे जैसे ही होती थी 3 नाईट उसके बाद 2 छुट्टी। पहली रात तो मैं नर्स रोजी को देखता ही रहा क्या गदर माल थी। यूं तो हम पहले भी मिल चुके थे जब मैं दिन में ड्यूटी करता था. बीएफ पिक्चर वीडियो में भेजिए2 मिनट बाद मैं उसके मुँह में ही झड़ गया और मनीषा मेरा सारा पानी पी गयी और मैं बेड पे उसके पास लेट गया.

मैंने फोन में बारह बजे का अलार्म सैट किया और रिंग वाइब्रेशन पर सैट करके सो गया.

पर छत्तू का लंड इतना मोटा था कि मुझे अन्दर से थोड़ा डर लगा, पर चुदने का मन इतना ज्यादा कर रहा था कि रहा नहीं जा रहा था. तब मूछों वाले अंकल ने फिर राज अंकल को बोला- राज भाई, आप होके आ जाओ, मेरा अभी मन नहीं है, मैं यहीं कार में बैठा हूं.

मामी ने दरवाज़ा खोलकर मुस्कराते हुए उसको बाय बोला और उसने मामी को किस करते हुए बाय बोल दिया. उसके घुटनों के पीछे से उसकी टांग और पट की चौड़ाई बता रही थी कि वह पूरी तरह से पक चुकी थी अर्थात पूरा लण्ड लेने के लिए उपयुक्त थी. और इस काम में मुझे बहुत ही मज़ा आ रहा था। एक हाथ अपनी फुद्दी में उंगली कर रही थी और दूसरे हाथ से अपने ही मम्मे दबा रही थी।अभी मेरे मम्मे छोटे थे, मैंने कोशिश तो की, पर खुद ही अपना निप्पल नहीं चूस पाई। कितनी देर मैं अपनी फुद्दी में उंगली करती रही, मेरी फुद्दी पानी पानी हो रही थी। मुझे एक जोश, एक नशा सा हो रहा था.

वो ड्राइवर को बोला- तुम गाड़ी सीधे बंगले तरफ ले लो और पीछे क्या हो रहा है, उसे भूल जाओ.

मैं जब भी ब्लू फिल्म कालों की चुदाई देखती थी, तो मेरे मन में भी इतने ही बड़े लंड लेने के सपने आते थे. इस बार मैंने इतनी जोर से लंड ठेला कि मेरा पूरा लंड चाची की चूत में समा गया. तभी मेरी सहेली के पति ने अपना लंड मेरी चूत से बाहर निकाल लिया और मैं झड़ न सकी.

बीएफ वेस्टअब तक इस मस्त मस्त कहानी में आपने पढ़ा कि सुलेखा भाभी अपने शरीर को‌ कड़ा सा करके मेरे लंड को अपनी चुत के मुँह पर लगाकर झटके से मेरे खड़े लंड पर बैठ गईं. मेरा खड़ा लंड उनको नमस्ते करने लगा तो लंड को हाथ में ले के मैम उसे आगे पीछे करने लगीं.

भाभी की चुदाई सेक्सी मूवी

मैं बोला- आप क्यों रो रही हो?उसने बोला- उनका यही काम है … घर पर आते हैं … दस मिनट रुकते हैं और चले जाते हैं. तो मैं अपने घर से 35 किमी दूर एक छोटे से शहर में रहने को राजी हुआ ताकि मैं हर शनिवार को घर आ जाऊं और चाची की चुदाई करके वापस चला जाऊं. इन सालों में मैंने हजारों बार उसे चोदा होगा और लंड तो पता नहीं, कितनी बार चुसाया होगा.

रूपा अपने होंठों को मेरे लंड के सुपारे पर कसके रगड़ते हुए लंड को चूसने लगी. खैर मैंने अपना खाना बनाया खाया अगले दिन संडे था, खाना खा के सो गया. दोस्तो, मैं नेहा गुप्ता आप लोगों के लिए एक नई कहानी लेकर आई हूँ जो मेरी आपबीती है। कहानी की शुरुआत करने से पहले मैं बता दूँ कि मेरी उम्र 21 साल है और मेरी फिगर 32-28-34 है।मैंने अपनी बारहवीं की परीक्षा पिछले साल ही पास की थी और मैंने उसके बाद कॉलेज में दाखिला ले लिया था.

फिर तो मैंने सोच लिया कि आज तो हो ही जाने दो।फिर हम तीनों चुदाई में मग्न हो गए. चिकनाई निकलने के बाद मेरी चिकनी चूत को मेरी सहेली के भाई ने बहुत देर तक चाटा. मेरी उससे पहले से ही कभी कभी बातें होती थीं, पर मैं कभी लिमिट से आगे नहीं बढ़ा था.

थोड़ी देर तक तीन उंगलियों से मेरी गांड में लगातार फिंगरिंग होते होते मेरा दर्द कम हो गया. अभी मेरा दिमाग बिल्कुल सुन्न था, चारों तरफ से गाड़ी बंद कर दिया था.

उसके बाद मैं इसकी नियमित पाठक बन चुकी हूं और आज अपनी ज़िंदगी की एक मस्त चुदाई लेकर आई हूं.

रिक्शे वाले को बोल कर कि किसी अच्छे होटल में ले चले … हम फिर से अपनी चुम्मा चाटी में मस्त हो गए. घोड़े लड़की की बीएफथोड़ी ही देर में उसके मुँह की गर्मी से मेरे लंड में जान आ गयी और वो 3 इंच से बढ़ कर 7 इंच का हो गया. महाराष्ट्र बीएफ व्हिडिओप्रशांत यहां अपने वादे पर सौ फीसदी खरा उतरा और वही किया, जो उसने कहा था. अरुणा घोड़ी बन गई अैर अंकल ने पीछे से अपना लौड़ा उसकी चूत में एक बार में ही घुसा दिया.

क्यों? क्या हुआ? तुम क्या सोच रहे थे कि मुझे कुछ पता नहीं? तुम दोनों के बीच जो कुछ चल रहा है, मुझे सब पता है.

मेरे लंड को चाची ने मेरी चड्डी से बाहर निकाल कर देखा तो उसकी आंखें फटी रह गयी और उसके मुंह से ‘बाप रे बाप …’ निकला. ये सब बोलकर उसने मुझे गले लगा लिया और रोने लगी, वो मुझे गर्दन पर चुम्बन करने लगी और फिर मैं भी पिघल गया. वो कुछ बोल तो नहीं रही थी मगर उसकी आंखों में उत्तेजना के लाल डोरे साफ‌ दिखाई दे रहे थे.

और फिर शाम को मैं एक बोतल व्हिस्की लेकर आया और हमने साथ साथ पी, रात भर मज़े किए. इसी मजे के कारण मैंने अब नेहा की चूची को छोड़ दिया और अपनी गर्दन उठा कर उसके चेहरे की तरफ देखने लगा … वो भी मेरी तरफ ही देख रही थी. नेहा के हाथ अब अपने आप ही फिर से मेरे सिर पर आ गए और मेरे बालों को सहलाते हुए वो मुँह से हल्की हल्की सिसकारियां निकालने लगी.

आदिवासी लड़की की चुदाई दिखाओ

छोड़ो भी ना …” सुबह के बारे में उससे कैसे बात करूँ … कुछ समझ में नहीं आ रहा था. मैं हेडफोन लौटाने उसके घर गया था, उस वक्त दोस्त के घर में कोई नहीं था, दरवाजा खुला था. हालांकि डर भी लगता था लेकिन लंड महाराज जो न कराये सो थोड़ा है।फिर धीरे धीरे हम दोनों में बातें शुरू हो गयी। रोजी बोली- आप अपना मोबाइल नंबर दे दो, मैं घर पर जब गेम खेलूंगी, अगर कोई समस्या होगी तो तुमसे पूछ लूंगी.

मुझे उठाने के बाद मम्मी मुझसे नजरें नहीं मिला पा रही थीं, ना मुझसे बात कर पा रही थीं.

मैंने भी पूछ लिया- अच्छा … ऐसी क्या बात है भला?शिवा थोड़ा हकलाते कर बोला- अरे सर व्वो ….

उसने मुझे फ्रेश होने के लिए कह दिया और उसके बाद हमने साथ में खाना खाया. अब मेरी पत्नी और नीरू ने पायल को बेड के कोने पर कर लिया और दोनों ने उसकी टांगें ऊपर उठाकर एक एक टांग फैलाकर पकड़ ली और मुझसे उसकी बुर पर अपना लंड लगाकर अंदर डालने को बोला. सेक्सी बीएफ गाना पर कीइसी के साथ दोनों ने अपने अपने शादीशुदा सम्बन्धों की बातें शुरू कर दीं.

उसको देखते ही मेरा लौड़ा खड़ा हो गया और मेरे दिमाग में शैतानी आने लगी. थोड़ी ही देर में वो अकड़ने लगी और ढेर सारा पानी मेरे मुँह पे मार दिया. थोड़ी देर चलने के बाद मेरी कार में से कुछ आवाज आने लगी और मेरी कार का टायर भी पंचर हो गया.

मैंने महसूस किया कि मेरे हाथ निकलने पर भी उसने अपना ब्लाउज बंद नहीं किया था. अब मैं अपने आप ही अपनी कमर को आगे पीछे करने लगी कि जल्दी से दोनों के लंड अन्दर घुस जाएं.

मुझसे रहा नहीं गया इसलिए मैंने अपने दोनों हाथों से उनकी‌ गर्दन‌ को‌ पकड़कर उनके होंठों को अपने मुँह में भर लिया और उन्हें जोरों से चूसने लगा.

मैंने कहा- ठीक है, यदि तुम्हें मुझसे कुछ हेल्प लेनी हो तो मुझे बता देना. कहानी का पिछला भाग:भाभी चुदाई के लिए बेताब थी-1मुझे उसकी मस्ती भरी चुदासी सिसकारियां बहुत अच्छी लग रही थीं. पहले तो मैंने सोचा कि क्या यह चालू माल है … साली इतनी जल्दी चुम्मी कर रही है.

इंग्लिश मूवी बीएफ वीडियो उसे क्या पता था कि मैं जिन व्यक्तियों के बीच रह कर आई हूं, वो उससे भी कहीं ज्यादा खुले विचारों के हैं. उधर उन दोनों ने मेरी चुदाई की तैयारी शुरू कर दी थी और अपने दो दोस्तों को भी मेरी नंगी चूत की फोटो भेज कर बुला लिया था.

जब मैंने अपने फ्लैट के दरवाजे पर पहुँच कर बेल बजाई, तो भाभी ने दरवाजा खोला और मैंने उनको देखा तो भाभी जीन्स और टी-शर्ट में खड़ी थी और बाल खुले रखे हुए थे. उसके बाद प्यार से तुम्हारे होठों पर किस करता, तुम्हें कस-कर अपनी बाहों में पकड़ लेता और फिर एक और मस्त किस करता। फिर तुम्हारे कान पर किस और बाइट करता और उसके बाद तुम्हारी गर्दन पर और फिर एक हाथ से तुम्हारे!नेहा- बस. मैं बाथरूम जाने के लिए उठा और नीचे उतरा तो देखो वो औरत बेबी को लेकर बैठी थी.

देहाती चुदाई वीडियो दिखाओ

मैंने वैसा ही किया और अब मेरी चूत एक बार पानी छोड़ चुकी थी तो पूरी तरह गीली थी. जब तक मैं उससे बात कर रहा था तब तक बाकी लोग बस से उतर के ढाबे के तरफ बढ़ चुके थे. उह्ह्ह्ह … आऐईईइ … धीरे … मार डालेगा क्या?” प्रिया पूरी उत्तेजना में थी.

मेरी मेल आईडी है[emailprotected]इस कहानी के बाद आप लोगों को बताऊंगा कि भाभी और उसकी सिस्टर को भी मैंने कैसे कैसे, किस किस स्टाइल में चोदा. अब आगे:प्रोफेसर साहब और उनके दोनों बच्चे सुबह 8 बजे स्कूल और कॉलेज चले जाते थे.

जब उसे पता चला कि मेरा लंड तनकर खड़ा हो चुका है तो वह नीचे मेरे सामने ही बैठ गई.

वो फ़िर वही बच्चों वाली सूरत बना कर बोली- हूँह … गन्दे कहीं के … चलो जहां चलना है. मेरी बात भैया ने आगे पहुंचाई और मैंने अरुणा की फोटो देख ली, अरुणा की फोटो को देखा, तो बस देखता ही रह गया. लेकिन इस बार झड़ने के बाद वो और गर्म हो गयी और नीचे से अपने चूतड़ उठाने लगी.

अभी मेरा दिमाग बिल्कुल सुन्न था, चारों तरफ से गाड़ी बंद कर दिया था. मैं- अच्छा, फिर तुम क्या करती हो?सरिता- जाने दो, मुझे नहीं बोलना, तुम खुद ही समझ लो. मैंने फिर से नुपूर को उसकी गर्दन पर अपने होंठों से चूमना शुरू कर दिया और उसकी दोनों मौसम्मियों को कस कर दबाने लगा.

घर की जिम और अन्नू और डोली के यहाँ छह आठ महीनों की खुराक और उनकी दी हुई दवाई से मेरा बदन काफी अच्छा हो गया था तो मैंने भी विरोध नहीं किया.

मुंबई का बीएफ वीडियो: कुछ देर बाद मैंने एकता को मेरे पीछे किया और अपने पैरों को चौड़ा करके प्रमिला की तरफ को थोड़ा झुक गया. मैंने तुरंत नीरू के पीछे से जाकर उसके डॉगी स्टाइल का फायदा उठाते हुए नीरू की चूत में अपना पूरा लंड डाल दिया.

फिर हम दोनों ने शाम को डिनर किया और सोने का टाइम हो गया तो भाभी बोलीं- आशिक आप मेरे कमरे में ही सो जाना. यह कहकर दादा अंकल ने सीधे मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए और मेरे होंठों की जोरदार चुम्मी ले ली. मुझसे रहा नहीं गया इसलिए मैंने अपने दोनों हाथों से उनकी‌ गर्दन‌ को‌ पकड़कर उनके होंठों को अपने मुँह में भर लिया और उन्हें जोरों से चूसने लगा.

वह बोली- झूठ बोल रहे हो, वह तो आप पर पूरे डोरे डाल रही है, कैसे स्कूटर पर चिपक कर बैठती है.

अगर कोई मुझे चुदाई के दौरान मजा बढ़ाने वाली सलाह भी देना चाहता है, तो वो भी लिख दीजिये. सबीना आंटी का कराहना, उनकी हवस से भरी सिसकारियां, उनके बेडरूम को किसी रंडीखाने जैसा बना रहा था. मैंने सुनीता के घर के बाहर वाली ग्रिल पकड़ी और दीवार पर चढ़ कर उसके घर में आ गया और सीढ़ियों से धीरे धीरे ऊपर चढ़ गया.