बीएफ सेक्स पोर्न वीडियो

छवि स्रोत,झवाडी मामी

तस्वीर का शीर्षक ,

डॉक्टर की बीएफ हिंदी: बीएफ सेक्स पोर्न वीडियो, मैं अकेले कमरे में रहना पसंद करती थी और किसी से ज्यादा बात भी नहीं करती थी.

काले लंड की चुदाई

तो उसने बड़े आराम से अपने हाथ ऊपर करके मेरी मदद की।दोस्तो क्या बताऊँ. बिना प्रेगनेंसी के दूध आनामैंने पहली बार चूत को देखा था, तो देखते ही मैंने उसकी चुत को चूम लिया.

मैं अकेला ही था। मैं उसको मेरे बेडरूम में ले गया।मैंने पूछा- कुछ लोगी?उसने मना कर दिया- कुछ नहीं लूँगी।अब मैंने उसको बिस्तर पर बैठा दिया और उसको मैंने किस किया. मणीपुर ओपनतेरी मम्मी इतनी सेक्सी हैं कि कोई भी उनके साथ सेक्स करने को तैयार हो जाये.

मैं अंकल बगल में बैठी हुई अंकल के लंड और सुपारे पर जीभ फिरा रही थी.बीएफ सेक्स पोर्न वीडियो: मेरे लंड का टोपा ही उसकी चूत में अन्दर गया था कि वो उछल कर मेरे नीचे से निकल गई और दीवार के पास जाकर खड़ी हो गई.

मैंने भी पूजा को अपनी बांहों में भरते हुए उसको चूम लिया और धीरे से पूछा- मेरे प्यारी पूजा, हम लोग अभी क्या करने वाले हैं?पूजा फिर से मुझको चूमते हुए मेरी आंखों में आंखें डाल कर बोली- हम लोग अब कुछ शरारत करने वाले हैं.लेकिन अनु सोई रही और हिली भी नहीं। मैं जानता था कि वो क्या चाहती है।मैंने भी सीधा उसकी स्कर्ट को उसकी कमर तक चढ़ा दिया और उसकी पैन्टी पर हाथ रख दिया। अब मैं धीरे-धीरे उसे उतारने लगा.

कार कैसे बनती है - बीएफ सेक्स पोर्न वीडियो

पर वो मेरी इस बेरहमी का जवाब चुम्बन से दे रही थी।इसी दौरान मैंने उसकी सलवार खोल दी अब वो मेरे सामने बस पैन्टी में थी। क्या मस्त लग रही थी। फिर मैंने पैन्टी भी उतार दी। उसकी चूत पर थोड़े बाल भी थे.चलो कमरे में चलते हैं।फिर चाचा मुझे खींचते हुए कमरे में लेकर चले गए और मुझे लेकर चौकी पर बैठ गए।‘यहाँ कोई और भी आ सकता है ना?’‘नहीं आज कोई नहीं है.

अब दीदी अपने ससुराल चली गयी थी तो मैं रात में अपने बॉयफ्रेंड से बात करती थी. बीएफ सेक्स पोर्न वीडियो उसने जानबूझकर चादर के नीचे से अपना शॉर्ट्स खोल दी जिससे उसका लंड चादर में तम्बू बनाने लगा.

तो भाभी ने झट से लंड को मुँह में ले लिया और लंड को तगड़ा करने लगीं।अब मैं भाभी को कुतिया की मुद्रा में होने को कहा।भाभी तुरंत तैयार हो गईं।मैंने अपना एक हाथ से लंड पकड़ कर चूत के मुहाने पर रखा और दूसरे हाथ से भाभी की कमर पकड़ी और लंड अन्दर डालने लगा। जब दो से तीन कोशिश में भी लंड अन्दर नहीं गया.

बीएफ सेक्स पोर्न वीडियो?

क्योंकि अब कोई और आने वाला नहीं था। मैं अन्दर गया और किरण से पूछा- अब पूजा तो नहीं आएगी न?वो बोली- नहीं अब नहीं आएगी।तो मैंने बोला- ठीक है. क्या सॉफ्ट माल सी थी। उसकी चूची को छू कर ऐसा लगा था कि जैसे उसकी चूची को किसी ने कायदे से मसला ही न हो।ममता- राजी नहीं. मैं उसके दो या तीन दिन बाद जयपुर आ गया और अब मैं उससे रोजाना बात करता हूँ.

हम दोनों कांच के आगे खड़े होकर आपस में एक दूसरे को देखने लगे और मुस्कुरा उठे. 34-28-32 का फिगर देख कर स्टेशन पर ही मेरा मन बेचैन होने लगा।अभी मैं उसी के ख्यालों में ही खोया था कि अचानक वो मुझसे गले मिलने लगी। उसकी 34 साइज़ की चूचियां मेरे सीने पर चुभ रही थीं. हम दोनों बातें करने लगे, बातों-बातों में पता चला कि उसका घर मेरे घर से लगभग 10 किलोमीटर दूर है।फ़िर मैंने कहा- आप मुझे अपने पुराने नोट्स दे देना.

मैंने उसके होंठों को चूसते हुए लंड को पूरी ताक़त से अन्दर तक धकेला और सुनयना भी पूरी चूत ऊपर करके मुझे कस कर पकड़े हुई थी।‘अहहसीए. चारपाई पर पड़े कपड़ों पर मैंने उसे लेटाया और खुद ऊपर लेट कर हाथों से उसकी चुचियों को मसलता रहा और किस करता रहा. ’ कहते हुए उन्होंने मेरे हाथ से क्रीम ले ली।‘तुम दूध पीओ।’ अपने साथ लाया हुआ दूध मुझे देते हुए वो बोलीं।‘नहीं.

वो फटाफट मेरे अन्दर अपना लंड अन्दर बाहर करने लगा और दो-तीन मिनट के अन्दर ही अंकित ने अपने लंड का पूरा का पूरा गर्म गर्म लावा मेरी चूत में भर दिया. शायद उनका किसी और के साथ चक्कर न हो।मैं अब उन पर निगाह रखने लगी, उन्हें बहला कर सब कुछ जानने की कोशिश करने लगी।मैंने देखा कि वो हमेशा उदास रहते हैं और खाली टाइम में ब्रूटल यानि हिंसक सेक्स ब्लू-फिल्म देखते रहते हैं और स्टोरीज पढ़ते रहते हैं।काफ़ी दिनों तक वॉच करने के बाद भी मुझे ऐसा नहीं लगा कि उनका किसी और से चक्कर है.

साथ ही बीच-बीच में धीरे-धीरे लण्ड चूत में अन्दर-बाहर कर रहा था।उसके मुँह से ‘उऊह.

जो 2005 में बहुत कम लोगों के पास होता था। जिसकी वजह से मैं अपने दोस्तों और सीनियर्स में फ़ेमस हो गया था।हम सारे दोस्त पढ़ाई के साथ-साथ मेरे लैपटॉप पर ही मूवी और ब्लूफिल्म देखा करते थे। हम सभी किसी न किसी लड़की को गर्लफ्रेन्ड बनाने के बारे में चर्चा करते रहते थे.

मेरी उम्र 22 साल है और मैं अकेला अपने घर से दूर अपने कॉलेज के पास किराए के मकान में रहता हूँ. अब उसने तारा और माइक को आपस में एक दूसरे के जिस्मों से खेलने के लिए अकेला छोड़ दिया. तो अंकल ने पूछा- कभी गोलगप्पा खाया है या नहीं?इस पर मैंने कुछ डर और बेचैन भाव से हाँ में सिर हल्का सा हिला दिया.

विकी ने ये भी बताया कि मेरे पति ने सर्च किया था कि मसाज़ में सबसे अच्छा कौन है और सिर्फ़ अपॉइंटमेंट के लिए उन्होंने 4 हज़ार ज़्यादा दिए ताकि जल्दी डेट मिल सके. मैं भाभी का असली नाम बताना नहीं चाहता हूँ लेकिन इस कहानी में मैं उनको रिया भाभी कहूँगा. तो किसके साथ करता।वो फिर हँस पड़ीं।फिर मैंने थोड़ी हिम्मत की और मामी से पूछा- अब आप को मामा की याद नहीं आती?तो मामी ने कहा- याद तो बहुत आती है.

मैंने समाली अंकल का लौड़ा मुँह से निकाल दिया और जोर से चिल्लाने लगी.

मैंने उसे अलग किया और नीचे लेटा दिया। मैं उसके मम्मों पर टूट पड़ा और अच्छी तरह से मसलने लगा।वो ‘आहह्ह्ह्ह. फिर मैंने कहा- यह तेरा मुँह कोई सही जवाब नहीं देता इसलिए इसे ही बंद कर देना पड़ेगा. ”मैंने कहा- देख जो होना था वो हा गया … अब क्यों बेवजह टेंशन ले रहा है… और वैसे भी अगर उसको कुछ करना नहीं होता वो कपड़े उतरवाती ही क्यों? मन उसका भी कर रहा था करवाने का, तभी तो उसने करवा लिया.

उफ़्फ़ … आआआह … रहने दो यार … न करो ये सब अब!” कहकर सिसकारी भरती हुई मीता मुझसे एक हाथ दूर जा कर खड़ी हो गयी. हर तरह से चोदा था।अब सोनू भी चुदने में माहिर हो चुकी थी।इन लड़कियों को अगर जबरदस्ती चोदा जाए. अब तू जितने दिन यहाँ रहेगा मैं डेली तुझसे चुदूँगी।यह सुन कर मोनू और ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारने लगा, मैं तो बस जन्नत की सैर करने लगी- मोनू बहुत अच्छे.

मैं नहाने जा ही रहा था कि अनु पीछे से आकर बोली- भैया पहले मैं नहा लेती हूँ।तो मैंने कहा- ठीक है.

मेरे देवर ने मेरी ब्लाउज निकाल दी और उसके बाद वो मेरे ब्रा को भी निकाल कर मेरी बड़ी बड़ी चूची को अपने मुंह में लेकर चूसने लगा. ये हालत आप पर क्या सितम ढहा सकते हैं और आपके लंड की क्या हालत हो सकती हैं।मुझे तो लगता है कोई भी औरत ऐसे मौके पर इस हालत में मिल जाए तो नामर्द का लंड भी तन कर उसको सलाम कर देगा और साधू भी शैतान हो जाए.

बीएफ सेक्स पोर्न वीडियो तो ऐसा ही होता है।मैंने पूछा- मेरा जन्मदिन का गिफ्ट कहाँ है??उसने शरमाते हुए मेरे दोनों हाथ अपने जवां कबूतरों पर रख दिए। आग दोनों तरफ लगी हुई थी. उसके वो नर्म‌ नर्म नाजुक होंठ और उसके गर्म गर्म गीले मुँह की‌ गर्मी … मेरे लंड से होते हुए मेरे पूरे बदन पर चढ़ने लगी थी.

बीएफ सेक्स पोर्न वीडियो इतना तो दिमाग लगा सकता हूँ, वहीं पर हमारी आँखें टकराने लगीं, वो भी हर थोड़ी देर में आईने पर नज़र डालती और हमारी नज़र टकरा जाती।वो घबरा गई थी और थोड़ी सी मुस्कुरा भी रही थी।खाना हो गया और हम अपने रूम में चले गए।सब सो गए. फिर चाची मेरे सर पर हाथ फेरते हुए बोलीं- मज़ा आया मेरे राजा? मैं तो तीन बार झड़ गई.

मैं अब सोचने‌ लगा कि अगर नेहा खिड़की‌ पर है … तो फिर दरवाजे पर कौन आया होगा? काफी देर तक मैं दरवाजे की तरफ‌ ही देखता रहा.

भोजपुरी देहाती बीएफ

तो मैंने देर ना करते हुए उसकी पैन्टी और अपने सारे कपड़े निकाल दिए और उसके ऊपर चढ़ गया। मैंने अपना लण्ड उसके मुँह के पास ले जाकर उसे चूसने के लिए कहने लगा. पहले तो उसके चूचों को गोल गोल अपने हाथों से घुमाता, तो कभी दबाता और सहलाता. मेरा लंड अभी भी आधे से कम ही अन्दर गया होगा, पर मैंने प्रिया को ऐसे ही पकड़े रखा और फिर धीरे धीरे उसकी चूत में अपना लंड अन्दर बाहर करने लगा.

हम दोनों ने ही चुदाई का सीन पहली बार ही देखा था और बहुत ही उत्तेजित हो रहे थे. मग मात्र मेनका खुलली तिने आपला अनुभव सांगायला सुरवात केलीमला सर्वात पहिले झवले ते आमच्या मोठ्या जावयाने , एक दिवस ताई आणि भावजी बेडवर हा खेळ खेळत होते मी अचानक खोलीचे दार उघडले तर समोर भावजी ताईला घोडी करून तिच्या पुच्चीत लवडा घासत होते. आखिर मीठानंद ने प्रीति को अपनी गोद में उठाया और उसके कमरे में ले गए.

वो अगली बार ही पोस्ट करूँगा।प्लीज़ मुझे ईमेल करें।[emailprotected].

बहुत ठंड थी। दोपहर का समय था उसकी बेटी अपनी मौसी के साथ उसके घर गई थी।भाभी घर पर अकेली ही थी. फिर मैंने दही उठाई और अपने लंड में गिरा के मधु को चाटने को बोला तो वो लपक के लंड चाटने लगी. मैंने उसके मम्मों को फिर से प्रैस किया और उसकी गाण्ड को सहलाते हुए कहा- भाभी के अन्दर आज एक साथ दो-दो लौड़े उतार देते हैं यार!वो बोली- हाँ.

मेरे देवर ने मेरी दोनों चूची को बहुत देर तक चूसा और उसके बाद वो मेरी पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया, मेरी पेटीकोट को निकाल दिया और मैं उसके सामने बस एक पेंटी में थी. तो मैंने धक्के देने स्टार्ट कर दिए।अब पूरा कमरा सिसकारियों और मज़े की चीखों से गूंज रहा था।मैं ज़ोर-ज़ोर से धक्के देने लगा और उसके मुँह से ‘आआह. मैं- किसी को क्या पता चलेगा और तुम बेकार का डर रही हो।कह कर मैं उसके होंठों को फिर से चूसने लगा। ममता ने भी अपना जिस्म ढीला छोड़ दिया। मैं समझ गया कि अब वो मेरे लण्ड के लिए तैयार हो गई है। मैंने उठ कर अपनी पैन्ट उतार दी। अब मेरे जिस्म पर सिर्फ एक फ्रेंची थी.

और हाँ फिर से ‘उस भोसड़ी वाले’ से बोल रही हूँ कि मेल भेजते टाइम अपनी हद में रहे… मुझे जिसको मौक़ा देना था, दे चुकी हूँ. वो मेरा लंड चूस रही थी।चूसते-चूसते मैं और निशा हम दोनों एक-दूसरे के मुँह में ही झड़ गए। फिर हम दोनों 15 मिनट तक लेटे रहे आपस में चुहलबाजी करते रहे और एक-दूसरे को सहलाते रहे।फिर हम दोनों किस करने लगे.

मेरे लंड को अच्छे से साफ करने के बाद प्रिया ने एक बार अब फिर से मेरे लंड को अपने मुँह लेने की कोशिश की, मगर जैसे ही वो अपने होंठों को मेरे लंड के पास लेकर गयी, उसने मितली सी ली और अपने मुँह को‌ वहां से हटाकर मेरी तरफ देखने लगी. उसको लिटा कर उसके ऊपर बैठ जाना और उसको मुर्गा बनाने के बहाने उसका मुँह अपनी जाँघों के बीच दबा देना मुख्य थे। ऐसे कुछ और दिन चला. मेरी गालियाँ सुनकर वो तनिक कोप से मुझे देख रही थी।‘गाली क्यों देते हो?’‘अरे मुझे बता.

उनकी तलाशी क्यों नहीं लेतीं?‘क्योंकि वे तुम्हारी तरह शैतान नहीं हैं.

भाभी और मैं एक-दूसरे की प्यास बुझाने में शुरू हो गए।भाभी तो बस मेरा लंड खा जाने पर उतारू थीं. भले ही हम दोनों की मंशा चुदाई की थी, लेकिन एकदम से चुदाई की मंशा एक दूसरे के सामने प्रकट कर देना भी ठीक नहीं होती है. तो लंड बाहर फ़िसल गया।उसने खुद मेरा लंड अपनी चूत में लगाया और पेलने के इशारा किया.

फ़िर हम दोनों वहाँ से खड़े हुए और मैं उसे किले में बिल्कुल अन्दर बने कमरे की तरफ़ ले गया।बहुत देर बाद मुझे किले में नीचे की तरफ़ एक अन्धेरा और बहुत बड़ा कमरा दिखा. अगर वो नहीं आए तो तुम भी स्कूल मत आना।पिताजी का नाम सुनते ही मेरे पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई, मैं गिड़गिड़ाते हुए टीचर के पास गया, कहा- प्लीज टीचर.

क्या मैं… मैं भी आपकी चूत…शीतल- हाँ बेटा… बिल्कुल… मुझे बहुत ख़ुशी हुई यह बात जानकर कि तुम मेरा चूत चाटना चाहती हो. सुनयना मेरी छाती पर सर रख कर बोली- विक्की मैंने इतना मज़ा कभी नहीं लिया सेक्स का. वो थोड़ा हिचकिचाने के बाद उसने गिलास ले लिया और जल्दी-जल्दी पी गया।दो ड्रिंक पीते ही उसे नशा होने लगा और वो आराम से बैठ गया, उसने बिस्तर की पुश्त पर अपना बदन टिका लिया और पैर लंबे कर लिए।अब वो मस्त होकर पिक्चर देखने लगा। मैंने सोचा कि ट्राई करने का अब सही समय है। तो मैं तौलिया पहन कर ही उल्टा लेट गया और लैपटॉप पर ब्लू-फिल्म लगा ली।जैसे ही ‘आ.

देसी हिंदी वीडियो सेक्स

अपने लंड को उन्होंने अपने थूक से पूरा गीला किया और वो मेरे ऊपर सीधा चढ़ गए.

पण स्वप्नील फ्री सेक्सचा भोक्ता होता त्याला दर आठ दिवसांनी चेंज पाहिजे असायचा. मुझे कुछ समझ ही नहीं आ रहा था, मैं भी उसे किस करने लगी और तौलिया के ऊपर से ही उसके लंड को मसलने लगी।वो मुझे किस करता रहा और एक हाथ से मेरी चूचियों को भी मसलता रहा।मैं बता नहीं सकती. पर आपका?चाची बड़े प्यार से बोलीं- मुन्ना अब तेरी बारी है।ऐसा कहकर वो मेरे मुँह पर आकर बैठ गईं। मेरे चेहरे के दोनों और अपने जाँघें फैलाए हुए चाची ने चूत मेरे मुँह के सामने लाकर रख दी।मैं पहली बार इतनी करीब से चूत देख रहा था।चाची बोलीं- चूसो विनोद.

अन्तर्वासना के सभी पाठक तीसरे तरह जैसे हैं, जिन्हें पढ़ के मन में उत्पन्न होने वाली हर क्रिया को प्रकाशित करके कल्पना के सागर में गोते लगाने में मजा आता है. ’ ये कहते हुए मेरी चूत पर चाचा ने दो कड़क शॉट लगाकर लण्ड को बुर से खींच लिया और अंधेरे में गायब हो गए।इधर जेठ जी मेरे करीब आ चुके थे. बड़ा बालवीर बड़ा बालवीरमैं उसको बेड पर ले गया और पहले उसको पीठ के बल लेटा दिया और तेल लेकर उसकी पूरी बॉडी पर लगा दिया.

। मैं अपनी अगली कहानी ज़ल्द ही लेकर आऊँगा पक्का वादा। आप सभी दोस्तों के मेल्स का इंतज़ार रहेगा।[emailprotected]. उसने जल्दी से सारे कपड़े उतार दिए।वो मेरे सामने एकदम नंगी हो गई थी।अब मैंने भी सारे कपड़े उतार दिए। वो अब मेरे पूरे शरीर पर चूम रही थी और मेरे लण्ड को जोर-जोर से हिला रही थी।फिर मैंने उसको बिस्तर पर लेटा दिया उसके ऊपर लेट गया और होंठों को चूसने लगा, मेरा लण्ड उसकी चूत के ऊपर फनफना रहा था।वो बोली- मेरे राजा, इसको अन्दर डाल दो.

मेरा वो तो बहुत गर्म है।तभी सुनसान जगह आई और भाभी ने एकाएक मेरे लण्ड पर हाथ रखा और कहा- आज शाम 8 बजे घर के पीछे वाले अरहर के खेत में मिलना. मुझे तैयार होते देख कर ही मेरे वो लवर केयर टेकर का तो लंड एकदम से खड़ा हो जाता था. और मेरी आंटी भी मैं आपका नाम कैसे ले सकती हूँ?सुधा- अब तू मेरी फ्रेंड भी है.

मगर मेरे दिल‌ में प्रिया के साथ बिताई उस रात की एक कसक बाकी थी, इसलिये मैं प्रिया के साथ ही अकेले में मिलने की कोशिश करता रहता था. आज उसने ब्रा नहीं पहन रखी थी, उसके संतरे जैसे मम्मे मेरे सामने थे।मैंने पागलों की तरह उसके मम्मों को चूसना शुरू कर दिया, वो भी मज़े में आ रही थी।तभी मैंने उसकी स्कर्ट ऊपर कर दी, उसने ब्लू कलर की पैन्टी पहनी हुई थी।मैंने उसकी जाँघों को किस करना शुरू किया. तो वह मेरे कपड़ों की तलाशी लेने लगीं।कपड़ों की तलाशी लेते हुए उनका हाथ मेरी उस जेब पर गया.

मैं उसके ऊपर चढ़ गया तो मीशू मेरे लंड को ऊपर नीचे करने लगी और अपनी चुत पर सैट करने लगी.

राज अंकल ने मेरे कूल्हों को पकड़कर फैलाया और गांड के छेद पर अपनी जीभ डाल कर चाटने लगे. उसमें डीवीडी भी लगा हुआ था उसे ऑन किया और उसमें एक इंग्लिश ब्लू-फिल्म लगा दी। उसमें चुदाई चल रही थी।वो मेरे पास आकर बैठ गया और फिल्म देखने लगा.

दोस्तो, मैं आपकी दोस्त कविता एक बार फिर से आप लोगों के सामने हाज़िर हूँ. मी माझ्या ड्रेसवरूनच माझी पुच्ची चोळू लागले होते भाउजींचा लंड माझ्या ये पुच्ची चोळण्याने ताठायला सुरवात झाली होती. अब मैं नहीं रुक सकती।मैंने लण्ड सीधा उसकी चूत में डालने की कोशिश की.

मुझे ऐसे लग रहा है, जैसे मैंने लड़कियों को चोदकर काई गलत काम किया है. उम्म्ह… अहह… हय… याह… उनकी चुत से सारा पानी मेरे मुँह में आ गया था और मैं पी भी गया. अबकी बार लौड़ा गाण्ड में घुस गया और एक दर्द की लहर मेरी गाण्ड में होने लगी- आःह्ह्ह आईईइ.

बीएफ सेक्स पोर्न वीडियो फिर बेड पर मालिश करने के लिए बोला, बाद में मतलब उन्हें भी मजा आ रहा था. शीतल ने उसको अपनी चूचियों को ताड़ते हुए देखा… फिर वो बोली मुस्कुराती हुई- ये तुम्हें बहुत अच्छी लग रही है क्या?विक्रम हड़बड़ाते हुए- क.

શ્રીદેવી સેક્સ

मेरे बहुत कहने पर वो गाण्ड में लौड़े को लेने को राज़ी हुई।राज़ी होने के पहले वो मुझसे पूछने लगी- तुम्हें ये सब कहाँ से पता चला. सब सलोनी को लेकर नहाने घुस गए।वहाँ फिर से एक बार सबने उसकी चूत मारी। इस बार सबने अपना वीर्य सलोनी को ज़बरदस्ती पिलाया। नहाने के बाद खाना आर्डर किया था. फिर वो हँस दिए और वेटर चला गया।मैं- आपने उसके सामने मुझे अपनी बीवी क्यों कहा?भाई- मेरी जान आज तुम मेरी बीवी लग रही हो न.

अंकल ने मेरे खुले मुँह में लंड बड़ी आसानी से घुसाया और लंड कुछ अन्दर घुसाने के बाद उसे आगे पीछे करने के लिए कमर को बैठे ही बैठे हिलाने लगे. अंकल ने मेरी गांड के छेद पर अपने लंड को जैसे ही रखा, मुझे ऐसा लगा जैसे बिजली का करंट मेरे बदन पर दौड़ गया हो. कमल सेक्सआपको इस सेक्स स्टोरी में कितना मजा आ रहा है, ये आप मुझे लिख सकते हैं.

अंकल बीच बीच में जांघों पर से सहलाते हुए मेरी कमसिन चुत पर भी उंगली लगा रहे थे.

मैंने ग़ुस्से में बोला कि क्या बकवास कर रहे हो आप? कौन विकी? आपने पी रखी है क्या?उन्होंने बोला- मेरी हीरोइन. बगल वाले घर में एक अंकल हैं उनका घर ऊपर खाली रहता है, नीचे परिवार रहता है.

क्योंकि मेरे लिए तुम एक लड़की ही हो। तुम मेरा लौड़ा चूसो और मैं तुम्हारी गाण्ड की चुम्मियाँ लूँगा. कुछ पल बाद वो नीचे से लंड लगाने की पोजीशन में आ गया और मालती उस पर ऊपर खेलने लगी. मुझे सिर्फ़ आवाज़ ही आ रही थी। मैंने सोचा ऐसे ही होगी कोई अड़ोस-पड़ोस की।तभी बगल में बैठी मेरी भाभी ने आवाज लगा कर उससे कहा- संगीता बर्तन धो रही हो?बाहर से आवाज़ आई- हाँ भाभी.

कुछ ही देर में मैंने उसके कपड़ों को उतार दिया और साथ ही अपने कपड़े भी निकाल दिए.

अलग-अलग जगह पर अलग-अलग तरीकों से हमने ये चूत चुदाई हसीन पल साथ में गुज़ारे।आपको यह घटना कैसे लगी. और भागती हुई मेरे पास आई और मुझे फिर से गले लगाती हुई बोली- आई लव यू सूरज. तो उन्होंने हँसते हुए कहा- क्या कर रहे थे?तो मैं बोला- कुछ नहीं भाभी.

निक्की सेक्सीतो पिंकी ने मुझसे कहा- मुझे तुमसे कोई बुक लेनी है।मैंने कहा- दोपहर को आकर ले लेना।दोपहर को पिंकी बुक लेने आई, घर पर मैं और मम्मी ही थे, मम्मी अन्दर वाले कमरे में सो रही थीं।मैंने पिंकी के अन्दर आते ही उसे पहले बुक दी. उसने कहा- भैया मैं अपने कपड़े उतार लूं?मैं खुश हो गया और कहा कि हां बिल्कुल.

बफ सेक्सी दिखाओ

पहले तो भाभी ने आना कानी की, लेकिन वो भी बहुत दिनों से लंड की भूखी थीं … इसलिए उन्होंने मेरा साथ देना उचित समझा. अमीषा अपनी माँ लीना के साथ रहती थी जो अपने पति से अलग हो चुकी थी या कहा जा सकता है कि उसने अपने पति से तलाक़ ले लिया था या वो विधवा थी मगर उसके बारे में पक्का कुछ भी नहीं कहा जा सकता था. और मैं खाना खत्म करके बर्तन लेकर रसोई में चली गई, फिर साफ-सफाई करके मैं बेडरूम में आकर लेट गई, पति पहले से ही बिस्तर पर लेटे थे, मैं उनके बगल में लेट गई।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !कुछ देर बाद पति ने कहा- ज्यादा मन हो रहा है चुदने का?मैं जानबूझ कर बोली- कुछ खास नहीं.

मैं सोनी की जबरदस्त चुदाई कर रहा था अभी कुछ मिनट ही हुए और अब सोनी अकड़ गई और झड़ने लगी… पर मैं उसकी चुदाई करता ही जा रहा था।अब सोनी झड़ चुकी थी. कभी ऊपर देखता भाभी की आंखों में, तो कभी उनके पैरों की तरफ़ निगाह कर लेता. और शीतल ने अपना पेटीकोट के नाड़े को दांतों से छुड़ाकर हाथ से पकड़ लिया, उसको कमर तक नीचे सरकाया जिससे उसकी माँ की पीठ पूरी नंगी हो गयी.

शहर से गाँव का रास्ता एक नहर का रास्ता था।जब लड़का आ रहा था तो रास्ते में उसे पेशाब लगी. मेरे मन में ये ही चल रहा था कि किस पोजीशन में इसकी गांड की चुदाई करूँ, जिससे पकड़ सही से बनी रहे. उसके बाद न जाने कब नींद लगी।सुबह 5 बजे मुझे लगा कि कोई मेरा लंड पकड़ के हिला रहा है, मैंने देखा कि मधु मेरा लंड पकड़ के जोर जोर से हिला के चूस रही थी, मेरे पैर अभी भी बंधे हुए थे.

हम दोनों में मुहब्बत हो गई थी मैं उसे कभी कभी चूम लेता था और वो भी मुझे किस कर लेती थी. नीचे से मीता अपने कूल्हे उठाकर मेरा लन्ड अपनी चुत की गहराइयों तक ले जाती और मैं जोरदार शॉट से और अंदर तक अपने लन्ड को गाड़ देता और मीता के होंठों से आहों और सिसकारियों का जो सिलसिला शुरू होता, वो अंत में एक दूसरे को जिताकर ही खत्म होता.

यह बात आज से एक साल पहले की है और एकदम सही घटना मेरे और मेरे पड़ोस में रहने वाली भाभी की है.

मेरे आनन्द की अब कोई सीमा नहीं थी क्योंकि प्रिया को अपना लंड चुसाते हुए मैं खुद भी अब मजे से उसकी रसीली चुत के रस को गटक रहा था‌. ब्लू फिल्म दिखा देपर मैंने भी ठान रखी थी कि इस परीक्षा का सामना लंड की तरह डट कर करूंगी।उसने मेरी कमर के नीचे तकिया रख दिया और मेरे चूतड़ों को पकड़ कर थोड़ा ऊपर उठा लिया और अपना लंड मेरी चूत से सटाया और फिर आहिस्ता-आहिस्ता अपना लंड मेरी चूत में प्रवेश करने लगा। जैसे ही उसका लंड एक बार पूरी तरह से अन्दर घुस गया. सेक्सी नगरफिर मैंने बात की शुरूआत की- चलो बच गए झंझट से वरना चुदाई भी हो जाती हा हा हा हा. मैंने लंड बाहर निकाल लिया और वो उठकर बैठ गई और चूत को जांघों के बीच में दबाकर दर्द से कराहने लगी।मैंने कहा- सॉरी यार… ज्यादा दर्द हो रहा है क्या?वो रोने लगी.

झड़ने का नाम ही नहीं ले रहा था।करीब 15 मिनट बाद वो झड़ गया और उसने अपना पानी मेरी चूत में ही निकाल दिया।जब मैं उठी.

मुझे भी अलग अलग तरीके से चुदवाने में मज़ा आता है इसलिए मैंने झट से अपनी 36 इंच चौड़ी गांड को ऊपर उठा दिया. उस पोजीशन में शिवम मेरी चूत पर साठ धक्के लगायेगा और भाई मेरे मुंह में साठ धक्के. मेरी सेक्स कहानी के प्रथम भागदोस्त की सौतेली माँ-1में आपने पढ़ा कि मेरे एक दोस्त की माँ की मौत के बाद उसके पिता ने अपने से काफी कम उम्र की कुंवारी लड़की से शादी कर ली.

उन दिनों उसकी माहवारी जस्ट खत्म ही हुई थी और माहवारी के बाद का यह पहला दिन था. पर साइज़ कुछ-कुछ बराबर ही था।वो अपना लंड हिलाते हुए बोला- इसकी भी मसाज करो. या उनकी वाइफ उनसे साथ सेक्स नहीं कर पाती थीं।मेरी सहेली साक्षी को एक लड़की.

बीएफ सेक्सी वीडियो बीएफ सेक्सी एचडी

तो उन्होंने अचानक मुझे पकड़ लिया और मेरी कमीज़ के अन्दर हाथ देना शुरू कर दिया।मुझे बड़ा अच्छा लग रहा था।फिर उन्होंने मेरी कमीज़ और बनियान उतार दी और मुझसे लिपटने लगीं. उसकी फीस 6000/- थी। लौटते समय सपना ने अपनी सहेली की भाभी को मेरे लंड से चुदने की पूरी बात बताई. और मेरी आंटी भी मैं आपका नाम कैसे ले सकती हूँ?सुधा- अब तू मेरी फ्रेंड भी है.

वह हकीकत लगने लगा।मेरे मन मस्तिष्क में बातें चलने लगीं क्या यह हकीकत में हो रहा था? सच में कोई है?कोई है तो क्या हुआ.

तो अदिति बोली- बहुत जल्दी में लगते हो।मैंने कहा- इस काम में कपड़ों का क्या काम औऱ अगर ऐसी ही बात है.

उसने कहा- तुम्हें महक लग गयी थी क्या कि मेरा पति आज घर में नहीं है?मैं बोला- भाभी, मालूम होता तो सुबह ही आ जाता और एक बार तुम्हारे साथ भरपूर मस्ती कर के चलते! वैसे तुम क्यों नहीं गयी शादी में?तो उसने कहा- तबियत थोड़ी ठीक नहीं थी और दुकान में भी कोई नहीं था तो नहीं गयी. मैं नहीं चाहता था कि इतनी जल्दी प्रिया स्खलित हो जाए क्योंकि मुझे पता था कि मेरी मंजिल अभी दूर है और स्खलन के बाद प्रिया ढीली पड़ जाएगी इसलिए मैंने अब धक्के लगाने थोड़ा धीरे कर दिए. गूगल पागल हैउसे बहुत मज़ा आया।फ़िर कुछ दिन बाद मैंने हॉस्टल छोड़ कर बाहर एक रूम ले लिया.

मी माझ्या ड्रेसवरूनच माझी पुच्ची चोळू लागले होते भाउजींचा लंड माझ्या ये पुच्ची चोळण्याने ताठायला सुरवात झाली होती. मुझे कोई दिक्कत नहीं है।मैं ऊपर पापा के कमरे में जा कर देख कर आया। पाप सच में सो रहे थे। मैं नीचे अपने कमरे में आया तो देखा वो पलंग पर बैठी है। मैंने उसके करीब आ कर उसके कंधे पर हाथ रखा तो वो खड़ी हो गई।मैंने उसे अपनी तरफ घुमाया और गले से लगा लिया, पहले वो हिचकी फिर मुझसे लिपट गई।मैंने धीरे से उसका चेहरा उठा कर उसे होंठों पर किस किया, वो पहले शरमा गई। मैंने उसकी चूचियों पर हाथ फिराया. फिर वे मुन्ना अंकल को बोले- मुन्ना इतनी जोर इसके दूध दबाओ कि इसके दूध पिचकारी छोड़ दें.

इसलिए मैंने खुद ही अपने चूतड़ों को थोड़ा ऊपर उठा कर अपनी चूत को दादा जी लंड के ऊपर सैट किया और फिर धीरे धीरे उनके लंड पर अपना वजन डाल कर बैठने लगी. उस रात को अराउंड 1:30 बजे भाभी को बाथरूम जाने की जरूरत हुई होगी, तो वो बाथरूम जाने के लिए उठी और उसके बाद पानी पीने किचन में गयी.

मैंने उसको होठों पर चूमते हुए कहा- बस एक बार करवा ले यार!वो बोली- नहीं, नीचे नहीं…मैं प्रेग्नेंट हो गई तो?मैंने कहा- कुछ नहीं होगा एक बार से…वो नहीं मानी.

अचानक, बाहर घंटी बजी और चाची एकदम फुर्ती से मेरे लंड से अपनी चुत को अलग करते हुए कपड़े पहन कर उठीं और बाहर दरवाजा खोलने चली गईं. पोर्न स्टोरी के पिछले भागलेस्बो मकान-मालकिन की चूत की प्यास-1अब तक आपने पढ़ा. उस क्रीम ने सलोनी को पूरी तरह से पागल बना दिया था।सबके जाने के बाद उसने विजय को फोन करके पूछा- तुम लोगों ने मेरी चूत में कौन सी क्रीम लगाई है।उसने बताया.

देसी देसी वीडियो मयूरी ने अपनी नंगी माँ को अपनी तरफ जोर से खींचा और अपने होंठ उसके होंठों से जोड़ दिए. उसका फिगर 32-30-32 का फिगर का था, इतना कांटा माल था कि जो भी उसको देखता होगा, वो पक्के में उसको चोदना चाहता होगा.

यहाँ हम दोनों के सिवा और कोई नहीं है।उसने मेरा हाथ लिया और अपने मम्मों पर रख दिया. सुबह होने वाली थी तो हम छत पर आ गए।दोस्तो, अपनी महबूबा को बाँहों में लिए हुए सुबह की पहली किरण को देखना. मैं उसको चूमा तो बोली- और जोर लगाओ मेरे पहलवान राजा …वो मुझको पहलवान इसलिए बोली क्योंकि मैं शरीर से ठीक ठाक हूँ और उसी तरह का मेरा लंड है.

ससुर बहु का बीएफ पिक्चर

उसके बाद मैंने तीन साल तक चाची की चुदाई की और फिर दिल्ली चला गया। अभी मैं एक साल से नवी मुंबई में रहता हूँ. खाने के बीच में कभी वो पैर से मेरे लंड को दबाती तो कभी मैं अपने पैर के अंगूठे को उसकी चूत में डालता. तेरी माँ को चोदूँ मोना रानी… हाय हाय हाय… ला मादरचोद अपनी बहन को भी ले आ कुतिया… तेरी माँ और बहन दोनों की चूतें चीर दूंगा हरामज़ादी… साली रंडी की औलाद… बाप का लंड चूसने वाली बदचलन… बहन की लौड़ी बदज़ात कहीं की.

?’ ये कहते हुए मैंने अपने पैर नीचे कर लिए और दोनों पैरों को छितरा लिया। मेरे ऐसा करते मेरी जाँघ के बीच से वीर्य की एक तीखी गंध आने लगी। मेरी चूत और जाँघें चाचा के वीर्य से सनी हुई थीं।शायद संतोष को भी महक आने लगी, वह बोला- मेम साहब, कुछ अजीब सी महक आ रही है?‘कैसी महक?’‘पता नहीं. शायद मेरा और पिंकी दोनों का रस बाहर आने को बेताब हो रहा था।कुछ देर बाद मेरा लंड ने अपने रस की बारिश पिंकी की चूत में कर दी।इधर पिंकी भी शांत पड़ गई।हम दोनों ने अपने कपड़े पहने.

उसने कहा- भैया मैं अपने कपड़े उतार लूं?मैं खुश हो गया और कहा कि हां बिल्कुल.

कमरे में पच पच की आवाज के साथ, मेरी और चाची की ‘आह आह आह आह आह’ की आवाज निकल रही थी. रात के करीब 11 बजे थे तो मैंने कहा- रीतिका, तुम लोग सो जाओ, मैं अपने रूम में जाती हूँ. वो फटाफट मेरे अन्दर अपना लंड अन्दर बाहर करने लगा और दो-तीन मिनट के अन्दर ही अंकित ने अपने लंड का पूरा का पूरा गर्म गर्म लावा मेरी चूत में भर दिया.

रेवती की मम्मी भी मुझसे रुकने के लिए कहने लगी, तो मैंने कहा कि मेरी वजह से आप पहले ही काफी परेशान हो चुके हैं. उधर लंड की सटासट पम्पिंग से लगातार प्रिया की सिसकारी निकलते हुए और तेज हुई जा रही थीं. पूजा ने मुझसे मेरी पर्सनल लाइफ के बारे में कुछ सवाल किए और अपनी जिंदगी की बहुत सारी बातें मुझसे शेयर की.

फिर क्या था, मैंने बिना उसे बताये उसके शहर पहुँच के डेली रूटीन में मेल किया और पूछा- कहाँ हो?तो वो बोली- मैं अपनी किराना दुकान में हूँ.

बीएफ सेक्स पोर्न वीडियो: पैरों को बिस्तर पर घिसने लगीं।फिर भाभी ने मुझसे कहा- अब तू नीचे आ जा. तो मैं समझ गई कि ज़रूर मुँह में लेने के लिए बोल रहा है।मैंने मना कर दिया.

तभी मैंने उसे अन्दर का सीन दिखने के बहाने अपने करीब और सट कर खड़ा होने का इशारा किया. तभी प्रिया का हाथ भी पीछे को आया और वो मेरे लंड को जीन्स के ऊपर से ही सहलाने लगी. जैसे 36 साइज़ के होंगे। वो खुद भी बहुत सुन्दर थी।मैंने उनके होंठों को चूसना शुरू किया और अपने हाथों से उनके 36 साइज़ के स्तनों को दबाने लगा। वो भी मेरा साथ देने लगी.

जीजू ने मुझे किस करते करते अपना एक हाथ मेरी कमीज में डाल दिया और मेरी चूची को दबाने लगे.

मैंने इसका फायदा उठाया और कहा कि चल मैं बताता हूं कि ये लंड क्या है?मैंने फिर से उसका हाथ पकड़ कर अपनी चड्डी के अन्दर ले गया. मैंने दही को नाभी तक बहने दिया, फिर नीचे से ऊपर तक चाटते हुए उसे गर्म करने लगा. तो सोनी आई फिर हम दोनों ने खाना खाया और वो बर्तन साफ़ करने लगी।अब सोनी बोली- हॉटशॉट.