बीएफ सेक्सी यूपी

छवि स्रोत,क्सक्सक्स देसी सेक्स वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

क्ष वीडियोस हिंदी: बीएफ सेक्सी यूपी, तो मैं ज़ाफिरा से बोला- ज़ाफिरा मेरी प्यारी बहन … किसी को मत बताना नहीं, वरना हम दोनों की बहुत बदनामी होगी.

ब्लू पिक्चर सेक्सी इंडियन

पर शनाज़ दुखी होकर बोली- सॉरी जान … काल रात मैंने थकान की वज़ह से बेड पर ही सो गई थी. सनी लियोन के पोर्न वीडियोइस समय चुत अपनी आग बढ़ाने का काम भी करती है … जिससे लंड का पिघलना भी जल्दी होने लगता है.

रास्ते में एक मेडिकल शॉप दिखाई दी तो मैंने शॉप के बाहर गाडी़ रोक दी. भोजपुरी ओपन सेक्सी वीडियोमुझे उसे उसी उम्र से ही प्यार हो गया था और वो भी मुझे प्यार करती थी.

जिन मैम को मैं चोदने के लिए घूरता था, आज वही मैम मेरा लंड चूस रही थीं.बीएफ सेक्सी यूपी: उसके मटर के दाने जैसे निप्पल मैं अपने दांतों के बीच में लेकर भींच देता था.

फिर जब उसने देखा कि मैं अंदर नहीं आ रही हूं तो वो खुद काउंटर से बाहर आया और फिर मुझे मेरा हाथ पकड़ कर अंदर ले गया.वो उसकी चूत पर हाथ ले गयी और पैंटी के ऊपर से उसकी चूत को सहलाने लगी.

मारवाड़ी सोदा सोदी वीडियो - बीएफ सेक्सी यूपी

कुछ देर के आराम के बाद मैंने अपना लंड उनके मुँह में डाल दिया और लंड चूसने के लिए कहा.इशा- और जो मेरी चूत फाड़ कर रख दी है, उसका मैं विशाल को क्या जवाब दूंगी?राजीव- कुछ नहीं होगा यार.

शकील अक्सर मेरे घर आया करता था क्योंकि वो इस शहर में आने से पहले से ही हमारे घर में रहता आया था. बीएफ सेक्सी यूपी अभी लंड के सुपारे ने चुत की फांकें चीरी ही थीं कि उल्फ़त की तेज आह निकल गई.

मैंने उसके बचे हुए वीर्य को साफ़ कर दिया और समीर मेरी गांड को प्यासे कुत्ते की तरह पेलने लग गया। मेरे तो होश ही उड़ गए जब अज़ीम ने मेरा लंड चूसना शुरू किया अब तो मैं सातवें आसमान पर उड़ रहा था.

बीएफ सेक्सी यूपी?

किस्मत से वो भी बेटी ही थी और कुछ दिन बाद नजमा बाजी का फोन आया और उन्होंने मुझे पास के ही सरकारी अस्पताल में बुलाया. फिर मैं इधर उधर की बातें करने लगा कि आप कौन सी बिल्डिंग में रहती हो, कौन सा फ्लोर है … वगैरह वगैरह. वो कहने लगी- आशु प्लीज और मत चोद मुझे बहुत दर्द हो रहा है … प्लीज आशु प्लीज आशु.

भाभी ने वो डिब्बा उठा लिया था और वो मुझसे नीचे उतारने के लिए बोल रही थीं. कुछ देर उसकी एक चूची को अपने मुँह में भर कर उसकी चुत में उंगली अन्दर बाहर की. मैं तो मामी की चूत को पाकर पागल ही होता जा रहा था।मामी मेरे बालों में हाथ फेरते हुए अपनी मदमस्त जवानी का रसापन बड़ी ही खुशी सहित करवा रही थी।दोस्तो, अगर अपनी महिला सेक्स पार्टनर को खुश करना हो तो उसकी चूत जरूर चाटो.

आपा ने जिसे फ़रिश्ता समझ कर पूरी रात अपनी कसी चूतचुदवाई थी … वो उनका छोटा भाई था?आपा ने मेरी तरफ झाँक कर देखा तो मेरा लंड ज़ोहरा की आंखों के सामने था. और नीछ आते आते आखिर में भाभी ने मेरे लंड को पूरा मुंह में ले लिया और उस पर जीभ घुमाने लगी. मेरे किस करते-करते ही हूर फिर से गर्म हो गई और मेरे लंड को सहलाने लगी.

मैंने उसके चुतरस से सने लंड को चूस कर अपनी चुत के रस का स्वाद लिया उसने भी मेरी चुत को चूस कर मस्त कर दिया. मेरी पहली सेक्स कहानी है हरियाणवी चुदाई की, इससे पहले मैंने कोई भी कहानी लिखी नहीं है, अगर मुझसे कोई गलती हो जाए तो प्लीज़ नजर अंदाज कर दीजिएगा.

प्रिन्सिपल ने मुझसे बोला- देखिए आप शाम को मेरे रूम पर आइए, फिर बात करते हैं.

आज ये पहली बार था, इसलिए सबको छोड़े दे रहा हूँ, अगली बार से सब होमवर्क करके आना.

इस एक हफ्ते में चुदवा चुदवा कर अवनीत मस्त हो गई, हफ्ते भर में उसकी चूचियों और चूतड़ों का साइज दो इंच बढ़ गया था. मैं अपनी प्यारी दीदी को गालों पर किस करते हुए उसके मम्मों को दबाने लगा. एक अच्छी चीज़ जो मुझे ख़ुशी दे रही थी, वो यह थी कि वो भाभी भी मुझे देख रही थी.

अब हम दोनों निस्तार करके बाड़े में वापस आ गए, जहां आगे छोटी बुआ अपनी साड़ी को आधी जांघों तक किए गोबर समेट रही थीं. इतने में मैं छत से नीचे आकर घर में अंदर छुप गया। घर में करीब करीब सभी लाइट बंद थी, थोड़ी रोशनी थी. फिर मैंने उसकी टांग को पकड़ कर उसे अपने ऊपर सैट किया, जिससे हम दोनों 69 पोजीशन में आ चुके थे.

आप प्लीज़ उनका काम कर दीजियेगा।अमित जी कहा- ये भी कोई पूछने वाली बात है.

जैसे ही उसका हाथ मेरे लंड पर लगा तो तुरंत ही उसके मुंह से निकला- अरे तुम्हारा लन्ड तो खड़ा है!उस समय मुझे उसके द्वारा लंड पकड़े जाने से अच्छा लग रहा था. चूंकि उधर उस समय हल्का सा अंधेरा हो गया था, तो बहुत से कपल भी अपने अपने इसी काम में लगे हुए थे. संक्षेप में मेरा परिचय, मेरी उम्र 21 साल की है, कद 6 फुट का है और मेरा लंड 6.

दस मिनट तक उसकी गांड को फिर से चोदने के बाद मैंने आंटी को कहा कि मुझे उसके मुंह में माल निकालना है. कुछ देर बाद मैंने घूमकर उसको अपने ऊपर किया, ताकि उसकी ड्रेस खोलने में मुझे आसानी हो. उस प्यारी सी बच्ची को मैंने अपनी गोद में बैठा रखा था।उस दिन हमारी कॉलोनी के पास ही संडे बाजार लगा हुआ था और घर वाले सभी वहीं पर खरीदारी करने गये हुए थे.

और मैं जीन्स के ऊपर से ही उसका लंड दबाने और सहलाने लगी।तभी उस कॉलबॉय ने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोला- मैडम, आपके साथ मेरी बुकिंग कल रात तक की थी। लेकिन मैंने आपके साथ एक बार अभी अभी बाथरूम में थ्रीसम कर लिया बट अब नहीं ओ के और अगर आपने मेरे साथ और सैक्स करने का का मन है तो आपको और पैसे देने पड़ेंगे.

उन्नत माथा, बंद नशीली आंखें, लाली लिये दो गुलाबी रसभरे होंठ जिसमें नीचे वाला होंठ मध्य से ज्यादा सुडौल, थोड़ा बड़ा था. चाची ने छोटा ब्लाउज, चमकीली साड़ी और होंठों पर लाल लिपस्टिक लगा रखी थी.

बीएफ सेक्सी यूपी पहले तो मेरी भाभी से बात नहीं होती थी, पर अब जब भी वो मुझे मिलती थीं, तो एकदम से मस्त सी स्माइल दे देती थीं. मेरा लंड में इतना दम है कि ये किसी भी आंटी औरत और भाभी और लड़की की चुत प्यास बुझाने को काफ़ी है.

बीएफ सेक्सी यूपी [emailprotected]होटल रूम सेक्स कहानी का अगला भाग:पड़ोस की भाभी ने ब्लैकमेल किया- 3. कुछ देर बाद भाभी की दोनों टांगें मेरे सीने से लग गई थीं, जिसकी वजह से मुझे स्प्रिंग जैसा लग रहा था.

वो सागर के झटके झेलने लगी और उनकी मुंह से कामुक कराहने की आवाज़ उफ़ हह ओह्हआह आह आह हह आ रही थी.

हिंदी फिल्म सेक्स वाली

हम दोनों इतनी गंदी तरह से सेक्स कर रहे थे क्योंकि हम दूसरे को बुरी तरह से चोदना चाहते थे. तभी जूही जाग गयी और अपनी मम्मी पर चिल्लाने लगी तो उसके मम्मी उसको समझाती हुई बोली- मुझे पता है कि रोज़ रात तुम अपने कमरे में चूत में उंगली करती हो. परंतु जब माही को बहुत ज्यादा दर्द होने लगा, तो वो एक बार फिर से चिल्लाने लगी- साले कुत्ते, जान निकालेगा क्या?मुझमें भी जोश आ चुका था.

और फिर कुछ समय बाद उन अंकल की सरकारी नौकरी लग गई और वे दोनों उस मोहल्ले से चले गये. मगर जैसे ही मैंने उसकी पैंटी के साइड से अपनी उंगली अन्दर करने की कोशिश की, उसने चुम्बन तोड़ते हुए मेरे दोनों हाथों को बाहर खींचा और मेरे ऊपर से हट गयी. सुमन भाभी की गांड चोदने लायक करने तक शोभा भाभी बेड पर नंगी लेट कर मुझे देखती रहीं.

मैंने उसकी पैंट खोलनी शुरू की तो उसने हाथ पकड़ा लेकिन मैं झटक दिया.

कुछ देर अपने दोस्त की जवान बहन ऐसे चोदने के बाद मैं लन्ड उसकी चूत से निकाल कर बिस्तर पर लेट गया और पीहू से कहा- मेरे लंड के ऊपर आकर इसकी सवारी करो।पीहू मेरी कमर के दोनों तरफ अपने घुटनों के बल होकर अपनी चूत की छेद पर मेरे लन्ड को सेट कर बैठ गयी। मेरा पूरा लन्ड उसकी चूत में समा गया।मैंने पीहू से कहा- पीहू, अब तुम मुझे चोदो. बस इतना कहना था कि वो इतने में ही चरम पर पहुंचे और जोर की उम्म्ह… अहह… हय… याह… निकालते हुए मेरी चूत में वीर्य छोड़ने लगे. मैंने उदास होते हुए कहा- मुझे भी तेरी बीवी सीमा के गोरे गोरे बदन का मज़ा चाहिए.

मगर अबकी बार मैं ज्यादा देर तक होंठों पर नहीं रुका और उसके बदन को जहां तहां से चूमने लगा. वो सिसकारने लगी- आह्ह … राज … आह्ह … ओह्ह … मजा आ रहा है यार … ओह्ह … ऊईई … आह्ह।मैं भी उसके निप्पलों को दांतों से काट देता था तो उसकी जोर की आह्ह निकल जाती थी. मैं मुस्कुराया तो चाची ने मुझे किस कर लिया और बोलीं- ओके अगले संडे को मिलते हैं.

अगले दिन शाम को जब शाम को सोने का टाइम हुआ तो हम दोनों रोज की तरह छत पर आ गए. एक मिनट बाद भाभी बोलीं- अब मत तड़फाओ … चोद दो मुझे अपने लंड से … ठोको.

पापा बहुत जोर से अपने लंड को अन्दर बाहर करने लगे और मम्मी जोर जोर से चीखने लगीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह उह उह!फिर दस मिनट बाद प्रशांत ने मम्मी की चूत में अपना पानी झाड़ दिया. भाभी की सेक्सी कहानी में पढ़ें कि कैसे पड़ोसन ने मुझे अपनी चूची से दूध पिलाया. इसमें मैंने सिर्फ पात्रों के नाम ही बदले हैं।आपको कॉलेज की लड़की की चूत चुदाई की मेरी सेक्स कहानी अच्छी या बुरी लगी, वो मुझे जरूर बताइएगा।मेरी इमेल आईडी है[emailprotected].

और जितने प्यार से तुमने मेरी गांड फ़ाड़ी है, उसकी भी इसी तरह चुदाई कर दो।सागर- ठीक है लेकिन वो मानेगी कैसे?मामी- उसकी चिंता तुम मत करो.

तो परीक्षा से दो दिन पूर्व ही मैं अपनी बीवी को अपनी ससुराल छोड़ने के लिए गया. संजय अंकल ने मुझे झटके से अपने ऊपर बैठाया और चुदाई की पोजीशन सैट कर ली. कुछ देर तक इसी तरह वो मेरे लंड पर उछलती रही और उसके बाद मैंने सोनी को घोड़ी बना लिया.

मैंने एक जोरदार झटका मारा और मेरा लंड आइला की चूत को फाड़ता हुआ उसमें पांच इंच तक समा गया. कहानी से संबंधित कुछ और प्रश्न हैं तो आप मुझे ई-मेल भी कर सकते हैं जिसका पता मैंने नीचे दिया हुआ है.

बुआ ने थोड़ी दूर जाकर मुझसे कहा कि तू यहीं कर ले, मैं थोड़ा आगे जाती हूं. उसका बाप बहुत दारू पीता था और माँ भी एक दो घरों में बर्तन झाडू का काम करती थी. अब तो उनका लन्ड खड़ा ही नहीं होता था।अब तो मैं सोच रही थी कि कैसे भी करके मेरे एक बच्चा हो जाये बस।मैं सोचने लगी कि क्या करूं … किससे कहूँ।अब मैं आपको बता दूं कि मेरे पति के विदेश जाने के बाद मैंने अपनी ननद के यहाँ गई थी।मैं अपने ननदोई के बारे में बता दूँ कि वो लखनऊ में जॉब करते थे, वहीं पर कमरा लेकर रहते थे.

সেক্সি ভিডিও ইংলিশ

फिर मुझे भी मज़ा आने लग गया। मैं भी उसका साथ देने लग गई। वो कभी मेरे बूब्स चूसता तो कभी होंठ।लगभग 15 मिनट बाद हम दोनों एक साथ ही झड़ गए।फिर जयपुर पहुँच कर हमने एक होटल में कमरा लिया.

मेरे शौहर चुप हो गये और उसने मेरी कमर पकड़ कर एक झटके से अपना लण्ड मेरी चूत में घुसा दिया. अब तक सागर ने अपनी शॉर्ट उतार दिया और मामी को कस के पीछे से पकड़ लिया. मैं उसके दोनों चूचों को दबाने के साथ उसके निप्पलों को भी चूसने और काटने लगा.

अब मैं खड़ा हुआ और आकांक्षा के पास जाकर उसका हाथ पकड़ कर उससे बोला- यार प्लीज मुझे माफ़ कर देना, मैं पता नहीं मैं क्यों तेरी तरफ खुद ब खुद खिंचा जा रहा हूँ. उनका कोई नहीं था तो मेरे मम्मी पापा ने उन्हें हमारे घर में ही रख लिया था. हिंदी सेक्सी मुसलमानीउस दिन मेरी अम्मा पड़ोस में कहीं गयी हुई थी और अब्बा भी अपने किसी खास के पास गये हुए थे.

कुछ समय तक लंड अन्दर बाहर करने के बाद मैंने एक जोर से धक्का लगा दिया, जिससे मेरा पूरा लंड चुत के अन्दर समा गया था. जब मुझे इस बारे में पता चला, तब लगा कि बंदी में कुछ न कुछ ख़ास तो होगा ही तब तो लौंडा लगा हुआ था.

उनकी इस बात से मुझे ये भी समझ आ गया था कि जब मां को चुत चुदवाने की आग लग चुकी है, तो अब किस बात का डर. शादी भी हो गयी और सब लोग लौट भी गये मगर उस भाभी का पता नहीं लग पाया. कुछ समय तक लंड अन्दर बाहर करने के बाद मैंने एक जोर से धक्का लगा दिया, जिससे मेरा पूरा लंड चुत के अन्दर समा गया था.

लेकिन आज मेरा लौड़ा रूकने के लिए तैयार नहीं था। मैंने अपने झटकों की रफ्तार बढ़ा दी. मैंने भी उनकी टांगों को अपने शोल्डर पर रख कर बुर में लंड का सुपारा सैट किया और एक जोर से धक्का दे मारा. तेल की शीशी से तेल हाथ पर लेकर मैंने उसकी गांड में अच्छे से तेल लगाया और उसकी गांड को अंदर तक चिकनी कर दिया.

संदीप ने मोबाइल उठाया और अपने फोन पर बात करने के लिये दूसरे कमरे में चला गया.

मैंने उसकी टांगों को पकड़ कर चौड़ी कर दिया और अपने लंड को उसकी चूत के ठीक बीच में लगाकर अंदर धकेल दिया. मैं बोला- मैंने कहा था मेरी रानी … एक बार ले लिया तो खुद ही तू अपनी गांड चुदवाने के लिए कहा करेगी.

फिर वो बोला कि पास ही एक गत्ता फैक्ट्री के पास उसका एक दोस्त रहता है. बाबा का लंड मेरी चूत की बखिया उधेड़ रहा था और मैं इस दर्द भरी चुदाई का पूरा मजा ले रही थी. अवनीत के बताने और मेरे सवाल जवाब के बाद कहानी का निचोड़ यह निकला कि इन दोनों का चार साल से अफेयर चल रहा था और पिछले तीन साल से इनमें शारीरिक सम्बन्ध भी थे.

सर मेरे लिए बहुत सारे लड़कियों के सेक्सी सेक्सी कपड़े भी ले कर आए थे. लेकिन उनका लन्ड मेरी बुर के अंदर जा ही नहीं रहा था क्योंकि मेरा बेकार पति मेरी बुर की सील नहीं तोड़ पाया था. बीच बीच में मैं भी उसको किस करता और फिर दोबारा से धक्के बजाने लगता.

बीएफ सेक्सी यूपी तभी वो मेरे करीब आ गईं और मैंने संजना आंटी की सांसों को महसूस किया. मैं प्रिन्सिपल के कमरे में अन्दर गयी, तो देखा कि सामने बेड पर प्रिन्सिपल बैठा था.

तमिल में सेक्स वीडियो

मैं अपना सर नीचे किए हुए उनकी किसी भी पल आने वाली झिड़की के लिए तैयार बैठा था. उन्होंने हमें बताया कि उनके पास सामान कम ही है और वह कल रहने के लिए यहां आ रही है. उस दिन सागर भी था हमारे घर पर!जब सब प्रोग्राम खत्म हो गया तो सागर भी जाने लगा.

लेखक की पिछली कहानी:मैंने अपनी मॉम की सैंडविच चुदाई देखीये उस वक्त की बात है जब मैं 19 साल का होने वाला था. मैं उनकी बात सुनकर समझ गया कि मां को अपनी चुत चुदाई की बात मालूम है, मगर वो कुछ कहती नहीं थीं. एक्स एक्स एक्स न्यू मूवीदोस्तो, उस समय मोहल्ले हुआ करते थे और घर आपस में जुड़े हुए होते थे.

दोस्तो, किस तरह से मेरे मम्मी के यार से मेरी चुत चुदाई का आगाज हुआ, ये मैं आपको सेक्स कहानी के अगले हिस्से में बताऊंगी.

उसने अपने कमरे में जाते ही लाइट बंद करके दरवाज़ा हल्का का खोल दिया ताकि बाहर की रोशनी में हम एक दूसरे को देख सकें. फिर वो बोली- देख कितना बड़ा हो गया है लेकिन तुझसे संभाला भी नहीं जाता.

अब तो रोज दोपहर को तेरे दूध चूसने हैं अब तो मैं तुम्हें सिर्फ़ नंगी करके ही गाड़ी चलाने दूंगा. चार घंटे बाद मैं अपना एग्जाम देने के बाद फ्री हुई, तब मैं अपने भाई के रूम में गई. जैसे ही उस आदमी का लण्ड अंदर मेरी गांड में गया मैं दर्द से तड़प उठी.

फिर क्लास में तुझे गुमसुम देखकर यक़ीन भी हो गया कि तू ही था और अभी भी तू उन्हीं के बारे सोच रहा था.

मैंने बिना जागे हल्के से आंख खोल कर देखा, तो भाई ने मेरे मम्मों को दबाना शुरू कर दिया था. चाचा जी पहले तो मेरी खूब जम कर गांड मारी और फिर चूत में लंड पेल दिया. वो कुछ देर तो मेरे हाथ को हटाने का नाटक करती रही, मेरी पीठ पर मुक्के मारती रही, फिर थक कर उसने अपने बदन को ढीला छोड़ दिया.

इंडियन बफतभी संजय अंकल ने मेरा हाथ पकड़ा और मुझे खींच कर अपनी गोद में बैठा लिया. तब मैंने कहा- हाँ इन्हें जानबूझकर कर पिघलाया है।तब वो बोली- क्यों भैया?तो मैंने एक पैकेट फाड़कर उसका चॉकलेट अपने पूरे लन्ड पर लगा दिया और उसे कहा- चाटकर इसे खा जाओ.

सेक्स वीडियो डॉट कॉम

मैंने अपने कपड़े पहने, तो भाभी बोलीं- फिर से भूख लग गयी होगी, कुछ खाते जाओ. भाभी मेरे लंड को मादक निगाहों से घूरने लगीं और अपने होंठों पर अपनी जुबान फेरने लगीं. आंटी- अरे ऐसे क्या देख रहे हो … इन्हें छूना नहीं चाहोगे?ये कहते हुए आंटी ने मेरा एक हाथ अपने स्तन पर रख दिया और बोलीं- आज मुझे खूब मजा कराओ मेरे राजा.

फिर मैंने पूछा- क्या आपने नाश्ता किया माँ?तो उन्होंने- नहीं बेटा, अभी नहीं।मैंने अपने लण्ड की तरफ इशारा करते हुए कहा- क्या आप ये टेस्टी नाश्ता करना चाहेंगी?तो माँ मुस्कुरा दी और और नीचे बैठ कर मेरा लण्ड चूसने लगी और चूसने के बाद मेरा रस पी गयी।फिर माँ ने कहा- चल बेटा, अब जल्दी जा और कपड़े पहन ले।मैं रात होने का इंतज़ार करने लगा. तकरीबन एक मिनट बाद संजय अंकल ने अपना सारा वीर्य मेरे मुँह में छोड़ दिया. मुझे याद है उसका नाम पिंकी था, वो शायद मेरी ज़िन्दगी की पहली लड़की थी जिसने मुझे आकर्षित किया था.

भाभी बोली- सीधे इसके ऊपर लेट जाओ और लंड को चूत के अंदर ही डाले रहो. मैंने जल्दी से पूरे कपड़े उतार दिए और नंगा होकर बिस्तर में आ गया।धीरे से मैंने राखी भाभी के गाल को चूमा और कहा- भाभी उठो।तभी उसने मुझे जोर का धक्का दिया और बोली- मुझे भाभी मत बोलो।फिर मैंने कहा- राखी डार्लिंग अब तड़पाओ मत अपने राज को खुश कर दो।मैंने उसकी साड़ी और ब्लाऊज़ उतार दिया और ब्रा से ही बूब्स दबाने लगा. उसने हम दोनों को एक साथ बाथरूम में जाते देख लिया और बाथरूम में चुदाई की सारी आवाजें सुन लीं.

अम्मी उसको कई बार पकड़ कर बोल रही थीं कि मान जाओ यार … हाथ बाहर निकालो. अब तक मैं चूत में उंगली देकर उसको अंदर ही अंदर गोल गोल घुमा रहा था.

सागर ने अपनी शर्ट निकाल दी और वहीं पर टंगी अपनी शॉर्ट्स पहनकर वो वहीं सोफे पर लेट गया.

एक बार वो सर्दियों की छुट्टियों में आई हुई थी तो सर्दियों की छुट्टियों में सब घर वाले अंदर सोते थे और बिस्तर अंदर लगाते थे. सेक्स करते हुए वीडियोसोनिया भाभी की शादी को 3 साल हो गए थे, पर अब तक कोई बच्चा नहीं हुआ था. बाथरूम क्सक्सक्समैं उसकी चूचियों का काफी देर तक कस कस कर मर्दन करता रहा और वो दर्द और ठरक से तड़पती रही. मैं एक शॉर्ट पैंट और बनियान में था और वो एक मिनी स्कर्ट और व्हाइट टॉप पहन कर बाहर आ गयी.

दोस्तो, मैं अन्तर्वासना सेक्स कहानी की इस विश्वविख्यात साईट पर आपका स्वागत करता हूँ.

आज मैं तुम्हें अपने पप्पू का कमाल अवश्य दिखाऊंगा।यह कहकर मैंने अपने जॉकी के अंडरवियर को नीचे किया और अपने पप्पू को आजाद कर दिया. साथ ही महिला पाठकों की जानकारी के लिए लिख रहा हूँ कि मेरा औजार भी अच्छा खासा है. एक दिन मैंने उसे चूत में बैंगन डाल अन्दर बाहर करते देखा तो मेरा मन अपनी बहन की वासना शांत करने का होने लगा.

इसके बाद मैंने अपने शरीर का सारा भार दी के ऊपर डाला और एक जोर का धक्का लगा दिया. मैं भी उन्हें रोज देखने के लिए उनके कॉलेज टाइम पर रोड पर चला जाता था. वो चाह कर भी चिल्ला नहीं पाई, बस उसकी दोनों आँखों से आँसू निकल रहे थे, मैं धीरे धीरे उसे चोदता रहा.

आई लव यू गूगल असिस्टेंट

उसने मामी का पेट उठा कर उनका नाड़ा खोल कर एक बार में उनका पेटीकोट खींच दिया. मैंने रात में मुठ भी ये सोचकर नहीं मारी कि अब तो उसकी चूत में ही माल गिराना है. अब आगे :उल्फ़त अपनी गांड उठाते हुए बोली- आह भाईजान … मजा आ रहा है … और तेज करो भाई … आज मेरी चूत को फाड़ दो.

बीस मिनट की चुत चुदाई के बाद वो फ़िर से झड़ गई … परंतु मैं अब भी नहीं रुका.

कुछ देर दबाने के बाद उसने खुद ही मेरे अंडरवियर के अंदर हाथ डाल दिया.

तो मैंने बोला- ठीक है … आप दोनों जब सीखने के लिए इतना कर रही हो, तो मैं भी अपनी बुआओं के लिए इतना तो कर ही सकता हूँ. मैं उसके बारे में सोच ही रहा था कि तभी मेरे पीछे से किसी ने मुझे पकड़ लिया और जोर से गले लगा लिया. एक्स एक्स एक्स राजस्थान सेक्समैं भी शनाज़ समझ कर ज़ोहरा आपा की चूची के निप्पल को अपने मुँह में लेकर आपा की जवान चिकनी नर्म चूची का रस पीने लगा.

लंड मुंह में देकर वो आगे पीछे धक्के देने लगे और अपना लौड़ा चुसवाने लगे. वो सिसकारने लगी- आह्ह … विहान … आह्ह … उईई … ओह्ह … चूस जा इसे … आह्ह … अंदर तक चोद दे।मैं मौसी की चूत को खाने लगा और फिर मेरा कंट्रोल भी छूटने लगा. मुझे अंतर्वासना सेक्स कहानी साइट पर चुदाई की कहानियां पढ़ना बहुत अच्छा लगता है.

अभी इससे ज्यादा हम दोनों कुछ नहीं कर सकते थे क्योंकि मेरी मम्मी आने ही वाली थीं. इधर मैं उसकी चूची पर अपने हाथ से रगड़ रहा था और उसे अपनी तरफ खींचकर चूम रहा था.

उसके मुंह को अपने हाथ से बंद कर लिया और तेज तेज उसकी चूत को चोदने लगा.

इतना कहने के बाद मैंने मॉम को 69 पोजीशन में किया और उनकी चूत चाटने लगा, जिससे कि वो गीली हो जाए. सब ठीक हो जाएगा।मेघा फिर मेरे सुस्त लण्ड को पकड़ कर खेलने लगी।फिर मैंने पूछा- रात को और भी चुदवाओगी अपनी बहन के साथ?मेघा ने मना कर दिया और अंजलि को भी इस बारे में नहीं बताने को कहा. उसने अम्मी को बताया कि उसको कोई बच्चा नहीं है जिसकी वजह उसका पति है.

కన్నడ సెక్స్ కన్నడ సెక్స్ కన్నడ సెక్స్ दिल्ली की भाभी की हरियाणवी चुदाई कीक्सक्सक्स स्टोरीआपको कैसे लगी कमेंट्स करके बताइएगा जरूर और आप मुझे मेरी मेल आईडी पर मेल कर भी बता सकते हैं. फिर कुछ देर बाद उसका लंड फिर से खड़ा हो गया और उसने मुझे अपना लंड चूसने को कहा.

भाभी से बातचीत तो होती लेकिन वह मुस्कुरा देती थीं, जिससे मुझे लगता था कि शायद वो इस बात को जान गई थीं कि वो मैं ही था, जिसने उनकी ब्रा पर अपना वीर्य छिड़क दिया था. उन्होंने मुझे सहयोग करते देखा, तो मुझे औंधा किया और मेरी गांड फैला कर लंड अन्दर पेल दिया. यह बात सन 2013 की है, जब मैं 12वीं की परीक्षा देने के बाद जयपुर आ गया था.

i-pill गोली price

श्रुति का एक बड़ा भाई था जिसकी शादी हो चुकी थी और वो अपनी बीवी के साथ शहर में रहता था. अब तो आलम ये ही गया था कि रोज रात को दोनों बुआएं बच्चों को सुला कर उनका कमरा बाहर से बंद करके मेरे कमरे में आ जाती थीं और हम चुदाई करते हुए मजा लेने लगते थे. उसकी लाल कलर की चैरी (निप्पल) को मैंने अपने दांतों से मसला, तो वो मचल उठी.

उस दिन तीन बजे मैंने उसे उसके हॉस्टल से पिक किया और पुरी के लिए अपनी बाइक पर निकल आया. यहां पर कैसे बैठ सकते हैं, कोई गलत समझेगा।मैंने कहा- कोई बात नहीं, यहां झाड़ियों में कहीं बैठ कर आराम से बात करते हैं.

कभी कभी मैं नीचे से धक्का देता तो लंड उसकी बच्चेदानी तक पहुंच जाता और उसकी एक तेज चीख निकल जाती- आहह …वो जब धक्के लगा रही थी तब उसके बूब्स ऊपर-नीचे हो रहे थे, जिनको मैं अपने दोनों हाथों से मसल रहा था.

रास्ते में एक मेडिकल शॉप दिखाई दी तो मैंने शॉप के बाहर गाडी़ रोक दी. प्रियंका भाभी भी चाची की तरह मेरी पीठ के साथ चिपक कर बैठी थीं और मुझसे बोल रही थी कि ये अच्छा काम हो गया कि तुम्हारी चाची ने आने मना कर दिया. यह मेरी पहली कहानी है अगर इसमें कोई त्रुटि हो तो मैं क्षमा चाहता हूं.

गले लगने के बाद जब उन्होंने मुझे छोड़ा, तो उनके मम्मों पर लगी हुई मेहंदी मेरे सीने पर आ लगी. मैं आपको अपनी कॉलेज की दोस्त नीता और उसके चाचा की बेटी शिल्पी, जिसको मैं दीदी कहता था, की चुदाई की कहानी बता रहा था।मैंने अपनी गर्लफ्रेंड सिस्टर सेक्स कहानी के पिछले भागअपनी हॉट दोस्त को लंड चुसवायामें आपको बताया था कि मैं शहर में रहकर पढ़ाई कर रहा था और मेरे फाइनल एग्जाम के बाद लॉकडाउन हो गया. सागर अपना हाथ मम्मी की गांड पर रख कर नाइटी की ऊपर से सहलाने, दबाने और मारने लगा।सुधा कुछ देर सागर के होंठ चूसने के बाद दूसरी तरफ मुंह करके 69 की पोजीशन में लेट गयी और सागर का लन्ड उसकी शर्ट्स के ऊपर से ही मसलने और चूसने लगी।सागर भी उनकी गांड से नाइटी उठा कर उसने अपनी उंगलियों पर थूक लगा कर उसमें उंगली करने लगा.

उसी जगह पर जब मैं उससे मिलने के लिए पहुंचा तो वो दोनों पहले से ही एक दूसरे के साथ लेस्बियन सेक्स का मजा ले रही थीं.

बीएफ सेक्सी यूपी: मैंने पूछा- तुम्हारा जो भी मैटर है, सच सच बताओ, मैं तुम्हारी मदद करूंगा. तब मुझे पता चला कि इतनी देर चुदाई होती है। दोनो लोगों ने एक दूसरे को बांहों में कस लिया ननद धीरे-धीरे शांत होने लगी.

मैं अभी भी नग्न अवस्था में नीरज के गोद में बैठी थी और उसका लण्ड अभी भी मेरी चूत में था. वो बहुत खुशनसीब होगा जिसे तुम जैसी बीवी चोदने को मिलेगी।ज्योति ने मुझसे कहा- भईया, वो खुशनसीब तो आप हैं. पर तुम ये सब मुझे क्यों बता रही हो? मम्मी जी को बताओ ना!तो मीनाक्षी ने शक जताया- मुझे लगता है कि यह बच्चा आपका ही है.

तेल की शीशी से तेल हाथ पर लेकर मैंने उसकी गांड में अच्छे से तेल लगाया और उसकी गांड को अंदर तक चिकनी कर दिया.

उसकी बड़ी चुचियां देखकर मुझसे हमेशा से लगता था कि वो किसी से चुदवाती है, पर मैं कभी उसे पकड़ नहीं पाया. 4-6 रूपये में उपलब्ध इस पत्रिका में पूरे पेज 5-7 नंगी तस्वीरें होती थी जिन्हें ‘पिन-अप’ कहते थे. मैं भाभी की मदमस्त जवानी को देख कर उनके जिस्म को अपना बनाने के बारे में सोचने लगा था.