बीएफ सेक्सी लेडीज

छवि स्रोत,लड़की की फोटो भेजो

तस्वीर का शीर्षक ,

ಕನ್ನಡ sex ವಿಡಿಯೋ: बीएफ सेक्सी लेडीज, इसी उत्तेजना का परिणाम था कि वो जल्दी ही खल्लास हो गई और उसका पानी मेरे मुंह में गिरने लगा। वो शायद संकोचवश मेरे मुंह को अपनी चूत से अलग करना चाह रही थी लेकिन वो असफल रही.

चौधरी की सेक्सी वीडियो

फिर कुछ देर की चुदाई के बाद हम दोनों एक बार फिर से एक एक करके झड़ गये और मैं वहीं पर थककर उसके पास लेट गया. थकावट कैसे दूर करेऔर उसका लंड भी पूरी तरह से मेरी दुबारा चुदाई करने के लिए तैयार हो गया था.

मुझे उसके मुलायम-मुलायम मम्मे दबाने में बहुत मजा आ रहा था और उसको मेरे लंड के खोल को खींचने में. छोटे भाई की बीवी को चोदास्नान करने के दौरान मंजू मेरे लण्ड को अपने मुंह में लेकर चूसने लगी.

आज पहली बार मैं अपनी माँ को नंगी देख रहा था मगर मुझे कुछ समझ नहीं थी.बीएफ सेक्सी लेडीज: मैं अपनी कुर्सी पर बैठा ही था कि शुभ्रा मुझ पर चिल्लाते हुए बोली- अपने लिये पानी ला सकता था तो मेरे लिये क्यों नहीं?मामी बीच में ही बोल उठी- क्यों चिल्ला रही हो? मैं जाकर तेरे लिये पानी ला देती हूं.

आंटी, भाबी, तलाकशुदा और विधवा औरतें, जिनकी उम्र चालीस साल तक हो … मेरे लंड से बड़ी संतुष्ट रहती हैं.पर उसको सेक्स किए बहुत दिन हो गए थी तो लंड घुसते ही मानसी दर्द के मारे चिल्ला पड़ी.

ललिता भाभी का सेक्सी वीडियो - बीएफ सेक्सी लेडीज

वो कभी मुझे बिस्तर पर लिटा कर चोद रहा था, तो कभी सोफे पर घोड़ी बनाकर चोद रहा था.रानी ने कहा- राजे, तू बेड पर चढ़ जा और सिरहाने से पीठ टिका के लेट जा.

नम्रता ने मेरे दोनों कलाईयां पकड़ीं और मेरे हाथों को अपने मम्मों पर रख दिए. बीएफ सेक्सी लेडीज मेरे एक रिश्तेदार के घर एक हफ्ते के बाद शादी पड़ी थी, जिसका कार्ड कल घर में आया था और उनकी तरफ से पूरी फैमिली को उसमें शामिल होने के लिये खास तौर पर मुझे फोन किया था.

सोनल की बात सुनकर दोनों बहनें एक-दूसरे के पास आ गईं और एक दूसरे के मम्मे मसलने लगीं.

बीएफ सेक्सी लेडीज?

लंड लेते हुए चाची की जवानी बहकने लगी और उनके कंठ से आवाजें निकलने लगीं- अहह. रिया के बार बार कहने पर उसने लण्ड आखिरकार बाहर निकाला और रिया भूखी कुतिया की तरह लण्ड चाटने लगी।लण्ड पर चिपचिपा लसलसा पदार्थ लगा हुआ था। रिया ने उसे जी भर कर चाटा। रिया की चूत में से उसकी पैंटी बाहर आ रही थी. तो मैंने पूछा- फिर तेरा मन क्यूँ हुआ ये सब करने को?तो वो बोली- मैंने तुम्हें और मॉम को ये सब करते कई बार देखा तो …उसके बाद मैंने उसे पकड़ा.

उसने ढेर सारा तेल मेरी नंगी पीठ पे डाला और हाथों से पूरी पीठ पे फैला दिया. चूंकि मैं अपने आनंद की परम सीमा पर पहुंच चुका था इसलिए उसके सिर को पकड़ कर अपने लंड पर जोर से दबाते हुए उसके मुंह को चोदने लगा. मैं- ठीक है।कहते हुए मैं चूत को सहलाने लगा, मगर जैसे ही मैं उसकी पुतिया को (कली को) भींचने चला.

चार दिन में ही वो नितिन के बिस्तर पर थी और चुदाई की तैयारी कर रही थी. माणिक कभी कभी मुझे घूरता भी है क्योंकि मैं हूँ ही इतनी सेक्सी कि मुझे कोई भी घूर घूर कर देखने को मजबूर हो जाता है. उसने एक बार कहा भी- वाह … मेरी दुल्हन ने आज तो बड़ी ही स्वादिस्ट चूत परोसी है.

उसने मेरे सीधे हाथ को प्यार से बेहद कोमलता से थामा और अपने होंठों के पास जाकर किस कर दिया. उस दिन के बाद मैं टेंशन से अंकल के सामने जाने से भी कतरा रही थी, पर कुछ भी करो, ये सब इतनी जल्दी नहीं भुलाया जा सकता है.

दो-तीन धक्कों के बाद ही मेरा लंड और लंड के साथ साथ पूरा शरीर जैसे अकड़ने लगा.

सोनम बेटा क्या बात है आजकल तू मिलती ही नहीं और तेरा चेहरा इतना उतरा हुआ क्यों है; क्या हुआ है तुझे?” उन्होंने मुझसे प्यार से पूछा.

पिंकी बिलख-बिलख कर रोने लगी- मेरा ही कसूर है … मेरी ही चूत में आग लगी पड़ी थी … जो आप पर मर मिटी. भैया ने पास ही पड़ा अपना सफ़ेद रूमाल लिया और पानी की बोतल से थोड़ा सा पानी उस पर लगा कर गांड को साफ कर दिया … ताकि वे दवाई लगा सकें. और वो इतना कह कर चले गए।मैं अकेली बैठी सोच रही थी कि क्या करूँ? मन में आया कि चली जाऊँ और मैं उठ के कपड़ों के पास गई.

दीपाली की चुत इतनी टाईट थी कि दर्द के मारे उसने ‘ऊउइ … उफ़्फ़्फ़ … अम्मा … मर गई. लौट के मैं घर आया, तो देखा कि भाभी मम्मी के रूम के दरवाजे के सामने खड़ी हुई हैं. इस बार मैं बहुत ज़ोर ज़ोर से उसकी चूत को धक्के मारकर चोदने लगा और वो बहुत उछल उछलकर मज़े लेकर मुझसे चुदवा रही थी और बोल रही थी- हाँ आज फाड़ दो मेरी चूत को! यह आपके लंड के लिए बहुत तरसी है! आज आप इसकी प्यास बुझा दो! आह्ह्ह ऊईईईई … हाँ थोड़ा और ज़ोर से चोदो!मेरी बेटी मुझे जोर जोर से चुदाई करने को कहने लगी.

जीजू आपने तो अपने मन की कर ली मेरे साथ, मुझे लड़की से औरत बना दिया आपने.

आई एम् सॉरी …” कहते हुए वसुन्धरा मुझ से अलग़ हुई और बॉथरूम में जा घुसी. उस वक्त मेरी उम्र 23 साल है और मेरे चाचा की लड़की, जिसका नाम मेनका है, उसकी उम्र 19 साल की थी. नीता- वाउ यार … क्या बात है … कौन है वो खुशनसीब?पिंकी- वो ही तेरा हैंडसम, सेक्सी मर्द.

जिस परिस्थिति में वो मुझे मिली थी उसे काफी प्यार की जरुरत थी। उसके अधूरे सपने पूरे हो रहे थे। उसे खुश देख के मुझे अच्छा लग रहा था।मैंने गाड़ी चलाते हुए उसे एक बार देखा. चाची ने खुद ही अपने हाथ से मेरे लंड को अपनी चूत पर लगाया और अपनी चूत को मेरे लौड़े पर सेट करके बैठने के लिए तैयार हो गयी. मेरी बात का यकीन नहीं हो तो मर्द खुद की प्रेमिका और बीवी में दोनों में कौन ज्यादा मज़ा देती है, इस बात से अंदाजा लगा सकते हैं.

बस चूमते चूमते हम दोनों वहीं सोफ़े पर लुढ़क गए और एक दूसरे के अंगों से खेलने लगे.

आपने ड्यूटी लगवाने से पहले एक बार भी नहीं सोचा?वो अहसान सा करते हुए बोले- मैं इसमें क्या कर सकता हूं सोनल जी. मेरे एक रिश्तेदार के घर एक हफ्ते के बाद शादी पड़ी थी, जिसका कार्ड कल घर में आया था और उनकी तरफ से पूरी फैमिली को उसमें शामिल होने के लिये खास तौर पर मुझे फोन किया था.

बीएफ सेक्सी लेडीज यह सब बात सुनकर संजना और शीना के आंखों से आंसू टपकना शुरू हो गए और मैं भी थोड़ा सा इमोशनल हो गया. मैंने ब्लाउज को बंद करने से पहले अच्छी तरीके से उसके स्तनों को देखा.

बीएफ सेक्सी लेडीज मेरे इन प्रयासों से कुछ देर में जूली फिर गर्म हो गयी और सारा को एक तरफ हटा कर मेरे ऊपर आ गयी. लण्ड गुप्ताइन की चूत में डालकर मैं उसकी चूचियों से खेलने लगा तो गुप्ताइन चूत को अन्दर की तरफ सिकोड़ने लगी.

शायद उसकी कमनीय काया को लेकर आपके लंड ने भी समझ लिया होगा कि वो सांवली सुन्दरी कितनी गर्म माल होगी.

बीएफ चाहिए वीडियो में चलने वाला

फिर मेरे हाथों को अपने हाथों में लेकर मुझे बेड तक लाये और बेड पर बैठते हुए बोले कि वाउउउउ, इस नाईटी में तुम बहुत सेक्सी लग रही हो. हेतल ने मेरे लंड को अपनी चूत से निकाला तो वो सिकुड़ने की राह पर चल पड़ा था. ” कहते हुए उसने अपने हाथ में रसगुल्ला लेकर मेरे मुंह में डालने लगी।मैं ना … ना … करते ही रह गया और इस आपाधापी में थोड़ा रस मेरे कुर्ते पर और कुछ उसके गाउन पर भी गिर गया।ओह … सॉरी? आपके कपड़े खराब हो गए … आइये मैं साफ़ कर देती हूँ … आई एम सॉरी.

हमारी ट्रेन के प्लेटफॉर्म का नंबर बदल गया, सो मुझे अपनी फैमिली को लेकर दूसरे नम्बर प्लेटफॉर्म पर जाना था. उसको खड़ी कर पेटीकोट के नाड़े को खींचा, एक बार में पेटीकोट सीधा नीचे गिरा. मैं उनको चूम ही रहा था कि वो थोड़ा पीछे हटीं और बोलीं- ये क्या कर रहे हो?मैं कुछ नहीं बोल पाया और थोड़ा पीछे हुआ.

बाप-बेटी की इस गंदी गांड मरवाई कहानी में आपको मजा आया हो तो अपने विचार मुझ तक जरूर पहुंचायें.

उसकी दोनों टांगों को मेरे कंधे के पास रख कर मैं दोनों पैरों पर बैठ कर पेलने लगा. मैंने उससे कहा- आज हम अलग खेल खेलेंगे और इस खेल के तुम्हें 100 रुपये मिलेंगे. इसलिए जब भी मौका मिल रहा था मैं शिखा के मुंह में अपना लंड डाल देता था.

यह सब तो एक दूसरे की सहमति और सहयोग से ही यह सब अच्छा रहता है।”हम्म!”मुझे लगा नताशा कुछ सोचने लगी है। शायद वह इस क्रिया को भी एक बार आजमा लेने पर विचार करने लगी है। काश! अगर एक बार वह हाँ कर दे तो फिर तो मैं उसे इस प्रकार अपने झांसे में फंसा लूंगा कि बाद में तो वह कितना भी मना कर चिल्लाये मेरे लंड को अपनी गांड से नहीं निकाल पायेगी।प्रेम! मैंने कभी इस प्रकार के संबंधों के बारे में सोचा ही नहीं था. मगर मैं तो हरामी हूं, मैं माना ही नहीं- बोलो ना रश्मि … तुम्हारी शादी शुदा चूत पर हक तो तुम्हारे पति के लंड का है. कुछ ही देर बाद अंकल के लंड से गर्म गर्म वीर्य की पिचकारी मेरी चुत में गिरी, वीर्य मेरी चुत में उगलते हुए अंकल पागलों की तरह धक्के लगा रहे थे.

नम्रता- चलो, कल देखती हूं तुम अपनी बीवी के लिए कैसे-कैसे कपड़े खरीदते हो. लंड को थोड़ा चूसने के बाद सीमा नितिन से बोलीं- प्लीज अंशु … अब लंड डाल दे यार.

ऐसा कहकर मैंने भाभी को 2-3 सीढ़ी ऊपर को धकेला, तो भाभी सीढ़ी से फिसल कर गिरने को हुईं, पर मैंने उन्हें संभाल लिया. शर्मा सर ने मुझे कमोड पर बैठने को बोला, मैं विरोध करने की स्थिति में नहीं थी. इधर मौसी के गर्म गर्म हाथों का स्पर्श पाते ही मेरे लंड महाराज और अकड़ने लगे.

साथ साथ लौड़े को पुचकारती भी जाती थी- हाय मेरे सण्ड मुसण्ड … कितना सख्त है तू … अब लूट अपनी मालकिन की चुसाई का मज़ा.

सच में चुदाई का मजा तो जो होता है वो होता ही है लेकिन ये सब देखना भी चुदाई के मजे से किसी भी सूरत में कम नहीं था. कहकर उसने मेरा हाथ पकड़ा और मामा के कमरे की तरफ मुझे लेकर चल दी और झरोखे से झांककर अन्दर का नजारा देखने लगी और फिर मुझसे इशारा करके देखने के लिये बोली।अन्दर का सीन देखकर मेरी आँखें फटी की फटी रह गयीं. फिर अपने दोनों हाथ ऊपर करके एक लंबी सांस ली और मेरी तरफ देख कर मुस्कुरा दीं.

मेरी चूत को सूंघने के बाद वो मेरी चूत को पेंटी के ऊपर से ही सहलाने लगा. मेरे हाथ सीधे ही उसके चूचों पर पहुंच गये और मैंने उसके चूचों को जोर से दबाते हुए अपना लंड उसकी गांड पर रगड़ना शुरू कर दिया.

उसकी कमर को पकड़ कर अपनी कमर तक किया और लंड को चूत के अन्दर पेल दिया. फिर रमेश को देख रिया बोली- ये देखो डैड, तुमको ये देखकर अच्छा लगेगा।रमेश- क्या?रिया ने अपनी चूत फैला कर दिखा दी. उसने मेरे लिंग को अपनी चूत में जैसे कैद करके जकड़ सा लिया और उसकी चूत से निकलने वाली कामरस की गर्म धार सी मुझे मेरे लंड के इर्द गिर्द और लंड के टोपे पर महसूस हुई.

अंग्रेजी बीएफ वीडियो सेक्स

कहते हुए एक बार फिर मैं मुठ मारने लगा।शुभ्रा- ओके बाबा, अब तुम जैसा चाहो, वादा … मैं मना नहीं करूंगी.

जब भी वे उसे नहलाने जातीं, तो उनके कपड़े भीग जाते और उनका ब्लाउज भीग कर उनकी चुचियों से चिपक जाता, तो वो सीन देख कर मेरा लंड हिलोरें मारने लगता था. मैंने बोला- दोनों को एक साथ में चोदूंगा … चुदेगी?वो हंस दी और उसने हामी भर दी. फिर एक दिन मैंने उनकी चूचियों पर ज्यादा ध्यान न देकर सीधा उनकी चूत की ओर मुंह कर लिया.

अब मैं अदिति को पूरे वेग से चोद रहा था और अदिति भी अस्स आह उह कर रही थी. भाभी मेरे पास आ कर बैठ गईं और बोलीं- देवर जी पहले मेरे लिए भी एक पैग बनाओ. हिंदी गर्ल्स फोटो लोकलकुछ देर में हरकेश ने सुमन को घोड़ी बना दिया और उसके बालों को पकड़ लिया.

मैंने उसकी चूत में अपना लंड पूरा धकेल दिया और उसके ऊपर लेट कर उसके होंठों को पीने लगा. अब तक की मेरी चुदाई की कहानी में आपने पढ़ा था कि थॉमस मुझे चोदने के लिए मेरे साथ चूमाचाटी करने लगा था.

भैया मार्किट के लिए निकल गए, तो मैं जल्दी से भाभी के रूम में आ गया, जहां भाभी उल्टी लेटी हुई थीं और मस्त लग रही थीं. अब रणविजय और रीना की चुदाई उन्हीं के शब्दों में:हम दोनों एक दूसरे के चुम्बन में मदहोशी के साथ डूब गए। उसने नाइटी के अंदर कुछ नहीं पहना था। मैं नीचे लेटा हुआ था और चुम्बन करते हुए ही हम दोनों एक दूसरे से लिपट गये. मैं भी थोड़ी देर में पोजीशन समझ गया और जैसे ही भाभी ऊपर होतीं, मैं थोड़ा नीचे हो जाता और जैसे ही वो नीचे आतीं, मैं ऊपर को हो जाता.

आज जो मैं कहानी आप लोगों को बता रहा हूँ वह मेरी ही छोटी बहन और मेरे बीच में हुई घटना के बारे में है. वह जैसे ही जरा गाफिल हुई, मैंने तभी खींच कर एक जोरदार झटका दे दिया और अपना पूरा लंड मैंने उसकी चूत में उतार दिया. कुछ देर में मैं भी झड़ गया और सारा ने दिलिया की जीभ चूसनी शुरू कर दी जिससे उसकी चूत ने मेरे लण्ड को निचोड़ दिया.

मैंने उसे रोका तो उसने कहा- हमें कोई नहीं देख रहा, थियेटर में बहुत अंधेरा हो रहा है यार.

मैं यही सोच रहा था कि यहां कैसे मौसी की चुदाई हो पाएगी?मैंने मौसी की तरफ देखकर इशारे में ही पूछा- यहां कैसे?मौसी ने वहीं पड़ी एक मेज़ की तरफ इशारा किया जिस पर कुछ सामान पड़ा था. बहुत दिनों बाद जीजा जी से पलंग तोड़ चुदाई करवाने के मूड में थी मैं.

साथ ही घर का सारा काम करके वह करीब 08:00 बजे वह अपने घर वापस चली गई. तभी रिया ने टोका- क्या हुआ डैड? क्यों निकाल लिया लण्ड बाहर?रमेश ने उसकी ओर मुस्कुरा कर देखा और बोला- इधर आ साली कुतिया और चूस इस लण्ड पर लगे अपनी गांड के रस को. थोड़ी देर बाद उनकी चूड़ियों और पायलों की झनकार मुझे सुनाई देने लगी.

फिर उसने बहुत सारा थूक मेरे लंड पर गिराया और लंड को मुट्ठी में लेकर मसलने लगी. वो बोले- लेकिन ये तो बता कि किससे चुदवाई है?मैंने कहा- आशीष से ही चुदवाई है. कूल्हों को दबाने और भीचने के कारण उसकी गांड की दरार खुल बन्द हो रही थी और उसकी हल्की ब्राउनिश कलर की गांड देखकर मेरी जीभ लपलपा रही थी.

बीएफ सेक्सी लेडीज मैं नम्रता के पीछे आ गया और उसके दोनों चूचों के पीछे से ही अपने मुट्ठियों में कैद करके भींचने लगा. वो बोले- अरे पगली, रो क्यूं रही हो? अगर ट्रान्सफर करवाना है तो पजामी तो तुमको मेरे सामने ढीली करनी ही होगी.

भाई बहन का बीएफ चुदाई

अब उसका मुंह मेरी छाती की ओर आ गया था और उसकी गांड मेरे पैरों की ओर थी. मैंने अपनी बड़ी भाभी को अठारह साल की उम्र में चोदा था, तब से अभी तक बहुत औरतों को चोद चुका हूँ. उसके बाद मैं लोअर को उपर करके बाहर निकल कर आया और मामी के पास रसोई में जाकर कॉलेज न जाने के लिये बोल दिया और मामी ने भी अपनी सहमति जता दी.

अंकल मेरी पैंटी को ध्यान से देख रहे थे उसके ऊपर मेरे चुत के रस का बहुत बड़ा गीला दाग था. तभी उन्होंने मेरे मोबाइल में कुछ ब्लू फ़िल्म देख लीं और मुझसे बोलीं- प्रणय, तुम ये सब देखते हो?मैंने पूछा- क्या भाभी?वे बिंदास बोलीं- ब्लू फ़िल्म. बर्थडे केक कैसे बनाते हैंमन तो ऐसा किया कि पैन्टी को खड़े खड़े ही नीचे कर दूँ और उसका लंड पकड़ कर यहीं अपनी चूत में डाल कर खड़े खड़े ही चुद जाऊं.

फिर थोड़ी देर में वो वहीं मेरे पास में मेरी जांघ पर सर रख कर लेट गई.

मैंने भी कहा- चलो जो हुआ, अच्छा हुआ! तुम को भी एक अलग अनुभव मिला और मुझे भी!वह मुस्कुराती हुई बोली- अनुभव तो ठीक है. अमित दीदी को फुल लाइन दे रहा था और शायद दीदी भी इस चीज को एन्जॉय कर रही थी.

जब उसकी चुत में थोड़ी सी जगह बनी, तो मैंने अब पूरा लंड डालने की सोची. मेरे होंठों को उनके होंठ और उनके हाथ मेरे मम्मों को जबरदस्त मसल रहे थे. अभी मेरे घर के आस-पास सिर्फ तीन मक़ान हैं … सो किसी के आने-जाने पर कोई ज्यादा ध्यान नहीं देता.

मुझे रोटी देते समय मां को कुछ ज्यादा ही झुकना पड़ रहा था, तो मुझे उनके गोरे, कड़क स्तन दिख रहे थे.

पर एक बार किसी चीज की आदत लग जाती है, तो फिर जल्दी से छूटती नहीं, कॉलेज में रहकर भी मन अंकल के ख्यालों में ही डूबा रहता. उसने घर में किसी से कुछ नहीं कहा था। अगर कहा होता तो कहीं न कहीं से बात मेरे सामने आ ही जाती. भाई ने मम्मी से लड़ाई करके कि कोई कुत्ता बिल्ली ना आए, ऐसा बोल कर सोच समझ कर गेट भी लगवा लिया था.

सकसी विडीयालिफ्ट की तरफ बढ़ते वक़्त मैं उसके पीछे पीछे चल रहा था और उसकी माँसल गांड को देख कर ऊपर वाले का शुक्रिया कर रहा था. वो बोली- अंकल जल्दी कुछ करो न … मेरे नीचे कुछ हो रहा है या तो उसे रगड़ो या मेरी उसको चाटो.

कामवाली बाई की बीएफ

मेरे कमरे और उस मकान के बीच में बस सड़क थी जो लगभग 8-10 फुट की ही थी अर्थात मेरी बालकोनी और उस कमरे की खिड़की के बीच का अंतर लगभग 8 फुट था. इसकी हाइट लगभग साढ़े पांच फीट की थी, वो थोड़ी मोटी पर बहुत हॉट लेडी थी. मोनी ने अब भी अपने उरोजों को छुपाया हुआ था मगर फिर भी मैंने उसके हाथ के नीचे से अपना हाथ घुसा दिया और शर्ट के ऊपर से ही उसकी एक चूची के बेस को पकड़ लिया। सूट के नीचे मोनी ने ब्रा पहनी हुई थी.

उसकी ये बातें सुनकर मुझे भी कुछ कुछ होने लगा था … और मेरी चूत भी गीली होने लगी थी. इस पोजीशन में मेरा पूरा लंड उसकी चूत में फंस गया और उसने मजे से मेरी गर्दन को अपने हाथों से जकड़ लिया. मेरी छोटी बहन शुभ्रा को सजना संवरना अच्छा लगता था और मुझे छिप-छिप कर दोस्तों द्वारा दी गई मस्त राम की कहानियां पढ़ने में बड़ा मजा आता था। कहानी इतनी ज्यादा उत्तेजित होती थी कि हाथ कब लंड पर चला जाये पता ही नहीं चलता था और चैन तब तक नहीं आता था जब तक लंड को दबा-दबा कर उसका माल न निकाल लूं.

अन्दर का दृश्य कुछ इस तरह था कि सुमीना ने सारे कपड़े उतार रखे थे और ससुर जी भी पूरे नंगे थे और अपनी बेटी की चूत को चाट रहे थे. उसके साथ के मजे तो मैं कभी भी लिख सकता हूँ, लेकिन आज मैं आपके सामने मेरी साले की पत्नी यानि की मेरी सहलज के साथ हुई रसीली घटना बताने जा रहा हूँ. इधर मेरे शरीर में अकड़न होने लगी और मेरे लंड से फव्वारा छूटकर रेखा की चूत के अन्दर गिरने लगा.

तो मैं पापा को शिमला घुमाने ले गयी और वहीं एक रात को बारिश की वजह से ठंड अधिक बढ़ गयी तो पापा और मैं कब एक दूसरे से चिपक गये पता ही नहीं चला. अब नम्रता मेरे इशारे के साथ ही मूत रही थी और मैं उसके गर्म पानी को पीकर मजा ले रहा था.

रानी ने फिर सुपारी को मुंह में होंठों से ज़ोर से दबा लिया, अंदर से जीभ से टुकुर टुकुर करने लगी और उँगलियों से टट्टों को हौले हौले से दबाने लगी.

इस बार मैंने ब्रा पहनी और जोर से अपने मम्मों को कुछ इस तरह से फुलाते हुए अंगड़ाई ली कि ब्रा पर जरूरत से ज्यादा जोर पड़ गया. पति-पत्नी में बेडरुम की बातेंफिर मुझे लगा कि शायद ऐसा नहीं हो सकता, वो मेरा वहम है और मैंने कुछ ध्यान नहीं दिया. काजल रघवानी के सेक्स वीडियोमेरे हाथ जब उसकी चूचियों को सहलाते हुए उसकी बगल में गये तो वहां बिल्कुल भी बाल नहीं थे. जो जो मैं तुझे इनाम दूँ उसको अच्छे से देखियो कमीने … तभी पूरा मज़ा मिलेगा.

बंगाली हॉट सेक्स स्टोरी के इससे पहले वाले भागबंगालन भाभी को फ्लैट दिला कर चोदा- 3में आपको मैंने बताया था कि दीपिका के हस्बैंड की नाइट शिफ्ट लगने के पहले दिन ही वो मेरे साथ बालकनी में आ बैठी और ड्रिंक करने लगी.

उस समय मुझमें नई नई जवानी भर रही थी और मेरी कामुकता अपने चरम सीमा पर थी. जब सोनल जोरों से सिसकार रही थी, तब दिशा अपने मम्मे दबा रही थी, तो राधिका अपनी चुत सहला रही थी. मैं उसकी नंगी पीठ को चूमते हुए साड़ी के ऊपर से ही उसके चूतड़ों पर दाँत गड़ाने लगा.

फिर पूनम की नजर मुझ पर पड़ी पर उसने शर्ट सही नहीं किया बल्कि मझे देखकर एक कुटिल सी हंसी हंस दी. फिर रात को निहारिका का फोन आया और मुझे निहारिका की चुदाई की आवाज़ साफ साफ सुनाई दे रही थीं. तभी मैंने कार से बाहर निकलते हुए भार्गव से कहा- अरे यार मेरे मोबाइल की बैटरी ही नहीं बची है … उसे चार्ज करना होगा … अब क्या करेंगे?भार्गव बोला- तुम चिंता मत करो … कार में केबल है, उससे तुम चार्ज कर लो.

चंडीगढ़ सेक्सी बीएफ

हमारा घर बहुत बड़ा है पुश्तैनी जैसा … साइड में एक गेस्ट हाउस अलग है।ससुराल में मेरे पति के अतिरिक्त मेरा एक देवर राहुल, एक ननद सुमीना और ससुर हैं जिनका नाम सुमेर सिंह है. साली जी मुझे पूरी ताकत से अपने बंधन में बांधे थी कि मुझे हिलना डुलना भी मुश्किल था सो मैं चुपचाप उनके आगोश में पड़ा था मेरा खड़ा लंड उनकी चूत में यूं ही घुसा हुआ चूत-रस प्रवाह का आनंद ले रहा था. उन्होंने गांड चटाई का जो चरम सुख मुझे दिया … उसे याद करके मेरी गांड आज भी उस दिन के लिए मुझे दुआएं देती है.

मैंने भांग को दूध में मिलाकर उसे कामवाली नौकरानी को पिला दिया और उसके साथ रात भर सेक्स किया.

हम लगातार किस किये जा रहे थे, तभी मैंने हल्का सा धक्का उसकी चुत पे लगा दिया.

फिर चहकते हुए बोली- नम्रता खुश हुई तुम्हारी गांड में कुप्पी डालकर, अब मैं तुम्हारी गांड के अन्दर मूतूँगी. भार्गव ने कार की सीट पीछे की ओर सीधा कर दिया, तो सीट बड़ी होकर बेड के जैसी हो गयी. नॉटी अमेरिका कॉमऔर थोड़ा दिमाग दौड़ाने पर समझ आया कि खुशी मुझे प्रतिभा और सुमन को सौंप रही थी.

चाची के होंठों को चूसते हुए मैं अपनी जीभ उनके मुंह में डाल कर उनके मुंह की गहराई को नापने लगा. जब भी मेरी गांड अर्जुन की जांघों से टकराती तो थप थप की मस्त आवाज निकलती और मेरी चूत में उसके लंड के प्रवेश के साथ मेरे चूत रस की मादक खुशबू पूरे कमरे में फ़ैल गई थी।अर्जुन ने मुझे कुतिया बनने को बोला. उसके एक दूध को मैंने अपने मुँह में भर लिया था और जोर जोर से खींचते हुए चूसने लगा था.

उनका लंड काफी बड़ा था, उनका लंड मेरे काफी करीब था, इसलिए उसके ऊपर की नसें भी साफ साफ दिखाई दे रही थीं. मेरे लंड के इस तरह से उतार-चढ़ाव को देखते हुए नम्रता होंठ को गोल करके सीटी बजाते हुए हंसने लगी.

इसी दौरान मेरी कद काठी में एकदम से बदलाव हुआ और मैं एक पूरा गबरू मर्द दिखने लगा.

उसकी चूत में से पानी निकलते हुए मेरे लंड को तरावट देते हुए बेड पर टपक रहा था. जिस गांव में मैं पढा़ने के लिए जाया करती थी वह गांव शहर से 25 किलोमीटर की दूरी पर था. मैंने उसके और पास आते हुए उसको गले से लगाते हुए कहा- ठीक है अब चलता हूँ … तुम अपना ख्याल रखना.

किन्नरों की चुदाई जैसे ही मैंने दरवाजा खोला, मैं देखती हूं कि संतोष जी बिल्कुल किसी बच्चे की तरह नंगे खड़े थे. मैं बोला- तुझे तो गांड मरवाना भी अच्छा नहीं लगता था?वो बोली- आपने सिखा दिया.

थोड़ी दूरी पर उसने एक वाइन शॉप पर कार रोक दी और मुझे व्हिस्की लाने को कहा और साथ में सिगरेट भी. उसकी गोरी नंगी जांघें देख कर मेरा मन फिर से उसकी चूत चोदने का करने लगा और मैंने जाकर उसके चूचों को दबोच लिया. मेरी पत्नी हर शनिवार को दिल्ली जाती है और घर पर मैं और मेरी बेटी ही रहते हैं.

नेपाली सेक्सी बीएफ हिंदी

मैं और देखना चाहती थी कि ये और क्या करेंगे।अचानक से सुमीना और तेज चिल्लाने लगी- आअ अअहह हह पाहपहापा पापपापापाह पहाहप गयी मैं तो आअअह अअहांआ आआ आआ गया!और यह कहते हुए अपने दोनों हाथों से अपने पापा का मुँह अपनी चूत पर दबा लिया. लंड को खुजलाते हुए वो मेरे करीब आये और मेरे कंधे पर हाथ रख कर अपने हाथ से मेरे कंधे पर सहलाने लगे. उसने बर्फ से मेरी सूजी हुई चुत की सिकाई भी की व मेरे सर की भी मालिश की.

वो दिन भी आ गया, जब मुझे और नम्रता को अपनी-अपनी फैमिली को सी ऑफ करने जाना था. वो बोली- अर्पित मुझे बारिश देखना बहुत अच्छा लगता है, देखो आज बादल भी धरती पे ऐसे बरस रहा है, जैसे ये दोनों एक दूसरे से मिलने के लिए जन्मों के प्यासे हों, जैसे हम तुम.

इतना सुनते ही उसके मुखड़े पर स्माइल आ गयी और वो कहने लगी- हां, मुझको लंड राइडिंग करना बहुत पसंद है.

सीमा की कामुक सिसकारियों की आवाज से कमरा जल्दी ही गूंजने लग गया।सीमा की चूत को मैंने लगभग 25 मिनट तक अपने खीरे जैसे लंड से रगड़ा. मैं चुपके से जाकर उनकी लुंगी में घुस गई और उनकी चड्डी नीचे खींच ली. उसके बाद तो मैंने अपने पति के अलावा किसी मर्द की तरफ आंख उठा कर भी नहीं देखा.

कॉलेज गर्ल सेक्सी कहानी में पढ़ें कि मेरी पड़ोसन की जवान बेटी मेरे पास प्रोजेक्ट के लिए आयी. बहुत ही सुन्दर नयन नक्श, बड़े बड़े मम्मे, बच्चा पैदा करने के बाद गदराया शरीर, नशीली आंखें यानी कि हर लिहाज से सुंदरता में अपनी माँ सरोज से इक्कीस थी. भैया ने हर सवाल के जवाब पर अपना लौड़ा एक इंच अन्दर सरका दिया था … और जैली की वजह से सुन्न हुई मेरी गांड में ये चिड़िया बना बाज़ … कब पूरा चला गया, मुझे पता भी नहीं चला.

आअह्ह ह्ह चोद दे बेबी … जोर जोर से चोद माय स्वीट बेबी … फ़क मी आअह उफ्फ!”वंश मुझे धकापेल चोद रहा था और मेरे होंठों में किस भी कर रहा था.

बीएफ सेक्सी लेडीज: जब मां चलती हैं, तो उनकी मस्तानी चाल देख कर किसी का भी लंड खड़ा हो जाएगा. आपको तो पता ही है कि जब मैं 19 साल की थी तो मैंने अपनेजीजा के साथ पहली बार सेक्सकिया था.

जब मैंने उसकी चूत से लंड को बाहर निकाला तो उसकी चूत से खून और वीर्य दोनों साथ में बाहर आ रहे थे. अब आगे:मेरी एक हाथ की उंगलियां उसके बालों को सहला रही थीं, तो दूसरा हाथ उसकी पीठ को सहला रहा था. तभी मेरे भाई के खांसने की आवाज हुई और मैं तपाक से उठ कर अपने बॉक्स पर पहुंच गया.

मैंने पूछा- फिर क्या हुआ?दीदी- फिर वो मेरी ब्रा में हाथ डाल कर बड़ी जोर से मेरी दोनों चुचियों को मसलने लगा … और मेरे गालों और गर्दन को चूसने लगा था.

कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि बहन की चूत को चोदने के बाद मैंने उसकी गांड को भी चोद दिया. मैं एक हाथ उसके सर को सहला रही थी और दूसरे हाथ से अपनी एक चूची को मसल रही थी. उसे पता था कि मैं पहले किसी से चुदी नहीं हूँ तो वो जल्दबाज़ी नहीं कर रहा था.