हिंदी बीएफ सेक्सी मारवाड़ी

छवि स्रोत,विलेज भाभी सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी नंगी पिक्चर नंगी: हिंदी बीएफ सेक्सी मारवाड़ी, वह पूरा डर में बदल गया, मेरे साथ यह पहली बार ऐसी स्थिति बनी मुझे कुछ समझ नहीं आया.

सेक्सी साड़ी वाली की चुदाई

मेरी तरफ से कोई भी विरोध न पा कर अब वो मुझे किसी का किसी बहाने से मुझे टच भी करने लगा था. भोजपुरी सेक्सी नईउन्हीं में से एक सरकारी बैंक में अदिति (बदला हुआ नाम) की नौकरी लगी, वह भी रोजाना लखनऊ से ही आने जाने लगी थी.

लेकिन फिर उसने ध्यान से देखा और मुझसे कहा- मम्मी तुम तो पहचान में ही नहीं आ रही हो इन कपड़ों में, एकदम हीरोइन लग रही हो. सेक्सी चलने वाला फिल्ममेरी बीवी के मस्त मम्मों को नंगा देख कर वो अंग्रेज लड़का एकदम पगला गया.

मैं उनके पीछे पीछे उनके बेडरूम में गया जब वो खड़ी थीं, तो मैंने उन्हें पीछे से जाकर पकड़ लिया और उनके कान के नीचे गर्दन पर अपने होंठ घुमाने लगा.हिंदी बीएफ सेक्सी मारवाड़ी: बस कभी कभी सिसकारी निकल जाती उसके मुंह से पर वह बेकाबू नहीं हो रहा था.

वो अब भी उस रबर के लिंग को पहनी हुई थी, मुझे उसके इस रूप को देख कर मन ही मन हंसी आ रही थी.फिर वो बेड पे से उठी अपने कपड़े ठीक किए और दरवाजा खुला था, वो बंद करने जाने लगी.

मिनी सेक्सी वीडियो - हिंदी बीएफ सेक्सी मारवाड़ी

लेकिन वो वहां पर अपनी बाहों में लेकर बस इधर-उधर किस कर दिया करता था.मयूरी भाभी की एक अधूरी इच्छा थी कि मैं जाते समय उनकी एक बार चुत मार लूँ, जो मैंने ख़ुशी ख़ुशी पूरी कर दी.

रात को श्यामा का फोन आया और बोली- तुम्हारे लिए लंड का पक्का अरेंज्मेंट हो चुका है. हिंदी बीएफ सेक्सी मारवाड़ी आज उनकी वजह से हम सबको यह सुख मिला था, तो हमने सोचा हम तीनों मिलकर उनको चाटेंगे.

और आप?पूर्वी- मैं जब कॉलेज में थी तब 1-2 बार दोस्तों के साथ बियर पी थी पर जब से शादी हुई है तब से कुछ भी नहीं.

हिंदी बीएफ सेक्सी मारवाड़ी?

तभी जीजू ने मुझे अपनी बाहों में ले लिया और मुझे किस करके बोले- मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूँ. इतना कह कर पूजा अपनी कमर चला कर मेरे लंड को अपनी गांड के अन्दर बाहर करने लगी. उनकी ट्रेन जाने के बाद स्टेशन पे ही मैं और मेरी सास मोहिनी एक दूसरे को देखने लगे.

लोग आते मम्मी के लिए हैं, पर घर में मुझे देख कर सबकी निगाहें मुझमें अटक जाती हैं. दोस्तो, मैंने मन में ही हिसाब लगाया तो समझ में आया कि ज़्यादा से ज़्यादा ये सिर्फ़ 6-. इसीलिए मैंने अपने लंड पर थूक लगा कर जैसे ही उसके चुत पर लंड रखा, उसकी चुत ने मेरे लंड के लिए अपना मुँह खोल दिया और लंड अन्दर ऐसे घुसता चला गया … जैसे मानो किसी आइसक्रीम पर चाकू घुसता चला गया हो.

आओ बेटी उधर लेटो बेड पर!दीपक ने उसे एक कोने में बेड पर लेटाया और जांच शुरु कर दी. थोड़ी देर मैं एकदम शांत पड़ा रहा, जब आंटी की तरफ से कोई हलचल नहीं हुई तो थोड़ी देर बाद मैंने फिर से अपना काम शुरू कर दिया. हाथ तो उसके बंधे ही थे, मैंने और स्टीव ने उसकी एक एक टांग भी पकड़ ली और उनको भी कुर्सी से बांध दिया.

प्रिय पाठको, मुझे आशा है कि आपको इस हसीन और प्यासी भाभी की रंगीन जवान चूत चुदाई कहानी मजा दे रही है. वो दोनों साइड में चली गईं, तो देवेंद्र बोला- फिर क्या सोचा आपने?मैंने पूछा- किसके बारे में?वो बोला- मेरे प्यार के बारे में!उसने मेरे हाथ पे अपना हाथ रख दिया और बोला- आई लव यू!मैंने कहा- हाथ हटाओ … कोई देख लेगा.

तो मौसी ने कहा- ठीक है चली जाओ … नंदोई जी साथ में हैं ही, क्या प्रॉब्लम है.

सतीश बोला- चल कुछ भी हो जाए … पर हम शादी में तुझे चोदने आएंगे तो जरूर … साली नाटक तो नहीं करेगी वहां … पक्के में चुदवा लेना … पूरी रात में कोई भी टाइम निकाल कर आ जाना.

मैंने नशीली आंखों से उनको देखा और उनसे चिपकते हुए कहा- बहुत नॉटी हो आप …!मैं जीजू से चिपकी तो जीजू ने भी मेरा हाथ पकड़ लिया. बिस्तर पर मुझे गिराने के बाद उसने अपने सारे कपड़े निकाल दिए, बस अंडरवियर नहीं निकाली, जिसमें उसका तंबू बना हुआ लंड साफ़ साफ़ दिख रहा था. वो भी मेरे पीछे बैठ गयी और मेरी कमर में हाथ डाल कर मुझे कस कर पकड़ लिया.

नीरू ने सविता से पूछा- बहन, अब तो दर्द नहीं हो रहा?सविता ने कहा- नहीं नीरू, अब मुझे मजा आ रहा है!तभी नीरू सविता के पीछे आ गई और उसकी चूत में मेरे फंसे हुए लंड को देख कर मस्त होकर बोली- सविता, तू भी मेरी तरह पूरी औरत बन गई है. उनके जाने के बाद अगले दिन नीरू का फोन मुझे पास आया, उसने कहा- जीजू, मेरी बात पायल से हो गई है, वह तैयार है लेकिन शर्मा बहुत रही है, बोल रही है कि मैं उनकी पत्नी के सामने कैसे करवा पाऊंगी. फिर भी मेरे दोस्त किसी ना किसी बहाने से भाभी को देखते थे और उनकी उठी हुई गांड का फिगर देख मुठ मारते थे.

उसने कहा जो औरत एक बार में 4 मर्दों को गिरा सकती है, छोटी सी बात पे डर गयी.

मैंने पैसे लेने से मना कर दिया और कहा कि आप खुश हो, वही मेरे लिए बड़ी बात है. फिर दोनों एक दूसरे की चूत को चाट रही थीं और मम्मों को दबा दबा कर चूस रही थीं. उसने मुझे हिलाते हुए कहा- क्या हुआ ऐसे क्या देख रहे हो?मैंने खुद को संभाला और कहा- नहीं कुछ भी तो नहीं.

वो मेरे लंड को होंठों से चूसती, ऊपर नीचे करती हुई दाँत से हल्के हल्के काट रही थी. इस तरह से बड़बड़ाते हुए रेवती अपने तकिए को मसले जा रही थी और अगले ही पल एकदम शांत हो गई. ” उन्होंने मुझसे कहा और फिर कमरे के बाहर से ही प्रिया को आवाज देकर बताया कि नहाने के बाद वो बाद मुझे दवा दे दे.

मेरी गर्म कहानी के पहले भागगांव की रिश्ते की साली को चोदा-1में आपने पढ़ा कि मेरी साली हमारे घर आयी हुई थी.

फिर मेरी टांगें फैलाकर अपनी उंगली को मेरी चूत में रख कर उंगली अन्दर घुसा दी. मैंने उनके सुपारे को ज़ुबान से चाटते हुए कहा- हाँ जीजा जी, खा जाऊँगी आपका ये हब्शी लौड़ा …यह कह कर मैंने जीजू का लंड अपने मुँह में भर कर चूसना चालू किया, तो जीजा जी आंखें मूंद कर लंड चुसाई का मजा लेने लगे.

हिंदी बीएफ सेक्सी मारवाड़ी फिर वो मेरी तरफ देख कर हल्के से मुस्कुराई, मैंने भी मौके फ़ायदा उठाते हुए अपने होंठ उनके होंठों पर रख दिये. हमारी सांसें स्थिर हो चली थी … प्यार के गुजरे मादक और अविस्मरणीय पलों की महक और उन पलों को कहीं अंदर ही रेकार्ड कर लेने की कोशिश करते हुए हम दोनों की एक दूसरे के शरीर को पुनः अहसासों से भरता हुआ महसूस करने लगे.

हिंदी बीएफ सेक्सी मारवाड़ी तब उन्होंने मुझसे मेरी चॉइस पूछी, तब मैं बोला कि छोड़ो भाभी जाने दो. अब मयूरी अपने दोनों भाइयों के सामने एकदम आदमजात नंगी खड़ी थी, उसके शरीर पर एक भी वस्त्र नहीं था.

मेरा एक हाथ उनके कूल्हे के नीचे पहुँच गया और दूसरा हाथ उनकी गर्दन के नीचे था.

वाली सेक्सी वीडियो एचडी

अब जो सब्जेक्ट छेड़ दिया है… उसके बाद नींद कहां आयेगी। अब तो खुद ही दिल कर रहा है और बातें करने का।”उन लड़कों में से किसी ने शादी करने में दिलचस्पी न दिखाई?”तीनों दूसरे धर्म से थे. वह किसी भी बुड्ढे या जवान का लंड खड़ा करवा सकती है।एक बार जब मैं कॉलेज से घर आया तो देखा कि पापा मेरी मम्मी को बोल रहे थे कि काम का भार उन पर कुछ ज्यादा आ गया है तो इस बार वो घर 2-3 महीने के बाद ही आ पाएंगे. मैं उससे बातों-बातों में ही उसके बूब्स और गांड को स्पर्श कर देता था लेकिन वो कुछ रिएक्शन नहीं देती थी तो मुझे और भी हिम्मत आ जाती थी.

अब प्रीतम का रोज़ का यही हाल हो गया, वो मेरी चूत ठीक से चोद ही नहीं पाता था. बोला- चल चलता हूं तेरी हेल्प कर देता हूं, पर कल तू मुझे भी खुश कर देना. ऐसी बेचारगी का सामना मुझे जीवन में कभी पहले महसूस नहीं करना पड़ा था.

तो नीचे जा कर मैंने देखा कि रिसेप्शन पर वही रात वाली लड़की खड़ी है, मैं वहां गया और उससे पूछा कि मुझे रात में एक महिला दवा दे कर गयी थी, आपको पता है कि वो कौन थी और कहां रहती है.

मैंने अपनी निक्कर धीरे से पैरों से निकाली और उसकी चड्डी की इलास्टिक में हाथ डाल कर उसे भी उसके चूतड़ों से नीचे को सरकाया। अब मेरे मामा की बेटी यानि मेरी ममेरी बहन के कूल्हे नंगे हो गए और मेरे हाथ उसकी भरी हुई टाँगों पर आ गए. लड़की की क्लिट को छेड़ो और वो चुदने को न मचल जाए ऐसा तो हो ही नहीं सकता. बाद में जब उसको मेरे बारे में पता चल गया कि मैंने ही उस से व्हाट्सएप पर बात की थी, तो उसने बताया कि वो उसका बेस्ट बर्थडे गिफ्ट था.

मेरे दिमाग में आईडिया आया और मैं थोड़े गुस्से में बोला- नहीं, बच्चे को ऐसे दूध पिलाते हैं क्या?कविता बोली- हां. अब वो अपने अनुभव से काम ले रहा था, क्योंकि शायद उसे अब झड़ने की इच्छा हो रही थी. आंखों में गहरा काजल डाल रखा था उसने!अगर शोर्ट में कहूं तो कम्मो हरियाणवी डांसर सपना चौधरी की छोटी बहन जैसी लग रही थी; बिल्कुल वैसी ही कद काठी, वैसा ही जानलेवा जोबन, वैसा ही सलवार कुर्ता, वैसी ही सुन्दर और यौवन के जोश से लबालब.

तब मैंने उसकी ब्रा भी ऊपर कर दी और मुझसे जब नहीं रुका गया … तब मैंने अपने दोनों हाथों से उसके बड़े बड़े और सख्त चुचे पकड़ लिए और उनको जोर से दबा दिया. दीमा संग हम दोनों के मुंह से एक सिसकारी सी निकली और नताशा ने अपना मुंह चौड़ा खोलते हुए दोनों टोपों को मुंह के अन्दर लेकर अपनी गुलाबी जीभ से चाटने लगी.

अचानक मेरी नज़र उस खुली जिप पर पड़ी, तो मैंने आवाज़ लगा कर उनको रोका. वो ये सुन कर चुप रही, मैंने उसे उठाया और बेड से उतर कर बेड पर हाथ रखवा कर कविता को घोड़ी बना दिया. थकावट के कारण मुझे इतनी गहरी नींद लगी कि पता ही नहीं चला, कब रात हो गयी.

जो कुछ हो रहा था वो जैसे स्वयं ही, बिना हमारे कुछ किये ही हो रहा था.

तब राज अंकल मेरी कमर में हाथ डाल कर बोले- चल सोनू, मेरे ऊपर भरोसा रख. नीरू के मुंह से हल्की सी आवाज निकली- जीजू, यार मार डालोगे क्या?मैंने कहा- क्या हुआ?नीरू बोली- अरे जीजू 7 इंच लंबा लौड़ा एक झटके में अंदर डालोगे तो थोड़ा दर्द तो होता है!मैंने कहा- अरे साली छिनाल … कितनी बार इस लोड़े को लेकर मजा ले चुकी है, अब भी दर्द होता है?नीरू बोली- हां जीजू, जब 7 इंच लंबा लंड एक झटके में डालोगे तो थोड़ा सा दर्द तो अभी भी होता है!मेरा पूरा लंड नीरू की चूत के अंदर समा चुका था. चाची- तू कितना उतावला है रे … दीदी को चोदने के लिए … साले तू चोद मुझे रहा है और तेरा ध्यान दीदी की चूत पर है.

मीता पूरे शरीर पर हाथ फेरता हुआ मैं अपने लन्ड से मीता की चूत पर अपना प्यार लगातार अंकित करता जा रहा था. उस रात हमने दो बार औऱ सेक्स किया और कुछ हफ्तों बाद मैंने उसकी गांड भी मारी.

तो मैं दोनों तरफ टांगें डाल कर बाइक पर बैठ जाती थी, जिससे मेरी चूचियां उसकी पीठ से टकरा कर रगड़ जाती थीं वो भी मेरी चूचियों का मजा लेने के लिए बार बार अपनी बाइक के ब्रेक मार कर मुझसे चूची रगड़ने का सुख ले लेता था. मैंने बोला- वहां पर क्यों?तो दीदी बोलीं- यहां रूम कम हैं … तो अंकल ने कहा कि बेबी मेरे घर में जाकर रह सकती है … इसलिए ये वहां पर रेस्ट कर लेगी, तुम बस इसका सामान उधर रखवा दो. मैं बोला- पर दूध तो तेरी चुचियों में से निकलता है न!वो बोली- नहीं निकलता है … तुम जाओ यहां से!मैं बोला- ठीक है … अब चाची ही बताएगी!वो घबराई सी बोली- ठीक है बताओ.

इंडियन सेक्सी 2000

और तुम जितने प्यार से मेरे साथ पिछले 4 घन्टे से हो, तो मुझे ये लगा ही नहीं कि मैं तुम्हें केवल सेक्स के लिए लाई हूँ.

मैं उनके पीछे पीछे उनके बेडरूम में गया जब वो खड़ी थीं, तो मैंने उन्हें पीछे से जाकर पकड़ लिया और उनके कान के नीचे गर्दन पर अपने होंठ घुमाने लगा. अबकी बार मैंने पूजा को कोई सहारा नहीं दिया और पूजा बड़े आराम से मेरे लंड को अपनी चूत से कभी धीरे धीरे और कभी जोर जोर से चोदने लगी. मैं जैसे ही नीचे चुत चाटने को हुआ तो वो बोली- जानू … नीचे अभी गन्दा है.

वो मस्त होकर बोली- उम्म … कितनी प्यारी सुगंध है … और स्वाद भी लाजवाब है. भाभी बर्तन धो रही थी, मुझे देखते ही बोली- क्या बात है … तू तो बिना कहे ही किताबें लेकर आ गया?मैंने कहा- हाँ भाभी, मैंने सोचा आप बोलो, इससे अच्छा है खुद ही ले चलूँ।फिर बर्तन धोकर भाभी आई और मुझसे बोली- चल बता … मैथ पढ़ेगा या सोशल स्टडीज़?मैंने कहा- भाभी आज टी. સેકસી હિરોઈનतो मैंने एक्साइटेड होकर उसकी चुचियों को बाहर निकाला और उसके ऊपर दांत काटा और बोला- हिसाब-किताब बराबर!फिर हम दोनों ने अपने कपड़े ठीक किए और घर के लिए चल दिए।तो दोस्तो, यह थी मेरी पहली चुदाई की स्टोरी! उम्मीद करता हूं कि आप सब को पसंद आएगी.

गैब्रियल ने मेरे सीने में हाथ से धक्का देकर मुझे बेड में गिरा दिया और अपने दोनों बाजू इधर उधर करके मेरे ऊपर चढ़ गया. हम दोनों ने करीब 20 मिनट तक चुदाई की, इस बीच वो झड़ चुकी थीं और मैं अब तक टिका हुआ था.

रात के दो बजे मैं उठा, नीता आंटी मुझसे थोड़ी दूरी बनाती हुई मेरे ऑपोज़िट सो रही थीं. नेहा का एक हाथ अब अपनी मुनिया को छुपाने में व्यस्त हो गया था और वो बस अब एक ही हाथ से ही अपने लोवर व पेंटी को पकड़े हुए थी. इसके बाद सोनू खड़े होकर अपने लौड़े पे खाने का निवाला रखता जाता और मैंने उस निवाले को मुँह में लेने के लिए उसके लंड को भी चूसती जाती और निवाला भी खाती जाती.

फिर मैंने ऐसे रिएक्ट किया जैसे कि मैंने उस ऑफिसर को देखा ही नहीं था. मैं- पेल दूँ?चाची मेरे लंड को अपनी चूत के छेद पर टिका कर बोलीं- हां जल्दी से पेल दे, एक ही धक्के में पूरा पेल देना. लेकिन यह आकर्षण सिर्फ मीता के साथ गुजारे पलों में ही था, उसके अलावा मेरे सम्बन्ध जहां भी बने, वहां पर मैं एक सामान्य मर्द ही होता था.

दोस्तो, उनके बूब्स काफी बड़े लगते हैं और ऐसा लगता है, जैसे हमेशा उनके टॉप से बाहर आना चाहते हों.

शीतल- अच्छा?मयूरी- हाँ… और इसीलिए दोनों आपको एक साथ चोदना चाहते हैं… एक आपकी गांड में और एक आपकी चूत में लंड डालकर आपको चोदना चाहते हैं. उसने मेरे हाथ को पकड़ लिया और सरसराते हुए मुझसे बोली- मुझको तो नंगी कर दिया, तुम अपने कपड़े नहीं उतारोगे?मैंने भी मौके का फायदा उठाते हुए कहा- तुम खुद ही नंगा कर दो ना.

इस पर तारा जोर जोर से हंसने लगी और उसने मेरी दुविधा उन दोनों को बता दी कि मैं माइक के लिंग से डर गई हूँ. अंकल- अच्छा लग रहा है?मैं- हाँ … जल्दी से लंड को चुत में घुसा कर चोदिए ना. अब उससे आगे लिखने जा रही हूं कि किस तरह से अगले पन्द्रह दिन में अनलिमिटेड एन्जॉय किया और बेपनाह दर्द भी सहा.

शर्म आती है?”एकदम से ऐसी स्थिति बन जाना कि जिसकी पहले कभी उम्मीद न की गयी हो, थोड़ी झिझक तो पैदा करता ही है। पहले इसे ही रहने दीजिये. जब भाभी ने चूत में लंड लेने की इच्छा जताई तो मैंने उनसे कहा कि भाभी मैं लेट जाता हूँ और आप मेरे ऊपर चढ़ कर सवारी करो. थोड़ी देर लंड चूसने के बाद वो बोलीं- अब मत तड़पा … बहुत हफ़्तों से इसने कोई लंड नहीं खाया … डाल दे इसमें.

हिंदी बीएफ सेक्सी मारवाड़ी तभी रिया भाभी ने कहा- हाय जानेमन, कहो तो मैं तुम्हारी आग बुझा दूँ?एकता भाभी ने कहा- आग तो मुझे भी लगी है, क्या ये हम तीनों की आग बुझा पाएगा?रिया भाभी ने कहा- जवान तैयार है, इशारा करेंगे तो सबकी कामवासना बुझा देगा. उसने मुझे पूरा मजा देने का वादा किया, उसने मुझे साथ में नहाने को बाथरूम चलने को कहा.

देसी लड़की को सेक्सी वीडियो

पायल के छोटे बूब्स देखकर मेरी हालत खराब हो रही थी, गोल सुडौल तने हुए उरोज मेरी मुट्ठी में समा रहे थे, मैंने तुरंत उनको हाथ में लिया और निप्पल को मुंह में लिया. उसने पैड सहित मेरे दूधों को कस के दबा दिया और फिर एक ही झटके में ब्रा को ताकत से खींच दिया, जिससे ब्रा की बद्धियां टूट गईं. मैं तो पहले ही कई लड़कियों से सम्बन्ध बना चुका था तो मुझे उसके इरादे समझते देर न लगी।इसी दौरान हम घर पहुँच गए। घर जाकर चाची माँ से बातें करने लगी और मैं मन ही मन चाची की चुदाई के सपने देखने लगा।करीब 1 घण्टे बाद चाची ने कहा- टोनी, मुझे अस्पताल छोड़ दो, फिर घर जाना है।मैं चाची को लेकर अस्पताल पहुँच गया.

तब उसने बोला- कोई बात नहीं, पर गिफ्ट तो तुम अभी भी मुझे दे सकते हो. मगर फिर से किसी ने मुझे जोरों से हिला दिया … अबकी बार मैं उठकर बैठ गया और देखा तो सही में मेरे सामने प्रिया ही खड़ी हुई थी. सेक्सी वीडियो कॉम डाउनलोडजीजू बोले- क्या मतलब?मैंने कहा कि दीदी से सुहागरात के बारे पूछा था … इसलिए विश्वास नहीं हो रहा था.

मेरे पास आते ही वो वहीं सीढ़ियों पर झुक गई और अपनी स्कर्ट पीछे से उठाती हुई बोली कि प्लीज आज मुझे यह दे दो.

फिर उन दोनों के हटने के बाद वापस वो मोटे लंड वाला आया और मुझे चोदने लगा. उसने इस बात का कोई एतराज़ नहीं किया, तो मुझे लगा कि आज काम बन जाएगा.

मैं उस टाइम एम बी बी एस की पढ़ाई भी कर रहा था और घर पर ही 11 वीं और 12 वीं क्लास के स्टूडेंट्स को टयूशन भी देता था. यह सब तो वो ऊपर से कह रही थी, पर नीचे से उसकी चूत से रस की बूंदें टपक रही थीं. कुछ देर बाद हम दोनों ने अपने कपड़े पहन कर ठीक किये और घर को लौट आया.

मगर प्रिया और नेहा में उलझे रहने के कारण कभी कोशिश करने का समय ही नहीं मिल पाया था.

मैं अब तुम्हारी प्यारी चूत को अपने लंड के पानी से पूरी की पूरी भरने वाला हूँ. मैंने अपनी उंगली चुत की गोरी फांकों के बीच में डाली, जो अन्दर से गुलाबी थी. क्योंकि सुलेखा भाभी की साड़ी व पेटीकोट उनके नीचे दबे होने के कारण अब और ऊपर नहीं हो रहे थे.

सेक्सी कैसे होते हैंवो जोर से चिल्ला दी लेकिन मेरी किस्मत अच्छी थी, उसका बेडरूम पूरी तरह से साऊंड प्रूफ था. उसके बाद मैंने धीरे से कमलेश की पैंट का बटन खोलने की कोशिश शुरू कर दी.

हिंदी में सुहागरात सेक्सी वीडियो

मैं एक बार चुद गई थी लेकिन मेरे अन्दर और भी चुदवाने का मन कर रहा था और जीजू को भी मुझे चोदने का मन कर रहा था. हिमांशु अपने लंड के मेरी गांड में जोर जोर से झटके मारने लगा और बोला- तेरी गांड में बहुत गर्मी है कुतिया … अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा. उसने मुझे हिलाते हुए कहा- क्या हुआ ऐसे क्या देख रहे हो?मैंने खुद को संभाला और कहा- नहीं कुछ भी तो नहीं.

उफ्फ … आआआ … आआह इस्ससीई!” मीता वासना से अवश होकर सिसकारी भरने लगी. वैसे मैंने भी उसे रोक रखा था, इसलिए वो ज्यादा जोर लगा भी नहीं रहा था. लगभग चार मिनट के बाद मैंने महसूस किया कि रेवती कि चूत का कसाव मेरे लंड पर कुछ ज्यादा बढ़ गया और रेवती की सिसकारियां और ज्यादा तेज हो गई थीं.

मैं समझ रहा था कि उसको चुदने की जल्दी मची है, लेकिन वो भी पूरा मजा लेने के मूड में थी. चाची ने कभी मना नहीं किया!दोस्तो, और भी कई किस्से हैं मेरे और मेरी चाची के साथ। वैसे चाची का नाम सुनीता है।उम्मीद है लड़कियों की चूत गीली हो गयी होगी और लड़कों का लंड पूरा तैयार होगा चुदाई के लिए!आप सभी के ईमेल का मुझे इंतजार रहेगा।[emailprotected]. उसके मुंह से ‘आह आआ आहह आआ आ … आआहहह आह …सक माए पूसी … आह आह आहह …’ की आवाजें निकल रही थी.

अगर कोई भी मुझे किसी भी काम के योग्य समझे या कभी बात करना चाहें तो कर सकते हैं. यह मेरी अन्तर्वासना पर पहली कहानी है, तो लिखने में कोई ग़लती हो तो माफ़ करना.

इस बार नेहा शर्मायी नहीं बल्कि मेरी तरफ देखती रही, जैसे कि वो पूछना चाह रही हो कि मैं रुक क्यों‌ गया? उसकी आंखों में उत्तेजना की तड़प अब साफ दिखाई दे रही थी.

इस तरह से हम दोनों ने खाना खाया और फिर सोनू ने रसगुल्ले निकाले और मुझे खड़े होने के लिए बोला. 12 साल की छोरी की सेक्सी फिल्मसाड़ी पहन कर जब वो चलती थी, तो पीछे से उनकी एकदम गोल गांड देखकर मेरा लंड मुझे बदतमीज बना देता था. अनुष्का शर्मा नंगी फोटोमैं- चाचा का लंड कभी चूसा है आपने?चाची- नहीं … लेकिन दीदी को (बड़ी चाची) जेठ जी का लंड चूसते देखा है. वो हांफते हुए बोली- सही में यार तुम बहुत मस्त चुदाई करते हो … कभी मुंबई आओ, उधर की सारी लड़कियां तुम्हें चाहने लगेंगी और खूब चुदाई करवाएंगी.

मैंने जल्दी स्कर्ट टॉप पहने और दोनों अंकल ने भी अपने कपड़े पहने, राज अंकल तुरंत मेरा हाथ पकड़े और बोले- चुपचाप चले चलो सोनू जल्दी करो.

लेकिन मैंने योजना के मुताबिक़ सोचा और तुरंत पीछे हटकर बोला- ओह, मुझे कॉलेज में अपने एक स्टूडेंट को मिलने जाना था. फिर जब मुझसे कंट्रोल नहीं हुआ तो मैंने रेखा के कुर्ते के ऊपर से ही उसके चूचों को भी दबाना शुरू कर दिया।अब वह धीरे-धीरे कामुक सिसकारियाँ भरने लगी. हॉट भाभी से सेक्स की मेरी इस कहानी के पहले भागपड़ोसन भाभी से की चुदाई की शुरुआत-1में आपने पढ़ा कि मेरी पड़ोसन भाभी डिम्पल मुझे बहुत हॉट लगती थी.

चूत में उंगली की तो चूत ने रस छोड़ दिया था, मतलब भाभी भी मजा ले रही थीं. इससे मुझे मीठा दर्द भी होता था, पर उसके लंड चूसने के अंदाज़ से मैं बहुत खुश था. मैंने पैसे लेने से मना कर दिया और कहा कि आप खुश हो, वही मेरे लिए बड़ी बात है.

इंग्लिश सेक्सी चुदाई फिल्म

साथ ही मादक आवाजें करने लगी- आह … और जोर से चूसो रेनिश … आज इसका सारा दूध पी जाओ … आआह … प्लीज़ फ़क मी रेनिश … और जोर से!थोड़ी देर मम्मों को चूसने के बाद मैं उसको बेड पे ले आया और उसकी पैंटी के ऊपर से बुर को सहलाने लगा. उस दिन जब मैं स्कूल से लौट कर घर आया तो पता चला कि मेरी दूर के रिश्ते की मौसी आई हुई हैं. उनका चेहरा अब टमाटर की तरह लाल हो गया था और होंठ थरथराने से लगे थे.

अब तक वो भी बहुत उत्तेजित हो गई थीं और मेरा सर दबा के अपनी चूत पर रगड़ सुख ले रही थीं.

फिर यह सब्र का बांध टूट गया और मैं उसके गालों पर और उसके गर्दन पर लगातार चुम्बन करने लगा.

मैं नहीं चाहता था कि नेहा की चुत के रस की एक भी बूंद जाया हो, इसलिए उसकी चुत की दोनों फांकों पर जो रस लगा हुआ था. एकदम से लंड पेलने के कारण उसकी चीख निकल गई और वो बोलने लगी- थोड़ा धीरे!जब मेरा लंड उसकी बुर में सैट हो गया तब वो भी गांड को धकेलते हुए धक्के देने लगी. सेक्सी ब्लू देजब उन्होंने मेरे लंड को देखा तो कहा- ओह्ह … ये कितना बड़ा लंड है … इतना बड़ा लंड मैंने आज तक नहीं देखा.

सुलेखा भाभी के पेंटी में कैद उनके विशाल नितम्बों को सहलाते हुए मैं अब वापस अपने हाथों को पीछे से ही उनकी जांघों के जोड़ की तरफ बढ़ाने लगा. क्योंकि दोस्तो मेरा लंड लगभग 7 इंच लम्बा और ठीक मात्रा में मोटा भी है. जैसे ही शाम को काम खत्म हुआ, तो मैं तो दिल्ली आने वाली बस में बैठ गया और बॉस अपने काम से बाहर चले गए.

वो अपनी जीभ को जब मेरे सुपारे पर फिराती, क्या बताऊं … क्या मस्त मज़ा आ जाता. सुमन- अगर नई मिल गई तो क्या दोगे?उधर से- जो तुम कहोगी। मगर माल बढ़िया होना चाहिए!सुमन- माल की चिंता ना करो, मेरे से बहुत बढ़िया है.

फिर एक दिन हमने कहीं जाकर मस्ती करने का प्लान बनाया एवं रविवार के दिन हम लोग 11 बजे निकले.

अचानक उस पर से नजर हटा कर इधर-उधर देखा तो देखा कि काफी चहल पहल हो रही थी और सभी अपने सामान के साथ इधर-उधर भाग रहे थे. तब भी मैंने और जीजू ने रात को छत पर जाकर एक दूसरे को खूब किस किये और उसके बाद मैं अपने कमरे में जाकर सो गयी. बिस्तर पर दोनों नंगे एक दूसरे से गुत्थम गुत्था थे, दोनों एक दूसरे को चूम और चाट रहे थे.

पुलिस वाली गेम उसने कहा- क्या मतलब? मैं पैसे दूं?मैंने कहा- नहीं… जैसे तू मेरा देखना चाहती है. उउऊ ऊह्ह्ह … हुहुहुँ … ऊऊउउ …” ये कहकर सुलेखा भाभी अब जोरों से कसमसाने‌ लगीं और अपने दोनों हाथों से मेरे सिर को पकड़कर अपने होंठों से अलग कर दिया.

जिस दिन मेरी बीवी और ससुर बाहर गए, मैं और मेरी सास मोहिनी उन्हें स्टेशन छोड़ने गए थे. दोस्तो, कहानी कैसी लगी, जरूर बताना मेल और फेसबुक से[emailprotected]. मैं बड़ी चाची के बारे में बोल बोल कर छोटी चाची को चोदने लगा- काश … आपकी तरह मुझे बड़ी चाची की चूत चोदने का सौभाग्य प्राप्त हो जाता.

गूगल में सेक्सी पिक्चर

मेरे इशारे पर स्टीव ने झुक कर उसके एक पाँव को अपनी गोद में रखा और टांग पे हाथ फेरने लगा, पर बीवी एकदम से कुर्सी से उठने लगी. उसे पटा था कि उसे चुदना तो हो ही… बेटी की चार बार चुदाई देख कर उसकी चूत भी चुदाई के लिए मचल रही थी. मुझे अजीब सा कुछ महसूस होने लगा, मेरी कमजोर नस पर उन्होंने हाथ रख दिया.

मेरे बेटे सोनू ने करीब चालीस मिनट तक मुझे चोद चोद के मेरी चूत का भोसड़ा बना के रख दिया. उनका लंड मेरे मुँह की तरफ था और सर मेरी चूत को पागलों की तरह चाट रहे थे.

मैं कुछ समझ नहीं पा रही थी, पर फिर भी मैंने नीचे स्कर्ट पहन ली और ऊपर एक वी नेक की टी-शर्ट पहन ली.

अब दो दिन के अन्दर ही तुम्हारी मम्मी को अपने गियर में लेता हूं सोनू. मेरी योनि में धीरे धीरे लिंग घुसने लगा, जिससे मुझे मेरी योनि के चारों तरफ तेज़ खिंचाव होने से दर्द होने लगा. तभी रीना मुझसे बोली- तुझे भी चुदाई करवानी है क्या?मैंने कहा- नहीं यार मुझे नहीं करवानी … तू ही करवा लिया कर.

उसने उसके ब्लाउज के हुक खोलकर ढीले कर दिए और धीरे धीरे आगे बढ़ने लगी. तो उसने वाशरूम जाने का बहाना बना दिया और बोली कि यहीं बाहर गार्डन में हूँ. दोनों बेटों ने फिर से अपनी माँ को एक साथ चोदा और फिर नंगे ही बिस्तर पर गिर गए और आराम करने लगे!शीतल दोनों बेटों के बीच में लेटी हुई थी और अपने दोनों हाथों से उनका लंड धीरे-धीरे सहला रही थी.

मैंने कम्मो का हाथ पकड़ कर अपनी ओर खींचा तो उसने इन्कार में सिर हिलाया फिर मैंने जोर से खींचा तो वो मुझसे आ लगी और मैंने उसे फिर से चूम लिया.

हिंदी बीएफ सेक्सी मारवाड़ी: मुझे तब पता चला, जैसे ही मेरे शरीर में कुछ रगड़ता चिपका हुआ महसूस होने लगा. फिर पुनीत ने पूछा- तेरे साथ ये लड़का कौन है?तो वह आगे बैठा स्टोर वाला बोला कि वन्द्या का कजिन ब्रदर है, इसी के साथ मम्मी ने इसको आने दिया है, नहीं तो पॉसिबल नहीं था.

इस दौरान सबने एक साथ अशोक के लंड को भी खूब चूसा… पूरी रात सब पार्टनर बदल-बदल कर चुदाई करते रहे और उस दिन के बाद घर में चुदाई का जश्न जारी रहा. तभी मुन्ना अंकल मेरे सामने आए और बोले- वन्द्या, अब बता तुझे घर पहुंचा दें जहाँ तू सो रही थी या हम लोग जल्दी से तेरी मस्त चुदाई कर दें. अपने जीवन में सेक्स का आनन्द अवश्य लें पर अपने परिवार की प्रतिष्ठा का ध्यान रखें.

मैं चुप हो गया तो वो हंसने लगी और बोली- अरे तुम तो डर गए? मैं वही दवाई वाली बोल रही हूँ.

मुनीर ने मेरी टांगों को ऊपर उठाया और अपने कंधे पे टिका कर दोनों हाथों से मेरी योनि को फैला कर दोनों तरफ की पंखुड़ियों को खोल दिया. अब मैं देख रही थी कि उस दिन के बाद ज्यादातर राज अंकल मेरी मम्मी के आस पास नजर आते और उन्हीं से बातें करते रहते. हिमांशु पीछे से मेरी गांड में बहुत जोर से अपने लंड को अन्दर बाहर लंड करने लगा था.