सेक्स नंगा बीएफ

छवि स्रोत,बांग्ला बीएफ लोकल

तस्वीर का शीर्षक ,

बिहारी बीएफ बीएफ: सेक्स नंगा बीएफ, कुछ और दिनों में चाची ने मुझे चुत चुदाई का परफेक्ट खिलाड़ी बना दिया.

सेक्सी चाहिए हिंदी में बीएफ

मैंने भी अपना काम जल्दी ही खत्म कर लिया था और अब उसके जाने का भी समय हो गया था लेकिन मैंने उसको मेरे लिए एक कप चाय बनाने के लिए कहा. बीएफ नंगी चूत में लंडमैंने अपने दोनों हाथों को अपनी राजकुमारी के नितम्बों के नीचे रख कर थोड़ा-थोड़ा ऊपर की ओर उभारना शुरू कर दिया.

मोटी-मोटी काली आँखें जिन में प्यार और काम अपनी सम्पूर्णता के साथ झलक रहे थे. सेक्सी बीएफ आगरा वालीलेकिन मैंने उसकी एक ना सुनी और जल्दी से एक शॉट मार कर पूरा लंड अन्दर कर दिया.

”नहीं सर में पहले चूत में मोमबत्ती डालती थी, फिर धीरे धीरे केला, फिर बैगन और अब लौकी भी घुसा लेती हूँ.सेक्स नंगा बीएफ: उसने चूत को ढकने के लिए चड्डी पहनी हुई थी… जो बिल्कुल गीली हो गई थी.

दिसम्बर का महीना था, मेरे पड़ोसी का नाम रौनक था वो एक 34 वर्षीय बिज़नेस क्लास हैं और मैं उन्हें भैया कहता हूँ.अब उसने शायद सोचा कि ये लड़का भोला है, तो उसने ही आगे बढ़ कर लिप किस किया.

जानवर वाले बीएफ पिक्चर - सेक्स नंगा बीएफ

उसने कहा कि मैडम फोन तो मिल जाएगा मगर एक बात याद रख लो जो भी कुछ उस फ़ोन में कॉन्टेक्ट्स और बाकी की डिटेल हैं, मैंने वो सब कॉपी कर लिए हैं.रीमा- क्यूं?मनन- ऐसी दोस्ती क्यों करते हैं?रीमा- मुझे क्या पता, तुम बताओ तुम्हें करनी है दोस्ती.

वे भाग कर बाथरूम के नजदीक आ गईं और दरवाजे के बाहर से ही बोलीं- आकाश क्या हुआ?मैंने कहा- चाची मैं फिसल कर गिर गया बहुत दर्द हो रहा है. सेक्स नंगा बीएफ इस बार मेरे लंड को बहुत ज़्यादा गर्मी महसूस हुई, मानो जैसे मैंने तपती हुई भट्टी में लंड घुसा दिया हो.

अब उसके लिए कंट्रोल करना काफ़ी मुश्किल हो गया था और वो काफ़ी तेज तेज साँसें लेने लगी थी.

सेक्स नंगा बीएफ?

वो आपको पूरी रात अपने पास रखेगा और फिर आप जानती ही होगी कि क्या करेगा. उसके गाल एकदम मस्त चिकने थे, मैं जब उसको चूमता था तो उसके गालों को काट खाने का मन होता था. फिर उसने नशे में ही उठकर मेरे मुँह में लंड दे दिया, जो पूरा चला गया.

उसे ये पता था कि आख़िर पिंजरे का पंछी कहाँ उड़ कर जाएगा, वो बोली- डार्लिंग, तुम्हें मैं दुनिया की असलियत दिखा रही हूँ. जब उसका पूरा लंड मेरी गांड में घुस गया, तब वो एक मिनट के लिए रुक गया. मैं अपने हाथ से उसके ब्लाउज के ऊपर से ही उसकी मोटी मोटी चुचियों को दबाने लगा.

वो खड़ी होकर मेरे पास आई और बोली- क्या तुम मेरे चूचे नहीं देखते हो? क्या तुम मेरी चाल को देख कर कमेंट्स नहीं करते?अंकिता जी ऐसा नहीं है. तीन-चार मिनट बाद ही मेरा लिंग पूरे का पूरा प्रिया की योनि में आने-जाने लगा. उसकी गांड का छेद बहुत छोटा सा था, उसमें थोड़ा चूत का अमृत चला गया था, साथ ही में छोटे छोटे बाल चिपके हुए थे.

बातों बातों में ममता ने मुझसे मेरी शादी के बारे में पूछा तो मैंने ‘अब तक सोचा नहीं!’ में जवाब दिया।उसने गर्लफ्रेंड के बारे में पूछा तो मैंने उसे नहीं में जवाब दिया तो उसने मजाक में बोल दिया- तो फिर अपनी जवानी कैसे सँभालते हो?मैंने भी हंसते हंसते जवाब दिया- जैसे सब बेचलर सँभालते हैं, वैसे ही!वो हस पड़ी. जब मैं शादी करके आई थी तो वो 15 साल का था, मेरी सास ना होने के कारण उसकी सारी देखभाल मैंने ही की थी और उसने भी मेरा ख्याल बहुत कायदे से रखा था.

वहाँ मुझे दो लड़कियां अन्दर ले कर गईं और उन्होंने कहा कि ऊपर का हिस्सा वो साफ़ कर देंगी और लेग्स की लिए कोई और लड़का करेगा.

मैंने बहुत कोशिश की, इसे हिन्दी में (देवनागरी में लिखने की) जो हो भी गई थी मगर बदक़िस्मती से ना तो सेव हो पाई ना ही उस का मेल हुआ और ना ही डाउनलोड हुई, रिज़ल्ट ये हुआ कि सब डिलीट हो गई.

मैंने धीरे से अपना लंड बाहर निकाला और हाथ से पकड़ कर धीरे से सुपारा मॉम की दोनों जांघ के बीच में लगा कर पीछे से बुर की फांकों के ऊपर लगा दिया. मेरा नाम सद्दाम अंसारी है, मेरी उम्र 21 साल है मैं बी ए सेकंड ईयर का स्टूडेंट हूँ. वो साली गांड को क्या हाथ लगाने देगी, तभी तो अपनी सारी इच्छाओं को तुझसे पूरा करता हूँ भैन की लौड़ी छिनाल ले.

एक दिन जब नया साल शुरू होने को था, उसने कुछ ऐसा किया कि मैं खुद को रोक नहीं पाया और अपने पढ़ाई के रूम से उसके घर की तरफ धीरे से चला गया. मैंने कहा- दर्द कर रहा है क्या?वो बोली- दर्द तो कर रहा है लेकिन उसके हज़ार गुना ज़्यादा मज़ा आ रहा है. विक्की और पिंकी की लड़ाई काफी होती थी और दोनों एक दूसरे से ढंग से बात नहीं करते थे.

मैंने नोटिस किया कि रोशनी पिंकी को साइड में ले जाकर उससे कुछ बात कर रही थी.

वो तो बस कुल्फी के जैसे मेरा लंड चूसे जा रही थी और मैं ‘आह आह… सक सक मी…’ बोले जा रहा था. अपने जन्मदिन पर मेरी बीवी ने अपने आशिक यार को हमारे घर बुलाया हुआ है पार्टी के लिए. कुछ देर बाद चाची ने मुझे उठाया और चाय देकर बोलीं- मैं मार्किट से तुम्हारी दवाई ले आई हूँ.

एक बार और गलती से मैंने एक ऐसे लड़के के साथ सेक्स किया था, जिसका काफी मोटा लंड था और उस दिन जो मेरी गांड फटी थी, मुझे आज तक याद है. तो वो लड़का बोला- कोई नहीं आएगा, बाहर इतनी गर्मी है और बाहर तो जैसे कर्फ्यू लगा है. मैंने कहा- दर्द कर रहा है क्या?वो बोली- दर्द तो कर रहा है लेकिन उसके हज़ार गुना ज़्यादा मज़ा आ रहा है.

रीमा- क्या हुआ?मैं- तेरे चुचे तो वैसे ही टाईट है, आसमान को देखते रहते हैं तो तुझे ब्रा पहनने की क्या जरूरत.

अब मैं तुम्हारी चुदाई करूँगा।उसने बोला- जो करना है जल्दी करो मुझसे सहन नहीं हो रहा। मैं पूरा मज़ा पाना चाहती हूँ।मैंने कहा- जान एक समस्या है?उसने पूछा- क्या?मैंने कहा- चुदाई में तुमको थोड़ा दर्द सहन करना होगा. बहूरानी जी बार बार अपना चेहरा अपनी हथेलियों से छुपाने का जतन करती लेकिन मैंने उसकी एक न चलने दी और अब उसके दोनों स्तन अपने अधिकार में करके अपनी मनमानी करने लगा.

सेक्स नंगा बीएफ थोड़ी देर बाद उसको मज़ा आने लगा और वो अपनी गांड को हिला हिला के मेरे लंड को अन्दर बाहर लेने लगी. उसके बाद रुचिका कालेज चली गई और फिर लगभग एक घन्टे बाद मैं पहुँचा तो रुचिका मुझे देखकर मुस्कराई.

सेक्स नंगा बीएफ तभी उन्होंने अपनी रफ़्तार बढ़ दी और आअह्ह हहह हहहह कर के झड़ने लगी- लव यू शिव… लव यू शिव… बोल कर मेरे ऊपर गिर गयी. उस दिन मैंने भाभी को तीन बार चोदा, जिसमें वो पूरी तरह संतुष्ट हो गई थीं.

मैंने लंड और उसकी गांड का छेद बिल्कुल सही पोज़ीशन में आ जाएं, उसके लिए निशा की कमर के नीचे दो तकिए लगा दिए.

शादी वाला सेक्स

मैंने उनके बेटे को अन्दर बेडरूम में लेटाया और भाभी ने उसकी पट्टी कर दी. मुझे नहीं बताओगी?उसने मेरी आँखों में देखा और मैंने उसकी आँखों में झाँका. माँ हमारे लिए चाय बना रही थी, मैं दीवान पे बैठा था और नेहा दीदी न्यूज पेपर पढ़ रही थी.

भाभी का दूध सा गोरा बदन, भरी हुई चूचियां और उठी हुई गांड नशा सा भर देती थी. बड़े भाई के चले जाने के बाद से हमारे घर में अब मैं और मेरी माँ हम दोनों ही रहते थे. जब मैं उसको घोड़ी बना रहा था, तब मैंने देखा कि हमारी बिस्तर की चादर पर उसकी कुंवारी चूत से निकले खून के लाल दाग हो गए थे.

जब उनके लंड बिल्कुल सख्त हो गए तो उन्होंने खुद ही एक साथ मेरी चूत और गांड में लंड डाल दिया.

अब तक आपने मेरीहिंदी चुदाईकहानी में पढ़ा था कि अशोक और उसका अनाड़ी दोस्त दोनों मिलकर मेरी चुत चुदाई में लगे हुए थे. एक दिन मैं अपनी जीएफ को कुछ अपनी पिक्स सेंड कर रहा था, तो वो ग़लती से भाभी के नंबर पे फॉरवर्ड हो गईं. मैं थोड़ा सा डर गया, पर न जाने क्यों मैंने दीदी के मम्मों से हाथ नहीं हटाया.

मैंने जल्दी से उसे कपड़ों की बाधा दूर की और अपने कपड़े उतार कर मैं नंगा हो गया. खैर मैंने अपने आपको सामान्य करते हुए पूछा- मॉम कहाँ हैं ?वो लड़खड़ाती आवाज़ में बोला- बड़ी मालकिन अभी ही तो कॉलेज के लिए निकल गई हैं. मैंने भी किस करते करते उनके पेट पर किस किया तो वो और ज्यादा मचल गईं.

इस पोजीशन में उनके पूरे लंड भी मेरी चूत और गांड में अन्दर तक जा रहे थे. माँ ने इसी स्थिति में खुद को मेरे ऊपर कर लिया और मेरे होंठों को अपने होंठों में दबा लिया और मेरे होंठों के रस को चूसने लगीं.

मैंने भी उनको दोनों हाथों से पकड़ लिया और दूध पिलाने लगी- पी लीजिये साहब… आप मेरे मस्त मस्त आम पी लो… पर मयूर के पक्ष में बयान देना कि गलती से ऐसा हो गया. विनय ने मुझे बेड पर लिटा दिया और मेरे ऊपर लेट कर मेरे होंठों को अपने होंठों में फंसा लिया. क्यूंकि हम उस रेस्टोरेंट में वापस जा नहीं सकते थे क्यूंकि जिस मैनेजर को वो जानता था, उसकी शिफ्ट आठ बजे तक ही थी.

एक कमलेश सर हैं जो ट्यूशन पढ़ाते हैं, वही बस मुझे टच किए हैं, उनका लन्ड मुंह में लेकर चूसा है मैंने और उन्होंने नीचे मेरी चूत चाटी है। पर अपना लन्ड मेरी चूत में नहीं घुसाया, मतलब डाला नहीं। मैं झूठ नहीं बोल रही… फर्स्ट टाइम आज आप दोनों चोदने वाले हो।मेरे मुंह से सब कुछ अपने आप साफ साफ निकलने लगा.

पहले मैं पोर्न देख देख कर लंड हिलाया करता था और अब उसके बारे में सोच कर हिला लेता था. फिर कुछ देर बाद मैंने अपना हाथ उसके टॉप के गले से अन्दर डाल कर उसकी चूची को पकड़ लिया और मस्ती से दबाने लगा. मुझको फील हुआ कि उसका दर्द बंद हो गया, तब मैंने अपने लंड को धीरे धीरे अन्दर बाहर करना स्टार्ट कर दिया.

आपको और ख़ास तौर से लड़कियों को बताना चाहता हूँ कि मैं बचपन से ही थोड़ा कमीना किस्म का रहा हूँ और सेक्स में काफ़ी इंटरेस्ट लेता रहा हूँ. अचानक मेरे कानों में प्रिया की आवाज़ सुनाई दी…मैंने आप से एक बात करनी है.

ऐसे ही काफी दिन बीत गए और एक दिन रात में बात करते वक़्त मैंने उसे प्रपोज़ कर दिया, जिसमें उसका जवाब न तो हाँ था. उसे चुदाई की जैसे लत है, जब कहो, तब वो चुदने को तैयार रहती है बिल्कुल वैसे ही जैसे रिचा!आपको मेरी सेक्सी हिंदी स्टोरी कैसी लगी प्लीज़ मुझे मेल कीजिएगा. कुछ सेकेण्ड के बाद ही एक अजीब से तीव्र अहसास के बाद मेरे लिंग से कुछ निकला जो कि मेरा पहली बार था.

एक्स एक्स एक्स वीडियोxxx

मैंने कहा- मैं कुछ समझा नहीं?वो बोली- तुमको मुझे यानि मेरी कामवासना को संतुष्ट करना है, मेरे साथ सेक्स करना है.

तभी चिंटू ने परीक्षित से कहा- मुझे भी तो इसकी गांड का मजा लेने दो, तुम अकेले ही इसकी गांड का मजा ले रहे हो. इतने में माँ को मेरी मौसी का फ़ोन आ गया कि मौसाजी की तबियत अचानक खराब हो गई थी. अगले दिन कॉलेज में वो जब भी खाली टाइम होता था… मेरे साथ ही रहने लगा था.

उसे पता था क्या करना है, उसने एक हाथ से मेरे लंड को पकड़ के अपने चूत के मुँह पर रख दिया और आँखों से इशारा किया. क्योंकि मेरे ससुर बाहर जॉब करते हैं और मुश्किल से महीने में एक बार ही आते होंगे. bfxx2 बीएफतीनों बार मैंने उसकी चुत को ही चोदा, मेरा मन तो था उसकी गांड मारने का, लेकिन मैंने पहली ही रात ऐसा करना सही नहीं समझा क्योंकि अब हम दोनों को साथ में रहना था और उसकी गांड तो मैं बाद में कभी भी मार लूँगा.

मैंने कहा- क्या आज बिजली गिराने का इरादा है?वो इठला कर बोली- सब आपके लिए है जीजू. अब वो मुझे पेट में किस करने लगा, धीरे धीरे ऊपर बढ़ने लगा और पूरी बॉडी में चुम्मी करने लगा.

करीब 5 मिनट में वो फिर से तैयार हो गयी, बोली- अब अपना लंड मेरी चूत में डाल दो, अब बर्दाश्त नहीं हो रहा, जल्दी से करो प्लीज!मैंने तकिया उठाया और उनकी गांड के नीचे लगाया और अपना लंड उनकी चूत पे रगड़ने लगा, वो आंखें बंद किये मजे ले रही थी. उस वक़्त मेरा लंड अंडरवियर में पूरा टाइट था और मुझे थोड़ा नशा भी था. मैंने उसकी चूत के छेद पर लंड रख कर धक्का दिया तो लंड का टोपा अन्दर चला गया.

आंटी लंड चूसते हुए मेरी गोटियों को भी सहला रही थीं, जिससे मुझे आंटी की चुत चुदाई की मचने लगी. भाभी बोलीं- फिर भी साथ में हो?मैंने बोला कि हां जीएफ ने बोला, जब तक साथ रह सकते हैं… रहते हैं. लगभग 10 मिनट बाद मेरे पास कोई मर्द आया और आवाज़ की- हूँ…मैंने ऊपर देखा तो वही मर्द मेरे पास खड़ा था… मेरे देखने पर वह धीरे से बोला- चल कहाँ चलना है?मेरी तो मानो लाटरी लग गयी थी उसकी बात सुनकर…जब मैंने उसके लंड के उभार को देखा तो वहाँ लंबा सा कड़क खीरे जैसा लंड उसकी सिली हुई पेंट में से साफ़ दिखाई दे रहा था.

ऐसा तीन चार बार करने से ही उनका पानी निकल गया और वह झड़ गईं, पर मेरा पानी निकलना जरूरी था.

दोस्तो, मैं आपसे एक बात बोलना चाहता हूँ कि रुचिका चौधरी सच में बहुत बड़ीचुदक्कड़ टाइप की लड़कीथी. काव्या जागी तो खुद को नंगी देख कर वो एकदम से थोड़ा शर्मा सी गयी लेकिन मैंने उसे अपनी बांहों में जकड़ लिया और चूमना चाटना शुरू कर दिया.

सबसे पहले हम रूम पर पहुंचे जो चिंटू के ही दोस्त का था और जहाँ मैं पहले भी बहुत बार आई हूँ और चुदी भी हूँ. मुझे तो कोई चिंता थी ही नहीं क्योंकि मेरे घर पर कोई नहीं था, पर मंदिर के कार्यक्रम की वजह से काम्या को भी बाहर जाने का बहाना मिल गया था. मैंने कहा- आप भी किस घनचक्कर के चक्कर में फंस गए, उसका काम ही है कि शिकायत करके कुछ रकम वसूलना.

एक दिन मैंने डॉक्टर से बात की कि क्या इसका कोई इलाज़ है?उसने कहा- हां है. विनय- नेहा, मेरे लंड को देखोगी, जो पूरी रात तुम्हारी याद में रोता रहा है?मैं उठ कर बैठ गई और विनय की चड्डी के ऊपर से ही उसके लंड को सहलाने लगी. फिर मेरे लंड का काम होने वाला था… तो मैं उसकी चुत के अन्दर ही झड़ गया.

सेक्स नंगा बीएफ घर पर दीदी की सैंडिल वगैरह तो होती ही थीं, जो मुझे बिल्कुल फिट आ जाती थीं, तो मैं वही पहन लेता था और एकदम लड़की बन कर घर में घूमने लगता. मैंने उससे उसके पति के बारे में पूछा तो उसने बताया कि वो जॉब के लिए दिल्ली रहते हैं और कभी कभी आते हैं। उन दोनों के बीच जमती नहीं तो ममता ने औरंगाबाद में ही रहना पसंद किया।खाना खाने के बाद हम दोनों गप्पे मारने बैठ गए। मुझे भी समय का पता नहीं चला, काफी देर हो गयी तो उसने मुझे उसके घर ही रुकने को कहा। मैंने भी उसकी यह बात मान ली.

हिंदी क्सक्सक्स वीडियो कॉम

अब मेरा लंड पूरा अन्दर तक जा रहा था और वो भी अब कमर उठा उठा कर मेरा भरपूर साथ दे रही थी. लेकिन बर्थ छोटी थी, जिस वजह से परीक्षित को थोड़ी सी समस्या हो रही थी. मेरा माल भी आने को था, तो मैंने उसकी चूत से लंड निकाल कर उसके मुँह में डाल दिया और उसी के मुँह में झड़ गया.

मुझे आज भी याद है उसने सबसे पहली फ़ोटो लाल ब्रा में भेजी थी, जिसमें वो बहुत सेक्सी लग रही थी. मैंने उसको अन्दर बुला लिया था क्योंकि पूरा दिन शॉपिंग की वजह से हम दोनों काफी थक गए थे. चुदाई का बीएफ हिंदी मेंमैंने बचने के लिए उससे कहा कि मुझे वो ऊपर नजर नहीं आया इसलिए जरा सा नीचे की तरफ देख रहा था.

मेरा दिल भर आया, जैसे ही मैंने उसे खींच कर अपने गले से लगाया तो मानो कोई बाँध ही टूट गया.

कपड़ों के ऊपर से ही प्रिया की उतप्त योनि का ताप मेरे कठोर लिंग को जैसे जलाने पर आमादा था. मगर तभी उसका लंड खड़ा हो गया और बिना टाइम खराब किए उसने मेरी चुत में लंड घुसेड़ कर कहा- अब सोना नहीं, चुदना है.

कुछ देर में इसी तरह एक दूसरे को रगड़ सुख देते हुए हम लोग नदी किनारे पहुंच गए. तो उस लड़की को मैं ना बुलाऊं ना?यह सुन कर उसका मुँह देखने लायक बन गया, वो बोला- जब तक शादी नहीं हो जाती, तब तक तो मुझे जो चाहूं करने दो ना. वो लगभग नौ बजे रात में घर पहुंची और बोली- आज बहुत देर हो गई… सॉरी राहुल, चलो बाहर ही खाना खा लेते हैं, मैं बहुत थकी हूँ.

मैं विनय की बातों से उत्तेजित होने लगी और मैंने देखा विनय का लंड भी वासना से खड़ा हो गया है.

जैसे ही मैंने ये जाना कि अब मुझे चूमना छोड़ देना चाहिए और बाकी चीजों पर ध्यान देना चाहिए, तो मैंने उसके होंठों से धीरे धीरे चूमते हुए कान की ओर अपना रुख मोड़ लिया. मैंने अपना एड्रेस बता दिया, अपने गांव का नाम मेरे पापा, मम्मी का नाम है अपनी एडयुकेशन सब बता दिया, और यह बताया कि जो आपके किरायेदार हैं और अभी मेरे साथ रहे हैं वो मेरे जीजा के सगे भाई हैं. लास्ट बार तो उसने मेरी दोनों टांगें चौड़ी करके बेड से बांध दीं और मेरे हाथों को भी उसी तरह से बांध दिया.

बीएफ भेज वीडियोमैंने उसको अगले 5 मिनट तक अपना लंड चुसवाया और फिर मैंने उसको डॉगी स्टाइल में करके पीछे से उसकी चुत पे अपना लंड रख कर एक जोर का धक्का दे मारा. फिर मैंने सोचा कि पार्क में तो वो आती ही होगी तो जान पहचान तो कर ही लेंगे, आज नहीं तो कल सही.

सेक्सी एचडी वीडियो ब्लू

”लेकिन यक़ीनन तेरी शादी से पहले!”देखेंगे!!” प्रिया के हाव भाव में फिर से शरारत लौट आयी. मैंने अपनी बेल्ट खोली और पैन्ट को थोड़ा नीचे किया और अंजलि को थोड़ा नीचे करके लन्ड उसके मुँह में दे दिया; अंजलि मेरा लन्ड जोर जोर से चूसने लगी. मैंने देर न करते हुए उसकी चूचियों के निप्पल पर अपनी जीभ सहलाना शुरू कर दी.

ये थी मेरी स्टोरी, उम्मीद है दोस्तो कि ये मेरी रियल सेक्स स्टोरी आपको काफ़ी पसंद आई होगी. रमेश अंकल और उनके दोस्त भी मां के पास बैठ गए और फिर रमेश अंकल मां को चुंबन करने लगे. फिर मैंने उसकी बुर में जो घमासान युद्ध शुरू किया तो वो निहाल हो गई.

”ठीक है भैया मैं कल से टी-शर्ट और जीन्स ही पहना करूंगी, वैसे भी मेरी मम्मी को कोई ऐतराज नहीं है. रमेश अंकल और उनके दोस्त भी मां के पास बैठ गए और फिर रमेश अंकल मां को चुंबन करने लगे. मेरे हाथों ने भी माँ को जकड़ लिया और मेरे हाथ उनकी कमर से नीचे सरकते हुए उनके चूतड़ों पर टिक गए.

अंकल बोले- तू रंडी है और एकदम से पागल हो गई है वन्द्या। तुझसे चुदासी लड़की मैंने देखी नहीं!करीब 5 से 7 मिनट मैं अंकल का लौड़ा चूसती रही।तभी सुरेंद्र जीजा मेरे पीछे मेरे कूल्हों को फैला कर अपना बहुत सारा थूक मेरी गान्ड में लगा कर बोले- आज वन्द्या तेरी मस्त गांड मै चोदूंगा, और अंकल आप वन्द्या की चूत में अपना लन्ड घुसा दीजिए. अगले एक मिनट में मैं थोड़ा पीछे हट गया जिससे मेरे और मेरे छोटे भाई के बीच में काफ़ी जगह बन गई.

लगभग सुबह छह बजे मैंने पूछा- अब बोलिए सर, क्या करना है?वो बोला- अब आप यहाँ से निकल जाइए, मैं आज ही जाकर तुम्हारे भाई का केस रफादफा कर दूँगा.

फिर ऐसे ही कुछ महीने बीत गए, महीने क्या पूरी गर्मी का मौसम निकल गया और फिर सर्दियाँ शुरू हो गईं. मौसी की बीएफ मूवीमैंने धीरे से दीदी के सूट के अन्दर हाथ डाला और उनके मम्मों को दबाना शुरू कर दिया. आंटी की बीएफ पिक्चरपर तभी मुझे ख्याल आया कि इसमें क्या गलत है, हर एक इन्सान को जिस्म की भूख तो मिटानी ही पड़ती है. पर जैसे ही ये सोचा कि मुझे बाहर जाना है, ये सोच कर मेरी हालत खराब हो गई.

उन्होंने मेरे होंठों की तरफ दूर से अपने होंठ चुम्बन की मुद्रा में बनाए और कहा- क्या दिखाऊं?मैंने भी होंठों गोल करके कहा- ऊंहा.

बरहराल… दीदी चलकर किचन काउंटर के पास आकर खड़ी हो गईं और फोन पे बात करे जा रही थीं. वो मेरी आँखों में वासना से देखते हुए बोलीं- कैसे? कोई जादू है क्या?मैं गरम होकर बोला- वैसा ही कुछ है. मैंने जानबूझ कर पूछा- मां कहां जा रहीं हो?मां कोई दवा खाते हुए कहने लगीं- स्कूल का जरूरी काम है… मुझे जाना है और कुछ टाइम लग सकता है.

इस बार मैं उसे देखता हुआ पकड़ा गया, तो मैंने एक छोटी सी मुस्कान दे दी. मैंने भाभी को पूरा भरोसा दिलाया कि भाभी मैं आपको माँ बना कर ही छोडूंगा. देख जैसे मैं नंगी होती हूँ उसी तरह से नंगी हो जा और मैं भी देखती हूँ तू कैसे होती है.

सेक्सी ब्लू फिल्म गुजराती

उसी नशे में मैंने लंड सेजल भाभी की चूत के छेद पे रख के एक ज़ोरदार धक्का दे मारा. उसके होंठों पे अपने होंठों को रख दिए और 5 मिनट तक उसे गेट पर ही जबरदस्त किस किया. अब अर्पिता तो जल बिन मछली की भान्ति तड़प रही थी, उसकी साँसें तेज़ होने लगी और उसके साथ साथ उसके सीने पर तैनात दूध के तो बड़े बड़े गुब्बारे गुब्बारे भी हिल रहे थे.

मैं छत पे सोया हुआ था, तभी उसका कॉल आया- क्या कर रहे हो?मैं- छत पर हूँ, तुम्हें सोचने के सिवा कोई काम ही नहीं है.

वो मेरी टांगों पर बैठ गया और मेरे नंगे कूल्हों को अपने दोनों हाथों से सहलाने लगा, मसलने लगा.

भैया ने कहा- यार मनन, एक बात सच्ची बताओ, तुम इतने फिट हो तुम्हारी तो काफी गर्ल फ्रेंड्स होंगी और तुम सही में मज़े लेते होंगे. अंत में जज से कहा कि कानूनगो साहब अगर मयूर के पक्ष में बयान दे देंगे, तो उसकी नौकरी बच जाएगी. नेपाली बीएफ चोदा चोदी वीडियोहालांकि मुझे उनकी गांड तो दिख ही गई और मुड़ते हुए मैंने उनकी जंगली बालों वाली अद्भुत चूत भी देख ली.

मेरा 8 इन्च का लंड उसके अन्दर एकदम से घुस जाने‌ से उसे थोड़ा दर्द और तकलीफ हुई, वो बोल पड़ी- उहा आह हाय… धीरे धीरे!लेकिन उसे और मुझे आनन्द भी बहुत आया. मैं तड़पने लगी- जान… ऐसे क्यों पी रहे हो… रुको, तुमको असली मजा देती हूँ. तभी मुझे लगा कि दीदी जाग रही हैं और अपनी चुत को जोर जोर से सहला रही हैं.

तभी मैंने परीक्षित को मेरी तरफ खींचकर उन्हें किस करने लगी और चिंटू से मेरी चूत को चटवाने लगी. वो गुस्से से पगला गईं और चिल्लाईं- बंद क्यों किया चूसना?मैंने कोई जबाव नहीं दिया तो वो मेरे ऊपर बैठ गईं और मेरे जिस्म को अपने बड़े नाखूनों से नोंचने लगीं.

भाभी की सांसें एकदम बुलेट ट्रेन की तरह हो गई थीं, वो हिलने लगीं और चिल्लाने लगीं.

पर वो गाड़ी मेरे घर की तरफ जब जाने लगी तो मैं जल्दी से शर्ट कट से घर पहुंच गया. मैंने उसको व्हिस्की का पैग दिया उसने एक ही सांस में पूरा गिलास खाली कर दिया. मैं पहली बार ऐसी खूबसूरत शर्मीली औरत के साथ संभोगरत होने जा रहा था इसलिए मेरी उत्सुकता कुछ ज्यादा ही बढ़ती जा रही थी.

सेक्सी मराठी बीएफ सेक्सी फिर आखिरकार वो दिन भी आ ही गया, जब उसके घर वाले एक शादी में शामिल होने के लिए मुम्बई गए और उसके एक दिन पहले उसकी कॉल आई. उसके बाद 5 मिनट तक मैं मामी की चुदाई करता रहा और थोड़ी देर में भी उनकी चूत में झड़ गया।इसके बाद हम दोनों वैसे ही पड़े रहे, फिर थोड़ी देर बाद फिर से चुदाई चालू कर दी।उस रात को हमने 2 बार चुदाई की।दोस्तो, कैसी लगी मेरीमामी की चूत चुदाईकी स्टोरी… प्लीज़ मुझे जरूर बताना।लेखक के आग्रह पर इमेल आईडी नहीं दिया जा रहा है.

ये मेरी फर्स्ट सेक्स स्टोरी है, उम्मीद करता हूँ कि आप सबको बहुत पसंद आएगी. पर उसका लंड बार बार मेरी चूत से फिसल रहा था, तो फिर मैंने ही उसके लंड को पकड़कर मेरी चूत में डाला और फिर धीरे धीरे पूरे लंड को अपनी चूत के अन्दर तक डाल लिया. मैं- आपके उनकी साइज़ क्या हैं?माँ ने खुलते हुए कहा- मेरे चूचे 36डी साइज़ के हैं और नीचे 32 व 35 इंच की नाप है.

ब्लू सेक्सी पिक्चर भेजो

लेकिन यह भी सच है कि मेरी जवानी की मांग है कि मुझे भी सेक्स करना है, सेक्स का मजा लेना है. भाभी पूरी नंगी हो गईं और कहने लगीं- घर पर कंडोम नहीं है, आज सिर्फ गांड की चुदाई कर ले, चूत नहीं दूंगी. हम दोनों ने ही आज परम सुख को प्राप्त किया था और वो हम दोनों के चेहरे से साफ़ दिख रहा था.

मैंने उसकी बुर और अपने लंड को साफ किया और अब उसे डॉगी स्टाइल में खड़ा कर दिया. आह… आऽऽह…संजना बार-बार दरवाजे की तरफ देख रही थी; आखिरकार बोल पड़ी- बाहर कोई…सुरेश को जैसे होश आया, वह उठा और दरवाजा खोल कर बाहर निकल कर देखने लगा।कहानी जारी रहेगी.

मैंने अपने दोनों हाथों से एक एक चुची को पकड़ कर दबाया और मुझे बहुत मजा आया.

वे लोग पति पत्नी ही थे, साथ में उन आंटी का कोई भतीजा भी कुछ दिनों के लिए रहने आया था. पिंकी जाओ बाथरूम में क्लीन करके आओ और अपने एसहोल से रुई भी निकाल लेना. तत्काल मेरा दायाँ हाथ प्रिया के बाएं कंधे पर से गर्दिश करते-करते नीचे की ओर अग्रसर हुआ, कोहनी और कलाई से होते हुये अंदर पेट की ओर मुड़ गया.

दीदी- यार तेरा प्रमोशन हो गया, तूने बताया भी नहीं… प्रमोशन की तो ग्रैंड पार्टी लगेगी बॉस. नदी के नजदीक आते ही उसने सीधा ही मुझे आदेश दिया- चलो जल्दी से अपने कपड़े उतार दो. दूर क्यों खड़ी हो?उसने जबरदस्ती मुझे एक गिलास दे दिया और मुँह में लगा कर पिला दिया.

जिसमें से ब्रा मैंने निकाल दी और उनके बोबों को किसी छोटे बच्चों की तरह चूसने और दबाने लगा.

सेक्स नंगा बीएफ: [emailprotected]इस सेक्स स्टोरी हिंदी का अगला भाग :मुझे किस किस ने चोदा-3. प्रिया की आँखें बदस्तूर बंद थी लेकिन प्रिया स्वार्गिक-आनन्द के इन पलों के एक-एक क्षण का मज़ा ले रही थी.

वो मेरे लिए खाना लाया, मेरी इच्छा नहीं थी तो उसने अपने हाथों से थोड़ा खिलाया. क्यों नहीं!लेकिन अंदर ही अंदर मुझे शर्म आ रही थी, मैं हिचकिचा रहा था कि तभी स्वाति बोली- फिर इसे बाहर निकालो और इसे खुले में लाकर मुझे दिखाओ। मैं आपकी पत्नी हूँ आज की रात… आपके लंड पे मेरा पूरा हक़ बनता है. उसने दूसरी बार झड़ने के बाद दो पैग दारू के लगा कर तीसरी बार भी मुझे पेला.

अन्तर्वासना पर हिंदी सेक्स स्टोरीज पढ़ने वाले मेरे प्यारे दोस्तो, मेरा नाम एडी है, मैं 23 साल का हूँ.

पर क्या करोगे पेंटी का?विनय- रोज तुम्हारी पेंटी को सूँघ कर अपने लंड को शांत कर लिया करूंगा. बहुत माथा पच्ची करने के बाद ये हल निकाला कि एक रूम में मम्मी, सोनी मैं और मेरा छोटा भाई सो जाएँगे और दूसरे रूम में मामा मामी और उनके दोनों बच्चे सो जाएंगे. कुछ दिन बाद उसका अपने भतीजे के साथ घर जाने का प्रोग्राम बन गया और वो एक महीने के लिए अपने घर चली गई.