बीएफ आवाज के साथ

छवि स्रोत,बीएफ वीडियो हिंदी भाषा

तस्वीर का शीर्षक ,

नंगी पुंगी सेक्सी बीपी: बीएफ आवाज के साथ, ट्रेन में भीड़ अधिक होने के कारण हम दोनों एक साथ थोड़ी सी जगह में जगह बैठे थे और दोनों एक दूसरे से सटे हुए थे.

एचडी में हिंदी बीएफ फिल्म

तू बस दिल में सोच ले कि तू किसी जवान लड़की की चुत चोद रहा है और मैं तेरी मुठ मार देती हूँ. हिंदी पिक्चर बीएफमैंने धीरे से पूछा- प्रसाद में क्या देना होगा?एक ने कहा- हम हर रोज खीर बनाते हैं.

अपना जवाब जरूर लिखना।मुझे कमेंट्स में लिखें या फिर अपने मैसेज मेरे ईमेल पर मैसेज कर दें। मुझे आप लोगों की प्रतिक्रियाओं इंतजार रहेगा।मेरा ईमेल आईडी है[emailprotected]. पंजाबी सेक्सी वीडियो चोदने वालीइस सेक्स कहानी में मैंने एक पंजाबी विधवा भाभी को चुदाई का पूरा पूरा आनन्द दिया.

मैंने मौके का फायदा उठाया और भाभी के पास गया और पूछा- भाभी, आप इतने गुस्से में क्यों हो?तो उन्होंने मुझे कुछ नहीं बताया.बीएफ आवाज के साथ: मैं बोला- तेरी बुर मेरा ये नाग जैसा लौड़ा सह लेगी!वो मेरे बाल खींच कर बोली- मैं मर भी जाऊं … तो भी मुझे तू इतनी बार ही चोदना.

कुछ ही देर में मेरा लंड बुआ के सामने था और वो उसको अपने हाथ में लेकर बहुत खुश नज़र आ रही थीं.मैंने बाजार में दो घंटे किसी तरह निकाले और 10:00 बजे वापस उसको कॉल किया.

कॉलेज गर्ल बीपी वीडियो - बीएफ आवाज के साथ

कुछ देर लेटने के बाद ही मेरी आंख लग गई और सीधे सुबह के 7:00 बजे मेरी आंख खुली.मैं आगे बढ़ कर भाभी के एक मम्मे के निप्पल को अपने होंठों के बीच दबाया और चूसने लगा.

मैंने जब कुछ नहीं कहा, तो उधर से फिर से आवाज़ आई कि डर गया क्या?अब मैंने धीरे से कहा- आप कौन?उधर से आवाज़ आई- मैं ट्रेन वाला टीटीई … याद आया?मुझे अचानक एक धक्का सा लगा कि इतने समय बाद ये फिर से कैसे!मैंने थोड़ा सहज होकर उससे हैलो किया और हाल-चाल पूछा. बीएफ आवाज के साथ शायद काफी टाइम बाद लंड मिलने की वजह से मेरी चुत इतना पानी छोड़ रही थी.

अभय अपना एक हाथ सरका कर ममता की सलवार के ऊपर से ठीक चूत पर रख दिया.

बीएफ आवाज के साथ?

मैं आह आह करती हुई उसके कुंवारे लंड से अपनी चुत चुदाई का मज़ा लेती हुई बोली- तो बहुत किस्मत वाला है अफ़रोज़. हालांकि मैं नहा चुका था, पर फ़िर भी उन दोनों की बातें सुनने के लिए अन्दर ही रुका रहा. फिर 9:00 बजे से पहले ही मेरी पड़ोसन भाभी भी तैयार होकर मेरे घर पर आ गईं.

सच बात तो यह है दोस्तो … कि हम दोनों बारहवीं कक्षा से लेकर आज तक एक दूसरे से बेइंतेहा प्यार करते आए हैं. गिलास और केतली टेबल पर रखकर सर ने कमरे का दरवाजा बोल्ट कर दिया, मुझे थोड़ा सा अजीब तो लगा लेकिन कुछ खास नहीं. दो दिन तो ऐसे ही चला, फिर मां ने मुझसे कहा- बेटा, मेरा महीना अब आने वाला है, तो हम कुछ दिन चुदाई नहीं कर पाएंगे.

कचरा निकालते समय झुकने से मेरे यौवन उभारों का सीन बड़ा दिलकश नजर आता था. उसे अब अपने पति के समय न देने की कमी से कोई गिला शिकवा नहीं रह गया था. इन आवाजों से निखिल ने मस्त होते हुए उसे और मस्ती से चूसना शुरू कर दिया.

ताला खोलकर जैसे ही हम घर के अन्दर घुसे, मैंने तुरंत सलोनी को पकड़ कर अपनी बांहों में खींच लिया और उसके मुलायम होंठों पर जोर जोर से किस करने लगा. उधर पार्क में भी बहुत सारे लोग थे इसलिए हम चुदाई की बात ही नहीं कर पाए.

जैसे ही यामिना मेरे पास आई मैंने उसके चूतड़ों पर हाथ फिराते हुए आगे से उसकी स्कर्ट के अंदर से उसकी उभरी हुई चूत को दबा दिया.

चाची ने मेरे बदन को जकड़ लिया और मेरे होंठों को चूमते हुए बोलीं- प्लीज सोहेल चुदाई शुरू करो.

कुछ देर बाद फिर से चुदाई शुरू हो गई और सारी रात फार्म हाउस में सुम्मी ने हरीश के लौड़े से अपनी चुत की आग बुझवाई. मेरा नाम शिबू (बदला हुआ नाम) मैं जयपुर से हूँ।लगभग 6 महीने पहले मेरी फेसबुक पर एक 45 साल की महिला से दोस्ती हुई जिसका नाम नियाशा (बदला हुआ नाम)नियाशा है तो जयपुर से … पर मुम्बई में रहती है। नियाशा का फिगर 34-32-38 है और मस्त गोरी चिट्टी पटाखा माल है. बारहवीं में बोर्ड के एग्जाम का डर इतना ज्यादा था कि अभी महीने बचे होने के बावजूद घबराहट होती थी.

लेकिन मेरा लंड आगे नहीं जा पा रहा था; ऐसा लग रहा था कि उसे कोई चीज रोक रही थी।मैंने नीतू से अपनी गांड ढीली करने को कहा तो उसने कहा कि उसे नहीं पता कैसे ढीली की जाती है, जो भी करना है, खुद करो।मैं उसके दोनों चूतड़ों पर जोर-जोर से झापड़ लगाने लगा। मेरा हर झापड़ उसके चूतड़ों पर मेरी उँगलियों की छाप छोड़ देता।मैं झापड़ लगता तो वो दर्द से कलप जाती लेकिन साथ ही साथ और जोर से मारने को कहती. मैं धीरे धीरे भाभी के पास आ गया और उन्हें बिस्तर से उठा कर खड़ा करके अपने सीने से लगा लिया और उनके होंठों पर अपने होंठ मिला कर चूमने चूसने लगा. यदि तुम दोनों अपनी अम्मी के साथ मेरे लंड से चुदना पसंद करो तो ठीक है, नहीं तो मैं आज से इस घर में आना छोड़ दूंगा.

मैं उसको सहलाते हुए, प्यार करते-करते उसको सुख देने की कोशिश कर रहा था.

दरवाजे के बाजू की खिड़की थोड़ी सी खुली थी तो मैंने वहां से देखा कि मेरा दोस्त रमेश मेरी दीदी का फोटो शूट कर रहा था. भाभी- वाह आरुष, तुम सच में असली मर्द हो, अभी तक 3 घंटे में तुमने बिना चोदे मुझे 2 बार झाड़ दिया. मैंने सामने से उससे पूछा- मूसलों से क्या डरना … इस बात को जरा तफसील से बताओ!वो समझ गई कि मैं क्या कहना चाह रहा हूँ.

उधर उर्वशी भी कभी अपने मम्मों पर हाथ फिराती, तो कभी मेरे सीने पर मम्मे रगड़ने लगती. तभी उन्होंने मेरे लंड पर हाथ रख कर उसे टटोला तो मेरा लंड कड़क हो गया और भाभी को लंड के आकार का पता चल गया. जब मेरे कंधे पर सर रखकर सो रही थी तो उसका गोरे गाल बिल्कुल मेरे करीब थे।मेरा मन हुआ कि मैं अभी इनके गालों को चूम लूं … पर हिम्मत नहीं कर पाया.

इस तरह मौसी के सामने मैंने राज खोला और उन्होंने मुझे फिटकरी से चूत की सिकाई करने को कहा.

कुछ देर बाद उसकी चुत में भी पानी आने लगा और वो भी चुदने का मजा लेने लगी. बड़ा ही सेक्सी पल था वो!मैंने एक ही झटके में उसको पकड़ कर अपने ऊपर खींचा और उसके पिंक होंठों को चूसने लगा.

बीएफ आवाज के साथ दीदी जब लेट गईं, तब उनकी दोनों चूचियां एकदम कड़क हो चुकी थीं और लेटने पर भी ऊपर की तरफ तनी हुई खड़ी थीं. आपा मैं तो यह भी सोच रहा हूँ कि यह कैसे चुदाई हुई कि मैंने आपको पूरी तरह से चोद लिया … लेकिन आपकी चुत देखी भी नहीं.

बीएफ आवाज के साथ थोड़ी ही देर में आंटी के मुँह से कामुक आवाजें निकलने लगीं लेकिन वो अभी भी सोने का नाटक कर रही थीं. वो मचलने लगी और कुछ ही सेकंड बाद उसकी टांगें एक दूसरे की विपरीत दिशा में खुलती हुई हवा में फैल गईं, चुत को अपनी गांड का सहारा देकर ऊपर को उठाने लगी.

उसने कहा- आप तो इतने अच्छे दिखते हैं … फिर भी कोई नहीं है?मैं बस हल्का सा मुस्कुरा दिया और खाना खाने लगा.

बीएफ ब्लू वाली

सुबह मैच होना था, रात को हमारे कोच अमन सर मेरे कमरे में आये, मेरा हाल चाल पूछा, मेरा मस्तक और कलाई पकड़कर मेरा तापमान देखा और बोले- तुम्हें बुखार तो नहीं है. अभय ने ममता के मुँह से इतनी खुली बात सुनी, तो वो भी खुल गया- ममता मैं तुझसे एक बात पूछूँ?ममता- हां बोलो. वो लड़का मेरे बदन पर धीरे-धीरे किस करते हुए मेरी नाभि तक चला गया; मेरे सारे जिस्म को चूमने और चाटने लगा.

हमारे बीच प्रेम की बातें होने लगी थीं मगर अब तक हम दोनों ने एक दूसरे के साथ शारीरिक सम्बन्ध नहीं बनाए थे; हालांकि मैं उससे चुदने के लिए मन बना चुकी थी. चाची- और एक बात बता, मेरी ब्रा में भी गिराया था ना तूने!मैं- सॉरी चाची जी. की दूरी पर ही था।काम काफी तेजी से हो रहा था और समय भी बीतता जा रहा था।दो महीने बाद एक दिन मैं मृणालिनी के घर अचानक से पहुंच गया।तब उसके घर पर कोई नहीं था.

बहू सेक्स की कहानी का अगला भाग:मेरी बहू रानी को पुनः भोगने की लालसा- 3.

वो उनको देख दीवाना सा हो गया।कामुक अंदाज में वो बोला- क्या किस्मत है मुकेश भाई जान की!!मुकेश का नाम सुनकर मेरा चेहरा उदास हो गया और मैं जाने लगी. कृपया करके अपने सुझाव मुझे मेल जरूर करें और कोई गलती हुई तो क्षमा करें. अब दोनों एक दूसरे को चोदने लगे।तब मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और तेज़ तेज़ चोदने लगा.

वो थोड़ा सा लंड मुँह के अन्दर लेती और बाहर निकाल कर उसके सुपारे को जीभ से चाट लेती. मैं अब जोश में आ गया और मैंने अपना 7 इंची लंड उसकी चूत पर टिका दिया. जब उन्हें मेरी इस नज़र के बारे में पता चला तो पहले तो वो नज़रअंदाज़ करने लगीं पर बाद में चाची ने अपने पल्लू को पिन लगाना चालू कर दिया.

मैं उसे बार बार रोकने की कोशिश करता … मगर वो और जोर से नौंचने लगती. अगली गलती पर जब उन्होंने मेरी गांड पर हाथ मारा, तो बहुत तेज़ से चट की आवाज़ आयी.

वो बार बार अपने लंड को खुजला रहे थे और मुझे दिखाने की कोशिश कर रहे थे. थोड़ी देर बाद सर ने लंड चाची की गांड से निकालकर कहा- शबनम मादरचोद … आज तेरी गांड मारने में मजा आ गया. बहार के पीछे आकर उसकी डबलरोटी की तरह फूली हुई बुर के लब फैलाकर मैंने अपनी जीभ फेरना शुरू किया, मेरे हाथ बहार के निप्पल्स मरोड़ रहे थे.

विवेक वाली लड़की जोया ने हां में सर हिलाया तो नवीन ने अपना लंड लड़की के मुँह में दे दिया.

उनके जिस्म में कोई हरकत नहीं हुई तो मैंने दीदी के ब्रेस्ट मिल्क को पीना शुरू कर दिया. मैंने सीधी बात करने के लिए कहा- कभी उसकी लेने का मन करता है!अफ़रोज़- आपा आप कैसी बात करती हैं!वह शर्मा गया था तो मैं बोली- इसमें शर्माने की क्या बात है. कुछ देर बाद मैंने अमित को धक्का देकर बिस्तर पर गिरा दिया और उसके ऊपर से चढ़ गई.

जब मूवी का समय होने लगा तो मैंने मां को बोला- मां अब आप ये विधवाओं के जैसे कपड़े नहीं पहनेंगी. ये सोच कर उसका लंड पैंट में खड़ा तो पहले से ही था … अब तो दर्द करने लगा.

वो भी उसे पूरी तरह से पी गईं और जो होंठों पर और लंड पर माल लगा रह गया था, उसे भी पूरी तरह से जीभ से चाट लिया. वो वासना से मेरी आंखों में देखने लगी और उसने मेरे लंड पर हाथ रख दिया. मगर मेरी चूत प्यासी है।अगली कहानी में मैं बताऊंगी कि कैसे मैंने आने बहाने मुकेश से नशे में गुलाब के कमरे का पता लिया और वहाँ गई भी।वहां गुलाब तो नहीं था.

भोजपुरी बीएफ चाहिए भोजपुरी

वो मुझसे 5 साल बड़े हैं। दिखने में हैंडसम और हट्ट कट्टे हैं। टूर एंड ट्रैवल्स कंपनी में मैनेजर हैं और काम के सिलसिले में उनका राजस्थान से बाहर आना जाना लगा रहता है।मेरे ससुराल में मेरे सास ससुर और मेरी एक ननद है लेकिन ननद की शादी मेरे आने से पहले ही हो गई थी इसलिए वो अपने ससुराल में रहती है.

फिर मैं पूछा- आपका कितनी देर तक खड़ा रह सकता है?अंकल बोले- वो तुम चिंता मत करो, मैं दवा ले लूंगा. एक दिन मैंने उससे उसके ब्वॉयफ्रेंड के बारे में पूछा तो उसने मना कर दिया कि कोई नहीं है. मैंने पेटीकोट थोड़ा ढीला बांधा था इसलिए लेटते ही वह नीचे को खिसक गया और मेरे चूतड़ों के बीच की दरार दिखाई देने लगी.

मिशनरी पोजीशन में लंड को रगड़ते हुए मैंने एक ज़ोरदार धक्के के साथ अपना आधा लंड उसकी चूत के अंदर डाल दिया. अभय- ओके … पर क्या तुम जानती हो एक भाई बहन कभी दोस्त नहीं होते?ममता- अगर हम बन जाएं तो?अभय- ठीक है. बीएफ सेक्सी भेजेंमेरी बहन सीधी पर कॉलेज में सबसे ज्यादा होशियार थी, नीता तेज लड़की थी, नीता ने मेरी बहन से दोस्ती की थी क्योंकि वो मेरी बहन की मदद से अपनी पढ़ाई पूरी करना चाहती थी.

बंगालिन भाभी के बाद अब तो सोसाइटी की बहुत सारी भाभियां मुझे दूध पिलाने के लिए बुलाती हैं … और मैं भी भाभी का दूध पीकर उन्हें चोद देता हूँ. जब वो पूरी सीधी हो गईं, तो मैंने देखा कि दीदी की चुत पर झांट का एक भी बाल नहीं था.

मैं ऐसे लंड को चूस नहीं पा रही थीमैंने सागर को बेड पर धकेला और उसके ऊपर आकर लंड चूसने लगी. मैं दादी जी की काली भोसड़ी देख कर समझ गया कि इन्होंने अपनी जवानी में गधे के जैसे मोटे और लम्बे कई लंड अपनी चुत के अन्दर लिए हैं. ममता- बहुत आग लगी है तुझे!नेहा- हां यार, तू तो जानती है मुझे, तेरे साथ ही थोड़े बहुत मजे कर लेती हूँ, वरना घर में तो बस उंगली से काम चलाना पड़ता है.

मोबाइल नंबर भी अनजान था, मैंने पता नहीं क्या सोच कर इग्नोर कर दिया. उसने भी मेरे लंड पर चॉकलेट लगाकर मेरे लंड को चूसा और मेरा पानी एक बार निकाल दिया. वो बोलीं- मुझमें ऐसी भी कौन सी चीज है, जो तुमको पसंद आ गई?मैंने शर्माते हुए कहा- मैंने अभी तक आपके जैसी कोई भी लड़की नहीं देखी.

उसके होंठों पर होंठ रखकर मैंने उसकी चूत पर हाथ फेरा तो उसने मेरा बरमूडा नीचे खिसका दिया.

मेरी शर्तों में ये भी शामिल था कि बड़ी राजकुमारी के बड़े बेटे को राज्य का उत्तराधिकारी बनाया जाएगा. वो साला उन्हें ढकने के बहाने कभी ऊपर से चुचे सहलाता, तो कभी नीचे से.

अदिति ने भी झड़ते हुए मुझे अपनी बांहों में जकड़ लिया और उसकी चूत मेरे लंड को दबा दबा कर सिकुड़ने लगी और वीर्य की एक एक बूंद दुहने लगी. अब कोई मेरी गर्दन पर किस करने लगा, तो कोई मेरे कानों के लटकन को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा. मेरी हॉट गर्लफ्रेंड सेक्स के लिए मचल रही थी तो मैंने भी मीतू की बात मान कर लंड चूत में पेल दिया.

उस समय मैंने उत्तेजना के शिखर पर आते हुए उसकी कमर पर नाखूनों के निशान भी मार दिए. अब उस लड़के ने मेरी मम्मी की जांघ पर हाथ रख दिया और मम्मी की जांघ दबाने सहलाने लगा. उसने भी एक्साईटमेंट में अपनी एक साथ 3 उंगलियां ममता की चूत में घुसा दी.

बीएफ आवाज के साथ उसने मुझे अपने काम के बारे में बताया, वो वहीं हैदराबाद में ही मेरी तरह ही प्रचार का ही काम करती थी. उसने मुझे घर में अंदर आने को कहा।जब मैं गया तो उस वक्त भाभीजी खाना बना रही थी.

वीडियो बीएफ फिल्म सेक्सी

वो जानती थीं कि अगर माप तौल विभाग व पुलिस के लोग आये तो लाख पचास हजार से कम चूना नहीं लगेगा. मेरी उससे नजरें मिलीं, मैंने उसको गुड मॉर्निंग बोला और रोज मेरा पानी भरने के लिए धन्यवाद भी कहा. नीचे चुत में मेरे लंड के धक्के जारी थे और ऊपर मैंने बुआ के होंठों को चूसना शुरू कर दिया था.

मेरी मामी ने मुझे अपने सामने खड़ा कर लिया और मेरे लोवर को नीचे करके मेरा लंड अपने हाथों में ले लिया. मैंने उससे पूछा कि तू कहां है?वो बोला- यार हम सब आगरा आए हुए हैं, बस उर्वशी ही घर पर है. काजल राघवानी के सेक्सी बीएफमेरे पुरुष पाठक समझ सकते हैं कि जब वो गर्म होते होंगे तो प्री-कम आता है।मैं भाई का लंड लेकर आगे पीछे करने लगी.

मैंने भी अपनी बनियान चड्डी हटा दी और बिल्कुल नंगा पलंग पर पापा मम्मी के पास लेट गया.

इस तरह से मैं उसके ऊपर और वो मेरे नीचे रह कर एक दूसरे को पूरी संतुष्टि दे रहे थे. मैंने बोला- हम इस शहर में नहीं रहते हैं … हम दिल्ली से यहां टूर पर आए हैं.

दोस्तो, इस तरह मैंने एक आंटी शन्नो को रात भर चोदा और उसके साथ सुहागरात मनाई. हैलो फ्रेंड्स, मैं विशाल आपको अपनी सगी मां के साथ सेक्स रिश्तों पर आधारित सेक्स कहानी सुना रहा था. पूनम बुआ मुझे पहले ही बता चुकी थीं कि बृज उनको अपना लंड चुसाता है और उनके मुँह में अपना पानी भी डालता है.

कुछ ही मिनट में अभय ने अपने लंड की ढेर सारी गाढ़ी गाढ़ी मलाई अपनी बहन के मुँह में छोड़ दी, जिसे ममता पूरी की पूरी चाट गई.

मुझे बिल्कुल नंगी कर दिया और खुद भी पूरे नंगे हो गए।फिर मैंने उनसे कहा- अपने बेटे की बीवी को यहीं ज़मीन पर पटक कर चोदोगे क्या?तो उन्होंने मुझे गोद में उठाया और अपने कमरे में ले जाकर बेड पर पटक दिया।मेरी नज़र उनके लंड पर पड़ी तो एक बार तो मेरी गांड फट गई। उनका लंड किसी गधे के लंड जैसा लंबा और मोटा था।रंडियों की भी चीखें निकलवा दे ऐसा लंड था उनका।मैंने उनसे कहा- आपका तो बहुत मोटा है. मैंने कहा- पर अंकल मैं अपनी मॉम से कैसे इस हेल्प की बात करूं?अंकल- तू कल इनको मेरे घर पर लेकर आ जा. काफी बार उन कहानियों को पढ़ कर मैंने लंड हिला कर रस टपकाया था और अब भी ये मेरा पसंदीदा शगल है.

पोर्न गर्ल्सघर से बाहर चलते समय मैंने कहा- चलो आज तुम्हें अपने स्कूटर से स्कूल छोड़ देती हूँ. फिर भी मैं कोशिश करूंगी कि इसको एक मस्त सेक्स कहानी का रूप देकर आपको पूरी बात ढंग से बता सकूं.

हिंदी बीएफ वीडियो चुदाई वाला

आज वेदांत सारा दूध पी गया और बाकी दूध की मैंने खीर बनायी, जो अभी तुमने खायी है. कभी कभी गांव में कोई शादी वगैरह में रुकना होता था, तो काम में आ जाता. नौ महीने होते ही मुझे दो लड़के पैदा हुए और बिंदु ने एक लड़की ओर एक लड़के को जन्म दिया.

दीदी की इस तरह की भाषा सुनकर मुझे समझ आ गया था कि वो आज चुदने के पूरे मूड में हैं. दोनों ने एक दूसरे के शरीर पर मेरे वीर्य के एक एक कतरे को चाट चाट कर साफ़ कर दिया।जिस तरह रसोई में रखा गर्म खाना वक्त के साथ ठण्डा हो गया था उसी तरह वासना से जल रहे तीन जिस्म भी ठण्डे हो गये थे. मामी जी भी पूरी मस्त हो चुकी थीं और उन्होंने अपनी टांगों को फिर से उठा कर मेरी कमर पर कस लिया.

उसने पूरे जीभ मेरी चूत में डाली और अपने दोनों मेरी चूत के होंठों से लगा लिए. इसलिए तुझे जितना उछलना है, उछल ले!शायद उसने शिलाजीत या कोई दवाई ली हुई थी और आज वो पहले से मेरी लेने के मूड में आया था. तब उर्वशी ने बताया कि बाथरूम से निकल कर बाहर आ ही रही थी कि मेरा पैर फिसल गया.

अब ये सब बातें मेरी कहानी का विषय तो हैं नहीं तो चलो मुद्दे की बात पर आते हैं. मैंने पूछा- किधर आना है?उसने एक होटल का अड्रेस दिया और बोला- यहां आ जा, फिर देखते हैं कि तुझ जैसे गांडू के लंड में कितना दम है!मैं तय समय पर होटल पहुंच गया और उससे मिला.

सुरजन ने जुबान चूत में घुसा कर ज़ोर ज़ोर से मेरी चूत चूसनी शुरू कर दी.

बस अगर चूचियों को सही रगड़ा जाये तो चुदासी बहुत जल्दी हो जाती है वो।मैं सिसकारते हुए बोली- आह्ह … भाई प्लीज मेरी चूत चूस … आह्ह।वो बोला- जी दीदी।अब वो मेरी चूत को चाटने लगा. સેકસ ભાભીउसने उसी समय मुझे चाय पीने आने के लिए न्यौता देते हुए कहा- यदि आप एक कप चाय पीने मेरे घर आएंगे, तो मुझे ख़ुशी होगी. सेक्सी वीडियो चोदने वाला देसीवहां मैरिज गार्डन के सामने से हमने एक ऑटो रिक्शा लिया और स्टेशन जा पहुंचे. वो मेरे पास आया और मुझे घुमा दिया, अब मेरी पीठ उसकी तरफ थी।उसने मुझे हल्का सा आगे को झुकाया और पीछे से चूत में लंड डाल के अंदर घुसा दिया।मेरी हल्की सी स्सी … निकली.

उसके बाद मैंने मां को कुतिया बना दिया और पीछे से उनकी चूत में लंड पेला कर उनको चोदा.

तू मुझे उसकी चूत दिलवा, रुपये 10000 तेरे!चाची खुश हो गई- अरे वाह साब, इतनी मेहरबानी! लगता है आज मुझे खुद ही आपको अपनी गांड देनी होगी।तोमर साब बोले- हाँ हाँ क्यों नहीं, जब तक तेरी गांड न मार लूँ, साला लगता ही नहीं के किसी रांड को चोदा है।उसके बाद तोमर साब ने चाची को कहा- चल घोड़ी बन!चाची बड़ी खुशी से तोमर साब की तरफ पीठ करके घोड़ी की तरह बन गई. उस महिला का व्यक्तित्व इतना प्रभावशाली था कि मैं कुछ बोल ही नहीं पाया, बस उसे देखता रह गया. भाभी भी दोनों के बीच में पड़ी हुई बहुत तेज तेज कामुक सिसकारियां ले रही थीं.

उन्होंने उसमें से कुछ वीर्य उंगली से उठा कर चाट लिया और कुछ अपने मम्मों पर लगा लिया. मैंने बिना देरी किए अपने लंड पर थूक लगाया और थोड़ा थूक अपनी उंगलियों पर लेकर मां की चूत पर लगाने लगा. मैंने शन्नो के बाल हाथों में पकड़े और उसे तेजी से चोदना शुरू कर दिया.

फुल एचडी बीएफ सनी लियोन की

सुमन के सोने के बाद मां ऊपर मेरे पास आ जातीं और हम दोनों चुदाई करते. मैंने कैसे उसकी चूत मारी और मौका कैसे मिला?माय डियर रीडर्स! मेरा नाम विशाल है. रास्ते में मैंने अपनी हरकतें शुरू कर दीं।ससुर जी जैसे ही ब्रेक लगाते तो मैं अपने बोबे उनकी कमर में गड़ा देती।उत्तेजना के कारण मेरी घुंडियां खड़ी हो गई थी.

कुच्ची- तो मैं तो तुझे रात भर चोद नहीं पाऊंगा, गुड्डू को भी बुला लेता हूं … फिर हम दोनों तुझे रात भर चोदेंगे.

इसके बाद से हम दोनों कई बार संभोग कर चुके हैं … और अब भी करते आ रहे हैं.

उसकी ब्रा के हुक खोलकर चूचिय़ों पर हाथ फेरा तो एकदम कड़क चूचियां और कटीले निप्पल्स. कुछ देर बाद मैंने फिर से शन्नो के बूब्स दबाने शुरू कर दिए और चूसने लगा. हिंदी बीएफ साड़ी मेंवो मेरा लंड मुँह में लेकर चूसने लगी और मेरे लंड का पानी उसके मुँह में निकल गया.

अन्दर की कामुक आवाजों को सुनते ही मेरा हाथ अपने आप लंड पर आ गया और मैं लंड हिलाने लगा. उस काउंटर के सामने दो खिड़कियां थीं, एक ऊपर वाली कुछ कहने के लिए … जिसमें से बाहर से सीधे मेरी छाती दिखेगी … और दूसरी नीचे वाली खिड़की कागज़ और पैसा देने के लिए थी. मामी जी ने मेरी पीठ को सहलाते हुए अपने होंठों को मेरे होंठों से सटाए रखा.

मॉम कसमसा रही थीं- पापा मुझे शर्म आ रही है, आप सबके सामने ये मैं कैसे कर सकती हूँ. मम्मी आशा भरी नजरों से चाची की तरफ देख कर बोलीं- वो कैसे?चाची ने कहा कि एक शर्त पर बताऊंगी?मम्मी ने कहा- मुझे तेरी हर शर्त मंजूर है.

मेरे बचपन के मित्र की बुआ पूनम, सूरत से बहुत खूबसूरत नहीं थीं और बदन से भी बहुत साधारण ही थीं.

ये कहानी मेरी और मेरी मामी सिमरन (नाम बदला हुआ) के बीच हुई चुदाई की कहानी है. ममता एक आंख दबा कर उंगली और अंगूठे से गोल बना कर कह दिया- क्या बात है मां, आज तो बापू गए काम से. मां ने अपने दोनों हाथों को मेरी गांड पर रखे और मुझे जोर से धक्के मारने को बोलने लगीं.

लाल साड़ी में बीएफ मॉम इठलाती हुई बोलीं- नहीं जी, मैं ऐसे सबके सामने कैसे नंगी हो सकती हूँ. करीब एक घंटे तक चली इस गांड और चूत की मिश्रित चुदाई में रुबिका एकदम थक कर चूर हो गयी थी.

यह सुनकर भाभी ने मुझे गले से लगा लिया और मुझे 5 मिनट तक लम्बा किस किया. दो मिनट के लम्बे किस के बाद वो मुझसे अलग हुई और बोली- अवनीश, मैं तुम्हारी ही हूँ, तुमको जो भी करना है, आराम से करो प्लीज़. मेरे होंठों पर राजेश ने अपना मुँह रखा, दोनों हाथों की उंगलियों में अपनी उंगलियां फंसा दीं और मुझे प्यार करते हुए मेरी चूत अपना लंड डाल दिया.

इंडियन बीएफ सेक्सी मूवीस

वो पेटीकोट का नाड़ा खोलने लगीं और मैं अपनी मां का परिपक्व बदन देखे जा रहा था. मैंने पूछा- मुस्कुरा क्यों रही हो!वो बोली- मैंने लंड की लंबाई और मोटाई नाप ली और मुझे आज जन्नत की सैर होगी. आह … क्या महक थी कुंवारी बुर के पानी की!मैंने शीना की और देखा वो बस मुझे देख कर मुस्कुराये जा रही थी।फिर मैंने शीना की गांड के नीचे एक तकिया रखा- शीना, अब मैं तुम्हारी बुर चाटने लगा हूँ, फिर तुम मेरा लन्ड चूसना!शीना- अंकल मैं तो कब से अपनी बुर चटवाने को मरी जा रही हूं, बस आप जल्दी से चाटना शुरू करो.

उसकी मम्मी ने पूछ लिया- क्या हुआ तेरी आवाज में दर्द क्यों है?उसने अपनी मम्मी से कहा- अरे यूं ही जरा फिसल गई थी. आंटी बोलीं- हां यार, एक बार फिर से करो … मुझे भी खुल कर चुदाई का मजा लेना है.

फिर कुछ देर ऐसे करने के बाद मैंने एक और धक्का मारा, जिससे मेरा लंड चूत को चीरते हुए अन्दर चला गया.

उसकी जोर की आहह हह के साथ उसकी चूत ने नमकीन पानी छोड़ दिया जिसे मैंने चाट कर साफ़ कर दिया।अब मैंने कामिनी को उठाया और घोड़ी बना दिया. जब कोई लड़की, भाभी या औरत मेरा लंड चूसती है … तो मैं एकदम से मदहोश हो जाता हूँ, आसमान में उड़ने लगता हूँ, मेरा लंड फूल कर और मोटा हो जाता है. सरसों के तेल की गर्मी और मां की चूत की गर्मी इतनी अधिक थी कि मेरा माल निकलने को हो गया था.

देसी चाची चुत चुदाई स्टोरी में पढ़ें कि मैंने अपनी चाची को मेरे टीचर से चुदती देखा. पर मां आप यही पहना करो, इससे आपका सीना उठा हुआ लगता है, जवान लड़कियों की तरह. उन्होंने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और बोलीं- जल्दी आ जाओ और लंड चुत में पेल दो.

बरखा के साथ दिल्ली में मेरी लाइफ मजे से चल रही थी, खर्चे पानी की कोई परेशानी नहीं थी क्योंकि महीने में एक बार चित्रा आती थी और लाख, दो लाख दे जाती थी.

बीएफ आवाज के साथ: खाने में ही हम दोनों की उत्तेजना काफी बढ़ गई थी, तो जल्दी जल्दी में खाना खत्म किया और उठ कर अलग हुए. उनकी बेटी काफी खूबसूरत हो गयी थी पर अब भी वो मौसी से ज्यादा खूबसूरत नहीं हो सकी थी.

मुझे अपना नम्बर देते हुए मालिक की पत्नी बोलीं- भविष्य में किसी भी पेट्रोल पंप पर कोई दिक्कत हो तो आप मुझे कॉल करियेगा. मैंने जिप खोली और लोलिशा को नीचे घुटनों में दबाकर बिठाया और उसके मुंह में लंड दे दिया. कुछ देर बाद हम दोनों बिस्तर में लेट गए और एक दूसरे के शरीर से खेलने लगे.

वो सिसकारते हुए बोले- हए … रंडी … तेरी अदा पागल कर देगी।मैं सामने से सुन्दर के आंड चूस रही थी कि सुरजन ने चूत तेज़ी से चोदनी शुरू कर दी.

मैंने उनसे साफ़ भाषा में पूछना ठीक समझा- क्या आप मेरी चूत में अपना लौड़ा डालोगे?उन्होंने हां में जवाब दिया. भाभी मुझे सीने पर चाटने लगीं, मेरे दोनों निप्पलों को बारी बारी से चूसने लगीं. इससे वो भी समझ गयी थी कि उसकी मम्मी उसको चुदने का समय देने के लिए बाहर जा रही हैं.