हिंदी बीएफ सेक्स हिंदी

छवि स्रोत,बीएफ मौसी की

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स मारवाड़ी ओपन: हिंदी बीएफ सेक्स हिंदी, कॉलेज की छुट्टियों में दोनों का मिलना जब मुश्किल होता तो पुलकित अक्सर माधुरी के घर आ जाता था और शाम के धुंधलके में किसी बहाने दोनों स्कूटर लेकर चले जाते और सुनसान सड़क या स्थान पर जाकर खूब चूमाचाटी करते और जितना हो सकता एक दूसरे के बदन का मजा लेते थे.

देसी सेक्सी बीएफ मूवी

फिर क्यों पिंकी की गांड मारोगे?अच्छा तू अपनी चूत तक नहीं मारने देती, तू कैसे अपनी गांड देगी मुझे?”राहुल मुझे दर्द होता है, मुझे तुम और कुछ भी कहो, मैं करूँगी. बीएफ फिल्म देखने बीएफआखिरकार मैंने अलमारी से संजय का फेवरेट ब्लैक ड्रेस निकाल कर पहन लिया.

जब डांस की बारी आई तो सर ने बोला- कौन डांस करेगा?मेरे दोस्त ने बोला- सर, आयुष डांस करेगा. आंध्रा बीएफ सेक्सीजब मैंने अन्तर्वासना पर इतनी सारी कहानियाँ पढ़ीं, तो मेरा भी मन किया कि मैं भी कुछ इन सब कहानियों से अनुभव लेकर अपनी कहानी भी लिखूँ.

कभी कभी दोस्तों और रिश्तेदरों के यहां जाना होता तो बहुत तकलीफ होती रही.हिंदी बीएफ सेक्स हिंदी: मैंने लंड उनकी गांड पर लगाया और जोर से एक शॉट मारा, तो आधा लंड उनकी गांड में चला गया और वो चिल्लाने लगीं- प्लीज़ बाहर निकालो प्लीज़.

मैं चाहता हूँ कि आप मुझे मेरी भाभी की चुदाई कहानी के बारे में मेल करें और बताएं कि आपको मेरी कहानी कैसी लगी.क्योंकि मैं नहीं चाहता था कि वो मुझे देखकर शर्मिंदा हो। बस एक प्यार सा नोट छोड़कर और उसमें लिखा था- तुम्हें खाना बनाना नहीं आता।साथियो धन्यवाद.

इंग्लिश बीएफ ब्लू फिल्म वीडियो - हिंदी बीएफ सेक्स हिंदी

भाभी ने अपनी टांगें खोल दी थीं और मेरा सर पकड़ कर मुझे दूध चुसाने लगी थीं.दीदी बहुत अच्छी थी, जब भी मम्मी की तबीयत खराब हो जाती थी तो मम्मी दीदी को बुला लेती थी.

मैंने अब उससे कहा- क्या सोचा है मेरे बारे में? बात सिर्फ आपस में ही रहेगी. हिंदी बीएफ सेक्स हिंदी मैं अन्दर गई और एक एक करके सारी ड्रेस पहन कर देखीं, पर अवी को नहीं दिखाया और बाहर आकर बताया कि जो सबसे पहले अवी ने पसंद की थी, वो और जो मैंने पसंद की थी वो.

और वो थोड़ी देर बाद ही फिर से रेडी हो गया, उसका लंड फिर से उसी तरह अपना सर उठाये खड़ा था पर मैं रेडी नहीं थी। मैं दोबारा चुदाई के लिए मना कर रही थी पर संजना मुझ पर दोबारा चुदाने के लिए जोर डालने लगी तो मैं तैयार हो गयी.

हिंदी बीएफ सेक्स हिंदी?

उनकी दोनों चुचियां और सपाट पेट, गहरी नाभि के साथ पूरा नंगा मेरे सामने था. मैंने कहा कि ये क्या कर रही हो?तो बोलीं- तुम इसे ज़ोर से सहलाओ मुझे बहुत अच्छा लगेगा. तुम्हें किसी ने रोका है क्या? और मुझे गांव के अन्दर से होकर ले चलना ताकि मैं सभी लोगों से मिल सकूँ.

लेकिन अगले ही पल ये ख्याल आया कि अगर मैंने कुछ कहा तो वो मेरी आवाज से मुझे पहचान लेगी फिर लज्जावश वो जिंदगी भर मेरे सामने नहीं आ पाएगी या कोई आत्मघाती कदम उठा ले जिसका मुझे जीवन भर पछतावा रहे… नहीं… चुप रहना ही उचित है. हाय दोस्तो!आप सबको मेरा यानि राजेश (बदला हुआ नाम) की तरफ़ से नमस्कार! मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ और अन्तर्वासना की सारी कहानियाँ पढ़ता हूँ. जैसे ही रसोई आई… वहां अंधेरा होने की वजह से आंटी आगे हो गईं और सिलिंडर रखने को कहा.

फिर कुछ देर मैंने उसे ऐसे ही चोदा, वो अब तक दो बार झड़ गई थी, पर मेरा रस निकलने का नाम ही नहीं ले रहा था. दोस्तो नमस्कार, मेरा नाम प्रकाश है। मैं उत्तराखण्ड का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र अभी 28 साल है। मेरा लंड 6. मयूरी समझ गई थी कि इस 48 साल के आदमी ने अभी अभी अपने बच्चों आपस में सेक्स करते हुए देखा है और इसके मुँह से एक आवाज़ तक नहीं निकली थी, इसका मतलब ये जरूर कुछ न कुछ सोच रहा था, जोकि इस घर में हो रही चुदाई की पक्ष में था.

तकरीबन जब दस बार मेरी उंगलियाँ उनके मम्मों को छुईं, तब मीना जी ने खामोशी को तोड़ते हुए कहा- बंटी, डरो नहीं और मुझसे शरमाओ भी मत, मालिश ठीक से करो और फिर तुम किसी को बताने वाले तो हो नहीं. तुम अपने ब्लैक हैमर को मेरी पिंक पुसी में नहीं घुसेड़ना चाहोगे?” उसी पोज़ में ओमार के लंड को गांड में लिए बैठे हुए, नताशा ने जमैका को अपनी चूत में घुसने के लिए आमंत्रित किया.

देवर जी पूरे जोश में आ चुके थे और उन्होंने अपने लौड़े को चूत के निशाने पर लेते हुए धक्का लगा दिया.

कुछ पल बाद मयूरी दरवाजे को ठीक से अन्दर से बंद करने के बाद वापिस मोहन लाल के पास आई, उसने दुपट्टे का एक भाग अपने सर पर रखा और उसके पैर छूती हुई बोली.

भाभी ये देख कर बोलीं- रवि ये कैसी मूवी लगा दी है तुमने?मैंने भाभी के नजदीक जाकर कहा- भाभी मैं जानता हूँ कि आप भी इस भाभी जैसे प्यार की प्यासी हो. आनन्द मोना के मम्मों को चूसने और मसलने लगा और मोना ज्यादा गर्म हो गई. फिर उसी समय देर ना करते हुए मैंने एक और झटका मार दिया और पूरा लंड उनकी पिंक टाइट चुत की जड़ के दर्शन कर चुका था.

बहूरानी ने अपने होंठों पर उंगली रख के मुझे चुप रहने का इशारा किया; मैंने भी वक़्त की नजाकत को समझा और पास की कुर्सी पर बैठ गया. शायद मैंने यह नहीं सुना, लंड का आगे का सिरा उसकी बुर पर दबा दिया तो वो चिल्लाई. हम एक ही सोसाइटी में रहते थे तो ये हमारे लिए ज़्यादा मुश्किल नहीं था.

अन्तर्वासना पर हिंदी में गंदी सेक्स कहानी का मजा लेने वाले मेरे प्यारे दोस्तो, मैं एक और चुदाई स्टोरी के साथ आपके सामने आया हूं.

तो तुम मेरे घर आकर खाना खा सकते हो।मैं खुश था।उसने आगे बताया- मेरी रूम मेट इंडिया गई हुई है और मैं एक सप्ताह तक अकेली हूँ।मुझे क्या प्रॉब्लम हो सकती थी. फिर उसने मुझे मेरे घर छोड़ दिया और मैं जब कार से बाहर निकल रही थी तो अवी ने मुझे अपनी तरफ खींच कर मेरे होंठों को चूमा और जोर से दांत से काट लिया. पापा जी अब डॉगी पोज में चोद दो मुझे अच्छे से!” बहूरानी ने फरमाइश की.

मैं तुरंत उनकी चूत के पास गया और अपनी उंगली से वो रस फिर से उनकी चूत में घुसाने लगा. उनकी पीठ मेरी तरफ थी, मैं उनसे चिपक गया तो मेरे लंड उनके शरीर से रगड़ने लगा. फिर अपने फ़्रेंड के कमरे पर आ गया और उससे चाभी ली और घर आकर अगले दिन का इंतजार करने लगा.

क्योंकि मेरा लौड़ा नब्बे डिग्री के कोण पर खड़ा था।मैं अपने आगे चलती हुए मधु के भीगे बदन को बड़ी कामुक निगाहों से देखा रहा था। उसके मटकते चूतड़ों की थिरकन मेरे लौड़े को खड़े रहने पर मजबूर कर रही थी।तभी मधु ने पलटी मारी और मेरी तरफ देख कर मुस्कुरा कर कहने लगी- वास्तव में मजा आ गया।मेरी घिग्घी बंध गई कि अब इसने मेरे खड़े लौड़े को जरूर देख लिया होगा।खैर.

ये तो हम दोनों के हथियारों को एक साथ बिना उफ़ करे दोनों छेदों में ले सकती है. मैं उसके होंठों और मम्मों को किस करने लगा ताकि उसका दर्द कुछ कम हो जाए.

हिंदी बीएफ सेक्स हिंदी तो उसने भी मेरी तरह मोना को उलटा कर लिया, जिससे उसकी गांड अब राहुल के सामने थी. दोस्तो गांड अगर दोनों की रज़ामंदी से चुद रही हो, तो चोदने में बड़ा मजा आता है.

हिंदी बीएफ सेक्स हिंदी एक घंटे की बाद मुझे फिर से जोश आ गया और मैं फिर से उसकी मारने को तैयार हो गया. मैं उसके मम्मों को भी मसल रहा था और उसकी चुत के दाने को भी रगड़ रहा था, जिससे उसे कुछ मजा आ रहा था.

मैं उसके होंठों और मम्मों को किस करने लगा ताकि उसका दर्द कुछ कम हो जाए.

ಕನ್ನಡ ಚೆಕ್ಸ್ ಪಿಕ್ಚರ್ ವಿಡಿಯೋ

मैंने उसे अपने लंड को चूसने को बोला तो मना करने लगी, बोली- अच्छा नहीं लगता है. मैं मानता हूँ, कोई भी लड़का या लड़की खुद को कितना भी शरीफ और सभ्य दिखाता होगा लेकिन वासना सभी के मन जन्म लेती है. मीना इस बात पर जरा मुस्कुराईं और बोलीं- तो जनाब की शादी नहीं हुई है, लेकिन कोई तो होगी ना?मैंने कहा- नहीं जी, अभी नहीं है पहले थी.

कुछ देर में मैंने अपनी पोजीशन बदली और फिर उसकी चूत में एक उंगली हल्के हल्के अंदर बाहर करते हुए चूत की सकिंग करने लगा. मेरा लंड अब पिस्टन की तरह उसकी चूत के अन्दर-बाहर हो रहा था और हाथ उसके पूरे जिस्म को मसल रहे थे. थोड़ी देर बाद बेबी फिर से सो गया तो मैंने कहा- चलो फिर से शुरू करते हैं.

दोस्तों मैं पिछले 4-5 सालों से अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम की कहानियों को नियमित पढ़ता आ रहा हूँ.

आह्ह्ह आह्ह्ह ओह्ह ओह्म्म…” मुझे, मैं स्वर्ग में हूँ” ऐसा आनन्द आ रहा था. मैं भाभी के मुंह से चुदाई की सीधी ब्लू फिल्म का आडियो टेप सुन कर लंड सहलाने लगा था. फिर मैंने देखा कि उसकी चूत से खून निकल रहा है, मैंने उसको नहीं बताया.

ये तो हम दोनों के हथियारों को एक साथ बिना उफ़ करे दोनों छेदों में ले सकती है. एक दिन सपना ने पास आकर खुद कह दिया- रौनक सर आपको जहां जाना हो, आप मुझसे पूछ सकते हो. उसने अपने थूक से उसको लंड को गीला किया, फिर ज़ोर शोर से उसके साथ मस्ती करने लगी.

और जैसे ही उधर शालिनी ने अपनी पूरी की पूरी जीभ अकीरा की चूत में घुसाई… ठीक उसी वक्त चंडीगढ़ में ईशा विक्रान्त के बाथरूम में दाखिल हुई और अंदर का नज़ारा देखते ही वो स्तब्ध रह गयी, उसकी आँखें हैरानी से फटी की फटी रह गयी, कुछ देर दोनों में से कोई न बोल पाया. आनन्द- तुम्हारा पति कुछ नहीं करता इस तरह?मोना- आह जानू, कभी भी नहीं.

वो तो अच्छा हुआ कि उनके मुँह में ब्रा थी… नहीं तो उसकी इस बार बहुत तेज चीख निकलती. अब मैं किसी गरम देसी चुत की तलाश में हूँ, जिसके साथ मैं मजे कर सकूं और आप लोगों के लिए एक नई पोर्न स्टोरी लिख सकूं. इस पर मीना जी ने अपने दोनों हाथों को जरा सा खोल दिया ताकि मैं अच्छे से मालिश कर सकूँ.

उसने वर्षा के छोटे से चुचे पूरे मुँह में ले लिए और इतना चूसा कि चुचे सूज कर लाल टमाटर हो गए.

छोटे टमाटर के आकार जैसा मेरा टोपा बहूरानी की चूत में जा के फंस गया. मैं ये सब देख कर अनदेखा कर रहा था लेकिन कल्याणी तो मुझे गर्म करने में लगी हुई थी. लंड के अहसास से ही मेरी चूत में गुदगुदी होने लगी मगर मुझे थोड़ा नाटक करना पड़ा.

उसने मेरी तरफ देखा भी नहीं, वो मम्मी से बोली- मम्मी, हम फ़िल्म देखने जा रहे हैं, दोपहर का खाना भी रेस्टोरेंट में खायेंगे. मेरे पूरे शरीर में अजीब सी सरसराहट हो रही थी, मेरी धड़कनें बढ़ रही थीं, घबराहट के मारे मेरा गला सूख रहा था और होंठ कांप रहे थे.

पर मेरा उनके प्रति कभी कोई गलत सोच नहीं थी क्योंकि मैं तो अपनी गर्लफ्रेंड के साथ मस्त रहता था. हम कार में बैठ कर रुबीना के घर की और चल दिए, पूरे रास्ते रुबीना मुझे प्यार से देखती रही. मैंने तुरंत उसके कमरे के पास गया और झाँकने की कोशिश कर रहा था तभी दरवाजे के की-होल से देखा तो पूरा कमरा दिखाई दे रहा था।मोना आनन्द के कमरे में गई.

बच्चों को इंग्लिश बोलना सिखाए

”अच्छा? अगर चौड़े सीने वाले आदमी का लंड छोटा सा पतला सा हुआ तो?” मैंने हँसते हुए कहा.

मन कर रहा था कि अभी बहू के लबों को चूम लूं मैं… लेकिन मैंने सब्र किया… मन में मैंने सोचा कि अभी कुछ देर मैं इन लबों को चूम लेने की लालसा को मन ले लिए तड़पता रहूँगा, इस तड़प में मुझे और ज्यादा आनन्द मिलेगा. मैं उसके बेड रूम के अन्दर गया तो देखा कि बाथरूम का दरवाजा थोड़ा सा खुला था. दोस्तो, मेरी बहन के संग मेरे प्यार की इस दीवानगी के बाद मेरी बहन की चूत चुदाई की कहानी किस तरह पूरी हुई, ये आपको अगले भाग में लिखूंगा.

पहले तो वे मुझे देखती रहीं फिर दीदी मुस्कुरा कर बोलीं- मुझे भी नहीं पता, आज करके देखते हैं. वो- सीरियसली यार… आई रियली लव यूमैं- लव यू टू!वो- अरे मैं तो मज़ाक कर रहा हूँ. हिंदी सेक्सी बीएफ वीडियो 2020मेरी चूत में दर्द हो रहा था, मैं चूत पकड़ जल्दी जल्दी में बाथरूम में गई, चुत को गौर से देखा, ऊपर से सूज गई थी, मेरी चूत फट गई थी पहले से कई गुना बड़ी हो गई थी, छोटी कांच की थम्सअप बोतल डालती तो शायद पूरी आराम से घुस जाती!और धोते वक़्त मेरी चूत अंदर से बाल निकल रहे थे, शायद कोरा लंड चूत में जाने की वजह से मेरी ही झांटें उखड़ कर अंदर चली गई होंगी.

मामी- क्या ब्रा के ऊपर से ही मालिश करोगे?मैं- नहीं वो तो निकालनी पड़ेगी न. भैया जाते वक्त मुझसे बोले- मुझे कुछ दिनों का काम है इसको कुछ दिन घुमाने के बाद घर जाने के लिए स्टेशन तक छोड़ आना, ये अभी कुछ दिन तुम्हारे पास यहीं रुकेगी.

मेरा लंड पूरी तरह से लोहा बन चुका था और शायद उनको भी मालूम हो गया था क्योंकि मेरा लंड उनको टच कर रहा था. मैंने लेने से मना किया तो उसने कहा- आपने पैसों को लेने से मना किया था इसलिए विनोद और मैं आपको ऐसे धन्यवाद कहना चाहते हैं, प्लीज इसे मना मत कीजिएगा. मैंने सोचा कल इसे मेरी वजह से डांट पड़ी है तो क्यों ना आज इसे बाहर कुछ अच्छा सा खिला कर खुश कर दिया जाए.

”ये बात नहीं है राहुल उन्होंने तो मुझे छुआ तक नहीं, कल रात मेरी मम्मी आपके जाने के बाद फिर से रूम पर आई, दोनों ने मुझे बाथरूम में दो घन्टे बंद कर दिया और मेरी मम्मी और तुम्हारे भैया हंस हंस कर आपस में चुदाई करने लगे. सब लोग पार्टी का मजा लेने में व्यस्त थे और मैं सपना को ढूंढ रहा था. उसने पेन्ट की जिप खोलकर उसमें से फनफनाते हुए मेरे लंड निकाल कर आजाद कर दिया.

पूरी होने पर वह उसी से शादी करेगा तो वही तुझे अपने पापा से मिलवाएगा बस.

तब मैं उसको अच्छे से वापिस चूमने लगा और वो भी अच्छे से साथ देने लग गयी थी. मैं- दीदी आपकी खुशी की और मेरे ये सब कुछ करने की एक ही वजह है, करण, उसी ने मुझे आपके और अमित के बारे में बताया था, वो तो अमित को जान से मारने वाला था लेकिन मैंने उसको समझाया और आपको एक बार अमित से शादी की बात करने को बोला और फिर आपसे कुछ दिन का टाइम माँगा ताकि हम अमित की पोल खोल सके आपके सामने.

मैंने उसको एक बार दर्द देने का तय करके अपना पहला जोर का झटका मारने का निश्चय किया. फिर मैंने डिनर बनाया और हमने डिनर किया।फिर हम रूम में आ गए और लेट गये. उसके बाद मैं उनके मम्मों से खेलता रहा और वो मेरे लंड से खेलती रहीं.

हाँ, तुम्हें पता नहीं था?”मुझे कैसे पता होगा? मैं पहली बार पोर्न देख रही हूँ. फिर तुझे मैं ऐसा चोदूँगा कि तू जिंदगी भर भूलेगी नहीं।इतना बोल कर वो चला गया. सुरेंदर भैया एक प्राइवेट कंपनी में काम करते थे और रजनी एक हाउसवाइफ थीं.

हिंदी बीएफ सेक्स हिंदी पुलकित ने अपने जूते उतारे, और फिर अपने कपड़े भी उतारने लगा और मन ही मन सोच रहा था कि ‘बस अब सब्र नहीं होता, पहले एक शॉट लगा लूँ, फिर सोचूँगा कि बाद में क्या करना है. मेनका- अतुल, तूने कभी किसी लड़की को किस नहीं किया क्या?मैं- नहीं दीदी!मेनका- कोई नहीं भाई, आज मैं तुझे सिखाती हूँ कि एक लड़की को कैसे प्यार करते हैं.

কাটুন সেক্সি

मैं उसको बोला- ममता भाभी मैं सिर्फ आपकी चूत को देखूंगा और हाथों से ही सहलाऊँगा, लंड अन्दर नहीं डालूँगा. जब कॉलेज ऑफ हुआ तो मैं घर जाने को कॉलेज के गेट के बाहर निकल रहा था तो वो मुझे गेट पर खड़ी मिली. आह्ह्ह आह्ह्ह्ह…” मैं और गर्म होने लगी, उसने मेरी गान्ड में अपना मुंह लगा दिया और मेरी गान्ड की रिंग पे जीभ फेरने लगा.

फिर बगल में लेट गया और कान में फुसफुसाया- दोस्त ज्यादा लगी तो नहीं? मजा आया?मैंने कहा- बहुत मजा आया. इसके बाद वो नताशा के गले में पड़े गुलाबी रंग के मखमली स्कार्फ को पकड़ कर उसके गर्भाशय में अपने लंड को घुमाने लगा, और दोबारा अपना अंगूठा उसके मुंह में घुसेड़ दिया. सेक्सी बीएफ इंडियन लड़कीमेरी यह वासना से परिपूर्ण चोदन कहानी कैसी लगी मुझे मेल करके प्रतिक्रिया दें.

क्या भैया से कटवाने के बाद से जंगल खड़ा कर लिया?सुकुमारी भौजी ने कराहते हुए कहा- इस चैत(होली के बाद का महीना) में तोसै (तुझसे) झांटें कटवाऊँगी.

फिर भाभी ने मेरा तेल से सना काला लंड पकड़ा और अपनी कोमल सी चुत की फांकों में फंसा कर रख लिया. उनकी गांड बजाने के बाद मैं धीरे-धीरे सुकुमारी भौजी के बदन को शहद की तरह चाटते हुए अपनी जीत पर ख़ुशी मना रहा था.

उनका प्लान शायद पहले से ही सैट था कि मेरे सामने कोई अडल्ट वीडियो लगाया जाए, जिससे मैं उनकी तरफ़ अट्रेक्ट हो जाऊँ. अब मैं उसके लबों के रस का पान करते हुए निप्पल को जोर जोर से दबाने लगा. रज़ाई एक ही थी काफ़ी बड़ी थी। रात को सोने से पहले मैंने सबको फोन करके बता दिया कि हम दोनों होटल में रुके हैं.

मीना जी ने एक लंबी साँस लेते हुए कहा- हम दो ही रहते हैं, अभी बच्चे के बारे में सोचा नहीं है.

उसने बेड पर मुझे लिटा दिया और वही क्रीम निकाल कर लगा दी और मालिश करने लगा. एकदम मलाई की तरह गोरी हैं, छाती थोड़ी कम उठी है लेकिन पेट और गांड एकदम भरे हुए हैं. आखिर अनन्या ने भी अपने जेठजी के सामने आत्मसम्पर्ण कर ही दिया, वो भी वही चाहती थी जो उसके प्यारे, खूबसूरत जेठजी कर रहे थे.

राजस्थान के बीएफ चाहिएकुछ मिनट के बाद साफ सफाई करके मैंने अपने कपड़े पहने और घर जाने के लिये तैयार हो गया. मुझे माँ बनना है, मेरे पति में कमी है तो मैं आपके साथ जब तक सम्भोग करना चाहती हूँ, तब तक कि मैं माँ ना बन जाऊं.

पार्टी सेक्सी व्हिडिओ

दीदी ने अपने घुटनों को ऊपर करके मोड़ लिया और मुझे सलवार उतारने से रोकने लगी लेकिन दीदी की कोशिश नाकाम रही और कुछ ही देर में सलवार सोफे से होते हुए ज़मीन पर गिर गई थी. एक दिन मेरे मोबाईल में एक xxx क्लिप गलती से पड़ी रह गई, जिस पर मेरी दोस्त निशा की नजर पड़ी. मैंने ड्रेस को ओपन करके देखा तो एक बहुत ही अच्छी जीन्स और टी-शर्ट टॉप था और साथ में पेंटी और ब्रा भी थी.

मेरी कजिन मेरे साथ स्वाति को लेने स्टेशन आएगी, इसलिए अब मैं होटल नहीं आ पाऊंगा बल्कि आपको स्वाति को स्टेशन के अन्दर छोड़ना होगा. फिर उसने अपना काम करना शुरू किया पहले उसने मेरे सीने पर किस किया फिर पेट पर और फिर मेरे लंड की जड़ के पास किस करने लगी. भाभी जल्दी से बैठ गईं और बोलीं- मैंने तो तुम्हें दोपहर को ही माफ कर दिया था, पर ये तुम सब गलत कर रहे हो.

इसके बाद उन तीनों ने दीदी की बुर को चूम कर और जूते चाट कर थैंक्यू कहा और फिर दीदी अपने कपड़े पहनने लगीं. मेरा ध्यान उसकी चूत पर गया, जहाँ से पानी के साथ हल्का सा खून भी निकल रहा था. चुत की सम्भावना में तलाश जारी रहती और धीरे धीरे आराम से हर जगह अपनी सैटिंग कर ही लेता.

अचानक दीदी ने करवट ली और उनका हाथ मेरे लंड पर आ गया, मेरी तो जान ही निकल गई, लगा कि जैसे जन्नत मिल गई. मैं अभी भी उसके जिस्म को चूम रहा था और अपने ही पानी का मज़ा ले रहा था.

पर मैं ये नहीं समझ पा रहा था कि दीदी कैसे उन सभी पर जुल्म करती हैं, जिसे वो सहते हैं.

मैं घबरा कर बोली- ये क्या कर रहे हो?संजय ने मुझे अपनी बांहों में कस के भरते हुए और गरदन को चूमते हुए कहा- नसीम मेरी जान. वीडियो बीएफ ब्लू पिक्चरललिता पागल हो गईं और मेरा सिर पकड़ कर बोलीं- जान मेरी जान ले लोगे क्या?मैंने एक स्माइल दी और बोला- क्यूँ जब मेरी दोनों गोलियां खींच रही थीं, तो बड़ा मज़ा आ रहा था. ऑफिस की बीएफमेरे बेटे को होने वाली पत्नी और मेरी बीवी को होने वाली बहू पसंद आ जाए बस. उसके बाद हमने एक दूसरे के बारे में पूछा और फ़ोन पर ही काफी देर तक सेक्स चैट किया.

मेरे मना ना करने के बावजूद मेरे मजे में खलल पड़ गया क्योंकि कोई आ गया था.

कुणाल ने मेरी माँ से कह दिया कि आंटी आज रवि दोपहर को घर खाना खाने नहीं आएगा, हो सका तो हम कल सुबह घर वापिस आएंगे. गार्डन में पहुँच कर उसने गुस्से से मुझे एक जोरदार तमाचा मारा और बोली- तू समझता क्या है अपने आपको? पहले खुद ग़लती करता है फिर मुझे धमकी देता है?मैं- ऐसा नहीं है, पर तू कम से कम एक बार मेरी बात तो सुन ले, फिर चाहे जो करना होगा कर लेना!सोनी- नहीं सुननी मुझे तेरी कोई बात. ओ के पापा जी!” बहूरानी बोली और फिर लाइट्स ऑफ हो गयीं, कूपे में घुप्प अँधेरा छा गया.

मैं उसके बेड पर बैठ गया और उसके बाथरूम से बाहर आने का इंतज़ार करने लगा. तो सपना ने अपनी जींस की बेल्ट को खोल दिया और मेरा हाथ पकड़ कर उसकी पेंटी के अन्दर कर दिया. सीसीटीवी लग जाने के दो साल के बाद ढेर सारी बैकअप की सीडी इकट्ठा हो गई थीं.

मूवी सेक्सी पिक्चर फिल्म

मुझे अपनी बहू की कैमल टो बहुत सेक्सी लगी तो मैंने अपना स्मार्ट फोन निकाल कर उसकी पैंटी की एक फोटो खींच ली. इईईई… श्श्श्शश… महेश्श… अआआ… ह्हह…” कहते हुए बल से खाने लगी…ममता जी मदहोश सी होकर मुँह से हल्की हल्की सिसकारियाँ सी भर रही थी. दो मिनट बाद मैंने देखा कि अब उसकी पकड़ मेरी पीठ पर ढीली हो रही है, इससे मैं समझ गया कि अब उसे दर्द नहीं हो रहा है.

तो तभी मैंने अपना सुपारा घुसेड़ दिया और अन्दर-बाहर करने लगा और उसे भी मजे आने लगे।मैंने जैसे ही झटके से अन्दर डाला तो वो छटपटाने लगी और लण्ड निकालने को कहने लगी।जब वो चुप हुई तो मैं फिर से डालने लगा.

फिर एक दिन मैं व्हिस्की की बोतल लेकर घर गया और टीवी पर ब्लू फ़िल्म देखते हुए व्हिस्की पीने लगा.

उन्हें कोई जवान साथी की तलाश थी, तो ऐसे में घर में मौजूद बलवंत सिन्हा से बेहतर कौन हो सकता था. पता नहीं मेरे किस जन्म के कुकर्मों का फल इस पाप कर्म के रूप में उदय हो रहा था. सेक्सी बीएफ फिल्म चुदाईअभी लंड पेला भी नहीं था कि वो मादक सिसकारियां लेते लेते फिर से झड़ गई.

अब भाभी को पलटा कर उनके तने हुए चूचों को देखा तो मेरा लंड और अकड़ कर खड़ा हो गया. आनन्द मोना की गांड पर एक चांटा मार कर बोला- इसका तो बाजा बजाना बाकी है. क्योंकि वह समय समय पर लंड का स्वाद लेती रहती हैं और लंड के लिए उन्हें ज्यादा भटकना नहीं पड़ता है.

यह कह कर मैंने अपना लंड उसके हाथ में दे दिया।वो मेरे लंड को सहलाते हुए बोली- मैं तो कब से चुदना चाह रही थी। मुझे पता था कि तुम मुझे चोदना चाहते हो. अगले दिन मैंने ठान लिया था कि आज चाहे जो भी हो, मैं उससे माफी लेकर ही रहूँगा.

वो दोनों जब चले गए तो मैंने दीदी से पूछा- आपकी टांगें इतनी गोरी और चिकनी क्यों हैं और मेरी टांगों पर इतने बाल क्यों हैं?तो वो बोलीं- लड़कों और लड़कियों में यही फ़र्क होता है.

दीदी- सन्नी, लंड चूसने के लिए तुमने सारे कपड़े क्यूँ उतार दिए?मैं- अरे दीदी जब मस्ती ही करनी है तो पूरी तरह करो ना!दीदी- नहीं सन्नी, मैं इस से आगे कुछ नहीं करूँगी. जय लक्ष्मी जी, जो हमारे बैंक में एक महीने के लिए इंटर्न के लिए आई थी मतलब पोस्टिंग से पहले ट्रेनिंग के लिए. उसके बाद एक दिन उसके घर वालों को कहीं बाहर जाना था, वो कोई बहाना बना कर रुक गई और उसने मुझे फ़ोन करके ये बात बताई तो मेरी तो खुशी का कोई ठिकाना ही नहीं रहा.

बीएफ गोल्ड उसके दोनों हाथ मेरे पीठ पर नाखून चुभते रहे और धीरे धीरे मैंने उसे दीपक भैया के बेड पर लेटा दिया. मैंने भी ज़्यादा टाइम ना गँवाते हुए एक ज़ोर का झटका मारा, मेरा लंड 3 इंच तक अन्दर घुस गया.

मगर मुझमें अब और सब्र नहीं बचा था, मैंने उनके हाथों को पकड़ लिया और थोड़ा जबरदस्ती से उनके हाथों को हटा कर उनकी नंगी चूचियों पर टूट पड़ा… जो एक बड़े से आम की जितनी तो रही होगी. मेरा लंड थोड़ी देर वैसे ही भाभी की गांड में घुसा रहा और मैं उन्हें सहलाते हुए चुप कराने लगा. घर का थोड़ा बहुत काम किया और फिर सासू माँ के पास बैठकर यश का इन्तजार करने लगी। इन्तजार करते-करते रात 10 बज गए तो माँ बोलीं कि बेटी तुम खाना खाकर सो जाओ.

अमीर विधवा प्रोफाइल

कुछ पल बाद उसने अपने लंड को निकाला और मुझसे कहा इसे पकड़ कर मुँह में लो. फिर मैं और ललिता एक दूसरे को बार बार किसी ना किसी बहाने से टच करते रहे. उन्होंने खुद अपने हाथों से मेरा बॉक्सर निकाला नहीं, बल्कि मेरे लंड को ऊपर से ही पकड़ कर हिलाने लगीं.

मैंने अपना एक हाथ उसके पिछवाड़े पर फिराया और एक हाथ उसकी चूची पर!तभी वो बोली- फिर कभी मिलना, अभी नहीं!और वो चली गयी।अगले दिन मैं फिर उसी वक्त पर खेत में गया तो वो आज अकेली आयी थी. भारत में काफी परिवारों में सोने के जेवर पैरों में नहीं पहनते लेकिन हमारे घर में ऎसी कोई रोक नहीं है.

उसने अपनी दो उंगलियों से चूत की ऊपरी परत को फैलाया, उसमें एक छोटे से दाने जैसे आकार वाली झिल्ली लटक रही थी.

इसलिए मैं बिल्कुल ही चुपचाप दुबक कर अन्दर खिड़की की छेद से झांकने लगा. तब मैंने ही हिम्मत करके बोला- इनको सोने दो हम शादी एन्जॉय करते हैं. तभी भैया का फोन आया कि उन्हें आज रात की ट्रेन में हैदराबाद जाना पड़ेगा और 4-5 दिन वहाँ रहना पड़ेगा.

मैंने पूछा- क्या हुआ?उसने कहा- मुझे नहीं पसंद…मैंने कहा- कुछ भी करना था लेकिन सनी का इगो हर्ट नहीं करना था. रोहण मेरे बूब्स को आधे घंटे तक चूसता रहा, मेरी कामवासना पूरी जाग उठी थी, उत्तेजना से मेरे बूब्स एक दम टाइट हो गए थे और लाल भी!लेकिन इतना सब होने के बाद भी रोहण आगे नहीं बढ़ा, वो सो गया और मैं भी अपना मन मार कर सो गई. उन्होंने मेरे सहारे चलने की कोशिश की, मगर उनके पैर ने उनका साथ ना दिया और वो गिरने लगीं तो मुझसे बोलीं- तुम मुझे अपनी गोद में उठा कर ले चलो.

शुरू से मामी अपनी वासना पूरी करने में मेरा इस्तेमाल करती रहीं, किन्तु गुजरते चार साल के समय के साथ मैं चुत का जबरदस्त आशिक बन गया.

हिंदी बीएफ सेक्स हिंदी: मैंने गौर किया कि दरअसल सभी सीडी में दिख रहे गुलाम, दीदी के ऑफिस में काम करने वाले शादीशुदा मर्द थे. फिर वो झड़ गई और मुझे बिस्तर धक्का देकर मेरी टी-शर्ट और पेंट उतार दी.

मुझे लगा जैसे मेरी वीडियो बना रहे हैं या फोटो खींच रहे हैं।तभी भाभी के पापा ने अपने दोस्त को बोला- राजेंद्र देख, आरती की हेल्प कर, क्या चाहिए उसे।वो दौड़ कर आये और बोले- आरती, मैं राजेंद्र मिश्रा, मैं तुम्हारी भाभी के पापा का भाई भी हूँ दोस्त भी तुम बुरा मत मानना, एक बात बोलूं तुम बहुत खूबसूरत हो! मैंने आज तक इतनी सुन्दर लड़की नहीं देखी है।मैंने कहा- थैंक्स अंकल!और थोड़ा मुस्कुरा दी. कुछ मिनट के बाद साफ सफाई करके मैंने अपने कपड़े पहने और घर जाने के लिये तैयार हो गया. उसे भी बहुत मजा आ रहा था, लेकिन टयूशन का टाइम होने की वजह से मैंने अपनी कामवासना को दबा कर उसको अपने से दूर किया.

उनकी चूचियों व पेट पर से चुमते हुए मैं धीरे धीरे उनकी‌ चुत की तरफ ‌बढ़ रहा था जिससे ममता जी न.

जब चाहे मेरी मार लेना, जहां तक उन लौडों की बात है, वे सब शकूर से मरवा चुके हैं. फिर चाची बोलीं- बेशरम अंडरवियर कहां है?ये कहते हुए चाची मुस्कुरा दीं. उसकी गुब्बारे जैसी फूली हुई गांड, उसकी कल की चुदाई में उगे हुए संतरा, स्ट्रॉबेरी जैसे तने हुए निप्पल.