पंजाबी लड़की का बीएफ वीडियो

छवि स्रोत,सेक्सी बीपी पिक्चर सेक्सी बीपी

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ पिक्चर फिल्म ब्लू: पंजाबी लड़की का बीएफ वीडियो, उसने 3500 के कपड़े लिए, जिसके पैसे मैंने दिए और उसके 500 भी उसको दे दिए.

ब्लू सेक्सी फुल एचडी हिंदी में

ये सब करते शायद कोई देख रहा था, वो कोई और नहीं, मेरी भाभी थी, जो बैडमैन ने ही मुझे इशारा करके बताया. हिंदी सेक्सी वीडियो भाभी और देवर काउसने बोला- प्लीज़ इसे बंद करो, इसको देखने से अच्छा है कि हम खुद ये करते हैं.

और तू क्या सोचती है कि वहां शहर में मैं अकेला खुश हूं? तेरे बगैर मैं भी परेशान हूं. भाई बहन की सेक्सी वीडियो आवाज मेंतभी मामी जी ने मेरी ओर करवट ली और उनके बड़े बड़े स्तन मेरे हाथों से टकराने लगे.

वो आई मेरा हाथ का खून साफ़ करने लगी तो मैंने अपना हाथ झटके से खींच लिया.पंजाबी लड़की का बीएफ वीडियो: पूरा नंगा होने के बाद मैं उसकी मसाज बहुत ही अच्छे तरीके से खुद को उसके शरीर से रगड़ कर करने लगा, जिससे उसकी कामुकता चरम पे पहुंच गयी.

मगर आप लोगों की मदद से अगली बार इस कहानी में दूसरा किरदार भी हो सकता है.पहले वाला एक लड़का बोला- अरे तुम दोनों इसे एक साथ चोदो … बड़ा मजा देती है … तुम दोनों को बड़ा मज़ा आएगा.

भाभी देवर की हिंदी सेक्सी फिल्म - पंजाबी लड़की का बीएफ वीडियो

प्रोफेसर साहब के पास बीच वाला पोर्शन और ऊपर टॉप में, फ्रंट में एक वन रूम सेट था जिसके पीछे खुली छत थी.मैं उन्हें सहारा देकर वाशरूम तक लेकर गया और वॉशरूम का दरवाजा खोल कर उन्हें इशारे से अन्दर जाने को बोला.

या तो आप यहीं पर गाँव में कोई काम करो… या फिर बच्चों को और मुझको लेकर कानपुर चलो, सब चल कर तुम्हारे साथ रहेंगे. पंजाबी लड़की का बीएफ वीडियो दोस्तो, ज़िन्दगी में कम से कम एक बार ही सही, लेकिन सभी के साथ ही ऐसा होता है कि बचपन से ही हमारे आसपास के कुछ लोग हमें अच्छे लगते हैं और हम उनके जिस्म की ओर आकर्षित होते हैं.

उसकी गांड क्या मस्त थी … मेरा मन कर रहा था कि अभी अपना लंड उसकी गांड में डाल दूँ.

पंजाबी लड़की का बीएफ वीडियो?

मैंने मामी को जोश ही जोश में निमंत्रण तो दे दिया मगर अब इस चैलेंज को पूरा कैसे करूँ उस सोच में बैठी हुई थी. फिर हम दोनों एक दूसरे को जोर जोर से किस करने लगे। लिप-किस का दौर लंबा चला. रिया लंड चूसने में बड़ी माहिर है, उसने मेरे सामने ही एक बार ग्रुप सेक्स में दो के लंड एक साथ चूसे थे.

अंकल बोले- ऐसे क्या देख रही हो, कहीं कुछ सामान तो नहीं बिखरा पड़ा?मैंने कहा- कितनी साफ सुथरा है आपका रूम, मेरा रूम तो आपके रूम से गंदा होगा. थोड़ी देर बाद 9 बजे सुबह सोनम की दीदी की विदाई हो गई और मैं अपने घर चली आई. मैं- मैडम यहां ऑफिस से घर जाने के बाद पार्ट टाइम काम करने की हिम्मत बिल्कुल भी नहीं हो पाएगी.

आपके मेल लगातार मिल रहे हैं, गुजारिश है कि ये सिलसिला चालू रहना चाहिए. यह कहते हुए प्रशांत ने मेरी नीना के हाथ में बड़े प्यार से अपना लंड थमा दिया. भाभी नंगी ही अपनी गांड मटकाते हुए उठकर किचन से लिक्विड चॉकलेट का डिब्बा ले आई.

मैंने सीधा घुटनों के बल बैठ कर अपने हाथों से उसकी जांघों को सहलाया. खैर बुआजी का व्यवहार और पापा व मम्मी की सूझ-बूझ से दीदी की सगाई विनय भैया के साथ कर दी गई। अब विनय भैया विनय जीजू बन गये थे.

नीचे उसकी बिकनी में उसकी गोरी टांगें देखकर मेरे मुंह से लार टपकने लगी.

मैं लंड को दीदी की सहेली की चूत में अन्दर बाहर अन्दर बाहर करने लगा.

मैंने एकदम से अपना हाथ उसकी लुंगी की तरफ बढ़ा दिया और अपने हाथ में पकड़ कर उसकी लुंगी को खींच दिया. मैंने पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत सहलानी चाही, तो उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली- अंकल वहां हाथ क्यों डाल रहे हो. मैंने अपने लंड को सीमा की तरफ कर दिया और मेरा लंड उसके मुंह के पास जा पहुंचा.

यह देख कर मामी मुस्कुरा दीं और लंड को अपने हाथ में लेकर हल्के हाथों से हिलाने लगीं. बैडमैन मेरे कपड़े उतारने लगा, मैं भी उसके शर्ट की बटन खोल के उसके कपड़े उतारने लगी. पर उसकी आवाज़ ना सुन कर मैंने एक करारा धक्का मार कर अपना पूरा लंड सारा की गाँड में घुसा दिया।ज़रीना आकर मुझे पीठ पर चूमने लगी.

यह सुनकर मैंने मेरे धक्के तेज कर दिए ओर कुछ ही देर में मैंने उसकी गांड में ही मेरा रस छोड़ दिया.

आपको बता दूं कि उसके मम्मे की साइज काफी मस्त है, ये 36 डी नाप के हैं. उस महिला का काल्पनिक नाम प्रीति है, जबकी उसके पति का नाम सुखबीर है. रात हुई तो मामी ने नाइटी बदल ली क्योंकि मामी रात में नाइटी पहन कर ही सोती हैं.

वह जा चुकी थी और मैं अभी भी सोच में पड़ा था कि कहीं उसे पता तो नहीं चला होगा कि मैं कौन हूँ और मैंने उसके साथ क्या किया था. मैंने आहना को नीचे लेटा कर फिर से उसकी योनि में लिंग डालकर उसका मर्दन शुरू कर दिया. हम दोनों एक दूसरे को ऐसे देख रहे थे, जैसे दो प्रेमी बहुत दिनों बाद मिले हों.

रात को जब मेरी नींद खुली तो राजन फिर से मेरी चूत में उंगली कर रहा था.

यह समाज की दोगली मनोवृत्ति है और मेरे पति में भी ये स्वाभाविक रूप से होना तय थी. दो मिनट तक जीजा जी ऐसे ही पड़े रहे और फिर बोले- बस अब जो दर्द होना था वो हो गया, अब मजे ही मजे होंगे.

पंजाबी लड़की का बीएफ वीडियो थोड़ी देर बाद उनका पूरा बदन अकड़ने लगा और उन्होंने फिर से मेरे सिर को अपने चूत पर और कस के दबा लिया, वो झड़ गईं. मेरा बंगलोर के लिए दिल्ली से रिज़र्वेशन था, तो पापा मुझे दिल्ली स्टेशन तक छोड़ कर ट्रेन में बैठा कर वापस घर आ चले गए थे.

पंजाबी लड़की का बीएफ वीडियो मैं- हैलो, कौन?सोनिया- मैं चंडीगढ़ से सोनिया बोल रही हूँ … क्या आप रिषभ बोल रहे हैं?मैं- जी हां … बोल रहा हूँ. मैंने दोपहर को सब काम खत्म करके थोड़ी देर आराम किया, फिर मैं दरवाजे को लॉक करके अंकल के क्वार्टर की तरफ गयी.

एहतियात मैं बरत रहा था क्योंकि मुझे ये भी ख्याल था कि हम ट्रेन में हैं और सब कुछ लिमिट के अंदर ही करना होगा.

ब्लू पिक्चर सेक्सी बीएफ चुदाई

अभी तक कहानी के पिछले भाग में कल्पना ने बताया कि मेरी सास मुझे एक कॉल ब्वॉय से मिलने को समझा रही थीं और मैंने उन्हें ‘सोच कर बताती हूँ. वो अब मेरे मुंह की चुदाई करने लगा, फिर मुझे उल्टा लिटा दिया और घोड़ी बना दिया. मेरा वीर्य चाटते हुए सारा समय मैडम मेरी आँखों में आँखें डाले मुझे देखती रहीं.

मैंने पूछा- मैं ही क्यों? आप तो किसी से कुछ भी करवा सकती थीं?वो हँसने और बोली- जिस दिन से तुम कम्पनी में आए थे, मैं उसी दिन से तुम्हें नोटिस कर रही थी. मैंने मीना से अजय के बारे में पूछा, तो पता चला वो किसी काम से बाहर गया है … और 2-3 घंटे में आने वाला है. वह बोली- अगर देख लिया हो तो मुझे भी दिखा दो कि लड़के नंगे होने के बाद कैसे लगते हैं! तुम भी अपने कपड़े उतार दो न यार, मैं भी तुमको नंगा देखना चाहती हूँ।मैंने कहा- तुम ही उतार दो अगर ऐसी बात है तो.

वो समझ गई कि मेरा काम तमाम होने वाला है, उसने कहा- पानी मेरे अन्दर ही निकालना.

थोड़ी देर बाद इंदु उठी, उसकी चुत से उसका और मेरा पानी नीचे उसकी जांघों पर नीचे बह रहा था. मैंने लंड को मम्मों में फंसा दिया, भाभी ने भी मेरे लंड को अपने मम्मों में दबा लिया और लंड बाहर न निकल सके, ऐसा कर लिया. उधर मैं और सोनम बैठे ऐसे ही बातें कर रही थीं कि वहां अन्दर से आशीष निकल आया.

पैंटी के ऊपर से ही चूत को किस कर दिया और साथ ही उसकी जांघों पर भी किस करता रहा. अगर रचना जाग गई तो मजा खराब हो जायेगा।इतना सुनते ही अनन्त जीजू ने कुसुम दीदी को गोद में उठा लिया. उनकी आदत है कि वो नहाते समय सारे कपड़े, निक्कर और गंजी छोड़कर, बाहर खोल कर रख देते थे.

इसी बीच एक दिन मेरे वाट्सअप पर सुखबीर ने एक संदेश सुप्रभात लिखा हुआ एक फोटो के साथ भेजा. तब निकुंज फिर से करीब आया और बोला- आज तो तेरी गांड को चीर ही दूंगा.

अब मैं भाभी का गाउन खोलने लगा, तो वो बोलीं- अमित कपड़े मत खोलो, जो करना हो ऊपर ऊपर से कर लो. मेरी गे सेक्स कहानी के पहले भागएक लड़के को देखा तो ऐसा लगा-1में आपने पढ़ा कि मैं एक सोशल मीडिया साइट पर एक जाट लड़के से बातें करने के बाद उसके जिस्म को भोगने के लिए रात में घर से निकल गया. आपका अपना हैरी बावेजामुझे आप[emailprotected]पर अपने ईमेल कर सकते हैं.

और प्रकाश तू अपने हाथ का गिलास का दूध अपनी पहली दीदी यानि अब तुम्हारी बीवी को पिला.

जब पहली बार गांव में पांच महीने पहले तू मिली थी, तो तेरे ठीक से दूध ही नहीं थे और अब तो कमाल के हैं. इतने मक्खन से मुलायम उनके स्तनों को थोड़ी देर दबाने के बाद मैंने अपना बांया हाथ उनकी मख़मली चूत पे रख दिया. उसने आगे बताया- होली पर मेरी चार दिन की छुट्टी है और मैं घर ना जाकर सेक्स लाइफ एन्जॉय करके देखना चाहती हूँ.

उसने भी मेरे लंड को हिलाते हुए अपने मुँह में ले लिया और पागलों के जैसे उसे चूसने लगी. तू सब जानता तो है कि वो कितने कितने दिन गाँव नहीं आता, फिर भी पूछ रहा है?” मीना ने कुछ गुस्से से कहा.

दस मिनट बाद भाभी ने लंड को चूसकर फिर से बड़ा कर दिया और फिर मैंने अलग अलग स्टाइल से भाभी की दो बार और चूत और 2 बार गांड मारी. मैंने एकदम से उसके एक बूब को अपने मुँह में भर लिया और जोर से चूसने लगा. मामी जी भी पीछे की ओर अपनी गांड मेरे लंड पर दबा कर अपने चूतड़ों की दरार में लंड महसूस करके मस्त हो रही थीं.

पत्नी का बीएफ

मुझे उंगली का अहसास बहुत ही मजेदार लग रहा था पर मैं आने वाले दर्द से अनजान थी। उन्होंने कुछ क्रीम अपने लंड पर भी लगाई और चुत के होंठों पर अपने लंड को रगड़ने लगे।मैं तड़फ रही थी, मैंने कहा- प्लीज चाचा जी, अंदर घुसा दो ना!वो बोले- अभी लो मेरी प्यारी भतीजी!और यह कहते हुए अपने होंठ मेरे होंठों से लगा दिए और लंड को चुत पर सेट करके एक झटका मारा.

वही घटना जिसमें मेरे जीजू ने अपने दोस्त को अपने घर पर बुलाकर मेरी कुसुम दीदी को चुदवाया था. !उसने लंड पर कंडोम लगा दिया और बोली- प्लीज़ आज मेरी सेक्स की भूख मिटा दो, मेरी तड़फ मिटा दो. जब मैंने उनका घाघरा और ऊपर किया, तो मैंने देखा उसने पेंटी नहीं पहन रखी थी.

क्या पता शायद उसे सेक्स की जरूरत हो।मैं तो जानता था ही कि मोहिनी कितनी प्यासी होगी क्योंकि मैं भी अब उसके संपर्क में नहीं था. इंदु ने कहा- जीजाजी, मैं भी आप के लंड के बाल साफ कर दूँ? मजा आयेगा!पर मेरा मूड नहीं था, मैंने मना किया तो वो बोली- करवा लीजिये, सारी रात मजे लेने को है. आदिवासी कॉमेडी सेक्सीमैं- सच कह तो मम्मी जी, मुझे अभी भी भरोसा नहीं हो रहा है कि हितेश गे है … इसलिए मैं.

काफी देर ये गहन चुम्बन लेने के उपरान्त मैडम ने जीभ बाहर निकाल ली और फुसफुसाकर बोलीं- राजे तेरी मर्दानगी बहुत ज़ोर मार रही है … जवानी का भरपूर जोश है ना … देखूं तेरे लंड कैसा है. रिया ने पहले भी ग्रुप सेक्स में अपनी गांड और चूत में एक साथ लंड के मजे लिए थे और इस बार भी वो यही सब सोच कर मेरे साथ आई थी.

मैं अब्बा हज़ूर के पास से आ रहा हूँ, कश्मीर वाली नूरी फूफी (मेरी खाला) और तुम्हारे अब्बा भी उनके पास बैठे हैं और सारा वाले मामले के बाद नूरी फूफी (मेरी खाला) कह रही हैं कि सुबह सारा और ज़रीना से मिल कर आयी थी, दोनों बहुत खुश और संतुष्ट हैं. मगर राजन अभी भी नहीं रुका और वह अपने लिंग को तकिए पर घिसता ही जा रहा था. काम ख़त्म होने के बाद उन्होंने अपने हाथ में कुछ थैले लिए और मेरे पीछे फिर बैठ गई.

बहुत ही छोटा सा गाँव था वो पहाड़ों से घिरा हुआ … उस गांव में मेला लगा था दस दिनों का, मैंने खूब मज़े किये. मैंने अपनी जीभ बाहर निकाली और उसकी कमर को नीचे खींचते हुए चुत को मेरे जीभ पर रख दिया. मीना अब चुपचाप पड़ी रही, शायद उसे उम्मीद नहीं थी कि जो अभी तक बड़े प्यार से सुनार की भांति मेरे बदन को गर्म कर के मज़ा दे रहा था, अचानक से लुहार की भांति एकदम कैसे मेरी चुत में लंड की ठोकर मार सकता हैमैंने फिर से मीना को चूमना चालू किया.

मैंने जल्दी से हाथ हटाया, तो उसने बोला- क्या हुआ?मैंने सोते हुए नाटक किया और नींद में बोला कि मेरा हाथ आपके नीचे हो गया था.

मणि ने कोमल के साथ बिस्तर पर लेट कर उसकी गांड चौड़ी कर दी और उंगली डाल दी. जब वो लैपटॉप में काम करने लगी तो उसको कुछ प्रॉब्लम आयी और मुझसे हेल्प मांगी.

सरोज भाभी लम्बी लम्बी सिसकारियां लेने लगी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ तो मुझे लगा ये सही समय हैं मैंने बिना देखे ही 3 खतरनाक धक्के लगा दिए. इतना उसने कहा, मैं बाहर तरफ आ गई और मेरे थोड़ी देर बाद मामा भी निकले. वह तेजी से गर्म होती जा रही थी और मेरे सिर को अपनी चूत में दबाती ही जा रही थी.

आप मुझे[emailprotected]पर बतायें।आप मुझे फेसबुक पर komal advicer पर भी कांटेक्ट कर सकते हैं।आप लोगों का रेस्पोंस अच्छा रहा तो मैं बहुत ही जल्द अपनी अगली कहानी लिखूंगी।. वो मुझसे मिली तो मैंने उसको अपनी मोटरसाइकिल पे बिठाया और उसको लेकर एक नयी बन रही इमारत पर ले गया. फिर मेरे पति ने मुझे उठाकर मेरी ब्रा को खोल दिया और मेरी चूची नंगी हो गई.

पंजाबी लड़की का बीएफ वीडियो थोड़ी देर आराम करने के बाद सीमा भाभी उठने की कोशिश कर रही थीं, पर उनसे उठा नहीं जा रहा था. और अगर तुम्हारी सैलरी बढ़ती भी है, तो बस 10% बढ़ेगी क्योंकि यह कंपनी का रूल है.

बीएफ सेक्स वीडियो गाना

ज़रीना की मादक सिसकारियाँ और सारा की दर्द भरी चीखों ने मेरा दिमाग सुन्न कर दिया था। पता नहीं सारा ने कब मेरा लण्ड अपनी गांड से निकाला और घोड़ी बने बने ही अपनी चूत में ले लिया और आगे पीछे होकर चुदने लगी. मैं गरीब घर से हूं, तो इस तरह से स्पेशली मेरे लिए खाने पीने को किसी ने मुझे इसके पहले इस तरह से नहीं पूछा था. मैं बोला- ऐसा है तो आप अपना काम बोलो … मैं बिना रिश्वत के कर दूंगा.

दूसरे कमरे में अंदर चुदाई का मदहोश कर देने वाला नजारा साफ-साफ दिखाई दे रहा था. मेरी बहन ने मेरे मुँह को अपनी टांगों में फंसा लिया और एक हाथ से मुंह को जोर से दबाने लगी. ब्लू हिंदी सेक्सी ब्लू फिल्ममेरी मुलाक़ात उन दोनों से हुई, बातें हुई, और अच्छी पहचान बन गई क्योंकि मैं भी मज़ाक और जोक्स का माहिर था, तो हमारी खूब जमने लगी.

मैंने भी सोचा कि भैया कभी भी आ सकते हैं, तो मैं भी उनसे दूर हट गया.

भैया भाभी का ब्लाउज और ब्रा खोल चुके थे और उनके मम्मों को मसल मसल कर रंग मल रहे थे. तभी चाची ने अपनी पेंटी को, जो कि अब तक गीली होकर उनकी चूत से चिपकी थी, उतार दिया और पलट कर आवाज दी- कितनी देर लगाएगा, जल्दी कर ना!मैंने कहा- चाची मैं तो कबसे देने को खड़ा हूँ, आप लो तो.

मैं अपने घुटनों पे फर्श पे आ गयी और एक उत्तेजना के साथ उसके अंडरवियर को उतारने लगी. तो आइये जानते हैं घोष बाबू की जुबानी कि उनकी रात कैसे गुजरी।पार्टी खत्म होने के बाद हम घर के लिए रवाना हो गए, मैंने गाड़ी एक मेडिकल स्टोर पर रोकी और स्टोर में दुकानदार से सेक्स स्टेमिना वाली कुछ गोलियाँ और कॉन्डम मांगे. जब मैंने इस बात की पड़ताल की तो मेरे पैरों के नीचे से जमीन हिलने लगी.

नवीन का लंड झटके देने लगा था और उसने मेरी पैंट में पीछे से हाथ डालकर मेरे चूतड़ों को दबाना और मसलना शुरू कर दिया था.

आपने मेरे बारे में पूछा, मेरा साहस बढ़ाया, तब मुझे लगा कि आप वो शख्स हो सकते हैं जिसको मैं अपना पहला पुरुष मान सकूं, ऐसे में जब आप ने मेरा हाथ पकड़ा तो मैं पिघल सी गई क्योंकि इतने दिनों से अंदर की छिपी भावनाएँ, ज्वालामुखी बनकर सब बाहर आ गया और जब आप पहल करने में हिचकिचा रहे थे तो मुझे आप पर प्यार सा आ गया और बस फिर हो गया. खैर … उसकी बड़ी गांड देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया और उसके अड्वेंचर में मेरा वेंचर तन कर उसको चोदने के लिए मचलने लगा. कुछ देर बाद मैंने उसकी चूत में पानी छोड़ दिया और उसके ऊपर ही गिर गया.

pa सेक्सीउन्होंने झट से अपना सुपाड़ा मेरे मुँह में फँसाया और मेरा सर पकड़ लिया. हालांकि इतनी देर की चुदाई दौड़ के दौरान प्रशांत अपनी ग्रैंड चुदक्कड़ मकान मालकिन के इतिहास और भूगोल से पूरी तरह परिचित हो चुका था, लिहाजा वह मेरी नीना का साथ निभाने लगा.

घोड़े और लेडीस की बीएफ

पर भैया की शादी में जब से देखा, आप दूसरे की हो रही थीं … पर मेरा लंड तो आपकी चूत के लिए एकदम तैयार था. मैं बोला- भाभी आज तो आपके साथ जम कर होली खेलूँगा, आपके पूरे का पूरा रंग दूंगा. वो फिर से मेरा लंड चूसने लगी और कुछ ही पलों में फिर से मेरा लंड तन गया.

मेरी बहन ने मेरे मुँह को अपनी टांगों में फंसा लिया और एक हाथ से मुंह को जोर से दबाने लगी. मैं वासना से भर कर मादक सिस्कारियां लेने लगी और मेरी भी चूत चुदासी हो गयी थी. मैं आशीष से यह सफेद झूठ बोली क्योंकि जब आशीष और मैं उसकी मामी के घर में पकड़े गए थे.

अब आगे:मामी ने नाइट सूट के ऊपर के तीन बटन खोल दिये और बूब्स के बीच की रेखा मुझे साफ़ साफ़ दिखाई देने लग गयी थी। उसके बूब्स देखकर मेरे लंड में उछाल आना शुरू हो गया था. रात को भी जब वह मेरा लंड चूस रही थी तो मुझे ऐसा मज़ा आ रहा था कि मैं 5 मिनट में ही झड़ जाऊंगा. फिर दस मिनट गांड चाटने के बाद मैंने उससे कहा- अब तुम घोड़ी बन जाओ, यह मूली चूत में ले लो.

फिर वह अपने चूतड़ को उठा कर मेरे होंठों पर अपनी चिकनी चूत को रगड़ने लगी. अब तो अंकल की छवि मेरी आंखों के सामने आ गई थी और चुत एक झटका दे कर झड़ने लगी थी.

मुझे उसकी बिंदास भाषा से ये मालूम चल गया था कि अब वो मुझसे ही इस तरह की दोस्ती वाली बातें किया करती थी.

वो अपनी दुनिया में खोई हुई बोलती रही- उम्म्ह… अहह… हय… याह… और जोर से मारो!और उसकी चूत बहती रही. गर्ल हॉर्स सेक्सी वीडियोअब उसने जांघों को ढीला कर दिया था और मेरे मुँह पर जोर जोर चुत को दबाने लगी. शाहरुख खान काजल का सेक्सी वीडियोफिर मैं किताब से उन्हें पढ़ा देता और कंप्यूटर पर प्रैक्टिकल पर करवा देता था. मैं बेख़ौफ़ चाचा जी के लंड को सुपारे तक अपनी चूत से बाहर निकालती और फिर एक ही बार में पूरा लंड चुत में ले लेती.

जब चूत गर्म हो तो लंड अंदर करवाओ और जब लंड खड़ा जो जाए तो चूत में डालो और जिंदगी का मज़ा लेते रहो.

तभी मुझे ढूंढती हुई, लंगड़ाती हुई सारा आ गयी और कहने लगी- आमिर, आप मुझे छोड़ कर आप कहाँ चले गए. रमेश काका शरारती मुस्कान लेते हुए बोला- अरे छोड़िए न मालिक जो हुआ अच्छा ही हुआ. तो ये बोला- तो आ जा … और जीतू को भी ले आना साथ में … वरना वो गालियां निकालेगा कि सबने अकेले अकेले चोद ली.

उनकी उंगलियां सोनल की पैंटी के बॉर्डर पर घूम रही थीं और एक उंगली उसकी चूत की दरार पर पैंटी के ऊपर घूम रही थी. एक घंटे की फ़िल्म देखते हुए ही मेरी पैंटी मेरी चूत के रस से पूरी गीली हो गयी थी. रात तो लगभग साढ़े दस बजे उसने दरवाजा खोला और अपने लॅपटॉप के साथ मेरे कमरे में आ गया.

नवरात्रि बीएफ

हम दोनों शादी से पहले भी बहुत बार चुदाई कर चुके थे, इसलिए हम लोगों में कोई शर्म नहीं थी. बात कुछ ऐसे शुरू हुई कि एक दिन मैं सो कर उठा और जॉगिंग के लिए तैयार होने लगा कि अचानक मेरे पैर में दर्द सा होने लगा, तो मैं चाची के रूम के बाहर सोफे पर बैठ गया. तो मैंने पूछा- क्या हुआ, कैसा लग रहा है?तो थोड़ी देर चुप रहने के बाद वह बोली- छोड़ो, तुम नहीं समझोगे.

मैंने भाभी को वहीं पकड़ लिया और कहा- भाभी, आप यहीं मेरे मुंह में मूत दो.

नया नया था तो सीधे उसकी चूत में लंड डालने की कोशिश करने लग गया, कोई किस नहीं, कोई चूत की चटाई नहीं, ना फूलमती ने लंड चूसा.

एक दिन मेरी छुट्टी थी, तो मैं सुबह ही भाभी के घर गया, दोनों ने खूब बातें की, हँसी मज़ाक़ किया, फिर मैं चला आया. मेरे मुँह में बेटे का लंड और उसकी गांड में मेरी उंगली थी, जिसे मैं बीच बीच में चाट भी रही थी. सेक्सी व्हिडिओ इंडियन सेक्सीमामी जी भी जोर जोर से सिस्कारियां लेते हुए उतनी तेजी से गांड आगे पीछे करके मेरा पूरा साथ दे रही थीं.

या फिर यूं कहें कि उसने जान-बूझकर वह गोल-गप्पा अपने टॉप पर गिरा लिया था. उसमें बेड लगा हुआ था, एक छोटा सा टेबल, एक चेयर और एक तीन सीटर सोफ़ा लगा था. मैंने बोला- भाभी आप मेरी सपनों की रानी हो, मुझसे जितना बन सकेगा आपको खुश करने में मैं पूरी कोशिश करूंगा.

यह सुन कर मैं उसकी गोद में जाकर बैठ गयी और बैडमैन को किस करने लगी, वो भी मेरे कुर्ते में हाथ डाल कर मेरी पीठ सहला रहा था. शॉवर में चोदते वक्त मैंने दीदी से पूछा- दीदी बता ना … तेरी सासू माँ क्या बोली थी और तुम दोनों हंस पड़े थे?दीदी ने कहा- उसने मुझे चाबी दी और जड़ी बूटी वाला पावडर हाथ में थमाकर कहा था कि इस बार दो चम्मच ज्यादा डालना … आज रात तुम्हारी असली सुहागरात है … पलंगतोड़ कबड्डी होनी चाहिये … मैं देखने आऊंगी.

इसकी लम्बाई तो बहुत अच्छी है ही और नैन नक्श के तो कहने ही क्या हैं.

मैंने पूछा- मैंने क्या कर दिया?तो बोली- सच में तुम्हार लंड बहुत बड़ा है. वो हमेशा टाइट कपड़े पहनती थी और बिना परफ्यूम के तो वो कहीं जाती ही नहीं थी. मैं, मेरा दोस्त अविनाश और उसकी गर्लफ्रेंड साक्षी साथ ही पढ़ाई करते थे.

फुल चोदा चोदी सेक्सी लंड को मुंह में देने के बाद अब बात उसके काबू से बाहर हो गई और उसने मेरे मुंह में अपने लंड को अंदर-बाहर करना शुरू कर दिया. मैंने कहा- तुमने ही तो बोला था कि कितना भी चिल्लाने पर अपने लंड को बाहर नहीं निकालना.

जब हम दोनों शांत हो गए तो उसने मुझसे कहा- आज तक ऐसा मज़ा नहीं आया मुझे! कितने पैसे चाहिए तुम्हें?मैंने उससे पैसे लिए और वापस आ गया. कुछ देर बाद सुदीप ने मुझे नीचे से नंगा करके अपनी गोद में बैठा लिया. आगे क्या हुआ, क्या नानाजी ने हमें आपत्तिजनक स्थिति में देख लिया और किस तरह हमने अपने आपको बचाया और क्या इसके बाद हम लोग कभी अपने जिस्मों का मिलन कर पाए या नहीं, जानेंगे कहानी के अगले भाग में.

सेक्सी बीएफ फुल एचडी न्यू

एक दिन आफिस में कुछ ज्यादा काम की वजह से हम दोनों को घर जाने में देर हो गई. सोनू नीचे लेटी रही, उसकी चूत से जितना भी ब्लड निकला, मैंने अपने हैंकी से सोख लिया और चुपके से उसे बेड के नीचे डाल दिया. चूत के दाने को सहलाना स्टार्ट कर दिया मैंने!तो वो मेरे हाथ को नाख़ून मारने लगी.

जैसे ही सब घर से बाहर निकले, चाची ने मेन गेट बंद कर लिया और मुझे आवाज़ लगाई. कुछ देर चुदाई करने के बाद उसने लंड डाले डाले ही मुझे सीधा करके पीठ के बल लेटा दिया और मेरे ऊपर लेट कर चुदाई करने लगा.

इससे पहले कि मैं मर्दों के दुश्मन उस मादक बदन को अच्छे से निहार पाता, मैडम ने लंड को अपने नाज़ुक मुलायम हाथ में ले लिया था- अरे वाह राजे! तेरा लौड़ा तो काफी बड़ा है.

मैंने सोनू को समझाया कि भगवान ने लंड का सुपारा सॉफ्ट इसलिए बनाया है कि पहली चुदाई में या बाद की चुदाई में लड़की की चूत को कोई नुकसान न हो. हल्का सा थूक उसकी चूत पर गिरा कर लन्ड से अच्छे से रगड़ रगड़ के उसकी उभरी जगह पर मालिश की, सुपारा टिकाया और जोर से एक धक्का मारा और फिर चोदाई चालू कर दी. उसे मेरे चूतड़ किसी बड़े गोलाकार घड़े से लग रहे थे, जिसके वजह से वो कामुकता भरे शब्दों से मेरी तारीफ़ किये जा रहा था.

अगर कहा जाए तो सांवली लड़कियों की बात ही कुछ और होती है, ये बड़ी हॉट होती हैं. हालांकि हम दोनों अलग अलग रूम में रहते थे, लेकिन डिनर वगैरह साथ में ही करते थे. सरोज भाभी लम्बी लम्बी सिसकारियां लेने लगी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ तो मुझे लगा ये सही समय हैं मैंने बिना देखे ही 3 खतरनाक धक्के लगा दिए.

उसके बाद मैं अपने हाथों को भाभी के चूतड़ों पर रख कर उन्हें भी मसलने लगा।आह आह … क्या मस्त गांड है आपकी भाभी!”ओ हो … क्या बूब्स हैं आपके!” और ऐसा कहते ही मैंने अपना माथा भाभी के बूब्स पर रख दिया.

पंजाबी लड़की का बीएफ वीडियो: आज मैं अपने जीवन की वो सच्चाई बता रही हूं, जिसे मेरे गांव के हर जेंट्स, लेडीज, हर लड़के लड़की को पता है. वो सलवार कमीज में एकदम चट-चट गोरी, सुडौल स्तन, गोल मांसल मोटे मोटे चूतड़, चूड़ीदार पाजामे में मोटी-मोटी जांघें थीं.

मेरा मुँह उसके बूब्स के बहुत करीब था मेरी सांसें उसके बूब्स पर टकरा रही थीं. उनको भी इसमें मजा आता है।दोस्तो, ये थी मेरी आपबीती। आप लोगों को कैसी लगी? इसके बारे में अपने सुझाव एवं राय मुझे अवश्य भेजें। जिससे मैं प्रेरित होकर आप लोगों के लिए और भी नयी कहानी लिख सकूं।[emailprotected]. मेरी सेक्स कहानी के पहले भागजिगोलो बनते ही मिली मजेदार कस्टमर-1में आपने पढ़ा कि कैसे ऑनलाइन एक भाभी से मेरा संपर्क हुआ और उसने मुझे अपने शहर में बुलाया जिगोलो सर्विस के लिए.

ये देख कर मैं चिल्लाया- साली रांड में कब से तेरी चूत के लिए तरस रहा था.

घर के बाहर जाकर मैंने उनके डोर पर लगी घंटी बजाई, तो मीरा मैडम ने गेट खोला. सुबह तक उसकी हालत इतनी खराब हो गई थी कि वो सही से चल नहीं पा रही थी. पर हर बार मैंने ध्यान दिया कि सुखबीर मेरी ओर बड़ी आशा से देखता, जो मुझे बैचैन कर देता.