हिंदी बीएफ फिल्म एचडी में

छवि स्रोत,गुजराती भोसड़ा

तस्वीर का शीर्षक ,

चाची के साथ: हिंदी बीएफ फिल्म एचडी में, उसकी चूत में आग तो पहले से ही लगी थी मेरे ऐसे करने से वो और भी धधक उठी.

एक्सएक्सएक्सविबो

मैं भी अपने दोनों हाथ उसकी टी-शर्ट के अन्दर डाल कर उसकी पीठ को सहला रहा था. देहाती बीएफ वीडियो देहाती बीएफअगर मैं तुम्हें हां ना बोलती, तो क्या अभी भी तुम मुझसे नाराज रहते?मैं- मुझे पूरा विश्वास था कि आप जरूर हां बोल दोगी.

फिर मैंने कम्मो की चूत का जायजा लिया, उसकी चूत का चीरा खूब लम्बा था और बुर के होंठ भी खूब भरे भरे से गद्देदार थे. सेक्सी बफ चालूइसलिए मैं वहाँ पर एक किराए का घर लेकर रहता था और अपनी कम्पनी के ऑफिशियल टूर में हर माह 4 दिन बालाघाट और 3 दिन सिवनी जाया करता था.

उसने मुझसे कहा- अब डालोगे या चाट कर ही मारोगे?मैंने कहा- डाल कर ही मानूँगा … जरा सब्र तो करो मेरी जान!अमायरा कुछ देर बाद पूरी तरह से थक चुकी थी.हिंदी बीएफ फिल्म एचडी में: मैंने उसे बताया कि मैं वही लड़का हूँ, जिसके लिए आपकी शादी की बात हुई थी.

नेहा थोड़ा घबरा तो रही थी मगर पहले के जैसे नहीं कि मेरा हाथ छुड़ाकर वहां से भाग‌ जाए, वो अब भी अपने आपको सामान्य ही दिखाने का प्रयास कर रही थी.चूंकि हमें 1500-1500 रुपये की पेमेंट मिल गई थी और हमें घर जाने को बोल दिया गया था.

ব্লু ফিল্ম চালু - हिंदी बीएफ फिल्म एचडी में

थोड़ी देर बाद मौसी सिस्कारियां भरती हुई बोलीं- समीर और मत तड़फाओ, जल्दी से घुसा दो अपना लंड मेरी चूत में … और मेरी प्यास बुझा दो.तभी सनी ने बुआ जी से बोला- मम्मी, आप दुकान चल सकती हो क्या?बुआ ने पूछा- क्यों?भाई बोले- आज दुकान पर लड़का भी नहीं आया है.

अपनी बहू की बात सुनकर महेश चुप हो गया।अब बताओ कैसा लगा मेरा चुम्मा?” नीलम ने नीचे झुके हुए ही अपने ससुर के लंड को देखते हुए कहा. हिंदी बीएफ फिल्म एचडी में चूंकि हम पहले ही काफी लेट हो चुके थे, तो मैंने कहा- मैडम जी, अब चलें?उसने कहा- हां सर चलिए.

मैंने दीदी को चूमते हुए कहा- अगर आप जन्नत के उस पार जाना चाहती हो, तो आज हम ब्लाइंड सेक्स करेंगे.

हिंदी बीएफ फिल्म एचडी में?

और हाँ अपने उन गुप्त अंगों से भी सोच सकते हैं।और अब मैंने जब आप लोगों को ज़्यादातर बता दिया है, इससे ज्यादा नहीं बता पाऊँगी गोपनीयता बनाए रखने के लिए!कृपया मुझसे यही सब दुबारा ई-मेल में ना पूछें. मैंने आज तक कभी कुछ भी सुनने या देखने की कोशिश नहीं की थी, मगर आज दिल ने कहा कि क्या शिवानी सच तो नहीं कह रही थी, ज़रा पता लगाना चाहिए. ” मधुर ने लापरवाह अंदाज़ में कहा।अच्छा सुन! आज मार्केट चलेंगे … काम जल्दी से निपटा ले तेरे लिए कुछ ढंग के कपड़े और किताबें आदि लाने हैं.

मुझे दर्द तो हो रहा था लेकिन कुछ देर बाद मुझे चूत में कुछ सनसनी सी भी होने लगी थी. श्वेता मैडम ने मुझसे पूछ लिया कि संज्योत (बदला हुआ नाम) क्या हो गया है तुम्हें? आज तुम्हारा बर्थडे हो कर भी तुम आज शांत हो और ज्यादा खुश भी नहीं दिख रहे हो?मैं कुछ भी नहीं बोला, बस चुपचाप ड्रिंक लेता रहा. अब बस संजना की दिक्कत थी क्योंकि शीना को देखने के बाद संजना बहुत ज्यादा डर गई थी और उसने अपने आप को संवारने की बहुत ज्यादा कोशिश की.

वह अपने होंठ उसकी ओर लायी और उसने उसे स्वीकार करने के लिए अपना मुँह खोला. तो पक्का उन्होंने मेरी कामुक आवाजों में अपना नाम सुन लिया होगा।पर जिस हिसाब से वो बात कर रही थी, वो मुझे इंगित कर रही थी कि वो भी मुझ से मजे लेना चाहती हैं।कहते हैं ना कि दिमाग वही सोचता है जो वो सोचना चाहता है. मेरे परिवार में मैं, मेरी 48 साल की मॉम और 51 साल के डैड के अलावा मेरी 19 साल की मदमस्त बहन रचना है.

हम दोनों की जीभ एक दूसरे से मिलने लगीं और हमारा थूक एक दूसरे के मुँह में जा रहा था. कुछ देर बाद मैंने उसे घोड़ी बनाया और पीछे से उसकी चूत में लंड पेल दिया.

चाची- ये सब क्यों?मैं- आप कभी हनीमून पर गई हो?चाची- नहीं?मैं- कल हमारा हनीमून होगा.

फिर हमारी बातें भी हुई … पर पहली बार मैं नर्वस थी तो कुछ ज्यादा बात नहीं कर पाई.

शायद उसको भी मेरे नंगे जिस्म को उजाले में देखने की ललक थी और ऐसा ही मैं उसके बारे में सोच रही थी. वेरोनिका ने मेरे कंधों पर दोनों हाथ रखते हुए पूछा- बताओ न राज … क्या तुम एना को पसंद कर रहे हो? क्या आज रात तुम उसको चोदना चाहोगे?मैंने पूछा- अगर मैं आज रात एना के साथ गुजारूंगा तो उसके ब्वॉयफ्रेंड हेक्टर का क्या होगा?वेरोनिका ने तुरंत जवाब दिया- मैं हेक्टर को झेल लूंगी. मैंने उसका सूट ऊपर करके एक चुचे को ब्रा से बाहर निकाल लिया और चूसने लगा.

मैं बोली- बिक्कू ऐसा मत बोल, मैं बहुत गर्म हो चुकी हूं, देख मेरी चूत कैसे पानी छोड़ रही है. उसने अपनी मैक्सी से उसे पोंछा और लेट कर लन्ड को सहलाती रही।कुछ देर के बाद उसने खुद ही बोला- कर लो जल्दी से, शाम हो जाएगी तो बच्चे आ जाएंगे।मैं तो कब से तैयार ही था बस उसके कहते ही मैंने उसे घोड़ी की तरह झुकने को कहा और उसने झुक कर अपनी गांड उठा दी।इस स्थिति में उसकी चूत कितनी मस्त लग रही थी. वन्दना ने भी अपने लिए एक पेग बनाया और मेरी गोद में बैठ कर पीने लगी.

अब आगे…तब पूजा मेरे मुँह के पास अपनी चूत रख कर मेरे सीने के ऊपर अपनी चूतड़ रख कर बैठ गयी.

लेकिन शुरूआत में, किसी भी लड़की के साथ बातचीत कुछ मिनटों से आगे नहीं बढ़ पायी थी. मैडम ने मुझसे कहा- अब तुम्हें किस चीज़ का इंतज़ार है … या फिर इन्विटेशन भेजना पड़ेगा?उनकी बात सुनकर हम दोनों भी शुरू हो गए. फिर बॉस ने चूत चाट कर मुझे घुमा दिया और मैं टेबल पर हाथ रख कर झुक गयी.

मैं अभी भी थोड़ा गिल्ट फील कर रहा था, तो अभी उसे चोदने का मन नहीं हुआ था. ”हट … ” गौरी एक बार फिर शर्मा गई।इस बार उसके शर्माने में उलाहने के बजाय रूपगर्विता होने का भाव ज्यादा था।गौरी तुम्हारा बहुत-बहुत धन्यवाद इस समर्पण के लिए!”दीदी आपको कितना भोला समझती ही और आपने …?”मैंने क्या किया?”अच्छा जी मेला सब कुछ तो ले लिया ओल बोलते हो मैंने त्या किया?”गौरी क्या तुम नाराज़ हो?” मैंने उदास स्वर में पूछा. काले रंग की नाइटी में उनका गोरा बदन देख कर मुझे मेरी मम्मी झकास माल लग रही थीं.

जब सुबह मेरी नींद खुली, तब हम दोनों बिल्कुल नजदीक सो रहे थे और मेरा एक हाथ उसकी कमर पर था.

लंड अब बड़े मजे से गचागच, सटासट उसकी चूत में अन्दर बाहर होने लगा था. मैं अगले दिन अपनी ड्यूटी पर पहुंचा और उस कमरे में मैंने अपने तीनों मोबाइल अलग अलग ऐंगल में कैमरा मोड पर लगा दिए.

हिंदी बीएफ फिल्म एचडी में अब तू मेरे लंड को अपनी चूत में अन्दर बाहर कर; ध्यान रखना लंड को चूत से बाहर मत निकलने देना!” मैंने उसे सीख दी. इस गर्म कहानी के पहले भाग में अब तक आपने पढ़ा कि मेरी वासना भरी नजरें मेरी मदमस्त सासू माँ पर न जाने कब से टिकी हुई थीं.

हिंदी बीएफ फिल्म एचडी में मैं मैडम की बातें सन्न होकर सब सन रहा था, क्या रिएक्ट करूं, कुछ समझ ही नहीं आ रहा था. मैं इतना अधिक उत्तेजित हो चुका था कि बस 3-4 मिनट में ही मैं झड़ गया.

पापा आप बस ज़ोर से धक्का मारो और एक ही बार में मेरी चूत फाड़ दो।मुकुल राय- अगर तुम्हें दर्द हुआ तो?परीशा- मैं सह लूँगी … आप मारो न धक्का।मुकुल राय ने अपनी पूरी ताक़त अपनी गान्ड में जमा की और अपने आप को अगला शॉट मारने के लिए तैयार करने लगा.

जोधा बीएफ

फिर 10:30 बजे मैंने कोरमंगला के लिए एक ऑटो लिया, ज्यादा ट्रैफिक नहीं था और मैं 15 मिनट में ही वहां पहुंच गया. शबनम के गले को सहलाते हुए उसका एक हाथ शबनम के कुरते के अन्दर चला गया. गांव के सारे लोग तुझे रंडी समझते हैं और सोचते हैं कि तू धंधा करती है.

मेरे घर पर तो दरवाजे में एक छोटा सा सुराख था, जिसका किसी को पता नहीं था. फिर मैंने एक झटके से पेनिस अंदर डाल दिया और भाभी की चीख सी निकल आयी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’उनकी योनि से भी खून निकल रहा था. मैं ऊपर से उनकी गर्दन, पीठ को छूता हुआ अपने हाथों से उनकी बगलों को सहला रहा था.

उन्होंने जैसे ही अपने होंठों पर अपनी जीभ फेरी, मुझे समझ आ गया कि आंटी चुदासी हैं.

मैंने उससे छूटने का प्रयास किया, लेकिन उसकी मजबूत भुजाओं से बच कर निकल पाना मुश्किल था. फिर इसके बाद ना कभी यह हमारे बीच आएगी और ना ही हमें ब्लैकमेल करेगी. इस प्रकार वो कभी मेरी चूत को चोदता तो कभी गांड में लंड को डाल देता.

आंटी ने भी मेरी पैंट और शर्ट उतार दी और कच्छे के अन्दर से लंड पकड़ लिया. जैसे मेरा लंड अन्दर बाहर आ जा रहा था, तो उसके साथ ही उसकी सील टूटने की वजह से खून निकल रहा था. फिर मैंने अपना एक हाथ जब उसकी चूत पर रखा तो वो जैसे पागल सी हो गयी.

अब भाभी बाथरूम में जाकर अपनी योनि धोने लगी और तब तक मैं वहीं लेट गया था. किंतु यदि आपके मन में अपनी समस्या से छुटकारा पाने का दृढ़ निश्चय है तो आप यह आसानी से कर जायेंगे। इसलिए अपने मन को वश में करते हुए प्रयास करते रहें।अगर आप सेक्स करते समय कंडोम का प्रयोग नहीं करते तो कंडोम भी इस समस्या में आपकी मदद कर सकता है.

मैंने मामा जी से कहा- अगर अनिल की इच्छा नहीं तो मैं जबरदस्ती नहीं करूंगा. अगर कोई मेरी चूत को चाट लेता है तो मेरी चूत तुरंत पानी छोड़ना शुरू कर देती है. इस गर्म कहानी के पहले भाग में अब तक आपने पढ़ा कि मेरी वासना भरी नजरें मेरी मदमस्त सासू माँ पर न जाने कब से टिकी हुई थीं.

और ये तुम्हारे लिए है बेटा!” शबनम ने अपना अनुभव दिखाते हुए अंकित को हैरत में डाल दिया था.

इतनी आसानी से नहीं थकता।अब विक्की भैया ने मम्मी को खड़ा किया और एक पैर पलंग पर तो दूसरा पैर जमीन पर रख दिया। विक्की भैया ने अपना लंड मम्मी की चुत पर रख और जोर जोर से लंड को अंदर बाहर करने लगे।मम्मी विक्की की बांहों में समा गई. मैं अपने घर आने लगी, तो उसके बड़े भाई मोहन ने मुझे पकड़ लिया और बोलने लगे कि मैं तुमको बहुत पसंद करता हूँ और मुझे तुम्हारे बूब्स बहुत पसंद आते हैं. हाथ निकलने के बाद मैंने तुरंत अपना लंड बाहर निकाला जो बहुत गर्म हो गया था.

अंकित के हाथ उसकी पीठ से होते हुए उसके कूल्हों तक पहुँच गए थे और धीरे धीरे सहला रहे थे. वो माफ़ी मांगते हुए कहने लगा कि वो आगे से कभी दीदी से उल्टी सीधी हरकत नहीं करेगा.

डिनर के बाद रोज की तरह इशिता ने मुझे उसके कमरे में सोने का आग्रह किया क्योंकि मामी भी आज घर पर नहीं थीं. उन्होंने भी मुझे और मेरे खड़े लंड को देखा और शर्मा कर मुझसे दुबारा लिपट गईं. ये वो समय होता है जब औरतें अपने बच्चों के साथ अपने मायके भी जाती हैं.

हिमाचल सेक्सी बीएफ

इतना कह कर उसने मुझे किस कर दिया और बोला कि अगर तुम कहोगी तो हम सेक्स करेंगे नहीं तो कोई जबरदस्ती वाली बात नहीं है.

यदि आपका मन स्वस्थ रहेगा तो तन भी स्वत: ही स्वस्थ रहेगा। यदि इन उपायों से भी आपको राहत नहीं मिल पाती है तो आप किसी अच्छे डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं. मुझे समझ आने लगा था कि शायद ये अपने पति को लेकर मुझसे बात करना नहीं चाहती हैं. औरत को जितना लंड मजा देता है, उससे कहीं ज़्यादा मज़ा आपकी जीभ देता है.

उनका एकदम सफेद और गुदगुदा शरीर इतना मस्त है कि आप भी देखोगे तो मुठ मार लोगे. फिर वो मेरी निप्पलों को चूसने लगे तो मुझे फिर से सेक्स चढ़ने लगा और मैंने उनके लंड को पकड़ कर चूसना शुरू कर दिया. सेक्स व्हिडिओ मराठी बीएफमैंने बिना कुछ कहे प्रीति को उठा कर अपनी गोद में घसीटा और उसके लिपस्टिक से रंगे होंठ बिना लिपस्टिक के कर दिए.

मुकुल राय अब धक्के लगाने को उतावला हो रहा था पर परीशा ने उसकी कमर में अपनी टाँगों को लपेट रखा था, जिसकी वजह से मुकुल राय हिल भी नहीं पा रहा था. मैंने उसे अपनी गोद में उठा लिया और फिर उसे लेकर बाथरूम में आ गया।कहानी जारी रहेगी.

” महेश ज़ोर से सिसकते हुए अपनी बहू को समझाते हुए बोला।नीलम को उस वक़त जैसे होश ही नहीं था. धीरे धीरे करके मैंने अपने लंड का अगला हिस्सा उसकी फुद्दी में डाल दिया. मेरा मन तो किया कि लंड को उसके मुंह में और भीतर तक ठेल दूं पर मैंने वो इरादा फिर कभी के लिए पोस्टपोन कर दिया.

उसने मेरा हाथ चुत से निकाला और मेरी चार उंगलियां जबरदस्ती अपनी चुत में ठुंसवा लीं. मेरी एक सहेली है, जिसको इन सब बातों के बारे में पता है कि कौन लड़का मुझे लाइन मारता है. उन्होंने एक हाथ से मेरे गर्दन को पकड़ रखा था और दूसरे से अपने बालों और मेरे चेहरे से खेल रही थीं.

उसने अचानक से मेरी पीठ पर हाथ रख कर बोला- मैडम जी यहां कहां पर? सागर जी आप भी यहां?चूंकि सागर ऑफिस में काम से आता था इसलिए वो भी उसे जानती थी.

कोई पांच मिनट की चुसाई के बाद मैंने टेबल पर उसके एक पैर को और दूसरे को अपने हाथ में ले लिया. ना कोई लड़का ढंग का मिलेगा और अगर मिला तो बहुत से दहेज मांगेगा, जो घर के लोग दे नहीं सकते हैं.

इधर आग और बढ़ती जा रही थी, अब काबू करना मुश्किल ही नहीं … न मुमकिन था. अगर ऐसी बात है तो मैं तैयार हूँ मगर एक बार फिर से शान्त मन से दिमाग से सोचना तुम्हारे पास अगले 24 घंटे का समय है. इस कहानी से जल्दी वाले सेक्स के बारे में पढ़ने वालों को निराशा हो सकती है.

हाँ … उस दिन के बाद से मैं तुम्हारे बारे में सोचना बंद ही नहीं कर पायी. मुझपर उस गोली का भरपूर असर हो चुका था और लंड कबसे तैयार खड़ा था और चड्डी में दबा आजादी मांग रहा था. मुझे रोज ही इधर कोई न कोई नई कहानी के साथ हुई सेक्स घटना के बारे में पता चलता.

हिंदी बीएफ फिल्म एचडी में एक दिन मीटिंग में वो कुछ उदास सा लगा, तो मैंने उससे पूछा कि क्या बात है … आज कुछ उखड़े उखड़े लग रहे हो. एक बार मेरे बेटे के दोस्त रोहित ने मुझे चोदा था, मुझे मजा आ गया था.

हिंदी बीएफ चुदाई हिंदी चुदाई

”हट! किसी ने देख लिया तो हम दोनो को लैला मजनू ती तलह पत्थरों से मालेंगे. उनको इतनी सुन्दर दुल्हन के रूप में देख कर मेरे मुँह से निकल गया- वाह … तुम तो बला की क़यामत हो मेरी जान. यहाँ तक कि किसी और लड़की से दोस्ती करवाने को भी बोलते हैं।मैं आप सभी के दोस्तों के सवालों का जवाब यहीं दे देती हूँ।हालांकि मैंने अपने बारे में ज़्यादातर पिछली कहानियों में ही बता दिया है.

फिर वो मुझे कातिलाना स्माइल देकर किचन में चली गई … मैं टीवी देखने लगा. वे दोनों दिखने में एकदम काले से थे लेकिन दोनों मुझसे अच्छे से बोलते थे. भाई-बहन की बीएफ वीडियो सेक्सीअब भाबी ने बात बदल दी थी और वे मुझे कुछ सेक्सी बातों की तरफ मोड़ने लगी थीं.

फिर वह सीट से उठ गया और उसी सीट पर मुझे बिल्कुल किनारे पर घुटनों के बल झुका दिया। इस तरह मेरा सिर सीट पर और गांड सीट से थोड़ा बाहर निकली हुई थी.

पूजा को काफी समय तक चोदने के बाद मैंने पूजा की चुत में ही अपना सारा माल छोड़ दिया और उस पर गिर पड़ा. इस पर मैंने उसे कहा- भाई निराश मत हो, मार्केट में इसके लिए दवाई मिलती है.

मैंने मौसी के ऊपर लेटते हुए उनके लिप्स चूसने लगा, मौसी भी मेरा पूरा साथ देने लगीं. मैंने लंड को बाहर खींचना चाहा तो चूत लंड को ऐसे दबोचे थी कि पूरी की पूरी चूत ही लंड के साथ खिंच के बाहर की तरफ आने लगती थी. तो मैंने पूछा- फिर कैसे चोदूं तुमको?उसने कहा- डॉगी स्टाइल में!फिर मैं उसको घोड़ी बनाकर चोदने लगा.

मैं उसके सर को पकड़ कर अपने लंड को और उसके मुँह के अन्दर गले गले तक भर रहा था.

स्कर्ट को खोल कर मैंने नीचे कर दिया तो उसकी पैंटी में उसकी चूत उभरी हुई थी जिस पर मैंने हाथ से मसल दिया. मैंने जोर-जोर से चोदते हुए अपना माल कंडोम में गिरा दिया और फिर उसके बगल में लेट गया. उसकी सास ने मेरे चेहरे को देखा और बोली- दामाद जी, आपको बहुत पसीना आ रहा है.

हिंदी बीएफ साड़ी में चुदाईइसे इवेंट इसलिए कहा है क्योंकि इसमें काम करने की कोई एक निश्चित जगह नहीं होती है. ख़ास तौर से किसी भी लड़की को गलती से भी मत छूना … क्योंकि यहां अमीर घरों की बिग्ड़ी औलादें आने वाली हैं.

सेक्सी कैटरीना बीएफ

वो मेरे कमरे पे शाम में ही आ गयी और अपने घर पे बता दिया कि उसे ऑफिस के काम से 2 दिनों के लिए बाहर जाना है. यह मेरे मुंबई वाले फ्लैट से ज्यादा कंफर्टेबल है।श्लोक- और रकुल आपको कैसा लगा?रकुल- अच्छा है लेकिन एडजस्ट होने में थोड़ा समय लगेगा। मुझे खुशी है कि सीमा यहां पर है। हम दोनों नए दोस्तों की अच्छी कटेगी।श्लोक- वैसे नील बहुत होशियार है, उसे इतनी सुंदर बीवी मिली इसीलिए उसने मुझे शादी में नहीं बुलाया।नील हंसते हुए- नहीं यार, ऐसी बात नहीं है. अब आगे मजा लीजिएगा:उस दिन जब हम खाना खाकर उठे, तो मैंने दीदी से पूछा- क्या आपने कभी जीजू के अलावा किसी और को अपनी चूत के मजे दिए हैं?दीदी बोलीं- अगर तुझे ये जानना ही है कि मैंने जीजू के अलावा किसी और का लंड ठंडा किया है या नहीं … तो आज तू मुझे ऐसे चोद कर दिखा कि आज मैं जन्नत के भी ऊपर चली जाऊं.

मैंने लंड चुसाते हुए वेरोनिका से कहा- आज मैं तुम्हारी गांड मारना चाहता हूँ. मैंने एक कहानी पहले भी लिखी है, लेकिन कुछ सुरक्षा कारणों की वजह से बता नहीं सकता. दो चार धक्के में ही लंड चूत में सैट हो गया और चुदाई की सरगम बजने लगी.

नमस्कार मेरे प्यारे साथियो, मैं बहुत लम्बे समय से अन्तर्वासना का पाठक हूँ. अब उसने अपनी चूत को अपनी दोनों हाथों की उंगलियों से थोड़ा फैला कर मेरे होंठों पे रख दिया. मैं जोर जोर से चूची की चुसाई कर रहा था और वो मेरे बाल पकड़ कर और ज्यादा दबाव बना रही थी.

पहले तुझे मेरे पैर पकड़ने होंगे उसके बाद ही मैं तुझे अपना लंड दूंगा. मामा जी- बड़े किस्मत वाले थे वे जिन्हें तुम जैसे नमकीन की मारने को मिली.

सोनिया- वो क्या?रोहन- आप सच में चाहती हैं कि मैं इसका जवाब दूँ?सोनिया- हां.

मैं खिड़की के और करीब सरक गयी, जहां शीशे के बीच से रशीद और सलमा दोनों दिख रहे थे. देसी लड़कियों की सेक्सीअंत में मेरे लिए जिस लड़की का रिश्ता आया, उसका नाम सोना (नाम बदला हुआ) था. తిరిగి ఎక్స్ బిఎఫ్मैं तो खुद ही चाह रही थी कि कहीं ये बात सुनकर उसके अब्बू का भरोसा न टूट जाए. अभी तक आपने मेरी पहली कहानीचाह थी ननद की, भाभी चुद गयीमें पढ़ा कि हमारे फ्लैट के सामने वाले फ्लैट में रहने वाली एक लड़की अर्चना, जिसे मैं पसंद करता था और चोदना चाहता था, मैं उसे तो नहीं पर उसकी भाभी नैना की चुदाई कर पाया था.

यहां मैं अपने दोनों हाथों से उसकी मस्त गोरी चिकनी बड़ी सी गांड को दबा दबा कर मसल रहा था और उसकी गांड के छेद में अपनी जीभ डाल कर चाट रहा था.

निश्चित ही नायरा के मम्मे पिंकी से बड़े थे पर जिस स्टाइल से पिंकी ने चुसाई की और करवाई है वो अदा अनोखी थी. ” कह के उसने मेरी चोली ऊपर सरका दी।अच्छे से अपनी गांड का स्वाद मुझे दे कर फिर बोली- अब यूं बता … मेरी चूत कैसे चूसेगी?जी जैसे आप चाहें!”आ जा फिर!” कह के वो सीधी लेट गयी टांगें चौड़ी करके।आज तेरे लिए ही साफ चिकनी की है. फिर इस उत्तेजना का क्या अंजाम हुआ, उसको पूरे विस्तार से मैं आपकी सेवा में अपनी इस सेक्स कहानी के माध्यम से जाहिर करूंगा.

फिर मैंने उसकी टांगों को उठा कर अपने हाथ में पकड़ कर अपने कंधे पर रखवा लिया और उसकी गुलाबी चूत में फिर से अपना लौड़ा पेल दिया. अब कबीर ने मोर्चा संभाला और मेरे चूचों को चूसते हुए मेरे होंठों तक आ गया. मैं तो पूरे जीवन भर तुम्हारा अहसानमंद रहूँगा क्योंकि तुमने समय रहते मुझे जगा दिया.

f f f बीएफ

आप सभी पाठकों से अनुरोध है कि कृपया मुझे आगे मार्गदर्शित करें कि मैं अब आगे क्या करूँ?कृपया सभी लोग अपनी राय मेरी मेल आई डी में दें. वहां पर जाने के बाद अनीता के पास गया तो वो मुझे देख कर मुस्कराने लगी. वहीं दूसरी ओर चाहता भी था कि उन्हें पता चल जाये ताकि कुछ आगे बढ़ा जा सके।जी हाँ दोस्तो … ये हैं मेरा इकलौता प्यार … मेरी सरोज मामी, उम्र 38 साल, हाइट 5’4”, यहीं गुडगाँव में रहती हैं। मैं इनसे पिछले 3 साल से प्यार करता हूँ, इनको पाना चाहता हूँ.

जब हम घर पे आये तो मैं घर में घुसा, मैंने देखा कि मम्मी कमरे में कपड़े बदल रही थी.

क्या आपके कोई बच्चे हैं?सोनिया- हां … एक बेटा है, जो अगले महीने 12 साल का हो रहा है.

मैंने उससे कहा- रशीद तुमने चार रोज पहले भी सलमा को नशे में कली से फूल बना दिया था … पर शर्माओ मत, मुझे तुम बहुत पसंद हो. वह चेंज करने चली गयी और मैं अपनी आंखें बंद करके उन दृश्यों को फिर से देखने की कोशिश करने लगा, जो अभी अभी मैंने वेबकैम पर देखे थे. देवर भाभी की सेक्सी पिक्चर दिखाओउसने कहा- तब मैं आपको अपनी दोस्त समझ कर आपसे कोई भी बात कर सकता हूँ ना … आपको बुरा तो नहीं लगेगा.

उसने मुझे किस करते हुए हाथ मेरी टी-शर्ट के नीचे डाल कर मेरे कबूतरों को भींच लिया. मेरी तो ये सब देखते हुए ही हालत खस्ता हो गई थी … पर क्या कर सकता था. बस इतना याद रखना कि आज की रात के बाद तुम्हारी सैलरी 40000 हज़ार से डेढ़ लाख हो जाएगी.

उसके एक सप्ताह बाद जब मेरी पत्नी रीना मेरे पास सोने के लिए आई तो मैंने उससे अहमदाबाद में अपने भाई के साथ चुदाई का किस्सा जानना चाहा. कई बार मैं रात को स्कूटी लेकर घर से निकल जाती हूं और बाहर जाकर बीयर पीती हूं.

वो स्कूल में अपने हुस्न के दम पर कई लड़कों को चीट करती थी और अपना खर्चा चलाती थी.

उन्होंने बोला- आपको किन से मिलना है?मैंने उनके पति का नाम लेते हुए बताया कि उनके लोन का पेमेंट नहीं हुआ है … आज अगर पैसा नहीं मिला, तो रिकवरी के लिए भेज देंगे. रितिका- तू मेरी चुत का बाजा बजाता है कि मैं तेरे लंड को ढीला कराती हूँ … ये तो बिस्तर पर ही देखेंगे. मैंने उसके घर के फ्रिज से थोड़ा सा दही लेकर उसकी चूत पर लगा दिया और चूत चाटने लगा.

बहन भाई की बीएफ चुदाई एक बार मोहन भैया ने मुझे बताया था कि मेरी चूत चोदने के दो दिन तक वे अपनी बीवी को नहीं चोदते हैं. उसके बाद उन्होंने मुझे अपने रूम में बुलाया और कहने लगीं- शालू अभी छोटी है.

इस प्लान के मुताबिक हम एना के कमरे में दाखिल हुए और मैंने एना से बातचीत करनी शुरू की. उसका पूरा बदन रह रह कर झटके खा रहा था। मुकुल राय अभी भी लगातार अपने लंड को बाहर निकाल निकाल कर परीशा की चूत में पेल रहा था. खुद नौकरी करके पैसा इकट्ठा कर लूंगी, आजाद जिंदगी में खुश रहूंगी और मनमाफिक चुद-चुद कर खिल जाऊंगी तो एक संभावना है भी कि शायद शादी की वेदी पर कोई मुर्गा शहीद हो भी जाये।”और बेरहमी से चुदे छेदों के ढीलेपन को ले कर उसने कोई सवाल किया तो?”स्थाई जवाब.

ब्लू पिक्चर बीएफ वीडियो ब्लू

रोज मैं इसी अवतार में सोती हूं, अगर भाई मुझे नंगी सोने का टास्क न दे तो. मैं बस उसे देख रहा था और तेजी से अपनी उंगली उसकी चूत में चला रहा था. उसने जल्दी से अपना काम निपटाया और फिर हम दोनों ड्रॉइंग रूम में आकर बैठ गए.

तुम्हारे बैग में इंडिया वापस जाने का वीजा और कुछ पैसे हैं, तुम वापस इंडिया चली जाओ. प्लान के मुताबिक मैं ऋतु को एक होटल में ले जाने वाला था जो रेड के लिए बदनाम हो.

उन्होंने किस करते करते मेरी शर्ट के बटन खोल दिए और शर्ट उतार कर फेंक दी.

वो बोली- ऐसे कैसे जनाब … हमारे साथ आए हो, अकेले तो मैं नहीं जाने दूंगी. वैसे ज्योति को अपने पिता के मोटे लंड को देख कर कुछ कुछ होने लगा था क्योंकि महेश का लंड समीर के लंड से बहुत बड़ा था. अपनी नौकरी में मैं भारत के विभिन्न शहरों के साथ साथ, कई विदेशी शहरों की भी यात्रा करता रहता हूं.

उन्होंने एक हाथ से मेरे गर्दन को पकड़ रखा था और दूसरे से अपने बालों और मेरे चेहरे से खेल रही थीं. एकदम चिकनी चूत … साफ़ बेदाग सी चूत …उसकी चूत की मोटी मोटी सी फांकें मुझे दीवाना बना रही थीं. वो रोने लगी और बोली- आप नहीं चाहते कि मैं खुश रहूँ? जब से आपके सम्पर्क में आई हूँ, तब से खुल कर जीने लगी हूँ, खुल कर खाने पीने लगी हूँ, मेरे दिमाग में आत्महत्या जैसे ख्याल नहीं आते.

ऐसे करते हुए उन्होंने मुझे इशारा किया कि पीछे से मेरा ब्लाउज खोल दो.

हिंदी बीएफ फिल्म एचडी में: पहले मामा जी, फिर अनिल, फिर मैं!रात को लाईट बंद कर हम सो गए, थके थे नींद आ गई।रात को मामा जी ने अनिल को करवट दिलाई, उसका चेहरा मेरी तरफ कर दिया. फिर मैंने इधर उधर देखा और इस छत की मुंडेर पर ऐसी जगह छिप गया, जहां से उन दोनों को साफ़ देखा जा सकता था.

तब मैडम ने कहा- अब शुरू करोगे भी … या नहीं?ये सुनते ही संतोष ने मैडम को अपनी बांहों में जकड़ लिया और क़िस करने लगा. पर उसे वहां सुरक्षित नहीं लगा। फिर उसने मुझे फैसला सुनाया कि हम सामने खड़ी हुई पुराने रेल के डिब्बे में जाएंगे। वो काफी दिनों से खड़ा हुआ डिब्बों का झुंड था शायद 6 य 7 डिब्बे।मैंने उसे मना किया पर उसने मुझे समझाया कि यहां कोई नहीं आता और अगर कोई आता भी है तो वो सब सम्हाल लेगा।मेरा मन तो नहीं था इतने असुरक्षित स्थान पर लेकिन हवस के आगे इंसान की नहीं चलती. वो अभी सम्भलती कि मैंने एक ही झटके में अपना पूरा लंड उसकी चूत में उतार दिया.

मैंने देखा कि अन्दर कमलेश था और उसने लड़की को कमरे में लेते हुए ही अन्दर से गेट लगा लिया था.

सच में आपके लन्ड के आगे साहिल लन्ड तो कुछ भी नहीं!मैं उसकी बातों को सुनते हुए उसके चुचे और गांड को दबाये जा रहा था और वो भी मेरे लन्ड को सहलाये जा रही थी. उसने थोड़ा धक्का लगाया, तो रचना का गला चोक हो गया … उसके मुँह से आवाज ही नहीं निकली आंखें फ़ैल गईं. मनोज सिगरेट पीता था पर घर पर कम ही पीता था क्योंकि उसे मालूम था कि उसने सिगरेट जलाई तो दीपा भी पीयेगी और ये वो नहीं चाहता था.