बीएफ वीडियो में ओपन

छवि स्रोत,शर्लिन चोपड़ा न्यूड वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

नंगे ब्लू पिक्चर: बीएफ वीडियो में ओपन, शराब की हल्की सी खुमारी होने के बावजूद रेशमा उनके पीछे पीछे चलने लगी.

और दुल्हन सेक्सी

अगली सुबह में डरते डरते उठा और देखा कि कहीं मेरी बहन मेरी मम्मी को न बता दे. संदेश ओपन सेक्सी फोटोमैंने सोचा कि इसका पीछा करना चाहिए, कहीं निकल गई तो फिर हाथ से काम चलाना पड़ेगा.

उन्होंने मुझसे पूछा- मेरी बहू को अपने ससुर का लंड कैसा लगा?मैंने भी मुस्कुराते हुए कहा- बहुत अच्छा ससुर जी. सुहागरात की जानकारीशेखर थोड़ी देर तक धारा के हिलने या फिर यूँ कहें कि उसके खुद से अपनी गांड मरवाने का इंतज़ार करत रहा.

उनके नाज़ुक स्पर्श के आगे मैं ज्यादा देर नहीं टिक पाया और मेरा पानी निकल गया.बीएफ वीडियो में ओपन: मैंने कहा- क्या मैं जान सकता हूँ कि मुझे क्या मिलेगा?मॉम ने लंड सहलाते हुए कहा- इसे इसके लिए एक घर मिलेगा.

मैंने जो देखा उसे देखने के बाद मेरे तो होश ही उड़ गए और मुझे अपनी आंखों पर यकीन नहीं हो रहा था.ये सब जानने के बाद मैंने उससे मेल पर ही उसकी फोटो भेजने को कहा और वह मान भी गई.

सेक्सी+वीडियो+ओपन - बीएफ वीडियो में ओपन

पर मेरा ध्यान अब उसकी गांड के छेद पर टिक गया था जिसे मैंने कल सुबह ही पहली बार अपने लौड़े से खोल दिया था.मैं उसकी गांड में भी हल्का सा धक्का लगा कर धीरे धीरे से रगड़ने लगा.

वो अपने दोनों हाथों से मेरी जांघें सहलाने लगी, साथ में लंड मुँह में तेज गति से अन्दर बाहर कर रही थी. बीएफ वीडियो में ओपन ‘ऊउ ममम्मी आआह आऊच्च आह … कितना अन्दर पेल रहे हो आंह …’यही सब करती हुई रूना मेरी कमर को पकड़कर जोर जोर से हिलने लगी.

मैं- नहीं, मैं तो प्रोमोशन के लिए आयी हूं, जो मुझे सीधे रास्ते पर चलते हुए कम से कम तीन साल के बाद मिलेगी।वाइस प्रेसिडेंट- मेरी कार से निकल रंडी, मेरा टाइम खराब मत कर कुतिया!मैं- ओके, तो फिर मैं तुम्हारा और उस लड़की की चुदाई का वीडियो ऑफिस में सबको दिखा दूंगी।मैंने उसे झूठे जाल में फंसाया.

बीएफ वीडियो में ओपन?

घर से पापा का फोन आया कि मौसी की लड़की की शादी है, तो तुम दोनों घर आ जाओ. इधर आओ बाथरूम में।फिर उसने अपने गोरे-गोरे रसीले स्तनों के मुझे दर्शन करवाये।उसके दूधों को देख कर मेरे मुंह में पानी आ गया और मैं उसके दोनों दूध पकड़ कर चाटने लगा. मैं चौंका- क्या कह रही है साली … तूनेअब्बू के दोस्तों के लंडभी ले लिए?वो हंस कर बोली- तू क्या समझता है.

अब मैं अपनी चुदाई कहानी के अगले भाग में आपको बताऊंगी कि मैंने किस तरह से समीर भैया से अपनी बुर की सील फाड़ चुदाई करवाई और लगे हाथ गांड का उद्घाटन भी करवा लिया. कहानी के पिछले भागगर्लफ्रेंड की सहेली की चूत फट गयीमें आपने पढ़ा कि हम तीनों ने यानि नीता, उसकी सहेली गीता और मैंने मिलकर खाना खाया. दूसरे दिन हम दोनों भाई बहन ट्रेन में अपनी अपनी बर्थ पर जाकर बैठ गए.

आंटी आहह आहहह करके अपनी गांड आगे पीछे करने लगी थीं और मेरे हर झटके का जवाब देने लगी, Xxx गांड का मजा लेने लगी. मुझसे अब रहा नहीं जा रहा था, मन कर रहा था कि अभी जाकर मॉम को चोद दूँ लेकिन इतनी हिम्मत नहीं थी. उधर मेरी मॉम शर्म से लाल हो गयी थीं और शरारती मुस्कान देती हुई बोलीं- पागल, ऐसे कौन करता है.

अब पढ़ाई के बाद पिता जी ने मेरी शादी एक सभ्य घर में एक लड़के से करा दी, जिसका बाकी का परिवार जिसमें उसके माता, पिता गांव में रहते थे. ललिता की गांड का छेद अब खुल चुका था और दर्द की जगह अब मजा ने ले ली थी.

हम दोनों फिर से एक दूसरे के होंठों को चूमते हुए एक दूसरे को सहलाने लगे.

जैसे ही मैंने उनको कान के निचले हिस्से को चूसा, वो पागल सी हो गईं और मुझे पागलों की तरह चूमने लगीं.

तकरीबन 15 मिनट की चुसाई के बाद भी उनका लंड नहीं झड़ा, तो मैं उनके स्टेमिना की भी कायल हो गई. फिर अपनी जीभ से उसकी चूत, नीचे से ऊपर तक चाटकर पूरी जीभ उसकी चूत में डाल दीं. मैंने और जोर से धक्का लगाकर चोदना शुरू कर दिया था और उनकी चूचियों को मसल मसल कर उनका हलवा बनाने लगा था.

अब वो आहह आहह करके अपनी गांड आगे पीछे करने लगी, मैं भी तेज़ी से चोदने लगा. मगर एक जवान लंड को कौन समझाए कि सामने दिखने वाली हर हसीना चोदने के लिए उपलब्ध नहीं होती. मैं भी सोचने लगा कि यह अपनी तैयारी से आई है तो यह भी कुछ सोच कर ही आई होगी.

लेकिन पूरा गीला होने की वजह से मैं कहीं बैठ नहीं सकता था तो मैंने कहा- ऐसे ही ठीक हूँ … मैं यहीं गेट पर खड़ा हूँ.

साबिरा को मेरा साथ देते हुए देख मैंने भी उसको लौड़े के ऊपर खींच लिया और उसका मुँह लंड पर दबा दिया. अब उन्होंने मुझे टेबल पर बैठा दिया और मेरे मम्मों पर लगा केक चाटने लगे और मेरे मेरे निप्पल्स को चूसने लगे. कुछ देर बाद मैंने उसे बेंच के सहारे घोड़ी बना कर खड़ा कर दिया और पीछे से उसकी चूत में लंड डाल देकर सुपारा फंसा दिया.

मैं- आपके पति जी?भाभी- वो अपनी जॉब पर गए हैं, उनको छुट्टी नहीं मिली. मेरा आधा लंड गीता की चूत की दीवारों को चीरता हुआ चूत में प्रवेश कर चुका था. मैं भी मॉम को किस करते करते उनकी चूचियों को मसलने लगा और मैंने जोश में आकर मॉम के होंठों को काट दिया.

मैंने कहा- ठीक है लेकिन अंकल आ गए तो?वो बोलीं- अंकल 2 दिन के लिए बाहर गए हैं.

लंड का सुपारा देविका की चूत के ऊपर के लाल दाने पर रगड़ खाने लगा तो देविका फिर से सीत्कारने लगी. बाद में सुनीता ने बताया कि मेरा लंड उसके पति से काफी बड़ा था, जिस वजह से उसकी आवाज निकली थी.

बीएफ वीडियो में ओपन वो अपने एक हाथ से चूत सहलाने लगीं और कामुक आवाज कर रही थीं- आह मजा आ रहा है … और जोर से पेलो … और जोर से!मैंने अपनी गति तेज कर दी. अगली सुबह में डरते डरते उठा और देखा कि कहीं मेरी बहन मेरी मम्मी को न बता दे.

बीएफ वीडियो में ओपन मैंने आज तक तुम जैसी सेक्सी औरत नहीं देखी, पता नहीं कैसे, मैंने ट्रेन में खुद को रोक के रखा था. वो जोर जोर से कामुक सिसकारियां भरने लगी ‘उफ़ भाई … बड़ा मजा दे रहा है … आ अम्मी मर गई … आंह भाई ओर जोर से चोद दे अपनी बहन को आंह और जोर से पेल बहन के लंड.

धीरे धीरे मैं जांघ की मालिश करते करते उनके पैरों तक आ गया और उनके पैरों की मालिश करने लगा.

सेक्सी फिल्म 3g

धारा उसी तरह दबाव बनाते हुए अपने भारी-भरकम चूतड़ ऊपर नीचे करती रही और देखते ही देखते शेखर का सुपारा गांड में घुस गया. फिर मैंने एक अपनी स्पेशल चड्डी पहनी जो मेरी लुल्ली को दाब कर ऊपर से चूत का शेप देती थी. कभी कभी ऑफिस से घर लौटते समय मूड हो जाता है, तो मेरे मित्र ने एक होटल के बार को चुन रखा था.

मैं लगा रहा और वो आंह आंह करती रही अपनी चूत मेरे मुँह में देती रही. कुछ देर और जीभ चलाने से मेरी मौसी फिर से गर्म हो गईं और मुझसे कहने लगीं- ये सब बाद में कर लेना राहुल, अभी पहले मुझे चोद कर शांत कर दो. मैं अपने शरीर से निकलने वाली गर्मी को महसूस कर सकता था।थोड़ी देर बाद उसने मुझे अपने आप से अलग करते हुए कहा- अभी सही वक्त नहीं है, अभी मुझे काम करने जाना है.

मैंने कहा- भाभी, कोई आएगा तो नहीं?भाभी बोली- दरवाजा बंद है ऊपर आने का, कोई नहीं आयेगा.

ऐसा अहसास और ऐसा नजारा मेरे साथ कभी नहीं हुआ था, मुझे बहुत ही मजा आया. और तभी अचानक से रूपा का बदन अकड़ने लगा और एक तेज धार सीधे मेरे चेहरे पर आकर पड़ी. हम दोनों की रफ्तार अचानक तेज हो गई और बिस्तर पर राजधानी एक्सप्रेस दौड़ने लगी.

मुझे विश्वास नहीं हो रहा था कि मेघना और मेरे बॉस के बीच ऐसा सब हो सकता है. मैंने भाभी की गांड पर एक थप्पड़ मारा और उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया. अंकल मुझे किस करके चले गए और मैंने अगले लंड के बारे सोचना शुरू कर दिया.

फिर मैंने अपना पजामा नीचे कर दिया, पर इस बार मैं पजामा नीचे करती हुई पीछे की ओर घूम गयी, जिससे भैया को मेरा बुर दिखने की बजाए मेरी गांड दिख सकी. अगर आप लोगों का प्यार मिलेगा तो मैं इसके और भी भाग लिखने चाहूंगा जिसमें इस सेक्स कल्चर की कल्पना को आपकी सोच की सीमाओं के पार ले जाऊंगा क्योंकि मैं चाहता हूँ कि इसमें मेरी शादीशुदा बहन को भी शामिल किया जाए.

करीब दस मिनट चुदाई चलने के बाद मैंने पोजीशन बदल दी और भाभी को उल्टा लेटा दिया. उसने मुझे हग किया और मेरे लंड हाथ से दबा कर बोली- आज इसने मुझे खुश कर दिया. डबल सेक्स का मजा लिया मैंने अपनी मौसी के बेटे और सगे भाई से एक साथ चुद कर.

मगर मैंने मेरी बीवी के जिस्म पर काटने चूसने के निशाँ देखे तो …दोस्तो, मैं सुधीर, कोमल मिश्रा के जरिए आपको अपनी हॉट एंड सेक्सी बीवी की चुदाई की कहानी सुना रहा था.

अक्सर मैं और सुमन अन्नू को चिड़ाते रहते के लिए एक दूसरे के अंगों को हाथ लगाते थे, तो वो शर्मा कर वहां से चली जाती या फिर नीचे गर्दन कर लेती. साबिरा ने भी अब शर्म छोड़कर अपने हाथ ऊपर करके कहा- हां मेरे गांडू भाई, देख कैसे औरत का बदन मसलने से मजा मिलता है कुत्ते, चल दबा मेरे दूध भड़वे … उफ मानस जी पूरा घुसा दो और मेरी चूत में अपना लंड और इस गांडू के सामने मुझे हचक कर चोदो. मेरी जांघें मॉम के चूतड़ों से टकरा कर ‘थप थप …’ का मधुर संगीत बिखेरने लगीं.

मतलब वो मुझे सब कुछ करने देते थे मुझ पर किसी तरह की कोई रोक नहीं थी. मैं- नीचे देखो रेशमा, लहू निकल गया तेरा, पहले निकाल कर साफ करने दो.

मैंने भी मेरे आखिरी धक्के पूरे जोर जोर से देते हुए दोनों भाई-बहन को जमके गालियां दीं. उसकी गांड इतनी ज्यादा टाइट थी कि मेरा सुपाड़ा छिल चुका था और मुझे तेज जलन हो रही थी. इस वक्त तक बॉस का लंबा चौड़ा लंड बिल्कुल शांत होकर ढीला पड़ चुका था.

भाई का सेक्सी

मैंने उसके गाल को चूमते हुए पूछा- अब कैसा लग रहा है?रूपा- अंह अब थोड़ा आराम है अंकल.

आंटी ने बताया कि उन्होंने ललिता जी को मेरे रूम में आता देख लिया था और उनको पता चल गया था कि मैं ललिता जी को चोदता हूं. आज की इस मस्त ऑफिस फ्रेंड सेक्स कहानी में मैं आपको बताऊंगा कि कैसे मैंने मेरी सहकर्मी की चुदाई की. इतने बड़े और सुंदर स्तन थे उसके कि मैं आपको यहां पर बयां नहीं कर सकता.

पर मैं इसका श्रेय देना चाहूंगा उस दुकानवाली लड़की को, जिसने मेरे बताये हुए औरत के आकार वाली ड्रेस चुन कर दी थी. कुछ पल बाद उसने अपना हाथ नीचे ले जाकर चूत को टटोल कर देखा तो उसके हाथ में खून लगा था. ढाल सेक्सी वीडियोमेरे मन में कुछ खुराफात जागने लगी और मैंने नंगी ही बाहर निकल कर मोहन बाबू को फोन कर दिया.

कुछ समय तो मैंने बिना सेक्स के बिता लिया पर उसके बाद मुझे सेक्स की जरूरत महसूस होने लगी थी. और एक काम और कर, तेरी बहन की गांड का छेद, इतनी मरवाने के बाद भी बड़ा नहीं हुआ.

मैं जानना चाहता था कि क्या वो अपने पति से सिर्फ कम चुदाई की वजह से दुखी है या उसका पति उसकी कोख भर पाने में असमर्थ है. इतना तय कर धारा सीधी हुई और एक बार फिर से अपनी हथेली में थूक लेकर शेखर के बाहर बचे आधे लंड पे जड़ तक मल दिया और एक लम्बी से साँस लेकर एक ज़ोर का झटका देकर अपने चूतड़ को पूरा दबा दिया. चूत में भरा हुआ पानी धीरे धीरे मेरी उंगलियों को और हाथ को गीला करने लगा.

बीच बीच में मैं एक हाथ से उसके चूचे दबा देता और निप्पल को चुटकी से मसल देता. हमारी छुट्टी हुई तो मैंने रूम से बाहर निकल कर उससे उसके घर का पता पूछा. कान में हेडफोन लगे होने की वजह से मुझे पता नहीं चला कि मॉम मेरे रूम में कब आ गईं.

अञ्जलि भी नीचे से अपनी गांड चला कर मेरे लंड को अन्दर तक लेने लगी थी.

इतने में गीता आ गयी और मेरे पास बैठ कर बोली- हर्षद, यहां कैसा लग रहा है?मैंने उसके होंठों को चूमकर कहा- बहुत ही अच्छा लगा. बड़ी बड़ी आंखें, उभरी हुई चूचियां, बड़ी सी गांड और उसकी गोरी जांघें देखते ही मेरा लंड सलामी देने लगा.

करीब ग्यारह बजे मैंने जब मोबाइल चैक किया तो दोनों ही कमरे में नहीं थे. लेकिन शेखर इतनी मुद्दत के बाद सच हुए अपने सपने को टूटने भी नहीं देना चाहता था. इधर नेहा ने मेरी आंखों में काजल लगा दिया और गुलाबी लिपस्टिक भी लगा दी.

मैंने जल्दी से सामने रखी से तेल की शीशी उठाई और उसके चूतड़ों को फैलाकर उसकी गांड में तेल लगाया. मैं क्या देखता हूं कि मेरी बड़ी साली साहिबा बिना वस्त्रों के बेड पर लेट कर अपनी चूत में उंगली आगे पीछे कर रही थीं और अपनी मस्ती में मस्त होकर उस पल का मज़ा ले रही थीं. वो अदा से बोली- क्या बताओगे?फिर मैंने कहा- कितने दिन हो गए ललिता … तुझे खुद याद नहीं आती मेरी?वो बोली- हां यार आती तो है, पर क्या करूं … आजकल दिव्या मेरे साथ सोने लगी है.

बीएफ वीडियो में ओपन लेकिन तुरंत ही मैंने अपने जोश पे थोड़ा काबू किया और बेड पर बैठ कर फोन चलाने के बहाने उसे घूरने लगा।मैं उसे अपने ख्यालों में चोद रहा था … मैं ख्यालों में इतना डूबा हुआ था कि टाइम का पता ही नहीं चला और उसने पूरे कमरे की सफाई कर ली और जाने लगी।उसके जाने के बाद मैंने 2 बार मुठ मारी।मैंने सोचा इससे बात करके देखनी चाहिए शायद कुछ काम बन जाए।अगले दिन जब वो आई तो मैंने उससे बात करने की कोशिश की. पाटिल साहब ने रेशमा की दोनों टांगें खोल कर अपने लौड़े को उसकी चूत में घुसाया और साथ साथ किरण का मुँह रेशमा के भगनासा पर दबा कर उसे चूसने का इशारा किया.

पुरानी सेक्स वीडियो

दस मिनट बाद उठे, तब वन्दना बोली- मॉम, तुम्हारे आगे हम बच्चे ही रहेंगे यार … क्या मस्त तरीके से सेक्स करती हो. मैंने सोनी की तरफ उम्मीद भरी नजरों से देखा और उसकी सलवार को फिर से नीचे की तरफ सरकाने लगा. आंटी बोलीं- ये क्या कर रहे हो?मैंने कहा- आंटी आपकी गांड तो कमाल की है, लेने में मज़ा आ जाएगा.

मॉम ने कहा कि आप चिंता मत करो, किसी तरह जल्दी ही इसके दोनों छेद बड़े करवाती हूं. सुनीता की चूत पहले से पानी पानी थी, मेरे एक धक्के में ही लंड चूत में फच की आवाज के साथ अन्दर घुसता चला गया. सेक्सी पिक्चर देखने वाली सेक्सखाना बनाने के बाद जब मैं रसोई से बाहर निकली, ससुर जी सोफे पर बैठे हुए लुंगी के ऊपर से ही अपना लंड सहला रहे थे.

शायद इससे ज्यादा उसको अपनी चूत में आसानी से लंड लेने का तरीका समझ आ रहा था.

मैं भी उस तेज़ बारिश में एक अनजान आदमी से आधी नंगी होकर कामुक सिसकारियां फक़ फक़ … बोलती हुई अपनी चूत चुदवा रही थी. बातों बातों में मैंने उसे घर पर अकेले होने वाली बात को बता दिया और ऐसे ही मज़ाक में उसे अपने घर पर आने को बोल दिया.

इसमें मैंने लिखा है कि कैसे खिड़की से भाभी को लंड दिखा कर उसे चोदा था. मैंने बगल में लगी खिड़की से अन्दर झांका तो अन्दर भी एकदम रंगारंग कार्यक्रम चल रहा था. थोड़ी देर तक तो मैंने धीरे धीरे ही किया लेकिन फिर जैसे ही मैंने अपनी स्पीड बढ़ाना शुरू की तो बड़ी बहन का भी मजा बढ़ता चला गया.

पूनम अपने रूम में नाइटी में थी और उसमें से 36 इंच की चूचियों के दाने साफ़ बता रहे थे कि वो आज़ाद थे, मतलब ब्रा में क़ैद नहीं थे.

आंटी ‘ऊईई ऊई आह आह … क्या कर रहे हो अन्दर तक चोट कर रहा है धीमे चोद ना …’ कहने लगी थीं. वो अपने दोनों हाथों से मेरे दोनों निप्पलों को अपनी मुठ्ठी में भर कर दबाने लगी. मैंने उनकी कुर्ती में हाथ डालने की कोशिश की लेकिन कुर्ती टाइट होने के कारण मैं ऐसा नहीं कर पाया.

माधुरी दीक्षित के सेक्सी व्हिडीओखुश इस वजह से था कि मेरी बीवी मेघना के लिए एक ऐसे लंड की जुगाड़ हो गई थी, जिससे मुझे कोई नुकसान नहीं होने वाला था और दुखी इस वजह से था कि मुझे बनाने वाले ने मर्द नहीं बनाया था. ऑफिस स्टाफ सेक्स कहानी में पढ़ें कि एक दिन बरसात में मुझे मेरी सहकर्मी लड़की का फोन आया.

नागिन एक्सट्रीम

मैंने- हां मेरी रांड, चूस ऐसे ही मेरा लंड कुतिया, देख कैसे तेरा गांडू भाई तेरी गांड चाट रहा है बहनचोद साला … पूरा मुँह में भर ले साबिरा रंडी … आंह साली तू भी गांडू की बहन है कुतिया मादरचोदी. मैंने दीपाली के बाल पकड़े और तेज़ तेज़ धक्के लगाते हुए गालियां देने लगा- ले बहन की लवड़ी, तेरी गांड को तो मैं आज सुजा दूँगा … साली रंडी बना दूंगा तुझे!मैं अपने एक हाथ से उसके बाल पकड़ कर उसको बहुत तेज़ तेज़ चोदने लगा और कुछ मिनट के अन्दर ही दीपाली की गांड में लंड रस झाड़ दिया. धीरे धीरे करके मैं लंड पेलता गया और सुनीता की चूत ने लंड को चूत में जज्ब कर लिया.

इधर आओ बाथरूम में।फिर उसने अपने गोरे-गोरे रसीले स्तनों के मुझे दर्शन करवाये।उसके दूधों को देख कर मेरे मुंह में पानी आ गया और मैं उसके दोनों दूध पकड़ कर चाटने लगा. उससे वो बहुत गर्म हो गयी और जोर जोर से सिसकारियां लेने लगीं- आह … इनको खा ले आशीष … आंह पूरा खा ले!मैं बारी बारे से उनके दोनों मम्मों को चूसता रहा. नीता उत्तेजित होकर बोली- हर्षद, अब नहीं सहा जाता आंह और जोर से चोदो … और तेज धक्के मारो … फाड़ दो मेरी चूत को … अपने लंड का अमृत पिलाकर मेरी चूत की प्यास बुझा दो.

मेरे नंगे दूध देख कर श्याम की आंखें बड़ी हो गईं और पैंट में उसका लौड़ा फूल कर एकदम टाइट हो गया. मैं जल्दी से अपने कमरे में आई और अपनी एक रात वाली सेक्सी नाइटी निकाल कर पहन ली. उसकी चूत बहुत टाइट लग रही थी।उसने मेरे लंड को जैसे ही सेट किया मैंने जोर से झटका मेरा लंड उसकी चूत फाड़ता हुआ अन्दर चला गया।उसकी जोर से चीख निकल गई।सभी लोग सो रहे थे जिनमें से 2-3 लोग उठ गए कि क्या हुआ?एक आदमी ने हमारे स्लीपर बर्थ में आकर पूछा कि क्या हुआ? आप चीखी थी?सोनम ने कहा- पता नहीं मुझे … चीख कहीं और से आयी है।इतना कह कर हमने अपना स्लीपर बर्थ बंद कर लिया.

मॉम ने मुझसे कहा कि अभी एक शॉट लगा कर दिखाओ, मैं इसकी गांड गीली करती हूं, जिससे तेरा लंड आराम से जा सके. मैं अतिउत्तेजना में कभी कभी उनके निप्पल को काट लेता, जिससे मौसी उत्तेजित होकर मेरे सर को अपनी छाती पर दबाते हुए सिसकारियां लेने लगतीं.

लंड की टोपी के चमड़े को नीचे करके उसने पहले तो उसे बहुत प्यार से किस किया.

फिर मैंने देर करना उचित नहीं समझा, उसे बिस्तर में बीच में लाकर उसकी गांड के नीचे तकिया लगाकर चुदाई की पोजीशन बना ली. செக்ஸ் டான்ஸ்छत का फर्श बारिश के पानी से गीला हो गया था तो मैंने अपनी लुंगी घुटनों तक लेकर कमर पर बांध कर ऊंची कर ली और मैं छत पर टहलने लगा. भाई बहन की सेक्सी व्हिडिओउसके चेहरे से हल्के दर्द का पता चल रहा था, मैंने फिर आधा लंड बाहर निकाला और फिर तेजी से अन्दर पेल दिया. मूवी में वो लड़का औरत को जबरदस्त तरीके से चोद रहा था और औरत आहहह आहहह करके अपनी गांड आगे पीछे करके मस्ती से चुदवा रही थी.

किरण तो जैसे चुदने के लिए तड़प रही थी, तो उसने झट से मेरी गोदी में आकर अपनी फूली हुई गांड रख दी.

शेखर का लंड और धारा की गांड का छेद दोनों पहले से ही पूरी तरह से गीले थे. उसके कपड़ों के साथ ही मैंने भी अपनी बनियान और पैंट को भी निकाल दिया था. अब मैं अपनी बहन से बहुत रिक्वेस्ट करने लगा कि वो घर में किसी को न बताए.

सोनम फ्रंट सीट पर बैठकर मेरे लन्ड को पैंट के ऊपर से पकड़ कर दबा रही थी और साथ में रास्ता भी बता रही थी।कुछ देर कार ड्राइव के बाद हम दोनों सेलेक्ट सिटीवॉक मॉल पहुंच गए. जब भी मैं कोमल के पास जाता तो मैं भाभी की बात शुरू कर देता और भाभी की तारीफ भी खूब करता. तो रमन ने कहा- एक रात और रुक जाओ, कल चली जाना, जहां कहोगी वहाँ छोड़ आऊंगा।दो चुदाई से मेरी भी प्यास कहां बुझने को थी, मैंने चेहरे की खुशी छुपाते हुए हां कर दी।हां करने की देरी थी, रमन फिर मुझे चोदने को तैयार थे।उन्होंने मेरे भीगे बदन से तौलिया खींच फेंका, अपने बेडरूम में मुलायम बिस्तर पर धकेल दिया और मेरी चूत में उंगली करने लगे.

कहानी अच्छी वाली कहानी

वो बोली- हां, वैसे भी आम चूसने के बाद गुठली को कौन सहेज कर रखता है. मैं नशे में था तो मैंने उसे कह दिया कि कुछ साल पहले तूने मुझे प्रपोज़ किया था, तब मैंने तुझे मना कर दिया था. अब वो अपनी कमर को आगे पीछे करती हुई हिलाने लगी और लंड उसकी चूत में अन्दर बाहर होने लगा.

मैं चूंकि क्लीन शेव्ड रहता हूँ तो मेरे होंठों पर लिपस्टिक ने मुझे एकदम किसी लौंडिया जैसा रूप दे दिया था.

दोनों ने अपने अपने बारे में बताया और एक दूसरे को समझा जिससे हमारे बीच दोस्ती और भी गहरी हो गई.

मैंने भी अपना लंड भाभी की चूत की फांकों में लंड का सुपारा फंसाया और पेलने को हुआ. मैं उनकी शर्ट से दिख रहे छाती के बाल और पसीने के साथ साथ उनकी पैंट की जिप को भी देख रहा था. हिंदी में सेक्सी वीडियो कॉलउसने अपनी टांगें खोल कर उसने मेरे लिए अपनी जांघों के बीच में जगह बना दी और मेरा लौड़ा अपनी फुद्दी पर लगा लिया.

मैंने सर से पास होने के लिए नकल की जुगाड़ के लिए पूछा, तो सर ने उस दूसरे आदमी की तरफ इशारा करते हुए कहा- अरे तुम चिंता मत करो, यही सर सब करवा देंगे. 5 इंच का पूरा लंड अपने मुँह में लेने की कोशिश कर रही थी लेकिन पूरा नहीं ले पा रही थी तो आधा लन्ड मुंह में लेकर चूसने लगी।मुझे बहुत अच्छा लगा रहा था. छोटी होने के बावजूद उसको ये पता था कि ऐसी बातें किसी को बताते नहीं हैं.

उसने मुझे बताया कि शनिवार की रात में पार्टी करेंगे और मैं उस दिन दारू पीकर घर भी नहीं जा सकती, तो मैं तुम्हारे रूम पर ही रुक जाऊंगी. उन्होंने लंबे लंबे करारे करारे शॉट लगाने शुरू किए और साथ में पीछे से हाथ डालकर मेरे बूब्स को मसलना शुरू किया.

मॉम के दोनों पैरों को पकड़ कर लंड चूत में डाल कर ताबड़तोड़ चोदने लगा.

मैंने कहा- गीता, तुम्हारे पति तुम्हें पूरी तरह से संतुष्ट नहीं कर पाते हैं क्या?इस पर गीता बोली- मेरे पति अच्छे हैं, उन्होंने बहुत धन दौलत कमाई है, लेकिन उनके पास मेरे लिए समय नहीं है. शेखर के अंडकोश के साथ धारा अब भी वैसे ही खेल रही थी जैसे थोड़ी देर पहले से चला आ रहा था. ऊपर से उसका ऑपरेशन होने के बाद उसकी चूत बहुत खुली खुली सी हो गयी है.

सेक्सी फिल्म फोटो सेक्सी तो मैंने पूछा- भैया ये किसके लिए?उन्होंने कहा कि ये तुम्हारे लिए ही है और भी कुछ है इसके साथ, वो भी तो देखो. कायदे से तैयार होकर हम दोनों क्लाइंट से मिलने निकल पड़े और कुछ ही देर में वहां पहुंच गए.

उन्होंने इसका करारा जवाब देते हुए मेरे मुँह के अन्दर तक जीभ घुमा घुमाकर मेरी जीभ को चूसना शुरू कर दिया. वो बोलीं- फिर अकेले में ललिता भाभी क्यों बोल रहे हो? क्या ललिता बोलने में कोई दिक्कत है?मैंने भाभी के गाल को चूमते हुए कहा- नहीं मेरी जान ललिता, प्लीज़ मान जाओ ना. मैं देविका की गीली चूत को सहलाने लगा, तो वो जोर जोर से सिसकारियां लेने लगी.

हिंदी पिक्चर हम साथ साथ

मैंने भी कहा- जिसके लिए मैं आया हूँ वो तो करूंगा ही, बाकी तुम जैसी लड़की को पाकर मैं खुद बहुत खुश हूं. और इसका नतीजा यह हुआ कि वो मुश्किल से पांच मिनट में अपना काम रस मेरे मुँह पर छोड़ती हुई स्खलित हो गई. उसने अपना सर उठाकर कहा- सच हर्षद?मैंने उसके आंसू पौंछकर कहा- हां सच में!इतना कहकर मैंने अपने दोनों हाथों में उसका चेहरा पकड़ा और उसका माथा चूम लिया.

कुछ देर में भाभी आई और बोली- कुछ चाहिए तो … पानी वगैरह?मैंने कहा- कुछ नहीं चाहिए. धीरे धीरे करते हुए मैंने अपना मूसल जैसा लंड उसकी नन्हीं सी गांड में जड़ तक पेल दिया.

मेरा मकसद उनका लंड देखना था और साथ ही उनकी अधखुली शर्ट भी निकाल दी लेकिन मैं बनियान नहीं निकाल पाया.

ट्रिपल सेक्स की कहानी में मैंने दो सगी बहनों को चोदा होटल के कमरे में! उनमें से एक का पति सामने बैठ कर सारा खेल देख रहा था. मैं सोचने लगा कि साला मैं गधा, बगल में इतनी मस्त माल को छोड़ दूर की तितलियों को निहारता रहा. मैंने उससे पूछा- क्या तुम अभी मां नहीं बनी हूँ और तुम्हारी मुख्य समस्या क्या है.

मैंने झट से पूछा- क्या है?वो बोलीं- मेरी अम्मा जी दो दिन के लिए दिव्या और मुहल्ले की औरतों के साथ हरिद्वार जा रही हैं. एक दिन मेरी सासू मां और उसके बेटे को उनके कोई निजी काम से एक दिन के लिए दिल्ली जाना पड़ा. कुछ मिनट तक चूसने के बाद भाभी मेरा सिर अपने चूत में दबाने लगीं और अकड़ कर झड़ गईं.

ऐसे ही वो एजेंट मेरे लिए कभी कोई कॉलेज की लड़की को भेजता तो कभी किसी हाऊस वाइफ भाभी को.

बीएफ वीडियो में ओपन: वह पोर्न मूवी की हीरोइन की तरह लौड़ा को चूस रही थी- आह साले, कब से इसको देख रही थी. मॉम ने अपनी पैंटी पहले ही उतार दी थी इसलिए अब वो मेरे सामने पूरी नंगी लेटी थीं और मस्त माल लग रही थीं.

मेरा बेटा भी जवान हो गया है, तो एक बार वो अपनी गर्लफ्रेंड को घर लेकर आया था और चोद रहा था. ऐसे ही एक दिन मुझे मुलुंड में कुछ काम था, तो मैं घर से जल्दी निकल गया था. एक दिन में सबसे ज्यादा 7 बार मैंने उसे चोदा बाकी दिन कभी 3 बार तो कभी 4 बार ही चुदाई होती थी.

गीता जोर से चिल्लाने लगी- उई माँ मर गई रे … आह उन्ह ऊ हाय ओह फाड़ दिया रे … मेरी चूत को … उई माँ मुझे नहीं लेना तुम्हारा लंड हर्षद.

मैं लगातार उसकी चूचियों को दबाते हुए बदल बदल कर एक दूसरे का रस पीता रहा. पहला नाम मैंने समीर भैया का लिखा क्योंकि मुझे अपनी बुर की सील उनके ही लंड से तुड़वानी थी. धारा की गांड का छेद शेखर के आधे लंड का रास्ता खोल चुका था, अब बस एक-दो ज़ोरदार झटके की ज़रूरत थी और पूरा क़िला फ़तह हो जाता.