छोटी लड़कियों की बीएफ पिक्चर

छवि स्रोत,औरत का भोंसड़ा

तस्वीर का शीर्षक ,

बंगाली क्सक्सक्स: छोटी लड़कियों की बीएफ पिक्चर, दोपहर में खाना खाते वक्त पापा और मामा जी ने तय किया कि आज शाम को ही मम्मी को लेकर दिल्ली निकालना है.

हीरोइन xxxx

अगले भाग में चाची की बड़ी बहन परवीन आंटी को कैसे पटाया और कैसे चोदा … ये सब जानिए. औरत पटाने के तरीकेवो बड़बड़ाने लगी- आह इस राजधानी एक्सप्रेस रेल को बुलेट ट्रेन बना लो, चोद दो मुझे … बिल्कुल भी रहम मत करो मेरी इस गुलाबो पर … इसको गुलाबो से लाली बना दो.

फिर अपने लौड़े पर बैठाकर चोदने लगा। लंड अंदर बच्चादानी में टकराने लगा. पुलिस वॉलपेपरमैं उसके लंड के सुपारे का मांस खींच कर जितना बाहर ला सकती थी, ले आई.

30 बज रहे हैं और मैं अपने आफिस के स्टूडियो में दो नई मॉडल्स का फोटो शूट कर रहा हूँ, तभी मेरे फ़ोन पर नीरू की कॉल आती है।नीरू मेरी माशूक है, वो शादीशुदा है और तीन बच्चों की माँ है.छोटी लड़कियों की बीएफ पिक्चर: आप सभी को मेरी मौसेरी बहन की चुदाई की कहानी कैसी लगी मुझे मेल करके जरूर बताना। अगर आप सभी का पॉजिटिव रिव्यू आया तो मैं आगे जरूर लिखूंगा।मेरी ईमेल आईडी है[emailprotected].

मैंने नीचे पेटीकोट नहीं पहना था। साड़ी निकलते ही उसे मेरी चूत काली पैंटी में फंसी दिखी.इस पर संजू बोली- बेड गंदा हो जाएगा ना!विक्रम बोला- नहीं होगा … मैं सब पी जाऊँगा.

wwww एक्सएक्सएक्सएक्स - छोटी लड़कियों की बीएफ पिक्चर

जब होंठों से होंठ मिल गए … तो मेरे हाथ भी बेकाबू हो गए और उसके सिर पर से फिसलकर उसकी पीठ पर आकर रेंगने लगे.रिचा पूरी ताकत से अपनी चुतड़ को ऊपर नीचे करने लगी थी यानि उसकी चुत मेरे लंड को खाने के लिए एकदम से तैयार थी.

वैसे दोस्तों चोरी से लंड चूसने में भी लड़कियों को एक अनोखा मजा आता है. छोटी लड़कियों की बीएफ पिक्चर अचानक मेरी आँखों के तारे से चमकने लगे और मुझे अपने लिंग में भारी तनाव और भारीपन सा महसूस होने लगा। जैसे एक लावे का सैलाब (गुबार) सा मेरे शरीर में उठने लगा है और फिर.

कुछ लड़कियाँ अनजाने में या धोखे से, कुछ मजबूरी में और कुछ तो सिर्फ मज़े के लिए अपनी चूत की सील तुड़वा लेती हैं।आजकल के समय में तो लड़कियों की सील कम उम्र में ही टूट जाती है और शादी होने से पहले ही चूत भोसड़ा बन जाती है.

छोटी लड़कियों की बीएफ पिक्चर?

मेरी मां और मामा जी ने किसी तरह मुझे उन दोनों लड़कियों को देखने के लिए राजी कर लिया. मैं भी उसके लंड पर बीच बीच में काट लेती थी, जिससे उसको बहुत मजा आ रहा था और वह मेरा सर पकड़ कर अपने लंड पर मार रहा था. उसने उठ कर मुझे फिर से जैल पकड़ाई और फिर से घोड़ी बन कर अपनी गांड का मुँह मेरी ओर कर दिया.

फिर मां ने फोन मेरी तरफ कर दिया- तेरे जीजा कुछ बात करना चाह रहे हैं. इसलिए मैंने मकान मालकिन को‌ बाहर ही बुला लिया और उसे वो दवाई देकर चुपचाप अपने कमरे पर आकर सो गया. जैसे ही मेरा लौड़ा पूरा तन कर खड़ा हो गया, शीना ने उसको चूसना छोड़ दिया और सीधे से वो मेरे लण्ड को अपने हाथ में पकड़ के अपनी चूत मैं घुसाने के लिए उस पर बैठ गई.

उस पैकेट में एक छोटी सी किताब भी थी … जिस पर अभी तक मेरा ध्यान नहीं गया था. तो पता चला कि उसने अपनी पैंटी एक पैर की खोल करके मेरी तरफ वाले पैर में की हुई थी. अब रवि ने अपना हाथ पिंकी की टी-शर्ट के अन्दर डाल कर उसके मम्मों को सहलाना शुरू किया.

चार पांच धक्कों के बाद वो जोर से ‘आह आह ओह ओह साहब जी … मैं गयीईईई …’ बोल कर झड़ गयी. ये बोल कर मैंने नीरू के कंधे को चूमा और धीरे धीरे धक्के मारने शुरू कर दिए.

मैंने देखा उसकी गांड की दरार खुल चुकी थी और उसकी गांड का गुलाबी छेद साफ दिख रहा था.

मैं खुद के झड़ने से पहले शायरा को अब एक बार फिर से ठंडा करना चाहता था.

मैंने उस मूवी के टीवी में एक दो बार ट्रेलर देखे थे इसलिए मुझे ये तो पता था‌ कि उसमें कुछ किसिंग सीन हैं … मगर ये बिल्कुल भी नहीं पता था कि‌ उसमें इतना एडल्ट व बोल्ड सीन भी होंगे. प्रीति दर्द से कहने लगी- क्या हुआ?मैंने कहा- झड़ने के बाद भी लंड बाहर नहीं निकल रहा है. उसने ‘जंगल है आधी रात है, लगने लगा है डर’ म्यूजिक लगा दिया और सब लोग अपने अपने पार्टनर्स के साथ डांस करने लगे.

उसने नीले रंग की साड़ी डाली हुई थी … रंग गोरा था उसके बूब्स कुछ 34 के आकार के होंगे. दो तीन धक्के लगाए … फिर बोला- तकलीफ तो नहीं हो रही … वरना निकाल लूं?मैं चुप रहा, तो बोला- अब थोड़ा सहन करना. जब मेरे लंड ने सरनी की फुद्दी को टच किया, तो वो फिर से खड़ा होने लगा.

मेरे एक स्टूडेंट ने होम वर्क नहीं करने का एक ऐसा कारण बताया, जिसे सुनकर मैं हिल गया.

कॉलेज लाइफ के बारे में बड़ा रोमांच था और चढ़ती जवानी मुझे कुछ बहकाने में लगी थी. मगर मुझे क्या पता था कि आज मुझे इससे ज्यादा और भी कुछ मिलने वाला था. वैसे यह बताओ कि तुम अभी कहां रह रहे हो?तब उसने बताया कि अभी तो होटल में हूँ मगर कोई अच्छी जगह किराए पर देख कर वहां चला जाऊंगा.

अब आगे:उस दिन भी शायरा को लेने जब मैं उसके बैंक गया, तो उसकी सहेलियों ने मुझे उसका पति समझकर काफी हंसी मजाक किया. मैंने कुछ नहीं कहा और ऊपर सर उठा कर उसकी आंखों में वासना से देखने लगा. मैं भी कानपुर में पढ़ाई करता हूं तो मैं भी छुट्टियों में घर गया हुआ था। सब मजे में एक दूसरे के साथ मस्ती करते हसी मजाक करते घूमते फिरते। छुट्टियां अच्छी बीत रही थी.

इसलिए शायरा को जल्दी से ठंडा करने के लिए मैंने शायरा के ऊपर लेटकर तेजी से धक्के लगाने शुरू कर दिया.

अपनी पैन्टी को मेरे लंड पर मसलते देख कर वो रांड हंस कर बोली- लगता है आज तेरे लंड में ज्यादा ही आग लगी हुई है. मैंने पूछा- बोल खुश है ना!वो बोला- जी, आपने इसे पता नहीं क्या खिला दिया है.

छोटी लड़कियों की बीएफ पिक्चर दस लोग बैठे हों, तो भी मैं उसे इशारा कर देती हूँ कि जाओ पहले बटर खा लो वरना भांग अफीम मिलेगी. चुत का पानी निकलने से शायरा तो ठंडी पड़ गयी थी … पर मैं उसी पोज़िशन में शायरा की चूत मारता रहा, जिससे कुछ देर बाद ही शायरा फिर से जोश में आ गयी.

छोटी लड़कियों की बीएफ पिक्चर मेरी आँख अपने आप बंद हो गई। धीरे से उन्होंने मेरे ब्लाउज को मेरे जिस्म से अलग किया।मेरे दोनों बड़े बड़े दूध ब्रा के बाहर निकलने को बेताब थे. मैंने पूछा- जब आप कॉलेज आ जाती हैं तो बिटिया को कौन देखता है?उन्होंने बताया कि मैंने एक नौकरानी रखी हुई है, जो दिन दिन में घर का काम करती है तथा बच्ची को भी देखती है.

आरिषा भाभी ने अपनी साड़ी को पैरों से ऊपर उठाया और कामुक आवाज़ में बोलीं- रामू लो … मेरे पैरो पर आगे भी बाम लगा दो.

भोजपुरी गर्ल सेक्स वीडियो

हम दोनों ने ही अब पूरी जी-जान लगा कर चुदाई करना शुरू कर दी थी, जिससे मेरी और शायरा की सांसें अब फूल गयी थीं. फिर मैंने रूम की चाबी को डोर मैट के नीचे रख दिया और कागज पर एक मैसेज लिख कर छोड़ दिया- तुम्हें आज मेरे नियम मानने होंगे, चाबी मैट के नीचे है. दोस्तो, उस समय मुझे समझ नहीं आ रहा कि क्या सही है और क्या गलत … बस मुझे अच्छा लग रहा था.

और मैं बिना शायरा को प्यार किए मरना नहीं चाहता था … इसलिए मैंने किस को रोक दिया. मैं उस लड़की को देख कर ही सोच लिया कि अगर इसका पिता हां कर दे, तो मजा आ जाए. मगर बीवी की चूत खुली हुई थी इसलिए सोफिया की कुंवारी चूत वाला मजा कल्पना में भी नहीं मिल पा रहा था.

फिर मैंने उससे पूछा- क्या तुम हमेशा ऐसे ही चूत को साफ रखती हो?तो वो बोली- जी साहब … क्योंकि साहिल जी को मेरी ऐसी ही चूत पसंद है.

मामी बोलीं- अब तक तुम क्या करोगे?मैंने कहा- मैं आपकी गांड में देसी घी डालकर आपकी गांड को चाटूंगा. मैंने अपने मुंह को थोड़ा खोलते हुए उनकी जबान को अन्दर लिया और उसे चूसने लगा. दोस्तो, नंगी लड़की के जिस्म की कहानी में लंड चुत के मिलन का रस टपकने लगा है.

उनकी पलकें हल्की हल्की काँप रही थी जिन्हें मैं अपने होंठों से महसूस कर सकता था. बस में खूबसूरत भाभी के साथ यह हसीन चुदाई की रात मैं कभी नहीं भूल पाऊंगा. उसने अपना वादा कैसे निभाया और उसने किससहेली की चूत दिलवाईया वो खुद ही मेरे लंड से चुदी?वो घटना मैं आपको अपनी किसी अलग स्टोरी में बताऊंगा.

मैं उसके जिस्म के हर एक अंग को चाटना चाह रहा था और उसके बाद चुदाई करने वाला था. वो मेरा मुँह देखती हुई बोली- मैडम सच बोला आपने … ये सारा मेरा है?मैंने कहा- हां.

मकान मालकिन- क्यों … ऐसा क्या कर दिया था तुमने?मैं- वो ना … उसकी‌ साड़ी एक कील में फंस गई थी. अब आगे:फिर रोहित की मामा की लड़की ने मुझे पानी पीने के लिए दिया, मैंने पानी पिया।हम लोग खूब बातें कर रहे थे. वो बोलीं- मुझे आपसे सेक्स करना है … इसीलिए मुझे आपका कुछ टाइम चाहिए.

काश ऐसा हो जाता तो बड़े मजे से मैं सुगंधा भाभी के मम्मों को सहला कर मजा ले लेता.

मैं सोचने लगा कि अब ये क्या हो गया है … कहीं शायरा ने मकान मालकिन‌ को कुछ बता तो‌ नहीं दिया. अगले दिन दोपहर को मीरा मेरे घर आई और बोली- विजय, मैं सारी रात सो नहीं पाई हूँ. घर पहुँचकर पता नहीं कब ऐसा मौका मिलता है।”रात का खाना खाने के बाद हम दोनों टीवी देख रहे थे.

अनिता का काम जल्द समाप्त हो जाए, इसलिए अविना भी रसोई में उसका साथ देने लगी. मेरे दोस्त की सिस्टर की चुदाई कहानी पर मुझे अपना फीडबैक देने के लिए कृपया ईमेल ज़रूर करें, ताकि कहानियों का ये दौर, अन्तर्वासना की चुदाई की कहानी वाले पोर्टल पर … आपके लिए यूँ ही चलता रहे.

”हम दोनों खिलखिला के हंस पड़े।तुम दोनों को पता है?”अंजू ने मम्मी का पल्लू गिराया, दोनों चुचियाँ दबाईं- हाँ उसे और उसके लण्ड को आपकी याद आ रही थी। आज स्पेशल प्रोग्राम होगा. रोशिता के मुंह से लन्ड शब्द सुनते ही मैंने उस डिल्डो को अपने मुंह में ले लिया और चूसना चालू कर दिया. न जाने कैसे उसने मुझे देख लिया और वो एकदम से घबरा कर अपने बदन को ढकने लगी.

एप्पल का मोबाइल दिखाइए

मॉम भी अब अपनी मोटी गांड उठा उठा कर अंकल का साथ दे रही थीं और बोल रही थीं.

उसकी जांघें जैसे खुद ही फैल सी गयीं और उसने मेरे हाथ को अपनी चूत पर पूरी पकड़ बनाने के लिए जैसे रास्ता दे दिया. फिर दोनों 69 की पोजीशन में आ गए। चूमा चाटी के बाद मैंने उसकी चूत में उंगली की और फिर उस सुहागन की चुदाई करने लगा. ऐसे ही डॉक्टर साहब के बड़े भाई भी मेरे क्लास फैलो थे, वे भी तब मेरे जैसे ही माशूक थे.

अब मैंने तुरंत आंखें बन्द करके मजे लेने लगा कि अनामिका क्या कर रही है, ये देखता हूँ. काफी देर तक मालिश करने के बाद डॉक्टर ने मुझे नहाने के लिए कहा और इशारे से बाथरूम का रास्ता बता दिया. मैं तुमसे सेक्स करना चाहती हूँफिर मैंने एक बार फिर से उसके लंड को बाहर खींचा और दोबारा से अंदर ले लिया.

उसके हाथ मेरे लंड को पकड़ने लगे, जिससे मेरे लंड में फिर से हलचल शुरू हो गई और वो कड़ा होने लगा. सीमा की टाँगें अपने कंधों पर रखकर मैंने अपना लण्ड उसकी चूत में पेला तो उसकी बच्चेदानी के मुँह तक पहुंच गया.

मैंने अपनी पत्नी से बोल दिया- ठीक है, जब तुम अपनी सहेलियों के पास से लौटना, तो आने से पहले मुझे एक कॉल जरूर कर लेना ताकि मैं भी अपना काम समेट लूं. ”कुछ बताकर गयी?”हओ … गुप्ताजी ती बेटी ती सगाई हुई है तो उनते यहाँ लेडीज संगीत में गई हैं. दरवाजा खुला हुआ ही था इसलिये मैं भी अब अन्दर आ गया, मगर अब अन्दर भी कोई नहीं था.

वो मेरे लंड से चुदने के लिए मचल उठी थी, तो मैंने उसे अपने कमरे पर आने के लिए राजी कर लिया था. मेरा लंड बार बार मौनी की चूत के बारे में सोच सोच कर मुंह उठा रहा था. बस दो ही मिनट में शीना ने अपना पूरा भार मेरे ऊपर डाल दिया और तेजी से झड़ने लगी.

मेरा भाई घर वापस आने वाला था जिसके बारे में पता लगते ही बिक्कू की गांड फट गई और उसने मुझे ऐसे ही तड़पते हुए छोड़ दिया.

उसको भी मैंने अपने जाल में फंसाया और उसे भी अपनी चुत चाटने वाला बना लिया. अनीता जब अपनी चूत को ऊपर लाती, तब मैं ऊपर से जोर लगा कर उसकी चूत में अपना लंड घुसेड़ देता.

वो एकदम से बोला- साली!! तू यहां क्या कर रही है??मैंने तुरंत उसके मुंह पर एक तमाचा मारा और बोली- साले चूतिये, तूने मुझे धोखा दिया? मैं कितना प्यार करती थी तुझसे, किसी और को मैंने देखा तक नहीं. चूचियां दबाती ब्रा और चूत रगड़ती पैंटी मुझे मादक और गर्म कर रहे थे।मैंने पेटीकोट और ब्लाउज़ नहीं पहनी और एक नीले रंग की पारदर्शी साड़ी पहन ली साड़ी के बाहर से ही मेरी ब्रा में दबी चूचियां और पैंटी में चूत दिख रही थी।तभी सूरज का फोन आया- हैलो मैं सूरज हूं. उसने सबसे पीछे की कतार में कोने की टिकेट्स ले लिए और मुझे पिक्चर हॉल में ले गया.

फिर अंकल ने मॉम को नीचे लेटाया और ब्लाउज़ के ऊपर से ही उनके चूचों को मसलने लगे. इस समय पिंक कलर की ब्रा पैंटी में वो एक मस्त पोर्न स्टार लग रही थी. मैंने मामी की दोनों टांगों को उठाकर अपने कंधे में रख लिया और उनकी चूत को अपने लंड से सहलाने लगा.

छोटी लड़कियों की बीएफ पिक्चर अब क्या कर दिया मैंने?उस समय जैसे मेरे दिमाग में कई सारे ख्याल आ गए थे. कुछ देर बाद मैंने भी ऑफिस में कहा- मेरे घर से फ़ोन आया है, इसलिए मुझे वापिस जाना होगा.

बर्बादी शायरी

वो …मैं- ये क्या, ये तो बहुत छोटे ले आई तुम!मैंने एक ब्रा को खोलकर देखते हुए कहा. बर्फ की ठंडक महसूस करते ही अनामिका आंख खोलते हुए बोली- आह जीजू क्या कर रहे हो … बहुत ठंडा लग रहा है. पर उसमें भी उसे मजा आ रहा था।कुछ देर में सौरभ ने अपना माल सोनाली की गांड में गिरा दिया और उस पे ही लेट गया। मालविका ने सौरभ की गांड से लण्ड निकाला नहीं था। मेरे हर धक्के पे मालविका और सौरभ की गांड फट रही थी.

जब उसको जवाब नहीं मिला तो वो फिर बोला- भाभी, आप बिल्कुल भी घबराइये मत, ये बात केवल आपके औरे मेरे बीच में रहेगी. हम लोगों का जीवन बड़ा सुखमय व्यतीत हो रहा था लेकिन चार साल पहले कुछ ही दिनों के अन्तराल पर हम दोनों के साथ अचानक घटी घटनाओं ने हम दोनों का जीवन छिन्न भिन्न कर दिया. रिकॉर्डर सेक्सी फोटोसाथ ही साथ एक चूड़ी का डब्बा निकाल कर रिचा की दीदी को देते हुए बोला- दीदी, इस चूड़ी को वापस करके पिंक कलर की चूड़ी दे दीजिएगा.

मैंने कमरे से कॉलेज जाने के लिए साइकिल ली हुई थी, पर अब मैंने अपने पिताजी से एक बाइक की डिमांड कर डाली.

अब मैं आराम से उसकी चूत में उंगली डाल कर अंगूठे से चूत के दाने को मसलने लगा. भाभी इस हमले को सह नहीं पाई और वो एकदम से चीखने ही वाली थी कि मैंने अपने होंठों से उसकी आवाज को एकदम दबा दिया.

बहन भाई सेक्स की कहानी में पढ़ें कि मेरी जवानी आते ही भैया की नजर मुझ पर पड़ गयी. मुझे देख कर देविका बोली- मैं मम्मी को बोल कर आई हूँ कि आज घर नहीं आ पाऊंगी अपनी सहेली के घर रुकी हूँ. बस ऊपर के दो कमरे किराये पर दे रखे थे जिसमें रोहित और उसकी मामा की लड़की रहती थी।रोहित तो मुझे देख कर बहुत खुश हो गया.

फिर उसने अपना लंड निकाल लिया और उसको मेरे होंठों व चेहरे पर रगड़ने लगा.

फिर मैंने अपने लन्ड को उसके हाथ में दे दिया।लन्ड की फूली हुईं नसें साफ-साफ दिख रही थीं और सुपारा फूलकर बहुत बड़ा हो गया था. उसके मामा की लड़की को मेरी दीदी भी जानती थी।बहुत बार रोहित ने अपनी मामा की लड़की से मेरी बात भी करवायी थी. मैं भी कानपुर में पढ़ाई करता हूं तो मैं भी छुट्टियों में घर गया हुआ था। सब मजे में एक दूसरे के साथ मस्ती करते हसी मजाक करते घूमते फिरते। छुट्टियां अच्छी बीत रही थी.

मारवाड़ी मंगलसूत्र डिजाइन goldवो मेरे सामने कुतिया बन गई और मैंने उसकी चूत पर लंड लगा कर उसकी चूत की चुदाई शुरू कर दी. मैं बहुत तेजी से ऊपर हुआ, भाभी ने टांग एकदम मेरी पीठ के ऊपर डाली और मैंने एक ही बार में आधा लंड भाभी की चूत में घुसा दिया.

गोर कैसे हो

मैंने बोला- अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है … प्लीज अपना लंड जल्दी से अन्दर डाल दो. शीना ने पूरा पानी पीकर फिर से मेरा लौड़ा चूस के पूरी तरह से साफ़ किया. ’ का मैसेज आ गया था और वो मुझे अकेले में मिलकर अलग ढंग से इजहार करने की इच्छा रख रहा था.

इधर भाभी को देखकर मेरा मन कर रहा था कि अभी के अभी भाभी को पूरी नंगी कर दूं और फिर से उनकी चुदाई शुरू कर दूं. और थोड़ी देर में अपने पेन ड्राइव से ऑफिस में जाकर प्रिंट लिया और सबको एक एक टेस्ट पेपर दे दिया।1 घंटे का टेस्ट था. मैंने उसे अपने मोबाइल में वीडियो दिखाया और समझाया कि ऐसा कुछ नहीं होता.

पर उन लोगों ने ये तय किया कि अभी इस विषय में कोई जल्दीबाजी नहीं … अभी आपस में आत्मीयता और बढ़ने दो. मैंने भी उसको अनसुना कर दिया और तेज़ी से अपना लन्ड उसकी चूत में पेलने लगा. बाद में उस यात्री की यही दिक्कत, मेरी इस बस की यात्रा को बेहतरीन बनाने वाली घटना बन गई थी.

रेलवे के दैनिक श्रमिक संग अट्टा बट्टाइसी कड़ी में अपने अगले अनुभव को आपके साथ लिख रहा हूँ. चाची- इतना तेल क्यों?मैं- आपकी मसाज करने के लिए … आप भी मुझे तेल लगा कर मालिश कर देना.

तौलिए के हिस्से से बाहर निकली मेरी उंगलियां उसकी पीठ पर ऐसे महसूस हो रही थीं, जैसे किसी खरगोश की बाल वाली पीठ पर हाथ फेरना लगता है.

विक्रम और संजू ने किसिंग के लगभग सारे पोज अपना लिए थे, पर अभी भी वो लोग चूमने में लगे हुए थे. चुदाई करते हुए वीडियोभाभी न तो मुझे रोकना चाहती थीं और न ही मुझे चोदने के लिए आगे बढ़ने दे रही थीं. देहाती ब्लूतभी कमरे से एक लड़का बाहर आकर आंटी को बुलाने लगा- चल साली, तू इधर क्या कर रही है, तेरी सहेली अन्दर मस्त चुदाई करवा रही है और तू यहां बाहर बकरचोदी में लगी है, चल साली तू भी आ जा, मैं आज तेरी गांड का भुर्ता बना देता हूँ. बस फिर क्या था … मैंने उसे हग कर लिया। उसके सुर्ख लाल गुलाबी होंठों को अपने होंठों से जोड़ दिया।क्या अद्भुत आनंद आ रहा था … मैं तो जन्नत में था.

यू!इतना सुनते ही उसने कहा- बोल लिए? अब जाओ … मैं नहीं करती तुमसे प्यार!ये कहकर वो चली गयी.

मगर कॉलेज खत्म होने के‌ बाद जब मैं वापस जाने लगा … तो बस स्टॉप पर वो लड़की फिर से मुझे वहां मिल‌ गयी. उसने ये भी बताया कि बड़े चाचा ने उनके मांसल शरीर और बड़े स्तन और बड़ी गांड देखकर ही शादी की थी।मजे की बात तो ये थी दोस्तो कि शादी फिक्स होने के बाद सगाई से पहले बड़े चाचा ने बड़ी चाची कोखेत में चोदाथा. मेरे वहां से जाने का समय हुआ, तो वह भावुक हो गईं और मेरे बैग में चुपके से एक लिफाफा रख गईं.

तभी मेरे पति ने मनोज से पूछा- आपकी इंडस्ट्री डिपार्टमेंट में कोई पहचान है?मनोज- हां, वहां का डायरेक्टर मेरा बैचमेट है. अनीता बोली- आपने पिया तो है … क्या आपको मजा आया?मैं बोला- अनु … सच में जो मजा आज मिला है. अब मैंने उसका मुंह खोला औरबहन की गान्डमारनी शुरू की।वो ऐसा पल था कि बस मानो जन्नत मिल गई हो।कुछ देर तक गान्ड मारने के बाद हम अब थक चुके थे।उस रात तीन राउंड चोदने के बाद हम बुरी तरह थक गए थे.

पंजाबी सैड सॉन्ग

उसको साफ साफ कह डाला कि एक रात मैं जी भर कर तुम्हारी चुदाई करना चाहता हूं. संजू ऊपर से सिर्फ केलविन क्लेन की महंगी ब्रा में थी, जिससे उसके आधे से ज्यादा मम्मे साफ़ दिख रहे थे. ऐसा कहते हुए वो संजू के पैर दबाने लगा और पैर में दो तीन किस भी ले ली.

वो जल्दी से बिना चुदाई किए बाहर चला गया और रूम सर्विस वाली को एक लिफाफा देकर बाहर भाग गया.

मुझे बहुत बुरा लग रहा था, तभी मुझे उल्टी हो गयी।फिर रोहित ने अपना लिंग और मेरी चूत को कपड़े से साफ किया.

मुझे मालूम था कि आप किस ट्रेन से आ रहे हैं, तो मैं आपकी ट्रेन की लोकेशन अपने मोबाइल से चैक कर रही थी. मेरे मम्मों को दबाने की वजह से मुझे पता नहीं, कुछ होता सा जा रहा था. यूट्यूब चैनल चालू करोशिल्पा ने खड़ी होकर उसके सामने बेशर्म होकर कपड़े निकाल दिए और पूरी नंगी हो गई.

उन्होंने निराशा में मुझे ऊपर खींचने की कोशिश करी लेकिन फिर जब मैंने उनको मौका नहीं दिया तो उन्होंने अपने शरीर को ऊपर खिसका कर मेरे होंठों को अपने स्तनों से अलग कर दिया. उसने जैसे ही मेरे लंड को हाथों में लिया, तो न जाने उसके मन में क्या आया … वो मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी. वो सिसकारने लगी- आह्ह राज … इस गर्म जीभ की चुसाई के लिए मैं तरस गयी थी.

उधर से बहुत ही मीठी सी आवाज आई- नमस्कार विकी जी …मैंने भी नमस्कार करते हुए उनका नमस्ते स्वीकार किया और औपचारिक रूप से फोन में शुरूआती बातें होती हैं. अब मैंने उसका मुंह खोला औरबहन की गान्डमारनी शुरू की।वो ऐसा पल था कि बस मानो जन्नत मिल गई हो।कुछ देर तक गान्ड मारने के बाद हम अब थक चुके थे।उस रात तीन राउंड चोदने के बाद हम बुरी तरह थक गए थे.

यूं ही चूसते चूमते मेरा एक हाथ उसके आमों से खेल रहा था, तो दूसरे हाथ से उसकी मखमली मलाईदार चुत को सहला रहा था.

मैं ऐसा सोच ही रहा था कि मीरा ने मेरा लण्ड चूसना छोड़ दिया और पलक झपकते ही अपना गाऊन कमर तक उठाकर मेरी जाँघों पर सवार हो गई. दीपा उठ कर जाने लगी, मनोज ने पूछा- क्या हुआ?तो दीपा हंस कर उसके खड़े लंड की ओर इशारा कर के बोली- ये बैठने नहीं दे रहा. तभी भाभी ने खुद ही मुझे 69 की पोजीशन में आने को बोल दिया, ताकि वो लंड को सहला सकें और उसे चूस सकें.

गधे वाली सेक्सी दूसरे ही झटके से उसकी सील टूट गई थी, तो अब मुझे कोई फिक्र नहीं थी।जैसे ही वो शांत हुई तो मैंने उसे बोला- अब सिर्फ एक बार और दर्द होगा. जब दिव्या भाई के लंड के ऊपर से उठने लगी तो उसकी चूत से वीर्य निकल कर उसकी जांघों पर बह रहा था.

दूसरी तरफ आरिषा भाभी को काफ़ी दिनों बाद किसी ने ऐसे छुआ था, तो आरिषा भाभी भी पागल हो रही थीं. मेरे मन में बस एक ही ख्याल आ रहा था कि एक बार सुगंधा भाभी के साथ सेक्स करने का मौका मिल जाए. उसका लंड बहुत गर्म था और मुझे अपने गालों पर उसका लंड रगड़वाने में मजा आ रहा था.

सेक्सी पिक्चर व्हिडिओ इंग्लिश

पर जब उनको मौका मिले, चाहे वो मेरे घर में हो या बाहर कहीं भी, तब वो भी मेरे जिस्म के अंगों को सहला देते थे।हमें कोई अच्छा मौका नहीं मिल रहा था।ऐसे ही हम लगभग 2 महीने तक एक दूसरे का मज़ा लेते रहे। मेरे घर पे हर बार कोई न कोई रहता ही थी। उनके घर पे भी उनकी फॅमिली थी. करीब एक घंटे बाद मीरा आई और आते ही मेरा लोअर नीचे खिसकाकर मेरा लण्ड चूसने लगी. वो उसके पास जकर प्यार से उसके सिर पर हाथ फेरते हुए बोली- चिराग बेटा उठ … कॉलेज जाने में देर हो जाएगी.

मैं कल ऑफिस आते ही कोई बहन बना कर घर चली जाऊँगी और तुम कुछ देर बाद मेरे घर पर आ जाना. [emailprotected]चुदाई की आग की कहानी का अगला भाग:स्टूडेंट की बहन की सीलपैक चुत की अगन- 2.

मेरी घुंडियों को चूसते हुए वो कभी कभी उन पर अपने दांतों से काट भी देती, तो मैं चिहुंक उठता.

उस एक घंटे में उसने हर तरीके से मुझे चोदा, मेरी चूत का तो बाजा बजा दिया था।अब हमें एक घंटे से भी ज्यादा हो चुका था. दस लोग बैठे हों, तो भी मैं उसे इशारा कर देती हूँ कि जाओ पहले बटर खा लो वरना भांग अफीम मिलेगी. कुछ देर बाद मैंने फिर से चुत में उंगली डालनी चाही, पर फिर से मिस फायर हो गया.

रामू मस्ती से भाभी के नंगे कंधों के अन्दर हाथ डालता हुआ बाम लगाने लगा. इतना आगे की सोच रही है तो मैं भी विश्वास दिलाती हूं तुझे कि मेरा भाई तेरी हर परीक्षा पर खरा उतरेगा. लौंडियां भी चुत की खुजली से लंड की तलाश में रहती हैं और वो सबसे ज्यादा आसानी से सुलभ लंड की तरफ खुद ब खुद झुक जाती हैं.

मेरी बहुत समय पहले की इच्छा पूरी होने जा रही थी, तो मैं किसी भी हाल में इसे मिस नहीं होने देना चाहता था.

छोटी लड़कियों की बीएफ पिक्चर: मैं उसके पास जा बैठा- ज़ारा!वो कुछ ना बोली तो मैंने उसके कंधे पर हाथ रखा लेकिन उसने मेरा हाथ हटा दिया. अब सुनील चौंका बोला- तुम पीती हो तो दोपहर को क्यों नहीं मेरा साथ दिया?दीपा बोली- तब मेरा मन नहीं था और मैं सिर्फ मनोज के साथ ही पीती हूँ.

मैं आंखें बंद करके उसका मुँह चोदने लगा था, जिससे न्यासा की हालत खराब हो गई. मैंने कमरे से कॉलेज जाने के लिए साइकिल ली हुई थी, पर अब मैंने अपने पिताजी से एक बाइक की डिमांड कर डाली. ’ मैं जब उसकी साड़ी के पल्लू को निकाल रहा था, तब तो उसने पीछे मुड़कर नहीं देखा.

मैंने उसके लंड को जोर से दबा दिया और उसकी गोलियों को जोर से लात मार दी.

अब मैं अपनी फर्स्ट सेक्स स्टोरी को आगे बढ़ाता हूं जो कि मेरे मामी की बेटी के बारे में है. बोली- आह साहब, बहुत ही मस्त लन्ड है आपका!और मेरे लन्ड पर हाथ फेरने लगी. मैंने पूजा को अपने और सुखविन्दर के बीच में बैठा लिया।सुखविन्दर ने एक बार फिर से जाम बनाए और हम दोनों ने तो पी लिया मगर पूजा ने नहीं पिया.