छोटी लड़कियों की बीएफ पिक्चर

छवि स्रोत,नंगी सेक्सी चुदाई की फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

बंगाली क्सक्सक्स: छोटी लड़कियों की बीएफ पिक्चर, वो बड़बड़ाने लगा- आई लव यू तान्या!मैंने उसके कान में धीरे से कहा- चुप रहो … दरवाजे पर आदी खड़ा है … और उसने ये सब कुछ देख लिया.

एक्स एक्स एक्स जानवरों की सेक्सी वीडियो

वो वैसे भी देखने में भी किसी हूर से कम नहीं थी, वो नाचती भी मस्त है. पंजाबी सेक्सी डॉटमैंने चुम्बन रोकते हुए चाची से लंड को मुँह में लेने को बोला, पर वो मना करने लगीं.

अब मैं झल्ला कर पैर पटकते हुए जाने लगी, तो संदीप ने लपक कर मेरा हाथ पकड़ लिया और कहा- अरे जरा रुको तो, इतनी जल्दी नाराज होना भी अच्छी बात नहीं. सेक्सी फिल्म भेजिए सेक्सी वीडियोवह गुजरात के एक व्यक्ति का था जो मुझसे किसी भी हालत में मिलना चाहता था, मुझे प्यार करना चाहता था, मुझे चोदना चाहता था.

मगर सील पैक चूत की चुदाई और चुदी हुई चूत की चुदाई के बारे में मर्द को पता लग जाता है.छोटी लड़कियों की बीएफ पिक्चर: यदि इस प्रयास में अगर कहीं पर कोई त्रुटि रह गई हो तो उसको नजरअंदाज करें.

करीब दस मिनट लगादार चोदने के बाद मैं झड़ गया और कंडोम निकाल कर आलिया के पास लेट गया.इसलिए मैंने अपने कंधों पर लिया हुया स्टॉल अपनी टाँगों के उपर ले लिया.

ब्लूटूथ सेक्सी वीडियो भोजपुरी - छोटी लड़कियों की बीएफ पिक्चर

संजू के भैया झट से तौलिया खोजने लगे और प्रियंका बगल में पड़े चादर से बदन ढकने का प्रयास करने लगी.अब मेरा मकसद एक ही था कि मैं किसी तरह चाची के साथ लेस्बियन सेक्स का मजा लूं.

मगर करता भी क्या … जब उसने मेरे लंड के टोपे को मुंह में लिया तो मुझसे रुका ही नहीं गया. छोटी लड़कियों की बीएफ पिक्चर अब आगे:मैं हड़बड़ाते हुई बोली- तुम ये क्या बोल रहे हो?प्रीत मेरे बूब्स दबाते हुए बोला- तुम्हें दुपट्टा अच्छे से बांधना चाहिए था.

वो अपनी चूत में उंगली करने के लिए मजबूर हो गई थी, लंड खोजने लगी थी.

छोटी लड़कियों की बीएफ पिक्चर?

मेरा आगे का टोपा उसकी प्यारी सी चूत में घुस चुका था, उसकी चूत की सील टूट चुकी थी. सपना ने अपनी चुत खोली और मेरा लंड अपनी चुत पर रख कर बोली- आराम से डालना … बहुत दिनों से इसमें लंड नहीं गया. दीदी ने सिगरेट का कश खींचते हुए अपने मुँह का स्वाद ठीक किया और दारू का मजा लेने लगीं.

लंड को उसकी चूत से बाहर निकाला तो उसकी चूत के खून से लंड लाल हो गया था. मोनिका ये सुनकर बहुत खुश हो गई और बोली- क्या तुम मेरी तारीफ कर सकते हो, जो मुझसे हर बार करते थे. आह आह करती स्वीटी आंटी अपने हाथों से मेरे सर को अपनी चुत में और भी जोर से दबाते हुए सीत्कार भरने लगीं.

मुझे बेबस देखने के अलावा कुछ भी न कर पाने की स्थिति बनाने के बाद उसने अपना ब्लाऊज़, ब्रा, पैंटी और पेटीकोट भी निकाल दिया. मैंने कहा- चलेगा भाभी … इतना ही भरोसा है मेरे ऊपर … तो अगली प्लानिंग मुझे करने दो. मुझे भी बहुत इच्छा थी तो मैंने उसके सोए हुए लंड को चूस चूस कर जगा दिया.

दोस्तो, यह सेक्स कहानी है एक लड़की के इस संसार की तड़क भड़क और चकाचौंध में बह जाने की. अब उन्होंने मुझे धक्के मार मार कर पेट के बल सीधा लेटा दिया और ऐसे ही लंड मेरी गांड में डाले रखा। वे मेरी गांड मारते हुए मेरी कमर और मेरे कंधों पर किस कर रहे थे.

अपने रूम में गई मैं और प्रीत को जगाकर उसके पर्स से 2 हज़ार रूपए निकाल कर बाहर आकर आदी को दे दिए.

अब स्थिति यह थी कि मेरे दोनों हाथ जिसमें मेरे दोनों हाथों की आठों उंगलियां वसुंधरा की साड़ी-ब्लाउज़ के ऊपर से ही वसुंधरा के उरोजों के नीचे वाली साइड पर और दोनों हाथों के दोनों अंगूठे, दोनों उरोजों के बीच वाली साइड में मज़बूती से जमे थे और मेरे दोनों हाथों के पृष्ठ भाग पर वसुंधरा के अपने दोनों हाथ दवाब बढ़ा रहे थे.

मुझे किसी भी चीज की जरूरत होती है तो मेरे घर वाले मुझे लाकर देते हैं. अब आगे:मैंने आव देखा न ताव … बस जबरदस्त झटका देते हुए लंड अन्दर पेल दिया. अंशी बोली- तुमने तो अपना माल मेरे अन्दर ही डाल दिया है, अगर मुझे कुछ हो गया तो?मैंने उसे रुकने का कहा और बाहर मेडिकल स्टोर से उसको गर्भनिरोधक गोली लाकर दे दी.

वो बोला- अब कब आओगी?मैंने कहा- अब इतने मोटे लंड को छोड़ कर किसी और का लंड क्या काम करेगा. करीब 5 मिनट ऐसे ही चोदने के बाद मैं पीठ के बल लेट गया और भाभी मेरे लंड के ऊपर बैठने लगीं. अपनी बहन को मैंने बेड पर लेटा दिया उसके मुंह पर अपनी चूत को रख दिया.

तो दोस्तो, मेरी कहानी कैसी लगी, आप सभी के मेल के इंतजार में आपका अपना शरद सक्सेना।[emailprotected].

फिर मोना ने मेरे लंड को पकड़ कर डोली की चुत पर रखा और सुपारा चुत की फांकों में फंसा दिया. विदा के समय वो पूछने लगी- जन्नत मिली?मैं- हां जन्नत के दरवाजे तोड़ दिए और तुमने तो यात्री की बड़ी सेवा की. संदीप का लंड झड़ने का नाम ही नहीं ले रहा था, मैं अब पूरी तरह थक चुकी थी और सिर्फ संदीप के झड़ने की प्रतीक्षा करने लगी.

इस स्टेशन से कुछ दूरी पे ही मेरा स्टेशन था और मुझे मालूम था कि यहाँ से अभी कुछ देर में दूसरी ट्रेन जाएगी तो मैं उससे चली जाऊंगी. फिर मैंने मोबाइल से किसी से बात नहीं करने का वादा किया था, जिस पर मुझे मनु और परमीत से बात करने की छूट मिली थी. ताज़ी वैक्सिंग होने के कारण, एकदम रुई की तरह मुलायम त्वचा को चाटते हुए ऊपर बढ़ता गया.

मेरी बारी जल्दी आ जाए, इसी चक्कर में मैंने डिल्डो को बहुत तेजी से अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया.

कुछ ही पलों में वो झड़ने वाला है, यह जानकर मैं भी उसे और अधिक सहयोग करने लगी. धीरे-धीरे गर्म होने के बाद अब उसकी जांघें फैल कर मेरी उंगली को अंदर तक जाने के लिए इशारा कर रही थीं.

छोटी लड़कियों की बीएफ पिक्चर मैं बोला- अच्छी बात! और बच्चा कब तक आएगा?बोली- आज शाम को 5 बजे आएगा. मेरा सारा शरीर इतना गर्म हो चुका था कि मेरी सांसें मुझे गर्म महसूस हो रही थीं.

छोटी लड़कियों की बीएफ पिक्चर आपको मेरी रंडी बीवी की चूत चुदाई की कहानी कैसी लगी, प्लीज़ मुझे मेल करके बताना. यही सवाल उसने मुझसे किया तो मैंने भी कह दिया कि जिस तरह तुम्हें जगह नहीं मिली, उसी तरह मुझे भी नीचे सोने की नहीं मिली.

मैं- ठीक है … तो तुम रुको यहां, अब मैं उससे चुद लेती हूं … फिर घर चलते हैं.

भोजपुरी गर्ल सेक्स वीडियो

मामी ने उसे मेरे बारे में बताया और मुझे भी अपनी बहन के बारे में थोड़ा बहुत बताया. वह घोड़ी बन गई, मैंने उसके पीछे आकर उसका पेटीकोट ऊपर किया तो देखा, अपनी चूत शेव करके आई थी. मैं बोला- तुमने घोड़े की सवारी तो कर ली है, अब जरा लौड़े की सवारी भी कर लो.

मैं कहां मानने वाला था, मैंने उसके मोम्मे दबाते हुए कहा- कर दो ना यार. शायद मुझे ऐसा लगा कि वो भी जग गयी है क्यूंकि जैसे ही मेरा लण्ड उसके चूतड़ से सट गए थे उसने थोड़े आगे खिसकने का प्रयास किया था।अब मैं कहाँ मानने वाला था … मैं थोड़ी देर ऐसे ही लेटा रहा फिर कुछ समय पश्चात मैंने पुनः उसके पेट के ऊपर अपनी हाथ रख दिया. ’ करके मेरे सर को सहलाते हुए बोलने लगी- आशु तुम्हारे हाथों में जादू है … ऐसा लग रहा है कि मैं जन्नत में हूँ.

खैर काम खत्म करके गप्पें मारते हुए रात ग्यारह कैसे बजे, पता ही नहीं चला.

क्यों नहीं?”उसके उस छोटे से जवाब से मेरे दिल में खुशियों की लहर सी दौड़ गयी। मैंने जल्दी से अपने सारे कपड़े उतार दिए और बिल्कुल नंगा होकर उसके पैरों के ऊपर बिना वजन रखे बैठ गया और उसकी खूबसूरत चूत और चिकनी नाभि को धीरे धीरे अपनी उंगलियों से सहलाने लगा।उसकी आँखें अभी भी बंद थी पर उसने दांतों से होंठों को दबाते हुए जो मुस्कुराहट दी. आयशा तो चली गयी लेकिन दिन भर ये बात मेरे दिमाग में घूमती रही।सेफ सेक्स की गारन्टी” बात तो कुतिया ने सही कही थी। हाँ ये अलग है कि वो मेरे भाई पर लाइन मार रही थी।आयशा ने उस दिन मुझे मेरी फड़कती चूत का इलाज बता दिया था. जैसे ही मैंने उसकी चुत को चाटना और चूसना शुरू किया, वो बस अपनी चुत मेरे मुँह में धकेलने लगी.

तू अपने इन्हीं मम्मों से लोगों को रिझाती है ना … दिखा तो कुतिया … जरा एक नजर मैं भी तो देखूँ इन गुब्बारों को!मैं और मनु तो जैसे परमीत का काम ही उठाने लगे और वो कमीनी हमसे बचती रही. जब जीजा का लंड खड़ा हो गया तो उन्होंने मेरी चूत को पर लंड को धकेलना शुरू कर दिया. मेरी आंखें किसी भूखे कुत्ते से चमक उठीं और मैं कपड़े उतार कर उनकी चूत पर झपट पड़ा.

फिर अंकल मुझे किस करते करते मेरे पेट से होते हुए मेरे बूब्स तक आ गए और मेरी ब्रा को मेरे बदन से अलग कर दिया. मैं चाची की चूत के बाल साफ़ करने के लिये एक हेयर रिमूवल क्रीम भी ले गया था.

कभी उसके होंठों पर अपने अंगूठे को फेर देता था तो कभी उसकी चूत पर हाथ रख देता था. डांस करते हुए स्वीटी आंटी की कमर हिलती उछलती हुए बड़ी लाजवाब लग रही थी. ”ये सारी बातचीत मीना सुन रही थी और उसे सुनाने के लिए ही हम लोग कर रहे थे.

अब पीछे वाले ने मेरी साड़ी उठाई पीछे से और मुझे स्टेशन पर लगे बेच पर हाथ रखवा कर घोड़ी बनाया और मेरी गांड पर थोड़ा सा थूक लगा कर अपना पूरा लंड मेरी गांड में डाल दिया.

वो मुझसे दूध चुसवाते हुए बोली- आंह … आराम से पियो मेरी जान … बड़ा मज़ा आ रहा है. तो मैं घर आ गई।रात को सोचती रही कि क्या मस्त लंड है संजय का! मेरे मन में सेक्स की भावना आने लगी तो मैं उठी और अपने पति के पास गई क्योंकि मेरे पति अलग कमरे में सोते हैं. फिर मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिये और चूसने लगा, साथ ही अब अपनी उंगली को उसकी कसी चूत के अंदर बाहर करने लगा।अब उसकी सिसकारियाँ दर्द वाली न होकर आनन्द वाली निकलने लगी।कुछ देर बाद मैंने अपनी दो उंगली उसकी चूत के अन्दर डाल दी और अंदर बाहर करने लगा.

मेरे घर में सब तरह का ऐश है लेकिन मेरी कोई सेक्सी गर्लफ्रेंड नहीं है. एकदम से लंड घुसने से चाची की चीख निकल गयी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’इधर मैं भी नहीं रुका, मैंने दूसरा धक्का दे दिया.

हम दोनों धीमे धीमे गरम हो रहे थे और ऊपर से शराब का असर होने लगा था. मैंने इशारे से गर्दन हिला कर पूछा- क्या हुआ?उसने भी बस इशारे में ही सिर हिला दिया- कुछ नहीं. इतनी हिम्मत तुम में कहां से आ गई?मैंने कहा- आपकी सेक्सी चुदाई के नशे ने मुझे निडर बना दिया है.

एप्पल का मोबाइल दिखाइए

मुझे मैसेज करने के लिए नीचे दी गई मेल आईडी का प्रयोग करें और मेरी जीजा साली सेक्स स्टोरी पर अपने कमेंट्स के जरिये अपनी प्रतिक्रिया भी दें.

फिर उस एजेंट के द्वारा ही हम लोगों ने एक किराए का मकान लिया क्योंकि हॉस्टल से बार-बार बाहर निकलना मुश्किल हो रहा था. इस पर दीदी ने मेरा हाथ पकड़ लिया और कहा- अरे बैठ तो सही … अभी तो तुम लोगों से मेरी कोई बात भी नहीं हुई है, ऐसे कैसे चली जाओगी. मैं इतना मदहोश हो गया था उसकी चुदाई में कि मैं भूल गया था कि कहां पर हूं, मैं बस उसे चोदे जा रहा था.

मेरा रंग काफी गोरा है और मेरे दूध मेरे ब्लाउज से बाहर निकलने के लिए बेताब रहते हैं. मैं और प्रीत ने थोड़ी शॉपिंग की, फिर उसकी कार से गोवा के लिए निकल गए. फर्स्ट टाइम की सेक्सी वीडियोमैं जानता हूँ कि तुम आज के बाद शायद ही मुझे मिलो और तुम्हारी जैसी माल मुझे दुबारा कहाँ मिलेगी.

जीजा जी- साले साहब अपनी बहन को चोदने में मजा आ रहा है न?मैं- बहुत ज्यादा … और आपको?जीजा जी- हां बड़ी मक्खन माल है आलिया. वो थोड़ा सा नीचे खिसक गयी जिससे कि उसकी चूत मेरे लंड से टकराने लगी.

उसकी बातों से प्रतीत होने लगा था कि जैसे वो अपने जीजा के लंड के बारे में और अधिक जानने के लिए उत्सुक हो रही है. तब मैं जाग गया तो चाची मेरे लंड को सहला रही थी और उनके बूब्स को अपने हाथों से रगड़ रही थी।तब मैं सीधा लेटा ही पड़ा रहा. धन्यवाद[emailprotected]मेरी पिछली कहानीक्लासमेट की मां चोद दीभी आपने पढ़ी होगी.

मॉम एकदम से पीछे हो गई तो अंकल ने उनको अपनी तरफ खींच लिया और मेरी मॉम की चूत को चोदने लगे. पर वहां पहुंच कर देखा कि वो अभी सो कर अंगड़ाई लेते हुए उठ रही है और इसीलिए उसकी आवाज कुछ मरी सी आ रही थी. फिर उसने मेरी मेरी मुँह से अपना लंड निकाला, जिससे मेरी लार से मेरे मुँह से उसके लंड तक एक तार बन गयी थी.

वो बोली- हाँ जी, आपको किस से बात करनी है?तो मैं बोला- जी नमस्कार, मुझे वन्दना से बात करनी है, मैं उनका जानकार बोल रहा हूँ.

मैं भी इतनी गर्म हो गई थी कि मैंने भी फट से उसका लंड अपने मुंह में ले लिया. वो मेरी चूत को चाट नहीं रही थी, बल्कि उसे खाने का प्रयत्न करने में लगी थीं.

अभी वो कोई काम नहीं करता था, उसके डैडी का कोई ट्रांसपोर्ट का बिजनेस था. मुझसे रुका न गया और मैंने उसके सिर को पकड़ कर अपने लंड पर दबा दिया. संदीप का लंड बड़ा था, इसलिए मैं चाहती, तो भी आधे से भी कम लंड ही मुँह में समा पाता.

बस की स्पीड तेज थी, रास्ते के स्पीड ब्रेकर की वजह से हमें ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ रही थी. फिर संदीप अपनी जीभ बाहर निकाल कर मेरे नाजुक जिस्म पर फिराते हुए ऊपर की ओर बढ़ने लगा. श्वेता- नहीं आंटी, मम्मी इंतज़ार कर रही होंगी, मैं उनसे बोल कर आई थी कि जल्दी आ जाऊंगी और एक घंटे से अधिक हो गया है.

छोटी लड़कियों की बीएफ पिक्चर मां के बूब्स को मुंह में लेकर अब शर्मा अंकल उनका दूध पीने लगे। वो कभी बाईं चूची को मुंह में लेते तो कभी दाईं चूची को मुंह में ले रहे थे। मॉम का पूरा जिस्म उनकी लार से गीला हो चुका था। अब उन्होंने मॉम को बेड पर पटका और घोड़ी बना दिया. वो चैट में इससे लंड चुसवाता था, इससे ब्रा पैंटी में इसकी पिक्स मांगता था.

बर्बादी शायरी

फिर धीरे से उठ कर मेरे लण्ड में चूत की दरार पर रख कर दबा दिया और …[emailprotected]. कमरे में घमासान चुदाई के बाद करीब दस मिनट बाद वो तीनों झड़ गए और मैं दो मिनट बाद झड़ गया. उसके बाद प्रीति की करीब आधे घंटे तक की लंबी चुदाई करके मैं घर आ गया.

जब लण्ड को अन्दर बाहर करना शुरू किया मैंने तो थोड़ी देर बाद रेखा बोली- मेरी टांग नीचे उतार दो, दर्द हो रही है. तो मैंने देखा कि वो नीचे कमरे में खड़ा होकर लंड हिला रहा है और मुझे देखकर भी नहीं लंड अन्दर किया और एक हाथ में लंड पकड़कर दूसरे हाथ से मुझे अन्दर आने का इशारा करने लगा।लेकिन मैं बाहर जाने लगी और मुड़कर संजय को देखने लगी. सेक्सी पिक्चर वीडियो में मूवीइस पोज में मुझे भी थोड़ा आराम मिल रहा था और भाभी भी कुछ ही देर में जोर जोर से ऊपर नीचे होने लगीं.

मेरा जीजू कमल भी भूखे शेर की तरह मेरे जिस्म को खाने के लिए उतारू लग रहा था.

दीदी भी उतनी ही प्यासी थी। शायद मुझसे कहीं ज्यादा। वो भी मेरा साथ देने लगी। उस आनंद में मैं इतना खो गया कि मुझे होश ही नहीं रहा कि हम दोनों भाई-बहन हैं. जैसे ही मैं पानी पी कर पलटा, मैं देखता हूँ कि निधि के हाथ में रस्सी थी.

उसकी जीभ जैसे ही मेरे लंडमुंड से छुई, जैसे पूरे बदन में तरंगें दौड़ गयी, उसका गर्म मुँह और गीली जीभ मेरे लंड को बहुत सुहायी. लंड का टोपा अन्दर जाते ही भाभी को दर्द हुआ और उनकी जोर की ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… उईई … मम्मी रे … मर गई. मैंने कार रोक कर पूछा तो पता चला कि वो मुंबई से आई थी और उसका पर्स और कपड़े एक का बैग कोई लेकर भाग गया है.

राकेश ने फटाफट कपड़े और मुझे घर के बैकडोर के पास छोड़कर बोला, कपड़े पहनकर यहां से भाग जाना, शाम को मिलूंगा.

फिर आलिया धीमे से उठकर बाथरूम में चली गई और हम तीनों ने एक एक पैग और बना लिया. क्योंकि नई और गर्म चूत जब तक सामने रहती है, लंड महराज शांत से नहीं बैठने देते।पर क्या करूँ … मन तो बाहर भी नहीं लग रहा था. मुझे यकीन हो गया था कि चाची ठीक तरह से सेटिस्फाई नहीं हो पा रही है.

इंडिया सेक्सी सेक्सी सेक्सी वीडियोअगली सुबह जब हम निकले तो मैंने जानबूझकर पजामे के नीचे अंडरवियर नहीं डाला. भाभी- अच्छा … तो देर कैसी … क्या अब कोई पंडित मुहूर्त निकलेगा क्या?मैं- निकालूँगा तो मैं … पर आपके अन्दर.

गोर कैसे हो

मनु के हाथ अपने ही उरोज को मसलने लगे और मैं खुद में सिमट कर गोलाकार हो जाने का प्रयास करने लगी. मोनिका- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आराम से बेबी, जल्दी में हो क्या … जन्नत जाने के रास्ते में मस्ती करते हुए चलते हैं ना … आराम से चोदो न राजा. मैंने दूसरे हाथ से भाभी के कुरते को कंधे से नीचे की तरफ सरका दिया, जिससे स्नेहा भाभी की गोरी पीठ दिखने लगी.

आज वाशरूम की खूंटियों पर वसुंधरा का कोई पहना हुआ अंडर-गारमेंट नहीं टंगा था. मगर अन्दर चाचा और चाची ही सोते हैं, इसलिए मैंने अन्दर देखना उचित नहीं समझा. एक पल बाद उनके चूचे हवा में छलने लगे थे, ब्रा को एक तरफ गिर जाने की सजा दे दी गई थी.

उनमें से में एक स्ट्राबेरी फ्लेवर्स का कंडोम लेकर लंड पर चढ़ाया और वापस दीदी के ऊपर चढ़ गया. मैंने कहा- अर्थात मेरी प्यारी बीवी अपने भैया का लंड लेने को तैयार है?संजू बिना कुछ बोले मेरे गले से लिपट गई. लंड का टोपा अन्दर जाते ही भाभी को दर्द हुआ और उनकी जोर की ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… उईई … मम्मी रे … मर गई.

आप सभी को मेरी ये सेक्स कहानी कैसी लग रही है, प्लीज़ मुझे मेल करके जरूर बताएं. धीरे से मैंने अपना हाथ उसकी सलवार के अंदर डाल दिया और पैंटी के ऊपर से ही हाथ फिराना शुरू कर दिया.

आज ऐसा क्या हो गया कि आप दादी को याद करके उदास हो गये?”क्या बताऊँ बेटा, जब तक इन्सान की जरूरतें पूरी होती रहती हैं, उसे किसी की याद नहीं आती और ख्वाहिशें अधूरी हों तो हर पल याद आती है.

तब दीदी कराहती आवाज में बोली- अब नहीं होगा मुझसे … बहुत दर्द हो रहा है. काला लंड का सेक्सीजब मेरा निकलने वाला था, तो मैंने झट से कंडोम निकला और आंटी के स्तनों पर अपने वीर्य को छोड़ दिया. सेक्सी वीडियो चोदा चुदाई कीमैंने झटके मारने शुरू किए, तो वो बहुत ही मजे से मेरा लंड अपनी चूत में लेने लगी. दिन में ही मौका मिल जाता है या सुबह सुबह जल्दी उठ जायें तो!मैं अपने पति के कमरे की तरफ गई तो उन्होंने दरवाजा अन्दर से बंद कर रखा था।घर में मैं और मेरी बेटी एक साथ सोते हैं.

और उसने मुझे एक मेट्रो की जगह बताई कि वहाँ उतर जाना, मेरे शौहर लेने आएंगे तुमको।मैं बोला- ठीक है।वहाँ पहुँचने के बाद मैंने उसको कॉल किया कि जहाँ तुमने बताया वहाँ पहुँच गया हूँ।वो बोली- ठीक है, ये आ रहे हैं.

लेकिन उसके लिये मुश्किल यह थी कि वो लंड को चूत के अन्दर ले नहीं पा रही थी, वो लंड को पकड़ कर जब भी अन्दर डालने के जोर लगाती, लंड उसको चिढ़ाते हुए इधर-उधर फिसल जाता. मैं पहुंचा तो मीना हाथ में टॉवल पकड़े खड़ी थी, बोली- बस पांच मिनट रुको, मैं नहा कर आती हूँ. और मेरा लन्ड जैसे ही उसकी कसी चूत के अंदर गया, वो चिल्ला उठी- आराम से करो … अभी ताजी चूत है, ठीक से चुदी भी नहीं है.

श्वेता दीदी- अरे … आज से तुम मेरी भाभी बन गई हो ना!दीदी कुछ नहीं बोली. मैं उठा और कॉण्डोम का पैकेट उठा लाया और ज्योति से पूछा- तुम्हें कौन सा फल सबसे ज्यादा पसंद है?तो बोली- आम. यह सेक्स कहानी आज से 5 साल पुरानी उस समय की है, जब मैं अपने कॉलेज की पढ़ाई में व्यस्त रहता था.

पंजाबी सैड सॉन्ग

मैंने चाची से पूछा- झांटें साफ़ क्यों नहीं रखतीं आप?वो पहली बार बोलीं- तुम्हारे चाचा को ऐसी ही पसंद हैं. मैंने गाड़ी एक तरफ रोकी और उसकी चूचियों को सहलाते हुए उसके होंठों को अपनी ओर करके उसे किस करने लगा. जब उन्होंने मेरी जीभ को अपने दांतों के बीच में दबा कर हल्के हल्के दबाना शुरु किया तो मेरी तो सिसकारी निकल गई.

मैंने उससे शाम को लेने आने का कह दिया … इस पर वह ख़ुश हो गयी और बोली- ठीक है … पांच बजे आ जाना.

कोई 12-15 मिनट की लंड चुसाई के बाद उसने सारा लंड माल मेरे मुँह में छोड़ दिया.

मैंने जैसे ही स्नेहा भाभी के कुरते को निकाला, तो देखा कि स्नेहा ने नीले रंग की ही ब्रा पहन रखी थी. आई लव यू पिंकी, पहले क्यों नहीं मिली तुम!”हम दोनों फिर से आलिंगनबद्ध हो गए, हमने कस कर एक दूसरे को आलिंगन किया था. सेक्सी पिक्चर दुसराउसने एक लकड़ी का फट्टा निकाला और हमारी स्कूटी को ऑटो पर चढ़ा कर पीछे खड़ा करके बाँध दिया.

संजू बहुत वफादारी से बोली- मुझे माफ कर दीजिएगा, मैंने आपसे बिना पूछे ऐसा कह दिया, पर हालात ही वैसे थे. मैं पिंकी के टाईट दूध को जीभ से चारों तरफ सहलाते हुए धीरे धीरे चूस भी रहा था. फिर वसुंधरा ने प्लेट के खाने में से एक कौर तोड़ा और उसमें सब्ज़ी भर कर मेरे होंठों के आगे किया.

आज चुदाई का सही मतलब जाना है मैंने!यह बोलते हुए वो फिर मेरा लन्ड चाटने लगी और खड़ा करने लगी।पूर्णिमा बोली- आज रात भर मेरी चुदाई करो।थोड़ी देर में मेरा लंड फिर खड़ा हो गया तो मैंने फिर उसे घोड़ी बनाया और पीछे से भाभी की चूत में डाल कर उसकी चुदाई करने लगा. उनके लंड पर उछल कूद कर रही थीं, बिल्कुल वैसे ही एक बार मेरे से भी चुद जाओ न.

दीदी ने मुझे उठाया और हम निकल पड़े कार ड्राइविंग सीखने के लिए।मैंने 10 दिन तक दीदी को पूरी ट्रेनिंग दी.

मेरे बदन पर सिर्फ अंडरवियर रह गया था और उनके तन पर ब्रा और पेंटी रह गई थी. मेरी बारी जल्दी आ जाए, इसी चक्कर में मैंने डिल्डो को बहुत तेजी से अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया. मुझे बहुत मज़ा आने लगा था और मेरे मुँह से ज़ोर ज़ोर की सिसकारियाँ निकलने लगी.

सेक्सी फिल्म लंड बुर ”मुझे सहन नहीं हो पा रहा था तो मेरे पेशाब की एक मोटी धार मेरी फुद्दी से निकल गई. मैंने कहा- तुम तो बहुत मस्त हो यार!फिर उसने उठ कर मेरे लंड को हाथ में पकड़ा और उसे सहलाया.

मैंने मीना के होठों पर होंठ रख दिये और उसके चूतड़ दबाने लगा जिससे वो मदहोश होने लगी. मैंने कहा- मैं समझा नहीं!तभी भाभी ने मेरा हाथ पकड़ा और बोलीं- बैठ … सब समझाती हूँ. अब मैंने भाभी को लिटाते हुए उनकी टांगों की तरफ अपना मुंह कर लिया और मेरे होंठ भाभी की चूत पर जा सटे.

सेक्सी पिक्चर व्हिडिओ इंग्लिश

नीचे वाले होंठों का यानि कि चूत का मर्दन मैं अपने होंठों से कर रहा था. बड़ा शर्मीला था … एक सप्ताह हो चला था पर वो बात बिल्कुल नहीं करता था. मैंने कहा- तू? तू यहाँ क्या कर रहा है?”वो दरवाजा बंद करके मेरी तरफ बढ़ा।मैं बाहर की ओर जाने लगी.

मैंने कहा- तुम तो बहुत मस्त हो यार!फिर उसने उठ कर मेरे लंड को हाथ में पकड़ा और उसे सहलाया. मैडम- तो आज यहां क्या कर रहे हो … कॉलेज नहीं गए क्या?मैं- हां गया था, पर आज हमारा एक ही शिफ्ट में एग्जाम था, तो जल्दी छुट्टी हो गई.

हालांकि मेरे मन में मामी के लिए उस वक्त केवल प्यार था और वो मुझे बड़ी खूबसूरत लग रही थीं.

एकरूपतापूर्वक अपने शैय्या के साथी के साथ की प्रणय-क्रिया के अंतिम चरण में परम-संतुष्ट हो कर गहरी नींद में चले जाना बहुत ही स्वभाविक बात है. हमारे घर के ताल्लुकात, उनके घर से बहुत अच्छे थे, जिसके कारण मैं उनके घर में कभी भी आज आ जा सकता था. इधर मुझे खुद को पता नहीं चला कि मैं भोली भाली गीत, कब इतनी बेरहम बन गई.

फिर धीरे से अपना हाथ उनकी एक चूची पर रख दिया और धीरे धीरे सहलाने लगा. पहले हाथ से अच्छे से दोनों चूचों का मुआयना करने बाद जेठजी ने अपना मुँह ही लगा दिया और एक बच्चे की तरह मेरे चुचे चूसने लगे. बोलो मेरा साथ दोगी ना?मैं बोली- हाँ क्यों नहीं!क्या क्या करोगी?”जो आप बोलेंगे.

बातें करते हुए भी वो मुझे अच्छा इंसान लगता था इसीलिए मैं उसके पास चली गई.

छोटी लड़कियों की बीएफ पिक्चर: हम दोनों बहुत मज़े ले लेकर चुदाई कर रहे थे, तभी पता नहीं किया हुआ कि दोनों एक साथ झड़ गए. इस पर वो बोली- ठीक है, ये महीना खत्म होने दो … फिर मैं शिफ्ट हो जाउंगी.

मैंने झट से अपना मुंह खोला और जैसे ही वसुंधरा ने अपने हाथ का निवाला मेरे मुंह में रखा, मैंने आहिस्ता से अपना मुंह फ़ौरन बंद कर के वसुंधरा की कलाई अपने बाएं हाथ से पकड़ ली. किसी तरह से मैंने उसका पानी निकाला और उसके बाद उसने मुझे आजाद कर दिया और वह पलट कर सो गया. वो बोला- साली झूठ मत बोल … ऐसे ही तेरे चूतड़ नहीं निकले हैं, सच बोल और बता कि पति के अलावा और किसका ले रही है.

प्रिया भी अपने हाथ मेरी छाती पर, कभी मेरे सर के बालों में फिरा रही थी.

दीदी ने एक लंबी गहरी ठंडी सांस लेते हुए, मेरी ठोड़ी को पकड़कर हिलाया और कहा- मेरी बहना रानी, तुझे तो जो भी भोगेगा … वो दुनिया का सबसे खुशकिस्मत इंसान होगा. यहां मैंने पुणे के एक कॉलेज में एडमिशन ले लिया और यहां मैं एक हॉस्टल में रहने लगी. मैं शादी से पहले 6 लंड से चुदने का मजा ले चुकी हूं, ये सभी लंड काफी बड़े बड़े थे.