हिंदी में बीएफ हिंदी में हिंदी में

छवि स्रोत,सेक्सी फिल्म हिंदी में दिखा दो

तस्वीर का शीर्षक ,

जबरदस्ती सेक्सी वाला: हिंदी में बीएफ हिंदी में हिंदी में, बस आप सभी से एक इल्तिजा है कि आप किसी महिला मित्र का नम्बर मांगने की जिद न किया करें… आप सिर्फ एक कहानी समझ कर ही इसका आनन्द लें.

सपना भाभी हॉट सेक्सी वीडियो

मुझे पता चल गया कि भाभी गरम हो चुकी हैं, मैंने भी मौके पर चौका मारके उनको अपनी बांहों में खींच लिया और उनको किस करने लगा. सेक्सी वीडियो सबसे सुपरहिटउसके बाद चंदर बोला- अपनी टांगें चौड़ी करके लेटो, अब मैं तुम्हारी चुत को चाटूंगा और खाऊंगा.

इस पर आंटी बोली- बस इतनी सी बात? तुम मेरा एक काम करोगे तो तुम्हें इससे भी ज्यादा पैसे मिलेंगे. भारतीय हिंदी सेक्सी फिल्मउस दिन पता नहीं क्यों मुझे मेरी बहन के बारे में अजीब अजीब से ख्याल आने लगे थे.

इतना कहते हुए उसने झट से चुत से लंड खींचा और तभी मैं भी एकदम से मुँह खोल कर उसके लंड के पानी लेने के लिए तैयार हो गई.हिंदी में बीएफ हिंदी में हिंदी में: मैंने मेरे दोस्त से कहा- यार अगर मैं इसको सच में अपने घर का नंबर दे देता तो आज तो ये मुझे मरवा ही देती.

अचानक ही प्रिया ने अपनी उंगली मेरे मुंह से निकाल ली और उसी हाथ का अंगूठा मेरे होंठों पर दाएं से बाएं, बाएं से दाएं फिराने लगी.क्या बताऊँ यारो… जिन्दगी में पहली बार मैंने किसी लड़की को हग किया था। उस फीलिंग को बयान नहीं कर सकता।मैं उसे चुप कराते हुए बोला- जिसे जाना था, वो गया! उसके लिए हम अपनी लाइफ क्यों खराब करें। यह जिन्दगी बार बार नहीं मिलती। इसमें अपनी मर्ज़ी से मजा करो किसी दूसरे की मजबूरी से नहीं.

हॉट हिंदी सेक्सी स्टोरी - हिंदी में बीएफ हिंदी में हिंदी में

फिर उस रात भर सोचता रहा कि भाभी की चूत कैसे लूँ!कब नींद आई पता ही नहीं चला.डॉली नीचे अपने काम पर लगी हुई थी, वो पूरा लंड अपने मुँह में अन्दर बाहर कर रही थी और जब लंड बाहर तक आता तो सुपारे पर अपनी जुबान भी मार रही थी.

घड़ी पर नजर डाली तो नौ बजने को थे, मैं बोला- प्रियंका, तुम्हारा होस्टल का गेट बंद होने का समय हो गया है, चलो चलते हैं!तो वो बोली- आज की रात मैं तुम्हारे साथ ही रहूँगी, कल शाम को ही होस्टल जाना है. हिंदी में बीएफ हिंदी में हिंदी में मैंने फिर से साड़ी ऊपर करने की कोशिश की, तो भाभी ने अपना पैर जरा सा हटा दिया, जिससे साड़ी ऊपर करने में मुझे आसानी हो गई.

कुछ देर हम यों ही खड़े रहे, मुझे पता ही नहीं चला कि कब मेरा लंड खड़ा हो गया और भाभी छुप छुप कर मेरे लंड को देखने लगी.

हिंदी में बीएफ हिंदी में हिंदी में?

धीरे धीरे मैंने उसकी साड़ी को ऊपर उठाया और उसकी टांगों को थोड़ी देर सहलाने के बाद मैंने उस भाभी की चूत में उंगली करना चालू कर दिया. उसके साथ काफी देर तक चूमा-चाटी करने के बाद मैंने उसको रोका तो उसने मेरी तरफ सवालिया निगाहों से देखा. फिर अचानक उसकी चुत से रस की धारा निकल पड़ी, मैं उसका पूरा पानी पी गया और पूरी तरह से चाट चाट कर साफ कर दिया.

अर्पिता- नहीं, उसमें तो बहुत दर्द होगा… और कोई तेल भी नहीं लगाया है, चिकना करने को!मेरी जान, पानी से ज्यादा किसी चीज़ की जरूरत नहीं है!” इतना बोल के मैं उसके पीछे से ही उसके कान के पास किस करने लगा और हल्का सा काट भी लिया, ताकि उसका ध्यान भटका सकूँ. नवीन भी नींद से जग गया था; उसने सर उठा के देखा तो मॉम उसका लंड चूस रही थीं. उसकी चुदास देख कर मैंने खुशबू को नीचे कर दिया और उसकी जाँघ को किस करते हुए उसकी चुत को चूमने लगा.

भाईजान ने 8-10 बार हाथ से चूचों को सहलाने के बाद धीरे से एक चुचे को दबाया और झुककर बारी बारी से दोनों को अपने लब लगा कर चूमा और मुझे देखा मैं शांत पड़ी रही. अब तो रात में छिप छिपा कर हम दोनों चुदाई का खुल कर मजा लेने लगे थे. उनकी ज़ोर से चीख निकल गई, उनकी चीख दबाने के लिए मैंने उनके होंठों को चूसना शुरू किया और दोनों हाथों से उनकी चुचियां सहलाने और दबाने लगा.

मैंने उसके चूचे जोर जोर से दबाए, होंठ चूमें और उसकी सलवार के ऊपर से ही उसकी चूत पर हाथ फिराना शुरू किया. मैंने बाथरूम में साक्षी की ब्रा और पेंटी देखी, जो थोड़ी सी गीली थी.

इसी बीच जो आदमी टिकट बना रहा था, उसे कोई काम आ गया तो, वो उठ के चला गया.

इतने में तुम आ गए और साथ ही (लंड की तरफ़ इशारा करते हुए) इसके दर्शन करवा दिए.

वो हंस कर बोलीं- पहले दिन ही फ्रेंक हो रहे हो?मैंने कहा- सॉरी अगर आपको बुरा लगा हो तो. चूंकि बस की स्पीड काफी तेज़ थी और रात का सफर था तो उसकी माँ ने एक चादर ओढ़ी हुई थी. और पैसे के लिए मम्मी के जिस्म को ग्राहक को देते हैं और पैसे का सारा हिसाब किताब हम दोनों भाई बहन रखते हैं।सिर्फ मेरी मम्मी ही चुदाने जाती है, मेरी बहन तो सिर्फ मुझसे ही चुदाई करवाती है.

करीब पौने घंटे में फोन की घंटी बजी- निवास जी, आपको जगाया तो नहीं ना?”आवाज़ थर्राई हुई थी. दो दिन बाद मेरे पति के बड़े भाई का लड़का यानि हमारा भतीजा संजय जैन एग्जाम के लिए हमारे पास रहने के लिए आ गया. भाईजान ने बहुत ही आहिस्ता से जंपर के दोनों सामनों को इधर-उधर कर दोनों चूचियों को थोड़ा थोड़ा नंगा कर दिया.

मेरे बगल के फ्लैट में एक छोटा परिवार, जिसमें एक भाई (छोटू, उम्र 28 साल) और उनकी बड़ी बहन ममता (उम्र 32 साल, जिनकी शादी पैसे की कमी और उनके आगे पढ़ने की इच्छा के कारण नहीं हो पा रही थी) और उनके पापा, जो कि एक रिटायर्ड पी डब्लू डी क्लर्क थे.

10-15 मिनट के बाद मैं उठा और अलका रानी की चूत प्रदेश को छू के देखा. आपकोमेरी चुड़क्कड़ चालू बीवीनीना की चुदाई कहानी कैसी लगी? प्रतिक्रिया देंगे तो और लिखूंगा. मेरा उसकी चुत को चाटने का तो मन कर रहा था, लेकिन बाल बहुत अधिक होने के कारण मजा नहीं आ पाया.

इस घटना में मैं आपके साथ साझा करने वाला हूँ कि कैसे मैंने अपनी मौसेरी बहन सोनिया की चुत मारी. उसने बताया कि उसे अब बहुत दर्द हो रहा है, ऐसे तो उसके पति ने भी कभी नहीं चोदा है. जब आपकी शादी होगी तो तुम इसको तुम्हारी बीवी की जो शु शु वाली जगह होगी, जिसे चूत कहते हैं, उसमें डालोगे तो तुम दोनों को मजा आएगा; और इस से बच्चा भी होता है; तुमने किसी औरत की चूत देखी है?मैं- हां देखी है… पर भाभी, वो जगह तो बहुत जरा सी होती है, उसमें ये कैसे जाएगा?मैंने अनजान बनते हुए प्रश्न किया.

पेट पर जीभ गीली कर मैं दाएं से बायें चाटता, एक सिरे से दूसरे सिरे तक.

उसका टुन्नू सा लंड मेरी प्यासी जवान काली झांटों में छिपी हुई चुत का लाल दाना देखते ही फेल हो जाता है. दोनों बॉय फ्रेंड्स अपने हाथों से मेरी पत्नी का सिर सहलाते हुए मानो उसका आभार प्रदर्शन कर रहे थे.

हिंदी में बीएफ हिंदी में हिंदी में ”ऊऊओ… नाम बताओ न?”वो छोड़ो… अब ये देखते हैं आपमें से कौन पहले इनको देखता है. तो फिर कैसे साफ़ करूँ?”वो बोली- फिर ऐसे कर कि अपनी जीभ बाहर निकाल और जितनी मेरी चूत में लंड की मलाई निकली है, सब साफ़ कर दे.

हिंदी में बीएफ हिंदी में हिंदी में गेम खेलते वक्त भाभी का बेटा, जोकि 5 साल का था, वो बार बार बीच में आ रहा था. फ़िर उन्होंने कहा- अभी तुम घर जाओ और शाम को ठीक 5 बजे जिम सूट में वापस यहां आना… क्या करना है वो तब बताऊंगी.

मौसी जाग गई और एक बार तो हैरानी से मुझे देखा, फिर खुश हो कर मुझे अपने नंगे बदन से चिपका लिया.

न्यू देसी सेक्सी व्हिडिओ

अन्तर्वासना पढ़ने वाले मेरे प्यारे दोस्तो, मेरा नाम आकाश है और मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ. लगभग 10-15 मिनट लंड चूसने के बाद वो बोली- तुम लोगों की चुदाई देख कर मेरी चूत में भी बहुत खुजली हो रही है… प्लीज़ जल्दी से मेरी चूत की खुजली को मिटा दो!और नेहा से बोली- तुम डरो नहीं, मैं समझ सकती हूँ तुम्हारा प्राब्लम, तुम चिंता नहीं करो!फिर मैंने अपने लंड से नेहा की सास की जबरदस्त चुदाई की. जब 7-8 इंच का लंड मेरे गांड में अंदर बाहर होता है तो जैसे, मुझे स्वर्ग का मज़ा आता है.

जैसे ही मैंने कपड़े निकाले, उसने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और चूमने लगी. उसने मेरे खड़े होते लंड को देख लिया था, तो शिखा अपनी चूचियों को झुका कर मुझे दिखाते हुए बोली- मैं वही सीमा हूँ जिससे तू ऑनलाईन सेक्सचैट पे पूरी रात बात करता रहता है. यहाँ पर तुम एक ना एक दिन सूली पर चढ़ जाओगी, मेरा मतलब है कि तुमको चुदवा कंपनी के किसी काम से किस क्लाइंट से दिया जाएगा.

फिर धीरे धीरे उसकी जाँघों से किस करते हुए नीचे तक पूरे पैर पर किस किया, सभी उंगलियों को मुँह में ले कर चूसा.

मैं बस अपने ख्यालों में खोया हुआ था, तभी मुझको एहसास हुआ कि कोई मेरे कंधों को पकड़ कर मुझको हिला रहा है. कामिनी ‘ऊहह हह आअहह…’ कर रही थी और बोल रही थी- क्या उछाल उछाल कर चूत लेते हो सैयां जी… तुम्हारा लंड मेरी बच्चेदानी तक जा रहा है. मैंने राय देते हुए आर्थर की तरफ देख कर कहा- हमारा डबल बेड दूब की लकड़ी से बना हुआ बेहद मजबूत बेड है और नताशा के अलावा सिर्फ वही हमारी आज की फाइट को सह सकता है!आर्थर हंस दिया और सहमत हो गया.

इस कहानी में मैंने एक भाभी के बारे में लिखा है, जो कि मुझे पिछले महीने अहमदाबाद के बोपल एरिया के गोटिला गार्डेन में मिली थीं. अब बस उस मौके का इन्तजार है, जब चाची और कंचन दोनों को एक ही बिस्तर पर चोद सकूँगा. मैंने बड़ी प्यासी निगाहों से उसको खोजना शुरू किया तो वो मर्द जिसने मेरी चुदाई की थी, वो आगे किसी दूसरी सीट पर जाके बैठ गया था क्योंकि तब तक कुछ लोग बस से उतर गए थे.

उसने एक नॉटी सी स्माइल दी और कहा कि शायद इसे मेरे लब बहुत पसंद हैं. और जिस दिन आपने मेरी सील तोड़ी थी, तब मैंने आपको प्रॉमिस किया था कि मेरा पहला बच्चा आपका ही होगा.

थोड़ी देर बाद उन्होंने उठकर अपने सारे कपड़े निकाल दिए मैंने उनके लंड को फिर से मुंह में ले लिया उसको खूब चूसा, चूमा. उस भाभी रूपाली की उम्र करीब 32 थी, उनका फिगर एकदम मस्त था, उनके फिगर का साइज़ 34-32-36 का था. इस प्रक्रिया में मेरे को मुश्किल से 3 मिनट लगे होंगे और हम दोनों अपने कपड़े पहन कर अपने अपने घर चले आए.

होंठ के बाद मैंने उसकी चूचियां मसलीं, चूसीं और नीचे होते हुए अपना मुँह उसकी चूत पर लगा दिया.

वो बोला कि ये बोलो कि राहुल अब तुम मेरे साथ सोने लायक नहीं हो, इसलिए मैं आज रात को विवेक साथ सोऊंगी. उसने भी मेरा लंड मुँह में ले लिया और चूसने लगी, पर थोड़ी देर में ही उसने लंड बाहर निकाल दिया और बोली- मुझे लंड चूसना अच्छा नहीं लग रहा है. पेट पर जीभ गीली कर मैं दाएं से बायें चाटता, एक सिरे से दूसरे सिरे तक.

वो भी बहुत बड़ी थी, ऐसा लगता था जैसे लट्टू!मैं मज़े में चूसने लगा उसे. चूँकि अब हम काफ़ी अच्छे दोस्त बन चुके थे तो मैंने उस से मिलने की अपनी इच्छा ज़ाहिर की थोड़ी देर ना नुकुर करने के बाद मेरी ज़िद के आगे वो मान गयी और हमारा मिलना मुकेरियाँ में तय हुआ.

”ऐसा न कहो अलका… मैंने डाली न नज़र तुम्हारे पैरों पर… अच्छे से हाथ भी देखे और पांव भी… कौन अँधा है जो इस बेमिसाल खूबसूरती को अनदेखा कर सकता है. मैंने कहा- पर तुम कुछ भी कहो, तुम्हारी चूत अगर अनचुदी होती तो इतनी ढीली नहीं होती, मेरी उंगली आसानी से अन्दर बाहर हो रही थी. ये कहानी जो मैं आपको सुनाने जा रहा हूँ ये मेरी और मेरी बहन सोनिया (बदला हुआ नाम) की सच्ची कहानी है.

लंड चोदने वाली सेक्सी वीडियो

तो बहुत सारे गंभीर प्रशंसकों के मेल भी मिले जिनके सुझाव पर अगले बार से अमल करुँगा।मेरे एक सुधी पाठक का प्रश्न यह था कि ‘मैं साली को कैसे पटाऊँ?’जिसका जवाब मैंने दिया कि धैर्य रखें, कोई भी लड़की अपने दोस्त में पिता की अक्स खोजती है, उसके सानिध्य में अपने आप को महफूज सोचेगी.

उनके करीब हुआ तो भाभी ने मेरे गालों पे हाथ फिराया और मुझे खींचते हुए अपनी गोदी में लिटा लिया. इतने में डोरबेल बजी…दोस्तो, मेरी इस हिंदी सेक्स स्टोरी में मजा आ रहा हो तो मुझे ईमेल जरूर कीजिएगा. विशाल भैया मेडिकल रिप्रेज़ेंटेटिव का जॉब करते थे, तो उन्हें काफ़ी बार ऑफिस के काम से सिटी के बाहर जाना पड़ता था.

’ कहते समय मैंने महसूस किया कि भाभी की आँखों में वासना के डोरे तैर रहे थे. अब तक वातावरण काफी रंगीन हो चुका था और हम लोग लगभग दो ग्रुप्स में बैठे पीने लगे थे. लड़की का बीपी सेक्सीमेरी साँसें अटक रही थीं, पर वो अपनी मस्ती में मेरे मुँह को चोदे जा रहा था.

जिस बेदर्दी से मकान मालिक मुझे चोद रहा था, उससे मैं बहुत गरम हो गई थी और मैं उसकी पीठ पर अपने नाख़ून से नोंच रही थी. हम सब वहां पहुँचे… तुरंत ही उन्होंने तिजोरी खोली, पचास हजार रुपए निकाले और उनको दे दिए- अब निकलो यहां से और कभी वापस मत आना!भाभी ने गुस्से में बोला.

सत्येन का घर मेरे घर के ठीक पीछे नहीं था बल्कि पांच घर छोड़ के दायीं तरफ था. इस तरह पूरा महीना भर वो मुझको चोदता रहा और मेरे निंबुओं को खींचता रहा. इसके बाद अशोक और उसके दो दोस्तो को छोड़ कर बाकी के सबको वहाँ से भगा दिया गया.

फ़िर वो पेन्टी को पकड़ के झुकते हुए नीचे तक ले गईं, उनके गोल गोल कूल्हे बिल्कुल खुल चुके और मुझे पागल बना रहे थे. आज इधर मैं अपनी एक सच्ची सेक्स स्टोरी आप लोगों के सामने पेश कर रहा हूँ कि कैसे मैंने अपनी गर्ल फ्रेंड को चोदा. दो झटकों में ही अब पूनम अपने चूतड़ों को ऊपर उठा उठा कर मेरे लंड पर मारने लगी.

मैंने कहा- वो कैसे?वो बोली- क्या आप भी जीजू उंगली तो इतनी छोटी होती है तो वो तो आसानी से ही जाएगी न.

मैं- भाभी मजा आता होगा ना?भाभी- क्यों तुझे भी कराना है?मैं- नहीं बाबा बस ऐसे ही…भाभी- मन में तो लड्डू फूट रहे हैं… बोल भी दे माधवी. पहले कामिनी की पीठ पर काफी देर मालिश की, फिर हाथ फेरते हुए उसने कामिनी को पलटा दिया और उसकी बड़ी बड़ी गोरी गोरी चूचियों को गोलाई में मसाज करने लगा और मसलने लगा.

वैसे तो मैं आज भी मम्मी पापा के बीच में ही सोती हूँ पर इस स्पर्श में कुछ अलग बात थी. एक दिन मैंने उसे स्कूल में नहीं जाने दिया और अपने साथ घुमाने ले गया. फिर ऑफिसर ने मुझे बोला- तुम मेरे सामने अपनी वाइफ के फेस पर डिसचार्ज करो!और मेरी बीवी से बोला- ऋतु डार्लिंग, आप इस बार मुँह और आँख बंद नहीं करोगी.

कोमल को पूरा यकीन है कि वो बेटी मेरी ही है हमारे सच्चे प्यार की निशानी!हालांकि अभी तक मैंने अपनी बेटी को देखा नहीं है फिर भी मुझे उम्मीद है कि वो कुछ तो मेरे जैसी दिखती होगी. बस मुझे मैथ में थोड़ी प्राब्लम होती थी, जिसमें मैं रिमझिम की मदद लिया करता था और बदले में उसे कैमेस्ट्री पढ़ाया करता था, जिससे हम दोनों की आपसी कैमेस्ट्री काफी अच्छी हो गई थी. न जाने कब किसी चुत को कब कौन सा लंड मिल जाए, ये तो कोई भी नहीं जानता.

हिंदी में बीएफ हिंदी में हिंदी में मैं मुंह दिखाने लायक नहीं बचूंगी, मुझे घर से निकाल देंगे, आप मम्मी पापा से कुछ मत बताइए. मेरी हाइट 6 फ़ीट 2 इंच है, मेरा रंग गोरा है मेरे लंड का साइज 8 इंच है.

पंजाबी सेक्सी फिल्म फुल हद

उस टाइम मुझे बहुत बुरा लगा, मैंने भाभी को बोला- आपको ऐसा नहीं करना चाहिए. मैं रात को सबसे गुड नाइट करके अपने रूम में चली गई और फिर दरवाजा जो आशीष के रूम में खुलता था, उसे खोल दिया. मैंने उनको देखा तो मैं समझ गया कि दीदी को लंड लिए बिना चैन नहीं पड़ने वाला है.

मुझे फिर से उसके लंड का पानी पीना पड़ा मगर अब मैं उतनी परेशान नहीं थी जितनी फर्स्ट टाइम हुई थी. अब हम धीरे धीरे एक दूसरे से बात करने लगे और एक दूसरे के बारे में जानना शुरू किया. హిందీ సెక్సీ వీడియో బిఎఫ్भाबी को मैंने हल्का सा धक्का दिया तो वे समझ गईं और खुद ही बिस्तर पर चित लेट गईं.

वो शायद मनोरमा की बात समझ नहीं सका तो उसने उससे सीधा ही पूछा- मेरा मतलब है जो तुम्हारी टांगों के बीच में लटक रहा है, वो खत्म हो चुका होगा?मैडम जी, मेरी जवानी पर तरस खाइए और ऐसी बात ना करिए.

मैंने शीशे में देखा कि मेरी पूरी की पूरी चुत तो बाहर ही निकल कर आ गई है. शुरू शुरू में तो उसे गांड में लंड डलवाने में दर्द हुआ था लेकिन अब तो वो मोटे मोटे लंड अपनी गांड में लेती है.

बिंदु बोली- देख ज़रा चूस चूस कर चुत का क्या हाल कर दिया है… कितनी सूज गई है. मैं तड़प उठा, पर उसने पूरी अन्दर तक दोनों उंगलियां ठूंस दीं और उन्हें चलाने लगा. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:विलेज के मुखिया का बेटा और शहरी छोरी-3.

उसकी चूत पर हल्के हल्के से बाल थे, जो उसकी चूत को और खूबसूरत बना रहे थे.

गांड पर लण्ड का टोपा घिसते घिसते मैंने अचानक लंड को उसकी चूत में ही ठोक दिया, वह मजे से अन्दर ले गई. मेरा उनके घर बहुत आना जाना था, मैं जब भी भाभी को देखता और सोचता कि कब इनको चोद पाऊँगा. करीब 15-20 मिनट तक हम दोनों एक दूसरे के चिपक कर लेटे रहे और किस करते रहे मैं उठी और मैंने पूनम की साड़ी को खोल दिया और अब वो पेटीकोट ब्लाउज में थी.

सेक्सी पिक्चर नंगी पिक्चर हिंदीअभी मेरे लंड का टोपा ही उसकी गांड में गया था कि वह जोर जोर से चिल्लाने लगी. करीब 10 मिनट किस के बाद मैंने अपने हाथ उनके मम्मों पर रखे और दबाने लगा.

हिंदी सेक्सी वीडियो गूगल

उनका सर नीचे चुत की तरफ था, जिससे शायद भाबी को मेरे आने का पता नहीं चला. उसकी मांसल जांघें बेहद जानलेवा थीं, मैं बिना एक पल रुके उसकी मरमरी जाँघों को चाटने लगा. लेकिन मैंने उसके आगे आगे चल कर उसे अपनी मतवाली चाल से चलते हुए अपनी गोल गांड को मटका मटका कर दिखा दी.

मैंने उसको सीधा बेड पर लेटाया और अपना लंड उसकी चूत के ऊपर वाले हिस्से पर रगड़ने लगा. पेट का तो नाम ही नहीं था और नीचे वाला हिस्सा कमर से थोड़ा सा बाहर निकला हुआ था, जो उसकी खूबसूरती में चार चाँद लगा रहा था. मेरी तरह के विदेशी मेहमान भी सड़कों पर निकल घूम रहे थे, हाथों में वीडियो कैमरा लिए शूटिंग कर रहे थे.

आर्थर ने मेरी धर्मपत्नी को उसके सामने खड़े होकर अपने हाथों की कलाइयों पर ऊपर उठा लिया. थोड़ी देर में खाने के बाद आंटी बोलीं- राज तुम मेरे रूम में ही सो जाना. मैंने कहा- जानेमन, अभी तो सिर्फ होंठों से टच किया है, अभी तो और भी करंट लगेगा.

भाभी की गांड देख मेरा रोम रोम सिहर उठा, मैंने जल्दी से अपने चारों ओर देखा कि कोई मुझे देख नहीं रहा है; फिर उनकी गांड देखने लगा; मेरा लंड फिर तन चुका था. उसके बाद मैंने एक जोर से झटका मारा और पूरा लंड की उसकी चूत में चला गया.

मैं बहुत स्मार्ट दिखता हूँ, बहुत सभ्यता से विनम्रता से बोलने वाला बन्दा हूँ.

फिर एक दिन उस ऑफिसर का कॉल आया, उसने मुझसे बोला कि कुछ डीटेल्स मिसिंग हैं. भोजपुरी सेक्सी में गानाअगर आप चाहे तो हमें भी आपके जैसी ही कोई सुन्दर ब्लोंड, नीली आँखों वाली कमसिन दोस्त मिल सकती है!” आर्थर लड़की से मिन्नतें करने लगा. సెక్స్ వీడియో సినిమాలుजब विवेक आता तो विवेक और कामिनी उसी कमरे में गन्दी गंदी रास लीला करते. दोस्तो, जैसा कि आप जानते हैं कि मैं पेंट, जीन्स या पजामे के नीचे कुछ भी नहीं पहनता हूँ और सफ़ेद गमछा पहन कर नहाता हूँ.

” चेतना के दिमाग में नशा इस तरह हावी हुआ था कि उसने राखी को छोड़ा और बेड से उठी।चेतना बेड से उठकर राजू के सामने गयी, वह फिर राजू के आगे घुटनों के बल बैठ गयी। राजू का बड़ा लंड उसके चेहरे के आगे झूल रहा था। उसकी आँखें बड़ी हो गयी थी और वह बिना पलक झपके उसके लंड को देख रही थी।अब देखती ही रहोगी या बेचारे का मक्खन भी खाओगी? बेचारे को और भी बहुत काम होंगे.

लेकिन अगले ही पल मैं खुश हो गया था कि आंटी ने मुस्करा कर मेरी और देखा था. चाची बोलीं कि ये हमेशा मैं तुम्हारे चाचा साथ करना चाहती थी लेकिन उन्हें वक़्त नहीं मिलता था. मैं उसकी चुत को तुम्हारे सामने ही चैक करवा कर देखूंगा कि वो अनचुदी है या पहले भी चुद चुकी है.

चूँकि अब हम काफ़ी अच्छे दोस्त बन चुके थे तो मैंने उस से मिलने की अपनी इच्छा ज़ाहिर की थोड़ी देर ना नुकुर करने के बाद मेरी ज़िद के आगे वो मान गयी और हमारा मिलना मुकेरियाँ में तय हुआ. फिर भी वो अपने आप बचाव करते हुए बोली- क्या कर रही थी मैं?तो मैंने सीधा बोल दिया- तुम चुदवा रही थीं और क्या. वैसे भी मुझे ही चादर धोनी पडे़गी।मैंने कहा- क्यों सर, आपके तो कपड़े धोने वाली काम करती है।सर ने कहा- अरे पगली, तेरी सील टूटने का बाद इस पर खून लग जाएगा। ऐसे ही रख दी तो तेरी आंटी को शक हो जाएगा।मैं हंस दी और कहा- आज के बाद वो मेरी आंटी नहीं रही मेरी सौतन बन जाएगी।सर भी हंस पडे़ और बोले- बिल्कुल सही कहा शिल्पा।जवान स्कूल गर्ल की चुदाई कहानी जारी रहेगी.

हिंदी सेक्सी कहानी सुनाएं

मेरी बहुत सारी फंतासियां हैं, उनमें से एक ये भी थी कि मैं किसी अंजान आदमी से बस में चुदूँ. मुझे महसूस हुआ कि उसने एक हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया और अपनी चूत के नीचे फिट कर लिया. फिर हम वहां से अपनी कार लेकर फ्लैट पर पहुंचे, रास्ते में वो मेरे लंड से खेलती हुई आई.

जब चंदर ने चुत से भी पूरी मस्ती कर ली तो मेरा मूत निकलने वाला था, मैंने उससे कहा कि मुझे बाथरूम में जाने दो, मेरा मूत निकलने वाला है.

यह सुनते ही मेरे होश उड़ गए और मैं चुपचाप बिस्तर पर बैठ गया, मेरी आँखों से आंसू निकल आए.

मुझे देख कर मेरा दोस्त मेरे पास आया और उसने मुझसे कहा कि दोस्त इधर ऐसी जगह नहीं है कि उसे चोद सकूँ. वाकयी क्या मस्त नजारा था वो, पिंकी सीधी लेटी हुई थी, विक्की की जीभ उसकी मटर जैसी लुल्ली को सहला रही थी. रंडी वाली सेक्सी पिक्चरएकाध बार पुरानी जुगाड़ के साथ लंड चुसाई करवा कर खुद को शांत भी कर लिया था.

सुन कर, अपने घर में उसको अकेले रहना पड़ेगा सोचकर वो थोड़ा घबरा गई।दूसरे दिन शाम को उसकी सासू माँ ’15 दिन बाद आती हूँ. कुछ वक़्त की चटाई से दोनों का पानी एक दूसरे के मुँह में ही निकल गया था. आप ठीक कहती हैं, लेकिन वो ऐसा नहीं चाहता…” बड़े वाले ने सफाई दी- वैसे आपकी कोई सहेली नहीं है हमारे साथ दोस्ती करने के लिए?आपका मतलब है, इकट्ठे आपके और आपके भाई के साथ?” नताशा ने आश्चर्य से पूछा.

वो भी खड़ी हुई और अपने कपड़े लेकर बाथरूम में चली गई, करीब 5 मिनट बाद वो फ्रेश होकर बाहर आई, तो फिर मैं बाथरूम में चला गया और फ्रेश होकर बाहर निकला. तभी जब मैं झड़ने वाला था, मैंने उसका सर पकड़ कर अपने लंड की जड़ तक उसका हलक छुआया.

फिर वो अपनी माँ बिंदु को देख कर बोला- माँ इसमें यहाँ तो कुछ है ही नहीं!बिंदु माँ ने जवाब दिया कि अब तू आ गया है तो मुँह में भर कर खींच खींच कर इसके नींबुओं को संतरा बना दे ना.

वो स्माइल कम था, मानो वो पूछ रहा था- क्या हुआ?मुझे छेड़ने के अंदाज़ में. !भाभी अपने बड़े बड़े चूचों को और चुत छुपाने की नाकाम कोशिश करने में लग गईं. फिर अचानक से भाबी की पेंटी के ऊपर से उनकी फूली हुई चुत को चाटने लगा.

সেক্স ফিলিম मैंने काम्या से कहा- मैं अपनी बुर तेरे मुँह पे रख रही हूँ और तेरी बुर पे अपना मुँह. जब रात का खाना हो रहा था तो चंदर ने मुझे आंख मार कर धीरे से कहा- याद है ना वो…मैंने भी आँख मार कर कहा- हां सब याद है.

जब मैं बाहर आया तो मैंने देखा कि खाना रेडी था तो हम दोनों ने खाना खाया और टीवी देखने लगे. मैंने वापस आकर उनके मम्मों को ब्रा के ऊपर से अपने मुँह में भर लिया और एक एक करके दोनों मम्मों को चूसने लगा. दीदी ने मुस्कान दी और मेरी तरफ पीठ करके पूछा- अब?दीदी की पीठ बिल्कुल नंगी थी, टॉप एक बारीक धागे से बंधा हुआ था.

पुतला का सेक्सी वीडियो

मेरी सहेली को ये बात नहीं पता थी कि मैं उसके मकान मालिक की गर्लफ्रेंड बन गई हूँ. अनामिका- जानू, आज बहुत मजा आ गया।मैं- वो तो हमेशा आता है डार्लिंग… तुम्हारी चुत में इतना मजा है कि जितना मिले उतना कम ही होता है. पिंकी भी रोशनी के आम और काले अंगूर को देखने लगी, तभी मैंने पलंग पे खड़े होकर अपना लंड रोशनी के आम जैसे चुचों पर रगड़ने लगा.

जैसे ही मैंने गर्म कहा उसने होंठों पर होंठ रख दिए और 5 मिनट तक किस किया. !फिर जैसे ही मैंने उनको हां कहा, उन्होंने मुझे कसके पकड़ कर अपनी बांहों में भर लिया और ज़ोर से हग करने लगीं.

उस दिन मेरी सहेली का मकान मालिक ने भी बोला कि उसको भी शॉपिंग करनी है, तो वो भी अपनी वाइफ के साथ हम दोनों लोगों को भी अपने साथ लेकर शॉपिंग करने के लिए ले गया.

चिंता मत करो, अभी आती हूँ, जरा फ्रेश हो लूं!” नताशा ने बाथरूम के दरवाजे को जरा सा खोल कर हमारी तरफ आंख मारते हुए कहा और झट से दरवाजा बंद कर लिया. मैं अवाक रह गई और अपनी बड़ी सी आंखें फाड़ कर उनके चेहरे को देखने लगी. अब मैं तो आसमान में उड़ रही थी और भैया मेरे दोनों मम्मों पर अपनी मजबूत पकड़ बना रहे थे.

कुछ दिन इसी तरह चलने के बाद मुझसे रहा नहीं जाने लगा और दी भी खुलकर अपने चुचे और चूतड़ दिखने लगी थीं. हम दोनों लोग एक दूसरे को देख कर मुस्कुराने लगे और केमिस्ट भी हम दोनों लोगों को देख कर मुस्कुरा रहा था. उस वक्त स्मार्ट फोन भी नहीं हुआ करते थे कि मैं अपने बेटे की तस्वीर भी देख पाता.

मैंने जब ये सेक्स वाली बात ऋतु को बोली तो वो भी घबरा गई, लेकिन बाद में मजबूरी में वो मान गई.

हिंदी में बीएफ हिंदी में हिंदी में: ऐसा कहते ही उसने उसे गले से लगा लिया और कहा कि तुम मेरी सबसे अच्छी दोस्त हो. ये कहते हुए उसने मेरे गाल पे आये बालों को पीछे कर दिया, उसकी इस बात पे एकाएक ही मेरी हंसी छूट गई और वो भी हँस दिया.

मैं- देखो, आज किसी ने तुम्हें मेरे साथ पकड़ लिया तो मैं तुमसे शादी कर लूँगा और नहीं पकड़ा तो ऐसे ही छुप छुप कर हम दोनों चुदाई का मजा लेते रहेंगे. मैं बाईसेक्सयुअल हूँ, मतलब मुझे आदमी के लंड और औरत की बुर, दोनों ही पसंद है. हम मर्दों ने एक घूँट में ही अपने बियर कैन ख़त्म कर दी और मैंने फ्रिज से एब्सेल्यूट वोडका निकाल कर तीन जाम बना दिए.

भाभी- तुम अकेले हो?नहीं मेरा भाई है… वो रात को रिक्शा चलाता है और मैं दिन में.

इस घटना में मैं आपके साथ साझा करने वाला हूँ कि कैसे मैंने अपनी मौसेरी बहन सोनिया की चुत मारी. मैं डर रही थी, घबरा रही थी, मैं कुछ नहीं बोली, वो मेरे पास ग्लास लेकर आए, बोले- वन्द्या तू भी पिएगी, आज पी ले तुझे बहुत मजा आएगा!मैं बोली- नहीं, मैं नहीं पीती, ना कभी पियूंगी!तो उसने तुरंत जल्दी जल्दी दो ग्लास दारु पी और सीधे आकर मुझे अपनी बाहों में भर लिया, मेरे सामने खड़े होकर मेरे होठों पर अपने होंठ रख दिए. अब आगे आपको बताऊंगा कि मैंने कैसे अनामिका के कहने पर उनकी बहन की प्यास बुझाई और और मैं उन दोनों बहनों की सेक्स की भूख आज भी शांत कर रहा हूँ और वे दोनों आज मुझसे बहुत ही खुश हैं।तो चलिए अब देर न करते हुए अब कहानी की शुरुआत करते हैं.