हिंदी सेक्सी बीएफ गाना

छवि स्रोत,देहाती बीएफ देहाती सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

नंगी जवानी: हिंदी सेक्सी बीएफ गाना, जिससे मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुसता चला गया। काजल की चूत से खून निकलने लगा था।वो बोल रही थी- दर्द हो रहा है भैया.

भोजपुरी हीरोइन की बीएफ पिक्चर

साथ-साथ मैं भी उसे कस कर पकड़ने लगी थी और मैं एकदम गर्म हो गई थी।किसी मर्द का इस कदर स्पर्श ज़िन्दगी में पहली बार पाया था।मैंने भी धीरे-धीरे उसकी कमीज़ उतार दी और पैन्ट भी. चूत में लंड घुसाने वाली बीएफवो हँसने लगी।मैंने कहा- क्या हुआ?वो बोली- गुदगुदी हो रही है।मैं और ज्यादा करने लगा.

वो हँसने लगी।मैंने कहा- क्या हुआ?वो बोली- गुदगुदी हो रही है।मैं और ज्यादा करने लगा. सेक्सी बीएफ हिंदी में बीएफ हिंदी मेंमैंने ऊपर उठने के लिए अपने सीने को उठाया ही था कि आपी ने अपना लेफ्ट हाथ मेरी कमर से हटाया.

यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !थोड़ी देर चूत चाटने के बाद उस लड़के ने अपना लण्ड लड़की की चूत में डाल दिया और धक्का मारने लगा और दूसरा लड़का अपना लण्ड लड़की के मुँह में डालकर उसका मुँह चोदने लगा। अब फिर से दोनों अपनी जगह बदली की और चुदाई शुरू की।मैंने भी अपना लण्ड बाहर निकाला.हिंदी सेक्सी बीएफ गाना: क्योंकि मेरा छोटा भाई मेरे साथ था। मूवी के बाद हम अपने-अपने बिस्तर पर चले गए.

इस बार मुझे एहसास हुआ कि वो पहले से ज्यादा कम्फ़र्टेबल तरीके से मेरे बिल्कुल नजदीक अपने हाथों को मेरे कंधे पर रख कर बैठी थी।हम ऐसे ही कुछ देर बाइक पर घूमते रहे और फिर मैंने उसको घर ड्रॉप कर दिया। पता नहीं क्यों.तो हम दोनों किस करते नजर आएँगे और ऐसा रिएक्ट करेंगे कि हम एक-दूसरे को पहली बार किस कर रहे हैं। हम दोनों इतनी तेज और डीप किसिंग करेंगे कि बस.

बीएफ दिखाओ वीडियो में हिंदी - हिंदी सेक्सी बीएफ गाना

प्लीज़ आंटी आप मुझसे चुदवा लो।यह कहते ही उन्होंने मुझे एक ज़ोरदार चुम्बन किया, मैंने भी अपने होंठों को उनके होंठों से जोड़ दिया।बड़ी देर तक वो मेरे होंठों को चूसती रहीं। मैंने कामुक अंदाज से उनको देखा और कहा कहा- आंटी.तब छोटी चाची ने कहा- वो आज शाम को मैडम से मिलने आ रही हैं।फिर मैं उदास सा मैडम के घर की ओर चल दिया।मैडम- क्या बात है.

उसका गर्म पानी मुझे मेरे लण्ड पर महसूस हो रहा था। मैंने चूत को चोदने की स्पीड और बढ़ा दी और करीबन 15 मिनट बाद मैं भी उसकी चूत में ही झड़ गया।झड़ने के बाद मैं वैसे ही उसके ऊपर लेट कर उसे किस करने लग गया और वैसे ही नंगे लेटे हुए कब नींद लग गई. हिंदी सेक्सी बीएफ गाना तो मामा ने मुझे गाण्ड ढीली छोड़ने को कहा।फिर उन्होंने 2 उंगलियाँ डाल कर मुझे चोदा। जब मैं आराम से उनकी दो उंगलियाँ लेने लगा.

मेरा मन नहीं माना।मैं कम्पनी से बीमारी का बहाना करके घर पर वापस आ गया।अपने घर पर आकर मैं कपड़े उतार रहा था.

हिंदी सेक्सी बीएफ गाना?

मैं गरम हो चुका था और अद्भुत आनन्द महसूस कर रहा था।वो भी गर्म हो चुकी थी. तो उसके घर की लाईट जल रही थी। मैंने पास जाकर देखा कि वो पढ़ाई कर रही है।मैंने उससे कहा- थक गई होगी. आप अपने ख्यालात कहानी के अंत में अवश्य लिखें।ये वाकिया जारी है।[emailprotected].

तो कम से कम कहीं बाहर ही कोई अपने जैसी खबीस रूह वाला लड़का देख लेते. लेकिन उन्होंने मेरा लण्ड नहीं छोड़ा और पूरा वीर्य पीने लगीं।बाद में मेरे लण्ड को पूरा चाट-चाट कर साफ़ कर दिया।अपने होंठों पर जीभ फेरते हुए बोलीं- आपका पानी तो बहुत मीठा है।मैं- होगा ही न. मेरे दिल की धडकनें भी तेज होती जा रही थीं।तकरीबन 2 इंच सलवार नीचे हो गई थी।आपी की नफ़ के तकरीबन 3 इंच नीचे बालों के आसार नज़र आ रहे थे.

ये तुम्हारे लिए अच्छा रहेगा।मैं मन ही मन खुश हुआ क्योंकि मुझे बुआ का घर अच्छा लगता है. मुझसे रहा नहीं गया और जैसे ही वो बाहर जाने के लिए दरवाजे की तरफ मुड़ा, मैंने उसे उसकी पाठ की तरफ से बाहों में भर लिया और उससे चिपक गया. बातों-बातों में हमने एक-दूसरे के होंठ चूसे।मैंने पहले ही मन में ठान लिया था कि शुरूआत मैं नहीं करूँगा।वो बातों-बातों में बहाने से मेरे हाथ अपने उभारों पर ले जाती और बोलती- मेरी दिल की धड़कनें तो देखो.

कोई अपनी मौसी को ऐसे नंगी करता है क्या?’मैंने कहा- मौसी आप तो खुद नंगी थीं. अब वो भी मिल गई थी। उसके बाद दो दिन तो सोनिया को चुदाई के लिए मनाने में ही लग गए.

मुझे बहुत दर्द हो रहा है।मैंने निगाह बदलते हुए कहा- रुक साली कुतिया की औलाद.

सुबह उठकर निकल जाएंगे।’‘आपके घर वालों को पता चलेगा तो?’ मैंने फिर चिंता जताई।‘उनको बताएगा कौन कि रात भर कहाँ थी.

इसलिए मैंने दोनों को ढकलेना शुरू किया और उठ कर बाथरूम में चली गई।उधर जाकर जैसे ही सू-सू बाहर आई तो ऐसा लगा कि आधी थकान नीचे से निकल गई हो।मैं वापिस कमरे में आई. फूफाजी ने भी आव ना ताव देखा और शुरूआत बुआ की गाण्ड से की, उन्होंने अपना पूरे 6 इंन्च का मोटा लंड बुआ की गाण्ड में घुसेड़ दिया।हल्के से बुआ चिल्लाईं. फिर तुम्हारा ख्याल आया।उसने बताया- आज तुम्हारे पिछवाड़े पर कालू के चर्मदण्ड का प्रहार होगा।मैं कुछ समझ नहीं पाई.

मैंने अपना लण्ड निकाला और उसके पेट पर अपना सारा माल गिरा दिया।झड़ने के बाद मैं उसके साथ वहीं लेटा रहा।करीब एक घंटे बाद हमने दुबारा चुदाई की और फिर रात को 2 बजे अपने रूम पर आ गया।उस दिन के बाद मैंने कई बार नेहा की चुदाई की. जिसकी वजह से मेरे लौड़े का धागा टूट गया और मुझे थोड़ा दर्द भी होने लगा. साले रुक अभी तुझे बताता हूँ।पुनीत गुस्से में टोनी की तरफ़ लपका तो सन्नी ने उसका हाथ पकड़ लिया।सन्नी- पुनीत ये क्या हो रहा है.

मुझे शर्म आ रही है।जब उसकी पैंटी उतारी तो उसकी बुर इतनी कसी हुई थी कि मेरा आपा खो सा रहा था। मैं उसके मम्मों को इस तरह से हाथ में लेकर मसल रहा था.

क्योंकि उसकी हालत ड्राइव करने लायक नहीं थी।फिर हम दोनों वहाँ से निकल गए। थोड़ी देर चलने के बाद सुनसान सी जगह आई. और उन दोनों के लंड का रोमांच दोनों ही अजीब सी घबराहट पैदा कर रहे थे लेकिन मैं दिल की धड़कन को संभालते हुए गहरी सांसें लेता हुआ उनके पीछे पीछे चला जा रहा था।4-5 मिनट चलने के बाद हम तीनों झोपड़ी के करीब पहुंच गए, झोपड़ी का मुंह खुला हुआ था. और मैं हँस पड़ा।मैं उसे चिढ़ाने लगा- इतनी बड़ी हो गई और साड़ी भी पहनना नहीं आता।वो गुस्सा हो गई और मुझसे रिक्वेस्ट करने लगी- प्लीज़ मेरी हेल्प करो.

सेक्स तो दूर की बात है।आंटी कुछ नहीं बोलीं और खड़ी होकर अंकल की शर्ट जो उन्होंने पहनी थी. लेकिन मौसी की चीखों को अनसुना करते हुए मैंने सोचा कि आज चोदते हुए ही मैं खुद भी तैयार होऊँगा और मौसी को भी तैयार करूँगा।यह सोचते हुए मेरे धक्के धकाधक लगने लगे।जैसे-जैसे समय बीत रहा था. फिर मज़ा आता है।मैंने अपने होंठ काजल के होंठों पर रख दिए और अपने लंड को काजल की चूत में आगे-पीछे करने लगा।जब काजल का दर्द कम हुआ.

’ मैंने धीरे से शरमाते हुए जवाब दिया था।अंकल ने मुझे अपने सीने से लगा लिया- बड़ी हो गई है मेरी बच्ची.

ऐसे हालातों में मैंने जो किया वह सही था या गलत। कृपया अपनी राय जरूर दें।आपका लोकेश जोशी[emailprotected]. तो उसके चेहरे पर एक चमक और एक अजीब सी ख़ुशी थी।हाथ में सामान आते ही उसने मेरा लौड़ा हिलाना शुरू कर दिया और मैं भी उस पर टूट पड़ा.

हिंदी सेक्सी बीएफ गाना भाभी गर्म हो गई थीं।मैंने भाभी की ब्रा भी उतार दी और उनके मम्मों को दबाने लगा।अब भाभी ने मेरे कपड़े भी उतार दिए।अब मैं और भाभी दोनों एकदम नंगे थे।भाभी पहले तो मेरा लण्ड देख कर हैरान रह गईं. ’ के साथ उसकी एक तेज चीख निकल गई। मैं रहम दिखाने के मूड में नहीं था। मेरे लंड में कुछ लसलसा सा लगा हुआ था।अब मोहिनी गिड़गिड़ाने लगी- निकाल लो प्लीज.

हिंदी सेक्सी बीएफ गाना जो मैंने आपसे रूबरू किया। उम्मीद है कि आपको मेरी कहानी पसन्द आई होगी. और दबी आवाज़ में हँसने लगीं।‘मेरा बस चले तो मैं तो आपको सात पर्दों में छुपा कर रखूँ जहाँ मेरे अलावा आपको कोई देख भी ना सके!’मैं ये कह कर आपी के कमरे की तरफ चल दिया।आपी बोलीं- नहीं सगीर यहाँ नहीं.

और फेस की चमक बिल्कुल नई उम्र की लौंडियों जैसी थी। उनको हमेशा गुजराती स्टाइल में साड़ी पहनना पसंद है।रात को वे नाइटगाउन पहनती हैं तब तो मानो वे कहर ढाती हैं।शी इज टू सेक्सी एंड हॉट.

दिखाइए सेक्सी पिक्चर

पर अपने आप को छुड़ा नहीं पाई।उसकी आँखों से आंसू आ रहे थे।मैं उसके मम्मों को दबाने लगा। जब उसे थोड़ा आराम आया. बहुत खुश कर देता है।उसकी सहेली भी मुझसे चुदने के लिए आई थी। इस बारे मैडम ने मुझे नहीं बताया था. पर लण्ड अभी नहीं दिखा।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मेरी इस हरकत से वो एकदम चौंक गया और बोला- अरे भैया ये क्या कर रहे हो?मैं डर गया और चुपचाप सफाई करने लगा।मैं नीचे बैठ कर कूड़ा समेट रहा था। वो खड़ा था.

हिलाने से ज्यादा रगड़ने में मजा आ रहा था।अब बुआ बिस्तर पर कपड़ा पहन कर सो गईं और मैंने भी बाथरूम में जाकर लंड को दोबारा हिलाया। मुझे अपना लौड़ा हिलाने पर जब उसके अन्दर से जो रस निकलता था. उसे कहाँ पर रिपेयर कराऊँ?तो मैंने कहा- मैं आकर रिपेयर करवा दूँगा।बहन से बात होने के बाद फोन अवनी ने ले लिया।अवनी ने बोला- यह मेरा नंबर है. पर मैडम की चीख टीवी की आवाज से साथ दब गई।मैडम मुर्गी की तरह तड़पने लगीं। मैडम की आँखों से पानी आ रहा था। मैडम मुझे लण्ड को बाहर निकालने को कह रही थीं।मुझे मैडम की बात याद आ गई कि चुदाई करते समय मेरी बात मत सुनना।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !फिर क्या था.

तब शाम के 7 बजे थे। मैंने अपना मोबाइल उठाकर देखा तो उसमें दो मैसेज थे।‘हाय.

तब अंकल ने कहा- मैंने तो समझा था कि तुम अपने मॉम-पापा की तरह रोज़ ही लेती होगी. कब से यहा बँधा हुआ है।टोनी- अरे इस बहनचोद का खड़ा हुआ था अपनी बहन की चुदाई देख कर और वैसे भी तेरे चक्कर में इसकी बहन चुद रही है. और फिर प्रियंका के कमरे में पहुँच गया।प्रियंका और सुरभि ने यह पहले ही प्लान तय किया था.

बहुत आता है इनमें।मैं धीरे-धीरे आगे बढ़कर उसके पास गया।वो पैरों को मोड़कर बैठ गईं और अपनी गोद में मेरा सर रखने को बोला।मैंने वैसा ही किया. क्योंकि हमारी बहन जो हर वक़्त बड़ी सी चादर में रहती थी जिसके सिर से कभी किसी ने स्कार्फ उतरा हुआ नहीं देखा था. जब देखो लार टपकाता रहता है।टोनी- अरे यार पुनीत अब बस भी कर ये शराफत का ढोंग.

क्योंकि मुझे थोड़ी देर पढ़ाई करनी है।यह सुनकर मौसी के चेहरे पर अनोखी चमक आ गई और वो दोनों ऊपर चले गए।मैं भी चुपके से ऊपर पहुँच गया था. और जो मनोभाव मेरे उस वक्त थे उसी को व्यक्त कर रहा हूँ। आशा है कि आपको मेरी इस कथा में आनन्द आएगा।मुझे ईमेल कीजिएगा.

मैं अपनी सोच में था।फरहान ने मुझे सोच में डूबा देख कर मेरे लण्ड को ज़ोर से दबाया और बोला- भाई आपी ने किसी को शिकायत नहीं लगाई. कि अचानक सुरभि ने वही बैंगन अपने मुँह में लेकर उसकी गाण्ड में घुसेड़ दिया और बदला लेने लगी।उधर प्रियंका चिल्ला कर बोली- कुतिया बदला ले रही रंडी. पर मुझे नींद नहीं आ रही थी, मुझे तो विश्वास ही नहीं हो रहा था कि ये सब सच में हुआ है। मैं बार-बार अपने लण्ड को छू कर देख रहा था.

लाल रंग का टॉप पहना हुआ था और खुले बालों को एक साईड कर रखा था।जब चेहरे पर नजर गई.

हाँ सच में वो दोनों झड़ चुके थे।अकरम अंकल ने मुस्करा कर अम्मी कर चूचे अपने मुँह में भर लिए और ‘पुच्च. कि उनका तेरह साल का लड़का भी हो सकता है। मैं तो उनको देखते ही उन पर लट्टू हो गया था।हमारे और चाचाजी के फैमिली रिलेशन अच्छे थे, हम एक-दूसरे के घर अक्सर आया-जाया करते थे, हमारे एक-दूसरे के घर डिनर और गेट-टुगेदर भी होते थे।मैं नीलम चाची को घूरता रहता था, मेरी नज़र कभी उनके चूचों की घाटी. तो एक न्यूज़ चैनल पर ‘एयर ब्रा’ का एड आ गया।भभी ने मज़ाक में कहा- देखो ये चोली (ब्रा) कितनी फिट आ रही है।मैंने कहा- हाँ भाभी।उस दिन से उनसे मेरी खुल कर बातचीत होने लगी थी।फिर थोड़े दिनों बाद भाभी का बर्थडे आ गया.

उनके बड़े चूचों के डार्क ब्राउन निप्पल और चूचों पर वासना से अकड़े हुए गहरे भूरे रंग के चूचुक।नीलम चाची का सपाट चिकना पेट. तुम कैसी हो?’माँ ने कहा- तू तो जानती है कि मेरे पति के जाने के बाद.

तो मैंने उनकी गाण्ड मारनी शुरू कर दी।अब उनके मुँह से केवल हल्की-हल्की सी ‘आहें’ ही निकल रही थीं।थोड़ी ही देर में उन्हें मज़ा आने लगा तो वो सिसकारियाँ लेने लगीं।मैंने पूछा- अब कैसा लग रहा है?वो बोलीं- अब अच्छा लग रहा है।अब मैंने भी अपनी स्पीड बढ़ा दी. कभी नहीं किया।‘कभी नहीं किया?’मैंने कहा- आंटी मैंने तो कभी किसी लड़की को नंगी भी नहीं देखा. यह मेरी खुशकिस्मती है कि आज मुझे कुंवारी चूत को हरा-भरा करने का मौका मिला है।उसने अपना हाथ मेरी चूत पर फेरा.

सेक्सी वीडियो सेक्स वीडियो हिंदी

मैं अपनी सोच में था।फरहान ने मुझे सोच में डूबा देख कर मेरे लण्ड को ज़ोर से दबाया और बोला- भाई आपी ने किसी को शिकायत नहीं लगाई.

यह थी मेरी कहानी अभी दो चूतों के बारे में और लिखूंगा।कहानी कैसी है. मानो उसकी चूत को लौड़े की रगड़ाई का सुख मिल रहा हो।फिर मैंने झटके तेज कर दिए. मैं रोज उसके घर जाता और उसको देखता रहता।वो दिखने में बहुत सुंदर है। उसकी हाइट 5.

फिर उस पर मैंने तेल लगवाया और अब मैंने उसे अपनी चूत में डालने को कहा।अब मैं धीरे-धीरे फिर से जोश में आ रही थी, मैं बोली- तेल लगा कर मेरी चूत की मालिश करो और बैंगन मेरी चूत में डालो।उन्होंने वैसा ही किया।वो कभी बैंगन मेरी चूत में डालते. उसने अपने पाँव से मेरे पाँव को ज़ोर से धकेल दिया। मैं फिर वो ही करने लगा।उस समय कोई 11 बजे हुए थे. बीएफ शूटिंगकि मुझे उन्हें दबाने में बिल्कुल भी मज़ा नहीं आया।अब हम दोनों आईने के सामने आ गए फरहान मेरी टाँगों के दरमियान बैठा और उसने मेरा लण्ड चूसना शुरू कर दिया।मैं नहीं जानता क्यों.

जिससे वो अब दर्द भूल गई और तैयार हो गई।जल्द ही अब प्रीत ने अपनी गांड को हिलाना शुरू कर दिया था और वो चूतड़ों को ऊपर-नीचे करने लगी।जब मैंने देखा कि प्रीत को अब मजा आने लगा. ’ करने लगी और मैं तेज ठोकर उनकी चूत में मारता रहा। फिर उनको भी मज़ा आने लगा.

यह दर्द तो हर लड़की को ज़िंदगी में एक बार झेलना ही पड़ता है।इतनी देर में मेरा दर्द गायब हो चुका था. पर मेरे होंठ से उसके होंठ सिले थे।तो उसके मुँह से सिर्फ ‘गूं गूं’ की आवाज़ निकल रही थी।मैंने एक और झटका मारा और मेरा लंड उसकी चूत में थोड़ा और अन्दर घुस गया। उसकी चूत इतनी तंग थी कि मेरा लण्ड आसानी से नहीं घुस पा रहा था। एक और धक्के में मेरा लण्ड उसकी चूत को फाड़ता हुआ अन्दर दाखिल हो गया।मेरे लण्ड पर मैंने महसूस किया कि उसकी चूत से खून निकल रहा है।मैंने सोचा इसकी तो फट गई. अम्मी गुदगुदी के मारे सिसकारियाँ भरने लगीं।‘बहुत प्यारे हो तुम दोनों.

’फिर मैंने पूछा- भैया घर पर कितने बजे आते हैं?तो उन्होंने कहा- आज वह कोलकाता गए हुए हैं. उतने में वो करीब दो बार झड़ चुकी थी।उसके पानी से मेरा पूरा मुँह गीला हो गया था।मैं अब सीधा हुआ और उसने मेरा लण्ड लेकर फिर से चूसा. यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !आयशा ने भी शरम छोड़कर सब बता दिया- हाँ.

इतनी जल्दी वापस आ गए कॉलेज से?तो मैंने सिर दर्द या पेट दर्द जैसे बहाने बनाने से ऐतराज़ किया कि उस पर अम्मी का लेक्चर सुनना पड़ जाता, मैंने कह दिया कि आज टीचर्स ने किसी बात पर हड़ताल कर रखी है।अम्मी ने अपनी बगल में दबाए अपने बुर्क़े को खोला और बुर्क़ा पहनते-पहनते टीचर्स को कोसने लगी, फिर नक़ाब बाँधते हुए उन्होंने मुझे कहा- मैं तुम्हारी सलमा खाला के घर जा रही हूँ.

और उसके भाई-बहन रोशनी और अंकित ऊपर छत पर सोने चले गए।रात के करीब 12 बज गए। नीलम के भाई-बहन तो सो गए थे. वो अपने कपड़े साफ करने वाशरूम की तरफ आएगी और आते-आते उस लड़के की ओर ऐसे मुड़ कर देखते हुए आएगी कि उसे लगे कि वाशरूम में आने का न्योता दे कर गई हो।फिर जब वो लौंडा पीछे-पीछे आएगा और जब वो वाशरूम की और मुड़ेगा.

लो देखो।मैडम- अरे अवि तुम्हारा लण्ड तो सच में लंबा है। मैंने अपने लाइफ में इतना बड़ा लण्ड कभी नहीं देखा।अवि- क्या मुझे कोई बीमारी तो नहीं है?मैडम ने सोचा कि इसका लण्ड देख कर मेरी चूत में तो पानी आ गया। मुझे कुछ सोचना पड़ेगा। एक आइडिया तो है उससे मेरी चुदाई भी होगी और इसको भी बीमारी से छुटकारा मिल जाएगा। ऐसी बीमारी जो कभी इसे थी ही नहीं।‘अवि मुझे देखना पड़ेगा कि तुम्हें बीमारी है कि नहीं. उसी वक्त गाँव के हैण्डपंप पर मुझे एक खूबसूरत सी लड़की पानी भरते नज़र आई। उसे देख कर ऐसा लग रहा था कि इस यहीं पकड़ कर चोद दूँ. उसका लौड़ा तो उसको देख कर ही सलामी दे रहा था।आप जल्दी से मुझे अपनी प्यारी-प्यारी ईमेल लिखो और मुझे बताओ कि आपको मेरी कहानी कैसी लग रही है।कहानी जारी है।[emailprotected].

ऐसा कभी नहीं होगा।और फिर शरारत से बोलीं- वैसे सुबह मौका था तुम्हारे पास. पर बार-बार देखने की इच्छा होती है।मैडम- क्या तुम्हारे पास भी ऐसी किताब है?अवि- नहीं मैडम मेरे पास तो नहीं है।मैडम- क्या तुम्हें वो किताब चाहिए?अवि- नहीं मुझे नहीं चाहिए। अगर मेरी चाची ने देख ली तो मुझे मार पड़ेगी।मैडम- इसको ऐसे छुपा कर रखो अपने कमरे में. तो मैंने कहा- मेरा लंड अपने मुँह में लेकर चूसो।पहले तो उसने मना कर दिया फिर मेरे बार-बार कहने पर मेरा लंड का टोपा अपने मुँह में ले लिया और अपनी जीभ से चाटने लगी।मेरा लंड फूलकर काफ़ी मोटा हो गया था में एक ज़ोर का झटका मारा.

हिंदी सेक्सी बीएफ गाना आज तो तेरी गांड में अपना लौड़ा उतार कर रहूँगा!’ कहते हुए उन्होंने मेरी बेल्ट खोलकर पैंट नीचे उतार दी और जांघिया को भी उतार कर नीचे कर दिया।वो एक हाथ से मेरे नरम नरम गोरे चूतड़ों को दबा रहे थे तो दूसरे हाथ से मेरी छोटी छोटी निप्पलों को जोर से मसलने लगे।मैं तड़प गया- सर छोड़ दो!‘हाँ, तेरी गांड में ही छोडूंगा!’‘सर जाने दो प्लीज़!’‘नहीं मेरी जान. उसकी ब्रा कपड़ों के ऊपर से साफ दिख रही थी।यह देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया।मेरा मन तो किया अभी चोद दूँ साली को.

सेक्सी में ब्लू पिक्चर हिंदी में

वॉट यू वांट?उसने कहा- या तो तुम जेल जाओ या फिर मेरे साथ तुम टाइम गुजारो. वो मेरे लौड़े पर उछल-उछल कर मेरा साथ दे रही थी। कुछ ही देर में ममता झड़ने वाली थी।अचानक ममता ने पानी छोड़ दिया और मेरा लण्ड और थोड़ा सा पेट गीला हो गया। अब मैं उठा और कहा- बिस्तर के पास खड़ी हो जाओ।ममता बिस्तर के पास खड़ी हो गई. तो हम दोनों छत पर बातें करने लगे।हमारी छत से उसकी छत पर जाने के लिए एक पतली गली जैसा रास्ता है।एक दिन उसका बर्थ-डे आया, मैं उसको गिफ्ट देने के लिए उसी रास्ते से उसके रूम तक गया, वो मुझे वहाँ देख कर डर गई.

मैंने उनके सामने ही अपना टॉप उतारा और फिर अपनी पहनी हुई स्ट्रेपलैस ब्रा भी उतार दी। अंकल एकटक मेरे नंगे मम्मों को देखे जा रहे थे। उनके ऐसे देखने से मेरे जिस्म में फिर से सनसनी उतरने लगी।मैंने मुस्कुराते हुए अंकल की लाई हुई ब्रा उठा कर अपनी चूचियों पर रखा और दोनों हाथ पीछे ले जाकर ब्रा के फीते के सिरे पर लगे हुक को एक-दूसरे से जोड़ दिया।अंकल ने उठ कर मेरी गोलाइयों पर ब्रा को एडजस्ट कर दिया. आज मैंने तुम्हारे लिए ख़ास खाना बनाया है।यह किस्सा था प्रीत दि ग्रेट चुदक्कड़ पंजाबन माल का।दोस्तो, आपको अपनी दिल की बात बता दूँ कि मुझे पंजाबन भाभियाँ बहुत पसंद हैं, पंजाबी भाभी को चोदने का बहुत मन होता है. देहाती बीएफ भेज दोवैसे ही हल्की बारिश होना चालू हो गई। मेरे मन में और भी ख़ुशी जागृत हो गई.

तो आपी ने आँखें खोल दीं। मैं उनके आँसुओं को साफ कर रहा था और आपी बिना पलक झपकाए मेरी आँखों में देख रही थीं, उनकी आँखों में बहुत तेज चमक थी। उस वक़्त पता नहीं क्या था आपी की आँखों में.

तो उसके गीले बाल और भीगा ज़िस्म बहुत सेक्सी लग रहा था।तौलिये में हनी के सीने के उभार काफ़ी बड़े दिख रहे थे और जब वो वापस जाने के लिए मुड़ी थी. ’ मैंने भरपूर नज़र आपी पर डालते हुए कहा।‘अच्छा अभी तो तुमने सही तरह से सूट देखा ही कहाँ है.

लेकिन अब मेरा ब्रेकअप हो गया है। अब मेरी चूत की खुजली मिटाने वाला कोई नहीं है।एक बार पापा-मम्मी तीन दिन के लिए मामा के घर शादी में गए हुए थे. मुझे तो जाना ही पड़ेगा।अवि- पर आप हमेशा मेरी बेस्ट टीचर रहेंगी।मैडम- ये अब छोड़ो. जिसे देख कर अर्जुन का लौड़ा ठुमके मारने लगा।‘वाह पायल कुदरत ने बड़ी फ़ुर्सत से तुम्हें बनाया है.

बहुत अच्छा लग रहा है।एक चूचा चूसने के साथ ही मैं उसके दूसरे चूचे को जोर-जोर से दबाए भी जा रहा था।प्रीत अब गर्म हो चली थी.

तथा मैं लंगड़ाकर किसी तरह अपने कमरे में पहुँच पाई।मेरी सहेली ने वहाँ आकर मुझे समझाते हुए कहा- यह तुम्हारी पहली चुदाई थी. पर लण्ड अभी नहीं दिखा।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मेरी इस हरकत से वो एकदम चौंक गया और बोला- अरे भैया ये क्या कर रहे हो?मैं डर गया और चुपचाप सफाई करने लगा।मैं नीचे बैठ कर कूड़ा समेट रहा था। वो खड़ा था. इसलिए मैं आपके सामने से चली जाती हूँ।तो मैंने उससे पूछा- किस बात की शर्म आती है तुमको?उसने मेरे सवाल का कोई जवाब नहीं दिया.

अंग्रेजी में बीएफ दिखाएंतो माफ़ करना।यह कुछ दिनों पहले की ही बात है। मुझे जरूरी काम से दिल्ली जाना पड़ा। वहाँ से अपना काम पूरा करके मैं वापस आने के लिए रोडवेज बस स्टैंड गया।वहाँ बहुत देर तक बस का इंतज़ार किया. हमारा टेस्ट अगले दिन 11 बजे से स्टार्ट होने वाला था। हम रूम लेने को एक होटल में गए.

வில்லேஜ் ஆன்ட்டி செக்ஸ்

मैं तो समझता था कि सिर्फ़ मैं ही ऐसा हूँ।मैं उस वक़्त कुछ कन्फ्यूज़्ड सा था. मेरी जैसे मन की मुराद पूरी हो गई हो, मैं उन्हें सहारा देकर उठाकर बेडरूम में ले आया और उस वक्त तक मैंने 1-2 बार उनके मम्मों को भी दबा दिया. और उन्होंने लौड़े को चूत में आदर से स्थान देते हुए खुद को सैट किया और कहा- आह्ह… चोदो श्याम.

मैंने उनके सामने ही अपना टॉप उतारा और फिर अपनी पहनी हुई स्ट्रेपलैस ब्रा भी उतार दी। अंकल एकटक मेरे नंगे मम्मों को देखे जा रहे थे। उनके ऐसे देखने से मेरे जिस्म में फिर से सनसनी उतरने लगी।मैंने मुस्कुराते हुए अंकल की लाई हुई ब्रा उठा कर अपनी चूचियों पर रखा और दोनों हाथ पीछे ले जाकर ब्रा के फीते के सिरे पर लगे हुक को एक-दूसरे से जोड़ दिया।अंकल ने उठ कर मेरी गोलाइयों पर ब्रा को एडजस्ट कर दिया. ’ क्या मस्त चुदाई चल रही थी, मैं सुपर्णा के दोनों चूचों को पकड़ कर चोद रहा था, कभी उसके निप्पल को चूसता. बस अंडरवियर नहीं निकाला।पायल की निगाहें सन्नी को लौड़े के उभार को गौर से देख रही थीं.

!उसकी बात के जवाब में मैंने मुस्कुराते हो उसका हाथ अपने लण्ड से हटाया और खड़े होते हुए कहा- नाश्ता खत्म करके कमरे में आ जाओ।कह कर मैं ऊपर चल दिया।जब फरहान कमरे में दाखिल हुआ तो मैं बिस्तर पर लेटा हुआ आपी के बारे में ही सोच रहा था और मेरा लण्ड खड़ा था। फरहान ने मेरी तरफ आते हुए कहा- अम्मी सलमा खाला के घर चली गई हैं. इस धक्के के साथ ही मेरा लण्ड लाली की चूत में बहुत अन्दर तक घुस गया।मौसी दर्द से तड़प रही थीं। उनकी आँखों से आँसू बह रहे थे। मैंने एक धक्का और मारा तो मेरा लण्ड और अन्दर घुस गया। मैंने गहरी सांस लेते हुए फिर से ज़ोर का धक्का लगाया। इस धक्के के साथ ही मेरा पूरा का पूरा लण्ड मौसी की चूत में समा गया।मैंने तुरंत अपना पूरा लण्ड बाहर निकाल कर एक ही झटके में फिर से अन्दर कर दिया। मैंने वैसा ही किया. तो कभी गाण्ड में ऊँगली कर देता रहा। इससे सोनिया गर्म हो गई और मदन का लण्ड चूसने लगी। मदन और सोनिया दोनों एक-दूसरे में मस्त थे.

लेकिन नहीं सो पाई, फिर तंग आकर रात के 2 बजे मैंने अपना रूम अन्दर से लॉक किया और खिड़की से निकल कर ऊपर छत पर आ गई।साथ वाली छत पर उसके रूम की लाइट ऑफ थी. हम दोनों ही झड़ने वाले थे कि अचानक ही प्रियंका अकड़ गई और मैं उसकी चूत पेल रहा था.

मैं अपने ब्रेकअप से परेशान था और शनिवार को साकेत पीवीआर के पास एक बार है.

काटने लगी।मैं गर्म हो गया और उसको पकड़ कर नीचे कर दिया और मैं उसके ऊपर आ गया। मैंने उसके गले को चूम-चूम कर गीला कर दिया. अभिषेक बीएफइसलिए सीधे धड़धड़ाते हुए अन्दर घुस गया।अन्दर घुसते ही मैंने जो देखा. सानिया के बीएफ वीडियोमेरे मजबूर करने पर आपी ने एक बार फ़िर अपनी चूचियाँ हमें दिखाई।मेरे यह पूछने पर कि ‘आपी आपको भी मज़ा आया ना?’ आपी मुस्कुरा कर अपने कमरे की ओर जाते हुए मुझे आँख मार कर बोली- एक दम झक्कास!अब आगे. फिर 10-15 शॉट के बाद हम दोनों एक साथ झड़ गए, मैंने अपना पूरा गर्म लावा उनकी चूत में छोड़ दिया और हम दोनों बिस्तर पर लेट गए।तभी उसकी सहेली का फोन आया- क्या कर रहे हो?आंटी ने कहा- कुछ नहीं बस आराम कर रहे हैं।उसने कहा- आ जाओ नीचे मैडम.

मैं तेल ले आया और उसने लाइट बंद कर दी।मैं पेट के बल लेट गया पलंग पर.

बहुत दर्द हो रहा है।मैं थोड़ी देर यूँ ही रुक गया और उसे किस करने लगा. सम्पादक जूजामुझे पता था कि अगर मैंने यह बात शुरू कर दी… तो अम्मी सारा दिन ही गुजार देंगी। हरेक बंदे के बारे में मालूम करके ही सुकून से बैठेंगी। इसलिए ये बात सलमा खाला के सिर डाल कर मैंने बात ही खत्म कर दी।दोनों बहनों को बातें करने का भी बहुत शौक है. कभी अपने एक हाथ की उंगली मेरी बुर के चीरे पर ऊपर से नीचे और कभी नीचे से ऊपर फिराते.

तो मैं उठकर देखने लगी तो देखी मेरी चूत से खून निकल रहा है।मैंने माँ को बताया. जब हमारी कहानी में हनी की एंट्री होगी।मुझे और फरहान को चुदाई का खेल खेलते लगभग 3 महीने हो गए थे। हम लण्ड चूसते थे. कभी मैं उसके ऊपर चढ़ जाते रहे।कुछ समय बाद मैंने उसका कुरता उतार दिया और उसकी चूचियाँ चूसने लगा।बबीता ‘आईईईई… सीसीहीई.

खराब खराब सेक्सी वीडियो

तो दिन में मेरा रूम खाली ही रहता है।मैंने सुबह 10 से 11 बजे का टाइम कंप्यूटर सीखने को दे दिया। शुरू-शुरू में मैं उस पर ज़्यादा ध्यान नहीं देता था. तो गाड़ी वो चलाने लगा और कुछ टाइम के बाद उसने एक रोड पर गाड़ी रोकी और किसी को वापिस फोन किया और उसकी राह देखने लगा।तभी एक एकदम हसीन आंटी ने कार का दरवाजा खोला और एकदम से गाड़ी में बैठ गईं।मुझे तो कुछ समझ में ही नहीं आया कि क्या हो रहा है।लेकिन वो आंटी थीं बड़ी सेक्सी. इतने बुरे दिन आगे के थारे (तुम्हारे इतने बुरे दिन आ गए)लड़कियाँ मिलनी बंद हो गी.

’बस मैं भी मजे लेकर उसके ऊपर होकर चुदाई कर रहा था।दस मिनट बाद उसने मुझे कस कर पकड़ लिया और अपनी तरफ भींचने लगी.

और मुझे ज़ोर से पकड़ लिया।मैंने एक शॉट और लगाया और मेरा पूरा लंड उनकी चूत की जड़ में पहुँच गया। फिर एक के बाद एक शॉट लगाता रहा और वो ‘आआहह.

पूरे जिस्म में दर्द था। सुबह तो मैं ठीक से चल भी नहीं पा रही थी, मेरी जाँघों में दर्द और अकड़न सी हो गई थी।मैं उनके यहाँ करीब 7 दिन रुकी थी और हर दिन हम दोनों ने जी भर कर चुदाई की। यहाँ तक कि जब दिन में मौका मिलता तब भी लण्ड चूत का खेल शुरू हो जाता था।मैंने जैसा सोचा था. जानने के लिए संपर्क में बने रहें।आपको मेरी तीसरी स्टोरी कैसी लगी जरूर बताएं. हिंदी ब्लू सेक्सी फिल्म बीएफतू सुबह उसका इंतजार करना।सुबह स्कूल टाइम में मुझको सोनिया रास्ते में ही मिल गई।वो बोली- प्लीज़ मुझे मदन के घर तक तो छोड़ दो.

जैसे मानो कोई सेब या सन्तरा खा रहे हों। मुझे हल्का दर्द भी होने लगा और मेरी हल्की चीख निकलने लगी। ‘आआहाहह. मैं बोला- जानू प्यार करने वाले पागल होते हैं।मैंने उसकी चूत में उंगली डाल दी, उसने थोड़ी दर्द की आवाज की ‘आआइइइ. तो मौका मिलने पर ही होगा ना।मैं कुछ सोचने लगा कि तभी उन्होंने मेरे लण्ड को पकड़ कर कहा- तब तक इसको सबर करने को बोलो। देखो मोनिका का एग्जाम सेंटर भुवनेश्वर पड़ा है.

तब उनके चूचे ‘धबाधब’ हिल रहे थे।मैं उनके चूचों और निप्पलों को मसलने लगा। अचानक वो अपनी बगलें मेरे मुँह के पास ले आईं. अपने भाई को तड़पाती रहती है।उसने सेक्सी स्माइल देते हुए कहा- तड़पने के बाद ही तो ज्यादा मज़ा आता है।यह सुनते ही उसे मैंने ‘शैतान’ कहा और अपने दोनों हाथ उसके गालों पर रखकर उसके होंठों को अपने होंठों के पास ले आया।फिर पागलों की तरह उसे किस करने लगा, अपनी पूरी जीभ को उसके मुँह में डालता.

उसी क्रम में कहानी लिखूँ।तो आज जो कहानी मैं लिखने जा रहा हूँ उसका पात्र एक बहुत ही अमीर घराने की लड़की है, यह एकदम सच्ची घटना है और मैं उसे उसी तरह लिख रहा हूँ.

मैंने सर से अलग होते हुए फटाफट पैंट ऊपर बांधी और बैग की तरफ लपका।तब तक सर ने भी अपनी पैंट बांध ली थी और दरवाजा खोलते हुए बाहर निकलकर बोले- हाँ भाई. तो वो तुरंत उठकर खड़े हो गए और मौसी तो नीचे बैठाकर लंड उनके मुँह के पास लेकर खड़े हो गए।मौसी भी समझ गईं कि वो क्या चाह रहे हैं. जिससे प्रीत और भी चुदासी हो गई और उसकी सिसकारियाँ और भी तेज हो गई थीं।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !प्रीत ने मेरी टी-शर्ट को उतार दिया और मैंने भी उसकी टॉप को उतार दिया।उसने ब्रा नहीं पहनी हुई थी.

लड़की की सेक्सी चुदाई बीएफ तो चलिए कहानी आरंभ करते हैं यह कहानी…मेरी गर्लफ्रेंड नाम आयशा श्रीवास्तव है. और मैं उसके मुँह में ही डिसचार्ज हो गया। मेरे लण्ड का जूस उसके मुँह से बह रहा था। उसने सारा पानी मेरे पेट पर थूका और फिर से मेरे लण्ड को चूसने और चाटने लगा।वो ऊपर आया और उसने अपने होंठ मेरे होंठों से चिपका दिया.

तन्वी बहुत अच्छी लड़की है, वो मुझसे बहुत प्यार करती है। मैं भी उसको बहुत प्यार करता हूँ।अब मैं बताता हूँ कि तन्वी को कैसे चोदा।मैंने तन्वी से एक बार मिलने को कहा. लेकिन कामयाब नहीं हो पाया।आख़िरकार मैंने सोचा कि एक बार ट्राई करने में क्या हर्ज़ है। मैंने 2 बार ‘मौसी. वो घबरा गई और उसके चेहरे पर घबराहट साफ नज़र आ रही थी।तो मैंने उनसे कहा- घबराओ मत.

தமிழ் ஹட செஸ் வீடியோ

इसलिए वो आई है।मैंने उसको वहाँ पर छोड़ दिया और उसका मोबाइल नंबर ले लिया। फिर रात को मैंने उसको फ़ोन किया तो उसने पूछा- कौन?मैंने बताया- यार दिन में मिले थे ना. ताकि मेरे लंड का घर्षण वो अपनी चूत में महसूस कर सके।उसने अपनी आँखें बन्द कर रखी थीं। थोड़ी देर ऐसा करते रहने से मोहिनी के जिस्म में भी हरकत होना शुरू हो गई थी। अब वो भी अपनी गांड उठा रही थी और मेरे लंड को अपनी चूत में लेने की कोशिश कर रही थी।कुछ ही पलों में वो पूर्ण रूप से चूत चुदाने को तैयार हो गई थी। मैंने उसकी चूत में हाथ लगाया. जिससे प्रीत की चूत पर मेरा लण्ड रगड़ रहा था।मैंने अब देर नहीं की और प्रीत को गोद में लेकर गद्दे पर उसको पीठ के बल लेटा दिया। उसके पूरे बदन पर जोर-जोर से चुंबनों की बारिश कर दी.

’ यह कह कर वो किचन की तरफ चल दीं।मैंने आपी को इतने इत्मीनान से इस हुलिए में घूमते देख कर कहा- आपी क्या घर में कोई नहीं है?‘नहीं. मैंने आज तक कोई ब्वॉय-फ़्रेंड नहीं बनाया। लेकिन अंकल आप बुरा ना मानें.

इस कारण हम दोनों ही शादी में जा नहीं पाए। मॉम-डैड भी एक दिन के लिए ही गए.

ठीक है कल इसी समय तुम मुझे खुश करने के लिए रेडी रहना।मदन ने मुस्कुराते हुए कहा- ठीक है मैं कल तुम्हारा इंतजार करूँगा।फिर मैं और सोनिया मदन के घर से निकल कर रास्ते में थोड़ी बात करते हुए चलने लगे।सोनिया बोली- यार आज तो तुमने मेरी चूत की अच्छी चुदाई की. तब हम दोनों ने एक-दूसरे से नंबर ले लिया और दुल्हन के साथ आरती भी विदा हो गई थी।हमने फिर व्हाटसप्प पर चैट शुरू की। काफ़ी दिन चैट करने के बाद मैंने उसको प्रपोज़ किया. जब मैं 19 साल का था और दिल्ली में डीयू के एक कॉलेज में पढ़ता था। उन दिनों मेरा लंड बहुत उठता था.

रंग गोरा जिस्म एकदम स्लिम है।मैंने उन्हें इंची टेप ले कर नापा तो नहीं. और वैसे भी आजकल के लड़कों को तो कुछ ज्यादा ही ज़रूरत होती है।मैंने भाभी की ओर देखा. पर मेरी नजर तो प्रीत भाभी पर ही थी। मैं तो उसको ही देख रखा था। अचानक प्रीत भाभी की नजर मुझ से टकराई.

इतना ही सामान था।मोबाइल की रोशनी में हमने देखा कि हमारे कपड़े रोड के गंदे पानी से बुरी तरह से मैले हो गए थे।‘एक काम करते हैं हम.

हिंदी सेक्सी बीएफ गाना: तो मामी बोलीं- अब क्या तुम ही हरी करोगे भैंस को?मुझे कुछ समझ नहीं आया. ’ करने लगा।फरहान नीचे आया तो अम्मी की आवाज़ सुनते ही सीधा किचन में गया और उन्हें सलाम करने और उनसे प्यार लेने के बाद उनके साथ ही नाश्ते के बर्तन पकड़े बाहर आया और मेरे साथ वाली कुर्सी पर ही बैठ गया।हमने नाश्ता शुरू किया और अम्मी का रुख़ अब फरहान की तरफ हो गया था। नाश्ता करते-करते फरहान अम्मी से भी बातें करता रहा.

लेकिन मैं उन्हें लगातार किस किए जा रहा था और एक हाथ से कभी उनके कूल्हे मसलता. फच्चक फच्चक फच्चक फच्चक… फच्चक फच्चक फच्चक फच्चक… राजे कुत्ते तेरी माँ को चोदूँ… आहहह… भोसड़ी के आज दम निकल जाने दे साले चोद चोद के… हाय हाय हाय बड़ा मज़ा आ रहा है बेटीचोद… आह आह आह…राजे माँ के लौड़े कमीने…साले तेरी बहन को चोदूँ आह आह आह…और यारो, माँ के लौड़ों फिर धक्के पे धक्का… और फच्चक फच्चक फच्चक फच्चक फच्चक. उधर रॉनी का हो गया तो वो एक तरफ़ लेट कर हाँफने लगा और कोमल बाहर टीवी पर पायल की चुदाई देखने नंगी ही आ गई।टोनी- अरे वाह कोमल रानी.

नए ले लेंगे।उसने मुझे बिस्तर पर धक्का दे दिया।एक-एक करके उसने अपने हाथों से मेरे कपड़े उतारे और तभी ना जाने मुझे क्या हुआ मैंने उसको पकड़ कर अपने नीचे लिटा दिया और उसके होंठों को चूमने लगा।मैंने उसकी ब्रा को खोला और उसके मम्मों को अपने मुँह में भर कर चूसने लगा।इसी के साथ एक हाथ उसकी पैन्टी के ऊपर घुमाने लगा और वो भी पागलों की तरह मचलने लगी।‘आआ.

तो तुम उसको भी अपने इस प्यार के जादू से अपने वश में कर लोगे।मैंने कहा- ऐसा कुछ नहीं है. जयपुर का रहने वाला हूँ।मैं सीए का स्टूडेंट हूँ और यहीं किराए के फ्लैट में रहता हूँ।मैं आज आपको मेरी पहली चुदाई की कहानी बताने जा रहा हूँ।मेरे वहाँ जाने से एक महीने पहले मेरे फ्लैट के मलिक की मौत हुई थी. कि रंडी लोगों का बिस्तर गर्म करती है। राखी रंडी बनने से मुझे बहुत मज़ा है.