बीएफ सारी

छवि स्रोत,सेक्सी बीएफ बीएफ वीडियो हिंदी

तस्वीर का शीर्षक ,

சைனீஸ் செக்ஸ்: बीएफ सारी, मैं शहर से जब भी उनके घर जाता हूँ, तो सभी लोग बहुत खुश होते हैं और मुझे बड़ा दुलार करते हैं.

शेर शेरनी की बीएफ

वो बोली- चुप कर बदमाश … सो जा!उसके बाद अब मेरी रोज भाबी से सेक्स चैट होने लगी. सेक्सी बीएफ वीडियो चूत की चुदाईशादी के दूसरे दिन मैं कॉलेज के कारण मुंबई आ गया और शादी के 3 महीने बाद काम के कारण भैया और भाभी पुणे शिफ्ट हो गए.

फोन को जेब में रख कर बाइक स्टार्ट करके अभी थोड़ा आगे ही पहुंचा था कि मेरी बाइक के पिछले पहिये में से हवा निकल गई. हिंदी बीएफ सेक्सी सुहागरात कीसुमन- तो अब क्या होगा … आप क्या करोगे? कोई दूसरा रास्ता नहीं है क्या?मुखिया- रास्ता सिर्फ़ तुम हो सुमन, अब जो भी है … सब तुम्हारे हाथ में है.

शाम तक हम दोनों कार से ही शहर में घूमते रहे, फिर मैंने उसे उसके घर छोड़ दिया.बीएफ सारी: मैंने उसके बाल पकड़ कर उसकी गांड अच्छे से चोदी और फिर गांड में ही झड़ गया.

मैंने ध्यान से सुना, तो वो कह रही थी कि उसके पति को घर आए पांच महीने हो गए थे और इस वजह से वो शारीरिक सुख के लिए तड़प रही थी.मैं मानव प्रजनन के चैप्टर का इंतजार कर रहा था क्योंकि उसी में चूची, वैजाइना, निप्पल और लिंग जैसे शब्द खुले रूप से इस्तेमाल हो सकते थे.

बाप बेटी के साथ बीएफ - बीएफ सारी

मगर फिर भी रसीली चूतों का मैं बहुत बड़ा भोगी हूं और मुझे ऐसी चूतें बहुत पसंद हैं.मैंने रोबीना से पूछा- अपना पानी कहां निकालूं?तो मेरी बीवी समीना बोली- इसके मुंह में निकालो.

मैंने अपनी दोनों टांगों को मोड़ा और कमर आगे पीछे और गोल गोल घुमाने लगा. बीएफ सारी वो बोली- तुझे मैं अच्छी लगती हूं ना?मैं बोला- नहीं मॉम ऐसी बात नहीं है.

जी करता था कि किसी मर्द के हाथों अपने इन मोटे मोटे प्यासे स्तनों को जोर जोर से मसलवा लूं.

बीएफ सारी?

वो दोनों हाथों को मेरी जांघों पर टिकाये जोर जोर से अपने मुंह को मेरे लंड पर ऊपर नीचे चला रही थी. इसके बाद बातों बातों में उसने मेरी जांघ पर हाथ रखा और मेरे हाथों को पकड़ कर चूम लिया. अब जब भी वो आती है, मैं अपनी बीबी और साली को एक साथ में ही चोदता हूँ.

मैंने उसको सीधी खड़ी किया और उसके गले के पसीने को चाटकर साफ कर दिया. मैं यही सोच कर पागल सी हो रही थी कि अभी बस हाथ पर ही चुम्बन किया है, आगे आगे क्या क्या होगा और उससे मेरी क्या हालत होने वाली है. हम दोनों सहेलियों का पानी निकल जाने के बाद हम दोनों ही शिथिल हो गई थीं.

कुछ देर बाद उसका दर्द जाता रहा और उसकी कमर ने चुदाई का मजा लेना शुरू कर दिया. कुछ ही देर में दोनों इतनी गर्म हो गयीं कि उनको होश ही नहीं रहा और दोनों नंगी होकर एक दूसरे की चूत को चाटने लगीं. आपा की चूत भी चोदने में मज़ा आया लेकिन भांजी की चुदाई में जो मज़ा आया वो तो मैं आपको कैसे बताऊं! मैंने बहुत मज़ा लेकर उसकी चूत मारी और मुझे जैसे स्वर्ग सा मिल गया था.

उसने मेरी दाईं जांघ की तरफ से मेरी पैंटी के अन्दर अपनी उंगली डाल दी और पैंटी की लकीर के अन्दर अन्दर उंगली चलाने लगा. फिर वो भी मीनू की चुत पर टूट पड़ा और उसकी झड़ी हुई चुत को चूसने लगा.

सुमन- ओये होये … क्या बात है आज लगता है पूरे मूड में हो, तो चलो फिर जल्दी से खाना खा लो, उसके बाद मुझे खा लेना.

अब तेरे पति का इंतजाम करना पड़ेगा ताकि मैं तेरी बाकी की खीर आराम से खा सकूं.

इस वजह से अम्मी मुझसे बोलती थीं कि बेटा तू अभी अपनी पढ़ाई पर ध्यान दे. वो थोड़ी देर पहले मुझे सर के लंड से रंडी की तरह चुदते हुए देख चुके थे. मैंने उसका मुँह अपने मुँह से बंद कर दिया और एक तगड़े झटके में पूरा लंड अन्दर डाल दिया.

उन्होंने फ़ोन कॉल पर मुझे बताया था और कहा था कि तुम सीधे अन्दर आ जाना, दरवाज़ा खुला होगा. थोड़ी देर सुस्ताने के बाद भाभी बोलीं- कुणाल, तुमने मुझे आज बहुत मजा दिया. मैंने उसी पल अपना लंड उनकी गांड से सटा दिया और उनकी चूत में उंगली डालकर अन्दर-बाहर करने लगा.

मैंने अपना हाथ उनके गाउन के अन्दर डाला और उनके निप्पलों को उंगलियों से मसलने लगा.

अब हम दोनों एक ही बिस्तर पर बेड पर दीवार का सहारा लेकर अगल बगल में बैठे थे. वो हमेशा उसको सपने में नंगा देखता है … और आखिर में वो लड़की उसको मिल जाती है. मैं सिसकारते हुए बोला- इस्सस … नहीं भाभी … मैं खुद को नहीं रोक पा रहा हूं.

मेरी सेक्स चुत चुदाई कहानी के पिछले भागगाँव के मुखिया जी की वासना- 10में आपने चुदाई की कहानी का भरपूर मजा लिया था. हमको भी मज़ा लेने का मौका दो यार … कई साल हो गए हैं हाथ से काम चलाते हुए!” चचा मुस्कुराते हुए बोला. मैंने भी इशारा पाकर अपनी स्पीड तेज कर दी और धीरे धीरे पूरा आठ इंच का लंड उनकी चूत में पूरा जाने लगा.

मगर मैं इस बात पर हैरान हो रहा था कि जब अवनी ने पहले ही उनको सब कुछ बता दिया था तो वो मुझसे दोबारा ये सब पूछने क्यों आई थी?वो मुझसे अधिक खोद खोदकर पूछ रही थी.

मेरे उल्टे कामों में वो बहुत साथ देता है, लेकिन कल किसी बात पर वो नाराज़ हो गया. मैं रात में मीनाक्षी से भले बात करता हूं, पर दिल दिमाग पर आप ही छाई रहती हैं.

बीएफ सारी भाभी के होंठों को अच्छी तरह से चूसने के बाद अब मैंने तुरंत भाभी के ब्लाउज के ऊपर से साड़ी के पल्लू को हटा दिया।अब भाभी के बड़े बड़े पपीते जैसे बोबे मेरे सामने थे। अब मैं भाभी के बोबों को चूमने लगा और दोनों हाथों से दबाने लगा. फिर मैं ऊपर को बढ़ा और कटी हुई जींस का बटन खोल कर उसके बदन से उसे उतार दिया.

बीएफ सारी एक दिन भाभी का कॉल आया- आज मुझे बाजार से कुछ कपड़े लेने हैं, तो साथ चलना. उसका लंड मेरे थूक से पूरा सना हुआ था और काफी चिकना था इसलिए फिसल कर अंदर जा धंसा.

वो मेरी बात सुनकर मुझ पर टूट सी पड़ीं और मेरे ऊपर के होंठों को चूसने लगीं.

બાહુબલી બાહુબલી

सही है ना?सुमन की बात सुनकर कालू के चेहरे पर मुस्कान आ गई और शर्माते हुए उसने हां में सिर हिला दिया. हालांकि उनके हाथों में अभी भी साबुन लगा था, मैं तब भी उनके चेहरे के पास आया और उनके बाल पकड़ कर उनका चेहरा उठा दिया. उन्होंने गोबर के कंडे बनाने के लिए बाल्टी उठा ली और बाल्टी में पानी भर लिया.

देहात सेक्स कहानी का मजा आप ले रहे हैं पिछले दो भागों में … फिर बाड़े में जाकर मैंने मामी की चुदाई कैसे की और मामी ने किस तरह से मेरा साथ दिया?दोस्तो, मैं रोहित एक बार फिर से आप लोगों का स्वागत करता हूं अपनी मामी की चुदाई की कहानी के तीसरे भाग में. आपको यह देसी इंडियन चुत चुदी कहानी कैसी लगी? मेल और कमेंट्स करके मुझे बताएं. ऐसा लग रहा था जैसे वो लंड की भूखी है और मेरे लंड को काटकर खा ही जायेगी.

मुखिया- चुप हरामखोर … तेरे बाप से बात कर रहा हूँ ना मैं?मुखिया आगे कुछ बोलता, तभी कालू वहां आ गया और उन दोनों को देख कर वहीं खड़ा हो गया.

अब मैं तीन-चार दिन तक बिना लंड के रहने वाली थी जो मेरे लिए बहुत ज्यादा मुश्किल था. मैंने भी समय नहीं गंवाया और अपना लंड उनकी चूत पर लगाकर एक धक्का दे मारा … लेकिन लंड फिसल गया. फिर उसके पापा ने पूछा- ये फ़ोन किसका है?उसने कहा कि ये एक भैया हैं … उन्हीं का फोन है.

उसने दोनों हाथों से दोनों बूब्स पकड़ लिए और एक साथ दोनों को दबाने लगा. अपनी बहू को खुश देख ससुर ने अपने आधे खड़े लंड को बाहर निकाल कर बहू को झलक दिखा दी और फिर से अपने अंडरवियर में छुपा लिया. तभी प्रेयर खत्म होने की घंटी सुनाई दी और हम दोनों ने अपने कपड़े ठीक कर लिए.

अब मैं भी जोश में आ गया और जोश में मैंने बियर की बोतल का आगे वाला हिस्सा उसकी चुत में डाल दिया. मौसम दोपहर बाद से ही खराब हो रहा था और आसमान में गहरे काले बादल मंडरा रहे थे.

जब संगीता ने अपने आपको तौलिया में लपेट लिया, उसके बाद मेरे सामने उसने देखा. तुम ख्याल करना हवेली में भले रहो, मगर तहख़ाने में जाने की कभी मत सोचना. मैंने कहा- आप अपना पेटीकोट भी क्यों नहीं उतार देतीं?वो बोली- मैंने नीचे से कुछ नहीं पहना हुआ है.

मैंने उससे फिर पूछ ही लिया कि एक बात बताओ सिमरन, ये जो खुशबू तुम्हारे पास से आती है, इसका राज़ क्या है?वो मेरे कान के पास आई और कहा- ये खानदानी महक है.

मैंने उसको फिर से चूसना शुरू कर दिया और हम दोनों एक बार फिर से गर्म हो गये. वो खुद भी मेरे साथ इस दौर की चुदाई की मस्ती को भरपूर जीना चाहती थी. एक दिन उसने मुझसे कहा- क्यों न मैं अपनी बहन समीक्षा को बुला लूं, वो मेरी बहुत हेल्प करेगी.

जब भाभी आईं, तब उन्होंने सफ़ेद रंग की लैंगिंग्स और काले रंग की कुर्ती पहनी हुई थी, जिसमें से उनके शरीर का पूरा आकार एकदम साफ़ दिखाई दे रहा था. सांप को जब बाहर निकालोगे तभी तो वह अपना रास्ता खोजेगा?सिग्नल साफ था.

ये कहकर मैं वहां से आ गया और सीधा सुमन भाभी के घर पहुंच कर डोर बेल बजा दी. मेरे पति कहते हैं कि मैं शक्ल से बहुत भोली, मासूम और दुनिया की सबसे सेक्सी व सुंदर औरत हूँ. मेरे लंड पर गोली का असर था इसलिए वो आंटी की गांड में जाकर पूरा फूल गया था.

বেঙ্গলি এক্স এক্স এক্স

मैं अब कभी उसके कान की लौ को चाटने लगता, जिससे वो और गर्म हो जा रही थी.

अब उनको कैसे सब्र हो? उन्होंने फिर हरकत करना शुरू किया और धीरे-धीरे पेलने लगे. सुमन- खुद ही तो मेरी नींद खराब करने आ गए थे, चलो अब कोई बहाना मत करना. अब उसने मुझे अपने हाथों की जकड़न से आजाद कर दिया और मैं उसे अपने काले खीरे से गुलाम बनाने लगा। मैंने अपनी गति तेज कर दी.

सुरेश- अच्छा अब जल्दी से मुझे चाय पिला दो, मुझे क्लिनिक भी जाना है. मैंने तुरंत अपने होंठ उनके होंठों पर रख दिए मैं थोड़ी देर वैसे ही पड़ा रहा और उनकी चूचियां मसलने लगा. जापान बीएफ सेक्सवो अपनी चूत में तेजी के साथ उंगली कर रही थी और दूसरे हाथ से अपने बूब्स को दबा रही थी.

उसकी चूत पर हल्के हल्के बाल थे जो कि गीली होने के बाद उसकी चूत को बहुत ही रसीली बना रहे थे. मैं उसके होंठों को चूसे जा रहा था और चूचियों को बेदर्दी से मसल रहा था.

भाभी की चुदाई का प्लान मैंने आज ही बना लिया था और सीमा मामी को भी इस बारे में बता दिया था. थोड़ी ही देर में हम दोनों सहेलियां एक दूसरे से लिपट कर नंगी ही सो गईं. उनकी पूरी गांड की दरार औऱ चूत पर जैसे ही हाथ फेर कर अब्बू ने सहलाया.

अभी मैं नीला की मस्ती के मजे ले ही रह था, तभी उसने मेरे कानों के पास आकर कहा- अब देख भड़वे … असली मजा किसे कहते हैं. जीभ के फिरते ही मेरी तेज सिसकारी निकल पड़ी, जिससे वो उत्तेजित हो गया. जब मैंने अपनी आंखें बंद कीं तो उस सुन्दर स्त्री का चित्र मेरे चित्त में दिखाई पड़ा और मैं उसी को याद करते हुए अपने लन्ड को जोर-जोर से हिलाने लगा.

उस रात को राजेश और उस बुड्ढे ने मिल कर मेरी गांड चुदाई की और हमने थ्रीसम गे सेक्स किया.

फिर मैंने उसकी दूसरी चूची को पकड़ लिया और उसको भी वहीं से दबाने लगा और बोलने लगा कि इसमें भी यहीं पर होती हैं. उसके मुंह से मैंने हाथ हटाया तो वो जोर से सिसकारते हुए चुदने लगी- आह्ह … आह्ह … यस … आह्ह … संजय … चोद … आह्ह … इतना मजा … आ आ रहा है … आह्ह … चोद दे … तेज-तेज … आह्ह … जोर से फाड़ दे आज!दो-चार मिनट के बाद चाची सेक्स के मजे से सिसकारते हुए झड़ गयी.

मैंने उसको वहीं पकड़ लिया और पीछे से हाथ आगे ले जाकर उसकी चूचियों को दबोच लिया और पीछे से उसकी गांड पर लंड लगा लिया. उसकी चीख निकली, लेकिन मेरे होंठों का ढक्कन उसे चीखने से रोके हुए था. मैं लगातार भाभी की चूत में उंगलियां घुसा रहा था। मैंने अब उनकी पैंटी को नीचे सरका दिया और तुरंत ही अपना अंडरवियर भी नीचे कर लिया.

मेरी यह देसी भाभी Xxx चुदाई स्टोरी कैसी लगी इसके बारे में अपने विचार मुझे जरूर बतायें. उसके बाद मैंने अपने हाथों का दबाव बढ़ा दिया और उसकी चूचियों को भींचने लगा. तुम संकोच मत करो इसको लेकर। वैसे भी तुम जैसे जवान लड़के के साथ तो कोई भी औरत मनोरंजन के लिए तैयार हो जायेगी.

बीएफ सारी पहले तो समीक्षा शायद सोच रही थी कि उसे रोज रोज चुदना पड़ेगा … उसका क्या होगा. भाभी का ब्लाउज पूरा खुल चुका था और मैं उनकी चूचियों को दबाने में जुटा था.

तब्बू के सेक्सी फोटो

हमारे घरों में बैठने वाला एक स्टूल नुमा होता है, उसे ही पीढ़ा कहा जाता है. वो भी यहां से 300 किमी पहले, लेकिन जिस स्टेशन से ट्रेन थी, वो गलती से उससे छूट गई. वो आने वाले थे, लेकिन सब बन्द होने की वजह से अपने घर पर ही रह गए थे.

मेरी देसी हिंदी कहानी लड़की का सेक्स की पर आप अपनी प्रतिक्रिया के ज़रिये अपना प्यार देना न भूलें. फिर एकाएक मेरे लंड से वीर्य निकल पड़ा और मैंने सारा माल भाबी को पिला दिया. मां सेक्सी बीएफकुछ देर बाद भाभी जी कपड़े बदल कर आईं और हम दोनों चाय पीते हुए हंसी मजाक किया.

जाते समय मैं पाण्डेय सर से वादा करके गयी थी कि पति के पास जाते ही दूसरे दिन मैं उनको अपने घर पर बुला लूंगी.

मैं- यार मुझे ज्यादा तो पता नहीं है, पर डिक के ऊपर वाली चमड़ी, जिसकी निकली होती है ना … वो वर्जिन नहीं होता है. ट्रेन सेक्स कहानी शुरू करने से पहले मैं आपको बता दूं कि मेरी उम्र 26 साल है.

आदिल बहुत जोर से दबा रहा था।आदिल बोला- बहन की लौड़ी, चूचियां तो तेरी बहुत अच्छी हैं. मैं भी कामाग्नि के वशीभूत होकर उसके बालों में जोर जोर से हाथ चलाने लगी और उसके मुँह का दबाव मेरे बोबों पर बनाने लगी. मैं अब तक कइयों का लंड ले चुकी हूं, लेकिन किसी ने मुझे आज तक लंड डालने से पहले इस तरह मजा नहीं दिया.

भाबी उसी रूम के बगल वाले रूम में अपने दोनों बच्चों के साथ सोने गयी थी.

सांप को जब बाहर निकालोगे तभी तो वह अपना रास्ता खोजेगा?सिग्नल साफ था. उसके दोनों मम्मों के बीच में मेरे लंड को फंसा कर उसने लंड की बूब फकिंग शुरू कर दी. उसके होंठों को चूसते हुए मैंने उसकी चूत में उंगली दे दी और जोर जोर से उसकी चूत को कुरेदने लगा.

इंडियन बीएफ चाहिए हिंदी मेंएक दिन मैं कुछ सामान लेने के लिए लिफ्ट से नीचे जाने को आ रहा था, तो वो लिफ्ट में अकेली खड़ी थी और दरवाजा खुला था. जनता कर्फ्यू लगने के एक दिन बाद मैं दिल्ली पहुंचा, जीजाजी ने मुझे काम करने के लिए अपने पास बुलाया था.

देसी लड़कियों के सेक्सी

एडल्ट सेक्स कहानी मेरी मॉम की … वे अपनी चढ़ती जवानी से ही सेक्स के जलवे बिखेरने लगी थी. मुनिया- कैसी बात करती हो भाबी आप … मैं अपने भाई का लंड चूस सकती हूँ. मैंने एक बार फिर से नताशा को बेड पर पटका और जोर से उसके गुलाबी होंठों को चूसने लगा.

वहीं राहुल मेरे ऊपर लेटे होने के कारण उसका लंड मेरी चूत पर महसूस होने लगा. इतनी चुदासी मैं जिंदगी में पहली बार हुई थी।मेरी हालत देख कर मेरे पति ने कहा- क्या बात है … आज तो मेरी रानी पक्की छिनाल बन गयी है, आज मैं पहली बार तेरा पूरा सेक्सी रूप देख रहा हूँ. तो मैंने भाबी की प्यास कैसे बुझाई?नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम गुड्डू है.

फिर भाभी अचानक से बोलीं- कुणाल एक काम करना, तुम रुक्मणी को हमारे बारे में भी सब बता देना. ऐसा लग रहा था जैसे स्वर्ग लोक से उतर कर पृथ्वी पर अप्सराओं का झुंड आया है और नदी के बहते स्वच्छ जल में स्नान का मज़ा लूट रहा है. मेरी गर्म लेखनी से देसी लंड की कहानी के पिछले भागगांव की चुत चुदाई की दुनिया- 1में अब तक आपने पढ़ा था कि सुरेश के क्लिनिक में रघु और मीनू की चुदाई की बातें चल रही थीं.

फोन को जेब में रख कर बाइक स्टार्ट करके अभी थोड़ा आगे ही पहुंचा था कि मेरी बाइक के पिछले पहिये में से हवा निकल गई. फिर मैंने हिम्मत करके एक दिन बात छेड़ी- स्टडी हो रही है क्या तुम्हारी ऑनलाइन?वो बोली- हां, लेकिन कुछ समझ ही नहीं आता खास.

चचा अभी और पीने के मूड में थे तो मैंने राजेश को धीरे से इशारा किया और पेशाब करने के बहाने से उठने लगा.

जैसा कि मैंने लिखा था कि अगली बार मैं आपको सेक्स के साथ कुछ रहस्य रोमांच का मजा भी दूंगी, तो आइए चलते हैं कि आगे क्या हुआ. बीएफ बीएफ रिकॉर्डमैं- जान मैं पीछे से आपकी चूचियों को भी दबाऊंगा और फचा फच चोदता रहूंगा. सेक्सी बीएफ वीडियो रोमांटिकसुरेश- रघु, तुम्हें कुछ समझ आ रहा है ना … जवान लड़की को ऐसे गर्म करते हैंरघु- हां बाबूजी … अच्छी तरह समझ गया. मुखिया समझ गया, उसने भी जल्दी से धोती ऊपर की और अपना लंड सुमन के सामने कर दिया, जिसे देख कर सुमन खुश हो गई और लंड के सुपारे को खीर में डुबो कर चूसने लगी.

बलराम- ये कौन है राजू … इसे यहां क्यों लाया है तू!राजू- सर जी ये मंगला है, मुखिया जी के खेत में काम करती है.

मगर आपको दुखी होने की जरूरत नहीं है … आज की रात मीता के बाद सुमन की ज़बरदस्त चुदाई अपने देख ली, मगर एक घर और बाकी है, वहां भी कुछ मजेदार खेल हुआ, तो चलो मैं वो खेल भी आपको दिखा देती हूँ. मैंने उस भाभी को कैसे पटाया और कैसे चुदाई की, ये सब कहानी पढ़ कर जानें. रोबीना की उंगली उसकी चूत में थी जो उसने मेरे देखते ही बाहर निकाल ली.

मैंने उससे बात की, तो बोली- कब तक निकल रहे हो … और कहां मिलोगे?उसे मैंने टाइम और जगह का बता दिया और जल्दी से तैयार होकर निकलने लगा. न्यू चूत की सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे गाँव के भोले लड़के ने सेक्स सीखने के लिए डॉक्टर से अपनी सेक्सी जवान बीवी को अपने सामने ही चुदवा दिया. मैं इस लॉकडाउन में जिस शहर में फंस गया था, वो मेरे घर से 1500 किमी दूर था.

नयनतारा xxx

हम एक बिजनेस हाई कॉलोनी अपार्टमेंट में रहते हैं, जहां दसवीं मजिंल पर हमारा बड़ा फ्लैट है. सुरेश वहां से चला गया और सुमन सीधी मुखिया के पास आकर झुक कर खड़ी हो गई. एक आदमी ने अम्मी को अपने ऊपर बैठा लिया और ब्लाउज़ के ऊपर से उनके मम्मों को दबाने लगा.

अब इस प्यास को कब बुझाओगे?मैंने कहा- अभी आ जाऊं?भाभी- अभी मरवाओगे क्या? अभी नहीं, मेरे साथ शादी में चलो, वहीं कोई जुगाड़ देख लेंगे.

काफी देर तक मुझे चोदने के बाद इकबाल ने मेरी चूत में पानी छोड़ दिया और मेरे ऊपर ही लेट गया.

वो कराहने लगी और मैं उसके होंठों को चूमते हुए उसकी चूत में धक्के लगाने लगा. एक दो मिनट तक लंड को मम्मों में रगड़ा फिर मैंने दिव्या को सोफा से लग कर खड़ा किया और उसे घोड़ी बना कर पीछे से लंड पेल दिया. बीएफ काजल अग्रवाल[emailprotected]Xxx भाभी सेक्स स्टोरी का अगला भाग:दोस्त की पड़ोसन भाभी की वासना- 4.

बहुत मस्त है तू; तेरी चूत के चंगुल में फंस कर मेरा लंड तो निहाल हो गया बेटा; अब तू खुद उचक उचक के मेरा लंड खिला अपनी चूत को!” मेरी जीभ चूसते हुए मौसा जी बोले और अपना लंड बाहर निकाल कर अपनी कमर और उठा कर स्थिर हो गए. वह अब लंड की लम्बाई को चाटने लगी और मेरे लटकते गेंद को मुंह में भर कर चूसने लगी. सुमन- आह इसस्स … अब आया असली मज़ा आह उफफ्फ़ ससस्स आह!सुरेश- क्या हो गया जान, ऐसी आवाज़ क्यों निकाल रही हो, जैसे चुदाई के टाइम निकालती हो.

संगीता- रवि, यह क्या हालत बना रखी है तुमने अपनी? अब नौबत यहां तक आ गई है कि तुम अपने आपको संभाल कर घर भी नहीं आ सकते?एक दोस्त बोला- सॉरी भाभी, हमने बहुत समझाया रवि को कि भाई बस कर, अब बहुत पी ली है तूने, लेकिन वो नहीं माना और पीता ही चला गया. तेरे पति के सामने कुतिया बना कर चोदूंगा तुझे … तेरी चूत में मेरी बीवी की चूत से कई गुना ज्यादा मजा है.

अब्बू बोले- अच्छा किया मेरी जान, आज मेरा भी लंड सुबह 5 बजे से मचल रहा था.

उस वक्त उसने नीले रंग की सलवार कमीज पहनी थी, जिसमें उसके चूचे बेहद गोल मटोल लग रहे थे. अब मेरी चूत उनके लंड को छू रही थी; और मैंने अंदाज़ से पूरी ताकत से कमर उछाल दी. मैंने तुरंत मौसी को पकड़ा और उनके होंठों को अपने मुँह में भरकर चूसने लगा.

सेक्सी बीएफ भोसड़ी के उसने नीचे से चूचियों पर ब्रा ही पहनी हुई थी और आंटी की चूत नंगी ही थी. मैंने उसे खुद को देखते हुए भी कई बार देखा था, पर मैंने अनदेखा कर दिया था.

सुहानी बहुत ज्यादा खुश हो गई और उसने उनके काले चूतड़ों पर दोनों हाथ रख दिये. सांप को जब बाहर निकालोगे तभी तो वह अपना रास्ता खोजेगा?सिग्नल साफ था. मुखिया- अच्छा बता दूंगा मैं … लेकिन एक बात तो बता तू मुझे, ये साला सच में कोई भूत है क्या! क्योंकि कुछ लोगों को तो हमने ही हमारे काम के लिए गायब किया है.

கர்நாடக செஸ் வீடியோ

मुझे भी और ज्यादा मजा आने लगा और मैंने उसकी मैक्सी में हाथ देकर उसकी चूत को सहलाना शुरू कर दिया. चाची को देख कर लगा कि उन्हें अब तक वो चरम सुख नहीं मिला, जिससे उनकी जवानी ढीली हो जाती. मैंने उनकी नाइटी को घुटनों तक ऊपर किया और उनके गोरे चिकने पैरों पर हाथ फेरने लगा.

वो बोली- चलो, आज तो मैं तुम्हें छोड़ रही हूं लेकिन आगे से ऐसी हरकत मत करना. वो बोले- तो क्या इरादा है समधन जी!मैं समधी जी के नेकर के ऊपर से लंड को पकड़ कर बोली- इरादा बिल्कुल साफ़ है, अब आप ही बुझा दो मेरी आग.

अपने सारे कपड़े उतार लेने के बाद वह एक बार फिर से मेरी गांड पर सवार हो गया.

जैसे कि मेरा लंड चूस कर मुझे नींद से जगाना, जब नहाते वक़्त मुझे सुसु लगती थी, वो मेरा लंड अपने हाथ में पकड़ कर सुसु करवाती थीं. कालू- कोई बात नहीं, आप अभी चले जाओ … सुरेश तो अभी वहां होगा नहीं … या आप बोलें तो मैं मैडम जी को यहां बुला लाऊं!मुखिया- नहीं, उसको क्यों बुलाना. मैंने अपना लौड़ा तीसरे गीयर में कर दिया और झटकों की रफ्तार बढ़ा दी.

उसे किस करते हुए मैंने अपनी चूत का स्वाद भी चखा, जो हल्का सा खारा और नमकीन सा था. उनकी भी मीठी आवाजें निकालने लगीं- आह … आह … सच में बहुत मोटा है तेरा … आह … धीरे … चोद आह. मैंने पूछा- क्या तुम थोड़ी देर के लिए मेरे घर में ऊपर मेरे रूम में आ सकती हो?वो बोली- इतनी रात को कैसे आऊंगी? तुम्हारे मम्मी-पापा सो चुके होंगे.

जब उन्होंने मुझे नंगा देख ही लिया था तो अब काहे की शर्म?मैं बोला- मामी, आप बहुत खूबसूरत हो.

बीएफ सारी: मुझे यूं घूर कर उन्हें देखता हुआ पाकर भाभी ने मेरे पास आकर चुटकी बजायी और पूछा- क्या हुआ देवर जी, किस सोच में डूबे हो?मैं- कुछ नहीं भाभी, बस ऐसे ही. उनकी चूत अन्दर से पूरी गीली हो चुकी थी और भट्टी की तरह गर्म भी हो चुकी थी.

मैंने उसके कान में कहा- क्या डाल दूं मेरी जान!वो कहने लगी- अपना वो अन्दर डाल दो. उनके भीगे हुए ब्लाउज में उनकी मोटी मोटी चूचियों के निप्पल देख कर मेरी नजरें बार बार मॉम के बूब्स पर ही टिकने लगीं. लग रहा था कि मानो जैसे मैं कोई स्वप्न देख रहा हूं।उसके होंठों को चूसने के बाद मैं नीचे की ओर बढ़ा और उसकी चूचियों को पीने लगा.

एक दिन मुझे भाभी की अधनंगी चूचियां दिख गयी तो खुद को रोक न पाया।दोस्तो, मैं इमरान एक बार फिर से आपके लिए एक गर्मागर्म देवर बाबी सेक्स स्टोरी लेकर आया हूं.

हैलो, मेरा नाम अशफाक है, मैं 19 साल का जवान लड़का हूँ और दिल्ली का रहने वाला हूं. भाभी ने हल्की सी आवाज निकाली- आह्ह क्या कर रहे हो?मैं- जो करना चाहिए. फिर मैंने उसकी मैक्सी के अंदर हाथ दे दिया और धीर से हाथ सरकाते हुए उसकी चूचियों तक ले गया.