स्कूल की बीएफ पिक्चर

छवि स्रोत,नेपाल एक्स वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी तुरंत: स्कूल की बीएफ पिक्चर, कई बार जब वो मुझे छेड़ती थी तो मेरे लंड से प्रीकम अपने आप निकलना शुरू हो जाता था.

क्सक्सक्सी वीडियोस

अगली और एक रोमांचक कहानी के साथ फिर मिलूंगा, तब तक लिए नमस्कार मेरी चुदाई की कहानी पढ़ने के लिए धन्यवाद दोस्तो. বাংলা ব্লু ফিল্ম ওপেনफिर मैंने अपनी उंगली में लिपटी उसकी पैंटी को उसकी चूत से बाहर निकाला और उसे सूंघ कर चाटने लगा.

नीरा- अमन, बाहर क्यों निकाल दिया? ये लन्ड अंदर डालो न प्लीज़! आओ फ़क मी यार!मैंने उसकी चूत पर लगा पानी साफ किया और झटके से लन्ड अंदर डाल दिया. सेक्सी चुदाई वाली पिक्चरये बात सुनकर जीजू थोड़े चिढ़ गए और उन्होंने बिना बताए मेरी चुत पर लंड टिकाकर एक जोरदार झटका दे मारा.

फिर उसने मेरा गिलास लिया और मेरी गोद से उतर कर मेरे लंड को गिलास में डुबो दिया.स्कूल की बीएफ पिक्चर: जब वो छूट रहा था तब मैंने उसको पीठ के बल लेटाया और खुद उसके ऊपर बैठ कर अपनी चूत के धक्कों से उसके लंड को ही चोदने लगी.

खैर इन बातों के बीच एक और बात हुई थी और वो ये है कि मैंने मनु के स्तन पहली बार छुये थे.मुझे भी अंदर ही अंदर एक धक्का सा लगा … नहीं लगना चाहिए था लेकिन लगा.

इंग्लिश सेक्सी वीडियो बफ - स्कूल की बीएफ पिक्चर

दोनों खलासी ने मेरा एक एक हाथ पकड़ कर खींचा और मेरा टॉप नीचे गिर गया.तो भाभी अपनी कमर को ऊपर उठाने लगीं और मेरे लंड को जोर से दबाने लगीं.

मैं सोने की तैयारी ही कर रही थी रूम में अपने कि उन्होंने पीछे से आकर मेरी कोली भर ली और मुझे किस पर किस करने लगे. स्कूल की बीएफ पिक्चर तो दिन में यह सब कैसे हो पायेगा?”यार इसमें समस्या वाली कौन सी बात है तुम चाहो तो दिन में नहीं तो रात में भी तो हम यह सब कर ही सकते हैं.

कुछ देर चुत चूसने के बाद सुहास ने मुझे बेड पर सीधा लेटा दिया और मेरी गांड के नीचे एक तकिया लगा दिया.

स्कूल की बीएफ पिक्चर?

जीजू ने अपना लण्ड मेरी चूत रखकर धक्का मारा, तेल से सना होने के कारण जीजू का लण्ड चूत के मुहाने से फिसल कर मेरी नाभि तक आ गया. पर मेरी मम्मी का फिगर मौसी से ज्यादा है तो मम्मी भी कुछ कम नहीं हैं।मेरी बड़ी बहन पूजा मुझसे दो साल बड़ी है और उसका शरीर मुझसे ज्यादा भरा और गदराया हुआ है. वो फिर से दोबारा मेरे बदन को चूमने और चाटने लगा। मैं बस अपनी आंखें बंद करके उसका अहसास करती रही।उस आनंद को मैं कभी भूल नहीं सकती।और इस बार उसने मुझे घोड़ी बना लिया। मेरी चूत पूरी गीली ही थी तो लंड आराम से पीछे से चूत में चला गया.

मैंने भाभी को कॉल किया कि मैं कितनी देर में आऊं?भाभी बोली- बस दस मिनट में मैं आपको कॉल करूंगी. मैं काफी बेबाक हो चुका था, मैंने अम्मी से कहा- बताइये, क्या करना है?अम्मी ने कहा- मुन्ना, तेरी जितनी भी मामियां, मौसियां या फूफी हैं, सब अपने शौहर से गांड मराती रही हैं. मैंने हनी की चूत चाटना जारी रखा तो हनी ने मेरा अण्डरवियर उतार दिया और मेरे लण्ड की खाल आगे पीछे करते हुए मेरे लण्ड का सुपारा चाटने लगी.

उसने मेरी चूत के दाने को अपनी जीभ से दो-तीन बार ही चाटा होगा कि मैं अपनी चरम सीमा पर पहुंच गयी. मेरी चीख निकल गई- आह आओह माँ … मैं मर गई!मेरे बेटा आदी ने मुझे चोदना चालू कर दिया. लगातार दस मिनट की चुदाई के बाद मैंने चाची की चुत से लंड निकाल कर उनको घोड़ी बनाया और ढेर सारा थूक उनकी चुत पर और मेरे लंड पर लगा दिया.

मैं- वैसे आपके घर में कौन कौन है?स्नेहा भाभी- मेरे घर में … मैं, मेरे पति और मेरी एक ननद है. अचानक सेगुड्डी रानी ने खुद को उचकाया, मेरी गर्दन पकड़ के झूल गई और अपनी टांगें मेरी कमर में कस के लिपटा के भिंची भिंची सी आवाज़ में बोली- राजे … राजे … मुझे अपनी बांहों में संभाल ले … मेरा दिल बैठा जा रहा है … मुझे लग रहा है कि मैं आकाश से नीचे गिरे चले जा रही हूँ … मेरे तन बदन में बिजली सी दौड़ रही है … थाम ले राजे मुझे थाम ले … आज तेरीगुड्डी रानी चल बसेगी.

मैं चुपचाप पड़े आंखें बंद करें इस आनंद का मजा लेता रहा।फिर वे मेरे पेट कमर और नितंब की मसाज करने के बाद भाभी मेरी जान घर पर मसाज देती रही।15 मिनट मसाज करने के बाद भाभी ने मुझसे बोला- अब पीठ के बल लेट जाओ।मैं उनकी बात मानते हुए पीठ के बल लेट गया.

भाभी का एक हाथ पहले तो मेरा कंधे पर था, लेकिन फिर उन्होंने कमर से पकड़ लिया.

तीसरे दिन रात को फिर वो ही घटनाक्रम … बाबूजी ने दरवाजा भेड़ा, मैं उठी और दोनों ने पहले बिना कुछ बोले काम क्रीड़ा की और भाभी उनके बिना कहे बिस्तर पर मुंधी(उलटी) हुई और फिर उनके पीछे बाबूजी खड़े हो गए फर्श पर और फिर कैसे 12 मिनट बीते, ये पता ही नहीं चला. मैंने दीपिका को तड़पाने के लिए उसकी चूत और जाँघों के भाग को छोड़ दिया और उसके पांव की उंगलियों और अंगूठे को अपने मुँह में ले कर चूस लिया. मैंने बेड पर कम्बल के अन्दर जाते हुए पूछा- दूसरे पार्ट में क्या करने वाले है ये लोग … और उसका प्रैक्टिकल क्या हम लोग भी करेंगे?अनिल भैया ने वाइन की बोतल को साइड टेबल पर रखा और खुद बेड की सिरहाने का सहारा लेकर बैठ गए.

आज मैं अपनी सारी शर्म छोड़ चुकी थी और सुहास से गाली बकते हुए चुदवाने के मूड में आ गई थी. दोनों लड़के उठ कर बैठ गए और एक दूसरे के सामने घुटनों के बल खड़े होकर एक दूसरे की मुट्ठी मारने लगे. फिर इकरा ने मुझे अन्तर्वासना वेबसाइट के बारे में बताया तो रात को जाकर कहानी पढ़ने की सोची.

हमेशा की तरह ये देसी पोर्न कहानी भी मेरी मल्लिका ऐ आलिया, मेरी बेग़म जान और समस्त रानियों की महान महारानी को समर्पित है.

इसलिए मैंने संजना को अपनी खुद से नीचे उतारा और सीधे से जाकर शीना के होंठों को चूसने लगा. उनके गर्म गर्म होंठों से निकल रही रसीली लार का स्वाद मैं भी अपने मुंह में लेने लगी. वो रह रहकर अपनी चूत को झटके देती रही और मेरी कमर को नोंचती खसोटती रही.

उन दिनों एक बड़ी ताज्जुब की बात ये हुई कि भाई ने इस पूरे समय तक मुझे तंग नहीं किया और कुछ नहीं कहा. दोस्तों आप भी दुआ कीजिए कि उससे मेरा संपर्क हो जाए, मुझे वो मिल जाए. विशाल ने रिंकी को पोर्न मूवी का शौक लगा दिया था तो रिंकी ने प्रिया को भी पोर्न दिखा दिखाकर सेक्स का शौक़ीन बना दिया था.

तो अम्मी बोलीं- वो कुछ भी हो … तुम मेरे बेटे हो … तुम्हारे और मेरे बीच कुछ भी नहीं हो सकता … तुम यहां से जाओ.

मैं मनीषा भाभी के होंठों को मुँह में लेकर चूसने लगा और वो भी मेरे मुँह में जीभ डालकर जीभ को घुमाने लगीं. कोई जवाब नहीं दिया मैंने तो बोली- सो गये, क्या?मैंने फिर कोई जवाब नहीं दिया तो मेरी पत्नी मेरे बगल में लेट गई और उसके बगल में हनी.

स्कूल की बीएफ पिक्चर मैंने ज्यादा देर ना करते हुए लंड को चुत पर सैट करके धक्का लगा दिया और मेरा आधा लंड चुत में घुस गया. अब मौसी मेरा सर अपने पैरों के बीच फंसा कर अपनी चूत पर दबाने लगी थीं.

स्कूल की बीएफ पिक्चर मेरी अचानक की गई ऐसी हरकत ने उसे चौंका दिया, लेकिन उसने खुद को छुड़ाते हुए मेरे स्तन वाली जगह को चिकोटी काटते हुए कहा- फिकर मत कर कमीनी, तेरे भी बहुत जल्दी आएंगे और जब आएंगे, तब लोगों के होश उड़ा देंगे. भाभी- और सुनो … मैंने अपने घर पर ये बोला है कि मेरे फ्रेंड की शादी है और मैं रात को वहीं रुकूँगी.

मैंने यह सुना, तो संजना को अपनी गोद में उठाया और उसको बेडरूम में ले गया.

सेक्स फुल एचडी

उसके मुंह से लम्बी सी आह्ह निकल गयी- आहहहहहह … डैडी … आपका लण्ड … आह्ह।लण्ड को रमेश ने अभी आधा ही घुसाया था. धीरे धीरे जेठजी अपने उंगलियों का दबाव मेरी चूत के दाने पर बढ़ाते गए और मेरी सिसकारियां अपने आप ही बढ़ती गयी. कसम से दोस्तो, मैंने उसे बड़े प्यार से चोदा … उसके जिस्म के हर एक हिस्से को चूमते हुए उसकी प्यार की चुदाई की.

क्रिया को भी अपने मम्मी पापा से जाने की परमिशन मिल गई थी।मैंने क्रिया से पहले ही कह दिया था कि वो अपनी गांड का छेद धीरे धीरे ढीला करना शुरू कर दे. उसके भूरे रंग के निप्पल काफी मोटे थे और एकदम से कंचे की गोटी के आकार के दिख रहे थे. जिया- कैसा रिलेशनशिप? अगर आज मेरी जगह भाई होते, तो पता है इससे आपके रिलेशनशिप पर क्या असर पड़ता?उधर मुझे कमरे में कुछ साफ़ सुनाई नहीं दे रहा था, इसलिए मैंने सुनने की कोशिश बंद कर दी और बेड पर बैठ गया.

अब मेरी गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया, मैंने निर्णय ले लिया कि अब मुझे इसे सबक सिखाना पड़ेगा.

उधर सीमांशी मेरे अंडकोष और मेरी जाँघों को सहला रही थी ताकि मेरा लन्ड कड़क रहे और आसानी से अंदर चला जाये. इस कहानी की पात्र दीप्ति मेरी ही हमउम्र है और वह मेरे घर के बगल वाले घर में रहती है. फिर उसने अपने हाथ से मेरे लंड को पकड़ा और जैसे ही लंड चूत के छेद के सामने आया तो वो गच्च से मेरी दुल्हन की चूत के अंदर चला गया.

ड्राईवर फिर चिल्लाया- साली का पैंट भी उतार … देख तो पेन्टी पहनी है या नहीं?दोनों खलासी मेरा हाथ पकड़े थे, उनमें से एक ने मेरी जींस का बटन खोल दिया और चैन को खींच दिया. जिया- कैसा रहा?कोमल- क्या कहूँ तुमसे!जिया मुस्करा कर बोली- मुझे आपकी आवाज सुनाई दे रही थी. उसने मुझे गौर से देखा और कहा- दीदी, लगता है कि आपके बॉयफ्रेंड ने आपकी जम कर कुटाई की है.

पूरी तरह से डिस्चार्ज होने के बाद मैं निढाल होकर रुकैय्या पर लेट गया, मेरे बालों को सहलाते हुए रुकैय्या ने पूछा- एक बार और करेगा?मेरे हां कहने पर रुकैय्या ने मेरे होंठों को चूसते हुए मेरे लण्ड पर हाथ फेरना शुरू कर दिया. अविनाश- ओह्ह … चित्रा ये तुम क्या बोल रही हो?चित्रा- देख अविनाश, वो दोनों एक अच्छे दोस्त हैं.

लंड पेलने के बाद रोहित ने संजू को इसी पोज में अपनी गोदी में उठा लिया. थोड़ी ही देर में जेठजी के हाथ पेट से सीधा मेरे चूचों पर आ गए और वो मेरे चूचों को कपड़ों के ऊपर से ही अपनी मुट्ठी में भर कर दबाने और मसलने लगे. जैसे ही दीपिका ने आगे से जोर लगाकर लोअर नीचे खींचा, मेरा 8 इंच लंबा और मोटा लौड़ा झटके से उसकी ठुड्डी को छूता हुआ झूलकर पटाक की आवाज से मेरे पेट पर लगा.

मैं बोला- आज सिर्फ देख देख कर हाथों से ही करता रहेगा क्या?मेरी बात समझ कर राहुल अपनी जीभ निकाल कर मेरे निप्पल्स पर फेरने लगा.

मैं बोली- बेटा, एक राज की बात बताऊं?वो मेरी तरफ हैरान होकर देखने लगा- हां बताओ न मॉम. आह … बिल्कुल मोटा तगड़ा भूरे रंग का लंड … एकदम मक्खन मलाई खाया पिया लंड देख कर मेरी तो मानो बांछें खिल गईं. उसके अगले दिन जब गया तो देखा आंटी देख के मुस्कुरा रही है।मैंने मैथ्स की क्लास की और जब बायो की क्लास होने वाली थी तो चल दिया।मैं लड़कों के कॉमन रूम की तरफ जा रहा था तो आंटी ने इशारा किया।मैं उनके पास गया तो उन्होंने मुझे अपने कमरे के अंदर बुलाया। मैं चला गया.

मेरा वह दोस्त जो मुझे अंतरवासना से ही मिला … मैंने अपने आप को पूरी तरह से उसे सौंप दिया और उसके नीचे पड़ी पड़ी बस उसके लंड का अहसास कर रही थी. मैं भी ज़ोर-ज़ोर से उसे चोदने लगा और फिर अचानक मेरे लण्ड ने 8-10 झटकों में पिचकारी की तरह पूरी गर्मी को आंटी की चूत में भर दिया। आंटी भी पूरी ताकत से मेरे सीने से चिपक गयी। हम दोनों आधे घंटे तक वैसे ही पड़े रहे।तो आंटी … कैसी रही चुदाई, मजा आया या नहीं?” मैंने पूछा.

फिर अपने हाथ खिड़की से अलग करके मेरा लंड निकाला उन्होंने अपनी चूत से।भाभी ने मुझसे बोला- रुको जरा मैं मूत करके आती हूं. जैसे उसने मेरा लौड़ा अपने मुँह से निकाला, वैसे ही पूरे मेरी मूत की धार संजना के मुँह और उसके मम्मों पर गिरने लगी. पर बता तुझे कब पता लगा और तूने क्या देखा?मैंने उसे सब कुछ बता दिया.

फिल्म नसीब

जब वो मेरे सामने बैठकर मूतने लगी तो …मुझे लगा इस कबूतरी को अगर मोरनी बना कर ठोका जाए तो यह इस चुदाई को अगले कई दिनों तक याद करके रोमांच में डूबी रहेगी।जान … आओ आज एक नया प्रयोग करते हैं.

चूत में लंड घुसते ही राशि भी गांड हिला हिला कर चुदाई में मेरा साथ देने लगी. मैंने पंद्रह बीस ज़बरदस्त धक्के ठोके और फिर मेरे गोलियों में एक विस्फोट जैसा हुआ. उसकी उंगली अन्दर जाते ही मुझे थोड़ा सा दर्द हुआ … और मेरे मुँह से चीख निकल गयी ‘आआहह.

संजू ने उसकी बात का मतलब समझते हुए रोहित के गोद में ही मुस्कुराते हुए कहा- अच्छा मेरे छोटे आशिक. मैंने भाभी से कहा- भैया क्या इतनी जल्दी आ जाएंगे … और क्या आज भी मैं आपके घर से भूखा ही जाऊंगा?उन्होंने हंसते हुए मेरा लंड पैन्ट से निकाला और मेरा खड़ा लंड देखते ही खुश हो गईं. ಆಂಟಿ ತ್ರಿಬಲ್ ಎಕ್ಸ್ ವಿಡಿಯೋबैठने के बाद उसने कहा- क्या सोचा है अभी तक आपने?मैंने कहा- सोचा तो कुछ भी नहीं है … बस यूट्यूब से कुछ मिल जाए, इसी लालच में कुछ गाने देख रहा था.

उन्होंने मेरी चूचियों को भींच कर मुझे जकड़ लिया और नीचे से अपनी गांड को आगे पीछे चलाने लगे. चूत में खून और चूतरस के कारण बड़ी पिच पिच हो रही थी और हर धक्के पर फच फच की आवाज़ आती.

” आलिजा मुस्कुराते हुये मजाक में बोली।उसके कहे अनुसार मैंने सारा पानी उसकी गांड में उड़ेल दिया।थोड़ी देर बाद हम अलग हुये, फ्रेश होकर एक दूसरे की बांहों में सो गये।कहानी पूरी तरह काल्पनिक है। पाठक सिर्फ कहानी से संबंधित मेल ही करें, फालतू मेल ना करें।[emailprotected]. उसने दूसरी बार झड़ने के बाद झटके के साथ मुझे ज़मीन पर लिटाकर मेरे लंड को अपनी जीभ से गीला किया. पहली बार शान्ति भाभी जब मुझे चोदने का ज्ञान दे रही थीं, तो मैंने उनके मम्मों को पीते पीते ही सुर्ख गुलाबी कर दिए थे.

मैंने चुत की फांकों में लंड का सुपारा घिसा, इससे कोमल और ज्यादा उत्तेजित हो उठी. मैंने उसका हुक्म माना और उसका लंड पकड़ कर अपनी बीवी की चूत पर लगा दिया. उनके सीने से साड़ी का पल्लू नीचे सरक गया और भाभी की चूचियों की घाटी दिखने लगी.

मैंने उसे हटाने की कोशिश की लेकिन वो मेरे लंड को जैसे खा जाना चाहती थी.

हम दोनों भाई बहन में बहुत प्यार था, आमतौर पर भाई बहन के बीच होने वाले झगड़े हमने बचपन में भी नहीं किये थे. दोनों खलासियों ने मेरे दोनों हाथों को खींच कर अलग किया, मैंने ताकत लगाई, तो एक बोला- पैसे पूरे दे रहे हैं, मजा भी पूरा लेंगे.

रोहित ने नासमझी दिखाते हुए पूछा- वो क्या होता है?इस पर संजू हंस कर बोली- हर महीने में तीन-चार दिन तक हरेक औरत के यहां से खराब खून निकलता है. और जिस हिसाब से उसका नंबर बनता था उस हिसाब से वो घूम कर मोनू के पास ही जाने वाली थी क्योंकि उसके जिस्म पर सिर्फ ब्रा और पैंटी रह गयी थीं. मैंने पलट कर देखा तो मेरे बिल्कुल पीछे किशोर जी प्लेट लेकर खड़े थे।मुस्कुराते हुए मैंने भी जवाब दिया- आप यहाँ मुझे ही देख रहे हैं क्या? और भी तो औरतें हैं यहाँ पर।उन्होंने जवाब दिया- हैं तो बहुत … मगर आप जैसी सुन्दर कोई नहीं है।उस वक्त मैंने कुछ नहीं कहा और बस मुस्कुराते हुए आगे बढ़ गई।पूरी पार्टी में वो मुझे ही ताड़ते रहे, उनके अलावा भी कुछ लोग मुझे काफी घूर रहे थे।रात लगभग 12 बज चुके थे.

उसके बाद फोन पर बात करने बाद स्वीटी आंटी ने मुझे बताते हुए कहा- मनोज आ चुके हैं, वो नीचे दरवाजे के पास हैं. वो कहने लगी- आपकी तो गोलियाँ भी बहुत सख्त और टाइट हैं, मेरे हस्बैंड की तो लण्ड से भी नीचे लटकती हैं, मुझे उनका बिल्कुल अच्छा नहीं लगता. मैंने धीमे से नताशा के गांड पर लंड सैट करके तेल टपकाया और धीमे से धक्का लगा दिया, जिससे थोड़ा सा लंड तेल की चिकनाई के साथ उसकी कुंवारी गांड में घुस गया.

स्कूल की बीएफ पिक्चर तभी मैंने एक जोर का झटका मारा और आधा लंड उनकी चुत में समा गया था और चाची बस ‘आआआ आआ उंहा उई माँ यस एस बेबी … फ़क मी हार्ड. मैंने आंचल को धन्यवाद कहा, फिर आंचल ने पायल को बुलाया और गाने के बोल बताकर वीडियो दिखाई.

p दो अक्षर से लड़कियों के नाम

रात में जाकर मैं आंटी चूत और गांड की ठुकाई करके आता। दिन में मैं उनके घर के आस-पास भी नहीं फटकता था ताकि हमारे बीच में पक रही खिचड़ी का किसी को पता न चले।अब तो हम दोनों ने भी दिल भर के चुदाई कर डाली थी. उनके ससुर ने धीरे धीरे दीदी के भी कपड़े निकालने शुरू कर दिए और उन्हें सिर्फ़ पेंटी और ब्रा में ला दिया. थोड़ी देर बाद अम्मी ने अलमारी से वाइब्रेटर निकाला और अपनी चुत पर रख कर उससे मजा लेने लगीं.

लौड़ा जब खड़ा हो गया तो उन्होंने लंड को मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया. दस मिनट की चुसाई के बाद रीना बोली- अब रहा नहीं जा रहा … सालो चोदो मेरे को!मैंने धीरज को इशारा किया, धीरज ने कंडोम चढ़ा लिया और मेरी बीवी के ऊपर आ गया. इंडियन सेक्स सुहागरातचाची चुदते हुए बोलीं- आंह मेरी जान ये मेरी सबसे मस्त पोजीशन है, मुझे ऐसे चुदने में बहुत मजा आता है.

वे गाते भी थे और साथ ही तबला और हारमोनियम बजाने का अच्छा ज्ञान भी रखते थे.

जिया मुझे देखकर एकदम से चौंक गई और मुझसे ऐसे हाथ मिलाने लगी, जैसे हम पहली बार मिल रहे हों. रिंकी और प्रिया दोपहर को फ्रूट्स अपने कमरे में ही लेती, रिंकी ढूंढ ढूंढ कर पोर्न या एडल्ट मूवीज लगाती और दोनों हँसते हँसते एन्जॉय करतीं.

हाँ … थोड़ा सर को झुकाओ। हाँ और चुदासी लाओ चेहरे पर … हहम्म … सही एकदम।रिया ने वैसे करके पूछा- ठीक है ये?अब रमेश ने रिया को फर्श पर कुतिया की तरह दोनों हाथों और घुटनों पर आने को कहा. जबकि मेरा दोस्त रणविजय और उसकी बीवी प्रिया, याराना के पहले भागीदार थे. मैंने उनसे साफ कह दिया- आप अन्दर ही निकल जाओ … मैं खुद यही चाहती थी आप मुझे चोदो … क्योंकि आपके लंड देख कर मैं आपकी दीवानी हो गयी थी.

फिर वे मेरे ऊपर आ गए और कुछ देर मेरे बूब्स चूसे फिर उन्होंने मेरी चूत पर अपना लंड लगा दिया.

मैं भी झुक कर अपने चूचों में उसके सर को दबाते हुए उसके माथे पर चुम्बन करती, तो वो अपने हाथों को पीछे लाकर मेरे सर को अपने सर पर झुका लेता था, जिससे मेरी चूचियां और दिल की धड़कनें उसे गर्म करने लगती थीं. शीला को घिन तो बहुत आई पर उसकी सोच में था कि जो बड़े लोग करते हैं वो आज सब करुँगी. तान्या की अन्तर्वासना पूरे उफान पर थी, वो अपने चूतड़ हिला हिला कर मजा ले रही थी, उसके मुख से वासना से लबालब सिसकारियां उम्म्ह… अहह… हय… याह… निकल रही थी.

मालकिन नौकर सेक्सउसने फोन उठाया और उठाते ही मुझसे बोली- मुझे तुमसे बात नहीं करनी, तुम किसी काम के नहीं हो. टॉवल लपेटे हुए मैं बिस्तर पर पेट के बल लेट गयी और ज्ञान ने अपना काम शुरू कर दिया। पैरों की मालिश के बाद ज्ञान तौलिया को हटा दिया और मेरे 36 के नंगे चूतड़ों को मसलना शुरू कर दिया.

चुदाई की हिंदी कहानियां

मैंने सुमन से कहा- यार, मैं तेरे भैया को पटा लूं तो तुझे प्रॉब्लम तो नहीं न?सुमन ने कहा- मुझे क्या … पर हमारे बीच जो होता है, वो पता नहीं चलना चाहिए उनको!मैं बोली- ठीक है. ऐसी स्थिति में खुद को पाकर साली जी ने लजा कर अपनी आंखें तो मूंद लीं थीं. उसे देखकर मेरे मुंह में पानी आ गया मगर मैंने अपने ऊपर कंट्रोल रखा, क्योंकि मुझे राजीव की मर्दानगी देखनी थी।तभी राजीव ने मुझे उसका लंड देखते हुए देखा मगर वो कुछ बोला नहीं.

मैं- मैं आज से सिर्फ आपकी हूँ, आपको जिस भी छेद में लंड डालना हो, डाल दीजिये … लेकिन पहले मुझे माँ बना दीजिये. मैंने कॉण्डोम पास में रखा हुआ था कि डिस्चार्ज करीब आने पर चढ़ा लूंगा. अमन अंदर आते हुए शरारती अंदाज़ में बोले- बुलाना है क्या? जरूरत है क्या मेडम को उसकी?मैं- चुप बदमाश!बोलते हुए मैंने भी हंस कर अमन की बात का जवाब दिया.

इसलिए मुझे उनको अपने प्लान में कुछ इस तरह से शामिल किया था कि वो मेरी बात से मना कर दें. ऐसा क्यों पूछ रही हो?”मेरा मतलब है कि सेक्स के दौरान तुम्हें उत्तेजना होती है?”कैसी उत्तेजना?”अभी बताती हूँ, कैसी उत्तेजना. अब नित्या बोली- यार निधि, 12 बजने वाले हैं, ऐसा करो यहीं सो जाओ। कल बुक लेकर चली जाना।नित्या के काफी बोलने पर निधि तैयार हो गई- ओके।ठंड थी तो हम तीनों लोग एक बेड में आ गए। निधि और मैं किनारे लेट गए और नित्या बीच में।फिर हम सब नशे की हालत में ही बातें करने लगे।नित्या निधि से बात करते हुए मेरे लंड को पकड़ रही थी और मैं नित्या की निक्कर में हाथ डाल कर चूत में उंगली कर रहा था और बूब्स दबा रहा था.

जब देखा मेमरानी लंड से खेल रही है तो बेबी रानी मटक के बोली- ओह हो ओह हो … क्या बात है पिंकी … लगता है हमारा आशिक़ तुझे पसंद आ गया?मेमरानी ने हंसकर कहा- हाँ आ गया … इसका नाम मैंने रुस्तम रख दिया है और इसके हथियार का नाम नाग … और ये मुझे मेम रानी कहा करेगा. उनकी इस बात से मुझे बहुत गुस्सा आया और मैंने उनके दोनों मम्मे जोर से मसलते हुए और लिपकिस करते हुए बोला- मैं छोटा नहीं हूं … आप एक बार बोलो तो सही, मैं आपको बहुत अच्छी तरह से चोद सकता हूं.

फर्क इतना सा था कि मेरा वीर्य उसके मुंह में गया था और मयंक का वीर्य उसकी चूत ने पी लिया था.

मैंने एक हाथ उसकी पैंटी में डाल दिया और उसकी पैंटी में उसकी चूत में अपनी दो उँगलियाँ डाल कर उन्हें सहलाने लगा। जिससे सीमा के मुंह से सिसकारियां निकलने लगी. मोटी भाभी की चुदाईसब ठीक था। आंटी ने भी घर के बाहर की सारी लाइटें बंद कर रखी थीं जो मेरे लिए काफी फायदेमंद था. एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स ईमैंने बिना सोचे उससे कह दिया कि कल सुबह दस बजे मैं तुम्हें कुतिया बना कर चोदूंगा और अपना पानी पिलाऊंगा. इस उम्र में लड़कियां जो कुछ देखती हैं, वैसा ही करना चाहती हैं, ऐसे में कोई गलत लड़का मिल जाये तो लड़की का भविष्य खराब हो जाता है.

आज जो मैं कहानी आप लोगों को बताने जा रहा हूं वो मेरी पड़ोसी भाभी की कहानी है.

राशि ने मेरे तने हुए लंड को कामुक नजरों से देखा और हाथ में लेकर उसको अगले ही पल अपने मुंह में भर लिया. मेरा लंड खड़ा हो गया था और अन्दर की आग बढ़ रही थी, इसलिए मैंने फिर से दरवाज़ा खड़खड़ाया, लेकिन कोई ने भी दरवाजा नहीं खोला. यह कहानीयारानाभाई-बहन नंदोई-सलहज का यारानायाराना का तीसरा दौरयाराना का चौथा दौरयारों का महायाराना- आगाज़के आगे का भाग है। जिन्होंने याराना को शुरू से नहीं पढ़ा है, वह पहले इस शृंखला के पिछले भाग पढ़कर आयें ताकि आपको कहानी के सभी पात्रों का एक दूसरे सम्बंध पता चल पाये.

मैं उसी पोजीशन में झड़ गई तो मैं फिर से एक बार देवर से चिपक गई और उन्होंने भी नीचे से चुपके चुपके अपना सारा पानी मेरी चूत में निकाल दिया. दो मिनट में शायद रोहित को संजना भारी लगने लगी थी, इस वजह से उसने संजू को नीचे उतारा, परंतु इस दौरान उसने अपना लंड चूत से नहीं निकलने दिया. इस बात पर राहुल खुश हो गया और बोला- कि आज तो सच में बहुत मजा आने वाला है.

जंगल सेक्स

अब हम सभी हमारी शादी के बाद मिलेंगे अगर किस्मत ने चाहा, तो फिर कभी चुदाई का मजा होगा. मुझे ऐसा देख कर चाची बोलीं- इस उम्र में ऐसा होता है … तुम परेशान मत हो. जो दूसरे वाले अंकल थे, जो नए आए थे, उन्होंने मम्मी को घोड़ी बनाकर चूत में लंड डाल दिया.

मेरे दिल ने कहा कि हीना एक बार में ही लिंग गले के आखिरी छोर तक ले जाये.

उसके मोटे लंड के धक्के वो बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी और दर्द से चिल्ला रही थी.

फिर भी मैंने हीना को पल भर रोका और कहा- हीना, अगर ये तुम्हारी मर्जी से हो रहा है तो ठीक है. वो मेरे मम्मों की साइज से दो नम्बर छोटी थी, जिसे मैंने जानबूझ कर ही लिया था. xx.com हिंदी मेंमैंने खुशी से कहा- मैंने तो मजाक किया था और तुम सचमुच आँखे बंद करके बैठ गई।अब खुशी कुछ कहती, इससे पहले ही उसके पास बैठी एक छोटी सुंदरी जो मुझे होटल पहुंचने पर सबसे पहले स्वागत करते हुए मिली थी, उसी चंचल बाला ने कहा- दीदी ने तो आपको आते देखकर आँखें मूंदी हैं।अब खुशी का भेद खुल गया.

मुझे उसकी इस बिंदास अदा से हैरानी तो थी, मगर मेरा भी जोश चढ़ने लगा था. बात उसी जगह की है जहां मैं पढ़ाता था। उस समय मैं स्कूल के हॉस्टल में ही रहता था लेकिन कई महीने बाद मैं अपनी बीवी को वहीं लेते आया और एक मकान किराए पर लिया।जिस मकान में हमें रूम मिला उस मकान का मालिक उम्रदराज था और उसकी दो शादियां हो चुकी थी. 14 महीने पहले के नवंबर की वो तिलिस्मी शाम के जादू से मैं बहुत देर बाद और बहुत ही मुश्किल से उबर पाया था.

उसके मुँह से ये सब सुन मेरा भी निकल गया हम।दोनों बिस्तर में नंगे ही सो गये. मैंने भी स्माइल पास कर दी और सोचा कि इसने मुझे देखते हुए क्यों कहा?मेरे मन में बहुत सारे सवाल एकदम से आ गए कि क्या ये लड़की मुझे लाइन दे रही है … यदि ऐसा है तो इस पर ट्राय करने कोशिश करने में क्या जाता है.

उसने केवल अभी तक सोनम के साथ हल्की फुल्की मस्ती ही की थी लेकिन असली चीज का दीदार तो उसको आज की रात ही होने वाला था.

मेरे मम्मों को अपने दांत से दबाया और धीरे धीरे वो मेरे बदन को चूमता हुआ मेरी चूत के पास चूमने लगा. ये नाइटी ऐसी थीं कि इनमें सिर्फ मेरी चुत तक के हिस्से को ही छुपाया जा सकता था. रुकैय्या ने कहा- मुझे मालूम है कि तेरा पानी छूटने वाला है क्योंकि तेरा लण्ड अकड़ने लगा है और तेरा सुपारा फूलकर मेरी बच्चेदानी पर चोट कर रहा है.

ऐकस विडिओ तो मुस्कान प्रियंका को देखकर बोली- कोई बात नहीं, तेरी भी बारी आयेगी फिर बताऊँगी तुझे. जैसे ही मेरा वीर्य मनीषा भाभी के मुँह में झड़ा, उन्होंने फट से मेरा लंड बाहर निकाल दिया.

नंगी बेबी रानी एक अच्छे से मादक पोज़ में आकर अपने शरीर को मुझे लुभा लुभा के दर्शाने लगी. मैंने बेड पर लेटकर पहले टिश्यू पेपर से अपना लंड साफ किया और बस चुदाई के बारे में सोचने लगा. इधर मौसी की हॉट चुदाई चल रही थी, उधर बैकग्राउंड में हॉट सांग रिपीट पर रिपीट चल रहा था.

बिहारी बाबा का मोबाइल नंबर

लेकिन आज उसके सीने के मुलायम स्पर्श से मेरे दिल में हलचल सी मची हुई थी. आह … उनके चूतड़ बहुत सॉलिड थे, तब मुझे आभास हुआ कि भाभी क्यों चीखती थी. लेकिन जैसे ही मेरे देवर मेरे सामने आए, वे मुझे देखकर हल्का शर्मा रहे थे.

मिनट भर के अंदर ही उसकी ब्रा को मैंने खोल लिया और उसकी ब्रा को उसकी छाती से अलग कर दिया. मुझे मेरी पिछली कहानीभाभी की सहेली ने चुदाई के लिए ब्लैकमेल कियाके बाद काफी मेल आए.

मैंने लंड को चूत के मुंह पर सटाया हल्के से धक्का मारा जिससे सिर्फ टोपा चूत में घुस गया और रानी की बुर में भरे रस में सराबोर हो गया.

बाकी लड़कियों का तो और भी बुरा हाल था, सबके हाथ उनकी पैंटी में थे और अपनी अपनी बुर सहला रही थी. फोन पर मैंने दीदी का नाम देखा- हां दीदी … कैसे याद किया?दीदी- बस ऐसे ही सोचा कि अपने भाई को कॉल करूं … क्या कर रहा है?मैं- लैपटॉप पर जरूरी काम कर रहा हूं. साब अब लड़खड़ाता हुआ खड़ा हुआ और मेमसाब और शीला का सहारा लेते हुए अपने कमरे में जाने लगा.

जब पहली बार मैंने चित्रा बहन के मम्मों को अपने हाथ में लेकर सहलाये, तब ऐसा लग रहा था कि पूरी रात बस दीदी के मम्मों को दबाता रहूँ. रीना- सिर्फ बूब्स ही चूसेगा? मेरी चुत का क्या?धीरज फिर धीरे से नीचे आया और रीना की कैप्री उतरने लगा। रीना ने लाल टीशर्ट और नीली केप्री पहनी थी. फिर मैंने उसको इशारे से घोड़ी बनने को कहा और वो मेरी बात सुनकर बेड पर टिक कर घोड़ी बन गई.

उसने कहा- फाड़ दो न फिर!मैंने उसे किस करके उसकी जीन्स का बटन खोला और उसकी टांगों से उसकी जीन्स को उतार दिया.

स्कूल की बीएफ पिक्चर: उसने कहा- तो आपको भी दिलवा दूं क्या (चूत)?मैंने कहा- मुझे वो दो फाड़ वाला फल नहीं चाहिए. आह … आज सालों बाद कितना मस्त लंड मिला था … मेरे बेटे का जवान लंड देख कर मैं पागल हुए जा रही थी.

शुरू में तो साहब झिझकते, पर मेरी तरफ से पहल होने के कारण वे आश्वस्त हो गए. मैंने लंड के इन्तजार में अपने दोनों हाथ पीछे की ओर कर रखे थे और मैं बेड पर बिल्कुल बेशर्मों की तरह नंगी लेटी थी. मैंने पूछा- चाय लेंगे या कॉफी?वो बोले- दूध!मैंने पूछा- किसका?उन्होंने मेरे वक्षों को घूरते हुए कहा- जो भी आपके पास हो.

वह जमकर मेरी गांड को चोद रहा था और मैं हल्के हल्के दर्द के कारण चिल्लाए जा रही थी.

आज भी हम दोनों को जब भी मौका मिलता है हम एक दूसरे के साथ मजे लेते हैं. दीपिका ने अपने होंठों पर जीभ फिराते हुए बहुत ही सेक्सी स्माइल दी और बेड पर पाँव लटका कर बैठ गई. उफ साहब भी क्या चाशनी में लपेट कर बातें कर रहे थे, बड़े ही जबरदस्त लवमैन निकले साहब.