बड़े लंड वाली बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,क्ष्क्ष्क्ष्क्ष्क्ष्क्ष्क्ष्

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी हिंदी देहात: बड़े लंड वाली बीएफ सेक्सी, टाइम देख कर उसने अपने कपड़े एकत्रित किये, अपने जिस्म को कपड़ों के अंदर पैक करना शुरू कर दिया.

चोदम चादी

मैं दोनों हाथ से भाभी के चुचे दबाये जा रहा था और मुँह से चूसे जा रहा था. सेक्स वर्कर सेक्समैंने बोला- क्या जादू करता है ये … बोलो ना?भैया बोले- सच में जानना है, तो एक काम करो, इसे अपने हाथ में लेकर मसलो और इसका जादू देखो.

रवि उसकी गांड पे कभी थप्पड़ मारता, तो कभी उसकी पेंटी को उसके गांड के छेद के अन्दर डाल देता. समांथा सेक्स वीडियोआंटी को जब मेरे लंड का अहसास हुआ तो आंटी ने अपना एक हाथ नीचे ले जाकर मेरे लंड को मेरी पैंट के ऊपर से ही सहलाना शुरू कर दिया और मेरे लंड को सहलाते हुए बोली- मैंने भी बहुत दिनों से इसका दूध नहीं पीया है.

फिर उसके बाद मुझे थकान महसूस होने लगी और अचानक से पंकज धक्के भी तेज होकर धीमे होना शुरू हो गए.बड़े लंड वाली बीएफ सेक्सी: फिर मैंने देखा जब मम्मी उठी तो उनकी चूत से सफेद सफेद गाढ़ा सा कुछ निकल रहा था, जिसे मम्मी ने पास में रखे हैंड टॉवल से साफ किया.

उसे लौड़ा चूसने का बड़ा शौक है, चुदाई चाहे करनी हो या नहीं … पर हर रोज़ रात को जब तक लौड़ा नहीं चूस लेती है, उसे नींद नहीं आती, अपनी भी मौज है यार.उसने मुझसे कह दिया था कि तुम आकर बाहर वाले कमरे में ही आकर मुझे फोन कर देना.

सिर्फ मस्ती वाली वेबसाइट - बड़े लंड वाली बीएफ सेक्सी

मुँह से निकलती सलोनी की मादक सीत्कारों की आवाज़ ट्रेन की आवाज़ में खो सी जाती थी.मगर दोनों में से किसी की हिम्मत नहीं हो रही थी कि एक-दूसरे से नजर मिला सकें.

मैं उसका लंड रस गटक भी गई, अजीब सी खुशबू थी और टेस्ट नमकीन सा थोड़ा अलग ही लगा. बड़े लंड वाली बीएफ सेक्सी पूनम मेरे करीब आई और धीरे से मेरे कान में कहा- आज की रात मेरी सुहागरात है इसी कमरे में … तुम आज रात को यहीं बगल के कमरे में रुकना.

मैंने सुबह वापस एक बार और उसके साथ सेक्स किया और अपने रूम पर आ गया.

बड़े लंड वाली बीएफ सेक्सी?

”दस मिनट की अलग अलग तरीकों से चुदाई के बाद, जिस बीच में मैं एक बार पानी छोड़ चुकी थी, सुनील जी के लंड की पिचकारी ने मेरी फुद्दी की आग को ठंडा कर दिया और मैं भी दुबारा झड़ गई. इस कारण अधिक भीड़ भी नहीं थी। फिर रेखा ने दोनों साइड पैर करके बैठ गई और दोनों हाथ आगे करके सोनू को पकड़ लिया।फिर मैं बाइक स्टार्ट करके आगे निकला. स्टीव ने अपनी तरफ से फिर भी सब कुछ फिर से सामान्य रखने की कोशिश की, कुछ हद तक कामयाब भी रहा.

सरदार जी का लिंग पूरी तरह कड़क हो चला था और मैं उसे अच्छे से चूसने लगी. मैंने जानबूझ कर बीवी से कहा- इतनी लेट कैसे हो गई?बीवी कहने लगी कि शादी में टाइम लग गया. वो इठला कर बोली- चल ठीक है … नहीं बताऊंगी किसी को, पर मैं जो भी काम बोलूँगी, तुझे वो सब करना पड़ेगा.

वो एक लेडी डॉक्टर थी और देखने में बहुत सी सेक्सी लग रही थी।मुझसे काफी देर तक बात करने के बाद उस डॉक्टर ने कहा कि मुझे टेस्ट करवाना पड़ेगा।मैंने उससे पूछा- टेस्ट के सैंपल के लिए कहाँ जाना होगा?तो उसने मुझसे कहा- अभी तो काफी सारे पेशेंट आए हुए हैं, आप शाम को 6 बजे आ जाना. फिर मैंने उसे घोड़ी बनाया और खुद घोड़ा बनकर पीछे से उसकी चुत में लंड घुसा दिया और जमकर चोदने लगा. मगर इससे पहले तो सुषी ने मेरे लंड को बिना कंडोम के ही अपनी चूत में ले लिया था.

दूसरे दिन मैं दीदी के साथ शॉवर के नीचे सेक्स करना चाहता था, लेकिन उसने दीदी ने ना बोला. बच्चे के लिए तो तुम्हारी चूत से अंडा निकलना जरूरी होता है जो अपने टाइम पर आता है.

उसके बाद मैंने बाइक को घर से कुछ दूरी पर रोक लिया और ताक-झांक करने की कोशिश करने लगा.

वैसे क्या निकालूँ?कल्पना- अपना वो …कल्पना को छेड़ने के लिए मैंने फिर से पूछा- मेरे लंड की बात कर रही हो क्या?उन्होंने हल्की सी स्माइल के साथ ‘हां कहा.

यह सुनते ही मेरी गांड बिना लंड डाले ही फट गयी और मैं डर गई, मैंने उससे ‘नो नो …’ कहा, तो इससे उसकी हिम्मत बढ़ गयी और वो सीधे मेरे मम्मों को अपने हाथों में ले कर मसलने लगा और मेरे गले को अपनी जीभ से चाटने लगा. क्या मस्त लग रही थी वो … कुर्ते के नीचे उसकी नंगी गोरी गोरी जांघें बहुत सेक्सी लग रही थीं. मैं बोली- पहले खरीदूंगी, तब तो पहनूंगी?वह दुकान वाले बोले- उसकी चिंता मत करिए.

उसके इतना कहते ही वाणी उठी और वहीं लगी अलमारी में से एक डिल्डो वाली बेल्ट निकाल कर पहन ली. लगभग पांच मिनट बाद उन्होंने मुझे हिलाया और कहा कि आज भी बस देखते ही रहोगे या कुछ करोगे भी. जगत अंकल बोले- राज, अब इधर ध्यान दे … और बता पहले कहां चलना है?मम्मी बोलीं- राज जीजा, सबसे पहले दुकान में ही चलो, पहले खरीददारी कर लेते हैं … फिर ही कुछ और सोचना या और कहीं चलना … नहीं तो दुकान बंद हो जाएगी.

मैंने एक हाथ उसकी चुत पर रखा, तो पता चला कि उसकी चुत पूरी भट्टी की तरह जल रही थी … जो ज्वालामुखी की तरह गर्म थी.

इतने में स्टेशन आया, तो मैं बदनामी के डर से उस डिब्बे से उतर गया और उस लड़के से आंख बचा कर दूसरे डिब्बे में चढ़ गया. मैं एक हाथ से उनके मम्में दबा रहा था, वो बहुत गर्म हो गयी थी, मेरा हाथ पकड़ कर ज़ोर से दबा रही थी. फिर एक भूचाल सा आया और मयूर ने एक ही झटके में अपने लंड मेरी फुद्दी में अन्दर तक डाल दिया.

लेकिन तभी बाहर आवाज़ हुई थोड़ी … और बुआ को लगा कि रिंकी जाग गयी है. उसके बाद उसने खुद ही मेरे लंड को अपने मुंह में ले लिया और उसको चूसने लगी. उसकी मोटी सी टांगों की वजह से आंटी की संकरी चूत में मेरे मोटे लंड को अन्दर जाने में मुश्किल हो रही थी.

अत: अमित ने खुद ही अपने नितम्बों को ऊपर उठाते हुए अपनी बेल्ट को खोलकर अपनी पैंट को नीचे खींच दिया.

अब मेरे मुँह से सिसकारियां निकलने लगी थीं- सी सी आहहहह आहह!यह सब अपने आप निकल रही थीं. इस बीच हमारे बेटे का जन्म हुआ, जीवन में नयी खुशी आई, पर वासना को कुछ समय के लिए दूर करना पड़ा.

बड़े लंड वाली बीएफ सेक्सी तू जिस भी लड़के या मर्द से मिले, उससे इन्हें ज्यादा से ज्यादा दबवाना और चुसवाना. ये कहानी मेरे और मेरी सलहज की है, मेरी सलहज का नाम इंदु है, उसकी उम्र 26 साल की है.

बड़े लंड वाली बीएफ सेक्सी मैंने तुरंत ही उसे बड़े प्यार से बेड पर लिटाया और उससे बोला- आई लव यू जान. अभी बना लेते हैंमैंने कहा- अब बनो मत, मैंने सब खाना वगैरह के पैकेट खोल कर गर्म कर खाना लगा दिया है.

उसने मुझसे बोला- बेटा, तुम्हें गाड़ी चलानी आती है?मैंने उन्हें हां बोल दिया तो वो मुझसे बोलीं- बेटा, क्या तुम मेरी गाड़ी मेरे घर के अन्दर खड़ी कर सकते हो, मुझे गाड़ी चलानी नहीं आती.

सेक्सी वीडियो लोकल बीएफ

तभी एकता ने प्रमिला से पूछा- क्यों आज तो मुँह में गटक लिया, पहले तो कभी किसी का लंड लास्ट स्टेज में मुँह में लेती ही नहीं थीं, सब अपने मम्मों पर ही या फिर कंडोम में ही निकलवा लेती थीं … आज क्या हुआ ऐसा?प्रमिला बोली- यार जो तूने बोला था … ये घोड़ा तो उससे भी ज्यादा निकला. इतने में फिर से पता नहीं कैसे उधर से निहाल आ गया और वह जो मेरी गांड में लंड डाले हुए था, उससे बोला- अरे भैया तुम यह सब क्या कर रहे हो. वह थोड़ी नीचे की तरफ झुकी और उसने मेरी पैंट में तने हुए मेरे लंड पर अपने होंठों को रगड़ना शुरू कर दिया.

हुआ भी कुछ ऐसा ही, उसने चाटने के साथ फिर से हाथ की दो उंगलियों को घुसा कर अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया. रंग लगाते समय वो मुझसे बचने की कोशिश कर रही थी, जिस चक्कर में मेरे हाथ उसके मम्मों पर लगे जा रहे थे. वर्षा बोली- दीदी मैं जब तक जिन्दा हूँ, आपको कुछ भी नहीं होने दूंगी.

मैंने सासू को ध्यान से देख कर तो लग रहा था कि जैसे वो किसी गहरे पानी में डुबकी लगा कर आई हों.

उनके टांगे फसाने से मैं ज्यादा ऊपर नहीं उठ पा रहा था, मैंने भाभी की टांगों को अपने हाथों में लिया और चूत के ऊपर अच्छी तरह से चढ़कर लंड से ठुकाई करने लगा. उसने कहा- ठीक है, आज तो तुम अपनी पहली रात इसके साथ गुजारो, फिर सोचना. मैं अगले दिन अपनी बीवी को साथ लेकर उस ऑफिस में आ गया और वहां मैं मैनेजर से मिला.

मैं खुद में बहुत गर्म हो गयी थी और मन में लिंग योनि में घुसाता निकलता दिखने लगा था. थोड़ी देर आराम करने के बाद सीमा आंटी उठने की कोशिश कर रही थीं, पर उनसे उठा ही नहीं जा रहा था. मम्मी हर बार मुझे ये जरूर समझाती थीं कि मास्टरबेट तक तो ठीक है, पर शादी से पहले कभी किसी लड़के के साथ सेक्स मत करना.

जब मुझे फोन आता तो मैं शिखा को साथ ले लेता था और जब उसे फोन आता तो वह मुझे साथ ले जाती थी. थोड़ी देर बाद भाभी ने अपने चूतड़ों को थोड़ा हिलाया और लण्ड को चूत में अच्छे से सेट करके बोली- अब करो.

उसने कहा- आप जितना चाहो … जैसे चाहो चोद लो … लेकिन गांड में कुछ मत करो प्लीज़. कुछ देर बाद ऊपर से धक्के लगाती हुई नैना अब थकने लगी थी, तो मैंने भी नीचे से धक्के लगाने शुरू कर दिए. मैं उत्तराखंड के एक छोटे से शहर से हूँ और उसी शहर से मैंने अपनी पढ़ाई पूरी की है.

मैं कुछ देर तक आराम से अपनी उंगली को शिल्पा की मखमली गांड के छेद में अन्दर बाहर करता रहा.

फिर वह भी कहने लगी- राज! बिल्कुल धीरे-धीरे डालना, मैंने कभी इतना मोटा लंड न देखा है और न ही चूत में लिया है. यह बात होने के बाद मैं बाथरूम में गया और अपने लंड को खड़ा करके पेन से लंड पर उसका नाम लिखा. मगर उससे पहले एक बात यहां कहना चाहूंगा कि सिर्फ चुदाई के बारे में पढ़ने वालों को ये कहानी शायद उतनी पसंद ना आए.

उसने एक मुक्त सी हंसी बिखेरी और बोली- पहले टेस्ट होगा, फिर काम पक्का होगा. मैं उसके पूरे शरीर पर किस करने लगा और उसके चूचों को जोर जोर से दबाने लगा.

मैं कितना प्यार करती थी उसको … कितना भरोसा करती थी उसका … वो कितना कमीना निकला, मेरे पापा को धक्का मार के चला गया. मैंने दोनों निप्पलों को एक साथ मुँह में ले लिया और चूसने लगा और काटने लगा. मुझे बिस्तर पर लेटा कर शीला और पद्मा एक साथ लंड को अपनी अपनी जीभ से चाटने लगीं.

सेक्सी सेक्सी फिल्म बीएफ

वो तीनों लेडीज एक साथ बोलीं- छि: छि: कितने गन्दे हैं रे …वे तीनों मुझे बहुत गंदी गालियां देने लगीं.

रात को आरती को अपने पति के कमरे के अंदर करके मैं बाहर आ गई और फिर सीधी धीरज के कमरे में चली गई और जाते ही उसके लंड को पकड़ लिया. उसने मेरी चुनरी उतार फेंकी, जिस वजह से मेरे पहाड़ जैसे चूचे और उनके बीच का चीर … और चीर के बीच मेरा लॉकेट खेल रहा था. मैंने कहा- मामी मेरे मोबाइल में इंग्लिश मूवी है, आपके देखने लायक नहीं है.

चूत पर जैसे ही मेरा हाथ गया सोनू ने मदहोशी की हालत में मुझसे कहा- नहीं, यह मत करो. मैं- नमस्कार नमस्कार झा जी … और कहां घूम रहे है मैडम को लेकर, प्रणाम भाभी जी कैसी हैं?थोड़ा मस्ती मिजाज में जैसे कौशल्या जी उनकी पत्नी हों!कौशल्या जी- मैं तो ठीक हूँ सर … हम लोग ऑफिस के बाद सिनेमा देखने गए थे, आप कैसे हैं और कभी देविका मैडम को भी सिनमा वगैरह देखा दिया कीजिएगा. गलफ्रेंड नंबरआंटी के मुंह से कामुक सिसकारियों के साथ अब हल्की-हल्की दर्द भरी आवाजें भी निकल रही थीं.

कुछ दिनों बाद मैंने कुछ गलत फील किया, तो मैं डॉक्टर को चैक कराने गई. हैलो मेरे प्यारे साथियो, कैसे हैं आप सभी? मैं उम्मीद करती हूँ कि आप सभी अच्छे होंगे.

इसके बाद मैं भाभी की ब्रा को फाड़ कर अलग करते हुए उनके मम्मों को चूसने और दबाने लगा. फिर एक गुड़गांव का लड़का मिला जिसने मेरी सच्चाई जानने के बाद भी मुझसे बातें करना जारी रखा. हम दोनों बाहर आकर बैठे तो मैं बोला- एक बात बोलूं?तो भाभी बोलीं- बोलो?मैं बोला- उसको बुला लो.

उसने मुझे हग किया, जिससे उसके टाईट बूब्स मेरी छाती में गड़ गए और मेरे जिस्म का भी उसने नाप ले लिया. मैं तो न जाने कबसे आपके जैसे लंड वाले की तलाश कर रही थी, क्योंकि जब मैं गर्म होती हूँ, तो मेरे पति के लंड का पानी निकल जाता है और वो गांड औंधी करके सो जाते हैं. मैं दरवाजे की तरफ जा ही रहा था कि अन्दर किचन से दीदी आयीं और मेरे से बोली- कहां जा रहे हो?मैंने कहा- बस बाहर थोड़ा चाय पीने जा रहा हूँ.

उसने पूछा कि क्या करना है आगे?मैं बोला- जो तुम चाहो, मैं सब कर सकता हूं.

कुछ देर गांड चाटने के बाद उसने अपने लंड का सुपारा मेरी गांड के फूल पर टिका कर एक हल्का सा शॉट दे मारा. किसी ने मेरे कमरे के दरवाजे पर आकर नॉक किया तो अंदर से ही पूछा तो पता चला बाहर शिखा खड़ी थी.

उसने कोई विरोध नहीं किया।मैं उसका गाउन कमर तक ऊपर करके उसकी गाण्ड पर हाथ फेरने लगा। वो और भी गर्म होकर मुझसे चिपक गई। फिर मैंने उसका हाथ पकड़ कर नीचे मेरे बरमूडे के ऊपर से मेरे 7″ के बाबूराव पर रखा. बेबी को सासू माँ के साथ रहने की आदत थी, वो ज्यादा वक्त उसी के साथ होती थी. थोड़ी ही देर में कपड़े निकालकर वह केवल बनियान और वी-कट वाले अंडरवियर में होकर पाइप से बाइक की धुलाई करने लगा.

जैसे ही वो गांड नीचे करके चुत उसके मुँह पर दबाती, वो उसकी चुत पर जोर से काट लेती और जैसे ही गीता वापस गांड ऊपर करती, मेरी उंगली और अन्दर हो जाती. लेकिन वो ज़िद पर अड़ गयी और दावा करने लगी कि वो हाँ ही कहेगी और आपसे बात बंद नहीं करेगी. उसको मुंह से इस तरह की कामुक सिसकारियाँ सुनकर मेरे अंदर भी जोश बढ़ता ही जा रहा था.

बड़े लंड वाली बीएफ सेक्सी मगर आज कामुकता की जो परिभाषा मैं आपको देने जा रहा हूँ, वह शायद ही आपने इससे पहले कभी कहीं पढ़ी हो. हालांकि हम दोनों लोग एक दूसरे से कई बार रास्ते में मिले थे, चूंकि वो मेरा पड़ोसी था तो हम दोनों लोग कभी कभी रास्ते में मिल ही जाते थे.

पंजाबी बीएफ सेक्सी ब्लू फिल्म

अपने चुचे चुसवाते हुए मेरी सास बोलीं- बेटा अब तो एक बार मिलन करवा दे दोनों का, सिर्फ एक बार मेरी चूत में अपना लंड घुसा दे, फिर चाहे कितनी भी देर ऐसे ही मेरे बदन से खेलते रहना. पीछे गांड में उसका लंड चुभ रहा था और हाथ से मेरी चूत के पास दबा रहा था. जैसे ही बाथरूम से बाहर आई और दरवाज़ा बंद किया, तो उसकी आवाज़ से जग की आंखें खुल गई.

मैं धीरे से बोली- ऐसे ही कर ले … कहीं किसी को पता चल गया तो बवाल हो जाएगा. साथ ही मैं उसकी कोमल मुलायम चूचियों को दबाते हुए उसके होठों के रस को भी पीता जा रहा था. दादी की चुदाई वीडियोउसके कुछ दिन बाद मुझे महसूस होने लगा कि भाभी भी अपने पति यानि कि मेरे भाई को मिस कर रही है.

एक हाथ से बूब्स दबाते हुए संध्या को चूम रहा था, उसकी जीभ मुंह में लेकर चूसने लगा.

मुझे चूत में लंड लेते समय अपने मम्मों की चुसाई करवाना बहुत अच्छा लगता है. सेक्स स्टोरी पढ़ कर मुझे लगा कि मुझे भी अपना एक्सपीरियेन्स शेयर करना चाहिए.

अपनी पेंटी ले लो और कुछ बातें हमारी मान लोगी, तो हम लोग किसी से कुछ नहीं बोलेंगे. मैं भी अब जोर-जोर से रगड़ने लगा। फिर कुछ समय बाद अचानक निहारिका के बाकी भाई बहन भी ऊपर छत पर आ गए और मेरा प्लान बर्बाद होता दिखने लगा. मैं जब 10 बजे आफिस गया, तो मैंने मैसेज देख लिया, पर रिप्लाई नहीं दिया.

मैंने इंदु की गांड में ही आखिरी के 8-10 धक्के के बाद जोर जोर से आहह हहह आहह करते हुए सलहज की गांड में अपना ढेर सारा कामरस छोड़ दिया.

मेरे मुँह से सिर्फ इतना ही निकला:गर फिरदौस बर रूये ज़मी अस्त/ हमी अस्तो हमी अस्तो हमी अस्त(धरती पर अगर कहीं स्वर्ग है, तो यहीं है, यहीं है, यही हैं)वे दोनों मुझसे सांप के जैसी लिपट गईं. इस वक्त एक जवान लड़का मेरे सूने घर में मुझसे बात करते करते मेरी चूची को देख रहा था और मुझे इस बात से बेहद सनसनी हो रही थी. मैंने कहा- तुम दोनों के चुचे और चूतड़ इतने सेक्सी हैं कि किसी बुड्डे का लंड भी खड़ा हो जाए, बेवक़ूफ़ हैं वो जिन्होंने तुम दोनों से शादी नहीं की, विधवा हुई तो क्या हुआ, इतना मादक बदन हर किसी का नहीं होता, देखो मेरा लंड आज पहली बार खड़ा हुआ है.

सेकसिविडयोहेमा भाभी बोली- मुझे बेवकूफ मत बनाओ, कई दिन से तुम उसी के पास आते-जाते हो और वह तुम्हारे पास आती है, कोई चक्कर चल रहा है, मैं कई देर से दरवाज़े के बाहर खड़ी बेड के चरमराने की आवाजें सुन रही थी. बस इतना बताओ कि लड़की पढ़ी लिखी दिखाऊँ या तुम्हारी तरह काम चलाऊ पढ़ी हुई.

हिंदी पिक्चर बीएफ सेक्सी वीडियो

एकता ने झट से डॉगी बन कर अपने अड़तीस साइज़ के गोल गोल हिप्स ऊपर उठा लिए और मुझे अपनी रस भरी चुत दिखा के आमंत्रण देने लगी. मैं कुछ कहता, उससे पहले ही वो मेरे ऊपर कूद पड़ी और पागलों की तरह मुझे चूमने लगी. उसके चुत का पानी और चॉकलेट दोनों मिक्स हो गए थे और बड़ा मस्त स्वाद लग रहा था.

मैं गया तो आंटी ने घर के लोगों से मिलवाया और सब को ये भी बता दिया कि मैं उनकी दूध की डेरी को देखने के लिए आया हूँ. तब दीदी मुझसे बोली- अरे तुझे क्या हुआ … ऐसा लगता है कि जैसे कोई ने अन्दर डाल दिया हो?मैं बोली- हां दीदी, ऐसा ही समझ लो. ऊपर से गीता भी उसके ऊपर लेट कर मुझे किस करने की कोशिश करते हुए तूफ़ानी धक्के लगा रही थी.

थोड़ी देर बाद मेरा मूड बनने लगा और मैंने कहा- यदि तुम बुरा ना मानो, तो एक बात बोलूँ?उसने कहा- हां बोल?मैंने कहा- आज मुझे तेरी चुत देखनी है. अमित ने पूछा- वह कैसे?मैंने कहा- आपका मजबूत शरीर और हैंडसम सा चेहरा है. मैं भी समझ गई कि जेठ जी के लंड से भाभी को मज़ा नहीं आता इसलिए शायद भाभी ने मनोहर के लंड से ही मज़े लिये हैं.

ये तो वही मैडम थी, जिसको मैंने स्टेशन पर अपने फोन से बात करने दी थी. इस तरह से पहली बार जब से मैं मौसी के यहां से चली थी, तब से पहली बार मेरी चूत को सेटिस्फेक्शन मिला था.

रात को 8:30 बजे उन्होंने मुझे कमरे में भी भेज दिया, जहां मेरी कजिन सारा अपने एक रात के शौहर का इंतज़ार कर रही थी.

लेकिन मैंने भी सीधे गांड में लंड ना डाल कर उस पर पहले शैम्पू डाला और उसकी पीठ पर मालिश करने लगा. खुल्लम खुल्ला सेक्सीडाल दे रे भोसड़ी के!इस वक्त नामित मेरे पेट और मम्मों को अपनी जीभ से चाट रहा था. सेक्सी पिक्चर गाना वीडियोइतने में उसने मुझे पीछे हाथ करके रुकने के लिए बोला, मुझे समझ नहीं आया, पर मैं रुक गया. निहाल की हिम्मत बढ़ती जा रही थी तो उसने अपनी हाथ की हरकत को और तेज कर दिया.

मैंने कहा- अगर ठीक नहीं हुआ तो तुम्हारा क्या होगा?वह धीरे धीरे रोने लगी- वह मुझे मारता भी था.

हमारी जब मुलाकात होती थी, तब वो मुझे देख के हल्का सा मुस्करा देती थी. तो मैंने तुरंत उसके कपड़े उतार दिए और साथ ही अपने भी कपड़े निकाल फेंके. मेरे जोर जोर के धक्कों से उसका पेशाब निकलने लगा और उसी टाईम मेरा लंड भी पानी निकालने वाला था.

वो मेरा सब माल पी गयी और कहने लगी- इतनी जल्दी कोई झड़ता है क्या?मैंने कहा- अब इतनी हॉट माल सामने हो तो उसके सम्मान में तो कोई भी झड़ जाएगा. मैंने प्रमिला को एकता के सामने बैठने का इशारा किया, जिसे प्रमिला ने समझ लिया. इंदु ने भी अपनी चुत और गांड को उसी कपड़े से साफ किया और अपना पेटीकोट साड़ी भी ठीक करके मुझे जोरदार चुम्बन दिया और बोली- अभी कितने दिन रहना है.

बीएफ फिल्म बीएफ बीएफ फिल्म बीएफ बीएफ

मुझे तो उसे चोदने का मन था, तो मैंने जानबूझ कर बाथरूम का डोर लॉक नहीं किया क्योंकि मैं जानता था कि उसकी चूत गीली है और जो भी करना है वो आज ही करना होगा. मैं अपने कपड़े लेने के लिए जैसे ही बेडरूम में पहुँचा, मैं बिना किसी आवाज़ के अंदर घुस गया. बस 5-7 मिनट उसकी गांड मारने के बाद मैंने लंड उसकी चूत में घुसा दिया और 20 मिनट तक उसको चोदता रहा.

क्यों ज्यादातर मर्द मुझे इस तरह के कपड़े उपहार में देते हैं और क्यों इन परिधानों में मुझे देखना चाहते हैं.

उसके बाद मैंने बाइक को घर से कुछ दूरी पर रोक लिया और ताक-झांक करने की कोशिश करने लगा.

कुछ ही देर बाद मेरा रस निकलने वाला था, तो मैंने उसके मुँह से लंड निकाल कर उसके मम्मों पर पूरा माल निकाल दिया. मैं थोड़ा घबराया और सोचने लगा कि अब इसको क्या हुआ? इसको चुप कैसे कराऊँ?मैं उसको चुप करवाने की कोशिश करने लगा और मेरे दोनों हाथ उसके चेहरे पर चले गए. टी शर्ट लेडीजहम दोनों एक दूसरे से चिपके हुए किस कर रहे थे, तभी होटल का वेटर दरवाजा खटखटाने लगा.

हम दोनों ने सेक्स करते हुए अपनी पोजीशन को बदल दिया और अब मैं अपने बॉयफ्रेंड के ऊपर आ गयी. उधर से सारा की आवाज़ आयी- हिम्मत ना करना उसके अन्दर निकालने की, अपना लंड निकालो और मेरी चूत में डाल दो और मुझे चोदो और बस चोदते जाओ और अपना सारा पानी मेरी चूत में डाल दो. मैंने उसे जल्दी से पहन लिया और खुद को आईने में देखा तो मैं खुद ही दंग रह गयी.

भाभी की टांगें मनोहर के कंधे पर थीं और मनोहर भाभी के चूचों को दबाते हुए उनकी चूत की चटनी बना रहा था. उसने मेरे लंड को अपने हाथ में ले लिया और एक बार सहला कर फिर मेरे लंड को अपने मुंह में डाल लिया.

जल्दी ही मेरा वीर्य छूटने वाला था, लेकिन मैं अभी आंटी की चूत को कुछ और देर चोदने के मजे लेना चाहता था.

एक दो बार असफल रहने के बाद लंड ने अपना रास्ता खोज लिया और टोपा गांड की रिंग के अन्दर चला गया. उसने खुद को ढीला छोड़ दिया और अपने मम्मों को मसलवाने का मजा लेने लगी. मेरा लंड फटने वाला था, मैंने कहा- तुम जवान हो और क्या तुमने भाई बहन के सेक्स की कहानियां नहीं पढ़ीं हैं?बोली- हां मगर!मैं कहा- बस कुछ नहीं बोलो … मैं तुमको बहुत पसंद करता हूँ.

सनी लियोन एक्स एक्स एक्स हिंदी इन सब सेक्सी बातों से माहौल गर्म होने लगा और दूसरी बियर आधी खत्म होते तक तो दोनों पूरे रंग में आ गईं और एक दूसरे का गाउन खींच खींच कर उतार दिया. मुझे कल्पना ने जिस बिल्डिंग का नाम बताया था, वो 21 मंजिल की एकदम शानदार बिल्डिंग थी.

मैं दोनों हाथों से उसके चूतड़ दबा रहा था और कभी कभी उसके चूतड़ों पे थपकी भी मार देता था. उसकी तेज आवाज निकली, लेकिन मैंने अनसुना करके एक बार फिर प्रयास किया. उन्होंने आगे बताया कि शादी के बाद से मैं बस 8-9 बार ही चुदी हूँ और भैया का लंड भी छोटा सा होने के कारण पूरी तरह से संतुष्ट नहीं हो पाती हूँ, इसीलिए आज मैंने तबीयत खराब होने का बहाना बनाया था.

बीएफ पिक्चर बीएफटी

वो मेरे को निहार रहा था क्योंकि मेरी सलवार का नाड़ा ढीला था और नाड़ा बाहर भी लटक रहा था. कब हम दोनों की जुबानें एक दूसरे को चूसने लगीं, इस बात का अहसास तक नहीं हुआ. लिहाजा आंखों के इशारे से परमिशन लेकर प्रशांत ने नीना को गोद में उठाकर सीधे चुदाई के बेड पर पटक दिया.

मैं हल्के हल्के बुआ की मोटी चूत को सहलाने लगा, वो भी मेरा लंड पकड़ कर मसल रही थी, उन्हें भी खूब मज़ा आ रहा था. बस पापा ने थप्पड़ मारने को हाथ आगे किया, तो किशोर गुस्सा होकर बोला- ऐसे ही मैं यहाँ नहीं आया … तुम्हारी बेटी को मेरा लंड पसन्द है बुड्डे … तेरी बेटी की तो मुझे शक्ल तक पसंद नहीं है, वो खुद ही मेरे पीछे पड़ी है लहसुन खाकर … हट जा बुड्डे … नहीं तो आज समझ लेना.

जैसे लड़की मूवी में अपने बॉयफ्रेंड का लंड चूस रही थी, वैसे मैं भी उस जवान लड़के का लंड चूस रही थी.

मेरे घर वालों ने बोला कि अपनी सहेली से मिलना है तो उसको अपने घर बुला लो. उसने बाद में मुझे अपने मोबाइल में करीब दस अलग अलग लंड की तस्वीरे दिखाईं, जो अब तक उसे चोद चुके थे. राहुल फाड़ दो मेरी जालिम चूत को आहह्ह्ह् … चोदो … पूरी तरह निचोड़ कर पानी निकाल दो.

पिछले 20 मिनट में तीन बार मिस कॉल कर चुकी है, बस उसको उसके ऑफिस से लेकर सीधे घर और अगले ढाई दिन साला कच्छी तक पहनने नहीं दूंगा उसको. उसने ऋतु के बाल पकड़ कर उसके मुँह को अपनी लंड की तरफ घुमा दिया और बोला- चल रांड लंड चूस … आज तुझे ज़न्नत का मज़ा दिलाता हूँ … रंडी साली … बहुत गांड मटका मटका कर चलती है … भैन की लौड़ी … आज तेरी गांड की सील तोडूंगा. दो मिनट बाद रिशु ने मिशिका की चूत पर लंड को रखा और एक धक्का दे दिया.

तभी वाणी भी आ गयी और बोली- अरे इतनी देर से आये क्या … अभी तक काफ़ी भी नहीं पी?हम दोनों मुस्करा दिये और बोले- समय नहीं मिला बनाने का.

बड़े लंड वाली बीएफ सेक्सी: यह पढ़ कर मुझे बड़ा गुस्सा आया, मैंने भी रिप्लाई किया- एक बार मेरे लंड के सामने गांड आ गयी ना … फिर चाहे तुम्हारी हो या किसी की भी … थप्पड़ मार मार के लाल कर दूंगा, फिर जाके गांड सैंकोगी अपनी. मैं बुरी तरह से उत्तेजित और कामुकता से भर गई थी, अब मुझसे बर्दाश्त करना असंभव हो रहा था.

भाभी जी भी अपनी नाइटी के ऊपर से ही मेरे लंड पर अपनी चूत को रगड़ने लगीं, मानो वे आग्रह कर रही हों कि अब लंड घुसा दो. अन्दर जाकर ठीक से अपना मुँह और पेट कमर चूत पीछे गांड सब जगह पानी डाल कर अच्छे से धोई. मुझे भी उसकी बात सही लगी, वैसे भी इतनी मेहनत करने के बाद मुझे दूसरे दौर के लिए ताकत की जरूरत थी.

मैंने तेजी के साथ उसके मुंह को चोदना शुरू किया और कुछ ही धक्कों के बाद मैं उसके मुंह में ही झड़ने लगा.

तो मेरे मुँह से बेइख़्तियार सिसकारी निकल गई- उम्म्ह… अहह… हय… याह… सीईईईई आह …क्या बताऊं दोस्तो आपको … साली पूरी खिलाड़िन थी. इस बार चुदाई का खेल लम्बा चला और आंटी ने अपनी चूत की खुजली मिटवा कर ही छोड़ा. वो कभी कभी लंड निकाल कर मेरी चूत को चाटने लगता था और उसके बाद जल्दी से अपना लंड मेरी चूत में डाल कर मेरी चूत को चोदने लगता था.