हीनदी बीएफ बडीओ

छवि स्रोत,हिंदी सेक्सी वीडियो ब्लू फिल्म बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी मुसलमानी: हीनदी बीएफ बडीओ, वैसे उसके घर वाले मॉडर्न ख़यालात वाले थे और वो काम्या के कहीं भी आने जाने पर कोई रोक नहीं लगाते थे.

एक्स एक्स एक्स बीएफ सेक्सी हॉट

सुबह उठ कर सबसे पहले मैंने एमडी को फोन लगाया और कहा कि सर मैं आज रिज़ाइन भेज दूँगी क्योंकि मैं नहीं चाहती कि मैं ऑफिस में बदनाम हो जाऊं. मराठी सेक्सी पिक्चर बीएफफिर धीरे से अपने लंड को उसकी चुत पे रख कर उसके बालों को सहलाने लगा.

अंजलि गर्म होने लगी; अब अंजलि अपने पैरों के बल नीचे बैठ गयी और मैं खड़ा रहा. सेक्सी बीएफ सनी लियोन बीएफइसलिए वो वाचमैन कभी कभी फ्रिज का ठंडा पानी लेने के लिए मेरे घर आ जाता था और मुझे पानी लेने तक मुझे वासना भरी निगाहों से घूरता रहता था.

मेरे पति बस हर समय काम में बिजी रहते थे, लेकिन जब चुदाई करते तो बहुत मस्त चोदते थे.हीनदी बीएफ बडीओ: उसने कुछ हमदर्दी दिखाते हुए कहा- मुझे पूरी हमदर्दी है तुम्हारे साथ.

फिर कुछ देर बाद मैं एकदम से तेज हो गया और उनकी योनि के अन्दर ही अपना पूरा रस छोड़ दिया.अब मेरा फनफनाता लंड पूरी तरह से आजाद होकर हवा में लहराया और फिर उसने एक हाई जम्प लगा कर बहूरानी को जैसे सलाम ठोका, बहूरानी ने भी इस अभिवादन को स्वीकार करते हुए इसे प्यार से अपनी चूत पर टच किया और फिर पकड़ कर इसकी फोर-स्किन को पीछे करके टोपा को दबाने मसलने लगी, फिरलंड को जड़ के पास से पकड़ कर दबाया सहलाया साथ में अण्डों को भी दुलारा.

भाभी देवर की चुदाई सेक्सी बीएफ - हीनदी बीएफ बडीओ

मुझे और जोश चढ़ा और मैं उसकी पूरी बुर को एक तरह से खाने लगा और पागलों की तरह उसकी बुर की सारी गंदगी को भी चाट गया.चूंकि घर में कोई नहीं था और म्यूजिक भी चल रहा था तो वो कुछ ज़्यादा ही खुल कर आवाज़ें निकाल रही थी.

उसने मुस्कुरा कर दोबारा बोला- क्या देख रहे हो चलोगे न मेरे रूम?मैंने धीमी आवाज में हां बोला. हीनदी बीएफ बडीओ बहूरानी अपने भाई की शादी में जा रही थी तो उसके हाथ पैरों में रची मेहँदी, आलता नाखून पोलिश और ऊपर से गोरे गोरे गुलाबी पैरों में सोने की पायल… मेरा एक एक शॉट लाजवाब निकला.

अर्पिता ने चुटकी बजा कर मुझे जगाया और बोली- ये सब तुम्हारे लिए है! आओ इन्हें चूसो, दबाओ, मसल दो… इस बार कपड़ो के ऊपर से नहीं सीधे मसल दो।मैंने कहा- मुझे सरप्राइज बहुत पसंद आया!अर्पिता- हँ… ये सरप्राइज नहीं है! ये तो हमेशा तुम्हें ऐसे ही मिलेंगे.

हीनदी बीएफ बडीओ?

दरअसल ये मेरे लिए एक गाली न होकर मेरी योग्यता को दर्शाने के लिए लिखा है. उस दिन मैंने जानबूझ कर ढीले कपड़े पहने हुए थे, जिसमें से उसको मैं मम्मों की दूधिया घाटी और अपनी चड्डी की झलक भी दिखा सकूँ. मॉम ने पैर टेबल पर रख कर अपने मुँह से थोड़ा सा थूक निकाल कर अपनी चुत पे लगाया.

मेरे में क्लिट वाली लुल्ली नहीं है न इसलिए!अरे ऐसी बात नहीं है, एक और चीज़ से जो क्लिट से भी ज्यादा मजे देती है, उसे जी स्पॉट कहते हैं. तो रेहाना मसाज रूम में आ गई और हम दोनों को नंगा देख कर वो बोली- दीदी, आप वीशु जी से अपनी चुदाई करवा रही हो?तो पायल बोली- नहीं, अभी फ़िलहाल लंड चूस कर बीज पीयूँगी क्योंकि इनका बीज बहुत स्वादिष्ट है. मैं नीचे अपनी चुत में आशीष का लंड लिए उसके आगे हाथ जोड़ कर गिड़गिड़ाने लगी.

कुछ देर बाद चाची ने मुझे उठाया और चाय देकर बोलीं- मैं मार्किट से तुम्हारी दवाई ले आई हूँ. तो मैंने भी देर न करते हुए भाभी की एक टाँग को उठा लिया और चुत के छेद पर अपना लंड टिकाया।भाभी की चुत से इतना पानी आ रहा था कि तेल की कोई जरूरत ही नहीं पड़ी और पहले ही धक्के में 3 इंच अंदर घुस गया और भाभी को हल्का सा दर्द होने लगा. मैंने उसको अन्दर बुला लिया था क्योंकि पूरा दिन शॉपिंग की वजह से हम दोनों काफी थक गए थे.

देखने में तो वो सामान्य महिला जैसी है लेकिन उनकी आवाज़ बहुत ही मादक है जिसे सुन कर ही लंड खड़ा हो जाता है। उनके घर में भाभी के अलावा उनके बूढ़े पापा जी ही थे. लेकिन अभी भी डर ये था कि कहीं ये गुस्सा न हो जाए, इसलिए मैंने होंठों पे किस नहीं किया.

सर झड़ जाने के बाद मेरे ऊपर ही ढेर हो गए और मैंने भी उनको अपनी बांहों में समेट लिया.

ब्लाउज के सारे बटन खुलने के बाद उसकी चुचियां एक नाम मात्र की ब्रा में क़ैद थीं और उस ब्रा में वो कयामत ढा रही थी.

मैंने रोशनी को रोज 10 बजे से 12 बजे तक उसके घर अंग्रेज़ी पढ़ाना शुरू कर दिया. दो मिनट बाद जब वो मेरे गले पर गई तो मानो मुझे लगा कि मैं झड़ ही गया लेकिन नहीं… वो एक खूबसूरत अहसास था, जो मुझे मिल रहा था. मैंने उनसे कहा- वाह चाची आपकी चूत तो एकदम टाइट है, चाचा कुछ करते नहीं है क्या?उन्होंने कहा- अब कहां उनको टाइम मिलता है, दिन में वो ड्यूटी करते हैं और रात में आकर सो जाते हैं.

फिर जब रुचिका को उसके बॉयफ्रेंड ने शादी के लिए बोला तो पता नहीं क्यों रुचिका ने उसे मना कर दिया. उसने चूत फैला दी और मैंने लंड चूत पर सैट करके हल्का सा धक्का मारा, वो तिलमिला उठी, वो बोली- प्लीज़ जानू, बहुत दर्द हो रहा है छोड़ दो मुझे. वो घबराते और शर्माते हुए बोलती है कि डॉक्टर किसी को पता तो नहीं चलेगा.

पर अब मुझे मजा कम और दर्द ज्यादा हो रहा था और उनसे छोड़ने के लिए बोल रही थी.

इसी बीच मैंने मोबाइल पर ही पूछ लिया- क्या मोबाइल मोबाइल ही खेलते रहना होगा. वो- काफी टाइम लेते हो नहाने में?मैं- मैं सारे काम एन्जॉय करते हुए करता हूँ. जिसे सुन कर मेरा लंड अन्डरवियर के अन्दर ही कुतुबमीनार बना जा रहा था.

लगता है अंकल से ये सब कहना ही पड़ेगा कि उनका घर एक रंडीखाना बन चुका है. फिर उन्होंने मुझसे बात करना शुरू कर दी और पूछने लगीं कि कौन से कॉलेज में हो. पहले मैं भी हॉस्टल में रहता था, इसलिए मेरी उनसे ज्यादा बात नहीं होती थी.

उनके जाने के बाद अब मेरे पास दिव्या को चोदने के अलावा और कोई रास्ता नहीं बचा था.

मैंने लंड घुसेड़ा तो भाभी एकदम से चिहुंक उठीं लेकिन उनकी चुत मेरे लंड की सहेली थी तो अपने यार को उनकी चुत ने जज्ब कर लिया और भाभी मेरा साथ देने लगीं. उसके मुँह से जमीन पर चुदाई की बात सुनकर मुझे लगा कि इधर इसने हल्ला किया तो माँ जाग सकती हैं.

हीनदी बीएफ बडीओ क्या और आगे कुछ करने की परमीशन है?पहले तो मैं कुछ नहीं बोली तो वो और आगे बढ़ गया. मैंने चिंटू का लंड देखा, वो पूरा खड़ा था, मेरे लंड जितना ही लंबा लग रहा था करीब पांच इंच का… लंड देख कर मेरे मन में आया भी कि एक बार इसे अपनी गांड में डलवा कर देख लूं, लेकिन मेरे मन से दर्द का डर नहीं निकला.

हीनदी बीएफ बडीओ मैंने उससे कहा- कंचन, हमने अभी अभी जो कुछ भी किया, ये बात किसी को भी मत बताना. कुछ ही क्षणों के बाद मैं प्रिया के होंठ चूम रहा था और प्रिया मेरे!अचानक प्रिया ने मेरे मुंह में अपनी जुबान धकेल दी और मैं आतुरता से प्रिया की जुबान चूसने लगा, अपनी जीभ से प्रिया की जीभ चाटी, प्रिया के उरोज़ मेरी छाती में धंसे जा रहे थे और मैं दोनों हाथों से प्रिया को आलिंगन में ले कर अपनी ओर खींचे जा रहा था.

मैं कौन सा और इंतज़ार करने के मूड में था, फ़ौरन ही अलका की टाँगें फैलायीं, एक कुशन उसके चूतड़ों के नीचे टिकाया और लौड़ा पकड़ के चूत के मुहाने पर सुपारी लगा दी.

सेक्सी वीडियो मोटे लंड वाला

जब मुझे कुछ करने का मन होता था, तब मैं कभी कभार हस्त-मैथुन कर लेता था. पूरा रूम में उनकी मादक कराहों और सीत्कारों से गूँज उठा- आह… फक्कक… मी… आह… बहुत मजा आ रहा है… आह…उनकी आवाजें आ रही थीं. अगर मेरा सुझाव तुम्हें पसंद आए तो अपना नम्बर मुझे मैसेज कर देना या फिर बात कर लेना.

आंटी इतनी बार चुदी होने के बाद भी जोर से चिल्लाईं- उई ममाँ मर गई रे. बहुत सा प्यार भी चाहिए इसलिए मैं उन्हें पूरा खुश करने की कोशिश कर रहा था. भैया ने कहा- नहीं यार, तुम मत जाओ, रिया तुम्हें नंगी होने की ज़रूरत नहीं है, तुम खाली अपनी पेंटी उतार लो और साड़ी ऊपर कर लो, बाकी मैं कर लूंगा, उन्होंने ऐसा ही किया.

उसने लंड निशाने पर रख कर एक झटका दे मारा और आधा लंड मेरी बुर में चला गया.

स्मिता अब जोर जोर से रो रही थी और बोल रही थी- मुझमें ऐसी क्या कमी है राहुल कि पंकज मेरे साथ ऐसा कर रहा है?मैंने मन में सोचा कि राहुल बेटा मौका अच्छा है. सुहागरात को रात 11 बजे जब मैं अपने रूम में पहुँचा तो वो बेड पर मेरा इन्तजार कर रही थी. अपनी अंडरवियर उतार फेंक कर जीजा पूरे नंगे हो गए, उनके लन्ड के पास बहुत सारे बाल थे, नंगे होकर जीजा मेरे बिस्तर पर चढ़ आए, मेरा सीना जोर जोर से धक धक करने लगा, मेरी सांसें बहुत तेज़ हो गई अब मुझे बहुत घबराहट होने लगी.

मैंने अर्जुन के बाजू पर अपना सिर रखा और एक हाथ अर्जुन के कमर पर! अब मुझसे और बर्दाश्त नहीं हो रहा था तो मैंने धीरे धीरे अर्जुन की टी शर्ट में अपना हाथ डालना शुरू किया और सेक्सी बॉडी को छूकर मेरे अंदर करेंट दौड़ गया जिससे मेरे लंड ने फुंकारें मारना शुरू कर दिया. उसके निप्पल कड़े होते जा रहे थे, जो एक अंगूर के दाने की तरह कड़े हो गए. नीचे से चूत को हवा का लगना तो कभी कूद कूद कर चूचियों को उछालना अच्छा लगता है.

कुछ मिनट धीरे धीरे गांड की चुदाई से मेरा दर्द कम होने लगा और अब मैं भी उसका साथ देने लगी. कुछ देर बाद वह चली गई और जाते हुए उसके चेहरे पर एक हल्की सी मुस्कराहट थी.

तुम्हारे सामने ही चुदाई शुरू हुई थी, उस साले ने पूरी रात पाँच बार मेरी चुत का हलवा बनाया है. लेकिन ये भी था कि वो पूरी तरह से गरम हो चुकी थी और ये सही टाइम था लंड अन्दर डालने का. मैंने उसकी चूत के छेद पर लंड रख कर धक्का दिया तो लंड का टोपा अन्दर चला गया.

अर्पिता- फिर?धीरे धीरे उसका हाथ अपने हाथों में लिया और कार चलते हुए ही हाथ पर किस किया.

मैं एक हाथ से उसकी चुत मसल रहा था और दूसरे हाथ से उसकी शर्ट के बटन खोल दिए. माँ की सुबकियों ने मुझे ये समझने पर मजबूर कर दिया कि पापा माँ की आग को नहीं बुझा पाते हैं, वे अपनी वासना शांत करके हट जाते हैं. और मेरी कामुक बीवी ने कैंडल लाइट जला दी, कमरे का लाइट बंद कर दी; कमरे में अब रोशनी कम हो गई थी.

तभी समधन जी ने अपना एक हाथ मेरे ब्लाऊज पे रख दिया और मेरे ब्लाऊज के हूक को खोलने लगी।मैं कुछ समझ पाती, इससे पहले उन्होंने मेरे बूब्स को नंगा कर दिया, एकदम से मेरे ऊपर आ गयी और अपने होंठों को मेरे होंठों से जोड़ दिया. चाची ने मुझे उनके मम्मों को देखते हुए कई बार नोटिस किया, उनके लबों पर हल्की सी मुस्कान थी लेकिन कुछ नहीं बोली, बस अपना दुपट्टा ठीक कर लिया.

फिर बाद में मैंने ललिता के घर जा के भी बहन को चोदा और इस तरह मेरा शारीरिक संबंध ललिता के साथ बन गया. रोशनी चेयर पे नीचे मुँह करके बैठी रही और उसके चेहरे से पसीना आने लगा. जैसे ही मैं बाजार में मां के पीछे पहुंचा… तो मैंने देखा कि रमेश अंकल अपनी कार लेकर खड़े थे.

वीडियो सेक्सी जंगल

चूंकि उस वक्त घर में कोई नहीं था मुझे लगा कि मौका अच्छा है, मैं उसकी गांड मारने की सोचने लगा.

वो बहुत रो रही थी, मैंने उसके होंठों पर होंठ रखे और एक और धक्का मार दिया. अब उस लड़के ने अपनी पेंट की ज़िप खोल कर पेंट को घुटनों तक उतार दिया, तो उसका 4-5 इंच लम्बा और 1. मैंने काफ़ी टाइम से तो सोचा भी था कि मैं भी अपना एक्सपीरियेन्स आप सभी के साथ शेयर करूँ.

जब मैं खड़ा हुआ तो मेरा लंड पूरा खड़ा हुआ था और चाची मेरे खड़े लंड की तरफ़ देख कर थोड़ी हैरान सी हो गईं. दोस्तो, मेरी इस हिंदी सेक्स स्टोरी में मजा आ रहा हो तो मुझे ईमेल जरूर कीजिएगा. ब्लू बीएफ फिल्म दिखाएंरोशनी, चूत को पढ़ना बहुत कठिन काम है, पर तुम और पिंकी आसानी से सीख जाओगी.

अगले दिन सुबह जब हम छत पर मिले तब इस बार उन्होंने मुझे देखकर स्माइल दी. भाभी की गांड दीवार से सटी हुई थी और नीचे टाँगें लेफ्ट राइट मुड़ कर खड़ी हुई थीं.

उसके चहरे पे गुस्सा साफ झलक रहा था और गुस्सा क्यों ना हो, मैंने काम ही ऐसा जो किया था. तभी शैलेश नाम के एक लड़के ने मुझे उल्टा पटक दिया और मेरे पैरों को मोड़ कर मेरे पेट से जोड़ दिया. उसकी रसीली खुशबूदार चूत के बारे में तो पूछो ही मत… उसके बारे में कहानी में आगे आगे बताता जाऊंगा.

20 या 25 धक्के मारने के बाद मैं और पारुल दोनों एक साथ झड़ गये, मैंने अपना पूरा माल पारुल की चूत में ही झाड़ दिया. विवेक कामिनी के नीचे दबा हुआ धीरे धीरे अपने चूतड़ हिला कर चुदाई कर रहा था, कामिनी को शायद मजा नहीं आ रहा था हलके हलके झटकों से, वो बोली- हो गया तुम्हारा चलो!विवेक बोला- अरे मैडम, अभी तो बैटिंग शुरू नहीं की… और हो गया? मैं तो थोड़ा क्रीज पे पैर जमा रहा था. मैंने भी देर ना करते हुए उसे सीढ़ियों पे लेटा दिया और उसके एक चूचे को मुँह में लेकर एक छोटे बच्चे की तरह चूसने लगा.

रोशनी इंग्लिश बोलने के साथ साथ बॉडी लैंग्वेज भी बहुत जरूरी होता है.

मुझे पास आया देख नताशा मुस्कुरा दी और बोली- मेरा पति हर मुश्किल को आसान कर देगा!मैं जवाब में सिर्फ मुस्कुरा दिया और नीचे झुक कर दोनों लड़कों के लंड पकड़ कर दूसरे हाथ से उनके टोपों को आपस में भींचते हुए जोड़ दिया. मैं अपने हाथ दीदी के नीचे ले ही जा रहा था कि अचानक दीदी ने मेरे हाथों को पकड़ लिया.

मैंने कहा- रुको, मैं कंडोम पहन लेता हूँ, उसके बाद फिर से करूँगा… जिससे मुझे और तुम्हें भी कोई चिंता नहीं रहेगी. मैंने पूछा- क्या हुआ, मूड खराब है?वो बोली- नहीं, ऐसी कोई बात नहीं है. मैंने अर्जुन के बाजू पर अपना सिर रखा और एक हाथ अर्जुन के कमर पर! अब मुझसे और बर्दाश्त नहीं हो रहा था तो मैंने धीरे धीरे अर्जुन की टी शर्ट में अपना हाथ डालना शुरू किया और सेक्सी बॉडी को छूकर मेरे अंदर करेंट दौड़ गया जिससे मेरे लंड ने फुंकारें मारना शुरू कर दिया.

फिर मैंने अपने लंड पर भी तेल लगाया और उसकी बुर में लंड को डालने लगा. तभी वह मेरे पास आई और बोली- मुझे गणित के कुछ सवाल समझ नहीं आ रहे हैं. तो बॉस ने बुला कर कहा- मैडम क्या बात है आपका काम में दिल नहीं लग रहा या कोई प्राब्लम है.

हीनदी बीएफ बडीओ विनय- क्या मुझे भी तुम्हरी गांड का स्वाद मिलेगा?मैं- शायद मिल सकता है. चर्रर की आवाज़ के साथ मेरी ज़िप टूट गई और उन्होंने किसी सायको की तरह झटके से खींच कर मेरी पैंट उतार दी.

ameno सेक्सी वीडियो

तभी मैंने परीक्षित को भी, जो मुझे किस कर रहे थे, उन्हें अपने से अलग किया और उनके भी लंड को सहलाने लगी. अब मैंने लन्ड उसकी चूत पर रगड़ना शुरू कर दिया, पारुल के मुँह से उह आह की आवाज आने लगी, पारुल बोलने लगी- थोड़ा अंदर डालो… मजा आ रहा है!मैंने लन्ड को थोड़ा धक्का दिया तो लन्ड आधा चूत में चला गया. वहां उसे दीवार के सहारे खड़ा करके उसकी गांड में धीरे धीरे धक्के मारने लगा.

तभी मैंने महसूस किया कि दीदी का हाथ मेरा लिंग को हल्का हल्का दबा रहा है. अब मैंने अपना लंबा मोटा लंड अंडरवियर से निकाला और मॉम के ऊपर चढ़ गया. बीएफ टेबलेटमैं और पीयूष दोनों एक दम नंगे दोनों के बदन पर एक भी कपड़ा नहीं था, एक दूसरे से लिपट गये.

मैं काफी पहले से सेक्स के बारे में जानता था और मुठ मारना भी शुरु कर चुका था.

मैंने रफ्तार बढ़ा दी और खुद की चुत को झाड़ते हुए विनय के ऊपर लेट गई. हम तीनों लड़कियों में से एक तो मैरिड थी और हमेशा अपने बच्चे के बारे में बात करती थी.

हां जो मैंने पैसों के साथ लिफ़ाफ़े में लेटर रखा है, तुम उसे जरूर पढ़ लेना. मां की चूत ने तो लंड को लील ही लिया था अब उन्होंने अपने मुँह में भी पूरा लंड घुसा लिया और अपने दो छेदों की चुदाई करवाने लगीं. मैंने अपनी स्पीड और बढ़ा दी, उसकी सिसकारियां और चूचों में से दूध साथ साथ निकल रहा था, जिससे उसकी चुचियां एकदम दूधिया सी हो गई थीं.

मुझसे रहा न गया और मैंने उसे बेड पे लेटा दिया और उसके ऊपर आ कर उसे पागलों जैसे चूमने लगा.

मैंने झुके झुके ही अपनी गांड थोड़ा पीछे की और बोली कि चलो देखें, इस शेर में कितना दम है. मैं चाहता था कि पहला सेक्स यादगार हो, बस इसीलिए मैं इंतज़ार कर रहा था कि कब मौका मिले और मैं मौके पे चौका मारूँ. जब वार्षिक छुट्टियां हुईं तो आशीष अपने साथ अपने किसी फ्रेंड को भी ले आया.

इंग्लिश बीएफ पिक्चर देखना हैतो विवेक बोला- अब तो तुम ही हो मेरी जान!और उसने कामिनी को पलटा कर उसकी ब्रा के हुक खोल दिए, कामिनी के गोरे गोरे 36डी के मम्में आजाद होकर इधर उधर झूलने लगे. इन तीन महीनों में आप ने मुझ से कभी कोई छिछोरी हरक़त नहीं की और आज शाम को आप का आखिरी इम्तिहान था.

सेक्सी ब्लू हिंदी आवाज

कोई एक घंटे बाद मेरी ड्रिंक्स खत्म हुई तो बहूरानी ने खाना निकाल लिया और बर्थ पर अखबार बिछा कर कागज़ की डिस्पोजेबल प्लेट्स और कटोरियाँ सजा दीं. पर पता नहीं आज दिव्या की चुत मिलने के चक्कर मेरा लंड झड़ने को राजी नहीं था. ये मैं आपको रात को बताऊँगी।मैं बोला- ठीक है।मैं उस दिन यही सोचता रहा कि क्या उस बेचारी से इस काम का पैसा लेना ठीक है या नहीं। मेरी कुछ समझ में नहीं आ रहा था। ऐसे ही दिन निकल गया। रात को मधु का फोन आया। मैंने हाल-चाल पूछा।फिर वो बोली- राज, धन्यवाद मेरी बात मानने के लिए।मैं बोला- इसमें धन्यवाद की क्या जरूरत है.

इतने एक मीठी सी आवाज़ आई- एक्सक्यूज मी!मैंने सर उठा कर उसकी तरफ देखा. रात धीरे धीरे गुजर रही थी और राजधानी अपने पूरे दम से दिल्ली की ओर भाग रही थी जिसके किसी डिब्बे में भीतर ससुर बहू के नंगे जिस्म सनातन यौन सुख का रसपान करते हुए एक दूसरे में समा जाने को मचल रहे थे. वो अपन लंड हिलाते हुए आया और मां की चूत में लंड पेल कर उनकी चुदाई करने लगा.

मैं किचन से सरसों का तेल ले आया और उसकी बुर में तेल गिरा कर पूरा इलाका चिपचिपा कर दिया. कार्यक्रम हुआ, मैं एकदम मदहोश रही, सिर्फ वही दिमाग में चल रहा था कि कोई भी आकर मेरी चुदाई कर दे हर एक घंटे में… मेरी पुसी गीली हो जा रही थी, मेरी पैंटी चिपचिपाने लगी पर कोई मौका नहीं मिला. मेरी बहन अंजलि ने अपने दोनों हाथ मेरी कमर पर रख लिए और चुम्बन में मेरा सहयोग करने लगी.

उसकी चूची ऐसी थी जैसी स्पंजी रसगुल्ला… मैं उसका निप्पल चूस रहा था और वो आनन्द से जोर जोर से तड़फ़ रही थी. मेरा घर गाजियाबाद में है, जो मेरे कालेज या यूं कहिए मेरे रंगमहल से लगभग 110 किमी दूर है.

इसके बाद क्या हुआ वो मैं आपको अपनी अगली चुदाई की कहानी में लिखूंगा.

हुआ यूं कि मैं दिन स्टडी करता था और सारे दिन पढ़ने के बाद रात में फेसबुक पर अपना मन बहला लेता था. कर्नाटक की बीएफएक दिन उसने मुझसे कहा- मैंने तुम्हारे पापा से बदला लेने के लिए तुम्हें ज़रिया बनाया था क्योंकि मुझे लगने लगा था कि तुम्हारे पापा मेरे बेटे को नहीं पसंद करते. वीडियो बीएफ चुदाई हिंदीहम दोनों एक दूसरे की ओर मुँह करके लेट गए और जैसे ही लेटे, उसने एक हाथ मेरी टी-शर्ट में डाला और मेरे मम्मों को दबाने लगा. मैं उसे अपने बेडरूम में ले गई और ड्रॉवर से कंडोम निकाला, तो वो भी जोश में आ गया.

कुछ देर बाद रमेश अंकल का वीर्य भी निकल गया, लेकिन उनका लंड कंडोम में बंद था इसलिए अंकल का रस मां की चूत ने नहीं चख सका था.

फिर उसने मेरी गांड को मसला, जिससे मेरी सिसकारियां और तेज होने लगीं. एक रात सोने से पहले मैंने सुधा से इस बारे में पूछा तो उसने हंस कर कहा- अब उसकी शादी होने वाली है तो अपने शरीर को अपने पति का स्वागत करने के लिए तैयार कर रही है. मुझे लगा कि दीदी सो गई हैं और यही सही मौका है, अपनी भांजी दिव्या को चोदने का.

क्योंकि क्लिनिक में अक्सर नई नई चूतों की चुदाई से मेरे लंड को आंटी की चूत में घुसेड़ना ऐसा लगता है. मैंने अपने फ्रेंड को घर के अन्दर बिठाया और मैं बाहर के कमरे में आने से पहले बीवी को बोला- इसे अपनी चुत दिखाना और टी-शर्ट की चैन थोड़ी खोल कर उसे अपने मम्मों भी दिखाना. इसके बाद अगले दिन जब पंकज काम पर चला गया तो स्मिता ने मेरी तरफ अनुराग भरी नजरों से देखा.

सेक्सी भाभी देसी चुदाई

मैं अभी भी धक्के मारता जा रहा था, जब मैं भी अपनी चरम सीमा के पास आने लगा तो मैंने उसको पूछा- मेरा आने वाला है, कहाँ निकालूं?अंदर ही छोड़ दे… पूरी तरह से चुदना चाहती हूँ मैं!”मैंने मेरी स्पीड और बढ़ाई, 15-20 ज़ोर के धक्के लगाने के बाद मैंने मेरा सुपर शॉट लगाया और उसकी आँखों में फिर से आँसू आ गये. मैंने उसके बाल पकड़ कर उसके मुँह को चोदना चालू किया, जब तक मैं थक नहीं गया, तब तक उसके मुँह में लंड को पेलमपेल पेलता रहा. रानी अब मस्तानी होकर चुदाये जा रही थी और साथ में सीत्कार भी भरती जाती थी.

मैंने विनय को बांहों में ले लिया और नंगी ही उसकी बांहों में सिमट कर उसके होंठों को चूम लिया.

मैंने कहा- चाची, देखो न मेरा लंड फिर दर्द होने लगा, एक बार और इसको चूस कर शांत करो न.

वहाँ जाकर उसने मुझे गद्देदार बिस्तर पर धक्का दे दिया और मेरे ऊपर आ कर बैठ गई. परीक्षित ने मुझे बिस्तर पर लेटाकर अपने लंड को निकाल कर मेरे मुँह में डाल दिया. ब्लू फिल्म सेक्स वाली बीएफउसने वहां उतरने के बाद कॉल किया तो मैंने हाथ हिला कर इशारा किया कि मैं ही हूँ.

उसके बाद में एक हाथ से उसके चूचे को मसल रहा था और दूसरे हाथ से दूध को चूसने का मजा ले रहा था. मैं छत पे सोया हुआ था, तभी उसका कॉल आया- क्या कर रहे हो?मैं- छत पर हूँ, तुम्हें सोचने के सिवा कोई काम ही नहीं है. वो अपने भाई को देखने जा रही हैं, क्योंकि वो बीमार हैं, इसी वजह से मुझे पैसे चाहिए.

वो बोला- आशीष, दोस्ती गई भाड़ में, मैं अभी अंकल से बोलता हूँ कि यहाँ पर क्या हो रहा है. उसके मुँह से जमीन पर चुदाई की बात सुनकर मुझे लगा कि इधर इसने हल्ला किया तो माँ जाग सकती हैं.

उनके चूतड़ों की मुलायमियत ने मेरे लंड को कड़क करना शुरू कर दिया जो कि माँ की चुत से टच होने लगा था.

मैंने अन्दर आकर दरवाज़ा बंद कर दिया, फिर कुछ इधर-उधर की बात के बाद मैं उसको कंप्यूटर के बारे में कुछ कुछ बताने लगा. माँ- और फर्स्ट??मैं- माय माँ…माँ- रियली??मैं- यप, क्या कुछ ग़लत है इसमें?माँ- ग़लत नहीं है… अगर वे तुमको बिस्तर में पसंद करती हैं तो इसमें क्या गलत है. कुछ देर बाद वो भी ‘आआह…’ की आवाज के साथ मेरी चूत में झड़ गये और मेरे ऊपर ही गिर गये। हम दोनों लेट गए।फिर मैंने उठ कर अपने कपड़े पहने.

चाइना के बीएफ वीडियो वो रुकने को बोली तभी सुहानी की आवाज फिर आ गई, पूजा को जाना पड़ा, पर वो मुझे कसम देकर रोक कर बोली- प्लीज़ 5 मिनट में आती हूँ, रुक जाओ ना. थोड़ी देर बाद सैम बोला- शालू यहाँ की लहरों का मज़ा नहीं लोगी क्या?मैं- लूँगी.

वो- ओह… और…मैं- जब तुम अपने बाल सुखाती हो तो सोचता हूँ कि काश मैं तेरे पास हो कर उन पानी की हर बूँदों को महसूस करूँ जो तेरे बालों से उड़ रही हैं. फ्रेश होने, नहाने और नाश्ता करने के बाद हम तीनों ही चिंटू के काम के लिए निकल पड़े. फोन लेते हुए बोलीं- किसी ने दिल तोड़ा है क्या?मैं- आपको ऐसा क्यों लगता है?वो- गानों का कलेक्शन बता रहा है.

देसी हिंदी सेक्सी वीडियो पोर्न

मुझे उसका लंड काफ़ी सॉफ्ट सा लग रहा था। लौड़ा रगड़ते हुए उसने लंड को एक जगह पर रोक दिया. मेरी जान निकली जा रही थी लेकिन चुत में जो मज़ा मिल रहा था, वो सब दर्द उस पर कुर्बान था. मैं खड़े होकर उन दोनों को देखने लगा, वो दोनों एक दूसरे से लिपटे हुए थे, वो कामिनी की चुची सहला रहा था, कामिनी उसको किस कर रही थी, वो दोनों इसी तरह लिपटे चिपटे रहे और करीब 15 मिनट के बाद गाड़ी से उतर कर मॉल में चले गए.

उन्होंने मुझे वहीं रेत पर लिटा दिया और मुझे पैरों से मुझे चूमना शुरू कर दिया. मैं खुले शब्दों में बोलता हूँ कि अरे एक महीने तक मुझे तुम्हारे साथ वो सब करना पड़ेगा ना.

भाभी की चुदाई करते करते मेरी शादी हो गई और अब मैं अपनी बीवी के साथ अलग फ्लैट में रहने आ गया.

वो बोले- मुझे आपके साथ सुहागरात मनानी है।मैं बोली- होश में आओ जमाई जी… क्या बकवास कर रहे हो?वो बोले- सासू जी, मैं होश में ही हूँ. वो मुझे काफ़ी अजीब तरह से चैक कर रहे थे, वो कभी मेरी गांड पे हाथ लगाते तो कभी मम्मों को छूने की कोशिश करते. अंजलि बोलने लगी- जानू जल्दी से अन्दर डालो!मैंने अंजलि को फिर एक बार बोला- लन्ड मुँह में लेकर चूसो!और अंजलि टायलेट शीट पर बैठ गयी और लन्ड को मुँह में लेकर चूसने लगी.

करीब दस मिनट तक उसकी दोनों चूचियों को चूस चूस कर मैंने उसके मम्मे लाल कर दिए. उसके बाद कोई 5 मिनट तक कुसुम विक्रम के लंड पर अपनी गांड उछालती रही. मैंने उसकी एक ना सुनी और लंड फंसाए कुछ देर रुका रहा उसको चूमता और सहलाता रहा.

चाची मुझसे छूटने की कोशिश करने लगीं, मुझे धक्के देने लगीं और बोलीं- ये सब गलत है.

हीनदी बीएफ बडीओ: मैंने अपनी जीभ पारुल की चूत के दाने पर रखी तो पारुल ने मेरा सिर पकड़ कर चूत पर दबा दिया, मैं थोड़ी देर चूत को ऊपर से ही जीभ से चाटता रहा. बस आँखें बन्द करके सिसकारियाँ लेती रही। मैंने उसे खड़ा किया और साड़ी निकाल कर फेंक दी और पेटीकोट का नाड़ा खींच दिया। जिससे वो ढीला होकर नीचे पैरों में गिर गया।अब मधु के गोरे बदन पर सिर्फ काली पैन्टी रह गई। उसके बाल खुले थे और चूचियां बिल्कुल सीधी खड़ी थीं। कुल मिलाकर वो कयामत लग रही थी। मैं उसके होंठ.

मैंने तुरन्त कूपे को फिर से लॉक किया और बहूरानी को अपने आगोश में भर लिया. करीब आधे घंटे बाद जब सफाई ख़त्म हुई तो नताशा जाग चुकी थी, मैंने उसे गर्म कॉफ़ी बना कर दी. कभी कभी मयूर अपनी शादी से पहले की गर्लफ्रेंड्स को कानूनगो साहब से चुदने के लिए भेज देता था.

तो बोली- जरा डिटेल में बताओ?और बोली- चेयर में ठण्ड लग रही होगी, रजाई में आ जाओ.

उस रात में वो 9 बजे आया, तब मैं हल्के नशे की मस्ती में टीवी देख रही थी. हमने थोड़ी देर रेस्ट किया, फिर टाइम देखा तो उसने कहा- चलें क्या?मैंने कहा- यस. अब दीदी हल्की हल्की आह आह की आवाज़ के साथ अपनी उंगलियों से अपनी चुत को चोदे जा रही थीं.