बीएफ चाहिए बीएफ वीडियो बीएफ

छवि स्रोत,एक्स एक्स एक्स मूवी ब्लू फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

दिल्ली सेक्स बीपी: बीएफ चाहिए बीएफ वीडियो बीएफ, सबसे पहले वो मेरे माथे को चूमने लगे, मेरे गालों को चूमने लगे, मेरे कानों की लड़ी को अपने होंठों से चूसते तो कभी मेरी नाक को चूसते.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी इंडिया

शीला के चुचे पद्मा से बड़े और ज्यादा मुलायम थे और शीला की गांड भी पद्मा की गांड से बड़ी और सेक्सी थी. ब्लू पिक्चर हिंदी भोजपुरीमुझे आज भी याद है उसने उस वक्त जो बोला था- उफ्फ रीना … क्या हुस्न है तुम्हारा!पराये मर्द से फ़्लर्ट होना मुझे भी आनंद देने लगा था.

तब उसने मुझसे कहा- भाई, क्या मैं आज तेरे साथ तेरे रूम पर चल सकती हूँ क्योंकि कल सुबह तो तू अपने घर चला जाएगा और पता नहीं उसके बाद हम दोनों फिर कब बात कर पाएंगे. बुलुफीलीमफिर जैसे उसने समझा कि उसके हाथ कहाँ हैं उसने तुरंत हाथ हटा कर अपनी आँखों को हाथों से बंद कर लिया.

ठंड की वजह से पूरी सड़क मोहल्ले सुनसान होते थे, सो बड़ी परेशानी में थी.बीएफ चाहिए बीएफ वीडियो बीएफ: मेरा पति मेरा मुँह देख रहा था और जब उसको पता लगा कि आज किस चूत को उसने चोदना है तो वो उछल पड़ा.

आज हम दोनों सेक्स करके बहुत खुश थे और हम दोनों अभी भी सेक्स करने के मूड में थे.जब नीचे जाते हुए उसके कूल्हे (पिछवाड़ा) मटक रहे थे, तो मेरा लंड एकदम कड़क हो गया था.

ಎಕ್ಸ್ಎನ್ಎಕ್ಸ್ಎಕ್ಸ್ ವಿಡಿಯೋ - बीएफ चाहिए बीएफ वीडियो बीएफ

उस तिवारी अंकल ने तो आपको ये भी बताया होगा कि उसकी दोनों बेटियां श्रुति और काव्या कितनी बार भागी हैं, कितनी बार प्रेग्नेंट हुई हैं, कितने ही बार उस तिवारी ने खुद अपनी बेटियों के लिए लाखों रुपये खर्च कर कितने अबोर्शन करवाये हैं.फिर कमला चली गई, अभी तक मुझे दुबारा कमला की चूत नहीं मिली है, मैं भाभी से बोल बोल के थक गया, पर उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ा.

अचानक उसका जिस्म थोड़ा थर्राया और उसने मुझे जोर से भींच लिया ‘ऊऊऊऊऊ आमिर मेरी चूऊऊत गई…’ये कहकर वो निढाल हो गई. बीएफ चाहिए बीएफ वीडियो बीएफ मैंने उसके साथ अभी तक किस के अलावा और कुछ नहीं किया था, रात को जब वो सभी के सो जाने के बाद मेरी बुलाई जगह पर आई तो हम दोनों में बातें होने लगीं.

मुझे कुछ तसल्ली हुई कि आख़िर मेरा भी कोई ‘कद्रदान’ कमरे में मौजूद है.

बीएफ चाहिए बीएफ वीडियो बीएफ?

मैं कुछ नहीं बोला, फिर वो वीडियो देखने लगी और उसमें बड़ा लंड देखती ही रह गई. अब मैं मोबाइल में अन्तर्वासना सर्च कर ही रहा था और सोच रहा था कि अब एक दो कहानी पढ़कर मुठ मारूंगा. इतना सुनते ही मैं बहुत खुश हो गई और पता नहीं क्यों, पर जितना मेरे साथ हुआ, मैं सब भूल गई.

अंकित मेरे पास आया और जोर से मेरे बूब्स को दबा कर मुझे लिपटा कर बोला- यार, तू धोखा दे रही है. जैसे ही मैंने यह बोला तो उन दोनों की हिम्मत बढ़ गई और बोले- मैडम कुछ बुरा न मानना … और गाली ना दो, तो आपको कुछ बोलें. ’ बोलते हुए अपने मुँह का माल गटक गई और दोनों एक दूसरे का मुँह पर गिरा हुआ वीर्य साफ करने लगीं.

आंटी की उन मादक सिसकारियों और उनके चिल्लाने के कारण मैं भी ताव में आ गया था. मैं मामी की चूचियों को इतनी जोर से मसल रहा था कि उनकी चूचियां एक की दो हो गई थीं. पर जिस तरह से वो मेरी योनि चाट रहा था, मैं जल्द ही दोबारा झड़ने की ओर अग्रसर थी.

शादी इंदौर से थी, तो सभी लोग इंदौर जाने के लिए एक दिन पहले ही तैयार हो गए थे. गर्मी शांत करने का तरीका मैं इसलिए लिख रहा हूँ क्योंकि आज के दिन के बाद हम दोनों ने कभी एक दूसरे को कॉल नहीं किया, ना ही बात की.

मैं उससे अपनी पसंद के बारे में बता दिया करता था कि मुझे किस तरह की लड़कियाँ पसंद हैं और वह भी मुझसे कुछ इस तरह की बातें अक्सर किया करती थी.

’ करते हुए कराहती, तो मैं झट से अपनी जीभ को उसकी चूत में डाल कर पूरा घुमा देता.

उसने अपने जिम ट्रेनर को बोल कर अपनी गांड को बड़ी, गोल और सुडौल करने वाली एक्सर्साइज़ करनी शुरू कर दी थी. यूं मान लो कि छोड़ने से पहले मेरे जिस्म के एक एक अंग पर एक छाप सी छोड़ दी और एक दर्द की भी मुहर लगा दी थी कि अब इस जिस्म को ये सब नहीं मिलेगा. दोनों ने अपनी अपनी जगह बदल ली और पद्मा ने बैठे हुए लंड को साफ़ किया और चूस चूस कर उसे खड़ा करके अपने मुँह की चुदाई करवाने लगी.

आज पूरी तरह से फाड़ दो मेरी बुर को … कल अगर कोई कसर रह गई हो, तो आज पूरी कर दो. मेरे तलाक़शुदा होने की बात कुछ साथ काम करने वालों को पता चली, तो मौका पाने पे उन्होंने मुझमें दिलचस्पी लेना शुरू कर दिया. उसकी पैंटी को हाथ से सहलाया तो पता चला वह पहले से ही गीली हो चुकी थी.

मैंने उसे आते ही फोन कर दिया था कि मैं बाहर वाले कमरे में आ गया हूँ.

मैं आपसे पूछना चाहता हूँ कि क्या मेरे और नैना के बीच जो हुआ, वो ठीक हुआ या गलत, क्या रिश्ता था मेरा नैना से दोस्ती का … या सिर्फ जिस्म की भूख मिटाने का?प्लीज मुझे मेल करके अपने विचार बताएं और साथ ये भी कि आपको कहानी कैसी लगी. इतने में लाइट फिर से आ गई और वह जो नीचे लड़का चूत चाट रहा था, वह झट से बाहर निकल आया. वे मेरे सीने से लिपटी हुई सोते हुए बड़ी प्यारी और मासूम लग रही थीं, उनको देखते ही मेरा संयम टूट गया.

मेरे पेरेंट्स कहीं गए हुए थे साहिल ने कॉल किया कि तुम घर पर हो तो मैं आ जाऊं?मैंने कहा- हां आ जाओ. उसने जल्दी से मेरा शर्ट निकाल कर फेंक दिया, तो मैंने भी उसके सारे चेहरे पर किस करना चालू कर दिया. मेरे लंड को देखते ही भाभी एकदम से बोली- राज! तुम लगते तो छोटे हो परंतु तुम्हारा लंड इतना बड़ा कैसे हुआ?उन्होंने लंड को अपने हाथ में पकड़ा और बहुत देर तक उसको आगे पीछे करके देखती रही.

वो भी मेरे मस्त मम्मे देख कर मुस्कुरा देता था, लेकिन मैं उसकी भाभी थी, इसलिए शायद वो मेरे बारे में कुछ ग़लत नहीं सोचना चाहता था.

इतने में रमीज ने मेरे दूधों को चूसने के लिए मेरे दूध को पकड़कर जोर से दबाया और फिर पहले निप्पल पर अपनी जीभ चलाने लगा, जिससे मुझे थोड़ी राहत मिली और अच्छा लगा. उसके बाद मैंने दिन फिक्स करने के लिए कहा तो वह बोली- दो दिन बाद आ जाना.

बीएफ चाहिए बीएफ वीडियो बीएफ मैं अपनी कमर हिलाते हुए बोलने लगी- आह्ह आह्ह आह्ह्ह और अन्दर डालो … आह्ह्ह आह्हहह मेरे राजा … आह्ह्ह … ये पल कभी खत्म ना हो आह्ह्ह्ह. सुषी ने कहा- क्या हम फिर से मिल सकते हैं?मैंने कहा- हाँ, मिल तो सकते हैं, मगर …मगर क्या?” सुषी ने उत्सुकता भरे लहजे में पूछा.

बीएफ चाहिए बीएफ वीडियो बीएफ लेकिन मेरा अभी बाकी था … मैं चुदाई में लगा रहा और करीब दस मिनट के बाद मैंने लंड बाहर निकाला और कंडोम हटा कर लंड का माल उसके मम्मों पर मेरा माल गिरा दिया. मेरा बॉयफ्रेंड मुझे एक बार चोदने के बाद मेरी चूत को दुबारा चाटने लगा.

बस लोअर भी मैं खुद ही खोलती हूँ और वो मुझे पेल कर पानी निकाल कर सो जाता है.

ट्रिपल एक्स सेक्सी सनी लियोन

थोड़ी देर बाद दोनों ने लंड के सुपारे को भी चमड़ी से आज़ाद किया और लिंग-मुंड को जीभ से चाटने लगीं. जिनकी चुदाई करते वक्त मैं अविका को ही याद करके चुदाई का मजा लेता था. जब आकर मैंने उसको मोबाइल में डाल कर देखा तो पूरी ब्लू फिल्म निकली उसमें से जिसकी हिरोईन आरती थी और हीरो उसका पड़ोसी प्रसंग … जब मैंने यह सब देख लिया तो मेरी चूत में भी कीड़े दौड़ने लगे क्योंकि उस समय धीरज घर पर आ चुका था इसलिए मैं अगले दिन का इंतज़ार करने लगी.

मैंने उसकी गांड की दोनों तरफ से उसको पकड़ लिया और उसको ऊपर नीचे होने में उसकी मदद करने लगा. फिर मैं नीचे पीठ के बल लेट गया और सारा की चूत को अपने मुँह पर खींच लिया. मैं क्या अगर कोई बूढ़ा भी उसको देख ले तो उसका लंड भी टन्न से खड़ा हो जाये, इतनी सेक्सी लगती थी वो देखने में.

मेरी गांड मानो फट गई थी, मैं जोर से चिल्लाई कि फट गई गांड … उई मम्मी रे … आआहह हहह ईईई उम्ह साले हरामी गांड फाड़ दी.

इसके बाद मैंने 69 में होकर अपना लंड मामी को थमा दिया और मैं उनकी रसभरी चूत को चाटने लगा. वो वहां पेट में नाभि में हाथ चलाता रहा और फिर धीरे से भीड़ का फायदा उठाते हुए उसने अपना हाथ और नीचे कर दिया. मैंने कहा- आंटी, आप इस वक्त यहां पर?आंटी ने कहा- तेरे अंकल तो सो गए हैं इसलिए मैं यहाँ टाइम पास करने के लिए आ गई.

लेकिन तभी बाहर आवाज़ हुई थोड़ी … और बुआ को लगा कि रिंकी जाग गयी है. मैंने उससे बोला- मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं है, बस तू अपने घर पर पूछ ले. फिर मैं शर्म के मारे उनसे अपनी नज़र नहीं मिला पा रहा था । फिर उन्होंने मुझे एक थप्पड़ मारा और बहुत डाँटा, और मैं वहाँ से चुपचाप अपने घर पर चला आया।मैं उस दिन रातभर सो नहीं पाया.

बहुत से लड़के अच्छी बॉडी वाले थे, पर मैंने किसी पर ध्यान नहीं दिया. पीछे भी मेरे सलवार के ऊपर से ही अपनी पैंट के अन्दर की सख्त चीज को धक्के मार के रगड़ रहे थे.

इसलिए मैं भी थोड़ा मजा ले रही थी और खुद को कन्ट्रोल करते हुए कुछ नहीं बोल रही थी. मेरी पिछली कहानी थीमेरी माँ की चुदाई दो लंडों से होती देखीदोस्तो, यह मेरी दूसरी कहानी है. हम दोनों एक दूसरे से लिपट कर लुढ़क गए और कब नींद लगी कुछ होश ही नहीं था.

खाना गीता बना गयी थी तो हमने थोड़ा सा खाना खाया, फ़िर वाणी दारू की बोतल निकाल लायी और दो पैग बना कर मेरे सामने बैठ गयी.

मैंने सफाई देते हुए कहा- भाभी! वो अकेली हैं, मैं भी अकेला हूँ, बस यूँ ही मिल लेते हैं, और कुछ नहीं है. ये सब देखते हुए मैंने सुखबीर को उन्हें भगाने को कहा, तो उसने एक पत्थर मारा. मेरे अचानक से आने से वो हड़बड़ा गयी और जल्दी से नाइटी पहनकर मेरी ओर घूमकर पूछा- तुम यहाँ कैसे?मैं बोला- मेरे कपड़े रिंकी की बैग में पड़े हैं, उन्हें ही लेने आया हूँ.

मैंने उनकी गांड दबाते हुए कहा- सोच लो बुआ, फिर ना कहना कि मैंने आपकी गांड मार ली?और आँख मार दी. पुनीत मेरी गांड से बहुत जोर से चिपक गया और हांफते हांफते गांड में अपने लंड से धक्के भी मारते जा रहा था.

पहले मैंने अपना हाथ उसके हाथ में रखा, तो वो बोली- क्या कर रहे हो?मैं बोला- आपकी अंगूठी देख रहा हूँ. शायद उस दिन वह प्रशांत को सुना रही थी, अपनी नीना रानी का असली राज खुलने के बाद मुझे इस बात का एहसास हुआ. रात में मैंने बुआ से पूछा- मेरे साथ कोई नहीं सोएगा क्या?तो उन्होंने बोला- तुम जाओ, मैं किसी को भेजती हूँ, अगर कोई नहीं गया तो मैं ही आ जाऊंगी.

खुला वाली सेक्सी

उसके बाद हम दोनों तबेले की तरफ वापस आ गये और आंटी ने मेरे डिब्बे में दूध भर दिया.

मेरी बीवी की चूचियां एकदम उसकी मुट्ठी में थीं और बॉस उनको ऐसे दबा रहा था कि जैसे रबड़ की कोई गेंदें हों. अभी बना लेते हैंमैंने कहा- अब बनो मत, मैंने सब खाना वगैरह के पैकेट खोल कर गर्म कर खाना लगा दिया है. यह बात उन दिनों की है जब मेरा दोस्त पूनम को लेकर मेरे कमरे पर आता था.

आंटी के मुंह से कामुक सिसकारियों के साथ अब हल्की-हल्की दर्द भरी आवाजें भी निकल रही थीं. मुझे एक ख्याल आया, मैंने उससे पूछा- चॉकलेट है क्या तुम्हारे पास?वो बोली- नहीं है … लेकिन क्यों चाहिए तुमको?मैं बोला- चूत पे लगा कर तुम्हारी चूत चाटनी है. रडीयो xxx nudeकार में मुझे नंगी करके मेरे ऊपर दूसरे वाले ठाकुर अंकल चढ़ने की तैयारी में थे.

उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था जैसे मानो आज ही शेव किया हो, हम दोनों 69 पोजीशन में आ गए. फिर पहली बार प्रिया ने साथ दिया और अपनी नरम मुलायम बांहें मेरे गले में डाल कर मुझे सर पर किस किया.

एक अजीब सी खुशी थी जिसको मैं शायद शब्दों में नहीं कह पा रहा हूँ।उसी वक़्त कोमल का मैसेज आया- जानू, आज पहली बार किसी ने मुझे इतना प्यार किया है; आज से मैं तुम्हारी हो गई हूँ. मैंने उसके साथ अभी तक किस के अलावा और कुछ नहीं किया था, रात को जब वो सभी के सो जाने के बाद मेरी बुलाई जगह पर आई तो हम दोनों में बातें होने लगीं. मेरा पति तो उसका मुँह ही बंद कर देता है, सांस लेना भी मुश्किल हो जाता है और कई बार तो दारू पी के किस करता है, तो मुझे उलटी आने को हो जाती है.

फिर किस करने के बाद वो एक शरारती अंदाज में मेरे लंड के पास पहुंची और लंड से खेलने लगी. मैंने कहा- क्या?तो वो बोली- आपने वादा किया है कि आप कुछ नहीं बोलोगी. कॉलेज में आते आते महीने में एक दो प्रपोजल तो मिल ही जाते रहे, पर मैंने कभी भी किसी का प्रपोजल एक्सेप्ट नहीं किया.

दो पल में ही मैंने उसकी साड़ी ढीली कर दी और उसके पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया.

वैसे मैं पढ़ाई मैं ज्यादा तेज तो नहीं हूँ पर औरों के मुकाबले होशियार हूँ। मैंने उसे एग्जाम में मदद की और फिर हमारी दोस्ती गहरी होती गयी।उस साल मेरी किस्मत भी मेरे साथ थी क्योंकि इत्तेफाक से वो भी मेरे ही प्रक्टिकल ग्रुप में थी। मैं उसे मदद करने के बहाने उसे छू लेता, कभी उसके हाथ से मैं अपना हाथ टकरा देता तो कभी उसकी गांड के पास अपना लंड सेट कर देता. वहीं दोनों लोग ने मेरा चेहरा देख लिया, पर वह मेरे गांव के नहीं थे या तो बाराती थे या सोनम के रिश्तेदार रहे होंगे, जो इस शादी में आए हुए थे.

उसने तुम दोनों को एक दिन पिक्चर हाल से 7:30 बजे निकलते देखा था और निकलने के बाद तुम अलग-अलग घर पर आए हो. मैं आप सबको अपनी चुदाई की कहानी बताने जा रही हूँ और ये कहानी मेरे और मेरे पड़ोसी की है. इसी के साथ कुछ पुराने फ़िल्मी गाने भी भेजे तब भी उसका अच्छा रिस्पोंस ही रहा.

जिससे सेक्स का मज़ा और ज़्यादा आता है, फिर मैंने उसकी भीगी चूत पर अपना लिंग रखा और धीरे-धीरे अंदर करने लगा. वैसे तो मुझमें पेशेंस बहुत है लेकिन पहली मुलाकात थी उससे तो ज्यादा भरोसा करने का मन भी नहीं कर रहा था. अगले दिन मैंने बाहर जाकर पहले तो मैंने अपने फोन के लिए एक सिम ली फिर साइबर कैफे पर जाकर नौकरी के लिए अपना प्रोफाइल बनाया जो कि मेरे लिए सबसे ज्यादा जरूरी था.

बीएफ चाहिए बीएफ वीडियो बीएफ ’मैंने कल्पना के माथे और होंठों को चूमते हुए कहा- कुछ भी नहीं होगा, बस दो मिनट में दर्द चला जाएगा. उसके बाद मैं मकान के पीछे की तरफ गया और मैंने देखा वहाँ पर पीछे की तरफ एक खिड़की बनी हुई थी.

सेक्सी वीडियो बहन भाई के

मुझे उसका लंड इतना प्यारा लगता कि सारी उम्र में उसे ही चाटती रहूँ, चूसती रहूँ. शुरू के दिनों में तो मैं सारा दिन इंटरनेट पर नौकरी ढूंढता रहता था और जगह-जगह अप्लाई करता रहता था. अब मुझे लगा कि मीशा अपनी अक्षत योनि के भेदन के लिए पूर्णतया तैयार है.

बार बार चरम सुख लेना और कभी कभी जब एक से ज़्यादा मर्द एक औरत को मज़े देते हैं, तो बस मन मचल के रह जाता था. फिर वो मेरे पास बैठ कर बोली- और दिखा ना?मैं उसे और वीडियो दिखाने लगा. सेक्सी वीडियो विदेशी सेक्सी वीडियोवो इतनी पगला गई थी कि समझो उसका मुझ पर वश नहीं चला, वर्ना वो मुझे कच्चा ही खा जाती.

अमित ने पूछा- वह कैसे?मैंने कहा- आपका मजबूत शरीर और हैंडसम सा चेहरा है.

थोड़ी देर ऐसा करने के बाद एकाएक धक्का दिया, लंड का टोपा ही घुसा था और कल्पना ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ चिल्लाने लगीं. उसने भी मेरा साथ दिया और वो अपना हाथ मेरे हाथ के ऊपर रखके जोर जोर से अपने दूध दबवाने लगी.

क्योंकि बाहर आकर पता लगा कि रात में ठंड बढ़ चुकी थी और ऑटोवाले भी उसको लालच भरी नज़रों से देख रहे थे. मैं उसे देखकर सहम गई क्योंकि वह बहुत ही दिखने में हृष्ट पुष्ट था, जैसे पहलवान होते हैं. हम दोनों एक दूसरे का भरपूर साथ दे रहे थे और सेक्स का मजा ले रहे थे.

काम वासना की जितनी आग निहारिका के अंदर मैंने देखी है उसके लिए तो उसको एक रति-क्रिया में माहिर मर्द चाहिए जो उसकी योनि की अग्नि में अपने वीर्य की बरसात कर सके.

उसने ओके बोला और मुझसे चिपक गयी और बोली- तुम मेरे बूब से खेलो, बस मेरी आह मत निकलने देना. कुछ दिनों में हम दोनों की आँखों ने एक दूसरे की चाहत को समझ लिया था. थोड़ी देर बाद शिल्पा उस शोरूम से निकली और सीधे मेरी गाड़ी में आकर बैठ गई.

बफ ब्लू फिल्म वीडियोवो बेचारी अपने आवेग को नहीं रोक सकती, आप तो समझदार होके भी पीटते हैं, आपको पाप लगेगा. बॉस के इशारे पर उस औरत ने मेरी बीवी के ब्लाउज के हुक खोलने शुरू कर दिए मेरी बीवी की चूचियां एकदम खड़ी थीं और ब्लाउज के खुलते ही अन्दर से उसकी पिंक ब्रा दिखाई देने लगी.

भारतीय सेक्सी सेक्स वीडियो

मैंने वैसे हाथ उसके चूचियों पर रखा तो मुझे झटका सा लगा और मुँह से निकला- वाह … क्या चूचियाँ हैं।अब तक तो मैंने ग़लत निगाह से रेखा को देखा नहीं था लेकिन अब मुझे कंट्रोल नहीं हो रहा था। मैं आहिस्ता-आहिस्ता चूचियों पर हाथ फेरने लगा। मुझे नहीं पता था कि रेखा भी जाग रही है या नहीं … पर उसने करवट बदलकर मेरी तरफ पीठ कर ली और थोड़ी पीछे को आ गई।मेरा हाथ वैसे ही उसके ऊपर था. फिर राहुल ने कहा- अमित, तुम इसके मुंह को चोदो, मैं इसकी चूत चोदता हूँ. जैसे ही मैंने दरवाजा खोला पूनम अपनी शादी के लिबास में खड़ी मुझे खा जाने वाली नज़रों से घूर रही थी.

जैसे ही पेट से कुर्ता ऊपर किया, मेरी नाभि में अपनी उंगली डाल कर बोला- वाऊ इसकी नाभि क्या सेक्सी है यार. मैंने ये अंदाज ऐसे लगाया क्योंकि उसके पास कोई एंड्राय्ड फोन नहीं था. सभी लोग जाने लगे। अब सभी लोग छत से जा चुके थे और मैं, निहारिका और उसके दो भाई-बहन छत पर थे। हम लोग वैसे ही कुछ देर तक बात करने लगे.

फिर अंकल मेरे से बोले- लंबे सफर में गाड़ी जमती नहीं और ये भाई ही तो है. मैंने फोन उठाकर हैल्लो कहा तो उधर से आवाज़ आई- रेहान …मैंने कहां- आप कौन …उसने पूछा- मैं संजीव, तुम कहां पर खड़े हो?मैंने कहा- मैं यहीं मेट्रो लाइन के नीचे ऑटो वाले के पास खड़ा हुआ हूँ।फिर फोन अपने आप कट हो गया. सरदार जी का लिंग पूरी तरह कड़क हो चला था और मैं उसे अच्छे से चूसने लगी.

कुछ क्षण के लिए हम दोनों ही एक दूसरे के साथ हुए इस संभोग का आनंद महसूस करते रहे. थोड़ी देर ऐसा करने के बाद लंड अब पूरा अन्दर बाहर होने लगा और प्रमिला को भी अब कम दर्द और ज्यादा मजा आने लगा.

उसने मेरी ब्रा को उतारकर फेंक दी और मेरे बूब्स को मुँह में लेकर चूसने लग गया.

कुछ दिनों में हम दोनों की आँखों ने एक दूसरे की चाहत को समझ लिया था. एक्स ओपन सेक्सआह्हः अह्ह्ह नहीं करो … ना ना उफ्फफ्फ्फ़ ओ … ह … ह्ह … ह्ह!कितना मुलायम-सा, मखमल-सा बदन, उसकी जांघों के बीच का त्रिभुज जिस पर मैरून पेंटी थी, उस अनमोल ख़ज़ाने को छुपा कर रख रही थी, जहाँ एक गीला सा स्पॉट ये बता रहा था कि सलोनी की चूत पानी छोड़ रही है. इंडियन नुदेउसके मोटे लंड से मुझे बहुत दर्द हो रहा था, तो उसने अपना लंड निकाल लिया. उसने बस इतना कहा और मेरे उत्तर का इन्तजार किये बिना घर में अन्दर घुस आया.

तभी मुझे पता नहीं चला कि पीछे बैठी लेडीज कब चली गईं, उधर कुछ रस्म हो रही थीं.

मैंने कहा- हां, इसमें इतना मजा आएगा कि फिर तुम कभी भी मुझसे गांड मराने के लिए मना नहीं करोगी. आआआ … आआहह … मार डालो मुझे राहुल … आपका लण्ड … ओह माई गॉड … मेरे राहुल. अब तेरी मम्मी के लिए कोई आता नहीं होगा, तो लड़की को धंधे में लगा दिया.

तभी नैना बोली- तुम्हारी ये बातें सुन के मुझे तुम पे और भी प्यार आ रहा है. इतने में मैं बहुत अलग तरीके से हांफने लगी, तो रंजना दीदी कान में बोली- सोनू, तू तो बहुत सेक्सी लड़की है. मेरी इस वक्त जरूरत थी, सो मेरी सोच किसी भी तरह से सेक्स की तरफ जा ही नहीं रही थी.

भाई भाई बहन की सेक्सी वीडियो

कल्पना- बस 5 मिनट वहीं रुको, अभी थोड़ी देर में तुम्हारे पास एक ब्लैक कलर की होंडा सेडान आकर रुकेगी, उसमें बैठ जाना. वह एक हाथ से मेरे लिंग को दबाने लगी, उसने मेरी अंडरवियर को उतार दिया अब हम दोनों बिल्कुल नंगे थे. सलोनी- कुछ मत बोलो … बस मुझे अपना बना लो!कह कर उसने अपने पैर हवा में उठा लिए, जितना वो फैला सकती थी, उतने पैर उसने फैला लिए.

जब उन्हें अच्छा लगने लगा और उनके डर पर मज़ा हावी होने लगा, तभी मैंने एकाएक दोनों उंगलियों को अन्दर घुसा दिया.

भाभी बोली- जब स्कूटर पर बैठा कर जान-बूझकर झटके मारते हो, तब तो नहीं शरमाते.

आप तो बस आज रात को 11 बजे दुल्हन की वो ड्रेस जो आपनी सुहागरात पर पहनी थी, वो पहन कर आ जाना।इसके बाद मैं भी चली गई और प्रीति उस कमरे को सजाने लगी. कुछ देर बाद मैंने फोन किया और पूछा कि वो दोनों कहां हैं तो उन्होंने बताया कि वो स्टेशन से बाहर की तरफ निकल रहे हैं. हिंदी एक्स फिल्मदीदी ने कहा- तुम शनिवार और रविवार सुबह कहां जाते हो?मैंने कहा- कहीं नहीं.

की हुई है और उसका भी इसी साल कम्पलीट हुआ है और वो भी जॉब ढूंढ रही है. लगभग 15 मिनट के बाद वह बाथरूम से बाहर निकल कर आई और मेरी नजर उस पर गई तो मैं उसे देखता ही रह गया. फिर उसने अपना एक मम्मा अपने हाथों से पकड़ कर मेरे मुँह में डाला और कहा- प्लीज़ जरा जोर से चूसो इसे.

पर मुझे उस समय उन बातों से कुछ लेना देना नहीं रहा और मैं भूल भी गई. मैं- हैलो मेम, मैं मदन के दोस्त का पापा हूँ, वो आपके घर की चाभी लाया था.

लेकिन जब मैं पहले काफ़ी बनाने आया था, तब मैंने ये पैकेट नहीं देखा था.

तो मैंने अपनी सलवार का नाड़ा खोला ही था कि अचानक किसी ने दरवाजे पर आवाज लगाई. मगर जब मैं 18 साल को पार कर गया तो मुझे बचपन की वो सारी बातें समझ में आने लगीं कि वह मुझसे क्या चाहती थी. जब उनके घर पहुँचे, तो मैं बाहर से ही बोला- अच्छा आंटी, अब मैं चलता हूँ.

प्रिया सेक्स वीडियो उसने कहा- रोक कौन रहा है?उसने पूछा- अब तक किस किस पोजीशन में चुदाई की है?मैंने कहा- बस देसी स्टाइल. उन्होंने मेरी साड़ी और पेटीकोट को उठाकर ऊपर कर दिया और मेरी पैन्टी को उतार फेंका.

फिर हम दोनों ही झड़ने को आए तो हम लोग संध्या के मुंह पर आकर झड़ने लगे. मैंने भाभी से कहा- भाभी, आपको भैया अच्छी तरह से नहीं चोदते क्या?तो भाभी कहने लगी- उनकी तो आप बात ही छोड़ो, अब हमारे अंदर यह संबंध रहा ही नहीं है, शादी के 7 साल हो चुके हैं, और कहावत है कि 7 साल के बाद आदमी का औरत से मन भर जाता है परन्तु तुम्हारे भैया का तो 3 साल में ही भर गया था, आज बहुत दिनों बाद तुम मेरी चूत की आग को शांत करोगे. रात के वक्त सास-ससुर खाना खाकर सोने चले गए और मैं तथा भाभी सब काम खत्म करके अपने बेडरूम में सोने चले गए.

सेक्सी मूवी हिंदी में राजस्थानी

शाम के करीब 7 बजे का वक्त था जब मैं अपने कमरे में अंदर था और दरवाजा बस ढाल दिया था मैंने. अब मुझे चुदना था लेकिन मुझे उसके तरह से सेक्स करने के बारे में ज्यादा कुछ नहीं मालूम था, तो मैं हमेशा उससे सेक्स के बारे में कुछ न कुछ पूछती रहती थी. प्रिया ने भी ऐसे किया और उसने मेरी जींस में से मेरी निक्कर में हाथ डाल कर मेरे नितंबों को ज़ोर ज़ोर से मसलना चालू कर दिया.

मैं ही पूरा पसीने में हो गया था, लेकिन इस काम में किस को मजा नहीं आता … सो बस चुदाई का मजा ले रहा था. उसकी बातें मुझे थोड़ी अजीब लगीं, मगर मेरे पास उसकी बातों का कोई जवाब नहीं था.

मैंने उसके बाद भाभी की पेंटी से हाथ निकाल लिया और उनके ब्लाउज को खोलना शुरू कर दिया.

किसी और की पत्नी को अपनी बांहों में इतनी उत्तेजना में देख कर मजा आ रहा था. मुझे ऐसा लग रहा था कि उसे मर्दों की छाती से कुछ ज्यादा ही प्यार था. मैंने धीरे से हाथ नीचे ले जा कर उसके ब्लाउज़ के सारे हुक खोल दिये और उसकी चुचियो को मसलते हुए उसके निप्पलों को खींचने लगा.

अब मैं उससे शादी नहीं करना चाहती, पर अम्मी के दबाव में हलाला के लिए राजी हो गयी हूँ. कई चक्कर लगाने के बाद भी जब काम ना मिला, तो एक दिन मैं उदास हो कर यूं ही फरीदाबाद स्टेशन के पास बैठा था. अब मेरे होंठों की लंबी चटाई के बाद निक ने अपना मुँह हटाया और मेरे कपड़े उतारने लगा.

लेकिन उसकी गांड काफी टाइट थी तो इतनी आसानी से अबकी बार लंड नहीं जा पा रहा था.

बीएफ चाहिए बीएफ वीडियो बीएफ: तीन बार चूत चुदाने के बाद मैंने उससे कहा- एक बार और चुदाई करते हैं. यार मैंने जब उन्हें देखा तो माशाअल्लाह क्या बताऊँ … वो तो बला की खूबसूरत थी.

मैं उसको वैसे ही देखते हुए खड़ा हुआ था कि उसकी आवाज ने मुझे ख़्यालों से बाहर निकाला। जब मैंने उनको अपना परिचय करवाया तो उन्होंने मुझे अंदर बुलाया।जब मैंने उनसे पूछा तो उन्होंने बताया कि उनके हस्बेंड बाहर देश में जॉब करते हैं और वो अपने बेटे के साथ अकेली ही रहती हैं। उनका नाम संजना था। उनका घर वैसे तो बहुत ही ज्यादा बड़ा था और घर में ऐसी किसी चीज की कोई कमी मुझे कहीं पर भी नजर नहीं आ रही थी. मैंने उनसे पूछा- आपके हब्बी तो आपको टाइम देते है न?तो वो एक लम्बी साँस लेकर बोलीं- बस टाइम ही तो नहीं है उनके पास … बाकी तो सब दे रखा है. मैं इतनी छोटी उम्र में यह जान गई कि लड़की शादी के बाद जब पहली बार ससुराल से आती है, तो उसमें क्यों चमक आ जाती है और उसके फिगर में बदलाव क्यों आ जाता है.

मैंने ध्यान से देखा तो मुझे लगा कि मेरी सास और काम्या में उम्र का अंतर होते हुए भी दिखने में ज्यादा फर्क नहीं है.

मैं सोच रहा था कि किसी तरह अगर मैंने कोमल से बात कर भी ली तो क्या उसके बाद हमारा वो रिश्ता किस कैटेगरी में आएगा. जब मैं उनके घर पहुंचा, तो देखा वो मैक्सी पहन कर बैठी थीं और बच्चे को पढ़ा रही थीं. ’‘न न … ये खूबसूरत चीज़ पैंट फाड़ने के लिए नहीं बनी, मेरी गांड फाड़ने के लिए बनी है.