बस में बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,सेक्सी बीएफ 15 साल लड़की की

तस्वीर का शीर्षक ,

आदिवासी की चूत: बस में बीएफ सेक्सी, करीब बीस मिनट की मस्त चुदाई में भाभी जी ने दो बार अपनी चुत का पानी निकाला था, जो उन्होंने मुझे बाद में बताया था.

कुत्ता कुतिया सेक्सी बीएफ

उस वक्त मौसी ने फ्रॉक टाइप की ड्रेस पहनी थी… और नीचे चड्डी नहीं पहनी थी. हिंदी बीएफ सेक्सी वीडियो सेक्समैंने सोचा कि भाई के रूम में चलती हूँ भाई का कमरा सेकेंड फ्लोर पर था.

अब तो मैं अपनी बहन की चुदाई के सपने को किसी ना किसी तरह पूरा करने की कोशिश करने लगा. साड़ी उतार के बीएफदस मिनट बाद किसी ने मेरे कमरे का डोर नॉक किया और मुझे एहसास हुआ जैसे ये अनुराधा हो.

उस रात हम दोनों ने 4 बार चुदाई की और फिर तो हमे जब भी मौका मिलता हम चुदाई कर लेते थे.बस में बीएफ सेक्सी: फिर चाची मेरी तरफ घूम गईं और उन्होंने अपनी मैक्सी ऊपर उठाई और अपनी चूत पर हाथ रख कर बोलीं- देख ये है मेरी नुन्नू.

अन्तर्वासना की कहानियों को पढ़ने के बाद ही मैं अपनी आपबीती यादों को कहानी में पिरोकर आप लोगों के समक्ष रखने का साहस कर पा रहा हूँ.नशे में होते हुए भी उसके दिल में एक कोना ऐसा था जिसमें दया थी… और उसने फोन मुझे दे दिया.

लंबा लैंड वाला बीएफ वीडियो - बस में बीएफ सेक्सी

पूजा ने लंड को अच्छे से चूस कर चिकना किया, उसके बाद वो गांड फैला कर घोड़ी बन गई- लो मामू आपकी पूजा की गांड हाजिर है… घुसा दो अपना लंड और कर दो इसका भी मुहूर्त अपने लंबे लंड से.पूरे कमरे में मामी की कामुक सिसकारियों के साथ थप थप का संगीत गूँज रहा था, जो माहौल को गर्म कर रहा था.

कुछ पल उसने मुँह बनाया और फिर लंड को जीभ से चाटना शुरू किया तो काफी देर तक तक चाटती रही. बस में बीएफ सेक्सी ”कई बार मन ही मन चाहा भी कि आप आओ और मुझ में जबरदस्ती समा जाओ; मैं ना ना करती रहूँ लेकिन आप मुझे रगड़ रगड़ के चोद डालो अपने नीचे दबा के.

यह थी मेरी रियल सेक्स स्टोरी जो कि बिल्कुल सत्य है, इसमें एक भी शब्द बनावटी नहीं है.

बस में बीएफ सेक्सी?

तभी टीटी आ गया और मैंने लंड हिलाना छोड़ दिया और टीटी को टिकट दिख़ा कर विदा किया. मोहन लाल की पत्नी यानि की इन बच्चों की माँ का देहांत हुए लगभग 7 साल हो चुके थे. लेकिन मैंने जैसे ही अपनी आँखें खोली तो मेरे देवर का चेहरा मेरे सामने था.

मेरा लंड किसी डंडे की तरह अकड़ रहा था और मौसी लंड को हाथ में लेकर बहुत गौर से देख रही थीं. बेबस हो कर अब कोई विरोध किये बिना अपना जिस्म ढीला छोड़ते हुए वो बोली- वैसे ये कबीर मोहल्ला इलाका कैसा है? वहाँ से मुझे राम टेकरी जाना है. इंदौर के बाजार में घूमते घूमते शाम के चार बज गये थे। अचानक अंशु की निगाह एक शोरूम के शोकेस में टंगी कुर्ती पर पड़ी, उसे अच्छी लगी तो वो उसे खरीदने के लिए दूकान में चली गई.

मैं दर्द में था, पर वो बोली- ये ले, मेरी गांड पर झापड़ मारने का इनाम. सुमन- ठीक है पापा जैसा आप कहो, तो पहले मैं आपका लंड चूसूं या आप मेरी चुत चाटने वाले हो. रिंग लीडर के इशारे पर सभी लड़कियों ने एक दूसरे के यौवन रस को चूसना शुरू कर दिया.

जोशना- चूस लो मेरे मम्मों को… आह और जोर से चूस…अब मैं चूचे बदल-बदल कर चूसे जा रहा था और वो कराह रही थी. लेकिन आप मुझसे बचने का प्रयास कर रहे थे क्योंकि आप मुझे पहचान गए थे; लेकिन मैं आपको उस अंधेरे में नहीं पहचान पाई और आपका लिंग चूस चूस कर चाट चाट कर आपको मनाती रही उकसाती रही.

भाभी के पीछे मेरा 7 इंच का लंड भी अपने पूरे ताव में था और पीछे सुमन भाभी की गांड से भिड़ा हुआ था.

फिर मैंने अर्पिता के होंठों पर अपने होंठों को रख दिए, वो भी साथ देने लगी.

मैंने कहा कि पिछली ज़िंदगी को ‘जो बीत गया सो गया’ समझ कर उसको भूल जाओ. फ्लॉरा वहां से वापस सुमन के पास चली गई और काफ़ी देर तक दोनों बातें करती रहीं. अब दर्द मीठा हो गया था और चुत में पानी रिसने लगा था, जिससे लंड को अन्दर बाहर होने में आसानी हो गई.

उसने 2 धक्के और लगाए तब कहीं जा कर उसका लंड मेरी चुत में पूरा घुस पाया. थोड़ी देर कोशिश करने के बाद सुपारा गांड में घुस गया और पूजा दर्द से बिलबिलाने लगी, मगर उसने दाँत कस कर भींच लिए और वैसे ही डटी रही. और आज तो उसने मैक्सी के अन्दर कुछ नहीं पहना यानि वो खुद तुझे मज़ा देना चाहती है.

क्या कयामत थी यार; उसे ऊपर वाले ने बड़ी फुर्सत में बनाया थाउसके मम्मे बिल्कुल गोल गोल, एक हाथ में पूरे आ जाएं और उसके निप्पल जो लाल भूरे रंग के थे.

मेरी के अनुसार हमें और दस मिनट इंतजार करना था कि ड्रिंक का सही परिणाम हो. अगली बार मैंने अर्चना को उसके घर में कैसे चोदा, ये जानने के लिए मेरी अगली रियल सेक्स स्टोरी का आनन्द जरूर लें और अभी कमेंट्स करें. मैंने कहा- यार छोड़ दे प्लीज़…वो बोला- ना बेटा आज तो मरवानी पड़ेगी…कह कर वो मेरे ऊपर लेट गया और गांड में उंगली घुमाते हुए पीछे से गर्दन पर किस करने लगा.

मन ही मन मैंने भगवान से कहा- हे भगवान… अगले जन्म में भी मुझे गाण्डू ही बनाना और अगली बार भी इसी से मिलाना। मैं इसी के साथ खुश हूँ।ये सोचते सोचते दिल हल्का हो रहा था और आंखें बंद।मैं सो गया. एक लड़की मेरे निप्पलों को काटने लगी और तीसरी वाली मेरे लंड को पागलों की तरह चूसने लगी. पर अब और नहीं हो सकता, वैसे भी तुम्हारे जीजाजी अब 3-4 महीने के बाद आएँगे, तो मैं कैसे 3-4 महीने में लंड के बिना रह सकती हूँ.

लड़की सांवली थी, पर उसकी बुर क्षेत्र क्या मस्त था, पूरा छेद का मैदान करीने से साफ सुथरा किया हुआ था.

अभी तक मैंने वंदिता को किस भी नहीं किया था तो मैं रात के बारे में सोच सोच कर रोमांचित होने लगा. उसके दूधिया एक दम सुडौल गोल मम्मों को देखते ही मैं अपने होश खो बैठा.

बस में बीएफ सेक्सी कुछ ही देर में जिसको मैं चोदने के ख्वाब सोचता था, वो मेरे सामने नंगी खड़ी थी. तभी मैंने चूत पर हाथ लगाया, उनकी चूत को टच करते ही मैं बोली- झाँटे बना रही थी इतनी देर से?तो मेरी सास बोली- हाँ!मैं अपनी सास से बोली- मेरी जान, मैं भी तो हूँ, मुझसे नहीं करोगी सेक्स?उन्होंने यह सुन कर मुझे कसकर पकड़ लिया और मैंने उनके होंठों को किश किया और वे भी मुझे कसकर पकड़ कर किश करने लगी.

बस में बीएफ सेक्सी मम्मी ससुर जी के मोटे लंड की चोट बर्दाश्त नहीं कर पाईं और चिल्लाने लगीं- ओह. बस अब क्या था; बहूरानी के दोनों मम्में कस कर दबोच कर लंड को पूरी ताकत से फॉरवर्ड कर दिया उसकी चूत में.

जोशना- आहह… दर्द हो रहा है यार, रुक जा… भैन के लंड अब नहीं चुदना मुझे… हट मादरचोद…पर मुझे तो जैसे होश ही नहीं था, मैं धक्के दिए जा रहा था.

भोजपुरी सेक्सी वीडियो एक्स एक्स

मैंने उस का पूरा माल अपने हाथ में इकठ्ठा कर लिया, जिसे समीर पी गया. दोस्तो, आप लोग तो जानते ही होंगें कि ऐसे नामों वाली लड़कियां कितनी सुन्दर और गोरी-चिट्टी होती हैं. अब मेरा माल निकलने वाला था कि महसूस किया कि ममता की ज्वालामुखी से लावा निकल कर मेरे जाँघों पर फैल गया.

मैंने उस से कहा- तुम यहीं पे रुको, मैं तुम्हें तुम्हारी मेम के दर्शन करवाता हूँ. मैं एक हाथ से चूची मसल रहा था, दूसरा हाथ उसकी चूत पर रख कर सहला रहा था. अब मेरे शरीर में थोड़ी सी भी हिलने की ताकत नहीं रह गई थी, इसलिए दो बार चुत और तीन बार गांड मारकर हम एक दूसरे को पकड़े पता नहीं कब सो गए.

उसने जल्दी से मेरे सर को पकड़ के मुझे ऊपर उठा लिया और मुझे किस करने लगी.

हमने एक-दूसरे को जानने के बाद हम ऐसे हो गए, जैसे हम लैला-मजनूं हों. ” उन्होंने आते ही मुझे ज़ोर से किस किया और मेरे छोटे छोटे मम्मे टॉप के ऊपर से ही दबाने लग पड़े. मेरा ध्यान उसकी तरफ मुड़ गया, मुझे लगा कि वो भी अपनी सहेली की तरह मजा लेना चाहती है, उसकी आँखों में मुझे समर्पण का भाव दिखा.

मैं गुड़गांव में एक ऑटोमोबाइल कम्पनी में नौकरी करता हूँ और अपने परिवार के साथ यहीं रहता हूँ. वाह वाह भाभी, आज कुछ ज्यादा ही मस्ती में है।” मैंने फुसफुसा कर कहा और अपना हाथ भाभी के ब्लाउज में अंदर डाल मखमली चूची को दबाने लगा।उई… उई… सी… उह्ह्ह… यस राजू… यस दबा दे! सच में आज कुछ ज्यादा ही मस्ती चढ़ रही है… ओह… हूँ… उह… तेरा माल भी तो खड़ा हो रहा है. ह्हह…” की आवाज करने लगी। ममता जी भी अब अपने कूल्हों को उचका उचका कर मेरा पूरा साथ दे रही थी। मैं भी अब पूरे जोश में आ गया और अपने कमर से ऊपर के भाग को ऊपर उठा कर धक्के लगाने लगा जिससे ममता जी और भी जोर से अआआ.

शानू मेरे को और उसको देख के थोड़ा सा अचंभित सा हो गया, उसे समझ नहीं आया कि ये क्या हो रहा है. मैं सोचने लगा कि मामा का लंड क्या इतना बड़ा है जो मामी की चीख़ निकल आई.

मैंने उसे कुतिया की तरह उल्टा लिटा दिया और उसकी गांड पर थूक लगा दिया. सुमन की हालत देखने लायक थी, वो लंबी लंबी साँसें ले रही थी उसके पापा ने चोद दिया था उसे… और गुलशन जी उसके सीने से चिपके हुए बस ऊपर देख रहे थे. वो रात में मेरे घर आई और बोली कि आज मैं रात में यहाँ पर ही रुकना चाहती हूँ.

मैंने किस करते करते मोनिका के चूतड़ दबाए, चूचे दबाए, उसने कोई आपत्ति नहीं जताई.

कुछ देर बाद मुझे किसी ने सोफे पे लिटा दिया। अब मेरी हालत अधलेटी जैसी थी. फिर वो नीचे सरकी और मेरा लंड पकड़ कर बोली- अब ये मेरी गरम चूत में जाएगा…वो धीरे धीरे मेरे लंड पर बैठने लगी. जोशना ने अपनी चूत को हाथ से दबाते हुए कहा- इतनी बुरी तरह से कोई चोदता है? कितना दर्द हो रहा है…मैं- मेरा भी पहली बार ही था… सॉरी… अगली बार से ध्यान रखूंगा…जोशना- कोई अगली बार नहीं… अब कभी नहीं चोदने दूँगी.

लड़के का नाम अतुल है उम्र 25 साल, दिखने में स्मार्ट है और लड़की का नाम बरखा है और इसकी उम्र 22 साल है. काजल ने धीरे से रमेश को जवाब दिया- जरूर भैया…काजल ने नोटिस किया कि रमेश का लंड सुरेश के लंड से थोड़ा छोटा है, पर मोटा ज्यादा है, हालाँकि उन दोनों के लंड की लम्बाई का ये अंतर बहुत ज्यादा नहीं था, बस थोड़ा ही उन्नीस-बीस का था.

क्या गर्म माल थी?तभी मैं एकदम से साइड में हुआ और मोबाइल को ऑन करके उसमे रोमांटिक गाने लगा दिए. वो कुछ देर बाद ऐसे ही लेटी रहीं और फिर धीरे से बोलीं- सुमित?मैं जानबूझ कर कुछ नहीं बोला. आज सुबह मैं खुद अपना दूध निकाल नहीं पाई और स्वाति पूरा दूध नहीं पीती है, इसलिए मेरे चूचे बहुत भारी हो गए थे.

भोजपुरी में सेक्सी गाने

जीजू के जाने के बाद शाम को सागर घर आया और मीना के बच्चों से बहुत खेला.

मैंने बस सुना था कि कुछ लोग गांड भी मरवाते हैं, लेकिन ख्याल आते ही कि मामी गांड भी मरवाती हैं. मैंने उन्हें देख कर कहा- ये क्या? आप आप अंडरवियर में ही… कपड़े कहाँ है आपके?तो वो बोले- आज मैं कपड़े घर पर ही उतार कर आया हूँ. मेरे चाचा की फैमिली को शादी में जाना था, वो लोग घर जाते ही फ़ौरन निकल गए.

काजल ऊपर से आधी नंगी सी थी, उसकी दोनों चूचियां ब्रा के अन्दर से साफ़ नज़र आ रही थी और वो अपने ही भाई का लंड चूसते हुए पकड़ी गई थी. पर वो कहाँ मान रही थी, उसको तो मेरी चुटकी लेने में मजा आ रहा था, उसने कहा- जीजू कितने टाइम में तेरा काम उठाते हैं? अमित जी तुझे तो रोज करते होंगे. दुबई का बीएफ सेक्सीफिर चाचाजी उठे और मेरे ऊपर आ गए और मेरे होंठों को कसके मुँह में लेके चूसने लगे.

फिर मुझे लगा कि मुझे पहले अपनी उंगली ही गांड के अंदर डालने की कोशिश करनी चाहिए, मैं अपनी उंगली में वेसलिन लगा कर गांड के अंदर घुसने की कोशिश करने लगी और वीडियो देखने लगी. इसके बाद उसने अपने जींस को मोड़कर एक तकिया बनाया और मेरे सर के पीछे रख दिया और मेरा सर दीवार से टिकाये रखने को कहा.

हम दोनों वासना के नशे में तब तक एक दूसरे के चूतड़, गांड, चुत सब रगड़ते रहे. दोस्तो, ये मेरी रियल सेक्स स्टोरी थी, आपको कैसी लगी, मुझे कमेंट्स करके जरूर बताएं!अभि. मेरा दिल कह रहा था कि इस अंडरवियर को अपने साथ ही ले जाऊँ और हर रात इसे मुँह पर ओढ़ कर ही सोऊँ.

पापा- सुमन तेरी चुत में बहुत आग है… मेरी उंगली झुलस रही है… बाहर ये हाल है तो अन्दर तो क्या पता कितनी आग होगी… ले मेरी बेटी आने दे तेरी रस की धारा… तेरा पापा तैयार है पीने को. इस देसी कहानी के आगे भाग में नेहा की चूत की सील तोड़ चुदाई का मंजर पेश करूँगा. अब मैं प्लान बनाने लगा था कि शादी हो न हो, उसके साथ अब सुहागरात जरूर मनाऊंगा.

तो मैंने उसकी आँखों में देखते हुए उसके हाथ के ऊपर हाथ रख दिया और उसके हाथ को अपने हाथ में कैद कर लिया.

फोरप्ले बाद में करेंगे, जिंदगी में पहली बार ऐसा लौड़ा देखा है, अब मेरे ऊपर चढ़ कर इस का कमाल दिखाओ. मैं अपनी पीठ के बल चित्त लेटा था और जोशना अपने पेट के बल मेरी टांगों के बीच थी.

कुल मिलाकर अठारह साल की कचक जवान लड़की मेरे लंड से चुदने को बेकरार थी और मैं भी 167सेंटीमीटर हाईट और 62 किलो का गबरू जवान लड़का उसकी नथ उतारने के लिए उतावला था. उसके बाद राजीव का नंबर था, उस कमीने ने मुझे घोड़ी बनाया मेरी गांड में अपनी उंगली से कोई जैली सी लगाई और अभी मैं कुछ समझ पाती कि उसने मेरी गांड में लंड घुसा दिया. मेरी जवानी की चुदाई की इस पोर्न स्टोरी के लिए आपके मस्त कमेंट्स का मुझे इन्तजार रहेगा.

उसके बाद मैंने धीरे से अपना लंड उसकी गांड के छेद के ऊपर रखा और हल्का सा झटका लगया तो पहले तो लौड़ा फिसल गिया. मेरा पूरा लंड अन्दर बाहर होने लगा और अब गांड मराई का प्रोग्राम अपने खास चरम था, जिस में हम दोनों को मजे आ रहे थे. साथ ही एक हाथ से उसकी चुत सहलाता और कभी उंगली को उसकी चुत में डाल देता.

बस में बीएफ सेक्सी अपने विचार अवश्य लिखें![emailprotected]कहानी का अगला भाग :सहकर्मी भाभी ने दोस्ती करके चूत चुदाई-2. तुम औरतें ये ऊंची ऐड़ी की सैंडल पहन कर खूब अच्छा करती हो… इससे तुम्हारी गांड और उभर जाती है.

ഇന്ത്യന് പോണ് video

मुझे थकावट से महसूस हो रही थी शायद कुछ देर पहले ही चुदी थी इसलिए, मैंने सोचा कि कुछ देर टी वी देख लूँ ताकि मेरी बदन को थोड़ा आराम मिल जाए. भाभी ने जल्द ही चुत की गर्मी चुदाई के लिए बढ़ा ली थी और अब वो मेरे लंड का कुंवारापन खत्म करने को लालायित थीं. उसका चुत चूसना ऐसा था कि मैं कुछ ही पलों में झड़ गई और वो सब चुत रस पी गया.

भाभी जोर जोर से रोने लगी क्योंकि उसको उस वक्त काफ़ी दर्द हो रही थी. दस मिनट बाद किसी ने मेरे कमरे का डोर नॉक किया और मुझे एहसास हुआ जैसे ये अनुराधा हो. करवा चौथ की सेक्सी बीएफ वीडियोमेरी उम्र 31 साल है और मैं एक मल्टिनेशनल कम्पनी में अच्छे पद पर हूँ.

उस रात पप्पू से चुदवाने के बाद रूपा सहेली के घर जाने की बजाय वापस अपने घर गई.

फिर हम बाहर निकले तो मॉम ने कहा- अब मैं एक सिंगल स्लाइड लेकर आती हूँ. अगर मेरी किस्मत में रवि का साथ लिखा है, उसके लंड से चुदने का अहसास लिखा है तो मुझे समलैंगिक होने में कोई परेशानी नहीं है.

उन्होंने मुझे किस किया क्यूंकि उन्हें भी पता था कि मैं उनके बड़े लौड़े को बिना दर्द के नहीं ले सकती हूँ. उन्होंने कहा- आज तो तुम मुझसे ही काम चलाओ, कल मैं तुम्हारे लिए पिंकी को तैयार कर दूँगी. उस ने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और अपने लाल और गर्म होंठ मेरे होंठों पर रख दिए.

जैसे ही सुमन भाभी ने मेरे लंड को देखा तो उनका मुँह खुला का खुला रह गया.

फिर अंजलि उठी और मेरे लंड पर बैठ कर अपने हाथ से लंड पकड़ कर चुत पर सैट किया और एक ही झटके में पूरा लंड चुत में चला गया क्योंकि अंजलि की चुत पहले ही काफी पानी से गीली हो चुकी थी. मैंने उससे बांहों में जकड़ लिया और उसके होंठों पर जोर से किस करने लगा. वो मेरी तरफ़ अलग ही नज़र से देख रही थी और मैं उस से आँखें नहीं मिला पा रहा था.

कंगना राणावत की बीएफमेरी के अनुसार हमें और दस मिनट इंतजार करना था कि ड्रिंक का सही परिणाम हो. वो मज़े लेने लगी तभी उसने अपनी जाँघों के बीच में मेरा सिर जकड़ लिया और एकदम से झड़ गई.

एक्स एक्स भाभी

मगर तुम शदी के बाद बरखा से इस रात के बारे में लड़ाई तो नहीं करोगे ना कि वो कैसे मज़ा लेकर चुद रही थी. उसने पूछा- क्या हुआ?मैंने कहा- मेरे कपड़े नहीं उतारोगी?तो वो उठ कर मेरे पास आई और मेरी अंडरवियर निकालने लगी. इधर कोमल भाभी की भी साड़ी खुल कर नीचे पड़ी थी, उनके ब्लाऊज के सारे बटन टूट चुके थे और पीछे वाला आदमी खड़े खड़े उनकी ब्रा ऊपर कर उनकी चूचियों को बेरहमी से मसल रहा था.

दीपक और राम पूरे मस्त होकर मामी की सैंडविच चुदाई कर रहे थे और मामी भी उनका भरपूर मजा ले रही थीं. मैंने उससे होटल में चलने को कहा तो साली ने थोड़ा भाव खाया लेकिन फिर वो रेडी हो गई. इसके बाद हम दोनों वापस तैयार हो गए और हमने निश्चित किया कि अगली बार पूरी रात के लिए मिलेंगे.

कुछ ही मिनट में दीदी ढेर हो गईं, पर लगता था आज वो रुकने वाली नहीं थीं. अमित ने माया को उल्टा घुमाया और उसके सर पे हाथ रख के नीचे की तरफ धक्का लगाया. उसके पीछे से मैं भी उस कमरे में चला गया और तभी अर्चना ने मुझे कस कर जकड़ लिया और चूमते हुए धीरे से बोली- रात को काफी मज़े आए; अब कब चोदोगे?मैं उसे मौका मिलते ही चोदने की कहते हुए एक लम्बी लिप किस कर कमरे से बाहर निकल गया.

सुबह मेरी आंख तब खुली जब चाची ने मुझे जगाया और पूछा- क्या आज भी स्कूल नहीं जाना है?मैंने कहा- आज मेरा पूरा शरीर बहुत दर्द कर रहा है, मैं स्कूल नहीं जाऊँगा. जब मैंने आंटी को ब्रा पहनाने के लिए साइड में हाथ फेरा तो उनको थोड़ा झटका सा लगा.

अब आप जानते ही हैं कि जब एक घर में दो लोग दो घंटे रहें तो कुछ न कुछ निजी बातें होंगी ही.

मेरे प्यारे साथियो, आप मुझे मेरी इस हिन्दी सेक्स स्टोरी पर कमेंट्स कर सकते हैं. बीएफ फिल्म फुल मूवी हिंदी मेंआप भी उन लड़कों जैसे छेड़ रहे हो, वो लड़के मुँह से छेड़ते हैं और आप हाथ से. वेस्टइंडीज बीएफ फिल्मआह… कितना गर्म था उसका मुँह… अब उसने अपने होंठों को मेरे लंड कस लिया और अपने सर को आगे-पीछे करना शुरू कर दिया. शिशिर ने मेरे जम्फर के बटनों को खोल दिया और मेरी संतरे के बराबर चुचियों को नंगा कर दिया.

जब वो कुछ देर बाद शांत हो गई, तब मैंने उसे चोदना स्टार्ट किया और थोड़ी देर बाद वो भी मजे लेकर चुदवाने लगी.

पप्पू के हाथ को बिना रोके नीता बोली- ना अंकल मैं… वो लोग जो बोलते हैं वैसा कभी बोल ही नहीं सकती. सुमन के मुँह से दर्द भरी चीख निकली मगर जल्दी से गुलशन जी ने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और कमर को फिर पीछे किया और एक और जोरदार झटका मार दिया. अंजलि ने अपने पैरों से मेरा लोअर निकाल दिया और अंडरवियर के ऊपर से मेरे लंड पर हाथ घुमाने लगी.

आज अंधेरे में चुदाई हो गई, तेरी चूत के दीदार तो हुए ही नहीं अभी तक. अपने जिस ब्वॉयफ्रेंड के साथ मैंने पहली बार किया था, उसने मुझे इतना मज़ा नहीं दिया था. मामी ने मुझे गाली देते हुए बोला- मादरचोद, अगर मेरे झड़ने से पहले तेरा निकला.

ट्रिपल एक्स सेक्सी पिक्चर

सुबह के चार बजे थे, शिवानी ने मुझे दरवाजे तक छोड़ा, उससे चला नहीं जा रहा था, बहुत देर तक बाँहों में भर कर खड़ी रही. चाचा ने कुछ सामान ऊपर हाथ करके छप्पर की छान के नीचे रख दी और वो भी बाहर चले गए. रंजु ने मुझे कस कर पकड़ लिया और मेरी कमर पर नाख़ून गड़ा दिए, चूमतेचूमते मैंने 2-4 झटके और प्यार से लगा दिए.

बुआ की दोनों लड़कियां घर में ही रहती थीं, उनकी पढ़ाई वगैरह सब कुछ खत्म हो चुकी थी.

तभी रमेश ने काजल से कहा- काजल, मेरा हेड (माथा) मसाज कर देगी? थोड़ा रिलैक्स हो जाएगा?काजल- जरूर भैया…रमेश और सुरेश दोनों ही अपना सर सोफे के पीछे की तरफ सहारा लेकर आराम कर रहे थे.

सबके चले जाने के बाद अब हमें एक-दूसरे से बातें करने का मौका मिल रहा था. मैंने थोड़ा नाटक करते हुए कहा- नहीं, मैं आज लेट हो गया, आपको जल्दी है तो मैं भी चलूँगा. एचडी बीएफ 2021 केवैसे तो सभी लोग माँ की बड़ी इज्जत करते हैं लेकिन जब मम्मी ही इतनी बेशर्म हो जाएं कि वो तो हमेशा लंड के चक्कर में ही रहें, तो इसमें बेटे का क्या कसूर है.

पप्पू द्वारा मम्मे और चूत चूमने से मस्त हो कर रूपा ने अपने ब्लाउज के हुक खोल दिए. मैं पूरे जोश में थी और मेरी जोश भरी सिसकारियां रूम में गूँज रही थीं. इतने में कोई वॉशरूम के बाहर कोई आ गया, वो चुप हो गईं और चुपचाप खड़ी रहीं.

तभी 3-4 लड़कों ने हम दोनों को घेर लिया और कहा- अरी कुतियाओ, आम हमारे पास… हम तुम्हें महसूस कराएं कि असली कुतिया क्या होती है!मैंने उनकी तरफ देखा और कहा- हां हां. अब मैंने अपनी पत्नी के सर को बिस्तर पे टिकवा दिया और गांड को और ऊँचा कर दिया.

एक दिन निर्मला भाभी सुबह खाना बनाने के लिए आ गई, तो मैंने उससे कहा- अभी सिर्फ़ सुबह का ही खाना बनाओ और शाम को फिर से खाना बनाने के लिए आ जाना.

मैंने अब आंटी को बेड पर लिटा लिया और के पैर अपने कंधे के ऊपर रख लिए और लंड को चूत के मुँह पर रख कर झटका लगाया. उस ने बहुत ही चौंकाने वाली बात मुझे बोली, सुन कर मैं भी सन्न रह गया. हां जी, लेकिन वो ऐसे नहीं मरेगा, उसे किसी मोटे डंडे से दबा कर मारिए.

नंगी सेक्सी चुदाई वाली बीएफ और हाँ वो वहां फ्लॉरा के घर पर ग्रुप सेक्स अब तीन जगह एक साथ आप कैसे देख पाओगे, यही सोच रहे हो ना. उस की आंख मुंदते ही मैंने उस की चुत को पानी के अन्दर ही अपने हाथ से भर कर मसल दिया.

मैं भाभी की फुद्दी को पेंटी के ऊपर से ही उंगली से रब करने लगा, भाभी की चूत पहले ही गीली हो चुकी थी. उसने भी मुझे अपनी बांहों में कस कर पकड़ लिया और मैं उसके होंठों पर अपने होंठ रख कर चूसने लगा. वैशाली ने उस की चूत से निकलते वीर्य को अपने हाथ में भर कर उस की गांड पर मल दिया और बोली- मेम साहिब! अगर कुछ कमी रह गई हो तो खाना खा कर पूरी कर लेना.

सनी लियोन सेक्सी पोर्न वीडियो

मैंने पूछा- कहीं बच्चा ठहर गया तो?गुलाबो बोली- दिदिया का माला-डी चुरा कर खा रही हूँ. मौका न चूकते हुए मैं उसको बांहों में भर के उसके मस्त चुचों को दांतों से काटने लगा. मेरी पिछली पोर्न स्टोरीपापा की उम्र के अंकल ने मेरी गांड मारीमें आपने पढ़ा था कि एक अंकल ने मुझे अपनी कार में लिटा कर मेरी गांड मारी थी.

एक दिन मैं जाड़े का धूप सेंकने छत पर टहल रहा था, नीचे सभी औरतें आंगन में नहा रही थीं. फिर एक तो मेरे ऊपर अपना पूरा वजन रख कर खड़ी हो गई, एक मेरी बाल्स को दबाने लगी और एक ने अपने तो मेरे मुँह पर अपनी गांड रख दी और चाटने को बोला.

गुजराती भाभी की चुदाई की कहानी के पहले भाग में आपने पढ़ा कि एक देसी भाभी भीड़ भरी बस में थी, एक युवक उसके पीछे खड़ा था, बस में लग रहे धक्कों से युवक लंड भाभी की गांड में घुसा जा रहा था.

मामी मुस्कुरा दी।मेरी आँखों देखी मामा मामी की चुदाई की कहानी और मेरी कुंवारी चूत की डिल्डो से चुदाई की कहानी आपको कैसी लगी? मुझे मेल भेज कर जरूर अपने विचार बताएं![emailprotected]. उसने मेरे सर को टांगों में जकड़ लिया और जीवन में पहली बार चरम आनन्द को पाकर चीख चीख कर झड़ने लगी. ये कैसी विडम्बना थी कि इतनी सेक्सी स्त्री का पति नामर्द हो? जिसको चुदने की इतनी चाहत हो, वह एक ऐसे आदमी के पल्ले पड़ी है, जो चोदना बिल्कुल नहीं जानता.

मैंने इस बार कुछ नहीं कहा तो मामी ने मेरे होंठ पे होंठ रख दिए और थरथराती हुई बोलीं- तेरे होंठ तो बड़े सॉफ्ट हैं!मैंने मामी के होंठों से अपने होंठ चिपका दिए और उनका रस चूसने लगा. मुझे थोड़ा अच्छा तो लगा लेकिन डर ज्यादा था कि आज ये क्या करने वाला है मेरे साथ… मैंने सोचा, गलत जाट के लौड़े के नीचे फंस गया आज तो!एक मिनट तक गांड को मसलने के बाद उसने अपनी उंगली पर थूका और मेरी गांड में दे दी… आह… उसकी कठोर उंगली मेरी गांड में मिर्च जैसा अहसास कराती हुई घूमने लगी. मेरा तो अभी हुआ नहीं था, मैंने स्पीड को धीमा किया तो बोली- थक गए क्या?मुझे गुस्सा आया और मैं जोर जोर से चुत में धक्के मारने लगा.

अब विनीता की झांटमुक्त चूत मेरे सामने थी जिसमें से अभी भी चूतामृत आ रहा था.

बस में बीएफ सेक्सी: तो मम्मी ने कहा- तो अपने बॉयफ्रेंड यशवंत को बुला ले…मैंने यश ( यशवंत को मैं प्यार से यश कहती हूँ) को फोन लगाया उसने फ़ोन उठाया और कहा- क्या बात है? इतनी रात को नींद नहीं आ रही?तो मैंने कहा- नहीं, तुम्हारी याद आ रही है…तो यश ने कहा- तो मैं मिलने आ जाऊं?मैं तो यही चाहती थी, मैंने झट से हाँ कह दिया. मैंने आंटी का सामने से खुलने वाले गाउन के बटन खोल कर एक बूब बाहर निकाला और बेबी के मुँह में लगा दिया, लेकिन बेबी बहुत छोटी थी और आंटी के बूब बहुत भारी थे.

इतने में कोई वॉशरूम के बाहर कोई आ गया, वो चुप हो गईं और चुपचाप खड़ी रहीं. मैंने पक्का करने के लिए दुबारा घंटी की, तो ये बात सही थी कि फोन सोनी ही कर रही थी. कुछ देर बाद दीदी झड़ गईं और उनकी चुत का नमकीन रस मेरे मुँह का मस्त जायका बना गया.

फिर अचानक आंटी ने मेरा लंड अपनी चूत के अन्दर निगल लिया, मुझे लगा जैसे मेरा लंड किसी बड़ी सी गुफा में घुस गया हो.

हम तीनों आपस में गुत्थम गुत्था होकर चुदाई में मगन थे, हमारे पास खड़ी सोनिया की चूत भी हमें देख कर पूरी तरह गीली हो चुकी थी. इस बीच मैंने एक साफ्ट ड्रिंक दो गिलासों में निकाला और फिर वही दवा उसके गिलास में मिला दिया. उनकी चुची चूसने में मुझे बहुत मजा आता था क्योंकि मेरी मम्मी और बहन की चूचियां छोटी छोटी थीं.