मोटी मेहरारू का बीएफ

छवि स्रोत,वीडियो ओपन बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

हीरोइन के बीएफ सेक्स: मोटी मेहरारू का बीएफ, मैं आप सभी के प्यार की वजह से एक बार फिर एक चटपटी और कामुक कहानी लेकर आई हूं.

भोजपुरी सेक्सी नंगे गाने

भईया के साथ नहीं, पर मेरे हाथों उद्घाटन होना था,मुझे लगा कि ये सब होना ही था. वीडियो में ब्लू पिक्चर भेजेंमेरा लंड जैसे ही आजाद हुआ तो सुषी ने उसे अपने हाथों में ले लिया और उसको ऊपर नीचे करते हुए मेरे होंठों को चूसने लगी.

मुझे तो मज़ा इस बात में आ रहा था कि मुझे केवल खड़े रहना था, बाकी का काम तो वो दोनों ही कर रही थीं. বাবা মেয়ের চুদাচুদির গল্পमैं यही सोचता रहा कि वह ऐसा क्यों बोल कर गई?इसी तरह चार-पांच दिन बीत गए.

जब मैं 22 साल का था तब मेरी भाभी ने मुझे मुट्ठ मारते हुए देख कर रंगे हाथ पकड़ लिया था.मोटी मेहरारू का बीएफ: जैसे ही मेरी ज़ुबान उसकी चूत में जाती, वो बहुत ज़ोर से मेरे लंड का चुप्पा लगाती.

उसने एक पतली सी झीनी सी नाइटी पहन रखी थी जिसके अंदर उसकी लैस वाली ब्रा और पेंटी साफ-साफ दिखाई दे रही थी.मेरी चूत गरम थी और मेरी चूत में उसका लंड सटासट आ जा रहा था, तो हम दोनों लोग को चुदाई का मजा आ रहा था.

कच्चे केला की सब्जी कैसे बनती है - मोटी मेहरारू का बीएफ

मेरी काफी भाभियों के साथ बात-चीत है मगर ऐसी औरत मुझे आज तक नहीं मिली.फिर ऊपर से नीचे तक नीना के बदन पर टावेल घुमा दिया ताकि गीलापन न रहे.

मैंने भाभी से पूछा- क्या ये बात भैया को पता है?तो उन्होंने बताया कि भैया को अभी इस बारे में कुछ पता नहीं है. मोटी मेहरारू का बीएफ उसने अभी भी मेरी पीठ से अपना हाथ नहीं हटाया और मेरी पीठ पर हाथ फेरने लगी.

जब से मैं अपने पति के दोस्त से चुदी थी, तब से मेरा बहुत ज्यादा मन किसी दूसरे आदमी से चुदवाने का करने लगा था.

मोटी मेहरारू का बीएफ?

वो बोला- क्या?मैं बोला कि मैं अभी टॉयलेट में जा रहा हूँ, तुम थोड़ी देर बाद टॉयलेट में आ जाना. मदन की मां- अरे पहली बार आप आए हैं, घर के अन्दर तो आइए … वरना मदन को अच्छा नहीं लगेगा कि मैंने अंकल को बाहर से ही भेज दिया. ”एक औरत की वासना की भूख मिटा दे, ऐसा कोई मर्द नहीं है दुनिया में मेरे राजा.

मैंने फिर से ना में हाथ हिलाया तो उसने मुझे पीछे तरफ से कमर पकड़ के चिपका लिया और अपना लंड मेरी गांड में लहंगे के ऊपर से दबाने लगा. इस कहानी को मैं पाठिका के शब्दों में आप सब के सामने प्रस्तुत कर रहा हूँ. प्रिया ने सब अपनी बीती बताई, मैंने कहा- अब आज से रोना बंद … आपको खुश रखना मेरी ड्यूटी है.

आओ मेरे लाल, अपनी एक्स सास को अपनी रखैल बना लो, पेल दो मेरी चूत में अपना लंड. फिर हम दोनों शॉवर लेकर फ्रेश हुए और हम ज्यादा थकने की वजह से एक साथ सो गए. मैंने वह सारी बात बता दी जब वह मेरे ऊपर गिरी थी, मैंने उनको बताया कि हेमा भाभी ने आपसे बात छुपा ली थी.

मामी का भरा बदन तो किसी हिजड़े को भी वासना की ओर धकेल दे, ऐसी है मेरी मामी. और मैंने पूरी बेरहमी से अपने लौड़े को उसकी गांड के छोटे से सुराख में ज़ोरदार धक्कों के साथ पूरा घुसेड़ दिया.

मैंने उसकी बातों को अनसुना करते हुए धक्का लगाया और लंड का सुपारा ही गया था, तभी वो कसमसाने लगी- प्लीज़ रहने दो … तुम्हारा बहुत बड़ा है … मेरी चूत को लंड की आदत नहीं है … इसका कचूमर निकल जाएगा.

दस मिनट की चुसाई के बाद उसने मेरी पेंटी उतार दी और मेरी चुत को चाटने लग गया.

मैंने अंकित से बड़ी रिक्वेस्ट की, तब मुश्किल से वो माना और हम दोनों वहां से निकल आए. आप भले ही मुझे छह महीने बाद मिलो, पर मैं अपने गम भूल के अब खुश रहने की कोशिश करूँगी. मैं तो था ही नशे की हालत में, थोड़ा उटपटांग बोल गया- पत्नी क्या … मैं तो अपनी सहकर्मी (देवी) को भी बहुत खुश रखता हूँ भाभी जी, कभी आप भी मौका दीजिये सेवा का.

जब मैंने धीरे से डालने को कहा, तो तुमने इतनी जोर से क्यों डाला, दर्द हो रहा है. लता भाभी के हाथ मेरे लंड तक पहुंच गए, उन्होंने कहा- राज आपने तो मेरा सब कुछ देख लिया, अपना हथियार तो दिखाओ. फिर मैं मदन के घर पहुंचा, देखा कि मदन की मां दरवाजे पे उसका इंतजार कर रही थीं.

बड़े शहर में एकदम से घर मिलना कितना मुश्किल होता है, ये तो आप जानते ही हो.

अब मैं जाने लगा तो भाभी ने मुझे किस किया और मैं भाभी के दूध मसल कर चला गया. आशीष अपने हाथ से मेरे पैंटी के ऊपर अपनी उंगली से जहां चुत का छेद था, उस जगह पर अपनी उंगली घुसाने लगा. थोड़ी देर सोचने के बाद मैंने कहा- ओके, मैं आता हूँ … पर कोई समस्या हुई तो मैं तो कुछ नहीं करूँगा.

मेरी नंगी पजाबी जवानी दो दमदार मर्दों के सामने बिस्तर पर लुटने को तैयार पड़ी थी. लेकिन मैंने भी सीधे गांड में लंड ना डाल कर उस पर पहले शैम्पू डाला और उसकी पीठ पर मालिश करने लगा. एक दिन मैं रोज की तरह दिल्ली से सोनीपत आया और पैदल मामा के घर जा रहा था.

मैं गले से मैक्सी पकड़ कर फाड़ने लगा, तो वो बोलीं- ये क्या कर रहा है?मैंने भाभी की बात का जबाव न देते हुए उनको किस किया और भाभी की पूरी मैक्सी फाड़ दी.

मैंने अपना ब्लेज़र और डॉली ने गुजराती घाघरा चोली पहनी … वही पूरी पीठ प्रदर्शित करने के लिए … और इस चोली में आगे भी लोकट गला था, जो बूब्स दिखाने के लिए बड़ा ही मस्त था. उसने अपनी चूत पर हाथ रखा हुआ था, वहां मेरा लंड लगा, तो वो हड़बड़ा गई.

मोटी मेहरारू का बीएफ अगले 3 दिन बाद क्या हुआ और मैंने क्या गिफ्ट दिया सलहज को … और उसने मुझे कैसे खुश किया, वो सब अगली कहानी में बताऊंगा. ‘ओह आमिर … बहुत मज़ा आ रहा है, अब और मत तड़पाओ, जोर-जोर से करो, आआ आहहहह.

मोटी मेहरारू का बीएफ तभी मैंने आंटी की चूत के मुंह पर लंड रखा और उनके मुंह में अपना मुंह लगाकर चूमने लगा. मैं भी एकता की चुत पर थूक लगा कर अपना औजार को छेद के अन्दर डालने लगा.

जब पहली लाईट ग्रीन ड्रेस पहना था और दुप्पटा गिराया था, उसका मतलब था के मैं भी इंटेरेस्टड हूँ.

सेक्सी बीएफ भाभी की चुदाई

दीदी ने कहा- तुम शनिवार और रविवार सुबह कहां जाते हो?मैंने कहा- कहीं नहीं. मेरी चूत इतना लम्बा डिल्डो खा गयी, पता ही नहीं चला और चुम्बन करते-करते ही उसने डिल्डो को आगे पीछे करना शुरू किया।जैसे-जैसे वह आगे पीछे होता तैसे-तैसे मुझे लगता जैसे मैं हवा में उड़ रही हूँ। अत्यधीक आनन्द के कारण मेरे मुख से मीठी मीठी सीत्कारें निकलने लगी. मैंने सोचा, कोई बात नहीं, थोड़ी ही देर में खुद पता चल जाएगा कि क्या सरप्राइज है.

मेरा बॉयफ्रेंड मेरी टांग को उठाकर मेरी चूत में अपना लंड डाल कर मेरी चूत को चोदने लगा. फिर खुद को समझाने के लिए यही सोचा कि हो सकता है दोस्तों के बीच कहीं बिजी होंगे इसलिए. वो बेडरूम की तरफ चल पड़ी उसकी कॅट्वाक देख कर रवि का लंड और खड़ा हो गया.

यूं मान लो कि छोड़ने से पहले मेरे जिस्म के एक एक अंग पर एक छाप सी छोड़ दी और एक दर्द की भी मुहर लगा दी थी कि अब इस जिस्म को ये सब नहीं मिलेगा.

अब मैंने उसका गाउन उसकी सहायता से उतार दिया और ब्रा के ऊपर से ही चूचियों को दबाने लगा और एक चूची को चूसने लगा और वो मेरे बालों में प्यार से हाथ फेरने लगी. वे लोग अच्छे खासे ऊंचे घराने के लोग थे और वे लोग सभी प्रकार के सुख सुविधा से परिपूर्ण लोग थे. लेकिन मेरे शौहर के जाने के बाद मेरी जिंदगी में काफी बदलाव आ गया था.

तभी मुझे चोदते चोदते उसने अपना लंड निकाल दिया और मेरी चूची में अपना लंड डाल कर मेरी चूची को अपने लंड से चोदने लगा. इधर अभी तक काम करते-करते मेरी जोरू नीना बरामदे और आंगन के बीच आ-जा रही थी. नैना बहुत खुश थी, वो बोली- आज का दिन मेरे लिए हमेशा मेमोरेबल रहेगा, इससे पहले कभी भी इतना प्यार, ऐसा सेक्स नहीं मिला और ऐसे बर्थडे सेलिब्रेट नहीं किया.

उनके लिंग बड़े थे और आकर्षक थे और यही हमारे परिचय का आधार थे। शुरु में तो यह होता था कि वे रोज नहीं दिखते थे, बल्कि कभी कोई दिखता तो कभी कोई. मुझे कुछ प्यास सी लगी थी, तो फ्रिज खोला और उसमें से एक बियर का कैन लेकर पीने लगी.

फिर उसकी चूत पर थोड़ा सा क्रीम लगा कर उंगली से चूत को चिकना कर दिया. मैंने अपनी दोनों टांगों के बीच में सोनू की दोनों टांगों को जकड़ लिया और एक हाथ से उसके एक मम्मे को पीने लगा और दूसरे हाथ से उसकी कमर को सहलाता रहा. ग्रेजुयेशन करने के बाद मैंने काम ढूँढना शुरू किया जिससे देहली, नॉएडा के बहुत चक्कर लगाए पर सफलता ना मिली.

मैं कुछ बोलना चाहती थी, पर मुँह में लंड होने के कारण बोल नहीं सकती थी.

आप अन्तर्वासना की रसभरी चुदाई की कहानी पढ़ कर मेरी और प्रिया की चुदाई का मजा ले सकते हो. जो बचे थे वो गीले हो गए, एक अंडरवियर तक नहीं बचा और उस पर आप ऐसे बैठी हैं. मैं 21 साल का एक युवक हूँ। मैं महाराष्ट्र के धुले डिस्ट्रिक्ट मैं रहता हूँ। मैं दिखने में सामान्य हूँ और पतला हूँ पर जिम जाने की वजह से मेरी बॉडी टोंड है।यह कहानी तब की है जब मैं 12 क्लास पास करके कॉलेज में आया था। हमारे कॉलेज में यों तो कई सुंदर लड़कियाँ हैं पर उनमें से जिस लड़की की तरफ मेरा ध्यान गया उसका नाम था अंजलि(नाम बदल हुआ)।अंजलि दिखने में एकदम गोरी, उसकी हाइट 5.

इसलिए मैंने आंटी की चूत की चुदाई को बीच में ही रोक दिया और आंटी के चूचों के निप्पल को अपनी चुटकी में लेकर काटने लगा. मैं बाथरूम में गया ही था कि पीछे से भाभी अपनी नंगी जवानी को लिए अन्दर आ गईं.

जहां शीला ने मेरा सारा वीर्य पी लिया, वहीं मैंने पद्मा की चूत का पानी पिया. बस मैंने उसको बोल दिया कि देखो धारा मैंने जब से तुमको पहली बार देखा था … तब से तुम मुझे पसंद आ गई हो और तुमसे शादी करना चाहता था, लेकिन जब मुझको पता चला कि हमारे बीच में दस साल का फासला है … तब मुझे बहुत ज़्यादा दुख हुआ और इसी वजह से मैं तुमसे शादी तो नहीं कर सकता, लेकिन एक बात का पक्का यकीन दिला सकता हूँ कि मैं तुम्हें इतना प्यार करूँगा कि तुम अपने पिछले सारे सभी दुख भूल जाओगी. पहले दोनों मुस्कराई, फिर वाणी बोली- बताया तो था कि मेरी कामवाली है.

पंजाबी सेक्सी देसी बीएफ

वो जोर से चिल्लायी और वैसे ही मैंने अपना वीर्य उसकी चूत में छोड़ दिया.

वो कसमसाती रही, लेकिन जैसा कि नेचुरल है किसी भी चूत को एकदम से लंड लेने में दर्द होता ही है, बाद में चूत लंड लंड करने लगती है. जब पूरी तरह से उसने मेरी चूत को चोद लिया तो अपना सारा माल चूत में ही छोड़ दिया. फिर मैंने उसको अपने सीने से लगा लिया और उसकी पीठ के ऊपर हाथ फिराने लगा.

पैंटी पतली डोरी वाली थी, जिससे केवल योनि की दरार ही छिपती थी, मगर योनि के उभार उस पर छप जाती थी. भाभी बोली- रेशमा … साड़ी उतार दे!इतना कहकर भाभी ने भी अपनी नाइटी उतार दी. अंग्रेजी बीएफ पिक्चर चुदाई वालीएक अजीब सी खुशी थी जिसको मैं शायद शब्दों में नहीं कह पा रहा हूँ।उसी वक़्त कोमल का मैसेज आया- जानू, आज पहली बार किसी ने मुझे इतना प्यार किया है; आज से मैं तुम्हारी हो गई हूँ.

थोड़ी देर बाद ही उसके बॉस की गाड़ी ड्राइवर लेकर आया और उसने मेरी बीवी को चलने को कहा. कुछ ही मिनट के बाद सुषी फिर से मेरा साथ देने लगी और चुदाई के लिए फिर से तैयार हो गई.

मैंने भाभी की चूत को चूमा, उसके अंदर अपनी जीभ डाली और भाभी के दाने को अपने होठों से चूसा, तो भाभी बेड के ऊपर अपना सिर मारने लगी और मुझे अपने ऊपर खींचने लगी. फिर सबसे मिला नमस्ते किया, सबने मेरा स्वागत बड़े ही अच्छे तरीके से किया. इस तरह उसकी चूत मेरे लंड से छूने लगी और उसका चेहरा मेरे चेहरे के सामने था.

उसके बाद हम दोनों बाथरूम में जाकर फ्रेश हुए और नंगे ही एक-दूसरे के साथ चिपक कर सो गए. शंकर जी- नहीं बाबा … ये गांड का छेद आपको ही मुबारक, मुझे इन सब चक्करों में नहीं फंसना है. अपने लंड पर थोड़ा सा थूक लगाया और उसकी चूत के ऊपर लंड को रखकर एक जोर का धक्का दे दिया.

अब उसकी पीठ मेरे सीने से लगी थी और मैं दोनों हाथों से उसके चुचे दबाने लगा.

मैंने ये अंदाज ऐसे लगाया क्योंकि उसके पास कोई एंड्राय्ड फोन नहीं था. फिर बारी उसकी थी, वो कुतिया के जैसे बन गई और मेरा अंडरवियर नीचे करके एकदम झट से लंड को मुँह में भर के चूसने लगी.

वो गले में दुपट्टा डाले हुए थी, फिर भी उसके तने हुए चूचे इतने सुडौल और बड़े थे कि कुर्ती से बाहर निकलने को मज़बूर से दिख रहे थे. इस बार चुदाई का खेल लम्बा चला और आंटी ने अपनी चूत की खुजली मिटवा कर ही छोड़ा. ये भी आपको बताया ही होगा दूसरों की इज्जत उछालने में तो पूरे तिवारी परिवार की पुरानी आदत है.

इसके साथ ही उसके शरीर ने झटके लेने शुरू किए, उसके पेट के नीचे और बुर के ऊपर का हिस्सा फूलने पिचकने लगा और फिर वो लम्बी- लम्बी सांसें लेते हुए पूरी तरह शांत हो गई. अब अड्रेस नहीं बता रहा हूँ … वरना मिर्ज़ापुर के कुछ रंणबांकुरे उसके घर तक़ पहुंच जाएंगे. पापा ने उठकर मम्मी की टांगों को मोड़ा और अपना लंड मम्मी की सुंदर चूत के अंदर दे दिया और ऊपर नीचे अपने चूतड़ों को करते हुए मम्मी को चोदने लगे.

मोटी मेहरारू का बीएफ ये सब मैं भी देख रहा था कि ऑफीसर रवि अपनी उंगलियों को ऋतु की गांड के आस पास घुमा रहा था. गीता ने वाणी के कन्धे के ऊपर से उसे पकड़ लिया ताकि वो सीधी ना हो पाये.

अक्षरा के सेक्सी वीडियो

वो भी उत्तेजना में बिल्कुल मस्त हो गई और मेरे गाल पर ओर गले पर बेतहाशा चूमना लगी. मैंने उसके माथे पर किस किया और किचन में उसके लिए कुछ बनाने चला गया. उसने एक मुक्त सी हंसी बिखेरी और बोली- पहले टेस्ट होगा, फिर काम पक्का होगा.

फिर वह मेरे पैंटी के ऊपर, जहां फूली हुई जगह थी, जिसके नीचे मेरा खजाना छुपा था. तकलीफ के मारे जरीना का मुँह खुल गया और आंख से पानी आ गया, वह जोर से चिल्लाई- आईईई माँम्म्म्म्म् म्माआआ … घुस्स्स गया आआआ … मेरी बुर फ़. সেক্স করিपर मैं क्या कर सकती थी … कभी वो मेरे चेहरे पर अपने हाथ से हल्के से चांटा मारता, कभी मुझे जकड़ कर चूसने लगता.

चूंकि मैं कुर्सी पर बैठा था इसलिए सोनू आराम से मेरे लंड के उभार के ऊपर बैठ गई.

मैं कुछ भी समझ नहीं पा रही थी कि तभी उन्होंने मेरे पिछवाड़े में वही चीज बहुत सख्त सी, उनकी पैंट की जिप के पास से चुभने लगी और अब वह पीछे से हाथ मेरे आगे लाकर कुर्ता और समीज के अन्दर से मेरे पेट को सहलाने लगे. बहुत दिनों बाद मैं अपने ससुराल गया था, फोन से मुझे पहले ही मालूम हो गया था कि सलहज इंदु और साले की बीच रोज़ मार पीट होती है.

मैंने महसूस किया कि ऐसे डर के साथ चुदाई करने में जल्द पानी नहीं निकलता. मैंने भी उस को कुछ नहीं कहा और कुछ देर तक लंड को अंदर ही पड़े रहने दिया. वो चल पड़ा तो निक ने भी बोला- सच में बे, तेरी माल बड़ी मस्त है … सचमुच चुदाई में मजा आ गया.

एक दो बार तो ऐसा तक हुआ कि उसने दोस्त के नीचे लेटे हुए ही मेरा नाम लेकर जोक करना शुरू कर दिया ताकि मेरी झांटें सुलगा सके.

रिशु ने मिशिका की ब्रा के हुक खोल दिए और उसने मिशिका दीदी के कबूतरों को खुला छोड़ दिया. मैंने उसे लेटा दिया और उसकी चूत को चाटने लगा और उसे फिर से तड़पाने लगा. मैंने कहा- मगर बताओ तो सही क्या है ये?उसने कहा- तुमको मुझ पर भरोसा नहीं है क्या?उसकी ये बात सुनकर मैंने उसके बाद उससे कोई सवाल नहीं किया और चुपचाप उसके हाथ से गोली लेकर खा ली.

बीएफ हिंदी गाने वालीलेकिन मेरा अभी बाकी था … मैं चुदाई में लगा रहा और करीब दस मिनट के बाद मैंने लंड बाहर निकाला और कंडोम हटा कर लंड का माल उसके मम्मों पर मेरा माल गिरा दिया. पांच मिनट दे दनदना दन करने के बाद जैसे मेरी आंखों में नींद सी भर आई और मेरे लंड ने वीर्य की एक जोरदार पिचकारी सारा की चूत में छोड़ दी और मैं निढाल होकर बिस्तर पर लेट गया.

ब्लू पिक्चर हिंदी में इंडियन

सच दोस्तो, उसकी मासूम कातिलाना मुस्कान वाली पिक देखकर ही मैं पागल हो गया. आशीष बोला- तुम तो पागलपन की हद से ज्यादा खूबसूरत और सेक्सी हो बंध्या. किसी और के नामर्द होने की सज़ा तुम अपने आपको क्यों दे रही हो, तुम्हें भी तो बाकी लड़कियों की तरह जिंदगी के मज़े लेने का और अपनी शारीरिक ज़रूरतें पूरा करने का हक है.

इस पर गीता बोली- अरे वाह … जब वाणी जा रही थी तो उसे नहलाने जा रहे थे. सच दोस्तो, उसकी मासूम कातिलाना मुस्कान वाली पिक देखकर ही मैं पागल हो गया. मैं उसके चूचों को दबाता रहा और उसके मुँह से सिसकारियां निकलती रहीं.

दस मिनट की चुसाई के बाद उसने मेरी पेंटी उतार दी और मेरी चुत को चाटने लग गया. भाभियां मेरे पड़ोस वाली मुझे चुदाई के किस्से सुनाती थीं, तो ही कुछ वही पता था. वह बोले- फिर अंकल बोली?मैं बोली- नहीं … राजा जी थोड़ा आराम से करना … मुझे दर्द ना हो.

हमने हितेश को भी बता दिया कि उसे क्या करना है और उसके बाद का तो तुझे सब मालूम ही है. मीशा चीख पड़ी- ऊई मेरी माँ, मर गयी उई उई उई … ये तो बहुत मोटा है, भैया बड़ा दर्द हो रहा है, मर गई मैं तो, मर गई आप तो कह रहे थे थोड़ा सा दर्द होगा.

मैं धीरे से बोली- ऐसे ही कर ले … कहीं किसी को पता चल गया तो बवाल हो जाएगा.

मैं चुदाई के साथ साथ उसकी गांड में थूक टपकाता जा रहा था, जिससे चिकनाई बनती जा रही थी और लंड सटासट अन्दर बाहर होने लगा था. सेक्सी वीडियो बढ़िया दिखाइएमेरी पिछली कहानियाँ थीलुटने को बेताब जवानीनौकरानी के पति से तन की आग बुझाईकई वर्षों के बाद आपकी रीना फिर हाज़िर है अपनी दास्तां लेकर. देहाती चुदाई बीएफहैलो बोलते ही कान में आवाज आई- लव यू प्रिंस!मेरी मुस्कुराहट खुद-ब-खुद होठों पर आ गई. धीरे धीरे उनकी मस्त आहें फिर से निकलने लगीं, तो मैंने एक लास्ट धक्के के साथ अपना पूरा लंड उनकी बुर में घुसा दिया.

रात को हम जैसे रोज़ करते हैं, वैसे ही चुदाई कर रहे थे और चुदाई करते समय आवाजें निकालने की मेरी आदत है, क्योंकि उसके बगैर हम दोनों को ही मज़ा नहीं आता था.

उसने मेरे गांड के छेद से अपनी उंगली निकाल दी और अपनी जीभ को नुकीली करके मेरी गांड में डालने लगा और चाटने लगा. उसकी गांड को चोदने में बहुत मज़ा आ रहा था जिसको मैं यहां बता नहीं सकता हूं. अब उसकी चूत का मंथन अपने लंड से करने के लिए मेरे सब्र का बांध भी मेरे सेक्स के आवेग को ज्यादा देर संभालने में नाकाम दिखाई देने लगा था इसलिए मैंने एक धक्का और मारा जिसके साथ ही पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया.

शाम को आंटी मेरे घर आई और बोलने लगी- अजय दो महीने से मेरी हालत बहुत खराब है, तुम बस मुझे 15 दिन का टाइम और दे दो. चौबीस साल लगते ही अब्बू ने एक पुराने जानकार एक अच्छे परिवार में मेरा रिश्ता तय कर दिया. इतने में अब्दुल ने मेरी गर्दन पकड़ के पूरा जोर लगाया और सुपारा चूत की दरार के अन्दर कर दिया.

खेसारी लाल की बीएफ

अब मन की ख्वाहिश पूरी करने के लिए चुत को दुकान से तो खरीद नहीं सकते थे. हर वक्त मैं इसी बात को लेकर परेशान रहने लगा था कि आखिर इस समस्या का इलाज हो तो हो कैसे. दस मिनट की लिपटा चिपटी के बाद वो मुझे अपने बाथरूम में ले गयी, जिधर हम दोनों नंगे थे.

मैंने मामी से पूछा- आप मिनी स्कर्ट भी पहनती हो?तो वो बोली- बस एक बार पहनी थी उसके बाद नहीं पहनी।मामी की उम्र कुछ ज्यादा नहीं थी.

अब वह मेरे लंड को सुपारे से ले कर टट्टों तक उछल-उछल कर चुदवा रही थी.

निक ने मेरे मुँह को अपने हाथों से खोला और उसमें शराब टपकाने लगा और फिर अपने होंठों से मेरे होंठों को चूसने लगा. मिसेज रॉय की हरकत के बाद उनके चेहरे पर कुछ सवाल उभर आए थे, जो मैंने पढ़ लिए थे. बंगाली सेक्सी एक्स एक्समैं फिर से गर्म और गीली होने लगी थी और अपनी उत्तेजना में उसके लिंग को बेरहमी से दबाने और जोर जोर से हिलाती गई.

मैं फौजी हूं और एयरपोर्ट रोड पर ग्रीन फील्ड में अपने एक दोस्त के साथ किराये पर रहता हूं. जैसे ही भाभी को मनोहर के लंड में तनाव महसूस हुआ उसने मनोहर के लंड को अपने मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया. इन्हीं सब सवालों की उधेड़बुन और ऑफिस के कामों में मैं लगा रहा … और शाम को काम खत्म करने के बाद घर आ गया.

मैं रवि के ऊपर उनके लंड पर बैठ कर चुदने लगी तो पीछे से मेरी खुली गांड को देख कर राज अंकल मेरी गांड मारने की प्लानिंग करने लगे थे. थोड़ी देर बाद मैंने हाथ इधर-उधर घुमाना शुरू कर दिया और हाथ को पूरी कमर पर फिराते हुए भाभी की चूचियों को छुआने लगा.

मैंने भाभी की पेंटी उठाई और उनको आवाज़ लगा दी कि मैं अपने रूम में जा रहा हूँ.

थोड़ी देर में भाभी ने पूछा- तेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है?मैं थोड़ा खुश हुआ कि चलो आज बात बन सकती है. उसने मेरे निप्पलों की भी किस करना चालू कर दिया और बारी बारी से वो मेरे दोनों निप्पलों को दांतों से काटने में लग गई. उन्हें भी …मैं- पर मम्मी जी, कब तक पराये मर्द के साथ लाइफ जिएंगे, कोई अपना भी तो होना चाहिए ना आगे की लाइफ बिताने के लिए …सासू माँ- देख बेटा, जब तक जवानी है ना … तब तक ही लाइफ को जिया जाता है.

लड़के लड़कियों की बीएफ फिर मैंने उसे घोड़ी बनाया और खुद घोड़ा बनकर पीछे से उसकी चुत में लंड घुसा दिया और जमकर चोदने लगा. थोड़ी ही देर बाद पद्मा गर्म होकर झड़ गयी और मेरा लंड भी शीला के मुँह में झड़ गया.

इसी तरह चूमते चाटते मैं उसकी गांड पे आ गया और ज़ोर से उसकी नंगी गांड पे एक थप्पड़ मारा. अब आप ही सोचिए कि जब लड़की को गर्म कर के छोड़ दिया जाए, तो क्या वो लंड के बिना रह सकती है?खैर. भाभी की तबीयत ठीक ना होने के कारण मैंने ही दूध गर्म किया और भाभी और मैं साथ में दूध पीकर सो गए.

जीजा साली का सेक्स बीएफ

वे लंड मेरी चूत के अन्दर डालने लगे और आखिर में उन्होंने अपना पूरा का पूरा लंड मेरी चुत में घुसेड़ ही दिया. पिछले 20 मिनट में तीन बार मिस कॉल कर चुकी है, बस उसको उसके ऑफिस से लेकर सीधे घर और अगले ढाई दिन साला कच्छी तक पहनने नहीं दूंगा उसको. तभी अजय उठा और रसोई में से तीन मग बियर डाल कर ले आया- लो पम्मी जान, तुम्हारे आने की ही खुशी में मंगंवा रखी थी.

प्रिया का दूध से ज्यादा सफेद, चिकनी बगलें, साफ़ बेदाग़ बदन देख कर मेरा तो भेजा ही आउट हो गया. मैंने एक हाथ से पंकज के लंड को पकड़ लिया और अपनी जलती हुई गर्म चूत पर रखवा दिया.

पहली बार उसकी जवानी को किसी ने छुआ था!मैं उसकी गांड के बीच में अपना लिंग रगड़ने लगा और उसे गले और पीठ पर चाटने लगा, बोबे दबाते हुए! उससे रहा नहीं गया और पलट कर उसने मेरे होंठों पर अपने होंठ रखकर पागलों की तरह चूसने लगी.

वो किचन से एक खीरा लायी और मुँह में लेकर ऐसे चूसने लगी जैसे लंड चूस रही हो. मैंने खाला से पूछा- ज़रीना के लिए क्या सोचा है?तो खाला बोलीं- अभी सोच रहे हैं … सोचती थी कि तुमसे इसका निकाह करवा दूँगी. ’इतना बोलकर पद्मा उठकर ऊपर आ गयी और अपनी दोनों चूचियां बारी बारी से मेरे मुँह में देने लगी, वहीं शीला पूरा लंड मुँह में लेकर जोर जोर से चूसने लगी.

पापा बोले- वर्षा मुझे पता नहीं था कि तिवारी इतना कुटिल स्वभाव का है, मुझे माफ़ करना … मैं बस अँधा होकर मेरी बच्ची को मारता रहा. इसके साथ ही उसे नीना के चेहरे पर कातिल मुस्कान दिखाई पड़ी तो उसने एक झटके में ब्रा का हुक खोल दिया, जिससे दोनों आजाद कबूतर हवा में उड़ने लगे. इससे पहले मैं कई लड़कियों को चोद चुका हूं, पर अन्तर्वासना ये मेरी पहली कहानी है.

उत्तेजना तो मेरे बदन में भी भारी हुई थी लेकिन वो अंकल की उम्र से मुझे थोड़ी हिचक हो रही थी.

मोटी मेहरारू का बीएफ: मैंने धीरे-धीरे सोनू के पेट के निचले हिस्से पर हाथ फिराना चालू रखा. यह बोलते बोलते मेरे लंड ने लम्बी पिचकारियों के साथ अपना गाढ़ा माल उनके मुँह में उगल दिया.

इतने में गैस की लाइट लिए मुझे हाथ में निहाल जाते दिखा और उसके साथ एक बड़ी सी ट्रे में नाश्ता लिए अंकित दिखा. मैंने भाभी से पूछा- क्या प्रोफेसर साहब का इतना बड़ा नहीं है?तो भाभी कहने लगी- प्रोफेसर साहब तो नाम के ही आदमी हैं, बाकी उनमें कुछ नहीं है, उनका लंड तो बिल्कुल छोटा सा है, लगभग 3 या साढ़े 3 इंच का होगा और वह भी उनके टट्टों के अंदर ही घुसा रहता है. मैं भी अपने आठ इंच के लंड को पूरी स्पीड से गदराई चुत के होल से सुरंग से पानी निकालने में लगा था.

मैं सलवार ऊपर खींचते हुए अपना सलवार का नाड़ा बांधते हुए बारात घर तरफ तेजी से चल दी.

वैसे भी जिनके पास चूत और लंड का कोई इंतजाम नहीं होता है, उनके लिए अन्तर्वासना तो है ही. भाभी मुस्कुराने लगी और मुझे कहने लगी- अब तुमने मेरा शरीर और मेरी चूत सब देख ली है, जरा उसका भी हिसाब किताब चेक करो. तभी मैंने एक करीब 30 वर्ष का नौकर जवान सा ठीक ठाक लड़का देखा, उससे मैं बोली- भैया पानी मिलेगा?तो वह बोला- हां बिल्कुल मिलेगा.