देसी फिल्म बीएफ हिंदी में

छवि स्रोत,देसी सेक्सी वीडियो जवान लड़की

तस्वीर का शीर्षक ,

काजल अग्रवाल बीएफ वीडियो: देसी फिल्म बीएफ हिंदी में, पर उससे बात तो हो नहीं पाती, तो बस मैं खुशी की खुशियों का जरिया बनाकर अपने को सुकून पहुंचा लेता था।मैंने खुशी से ना ही उसकी उम्र पूछी थी, और ना ही शरीर का नाप! और ना ही कोई अन्य जानकारी जो सामान्यतः हम सेक्स चैट या नये दोस्त बनाने के समय मांग लेते हैं.

सेक्सी वीडियो आजा आजा

मैं भी उनका साथ दे देता था … पर सांस सम्भालने के लिए मुझे अलग होना पड़ रहा था. सेक्सी वीडियो एंड फोटोससर्दियों का समय होने की वजह से रात को ओस गिरती थी और कोहरा भी कहर बरपा रहा था.

अब तक की सेक्स कहानी में आपने पढ़ा था कि एक अफ्रीकन हब्शी मेरे बिजनेस के लिए एक डील करने वाला था और वो मुझे चोदना चाहता था. हिंदी मुसलमानी सेक्सीइतने में उस कमीने ने दूसरा झटका दे मारा और पूरा लंड चुत के अन्दर घुसेड़ दिया.

मैं थोड़ा सा चीखी भी … पर थॉमस ने एक दो और झटके मार कर अपना पूरा लंड मेरी चुत के अन्दर डाल दिया.देसी फिल्म बीएफ हिंदी में: और धीमे धीमे पीछे को तरफ धकेलने लगी।कुछ ही देर बाद उसका पूरा लन्ड मेरी गांड में अंदर बाहर होने लगा। अब मुझे बहुत मजा आने लगा था.

उसे मैंने अपना नाम बताया और फिर मैंने उसका नाम पूछा, तो उसने बहुत ही प्यारा नाम सपना (बदला हुआ नाम) बताया.फिर रोहन बोला- अंजलि चलो अब मुझसे रहा नहीं जा रहा, मुझे अब तुम्हें चोदना है.

सेक्सी चायना सेक्सी - देसी फिल्म बीएफ हिंदी में

तो वो थोड़ा सा उदास होकर बोलने लगीं कि सच बोलूं तो मेरी शादी तो एक बूढ़े से हो गई है.साली जी एकदम फ्रेश लग रहीं थीं और खूब अच्छी तरह से टिपटॉप होकर आईं थीं.

फिर उसने मुट्ठीभर गुलाल मेरे सिर पर डाल दी और मुंह पर भी मल दी और फिर मुझे बांकी चितवन से देखती हुई निकल ली जैसे आंखों ही आंखों से कह रही हो कि जीजू आप तो एकदम लल्लू टाइप के हो. देसी फिल्म बीएफ हिंदी में मैंने भी नीट व्हिस्की के लम्बा घूँट भरा और मुँह का स्वाद बदलने के लिए लंड को चूस लिया.

रमेश लड़की को गर्म करने की कला में पूरा मास्टर था जिसका असर रश्मि पर साफ दिख रहा था.

देसी फिल्म बीएफ हिंदी में?

एक दिन मामी ने पूछा- कॉलेज में कितनी लड़कियां पटा ली हैं?मैंने कहा- कहां मामी … कोई गर्लफ्रेंड है ही नहीं … होती तो क्या आपसे इतनी बातें करता. थॉमस बोला- अरे अंजलि, तुम वहां रोहन की गोद में क्या कर रही हो? तुम्हें मेरे पास होना चाहिए. बॉस ने धीरे से अपना हाथ मेरी गर्लफ्रेंड के कंधे पर रखा और बोला- आज काम बंद करो … आओ बैठ कर बातें करते हैं.

भाभी ने कहा- ठंड बहुत ज्यादा है, हमें गीले कपड़े उतार कर बैठना पड़ेगा, नहीं तो हम ऐसे ही मर जाएंगे. मैं भी वासना के वशीभूत थी … क्योंकि मैं भी बहुत दिनों से चुदी नहीं थी. मैंने पूछा- क्या बात है, मुझे ऐसे क्यों बुलाया?खुशी ने कहा- अरे जरा ठहरो तो! अभी बताती हूँ.

कभी कभी भाभी को देखकर भाभी की चूत की चुदाई का मूड होता है, मैं उनको बोलता भी हूँ लेकिन फिर हम लोग कंट्रोल कर लेते हैं. कुछ देर बाद अम्मी ने जब मेरा लंड अपने मुँह से बाहर निकाला तो लंड फिर से कुछ कुछ खड़ा होने लगा था. मैं न तो उसके मम्मों को दबा पा रहा था और न ही उसकी चुत तक उंगली ले जाने की हिम्मत हो रही थी.

तभी उनका दूसरा हाथ मेरी कमर पर आ गया और मेरे शरीर में एकदम झटका सा लगा. नतीजा ये हुआ मैं कराह उठी, मैं एक झटके में बेड से ऊपर उछल गयी। मैंने उसके हाथों पर अपने नाखून धंसा दिए। मैंने अपने पैरों की कैंची खोल दी पर उसने मेरी जांघों को दबोच रखा था, मैं पीछे नहीं जा सकी।मेरे सामने रोने के अलावा कोई चारा नहीं था। मेरी आँखों से आंसू छलक पड़े।वो आगे की तरफ झुका और मेरी गर्दन पर धीरे धीरे काटने लगा। इससे मेरा थोड़ा ध्यान भटका.

पिछली कहानी के लिए आप सभी के जितने भी मेल आए, मैंने उन सभी को जबाब दिया.

साली जी तुरंत घूम गयी और प्लेटफोर्म पर अपनी कोहनियां रख कर झुक गयी.

उधर राजू मेरे बूब्स बहुत जोर जोर से दबा रहा था जिससे मुझे मजा आ रहा था. फिर कुछ देर बाद अचानक से स्नेहा मेरे लंड को हिलाने लगी औऱ फिर चूसने लगी. ””क्या इन सब के बारे में तुम्हारे मम्मी पापा को पता है?”नहीं सर … मेरे से बहुत बड़ी गलती हो गई आई एम् सॉरी.

वो केवल अपने बॉयफ्रेंड के लंड की चुसाई करके ही उसको खुश करती आ रही थी. भाभी जी की गांड में ऐसा जादू था कि मरीज सिर्फ़ उनकी गांड देखने के लिए बार बार आते थे. उसकी स्पीड बहुत तेज हो गयी थी और वो मुझे गालियां देते हुए चोद रहा था- साली … कुतिया … तेरी चूत-गांड को फाड़ कर रख दूंगा मैं.

पायल कमरे में आते हुए मुझसे नजरें मिला कर ऐसे नजरें मटका रही थी, जैसे मैं उसकी क्लास में पढ़ता हूँ.

प्यासी जवानी की कहानी में पढ़ें कि कैसे मैं अफ्रीकी चोदू यार से चुद रही थी और मेरा चूतिया पति मुझे खिडकी से देख रहा था. ’उसने एक दो झटके और मारे और अपना 12 इंच का लंड मेरी चुत में उतार दिया. अगले दिन मैं रात को दुकान को जल्दी बंद करके अंदाज़े से उसके लिए मस्त लाल ब्रा पैंटी, एक पारदर्शी नाइटी काले रंग की, जो मेरे हिसाब उसके चूतड़ों को भी ठीक से ढंक नहीं पाती.

दोस्तो, मैं फेहमिना एक बार फिर आप सबके सामने अपनी एक सेक्सी कहानी लेकर हाज़िर हूँ. कुछ क्षण देखने के बाद बोली- तुम्हारा लन्ड सच में बहुत मोटा और कड़क है. वो वापस जाने के लिए मुड़ी ही थी कि मैंने उसकी बांह पकड़ ली और कहा- पहले बताओ कि तुमने मुझे माफ किया या नहीं!नेहा ने कहा- मैं तो आपसे नाराज ही नहीं हूँ सर … फिर माफी कैसी … और मुझे अपनी औकात पता चल गई है, मैं आपसे नाराज होने की गुस्ताखी कैसे कर सकती हूं.

कॉलेज गर्ल हॉट ओरल सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपने पड़ोस की एक कमसिन सेक्सी लड़की की पैंटी उतरवा कर उसकी चूत देखी.

फिर अंधेरे में हम दोनों ने अपने अपने गीले कपड़े उतार दिए और एक दूसरे की तरफ पीठ करके बैठ गए. जो कोई भी पहले आए, मेरे लिए तो एक जैसा ही है।सोहन बोला- तू मुझसे 3 मिनट बड़ा है, पहले तू चढ़।रोहण ने मेरी टाँगें खोली, और अपना लंड मेरी फुद्दी पर सेट किया.

देसी फिल्म बीएफ हिंदी में भाभी ने फिर पूछा- राज, तुम इतने अच्छे हो फिर भी तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है, क्या बात है?मैंने कहा- भाभी कोई पसंद आएगी तो ही तो गर्लफ्रेंड बनाऊंगा?भाभी कहने लगी- राज तुम्हारी पसंद कैसी है?मैं अपना मुंह भाभी के कान के पास लेकर गया और भाभी को पूरा मक्खन लगाते हुए कहा- आप जैसी. मुझे मजा आने लगा था मगर मैं अपनी योजना के अनुसार उसके सामने चीखे जा रही थी ‘आह आह फ़क मी सर … आहह आह आह सर.

देसी फिल्म बीएफ हिंदी में आखिरी बूंद झड़ने तक तक मुझे ऐसा एहसास हुआ, जैसे मैं न जाने कितनी हल्की हो गयी हूँ. वो मुझे दोनों हाथों को फैलाकर घेर रहा था। मैं भी इधर उधर भाग रही थी।इस बार वो केक लगाने के लिए मेरी ओर दौड़ा और थोड़ा कामयाब भी हुआ। थोड़ी सा केक मेरे बायें गाल पर लगा दिया। लेकिन मैं फिर भी भागी और तभी उसने पीछे से मेरा गाउन पकड़ लिया।मैंने कहा- छोड़ो.

यह बात सुनकर रोहन बहुत खुश हुए फिर रोहन बोले- अच्छा डील के पेपर तो दिखाओ.

बीएफ सेक्स देसी बीएफ

थोड़ी थोड़ी देर में मैं भाभी की उंगली पर अपनी उंगली फिराने लगा।कुछ देर बाद भाभी का रिएक्शन जानने के लिए मैंने उंगली को दूर कर दिया. कुछ देर की लंड चुसाई के बाद उसके लंड की मलाई बह निकली, जिससे मेरा पूरा मुँह भर गया और बाहर गिरने लगा. मेरी पिछली कहानीट्रेन में मिली गर्लफ्रेंडआपने पढ़ी जिसे आप लोगों ने काफी प्यार दिया था.

वो मेरी गांड को जोर जोर से मथ रही थीं और मैं उनके ऊपर पूरे जोर शोर से अपने लंड की मार कर रहा था. बदले में उसने भी मेरे शरीर को चूमना शुरू कर दिया।मैंने उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया, उसकी कुर्ती को ऊपर कर दिया। उसने काली ब्रा पहनी हुई थी। ब्रा को चूचियों पर से हटाते हुए मैं उन्हें सहलाने लगा. ये सुनकर मैंने मन ही मन सोचा कि मौका मिलने पर सब चौका मारते ही हैं.

मैंने अपनी ड्रेस पहले से एक नंबर छोटा लिया और उसको एकदम फिटिंग का करवा लिया.

खाना आज सुबह ही बना दिया था।11 बजे तक मां पिताजी खा पीकर ट्रेन पकड़ने के लिए निकल पड़े। अब उन्हें अगले दिन आना था।मैं भी खा पीकर 12 बजे दोपहर तक बिस्तर पर आ गयी।आज मेरे मन में अजीब सी हलचल हो रही थी, सुबह से ही चूत ने अपना मौसम बना लिया था। मेरे मन में अब बस एक बात थी कि पतिदेव के पास फ़ोन करूँगी और खूब सारी गंदी बातें करके चूत में उंगली करूँगी. com/chudai-kahani/general-lingeshwar-ki-kal-bhairvi-1/नामक कथा जिसमें सलोनी नामक कमसिन बाला के प्रेम प्रसंग का वर्णन था।ओके … कोई बात नहीं … तुम्हें जैसे पसंद हो वैसे ही करेंगे. मैंने थॉमस को गुड मॉर्निंग विश किया, तो थॉमस भी जाग गया और उसने भी मुझे गुड मॉर्निंग विश किया.

जुनैद ने मुझे चुदने के लिए राजी देखा और मेरे हाथ को अपने लंड पर महसूस किया, तो उसने जल्दी से अपने सारे कपड़े उतार दिए. पर अगर आपने मेरी गांड नहीं मारी ना … तो आपकी चूत तो क्या … गांड भी मार मार कर खून निकाल दूंगा मादरचोद. प्रतिभा का शरीर फिर ज्वर की भांति तपने लगा … चूत लपलपाने लगी, गांड का छिद्र खुल बंद होकर सांस लेने लगा.

तकरीबन दो मिनट तक उसने मेरी चूत चाटी और अपनी तौलिया खोल कर मुझे लंड चुसवाने लगा. एक दिन मैंने बातों ही बातों में मामी से उनके सुहागरात वाली रात की बात पूछ ली.

हमें कोई डिस्टर्ब करने वाला नहीं था और देहरादून की मीठी मीठी ठंड में लंड का मजा लेकर मैं पूरा दिन गर्म रहती थी. मुझे पता ही नहीं चला रोहन कब तक मुझे चुदते हुए देख कर गए हैं … क्योंकि मैं उस समय सिर्फ थॉमस के मोटे लंड से चुदने में मदहोश थी. आरूषि- हैलो स्वीटहर्ट! थैंक्यू कि तुमने मुझे इस सेक्स वीडियो चैट सेशन के लिए सिलेक्ट किया.

पकड़ से छूटने के लिए मैं आगे की ओर खिसकी ही थी कि मुझे किसी ने आगे से रोक लिया.

इसको पूरा मुंह में ले साली)इतने में ही वीना की चूत ने पानी छोड़ दिया. और उस अंकल ने लुंगी पहन ली।अब उस अंकल ने मुझे और मम्मी को एक कमरे में बिस्तर पर सोने को कहा. तो उसने भी साजिया के मदमस्त यौवन को बुर्के के ऊपर से ही निहारा और मुझसे कहा- हां यार, माल तो कंटाप है.

कुछ देर बाद वो मेरे से बोला- मेरी मारोगे?मैंने कुछ नहीं कहा तो उसने अपनी गांड खोलते हुए अपना पंचा ऊपर कर लिया. com/gandu-gay/pehli-bar-gand-marwane-ka-sukh/पढ़ने और उस पर आपके विचार मुझे मेल करने का बहुत बहुत बहुत शुक्रिया.

फिर उसने जैसे ही मेरी चूत के ऊपर चूमा तो मेरी सारी बॉडी में सरसरहाट दौड़ गयी. ”अब मैं कोहनियों के बल होकर उसके ऊपर आ गया। मैंने ध्यान रखा मेरे शरीर का पूरा बोझ उस पर नहीं पड़े।बस बेबी … अब तो पूरा चला गया है अब दर्द नहीं होगा. फिर कुछ देर बाद उसने फिर से लंड चूत में से निकल कर गांड में डाल दिया और धक्के मारने शुरू कर दिए.

ब्लू फिल्म सेक्सी बीएफ सेक्स

मैं सभी शादीशुदा मर्दों से कहना चाहती हूं कि कभी आप ऐसा ही ट्राई करें.

मैं कुछ समझ पाती कि अनिकेत ने अपने पैर के अंगूठे से उस रसगुल्ले को अन्दर मेरी नंगी चुत में ठेल दिया. फिर वह मुझे पीछे से पकड़कर गर्दन पर चुम्बन करते हुए मेरे 34 के उरोजों को मसलने लगा। मेरा नाचना गाना बन्द हो गया. उन्होंने अपनी पैंट की जेब से रुमाल निकाला और बोले- इसको अपनी आंखों पर बांध लो मेरी जान, मैं तुम्हें पट्टी बांध कर चोदना चाहता हूं.

जैसे ही धीरे धीरे लण्ड आगे बढ़ा तो एक जगह जाकर रुक गया और बिन्दू कहने लगी- अब बस करो, अब दर्द हो रहा है. तभी धीरेन्द्र उठा और बोला कि अगर तेरे नाम की दो बार मुठ नहीं मारी होती, तो आज मैं तुझे पूरे मज़े देता. अक्षरा की सेक्सी मूवीउसका एक हाथ मेरे टॉप के अंदर घुस चुका था और उसकी उंगलियां मेरे बूब्स को छू रहीं थीं.

तकरीबन दो मिनट तक उसने मेरी चूत चाटी और अपनी तौलिया खोल कर मुझे लंड चुसवाने लगा. मैं अब झांटें कम ही साफ करती थी … क्योंकि अभिषेक मुझमें रूचि ही नहीं लेते थे.

मैंने कहा- कैसा प्रेम? किससे प्रेम?नेहा ने कहा- आपसे प्रेम … मेरा प्रेम … सच्चा प्रेम … और उस दिन जब खुशी मैडम ने मुझे डांटा, तो मुझे ज्यादा बुरा नहीं लगा, लेकिन मैंने उसकी आंखों में भी आपके लिए वैसा ही प्रेम देखा जैसा मैं आपसे करती हूँ … तो मैं टूट गई. सनम एकदम से बाथरूम में गई और थोड़ी देर बाद बाहर आते ही उसने राजू को थप्पड़ मारा और बोली- बहन के लोड़े, तूने अपने लंड का पानी मेरे मुंह में क्यों छोड़ा?तो राजू बोला- दीदी, मुझसे कंट्रोल नहीं हुआ. मेरा मन तो था कि मैं उस टीचर की चुदाई का एक और राउंड खेलूं लेकिन फिर उसको वापस भी जाना था.

थॉमस ने अपने दोनों हाथ मेरी गांड पर रखे हुए थे और तेजी में मेरी गांड को आगे पीछे करते हुए मेरी चुत को तेज तेज चोदने लगा. हां मेरी जान तुम बताना शुरू करो … मैं तुम्हें और भी जोर जोर से चोदता रहूँगा. उनका ये पेटीकोट उनकी ब्रा के ऊपर तक चढ़ा हुआ था जिससे उनकी गोरी पिंडलियां मुझे उत्तेजित कर रही थीं.

मैंने अपनी स्पीड और तेज कर दी और थॉमस भी मेरी चुत के अन्दर ही झड़ने लगा था.

पर अनन्तः आप लोगो का प्यार, आपकी चाहत मुझे वापस खींच ही लायी।आपने मेरी पिछली कहानी पढ़ीबस के सफर में मिला लंडआप लोगों ने इसे बहुत प्यार दिया. अनिकेत की चौड़ी छाती मुझे जकड़े हुए थी, जिससे मेरे जिस्म में और आग लग गयी थी.

इसके बाद मैंने क्लेरिसा को अच्छी तरह से गर्म किया और उसे फंसा लिया. रमेश का कहा मानकर रश्मि ने अपनी आँखें खोलीं लेकिन इस बार उसकी नज़रें रमेश के टॉवल में बने तंबू से चिपक कर रह गयीं. मैंने नेहा को खुद से दूर करते हुए रूखे स्वर में कहा- नेहा तुम अपनी सीमा लांघ रही हो.

जहाँ वो मुझे चोद रहा था, वहाँ हम दोनों को कोई भी नीचे से देख सकता था. जैसे ही मेरा नंबर आने वाला था, पीछे से आवाज आई- राज, दो टिकट ले लेना, एक मेरी भी ले लेना. मैंने थॉमस की पीठ पर अपने नाखूनों से उसकी पीठ को खरोंच रही थी और अपनी तरफ से थॉमस को जकड़ रही थी.

देसी फिल्म बीएफ हिंदी में किस करते समय वो एक हाथ से गर्लफ्रेंड के मम्मों को और दूसरे हाथ से उसके बालों को सहलाने लगा. वो सिगरेट जला कर पीने लगा, तो मैंने भी उसके होंठ से सिगरेट ले कर धुंआ निकाला और थोड़ा रेस्ट किया.

सेक्सी बीएफ व्हिडिओ पंजाबी

मैंने इस कामुक ड्रेस को पहनने के बाद अपने लम्बे बालों का जूड़ा बनाया और स्कूल के लिए निकल गई. इस बीच मुझे याद आया कि राजू ने बताया था कि वो रोज रात को ख़ुफ़िया रास्ते से हॉस्टल में आता है. भाभी बोलने लगीं- प्रकाश मुझे एक लड़का चाहिये … तुम पहाड़ियों की तरह गोरा, मुझे चोद चोद कर मुझे एक लड़का पैदा कर दो ना प्लीज़.

कुछ देर ऐेसे ही जोर जोर से अपना लंड उसके मुंह में पेलने के बाद रमेश के लंड से वीर्य निकल गया और उसने सारा वीर्य रश्मि के मुंह में भर दिया. अपनी दोनों टांगों को भाभी ने चौड़ा किया और मेरे हाथ को अंदर तक पहुंचने का रास्ता दे दिया. सेक्सी देसी फ़िल्ममैंने खुशी के कमरे में किसी को नहीं देखा, तो खुशी के पास को आने लगा.

लगभग 3:00 बजे के करीब भाभी मेरे कमरे में आई और बेड पर मेरे साथ बैठ कर बोली- राज क्या हाल है?मैं- आप सुनाओ, कुछ ढीली सी लग रही हो, तबियत कैसी है?भाभी- बस … वही, नीचे लाल झंडी आई हुई है, उसी वजह से तीन चार दिन परेशानी रहती है.

धन्यवाद कैसे दोगे?उसके साथ एक हफ्ता हनीमून और क्या!वो तो जब होगा तब होगा, ये बताओ कि अभी दूसरा राउंड होगा?कुरैशी खड़ा हुआ, शैली को हाथ पकड़ कर खड़ा किया, उसकी चूत को धीरे से दबाया- रानी दूसरा भी होगा, तीसरा भी होगा!अरबाज़ बोला- कौन किसकी सवारी करेगा?कुरैशी- यार मेरा तो मालिनी पे चढ़ने का मूड है. अपना हाथ भाभी ने नीचे पैंटी के ऊपर से चूत पर रखा और नीचे झुक कर देखने लगी.

फिर उसकी रसीली चुत की फांकों में लंड का सुपारा लगा कर एक हल्का सा झटका दे दिया. तो मैं अपनी चिकनी नंगी चूत लेकर खड़ी हो गयी उसके सामने।आपकी सुहानी चौधरी[emailprotected]कॉलेज गर्ल की नंगी चूत की कहानी का अगला भाग:कभी कभी जीतने के लिए चुदना भी पड़ता है-3. वो मुझसे कहने लगीं- सच में यार कितना मजा दे रहे हो … तुम मुझे पहले क्यों नहीं मिले.

मैं उनको बता दूं कि मैं कोई रांड नहीं हूँ, जिससे मेरा मन करता है, मैं उसी से सेक्स करूंगी.

बिन्दू से मैंने पूछा- तुम चुदना चाहती हो या नहीं?बिन्दू- हाँ, चाहती हूँ, करो. हर्षद आज क्या चुदाई की है तुमने … मैं सोच भी नहीं सकती थी कि तुम एक अनुभवी मर्द की तरह करीब आधे घंटे से ज्यादा समय तक मेरी चुत चुदाई करोगे. रास्ते में भाभी मेरे साथ और बच्चे आगे चल रहे थे तभी भाभी ने मुझसे धीरे से कहा- मेरे रूम की खिड़की से होटल का मेन गेट दिखता है.

कॉलेज की लड़कियों का सेक्सी पिक्चरवैभव और खुशी से हाय हलो होने के बाद वैभव ने कहा- हमारी शादी में जरूर आना. आरूषि- हैलो स्वीटहर्ट! थैंक्यू कि तुमने मुझे इस सेक्स वीडियो चैट सेशन के लिए सिलेक्ट किया.

गाना वाला बीएफ हिंदी

चुदास से तो वह पहले ही भरी हुई थी परंतु ऐसा करने से उसकी आग भड़क गई. उसी समय अनिकेत ने एक जोर का झटका मारा और एक ही बार उसने मेरी चूत के दरवाजे में अपने मोटे से टोपे को घुसा दिया. मेरी चुत की फांकें आपस में चिपकी हुई ऐसे फड़फड़ा रही थीं, मानो को लंड के लिए चुत मरी जा रही हो.

पर जीजू …” साली जी ने कुछ बोलने की कोशिश की तो मैंने उसके मुंह पर हाथ रख कर रोक दिया. मैं- मीता कैसा लगा?मीता- कुछ मत पूछो अंकल … बस उन पलों को मुझे जी लेने दो … मैंने जितना सोचा था, उससे कई हज़ार गुना सुख आपने दिया. बिन्दू- वो कैसे?मैंने थोड़ा नीचे झुक कर बिन्दू की वी शेप की पैंटी को उसकी चूत से साइड में किया और लौड़े के टोपे को चूत पर रख दिया.

उसका फिगर भी काफी हद तक रिया से मैच कर रहा था सिवाय उसके मैच्योर चेहरे को छोड़कर।रमेश- इधर आओ मेरे पास।रमेश ने अपनी जाँघों पर थपकी देते हुए कहा और इस बार रश्मि अपनी सैंडल उतार कर उसकी तरफ सरकने लगी. शादी से पहले ही मेरी मां ने मुझे समझा दिया था कि अपने ससुराल में अपने पति, ससुर और ननद की इज्जत करना. उसके बाद थॉमस बेड पर लेट गया और उसने मुझसे फिर से लंड चूसने को कहा.

पर पूरे महीने की आग एक रात में थोड़ी न मिटती है।फिर धीरे धीरे उनका आना और कम होता गया। एक बार वो लगातार 3 महीने घर नहीं आये, मैं फ़ोन पर उनसे बात कर उंगली कर लेती. कोई 15 मिनट की बाद वो सब उठ गए और अपने अपने कपड़े पहन कर चादर लपेट कर चलने लगे.

मैंने उंगली और अंगूठे से नेहा की चूत के बाहरी होंठों को थोड़ा खोला तो चूत की दरार के ऊपर बहुत ही सुंदर गुलाबी रंग का मोती सा बना हुआ था जो उसका क्लीटोरियस था.

मेरे पति ने आज तक कभी भी मेरे तलुवे कभी नहीं चाटे थे क्योंकि वो दस बारह धक्के पेल कर झड़ जाते थे. सेक्सी कटरीना व्हिडीओअब आगे:मैंने थॉमस का शॉर्ट्स उतार कर सोफे के पास फेंक दिया और थॉमस के लंड को झट से जल्दी से मुँह में लेकर चूसने लगी. देसी सेक्सी वीडियो2020उसी पल उन्होंने बची हुई पूरी चॉकलेट मेरे लंड पर उड़ेल दी और मेरे लंड को चूसने लगीं. फिर कुछ देर के इलाज के बाद डॉक्टर ने बोला कि इसको अभी एड्मिट करना पड़ेगा.

रश्मि ने वैसा ही किया और उसकी गांड अब रमेश के लंड के निशाने पर आ गयी.

मेरा पूरा का पूरा लंड अंकल की गांड में घुस गया था और मुझे बहुत मजा आ रहा था. पांच मिनट के अंदर ही फिर से मेरा लंड उसकी चूत फाड़ने के लिए तैयार हो गया. इतना कहकर अंकल ने मेरे लंड को अपने मुंह में ले लिया और बहुत प्यार से चूसने लगे। अब तो मैं जन्नत की सैर कर रहा था। इतना ज्यादा मजा आ रहा था कि यहां पर शब्दों में बताना बहुत मुश्किल है।मैं भी मस्ती से अंकल की चूचियों को मसल-मसलकर दबाए जा रहा था.

जैसा कि पहले बताया था उनके दो बेडरूम तो इकट्ठे थे जिनके बीच में दरवाजा था परंतु तीसरा बेडरूम उनसे बिल्कुल अलग था. विजयादशमी की छुट्टियों मैं अपने घर आ गया और इन दिनों मेरी मुलाकात मेरी कॉलेज फ्रेंड डेज़ी से हुई. मैंने नेहा को बेड पर लिटा लिया और उसकी टांगों की तरफ जाकर थोड़ा उसके घुटनों को मोड़ा और अपने लंड को चूत पर रखने की पोजीशन बनाई.

जबरदस्ती बीएफ दिखाएं

मेरी निगाहों से निगाहें मिलने से वो थोड़ी शरमाई और नीचे नज़र झुका कर बैठ गई. मैंने एक बार फिर जोर के झटके से अपना पूरा लंड भाभी की चूत में डाल दिया और चुदाई करने लगा. मैंने पेंटी उतार कर देखा, तो उसकी चूत पर हल्के काले बाल उगे हुए थे.

मैं ये पल कभी नहीं भूलूंगी … आज का ये सुनहरा दिन मेरी जिन्दगी में मुझे हमेशा याद रहेगा.

मुझे एकदम से झुरझुरी सी हुई मगर मैं दम साधे चुपचाप पड़ी रही, मैंने कुछ भी प्रतिक्रिया नहीं की.

तभी उसने मुझे आवाज़ लगाई।मैं रुका वह पास आते हुए बोली- आप तो दो दिन में ही भूल गए?क्यों?” मैंने पूछा।आप देख कर भी मुझे रुके नहीं?”मैंने सोचा कि बोलने से आप बुरा न मान जायें?”क्यों?”लड़कियों का क्या भरोसा?”ऐसा क्यों?”लड़कियों से दोस्ती करने से पहले उनको जानना जरूरी होता है।” मैंने कहा।अच्छा? अब जान गए?” उसने पूछा. फिर मैंने एक साथ मां की चुत में दो उंगलियां डाल दीं और अन्दर बाहर करने लगा. जानवर वाली सेक्सी जानवरऔर लंबी लंबी आहें भरने लगी।वो कभी कभी मेरे निप्पल यानि चुचूक को भी मसल दे रहा था.

मैं आपके मैसेज और मेल का जवाब जरूर दूंगी … प्लीज मुझे मेल और मैसेज जरूर करें. अब मेरी चूत में इतनी चुदास जाग गयी थी कि मुझे जीभ से संतुष्टि नहीं मिल पा रही थी. जब मेरा दर्द कुछ कम हुआ, तो अंकुश ने फिर से धक्के लगाते हुए चोदना चालू कर दिया.

मैं उनको देखता ही रह गया, मुझे उनके ही जैसे अंकल पसंद थे। वह मेरे लिए एकदम परफेक्ट थे. दारू पीने के बाद थॉमस ने अपना लंड खड़ा करके मेरी चुत में डाल दिया और मुझे अपने ऊपर लेटा लिया.

मैं थॉमस के लंड पर झड़ने लगी थी और चूत का पानी निकालते ही मैं उसके खूंटे से खड़े लंड पर बैठ गयी.

मैंने उसके चेहरे के सामने हाथ हिलाकर पूछा- क्या हुआ? कुछ काम है क्या? ऐसे कहां खोये हुए हो?वो सपने से जागा और बोला- हां, आपसे मिलने ही आया था. लगभग 3:00 बजे के करीब भाभी मेरे कमरे में आई और बेड पर मेरे साथ बैठ कर बोली- राज क्या हाल है?मैं- आप सुनाओ, कुछ ढीली सी लग रही हो, तबियत कैसी है?भाभी- बस … वही, नीचे लाल झंडी आई हुई है, उसी वजह से तीन चार दिन परेशानी रहती है. फिर भाभी ने मेरी गोटियां सहलाईं और कुछ तेज झटके के साथ मैंने अपना पूरा माल भाभी की चूत में डाल दिया.

पंजाबी सेक्सी वीडियो सेक्स करते हुए अच्छा हुआ कि सनम मुझे किस कर रही थी वरना मेरी चीख उसकी तरह बाहर निकल जाती. उसका पूरा लंड मेरे मुँह में था और थोड़ी देर चूसने के बाद रॉबर्ट का लंड खड़ा हो गया.

आज की ये सेक्स कहानी मेरी और मेरी बुआ की लड़की के बीच हुई चुदाई की है. मैंने उस दिन नोटिस किया कि वो मेरे उभारों को बहुत गौर से देखते हैं. अब आप लोग खुद ही अंदाजा लगा लो कि बच्चेदानी करीब करीब हर धक्के में 4 -5 इंच पीछे धकेली जा रही थी.

बीएफ ब्लू भेजो

मुझे मालूम था कि सुबह मेरी मुनिया का उद्घाटन होना है इसलिये साफ सफाई जरूरी थी. थोड़ी ही देर में उसके सभी दोस्तों को मालूम चल गया था और सभी दोस्त उसको देखने आए और चले गए. उन्होंने मेरे सूट को उतरवा दिया और मेरी ब्रा के ऊपर से ही मेरी चूचियों को जोर जोर से मसलने लगे.

कुछ देर बाद अंकुश ने मुझे अपनी गोद में उठा लिया और मुझे बेडरूम में ले आया. अब चलिये ना।रमेश- बड़ी भूख लगी हुई है तुम्हारी चूत को, चलो तुम्हारी चूत की भूख को मिटा ही देता हूं.

तभी अमन ने नीरा को गर्म करते हुऐ सारे बदन को चूमना शुरू कर दिया और मुझे भी इशारे से बुलाने लगा.

उन्होनें बहुत सारी क्रीम मेरे लंड पर लगायी और फिर अपनी गांड के छेद पर भी लगायी। अंकल बोले- बिल्कुल धीरे-धीरे अंदर करना, मैंने एक दो बार ही लिया है. रमेश ने पहले अपने हाथ से रीता के बूब्स को जार से दबाया और फिर उसे अपनी गोद में खींच कर बैठा दिया. फिर मैं सुमीना और उसके बेटे को लेकर नजदीक के एक अस्पताल में लेकर गया.

उसने फ्रूट्स निकाले और एक केला देकर बोला- आप भी न बस … मुझे गलत मत समझो. अब आगे:मैंने उसे समझाते हुए कहा- देखो … मैं ऐसा कह रहा हूं, जरूरी नहीं कि तुम मान ही जाओ. थॉमस ने अपने लंड मेरी गांड के छेद पर रखा और एक धक्का देकर लंड को अन्दर पेल दिया.

बहुत दिनों से जिस बात की बिन्दू को तलाश थी उसकी वह इच्छा आज पूरी हो गई.

देसी फिल्म बीएफ हिंदी में: मैंने उठकर देखा कि मैं प्रतिभा को बांहों में भरे उसके बगल में ही सोया हुआ था. मैं हंसते हुए बोली- लगता है तुम्हारा शेर तो मेरी गुफा में जाने से पहले ही घबरा गया.

मैं पास के पार्क में घूम रहा था और मुझे डेढ़-दो घंटा हो गया था घूमते हुए. मैं- अगर तुम बुरा न मानो तो मैं तुम्हें एक मसाज चेयर की मशीन से ज्यादा अच्छी मसाज दे सकता हूं. ऐसा कहकर आपने मुझे बिस्तर पर लिटाया और हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए.

मैं अब झांटें कम ही साफ करती थी … क्योंकि अभिषेक मुझमें रूचि ही नहीं लेते थे.

मेरी मामी पहले से थोड़ी सी मोटी हो गई थीं … लेकिन उनकी चूचियां मुझे पहले से भी ज़्यादा मोटी दिख रही थीं. मेरी कामुक मां की चुत चुदने के लिए फड़क रही थी और मैं मां बेटा की चुदाई की कहानी का पूरा रस अगले भाग में लिखूंगा. मैं खुशी से फिर से चुंबन की रिक्वेस्ट कर ही रहा था कि आंचल दीदी बाथरूम से निकल आईं और मैं शरीफ बनकर वहीं बैठ गया.