नंगी बीएफ भेजिए

छवि स्रोत,ब्लेजर बीएफ वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

सोनम कपूर नंगी: नंगी बीएफ भेजिए, अपने दोनों हाथों को उसकी पैंटी के अन्दर पीछे से डालकर उसके चूतड़ों को सहलाना चालू कर दिया.

इटली की बीएफ

फ़िर मैंने अपना लंड उनकी चूत के अन्दर डालने की कोशिश की, मगर नहीं गया क्योंकि मेरा लंड कुछ ज्यादा मोटा और लम्बा है. देसी बीएफ पिक्चर फिल्मवो मनहूस मेरी सहेली अलका जिसने मुझे बिगाड़ा था… उसकी चूत में कीड़े पड़ें साली के… मुझे ऐसी घिनौनी लत लगा गई थी कि मैं चाह कर भी सुधर नहीं सकती थी.

चाची मेरे लंड का सारा माल पी गईं और उन्होंने मेरे लंड को चाटकर पूरा साफ कर दिया. 18 साल की लड़की की बीएफ पिक्चरमेरी गांड अपने आप कुलबुलाने लगी, उसमें से हल्की हल्की हरकत होने लगी.

फिर मैंने और जूही ने लंच किया और जूही अपने घर निकल गयी, मैं अपने घर आ गया.नंगी बीएफ भेजिए: बहन और माँ की चुदाई देख कर मेरे दिल में तुम से चुदवाने की इच्छा जागृत हो गई है.

पर काजल के मुँह से कांपती हुई आवाज़ निकली, जो डर और चुदाई की उत्तेजना से मिली जुली थी.रात के सन्नाटे को चीरती हुई बंगलौर दिल्ली राजधानी अपने पूरे वेग से आंधी तूफ़ान की तरह अपने गंतव्य की ओर भागी दौड़ी चली जा रही थी.

जवान लड़की की चुदाई बीएफ - नंगी बीएफ भेजिए

मुझे कभी किसी बात की कमी नहीं होने दी, फिर भी मेरी जिंदगी ने कुछ ऐसा मोड़ लिया, जो मैंने कभी ख़्वाब में भी नहीं सोचा था.यह करते हुए करीब 15 मिनट बीत जाने के बाद भाभी ज़ोर से चिल्लाते हुए पेंटी में ही झड़ गईं- आह… मेरा निकल रहा है… आह… रुक जाओ… अह्ह्ह्ह… हय…चूत से रज निकलने के कारण भाभी काँपने लगीं और निढाल होकर मेरे ऊपर गिर गईं.

हम दोनों फिर से बेड पर आ गए और अगले दो घंटे तक धकापेल चुदाई करते रहे. नंगी बीएफ भेजिए पर मैं होंठ भींच कर पड़ी रही। मैंने हाथ से छूकर देखा तो यश का पूरा लण्ड अन्दर था और मेरे हाथ पर खून लगा था। मैं खुश थी कि आज मैं एक लड़की से औरत तो बन गई। मेरा दर्द कम हुआ.

हमारी बातें सुनकर जोया ने कहा- क्या इतनी जल्दी भी कोई चोदने के लिए तैयार हो सकता है?इस पर मोना ने कहा- क्यों नहीं, अभी साहिल ही तुम्हें चोदेगा.

नंगी बीएफ भेजिए?

बहन और माँ की चुदाई देख कर मेरे दिल में तुम से चुदवाने की इच्छा जागृत हो गई है. माधुरी के भाइयों ने घर की जमीन बेच कर कारोबार किया और सारा पैसा कारोबार के नुकसान में चला गया, घर बैंक वालों ने नीलाम करा दिया. मैंने कहा- चुपचाप बैठ जा, वरना यहीं बवाल करने लगूंगा, आज मेरा दिमाग़ बहुत खराब हो गया है.

मर गई…शायद इतने दिनों की लंड की भूखी होने के कारण उन्हें दर्द का एहसास होने लगा था. मैंने दीदी से कहा- मेरा निक्कर खराब हो गया है, मैं चेंज करके आता हूँ. जब वो किचन में जाने लगी, तब मैंने उसे अपने कमरे में आने के लिए बोला लेकिन वो बोली- नहीं, जो बोलना है यहीं बोलिए.

एकदम दूध जैसी सफेद गेंदें देखते ही मेरा लंड अपना संयम खोने लगा और धीरे धीरे मेरा लंड खड़ा हो गया. यहाँ कुछ हिंदी सेक्सी कहानियां पढ़ने के बाद लगा कि मुझे भी अपने साथ घटे पूर्व के बारे में कुछ शेयर करना चाहिए. मैं एकदम से उछल पड़ी और संजय के बालों में हाथ डाल कर उसके होंठों को जोर से काटने लगी.

उसने एक होटल में 201 नंबर का कमरा बुक करवाया है और वो ऑफिस काम से आए हैं इसलिए व्यस्त रहेंगे. बहुत मन कर रहा है।यह कहते ही उसने मेरी टांगों को ऊपर तक उठा दिया।फिर मैंने उससे कहा- रूको यार.

यदि कोई भी ग़लती लगी हो तो उसे माफ़ करना और मुझे ईमेल में बताना कि मेरी प्यार की हिंदी चोदन स्टोरी कैसी लगी.

तुम जब कहोगी मैं आ जाऊँगा।मधु बोली- तो जनाब अब हम पर एहसान कर रहे हैं।हमारी इस बात पर काफी बहस हुई। आखिर में वो रूपये देकर ही मानी; उसने मुझे 20 हजार रूपये दिए और बोली- राज मुझे अब पैसों की कमी नहीं है.

शायद उन्हें भी पता था कि मेरा ध्यान उन्हीं पर है, इसलिए वो जानबूझ कर ऐसी हरकतें करती थीं, जिससे मेरा ध्यान उन पर जाए. मैं धीरे धीरे अपने कूल्हे हिला कर कविता की चुत चुदाई करने लगा, मुझे दर्द के४ साथ मजा आ रहा था, मेरे मन में खुशी का कोई पारावार नहीं था क्योंक इमें पहली बार चुत चुदाई कर रहा था और वो भी शायद एक कमसिन कुंवारी चुत की…कविता भी दर्द के कारण कराह रही थी, मैं उसे धीरे धीरे चोद रहा था. तभी मुझे उसके चूतड़ दिखे और मैं उसकी गांड मारने के बारे में सोचने लगा.

अब श्री चूत चुदाई के लिए पूरी तैयार थी, मैं पहले से तेज़ धक्के लगाने लगा और अब वो भी स्मूच करने लगी. मुझे खुशी भी थी और मैं काफ़ी डर भी रही थी क्योंकि कमल का लंड बहुत बड़ा और मोटा था. तभी कमल मेरे मुँह के आगे अपने लंड को ले आया और कहा- जैसे मूवी में देखती हो, वैसे करो.

मैंने कभी ऐसा नहीं किया था तो मैंने मना कर दिया, पर संजय मेरी चुत को इस तरह चाट रहा था कि मैं अपने आप पर कन्ट्रोल नहीं कर पाई और मैंने संजय के मोटे लंड को सहलाते हुए मुँह में ले लिया, जिसकी एक्साइटमेन्ट से संजय ने अपनी जीभ मेरी चुत में अन्दर तक डाल दी.

कमल ने अपना लंड को एक बार फिर मुझे खूब चुसाया, मेरा लंड गीला हो गया तो कमल ने मेरे पीछे आकर मेरी गांड के छेद को गीला करके अपने लंड को मेरी गांड में घुसाने लगा. उसको पता था कि थोड़ी ही देर में उसका लंड मयूरी की चूत की ठुकाई कर रहा होगा. खैर, अब मैं उनकी कमर की मालिश करने गया तो मेरी उंगलियाँ उनके मम्मों को छू गईं, उस पर वो सिर्फ थोड़ी से सिकुड़ीं, पर कहा कुछ नहीं.

मैं समझ गया कि भाभी मस्ती के मूड में हैं, मैं बोला- भाभी मैं एक बार आपके मम्मों को टच कर सकता हूँ?वो बोलीं- नहीं. होंठों से होंठ सिर्फ दो इंच दूर थे और बाकी सारा शरीर एक दूसरे से मिला हुआ. पर किशोर बोला- पर एक शर्त पर?मैं आँखें फाड़ किशोर को देखने लगी, किशोर बोला- वो कहता है कि तुम उसे भी चोदने दोगी तो वो किसी को नहीं बोलेगा.

जब मैं उन सीडी को देख रहा था तो उसमें से कुछ आश्चर्यजनक सीन देखने में आए.

मगर मुझे अभी भी संतुष्टि नहीं मिली थी और मैं धक्के मारता रहा।कुछ ही पलों के बाद मेरा फिर पूरी तरह से खड़ा हो गया और मैं उसको चोदता रहा। वो एकदम बुरी हालत में थी. मैं भी थक गया था तो मैंने भी 5-6 करारे धक्के मारे और उसकी गांड को को वीर्य से भर दिया.

नंगी बीएफ भेजिए ”सभी हैरान थे क्योंकि गोलू का लंड केवल चूसने पर ही खड़ा होता था और हर 2 मिनट में उस जरा जरा सी सु सु आती थी और फिर से ढीला हो जाता था. मुझे किशोर पर बहुत गुस्सा आने लगा, मैं बोली- यहाँ क्या खैरात बंट रही है? तुम उसे मना कर दो, मैं उसे कुछ भी करने नहीं दूंगी, वो मेरे बाप जितना है, बाप समान है!वो बोला- एक बार की तो बात है, तुम्हें कुछ फर्क नहीं पड़ेगा.

नंगी बीएफ भेजिए मैं यह सब लेकर मम्मी से बचा कर अपने कमरे में छुपा दिया और शांति से बाकी सारे काम करने लगा और शाम होने का इंतजार करने लगा. बुआ तलाकशुदा है और शहर में एक छोटा सा प्ले वे स्कूल चलाती हैं जिसे उनका गुजारा हो जाता है.

मैं उसकी चूची को चूसते चूसते नीचे सरका और उसका पेट नाभि चाटते हुए उसकी पेंटी पर आ गया.

इंडियन बीएफ इंडियन बीएफ

एक हाथ से उसके बालों को जकड़े दांत पीसता हुआ ओमार लड़की को नॉनस्टॉप चुसाई के लिए कहता जा रहा था. मैंने मौका देखा और दीदी के हाथ को अपनी चेस्ट पर रखा और अपने हाथ से पकड़ कर अपनी चेस्ट पर घुमाने लगा. फिर एक दिन मैंने इंटरनेट पर सर्च किया तो प्राइवेट योग टीचर का पता मिला.

इस कहानी की शुरूआत भी दिल्ली से ही हुई है, जहां से मैं बिलॉन्ग करता हूँ. घर पर पहुंचते ही मैंने जैसे ही डोर बेल बजाई, वैसे ही तुरंत दरवाजा खुल गया लेकिन दरवाजा खोलने वाली को देख कर मैं एकदम हैरान हो गया, उसे देखते ही मुझे समझते देर नहीं लगी कि यही विशाल की नवविवाहिता बीवी है. मैं समझ गया कि इसके मन में चोर है और मेरे मन का चोर तो उसे देखते ही जाग गया था.

अब रोहण ने मुझे लेटा दिया और मेरी दोनों टांगें खोल दी और अपना लंड मेरी चूत पर रखा, एक झटका मारा और अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया.

ये तो हम दोनों के हथियारों को एक साथ बिना उफ़ करे दोनों छेदों में ले सकती है. अंकित के बैठने से उसके पेट का सबसे निचला हिस्सा माया के दाने को रगड़ने लगा और माया अपनी गांड और जोर से हिलाने लगी. दोस्तो, मैं यहाँ एक सलाह देना चाहूँगा कि सुरक्षा के लिए, यौन रोगों से बचने के लिए, अनचाहे गर्भ से बचने के लिए कॉंडम का इस्तेमाल ज़रूर करें.

इस बार एक ओर मैं अपने लंड को भौजी के चूत पे रगड़ते हुए और दूसरी ओर उनके निप्पलों को दांतों से काटते हुए अपनी बहादुरी दिखाने का मौका ढूंढ रहा था. तभी संजय बोला- अरे शहजाद भाई बेचारी भाभी अकेले कितना मैनेज करेंगी, चलो मैं जाकर उनकी कुछ हेल्प कर देता हूँ. तभी चाची ने कहा- आलम मैं तौलिया तो वहीं रख कर भूल आई हूँ, मुझे जरा तौलिया उठा कर दे देना.

इस बात पर मैं बाहर गई और थोड़ी देर बाद अवी से एक बैग ले आई, जिसमें वो ड्रेस थी. लेकिन अब करीब पन्द्रह दिन हो गए थे मैंने उन दोनों से चुदाई नहीं करवाई थी क्योंकि मैं अपने बॉयफ्रेंड से चुदवा कर बहुत थक जाती थी.

आपकी फीस क्या है?आनन्द- मेरी फीस ज्यादा है अगर आप दे पाएं, तो ही बात आगे करते हैं. राहुल इतना अधिक उत्तेजित हो गया था कि थोड़ी ही देर में उसने अपना पानी जोया के मुँह में छोड़ दिया. मैं घोड़ी बन गई। वो मेरी बैक पर आ गया। उसने अपने लण्ड को मेरी गाण्ड पर एड्जस्ट किया.

मैंने भी झट से उनके आँसू पोंछते हुए कहा- आज तो खुशी का दिन है… आज के दिन इन आँसुओं के लिए कोई जगह नहीं है.

वो ऑफिस आज जल्दी आ गई थी और उस्मान, अमित या सुमित से पहले अपने केबिन पहुँच कर अपनी ब्रा और पेंटी उतार देना चाहती थी. आपने आध घंटे तक रगड़ा था, मेरी गांड लाल कर दी थी, आज तक चिनमिना रही है. उसकी आँखें बहुत लाल लाल थीं, उसके चेहरे पर किसी उग्र महिला जैसा तेज नजर आ रहा था.

मैं भी उसके गले लग गई क्योंकि मैं जान गई थी कि इस तरह मुझे देख के कंट्रोल करना आसान नहीं है. फिर मैं अपने होंठों को उसके होंठों के पास ले गया और हम दोनों स्मूच करने लगे.

मैंने चाय पीकर उसे बिस्तर में सुला कर उसकी साड़ी हटा कर नंगी कमर की आयोडेक्स लगा कर मालिश की और गर्म पानी से कमर से लेकर उसकी गांड तक सिकाई करने लगा. मैं जब जवानी की दहलीज पर कदम रख ही रहा था और वो पूरी मस्त जवान हो चुकी थीं. अब मुझे शर्म आ रही थी क्योंकि वो मुझे घूर रहा था।फिर उसने मेरी पेट की मसाज की.

देवर का सेक्सी वीडियो

मैं दूसरी मंजिल पर कविता के कमरे के बाहर सो रहा था और लुकाछिपी के बारे में सोचते सोचते मैं कभी कविता की चुची व होंठ तो कभी रीना के चुचे के बारे में सोच रहा था.

मैं भी कालेज के लिए निकल गया, लेकिन मेरे मन में कुछ अजीब सा चल रहा था. अरविंद भैया से पहले मम्मी ने रुबीना की तस्वीर मुझे दिखाई, मुझे रुबीना किसी परी से कम नहीं लगी, पूरा भरा हुआ बदन, चुचे करीब 34 के होंगे और रसीले होंठ थे, वो मस्त माल लग रही थी. कुछ देर बाद फिर से वे मेरी चुचियों को अपने मुँह में भरने लगे, उन्होंने मेरी चूचियों के ऊपर से अपने ही माल को अपने होंठों से लगा लिया, फिर मुझे किस करने लगे.

अच्छा ये बताओ तुम इसके लिए क्या जुगाड़ करने वाले थे?”तुम करने वाली होगी तो जुगाड़ सोचने का कोई मतलब है. मुझे उसके हाथों के बगल वाले काले काले घने बाल दिख रहे थे, जो उसने कभी साफ़ नहीं किए थे. देसी बीएफ वीडियो सॉन्गअब महेश मेरी चूत को चूस रहा था और मैं बिस्तर पे इधर उधर सर को घुमा कर मजा ले रही थी.

भाभी ने भी थोड़ा गुस्सा दिखाते हुए कहा- ये तूने क्या किया, मुझे बिल्कुल नंगी कर दिया और मेरा सब कुछ देख लिया. कम से कम इसी का फायदा थोड़ा उठाकर कुछ नया एक्सायटमेंट ट्राय करते हैं.

कि मैं सबकी प्यास बुझाऊँ… इच्छा पूरी करूँ।मधु बोली- तो अपना काम बना लो. जो बाइक में बार बार ब्रेक लगा रहे हो?मैंने भी मौका देख कर बोल दिया- भाभी जब पीछे बाइक पर कोई खूबसूरत हूर बैठी हो, तो मन क्यों नहीं करेगा. मुठ मारने के बाद लोगों की वासना वैसे ही कम हो जाती है मगर मेरे भीतर की आग उस मोटी गांड को देखकर चार गुने उत्साह से धधक रही थी.

फिर हम दोनों ने कपड़े पहने ओर मैंने उससे इजाजत ली, उसे हग किया और अपने घर वापस आ गया. मोहन लाल ने अपने बच्चों की तरफ मुड़ते हुए कहा- काजल, तुम अपने दोनों भाइयों के लंड का मजा लो. थोड़ी ही देर में उसका रस निकल कर मेरे होंठों पे आ गया और वो ढीली पड़ गई.

उसी बीच भाभी का हाथ मेरे लंड से टकराया तो लंड ने एक तुनकी सी मार दी, जिससे भाभी हंसने लगीं.

जब मेरा दोस्त सुमन से मिलने जाता तो उसके साथ एक लड़की आती थी, जिसका नाम रिया (बदला हुआ नाम) था. मैंने कहा- बोलो क्या शर्त है?तो फिर वो हिचकते हुए बोलीं- मैं तुम्हारे ऊपर रहूंगी.

एकदम नर्म, ऐसा लग रहा था जैसे मैं गुलाबजामुन खा रहा हूँ।किस करते करते अचानक ही मेरे हाथ उनके स्तनों पर पहुँच गये और मैं उनके स्तनों को दबाने लगा। मुझे तो खुला लाइसेन्स मिला हुआ था नीतू के साथ रोमान्स करने का. संजय ने मुझे हल्की सी लिप-किस करते हुए कहा- मुझे पता है, तुम जरूर आओगी. मैंने चाय पी औऱ मार्केट गया औऱ वहां से गजरा आदि लाकर छाया के घर में रख दिया.

यह सुनकर वो मुस्कुराने लगीं और बोलीं- क्या तू मेरे साथ सेक्स करेगा?यह सुन कर मैं बहुत खुश हुआ, मुझे विश्वास नहीं हो रहा था कि चाची मुझसे चुदना चाहती हैं. अगर उन्होंने गर्भपात की दवाई की पर्ची लिख कर दे दी तो काम बन सकता है. थोड़ी देर हम दोनों ऐसे ही पड़े रहे और जब उसका दर्द कुछ कम हुआ तो मैं फिर से धक्के लगाने लगा.

नंगी बीएफ भेजिए सोनू को सुलाने के बाद भाभी ने कहा- तुम मेरे सर में जरा विक्स लगा दो. मेनका- क्या मैं तुझे अच्छी लगती हूँ? बस ये बताओ?मैं- हाँ दीदी, लेकिन पापा?मेरे कुछ कहने से पहले ही दीदी खुशी से झूमने लगी जैसे उनकी कोई बरसों पुरानी दुआ भगवान ने आज सुन ली हो.

60 साल की बुढ़िया की चुदाई

रजनी ने जल्दी से नाइटी का बेबी फीडिंग हुक खोला और चिंटू को दूध पिलाने लगी. और इस बार मेरा लंड पूरा अंदर चला गया, होंठों पर होंठ होने के कारण वह आवाज नहीं निकाल पायी लेकिन मेरे हाथ उसके चेहरे पर होने पर मुझे पता चला कि वो रो रही है, उसकी आँखों से आँसू निकल रहे हैं. हमने कुछ 5 मिनट तक स्मूच किया, फिर हम अलग हो कर एक मिनट के लिए बैठ कर एक दूसरे की आँखों में देखने लगे.

थोड़ी मेरे बड़े ताऊ ने उस लड़के के माता पिता को बुलाया और उनसे बात करने लगे. मेरा दोस्त एक घंटे में आने वाला था तो मैंने ज्यादा देर न करना उचित समझा और उसके होंठ चूसते हुए उसे बेड पर लिटा दिया और खुद उसके ऊपर चढ़ कर उसके होंठों को चूसता रहा. डॉगी बीएफ मूवीअलग होते वक़्त प्रिया की आँखों में वही बिल्लौरी चमक और होठों पर वही कातिल मुस्कान थी.

बचपन में वो काफी शर्मीला था और लड़कियों से बात करते हुए काफी डरता था.

आह… कितना प्यारा नजारा था वो… बहूरानी के गोरे गुलाबी मुलायम पैर जिनमें शादी में जाने हेतु मेहंदी रचाई हुई थी और उनके बीच मेरा काला मोटा लंड. आखिर उसने नीचे हाथ ले जा कर मेरे लंड को पकड़ा और अपनी चूत पर लगाने लगी.

मैंने भाभी से साड़ी निकालने का पूछा तो भाभी बोलीं- देवर जी ये साड़ी तुम्हारे लिए तो आज पहनी है. पर ऐसा हुआ नहीं, उसको लंड का सुपारा ही मुँह में अच्छे से नहीं लिया जा रहा था तो बेचारी पूरा लंड कहाँ से ले पाती. वो दर्द के मारे मेरी पीठ पर अपने नाखून गड़ाए जा रही थी और उसकी आँखों में आंसू साफ़ दिख रहे थे.

पिछले कई सालों से मैं पुणे में रहकर अपनी स्टूडेंट वाली ज़िन्दगी जी रहा था.

तब भाभी ने पैर गोद में ही लिए हुए पहले डेटोल से साफ किया और जैसे ही दवाई लगाने झुकीं, मेरा पैर उनके चुचे से छूने लगा. अपनी खुशी चाहना और अपनी इच्छाओं को पूरा करना कोई गलत तो नहीं!मैंने कहा- नहीं. उन्होंने पूछा- तुझे क्या हुआ?मैंने कुछ नहीं कहा और उनके लिए कॉफ़ी बनाने चला गया.

सेक्सी वीडियो बीएफ लड़कियों काउन्होंने मुझसे रेट पूछा और सारी बात हो जाने के बाद उन्होंने मैरिज वेन्यू के लिए जम्मू के एक स्कूल (शिक्षा निकेतन जीवन नगर जम्मू) का अड्रेस लिखवा दिया. जब मैं लेट्रिन जाती हूँ ना तो रोज कोई ना कोई मेरा पीछा करता है, इसीलिए मैं अब अकेली बहुत कम आती हूँ.

इंग्लिश वीडियो सेक्सी चोदा चोदी

उन्होंने अपने पैरों को मेरे कमर पर लपेट लिया और अपने बदन को ऐंठने लगीं और झटके खाने लगीं. अबकी बार चलने में मैंने चाची का सहारा नहीं लिया तो चाची बोलीं- अच्छा तो ये सब तेरा ड्रामा था. मुझे अन्दर बैठा कर वो मेरे लिए पानी लाईं ओर मेरा हाल चाल पूछने लगीं.

मैंने उसे पूछा- कौन?तो वह बोली- पूनम!अब मैं नाटक करने लग गया- कौन पूनम?उसने कहा- अभी आप के साथ ट्रेन में जो थी!मैंने उसे कहा- मेरा नंबर कहां से मिला?तो कहने लगी- आप सो रहे थे तो मैंने चुपके से ले लिया था. यदि मुझे आपको बोलना होता कि आप दे दो, तो मैं अपने दोस्त के लिए थोड़ी बात करता. तभी मेरी माँ ने मेरे बालों को कस के पकड़ लिया और अपनी चूत को मेरे चेहरे पर कस के दबा दिया और उनकी सिसकारियाँ और तेज़ होने लगी.

मेरे पैरों की ऐड़ी तक वीर्य के रेले आ गये, मेरी चूत में से वीर्य की बूँदें नीचे जमीन पर टपक रही थी. अब इसके आगे की कहानी में मैंने उसको क्या जबाव दिया और उसकी चुदाई का क्या सीन रहा। ये सब अगले भाग में लिखूंगा।आपके ईमेल मिल रहे हैं. उस समय मम्मी सीढ़ियों से गिर गयी थी तो उनकी पीठ में फ्रॅक्चर हो गया और दो महीने के लिए बेड-रेस्ट के लिए बोला गया इसलिए पापा ने दीदी को बुला लिया.

नमस्कार दोस्तो, इस एडल्ट कहानी के पिछले भाग में अब तक आपने पढ़ा कि हम बाबा जी का पाखंड जानने आश्रम में श्रद्धालु बनकर पहुंचे थे. मैं बेड के नीचे घुटनों के बल बैठ गया और चुत को मुँह के सामने रखकर दोनों हाथों से भाबी की कमर पकड़ कर पूरा मुँह चुत पर रख दिया.

मेरी हालत ख़राब होने लगी और बस मैं भगवान से यही प्रार्थना कर रहा था कि माँ रात वाली वीडियो ना देख ले.

फिर उसने बोला- प्लीज बॉस को बोल दो कि तुमने माफ कर दिया क्योंकि बॉस ने मुझे जॉब से निकालने को बोल दिया है. कार्टून की सेक्सी बीएफहम छोटी से बातचीत करने लगे, फिर मैं और तनु पास आने लगे, पहले कंधे फिर हांथ टकराने छूने लगे।छोटी आँखें फाड़े देख रही थी और आँटी शर्म से दोहरी हुई जा रही थी।अब हमारे सब्र का बांध भी टूट गया और हमने एक दूसरे के होठों पर होंठ टिका दिये. सेक्सी बीएफ पिक्चर एक्स एक्समैंने अपना दांया हाथ उनके गले में डाल दिया जो कि उनकी छाती को छू रहा था. एक दिन मेरे मोबाईल में एक xxx क्लिप गलती से पड़ी रह गई, जिस पर मेरी दोस्त निशा की नजर पड़ी.

कुछ देर के बाद वो शांत हुई और फिर अपनी गांड उठा कर हिलाने लगी, जिससे मैं समझ गया कि प्रिया की चुत का दर्द अब कम हो गया है, अब धक्के लगाना शुरू कर देना चाहिए.

यह सब तो मेरे लिए चुटकी बजाने जैसा आसान काम था क्योंकि शहर के 80% कम्प्यूटर इंस्टिट्यूट मुझ से जुड़े थे. फिर दूसरा दोस्त आगे आया, उसने अपना लौड़ा पदमा की चूत पर रखा और धक्का दे मारा. मेरी बहन ने अपनी फ्रेंड से मेरा परिचय करवाया और फिर मैं और सोनी बाइक पर बैठ कर होटल की तरफ निकल गए.

तब तक उसकी ही पैन्ट में से इरशाद ने वैसलीन की शीशी ढूंढ निकाली और मुझे दे दी. मुझे शीशे में उसके चेहरे के भाव और उसके हिलते हुए मम्मे नज़र आ रहे थे. मेरे घर में मैं मम्मी पापा और छोटी बहन है, जोकि मेरे से 3 साल छोटी है.

बीएफ पिक्चर भेज दो

मेरा लंड मेनका की चूत को चाटने की वजह से फिर से खड़ा हो गया था लेकिन इस बार वो मुझे कुछ ज़्यादा ही बड़ा लग रहा था. फिर भाभी ने मुस्कुराते हुए कहा- जब तूने सब कुछ देख ही लिया तो चल मेरे पूरे बदन पर बॉडीलोशन लगा दे. मैंने भी जवाब में कहा- मुझे भी!फिर मैं स्वाति के गले से लगी और स्वाति के हालचाल पूछे और उसने भी बताया.

मैंने उसे मनाया कि कुछ नहीं होगा और मैं बहुत प्यार से गांड मारूँगा और शुरू में थोड़ा दर्द तो होता ही है, पर एक बार अगर उसे चस्का लग गया तो फिर वो हर बार पहले गांड ही चुदवाएगी.

मैंने नीचे आकर दरवाजा खोला, तब तक देवर जी अपनी दुकान जाने के लिए तैयार हो गए थे.

थोड़ी ही देर में भाभी ने आवाज़ लगाई और कहा कि मैं सोनू को बेडरूम में ही सुला दूँ. कुछ देर तक भाभी ने मेरा साथ दिया और फिर मुझे अलग करके बोलने लगीं- यह क्या कर रहे हो. सोनाली की बीएफविवेक बेड के नीचे नंगा खड़ा हो गया और कामिनी की गांड के बल उसको एक झटके में अपनी गोद में उठा लिया.

हम दोनों ने चादर हटा कर गाड़ी के उस अंधेरे में एक दूसरे को देर तक चुम्बन किया. मुझे पता था कि इनकी वजह से काफ़ी दर्द होगा। फिर उसने लण्ड को अन्दर किया. मैंने नोट किया कि प्रिया का इकहरा शरीर आकर्षक रूप से थोड़ा भर गया था, वक्ष थोड़े ज्यादा सख़्त और ज्यादा उभर आये थे, फ़िगर भी शायद 34-26-34 हो चला था.

उनसे बात करके ही मैं ये कहानी यहां लिख रहा हूँ, उम्मीद है आपको यह कहानी पसंद आई होगी. और जब मेरी मां अपने पूरे कपड़े उतार कर पूरी नंगी हो गयी तो मैं देख कर दंग रह गया क्योंकि मैंने बस अन्तर्वासना की कहानियों में ही पढ़ा था ऐसे जिस्म के बारे में… लेकिन आज पहली बार देख रहा हूँ.

चाची मेरे लिए चाय बना लाईं और कहने लगीं- बेटा जूता उतार कर आराम से बैठ जा मैं जरा कपड़े धो कर अभी आई.

मैं एकदम से स्कूटर उठा कर पापा को स्टेशन छोड़ने चला गया और अंजलि की मुझे राखी बांधने वाली बात वहीँ ख़त्म हो गई. मैंने एक रुमाल से उसकी बुर साफ की और फिर दोबारा से उसकी बुर को चूसने लगा. अब मैं आपको मेरी कहानी बताती हूँ जो मेरी सच्ची चुदाई की कहानी है कि कैसे चाचा ने मुझे चोदा.

हिंदी सेक्सी बीएफ ब्लू पिक्चर सेक्सी अब मैं और जीजू किस कर रहे थे, मैं उनके अंडरवियर में अपना हाथ डाल कर उनका लंड पकड़ कर सहला रही थी. सुबह मैं जब अस्पताल के लिए जाने लगा, तो भाभी के हस्बैंड का कॉल मेरे पापा के पास आया और भाभी को दिखवाने के लिए कहा कि आप जैस को बोलो कि वो ज़ायरा को दिखवा दे.

वो मुँह ऊपर करके जोर से हंसने लगीं और फिर जब मुँह नीचे करके मेरे लंड को देखा तो कुछ बोली नहीं. उसकी सफ़ेद पतली जांघें, उसके आम जैसे नुकीले चुंचे, उसके अंगूर जैसे काले निप्पल, उफ्फ्फ मेरा भी उसे अभी चोदने का मन कर रहा था. इसके बाद मैं अपनी बाइक को स्टार्ट करके जाने लगा, तो पीछे से मीनू ने आवाज लगाई- रुको.

बीएफ चलने वाला

बहुत मोटा है इस नीग्रो हब्शी का… अपनी मासूम बच्ची को बचा ले राधिका. जैसे ही हम अन्दर घुसे रुबीना की माताजी ने मुझे देखा और पूछने लगीं- राहुल, रुबीना ने परेशान तो नहीं किया ना?आगे क्या हुआ?कुछ दिनों बाद मेरी अगली कहानी में पढ़ें!मेरी फ्री सेक्स की स्टोरी कैसी लगी?[emailprotected]. मैं हर दोपहर को ऊपर मानवी भाभी के पास जाने के नए नए बहाने ढूँढता रहता.

मैं घर से बाहर हमेशा बुरके में ही निकलती हूँ और घर में भी ज्यादातर रुमाली या फुल साईज दुपट्टे में ही रहती हूँ. मुझे पटा था कि मैं फर्स्ट क्लास का माल हूँ चोदने के लिए!चाचा और मैं, हम दोनों धीरे धीरे एक दूसरे के करीब आने लगे थे.

ऐसे आदमी को अपने वश में करना बहुत मुश्किल काम नहीं था, ये बात मयूरी अच्छे तरह से जानती थी.

अच्छा ये बताओ तुम इसके लिए क्या जुगाड़ करने वाले थे?”तुम करने वाली होगी तो जुगाड़ सोचने का कोई मतलब है. मगर मुझे लंड को टच करना अच्छा लगने लगा और धीरे धीरे मैंने सुपारे को मुँह में भर लिया और चूसने लगी. अब हम इसी तरह से हर 3-4 दिन पर बाहर मिलने लगे और टाइम स्पेंड करने लगे.

ऐसा नहीं कि यह परिवार शुरू से इस हालत में था, यह खाता पीता परिवार था, मंजरी के नाना की हरियाणा के एक गाँव में जमीन थी और वे गाँव के जाने माने वैद्य थे तो अच्छी खासी आय हो जाती थी. पर मेरे मन में कुछ और ही था… और वो ये कि मेरी चुत और गांड की खुजली इन दोनों से दूर की जाये!अरे यारो, मेरी चुत और गांड चटाई की पूरी ऑडियो स्टोरी मेरी सेक्सी आवाज में सुनकर मजा लें!अन्तर्वासना ऑडियो सेक्स स्टोरीज सुनने के लिये सर्वोत्तमब्राउज़र क्रोम Chrome है. इसलिए मैं भाभी के कमरे में दोपहर को टीवी देखने जाता था, तो किसी को कोई आपत्ति नहीं होती थी.

कल्याणी तिलमिला गई और मेरे बाल पकड़ कर चुत पर मेरे मुँह को दबा कर बोली- चल चाट साले इसको.

नंगी बीएफ भेजिए: ठीक है अदिति बेटा… एज यू लाइक!” मैंने कहा और अपना जिस्म ढीला छोड़ दिया. आज पहली बार मेरे शौहर के अलावा किसी और का लंड मेरी चुत की सैर करने जा रहा था.

मैंने पहले उनके दोनों हाथ उठा कर ऊपर कर दिए और उनके मम्मों पर टूट पड़ा. तभी वो बड़ी मीठी सी आवाज़ में बोली- बाहर से खड़े होकर ही देखते रहोगे या अन्दर भी आओगे?मैंने हल्की सी स्माइल की और अन्दर आ गया. मैं अकेला नहीं हम सब साथ में चोदेंगे उस रंडी को, तभी उसको समझ आएगा कि प्यार में धोखा क्या होता है और साली का एमएमएस बना लेंगे ताकि वो अपना मुँह ना खोल पाए.

कुछ देर बाद कमरे की लाइट जली तो देखा कि फूफा जी थे, कुछ देर बाद मेरी मम्मी भी आ गईं.

पुलकित मंजरी को रेस्तराँ में ले जाता, खूब खिलाता पिलाता, मंजरी बहुत खुश थी क्योंकि वो खाने पीने की शौकीन थी. कुछ देर बाद मेरे ठीक होने पर संजय ने अपना लंड धीरे धीरे अन्दर बाहर करना शुरू किया. मेनका- अतुल, तूने कभी किसी लड़की को किस नहीं किया क्या?मैं- नहीं दीदी!मेनका- कोई नहीं भाई, आज मैं तुझे सिखाती हूँ कि एक लड़की को कैसे प्यार करते हैं.