एक्स सेक्सी बीएफ बीएफ

छवि स्रोत,मराठी सेक्सी वीडियो चोदा चोदी

तस्वीर का शीर्षक ,

தமிழ் ஸ்ண்ஸ்ஸ் விதேஒஸ்: एक्स सेक्सी बीएफ बीएफ, उसने तुरंत अपनी सेंडो बनियान निकाली और मेरी टॉवल के अन्दर दोनों हाथ डाल कर मेरी दोनों जांघों को सहलाया.

बीएफ सेक्स वीडियोस

फिर गली के बाहर निकल कर मैंने एक गुमटी पर खड़े होकर एक सिगरेट पी और सोचने लगा कि ये क्या हुआ था. सेक्सी जल्दीजलालुद्दीन कुछ देर चुप बैठे सोचते रहे, फिर एकदम से बोले- चलो मंजूर है, कल शाम को तुमको एक बार फिर वही दर्द दूंगा जो पहली चुदाई के समय दिया था.

मैंने कहा- अच्छा वो सब देख कर क्या लगता है?वो मेरी तरफ देख कर हंसने लगी. हिंदी बीएफ चोदा चोदी हिंदी बीएफफिर कोमल रोड पर लाकर मुझसे बोली- अब जहां मुझे ले जाने वाले थे, वहीं ले चलो.

साक्षी भी घोड़ी बने अपनी कमसिन गांड आगे पीछे करके अपनी चूत का चिपचिपा पानी मेरे लंड पर मलने लगी.एक्स सेक्सी बीएफ बीएफ: उसी समय मैंने चाची के पैर पर अपना हाथ लगा दिया और उनके कुछ न कहने पर आराम से चाची के पैर को सहलाने लगा.

और भाभी ने पिंक कलर की ब्रा और पैंटी पहनी हुई थी जिसमें वे एकदम कड़क माल लग रही थी.मैं उनके मम्मों को पकड़ कर नीचे से गांड उठाते हुए चूत चुदाई का मजा लेने लगा था.

हिंदी सेक्सी बीएफ भाभी की - एक्स सेक्सी बीएफ बीएफ

मैंने कहा- तुम ये क्या बोल रही हो कुमकुम?कुमकुम- भैया, ये सब करने का आज ही तो मौका मिला है.वो दिन भी अब करीब आ रहा था जब वो दोनों एक दूसरे के साथ संभोग सुख ले लेते.

इतने में मेस का टाइम हो गया तो मैंने सोचा क्यों ना आज ब्रा पैंटी पहन कर ही चला जाए. एक्स सेक्सी बीएफ बीएफ अंकल कुणाल सोचते हैं कि अगर उनका बेटा अशोक को सविता के साथ सुखी वैवाहिक जीवन जीते हुए देखेगा तो शायद शादी के बारे में उसका मन बदल जाएगा।आयुष सविता और अशोक से मिलने आता है.

मैं बिस्तर पर बैठी बहुत ही बेसब्री से अपने शौहर का इन्तजार कर रही थी.

एक्स सेक्सी बीएफ बीएफ?

लेकिन शुभी अभी भी दर्द से कराह रही थी।फिर जब तक हम लोग वहां रुके तब तक मैं रोज शुभी की चूत को चोदता रहा और उसकी गांड भी मारता रहा।तो यह था मेरा सेक्स अनुभव!आपको कैसा लगा?मेरी हॉट देसी गर्लफ्रेंड चुदाई कहानी आपको पसंद आई या नहीं … तो मुझे मेल करके और कमेंट्स में बताइएगा ताकि मैं अपनी शुभी और शुभी की बहन शिखा की कहानी आप लोगों से साझा कर पाऊं।[emailprotected]. कुछ पल बाद वो अपनी सहेलियों से जुदा हुई और खड़ी होकर किसी साधन का इन्तजार करने लगी. हॉट वर्जिन सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैंने अपने कोचिंग सेंटर में एक खूबसूरत रिसेप्शनिस्ट रखी.

मैंने उसकी चूत पर अपना लंड लगा कर थोड़ा सा झटका दिया तो लंड फिसल गया. अब मॉम बोलीं- हम्म … ये सब देख रहा था, तभी रात को तूने कपड़े गंदे किए थे. फिर इतनी चिंता क्यों, अपने पर भरोसा नहीं है क्या? और इस टाइम है ही कौन हमारे अलावा, जो देखेगा.

मैंने हार्दिक से पूछा- भाई, ये सब क्या है? कोई प्रोग्राम है क्या?वो हंस कर बोला- अबे कुछ नहीं यार, वो मेरी बाजू की सोसाइटी में ही रहती है और बस में साथ में ही आती है. काफी देर तक मेरी गांड की ठुकाई होने के बाद मेरी गांड में बुरी तरह जलन होने लगी थी तो मैंने जलालुद्दीन साहब से मिन्नतें की कि अब लण्ड गांड से निकाल कर चाहें तो मेरे मुंह या चूत में घुसा दें. तो दोस्तो, मेरे ब्वॉयफ्रेंड और मेरे पति के साथ की कहानियां तो आप लोगों ने पहले ही पढ़ ली हैं.

कुछ ही पल में एक लंबी कराह के साथ ‘आह ह ह ह … अअ … अअ …’ उसकी चूत से रस बहने लगा. मैंने झूठ मूठ बोल दिया कि एक फ्रेंड की मैरिज में एक बैंक्वेट में तुम अपनी फ्रेंड्स के साथ थीं, तो किसी फ्रेंड से मैंने तुम्हारे बारे में पूछा था.

मुझे बहुत शर्म सी आ रही थी तो आलिम साहब चिल्ला कर बोले- जिन्न भगाना है तो तुरंत वही करो जो मैं कहता हूँ.

धीरे-धीरे मैंने चुदाई की स्पीड बहुत तेज कर दी और भाभी की आवाज और तेज होती जा रही थी- अमनफक़ मी.

इसमें उसे इतना मजा आ रहा था कि वो मुझसे कहने लगी- आर्यन, प्लीज जल्दी से मेरी चूत चाटो. मेरी बेचैनी और मेरे अन्दर उठते तूफान और फड़फड़ाते लंड के कारण मेरे दिमाग में तरह-तरह के विचार चल रहे थे. मैंने लंड को गांड से बाहर निकाल कर चाची की चूत में डाल दिया और अपनी पूरी ताक़त से धक्के लगाने लगा.

मैंने अर्चना से पूछा- तुम यह क्या कर रही थीं … और क्यों कर रही थीं. मेरे मकान मालिक पेशे से एक ट्रक ड्राइवर थे, दुर्भाग्य से अभी कुछ ही दिनों पहले परिवार के तीन सदस्यों में से एक उनकी पत्नी का स्वर्गवास हो गया था. उसने पीछे से मेरे चूतड़ों पर लंड लगा दिया और मेरी चूचियों को दबाते हुए मेरी गर्दन पर चूमने लगा.

आंटी को मेरा आठ इंच का मोटा लंड चूसने में मज़ा आ रहा था और मुझे आंटी की महकती चूत चाटने में उनका कामरस मिल रहा था.

माधुरी उस वक़्त मेरे लंड अपने हाथों में लेकर अपने होंठों पर लंड को मारती, अपने गाल से लंड को सहलाती और कभी कभी मेरे लंड के टोपे को चूसती. लेकिन न तो उसका कुछ रिप्लाई आया था और न ही कोई मिस कॉल का मैसेज आया था. यह सब करने में मुझे बहुत मजा आ रहा था, मुझे पता था कि भाभी भी मजे ले रही थीं.

Xxx गैंगबैंग चुदाई कहानी में पढ़ें कि मेरे चोदू यार को मैंने एक साथ कई लंड से चुदने की इच्छा बताई. Xxx एस सेक्स की कहानी में पढ़ें कि मैंने एक भाभी को माँ बनाया तो उसने गांड मरवाने का वायदा किया था. फिर मैं उसकी एक चूची को मुंह में भर कर दूसरी चूची के साथ खेलने लगा.

तब दीदी ने अपनी आँखों को बंद कर लिया और वो धीमी धीमी सांसें खींचती हुई आहें भरने लगी।फिर कुछ देर के बाद रवि उठकर बैठ गया और वो दीदी की चूत पर अपने लंड को सटाते हुए दीदी को अपनी चूत को फैलाने के लिए कहने लगा.

इस हॉट माँ Xxx कहानी को पढ़ कर आप भी नहीं सोच सकेंगे कि ऐसा हुआ होगा. मैंने उसके कमरे का दरवाजा बाहर से बंद किया और जल्दी से बाथरूम के पीछे वाली खिड़की पर पहुंच गया.

एक्स सेक्सी बीएफ बीएफ एक दिन घर में कोई नहीं था और मेरा बेटा भी मम्मी के साथ बाहर गया हुआ था. ले छिनाल, तेरी चूत की माँ चोदूंगा आज तो साली रंडी, आज के बाद रोज मेरा लंड मांगेगी.

एक्स सेक्सी बीएफ बीएफ जवान लड़कों के लिए जन्मदिन पर सबसे अच्छा तोहफा क्या दिया जा सकता है?उत्तर है: चुलबुली लड़कियाँ … जो उनकी हर कल्पना को हर लालसा को पूरा करने को आतुर हों!इस सप्ताहांत पर सविता के पड़ोसी जुड़वां लड़कों तरुण और वरुण का जन्मदिन है. यह सुनकर शेखर ने टेक्सी में से एक मोटा कम्बल निकाल कर घास पर बिछाया और मुझे लेटा दिया.

मैंने उसको नीचे जमीन पर लिटा दिया और उसकी कुर्ती ऊपर करके उसके बूब्स पीने लगा.

रोमांस मूवी

थोड़ी देर बाद मैंने उसकी चूत में 2 उंगली डाल दीं और जोर जोर से हिलाने लगा. मैं धीरे धीरे उसकी जीन्स को नीचे सरकाने लगा और उसकी चूत को कपड़ों के ऊपर से ही मसलने लगा. सोमवार को प्रोजेक्ट सबके सामने पेश होने वाला है, इसलिए आज कैसे भी कर के प्रोजेक्ट के सारे मसले हल करना थे.

वो बोली- तुम्हें बात क्या करनी थी?मैं- कुछ ख़ास नहीं, बस तुम्हारी याद आ रही थी. तभी आपा भी कमरे में आ गई और मेरी हालत देख कर हंसने लगीं और जीजू को बोलीं- अरे तुमने तो बेचारी की चूत का आज ही भोसड़ा बना दिया, अब बेचारी का खसम कैसे मजे लेगा?मैं रोते रोते बोली- देखो ना आप, मेरी चूत फाड़ कर रख दी, कैसे बुरे तरीके से खून बह रहा है. इतने नर्म नर्म बूब्स को दबाने में मजा ही कुछ और आ रहा था।फिर मैं अंजलि के पीछे से आकर उसके बूब्स को दबाने लगा और अंजलि की गर्दन पर अपने होंठों से चूमने लगा.

मैंने उससे पूछा- आग लगी है न!वो मेरी बांह में मुक्का मारती हुई बोली- हां बहुत.

मेरी तो खुशी का ठिकाना ही नहीं रहा कि मेरी इच्छा पूरी होने जा रही है. काफी देर तक यह क्रिया करने के बाद मैंने अपना लंड उसकी चूत में पेलने के लिए झटका दे दिया. मैंने भाभी का एक पैर बाथटब के किनारे पर रखा और खुद बैठ कर भाभी की चूत में अपना मुँह लगा दिया.

कुछ ही देर बाद मेरे लंड से एक जोर की पिचकारी साक्षी की गांड में छूट गयी. शाम को जब मैं पहुंची, तब समीर ने हिना के घर में मेरा अच्छे से स्वागत किया. जब मैंने उसके कपड़े उतारे तो उसकी सुर्ख गुलाबी चूत को देखकर लंड का आधा पानी तो वैसे ही निकलने को हो गया था.

लेकिन अब मेरे मुंह पर खून लग चुका था और अब मैं रम्भा को बिना चोदे नहीं छोड़ सकता था।मैं यह सोचने लगा कि अगला मौका कब मिलेगा. तुम्हें कोई दिक्कत तो नहीं है तापोश?तापोश- नीना, यदि तुम दोनों को जोश आ गया और तुम रवि के साथ सम्भोग करो, तो मुझे कोई आपत्ति नहीं है.

कुछ ही मिनट में खाला की चूत का पानी फिर से छूट गया और मैंने सारा पानी पी लिया. मेरे पापा ने तो पहले मना कर दिया कि नहीं वो यहां पर एसएससी की तैयारी कर रहा है, उधर जाने से उसको कुछ हासिल नहीं होगा. गरिमा ने कहा- फिर कैसे करें?मैंने कहा- तू इसको मेरे साथ सैट करवा दे, मैं इसको अपने साथ बिजी रखूँगा.

नहाकर जब मैं बाथटब से बहार निकली तो उन्होंने मुझे एक बड़े से आईने के आगे खड़ा कर दिया और मेरा बदन एक नर्म तौलिये से सुखाने लगे.

मुझे कॉल आया और उन्हीं सर की मैडम ने अपना परिचय देते हुए कहा- अभी घर का काम बचा हुआ है. हम दोनों में बहुत सारी बातें होने लगीं, पता ही नहीं चला कि कब मुझे उससे प्यार हो गया और हम दोनों रिलेशनशिप में आ गए. मैं समझ गया था कि यह मुझे देखकर यहां क्यों लेकर आई है क्योंकि उसे मेरे लौड़े का स्वाद जो चखना था.

उन्होंने उस दिन एक काले रंग की नेट वाली साड़ी पहनी हुई थी और ऊपर से उनका ब्लाउज भी स्लीवलैस था. उस दिन उसकी गांड की चौड़ाई देख कर गांड मारने का मन हुआ, पर उसने मना कर दिया.

अगले दिन चाचा और चाची वापिस चले गए फिर मेरी चाची से कभी मुलाकात नहीं हुई क्योंकि अब चाचा का तलाक हो चुका है. उस सोसाइटी में मेरे कुछ दोस्त भी थे तो उन्होंने मुझे अपने साथ उस फंक्शन में बुला लिया. गांव में एक बार जब सब लोग छत पर सो रहे थे, तब रचना मेरे पास वाले बिस्तर पर ही सो रही थी.

जंगली जानवरों का सेक्सी

उसकी चूचियों और गांड को सोच कर ऑफिस के बाथरूम में जाकर अपने लंड का लावा निकाल कर उसे ठंडा करने लगता.

अपने लंड को पूरा उनकी चूत में खाली करके मैंने उसे बाहर निकाला तथा देर तक हम-दोनों ऐसे ही एक दूसरे से लिपटे पड़े रहे. एक बार हुआ यूँ कि मेरे साथ रहने वाले दोस्त की चाची और मेरी मामी जोधपुर वाले रूम पर आई थीं. मैं मांड्या बस स्टॉप पर उतर गया और उस कार्यालय के लिए रवाना हो गया जहां नम्रता आंटी के पति काम करते थे.

मैं पिछले कई सालों से इस साइट से कामुक कहानियों को पढ़ कर मजे लेता रहा हूँ, जो मुझे बहुत ही आनन्द देती हैं. आंटी आईं और बोलीं- अरे यार, डॉक्टर साब चले गए क्या?मैं शैतानी से बोला- मैं तो हूँ ना. एक्स सेक्स वीडियो हिंदीउस घटना के बाद मैं बहुत खुश था क्योंकि अब मैं एक चोदू मर्द बन गया था और बिना शादी के एक बच्ची का बाप भी.

इस समय मौका भी अच्छा है, तो तुम्हें भी पहली बार सेक्स का मजा मिल जाएगा. संजू पंडित[emailprotected]सेक्सी आंटी की कहानी का अगला भाग:चचेरी बुआ ने मेरा मन मोह लिया- 2.

मुझे लगा की शायद वो मुझसे कुछ पूछने आयी हो कि तुम अब हर रोज मुझे घूरने क्यों लगे हो?मैंने झट से अपने सर को नीचे किया और यूं ही टहलने का ड्रामा करने लगा. जीजा साली आज अपनी चुदाई को रस्म पूरी करने के लिए बिल्कुल अकेले रह गए थे और एकदम निडर होकर एक दूसरे में समा जाने को आतुर भी. मैं बोली- संभल के रहिएगा, कहीं मेरी मुहब्बत में गिरफ्तार ना हो जाना वरना आपकी चार बीवियों का क्या होगा.

खाला की वासना भरी सिसकारियां बढ़ गई थीं और वो जोर जोर से ‘आहह आहह या अम्मी बहुत अच्छे … और जोर से दबाओ … पूरा रस निकाल दो मेरी चूचियों का … आह…’ कर रही थीं. नम्रता आंटी की बेटी स्कूल गई थी तो अब घर में सिर्फ मेरी आंटी और मैं ही था. फिर मैंने पूछा- क्या आपकी कोई गर्लफ्रेंड है?शेखर बोला- आज तक तुम्हारे जैसी खूबसूरत कोई मिली नहीं, इसलिए कोई गर्लफ्रेंड बनी नहीं.

मेरी चूत से ढेर सारा खून निकला हुआ था और जीजू के लंड का माल मेरी चूत से बहता हुआ मेरे घुटनों तक जा रहा था.

आपको मेरी यह सच्ची दो चुत दो गांड की चुदाई कहानी अच्छी लगी या नहीं? मुझे जरूर बताएं. उन्हें पहनकर मैं शीशे में अपने आपको देखकर उत्तेजित होने लगी थी और अपने आपको एक स्त्री समझकर अपने पति के लिए शृंगार करने लगी.

अभी बस इतना ही दोस्तो, अब इससे आगे क्या हुआ, ये सब सेक्सी वाइफ सेक्स कहानी के अगले भाग में बताऊंगा. तभी पापा के उठने की आवाज आई तो वो मेरी गोद में से उठकर अपने बिस्तर पर जाकर लेट गई. एकदम से किसी का स्पर्श अपने बदन पर महसूस किया, तो मुझे बहुत बेचैनी होने लगी.

मैंने अपने हाथों से चाची के सर को थोड़ा ऊपर उठाया और अपना लंड चाची के मुँह में डाल कर ज़ोर ज़ोर से धक्के लगाने लगा. मैं मन ही मन भगवान को शुक्रिया बोल कर बहुत ज्यादा खुश होता हुआ ऑफिस में गया और उधर से अपने बैग से चार्जर लेकर वापस आ गया. शेखर मेरी चूत को उंगली से चोद रहा था और मेरे अंदर ऊँची ऊँची लहरें उठ रही थीं.

एक्स सेक्सी बीएफ बीएफ उसके निप्पल में से पानी आना शुरू हो गया था।इसी तरीके से मैं उसका पूरा बदन चूमते चूमते नीचे की तरफ जाने लगा. मैंने कहा- साहिला आंटी, आप मुझे बहुत अच्छी लगती हो, मैं आपसे बहुत प्यार करता हूँ.

सेक्सी पिक्चर सेक्सी एचडी

उसने संभलने के लिए अपने सीधे हाथ से मेरे पेट के पास पकड़ लिया और उसका उल्टा हाथ अभी भी मेरी जांघों पर ही था. उसने उसके उलटे हाथ को मेरे फड़फड़ाते लंड पर रख दिया और सीधे हाथ को मेरी छाती पर रख कर मेरे एक निप्पल को सहलाने लगा. उसने बातों ही बातों में मुझे यह भी बताया कि उसका पति यानि मेरा साला भी किसी काम से दिल्ली गया हुआ है और वह भी 2 दिन बाद ही आएगा.

मैं बिल्कुल शांत होकर ऐसे नाटक कर रहा था, जैसे कि गहरी नींद में सो गया हूँ. मॉम मुझसे बोलीं- ऐसा तो होता ही रहता है, तुमने चम्मच क्यों डाली थी, ये बताओ?मैं बोला- कहीं आप प्रेग्नेंट ना हो जाओ इसलिए. एचडी बीएफ दिखाइए हिंदी मेंजीजू बोले- बहुत छोटी चूत है तुम्हारी, तुम्हारे शौहर की तो बल्ले बल्ले हो जाएगी.

चाची ने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और बोलीं- वाह आज मेरी क्या मस्त चुदाई की तूने … मुझे बहुत मज़ा आया.

सुबह जब मेरी आंख खुली तो शुभी बिल्कुल नंगी होकर मेरे बगल में बैठी थी. मैंने उसे एक किस किया और हम दोनों जब अलग हुए तो उसने देखा कि चार बज चुके थे.

मैं जीभ घुसा कर बुआ की चूत को चाटने लगा और वो मेरे लौड़े को लॉलीपॉप के जैसे गपागप गपागप चूसने लगीं. कुछ देर तक तो हमें होश ही नहीं रहा कि हम बैड पर ऐसे नंगे एक दूसरे पर लेटे पड़े हुए हैं. सोनी- रवि तुम्हारे चूचे और गांड के पास के बाल भी बढ़ गए है, नाक में जाते हैं.

मुझे इस बात का‌ अहसास नहीं हुआ कि‌ आंटी इस बात को नोटिस कर रही हैं.

जब बर्दाश्त नहीं कर पाया‌ तो‌ मैं अपना लंड मीना की गांड में सटाने‌ लगा. मैं बहुत परेशान था और सोच रहा था कि साला ऐसी भी क्या जल्दी थी कि मैंने उसे बिना पटाए बिना कुछ सोचे ऐसा बोल दिया. मेरी पिछली कहानीअल्हड़ लड़की के साथ कामक्रीड़ा का तूफानमें आपने पढ़ा कि कैसे दारू के सुरूर मैंने और पिंकू ने तूफानी सेक्स का टीन पोर्न का आनंद लिया.

विलू मूवीवो लाल रंग की ब्रा पहनी हुई थी जो उसके झुकने पर साफ साफ दिख रही थी. पर यह भी विचार आया कि यदि सच में जरूरतमंद हुआ तो?इतनी रात को कहां जाकर मदद लेगा.

प्लाज़ो कुर्ती

उसकी संगमरमर सी चिकनी जांघ को किस करता हुआ मैंने उसकी गीली चड्डी पर कब्जा कर लिया. वो लगातार अपनी गांड को हिला कर मेरे हाथ को उसकी मंजिल तक पहुंचाने की कोशिश कर रही थी. मेरे दिल में घबराहट हो रही थी लेकिन इलाज पूरा भी करना था इसलिए मैंने खुद को संभाले रखा.

थोड़ी देर ऐसे ही मैं उसकी गांड के ऊपर चढ़ा रहा और अपना लंड उसकी गांड में पेलता रहा; Xxx एस सेक्स का मजा लेता रहा. मैं कोमल के हाथों को खोलकर उसके ऊपर लेट गया, जिससे मेरी छाती के बाल कोमल पीठ से रगड़ कर मस्ती करने लगे थे और मेरा लंड कोमल की गांड के दरवाजे पर दस्तक दे रहा था. मैंने अपनी गांड का छेद टाइट कर लिया, जिससे मोहित को लंड गांड में डालने में परेशानी होने लगी.

तभी मेरी चीख के साथ लंड ने ज्वालामुखी छोड़ दिया और वीर्य से बुआ की चूत भर गई. उसने फिर से माफी मांगी और कहा- आगे से ऐसा नहीं हो … मैं इस बात का ध्यान रखूंगी. जलालुद्दीन बोले- लाहौलविलाकुवत, ऐसे ख़ुशी के मौके पर किन हरामजादियों का नाम ले लिया.

मैंने अपनी स्पीड और चाची ने अपनी बढ़ा दी और थप थप थप की आवाज़ तेज हो गई. मैं भी अभी तक ऐसी ही नंगी लेटी हुई थी क्यूंकि उठने लायक तो मेरी हालत थी नहीं.

करीब बीस मिनट में मैंने उसे दो बार और झाड़ा और खुद भी उसके पेट पर झड़ गया.

मेरे पूछने पर उसने बताया कि वो बहुत परेशान रहती है और उसे नीचे बहुत ज्यादा बेचैनी होती है. लड़की वाला बैकग्राउंडवो दोनों उठाकर मुझे मेरे रूम तक लाये और बोले- अब जब भी हम बोलेंगे, तब तुझे हमारी प्यास बुझानी होगी. एचडी देसी सेक्स वीडियोमेरी बीवी सिर्फ चड्डी में अपनी भतीजी के हालचाल पूछने जा रही थी और वो चड्डी भी मैंने उसके जाते जाते नितंबों से नीचे सरका दी थी. कुछ देर बाद मम्मी कमरे में आईं और बोलीं- राज चल तू मेरे साथ सो जाना, मुझे अकेले डर लग रहा है.

वो ‘आहा … इस्स हह …’ की आवाजें निकालती हुई मेरे सर पर हाथ फेर रही थी.

मुझे नहीं पता था कि वो जग रही थी या नहीं, पर किसी के देख लेने के डर से मैंने बात आगे नहीं बढ़ाई थी. हम दोनों ने चूत और लंड धोकर कपड़े पहने और गेस्ट हाउस से फार्म हाउस पहुंचे. जीजू ने अपना बदन मुझसे सटा लिया तो मैं अपनी छूट पर जीजू का लंड गड़ता हुआ महसूस कर पा रही थी.

चाची मुस्कुरा दीं और बोलीं- शादी के बाद तेरी दुल्हन को कितना बुरा लगेगा, जब वो ये बात जानेगी कि उसका पति नशा करता है. सच में मुझे ऐसा लग रहा था मानो छोटू का लंड मेरा गाला फाड़ते हुए मेरे पेट तक चला जाएगा. सच मैं आप कैसे दिखते हो या लगते हो इससे फर्क नहीं पड़ता, आपके अन्दर कितनी कामुकता है, इससे बड़ा फर्क पड़ता है.

पता नहीं कि कौन सा नशा करते हैं

अब जब भी वो झुकती हैं तो मैं कोशिश करता हूँ उनके शर्ट के गले में से उनकी चूचियां देखने की … और बहुत बार देखा भी है।मुझे अब लगता है कि मेरी घर की सारी औरतें बहुत ही कामुक है चुदाई के लिए … उनको रोज नये नये लंड चाहियें अपनी चूत के लिए!दोस्तो, आपको मेरी सिस्टर बॉयफ्रेंड सेक्स कहानी में मजा आया या नहीं? मुझे कमेंट्स करने अवश्य बताएं. उसके बाद उन्होंने लंड सैट किया और एक ऐसा करारा झटका मारा कि उनका पूरा का पूरा लंड मेरी चूत में समा गया. रिया ने कहा कि सालो ये बात याद रखना आज जितनी प्यार से सेक्स करोगे … कल तुम्हारी गांड उतना कम दर्द करेगी.

मैंने निशा से कान में कहा- गरिमा कंडोम तो लाई होगी सेफ्टी जरूरी में करनी चाहिए उसे!ये बात मैंने जानबूझ कर कही थी, जिससे निशा की सोच वहां तक चली जाए और वो सोचे कि ये दोनों क्या क्या करेंगे.

वो अपने बदन ऐसे हिला रही थी, जैसे कोई मछली पानी से बाहर आकर छटपटा रही हो.

रिया और आयेशा अब एक दूसरे को किस करने लगीं तो अमित ने लंड आयेशा की चूत में डाल दिया और रिया की गांड ऊंची करके उसकी चूत चाटनी शुरू कर दी. ले मादरचोद रंडी, वीर्य पी मेरा, पेट भर ले अपना छिनाल!”गर्म गर्म वीर्य का एहसास मुंह में बहुत ही अच्छा लग रहा था. भोजपुरी सेक्स बीएफ फिल्ममेरी पिछली कहानीअल्हड़ लड़की के साथ कामक्रीड़ा का तूफानमें आपने पढ़ा कि कैसे दारू के सुरूर मैंने और पिंकू ने तूफानी सेक्स का टीन पोर्न का आनंद लिया.

उन्होंने यह भी बताया कि उन्होंने जबसे मुझे पहली बार देखा था, तभी से उनको मुझसे प्यार हो गया था. मेरी बाइक की आवाज सुन कर माधुरी फ़ौरन अपनी शॉप से बाहर आयी और सीधा मेरी तरफ स्माइल देती हुई आ गयी. मैंने भी तुरंत अपना पजामा ऊपर किया और दौड़ कर उस जगह से दूर चला गया।अब मेरी आंखों से नींद गायब हो चुकी थी.

मुझे नई लड़कियों से ज्यादा भाभी और आंटी के साथ सेक्स में ज्यादा मजा आता है. एकदम गोरी-चिट्टी निर्वस्त्र भाभी मेरे सामने पानी में लेटी ऐसी लग रही थीं जैसे आसमान से कोई जलपरी या मत्स्य सुन्दरी मुझे प्रणय का वरदान देने उतर आई हो.

मैं तेजी से बाहर गया और पास के ही मेडिकल से एक कंडोम का पैकेट लेकर आ गया, साथ ही कुछ चिप्स वगैरह ले आया.

मैं निप्पल के चारों तरफ अपनी जीभ फिरा रहा था, जो खाला को बहुत मदहोश कर रहा था और वो सिसकारियां ले रही थीं- उम्म … आह … ओह या बेबी … मेरे निप्पल चूस लो … आहह … कितना मजा आ रहा है. मैंने कहा- हाँ भाभी … अब मुझे आपकी गांड मारनी है।तो वो बोली- नहीं पीछे नहीं … वहां मुझे बहुत दर्द होगा।मैं बोला- भाभी, ज्यादा नहीं होगा, बाद में बहुत मजा आयेगा, एक बार देखो तो लन्ड ले कर!भाभी बोली- ठीक है, ड्रेसिंग टेबल से वैसलीन लाओ, तेरे लन्ड पर लगा दूँ।मैं नंगा उठकर वैसलीन लाया. मैं बाहर आ गया, पर मेरे जहन में उसकी खूबसूरती घूम घूम कर आ-जा रही थी.

ટ્રિપલ એક્સ ના જેવા વધુ मॉम भी नशे में कुछ कुछ बड़बड़ा रही थीं लेकिन मैंने उन पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया. कुछ दस मिनट तक शॉट मारने के बाद मैं झड़ने को हो गया और लंड बुर से निकाल कर उसके पेट के ऊपर ही अपना वीर्य गिरा दिया.

कभी अपने पतियों से बात कर लेते हैं, कभी गांव शहर की बात कर लेती हैं और बाकी समय में लूडो खेल लेती हैं।मैंने पूछा- बस इतना ही कुछ करती हो या फिर और कुछ भी करती हो?तब उसने अपने चेहरे पर शैतानी मुस्कान लपेटे हुए कहा- कभी कभार एक दूसरी के साथ भी खेल लेती हैं।उसके इस जवाब से तो मेरे गले में चावल ही अटक गया और मैं खांसने लगा. उनके शरीर पर सिर्फ़ एक पैंटी बची हुई थी और आंटी चुदाई के तैयार थी, बहुत ही ज़्यादा कामुक नज़र आ रही थीं. उनका लंड देख कर मैं सच में डर गयी कि मेरे अन्दर इतना बड़ा कैसे जाएगा.

कैमरा दिखाइए

इतना बड़ा शहर है। कहते हैं यहाँ चारों तरफ लण्ड ही लण्ड घूमते रहते हैं. मेरे नथुनों में मेरी सबसे पसंदीदा छेद की महक मुझे उत्तेजित कर रही थी. सोनी ने नीना के पांव अपने कंधे पर रखे और अपना लंड नीना की गीली चूत में डालकर चोदने लगा.

माधुरी मदहोश होकर बस ‘हमम्म आह आह आह … इस्स आह चाटो और चाटो …’ ऐसी सिसकारियां लेती हुई मुझे अपने बांहों में भर कर मेरे बाल सहला रही थी. भाभी पूरे मौज में चिल्ला रही थी- आह आदी … और कसके चाटो आह मजा आ गया.

मैंने उसके कमरे का दरवाजा बाहर से बंद किया और जल्दी से बाथरूम के पीछे वाली खिड़की पर पहुंच गया.

माधुरी की शॉप में औरतों की बहुत सारी अलग अलग तरह की मॉर्डन ड्रेसेज थीं. भाभी के गहरी नींद में सोते ही मैंने अपना हाथ भाभी की कमर पर रख दिया. मैंने और मेरे दोस्तों ने कुमकुम को बांध कर घोड़ी बना कर बारी बारी से मेरी चचेरी बहन को चोदा, उसकी चूत गांड एक साथ चोदी.

मेरा Xxx बॉयफ्रेंड अब सीधा मेरी चूत के पास आया और मेरी पैंट व पैंटी एक साथ उतार कर साइड में रख दिए. बापू भी किसी छोटे से बालक की तरह काकी के दूध को चुसुक चुसुक कर पीने लगे. माधुरी को साड़ी में सजी संवरी सोच कर बाथरूम जाकर अपने लंड को शांत कर आया.

फिर मैंने उनकी ब्रा को खोला और उनके गोल चूचे मेरे सामने नंगे हो गए.

एक्स सेक्सी बीएफ बीएफ: पहले से ही मैंने ब्रा पैंटी पहनी थी और मेरा मूड भी बना हुआ था तो मुझे उसके पास बैठना बहुत मस्त लग रहा था. रचना मेरे हाथ अपनी चूचियों पर रखकर बोली- तो दबाओ न इन्हें मेरे राजा जी … भरकर दबाओ चूसो और मसल कर रख दो.

अगले ही पल उसने मेरे लंड को पकड़ कर टॉवल ऊपर कर दिया और मेरे लंड को मुँह में ले लिया. उसी मिट्टी से अदीबा फिसल कर उसमें गिर गयी और उसके पैर में मोच आ गयी. इससे मेरे बदन में करंट सा दौड़ रहा था और मेरी चूत बस पानी छोड़ती जा रही थी.

मैंने उसे बताया- मैं यहां पर अपने ऑफिस के काम से आया हूं और आज और कल मैं जयपुर ही रहूंगा.

उन्हें देख कर किसी भी मर्द का लंड पानी टपकाए बिना रह ही नहीं पाता है. एक दिन शाम को जब मैं ऑफिस से निकला तो मैंने देखा कि माधुरी के पति ने पूरी शॉप खाली कर दी थी और सारा सामान एक गाड़ी में रख कर दूसरी जगह जा रहा था. वो बोली- तुम्हें बात क्या करनी थी?मैं- कुछ ख़ास नहीं, बस तुम्हारी याद आ रही थी.