देहाती हिंदी बीएफ सेक्सी देहाती

छवि स्रोत,देसी सेक्सी पिक्चर ब्लू

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो जल्दी आजा: देहाती हिंदी बीएफ सेक्सी देहाती, मेरे गांव की एक लड़की कमला मुझे बहुत लाइन देती थी, पर वो दूसरी बिरादरी की थी.

वेरी सेक्सी मूवी

ये देख कर ऋतु की आह निकल गई, क्योंकि मेरा लंड छोटा है करीब पांच इंच लम्बा!फिर वो ऋतु के पास गया और उसके मम्मों को पागल शिकारी की तरह चूसने लगा. सेक्सी वीडियो बिहार का देसीमैंने लंड वापस पायल भाभी की चूत में डाल दिया और पायल के बोबे चूसने लगा.

मेरे फ्रेंड ने मुझ से कहा- इस लड़की से बात मत करना, ये लड़की सही नहीं है. भाभी की सेक्सी वीडियो ब्लूमेरे लंड का साइज 7 इंच है जो किसी को भी संतुष्ट करने के लिए काफी है.

और फिर मैंने पूनम की चूत में प्लास्टिक का लण्ड डाला तो पूनम और तेज आहहहह उम्म्ह… अहह… हय… याह… करने लगी और बोली- दीदी, आज तो बहुत मजा आ रहा है… इतना मजा तो मेरे पति नहीं दे पाये मुझे कभी यार! तुमने तो मेरी चुदाई की इच्छायें पूरी कर दी!और वो अपने चूतड़ उठा उठा कर अपनी चूत मेरे मुँह में पेलने लगी.देहाती हिंदी बीएफ सेक्सी देहाती: वो कुछ बात कर रही थीं और मेरे दिमाग़ में उनका सेक्सी, नंगा बदन घूम रहा था.

अचानक वो उठा और अपने दोनों हाथों से मेरी चूत को चौड़ा करके अपनी जीभ मेरे छेद में घुसा दी.उस रात के बाद हम आल्टरनेट दिन कभी उसके घर में, तो कभी मेरे घर में मिलने लगे.

तेरे सागर मधुर सेक्सी वीडियो - देहाती हिंदी बीएफ सेक्सी देहाती

सवा दस बजे सोनू आई, वो बला की खूबसूरत लग रही थी, उस रेड टॉप और ब्लू जीन पहनी हुई थी; उसका टॉप एकदम टाइट और गहरे गले का था जिसमें से उसके स्तन बाहर की हवा खा रहे थे। उसके बाल खुले थे और एक बात… उसकी चाल बड़ी ही मस्त थी। जब वो अंदर आ रही थी तो मैं उसे शीशे में से देख रहा था और नून्नू महाराज अंगड़ाई ले रहे थे.फिर उसने अशोक को बुला कर बोला- यह देखो इस पतला सा माँस चुत के मुँह पर है, यह बताता है कि अब तक यह लड़की किसी से भी नहीं चुदी है.

तू चुपचाप पढ़ाई में ध्यान दे, नहीं तो साली फेल हो जाएगी… और मेरे को बदनाम कर देगी. देहाती हिंदी बीएफ सेक्सी देहाती मॉम नवीन का लंड हाथ से पकड़ कर हिलाने लगीं और बोलीं- उस दिन तू मुझे गलियां दे रहा था, मुझे बहुत मज़ा आया.

तुम शाम को ला रही हो ना मुर्गी हलाल करने के लिए?कुसुम बोली- बिल्कुल.

देहाती हिंदी बीएफ सेक्सी देहाती?

जैसे ही मैंने उँगलियों के बीच के भाग पर जीभ से टुकुर टुकुर की तो अलका रानी के सब्र का बांध टूट गया. आज मैं भी शरारत के मूड में थी- क्या बात है जनाब, आज आप चूमेंगे नहीं हमें?मुझे क्या पता था कि वो तो तैयार है. कुछ देर बाद जब नहीं घुसा तो लंड को चूत पर रगड़ने लगी और फिर अपने होंठों में होंठ डाल दिए.

कभी एक टांग को ऊपर उठाकर तो कभी साईड से करवट लेकर उसकी चूत को पेलता रहा. आह…आह…” बोलते हुए उसने अपने लंड से लगभग आधा कप वीर्य की चार लंबी पिचकारियों से मेरा पूरा चहरा और बाल भर दिये. जैसे जैसे मेरे हाथ कमर से ऊपर उसकी गर्दन तक गए तो मैं हैरान हो गया क्योंकि उसने नीचे ब्रा नहीं पहन रखी थी.

मैंने दीदी से पूछा- दीदी, रात का क्या प्रोग्राम है?दीदी ने शर्म से आँख नीचे कर ली. मैं तो तुमको शादी के बाद भी ज़्यादा से ज़्यादा अपने घर में ही रखूँगा, हाय कितनी खूबसूरत हो तुम, मन करता है अपनी प्यारी बहन को खूब प्यार करूँ. वो लंबी सांसें लेने लगी, मैंने तुरन्त मौका देखा और चौका मारते हुए उसके होंठों को अपने होंठों की गिरफ्त में ले लिया.

एक तरफ तो चुत लंड की वासना के कारण हम दोनों अलग नहीं होना चाहते थे, दूसरी तरफ अपने साथियों के सामने खुद को लज्जित सा महसूस कर रहे थे. दोस्तो, मुझे चुदाई का बहुत शौक है और मुझे शादीशुदा आंटियां और भाभियां चोदना ज्यादा पसंद हैं.

जब मैं सो कर उठा, तब तक सुबह हो चुकी थी और हम बंगलोर के बाहरी इलाक़े में पहुँच चुके थे.

पहले मैं आप सभी का शुक्रिया अदा करना चाहूँगा कि आप सभी ने मेरी कहानीपति से निराश आशा की चुदाईखूब सराही.

तभी मैं उसकी गांड में ही झड़ गया, हम लोगों ने जल्दी से कपड़े पहने और बस में चढ़ गए. मेरे पापा पहले से ही आकर खड़े थे, उन्होंने बताया कि मेरा रिजर्वेशन कंफर्म हो गया है AC में. तभी अंकिता मेरी तरफ देखकर बनावटी गुस्से में बोली- अच्छा… सच में? आपने मेरी बहुत मदद की है इसीलिए थैंक यू.

अब ये मेरा रोज़ का रूटीन हो गया था बस फर्क ये था कि हर 3 दिन बाद मेरे लंड पर वजन दुगना हो जाता था और 500 ग्राम के बाद वजन स्थिर हो गया था. मैं कैसे सहन करूँगी?तो मैंने कहा- तुम डरो मत, मैं बहुत आराम से करूँगा. राजू- ठीक है मेमसाब मैं जा रहा हूं… जब किसी को कुछ करवाना ही नहीं है… तो मैं चला.

मैडम को डबल मजा आने लगा और कुछ ही देर में मैडम एकदम से अकड़कर बोलीं- आह मयूर मेरी जान.

उसकी गोल गर्दन और मस्त पट देख कर वह हस्तिनी औरत लग रही थी, जो मर्द को देखते ही खा जाए और आदमी भी उसे देखते ही चोद दे. इस वक्त वो मुझे वात्सायन की कोई काम वासना के विरह से पीड़ित… प्रणय की भीख मांगती हुई एक नायिका सी लगीं. मेरे लिए भी कुछ ना कुछ खाने के लिए ले आती थी।मैं भी जयपुर में एक रूम लेकर रहता था.

जब घर पर कोई नहीं होता तो मैं उसके साथ चिपक कर बैठता, उसको टच करता. मेरी इस हरकत से वो अब अपना आपा खो रही थी, अब वो अपनी आँखें बंद करके आहें भरते हुए इसका मजा ले रही थी. मेरा भाबी के साथ अफेयर तब शुरू हुआ, जब कालेज से आते वक्त दो चॉकलेट लाता, एक मेरे यहां बच्चे के लिए और एक भाबी के बेटे के लिए.

एक दिन मैं दफ्तर से जल्दी घर आया तो मैंने अपनी पुत्रवधू को पूर्ण नग्न बिस्तर में सोती पाया.

सेक्स कहानी के पिछले भागपड़ोस के सलीम भाईजान-2में आपने पढ़ा कि कैसे एक सीधी सादी नवविवाहिता अपने किरायेदार के जाल में फंस गई और उसकी कामुकता ने उसके जिस्म को अपने वश में कर लिया. ऊपर से पतले कपड़े के ब्लाऊज से तो मेरे मम्मों के निप्पल जो एकदम काले अंगूर की तरह हैं, ऊपर से ही साफ दिखते हैं.

देहाती हिंदी बीएफ सेक्सी देहाती वो मुझे अपनी कार में बिठा कर बोला- एक बात सुन लो मेरी पाली हुई चिड़िया. भाभी ने दो गिलास में आधा क्वार्टर खाली किया और कहा- नीम्बू को काटिए.

देहाती हिंदी बीएफ सेक्सी देहाती करीब 15 मिनट बाद मैं थक गया तो मैं नीचे हो गया और वो मेरे ऊपर आकर मेरा लंड अपनी चूत डालने लगीं. मैंने अपना लंड पेंट से बाहर निकाला और अपनी मुठ मारने लगा, मेरी बीवी ऋतु अपने घुटने के बल खड़ी हो गई.

इसका नतीजा यह हुआ कि अब उसने मेरा लंड जोर से पकड़ लिया जो कि पूरे विशालकाय रूप में आ चुका था.

ತ್ರಿಬಲ್ ಎಕ್ಸ್ ಸೆಕ್ಸ್ ಫಿಲಂ

मैंने कुछ दिन तक दीदी को नहीं घूरा और कुछ दिनों के बाद वो मुझे गुस्से से देखने लगी थीं. मैंने एक दिन मेरे फ्रेंड को फोन किया और उसे बोला- पूजा से बात करवा दे. मुझे अति आनन्द की अनुभूति हो रही थी और रूपाली भाभी भी पूरा मजा ले रही इस मुख रति क्रिया का…करीब 15 मिनट बाद हम दोनों झड़ गए और वो मेरा सारा पानी पी गईं.

मैंने उसके मोटे लंड को घूर कर देखा तो उसने उसी वक्त अपने लंड को सहलाया और मुस्कुराते हुए दरवाजा बंद करके ट्रायल रूम में वापस घुस गया. भाभी बनावटी गुस्सा करते हुए- बताना चाहिए न कि निकलने वाला है!मैं- मुझे क्या पता कि कुछ निकलता है? मुझे बहुत मजा आया बस!भाभी- हाँ सही है… तुमको क्या पता! मगर बहुत टेस्टी था आपका रस!मेरा लण्ड लटक गया, मैं बोला- भाभी, ये तो लूज हो गया! आपकी चूत में तो डाल कर देखा ही नहीं?भाभी- चिंता मत करो, अभी फिर खड़ा होगा… तुम मेरी चूत चूसो, मैं तुम्हारा लण्ड चूसती हूँ. वह इसे रोज की तरह का मजाक समझ रही थी, पर तभी उसकी नजर मेरे तम्बू से खड़े लंड महाराज पर गई.

कुछ दिन बाद मेरे एक दोस्त की बहन की शादी थी, मेरे दोस्त का घर हमारे गाँव के पास वाले गाँव में ही है तो मैं शादी में जाने के लिए जयपुर से घर के लिए निकल गया.

अब तक आपने पढ़ा था कि अशोक ने मुझे बड़ी रकम का ऑफर दिया था जिसे मैंने स्वीकार कर लिया था. मैंने कहा- नहीं आज तो जब तक तुम खुद अपने मुँह से नहीं कहोगी… मुझे कुछ समझ में नहीं आने व़ाला है. अलका चुप रही; फोन पर सिर्फ उसकी सांसों की हल्की हल्की आवाज़ मी कानों में आ रही थी.

मैं बाईसेक्सयुअल हूँ, मतलब मुझे आदमी के लंड और औरत की बुर, दोनों ही पसंद है. जैसे ही हम अन्दर पहुँचे, मैं आपे से बाहर हो गया और उसे बुरी तरह चूमने चाटने लगा. फिर भाभी ने मेरे सिर को अपने हाथ से पकड़ कर वापिस अपनी जांघों के बीच में खींच लिया और नीचे से अपनी गांड उठा उठा कर अपनी चुत को मेरे होंठों से लगाते हुए कहने लगीं- प्लीज़ चूसो ना… आज तक तुम्हारे भैया ने नहीं चूसा… मैं चुत चुसवाने के लिए तड़प रही हूँ… ये सब करवाने के लिए मरी जा रही हूँ.

मैंने महसूस किया कि उसका लंड 8 इंच से कम लंबा नहीं होगा और 3 इंच से कम मोटा नहीं होगा. वो बोली- साले चूसता है कि नंगा ही फ्लैट के बाहर निकलवाऊं…और वो विवेक से बोली- कहां है तुम्हारा फ़ोन…?विवक का फोन उठा कर उसने रिकॉर्डिंग चालू कर दी.

थोड़ी देर इधर उधर की बातें करने लगे पर बारिश बंद नहीं हुई तो मैंने उनसे फिर से कहा कि आपको नहीं लगता कि हमको यहां से निकलना चाहिए. मैंने साड़ी के ऊपर से ही भाभी की चुत पर हाथ लगाया और धीरे धीरे सहलाना शुरू किया. मैंने गैलरी से देखा तो एकता, अन्नू और डॉली काफी हंस हंस के और आपस में किस करते हुए बातें कर रही थीं.

मैं उनको इतना ज़ोर से चोदने लगा कि उनका मुँह खुला हुआ आँखों की पुतलियां ऊपर हो गई थीं.

तो मैंने उस से कहा- मेरी गर्लफ्रैंड है, तो उस से आपको क्यों जलन हो रही है?उसने कुछ नहीं कहा और नाराज हो गयी. वो यह देसी हिंदी पोर्न कहानी अवश्य पढ़ें, उन्हें कुछ ना कुछ फायदा जरूर होगा. रात में मैंने उसके कमरे में उसके पास बैठ बातें की ओर उसका मन बनाने की कोशिश की, पर मेरी हर मेहनत बेकार थी.

यह कहकर उन्होंने अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए, हम दोनों की जिह्वा आपस में मिली और दोनों को ही मज़ा आने लगा, उनके हाथ मेरी चुचियों पर दबाव डालने लगे. वो बके जा रही थी- आआआहह यस्स… प्लीज़ फक मी फक्क मी… और अन्दर तक डालो… चोद चोद कर जान निकाल दो मेरी… भोसड़ा बना दो मेरी इस चूत का… रंडी बना ले मुझे अपनी… हरामी, आज से मैं रखैल हूँ तेरी बहनचोद!उसको चोदते हुए बहुत देर हो गई थी, पर मेरा पानी निकल ही नहीं रहा था.

फिर हम दोनों ने एक दूसरे के होंठों को चूसा और सहर ने मेरा लंड अपने हाथ में पकड़ लिया और उसको सहलाने लगी. मौका ताड़ के मैंने कहा- आपके हाथों में तो जादू है अलका जी… आपकी बनाए हुए पकवान खाकर तो जी करता है कि आपकी उंगलियां चूम लूँ… चूमूँ और बस चूमता ही जाऊँ. राज जी, यही तो पीड़ा है कि पैरों को या हाथों को कौन देखता है… कोई निगाह नहीं डालता… सबकी नज़रें सिर्फ चेहरा या बॉडी तक ही सीमित रहती हैं… वैसे तो किरण भाभी जी के हाथ भी और पैर भी काफी सुन्दर हैं.

इंडियन भाभी के साथ सेक्स

मैंने ज्योति की चुदास को समझते हुए उससे पूछा- क्या तुम्हारा कोई ब्वॉयफ्रेंड है या नहीं?ज्योति ने ना में जवाब दिया तो मैंने कहा कि कोई ब्वॉयफ्रेंड ढूँढ लो और उसका लंड डलवा लो.

मैंने भी उनकी इच्छा का सम्मान किया और पूरा लंड भाभी की चुत में पेल दिया. ऐसा कह के उसने मेरे मोबाइल से साड़ी चेंजिंग का वीडियो डेलीट कर दिया. लेकिन मैंने समय की नज़ाकत को समझते हुए उसे यूनिवर्सिटी चलने को कहा और फिर हम दोनों बाइक से उसके कॉलेज जा ही रहे थे कि रोड पर गड्ढे होने के कारण मैंने उसे पकड़ने को कहा.

आर्थर के धक्कों की गति समय के साथ बढ़ती जा रही थी और वो समय समय पर अपने दोनों हाथों से मेरी प्यारी पत्नी के चूतड़ों को खोलता हुआ उसकी गांड को उंगलियों से सहलाता मुझे दिखाता बडबड़ा रहा था- ले ले! और अन्दर! मजा आया?हाँ… और, और, और… और अन्दर तक… कस के धक्के मारो! फाड़ दो मेरी चुदक्कड़ चूत को!” नताशा भी उसके धक्कों का दिल खोल कर स्वागत कर रही थी. एकदम से मैंने सविता भाबी के होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उन्हें किस करने लगा. इंडियन कुंवारी सेक्सीचाची बोलीं कि ये हमेशा मैं तुम्हारे चाचा साथ करना चाहती थी लेकिन उन्हें वक़्त नहीं मिलता था.

अब पायल भाभी बिल्कुल आराम से लेट गईं और मैं उनके बोबों के निप्पल चूसता रहा. मैंने कहा- मेरी जान अब शरमाओ मत… ये तुम्हारा ही तो है, चलो अब इसे थोड़ा प्यार करो, जैसे मैंने तुम्हारी चूत को प्यार किया था.

लेकिन मैंने उसके आगे आगे चल कर उसे अपनी मतवाली चाल से चलते हुए अपनी गोल गांड को मटका मटका कर दिखा दी. इस वक्त भाभी की नाईटी उनके घुटनों के ऊपर थी और वे अपने पैर पसारे लेटी थीं. शावर से ठंडा पानी निकलते ही कामिनी विवेक से चिपक गई और बोली- बहुत बद्तमीज हो यार.

आप ये सब क्यों करवा रही हो मुझसे?इतना बोलते ही मैं उनको गले लगा कर रोने लगा. दिन में एरिक चाहे तो शहर में घूमे, या कोई कोर्स ज्वाइन कर ले, उसकी मर्जी, और शाम को हम लड़की को अपने यहाँ इनवाइट कर सकते हैं, किसी रेस्त्रां, या कहीं और…” आर्थर ने आराम से उत्तर दिया. उसने कहा- क्यों ना आज ही मैं तुम्हें तुम्हारी जोरदार कहानी दिला दूँ.

फिर मैंने अपने कैमरे को निकाल के रिकॉडिंग शुरू कर दी और कैमरे को बिस्तर के सामने रख दिया ताकि सब साफ साफ रेकॉर्ड हो सके और मंजू को बोला- तुम्हें कैसा लंड पसंद है?मंजू नशे में थी लेकिन चुप हो गयी.

मेरे बहुत कहने पर उसने ये सब मेरी मम्मी को भी बताया तो मम्मी भी थोड़ा गुस्सा हुईं लेकिन उसको अपने कमरे में ले गईं. हालांकि मुझे उसके लंड दिखाने की बात से समझ आ गया था कि ये पक्का मुझे चोदने की फिराक में है.

यही सब सोचते हुए मैंने अपनी आँखें खोल कर उनके हाथ को पकड़ कर बोली- हाय भाईजान, यह आप क्या कर रहे हैं?मुझे जागता देख भाईजान घबरा गए और मेरे पास से अलग हुए. नताशा संग हमने भी पैदल मार्च में शामिल हो शहर में घूमते हुए रेड स्क्वायर तक जाकर परेड देखने जाने का प्लान बनाया. जब मैं कोल्ड ड्रिंक देने उसके घर गया तो वहाँ सहर के अलावा कोई नहीं था.

मैं- तो भैया?भाभी- वो कहां… बस अपना काम निकालते हैं और बंद कर लेते हैं. वो मुझे गेट तक छोड़ने आईं और बोलीं- दो दिन के बाद मैं घर पर अकेली रहूँगी, तुम कभी आ सकते हो. आज वो दो बच्चों की मॉ है और मैं भी शादीशुदा हूँ, पर उसकी वो पहली चुदाई भुलाए नहीं भूलती.

देहाती हिंदी बीएफ सेक्सी देहाती हाथ पैरों के नाखूनों में भी मैरून नेल पोलिश और मैरून ही लिपस्टिक भी. मैंने कहा- ठीक है!मैं फिर मामी के चुचे दबा दबा कर उसकी चूत में उंगली करने लगा.

बिऐफ बिडियो

उन्होंने कहा कि वे मुझे भी हमेशा प्यार करते रहेंगे और मेरी दीदी को भी!उन्होंने बताया कि पिछले कुछ दिनों से दीदी के खराब व्यवहार की वजह से वह आहत हैं और अपने ऑफिस में काम करने वाली एक लड़की से उनकी नजदीकियां बढ़ रही थी लेकिन आज मेरा प्यार पाने के बाद वह दीदी की जगह किसी और लड़की को नहीं देंगे और आज मैंने अपने दीदी का घर बचा लिया है. वो मुझे अपनी गोद में बिठा कर मेरे मम्मों को और चुत को हाथों से सहलाता रहा. सुबह उठने के बाद देखा कि उसकी चूत सूज गई है, उससे चला भी नहीं जा रहा.

सगे भाई बहन की चुदाई की अब तक की कहानीदीदी का नंगा बदन देख जागी मेरी कामुकता-1में आपने पढ़ा था कि दीदी मुझे चूमने लगी थी. नीचे वो अपने गधे जैसे मोटे काले पठानी लंड से मेरी चुत चोद रहा था और ऊपर मेरा मुँह को उसकी जुबान चोदने लगी थी. सेक्सी वीडियो बढ़िया वालीथोड़ी देर में भैया ने कहा- ऋतु अब मैं तेरी चूत में अपना लंड डालूँगा… आज तुझे अपनी बना लूँगा.

मैं 7 बजे शाम को बस में अपनी बर्थ पर बैठ गया और बस के चलने के समय मेरी सीट पर एक लेडी आकर बैठ गई.

वाकयी क्या मस्त नजारा था वो, पिंकी सीधी लेटी हुई थी, विक्की की जीभ उसकी मटर जैसी लुल्ली को सहला रही थी. उसके बाद भैया ने मुझे पकड़ा और मेरे मम्मों को दबाने लगे, मैं भी सिसकारी लेने लगी क्योंकि मुझे तो बहुत मजा आ रहा था.

उसके बाद मेरी बहू ने मुझे बताया कि मेरा पुत्र समलैंगिक है, उसे किसी लड़की में कोई दिलचस्पी नहीं है. दोस्तो, मैं अन्तर्वासना का एक नियमित पाठक हूँ और कई दिनों से अन्तर्वासना पर अपनी कहानी लिखने की सोच रहा था. आज मुझे मुठ मारते वक्त इतना मज़ा आया, जितना पहले कभी नहीं आया था… जितना उसको ख्यालों में चोदने का सोच कर आज मुठ मार कर आया था.

तो छुट्टी लेकर मैडम के साथ हो लिया।नीना को सजते संवरते दो घंटे लग गए और हम लोग हॉस्पिटल करीब एक बजे पहुंचे। डॉक्टरों के हर केबिन में खचाखच भीड़ थी.

दारू पीते समय ही मेरे को पता चल गया था कि भाभी वास्तव में बहुत बड़ी छिनाल है. इसमें कोई भी मसाला नहीं लगाया गया है इसलिए हो सकता है कि आपको कभी बोर भी लगे. चुत का पूरा पानी पीने के बाद मैंने भाभी की चूत को चाट कर साफ़ कर दी.

55 सेक्सी वीडियो”अब असली सरप्राइज आता है, उन दोनों ने मेरी चूत ही चोदी थी मगर पर मेरी गांड नहीं मारी थी. उम्म स्सस्सस्स…”आहह… उह…”धीरे से यार… मेरे निप्पल मत काटो…”स्सस्सस्स उम्म्मम्म…”अरे अंश क्या हुआ… तुम्हारा लंड तो शायद कंट्रोल से बाहर हो रहा है.

सेक्सी ब्लू गांव की

मैंने पूछा- क्या हुआ?सोनिया बोली कि वो प्रेग्नेंट है और माँ बनने वाली है. और इस दवा का असर कम से कम 6-7 घंटे रहता है, आज पता नहीं कैसे आपकी नींद खुल गई. आप सभी तो जानते ही हैं कि चूत की महक मुझे पागल कर देती है और मैं उसे चाटे बिना नहीं रह सकता.

मैं कुछ भी कहने लायक नहीं थी मुझे तो पैसे की चमक ने अँधा कर दिया था. मैंने भाभी से वैसे ही झूठ कह दिया जबकि मैं अपने ब्वॉय फ्रेंड से कई बार चुदवा चुकी थी. दो दिन बाद भाबी का कॉल आया और उन्होंने बताया कि वे मुझे कितना मिस करती हैं.

उसने मेरा नाम लेकर पुकारते हुए कहा- भैया…!मैं चौंक गया, फिर उसे ध्यान से देखा तो मैं भी बोला पड़ा- अरे राम…?वह- हां हां बोलो… मेरा पूरा नाम बोलो. उसने बोला कि वो मेरे बॉयफ्रेंड से भी ज्यादा मेरी देखभाल करेगा और मेरी सारी जरूरत पूरी करेगा. जो टाइट होने की वजह से मेरी चूत की दरार के दर्शन बिना रोक टोक के करा रही थी.

देखते ही देखते जून का महीना आ गया, मैंने राज को सारी बात बता दी क्योंकि छुट्टियां पड़ी थी, बच्चे नाना नानी के यहां चले गये थे तो हम दोनों ने सोचा क्यों न ऋषिकेष घूम कर आया जाए! आगे क्या हुआ अगली कहानी मेंदोस्तो, यह कहानी थी जयपुर के एक कपल की जो अपने संजू के ही शब्दों से सुनी. भाभी- तुम अकेले हो?नहीं मेरा भाई है… वो रात को रिक्शा चलाता है और मैं दिन में.

फिर मुझसे भी रहा नहीं गया और मेरे मुँह से निकल गया कि मैडम आप बहुत खूबसूरत हैं.

फिर वो मेरी चूचियां मुँह में ले कर उन्हें चूसता और मम्मों के आस पास दांतों से काटता रहा. सेक्सी वीडियो गीत वालाउसके बाद मेरे मुँह की गरमाहट पा तुरंत ही पिचकारी मारते हुये मेरे मुँह को भर दिया, कुछ तो सीधे मेरे कंठ में चला गया तो कुछ मुँह में रह गया. भोजपुरी सेक्सी वीडियो देहाती वालावो लड़की मुझसे कहने लगी कि उसका वाला तो बहुत छोटा था, आज तुमने मेरी चुत चोद कर मुझे बहुत मज़ा दिया. मेरी जरा सी चूत में कैसे घुसेगा ये?मैंने बोला- सब हो जाएगा तू टेंशन मत ले.

वॉव, उसका 7 इंच का लंबा लंड मेरे सामने ऐसे आया जैसे कोई साँप वर्षों से पिजरे में कैद रहा हो और अभी आज़ादी मिली हो.

उसने कहा कि तुमने अपना वादा भी पूरा किया… अपनी गर्लफ्रैंड को इतना मानते हो क्या जो उसकी कसम पे यहां आ गए?मैंने कहा- हाँ बहुत मानता हूं. मैं कैसे सहन करूँगी?तो मैंने कहा- तुम डरो मत, मैं बहुत आराम से करूँगा. मैंने फिर पूछा- पसंद है?भाभी ने अपने उंगलियों को लंड पर दबाव देकर कहा- बहुत दिन से पसंद है.

मैंने कहा- फिर आप डिस्को कैसे देखोगी?दीदी ने कहा- अगर तुम मेरा साथ दो तो काम बन सकता है. बीच बीच में मैं अपने मुंह में पानी भर कर उसकी चूत में तेज़ धार छोड़ देता. इधर जैसे ही दिशा की चूत के दाने पर दीक्षा की जीभ लगी, दिशा ने मेरे लंड के सुपारे की खाल को हटा दिया और मेरे लंड पर अपनी जीभ से चाटने लगी तो मैं भी जन्नत की सैर करने लगा और 10 मिनट बाद मेरे सब्र का बाँध टूट गया.

हिंदीसेक्सीवीडियो

मैंने तुम्हारे कपड़े उठा कर रख दिए हैं, जो अब तुम ढूँढ नहीं सकती हो. मेरे मन में दो बातें थी, या तो सोनू का आना सिर्फ़ एक इत्तेफ़ाक हैं या सोनू ही हो सकता है कि मेरे मज़े ले रही हो. वहां ठीक पंखे के नीचे उनको खड़ा कर दिया और हैंडकफ से उनको बाँध दिया.

मैंने पूछा- अन्दर पेंटी नहीं पहनती हो क्या?वो बोली- पहनती हूँ, पर आपने जब दरवाजा खटखटाया तो जल्दबाजी में पहनने का वक्त नहीं था.

उसके बालों से आती हुई शैम्पू की सुगंध और उसके बदन से चारों तरफ फैलती हुई इत्र की महक मुझे पागल बनाये जा रही थी.

इतना सुनते ही मैंने कहा- काले अजगर का ज़हर तो हम निकाल देंगे जनाब! बस आप हमें एक मौका तो दो… हम अपने तरीके से करेंगे इसकी खातिरदारी!बोलते हुए मैंने गेट बंद किया और मैं घुटनों के बल बैठ गया और जोर से अपने दाँतों से उसके लंड को पैन्ट के ऊपर से ही काट लिया और उसके लंड पर अपना चेहरा रगड़ना शुरू कर दिया. पहले तो मैंने वहाँ पर चूमा, फिर उतर कर फ्रिज से ढेर सारी बर्फ निकाल कर दाग पर लगाने लगी उन्हें यह अच्छा लग रहा था बर्फ और मेरे स्पर्श के कारण उनका शरीर भी कांप जा रहा था, सिहर सिहर कर रोयें खड़े हो रहे थे।तभी मुझे शरारत करने को सूझी। ढेर सारी बर्फ का टुकड़ा लेकर लंड पर फिराने लगी, वे बोले- अरे, ये क्या कर रही हो?मैं अपने शरारत में मशगूल रही… उन्हें भी अब ये अच्छा लगने लगा था. नंगा सेक्सी गेममैं बोला- यार जब से तुझे देखा तो चोदने का मन था, पर सोचा कि कल शादी है जिसकी, वो एक दिन बाद तो चुदेगी ही.

थोड़ी देर लंड चूसने के बाद मामी बोली- यार, अब तो मुझसे भी नहीं रहा जा रहा है!मैं बोला- तो जानू, चलो बाथरूम में… वहीं जाकर तेरी चूत का भूत उतार देता हूँ. अब आगे आपको बताऊंगा कि मैंने कैसे अनामिका के कहने पर उनकी बहन की प्यास बुझाई और और मैं उन दोनों बहनों की सेक्स की भूख आज भी शांत कर रहा हूँ और वे दोनों आज मुझसे बहुत ही खुश हैं।तो चलिए अब देर न करते हुए अब कहानी की शुरुआत करते हैं. मेरी मारेगा?उसने इतना ही कहा और मेरे जबाव का इन्तजार किए बिना वो एकदम पलट गया.

वो गाड़ी से उतरा और पीछे वाली सीट पे आ गया, एक झटके से उसने मेरा हाथ पकड़ के अपनी ओर खींचा. वो बस मादक सिसकारियां ले रही थी, जो मुझे और ज़्यादा उत्तेजित कर रही थीं.

मैं टॉप के ऊपर से दीदी के चूचे दबाने लगा और दीदी जींस के ऊपर से मेरा लंड मसलने लगीं.

भाभी ने आँखें बड़ी करते हुए पूरा मुँह खोला और मुँह पर हाथ रखते हुए भाभी बोली- बाप रे!मैं- क्या हुआ भाभी? मुझे सचमुच कुछ बिमारी है क्या?मेरा 7 इंच लंबा और 3 इंच मोटा लण्ड अपने पूरे आकार में था. रेखा ने लंड को गहरी गहरी साँसें लेते हुए अच्छे से सूंघा, सुपारी की खाल पीछे करके अपने गालों पर फिराया, फिर जीभ निकाल के सुपारी का स्वाद चखा. उन दोनों ने मेरी चुत को इस तरह से चाटा कि वो जैसे अभी अभी धुल कर आई हो.

सेक्सी वीडियो चुदाई का सेक्स हम लोग चुदाई में इतना मस्त थे, हम लोग दरवाजा बंद करना भी भूल गये थे और हम लोगों को पता भी नहीं चला कि कोई हम लोगों की चुदाई को देख भी रहा है. खैर अब यह उनका रोज़ का काम हो गया था, मुझसे अपनी चूत चटवाना और मेरी फुद्दी चाटना.

यहाँ तक वो कई बार अपनी स्कर्ट तो बहुत ऊंचा करके अपनी चड्डी तक भी दिखा देती थी. तुम शाम को ला रही हो ना मुर्गी हलाल करने के लिए?कुसुम बोली- बिल्कुल. उसके साथ मैं थोड़ी देर यूं ही इधर उधर की बातें करने के बाद अपनी सहेली के साथ ऑफिस चली जाती थी.

विदेशी नंगी पिक्चर

)वह ठेट मलवीय कड़क भाषा में बोलता हुआ बहुत सेक्सी लग रहा था लेकिन आगे की बातचीत मैं आपको हिंदी में ही बताने जा रहा हूँ. कभी वह मेरे मुँह में अपनी जीभ देते, कभी मैं उनके मुँह में अपनी जीभ दे देता. कुछ देर बाद मैंने अपना माल सैंडल पे ही छोड़ दिया और फिर मैं सोने चला गया.

मेरी लम्बाई ज्यादा नहीं बस 5 फुट 5 इंच ही है, लेकिन मैं किसी भी लड़की या भाभी को बखूबी सन्तुष्ट कर सकता हूँ. जिसमें से बाकी के तो उसे मिलेंगे ही… और बताई हुई रकम से भी 10% निकाल लेगी.

आगे सीने पर उनके 2 बड़े बड़े आम तने हैं, जिन्हें देखते ही चूसने का मन करता है.

अब शायद पांच बजे होंगे, मैं गांड मारते हुए बोला- भाई रामसुख लग तो नहीं रही?वह गांड उचकाते हुए बोला- मैं तेरे जैसा नखरेबाज नहीं हूँ… जितनी दम हो पेल ले. अलका रानी को लिपटा लिया, उसने भी टाँगें कस के मेरी टांगों में लपेट लीं. इतनी देर में विवेक की आवाज आई- कहां हो स्वीटू?वो बोली- आ रही हूँ जानू.

दीदी ने मुझे कंडोम ला कर रखने को कहा, क्योंकि रात में दुकानें बंद हो सकती थीं. मैं कुछ देर तो शांत रहा, फिर मैंने अपनी जिप खोल कर लंड बाहर निकाल दिया. इतना कह कर मैं अपना पेंट उतारने लगा, इतने में वो बोली- पहले दरवाजा तो अच्छे से बंद कर लो जीजू.

ये सारी बात मैंने अपने पार्टनर को बताई और कहा- कल तू दीदी के यहाँ चला जा.

देहाती हिंदी बीएफ सेक्सी देहाती: वो मेरे चूचों पर कोई रहम नहीं करने वाला था क्योंकि वो मेरे चुचों के अंगूरों के कवर्स को खींच खींच कर ऊपर लेकर छोड़ता था, इससे मुझे बहुत दर्द होता था. तो ले… ले ले ले ले… और ले… काफी है तुम्हारी नन्ही सी चूत के लिए या और लगाऊं?” आर्थर ने नताशा से इस आशा में पूछा कि वो अब संतुष्ट हो चुकी होगी.

मैंने उनसे पूछा- माल कहां गिराना है?उन्होंने कहा कि मेरी गांड की तुम ऊपर से तो मालिश करते ही हो, अब अन्दर भी क्रीम लगा कर मालिश कर दो. मेरे लंड का साइज 7 इंच है जो किसी को भी संतुष्ट करने के लिए काफी है. इसके बाद मैंने मेरी सहेली के मकान मालिक से पर बहुत दिन तक बातें की और मैं उसके साथ काफी हद तक खुल गई.

आंटी भी मेरा लंड चूसना चाहती थी, उन्होंने मेरा लंड पकड़ पर अपनी ओर खींचा तो अब हम 69 की पोजीशन में आ गए.

दीदी के चूचे और गांड उभरे हुए और सुडौल हैं लेकिन पेट बिल्कुल सपाट है. वो तो इंतज़ार ही कर रहा था कब दरवाजा खुले और कब वो अन्दर कर मुझे चोदे. उसकी मादक और कामुक सिसकारियां लगातार बढ़ती जा रही थीं- आह… आह… ये क्या कर रहे हो… मुझे पागल क्यों कर रहे हो… अब चोद भी दो ना बेबी… प्लीज़… जल्दी से डाल दो.