बीएफ एक्स एक्स एक्स सेक्सी फिल्म

छवि स्रोत,तमन्ना सेक्सी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

राजस्थान सेक्सी ऑडियो: बीएफ एक्स एक्स एक्स सेक्सी फिल्म, नमस्ते पापा जी!” बहूरानी ने हमेशा की तरह मेरे पैर आत्मीयता से स्पर्श कर के मेरा स्वागत किया.

बीएफ सेक्स बीएफ सेक्सी वीडियो

फिर हम दोनों हंसने लगे, मैंने अपनी स्पीड बढ़ा ली और ज़ोर ज़ोर से झटके देने लगा. बीएफ सेक्स एचडी हिंदीफिर रोहण और मैं फ्रेश हुए और इस तरह हमने दुबई में पूरे 10 दिन तक चुदाई की थी और फिर हम भारत वापिस आ गए।अगले दिन मैं आफिस गयी और सब लोग मुझे ही देख रहे थे क्योंकि मेरी मांग में सिंदूर था। सब मेरे बारे में ही बात कर रहे थे.

फिर उन्होंने मेरी शर्ट उतार कर पेंट उतारने के लिए हाथ बढ़ाया, जो मेरे तने हुए लंड में टच हुआ. हिंदी बीएफ मां और बेटे काआज तक मैंने किसी औरत को इतने करीब से कभी नहीं छुआ था और फिर औरत भी पूरी हुस्न की मालकिन, जिसको देख कर ही अच्छे अच्छे लोगों की हालत खराब हो जाए.

मैं तो अभी भी चाची की भीगी मैक्सी के अन्दर से झाँकते उनके अंगों को बेशर्मों की तरह घूर रहा था.बीएफ एक्स एक्स एक्स सेक्सी फिल्म: मैं अपनी उंगली से उसकी चूत का दाना सहलाने लगा तो वो कामवासना से चुदास से पागल होकर बोली- समीर मुझे चोद दो, अब नहीं रुका जाता.

उसने पहले थोड़ी थोड़ी जीभ लगाई, फिर जब उसे लगा कि ये उतना गंदा नहीं है, तो वो जोर जोर से लंड पर लगी क्रीम चाटने लगी.उनकी चूत से चुदाई का रस मेरे लंड से होते हुए मेरी गोलियों तक आ गया.

देवर भौजाई का बीएफ - बीएफ एक्स एक्स एक्स सेक्सी फिल्म

इससे कमल उत्तेजित होने लगा, अब उसने अपना लंड मेरे मुँह से बाहर निकाल लिया और मुझे बेड पर लिटा कर मेरी चूत की पखुड़ियों को चाटने लगा.माया ने अपनी गाड़ी पार्किंग में लगाई और तेज़ कदमों से अपने केबिन की तरफ बढ़ चली.

कसम से नाईटी भाबी के जिस्म से चिपकी हुई थी और भाबी बहुत सेक्सी लग रही थीं. बीएफ एक्स एक्स एक्स सेक्सी फिल्म मेरा पूरा लंड भाभी की चूत में चला गया और पायल भाभी ज़ोर से चीखने लगीं.

हम एक ही सोसाइटी में रहते थे तो ये हमारे लिए ज़्यादा मुश्किल नहीं था.

बीएफ एक्स एक्स एक्स सेक्सी फिल्म?

उसके बिस्तर की सफ़ेद चादर पर बहुत खून गिर गया था पर मैंने चोदना शुरू ही रखा. दर्द होता है… धीरे धीरे करो ना!अब वो मुझे खड़े खड़े ही लंड पेल कर चोदने लगा. मैंने भी यही ठीक समझा और हम दोनों ने मुंह हाथ धोए और कपड़े पहने और फिर से मिलने वादा करके वह निकल गई.

नहाते समय मैंने सोचा कि वैसे भी मैं वरुण के सामने कपड़े बदल लेती हूँ तो क्यों नहीं आज टॉवेल पहन कर ही बाहर आ जाती हूँ. मंजरी अब जवान हो रही थी उसका बदन खिलने लगा था, तो उसके दूर के एक मामा के लड़के पुलकित की नजर उस पर पड़ी. इस बार फिर पूर्व की भांति सुकुमारी भौजी ने मेरा लंड मुँह में लेते हुए, बाहर-भीतर की क्रियाशैली में मेरे मन को रिफ्रेश कर दिया.

मैं- दिव्या रहती है, मैं कैसे लगा पाऊँगी?अमित- तुमको जब समय मिले तो मेरे कमरे पर 20 मिनट मालिश करवाने आ जाया करना बस फिर देखना क्या कमाल हो जाएगा. हम दोनों खाना खाने लगे और वो खाना खाते वक़्त मुझसे मेरी गर्लफ्रेंड के बारे में पूछने लगी. मैं जब भाभी के घर पहुँचा तो भैया जा चुके थे और भाभी खाना बना रही थीं.

बॉस- तो कहीं बाहर चलोगी, जहां खुल कर मैं तुमको चोदूँगा?मैं- सर अभी पहले भाई के लिए कुछ इन्तजाम कर दूं, फिर चलूँगी नहीं तो घर वाले सोचेंगे कि मैंने छोटे भाई को ऐसे ही भटकने के लिए छोड़ दिया. दस मिनट तक लन्ड चूस चूस कर लाल कर दिया उसने… मैंने पूरा माल उसके मुंह में छोड़ दिया और वो पूरा चाट चाट कर पी गयी।फिर मैंने उसको लम्बा लिप किस किया और दोनों चुचों को मसल कर दबाता रहा, फिर वो अपने घर चली गयी।दोस्तो कैसी लगी मेरी देसी हिंदी सेक्स कहानी? आप लोगों के मेल के इंतजार में।[emailprotected].

अब मैंने अपना हाथ चूत से हटाया और दूसरी चुची को टॉप में से आजाद कर दिया और दोनों हाथों से उसकी दोनों चुची को दबा व मसल रहा था.

दोस्तो, मेरा नाम नसीम खान है, मैं एक सीधी सादी हाऊसवाइफ हूँ, जो हमेशा घर के कामकाज या पति और बच्चों की देखभाल में ही लगी रहती है.

थोड़ी देर बाद मेरा पानी निकलने वाला था, उन्होंने वीर्य अन्दर ही छोड़ने के लिए कहा. उसके बाद बहुत प्यार से उसको फँसाना, तब आएगी दिव्या रानी हमारे लंड के नीचे. ”मैं भी झड़ने वाला था तो मैंने कहा- किधर लोगी?तो चाची बोलीं- मेरे मुँह में निकालो.

अब मैं उन्हें क्या बताती कि उनका संजय जिसकी वो इतनी फिक्र कर रहे हैं, वो बिस्तर पे उन्हीं की खूबसूरत बीवी की नंगी चुत में अपना मोटा लंड डाले पड़ा है और उनकी पतिव्रता बीवी, जिससे वो बहुत प्यार और भरोसा करते हैं, वो अपनी नंगी चुत का उसको हकदार बनाए उसके मोटे लंड से चुद रही है. मैंने भाभी से उनके यहाँ आने वाला न्यूज़ पेपर माँगा और लेकर निकल गया. मैंने अपनी बीच की उंगली पर उसकी चूत का पानी लगाया और धीरे से उंगली अन्दर खिसका दी.

अब मुझे लगने लगा था कि शायद मैं जो अपनी बहन से चाहता हूँ, वो मुझे जल्दी ही मिलने वाला है.

मैं ज्यादा कुछ बोलती, उससे पहले तो संजय ने मेरा हाथ खींच कर मुझे अपनी बांहों में भर लिया. साथ में एक ऊँची हील का चमड़े का बूट पहना था जोकि लम्बाई में उनकी जांघ तक था और दीदी का बाकि पूरा शरीर नंगा था. अब मैंने उन्हें उठाया और खड़ा करके उसके पैर को मेरी कमर से लगा कर मेरे लंड को उनकी चूत में दे मारा.

तभी ओमार को गोल छेद की याद आई और वो आसानी के साथ उस पर शिफ्ट हो गया. करीब 10-15 धक्कों के बाद मैं भी चीखता हुआ भाभी की चुत में ही झड़ गया. किसी शानदार पोर्न एक्ट्रेस की तरह मेरी पत्नी अपनी जीभ द्वारा ओमार के ढीले हुए लंड को खड़ा करने का प्रयत्न करने में लग गई, जबकि पीछे से जमैका का लंड लोहालाट हुआ मेरी पत्नी की गांड के चीथड़े उड़ाने में लगा हुआ था.

वो मुझे मजे से चोदने लगे, मुझे भी बहुत अच्छा लग रहा था, वो बड़े आराम से मेरी चूत चोद रहे थे- आआह आआह आह सस्स… पट पट… सस्स्स हाह!फिर कुछ मिनट बाद उन्होंने अपनी स्पीड बढ़ा दी, बड़ी तेजी से मुझे चोदने लगे.

चुत की सम्भावना में तलाश जारी रहती और धीरे धीरे आराम से हर जगह अपनी सैटिंग कर ही लेता. तो मैं खड़ी होकर उनकी कमर से लिपट गई। यश ने मुझे अलग किया और कमीज उतार दी। परन्तु आज मैं पीछे हटने वाली नहीं थी। मैंने यश को अपनी तरफ घुमाया और उनका सिर पकड़ कर होंठों पर चुम्बन करने लगी और उनका एक हाथ अपनी चूची पर रखकर दबाने लगी। ये सब मैंने एक बीएफ में देखा था.

बीएफ एक्स एक्स एक्स सेक्सी फिल्म उसकी आँखों से आंसू निकलने लगे, वो हिलने की पूरी कोशिश करती रही, मगर मैंने उसे हिलने नहीं दिया. मैं देर ना करते हुए कविता के नंगे बदन के ऊपर चढ़ गया और कविता की चूत पर अपने लंड को रख दिया, फिर अपने लंड के टोपे को चूत के दाने के ऊपर नीचे रगड़ने लगा और वो तड़पने लगी.

बीएफ एक्स एक्स एक्स सेक्सी फिल्म उस हल्की रोशनी में वो बहुत ही हसीन लग रही थी और कुछ पैग का सुरूर भी था. लेकिन मेरे ख्यालों में बार बार मम्मी की नंगी चूचियाँ ही नज़र आ रही थी तो फिर मैंने मुठ मारी और सो गया.

आह्ह…मैंने भी स्पीड बढ़ा दी, अब मैं भी पूरे मजे में था और बोल रहा था- आह.

बॉलीवुड के सेक्सी पिक्चर

तभी भाभी के पापा उठ कर एकदम मेरे मुंह के ऊपर टांग रख कर अपना लौड़ा मेरे मुंह में रख कर बोले- आरती, मेरा लंड चूसो!मैं बोली – अंकल, मुझे अच्छा नहीं लगता!अंकल बोले- आरती, इसमें जादू है, इसे चूस के देखो, लड़कियां मरती है इसके लिए!मुझे उनके लंड की खुशबू बहुत मस्त लगी, मैंने मुंह खोल दिया और चूसने लगी. भाभी अगर आप नंगी भी सामने खड़ी हो जाएंगी तो हम तो दो बार सोचेंगे कि आपको ढकना है या आपको चोदना है. ब्लाउज झीना होने के कारण सुमित को गोरे गोरे मम्मों की झलक मिल रही थी और उसका लंड पेन्ट फाड़ के बाहर आने को तैयार था.

उनके चूतड़ तो फ्रंट से भी शानदार थे, हल्का निकला हुआ पिछवाड़ा क्या गजब माल दिख रहा था. दो मिनट यूं ही पड़े रहे और फिर अलग हुए ही थे कि तभी नीचे से कोमल की आवाज़ आई- मम्मी…हम दोनों ने जल्दी ही अपने कपड़े पहन लिए. भौजी ऊपर से खुली हुई निढाल आँखें मींच रही थीं और मेरा दूसरा हाथ उनकी साड़ी के ऊपर से उनकी बुर को पनिया रहा था.

उसकी इस तरह की रंडियों वाली हरकतें देख कर मेरा शक यकीन में तबदील होता जा रहा था कि साली चालू चुदक्कड़ रैंड है ये तो!अब वो बोली- राजा, तुम्हारा जूस तो बहुत ही टेस्टी था.

मुझे पता था कि ये दोनों बातें करते करते सो जायेंगी और दो घंटे नहीं उठेंगी. अगले दिन मैं और मेरा दोस्त उससे मिलने गए तो मैंने उसको नया मोबाइल खरीद कर दिया. तो तभी मैंने अपना सुपारा घुसेड़ दिया और अन्दर-बाहर करने लगा और उसे भी मजे आने लगे।मैंने जैसे ही झटके से अन्दर डाला तो वो छटपटाने लगी और लण्ड निकालने को कहने लगी।जब वो चुप हुई तो मैं फिर से डालने लगा.

मैंने मस्ती से उनकी चूत को देखा और अपनी दो फिंगर उनकी चूत में डाल कर काफ़ी स्पीड में अन्दर बाहर करने लगा. बहूरानी के कोमल पैरों का स्पर्श मेरे लंड को और कठोर बनाता जा रहा था और अब वह पूरा अकड़ चुका था. मैं अब कैसे बताऊं?तब वो मेरे से चिपक गईं और कहने लगीं- बताओ वरना तुम्हारी मम्मी को बता दूँगी.

मैंने उसी दिन सुबह को अपनी चूत के बाल साफ़ कर लिए थे, मुझे पता था कि आज मेरी चुत चुदाई होनी तय है. आधा लंड मेरी चूत में घुस गया और मेरी चीख निकली- उईईईइ मा मम्मी उईईई माँ ह्हहा!मैं रोते हुये बोली- अंकल, मुझे जाने दो, दर्द हो रहा है, मैं मर जाऊँगी.

नमस्कार मेरे प्यारे दोस्तो, कैसे हैं आप सब! मैं आपका दोस्त रविराज उर्फ़ राज एक इंडियन इन्सेस्ट स्टोरी के साथ हाजिर हूँ. दस मिनट तक लन्ड चूस चूस कर लाल कर दिया उसने… मैंने पूरा माल उसके मुंह में छोड़ दिया और वो पूरा चाट चाट कर पी गयी।फिर मैंने उसको लम्बा लिप किस किया और दोनों चुचों को मसल कर दबाता रहा, फिर वो अपने घर चली गयी।दोस्तो कैसी लगी मेरी देसी हिंदी सेक्स कहानी? आप लोगों के मेल के इंतजार में।[emailprotected]. एक दिन वो अपने भाई के सामने, जो कि मेरा दोस्त है, मुझसे पूछने लगी- मिठाई कैसी थी?तो मैंने बोला- बहुत मीठी.

मैं 2 बजे तुम्हारे कॉलेज के गेट पर आऊँगा, तुम तैयार रहना!इतना कह कर मैंने उसे बाय कहा और वहां से निकल पड़ा.

निशा ही क्यों? कहानी सुना रहे हो कि खुद बना रहे हो?”सुनाऊं या बनाऊं, तू सुनने से मतलब रखना. खैर मैंने उसके दोनों मम्मों को हाथों में लिया और एक एक करके उन्हें चूसने लगा, मसलने लगा. मैं भी उनको देख ही रहा था और मन ही मन उनके साथ सेक्स के ख्यालों में डूबा हुआ था.

आते वक्त मैंने एक मोबाइल लिया जिसमें सीक्रेट तरीके से फ़ोन रिकॉर्ड हो सके और किसी को पता न चले. मैं चाचा को इसलिए कुछ नहीं बोलती थी क्योंकि वो कभी कभी मेरी हेल्प भी कर देते थे और कभी कभी मुझे अपनी कार से ऑफिस भी छोड़ देते थे.

आओ अन्दर बैठो, अच्छी लग रही हो यार…अवी मस्त लग रहा था, मैंने भी कहा- तुम भी अच्छे लग रहे हो. अपने लिए कोशिश नहीं करता?तब ममता ने चौंक कर मुझे देखा और बोली- क्या बोला आपने. उन्हें इस रूप में देखकर मेरा लंड लोहे की तरह टाईट हो गया, ऐसा लग रहा था, जैसे अभी पैन्ट फाड़ कर बाहर आ जाएगा.

घोड़े वाली सेक्सी

एक दिन सुरेंदर भैया ने मुझसे कहा कि उनको 10 दिनों के लिए ऑफीशियल टूर पर जाना है और मैं उनके पीछे उनके घर का ध्यान रखूँ.

वैसे मैं भी इस स्थति में मैं क्या कर सकती थी, वो जैसा जैसा कह रहा था, वैसा वैसा कर रही थी. उसने पूछा- तुम क्या देख रहे हो?मेरे मुँह से निकल गया- कुछ नहीं भाबी. मैंने 10 सेकेंड रुक कर एक और धक्का दिया मुझे तो ऐसा लगा मानो मेरी जान निकल जाएगी.

क्योंकि मैं भी और लड़कों की तरह लड़कियों पे पैसे उड़ाना चाहता हूँ, मैं भी बाइक पे अपनी गर्लफ्रेंड को बैठाना चाहता हूँ. फिर हम दोनों ने साथ में स्नान किया, कपड़े पहनते पहनते उन्होंने इच्छा जाहिर की- अब से हम दोनों हर शनिवार को सेक्स किया करेंगे. बीएफ कुत्ता लड़की कीपर मम्मी ने ये देख लिया था कि दुपट्टा के बिना मेरे सामने चली गई थी, इसलिए मम्मी उस पर आग-बबूला होने लगीं और गुस्से में उसे बहुत कुछ सुना दिया.

बहूरानी के इस लाजवाब कार्यक्रम का मैं कायल हो गया और आने वाले रोमांच और रोमांस के बारे में सोच सोच कर मेरा मन प्रफुल्लित हुए जा रहा था. मेरा मन कर रहा था कि उनको नंगा देखूं लेकिन संकोचवश कह नहीं पा रहा था.

मैं अब भाभी के पीछे से ऊपर चढ़ कर उनके बाल पकड़ कर बुरी तरह से गांड मार रहा था. शहजाद- हल्लो नसीम!मैं धीमी और कांपती आवाज में बोली- हां शहजाद कहिए?शहजाद- क्या हुआ संजय खाना खाने के लिए नीचे उतरा या नहीं?मैंने सुकून की सांस ली कि शहजाद को कुछ पता नहीं चला था. पर अवी सुन कहा रहा था वो तो मुझे देख ही रहा था नजरें ही नहीं हटा पा रहा था- आता हूँ.

मेरा कभी झूठी कहानियाँ लिखने का मन करता मग़र अनुभव न होने के कारण लिख नहीं पाता था. फिर मैंने उसकी कमर को पकड़ा और नीचे से धक्का लगाया, तब कहीं जाकर उसकी संकरी गांड में मेरा आधा लंड घुसा. उसके बाद तो हम हर महीने इस तरह के चुत चुदाई समारोहों का आयोजन करने लगे थे.

उसने मेरा सिर ज़ोर से दबा दिया और मुझसे कहने लगी- ले चाट ले मेरी चुत.

मैं कमल के सामने बिना कपड़ों के बेड पर पड़ी थी और कमल के सामने खुद को ऐसे दिखा रही थी, जैसे मैं बहुत शर्म कर रही हूँ. फसल नहीं आई?तो भाभी समझ गईं और हंस कर बोलीं- भैया तो आते हैं, खाना खाते हैं.

यहाँ मेरे अलावा और कौन है और उसने ये कहते हुए खोलने के लिए हाथ आगे बढ़ाए. मैं उसकी चुत में दो उंगली डाल कर अन्दर बाहर कर रहा था और उसके दाने को चाट रहा था. मैं- क्या मैं आपको तेल की मालिश कर दूँ?मामी- ये आईडिया बहुत अच्छा है.

सालों से दिल की तमन्ना थी कि मैं भी पोर्नस्टार वाला सेक्स करूँ, पर कभी कोई पार्टनर ऐसी मिली ही नहीं, जो इस तरह का सेक्स करे. वो सिर्फ ब्रा में थी, उसके गोल मटोल सुडौल चुचे मुझे अपनी ओर बुला रहे थे कि मैं उनको अपने मुँह में दबा लूँ और उनको चूस चूस के पूरा खा जाऊं. उसी बीच भाभी का हाथ मेरे लंड से टकराया तो लंड ने एक तुनकी सी मार दी, जिससे भाभी हंसने लगीं.

बीएफ एक्स एक्स एक्स सेक्सी फिल्म वो मजे से गांड आगे पीछे करने लगी और कहने लगी- जान पूरा का पूरा लंड पेल दो. वैसे एक बात बता तू आजकल मेरे घर क्यों नहीं आता? और न ही मेरा फोन उठाता है.

घोड्याचा सेक्सी व्हिडिओ

एक दिन 4-5 सीनियर ताश के पत्ते खेल रहे थे और मैं वहीं पर खड़ा था, तभी उसने मुझे अपने पास बैठने को बोला और कहा- देख. आओ ना…” प्रिया की गुहार सुन कर मैं बेखुदी के आलम से वापिस पलटा। मैंने बहुत ही नाज़ुकता से प्रिया को अपनी गोदी में बिठा कर आगे-पीछे हिलना शुरू कर दिया. अब मै ज़ोर ज़ोर से चाची को चोद रहा था और चाची के चूचे किसी बॉल की तरह ऊपर नीचे होते जाते थे.

मक्खन की चिकनाई की वजह से लंड तो अन्दर दाखिल हो गया पर उसे दर्द होने लगा. फिर उसकी पूरी बॉडी टाइट हो गई थी और उसने अपनी टाँगें एकदम से कस ली थीं. हिंदी सेक्स बीएफ हिंदी सेक्स बीएफउसने धीरे से गोलू की मुर्झायी हुई भिन्डी को अपनी आंख बंद करके चूसा.

कोई भी स्त्री अंधेरे में भी किसी से चुदवा ले तो वो अपने पति और पर पुरुष में फर्क तो महसूस कर ही सकती है.

पर आज जब वह ख्याल आता है मैं उसकी चूत को याद करके मुठ जरूर मारता हूँ. शराब की छोटे छोटे घूँट लेने लगा और पैंट के ऊपर से ही अपने लंड को सहलाने लगा.

अब उसका नंगा जिस्म मेरी बांहों में था और वो मेरी बांहों में यूं मचल रही थी, जैसे जल बिन मछली हो. मुझे उनकी आँखों में एक अलग ही चमक दिख रही थी, ऐसा लग रहा था जैसे वो किसी आग में जल रही हों और मुझसे उसको शांत करवाना चाहती हों. अगले दिन मैं संजना के घर आ गयी, मैं बहुत खुश थी लेकिन मन में थोड़ी शंका थी, डर भी मन के किसी कोने में अपना घर बनाए बैठा था.

मैंने हंसते हुए लंड हिलाया और कहा- चल साली रंडी मादरचोद, आज तो तेरी चुत फाड़ के ही रहूँगा.

अब मैंने एक हाथ उनके सीधी तरफ वाले चूचे पर रख दिया और दूसरा हाथ उनकी गांड पर रख दिया. तुम्हें बहू के रूप में पाकर मैं धन्य हो गया!मयूरी ने अपने ससुर का खड़ा लंड पकड़ते हुए कहा- बाबूजी, आप मुझे अपनी माशूका के रूप में पाकर और भी ज्यादा धन्य हो जाएंगे. फिर पता नहीं उसका कोई दोस्त था, उसने अवी से कहा कि क्या मैं भी कर लूँ, तो अवी मुझे छोड़ दिया और कहा कि बिल्कुल.

घोड़े और लड़कियों की बीएफआह्ह…मैंने भी स्पीड बढ़ा दी, अब मैं भी पूरे मजे में था और बोल रहा था- आह. वैसे चूत छोड़ कर जाने का मन तो नहीं कर रहा था, पर मरता क्या ना करता.

बॉर्डर वाली सेक्सी वीडियो

सुरेश और काजल के लिए ये तीसरी बार था, जब वो नाजायज चुदाई करते हुए पकड़े गए थे और रमेश के लिए दूसरी बार था. जब मैंने उसका ये मेल पढ़ा तो मैंने उनको धन्यवाद बोल कर जवाब दिया और मेल से लॉग आउट हो गया. अब मेरी समझ में नहीं आ रहा था कि इस ड्रेस में मैं उसके सामने कैसे जाऊं और पता नहीं उसका कहां जाने का विचार हो.

मेरे घर में मेरे मम्मी पापा और मेरे दो चाचा चाची रहते हैं और उनके बच्चे भी हैं. ऐसा कह के मामी ने मेरा लंड पकड़ के अपनी चूत पर रखा और शॉट लगाने को बोलीं. तभी मेरी नजर उनकी चूचियों पर चली गई और मैंने पहली बार अपनी भाभी के मम्मे देखे.

उसे किस करते करते अपने हाथ उसके चुचों पर ले गया और उनको सहला सहला कर दबाने लगा. मैं भाभी के मुंह से चुदाई की सीधी ब्लू फिल्म का आडियो टेप सुन कर लंड सहलाने लगा था. दीदी मेरी बात समझ गई कि मैं क्या बोल रहा हूँ, मेरा मतलब था कि मैं दीदी की मर्ज़ी के बिना उनकी चूत में लंड नहीं डालूँगा.

कुछ ही पल में मेरा विरोध कम हो गया और धीरे धीरे मैं भी पूरा साथ देने लगी. मोना देखकर हैरान रह गई और पूछने लगी- इसका क्या करोगे जानू?आनन्द कुछ बोले बिना ही जैम को मोना के स्तनों पर लगाने लगा.

मैंने पीछे से घुटनों के बल चल कर पिंकी के दोनों गुब्बारे जैसे पुट्ठों को पकड़ कर फैला दिया.

यह सुन कर वे काफी खुश हुईं और फ़िर मुझसे कहने लगीं कि वैसे तो मैं ज्यादा लोगों से बातें नहीं करती, मगर तुम अच्छी तरह समझा रहे हो, इससे मुझे बड़ा अच्छा लग रहा है. मौसी की चुदाई सेक्सी बीएफ वीडियोतभी मेरे बेटे के क़दमों की आहट सुनाई दी, वो मेरा बैग वगैरह ले के आ रहा था. सेक्सी बीएफ चोदा चोदी हिंदीअरविंद भैया से पहले मम्मी ने रुबीना की तस्वीर मुझे दिखाई, मुझे रुबीना किसी परी से कम नहीं लगी, पूरा भरा हुआ बदन, चुचे करीब 34 के होंगे और रसीले होंठ थे, वो मस्त माल लग रही थी. मम्मी पापा दोनों के मुँह से घुँ घुँ की आवाज आने लगी, मम्मी ने बाहुपाश के बाद अपनी दोनों टांगों को उठाते हुए पापा की दोनों टांगों को अपनी जकड़न में ले लिया.

शुरुआत में मुझे कुछ अच्छा नहीं लग रहा था क्योंकि उधर, मुझे छोड़ कर बाकी सब किरायेदार फैमिली वाले थे.

मेरी हरामी निगाहें इस बात को समझ लेती थीं कि उन्होंने नाइटी के नीचे ब्रा पेंटी भी नहीं पहनी होती थी. अब वो दोनों हाथ को जमीन पर रख कर सिर्फ मुँह से मेरे लंड को चूस रही थीं. अब मैं नीचे भाभी की चूत की तरफ मुँह करके लेट गया और वो मेरे लंड के ऊपर मुँह करके लेट गईं.

मेरे घर में मेरे पति के अलावा मेरे सास ससुर और एक नटखट देवर भी है, उसका नाम अरविन्द है. पुलकित नीचे झुका और उसे मंजरी के ब्लाउज़ की डोरी खोलनी शुरू की और उसका ब्लाउज़ ढीला करके उतार दिया. वो लेटे हुए ही बोली- सुनो यार, नीचे से दो गिलास, सोडा और आइस क्यूब्स ले आना.

सेक्सी वीडियो बुर में लैंड

मैंने भाभी से कहा- तो मैं भाभीजी आपको क्या बोलूँ?भाभी ने कहा- तुम भाभी ही बोलो. अक्सर मैं उनके घर दिन में 2 बजे के करीब जाया करता था, जब वो बिस्तर में अकेले बैठे रहती थीं. मेरा लंड खड़ा हो रहा है, जल्दी हटाओ नहीं तो कसम से चोद दूँगा, बाद में कहना मत.

फिर से उसने मुझे अपनी बांहों में दबा लिया और मेरे कुरते में हाथ डाल दिया.

प्रिया के मन की तो प्रिया ही जाने लेकिन मैं भली-भांति जानता हूँ कि असली ख़ुशी ऐसे शाश्वत आनन्ददायक पलों को याद करने में ही होती है और अगर कोई उन सपनीले क्षणों को ज़बरदस्ती दोहराना चाहे तो गहरी मायूसी ही हाथ लगती है.

एक दिन दीदी मेरा कम्प्यूटर चला रही थीं, वे मुझसे बोलीं- जा मेरे लिये शरबत बना कर ले आ. कामिनी काफी गरम हो चुकी थी, विवेक एकदम नीचे चले गया और उसने कामिनी की चूत में अपनी जीभ घुसा दी. वीडियो बीएफ सेक्सी भेजोअब ओमार अत्यधिक उत्तेजित हो तेज आवाज में सिसकियाँ भरते हुए धीरे धीरे अपने टोपे को मेरी पत्नी के मुंह में धकेल रहा था और उसी समय किड ने मेरी गुड़िया के सैंडल उतारने चालू कर दिए.

पहले तो धीरे धीरे कर रहा था कि कुछ देर के बाद मेरे कंधों को पकड़ कर मुझे आगे झुका दिया और अब वो लंड को मेरी गांड में जल्दी जल्दी अन्दर बाहर करने लगा. ये तो अच्छा हुआ कि मैंने उसके हाथों को बाँध कर रखा था…मेरा लंबा मोटा लंड पूरा अंदर घुसेड़ दिया था मैंने!फिर मैंने कहा- पहली बार में दर्द होता ही है… सह लो थोड़ा सा…उसी की निक्कर उसके मुँह में डाली और धीरे धीरे शॉट लगाना चालू कर दिया. मैंने कहा- इट्स ओके!वो आगे को चल दी, पर उनकी मादक खुशबू अभी भी आ रही थी.

अब दो दिन बाद ही बताऊँगी, अभी सो जा मेरे प्यारे भाई!मैं- ओ के प्यारी दीदी!दो दिन तक मैं सोचता रहा कि आख़िर दीदी कौन सी बात बताना चाहती हैं. कभी वो मुझे मस्ती में मार देती तो कभी मैं मस्ती में उसके जिस्म में हाथ फिरा लेता था.

कि मैं सबकी प्यास बुझाऊँ… इच्छा पूरी करूँ।मधु बोली- तो अपना काम बना लो.

मैंने सोचा कि केवल गले ही तो लगना है जैसे अमित लगा होगा तो लगी रहूंगी. जीन्स का मुझे कोई शौक नहीं है।यह कहानी उस वक्त से शुरू होती है जब मैं अपनी पढ़ाई कर रही थी। मेरी गाण्ड पीछे को निकलने लगी थी और मम्मे एकदम फूल गए थे. ’मैं अब झड़ने वाली थी तो मैंने अपने हाथों से जोर से संजय का सर अपनी चुत में दबा दिया, जिससे संजय की जीभ मेरी चुत में अन्दर तक धंस गई.

सेक्सी बीएफ गंदी फिल्म मेनका- आह आहा आह हा… मेरे राजा, आह आह मर गयी आह अहहहहा… फाड़ दी मेरी चूत आहह आह आह मेरे राजा… मार मार मार ज़ोर ज़ोर से मार अपनी जान की चूत में धक्के… आह आह हा … चोद चोद मुझे मेरे राजा… बजा दे मेरी चूत का आज बाजा…मैं मेनका की चूत मारता रहा. पर मेरी फट रही थी तो मैंने फिर से उसे अपने से दूर किया और जाने लगा.

अब मोना भी उसके लंड को पकड़ लिया और चमड़ी को नीचे उतार कर सुपारा बाहर निकाल लिया. उन्होंने बताया कि वो और उनकी पत्नी साथ में ही अन्तर्वासना साइट पर कहानियाँ पढ़ते हैं. कुछ देर बाद उसने खुद अपनी चूत एक बार दोबारा साफ़ की और कपड़े पहनने लगी.

जल्दी प्रेग्नेंट कैसे होते हैं

तो तुम मेरे घर आकर खाना खा सकते हो।मैं खुश था।उसने आगे बताया- मेरी रूम मेट इंडिया गई हुई है और मैं एक सप्ताह तक अकेली हूँ।मुझे क्या प्रॉब्लम हो सकती थी. तभी खुद सोनी ने भाई से कहा- मुझे बीच में बैठने दे क्योंकि मैं लड़की हूँ, पीछे बैठने में मुझे डर लगता है कि कहीं गिर ना जाऊं. उसने फिर मुझे अपने ऊपर बुलाया और अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ कर अपने बुर में घुसवा लिया और फिर मुझे थप्पड़ मारने लगी.

उधर से कुछ बात हुई जिस पर कुछ देर बाद फिर सैम ने कहा- हाँ वहां भी जाएंगी, सभी जगह जाएंगी, हाँ यहाँ जो पहने जाते हैं, उनमें सबसे अच्छे वाले लाना, चाहे जितने महंगे हो ओके. मुझे उसकी ये अदा बहुत भा गई और मैंने उसका हाथ पकड़ कर अपने लोवर के ऊपर से ही रख दिया.

तभी किशोर आया, मुझे पकड़ लिया, मुझे उठा के पीछे के दरवाजे से किचन में ले आया.

तो मैंने गर्दन के पास सहलाना शुरू कर दिया और एक हाथ उसके बड़े बड़े स्तनों अन्दर से घुमने लगा दूसरा हाथ उसके गाउन के क्लिप खोलने में लग गए. [emailprotected]कहानी का अगला भाग :पड़ोसन का चोदन देख कामुकता जागी-2. वैसे भी तुम्हारी ये पैंटी केवल तुम्हारी चूत ही बंद कर रही है और मेरे सामने कैसा शरमाना.

मैं ऐसे लेटी थी कि मेरे टॉप का जो हल्का कपड़ा था, वो भी ऊपर खिसक गया था और मेरे मम्मों के पास पहुँच गया था. घर या बाहर हम चुदाई करते।ऐसे ही एक दिन मधु का फोन आया, वो बोली- राज मेरी एक सहेली है उसकी जवानी भी प्यासी है, उसकी भी यही परेशानी है. पर मुझे तो तेरे साथ सोना है ना… प्लीज… ना मत कर…” मैं आगे हुआ और उसके हाथ को चूमा और कहा- एक चान्स दे दो प्लीज… तुम्हें नाराज नहीं करूँगा.

ढेरों मेल आये जिन में मेरी रचना की, मेरी कल्पनाशक्ति की ढेरों तारीफ़ की गयी.

बीएफ एक्स एक्स एक्स सेक्सी फिल्म: यह बात कुछ टाइम पहले की है, मैं नाश्ता करके घर से अपनी जॉब की तरफ चला गया. मेरी प्यासी चाची की चुत चुदाई की सेक्स स्टोरी कैसी लगी, एक बार ज़रूर बताना मेरी मेल आईडी है.

मैंने दोनों हाथ ऊपर कर लिए और शॉवर का रॉड पकड़ लिया, वो नीचे से लंड के फटके दे रहा था. मैं पहले आपको अपने बारे में बता दूँ, मैं दिखने में बहुत सेक्सी हूँ और मैं दिल्ली की रहने वाली हूँ और कॉल सेण्टर में जॉब करती हूँ. चूत में स्पर्म होने की वजह से उसका लंड आसानी से फच की आवाज से चूत में घुस गया.

पंद्रह बीस सेकंड बाद ही मेरे लंड से वीर्य की पिचकारी छूटी और ऊपर वाली बर्थ से जा टकराई… फिर छोटी छोटी पिचकारियाँ किसी फव्वारे की तरह निकलने लगीं और बहूरानी के दोनों पांव मेरे वीर्य से सन गये.

मैं तो देखती रह गई किशोर को… मैं गुस्से से बोली- क्या???किशोर बोला- उस बिचारे की बीवी मर गई दो साल हुए… बिचारा तुम्हें दुआ देगा. मैंने नीचे देखा तो मेरा पूरा लंड अन्दर जा चुका था और चुत में से पानी बह रहा था. मैंने उसके होंठों पर होंठ रख कर, लंड चूत पर रख कर उसके चुचों को पकड़ कर जोर से झटका मारा तो एक ही बार में लंड आधे से ज्यादा घुस गया और उसकी चीख मेरे मुंह में दब गयी.