पोर्न वीडियो हिंदी बीएफ

छवि स्रोत,मोटर कैसे बनाएं

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी में जबरदस्त चुदाई: पोर्न वीडियो हिंदी बीएफ, मैंने लंड को मुँह से बाहर निकालने की कोशिश की, लेकिन उनके मज़बूत हाथ के दबाव के आगे मेरी एक ना चली और मैं घबराकर तड़पने लगा.

बीपी हाई सॉन्ग

मुझे ऐसा लगा कि एक किसी पतली सी गली में मेरे लंड फंस गया हो और उस गली में आग लग गयी हो. पंजाबी लेडीसमैं बिस्तर पे चढ़ा, लंड को हाथ में पकड़ा, प्यार से सहलाया और मुँह में ले लिया.

इस तरह से मैंने खाला की जम कर चुदाई की और उनको जन्नत की सैर करा दी. lala सेक्सी वीडियोतभी उसने मेरे को गेट पर खड़ा देखा तो ठिठकी और मुझे बाय बोलकर चली गयी.

उसने बिना मुझसे कुछ और सुने उस डिल्डो (जिस पर उसने पहले से ही कोई क्रीम लगा रखी थी) मेरी चूत के मुँह पर रख दिया और बोली- ले मीता तू आज से लड़की नहीं रहेगी … अब तू औरत बनने जा रही है.पोर्न वीडियो हिंदी बीएफ: ”अच्छा … पता नहीं ये कहना शायद आपसे उचित ना हो, पर आप एक विवाहित 45 साल की महिला हैं, तो पता ही होगा.

जिस कारण से थोड़े टाइम के बाद रुबीना का परिवार दिल्ली छोड़ कर चला गया.लगातार 15 मिनट चोदने के बाद मुझे लगा कि मेरा निकलने वाला है तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ाई और पूरी रफ्तार से उनकी चूत में ही झड़ गया; मैंने अपनी अपनी आखिरी बूंद भी चाची की चूत में छोड़ी!जब मैं उनके ऊपर से हटा तो देखा मेरे लंड का पानी उनकी चूत से टपक रहा है.

गंदा गंदा गंदा वीडियो - पोर्न वीडियो हिंदी बीएफ

फिर तुम्हें इस बात से अवगत भी कराया कि जो भी हो जाए, मेरी शादीशुदा जिन्दगी पर इसका कोई फर्क नहीं पड़ना चाहिए.इसके पहले की उसकी चड्डी उसके लंड को ढकती, मैंने तेजी से आगे बढ़कर उसे अपने मुंह में ले लिया.

उनसे हंस हंस के बातें करती और उनके नजदीक जाती तो खूब गांड हिला हिला कर चलती. पोर्न वीडियो हिंदी बीएफ मेरी पत्नी और नीरू पायल की चूत में मेरे लंड को अंदर बाहर जाते हुए देख रही थी और मैं पायल की छोटी सी चूत की ताबड़तोड़ चुदाई कर रहा था.

मैंने कहा- हां ठीक है … पर यह बात कभी भी हमारे तीनों के अलावा बाहर नहीं जानी चाहिए.

पोर्न वीडियो हिंदी बीएफ?

ये बात करीब डेढ़ साल साल पहले की है, मेरी छोटी बहन, जिसका नाम मालिनी है, उसने अपनी बारहवीं पास की, उस वक्त उसकी उम्र 18 साल से ऊपर थी. हालांकि उसकी उम्र पैंतालीस साल के आसपास है, वो ढल गई है, पर गजब चुदवाती है. एकदम गोरी और गुलाब की पंखुड़ी की तरह थी जिसमें से एक नशीली सी महक आ रही थी.

मैंने अपने अँगूठे और उंगली से चुत की फांकों को थोड़ा सा फैलाकर देखा तो उसकी मुनिया की दरार बंद थी, उसे देखकर तो यही लग रहा था कि ये अभी तक कुंवारी होगी … या फिर नहीं भी हो … क्यूंकि उसकी बहन नेहा की चुत भी तो मुझे ऐसी ही लगी थी. क्यों तुम ये सवाल क्यों पूछ रहे हो?मैं- मनीषा, तुम्हारी चूत का मुहूर्त मैं नहीं कर सका पर तुम्हारी गांड का मुहूर्त में करना चाहता हूँ. और 9 इंच का मूसल जैसा लंड मेरी चूत में सेट किया और ज़ोर से धक्का मारा.

’‘मतलब?’मैंने झिरी में से बाहर झांका और देखा कि वे दोनों सोफे पे बैठे हुए थे. तभी मैंने अपने मन का सवाल पूछा- तुमने कभी पीछे (गांड में) लन्ड डलवाया है?मनीषा- नहीं … आज तक सिर्फ आगे ही डलवाया है. मैं मेरे पति को भी नहीं बोल सकती थी, कहीं उनको ऐसा ना लगे कि मैं उन दोनों के बीच में गलतफहमी पैदा करने की कोशिश कर रही हूँ.

तो हमने सोचा कि इनको थोड़ी देर यही रहने दो और बाकी लोग फ्रेश होकर खाने का ऑर्डर दे दो. एक दो बार तो मेरा लंड उसकी गांड के ऊपर से इधर-उधर हुआ, जिसे देखकर वंदना कह रही थी कि मैंने बोला था ना.

मैं बोला- क्यों?वह बोली- दीदी (मेरी माँ) बता रही थी कि एक दिन तू घर पर किसी लड़की के साथ पकड़ा गया था.

उस मकान में मैं पूरे 3 साल तक रहा और मेरे अगल बगल के कमरों में कई भाभियां रहने के लिए आईं और गईं और लगभग सभी को मैंने चोदा.

चाची के विशाल चूतड़ों को दोनों हाथों से मसलते हुए मैं शान्ति चाची को धकापेल चोदने लगा. मुझे लगता जैसे मेरी चोरी पकड़ी गयी हो और मैं अपनी नजरें घुमा लेता था।ऐसे ही देखते देखते न जाने कब पूरी रात निकल गई पता ही नहीं चला. वो हंसते हुए थोड़ा पीछे को खिसकी और मेरे मुँह पर अपनी चुत रख कर दबाते हुए बोली कि चुपचाप लेटे रहो, कुछ मत बोलो.

ऊषा ने मेरे लंड को साफ किया जोकि मेरे वीर्य और उसके चूत के रस से सना हुआ था. फिर उसने अपने एक हाथ से अपना लंड पकड़ा और मेरे को बोला- वन्द्या तू ऐसे ही खड़े हुए में बता दे. उसने कहा कि घर में सास ससुर को बता दो कि उसकी बस रास्ते में खराब हो गयी है और वो कल सुबह ही दूसरी बस पकड़ कर आएगी.

मैंने मामा का ये रूप कभी नहीं देखा था, आखिर मामा थे, वो ऐसा कैसे कर सकते थे.

फिर उन्होंने घुटनों के बल बैठ मेरी टांगें कंधो पर टिका कर कुछ देर और मेरी चूत को चाटा और अपना लंड चूत पर रख झटका दिया. मैं उसकी व्याकुलता समझ गयी और बोली- तुम पहले मेरी योनि को चाट कर गीला करो. उसकी बाद में यह भी फैन्टसी बन गई कि एक बार मेरे बड़े लौड़े से अपनी मम्मी को उसी तरह से चुदते देखे जैसे उसके पापा चोदते हैं.

ईई … ईईई …” सिसयाते हुए उसने‌ मुझे रोकने की कोशिश तो की, मगर तब तक मैंने उसको बिस्तर पर गिरा लिया था. फिर मैंने कुछ देर सोचने के बाद उसे वापस बुलाया और कहा कि बैठ मेरे पास. इधर रमीज मेरे बालों को पकड़ के अपने लंड को अन्दर बाहर रगड़ के मुँह में लंड चुसवा चटवा और मुँह को चोद रहा था.

मैं- एक बात बोलूँ, आपको गुस्सा तो नहीं आएगा ना?प्रमिला दीदी- हां रे बोल न?मैं- क्या हम दोनों आज मूवी देखने जा सकते हैं?प्रमिला दीदी- लेकिन आज …मैं- क्यों क्या हुआ?प्रमिला दीदी- सासू माँ को मालूम है आज मेरी छुट्टी है और … आज तो कामवाली भी नहीं है.

मैंने सोचा कि ये ऐसे अपनी चुत नहीं देगी, इसको पहले एकदम गर्म करना होगा. प्रमिला दीदी- तू बोल ना, मैं भी एक पुराने फ्रेंड को मिलने जा रहा हूँ.

पोर्न वीडियो हिंदी बीएफ मैं एक हाथ से उसकी चूचियों को दबा रहा था और उसके गले के पास किस करने लगा. चूंकि हम दोनों पड़ोसी थे, इसलिए जब मेरी सहेली अपने ब्वॉयफ्रेंड के साथ कहीं घूमने निकल जाती थी, तो मैं उसके भाई से बात कर लेती थी.

पोर्न वीडियो हिंदी बीएफ फिर भाभी ने मेरे से पूछा- मैंने सुना है कि आपकी बहुत सारी जीएफ हैं. मैं कह सकता हूँ कि मेरा लंड किसी को भी संतुष्ट करने के लिए एकदम परफेक्ट है.

पर इस बार मैं अड़ गयी- नहीं सर … ये नहीं!मैंने एकदम से सीधी खड़ी होकर कहा.

अमरपाली का नंगी फोटो

फिर कुछ ही देर में आखिरकार नेहा की मुनिया ने मेरे लंड के आगे हथियार डाल दिए और नेहा का बदन अकड़ने लगा. फिर सुनील ने पूछा- मैं अभी डाल दूं? चुदवाएगी न?मैंने फिर से हां में सिर हिला दिया तो महेश बोला- अबे पूछता क्या है, डाल दे न यार … देख बेचारी की चूत हालत देख कैसे बह रही है. उसने बोला- किस टाइप की रंडी?मैंने बताया- जो सेक्स की भूखी हो और किसी का भी लंड ले ले और सब पोजीशन में चुदाई के मजे करे.

तभी सुनील ने अब एक झटके में अपना पूरा लंड मेरी चूत में घुसेड़ दिया. प्रमिला दीदी- तू बोल ना, मैं भी एक पुराने फ्रेंड को मिलने जा रहा हूँ. वो ड्राइवर को बोला- तुम गाड़ी सीधे बंगले तरफ ले लो और पीछे क्या हो रहा है, उसे भूल जाओ.

अनु की चूत ने भी करण के लंड को अपने अन्दर सैट कर लिया था, जिससे उसका दर्द खत्म होने लगा.

मैं- आज मुझे ही अपनी घरवाली समझो सैंया जी और अपने सारे अरमान पूरे कर लो. काफी देर के बाद जब हम अलग हुए तो सांसें पूरी तरह उफान में थीं, उसका सीना तेज़ी से ऊपर नीचे हो रहा था. इससे पहले मेरी एक कहानीमॉम की सौतेले बेटे से चुदाई की तमन्नाअन्तर्वासना पर आ चुकी है.

गाड़ी चलते में रवि सिंह को राज अंकल ने बोला कि आप इतनी दूर क्यों बैठे हैं. मैं बाथरूम से बाहर आई तो मेरी सहेली का पति मुझे फिर से अपनी बाँहों में लेकर किस करने लगा. अब सलवार का नाड़ा टूटते ही वो बेजान सी होकर तुरन्त नीचे गिर गयी और उसके घुटनों में जाकर फंस गयी, जिसे प्रिया ने अब पूरा ही उतारकर नीचे फर्श पर ऐसे फेंक दिया, जैसे कि वो उसकी सबसे बड़ी दुश्मन हो.

मैंने एक हाथ उसकी चूत पर रखा … क्या बताऊं भाई आप लोगों को … बिल्कुल साफ मखमली चूत थी. मैंने चाची को किसी तरह समझाया कि हम बड़े चाचा के घर हैं, किसी ने देख लिया तो बुरी तरह फंस जाएंगे.

कुछ दिन और समय मिलता तो शायद रुबीना के रजामंद होते ही हम दोनों शादी भी कर लेते. ”मैं प्रेरणा की बात सुनकर स्तब्ध रह गया। सच में मेरे लिए ये सरप्राइज से कम नहीं था। मैंने तो कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि प्रेरणा अपनी मौसी को चुदवाने के लिए मुझे लेकर जायेगी। प्रेरणा की बातें सुन प्रेरणा की मौसी शर्मा कर अन्दर चली गई।यार, ये सब क्या है … मैं तुम्हारी मौसी के साथ कैसे?”तुम शर्मा क्यों रहे हो? कोई ऐसा काम तो मैंने कहा नहीं जो तुम्हें करना नहीं आता. मैं थोड़ी देर कार में ही बैठी रही और इन्तजार करने लगी कि कोई ट्रक या बस दिखे, तो उसमें बैठ कर चली जाऊं.

मुझे ट्रेन से जाना था तो थर्ड एसी का वेटिंग का टिकट ले लिया, लेकिन वो कन्फर्म नहीं हुआ.

अंकल सेक्स के लिए तैयार थे, उन्होंने मेरी चूत में किस करते हुए बोला- आज साली 2 रंडी रानी मुझे बहुत मज़ा देंगी. अब अमित ने मेरी ताबड़तोड़ चुदाई शुरू कर दी और पूरे कमरे में कामुक सिसकारियाँ गूंजने लगीं. अब ज्यादा समय बर्बाद न करते हुए हम अपनी मनोरंजक कहानी शुरू करते हैं.

चाची कच्छे से मेरे लंड को निकाल कर पागलों की तरह मसलते हुए बोलीं- अब और मत तड़पाओ … जल्दी से अपना लंड पेल दो मेरी चूत में. दीदी अब अपने घर में सासू माँ के साथ और मैं उनके पास वाली दो गली छोड़ कर हमारे माँ बाप के लिए हुए घर में रहने लगा.

मॉम ने अपने चेहरे से बड़ी कामुकता से अपने चेहरे से नामित के वीर्य को उंगली से उठाया और चाट लिया. पर एक तरफ से ठीक ही था, क्योंकि जब से आए थे, वे अधिकांश समय घर पर ही रहते थे, तो मेरा मन कामवासना की ओर नहीं जाता था. उसने तकिया को अपने मुँह में भर लिया और मेरे सिर को अपनी चूत पर दबाने लगी.

देहाती में सेक्सी पिक्चर

आप सबको मेरी कहानी कैसी लगी, मुझे मेल करके बताएं, फीडबैक जरूर दीजिए.

उसके होंठ चूसने के बाद मैं उसकी गर्दन चाटने लगा … अब वो पूरी तरह से तैयार थी. तो वो बोली- अब तक कितनी लड़कियों को चोदा है?छाया के मुँह से साफ़ ‘चोदा’ शब्द सुनकर मैं भी समझ गया कि ये मुझे छेड़ रही है. चूंकि वो उम्र में उनसे 10 साल छोटी थी, इसलिए उनमें अभी बहुत सेक्स का खुमार बाकी था.

”आज मैं ख़ुशी ख़ुशी अपने घर को निकल गया, आज मैं बहुत खुश था, मेरी कौशल्या से जो वासना की इच्छा थी, उस पर में एक सीढ़ी ऊपर चढ़ गया था. थोड़ी देर में सन्नी के मोनिंग की आवाज़ें आने लगी, शायद अभिषेक सन्नी के साथ बहुत अच्छा बॉडी प्ले कर रहा था. बीपी शॉट नंगेगीली नाइटी में आंटी की मोटी मदमस्त गांड और उनकी ब्लैक पेंटी कहर ढा रही थी.

फिर मैंने रमेश से कहा- चलो अब इसकी साड़ी तुम अपने हाथों से निकालो, इसे पूरी नंगी कर दो. कुछ देर बाद मैंने लंड बाहर निकाला और गुड़िया को डॉगी बना के लंड फिर से बुर में पेल कर चोदने लगा.

मैंने अपने लंड को उसके पेटीकोट से पोंछ कर साफ किया और लुंगी बांध कर रसोई में जा कर चाय बनाने लगा. अगर आप सब मेरी इस कहानी को पसंद करेंगे तो उस सील टूटने की कहानी भी आप सभी लिए लिखूँगी. समझी? और फिर ‘नया माल नखरे करके मिले तो … उसके तो कहने ही क्या!”फिर सर बोले- चल खड़ी हो जा।अब मेरे पास यही आखिरी मौका था सर को मनाने के लिए.

मुझे तुझसे कुछ मतलब नहीं है, मैं मर रही हूं, अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है. जेठ जी बेड पर बैठे हुए मेरे पूरे बदन पर हाथ फेर रहे थे और बड़बड़ा रहे रहे थे- नीतू रानी, तुम्हें जब पहली बार देखा था, तभी से तुम मुझे बहुत पसंद आ गई थीं. मेरी तो जान निकल गई ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’मगर उसने कुछ देर का विराम दे दिया.

मैं अब उसकी चुत के प्रवेशद्वार के भीतर तक चाटने लगा था, जिससे प्रिया की कमर की हरकत के साथ साथ उसकी आवाजें भी बढ़ने लगी थीं.

कई बार नहाते हुए उनकी पीठ का मैल निकालने के लिए रगड़ने के बहाने छुआ और कड़क मर्दाना बालों वाली छाती के उभार को छुआ था. वो बोली- यह मत करो यार …मैंने बोला- करने दो न …वो बोली- नहीं जानू …मैंने हाथ हटा लिया और उसको अपनी तरफ खींच कर उससे चिपक कर बैठ गया.

लेकिन मेरी मंशा थी कि आज के दिन मैं तुमको पूर्ण रूप से सेक्स से अवगत करा दूँ. वो भी एक चाची और भतीजे के बीच सब हो रहा था, जो शायद जल्दी से कहीं नहीं होता होगा. चाची की चुदाई के बाद मुझे चुदाई का ऐसा चस्का मुझे लग गया था कि अब चूत के बिना रहना मेरे लिए मुश्किल था.

तभी अनवर ने मेरी गर्दन पकड़कर जोर जोर से लंड मेरे अन्दर बाहर करने लगा कि तभी मेरी चूत बह चली और बहुत गर्म रस निकलने लगा. उनका शरीर भरा हुआ है और पेट पर पड़ने वाली सिलवटें उनको और भी ज्यादा मादक बना देती हैं।मेरी चाची की शादी को 18 साल हो चुके हैं और मेरे चाचा बाहर जॉब करते हैं। चाची अकेली ही अपने 15 साल के बेटे के साथ रहती है. ”हां क्यों नहीं रानी … मैं जरूर आ जाऊंगा, कितने बजे छुट्टी होगी तुम्हारी?”यही कोई 5 बजे, आप आओगे ना?”मैं थोड़े रोमांटिक मूड में बोला- अरे तुमने बुलाया और हम चले आए.

पोर्न वीडियो हिंदी बीएफ फिर मेरी जिद पर उन्होंने तब तक उसे मुँह में लिया, जब तक वो पूरी तरह खड़ा नहीं हो गया. करीब 25 मिनट तक हम दोनों ने एक-दूसरी की चूत को चूसा और तब मैं चिल्लाई- सुमन मुँह लगा ले मेरी चूत पर … मेरी चूत का पानी निकलने वाला है!तब मैंने भी सुमन के मुँह में जोर से पानी छोड़ा और मैं झड़ गई.

सावन सेक्सी

चाची ने बताया कि रात को उनको घर पर अकेले में डर लगेगा तो उन्होंने मेरी माँ से कह दिया कि वह रोहन यानि कि मुझे उनके घर पर भेज दें। माँ ने भी चाची को हाँ कह दिया. दोस्त ने कहा- मेरे आने की वजह से भाभी को क्यों तंग करते हो? यह बहुत सीधी महिला हैं. आज मैं एक और सच्ची कहानी लेकर आई हूँ आपके लिये!यह कहानी है मेरी और मेरे यहाँ ऊपर के कमरे में किराये रहने आई बैंक में क्लर्क का काम करने वाली सुमन के साथ समलैंगिक सेक्स की।सुमन करीब 2 महीने पहले ही हमारे यहाँ ऊपर के कमरे में किराये पर रहने आई है.

तुम्हारा वो चूमना, मेरे हथियार को चूसना, मुझे आंदोलित कर मेरी वासना को और बढ़ाना, क्या चीज थी यार तुम!तुम मेरा सपना थीं, मेरी वास्तविकता थीं. मैं अपने पति से बहुत परेशान हो गयी थी क्योंकि वो मुझे संतुष्ट नहीं कर पाते थे और जल्दी ठंडे हो जाते थे. परदेस जाके परदेसमैं जान गई थी कि लड़कों का लंड खड़ा होने के बाद उनको कंट्रोल करने में कितनी परेशानी होने लगती है.

इसके बाद जगत अंकल ने सीधे मेरी पेंटी के ऊपर से, जहां मेरी चूत थी, वहां पर हाथ रख दिया.

इस वक्त मैं नामित को और वो मुझे वासना भरी निगाहों से घूरे जा रहे थे. मैंने तुरंत जगत अंकल को कान में बोली- जगत छोड़ जल्दी से … बगल वाले अंकल ने सब देख लिया है.

घर में साड़ी, कभी सलवार कमीज कभी स्कर्ट और कभी जीन्स टॉप में रहती थी. इतना कहते हुए वो आगे चलने लगी और मैं अपनी आंखें फाड़े उसके पीछे।बस के अन्दर वो सबसे पीछे वाली सीट के ऊपर अपने सामान रखते हुए बोली- यह हमारी दोनों की स्लीपर सीट है।अब मेरा पारा आपे से बाहर हो रहा था, मैंने थोड़ा गुस्सा दिखाते हुए कहा- आपने ट्रेन ए. आ … उह … समर, प्लीज लंड बाहर निकाल ना … बहुत दर्द हो रहा है … प्लीज बाहर निकाल ले, मैं मर जाऊँगी …”नहीं मेरी जान … कुछ भी नहीं होगा बस दो मिनट में दर्द चला जाएगा.

मैंने उसका हाथ पकड़ कर अपनी पैंट पर रखवा लिया और उसने खुद ही मेरे तने हुए लंड को ढूंढ लिया.

ये कहानी मैं उनकी जुबानी लिखूँगा ताकि आप लोगों को इसका ज्यादा मजा मिल सके. मैंने उसका हाथ थाम लिया, उससे उसके बारे में पूछा तो उसने बताया कि वह राजस्थान के जयपुर का रहने वाला है. अब मैंने अपना अंगूठा उसके मुँह से बाहर निकाल लिया, उसने मेरा हाथ पकड़ा और अपने दूसरे स्तन पर रख लिया.

फलों के नाम दिखाओधीरे धीरे होंठों को चूमते हुए उन्होंने अपनी जीभ मेरे मुँह के अन्दर डाल दी. मैं- ज्यादा मजा किस के सथ चुदवाने में आया … मेरे साथ या चाचा के साथ.

सेक्सी वीडियो गर्लफ्रेंड ब्वॉयफ्रेंड

वो दूध सी गोरी और चिकने बदन की मालकिन थी, परंतु उसमें अपनी सुन्दरता पे बहुत घमण्ड था. इस तरह से मालती और मैं घर से बाहर निकले और एक होटल में जाकर कॉफी पीने के लिए बैठ गए. अब मैं अपने होंठ उसकी पीठ पे रीड़ की हड्डी के साथ लगा कर चूमते हुए ऊपर की ओर बढ़ रहा था.

मेरी सरोज चाची जब भी कहीं जाती थीं, तो वे मुझे अपने साथ ही लेकर जाती थीं. तभी मुझे एक आईडिया आया कि मैं पड़ोस के शहर जाकर अपने पति से अपनी चुत की आग को शांत करवा आऊं. उसकी योजना थी कि हम कहीं होटल या घर की जगह ऐसी जगह मिलें, जहां कोई आता जाता न हो.

वो चुप रही, तो मैंने कहा- यदि तुमको पीनी है तो मेरे पास मेरी गाड़ी में रखी है. प्रशांत के इस चुदाई पोज के मुताबिक, मेरी नीना ने उसकी गरदन में अपनी बांहें डाल दीं और दोनों टांगों से पीठ पर पकड़ बना ली. उसने डोर बेल बजाई और मैं बेडरूम में से निकल कर आने ही वाली थी कि मामी ने आकर दरवाज़ा खोल दिया.

मुझे उसकी बातों में कुछ शरारत सी लगी और मैं नीचे जाने लगा क्योंकि वो थी तो मेरी बहन ही!तभी पीछे से उसने आवाज लगाई- रुको सूर्या … मुझे तुम्हें एक बात बतानी है. जीभ से तो सूजन नहीं होगी न?इस बात पर अपने नैन कटार से वार करते हुए नीना बोली- ओह हो … तुम मुझे यह बात बता रहे हो.

मेरे लंड पर हल्का सा खून लगा हुआ था और थोड़ा खून पायल की चूत में दिखाई दिया.

मैंने सोचा कि अब लड़की गई हाथ से, लेकिन काफी देर बाद वह मुझे कोल्ड ड्रिंक पीते हुए दिखी. स्टाइलिश सेक्सचूंकि मेरे मन में चोर था इसलिए मुझे यही लगा कि चाची को मेरे लंड की ठोकर लग गई. मिया खलीफा सेक्स वीडियोफिर हम बात करने लगे, उत्तेजना के वशीभूत हो मैंने पूछा- कविता भाभी, आप अकेले कैसे रह लेती हो? मुझसे तो नहीं रहा जाता. इसके साथ ही मेरी योनि की फाँकें अलग-अलग होकर सर को आक्रमण के लिए आमंत्रित करने लगीं.

मैं- ज्यादा मजा किस के सथ चुदवाने में आया … मेरे साथ या चाचा के साथ.

मगर मेरे हाथ की उंगलियां स्वतंत्र थीं … जिनसे मैंने अन्दर ही अन्दर धीरे धीरे उसकी मुनिया को मसलना शुरू कर दिया. मैं बोला- हां क्यों बुलाया है?वो बोली- ऐसे ही बुलाया है … क्यों आपको अच्छा नहीं लगा लगा क्या?मैं बोला- नहीं ऐसी बात नहीं है. यहां एक से बढ़ कर एक चुदाई की कहानी पढ़कर मुझे बड़ी उत्तेजना जागती है.

क्या कर रहा है? आराम से कर ना …” नेहा ने मुझे डांटते हुए कहा, मगर नेहा की तरफ ध्यान देने के लिए मुझे होश ही कहां था. अब ये क्या कर रहे हो … नहीं सुधरोगे तुम? मैंने बताया ना कि उस रात दीदी तुम्हारे साथ थीं. लगभग 5 मिनट तक हम ऐसे ही दोनों किस करते रहे और भाभी की कामुकता बढ़ने लगी.

ப்ளூ ஃபிலிம் வீடியோ ப்ளூ ஃபிலிம் வீடியோ

उसकी गांड के छेद पर मैंने लंड रखकर एक झटका मारा, तो मेरी टोपी अन्दर चली गई. वो कभी मेरे दोस्तों को या कोई जवान मेहमान को देखती तो खूब खुश होती. कोई दस मिनट उसको चोदने के बाद वो ज़ोर ज़ोर से बोलने लगी और मुझे खींच कर चिपकाने लगी, उसके नाखून मेरी पीठ में चुभ रहे थे.

आह क्या … कोमल फूली हुई और चिकनी चूत थी … मानो कोई सील पैक नई नवेली दुल्हन की चूत हो.

मैंने उससे कहा कि तुमने देखा है कोई मर्द ऐसा? कोई उदाहरण दो?उसने थोड़ा सोच कर जबाब दिया- राजन अंकल जैसे मर्द!मैंने उस वक्त कुछ नहीं कहा क्योंकि वो गुस्सा जल्दी हो जाती है.

मैं भी मुस्कुरा दिया फिर हमने अपनी अपनी यूनिफार्म ली और अपनी अपनी ड्यूटी पर पहुँच गए। उसने अपनी ड्यूटी मेरे फ्लोर पर ही लगवाई थी. मैं अपने सेक्स की दुनिया के पल याद करते हुए अपना लौड़ा ऊपर से सहला रहा था कि अचानक बस रुक गयी. कॉल गर्ल्स व्हाट्सएप नंबरतभी रमीज ने गौरव को बोला- उठ साले बाहर जा और वह ड्राइवर अंकल को भी बोले- ओ बुड्ढे.

मैंने उसके बोबों के बीच में तने हुए उसके निप्पल्स को अपनी चुटकी में भरकर मसल दिया तो वो उछल पड़ी. उसका शौहर उसे प्यार नहीं करता था और लड़की पैदा होने के बाद वो उससे नफ़रत करने लगा था. मैंने उसकी पेंटी उतार कर उसकी चूत पर धीरे-धीरे मसाज देना शुरू कर दिया और बदले में वह मस्ती में मेरे लंड के साथ खेलने लगी.

इस बार उसने मेरे लंड से हाथ न हटा कर, अपने दूसरे हाथ से मेरी पीठ पर मुक्का मारा और बोली कि चांस मत मारो. दो मिनट बाद मेरे लंड ने पिचकारी मार दी और ऊषा की चूत को वीर्य से भर दिया.

उसने मुझे उसे घूरते हुए देख लिया और एक बार अपने मर्दों की तरफ देखा.

भाभी- क्या यह ठीक होगा?ये बात सुनके मुझे ग्रीन सिग्नल मिल गया कि ये खुद मुझे चाहती हैं, तो मैंने जिद सी करते हुए बोला- भाभी मैं आपसे बहुत प्यार करता हूँ. मैंने नेहा की चूची को चूसते हुए उसके निप्पल को दांतों से हल्का सा दबा दिया. उसने तुरंत अपनी ब्रा उतार दिया और मैंने उसके चूचों को जोर से मसल दिया.

छुटने वाला चूंकि मैं अंतर्वासना का पुराना पाठक हूँ और नियमित रूप इस साइट पर कहानियाँ पढ़कर मज़ा लेता रहता हूं, इसलिए मैंने सोचा कि मैं अपनी कहानी भी आप लोगों के साथ शेयर करूँ. मैंने अपना एक हाथ धीरे से आगे लाकर प्रिया की टी-शर्ट के ऊपर से उसके मुलायम अनारों पर रख दिया और जैसे ही मैंने उसकी चूचियों को पकड़ा … तो प्रिया ने मेरे होंठों को अपने दांतों से काट लिया … और इइईईई …श्श्शशश …” एक हल्की सी सिसकारी के साथ प्रिया ने मुझे अपनी बांहों में और भी जोरों से भींच लिया.

नमस्कार दोस्तो, कैसे हैं आप लोग! मेरा नाम समीर खान है, मैं उत्तर प्रदेश के वाराणसी शहर से हूँ. उस पर मेरे होंठों के निशान साफ़ दिख रहे थे, मगर उसका चूचुक अब कड़ा होकर तन गया था. इस तरह के अवसर जब बार बार पड़ने लगे तो मैं और मेरी सहेली के पति में अच्छी दोस्ती हो गयी.

ஆதிவாசி செஸ் வீடியோ

उसने बोला- बस देखोगे कि कुछ करोगे भी?मैंने बोला- अब आप ही सब कर दो. कुछ देर में लता ने अपनी टांगों को थोड़ा चौड़ा किया तो मैंने अपना हाथ उनकी चूत तक पहुंचा दिया, लता ने पैंटी नहीं पहनी थी. वो सब आँगन में बैठे इधर उधर की बाते कर रहे थे और मैं मेरे फोन में खोया हुआ था.

नीना को लगा कि इस पोज में सब कुछ उसी के हिसाब से चलेगा और वह अपनी मनमर्जी से ही लंड में चूत ठोकती रहेगी. सोनाली देखने में बहुत खूबसूरत लग रही थी, बिल्कुल हीरोइन की तरह स्टाइलिश थी.

मेरे दोनों हाथों में भाभी के मम्मे आ गए और भाभी बिल्कुल मेरे ऊपर गिरी और सामान भाभी के पांव पर गिर गया.

इसके बाद से मैं अपने देवर से खुल गई थी और अब तो मेरे पति मुझे चोदें या नहीं चोदें, मेरा देवर मुझे अपने मोटे लंड से बड़ी तसल्ली से चोदता है और मेरी चूत की आग को शांत करता है. भाभी थोड़ी देर बाद कामुक सिसकारियां भरने लगीं ‘सस्स्स्स … अहह हह … अम्म!’मैं डर गया और मैंने हाथ खींच लिया. वो बोली- अरे यार उस दिन तेरे जीजा जी घर पर ही थे, इसलिये दरवाजा खुला था … मुझे मालूम ही नहीं चला और वो मार्किट चले गए थे.

मेरे इतना बोलते ही उसने एक धक्का मारा जिससे उसका लण्ड मेरी चूत को चीरते हुए अंदर चला गया. मैंने अपना पजामा उतार दिया और अपना 8 इंच का लंड उसके हाथों में थमा दिया. अब नीरू और मेरी पत्नी दोनों ने उसकी टांगों को चौड़ा किया और उसकी कुंवारी बुर की दरार को खोल कर मुझे दिखा कर बोली- देखो राजा जी, बिनचुदी बुर के दर्शन करो … कितनी मस्त लग रही है पायल की बुर … हम आपके लंड के लिए बंद और नई बुर लेकर आए हैं.

रेखा के बारे में आपको बता दूं कि उसका चेहरा, उसका फिगर देख कर किसी का भी लंड खड़ा हो जाएगा.

पोर्न वीडियो हिंदी बीएफ: मैं सहेली के भाई से बात कर रही थी कि तभी उसने मुझसे मेरा नंबर माँगा. बस एक मिनट में मुझे जोर जोर से रगड़ने के बाद अनवर के लंड का गरमा गरम लावा छूटने लगा और मेरी चूत में पूरा रस भर गया.

अब जब भी वह घर पर अकेली होती है तो मैं उसकी चूत चुदाई करके उसको संतुष्ट करने पहुंच जाता हूँ. उसके बाद वो मुझे नंगी करने लगे और बाजू में लेट कर मामी की चूत में 9 इंच का लंड सेट किया. मैडम भी मज़े के मूड में आ गई- अरे आगे भी तो बोलिए ना सर … आपकी बीवी इतना अच्छा खाना नहीं बनाती थीं क्या?आज देवी मैडम बड़ी मस्ती के मूड में थी.

दोस्तो, मैं अनुज माहेश्वरी 20 वर्ष, मैं आज आपको यहां मेरी और मेरी मौसी की एक प्यारी कहानी बताने वाला हूं। मेरी मौसी 43 वर्ष की हैं पर हुस्न से 30 वर्ष की लगती हैं.

पार्लर काफी चल निकला और फिर लड़की रख ली। मायके जाती तो पिंकी से मिलकर चूत चटवाती। मेरी एक पुरानी कस्टमर बन चुकी थी जिसका नाम शिखा था. आह … आपका लंड बहुत बड़ा है … थोड़ा धीर धीरे घुसाइए ना मेरे राजा … मैं कौन सा अब भागने वाली हूँ यहाँ से. इसके अलावा आपको मुख चुदाई की कहानी कैसी लगी, क्या मेरी भाषा शैली सही है.