दिखाइए बीएफ दिखाइए

छवि स्रोत,देहाती बीएफ वीडियो मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

assistant की सेक्सी: दिखाइए बीएफ दिखाइए, वो थोड़ी नाराज हुई और उसने कहा- मिस्टर मेरा पहले से ब्वॉयफ्रेंड है।लेकिन फ़िर भी हमारी रोज बातें होती थीं.

भाभी की नंगी सेक्सी बीएफ

आखिर प्रीति आंटी को मजबूरी में झुकना पड़ा और वे मुझसे चुदवाने को तैयार हो गईं. बीएफ पिक्चर हिंदी में डाउनलोडदादा जी ने मुझे करीब बीस मिनट तक चोदा और फिर मेरी चूत के अन्दर ही उन्होंने अपना लावा छोड़ दिया.

थोड़ी देर बाद मैंने एक और धक्का मारा और उसकी एक जोर की आवाज आई- आह हा … हह ह …उसकी आँखों से आंसू आने लगे. कॉलेज की लड़कियों के बीएफ सेक्सी!’ जोर से कहते हुए उन्होंने मेरी अंडरवियर नीचे खिसका दी। फिर अपनी उंगलियों पर थोड़ी क्रीम ले कर मेरे लण्ड पर लगाने लगीं।‘आउच.

इतने में देहरादून आ गया तो हमने अपना अपना सामान पैक किया और उतरने के लिए तैयार हो गए.दिखाइए बीएफ दिखाइए: इस पर वो नाराज़ होकर बोली- अच्छा है तब तक खेती का काम बंद हो जाएगा, फिर मम्मी भी यहां ही रहेंगी.

क्योंकि अब हवा ठंडी लगने लगी थी। मनप्रीत ने मेरे एक हाथ को बगल से लेकर कोहनी तक पकड़ लिया और उसी का सहारा लेकर सोने लगी।तो दोस्तो.पर उनका पल्लू सीने से हटा हुआ था।मैं वहीं चाची की छाती के पास बैठ गया और चाची का सीना देखने लगा। मन कर रहा था कि छू कर देखूँ.

इयत्ता बीएफ - दिखाइए बीएफ दिखाइए

साथ में ब्रा के कप में हाथ घुसा कर मेरी छाती को दबाने लगे।मैं तो पहले से ही सेक्स में मतवाली थी, जेठ जी के आगोश में जाते मैं चुदने के लिए बेकरार हो कर जेठ से लिपट गई।‘यह हुई ना बात.तो वो चीख पड़ी।मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रखे और उसे चोदने लगा। अब उसके मुँह से मस्त ‘उस्स.

फ़िर रात में हम एक-दूसरे से जुदा हो गए और मैं पुणे लौट आया।यह मेरे जिन्दगी की सच्ची घटना है, आपको मेरी सेक्सी कहानी कैसी लगी. दिखाइए बीएफ दिखाइए ऐसा ही हमारा चुदाई प्रोग्राम 8 तक महीने लगातार चलता रहा और अब उसके पति का तबादला बंगलोर में हो गया है.

तभी राज अंकल पीछे आए, उन्होंने राजीव अंकल, जो पीछे से मेरी गांड में लौड़ा डाले मुझे चोद रहे थे, उनसे बोले- तुम्हारा हो गया हो राजीव भाई तो मुझे वन्द्या की गांड चोदने दो.

दिखाइए बीएफ दिखाइए?

उसने अब पहले तो मेरे लंड पर हल्की सी जीभ लगाकर उसके स्वाद को चखा और फिर धीरे से उसे अपने मुँह में भर लिया. भैया के कहने‌ पर मैं उसी दिन शहर के सभी कम्प्यूटर सेन्टरों में घूम फिर आया मगर सभी जगह कोर्स शुरू हो चुके थे और कोर्स के बीच में कोई दाखिला‌ देने को‌ तैयार नहीं था. जेठ के कमरे से भी कोई आहट नहीं मिली।अब मैं पैर दबाकर सीधे छत पर पहुँच कर सारे कपड़े निकाल कर वहीं दीवार पर रख दिए और मैं दीवार फांद कर उस पार बिल्कुल नंगी अंधेरे में चलती हुई चाचा के कमरे तक पहुँची।मैंने जैसे ही रूम खोलना चाहा.

मेरी कई कहानियाँ आपने पढ़ी होगीं,चलती बस में समलिंगी अनुभवपंचर बनाने वाले से होमो सेक्सपर यह कहानी एक महिला के साथ मेरी मुलाकात की कहानी है. मैंने ज्योति को पीछे से ही अपनी बांहों में भर लिया और उसके चुचे पकड़ कर पीछे से ही मसलने लगा. तब मैं आपत्ति जताते हुए आक्रोश में आ गया।तो उसने बोला- यहाँ लोगों का ध्यान खींचेगा तो इज्जत का फालूदा ही होगा.

सुमेर भैया से तो मैं इतना नहीं मिल पाता था मगर उनकी पत्नी सुलेखा भाभी, उनके बच्चे नेहा, प्रिया व कुशल बहुत मिलनसार थे. ऊउउइई…बस उसके मुँह से यही आवाज़ निकल रही थी। मैं भी अपने लण्ड को गोलाई में घुमा कर गाण्ड में अन्दर-बाहर करना चालू किया और आधे घंटे की घनघोर चुदाई के बाद मेरा गरम लावा भाभी की गाण्ड में ही भर गया।कुछ देर बाद भाभी ने मुझे चूम लिया और हम आधे घंटे तक एक-दूसरे से चिपक कर रगड़ते रहे।फिर भाभी ने कहा- रात बहुत हो गई है अब चलो. क्यों कर रहे हो?मैंने जवाब नहीं दिया और उधर से अपना मुँह लटका कर चला आया।अगले दिन मैंने उसे हिम्मत करके फोन किया.

निधि बस मुस्कुरा के रह गई और जल्दी से सन्नी के लौड़े को मुँह में लेकर चूसने लगी।सन्नी- आह्ह. उसे लगा कि ज़रूर राखी से भैया प्यार करते हैं और नींद में सपना देख रहे हैं।मैंने आगे कहा- राखी.

विक्रम अपने एक हाथ से अपनी माँ की चूत चोद रहा था और दूसरे हाथ से उसकी चूचियाँ मसल रहा था.

अब मैंने अपने हाथ सामने गहरी नाभि को सहलाते हुए साये की डोरी को तलाशा और उसे खींच दिया.

पर टेस्टी था।मैं उसकी चूत में 3 फिंगर डालकर अन्दर-बाहर करने लगा और उसकी चूत के दाने को अपने दाँतों से काटने लगा।‘ओह. हम दोनों कई-कई लेक्चर मिस करते और स्कूल की छत पर घन्टों एक-दूसरे की बाँहों में खोये रहते।आजकल तो लोग पहली मुलाकात में ही वासना में अंधे होकर सेक्स करने की सोचते हैं. हाय क्या कसा-कसा सा मेरी चूत में जा रहा था। अगर चाचा मेरी फोन पर बात ना सुनते और जल्दबाजी में अपना पानी ना निकालते.

मैंने उसको गाल पर किस किया तो आज मुझे इस अकेले माहौल में बहुत मज़ा आया और वो भी चुदास के चक्कर में एकदम से सिहर उठी. तुम्हें मैं जान बोल सकता हूँ या फिर कुछ और?मैं- राकेश जी आप कुछ भी बोलिए. मैडम तो ऐसे जैसे जन्मों की प्यासी हों… मेरे आते ही गेट खोला।मैडम- आ गए तुम.

जो कि मेरे और मेरी मामी के साथ हुआ।आपको अपनी मामी के बारे में बताता हूँ।वो बहुत सेक्सी हैं.

आप जैसे कहेंगे मैं वैसा ही करूँगी।इसी बीच राकेश ने मेरे कंधे पर हाथ रख दिया और उसे दबा दिया. आप ला दो।मैं खुश हो गया और शॉप पर गया और नेट में एक बिकनी सैट और एक रेड फैंसी ब्रा-पैन्टी ले आया।मार्किट से आते-आते शाम हो गई. चुदासी होने के कारण मेरी टांगें चौड़ी होने में ज़्यादा वक़्त नहीं लगा.

पहले तो उसके चूचों को गोल गोल अपने हाथों से घुमाता, तो कभी दबाता और सहलाता. पता नहीं भगवान ने मेरी मम्मी को इतनी सेक्सी क्यों बनाया?” गौरव उदासी से बाला. ’मैंने थोड़ा बाहर निकाल कर देखा तो पूरा लण्ड खून से सन गया था। रूमाल से साफ करके फिर मैंने झटके लगाने शुरू कर दिए। सितारा पाँच मिनट तक बेहोश हो गई.

मेरे और मेरे जीजू के बीच अब सब कुछ साफ़ हो गया था और हम दोनों लोग सेक्स के बारे में भी बातें करते थे.

इसका मतलब उसे भी एक चूत की आवश्यकता है। आज कुछ देर और पति नहीं जागे होते और ऊपर छत पर नहीं आते तो मैं आज पड़ोसी के लण्ड से चूत चुदवा कर संतुष्ट हो चुकी होती।जब इतना सब हो गया तो अब शरमाना क्या. और लंड को मेरी चूत में डाल दो।लेकिन मैंने कहा- तू पहली बार चूत में भी डालने नहीं दे रही थी.

दिखाइए बीएफ दिखाइए मैं छत पर ही था।तो उन्होंने बोला- क्या तुमने मुझे मूतते हुए देखा है. मैं घर पर कह देता हूँ कि मैं आज नहीं आ सकता।रात को खाना खाने के बाद मैं छत पर खड़ा अपने लण्ड को सहला रहा था.

दिखाइए बीएफ दिखाइए मोटा लंड अन्दर जाते ही मेरे मुँह से सिसकारियां निकलनी शुरू हो गईं और मैं आहें भरती हुई विकास के लंड से अपनी चुदाई करवाने लगी. लेकिन आज मूड बनाकर लिख ही रहा हूँ।दोस्तो, मैं नोएडा में रहता हूँ और सॉफ्टवेयर इंजीनियर हूँ.

जो बहुत ही स्वादिष्ट है और मैं अक्सर पीती रहती हूँ।यह सुनकर सपना ने भी शिखा से मेरे लंड से चुदने की इच्छा जाहिर की.

प्यार के वीडियो

मैंने उसकी चूत पर अपने होंठ रखे और चूत के ऊपरी हिस्से को चाटने लगा। कोमल मेरी जीभ को अपनी चूत से हटाने की कोशिश कर रही थी. वो तो किसी और के लण्ड पर कूदती है।उसकी इस खुल्लम-खुल्ला बात को सुन कर मैं दंग रह गया।मैं कुछ बोलूँ. !मैं एकदम चुप हो गया। भाभी ने मेरा लोवर नीचे की ओर खिसका दिया। लण्ड अंडरवियर में था.

इसमें सब्र नाम की चीज है कि नहीं? सौम्या जैसे तुम्हारे नीचे सोने को ही तैयार है?’‘यार बहुत दिन हुए कोई नई चीज मिली ही नहीं. इसलिए मैं भी बस बिना कुछ जबाव दिए उनकी बातों का रस लेते हुए आगे बढ़ जाती थी. तब भाभी ने अपनी टाँगें पूरी चौड़ी की हुई होती थीं। उस वक्त चूत इतनी टाईट नहीं लगती थी और कई बार तो ये भी नहीं पता चलता था कि लंड अन्दर है.

नाभि पर प्यार पर इस तरह का मेरा ये अनूठा ही तरीका था जो मीता को कामातुर कर देता और न चाहते हुए भी वो बिस्तर पर मेरी अंकशायिनी बनने को आतुर हो जाती थी- उफ़्फ़ … इस्सस्स … आआआह … सीईईईई! बस करो जान!कहते हुए मीता धीरे से घूम गयी पीछे की ओर और मेरे होंठ भी इसी के साथ पतली खमदार चिकनी कमर को चूमते हुए पीठ और मादक पिछवाड़े पर आ टिके.

जब मैं गर्मी की छुट्टियों के दिन छत पर सोता था। मेरी और सुन्ना आंटी की छत जुड़ी हुई हैं।मैं अपनी छत पर घूम रहा था, मैंने देखा कि सुन्ना आंटी अपने कमरे से बाहर आईं और आँगन में खड़ी हो गई और ऊपर देखने लगीं। मैं चुपचाप छुप कर देख रहा था। मैंने देखा कि सुन्ना आंटी ने काले रंग की पारदर्शी नाईटी पहन रखी थी. क्योंकि विशु हमें बहुत देर तक बिना रुके धक्के लगाता है। जिससे हम कई बार बीच में झड़ जाते हैं लेकिन विशु नहीं झड़ता है। इसके लंड में कमाल की ताक़त है।इतना सुनते ही सपना ने अपने कपड़े उतारना शुरू कर दिए. तो उस पर खून के निशान थे। हमने चादर धोई और हल्की सी सुखाकर बिछा दी.

मैं भी उसके नीचे दबी अपने आपको पूर्ण संतुष्ट महसूस करते हुए उससे लिपटी पड़ी थी. ’ कह रही थी। मैं उसके दर्द की परवाह न करते हुए उसको चोदने में लगा हुआ था और उसकी चूत से आवाज आ रही थी।‘फ्छ्ह्ह ह्हह्ह्ह फछ्ह्ह्ह फछ्ह्ह्हह. जहां तक इतने माल का सवाल है, वो मैं हर काफी ज्यादा मात्रा में दूध और काजू बादाम खाता हूँ.

इतने में प्रिया बोली- देखो ये जल्दी खत्म करो और हमें शादी में जल्दी जाकर वापस भी आना है … उधर मुझे देर नहीं करनी है, ऐसे मौके का मुझे पूरा फायदा उठाना है. अब मेरा सात इंच लंबा हथियार उसकी चूत फाड़ने के लिए तैयार था।पिंकी मेरे लण्ड को पकड़ कर किस कर रही थी, मुझे बहुत मज़ा आ रहा था।तभी पिंकी बोली- प्लीज़ इसे मेरी चूत में डालो.

मैं वापस जाने लगा तो वो मुझे जबरन अन्दर ले गई और मुझे दूसरे कमरे में बिठा दिया. ।नहा कर मैंने खाना खाया और माँ को कल रात की घटना के बारे में बताया।माँ ने कहा- यह सब तो होता ही रहता है. हम दोनों चुदाई कर रहे थे और हम दोनों के पसीने से बिस्तर भी भीग गया था.

मैं पीछे से उनकी चूत, जो थोड़ी चिकनी हो गयी थी, उसमें अपना लंड डाल दिया.

मानो मेरी योनि को पूर्ण रूप से गीला और चिपचिपा कर देना चाहते हों।मेरी योनि तो शुरू से ही गीली थी. तो मैंने इशारे में पूछा- क्या हुआ?वो बोली- बहुत दिनों बाद मुझे ये आनन्द मिला है. तो ऑफिस में ये घटना मेरे साथ हुई।घर की आर्थिक जरूरतों ने मुझसे यह भी करा डाला।मैं अपनी पगार बढ़वाना चाहती थी.

उनके आने तक मैं तुम्हारी गाण्ड को अपने लंड के काबिल बना लूँगा।तो अनु बोली- इसका मतलब आप कल तक और 7-8 बार मेरी गाण्ड मारेंगे?तो मैंने उसे चूमते हुए कहा- तुम तो बहुत समझदार हो अनु!मैंने उसकी कमर को दोनों हाथों से पकड़ कर थोड़ा ऊपर उठाकर ज़ोर का झटका मारा। अनु के मुँह से आवाज़ इतनी ज़ोर से निकलने लगी कि मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. क्योंकि मैं एक बेवकूफ़ आशिक़ की तरह किसी और के नाम की मुठ्ठ मारता था।उसने आधा गिलास पानी ही पिया और मुझसे कहा- नेहा जिसे तुम चोदने के सपने देख रहे हो.

उसने देखा कि दादाजी नंगे बिस्तर पर लेटे हैं और उसकी मम्मी अपने नर्म मुलायम लाल होंठों से दादाजी के कड़क लौड़े को अपने मुँह में लेकर चूस रही हैं. इसलिए दो मिनट बाद मैंने उससे कहा रात को बाकी का खेल खेलेंगे, तुम छत पर बनी अटारी में आ जाना, मैं वहीं तुम्हारा इन्तजार करूँगा. अहहह अहह अहह… पूरा ले गले में कुतिया…तेरा गला फाड़ दूंगा आज कमीनी…साली सड़क छाप वेश्या.

हाथ का ड्राइंग

तुम मुझे यह बताओ कि तुम्हारा घर कब खाली होता है?मैंने जवाब में लिखा- सुबह नौ बजे से शाम के पाँच बजे तक.

बोली- ये गंदा काम है।मैं गुस्से में आ गया और खड़ा होकर उसकी नंगी गाण्ड पर एक जोरदार थप्पड़ मारा. मैं उसे छोड़ कर एक क़दम पीछे हटा और हैरानी से उससे पूछा- क्या तुमने अभी तक सेक्स नहीं किया?दोस्तो, जो मर्द कुँवारी फुद्दी को चाटने का सौभाग्य गँवा दे, वो दुनिया का सबसे बड़ा चूतिया है. लेकिन हो सकता है आपके साथ अकेले कमरे में होने से मैं अपने आपको रोक नहीं पाऊँगा.

सुबह रीतिका करीब 5 बजे मुझे जगाने आई तब मैंने दरवाजा खोला तो रीतिका नाईटी में थी. अगले दिन दो‍पहर को वो हाथ में छोटा टिफिन उठा कर दुकान में आई और कहने लगी कि आज मैंने स्पेशल साग बनाया है. बाप और बेटी का बीएफ सेक्सी वीडियोमैं अपने लंड के टोपे को ऊपर नीचे उठाने कि बजाए साइड से हिलाता था और मुझे मज़ा आता था.

जिसे मैं 32-26-32 बनाने में लगा हूँ।दोस्तो, मैंने अपनी पिछली कहानी में आपको बताया कि कैसे मैंने अपनी सोनी मौसी को अन्जाने में चोदा फिर हमारी चुदाई का सिलसिला चलता रहा।जो लोग नहीं पढ़ पाए हों. तभी वो थोड़ा उठी और अपने एक हाथ से मेरे लंड को पकड़कर उसे सीधा ही अपनी चुत के प्रवेशद्वार पर लगा लिया.

घर में मौजूद तीनों जिस्म एक साथ चुदने को मरे जा रहे थे, बात बस एक अच्छी से शुरुआत करने की थी. अचानक उसने करवट बदली तो मैं घबरा गया। मैंने सोचा कि कहीं वो मुझे ऐसे देख न ले. तो मैंने भी देर ना करते हुए पिंकी की चूत में लण्ड को डाल दिया और उसे जोर-जोर से चोदने लगा।पिंकी- आआआह्ह.

तो मैंने कहा- मामी मेरी कोई गर्लफ्रेण्ड नहीं है।तो हँसने लगीं और बोलीं- मुझसे क्यों झूठ बोल रहा है।मैंने कहा- मामी सच में. मुझे बहुत चुदवाना है, मैं जब तक यहाँ हूं तब तक तुम लोग जमकर चोदते रहना. मैंने उनके चेहरे पर संतुष्टि का भाव देखा।उसने मेरा हाथ अपने हाथ में लेकर वादा करने को कहने लगी कि कहो मैं उसकी प्यास हमेशा बुझाता रहूँगा और उसकी सारी कल्पनाओं को पूरा करूँगा.

फिर मैंने चाची को लेटने को कहा और उनकी सलवार, जो नीचे से चुत के पानी से गीली हो गई थी, वो उतार दी,चाची अब अपनी चुत पर हाथ रखने लगीं.

वो अहसास कुछ अजीब ही था, जो मेरी जिंदगी में पहली बार महसूस हो रहा था. थोड्या वेळाने सर्व आपपल्या स्थितीतून परत आल्यानंतर आणि फ्रेश झाल्यानंतर एकत्र आले.

फिर मैं उनकी गांड को अपने हाथ से सहलाने लगा, भाभी के मुँह से उम्म्ह… अहह… हय… याह… की आवाजें आने लगीं. पर मैं रेणु की चूत से अपना लण्ड एक पल के लिए भी बाहर नहीं निकालना चाहता था।उसके बाद तो मैं उसे कई बार चोद चुका हूँ।मुझे मेल करें कि आपको मेरी कहानी कैसी लगी. तो अदिति बोली- बहुत जल्दी में लगते हो।मैंने कहा- इस काम में कपड़ों का क्या काम औऱ अगर ऐसी ही बात है.

उसी वजह से वो भी मुझसे खुश थी।उन दिनों मैंने उसे लगातार पकड़-पकड़ कर चोदा। उसकी गाण्ड मारी. वो शरमा गई और बोली- हाय क्या मस्त नजारा है, तू लूट ले अपनी रंडी की जवानी के मजे. तो मैंने साफ़ करके उसकी चूत को चाटना चालू किया। जैसे ही मैंने सोनी की चूत पर अपनी जीभ लगाई.

दिखाइए बीएफ दिखाइए जहाँ दो महीने मैंने बहुत मेहनत की और सबका चहेता बन गया। उसके बाद वहाँ एक हाई प्रोफाइल घर की लड़की ने ज्वाइन किया. अब उसके साथ मैं भी उसका साथ दे रही थी।वो मुझे कमरे में ले गया, फिर उसने मेरे चूचे दबाना शुरू कर दिए और पता ही नहीं चला कब उसने मुझे ब्रा और पैन्टी में कर दिया।अब उसने मेरी ब्रा और पैन्टी भी उतार दिए.

देसी लड़की की सील तोड़ी

गोरे जिस्म पर काली ब्रा-पैन्टी कहर ढा रही थी।फिर मैंने मामी की ब्रा भी उतार दी और उनके मम्मों को चूसने लगा. तभी स्नेहा ने आकर मुझसे बोला- मॉम, मेरी ब्रा और पैन्टी नहीं मिल रही है।मैंने बोला- देखो जहाँ तुमने रखी होगी. उन्होंने फिर से एक ज़ोर का झटका देके मेरी गांड में पूरा लंड अन्दर तक पेल दिया.

चाची साधारण दिखने वाली 35-36 साल की होंगी। थाईराइड की समस्या से उनका वजन कुछ सालों से बहुत बढ़ गया है।उनका फिगर 36-32-38 का है. मैं अभी अभी दो बार स्खलित होकर आया था, इसलिए मेरी मंजिल अभी दूर थी … मगर शायद प्रिया अब अपने चरमोत्कर्ष के करीब पहुंच गयी‌ थी. इंग्लिश बीएफ दिखाओ बीएफमयूरी के लिए ये नया नहीं था, वो पहले भी कई बार अपनी चूत अपने दोनों भाइयों से चटवा चुकी थी पर एक औरत के होंठों और जबान की बात ही अलग होती है और विशेष रूप से अपनी सगी माँ आपकी चूत चाट रही हो तो उसकी बात ही थोड़ी अलग होती है.

मैं उसे छोड़ कर एक क़दम पीछे हटा और हैरानी से उससे पूछा- क्या तुमने अभी तक सेक्स नहीं किया?दोस्तो, जो मर्द कुँवारी फुद्दी को चाटने का सौभाग्य गँवा दे, वो दुनिया का सबसे बड़ा चूतिया है.

लेकिन सोच में पड़ गया कि चाची को सब बातें कैसे पता चलीं।तभी मुझे अपने लंड पर गरम और गीला एहसास हुआ जोकि मुझे बहुत अच्छा लगा।चाची मेरे लंड को मुँह में लेकर चुप्पे लगाने लगीं।मुझे सेक्स में चुप्पे लगवाना सबसे ज्यादा पसंद है, मैं भी कामवासना के नशे में डूबने लगा।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !चाची मेरा पूरा लंड मुँह में नहीं डाल रही थीं. कुछ नया सुनाओ?अनु ने मुझे सब बता दिया।अनु- अब मैं क्या करूँ?मैं- मज़ा आया.

उसने अपनी कहानी में पिरोकर मेरे ही अनुभवों को अपने शब्दों में ढाला। लोगों को वो बड़ा ही पसंद आएगा. मैं अपनी फुल स्पीड में सोनी को चोदता रहा और सोनी और मेरी आवाज से पूरा कमर गूंज रहा था।सोनी एक बार जोर से तड़फी- आआह्ह्ह. जिससे उसकी जवानी को एक करेंट लगता।अब मैं लंड को तैयार कर चुका था, अनु बोली- भैया आप हर बार नए तरीके से चुदाई करते हो.

भाई जल्दी से पेल दो आप मेरी गाण्ड मार रहे हो और मेरी चूत में खुजली शुरू हो गई है।पुनीत- सबर कर मेरी जान.

अब हम दोनों ही काफी थक चुके थे इसलिए कमरे में आ गए और बेड पर नंगे ही एक दूसरे से चिपक कर सो गए. अब भाभी कपड़ों के ऊपर से मेरा लंड पकड़ कर कहने लगीं- राहुल, प्लीज आज मुझे अच्छे से रंग दो. जिस कम्प्यूटर कोर्स से मैं पीछा छुड़ाने की सोच रहा था, उससे मेरे हाथ इतना बड़ा खजाना लग जाएगा, ये तो मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था.

बिहारी सेक्सी बीएफ दिखाओतो मेरे होश उड़ गए।मैं अंकल से कामुक होकर बोली- अब मैं ऊपर से नहीं. ’ लौड़ा पेल रहा था। कुछ देर बाद पुनीत ने पायल की गाण्ड में पिचकारी मारनी शुरू की.

पब्जी इंडियन

झांकते ही उसके दिल की धड़कने इतनी बढ़ गईं कि उसकी आवाज उसे खुद सुनाई देने लगी. दस मिनट चोदने के बाद सारा माल मेरी गांड में निकाल दिया और मेरे ऊपर ही लेट गया. अब कोमल ने अपने चूतड़ों को उठा-उठा कर मेरी जीभ को अपनी चूत के अन्दर तक ले जाने की कोशिश शुरू कर दी थी ताकि उसकी चूत को अधिक से अधिक मजा मिल सके.

मैं इसे घर के बाहर संभालती हूँ। मेरे पति जैसे नामी चुदक्कड़ की मांग सिर्फ हम दोनों से पूरी होगी. वह मेरा पूरा साथ दे रही थी और मेरे हर चुंबन का बड़ी ही बेदर्दी तरीके से जवाब दे रही थी. इसलिए मैं और प्रिया पढ़ाई में जुटे हुए थे, वो पढ़ाई के लिए मेरे घर पर आती थी।मेरे किसी रिश्तेदार के घर शादी थी तो मेरे मम्मी-पापा 2-3 दिन के लिए गाँव चले गए.

मैं मर जाऊँगी।भाई बोलने लगा- जब पूरा लंड ले लिया तब तो मरी नही अब क्या मरेगी?मैं- आह्ह. कमरे में चाचा जी हैं और तुम उस कमरे में क्यों जा रही थीं?मैंने बहुत मिन्नतें कीं. या उनकी वाइफ उनसे साथ सेक्स नहीं कर पाती थीं।मेरी सहेली साक्षी को एक लड़की.

दबा रहा था, उसके हाथ मेरे खड़े लण्ड को ऊपर-नीचे करने लगे थे।तभी मुझे लगा कि मैं निकलने वाला हूँ क्योंकि मेरे लण्ड पर पहली बार किसी लड़की ने हाथ रखा था।हम काफ़ी देर से एक-दूसरे के जिस्म को एक बनाए हुए थे। तो मैंने उसका हाथ रोक दिया और अपना लंड पकड़ कर स्खलन की प्रक्रिया को रोकने की कोशिश की।उसे भी यह एहसास हो गया था. मैं दादा जी जांघों पर उनकी गोद में बैठी अपने चूतड़ हिला हिला कर उनका लंड अपनी चूत के अन्दर बाहर करने लगी.

इतना कहकर पुनीत बिस्तर पर आ गया और पायल की गाण्ड को सहलाने लगा।पायल- उफ्फ.

और तुम क्या देख रहे। तुम्हें देखने की सजा मिलेगी। चलो इनके जैसे शरीफ हो जाओ. लड़कियों का सेक्स वीडियो बीएफइतनी अच्छी चूत मैंने अब तक अपनी जिंदगी में नहीं देखी थी। आज तो इसकी चूत को चोदने के बाद मजा ही आने वाला है. हॉलीवुड हिंदी बीएफमयूरी- तो आप अपने कपड़े उतार दो ना…शीतल- जरूर…और शीतल ने अपनी नाइटी उतार फेंकी और उसके साथ ही साथ उसने अपनी काले रंग की ब्रा और पैंटी भी फटाफट से उतार दी जैसे उसको अपनी बेटी से चूत चटवाने की कुछ ज्यादा ही जल्दी हो. उसने कहा- भैया मैं अपने कपड़े उतार लूं?मैं खुश हो गया और कहा कि हां बिल्कुल.

मेरी कोई गर्लफ्रेण्ड नहीं है।दोस्तो, वो मेरे साथ फ्रैंक होने की पूरी कोशिश कर रही थीं।तब उन्होंने मुझसे पूछा- तुमने कभी किसी लड़की के साथ कुछ नहीं किया।मैंने कहा- नहीं मामी.

इसी बीच उसने मुझसे मेरी जीएफ के बारे में पूछा, जो कि मेरी कोई है ही नहीं. मैंने एक झटके में उसे बिस्तर पर पटक दिया और खींच कर उसका ब्लाउज उतार दिया, उसके मस्त चूचे मेरे सामने अपनी नुकीली घुंडियों का नजारा पेश कर रहे थे. ये हालत आप पर क्या सितम ढहा सकते हैं और आपके लंड की क्या हालत हो सकती हैं।मुझे तो लगता है कोई भी औरत ऐसे मौके पर इस हालत में मिल जाए तो नामर्द का लंड भी तन कर उसको सलाम कर देगा और साधू भी शैतान हो जाए.

फिर उन सभी ने साथ में ड्रिंक की, उनका फोन मेरे पास भी आया, पर ठंड बहुत होने के कारण मेरा मन जाने का नहीं था. तो उसी समय उसने एकदम से धक्का लगा दिया और मुझे चक्कर आने लगे।मुझे इतना दर्द जिंदगी में कभी महसूस नहीं हुआ. तो मैंने देखा कि सितारा कानों में हैडफोन लगा कर मोबाइल में कुछ देख रही थी।मैंने चुपके-चुपके उसके पीछे जाकर देखा तो पाया कि वो ब्लू-फिल्म देख रही थी.

कॉफी कैसे बनाते हैं

कमरे में आकर जेरोम ने मुझसे कहा- क्यों न तुम हमारे साथ हमारे घर चलो?मैंने दो मिनट सोचा और फिर कहा- किसलिए. लेकिन हो सकता है आपके साथ अकेले कमरे में होने से मैं अपने आपको रोक नहीं पाऊँगा. दोस्तो, मैं आपकी दोस्त कविता एक बार फिर से आप लोगों के सामने हाज़िर हूँ.

अब पूजा ने हंसते हुए मुझसे पूछा- आप कैसे मुझे बोर नहीं होने देंगे?मैंने पूजा से बोला- मैं आपको अच्छे अच्छे किस्से सुनाऊंगा, जोक सुनाऊंगा, और इसके अलावा आप जो भी कहेंगी मैं वो भी करूँगा.

आज मैंने मन बना लिया था कि आज उसे प्रपोज करना ही है।फिर मैंने उसे फोन किया.

लंड चूत के अन्दर ही डाले हुए दादा जी ने कुछ देर के बाद मुझे पीछे को करते हुए बेड पर लिटा दिया और खुद मेरे ऊपर आ गए. लेकिन सभी के साथ कुछ न कुछ अलग होता है, तो कोई एक ऐसा पल जिसमें पूरे बदन में करंट सा दौड़ जाता है. घोड़ा का बीएफ पिक्चरसुमेर भैया उम्र में मुझसे काफी‌ बड़े थे इसलिये उनसे तो मैं कम ही बात करता था.

नेहा और प्रिया सुमेर भैया की पहली पत्नी की सन्तान हैं और सुलेखा भाभी का बस एक ही लड़का कुशल है, जिसने अभी आठवीं की ही‌ परीक्षा दी हुई थी. पर लन्ड की सिर्फ़ टोपी ही अन्दर गई।वो जोर-जोर से सिसकारियाँ ले रही थी। फ़िर हमने धीरे-धीरे कोशिश की. सो उसने अपना काम शुरू कर दिया। लेकिन आज मेरे मन में कोई और ही प्लान था। मैंने उसको और धमकाया और कहा- आज का दंड रोज से अलग होगा।वो चुप था।मैंने कहा- अपना मुँह खोलो.

जब मैं अपनी माशूका के साथ था और मैं उसे अपना बनाते-बनाते रह गया।पर उसका मुझे अफ़सोस नहीं था. और मैं खाना खत्म करके बर्तन लेकर रसोई में चली गई, फिर साफ-सफाई करके मैं बेडरूम में आकर लेट गई, पति पहले से ही बिस्तर पर लेटे थे, मैं उनके बगल में लेट गई।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !कुछ देर बाद पति ने कहा- ज्यादा मन हो रहा है चुदने का?मैं जानबूझ कर बोली- कुछ खास नहीं.

मेरा नाम अर्जुन है, मैं बैंगलोर का रहने वाला हूँ।यह मेरी पहली कहानी है। इस कहानी की शुरूआत हुई सन 2012 में.

जो वो नहीं कर पाया।मेरे लंड को इसी पल का इंतजार था। मैंने तुरंत अपना बरमूडा उतारा और अपने लंड को उसके सामने कर दिया। मेरे लंड पहले ही आधा टाइट हो रहा था। वो मेरे लंड को कुछ सेकेंड तक देखता रहा. उसी वक्त मेरा दिल उस पर आ गया और मैं उसके बेड पर चला गया। उसने भी मुझे जगह दे दी और हम फिर से बातें करने लगे।बातों-बातों में मैंने कहा- न जाने क्यों मेरी निक्कर लूज हो गई है।उसने कहा- देखूँ तो. कुछ ही देर ऐसे चुदाई करते हुए हुआ होगा कि प्रिया अब और जोर जोर से सांसें लेने लगी.

बिहार का बीएफ सेक्सी बिहार का इससे पहले आप मेरी चूत में एक बार लण्ड उतार कर मुझे मस्ती से सराबोर कर दो. फिर मधु ने मेरे लन्ड को मुंह में लेकर चूसना शुरू किया, न मैं हिल पा रहा था न उसको रोक पा रहा था, वो लगातार मेरे लन्ड और अंडों को काट रही थी और चूसे जा रही थी.

हॉस्पिटल से निकल कर रेवती मुझे सीधा अपने घर ले गई और कहने लगी- आप अकेले रहते हैं और आपकी देखभाल करने के लिए कोई भी नहीं है. जो मुंबई में रहती थी।हम दोनों एक-दूसरे से रोज रात में बातें करने लगे। वो काफ़ी खूबबसूरत और गोरी थी. वो वैसे ही लेटी रही ओर मैंने उसकी गर्दन ओर कान को चूमना चूसना शुरू कर दिया.

ব্লু ফিল্ম অ্যাডাল্ট

हमारे मन में बांछें खिल रही थीं। मैंने अपने रूममेट को दूसरे कमरे में एडजस्ट किया और अपने कमरे में ‘कैंडल-लाईट’ डिनर का इंतज़ाम किया।हमने दिन में एक केक मंगवाया था. वो उठी और बेड पर टांगें फैला कर लेट गई और मुझे ऊपर आने का इशारा करने लगी. फिर बहुत सारी बातें करने के बाद प्रीति जाने के लिए उठी, तो उसका पैर टेबल से टकराया और वह गिर पड़ी, जिससे उसके पैर में पता नहीं कैसे मोच आ गई और उससे उठा भी नहीं गया.

और गाण्ड मार मार कर मैंने उनका पूरा छेद खोल दिया, मैं उनकी गाण्ड पर थप्पड़ मारने लगा. मामी ने मुझे और भतीजे को बाहर सोने के लिए बोला और छोटी अपने कमरे में चली गयी.

जिसमें मेरा लण्ड फूला हुआ दिख रहा था और ऊपरी हिस्सा फ्रेंची के बाहर आ रहा था।दोस्तो, काफी समय के बाद मैं अपने लण्ड में इतना कसाव और कड़ापन देख रहा था। ममता ने मुझको इस हालत में देख कर शर्म से अपनी आँख ढक लीं।मैंने धीरे से उसके हाथों को उसकी आँखों से हटाया और फिर उनको अपनी फ्रेंची के ऊपर रख दिया।उसने तुरंत हाथ हटा लिया.

तभी चाची ने पूछा- दो दिन घर क्यों नहीं आए?मैंने डरते हुए कहा- मैं किसी काम में व्यस्त था।इस पर चाची जोर से हँस पड़ीं।मैंने हिम्मत करके सामने देखा तो चाची मेरे सामने दीवार से टिककर बैठी थीं। उन्होंने सिल्की गाउन पहना हुआ था. तो उससे दर्द के कारण चला भी नहीं जा रहा था। मुझे पता था कि ऐसा होगा इसलिए मैं दर्द निवारक गोली और आई पिल्स अपने साथ लाया था।मैंने उसे दवा दे दी और साथ मैं गर्भनिरोधक गोलियां भी दे दीं. उसकी जांघें मेरे चूतड़ों से टकराने से कमरे में थप थप की आवाज़ें गूँज रही थीं.

सबने उसे उठाकर बिस्तर पर पटक दिया उसकी नाईटी को उतारने लगे।कुल 2 मिनट में सलोनी पूरी नंगी हो चुकी थी, पप्पू ने कैमरा ऑन किया और वीडियो शूट करने लगा. तो मैं रूक कर इन्तजार करने लगी। कुछ तबियत वगैरह सही नहीं है क्या संतोष?’‘ननन…नहीं तो. और कोई भी उस कालोनी क्या पूरे शहर में मुझे कोई किराए पर कमरा नहीं देगा।जहाँ तक उस औरत ‘कोमल’ की बात है, वह सांवले रंग की 28 वर्षीय सेक्सी महिला है.

बस तेरी मम्मी राजी हो गई हैं, सोनू जैसा प्लान हुआ था, वह सब हो जाएगा.

दिखाइए बीएफ दिखाइए: जब चूत में गर्म रस अन्दर जाता है।पुनीत- अब तेरा सूसू नहीं आ रहा क्या. अचानक उसने करवट बदली तो मैं घबरा गया। मैंने सोचा कि कहीं वो मुझे ऐसे देख न ले.

क्योंकि मैंने उसे प्रोमिस किया है और मैं नहीं चाहता कि किसी का घर बर्बाद हो।उसकी जानकारी भी इसलिए गुप्त रखी है।अगर मेरा यह किस्सा अच्छा लगा या नहीं, प्लीज़ कमेंट्स और ईमेल कीजिएगा![emailprotected]. उसकी जरूरत को तो मैं भी समझ गया था।इसीलिए मैंने जल्द से जल्द उससे मिलने का प्रोग्राम बनाया और हम दोनों दिल्ली के कश्मीरी गेट मेट्रो स्टेशन पर मिले।लड़की जरा सांवली थी. जब मेरा दर्द कम हुआ तो सरबजीत ने एक और धक्का मार कर पूरा लंड मेरी गांड में पेल दिया.

भैया के कहने‌ पर मैं उसी दिन शहर के सभी कम्प्यूटर सेन्टरों में घूम फिर आया मगर सभी जगह कोर्स शुरू हो चुके थे और कोर्स के बीच में कोई दाखिला‌ देने को‌ तैयार नहीं था.

इस पर भी मैं एक दो बार उसका हाथ अपनी गोदी में रखने का बहाना करते हुए उसको अपना लंड पकड़ने का इशारा दिया. ऐसा लग रहा था कि हाथ लगते खून निकल जाएगा।ऐसी चूत देख कर मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और पूजा के जाँघों पर ठोकर मारने लगा।मैंने उसकी चूत पर अपने होंठों को लगा दिए. वो मेरे लंड की मोटाई को झेल नहीं पा रही थी, जिससे वो हल्के स्वर में चिल्लाए जा रही थी- आह … भैया छोड़ दो … मुझे दर्द हो रहा है … आपका बहुत बड़ा है.