भोजपुरी बीएफ एचडी सेक्सी वीडियो

छवि स्रोत,सेक्सी फिल्म वीडियो में भेजो

तस्वीर का शीर्षक ,

पोर्न एचडी मूवी: भोजपुरी बीएफ एचडी सेक्सी वीडियो, एक दिन हम खेत पर काम कर रहे थे कि माँ की साड़ी का पल्लू झाड़ में अटक गया और मुझे ब्लाउज के ऊपर से उसके चुचे दिखने लगे.

सेक्स viedo

आपको बता दूं कि उसके मम्मे की साइज काफी मस्त है, ये 36 डी नाप के हैं. सेक्सी इंग्लिश विडियोवो मुझे नीचे झुक के किस करने लगीं और तेज़ सांसों के साथ ‘कम फ़ास्ट बेबी …’ बोलने लगीं.

मैंने सीमा के होंठों पर अपने होंठों को रख दिया और सीमा के होंठों को चूसते हुए उसको बांहों में पकड़ कर उसकी चूत को पेलने लगा. मुर्गा बनाने का तरीकाअब मुझे समझ में आने लगा कि हितेश मुझसे दूर क्यों भागता है, उसने क्यों कभी मुझसे बात करने की कोशिश नहीं की.

इसी समय मेरे दिल का पुराना कीड़ा फिर से ज़िंदा हुआ और फिर से दिल उनके मस्त लंड का स्वाद चखने और उनके जिस्म का आनन्द लेने के लिए मचलने लगा.भोजपुरी बीएफ एचडी सेक्सी वीडियो: और न ही आपके जैसे चूचे हैं उसके …भाभी- ये तो आपके भैया के झूठे हैं, कही और मुँह मारो.

मामी ने नीले रंग की साड़ी पहनी हुई थी, उनका पल्लू नीचे हो रहा था और मेरी सांसें तेज.वहां तीन कमरे थे, जिस कमरे में पलंग रखा था उस कमरे में आशीष मुझे ले गया.

फुल सेक्सी video - भोजपुरी बीएफ एचडी सेक्सी वीडियो

उसकी चूत का पानी पीकर मेरे होंठों की प्यास तो बुझ गई थी लेकिन कोमल की प्यास अभी नहीं बुझी थी.उसने कहा- करीम अब मैं तुम्हारी हूँ … तुम जैसे चाहो, उस तरह मेरी चुदाई कर सकते हो … मैं तुम्हें मना नहीं करूँगी.

पायल की सोच में डूबते हुए एक पैग खाली कर लिया और तभी अचानक डोर बेल बजी. भोजपुरी बीएफ एचडी सेक्सी वीडियो कुछ पलों तक दीदी की चूत को चाटने के बाद विनय जीजू ने अपने लंड को दीदी की चूत पर रख दिया और उसकी चूत में अपने लंड को अंदर की तरफ धकेल दिया.

घर की सारी ज़़रूरतें पूरी हो जाती हैं और बेटियों की पढ़ाई का खर्च निकलने के बाद भी हमारे पास पैसों की कमी नहीं होती है.

भोजपुरी बीएफ एचडी सेक्सी वीडियो?

मैंने अपनी एक उंगली उनकी बुर में घुसा दी, तो उनके शरीर ने ज़ोर का झटका लिया. उससे पूछा- रीना, तुम कुछ ठंडा या गर्म लेना चाहोगी क्या?वह बोली- मैं तो ठंडा ही पीना पसंद करती हूँ. फिर आरती ने कहा- अपनी कज़िन को तुम भी क्या याद करोगे, चलो तुम आज पुन्नी को ही चोदो.

इसके अलावा एक झुमकों का सेट भी लिया।मैंने हॉस्टल में आकर उसे ट्राई किया अच्छे से, तन्वी ने देखा तो बोली- क्या बात है यार … तू इसमें बहुत खूबसूरत लग रही है, शादी में जाने से पहले अपने बाल स्टाइल करा के जाइयो यहीं से। मैंने कहा- ठीक है, चलेंगे।अब शादी को सिर्फ 3 दिन ही बचे थे तो मैं तन्वी के साथ पार्लर चली गयी. उसके व्यवहार से मुझे अब लगने लगा कि वो मुझसे चुदवाने के मूड में आ गई थी, परंतु हम दोनों में से कोई भी अपनी ओर से पहल नहीं कर रहा था. किसी में कोई लड़की पूरी नंगी थी और किसी में कोई अपनी बुर को खोल कर दिखा रही थी.

मैंने गांड के छेद के ठीक पास में दोनों तरफ अपने दोनों अंगूठे लगाए और छेद को चौड़ा कर जीभ नुकीली कर अन्दर घुसा दी. मैं और सोनम चारपाई पर बैठे थे, तभी आशीष सामने खड़ा हो गया, तो सोनम बोली- यह मेरे भैया हैं, मेरी बुआ के बेटे हैं. मैं आपको अगली कहानी में बताऊंगा कि मैंने अपनी सील पैक सहेली को कैसे चोदा.

वो रसोई में मुझसे कहने लगी- अभी पढ़ाई का टाइम है … और तुम इन चक्करों में मत पड़ो. सोनू ने धीरे-धीरे अपने होंठों को लंड के ऊपर रखा और उसके ऊपर होंठ रगड़ने लगी.

फिर मैं चूमते हुए आहना के पेट पे पहुंचा और उसके पेट पे अपनी जीभ घुमाने लगा.

उसके बाद मैंने अपने दोस्त की बाइक उठाई और बाइक लेकर रीना के द्वारा बताई गई जगह पर पहुंच गया.

अब आगे:खैर कैब में बैठने के बाद मैंने खुद ही उससे बातचीत शुरू की, थोड़ा बहुत उसके करीब आने की कोशिश की. न्यू ईयर आने वाला था मैंने सोचा कि ये मुझे विश करेगी, पर उसने नहीं किया. मैं बोला- भैया टुन्न हो कर सो गए हैं और मैंने छत का दरवाजा भी बंद कर दिया है.

मेरी कच्ची जवानी की कहानी के पहले भाग में आपने पढ़ा कि इंग्लिश के पेपर में नकल करते हुए पकड़े जाने पर मैं फंस गई. भाभी तुरन्त मेरे नीचे आईं और मैंने भाभी की चूत में अपना लंड लगा कर उनके होंठों में अपने होंठ रख कर धक्के मारने लगा. मैंने पूछा- कौन?उधर से आवाज आई- शिखा …मैंने उठ कर फटाक से दरवाजा खोल दिया और वह अंदर आ गई.

मुझे उंगली का अहसास बहुत ही मजेदार लग रहा था पर मैं आने वाले दर्द से अनजान थी। उन्होंने कुछ क्रीम अपने लंड पर भी लगाई और चुत के होंठों पर अपने लंड को रगड़ने लगे।मैं तड़फ रही थी, मैंने कहा- प्लीज चाचा जी, अंदर घुसा दो ना!वो बोले- अभी लो मेरी प्यारी भतीजी!और यह कहते हुए अपने होंठ मेरे होंठों से लगा दिए और लंड को चुत पर सेट करके एक झटका मारा.

अपनी स्पीड को बढ़ाते हुए जीजा जी ने मेरे गालों को चूमना शुरू कर दिया. इतना कह कर वो जैसे ही किचन में गयी, तो मैं भी उसके पीछे चला गया और उसे पीछे से पकड़ लिया. ननकू की बीवी मीना ने भी चिन्टू पर कोई ज्यादा ध्यान नहीं दिया था लेकिन वह जब भी उसके घर आता था तो वह मौसी होने के नाते उसे अच्छे से चाय पानी पूछ लेती थी.

मैं- हैलो, कौन?सोनिया- मैं चंडीगढ़ से सोनिया बोल रही हूँ … क्या आप रिषभ बोल रहे हैं?मैं- जी हां … बोल रहा हूँ. उसे पता लग गया था कि मीना का पति ननकू शहर में रहकर नौकरी कर रहा था तो मीना को अपने मर्द की दूरी बहुत परेशान कर रही थी. मैं पहली बार में ही किसी मर्द के सामने इस तरह से नहीं जाना चाह रही थी.

आखिर वो टाइम आ ही गया, जिसका शायद हम दोनों को ही बेसब्री से इंतज़ार था.

मैंने उन्हें पकड़ा, तो मुझे अहसास हुआ कि उन्होंने गाउन के अन्दर कुछ नहीं पहन रखा है. अब खाना भी हो चुका था, तो मेरा मन फिर से दोबारा चुत चोदने का कर रहा था और वैसे भी ये मेरी पहली चुत थी तो मन कर रहा था कि चोदता ही जाऊं … चोदता जाऊं.

भोजपुरी बीएफ एचडी सेक्सी वीडियो हम लोगों के बीच में पहले ही बहुत कुछ हो चुका था इसलिए बुरा मानने की तो कोई बात ही नहीं थी. फिर थोड़ी देर हम दोनों एक दूसरे के आंखों में खोए रहे और एक दूसरे को निहारते रहे.

भोजपुरी बीएफ एचडी सेक्सी वीडियो मैं उसके साथ कभी कभार नशे की हालत में सेक्स चैट करता हूँ तो वो भी मेरा साथ दे देती है. मैंने उसकी चूत में उंगली करना शुरू कर दिया और वह मेरी उंगलियों से चुदने लगी.

मैंने जरूर कुछ अच्छे कर्म किए होंगे पिछले जन्म में जो उसकी चूत के दर्शन मुझे हुए.

बीएफ इंग्लिश पिक्चर बीएफ इंग्लिश

उन्होंने मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत के छेद पर ऊपर नीचे रगड़ा और फिर छेद में थोड़ा सा घुसाकर टिका दिया. मैनेजर सर मुझे किस करने के बाद मुझसे थोड़ी देर सेक्सी बातें करते रहे, उसके बाद वो मेरी दोनों जांघों को मसलने लगे. मगर दिल की बात कहूँ तो मैं कब से यही चाहता था मगर डर लगता था कहीं तुम लंड को दांतों से न काट लो!मामा उसकी चूचियों का स्वाद लेकर पीने लगे.

उसके जाने के बाद उस कमरे को बंद कर दिया गया क्योंकि उसमें उसका सामान रखा हुआ था. जब गेट से अपार्टमेंट आते हुए अकेली थी, तो शायद चेहरे पे एक राहत सी थी और शायद एक मुस्कुराहट भी. अब कैसी तबियत है आपकी?मैं- अब ठीक है कल इलाज के लिए चंडीगढ़ ही आ रहा हूँ.

मैंने भाभी को चूतड़ों की तरफ घुमाया और उनके बड़े और गोल चूतड़ों और गांड के बीच में लंड खड़ा करके अड़ा दिया और आगे से उनकी छातियों को जोर-जोर से मसलता रहा.

जवान कॉलेज गर्ल की सेक्स कहानी के पहले भागकिस्मत से मिली कॉलेज गर्ल की चूत-1में आपने पढ़ा कि कैसे मुझे एक जवान लड़की सिनेमा हॉल में मिली और अब वो मेरे होटेलरूम में मेरे साथ मेरे बेड पर थी पर चुदाई के लिए मना कर रही थी. फिर भी मैं भाभी की दोनों चुचियों को मुट्ठी में भर में उन्हें किस करने लगा. तांत्रिक ने कहा- तुझे अपने बेटे से शादी करनी होगी और इसको जीवन भर इसको पति के हर सुख देने होंगे.

इस टाइम जिस थियेटर में जाने की वे बात कर रही थीं, उसमें ‘अक्सर-2’ लगी हुई थी. थोड़ी देर बाद उनका पूरा बदन अकड़ने लगा और उन्होंने फिर से मेरे सिर को अपने चूत पर और कस के दबा लिया, वो झड़ गईं. भाभी कहने लगी- राज! बहुत दिनों बाद, बल्कि जब से शादी हुई है, तब से ऐसे लंड की कभी कल्पना भी नहीं की थी और जैसे ही यह मेरे अंदर गया, मुझे बहुत अच्छा लगा, मुझे बहुत आनंद आया, और मैं एकदम खल्लास हो गई.

पर आशा मना करने लगी- नहीं यार, किसी को पता लग गया या उस लड़के ने बात फ़ैला दी तो कितनी बदनामी होगी. फिर मैं उसकी नाभि पर चूमने लगा और अपने मुंह व दांतों से पहले उसका लोवर नीचे खींचा और पेंटी के ऊपर से ही उसकी कुंवारी चुत पर चुम्बन करने लगा.

तुम्हारे आइसक्रीम के लिए पैसे कौन देता है?”कभी कभी पापा दे देते हैं. मैं उनके गाल, माथे, और गले पर चुम्बन करने लगा और दोनों हाथों से धीरे धीरे से उनकी पीठ को मैं सहलाता जा रहा था. मामी मुझसे इस तरह बर्ताव कर रही थीं मानो रात को कुछ हुआ ही नहीं हो.

अनुष्का वर्मा की गांड फिल्मों में ज्यादा बड़ी दिखाई नहीं देती मगर वह मेरे मोटे लंड को आराम से खा गई.

मैं चूत के अन्दर तक अपनी जुबान डाल कर उसका सारा रस निकालने में लगा था और वो मेरे लंड को लॉलीपॉप समझ कर लुत्फ़ उठा रही थीं. हमने अपने कपड़े ठीक किये और बाहर आ गए लेकिन चुदाई का अरमान दिल में ही रह गया. मैंने भी मजाक में जवाब देते हुए कहा- हा हा हा मैडम … अगर कुछ मिलाने के लिए हो … तो वह भी ले आओ … मुझे कोई दिक्कत नहीं है.

मुझे एक बार तो हल्का सा दर्द हुआ लेकिन उसके सेक्सी गोरे बदन की फीलिंग ने जल्दी ही गांड को विरोध करने से मना कर दिया और उसकी उंगली मेरी गांड में अंदर तक जाने लगी. मैं मुंबई में अपने घर में जहां रहता हूँ, वहां हम लोग सात साल पहले रहने आए थे.

उसकी हालत देख कर मुझे डर लगने लगा था, उसकी आंखें बाहर आने को हो गयी थीं, वो जोर जोर से हांफ रही थी और तेज तेज सांस ले रही थी. वो भी दर्द से चिल्ला उठी- आह्ह्ह्ह … आराम से डार्लिंग … थोड़ा आहिस्ता!हाय मेरी प्यारी बीवी … अब कहाँ आहिस्ता … इतने दिन बाद तेरी ठुकाई कर रहा हूँ, थोड़ा बर्दाश्त कर ले मेरी रानी!” और पीछे से जोर से पकड़ कर उसकी चोदाई जारी रखी. कुछ देर बाद देविका भी आ गयी, मैंने उनको दोनों से मिलवाया, दोनों औरतें आपस में बात करने लगी और मैं और घोष बाबू पार्टी से थोड़ा अलग हो गए और मदिरापान की महफ़िल की तरफ चले गये.

ब्लू पिक्चर विदेशी वीडियो

एक बार मैंने उसे डॉगी स्टाइल में चोदा और दूसरी बार वह मेरे लंड पर बैठकर खुद ही चुदी.

उनके नंगे बदन को देख कर रात की घटना अब मेरे दिमाग में आने लगी थी और मेरा ध्यान मामी जी की चिकनी चमकती हुई गुलाबी चूत पर केंद्रित हो गया. सोफे पर बैठते और मेरी तरफ देखते हुए उन्होंने मुझसे बोलना शुरू किया- हां तो आप क्या कह रहे थे?मैं- मैम, मैं यहां कुछ कहने नहीं, करने आया हूँ. ये बात सुन मैंने उससे पूछा- क्या प्रीति भी ऐसे कपड़े पहनती है?सुखबीर- हां, अभी हाल में उसने कुछ इसी तरह के नाइटी आदि खरीदी हैं, मगर वो आप जितनी कामुक नहीं लगती है.

तो मैं घर से किसी को कुछ भी बताए बिना अपने भाई के पास दिल्ली चला गया. उसने बोला- प्लीज़ आराम से डालना, मेरा पहली बार है, मुझे बहुत दर्द होगा. सफेद बालों के लिए योग‘आअह्ह जोर जोर से आआहह उह बेटा … चोद चोद बेटा आअह …’वंश बोला- हाँ मम्मी आअह्ह ले ना.

मुझे लगा शायद आज इतना ही, पर जैसे ही मैं उठी, उसने मुझे फिर से अपनी ओर खींच लिया और मुझे चूमना शुरू किया. एक महीने बाद मेरे जन्म दिन पर मैडम ने मेरे जयपुर के पते पर एक सैमसंग का एक फोन भेज दिया था.

एक दिन जब छुट्टी वाले दिन भाभी के घर पर उनसे मिलने के लिये गया तो पता लगा कि वह उस घर को छोड़कर चले गये हैं. फिर ऊपर आ के बोली- मुझे ये पसंद नहीं लेकिन सिर्फ इस बार के लिए!और आँख मारते हुए धीरे से मेरा लंड पकड़ के उसपे बैठ गयी और जल्दी जल्दी उछलने लगी. ‘हाँ जीजा जी, आप वो मम्मी के अगले प्रोग्राम का कुछ बता रहे थे, वो फिर से यहाँ आएंगी?’‘नहीं रानी, वो जालंधर जाएगी.

कुछ देर बाद उन्हें थोड़ा अच्छा लगने लगा, तो फिर एक धक्का और लगाया और इस बार लंड पूरा अन्दर चला गया. मैंने अपनी आंखों को बन्द किया और गहरी सांस लेते हुए धीरे से उनके लंड के उभार को छू लिया और हल्के हल्के हाथ ऊपर नीचे करते हुए लंड को सहलाने लगा. इस टाइम जिस थियेटर में जाने की वे बात कर रही थीं, उसमें ‘अक्सर-2’ लगी हुई थी.

वैसे 4 इंच का लंड कैसी भी महिला को संतुष्ट करने के लिए काफी होता है.

मैंने भी उसे चाट चाट कर साफ कर दिया।अम्मी ने खाने के लिए आवाज़ दी तो मैं बैडमैन को लेकर बाहर चली गयी. खैर … स्वाभाविक सी बात थी कि 2 सालों से रवि मामा कोई बिना किसी को चोदे तो रहे नहीं होंगे, उन्होंने भी चूत का जुगाड़ कर ही लिया होगा.

नानी से मैं काफी समय के बाद मिला था, तो बातों में वक्त का पता ही नहीं चला और रात हो गई. फिर उसने मेरे पेंटी के ऊपर हाथ रखा और हंसते हुए बोला- आलरेडी सो वेट. दोस्तो, एक बात कहना चाहता हूँ कि जब तक चुदाई में लड़की खुल कर मजा न ले, तब तक चुदाई अधूरी ही रहती है.

तब बृजेश बोला, मैं सुन कर हैरान ही रह गया, वो बोला- अरे ये तो बहती नदिया है, सब हाथ धो लो. फिर मैंने उसके नाइटी पहनने को लेकर पूछ लिया कि आप घर पर ऐसे ही रहती हो क्या?तो वो बोली- आज तुमसे मिलने का प्लान था. उसने तुरंत आने घर फ़ोन किया और बोली- मैं आज अपनी एक सहेली के घर रुकूँगी.

भोजपुरी बीएफ एचडी सेक्सी वीडियो प्रीति को मैंने बोला कि उसके पति का तुम से विश्वास उठ गया है कि तुम किसी तरह का अनोखी या प्रभावशाली रतिक्रिया कर सकती हो. उसको अंदर करके उन्होंने अपनी ज़िप बंद की और अपना मोबाइल निकाल कर फोन मिलाया और बोला- आ जाओ मैडम!तू इस गाँव की नहीं है ना?” उसने प्यार से पूछा।जी नहीं!” मैंने मुस्कुराकर जवाब दिया.

मां की चुदाई सेक्स

शॉपिंग करने के बाद हम वापस जाने लगे, लेकिन इस बार हमारे बीच में सामान था, तो मामी का स्पर्श नहीं मिल पाया. मैंने उसकी गांड पर हाथ फेरा और पीछे से लंड को उसकी चूत पर लगा दिया. फिर उसने मुझे नहाने को कहा और कहा कि वो 15 मिनट में मेरे फ्लैट में आ रही है.

जैसे ही मेरे हाथ बालों को टकराए तभी बाहर से दरवाजा खुलने की आवाज आई और मैंने अपने हाथ को झटके से बाहर कर दिया. दस मिनट की जोरदार झटकों की बारिश के साथ ही लण्ड महोदय अपने चरम पर आ गए और चूत रानी भी पिघल कर लण्ड के स्वागत के लिए तैयार हो गई थी. বিএফ চালাওनीबू से थोड़ी बड़ी बड़ी चुचियों को अपने हाथों से सहलाने लगा और दिल ही दिल सोचने लगा कि शायद आज फिर सील तोड़ने का मौका मुझको ऊपर वाले ने दिया है.

… सीईई …मैं मामी जी के स्तनों को मसलते हुए उन्हें कस-कसकर चोद रहा था, जिससे बाथरूम में जोर जोर से पच पच पच की आवाजें हो रही थीं.

जब शाम होने वाली थी और मुझे भी वापस घर आना था, तो मैंने उसे घर के लिए बस में बैठाया और खुद भी घर के लिए निकल गया. वह चल कर पास आई और पूछने लगी- इतने गौर से क्या देख रहे हो?मैं ऐसे ही उसको देखता जा रहा था.

इंदु अभी भी अकेली ही थी, दिल तो कर रहा था कि अभी ही चोद दूँ पर इंदु ने कहा- मेरी सास अभी इधर आसपास ही हैं, कुछ मत करो. उसने उठ कर पहले अपना मंगलसूत्र उतारा और बोली- लो, अब मैं तुम्हारी पहले वाली मोनिका हूँ. मैंने अपने दोनों हाथों से उसका चेहरा पकड़ कर अपने चेहरे के सामने किया.

मगर वो जानते थे कि फिर मैं उन्हें नहीं करने दूँगी तो उन्होंने मुझे एक हाथ से पकड़ लिया और मेरे निप्पल को चूसने लगे.

इंदु ने मेरी झांटों में खूब झाग बनाया और रेजर से मेरी झांटों को साफ करने लगी. उसको मैं भाभी के मुँह से मुँह लगाकर पूरा चाट गया। उनके पूरे शरीर को कुत्ते की तरह चाटने लगा।भाभी- चाट साले कुत्ते, चाट, आह … आह … उह … उह … की आवाजें भाभी के मुंह से निकलने लगी. पूरे डिब्बे में 2-3 लाइट ही जल रही थीं, लेकिन मेरी डर के मारे फटी पड़ी थी.

पैरों में दर्द किस कमी से होता हैआकर उसने अपना लॅपटॉप खोला और एक पिक्चर दिखाने लगा, उसमें चुदाई का पूरा नंगा डॅन्स था. मेरे पूरे शरीर में बिजली दौड़ गई, मेरे स्तनों को हुआ पहला आदमी का स्पर्श.

सेक्स ब्लू पिक्चर चुदाई

उसने मेरी पिक मेरे से मांगी मैंने अपने ऑफिस के एक लड़के की पिक भेज दी. उसका हमारे ही कॉलोनी के राकेश के साथ अफेयर था और उसके बारे में किसी को कुछ खबर नहीं थी. ऑनलाइन फ्रेंड बना कर उनका ये पहिला तजुर्बा था, जो कि बहुत अच्छा रहा.

वह मेरे चेहरे की तरफ देखने लगे और बोले- अरे बस इतनी सी बात, ले छू ले. फिर लस्त-पस्त होकर निढाल हो गई। अजय कब चले गये मुझे नहीं मालूम पर जब नींद खुली तो मैं उठ न सकी. वह हमेशा मुझे देखकर एक स्माइल देने लगती थी जिसके कारण मेरा विश्वास और भी गहरा हो जाता था कि वह भी मुझे पसंद करती थी.

दोनों स्तनों को अच्छे से मसलने के बाद मैं अपने अंगूठे और उसके पास वाली उंगली को मुँह में डाल कर अच्छे से गीला करके अपने निप्पल्स पर रगड़ती. पूनम ने माँ से पूछा- मुझे कुछ सामान लेना है तो क्या मैं हैरी को अपने साथ ले जाऊं?तो माँ ने हाँ कर दी. मैं भी बाथरूम में गई और मैंने फालतू का सामान बाहर निकाल दिया क्योंकि उस सामान का गिरने का डर था.

… आप कृपा करके मुझे एक ग्लास पानी दे दीजिए, मुझे बहुत तेज प्यास लगी है. मैंने उसकी जीन्स के अंदर ही उसकी गांड को सहलाना शुरू किया और वह मज़े से मेरे लंड को चूस रही थी.

मैं वहीं खड़ा रहा तो वो शर्म की वजह से पेशाब भी नहीं कर पा रही थी।मैंने उससे कहा- अब मुझसे क्या शर्मा रही हो.

मैंने अपनी कच्छी ठीक करके शर्ट के बटन बंद किए और नीचे बैठ कर उनकी आँखों में देखने लगी. वीडियो में सेक्सी फिल्म हिंदी मेंसासू माँ- और रही तुम्हारे भरोसे की बात तो इस मोबाइल में कुछ वीडियो क्लिप्स हैं, जिन्हें देखने के बाद तुम्हें मेरी बात पर यकीन हो जाएगा. देहाती सेक्सी दिखाइएकुछ देर बाद 69 की सी स्थिति बन गई और संजय का लंड कोमल के मुँह में आ गया. मैं सोफे पर लेट गया मैंने अपने कपड़े उतार दिए और पूनम ने मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया.

उसका चुदना गलत नहीं है बल्कि उसके चूचों पे पड़ने वाला निशान गलत है और उसका इतना मज़ा लेना वो निशान पड़वाते हुए.

घर के बाहर जाकर मैंने उनके डोर पर लगी घंटी बजाई, तो मीरा मैडम ने गेट खोला. अब पायल ने अपने मुँह को मेरी नाभि पर लगा दिया और मेरी नाभि के उभरे हुए भाग को अपने दांतीं से पकड़ कर कसके काट लिया. जब मैंने उनका घाघरा और ऊपर किया, तो मैंने देखा उसने पेंटी नहीं पहन रखी थी.

उसका घर बहुत बड़ा था, जाते ही उसने मुझे सोफे पे बैठा दिया और मेरे बगल आकर में बैठ गयी. मैंने मामी का कमीज ऊपर से उतारा और देखा कि दो मोटे-मोटे मम्मे मेरे सामने ब्रा के अन्दर कैद थे. थोड़े दिन बाद ननकू जब गाँव आया तो उसे अपनी बीवी मीना का मिजाज़ बर्ताव बदला बदला सा लगा.

राजस्थानी चुदाई व्हिडिओ

फिर बाद में मामा सीधे मुद्दे पे आ गए कि यार तेरी मामी का प्रॉब्लम खत्म कर दे, वो मेरा दिमाग खा गयी है. मैं अभी यही सोच रही थी कि वो शायद दोबारा प्रयास करेंगे लेकिन मेरा इंतजार तो इंतजार ही रह गया. मैंने उससे बात करते हुए देखा कि ज्यादातर वो मोबाइल में ही व्यस्त रहती थी.

मैं उसकी नाभि को अपनी जीभ से चाटता रहा और धीरे धीरे उसके मम्मों पर किस करते हुए उसका टॉप उतार दिया.

मैं उसके पास गया तो वो मुझसे चिपक गयी और बोलने लगी- ये तुमने क्या कर दिया.

उसके बाद मैंने उसकी चड्डी के ऊपर से ही उसकी चूत को सहलाना जारी रखा. पहले तो उसने अपना हाथ मेरे लंड पर से वापस हटा लिया मगर कुछ पल के बाद खुद ही अपने हाथ को मेरे लंड पर ले जाकर रख दिया. मराठी भाषेत सेक्सी पिक्चरफिर वो मेरे मुँह में अपनी चुत को रख कर बोली- छेद चूसो राज … मेरा पति ऐसे नहीं चूसता … जैसे तुम करते हो.

उसने मुझसे अगले दिन पहुंचने के लिए बोल दिया।अगले दिन मैं शाम 5 बजे उनके यहाँ पहुंच गया, घर दिखने में बहुत अच्छा था। दरवाज़े पर पहुंच कर मैंने डोर बेल बजाई और कुछ देर में दरवाजा खुला. खड़े-खड़े चूचीपान करते हुए प्रशांत ने अगली तैयारी में एक झटके से नीना को लंगड़ी मारकर बेड में डाल दिया और साथ ही पैंटी भी निकाल फेंका. फिर वे लंड को चुत पर सैट करने लगीं और उसे अपनी चुत में फिट करने लगीं.

अब उसकी आँखों में चमक और होंठों पर स्माइल थी। फिर मैं उसे धीरे-धीरे चोदने लगा और फिर मैंने उसकी टाँगों को अपने कंधे पर रखकर लंड को पूरा बाहर निकाला और जोर से एक ही बार में पूरा लंड चूत में डाल दिया. तुम्हें कहना चाहिए… वाह… भरी भरी चुचियां, भरपूर चूतड़ … क्या माल है.

मैंने भी मौके की नजाकत को समझते हुए मीना के स्तनों को चूसना चालू कर दिया.

पर मम्मी जी ये भी बताइए कि कब तक पराये मर्द के भरोसे जिंदगी जिऊंगी?सासू माँ- बेटा जिंदगी तब तक ही जिया जाता है, जब तक जवानी है, उसके बाद तो जिदंगी बिताया जाता है. चाची खड़ी हो कर बोलीं- मैंने तेरे पैर को मालिश से सहलाया है, तू कुछ यहीं बैठ, सही हो जाएगा. ठंड का महीना था जैसी नाइटी, पैंटी और ब्रा उसने ली थी, इस मौसम में उसे पहनना संभव नहीं था और सुखबीर को शक भी होता.

जाटों का सेक्सी वीडियो सड़क किनारे एक पम्प, टूटे घड़े में पानी, कैंची, सोलुशन की ट्यूब और कुछ पुरानी रबड़ की ट्यूबें लेकर बैठ जाता था. इसके अलावा वह खेतों में मेहनत करते तो इनके जिस्म और कपड़ों से मस्त महक आने लगती थी.

मैंने उसके दूध ज़ोर-ज़ोर से दबाना शुरू कर दिया तो उसने कहा- आराम से करो, आज ही निचोड़ दोगे क्या?तो मैंने कहा- हाँ!फिर मैंने उसकी पैंटी के अन्दर हाथ डाल दिया और उसकी चूत में उंगली घिसने लगा. मुझे पहले तो बहुत अजीब और गंदा लगा कि कोई मेरे नीचे चुत को चाट रहा है. वह और ज़ोर से आवाज़ें निकालने लगी ‘आह्ह … ओह्ह्ह … कमॉन … आह्ह्ह … फक मी … आह्ह्ह …मैंने कुछ देर उसको इसी तरह दबाकर चोदा और फिर उससे कहा- मेरा निकलने वाला है.

ब्लू फिल्म पिक्चर दिखाओ

मिसेज पाटिल की चुत बहुत ज्यादा छोटी भी नहीं थी, लेकिन उनके बताए अनुसार इतने बड़े लंड की आदी भी नहीं थी. चाची भी देर ना करते हुए वहीं फर्श पर लेट गईं, मैं भी 69 में लेट गया और उनकी चूत के पास मुँह ले गया. मैंने उससे कहा- देख सरिता अब किस वाला खेल बहुत खेल लिया, आज हम दूसरा खेल खेलेंगे.

पर सुखबीर कहीं न कहीं से बात शुरू कर अपनी पारिवारिक जीवन की बातें करने लगता. मैंने अपनी कच्छी ठीक करके शर्ट के बटन बंद किए और नीचे बैठ कर उनकी आँखों में देखने लगी.

थोड़ी देर के बाद मैंने चुत में लंड पेलना शुरू किया, तो वो मचलने लगी, लेकिन मैंने छोड़ा नहीं और लंड अन्दर पेल दिया.

वो खुश हो गई क्योंकि वो घर से कपड़ों के लिए अपनी माँ से 500 रुपए मांग कर लाई थी और वो भी अंडरगारमेंट्स के लिए लाई थी. उसकी लम्बाई के अनुसार उसका वजन भी ऐवरेज ही था और उसकी जांघें भी ज्यादा भारी नहीं थी जबकि मुझे मोटी-मोटी जांघें ज्यादा आकर्षित करती हैं जैसी कि संजीव की थी. आशीष बोला- तो तुम मुझे अब तुम नहीं तू बोलो … और प्यार में जितना खुल के बिल्कुल जानवरों जैसा जिसे वाइल्ड सेक्स कहते हैं … वैसा करना चाहिए.

वह कहने लगी- राज! ऐसे तो बहुत मज़ा आ रहा है, तुमने यह सब कहां सीखा? प्रोफेसर साहब ने तो कभी कुछ किया ही नहीं. इंदु बीच बीच में मेरे लोड़े को पकड़ के दबा देती और मेरे आंड को भी दबा देती जिससे मुझे भी बहुत आनंद आ रहा था. कुछ ही देर में वह फिर से गर्म हो गई और हमने एक बार फिर से चुदाई कर डाली.

पर सुखबीर कहीं न कहीं से बात शुरू कर अपनी पारिवारिक जीवन की बातें करने लगता.

भोजपुरी बीएफ एचडी सेक्सी वीडियो: लंड दो इंच ही अंदर गया होगा कि उम्म्ह… अहह… हय… याह… भाभी दर्द से कराहने लगी. मैंने अजय को शुक्रिया भी कहा, क्योंकि अपने घर में अपनी बीवी के लिए किसी अनजान आदमी, भले ही उसका मित्र ही कह लो, उसको बुलाकर अपनी बीवी भी उसके हवाले कर देना, हर किसी के सामर्थ्य में नहीं होता है.

आहना सिर्फ मादक आहें भर रही थी और मुझे अपने स्तन में ऐसे दबा रही थी, जैसे मेरा चेहरा अपने स्तन में समा लेना चाहती हो. जरा सोचो क्या तुम्हारे बिना मुझे वहां अच्छा लगता है क्या?”ननकू को मीना की इस बात से विश्वास हो गया कि उसके पड़ोसी ने उसे उसकी जोरू और भानजे चिन्टू के बारे में जो कुछ भी कहा है, वो सच है. मर्दों को तो ऐसे सुडौल और गोल चूतड़ खुले ही ज्यादा आकर्षित करते हैं.

मम्मी जी एक बार फिर से मज़ाक करते हुए बोलीं- क्या बात है … तो ये बंदा तेरी चूत का इनॉगरेशन करेगा … हा हा हामम्मी जी की इस बात ने मुझे एक बार फिर लज़्ज़ित कर दिया.

कुछ देर तक लंड चूसने के बाद वह बोली- तुम कुछ नहीं करोगे क्या?उनका इतना कहने की देर थी कि मैंने उसको अपनी बांहों में उठा लिया और सोफे पर ले जाकर आराम से प्यार से लेटा दिया. बेड पर जाकर वह उल्टा होकर पेट के बल लेट गया और तकियों के बीच में अपने लिंग को लगाकर अपनी कमर को हिलाने लगा. इस पोज में मुझे काफी दर्द होने लगा तो मैंने उससे कहा कि आराम से करे.