बीएफ घोड़े का

छवि स्रोत,सेक्स ओपन वीडियो बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

चूत वाला वीडियो: बीएफ घोड़े का, बोल चलेगी मेरे साथ? मेरी रखैल बनेगी?”नहीं … मैं ये तो नहीं कर सकती.

छेड़खानी बीएफ

थोड़ी ही देर में उसने खुद ही अपनी चूत को मेरे लंड की तरफ धकेलना शुरू कर दिया. देसी बीएफ देखना हैफिर नारियल तेल की याद आई, तो साइड की टेबल से नारियल तेल लेकर मैंने अपने लंड पर और ज़ेबा की चुत की फांक के बीच अच्छी तरह लगा दिया.

मेरे लंड का यह विकराल रूप देखकर अच्छे अच्छों की हालत खराब हो जाती है, यह तो फिर भी एक सील बंद कली थी. सेक्स वीडियो बीएफ अंग्रेजीतुम एक काम और कर दो तो मैं तुम्हें पांच नहीं बल्कि छह हजार दिया करूंगा.

वो बोली- शादी तू किसी से भी कर लेकिन जब तक इस घर में है तुझे ये सब करने की आदत डालनी होगी.बीएफ घोड़े का: अगर खुल के करेंगे तो तुझे भी मजा आएगा, वरना केवल मुझे ही मजा आएगा।तो उसने मेरी ओर करवट बदल ली.

जब मैं अपने फोन से सेल्फी लेता था, उस दौरान आलिया मेरे बहुत नजदीक आ जाती थी.फिर धीरे धीरे मैंने उसके टीशर्ट को ऊपर किया और उसकी चूची को ब्रा में से निकाल कर चूसने लगा और वह शस्सश शहहह करने लगी.

सेक्सी बीएफ चलने वाला वीडियो - बीएफ घोड़े का

मैं अपने एक हाथ से कभी अपने कड़क उरोजों को आटे जैसा गूंथती, तो कभी चुदाई कराती चूत के दाने को सहलाती.मैं- तो तू ही ले ना मेरी कुतिया, तेरे लिए ही तो है मेरा काला लंड … अब से ये तेरा ही है … ले ले पूरा ले … ऊओहूऊऊ बड़ा अच्छा लग रहा है.

फिर छुट्टियों में किसी रिश्तेदार के जन्मदिन पार्टी थी एक बड़े होटल में … तो वहां मुझे भी बुलाया गया था. बीएफ घोड़े का भाभी मुझे ऐसे नाम से पुकार रही थी जैसे मैं ही उनका पति हूं, मैं ही उनका बॉयफ्रेंड हूं.

हमारे पड़ोस के अंकल भी हमारे घर बार-बार किसी न किसी बहाने से आ जाते हैं.

बीएफ घोड़े का?

कोई 10-12 मर्तबा अप-डाउन करने के बाद मैंने जेबा की कमसिन जवानी क़िले के फाटक को तोड़ कर घुसने की कोशिश की, लेकिन असफल रहा. बॉस ने मुझे बैठने को बोला और फिर बताया- परसों तुम्हें एक एड शूट करने एक हफ्ते के लिए लुधियाना जाना है. परमीत ने इठलाते हुए कहा- तेरी चूत का तो पता नहीं, पर मेरी चूत में तो चला जाता है.

मैंने कहा- घबराओ नहीं बेटी, तुम मेरी तरफ पीठ करके बैठ जाओ, मैं मग से पानी डालता हूँ, तुम आराम से नहा लो!वो मजबूर थी और करती भी क्या?मीना बैठ गई और मैंने मग से पानी डाल डालकर उसे नहला दिया और वो अपने नंगे जिस्म को हाथों से मल मल कर साबुन उतार कर नहाने लगी. इसके बाद संदीप ने फिर से बहुत सारी क्रीम मेरी गांड के छेद में लगानी शुरू कर दी. मैंने उसको कल ऑफिस जाने से मना कर दिया और बोला कि आप मेरे घर पर आ जाना.

उसने एक लकड़ी का फट्टा निकाला और हमारी स्कूटी को ऑटो पर चढ़ा कर पीछे खड़ा करके बाँध दिया. वहीं फॉर्म हाउस पर मालिश कराना, लौंडिया चोदने का सिलसिला चलता रहता था. एक तो साली तेरा ये खिलौना देख कर पेंटी गीली हो गई, ऊपर से तू पहेलियां बुझाने में लगी है.

एकदम से लंड घुसने से निधि चीख उठी- आह माँ के लौड़े … मार ही दिया हरामी … आअह आहह चोद दे मादरचोद … चोद ना मेरे को … आह!मैं भी हचक कर चोदने लगा- रंडी निधि चुद साली. बस उसी दिन भैया रोज रात को दीदी को पूरी मस्ती से रौंदते हैं … लंड पेलते हैं.

जहां तक मेरी पढ़ाई की बात है तो मैंने कंप्यूटर साइंस में डिग्री की हुई है.

रेशमा भी पूरी गर्म थी और इसलिए अब वो लंड चूसने में भी हिचक नहीं रही थी.

फिर एक दिन मैंने प्रीत से पूछा- तुम्हारे फार्महाउस पर कौन रहता है? उधर फैमिली वाले जाते है क्या?प्रीत- हां जाते हैं, लेकिन अभी तो सब पंजाब गए है. मैंने मनु को दस बजे कॉलेज के बाहर मिलने को कहा था, पर कमीनी अभी तक नहीं आई थी. फिर मैंने भाभी से पूछा- आप कैसी हैं? आप क्या करती हैं? आप कहां से हैं? मैं आपकी क्या हेल्प कर सकता हूँ?वहां से जवाब आया- मैं भी अच्छी हूँ.

तभी मैंने एक जोर का झटका मार दिया, जिससे मेरा आधा लंड दीदी की गांड में घुस गया. सच कहूं, तो दीदी से भी ज्यादा कामुक और आकर्षक, उठे हुए उरोज, सपाट पेट, भारी नितम्ब खूबसूरत गर्दन, लचकती कमर इन सबको आज तक सिर्फ देखा था और छुआ भी था, तो कपड़ों की आड़ में. लेकिन ज्यादा देर तक खुद को रोक नहीं पाया और उनको अपनी बांहों में भर कर हग करने लगे.

फिर वो मूत कर आई और पैंटी डालते हुए बोली- घर कितने बजे जाना है?उसने अभी निक्कर नहीं डाली थी.

वैसे तो हमें बहुत बुरा लगा, पर सर पर तो संदीप की धुन सवार थी, इसीलिए हम दोनों सामने ही एक तीसरी दुकान पर उपहार छांटने पहुंच गए. वो अपनी कार से आई थीं, तो उन्होंने मुझे कार में बिठाया और हम दोनों एक होटल में चले गए. सारा दिन मैसेज करके पूछता रहता- कुछ लाना है? कोई समस्या?मेरा अकेले के लिए खाना बनाने का मूड नहीं हुआ.

अब स्थिति ये थी कि मैं वसुंधरा की कुर्सी के ज़रा सा दायें पहलू खड़ा था. आज स्वीटी आंटी गुजराती एक्ट्रेस पूजा जोशी से तेजस्विनी प्रकाश जैसी दिखने लगी थीं. मैं जल्दी से दीदी के कमरे में गया और उस किताब को निकाला, जिसमें दीदी ने उस लैटर को छिपाया थी.

उसके बाद में जब भी मौका मिल जाता था, हम दोनों खूब सेक्स का मजा ले लेते, पर अब भईया का ट्रांसफर दूसरे शहर में हो गया है.

आप लोगों को मैंने पहले भी बताया था कि हमारे घर की हालत ज्यादा ठीक नहीं है इसलिए मेरी मां थोड़ी लालची है और मेरे पिता जी भी काम के लिए अक्सर बाहर ही रहते हैं. उसने ममता की चूत को ऐसा चूसा कि ममता तो कसमसा गयी और उसने अपना पानी छोड़ दिया.

बीएफ घोड़े का अगले दिन दोपहर का समय था … मम्मी अपने कमरे में सोई थीं, मैं दीदी के साथ उनके कमरे में पढ़ाई कर रहा था. इस ब्रा में से मेरी चूचियों का आकार ब्लाउज के ऊपर से और भी उठा हुआ लग रहा था.

बीएफ घोड़े का मैं- क्यों?आलिया- समझो यार … अगर हमारे पेरेन्टस को पता चल गया, तो ठीक नहीं होगा … फिर मैं तुमसे पांच साल बड़ी भी हूँ. 5 मिनट करने के बाद मेरा पानी निकलने वाला था तो मैंने नाज़िमा जी अपनी गांड पर से हटाया और बिस्तर पर पटक कर उनकी चूत पर पानी छोड़ दिया।मैंने घड़ी देखी तो 4 बज चुके थे.

वो एक बार तो थोड़ा उचक गई मगर मैंने ज्यादा अंदर तक उंगली को नहीं घुसाया.

चुत लैंड की कहानी

दो मिनट तक लंड चूसने के बाद वो पलंग पर लेट गईं और अपनी चूत चाटने को कहा. फिर वो खुद ही अपनी चूत को मेरे लंड पर रख कर उसको मेरे लंड की तरफ धकेलने लगी. अब की बार उसने मुझे दीवार के सहारे खड़ा कर दिया और पीछे से मेरी चूत में लंड डाल दिया.

मैं- ये आपका बेटा उनकी औलाद है?भाभी- हां … इसके आने तक उनके पास मेरे लिए वक्त था, पर अब नहीं है. जब-जब सड़क पर सुनसान सी जगह आती थी तो मैं उसकी चूचियों को दबा देता था. अंशी बोली- तुम बहुत बड़ी कमीने हो, पहली ही बार में अपना पानी ऊपर डाल दिया.

वो बोली- और जो तुम मुझे तड़पा रहे थे उसका क्या?मैंने कहा- तो तुम्हें मजा नहीं आया क्या मेरे ऐसा करने से?उसने कहा- मजा आया था तभी तो तुम्हें मजा दे रही थी.

भाभी की गर्म चूत पर जब मेरी जीभ लग रही तो भाभी के मुंह से सिसकारी निकल जाती थी. ऐसा लग रहा था जैसे वो मेरे लंड को खा जाएगी।उधर मैं सोच रहा था कि छाया बेड के नीचे है. इधर बिस्तर पर चाची को लिटा आकर मैंने लंड पर कंडोम चढ़ा कर चुदाई की पोजीशन बनाई और उनकी चुत के दाने पर लंड रगड़ना चालू कर दिया.

गांड मरवाने में भी उस ने काफ़ी प्रोटेस्ट किया … लेकिन मैं उसकी गांड के दरवाजे से भी अन्दर दाखिल होने में कामयाब हो गया. फिर अचानक से ही उसने मेरे लंड के सुपारे पर अपने होंठों से चूम लिया. ‘मैंने जब से आपका लैटर पढ़ा है, तब से अभी तक मैं बहुत परेशान हूं … मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा कि मैं आपके सवाल का क्या जवाब दूँ … हां बोलूं या ना … श्वेता मेरी बचपन की सहेली है … वो मुझे अच्छी तरह समझती और जानती हैं … मेरे हां बोलने से भी परेशानी है.

वह मेरे बालों को मेरी कमर से हटाकर गर्दन के पास मेरी कमर पर किस करने लगा. मैं दोनों सीटों के बीच बने एक छोटे से बक्से पर बैठ गयी, और गियर हैंडल मेरी दोनों जांघों के बीच में आ गया, जिस कारण मैंने अपनी एक टाँग उठा कर दूसरी टाँग पर रख ली और मेरा ड्राइवर साइड का चूतड़ भी उँचा उठ गया जिसे देखकर ड्राइवर का मन भी ललचा गया, जिसे मैंने उसकी ललचाई नज़र देखकर भाम्प लिया था.

दस मिनट तक चाची ने मेरी चूत को सहलाया और अपनी उंगलियों से मेरी चूत को चोद दिया. ब्रा पैंटी में कसी हुई उनकी चूची और गांड को देख कर मेरा लंड एकदम लोहे की रॉड की तरह सख्त हो गया था. मेरी निगोड़ी कमर बेशर्मी से खुद ब खुद ऊपर उठ उठ कर चूत उनके मुँह में देने लगी.

अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज पर उच्च कोटि के हिन्दी कहानी लेखक से तो मेरी तुलना हो ही नहीं सकती है.

उनमें से कुछ तो वक्त के दरिया में पीछे छूट जाते हैं, मगर कुछ अंत तक साथ तैरते चले जाते हैं, फिर चाहे अंजाम डूबना ही क्यों न हो. अब मुझे फिर से सेक्स लाईफ में कुछ नया चाहिए था … अर्थात अब मैं फिर से अपनी पतिव्रता बीवी की चुदाई किसी गैर मर्द से और मैं किसी गैर औरत के संग वास्तव में चुदाई का सपना देखने लगा. उसकी बुर पर छोटी सी क्लिटोरिस नन्हें कबूतर की चोंच की तरह बाहर निकल आई.

मैंने उसे अपने सीने से लगा कर पूछा- क्या तुम भी वैसा करना चाहोगी?मेरे पकड़ते ही उसके माथे पर पसीने की बूंदें छलक आयी थीं. उसने मेरी बातें सुन लीं और उसको मेरे सारे प्लान के बारे में पता लग गया.

एक बार अपने दोस्त की बात याद करके मैंने सोचा कि क्या पता मेरे दोस्त की ये बात सच हो कि ऋतु दीदी का किसी से घर में ही कोई चक्कर हो … या उसका कोई ब्वॉयफ्रेंड हो. फिर मैं अपने आप को अड्जस्ट करने के बहाने से थोड़ी सी उठी और फिर वहीं बैठते हुए उसके लंड पर हाथ रख दिया और जल्दी से उठा लिया ताकि सासू माँ को कोई शक ना हो, वो मेरी फुदी और गांड को तो रगड़ ही रहा था. दुकान का नाम था- दहिया न्यूट्रीशन्स!शीशे के मेन डोर पर ही जॉन अब्राहिम की मस्क्यूलर बॉडी वाली हॉट शर्टलेस फोटो लगी हुई थी.

गंदी मूवी

मैंने उसकी आँखों में देखा, तो वो फिर से मेरे हाथ से अपनी चूची सटाते हुए मुस्कुराने लगी.

मैं जैसे ही फिर से भाभी की चूत को सहलाने लगा, तो स्नेहा भाभी की चुदासी सिसकारियां और तेजी से निकलने लगी ‘आआहह … उम्म्ह… अहह… हय… याह… अब मत सताओ. मुझे बहुत तेज दर्द हुआ, मैं जोर से चिल्लाई- उईईई ईईई!तो वो बोले- रुक साली … अभी तो गया ही नहीं, चिल्ला क्यों रही है?तभी बॉस उनको बोले- अरे ऐसे नहीं … गांड के छेद में कुछ क्रीम लगा ले नहीं … तो ये साली मर जाएगी. जब मैंने अपनी पहली कहानीअनजान लड़के से चुत चुदवा लीलिखी थी तो मुझे बहुत सारे ईमेल आए थे.

मैंने बिना पल भर की देर किये उसकी जांघिया को खींच कर उसकी जांघों से निकाल दिया. मैंने उनकी चुत में अपना लंड डाल कर पलंग के किनारे झुका दिया और उनके ऊपर कुत्ते की पोजीशन ने चढ़ कर उनको चोदने लगा. बीएफ सेक्स ब्लू पिक्चर वीडियो मेंमैंने कहा- हां डार्लिंग … बस पीछे से तेरी चुत में लंड पेल कर चुदाई करूंगा.

पैंटी के अंदर हाथ डाला तो उंगलियां उसकी चूत के रस से चिपचिपी हो गयीं जिसे मैंने मुंह में डालकर उसकी चूत के पानी का स्वाद चखा।नमकीन सा स्वाद था उसकी चूत के पानी का जो मुझे काफी पसंद आ रहा था. संदीप ने मेरी कमर के दोनों ओर पैर डाल लिए और मेरे उरोजों को मुँह में भर कर चुदाई की पोजीशन बना ली.

उसने पूछा- एक बात बताओ? मेरी प्रोफाइल पिक कैसी है?मैं बोला- मस्त है. ‘आआह्ह …’ पिंकी आनन्द के अतिरेक में कराह उठी और मेरे सर को पकड़ कर अपनी चुत पर दबा दिया. मेरे कंठ से एक मीठी सी आह निकली उम्म्ह… अहह… हय… याह… और विक्की ने मुझे चोदना चालू कर दिया.

दिन भर दो-तीन राउंड लगाने के बाद दोनों ही थक कर नंगे ही सो गए और उनकी आँख शाम को बेटे की वैन की डोरबेल बजाने से खुली. मैं जैसे ही उनके कमरे मैं गया … तो कमरे में इतनी अच्छी खुशबू आ रही थी कि मैं बयान नहीं कर सकता. श्योर मैं हेल्प कर दूंगा।”इसे आपके ऑफिस में भेजूं या आप यहीं इसे गाइड कर देंगे?” संजया ने पूछा.

आप की तमाम पुलिस वालों से दोस्ती है, किसी से कहकर इसको टाइट करा दीजिये.

मुझे जरा भी अंदाजा नहीं था कि वो मेरा इस कदर फायदा उठाएगा। मैं पूरी तरह टूट चुकी थी।बहनचोद …” चैट्स पढ़ कर विशाल गुस्से में चिल्लाया. बाहर गाड़ी खड़ी थी। भाई काउंटर के पास मेरा इन्तजार कर रहा था। हमने चेक आउट किया। फिर से गाड़ी में हम नाना के घर के लिए निकल गए।गाड़ी में सब शांत था.

रोहित- ओहो, तो आप भी काफी मदद कर सकते हो, सिलेबस काफी मैच होता है अपना. अगले दिन शिल्पा आंटी घर आईं, तो मम्मी ने उन्हें अंकल के बारे में बता दिया. हम दोनों एक दूसरे की बांहों में हाथ बाहें डाल कर बाहर थोड़ा घूमे, इधर उधर देखा, मगर वहां कोई नहीं था.

बिक्कू मेरे टॉप के ऊपर से ही मेरे बूब्स को दबाता हुआ कहने लगा- आह्ह बंध्या, तू बहुत गर्म माल है. बाद में मैं मामी जी के पास से उठ कर बाहर पड़े दीवान पर लेट कर सो गया. अगर दर्द होगा तो हम फिर कभी करेंगे।वो ना नुकुर करने लगी अंत में मान ही गयी।अब मैं उठा और अपने लण्ड को एक हाथ से पकड़ कर उसके मुँह के पास चला गया और उसे चूसने को कहा.

बीएफ घोड़े का वो भी मेरे धक्कों से अपने धक्के मिला कर नीचे से ही मेरी फुदी चोदने लगा. जीभ लगने का इंतजार जैसे सायरा कर रही हो, तुरन्त ही उसने मुड़कर मुझे देखा और फिर मुस्कुराते हुए अपने काम में लग गयी। मेरी जीभ को उसकी चूत का लसलसा कसैला और नमकीन सा स्वाद लगा।हम दोनों के यौनांग पानी छोड़ने लगे थे। सायरा मेरे सुपारे को चटखारे ले लेकर चाट रही थी और अंडों से खेल रही थी.

नंगी फिल्म देखना

इसके बाद भाभी ने मेरी आंखों पर काजल लगा दिया और होंठों पर लिप लाइनर लगा दिया. मैंने उसके पेट को चूमते हुए उसकी नाभि पर जीभ से वार किया तो वो सिहर गई. रात तो मैंने रवि को कॉल लगाया और कहा- मेरी गांड की खुजली का कुछ इलाज करो।रवि बोले- ठीक है, मैं कुछ इंतज़ाम करता हूँ।करीब एक सप्ताह बाद मेरे नाम से एक पार्सल आया.

मैं रोज अपनी प्यासी चूत को शांत करने के लिए इसमें टॉर्च डाला करती थी. जीभ लगने का इंतजार जैसे सायरा कर रही हो, तुरन्त ही उसने मुड़कर मुझे देखा और फिर मुस्कुराते हुए अपने काम में लग गयी। मेरी जीभ को उसकी चूत का लसलसा कसैला और नमकीन सा स्वाद लगा।हम दोनों के यौनांग पानी छोड़ने लगे थे। सायरा मेरे सुपारे को चटखारे ले लेकर चाट रही थी और अंडों से खेल रही थी. सेक्सी बीएफ वीडियो बढ़िया वालायह मेरा आजतक का सर्वश्रेष्ठ मुखमैथुन का अवसर था जिसकी लज्जत को मेरा रोम रोम महसूस कर रहा था.

मैं- भाभी आपको पहली बार में जितना दर्द चूत में हुआ था, बस उतना ही होगा.

मैं- आह … बिल्कुल मेरे पति जैसे कर रहा है, चोद साले चोद!रोहित- ले साली भाभी, ले चुद चुद. लंड बाहर निकलते ही उसने अपने दोनों हाथ पीछे की तरफ ज़मीन पर रखे और जोर जोर से सांस लेने लगीं.

मैं थोड़ा अन्दर को होकर लंड खोल कर बैठ गया और उससे मैंने लंड पर बैठने को कहा. उसकी चूत पर छोटे छोटे बाल थे जैसे 4-5 दिन पहले शेव की हो या क्रीम से साफ़ किये हों. मेरी दीदी से साकेत भैया का चक्कर फिट हो चुका था और दीदी का पहला बुर चोदन हो चुका था, मेरी दीदी की चुत की सील खुल चुकी थी.

भाभी के मुंह में लंड को देकर इतना मजा आ रहा था कि मैं दो-तीन मिनट की लंड चुसाई के बाद ही अपना संयम खो बैठा और मैंने भाभी के मुंह में ही वीर्य निकाल दिया.

मैंने मनीषा को लिटा दिया और उसका गाउन कमर तक उठाकर उसकी बुर अपनी मुठ्ठी में दबोच ली. जैसे ही मैंने वॉशिंग-मशीन का हुड उठाया, मेरे चेहरे पर एक मुस्कान आ गयी. ” सायरा बोली।मेरा निकलने वाला था, सायरा को उसी पोजिशन में लेकर कमरे में आया और पलंग पर लिटाते हुए उसको चोदने लगा।आठ-दस धक्कों के बाद मेरा निकलने लगा तो मैंने लंड को बाहर निकाला और उसकी चूत के ऊपर ही सायरा माल गिरा दिया और उसके बगल में पसर गया।सायरा ने अपनी उंगलियों के बीच मेरे वीर्य को कैद किया और मलने लगी.

बीपी सेक्स बीएफनमस्कार दोस्तो, मैं बैड मैन!आप सभी ने मेरी पिछली कहानियों की सराहना की, धन्यवाद. वैसे तो हमें बहुत बुरा लगा, पर सर पर तो संदीप की धुन सवार थी, इसीलिए हम दोनों सामने ही एक तीसरी दुकान पर उपहार छांटने पहुंच गए.

ससुर ने बहु को घोड़ी बनाकर चोदा

दीदी के चुम्बन से मेरा लंड एंटीना की तरह खड़ा हो गया और मैं भी दीदी का साथ देने लगा. बार-बार मेरा अंगूठा उसकी चूत पर फंसे जांघिया को उठा कर अंदर तक एक राउंड लगा कर आ रहा था. कभी लंड चूसने को कहता तो अगर संजय की मां नीचे होती तो मैं उसक लंड चूसती!अब मैं खुद को रोक नहीं पा रही थी, अब तो मुझे संजय का ही ख्याल था हर समय.

अब तक तो मैं सिर्फ यही सोचती थी कि तू आशीष के साथ ही मुंह काला करती रही होगी. क्या मस्त चूचे थे उसके … एकदम गोलमटोल सफेद!मैं जोर जोर से उसके चूचों को चूसने लगा. उषा ने प्रीति को कहा था कि एक बार संजय से चुदवा ले! चूत चुदवाने में कितना मजा आता है ये तू नहीं जानती.

फिर मैं अपने रूम में आई और अपने कपड़े उतार कर मैंने वही गोवा वाली नाइटी पहन ली. छोटी सी थोड़ा उभरी हुई मक्खन जैसी चुत देख कर मैं बेक़ाबू हो गया और मैंने जल्दी से अपने सारे कपड़े उतार दिए. तुम ये रात वाली सारी बातें भूल जाओ, मैं किसी को कुछ नहीं बताऊँगी और अच्छे से नाश्ता करो, हम दोनों आज घूमने जाएंगे.

उस रात मैंने मनीषा को दो बार चोदा और वहां से वापस लौटने से पहले दसियों बार. मैंने यंत्रचालित तरीके से हाथ बढ़ा कर कागज़ ले लिए और गर्म कॉफ़ी के सिप लेते हुए उन का अवलोकन करने लगा.

मैंने उससे कहा- अगर दबाने से बड़े हो जाते हैं, तो तुम खुद ही अपने हाथों से क्यों नहीं कर लेती हो?मेरी इस बात से वो चुप तो हो गई, मगर उसकी आंखों में मेरे लिए निवेदन ही था.

मैंने उससे लंड को चूसने के लिए इशारा किया, तो उसने सर हिलाते हुए मना कर दिया. चोदने वाला बीएफ फिल्मजब मैं वापस आया तो रीना बाहर आ चुकी थी और मेरे लैपटॉप में देख रही थी. सेक्सी वीडियो बीएफ भाई बहनमेरी बातों पर दीदी ने मुस्कुरा कर कहा कि परमीत को मैंने अपना पुराना डिल्डो दिया है, उसे मैंने शुरूआत में लिया था. मैंने पूछा- लेकिन आप तो कह रही थीं कि चाचा अब आपको नहीं चोदते हैं?वो बोलीं- मैंने गलत कह दिया था.

कभी मैं उनके होंठों को अपने दांतों से पकड़ कर खींचती, तो कभी चूसती और यही सब जेठजी भी मेरे होंठों के साथ कर रहे थे.

आगे मैं आपको बताऊंगा कैसे प्रिया भाभी ने मुझसे उसकी बेस्ट फ्रेन्ड को चुदवा दिया. हम दोनों को 50 हजार रुपये दिए और बोला- तुम दोनों की फ़ोटो उनको काफी अच्छी लगी. मैंने उसको बांहों में कस लिया और उसके होंठों के रस को निचोड़ने लगी.

मैंने बहुत आहिस्ता से वसुंधरा के जिस्म को गोद में संभाल कर उठाया और आराम से बिस्तर पर लिटा कर रजाई ओढ़ा दी. मैं एक मिडल क्लास परिवार से सम्बन्ध रखता हूँ, परिवार के साथ ही रहता हूं और मेरा लंड किसी को भी संतुष्ट कर सकता है।आपने मेरी कहानियां पढ़ीकस्टमर की बीवी की चुदाईऔरकस्टमर की बीवी की बहन की चुदाईअच्छा रिस्पॉन्स मिला आप लोगों का!आज काफी दिन बाद फिर से मैं आप लोगों को एक सच्ची घटना बताने जा रहा हूँआपको ज्यादा बोर न करते हुए सीधे कहानी मैं आता हूँ. ममता झाड़ू जमीन पर रखते हुए बोली- आइये साहब, पहले आप ही का काम कर दें.

साड़ी वाली भाभी का वीडियो

मुझे किसी भी चीज की जरूरत होती है तो मेरे घर वाले मुझे लाकर देते हैं. बस में उसे चोदे जा रहा था और प्रीति मेरा पूरा साथ देकर चुदवा रही थी. कामिनी अपनी गांड उछाल उछाल कर अपनी चुत को मेरे मुँह पर रगड़ रही थी और चिल्ला रही थी- आंह उंह … आह.

अंकल ने सबसे पहले दीदी की गांड पर अपने लंड को रगड़ा, तो मैंने देखा कि दीदी की गांड पर उसके लंड का थोड़ा सा रस लग गया.

फिर क्या हुआ, शायद उसको भी जोर से प्रैशर लगा था, तो वो ‘बड़े ज़िद्दी हो … मानोगे नहीं.

वैसे तो हमें बहुत बुरा लगा, पर सर पर तो संदीप की धुन सवार थी, इसीलिए हम दोनों सामने ही एक तीसरी दुकान पर उपहार छांटने पहुंच गए. कभी सुबह आठ बजे आती तो कभी रात को आठ बजे आ जाती कि दादू ये बता दीजिये, दादू वो बता दीजिये. बीएफ का एप्सपापा आते हैं, मम्मी की सलवार और पैन्टी उतारते हैं, अपना पैजामा उतारते हैं, हिला हिलाकर अपना लण्ड खड़ा करते हैं और उस पर निरोध चढ़ा देते हैं और मम्मी की चूत पर हाथ फेरने लगते हैं, कभी कभी ऊंगली भी करते हैं फिर टांगों के बीच आ जाते हैं और फिर से लण्ड पकडकर हिलाने लगते हैं और मम्मी की चूत में डाल देते हैं, मम्मी चुपचाप लेटी रहती हैं, पापा उचकने लगने लगते हैं.

मेरी छवि दबंग और मददगार व्यक्ति की है और सेवक राम एक बार मेरी मदद से एक बड़ी समस्या से बच चुका है. अपने रूम में आकर मैं सोचने लगी कि इतनी देर में चाची की चूत को क्या मजा आया होगा!मगर चाचा-चाची की चुदाई देख कर मैंने अपने मोबाइल में पोर्न साइट खोल ली. मैंने कहा- पर दीदी घर भी तो जाना है, हम किसी और दिन आते हैं … तब आपसे खूब बातें करेंगे.

मैं उनके स्तनों में इतना खो गया था कि मुझे पता ही नहीं चला कि आंटी मेरी तरफ देख रही थीं. मीना नहाकर आई, उसने गुलाबी रंग का झीना सा गाउन पहना था जिसमें से उसके निप्पल्स झलक रहे थे.

वो अपनी जेब से फोन निकाल कर फिर से मेरे भाई का नम्बर मिलाने लगा तो मैंने उसका फोन छीन लिया और उसी की जेब में डाल दिया.

फिर वो मजाक के लिए माफी मांगने लगा, तो मैंने कहा- छोड़ो सारी बात और ये बताओ कि तुमने मुझे क्यों रोका है?तो संदीप ने एक गहरी सांस ली और कहा- मुझे पता है तुम्हारा बर्थडे अगले महीने की दस तारीख को आएगा, पर मेरा बर्थडे तो कल ही है. तुम एक काम और कर दो तो मैं तुम्हें पांच नहीं बल्कि छह हजार दिया करूंगा. देखने में मैं आम हिन्दुस्तानी जैसा ही दिखता हूँ लेकिन किसी साउथ इंडियन हीरो से कम नहीं हूँ.

बीएफ हिंदी ब्लू फिल्म बीएफ उसके लंड पर हाथ फेरते ही मैंने उसको सोफे पर ही लेटा लिया और उसको किस करने लगा. ”इतना कहते हुए उन्होंने मेरे निप्पल को मुँह में भर लिया और चूसने लगे.

मैंने उसको मैसेज करके रात का खाना लाने को कहा, तो ठीक रात आठ बजे वो आया खाना लेकर. अब तक की मेरी इस रोमांटिक सेक्स स्टोरी में पढ़ा कि गीत और मनु संदीप के जन्मदिन पर उसके घर पहुंची और वहां कोई उनका बेसब्री से इंतजार कर रहा था. मुझसे भी कैसी शर्म? अगर मालिश करवानी है तो कपड़ा तो उतारना ही पड़ेगा.

भाभिकिचुत

उस दिन मेरी बहन मनोरमा (बदला हुआ नाम) का पति कमल भी घर में रुका हुआ था. वो जब भी अकेले में मिलती थी, तो कभी मेरी चूची मसल देती थी, तो कभी चुत को सहला देती थी. यहां एक भूल हो गई, मैंने उसके दूध में नींद की गोली नहीं डाल सकी थी.

ऐसे ही 20-25 मिनट मेरी चूत को चोदने के बाद सर ने कहा- रजनी अब तू कुतिया बन जा!मैं झट से कुतिया बन गई. उसकी चूत पर छोटे छोटे बाल थे जैसे 4-5 दिन पहले शेव की हो या क्रीम से साफ़ किये हों.

हम दोनों बहुत मज़े ले लेकर चुदाई कर रहे थे, तभी पता नहीं किया हुआ कि दोनों एक साथ झड़ गए.

जरा धीरे से चुत फाड़ना … कहीं ऐसा न हो कि ये डोली की चुत का पहली बार में ही भोसड़ा बना दे. पर स्नेहा का मुँह अभी भी दरवाजे की तरफ ओर था और उनकी पीठ मेरी तरफ थी. मैं उसके कूल्हों के साथ खेलते हुए उसकी गांड में उंगली फिरा रहा था।साथ ही जब मैं चूत की फांकों पर दांत रगड़ने लगता तो सी-सी करती हुई सायरा चूत को बचाने का प्रयास करती.

इससे वो एकदम गर्म हो गई और मुझे खुद से चूचे पिलाने की कोशिश करने लगी. जब मैंने उसकी शर्ट उतारनी चाही तो उसने मुझे रोक दिया- आज के लिए बस इतना!मैंने भी जिद नहीं की यह सोच कर ‘सहज पके सो मीठा होये!हम दोनों ऑफिस बंद करके अपने अपने घर चले गए. यहां आधुनिकता से अलग, किन्तु एक मोहक अंदाज में जन्मदिन मनाया जा रहा था.

दोनों के मन में एक ही बात चल रही थी ‘बहनचोद, 4000 रुपये महीना का प्रोटीन खाएगा तो घर वाले गांड पर लात मार कर बाहर निकाल देंगे.

बीएफ घोड़े का: कुलदीप के ऑफिस में ही रेखा को नौकरी मिल गई थी जिसके सहारे उसने दोनों बच्चों को पाला था. सेक्स का कोटा तो दिन में पूरा हो चुका था, फिर भी राजन ने कोशिश की कि बेटा जल्दी सो जाए, पर उसे तो पूरे हफ्ते की बात पापा से करनी थी तो वो उनके बीच ही सोया.

उसके बाद अभय ने पीछे से हाथ डाल कर मेरे दूधों को अपने हाथों में भर लिया. संदीप ने कहा- जी … मैं समझा नहीं!तो परमीत ने और जोर से कहा- समझ जाओगे बच्चू!इस पर संदीप ने कोई जवाब नहीं दिया और वो भी शरमा कर मुस्कुराने लगा. जैसे ही उसने अपना लण्ड मेरी चूत पर रखा किसी ने डोरबेल बजा दी, राकेश ने पूछा- कौन?तो पता लगा राकेश की बुआ हैं.

इस पर मनु ने मस्ती से कह दिया- अभी पटा नहीं है … इसलिए बॉयफ्रेंड नहीं कह सकते.

ऐसे करते करते वो रुके और बोले- तैयार हो?हां।”तो लो।”ऐसा कह के एक जोरदार धक्का लगाया. प्रीति:उस दिन के बाद से मेरे कॉलेज की हर लड़की मेरे भाई के बारे में ही पूछती रहती थी. मैंने उसका हाथ पकड़ा और बोला- मेरे लंड को प्यार नहीं करोगी?मेरा लंड चूसने का इशारा समझ कर वो बोली- नो … मैंने कभी मुँह में नहीं लिया और ना ही लूँगी … इसकी जगह मेरी चूत में है, वही अच्छा है.