बीएफ हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ बीएफ बीएफ

छवि स्रोत,रोशनी की सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

सेकसि बिपि विडियो: बीएफ हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ बीएफ बीएफ, उस समय हम दोनों ही एक दूसरे को इस तरह से समेटे हुए थे, जैसे दो प्रेमी जन्मों बाद मिल रहे हों.

गर्ल सेक्स हॉट वीडियो

सुबह से इतनी बार चुदाई की थी कि चाची की चूत का छेद गुफा जैसा हो गया था. महाराजा दरवाजा फोटोमैंने उंगलियों से कमसिन चूत को ढीला किया और उसके चुचे अपने मुँह में लेकर चूसता रहा.

इस प्रकार से भाभी की मेरे प्रति चिंता करना और मेरे बारे में सभी जानकारी रखना, साथ ही साथ मुझे बार-बार कॉल करना और घर जल्दी आने की कहना मेरे ऊपर एक अलग सा प्रभाव छोड़ने लगा था. मेरी गर्लफ्रेंड कितनी हैमैंने कहा- जी कुछ कहा आपने?मेम- ठीक है, तुम एम्बुलेंस रेडी करो, मैं सुरभि से बोल कर सामान रखवाती हूँ.

बाकी बदन पर कहीं कहीं दांत से काटने के निशान थे और कहीं कहीं खरोंचों के निशान भी थे.बीएफ हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ बीएफ बीएफ: दो दो तीन तीन दिन मैं वहां रुकता और खूब चोदता आंटी को!और जब वे दिल्ली आतीं थी तो मौज होती थी।दिल्ली जब जब आतीं, अपनी चूत सूजा के जाती।आज भी मैं आंटी को चोद देता हूं.

मेरी चूत के गर्म लावा से मेरा भाई भी पिघलने को हो गया और उसने भी लंड चूत से खींच कर मेरे मम्मों पर अपना सारा माल निकाल दिया.मैं डर भी रही थी कि कहीं मेरे पति को मेरी फटी चूत का पता ना लग जाए.

इंडियन बस सेक्स - बीएफ हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ बीएफ बीएफ

मुझे एक नशा सा छा गया था, जिसमें मैं बस उसकी चूत को चाटता ही जा रहा था.मेरी चूत चुदनी ही थी, इसलिए मैं अपनी सील पहले ही अपने जीजू से तुड़वा चुकी थी.

चाची- उसके पापा ने उसके आने की खुशी में अपने घर पर एक छोटा सा फंक्शन भी रखा है. बीएफ हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ बीएफ बीएफ इस बीच शर्मा आंटी और उनका भाई राजेश मुझे और मम्मी को धर्मशाला के पास ही बने अपने घर को दिखाने ले गई थीं.

मैं अपनी कहानी पर आने से पहले ही कह दूँ कि कोई भी पाठक मुझसे किसी भाबी का नंबर या आइडी ना मांगे.

बीएफ हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ बीएफ बीएफ?

गगन मेरे पास आया और बोला- मैडम, तुम तो यार मस्त माल हो, हमारे लंड तो हमेशा ही तुम्हारे जैसे मस्त माल के लिए तैयार रहते हैं. फिर मैंने छिपी नजरों से पीछे देखा तो वो अपने हाथ से मेरी गांड को छूने की कोशिश कर रहा था. अब आगे लेस्बियन मॉम डॉटर स्टोरी:कुछ देर बाद विक्रम ने दूसरा निप्पल भी मुँह में भर लिया और उसे चूसने लगा.

वहां आयशा भाभी की साइज़ का सूट नहीं मिल रहा था जिस वजह से भाभी ब्रा और पैंटी में ही अन्दर आने को राजी हो गई. जल्दी से अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया और झटके देते हुए सारा गर्म पानी मेरे मुँह में निकाल दिया. तो दीदी ने साउथ की हीरोइन की तरह अपनी मैक्सी जांघों तक उठा कर अपनी टांगें दिखाईं और मुझे गर्म करने लगीं.

फिर मैंने उसकी पैंट खुलवायी और सोचा कि आज उसकी गांड मार लूं, पर पता नहीं क्या हुआ … मैं रूक गया. पांच मिनट बाद उसने अपनी कमर हिलाई तो मैंने भी धीरे धीरे धक्के लगाने शुरू कर दिए. भाभी ने लाल रंग की साड़ी पहनी हुई थी, वे बोलीं- और तुम्हें मेरे फिगर में क्या सबसे अच्छा लगता है?मैंने कुछ कहा तो नहीं मगर मैं उनके मम्मों की तरफ देखने लगा.

मैंने कहा- कैसा काम?उन्होंने मेरे बालों को पकड़ा और मुझे नीचे कर दिया. मेरे इस तरह से चूसने से प्रिया अपने आप को रोक नहीं सकी और जल्दी ही झड़ गई.

तभी मैंने एक ज़ोर का झटका लगाया तो मेरा लंड एकदम फ़च्च से उसकी गांड में पूरा घुस गया.

मैंने पूछा- भाबी, लंड चूसने में मजा आ रहा है?भाबी ने कहा- हां यार, मुझे लंड चूसना बहुत पसंद है.

मॉम खुद ज़मीन पर बैठ गईं और आंटी की टांगें खोल कर अपना मुँह उसकी चूत में लगा दिया. वो सर से बोली- सर मेरा रिश्ता किसी के साथ नहीं हो पाता, कुछ न कुछ हो जाता है. आप सब लोगों के मेल मेरे हौसले को बढ़ाते हैं, आप सब लोगों के मेल मुझे आगे की कहानी लिखने के लिए प्रेरित करेंगे, इसलिए मुझे बताते रहें कि आपको मेरी सच्ची Xxx क्रेजी गर्ल सेक्स स्टोरी कैसी लगी.

comपर जाएं और Savita Bhabhi Video” खोजें।आप पहले परिणाम में आधिकारिक सविता भाभी वीडियो साइट देखेंगे।या आप सीधे ट्रेलर वीडियो के अंत में बताई गई वेबसाइट पर जा सकते हैं।. मैं 21 साल का हूँ, पर लगता नहीं हूँ क्योंकि मेरा वजन सिर्फ 48 किलो है. अब तक मेरी फैक्ट्री भी खुल गयी थी तो मैं फिर से फैक्ट्री में आ गया.

मैंने कहा- मतलब?वो कहने लगीं- डॉक्टर ने बताया है कि उनके अब स्पर्म में दम नहीं है.

उन्होंने मुझे इशारे से बुलाया और कहा- स्वप्निल, तुम अभी अन्दर मत ही जाओ, अन्दर प्रोग्राम चालू है, बाकी तेरी मर्जी. साली मेरी तरफ देख कर बोली- जीजू, आपको बहुत भूख लग रही है न!मैंने कहा- हां यार, सुबह से कुछ खाया नहीं है. शाम को सब लोग तैयार होकर लेडीज संगीत में जाने के लिए नीचे बने हॉल में आ गए.

कामिनी बोले जा रही थी- आह और चोदो मुझे … बहुत दिनों के बाद चुद रही हूँ मैं … आह बहुत सुकून मिल रहा है. मैं समझ गया कि बुड्डे के लंड में जान नहीं थी और वो पुल्ल पुल्ल करके वापस आ गया. मैं पागल सा हो गया था उसकी कुंवारी बुर देखकर!उसने मुझे देखते हुए देखा और बोली- आज ये सिर्फ तेरे लिए है, देख आराम से करियो प्लीज़!मैंने उसकी पेंटी उसके मुंह में घुसा दी और एक हाथ उसके मुंह के ऊपर रख दिया ताकि उसकी चीख निकल न पाए.

जोगी सर ने एकदम से अपना होश सम्भाला और मेरे ऊपर से उठ कर मुझे बैठा दिया.

फिर पन्द्रह मिनट की दमदार चूत चुदाई के बाद मैं ऐसे ही झड़ गया और वह भी मेरे साथ ही झड़ गई. तभी देसी भाभी अपनी क़मर को झटके देने लगीं और मेरे बालों को खींचने लगीं.

बीएफ हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ बीएफ बीएफ ननद बोली- आपको तो भैया ठंडा नहीं कर पाते हैं, तो अब आप क्या करोगी?मैं- मैं क्या कर सकती हूँ!ननद- अच्छा वो सब छोड़ो, शादी से पहले किसी से आप चुदी थी कि नहीं भाभी?मैं- नहीं, क्यों … अच्छा तुम ये बताओ तुम भी किसी से चुदती हो क्या?ननद- हां, मैं एक से नहीं, तीन तीन से चुदती हूँ. BDSM सेक्स कोचिंग क्लास के इस हिस्से में आपको जो जानकारी मिली, वो अच्छी लगी या नहीं … आप मेल जरूर करें.

बीएफ हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ बीएफ बीएफ अब जब भी हमारा खुल कर चुदाई करने का मन होता है तो हम दोनों होटल में चले जाते हैं. मैंने उसकी टांगें सीधी कर दीं और खुद उनके ऊपर बैठ कर उसके हाथों को साइड में करके पकड़ लिया ताकि वो ज्यादा छटपटा ना सके.

दूसरे ने मेरे पैरों को पकड़ लिया और एक ने मेरे हाथों को पकड़कर मुझे कुर्सी से उठा दिया.

मराठी साडी वाली बीपी

मैं यह सब बैठ के एक अलग कोने पर बैठकर देख रहा था।हिमेश मेरी सिम्मी के ऊपर लेट गया था और ब्रा के ऊपर से ही उसके बूब्स को जमकर चूस रहा था. पर मैंने मैंने उसकी चूत के सारे बाल साफ किए।उसकीचिकनी चूतको देखकर मेरा लंड फिर खड़ा हो गया. अरुणिमा लंड चूस ही रही थी कि शमशुद्दीन जी ने अपना लंड पूरा अन्दर डाला और उसकी चूत या शायद गांड में पूरा झड़ गए.

भाभी ने लाल रंग की साड़ी पहनी हुई थी, वे बोलीं- और तुम्हें मेरे फिगर में क्या सबसे अच्छा लगता है?मैंने कुछ कहा तो नहीं मगर मैं उनके मम्मों की तरफ देखने लगा. मैंने उससे धीमे से कहा- यार ऐसे पागल मत बन, आज रात को घर पर आ जाना. फिर पन्द्रह मिनट की दमदार चूत चुदाई के बाद मैं ऐसे ही झड़ गया और वह भी मेरे साथ ही झड़ गई.

मुझे भी आंटी की चूत चूसने का मजा आने लगा था क्योंकि वह चॉकलेट और शहद टपका कर मुझे पागल कर रही थीं.

अब वो ब्रा पैन्टी में मेरे सामने थी।फिर मैंने उसकी ब्रा पैन्टी उतार कर फेंक दी और कहा- लो अब ये पहनो!बुआ ने जैसे ही पैन्टी पहनी तो कट वाली पैंटी में उसकी बड़ी गांड साफ दिख रही थी. मैंने कहा- जी कुछ कहा आपने?मेम- ठीक है, तुम एम्बुलेंस रेडी करो, मैं सुरभि से बोल कर सामान रखवाती हूँ. उधर स्टाफ क्वार्टर्स में नर्स सुरभि और डाक्टर स्वाति भी रहती थीं, क्योंकि उन दोनों का घर भी अस्पताल से दूर शहर में था.

जैसे ही मेरा लंड का टोपा अन्दर गया कि उसकी सिसकारियां फिर से निकलने लगीं- ओ … मां मर गई … मेरी गांड में जलन हो रही है … आंह निकालो जल्दी बाहर निकालो. अचानक भाभी ने ज़ोर ज़ोर से आवाज़ निकाली और उनकी चूत ने खारा चिपचिपा पानी मेरे मुँह छोड़ दिया. मैंने कहा- अनुराग भैया, क्या बात है … आप तो मुझे ही निहारे जा रहे हैं.

अलग होते ही भाभी ने कहा- आज के बाद आप मुझको कभी भी भाभी नहीं बोलोगे. बारी बारी स्त्री परीक्षक अपनी जगह बदल रही थी, लंड से उतरने के बाद उनके लंड पर चांटा मारा जाता.

उसके बाद सलोनी भाभी मेरी तरफ घूम गई और बोलीं- मैं जब तुम्हारे घर आई थीं, तब मैंने तुम्हें मेरा नाम लेते हुए मुठ मारते हुए देख लिया था. ऊपर से रोहित भी मज़े से सिसकार रही ज्योति के मम्मों को चूसने लगा, मतलब हम दोनों मर्द फिर से एक साथ ज्योति का मर्दन करने लगे थे।मैंने ज्योति के चूतड़ों को और ऊँचा किया और अपने लंड का झटका जोर से ज्योति की चूत में लगा दिया. गुरबचन जी के साथ खड़े दोनों आदमियों में से एक ने तुरंत अरुणिमा की चूत पर अपनी हथेली रखी और उसकी चूत में एक उंगली घुसा दी.

मैंने पूछा- एसी क्यों नहीं चलाया?मॉम ने कहा- गर्म तेल की मालिश में एसी चलाने से नुकसान होता है, ऐसा विक्रम ने कहा.

मैं उनकी दूकान से सामान लेने जाता था तो उन्हें देखकर लंड सहलाता था. इतने में आंटी के मुँह से अजीब सी सिसकारियां और मादक आवाजें निकलने लगीं. मैंने अपने हाथ उनके पेट पर रखा और खिसकाता हुआ उनकी चूत तक पहुंचा दिया.

तभी गुरबचन जी मुझे देख कर बोले- अबे अरुणिमा के दल्ले, यहां कहां घुस रहा? बाहर जाकर सोफे पर सो जा भोसड़ी के. आंटी जब वरूण को खाना परोस रही थीं तो उस वक्त मैंने देखा कि आंटी इतना ज्यादा झुकी हुई थीं कि उनकी चूचियों की गहराई साफ़ दिख रही थी.

चूमते चूमते वह मेरे मम्मों से पेट पर … और पेट से मेरी चूत तक पहुंच गए. साली खुश होकर बोली- हां जीजू … मैं अभी जाती हूं और जल्दी से खाना बना लेती हूँ. भाभी- और तुम ये बताने में डर रहे थे!भाभी ने ये कहते हुए अपने मम्मे मेरे सामने तान दिए.

सेक्सी पिक्चर चोदने की

जवानी में कदम रखते ही, मतलब 19 वर्ष की उम्र में मेरे साथ पहली बार सेक्स हुआ.

इसका यही कारण था कि मेरी सगाई उसके चाचा की लड़की के साथ हो गई थी इसलिए वो कभी बोल नहीं पाई. मेरे लंड के ऊपर बहुत जलन हो रही थी और जैसे लंड में बहुत तेज से खून दौड़ रहा हो, ऐसा लग रहा था. अभी पता नहीं मामी जी, कितने दिन ये लॉकडाउन चलेगा!मामी जी बोलीं- ठीक बेटा, जैसी तेरी मर्जी.

फिर उन्होंने मुझे मेरे पलंग पर लिटा दिया और मेरी दोनों टांगों को फैला दिया. विश्वेश्वर जी बोले- बहुत बढ़िया लंड चूसती है रंडी तू, इतना बढ़िया लंड आज तक मेरा किसी रंडी ने नहीं चूसा. हॉट हिंदी सेक्समैंने कहा कि दीदी तुम्हारी चूचियां बहुत मोटी हैं और गांड भी बहुत चौड़ी हो गयी है.

तभी कमरे के बाहर से आवाज आई ‘तुम्हारी बातें हो गईं?’कोमल आवाज सुनकर डर गई. मेरे साथ पहली घटना होने के बाद मुझे लड़कियों के साथ सेक्स करने में ज्यादा मजा नहीं आता था.

राजेश- रुक मत रांड, नाच … अगर तू रुकी तो अबकी बार तेरा लहंगा उतरेगा. फिर उसने कहा- पहले तुम फ्रेश हो जाओ, मैं तुम्हारे लिए जूस लेकर आती हूँ. उसने अपने खड़े लंड के सुपारे को मेरी गांड के छेद के ऊपर सैट कर दिया.

उसने मेरी तरफ़ देखा और हल्की मुस्कान के साथ बोली- आप जैसा बोलेंगे मैं वैसा करूंगी लेकिन कभी भी हमारे संबंध के बारे में किसी को भी पता नहीं चलना चाहिए. मैं भी नीचे वाले रूम में कंप्यूटर पर गेम खेल रहा था।आंटी ने मुझे कहा टांड से सामान उतारने को!अब वो दुपट्टा उतारकर मेरे साथ काम में लग गईं।उनकी क्लीवेज साफ दिख रही थी जब वे झुक कर कुछ उठाती तो दोनों चूचियां एकदम चिपकी हुई नजर आती थी।आंटी की चूचियां इतनी बड़ी थीं कि ब्रा में नहीं समाती थी. यह महसूस करके मेरे तन बदन में आग लग गई और मेरी चूत तो चूने भी लगी थी.

मैं भी उसके सीने से चिपक गई और किशोर बिना रुके मेरे होंठों को चूमने लगा.

मगर अब तो मेरी भूख जैसे मर ही गई थी क्योंकि अब मेरे अन्दर चुदाई की भूख जाग उठी थी. अरे मैं आदमी हूं कोई घोड़ा थोड़ी हूं, जो रात दिन बस तेरी चूत चोदता रहूँ.

धीरे धीरे हम दोनों बातें करने लगे और कुछ ही दिनों में हम एक दूसरे के दोस्त बन गए. जैसे खाना खत्म हुआ, भाभी ने मुझसे कहा- तुम रूम में चलो, मैं अभी आती हूँ. मुझे मेल जरूर करें कि मेरी फ्री सेक्स इन ओपन कहानी कैसी लगी?धन्यवाद.

इसके बाद मेरे लंड का पाने गिरने ही वाला था तो मैंने लंड चूत से निकाला और दीदी के मुँह में गिरा दिया. परन्तु भाभी को मुझे अपने दूध दिखाने थे तो एक दिन उन्होंने मुझसे वीडियो कॉल ऑन रखी और सामने ही अपने बूब्स निकाल कर बच्चे को पिलाने लगीं. मेरा भी मन लंड को अपनी चूत में घुसवा कर चुदाई का मजा लेने का होता था.

बीएफ हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ बीएफ बीएफ दोस्तो, इस तरह से मेरी गर्लफ्रेंड, जो आज पूरी तरह से लंड लेने के लिए तड़प रही थी, मैंने उसकी तड़प को चोद कर पूरा शांत कर दिया. दीदी हंस कर बोलीं- क्या तू पूरे कपड़ों में ही सोता है?मैंने कहा- नहीं.

ब्लाउज डिजाइन न्यू

फिर मैं उससे अलग हो गया और आधा घंटा तक हम दोनों एक दूसरे के साथ चूमाचाटी करते रहे. मुझे चकित करती हुई उसने मुझे सीधा लिटा दिया और अपनी गांड के छेद को मेरे लौड़े पर लगा दिया. नीतू ने अपने कपड़े निकाल दिए और पार्लर वाली लड़की ने नीतू के पूरे शरीर को साफ करके उसे सुंदर बना दिया.

Xxx भाई बहन सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं अपनी छोटी बहन की गांड पर नजर रखता था. मैं मन में सोच रही थी कि तैयार तो मुझे होना ही है, मगर लेडीज संगीत के लिए नहीं, तुम्हारे पति से चुदने के लिए है. लडको का नाममैंने उतावलापन दिखाते हुए पीछे से अपनी कमर ऊपर की ओर उठाते हुए उसके लंड को चूत में लेने की कोशिश की.

मैंने वरूण और उसकी मम्मी से बोल दिया कि आंटी क्यों ना वाटर पार्क चलें क्योंकि गर्मी भी बहुत है और वहां पानी में मज़ा भी काफी आएगा.

मैं जोगी सर के लंड का सारा पानी पी गई और मैंने जोगी सर के लंड को चूस चूस कर साफ कर दिया. वो कहने लगी- आज रात मेरे घर कोई नहीं होगा, सब एक शादी में जा रहे हैं.

अरे बाप रे … चूची इत्ती गोरी गोरी बड़ी बड़ी …उसी पल में चूची मैंने इतनी रगड़ दी थी कि लाल हो गई थी. सबसे पहले मैंने उनके माथे को चूमा, फिर आंखों को, गाल को, होंठ और गर्दन को चूमा. मुझे देखते ही किशोर मेरे पास आ गया और बोला- बताओ क्या सोचा तुमने?मैं- सोचना क्या है, तुम भी मुझे पसंद हो … मगर ये बात कभी किसी को पता नहीं चलनी चाहिए.

फिर हम दोनों घर पहुंचे और घर पर बता दिया कि काफी देर तक इन्तजार करने के बाद हमें एंट्री टिकट नहीं मिल सका था इसलिए हम दोनों मुंबई घूम रहे थे.

कुछ पल बाद मैं बेड से नीचे आकर खड़ा हो गया और अपनी भाभी की टांगों को अपने कंधों पर रखकर चूत में लंड के झटके देने लगा. मैंने भी देर ना करते हुए प्रिया भाभी की दोनों टांगें खोल दीं और गांड के नीचे तकिया लगा दिया. फ्रेंड्स, मैं उन्नीस साल की मदमस्त और सीलपैक मीना अपने भाई के लंड से चुदने की चाहत सेक्स कहानी सुना रही थी.

फुल एचडी राजस्थानी सेक्सी वीडियोउसने कहा- मैं अपने मम्मी पापा की कसम खाकर कहती हूँ, तुम जो मांगोगे मैं वो दूंगी. इसके लिए उसने मुझे थैंक्स कहा और मुझसे वादा लिया कि हमने जैसे एन्जॉय किया, उसको किसी को ना बताऊं, नहीं तो उसकी बदनामी होगी.

खलीफा सेक्स

उनके जाते ही राजेश ने फिर से अपना लंड मेरे मुँह में घुसा दिया, जिसे मैं चूसने लगी. मेरे चाचा के घर में तीन लोग रहते थे; महेश चाचा, सुमन चाची और उनका चार साल का बच्चा. उधर इमरान, जो मेरी चूत में उंगली कर रहा था, उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रखवा दिया.

दूसरे दिन मुझे फिर जाना था, लेकिन मैं कल वाले हादसे के बाद डर रहा था. उन लोगों को किसी लड़के की तस्वीर देख कर अच्छा लगता था तो उनको फोन करके बुलाने को बोल देते थे और अगर पसंद नहीं आता, तो उनको नहीं कहने के लिए बोल देते थे. चड्डी को खुद ही साबुन से रगड़ रगड़ कर धोने के बाद उन्हीं कपड़ों में डाल दिया.

मैं प्रवीण कुमार उम्र 24 साल, एक बार फिर से आप सभी के सामने हाजिर हूँ. अचानक अंकल उठ कर मेरे मुँह के पास अपना लंड ले आए और बोले- मुँह खोलो. मैं अपने हाथ उसकी नंगी पीठ पर फेरते हुए नीचे ले गया और उसकी लैंगिंग्स उतार दी.

इससे हम सब थोड़ा रिलैक्स महसूस करेंगे, एक दूसरे को देख कर ज्यादा नर्वस नहीं होंगे।मैंने ऐसा ही किया. लगभग दस मिनट की चुदाई के बाद आंटी की चूत से पानी की फुहार छूटने लगी.

मैंने कहा- ऐसा कर … तू शुक्रवार को शाम सात बजे ही आ जा!वो उस दिन सात बजे मेरे कमरे में आ गई.

अभी तो मैं लखनऊ में रह रही हूं मगर शादी के पहले मैं एक छोटे से गांव में रहा करती थी. सेक्सी हिंदी में राजस्थानीकुछ ही पलों में भाभी बहुत उत्तेजित हो गई थीं और उन्होंने एकदम से मेरे सर को पकड़ कर अपनी चूत पर जोर से दबा दिया. मारवाड़ी सेकसी विडीयोकाफी देर तक किस करने के बाद मैंने आंटी के चूचों पर बॉडी लोशन लगाया और उनको दबा दबा कर पीने लगा. मैं दो हफ्ते तक घर पर रह कर उसको रोजाना चोदता रहा, कभी रात में दो बार तो कभी तीन बार.

राजेश मुझे चोद ही रहा था कि अचानक एक आवाज आई- मजा आ रहा है ना साले साहब!मैंने पलट कर देखा तो शर्मा अंकल खड़े थे.

कुछ देर के दर्द के बाद भाभी शांत हो गईं और धकापेल गांड चुदाई चालू हो गई. मेरी चीख निकली और मैं चिल्लाया- उईई ईई मम्मी!जिसे सुनकर अयाना मुस्कराई और बोली- आई लव यू बेटा!और टाईट हग कर लिया।मैं बोला- मम्मी, आपने सब कर लिया और मुझे कुछ नहीं दिखाया?अयाना बोली- पहले उछल मेरी गोद में!हमने ऐसे बात की जैसे अयाना मेरी भतीजी नहीं मम्मी हो!इससे मुझे कुछ अलग सा महसूस हुआ. मेरी शुरू से दिलचस्पी आंटी भाभियों में रही है। शहर में मैं बस आंटियों और भाभियों को देखता था.

रात भर मैं अपने कमरे में लेटे-लेटे सोच रही थी कि जो वह कह रहे हैं, क्या वह सही है. कुछ सामान मेरे हाथ में भी था, नहीं तो मैं दीदी की गांड में फिंगर करने की सोच रहा था. सारी रात मैं करवटें बदलती रही और उसकी बातों को सोचती रही कि क्या मैं सही कर रही हूँ या गलत.

होली स्पेशल

लंड को थोड़ा आगे पीछे करने लगीं, जिससे मेरा लंड फिर से कड़क हो गया. मैंने पूछा- क्या कर रही हो?उसने मुस्कुरा कर कहा- आप इतने दिन से मुझे चोद नहीं पा रहे हो. नीतू ने अपने कपड़े निकाल दिए और पार्लर वाली लड़की ने नीतू के पूरे शरीर को साफ करके उसे सुंदर बना दिया.

किशोर ने भी मेरी भावनाओं को समझा था और हम दोनों कुछ देर रुकने के बाद उधर से चले आए थे.

मेरी उम्र 24 साल है और मैं हट्टा-कट्टा शादी के लायक जवान हो गया हूं.

मैंने उससे पूछा तो उसने हंस कर हां में सर हिला दिया कि वो अपने ब्वॉयफ्रेंड से चुदती थी मगर अभी काफी दिनों से नहीं चुदी थी. इसके बाद मैंने दीदी के साथ अपनी बहन भाभी और मां को एक साथ कैसे चोदा, वो कहानी बाद में लिखूंगा. कुमकुम भाग्य वीडियो डाउनलोडऊओफ्फ़ आह क्या बूब्स थे पायल के … एकदम तने और कसे हुए बड़े आकार के गोल गोल खरबूजे से मम्मे देख कर मुझसे रहा नहीं गया और मैं अपनी आंखें बन्द करके पायल के मम्मों पर टूट पड़ा.

मॉम ने कहा- तू फिक्र मत कर कोई कुछ नहीं कहेगा, बस मुझे इस दर्द से छुटकारा दिला दे. मैडम की निगाहें मेरे उभरे हुए पैंट पर थीं, जो कि मेरे पैंट के अन्दर से झांकते हुए लंड को देख रही थीं. पर भाभी ने तुरंत मना कर दिया … शायद मेरी हरकतों की वजह से!तो मैंने कहा- भाभी, आप चिंता मत कीजिए, मैं आपके पैरों के दर्द को बिल्कुल सही कर दूंगा।उन्होंने कुछ सोचा और फिर कहा- ठीक है‌।मैं तेल लेकर भाभी के कमरे में चला गया।भाभी ने उस समय एक मेक्सी पहनी हुई थी.

अब विक्रम ने अपना एक हाथ मॉम की चूत पर रखा और चूत की पुत्तियां मसलने लगा. मैंने उनसे पूछा- आपको मेरी और कोई मदद की जरूरत हो तो बताएं!उन्होंने मेरा नंबर ले लिया और बोलीं- कोई मदद की जरूरत होगी तो कॉल कर दूंगी.

वो ड्रिंक लेता था इसलिए उसने आते समय एक बॉटल व्हिस्की की ले ली थी जबकि मैं नहीं पीता था.

मैंने पूछा- क्या हो गया है वंदना जी?वंदना बोली- कुछ नहीं, लेकिन तुमने एक नंबर की चुदाई की है यार … मेरी तो हालत ही खराब कर दी. अब मैंने लंड पर थोड़ा तेल लगाया और उसे पूरा चिकना कर दिया ताकि लंड आसानी से चूत में चला जाए. उसी बीच में चाची, चाचा से बोलने लगीं- मेरी एक बचपन की सहेली पिछले दस सालों से केनेडा में थी, वह वापस घर आई है.

ईयर का सबसे छोटा दिन मैंने लंड हिला कर भाभी से कहा- यार, मेरे इसको भी पानी से धो दो, फिर तुम्हें इसको चूसना है. फिर उसने मुझे दोबारा सीधा लेटाया और मेरे पैर अपने कंधे पर रख कर बुरी तरह चोदने लगा.

विक्रम ने मेरी तरफ देखा और बोला- जाओ एक कटोरी में ओलिव ऑइल गर्म करके आंटी के बेडरूम में लेकर आ जाओ, हम लोग वहीं जा रहे हैं. अब मैंने अपना लंड दीदी की चूत में डाल दिया और दीदी भी मजे से चूत में अपने भाई का लंड लेने लगीं. ऐसे मुझसे नहीं होगा और तू डालेगा तो लापरवाही से ही सही, लेकिन डाल तो देगा.

सेक्सी मां बेटे की चुदाई

इतना सोचकर मैंने अपनी गांड को बेंच से हल्की सी बाहर निकाल दी, जिससे उसे मेरी गांड अच्छे से दिखे. तभी मैंने अपने दोनों हाथ नीचे ले जाकर उसकी गांड के नीचे रख लिए और उसकी गांड को थोड़ी सी ऊपर उठा दिया. इस तरह से उन तीनों ने अपनी अपनी पोजीशन बदल बदलकर मेरे तीनों छेदों को चोदा.

यह मेरी पहली और एकदम सच्ची प्यासी भाभी पोर्न कहानी है जो मेरी जिंदगी में बीती थी. भाभी ने नीले रंग की साड़ी पहनी थी पर उनका पल्लू उनके मम्मों पर नहीं था.

दो मिनट के बाद मामी गांड हिलाने लगीं तो मैं भी लंड को आगे पीछे करने लगा.

मेरा मन किया कि अभी जाकर उनकी गांड में लंड पेल दूँ और भाबी को घोड़ी बनाकर शॉट लगाने लगूं, बाद में अपना लंड उनके मुँह में डाल दूँ. वो बोली- मेरे शरीर में कुछ अजीब सा हो रहा है, कुछ समझ नहीं रहा कि क्या करूं?मुझे लगा कि शायद कुछ खाने की वजह से उसके साथ ऐसा हो गया होगा. आह क्या मस्त नजारा था … कमरे की लाल डिम लाईट और सामने सोनल का नंगा बदन … मुझे मजा आ गया था.

मेरे सगे मामा जी जितेंद्र (55 साल) और मामी जी लता (54) भटिंडा में ही रहते हैं. मैं एक पल के लिए रुका लेकिन तभी उन्होंने नीचे से गांड उछाल कर धक्का दे दिया. मेरे सगे मामा जी जितेंद्र (55 साल) और मामी जी लता (54) भटिंडा में ही रहते हैं.

मैंने कहा- ओके बदले में आप क्या दोगी मुझे … मेरे लंड देखने के बाद क्या आप भी अपनी गीली चूत और अपने चूचों की फोटो भेजोगी?वंदना- तुम्हें कैसे पता कि मेरी चूत गीली है?मैंने बोला- मुझे सब पता है कि आपकी चूत गीली हो गई है और आपकी चुचियां एकदम कड़क हो गई हैं.

बीएफ हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ बीएफ बीएफ: वो अब मेरी चुचियों को चूस रहे थे, मेरी चूचियों को मुट्ठी में भरकर दबा रहे थे. आंटी जब वरूण को खाना परोस रही थीं तो उस वक्त मैंने देखा कि आंटी इतना ज्यादा झुकी हुई थीं कि उनकी चूचियों की गहराई साफ़ दिख रही थी.

मैंने कहा- बच्चे कब तक सोएंगे?दीदी बोली- सो जाएंगे अभी!मैंने कहा- आज आप कराहने वाली हैं. फिर मैंने उनको अपनी पत्नी का नाम लेकर परिचय दिया, तब जाकर उन्होंने दरवाजा खोला. विक्रम ने कहा- तू मेरी कुतिया है और अब मैं तेरी गांड फाड़ने वाला हूं.

राजेंद्र- बैचलर पार्टी बॉय, दूल्हे राजा आ गए हैं … हमारी बैचलर पार्टी का मुहूर्त करने … सब पीछे हट जाओ.

प्रवीण आई लव यू यार!मैं इतना सुनते ही मैं भाभी के पास आ गया और उनको अपनी बांहों में भर लिया. वो अब मदहोश होना शुरू हो गई थी, हल्की हल्की सिसकारी उसके मुँह से निकलने लगी. इतने में वंदना बहुत जोर से मेरे उपर चिल्लाने लगी- लौड़े के बाल चोदेगा … या फिर लंड डाल कर देखता रहेगा.