राजस्थान की देसी बीएफ

छवि स्रोत,पंजाबी सेक्स करते हुए

तस्वीर का शीर्षक ,

एचडी सेक्सी 2020: राजस्थान की देसी बीएफ, पर पुरुष साथियों से हाथ जोड़ कर निवेदन है कि वे अपने कमेंट्स सभ्य भाषा में ही दें।मेरी लेस्बीयन लीला की कहानी जारी है।[emailprotected].

चाची की चुदाई दिखाएं

अपना लंड निकाल लो प्लीज़।मैंने कहा- आज मैं तुम्हारा पति हूँ और आप मेरी बीवी हो, मैं अपनी बीवी को जैसे चाहूँ चोद सकता हूँ।उन्होंने कहा- मैं मर जाऊँगी. चुदाई का वीडियो चुदाई काफ़िर धीरे-धीरे मैंने उसके मम्मों को सहलाया। उसका जिस्म एकदम मस्त हो उठा था।उसने मेरे पैन्ट की जिप खोल कर लंड को हिलाना चालू कर दिया।मैंने उसका ब्लाउज खोल दिया। उसका ब्लाउज खोलते ही उसके मम्मे स्प्रिंग की तरह पर उचक कर बाहर आ गए और उसके आम देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया।फ़िर मैंने उसकी चूत पर हाथ रखा और उसकी चूत को सहलाया। फ़िर धीरे-धीरे मैं उसके ऊपर आ गया। ऊपर आने के बाद मेरा लण्ड एकदम सख्त हो गया.

मैं आपकी बेटी की उम्र की हूँ।वो बोला- इसलिए मैंने शादी नहीं की।मैं उठ कर भागने लगी।छग्गन ने मुझे पटक कर लिटा दिया और मेरी बुर को चपड़-चपड़ कुत्ते की तरह चाटने लगा। मैंने छूटने की बहुत कोशिश की पर छूट न सकी। करीब पाँच मिनट बाद मुझे भी चूत चटवाने में अच्छा लगने लगा।मेरी बुर चाटने से लाल हो गई थी, मुझसे भी अब बर्दाश्त नहीं हुआ तो मैंने कहा- साले बुढ्ढे. सुनेला वाढदिवसाच्या शुभेच्छातुम्हारी इज़्ज़त वैसी की वैसी है मैंने क्या किया है?दोस्तों उम्मीद है कि आप को मेरी कहानी पसंद आ रही होगी.

मुझे बड़ा अजीब सा लगा।उसका पति घर पर ना होने की वजह से अगले दिन दीप्ति को डॉक्टर के पास मुझे ही ले जाना था। मेरे को कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि ये क्या चक्कर है।आज रिपोर्ट मिलने का दिन था। दीप्ति की आँखें सूजी हुई थीं.राजस्थान की देसी बीएफ: और उसका भी पानी निकल गया था।वो काफ़ी खुश थी और हम दोनों ने दुबारा ऑनलाइन मिलने का फैसला किया।इसी तरह दो-तीन बार चैटिंग करने के बाद हमने एक-दूसरे के फोन नंबर्स लिए। अब हम रोज रात में देर तक बातें करते और रोज फोन-सेक्स भी करते थे।उसकी आवाज़ इतनी सेक्सी थी और जब वो फोन पर सिसकारियां मारती.

पर कसम से इस एक मैसेज ने मेरा दिन बना दिया।मैंने तृषा को जवाब भेज दिया, ‘अभी एक घंटे में मंदिर के लिए निकलूंगा’ और मैं फ्रेश होने चला गया।ये मेरा 23 वाँ जन्म-दिन था.तृषा रसोई ठीक करने में लग गई और मैंने अपने फ़ोन को स्पीकर से जोड़ा और तेज़-तेज़ गाने बजाने लगा। उस पर भी अजीब से मेरे डांस स्टेप्स।तृषा के दादा-दादी की बोलचाल की भाषा भोजपुरी थी और जब भी मुझे तृषा को चिढ़ाना होता.

एक्स एक्स एक्स हिंदी ऑडियो वीडियो - राजस्थान की देसी बीएफ

बस इसी तरह मेरी उमंगें दरिया की लहरों की तरह जवान होती और दम तोड़ देती थीं।ऐसे ही एक दिन मैं और मुझसे दो साल बड़ी दीदी.ममता ज़ोर-ज़ोर से चिल्ला रही थी। मगर सरजू तो बस ‘घपाघप’ लौड़ा पेल रहा था। पांच मिनट में ही उसका लौड़ा अकड़ गया और ममता की सुखी चूत को गीला कर दिया।सरजू- आह्ह.

तो बारबार टूटती रहीं। लण्ड को उसकी चूत का स्वाद जो लग गया था और उसकी बुर में भी चुदास होने लगी थी।हमारी कोचिंग सुबह 7 बजे थी. राजस्थान की देसी बीएफ वो साला उछल-उछल कर अपना डंडा पेलता रहा और सार मांड मेरी चूत में अन्दर ही गिरा दिया।बुआ की कहानी सुनकर मेरी चूत की हालत खस्ता हो गई थी।मैं खड़ी हो गई।बुआ बोली- क्या हुआ मेरी बच्ची।मैंने कहा- अब मेरा मन भी कर रहा है।वो बोली- आ.

इसके ठीक बाद मेरे लंड भी पानी उगलने को तैयार हो गया और मेरे शरीर में एक झटका लगा और सारा वीर्य उसकी चूत की कटोरी में डाल दिया।उस वक़्त जो मजा आया ना.

राजस्थान की देसी बीएफ?

फिर मैंने उनकी साड़ी के पल्लू को अलग करके उसके मम्मों को अपने हाथों से मसलने लगा। उसके मम्मे इतनी उम्र में भी बड़े और एकदम सख्त थे।मैंने उनको तेज़ी से मसल रहा था और वो सिसकारियाँ भर रही थी।फिर मैंने उसके ब्लाउज को खोल कर अलग कर दिया। उसने लाल रंग की ब्रा पहनी हुई थी और वो इस लाल ब्रा में बड़ी ही कामुक लग रही थी, फिर मैंने उसके मम्मों को उसकी ब्रा से आज़ाद कर दिया।दोस्तों क्या बताऊँ. कल फिर मिलते हैं। आप से गुजारिश है कि मेरा प्रोत्साहन करने के लिए मुझे ईमेल अवश्य लिखें।कहानी जारी है।[emailprotected]. ये विचार आते ही मेरा भी जोश बढ़ गया और मैं एक सधे हुए खिलाड़ी की तरह उसकी चूत में तेजी से उंगली अन्दर-बाहर करने लगा।अब रूचि के मुँह से भी ‘गु.

और निढाल होकर बिस्तर पर आड़े हो कर लेट गए।थोड़ी देर बाद फिर से ड्रिंक का दौर चला और अबकी बार शीतल ने भी दो पैग लगा लिए थे. इतना दर्द हुआ कि मैं चिहुंक पड़ा।मेरे पीछे बैठते हुए सर बोले- अब तू आराम से पलट कर लेट जा… वैसे तो बहुत से आसन हैं और आज तुझे सब आसनों की प्रैक्टिस कराऊंगा. जैसा मैंने अभी तक सिर्फ़ ब्लू-फिल्मों में ही देखा था।मेरा अपने आप पर बिल्कुल भी कंट्रोल नहीं रह गया था.

मैंने कभी भी उस पर ध्यान नहीं दिया।मैं बाद में उसकी माँग को भी भूल गया।अगले महीने मेरी शादी हो गई, मैंने जीवन में पहली बार सेक्स किया. हम तीनों को एक-दूसरे का साथ काफी पसंद आने लगा।हेमा और मैं अब अच्छे दोस्त बन गए थे। वो मुझसे हमेशा मेरी गर्ल-फ्रेंड के बारे में पूछती. बट आई एम वेटिंग आउटसाइड…इतना कहकर वो मुस्कुराकर चली गई।मेरा दिल धाड़-धाड़ करने लगा। फिर मैं भी वहाँ से उठ कर चल पड़ा.

मेरा तो लण्ड सलामी देने लग गया, उसने लहंगा पहन रखा था।मेरे मन में तो आया कि अभी यहीं खड़े-खड़े ही चोद दूँ।लेकिन मैंने खुद को काबू किया और उसको बोला- थोड़ी देर में यहीं पर मिलना. मेरी ओर देखा और फिर मुझे चिपक कर सो गईं।वो ऐसा अक्सर करती थीं और वो उनका प्यार था।उन्होंने तीन-चार बार मेरी पीठ पर हाथ घुमाया.

पायजामा ठीक किया और थोड़ा दूर हो कर सोने लगी।अभी भी उनका हाथ मेरे ऊपर ही था, वो आँखें बंद करके पड़ी थीं।वैसे ही पाँच मिनट चले गए।अब वो भी सिसकारियाँ भर रही थी.

सम्भोग भी करती हैं और उनके पति भी खुले दिमाग के इंसान हैं। उन्होंने पहले भी दिल्ली में और गुडगाँव में.

फिर दोबारा उसे उलटा करके डॉगी स्टाइल में उसकी चूत मारी।मेरा मन अभी भरा नहीं था तो मैंने उससे कहा- मुझे तुम्हारी गाण्ड मारनी है।तो वो डर गई और उसने ‘ना’ कहा. बड़ी-बड़ी आँखें, उसके जिस्म का साइज़ 32-28-32 का था। वो अभी नई-नई जवान हुई थी।एक दिन जब मेरी बड़ी बहन ने उसकी मम्मी से मेरे सामने कहा- ये तो जवान हो गई है. फिर भी हम दोनों ने सारी मर्यादाएँ तोड़ दीं। हम दोनों ने एक-दूसरे के कपड़े उतारे तो मुझे इस बात का अनुभव हुआ कि वो पैंटी और ब्रा में क़यामत लग रही थी।मेरा मन तो हुआ कि उसे ऐसे ही देखता रहूँ.

मैं जानबूझ कर अपने हाथ कमर पर टिकाए खड़ा था।थोड़ी देर बाद मुझे लगा कि इसे अपनी गाण्ड के दर्शन भी दे दूँ. साथ ही छ: बड़े पिज़्ज़ा भी ऑनलाइन आर्डर कर दिया।कुछ ही देर में पिज़्ज़ा और केक आ गए और मैंने पिज्जा हॉटकेस में और केक फ्रिज में रख दिया।थोड़ी देर में पीटर के चार दोस्त भी आ गए और उनके हाथ में दो बड़े-बड़े थैले थे। एक में जहाँ दस-पंद्रह बियर की बोतलें थीं. पर हमारा पारिवारिक रिश्ता काफी गहरा था।आंटी हमेशा मुझे ‘बेटा जी’ कह कर ही बुलाती थीं और आज हमारे बीच इतनी दूरियाँ पैदा हो गई थीं कि एक-दूसरे को देखना भी गंवारा नहीं था।तृषा- मेरी शादी होने वाली है.

पर डर भी रहा था। थोड़ी ही देर में मैंने अपना सारा लावा उनके मुँह में भर दिया।जिसे वो पी गई और बोली- तुम्हारा माल तो बहुत ज्यादा निकलता है और बहुत गाढ़ा और टेस्टी भी है। आज के बाद इसे बरबाद मत कर देना।उन्होंने चाट कर पूरा लिंग साफ कर दिया।फिर हमने फटाफट कपड़े ठीक किए व जाने से पहले एक-एक चुम्मी ली और एक-एक करके बाथरूम से बाहर आ गए।हम दोनों ने रात में मिलने का वादा किया था।कहानी जारी रहेगी.

पर सर्दी की रात होने के कारण डर नहीं था और हम दोनों एक-दूसरे को रौंदने लगे।मैं पूरी ताकत से धक्के लगा रहा था व भाभी नीचे से गाण्ड उठा कर मेरा पूरा साथ दे रही थी।थोड़ी देर बाद भाभी अकड़ते हुए बोली- मेरा होने वाला है. और मैंने उनका पूरा नमकीन पानी गटक लिया।मुझे बड़ा अच्छा लगा और अब मैं उन्हें अपना लौड़ा मुँह में लेने के लिए बोल रहा था. काफ़ी तक वो लौड़े को चूसती रही, मैंने उसे फिर पूरी नंगी कर दिया और उसकी चूत में उंगली घुसेड़ कर उसे चोदने के लिए तैयार करने लगा।िउसकी चूत में से पानी लगातार टपक रहा था।फिर थोड़ी देर बाद मैं उठ कर कन्डोम ले आया और अपने लंड पर चढ़ा कर उसको चोदने की तैयारी करने लगा।वो अपनी टाँगें फैला कर लेट गई और मैंने धीरे से अपना लंड उसकी चूत पर टिका दिया।मैं धीरे-धीरे धक्का देने लगा.

क्योंकि वो 6 में एक बार फ़ेल हो गई थी।अब हम दोनों पूरा दिन घर पर बैठ कर टीवी देखा करते थे या फिर हम घर पर ही रह कर गेम खेला करते थे।एक दिन हम मॉल में शॉपिंग करने गए. अचानक मैंने देखा कि आँटी मेरे से बिल्कुल चिपक गई हैं और अपना हाथ मेरी जाँघ पर रख दिया और उसे सहलाने लगीं।मेरे शरीर में करंट सा दौड़ गया. मैंने उनका लंड अपने हाथ में लेकर मुँह में डाल लिया।उनका लंड बहुत गरम हो गया था और मैं कुतिया की तरह चाचा का लंड चाट रही थी और चूस रही थी। करीब 5 मिनट तक लंड चाटने के बाद चाचा का गरम-गरम वीर्य निकला.

बेचारा अपने किसी दोस्त को बता रहा है।नीरज का ध्यान भी उन दोनों की तरफ ही था और उसने उनकी बातें भी सुन ली थीं।रोमा- यार इसे पहले यहाँ कभी नहीं देखा.

फिर कुछ ऐसा हुआ कि हम रोज ही मिलने लगे और छुट्टी में साथ ही आने लगे।मैंने उसको प्रपोज करने के लिए एक अप्रैल का दिन चुना ताकि अगर वो गुस्सा हो तो अप्रैल फूल बोल कर बात सभाँल लूँ।मैंने उसे एक पार्क में बुलाया और बात करते हुए उसके दोनों हाथों को पकड़कर चूमते हुए ‘आई लव यू’ बोला. मैंने आपका दिल दुखाया है। मैं आपकी राजकुमारी नहीं बन सकी। आपने जो भी किया वो आपका हक़ था। आप मुझे जान से भी मार देते तो भी मुझे अफ़सोस नहीं होता। मैंने आपको बहुत तकलीफें दी हैं.

राजस्थान की देसी बीएफ बिस्तर पर लेटे-लेटे ही अपने लण्ड को सहला रहा था।पता नहीं कब मेरे अन्दर सुबह ही ठरकपन चढ़ गई और गाण्ड में अजीब सी हलचल होने लगी।लेकिन मन में सोच रहा था कि बुलाऊँ तो किसको बुलाऊँ. पर इसमें रेखा जी जैसी बात नहीं है।मैं- अपनी-अपनी नज़र है। वैसे मम्मी को बताऊँ कि आप रेखा जी से मिलने को कह रहे हो?पापा- अरे तुम्हें अच्छा लगेगा.

राजस्थान की देसी बीएफ मैंने शाल का एक छोर पकड़ कर दोस्त की तरफ बढ़ा दिया और उसने भी शाल को ओढ़ लिया।मेरे एक तरफ आँटी और एक तरफ दोस्त दोनों शाल को खींचने में लगे हुए थे. पर एक साल पहले घटी एक घटना ने तो मेरी सारी सोच ही बदल कर रख दी।मैं अन्तर्वासना का बहुत-बहुत आभारी हूँ.

अभी सब ठीक हो जाएगा।तब वो जाकर शान्त हुई।अब मैंने फिर से उसको चोदना शुरू कर दिया। कुछ देर बाद उसको भी अच्छा लगने लगा। अब वो भी उठ-उठ कर चुदवाने लगी। कुछ ही देर बाद हम दोनों झड़ गए।फिर मैंने उस दिन दो बार चोदा और मुझको अस्पताल भी जाना था.

मुंबई की सेक्सी बीएफ वीडियो

मेरी हाइट 5 फीट 10 इंच है और मेरा लौड़ा 6 इंच लंबा व 2 इंच मोटाई वाले व्यास का है।मुझे ज़्यादा फेंकने का शौक नहीं है कि मेरा 9 इंच लंबा 3 इंच मोटा या 8 इंच लंबा 3 इंच मोटा है. वो मेरे लंड को घूर रही थी और फिर पकड़ कर लौड़े को छूने लगी।मैंने भी अपनी ऊँगली से चूत को फैलाया और धीरे से एक ऊँगली लगा दी।वो ऊपर को उठ गई और बोली- आआअह्ह. तभी तो कल आप हमारे लिए वक़्त निकाल सकेंगे।मैं उनकी बातों का मतलब समझ चुका था।खाना ख़त्म हुआ और फिर हम वापिस स्टूडियो पहुँच गए।सुभाष जी- अरे हाँ.

कहीं नीचे बुआ और बहन न सुन लें।मैंने दरवाजा बंद किया और फिर से उसके मम्मे दबाने शुरू कर दिए और चूसता भी रहा।कुछ देर के बाद वो फिर से गरम हो गई। फिर मैंने अपना पैंट खोला और अपना लण्ड उसके हाथ में थमा दिया।मेरा लण्ड अब तन कर पूरा 90 डिग्री का हो गया था। मैंने अपना लण्ड उसके हाथों में पकड़ा दिया। वो पहले तो शरमाई. ये सच्चाई है कि मैं तेरे बाप की रखैल हूँ। एक आदमी से उन्होंने मुझे 30000 में खरीदा था। अगर मेरी कहानी जाननी है तो बिस्तर पर चलो।मैं अचंभित सी उनकी बात सुनने लगी।उन्होंने अपने और मेरे कपड़े उतार दिए, उनकी चूचियों के चूचूक काफी बड़े थे. मैं नहीं मानती कि तेरे जैसे स्मार्ट लड़के की कोई गर्लफ्रेंड नहीं है।मैं- अरे सच में… नहीं है भाभी… कोई आप जैसी मिलती ही नहीं।भाभी- ओह.

तो उन्होंने मेरा कॉल तुरन्त पिक किया और उन्होंने मुझे हैलो किया। उनकी आवाज़ बहुत ही स्वीट थी। फिर फोन पर भी उन्होंने मेरे साथ एक बार सेक्स करने की इच्छा जाहिर की.

मैं सामान ले आऊँगा।मेरे बहुत कहने पर उन्होंने उसमें से सिर्फ़ 3000 रूपए ही वापस लिए और मुझे कसम दी कि अब इतने तो आपको रखना ही पड़ेंगे।मैंने कहा- ठीक है और मैं बाज़ार विधि का सामान लेने चला गया और जब वापिस आ रहा था कि मैंने ज्योति के पति को एक कॉलगर्ल के साथ देख लिया।वो दोनों होटल में जा रहे थे. इसलिए मैं थोड़ा संभल कर बैठा।इस वक्त तक मैं उसे केवल दूर से ही देखना चाहता था। इंटरवल के बाद मूवी में एक रोमांटिक सीन आया. वो दोनों काफ़ी वक्त तक बातें करती रही और बस अलग-अलग प्लान बनाती रही कि शाम को कैसे नीरज से फ़ोन लेना है।दोस्तो, इनको बातें करने दो.

या तुझे घुसेड़ना भी नहीं आता।उसने मेरा लण्ड अपने हाथ से पकड़ा और चूत के मुँह पर लगाया और बोली- लगा अब धक्का. मेरी आँखों में आंसू आ गए थे। कभी भी मैंने ये नहीं सोचा था कि हमारे परिवार वाले नहीं मानेंगे। हमारी कास्ट अलग थी. और चूत में तो देखा ही नहीं जा रहा था पूरी खून से लथपथ थी। पूरा चादर खून से रंगा हुआ था।यह देख कर मैं घबराई.

बोली- मैं ज्यादा देर नहीं रुक पाऊँगी।मैं थोड़ा चूसने के बाद रुक गया।वो बोली- मुझे तुम्हारे ऊपर पेशाब करनी है।मैंने कहा- मुँह को छोड़कर. वो किसी के भी साथ सोए।इतना सुनना था कि मेरे बदन में आग सी लग गई। मैंने उस रिपोर्टर को बालों से पकड़ कर ज़मीन पर गिरा दिया और लातें मारने लगा। मैं साथ में कह रहा था- साले तेरी बीवी.

अब इंतज़ार था तो मौका मिलने का क्योंकि आग दोनों तरफ बराबर की लगी थी।कुछ महीने बाद भाभी की ननद के पेपर थे तो उसका एक्जाम सेंटर झज्झर (हरियाणा) में पड़ा. किस तरह मैंने अपनी गाण्ड मारने की असफल कोशिश करने वाले के पूरे परिवार को ‘चूतजाल’ में फंसाकर चोदू बना दिया।आप कभी बिना सहमति के किसी की गाण्ड मत मारना।अपने विचार मेरी ईमेल आईडी पर जरूर भेजिएगा।. मैं बहुत पहले से अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ। मुझे अन्तर्वासना की करीब-करीब सारी कहानियाँ अच्छी लगी हैं.

सहलाता… मसलता रहा और दाहिने हाथ को नीचे लाते हुए उसकी स्कर्ट को सरका दिया।फिर उसकी जाँघों के बीच की संधि स्थल को छुआ, जिसे बुर.

मैंने अपने होंठों को उसके होंठों पर लगा दिए और फिर एक और बमपिलाट धक्का मार दिया और मेरा पूरा 6 इंच का लंड उसकी चूत को फाड़ते हुए जड़ तक अन्दर घुस गया।वो अकबका उठी और उसी आँखों में से आंसू भी निकल आए. और उसका लहंगा ऊपर उठा दिया। उसकी टाँगें फैलाईं और लण्ड उसकी चूत पर लगा दिया।मुझे अहसास हुआ कि ये काफ़ी टाइट चूत है. लेकिन अचानक रुक गई।मैंने पूछा- क्या हुआ?तो उसने कहा- आप पिक्चर देख रहे हैं ना?‘तो क्या हुआ?’‘कुछ नहीं.

तो इच्छाएं तो मेरे अन्दर भी उठती थीं… तो मैं ‘अपना हाथ जगन्नाथ’ वाला हिसाब से काम चला लेता था।एक दिन मैं भाई-भाभी के साथ पार्टी में गया. नहीं तो हम दोनों को महंगा पड़ेगा।इसलिए हम दोनों अभी सोच ही रहे थे कि रविंदर आ गई। भाभी ने धीरे से कहा- यह तुम मुझ पर छोड़ दो.

जो मुझे उत्तेजित कर रही थी।ड्राईवर भी बीच-बीच में गड्ढों के कारण ब्रेक लगा देता था और इस झटके से मेरा पूरा लण्ड आँटी की टाइट चूत में पूरा अन्दर घुस जाता था। जिससे मेरा मजा तो साँतवें आसमान पर चढ़ जाता था।तभी अचानक मुझे लगा कि मैं झड़ने वाला हूँ. फिर हम दोनों ने फोन पर ही हस्त-मैथुन करना शुरू कर दिया। करीब 3-4 मिनट तक हम दोनों पूरे जोश से अपना-अपना हस्तमैथुन करते रहे. मैंने अगले दिन उसको एक Unwanted 72 की गोली दी और फिर पूरे इम्तिहान के दौरान में हमारा चूत चुदाई का खेल चलता रहा।वो इम्तिहानों के दिन मुझे आज भी याद हैं जब मैंने स्कूल टॉप किया और वो दूसरे नम्बर पर आई थी।तो दोस्तो, यह थी मेरी पहली चुदाई और पहली काम-कथा.

देवर भाभी के बीएफ फिल्म

लेकिन मेरी गाण्ड इतनी टाइट थी कि उंगली भी ठीक से अन्दर-बाहर न हो पाती और मैं बस अपने गाण्ड में उठी गुदगुदी के नशे में डूब कर किसी ब्लू-फिल्म की हीरोइन की तरह ‘आह.

पठानकोट का रहने वाला हूँ। मेरा कद 5 फिट 9 इंच है। मैंने अपने जिस्म को बहुत संवार कर रखा हुआ था लौंडियाँ मुझ पर मरती थीं. और रगड़ने लगा।नेहा मस्त हो उठी उसने गाड़ी में चुदाई ठीक नहीं समझी और गाड़ी को घर ले आई। घर में आकर मैंने उसे गोद में उठाया और उसकेबेडरूम में ले गया।मैंने जल्दी से नेहा का सूट उतार दिया उसकी काली ब्रा और पैन्टी को भी उतार फेंका और उसे वहीं लेटा दिया। टेबल पर पास में एकशहद की शीशी रखी थी. मैं शादीशुदा औरत हूँ और अगर मेरे पति को पता चल गया तो मेरा क्या होगा?मैंने कहा- मैं आपसे प्यार करता हूँ आपको कुछ नहीं होने दूँगा।वो खुश हो गई और फिर मैंने गाड़ी रोड के किनारे पर लगाई और उसे अपनी बाँहों में ले लिया। तो जैसे कि उसके अन्दर आग लगी हो.

वापिस आने वाली होंगी। तो उसने मुझसे जाने का अनुरोध किया।मेरा मन तो उस जगह से टस से मस भी होने का नहीं हो रहा था. मैंने अपनी बीवी को बेबो के सामने चुम्बन करना शुरू कर दिया।मेरी बीवी को ऐसा करते देख कर बेबो ने भी अपना हाथ अपनी चूचियों पर फेरना शुरू कर दिया।मेरी बीवी भी बहुत सुन्दर है. काजल की नंगी वीडियोपर डर भी रहे थे कि कोई आ ना जाए। थोड़ी ही देर में भाभी की चूत से पानी चूने लगा।वो झड़ने के बाद निढाल सी होते हुए बोली- प्लीज राज अब मत करो मैं पागल हो जाऊँगी।मैं उसके चूतरस से भीगी ऊँगली को चूसता हुआ बोला- भाभी मजा आया।वो बोली- बहुत ज्यादा।मैं बोला- और मजे लोगी।वो बोली- यहाँ नहीं.

इसलिए मेरे स्खलन का फिलहाल कोई अहसास मुझे नहीं था और मैं पूरे वेग से उसकी चूत को रौंदने में लगा था।अचानक अनामिका अकड़ने लगी और उसने एक तेज ‘आह्ह. मैं पागल सा होता जा रहा था। मेरी ऐसी हालत देख तृषा ने मुझे बिस्तर पर बिठा दिया और खुद रिजल्ट देखने लग गई।थोड़ी देर में उसे मेरा रोल नंबर मिला, पर वो एक पेपर में फेल हुए लड़कों की लिस्ट में था।रसायन शास्त्र (केमिस्ट्री) में मैं फेल हो गया था।मैं तो अब तक सदमे में ही था.

जो नमकीन न होकर खट्टा टाइप का था।कुछ देर तक हम दोनों ने लेट कर एक-दूसरे के कामांगों को छेड़ा तो हम दोनों चुदाई के लिए तैयार हो उठे। उसने मुझसे जल्दी से लण्ड को चूत के अन्दर डालने को कहा। मैंने लण्ड को चूत के मुहाने पर रखा और हल्का सा एक झटका दिया।क्योंकि मैं पेशेवर होने के कारण चोदने के तरीके जानता हूँ. तो मैंने उसकी प्यारी सी चूत में ही अपना माल झाड़ दिया।फिर कुछ देर एक-दूसरे से चिपक कर लेटे रहे और फिर आख़िर में हम लोग चूमा-चाटी करके उठ गए. मैंने इतने बड़े की कल्पना नहीं की थी।मैंने शरमाते हुए कहा- आंटी पानी बहुत ठंडा है और मुझे बहुत ठंड लग रही है.

लेकिन जींस पैंट पहने होने के कारण सफल नहीं हो पाया।उसके चूचे इतने बड़े थे कि कुरते के बीच से दरार साफ नजर आ रही थी. तो 2-3 मिनट में मेरा काम हो जाता है। तुम क्या करते हो?मैंने उससे कहा- मैं तो अपने लण्ड को मुट्ठी में पकड़ कर ऊपर-नीचे करता हूँ. तो वो भी ऊपर को खिसक गई। मोटे लवड़े के कारण दर्द से उनके आँसू और पसीना निकल रहे थे। मैंने अपने दाँतों को पीस कर एक और झटका मारा.

मैं वहाँ से आ कर डाइनिंग टेबल पर बैठ गया और चाची के आने का इन्तजार करने लगा।चाची आईं और हम लोग खाना खाने लगे। लेकिन चाची मुझसे बात नहीं कर रही थीं। बाद में एक घंटे के बाद चाचा निकल गए और मैं उन्हें एयरपोर्ट तक छोड़ कर वापस आया। चाची अपने कमरे में नहीं थीं.

30 बजे शाम को अमृतसर को जा रही थी।मैं उस बस में सवार हो गया और बस में घुस कर अभी कोई खाली सीट देख रहा था. फिर 2-3 मिनट बाद में हम दोनों को बैठने के लिए सीट मिल गई और वो भी मेरे ही बगल में बैठ गई। उधर ही मुझे उसका नाम मालूम हुआ था।उसके मेरे पास में बैठने के बाद मैंने अपना एक पैर का जूता उतार दिया और मैंने अपने पैर को उसके पैर के ऊपर ले जाकर उसके पैर को मसलना शुरू कर दिया।मुझे ये बहुत अच्छा लग रहा था और शायद उसे भी मजा आ रहा था।फिर मैंने लोगों की तरफ देखा और सबसे आँख बचा कर उसके बोबों को भी दबा दिया.

अभी और नहीं, अब तो मैं सिर्फ तुम्हारी हूँ। अभी तो खेल शुरू हुआ है, सब्र रखो सब्र का फल मीठा होता है।मैंने हंसते हुए कहा- हाँ. जो मेरी हरकतों से बेहाल होकर लाल हो गए थे।अब मैंने अपने लौड़े पर अपना थूक लगाया और उसे सीधे उसके मुँह में घुसा दिया। मैं पहली बार किसी मणिपुरी औरत को चोद रहा था. जो कि 8 इंच का हो गया था।उसने ऊपर से सहलाया और मैंने उसके मम्मों को मसला और खूब चूसा।मैंने पैन्टी में हाथ लगाया तो देखा कि उसकी पैन्टी गीली हो गई थी.

मन तो कर रहा था कि अभी उसकी चूत को खा जाऊँ।फिर मैंने उसकी दोनों टांगों को थोड़ा फैला कर अपना मुँह उसकी चूत पर रख दिया और मैं अपनी जीभ से उसकी चूत को ऊपर से चाटने लगा।वो एकदम से सिहर उठी और सिसकारियाँ भरने लगी. इससे मेरा एक इन्च लंड मेरी प्यारी मौसी की गाण्ड में घुस गया और वो फिर चिल्लाने लगीं- नहीं बेटा… प्लीज़ छोड़ दो मुझे. उसको इतना ध्यान कहाँ था।राधे मीरा के होंठ चूस रहा था और हाथों से उसके छोटे-छोटे चीकू जैसे मम्मों को सहला रहा था, मीरा जल बिन मछली की तरह छटपटा रही थी।अब राधे होंठों से गर्दन पर आ गया और चुम्बन करता हुआ नीचे आने लगा।मीरा- आह्ह.

राजस्थान की देसी बीएफ मैं अन्तर्वासना का एक नियमित पाठक हूँ इसलिए मैंने सोचा कि मैं भी अपनी कहानी लिखूँ।घटना एक साल पहले की है. मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ। मेरा इन्जीनियरिंग का आखिरी साल चल रहा है।जो मैं आज आपसे बांटने जा रहा हूँ, यह मेरी जिन्दगी का बहुत हसीन पल हैं।एक साल पहले मेरे पड़ोस के भाई की शादी हुई थी.

बीएफ वीडियो बांग्ला बीएफ वीडियो

मैंने देखा कि शशि ने भी मेरी तरह अपनी चूत ताज़ी शेव की हुई थी।जब मैंने अपनी साड़ी और ब्लाउज उतारा तो वो मस्ती से भर गई. तो असली मर्द नहीं और तुझे कभी मुँह नहीं दिखाएँगे…तभी मेरा हाथ पकड़ कर जॉन्सन अंकल बोले- चल साली कुतिया. पर उसकी खुली चूत देख कर चोदने को तैयार हो गया और उसकी चूत के ऊपर अपना लौड़ा रख कर रगड़ने लगा।मैं चूत के दाने के ऊपर भी सुपारा रगड़-रगड़ कर उसकी चूत को सहला रहा था। उसकी चूत पूरी गीली हो गई थी।अब वो चिल्ला रही थी- चोदो ना… चोदो मुझे.

मैं उसके मुँह को चूत समझ कर चोदने लगा।बड़े लौड़े के कारण उसको दर्द होने लगा और उसकी आँखों से आँसू आने लगे थे।अब मेरा माल निकलने ही वाला था. या ये कह लो कि लगभग स्वप्न की दुनिया में पहुँच ही गया था कि तभी माया ने अपना खाना समाप्त कर पास बैठे ही मेरे तन्नाए हुए लौड़े पर धीरे से अपने हाथ जमा दिए।इस हमले से मैं पहले तो थोड़ा सा घबरा सा गया. गाना सेक्सी फिल्ममेरी माँ से ना बोल दें।अब मैं अब एकदम चुपचाप हो गया।पर आंटी अभी भी मुझे देखकर मुस्करा रही थीं। फिर वो चाय और बिस्किट लेकर आईं और मेरे बगल में बैठ गईं और मुझे चाय देते हुए बोलीं- चिंता मत करो.

तो मैंने मौका देखकर उसे अपने पास खींच लिया और उसकी चूचियों को धीरे-धीरे दबाने लगा।वो भी मजे ले रही थी.

ज़ोर से… आआहह म्‍ममंणन हमम्न्न…पलक दूसरी बार झड़ चुकी थी, मैंने अपनी रफ़्तार तेज़ की और ज़ोर जोर से करने लगा।बीस मिनट के बाद मैं भी झड़ गया और पलक के ऊपर ही ढेर हो गया। फिर हम दोनों एक दूसरे को किस करने लगे।मौसा और मौसी जी का भी आने का टाईम हो चुका था… फिर हम दोनों एक साथ नहाने चले गये…. अब मैं पूरा लण्ड पेल कर उसे चोदता जा रहा था। कुछ पलों बाद वो अकड़ गई और झड़ गई। दस मिनट की चुदाई के बाद मुझे लगा अब मैं भी झड़ने वाला हूँ.

पर उससे मेरा नंगापन थोड़े ही ढकने वाला था।मेरा चेहरा सफेद हो गया और मैं उनसे ‘सॉरी’ कहकर मिन्नतें करने लगा- प्लीज़ मुझे माफ़ कर दो. तो कोई लड़का कैसे सो सकता है। वो बहुत देर तक जागता रहा और ना जाने कब उसकी आँख लग गई।सुबह मीरा जब उठी तो राधे पेट के बल लेटा हुआ था और पैर फैलाए हुए थे. मुझ से चुदे बिना नहीं जाती है।उसके पति को सुहाग सेज पर भी पता नहीं चला कि वो कोई नई दुल्हन नहीं बनी।वो अब मेरी बनना चाहती है.

शायद इसीलिए अब मेरे लण्ड की कमान उन्होंने मजबूती से सम्हाल ली थी। वो बहुत आराम व प्यार के साथ-साथ अपने मुँह में लौड़ा लेते हुए मेरी आँखों में आँखें डालकर बिल्कुल Sophi Dee की तरह रगड़े जा रही थीं।इसी तरह देखते ही देखते मैं कब झड़ गया.

सात बार झड़ने के बाद उसने मुझे हटा दिया और तौलिया लपेटकर कमरे से बाहर आ गई।मैंने भी जल्दी से पैंट पहनी और उसके पीछे पार्लर वाली के कमरे में आ गया।िनादिया ने रो-रो कर अपनी चूत की हालत बताई। नादिया की बात सुनकर वो लोग भी हैरान हो गए।आधा घंटा चुदाई. तुम ने मेरी बहुत अच्छी मसाज की और साथ ही मेरी प्यास भी बुझा दी।मैं पैसे लेकर घर वापिस आ गया। उसके बाद भाभी जी ने अपनी 2 और सहेलियों की मसाज करवाई. मगर मैंने उससे कहा- पहले तुम्हें मेरे दो काम करने होंगे।वो बोली- तुम्हारे भाई को पाने के लिए कुछ भी करने को तैयार हूँ।मैंने उससे कहा- तुमको मेरी प्यास बुझानी होगी।पहले तो उसने ‘ना’ कर दी.

থ্রি এক্স ব্লু ফিল্মमैं अब उनके चूचों को मुँह में लेकर चूसने लगा और दांतों से कभी-कभी काट लेता था। तब वो भी कामातुर होकर मेरा लंड शॉर्ट्स के ऊपर से पकड़ कर अपना हाथ ऊपर-नीचे करने लगीं।मैंने उनकी चूत पर हाथ फेरना चालू कर दिया। उन्होंने नाइटी के अन्दर ब्रा और पैन्टी में से कुछ भी नहीं पहन रखा था. और मुझ जैसे जवान लड़के को जिन्दगी की पहली चुदाई का अवसर देगी।आप यह कहानी अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।हेमा ने कहा- राज मेरी तरफ देखो.

राजस्थानी एक्स एक्स एक्स बीएफ

मैं मदहोश होने लगा।मैंने अपनी शर्ट के बटन खोल दिए और मेरे चूचे उनके सामने आ गए।आसिफ़ मेरे गोरे-गोरे मम्मों को देख कर पागल हो गया और ज़ोर-ज़ोर से दबाने लगा। फिर मुँह पास लाकर उसने अपनी जीभ से पहले गोल-गोल घुमाया और फिर एक घुण्डी को चूसने लगा।मैं पागल होने लगा और अपने आपको उनके हवाले कर दिया।अब इक़बाल उठा और उसने मुझे बिस्तर पर पटक दिया और बोला- चल साली. डॉली ने खुद को मारने के लिए नींद की 10 गोलियाँ खा ली हैं।यह सुन कर उस समय मेरे बहुत बुरी तरह से पसीने छूट गए थे, मैंने अन्नू से कहा भी कि मैं तेरे साथ तेरे घर चलता हूँ. ’ करके पानी छोड़ देता है। क्या तुमने किसी से सेक्स किया है?मैंने कहा- नहीं।तो उन्होंने कहा- आज मैं तुम्हें एक नया गेम सिखाऊँगी.

वो ज़ोर-ज़ोर से सिसकारियाँ ले रही थी।नीरज भी पूरी ताक़त से जीभ घुसा-घुसा कर उसको चोदने लगा। आख़िरकार नीतू की चूत ने पानी की धार मार ही दी. वो मेरी चुसाई से ही बहुत अधिक बेताब हो चुकी थी।फिर मैंने उसकी साड़ी निकाल दी, अब वो मेरे सामने मात्र पेटीकोट में खड़ी दिख रही थी और साली बड़ी ही कामुक लग रही थी।फिर उसने मेरी शर्ट को निकल दिया और मेरी पैन्ट को भी अलग कर दिया।अब उसने मेरे लण्ड को अंडरवियर के ऊपर से ही पकड़ लिया और तेज़ी से सहलाने लगी। मेरा लौड़ा एकदम से सीधा खड़ा था. शायद इसीलिए अब मेरे लण्ड की कमान उन्होंने मजबूती से सम्हाल ली थी। वो बहुत आराम व प्यार के साथ-साथ अपने मुँह में लौड़ा लेते हुए मेरी आँखों में आँखें डालकर बिल्कुल Sophi Dee की तरह रगड़े जा रही थीं।इसी तरह देखते ही देखते मैं कब झड़ गया.

उसका कहना है कि वह मुझसे बेपनाह मुहब्बत करती है और मुझसे विवाह करना चाहती है, मेरे सिवाय किसी और से विवाह नहीं करेगी. जैसे उसने काफी दिनों से लौड़ा नहीं खाया हो। तो मैंने थोड़ा तेल डाल कर शॉट लगाकर आधा लंड चूत में पेल दिया. यह खेल उससे भी ज्यादा अच्छा है।उसके बाद उन्होंने मेरे होंठों पर चुम्बन किया। मैं भी अपना काबू खो बैठा और उनको अपनी बाहों में ले लिया।उनका वो चुम्बन मुझे हमेशा याद रहेगा। उनके होंठों को जब मैंने अपने दांतों में दबाया.

तो हम चुदाई कर लिया करते थे। जब मैं किसी सप्ताह उनके घर नहीं जाता था तो ममता मुझसे मिलने आ जाया करती थी और मौका देखकर हम चुदाई कर लिया करते थे।सन् 1999 में उसकी शादी हो गई और उसके बाद हमने फिर कभी चुदाई नहीं की. कम से कम ये दुःख तो नहीं होगा।उसके बाद एक-एक करके मैंने उसके सारे कपड़े उतार दिए और उसने मेरे कपड़े उतार दिए। अब हम दोनों 69 की पोजीशन में एक-दूसरे के अंगों को चूसने लगे और काफी देर ऐसा करने के बाद वो मेरे ऊपर आ गई।वो बोली- जान अब सब्र नहीं होता.

वह बोली- मेरा घर पहाड़ी के दूसरी तरफ है और मैं दिन में पहाड़ी के इस तरफ कुछ देर के लिए आती हूँ।मैंने भी बोला- मेरा यहाँ कोई दोस्त नहीं है इसलिए कमरे में ही टाइम पास करता हूँ।वह बोली- क्या हम दोस्त बन सकते हैं?मेरा मन तो यही चाहता था.

फिर हम दोनों बिस्तर पर बैठकर एक-दूसरे के शरीर को छूने लगे। धीरे-धीरे मैंने उसकी टी-शर्ट को निकाल दिया और अन्दर का नज़ारा देखते ही मेरी आँखें खुली की खुली रह गईं।उसने अन्दर महरून रंग की ब्रा पहनी हुई थी. ब्लू पिक्चर फिल्म चाहिएउन्होंने मुझे पकड़ कर सहारा दिया और मुझे बाथरूम तक ले गए। उधर उन्होंने मेरी गाण्ड सफाई में भी साथ दिया।अब तक मैं अपने आपको संभाल चुका था और सोच रहा था कि आखिर मेरे जवान बदन की चुदाई भी आखिर आज से शुरू हो ही गई।जब मैं जाने लगा तो उन्होंने मुझे हज़ार रुपए दिए और पूछा- अगर मेरे कुछ दोस्त भी तुझे पैसे देकर तुझे चोदना चाहें. सेक्सी बीपी ओपन शॉटवो भी मेरे तरह ही थी दिखने में गोरी, सेक्सी, हम कभी लाइब्ररी तो कभी अकेले में एक दूसरे को छूते, कई बार मैं उसकी ब्रा खोल देती/देता, कभी कभी सलवार में हाथ डाल डालती, लेकिन हमने कभी सेक्स यानि चुदाई नहीं की।एक बार कॉलेज के दूसरे साल में हमने सेक्स का मज़ा लेने का फ़ैसला किया और एक होटेल में गये,. इससे मुझे भी कुछ तजुर्बा हो जाएगा।मेरी बीवी ने कुछ ज्यादा ही पी ली थी सो वो टुन्न सी हो कर बोली- तुम चाहो तो अपने जीजू के साथ सो जाओ.

मैं वहाँ से आ कर डाइनिंग टेबल पर बैठ गया और चाची के आने का इन्तजार करने लगा।चाची आईं और हम लोग खाना खाने लगे। लेकिन चाची मुझसे बात नहीं कर रही थीं। बाद में एक घंटे के बाद चाचा निकल गए और मैं उन्हें एयरपोर्ट तक छोड़ कर वापस आया। चाची अपने कमरे में नहीं थीं.

तो उसने जल्दी से मेरा हाथ पकड़ कर मुझे अन्दर खींच लिया।घर के अन्दर जाने पर देखा कि सुरभि का कमरा बहुत साफ़-सुथरा था और बिस्तर कायदे से बिछा हुआ था।उसके कमरे के साथ में एक वाशरूम भी था. जरूर बताइएगा ताकि मैं आगे भी लिख सकूँ।[emailprotected]आप मुझे इस ही पते से फ़ेसबुक पर भी ढूँढ सकते हैं।. आज पीने का मन हो रहा है।तृषा- ठीक है। यही पास एक रेस्ट्रोबार है। हम वहीं चलते हैं।मैं- मैं तो तुम्हारी निगाहों के जाम की बात कर रहा था और तुम यह समझ बैठी। खैर.

पर मैं नहीं रुका और काफी देर तक उसको ऐसे ही चोदता रहा और उसकी चूत में ही झड़ गया।उस रात हमने दो बार और चुदाई की तथा सुबह 5 बजे मैं वहाँ से आ गया।अब जब भी हमें मौका मिलता है. उसकी साँसें ज़ोर से चल रही थीं और आँखें बंद थीं।मैंने उसके ब्लाउज के बटनों को खोलना शुरू किया और ब्लाउज निकाल दिया। अब मैं उसकी ब्रा के ऊपर से मम्मों को मसल रहा था।फिर मैंने उसकी साड़ी निकाल दी और उसका पेटीकोट ऊपर उठा कर उसकी जाँघ पर हाथ फिराया।उसने भी चुदास से भर कर अपने पैर खोल दिए. अब भाभी का एक हाथ मेरे जींस के ऊपर से ही मेरे लौड़े पर आ गया था और वह धीरे-धीरे उसे सहला रही थी।मेरा लौड़ा अन्दर ही अन्दर बहुत कड़ा होता जा रहा था.

हिंदी सेक्सी बीएफ मराठी

दो दिन बाद उसका फोन आया और उसने कहा- वो अपने देश जा रही है और मुझे मिस करेगी।अब मुझे उसकी याद आने लगी थी। उसकी आँखों के आंसू मुझे याद आ रहे थे. अब चुपचाप मेरे साथ कमरे में अन्दर चलो।राधे कुछ नहीं बोला और मीरा उसे अन्दर ले गई।मीरा- राधे आज के दिन के लिए मैंने तुम्हें बताया था ना. तो उसने मेरा सर अपने हाथ से दबा दिया।उसकी चूत अब पूरी तरह से गीली हो चुकी थी। मैंने खूब अच्छी तरीके से उसकी चूत का रसपान किया।अब मैं नीचे लेट गया और उसको लण्ड चूसने के लिए बोला.

पर वो बोली- अब हम एक नहीं हो सकते।मुझसे न मिलने की चाहत में उसने अपना मोबाइल नंबर भी बदल दिया है।आप अपने विचार अवश्य दीजिए।.

वह मेरी छाती को छूते हुए बोलीं- तुम्हारी बॉडी बहुत ठोस लगती है।मैंने कहा- भाभी मेरे सवाल का जबाव दो न.

जिसे मैं महसूस करने लगा।चूत चुसवाने के थोड़ी ही देर में वो अपनी टाँगें खुद ही फ़ैलाने लगी और अपने चूतड़ों को उठा कर मेरे मुँह पर रगड़ने लगी।अब मुझे एहसास हो गया कि रूचि को इस क्रिया में असीम आनन्द की प्राप्ति हो रही है। फिर मैंने उसके जोश को और बढ़ाने के लिए अपनी उँगलियों के माध्यम से उसकी चूत की दरार को थोड़ा फैलाया और देखता ही रह गया. तो अपनी पत्नी के साथ गुज़रे हसीन पलों को याद कर रहा था कि तभी मेरी कहानी की हीरोइन आई और बोली- कहाँ खोए हुए हो??मैं अचानक वर्तमान में आया और बोला- बस. అందమైన ఆంటీ సెక్స్राधे घर में आ रहा था। उसने ममता से कहा- जल्दी ही वो उसके लिए कुछ करेगी।ममता खुश होकर चली गई।राधे जब कमरे में गया तो मीरा नाईटी पहने हुए बिस्तर पर पेट के बल लेटी हुई थी, वो राधे बिना कोई आवाज़ किए सीधा बाथरूम में चला गया।हाय दोस्तो.

और 5-10 मिनट लगातार करने के बाद ही मैं झड़ता हूँ।हमारी काफी देर तक लण्ड-चूत की बातें होती रहीं।अगले दिन मैंने उसे सीडी दे दी. मेरे मुँह के सामने थे।मैंने एक दूध को पकड़ा और दूसरे को चूसना स्टार्ट कर दिया।वो मादक स्वर में चिल्ला रही थी: ‘खा जाओ इनको. ?’ उसने कहा।तो मैं बोला- हर एक के पास जो है, वो है, उसमें क्या शर्माना?फिर मैंने अपना हाथ उसकी पीठ से ले जाते हुए उसकी नरम जांघों पर रख दिया। उसका शरीर कांप रहा था, धड़कन तेज हो रही थी। उसकी सांसें मेरे करीब से गुजर रही थीं.

आँखें फटी की फटी रह गईं।नीरज ने उस खबर को गौर से पढ़ा और पास की दराज से पेन कागज निकाला और अख़बार से कुछ नोट किया… फिर उस अख़बार को फाड़ कर अपनी जेब में डाल लिया और बाहर निकल गया।दोस्तो, इसको जाने दो. तो मौसी से टकरा गया।अब जब मैं बात कर रहा था तो मौसी भी मेरे पास साथ ही सोफे पर बैठी हुई थीं। बातों ही बातों में मेरा हाथ मौसी की जांघ को छू गया.

” की आवाजें निकाल रहा था। करीब 5 मिनट बाद भाभी ने अपनी टाँगों से मेरी पीठ पर दबाव बढ़ा दिया और अपना सारा माल छोड़ दिया। मेरे लण्ड से उनका गर्म माल स्पर्श कर रहा था।मैंने अपना लण्ड बाहर निकाल लिया और भाभी को घोड़ी बनने के लिए कहा… वो घोड़ी बन गईं। मैंने अपना लण्ड उनकी फुद्दी में डाल कर धक्के मारने शुरू कर दिए और अपने हाथों से उनके चूतड़ों पर ज़ोर डाला हुआ था।हर धक्के के साथ उनके मम्मे काफ़ी उछल रहे थे.

वहाँ मैंने उसे फर्श पर लिटा दिया। कमरे में एकदम अन्धेरा था। मुझे और उसे कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा था।मैंने जैसे-तैसे अपना मोबाईल निकाला और मोबाईल की टॉर्च से रोशनी की. मैं हमेशा दीप्ति को देखता रहता था।एक दिन मैं पूरे जोश के साथ दीप्ति के पास गया और बोला- मुझे तुम बहुत पसंद हो।दीप्ति बोली- तुम कौन सी क्लास में हो?मैंने कहा- 9 वीं कक्षा में. और वो पेट के बल लेट गईं और मैं उनके शरीर को दबाने लगा।जब मैं उनकी कमर को दबा रहा था तो उन्हें अच्छा लग रहा था.

क्सक्सक्स भाभी हिंदी मैंने फटाफट आँटी के सूट के अन्दर हाथ डालकर ब्रा के ऊपर से ही मम्मे मसलना शुरू कर दिया।आँटी ने भी एक हाथ से मेरे पैन्ट की जिप खोलकर मेरे लण्ड को पकड़ लिया। आँटी के हाथ का स्पर्श होते ही मेरा लण्ड पूरा का पूरा 8 इँच लम्बा हो गया।अब तो मेरे से जरा सा भी बर्दाश्त नहीं हो पा रहा था।मैंने अपने हाथ से आँटी की सलवार का नाड़ा खोलकर उनकी पैन्टी के अन्दर डाल दिया. उसके जिस्म की मादक गंध पाते ही मुझ पर जैसे जादू होने लगा। मैं अपने हाथों से उसे वाइन पिलाने लगा।हमने वाइन ख़त्म की.

बहुत ही बड़े और मुलायम थे।उन्होंने अपना पेटीकोट और ब्लाउज भी उतार दिया, अब वो ब्रा और पैन्टी में ग़ज़ब की खूबसूरत लग रही थीं. तो ये मेरे दूसरे अंगों को निशाना बनाने लगे।एक ने जहाँ मुझे अपने होंठों के ऊपर बिठा लिया और मेरी गांड चाटने लगा। वहीं दूसरा मेरी चूत से अटखेलियां करने लगा। तीसरे ने फटाक से अपना लंड मेरे मुँह में घुसेड़ मारा और मुँह की चुदाई चालू कर दी और चौथे का लंड पकड़ कर मैं हिलाने लगी।इन कमीने काले सांडों ने मुझे एक सेकंड के लिए भी अकेले नहीं छोड़ा. और 5-10 मिनट लगातार करने के बाद ही मैं झड़ता हूँ।हमारी काफी देर तक लण्ड-चूत की बातें होती रहीं।अगले दिन मैंने उसे सीडी दे दी.

सेक्सी बीएफ सेक्सी ब्लू

उसने मुझको नमकीन खाने को दिया।फिर उसने अपने लिए एक और पैग बनाया और धीरे-धीरे चुस्की लेकर पीने लगा।कुछ ही देर में मुझको चक्कर सा आने लगा. कब मेरे होंठ उनके होंठों पर आकर ठहर गए और मेरा बायां हाथ उनकी कमर में से होकर उनके चूतड़ों को मसकने के साथ-साथ दायां हाथ उनके मम्मों की सेवा करने लगा।आंटी और मैं इतना बहक गए थे कि दोनों में से किसी को भी इतना होश न रहा कि घर में उनके जवान बेटे और बेटी भी हैं।मैं और वो. तो रूपा को बुखार आ रहा था।उसने मुझे बताया कि रात को चुदाई करने के बाद से उससे ठीक से चला भी नहीं जा रहा है।मैं हँस दिया.

या मैं आकर तुम्हें नंगा करूँ।नीरज ने जल्दी से फ़ोन रखा और अपने कपड़े निकाल दिए।रोमा के जलवे देख कर नीरज का लौड़ा तना हुआ था। जब उसने लंड को आज़ाद किया. क्योंकि उसकी चूत अभी तक अनचुदी थी।दोस्तों कुँवारी चूत का अपना अलग ही मज़ा है।मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और एक और ज़ोरदार धक्का लगाया।अब मेरा पूरा लण्ड उसको चूत में समा गया। उसकी आँखों से आंसू निकल रहे थे.

तब इसके साथ चोदने में मज़ा आएगा…तो दूसरे वाले अंकल बोले- ऊपर के कपड़े मैं उतारूँगा…दादाजी ने कहा- ठीक है.

दोनों की गंदी नजरें मीरा के जिस्म की बनावट का मुआयना कर रही थीं।दोस्तो, उम्मीद है कि आप को मेरी कहानी पसंद आ रही होगी. तो मेरी हर बुरी याद फ़्लैश बैक की तरह मेरे सामने से गुज़र जाती है।आज भी वैसा ही हो रहा था। मेरी आँखों से आंसू रुकने का नाम ही नहीं ले रहे थे और मैं पागल हुआ जा रहा था। जैसे-तैसे मैंने खुद को काबू में किया और अन्दर जहाँ श्वेता और निशा बैठे थे. तुम मेरी प्यास बुझा दो।तब मैंने उन्हें नंगा किया और 69 की पोजीशन में आकर दोनों चूत और लंड चूसने लगे। दस मिनट के बाद दोनों तैयार थे.

मैं उठा कर वैसलीन लाया और अपने लंड और उसकी गाण्ड में चिकनाई को लगाया। अब मैंने उसकी टाँगें फिर से ऊपर उठाईं और उसके मम्मों से चिपका दीं, गाण्ड का छेद ऊपर को दिख रहा था।मैंने लंड को छेद पर लगाया और धीरे से पेला. मैं छत्तीसगढ़ जगदलपुर का रहने वाला हूँ।मेरी उम्र 26 साल है, हाइट 5’4″ है और वजन 48 जिससे मैं अपनी उम्र से काफ़ी छोटा लगता हूँ।बात 2007 की है जब मैं 12वीं की परीक्षा देकर अपने चाचा के घर गया था। मुझे चाचा के घर पहुँचते पहुँचते काफ़ी रात हो गई थी। जिस वक़्त मैं उनके घर पहुँचा तब रात के साढ़े बारह बज रहे थे. कुछ देर हम दोनों चुप रहे और वो मेरी आँखों में यूँ ही कामुकता से देखती रहीं।मुझे उनकी और अपनी साँस तेज़ चलने की आवाज़ आ रही थी.

जो मेरी हरकतों से बेहाल होकर लाल हो गए थे।अब मैंने अपने लौड़े पर अपना थूक लगाया और उसे सीधे उसके मुँह में घुसा दिया। मैं पहली बार किसी मणिपुरी औरत को चोद रहा था.

राजस्थान की देसी बीएफ: मैंने उसकी चूत को अपनी जीभ से चोदना शुरू कर दिया।खास कर दूसरी बार तो इतना मज़ा आया कि मैं बता नहीं सकता क्योंकि अबकी बार लण्ड बहुत देर तक चूत को चोदता रहा था।लण्ड को झड़ने में काफ़ी समय लगा और मुझे और उसे भरपूर मज़ा देता रहा।अब हम दोनों थकान के कारण को नींद आ रही थी. क्योंकि समझदार को इशारा जो मिल गया था।अब मैंने बिना समय गंवाए उसको कसकर सीने से लगा लिया।चालू की तरफ से भी जवाब तुरन्त मिला, उसने भी लहरा कर अपने हाथों से मेरी कमर को भींच लिया।मैंने चालू को बेतहाशा चूमने लगा.

तो मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया। तो मैंने उसे घोड़ी जैसी पोजीशन लेने को कहा और उसकी गांड में मेरे लंड को एक झटके में ही अन्दर पेल दिया. शादी का एक विज्ञापनहमारी गाय जैसी सीधी सादी कन्या के लिए कोल्हू के बैल जैसे वर की आवश्यकता है…***सब कह रहे हैं कि शादीशुदा भाइयों के अच्छे दिन आने वाले हैं…बीवियां मायके जाने वाली हैं,मोहल्ले की पुरानी सेट्टिंग आने वाली है…. मलेशिया में लड़की को पटा कर चोदना भी काफ़ी आसान है। मेरे लिए भी ये थोड़ा आसान हो गया था क्योंकि मेरी हाइट 6 फीट है.

अब दोनों शान्त हो गए थे और एक-दूसरे को देख कर मुस्कुरा रहे थे।दोस्तो, उम्मीद है कि आप को मेरी कहानी पसंद आ रही होगी.

फिर मैंने अपनी आँख पर पट्टी लगाई और दीवार का सहारा लेकर खड़ा हो गया।इन सब बातों से मेरा लण्ड किसी रॉड की तरह खड़ा हो गया था।फिर सासूजी मेरे पास आईं और मेरे सर को जीभ से चाटने लगीं।दोस्तों क्या बताऊँ. मुझे लौकी और करेला की सब्जी से बहुत नफ़रत थी।तो उन्होंने कहा- तुमको आज के बाद कोई भी ये सब्जी खाने का दबाव नहीं डालेगा. मैंने अपने कपड़े निकाल फेंके और सिर्फ़ अंडरवियर में आ गया।मुझे हमेशा से लड़की को नीचे से नंगा करना अच्छा लगता है.