बीएफ इंग्लिश फिल्म वीडियो में

छवि स्रोत,बीएफ चलता

तस्वीर का शीर्षक ,

मराठी देसी सेक्सी वीडियो: बीएफ इंग्लिश फिल्म वीडियो में, मैं छोटे और लंबे-लंबे धक्कों का मजा लेने लगा।जब लंड चूत से बाहर आता तो उस तंग चूत की अंदरूनी गुलाबी दीवार भी लंड के साथ चिपक कर रगड़ खाती हुई बाहर खिंच जाती और जब लंड अन्दर घुसता चला जाता तब.

बीएफ पिक्चर फुल

’उसने जल्दी से मेरी टी-शर्ट और पैन्ट को उतार दिया और मेरी जॉकी अन्डरवियर के ऊपर से लण्ड को सहलाने लगी थी।मेरा लण्ड भी खड़ा हो गया था और कोमल ने मेरी जॉकी को उतार दिया और लौड़े को अपने होंठों से चूसने लगी।मैं भी सिसकारी लेने लगा- आहह. हिंदी में फुल सेक्स बीएफक्या मक्खन मलाई चूत है इसकी…वो पीछे से ही सलोनी की चूत को उँगलियों से रगड़ रहा था…मुझमें ना जाने कहाँ से जोश आ गया, मैंने दोनों को एक साथ जोर से धक्का दिया, वो दोनों वहीं सड़क पर गिर पड़े !मैंने सलोनी को पकड़ा और वहाँ से भागने लगा मगर तभी हवलदार ने अपना डंडा मेरे पैरों में मार दिया, मैं वहीं गिर पड़ा …इंस्पेक्टर- साले तू तो अब गया… देखना कितना लम्बा तुझको अंदर करूँगा अब मैं.

रियल सेक्स सब के सामने करना कोई मामूली बात नहीं है।रेहान- देखो तुम जल्दी फैसला करो, जूही सच में कर लेगी। अब तुम सोच लो क्या करना है?आरोही- ओके जूही से ही करवा लो, मुझे नहीं करना. ओरिजिनल बीएफ सेक्सीजूही तुम तो बिना कपड़ों के मस्त लग रही हो… उस समय तो खून की वजह से मैंने ध्यान नहीं दिया और ये शरमा क्यों रही हो, मुझे भी तो दिखाओ अपनी जवानी।जूही- भाई प्लीज़ मुझे शर्म आ रही है।आरोही- ओये.

उन्होंने एक कदम भी आगे बढ़ने से मना कर दिया था…मेरी समझ नहीं आ रहा था कि क्या करूँ???अब रोकने से भी क्या फ़ायदा था ??? जो उसको चोद रहा था, वो काफी तगड़ा आदमी था, अगर मैंने उनको जरा भी रोकने की सोची तो पता नहीं साला मेरे साथ क्या करेगा !!!तभी मैंने ध्यान दिया कि कोई मेरे लण्ड को भी चूस रही है, मैंने नीचे देखा तो वो ऋज़ू थी… ना जाने उसने अपनी कुर्ती कब उतार दी थी.बीएफ इंग्लिश फिल्म वीडियो में: बृजेश सिंहमेरा नाम बृजेश सिंह है, जोधपुर का रहने वाला हूँ, मेरे लंड का आकार 6 इंच का है। मैं सांवला हूँ और शरीर से हृष्ट-पुष्ट हूँ।हमारे परिवार में मेरे अलावा सिर्फ मम्मी-पापा ही हैं। मैं जोधपुर कंप्यूटर खाता-बही का काम करता हूँ।यह मेरे जीवन की सच्ची कहानी है। आप इसे कोई मनघड़न्त कहानी मत समझना।मैं तब बी.

नेहा तो नहीं जा रही है, बोल रही है कि अगर कोई दिक्कत ना हो तो आपे ऑफिस में रह जाऊँ?सुरेश जी बोले- नेहा आप कहीं भी रह सकती हो.हम अकेले ना रहें, इसके लिए मेरे पति ने मेरे ससुर (यानि पापाजी) को हमारे साथ रहने के लिए गांव से शहर बुला दिया था.

बीएफ सेक्सी 9 साल - बीएफ इंग्लिश फिल्म वीडियो में

मेरी जान पहली नज़र में तेरे चिकने शौहर को देख समझ गया था। एक दिन तेरे शौहर की गाण्ड तेरे सामने मार कर दिखाऊँगा।यह सुन कर जीनत हँस कर बोली- राजा उसकी गाण्ड बक्श दे… बदले में मेरी गाण्ड मार ले.दूध के ऊपर से ही चूमने लगा।मैंने उससे कहा- देखो अगर तुम्हें मेरे ऊपर विश्वास है तो मेरी बात मानो, अपने इन कपड़ों को उतार दो.

बिजली गिराती मस्ताई हुई रीटा टेढ़ी दिलकश मुस्कान के साथ चहकती हुई सुरीली आवाज में बोली- हैल्लौ भईया! हाऊ आर यू?रीटा ने राजू का हाथ पकड़ कर अंदर खींच लिया. बीएफ इंग्लिश फिल्म वीडियो में ’ की आवाज मेरे मुख से अनायास ही निकलने लगी।वो मेरी पीठ सहलाने लगी।मुझे बहुत बुरा लगा कि मैं इतनी जल्दी कैसे झड़ गया, मैं उदास होकर उसकी बगल में लेट गया।कहानी जारी रहेगी।.

!जूही- लो जी अब कपड़े पहनने की मेहनत करूँ आप निकालने की मेहनत करो… आख़िर में होना तो नंगी ही है, तो ऐसे में क्या बुराई है… हाँ.

बीएफ इंग्लिश फिल्म वीडियो में?

प्लीज बहुत दर्द हो रहा है।मैं कुछ देर हल्के-हल्के झटके देता रहा उसकी चूत से खून निकलने लगा, मगर उसने नहीं देखा।फिर जब वो पूरे जोश में आ गई तो मैंने एक तगड़ा झटका और दिया और पूरा 6′ का मेरा लंड उसकी चूत में घुस गया और वो फिर से चिल्लाई।मगर मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उसे चिल्लाने नहीं दिया।कुछ देर तक उसको चूमने और चूसने के बाद वो और गरम हो गई। उसके मुँह से आवाज़ निकली- और घुसाओ. मेरी दीदी शिप्रा और पड़ोसन सोनिया द्वारा मेरी वर्षगाँठ और उसके बाद के दस दिन तक तोहफे में मुझे बहुत सेक्स दिया. बहू… अब नहीं चूसा तो पटक के तेरी गांड मार लूंगा मां कसम !’ चचाजी मचल कर बोले।काशीरा ने इशारा किया और मैंने चचाजी का लंड जितना हो सकता था उतना मुँह में भर लिया। फ़िर जीभ उनके सुपाड़े पर रगड़ रगड़कर चूसने लगा।काशीरा बोली- मेरी गांड मारेंगे? राह देखिये चचाजी, मैं क्यों गांड मरवाऊं? नहीं बाबा, मैं तो बस चुदवाऊंगी। गांड का बहुत शौक है चचाजी?चचाजी मेरे सिर को पकड़कर ऊपर नीचे होने लगे- हाँ.

!और फिर मुझे अपनी चूत पर उनका मोटा लण्ड महसूस होने लगा। उन्होंने मेरे बाल पकड़े हुए थे और दाईं वाली चूची मसल रहे थे। उन्होंने एक झटका मारा और पूरा लंड मेरे अन्दर समा गया।बिल्कुल जैसे हीटर की रॉड मेरे अन्दर समा गई हो।आज वो मेरे साथ खड़े-खड़े ही चुदाई कर रहे थे।मैंने अपनी आँखें बंद की हुई थीं।फिर पता नहीं क्या हुआ मुझे अपनी चूत में सनसनी होने लकी और लगा मेरी चूचियाँ खड़ी हो रही हैं…!या अल्लाह…. ” मैंने भी प्रेम भरे शब्दों में प्रिया को जवाब दिया।हाँ…अब ये बस मेरा है… उम्म्मम्म…कैसे चोदे जा रहा है मुझे… उफ्फ्फफ्फ. तभी मैंने देखा कि दीदी 69 की अवस्था में हो कर लंड चूस रही हैं और नीचे से वो आदमी दीदी की चूत में अपनी जीभ पेल रहा है.

रीटा शर्म से पानी पानी हो गई और अनमाने स्वर में ना-नुकर करती बोली- प्लीज़ भईया छोड़िये, मुझे नन्गी मत करो नाऽऽऽऽ! बहुत शर्म आयेगी!‘रीटा़, बस एक बार देख लेने दो अपनी प्लीज!’ पगलाया सा राजू रीटा की स्कर्ट में हाथ डालता कर फरियाद सी करता बोला. ? पर कहाँ?’‘अरे ऊपर, बैन्क़इट हॉल के ऊपर के सब कमरे में मेहमानों के लिए बुक, किसी में भी घुस जाएँगे, कोई ना कोई तो खाली मिल ही जाएगा. !तब कृपा रुक गया और हेमा को चूमने लगा। हेमा की कसमसाने और कराहने की आवाज से मुझे अंदाजा हो रहा था कि उसे दर्द हो रहा है, क्योंकि काफी समय के बाद वो सम्भोग कर रही थी।हेमा ने कहा- इतना ही घुसा कर करो.

प्रणाम दोस्तो, मैं हूँ हनी (बदल हुआ नाम) मैं एक पंजाबन हूँ मेरा शहर अमृतसर है, मेरी उम्र है अठाईस साल। मैं एक बच्ची की माँ भी हूँ, मैंने बी. मुझे नहीं पता कि वो क्या चाहती है पर जो भी हो वो मुझे और ज्यादा बेइज्जत करना चाहती थी, मैंने ऐसा सोचा.

!उनकी बड़ी-बड़ी चूचियाँ मेरे सामने थीं और मैं पागल हुए जा रहा था। उसने अपने होंठों मेरे होंठों पर रख दिए और चूसने लगी। बड़ा मज़ा आ रहा था और वो मेरा लण्ड सहलाने लगी।मुझे लगा कि मैं सपना देख रहा हूँ या यहीं सपना भाभी के साथ हूँ।तब भाभी ने कहा- क्या सोच रहे हो?‘मैं आपके साथ हूँ.

!अब मैं उसी पोजीशन में स्थिर थी और वो अभी कमर उठा कर लंड मेरी गांड के अन्दर-बाहर करने लगा। जब हम थक गए तो पास पास लेट गए।इस भाग में इतना ही अगले भाग में मैं आपको बताऊँगी कि कैसे मैंने नई जॉब हासिल की।आपको मेरी कहानी कैसी लगी जरूर बताना![emailprotected]कहानी का अगला भाग:चूत के दम पर नौकरी-2.

थोड़ी देर में मेरे लंड ने पानी छोड़ दिया, मुझे काफी मजा आ रहा था लेकिन मैंने गौर किया कि अन्नू भी काफी अंगड़ाई ले रही थी, इसका मतलब कि अब उसकी चूत में भी खुजली हो रही थी. बिजली गिराती मस्ताई हुई रीटा टेढ़ी दिलकश मुस्कान के साथ चहकती हुई सुरीली आवाज में बोली- हैल्लौ भईया! हाऊ आर यू?रीटा ने राजू का हाथ पकड़ कर अंदर खींच लिया. वो सलोनी को पूर्णतया नग्न अवस्था में देख चुके थे, उसके सभी अंगों को भरपूर प्यार कर चुके थे …सबसे बड़ी बात… वो जब दिल चाहे उनसे मजे लेने आ जाते थे…अभी कुछ देर पहले ही मेरे सामने उन्होंने सलोनी के हर अंग… मतलब उसकी रसीली चूचियों को सहलाते हुए ब्लाउज पहनाया था.

छछौरी रीटा के इरादे से बेखबर राजू तो ऊपर ऊपर से ही ठरक पूरा करने के चक्कर में था- बेबी, अगर किसी को हमारी गुण्डी गेम के बारे पता लग गया तो?राजू रीटा के मन को टटोलता बोला. जब से तुमको देखा है मैं तुम्हें पसंद करने लगा हूँ, कल मिल रही हो ना?‘हाँ!’ कह कर उसने फोन कट कर दिया। मुझे सारी रात नींद नहीं आई। उसके नाम की 3 बार मुठ मारी। अब तो जल्द ही चूत भी मिलने वाली थी।अगले दिन स्कूल से थोड़ी दूर छुट्टी के समय से पहले ही मैं आ गया।छुट्टी होते ही वो मेरे पास आई और बोली- जल्दी चलो यहाँ से. आह्ह… धीरे… अह्हाआ !!” इतने समय बाद उसके मुँह से ये दो शब्द निकल पाए थे।मैंने उसका रिरियाना नज़रंदाज़ कर दिया, चोद लेने दो वरुण.

कई बार रीटा ने राजू को मज़ाक मज़ाक में द्वी-अर्थी बातें और उलटे सीधे इशारे किये, पर राजू रीटा को मासूम और स्कूल की बच्ची सोच कर और डर के मारे रीटा की हरकतों को नज़र-अंदाज कर देता था और ऊपर ही ऊपर से ठरक पूरा करता रहा.

भूखा लण्ड – एक प्यास एक जनून-1भूखा लण्ड – एक प्यास एक जनून-3कहानी के पिछले भाग में अपने पढ़ा की निखिल का दोस्त रजत, निखिल और रजनी को चुदाई करते देख लेता है उनका वीडियो बना लेता और फिर रजत उस वीडियो के सहारे निखिल को ब्लैक-मेल करता है और रजनी को चोदने निखिल के घर पहुँचता है।अब आगे. मैंने सलोनी का हाथ पकड़ा और उसको कमरे से बाहर ले गया। बाहर आते हुए श्याम भी मिला पर मैं उससे मिले बिना ही सलोनी को ले पार्किंग में पहुँच गया।बाहर की ठंडी हवा ने मेरी आँखों को थोड़ा सा खोला. मैं खुश हो रहा था कि मेरा लंड इतना बड़ा है कि मैंने एक धंधा करने वाली को रुला दिया।उसने मुझे अपने से दूर धक्का दिया और बैठ कर रोने लगी। जब मुझे लगा कि मेरे लंड में हल्का दर्द हो रहा है तो मैंने लाइट ऑन की।मैंने देखा कि मेरे लंड में से खून निकल रहा था।मैंने उससे पूछा- साली फट गई गाण्ड?वो बोली- बहनचोद जब गाण्ड में डालेगा तो चूत फटेगी क्या?? तूने मेरी कुंवारी गाण्ड का उदघाटन कर दिया.

फिर दीदी बाथरूम में गई और फ्रेश होकर रसोई से दूध लेकर आई और आकर हमारे बीच लेटते हुए बोली- आज सारी रात मैं तुम लोगों को सोने नहीं दूँगी. जाते जाते उसने मुझे ऐसे देखा जैसे वो दुनिया की सबसे खुशनसीब लड़की है लेकिन सच बात तो यह है कि उसको पाकर मैं दुनिया का सबसे खुशनसीब लड़का बन गया था. मेरे तीनों दोस्त हफ्ते में तीन दिन उसको चोदते हैं और बाकी के 4 दिन मैं उसकी बुर का मजा लेता हूँ।इस तरह हमारी जिन्दगी में आनन्द ही आनन्द आ गया है और लाइफ मस्त लगती है।मेरी बीवी की भी अलग-अलग फ्लेवर के लंड से चुदाई की इच्छा पूरी हो जाती है।मेरी बीवी अब मेरे तीनों दोस्तों से एक साथ चुदाना चाहती है.

मैंने घूँघट को किसी तरह संभाला तो देखा की विनायक मेरे चेहरे की तरफ एकटक देख रहा है, मुझे शर्म आ गई और मैं झटपट उसे पैसे देकर भाग गई।इन्ही छोटी बड़ी बातों में न जाने कब मुझे विनायक से प्यार हो गया.

मेरा मतलब है कितना चाहता हूँ?’‘तुम भी मुझे भूल जाओगे… कोई और नई पलक या सिमरन मिल जायेगी ! तुम मेरे लिए भला क्यों रोवोगे?’पलक ने तो मुझे निरूत्तर ही कर दिया था। मैं तो किमकर्त्तव्य विमूढ़ बना उसे देखता ही रह गया।मुझे चुप और उदास देख कर वो बोली,’ओह. ????? बस चाटी ही थी ना… चोदा तो नहीं था… अभी तो चलती गाड़ी में चोदने का भी मन है…सलोनी- हाँ फिर कहीं भिड़ा देना… अह्ह्हाआआ.

बीएफ इंग्लिश फिल्म वीडियो में !’ मैंने भी जवाब दिया।मैं वापस बेड पर लेट गया, भाभी बोलीं- तुम आराम करो, मैं नहाने जा रही हूँ।मैंने फ़िल्मी अंदाज़ में कहा- जान, हमें यूँ अकेला छोड़ के ना जाओ, तेरे बिना हम कैसे जियेंगे…!यह सुन कर वो मुस्कुराई, पास आई और मेरे लबों को चूम कर बोलीं- वादा करती हूँ ज्यादा इन्तजार नहीं करना होगा।भाभी ने बताया- बगल वाले कमरे में कम्पयूटर है, नेट कनेक्टीविटी के साथ… चाहो तो यूज कर लो…. वैसे तो आज वो मेरे साथ नहीं है, क्योंकि वो अपनी माता पिता को दुःख पहुँचाना नहीं चाहती थी इसीलिए उसने मुझसे नाता तोड़ दिया.

बीएफ इंग्लिश फिल्म वीडियो में !इस पर उन लोगों ने शुक्रवार के दिन की कहा और सुबह ही आने को बोला और अपन घर का पता दिया।मैं बोला- ठीक है आ जाऊँगा. घर पहुँच कर मैं अपने सारे रिश्तेदारों से मिला और फिर मैं औरतों वाले कमरे में गया अपनी प्यारी-प्यारी भाभियों से मिलने.

राजू वासना के ज्वालामुखी में धधकती रीटा की हालत ताड़ गया, अब राजू खुद भी रीटा को छोड़ने वाली हालत में नहीं था.

सऊदी अरब की सेक्सी मूवी

!अब पूरा का पूरा कमरा मेरी वृंदा की आवाजों से गूंज रहा था और वह एक बार और तेज चिल्लाते हुए झड़ गई।फिर थोड़ी देर बाद मैंने उससे कहा- चलो अब घोड़ी बनो।तो वह घोड़ी बन गई और मैं उसके पीछे गया और अपना लंड उसके चूत पर पीछे से रखा और एक जोरदार धक्का दिया और मेरा लंड उसकी चूत में एक बार मैं ही पूरा का पूरा घुस गया और मैं उसको पीछे से ही चोदने लगा और वह आआह्ह्ह्ह ऊऊह्ह्ह्ह. ’ चिल्लाने लगी।चिल्लाने की वजह से मैंने शुरू-शुरू में थोड़ी धीरे-धीरे धक्के मारे।फिर जब चूत ने रस छोड़ा तो वो मेरी बाहों में झूल रही थी, उसे कभी दीवार के सहारे चोदता तो कभी बिस्तर पर, कभी सोफा पर, तो कभी ज़मीन पर…! सारा वक़्त वो ‘और. सो वो आराम करने के लिए हॉस्टल में चली गई।हॉस्टल में उसके अलावा कोई नहीं था, उसने अपने सारे कपड़े उतार लिए और कमरे में बिल्कुल नंगी दर्पण के सामने खड़ी होकर अपने आपको देखा।क्या बला की खूबसूरत थी।फिर वो नीचे देखा.

क्या बात है?रानी मुस्कुराते हुए- रात में एक ब्लू-फिल्म देखी थी, तभी से आपका ख्याल आया और फिर आपका लंड. कह तो आप बिल्कुल ठीक रही हो… हा हा…मैंने सोचा कि लगता है दोनों खूब मस्ती कर रहे हैं।नलिनी भाभी- और यह क्या… तू स्कूल भी कच्छी पहनकर नहीं जाती?सलोनी- अरे वो मैं कहाँ पहनती हूँ वैसे भी… मुझे आदत ही नहीं है। और हाँ भाभी, अगर कच्छी पहनकर जाउंगी तो फिर मजा कैसे करुँगी?नलिनी भाभी- तू तो पूरी बेशर्म होती जा रही है।सलोनी- झूठ भाभी. नारायण मेरा आने वाला है जल्दी डालो…!य्ह सुनते ही नारायण ने अपना करीब 11 इंच का लवड़ा का सुपारा जो करीब 3 इंच की गोलाई का एक टमाटर के बराबर रहा होगा, मधु की बुर में लगा दिया और ज़ोर से धक्का मार कर अन्दर कर दिया।मधु के सिसकारी निकल गई- ओइईई माआआ मर गई.

बावली रीटा पटाक की अवाज़ से चुम्बन तोड़ती और हाँफते हुई राजू के कान में फुसफुसाती बोली- भईया आपको छोटी-छोटी स्कूल गर्ल्स से ऐसी बाते करते शर्म नहीं आती?‘बेबी अब तुम जवान और समझदार हो गई हो!’ राजू रीटा के नंगे मम्मों पर चुम्बन ठोकता और स्कर्ट के नीचे हाथ आगे बढ़ाता बोला.

पर मैं तो कभी आपसे नहीं मिला।फिर मेरे पति ने मेरी तरफ देखा तो मैंने भी कह दिया- मैं भी नहीं जानती!तब उसने बताया- नहीं. मुझे नहीं पता था कि खून निकल रहा है, मुझे भी दर्द हो रहा है और मैं चड्डी तक नहीं पहन पा रहा हूँ।मैं उससे शाम को सिर्फ झगड़ती ही रही।अगले कुछ दिनों तक मेरी योनि में दर्द रहा, साथ ही योनि के ऊपर और नाभि के नीचे का हिस्सा भी सूजा हुआ रहा, योनि 2 दिन तक खुली हुई दिखाई देती रही।मैं अगले 2 हफ्ते तक सम्भोग के नाम से ही डरती रही।अपने प्यारे ईमेल मुझे लिखें।. जल्दबाजी नहीं ! ध्यान रखो ये प्रेमी-प्रेमिका का मिलन है ना कि पति पत्नी का। इतनी बेसब्री (आतुरता) ठीक नहीं। पहले ये देखो कोई और तो नहीं है आस पास ?”ओह … सॉरी….

आभार तमारो’ (ओह… सर, आप कितने अच्छे हैं थैंक्यू)‘पलक…’‘हुं…’‘पर तुम्हें एक वचन देना होगा !’‘ केवू वचन?’ (कैसा वचन?)‘बस तुम शर्माना छोड़ देना और जैसा मैं समझाऊं वैसे करती रहना !’‘ऐ बधू तो ठीक छे पण तमे केवू आवशो? अने आवया पेला मने कही देजो. हम लोग सोच रहे थे कि काम बड़ी आसानी से हो गया, उन लोगों को शादी की जल्दी थी, सो मेरी शादी एक महीने के भीतर हो गई. छोड़ो यह न सोचो क्योंकि मैं होश में नहीं था और उसको चोदने का मन बना डालाऔर वो चुदने को राजी भी थी।सब कुछ होता चला गया।अब मैं शेर था, मेरा हाथ खुल चुका था।शाम को जब वो एक्टिवा खड़ी करने आई, मैंने पूछा- क्या हाल है?उसने कहा- ठीक नहीं है।मैंने कहा- सुबह आ जाना.

अब उसकी सिससकारियाँ तेज़ हो रही थी और साथ ही मेरे धक्के भी, बीच बीच में मैं उसका लंड भी हिलाती रहती थी. मैं तो भाभी को नंगी देख कर बहुत खुश हो गया और चूत को देखा तो शायद भाभी ने सुबह ही अपनी चूत साफ़ की थी.

‘हाऽऽ भईया! आप तो बहुत गुण्डे हो?’ रीटा मुँह पर हाथ रख कर बोली- हायऽऽ, भला मैं आपको अपनी क्यों दिखाऊँ? यहाँ कोई नुमायश लगी हुई है क्या?’‘अरे, मुझे तो सिर्फ यह देखना है कि तुम कितनी जवान हो गई हो?’ राजू के हाथ रीटा स्कर्ट के नीचे घुस कर रीट के अधनंगे मलाई से मुलायम चूतड़ों पर ढक्कन की तरह चिपक गये. लॉलीपोप सुन कर सुन्दरी रीटा की आँखों में चमक आ गई और उसने नीचे से हाथ हटा कर शर्मा कर अपना मुंह हाथों में छुपा लिया. तीसरा चुम्बन (मिक्की/सिमरन) से लेकर तीसरी कसम (दूसरी सिमरन) तक का प्रेम गुरु की कहानियों का यह दौर यहीं ख़त्म होता है। अगर अगला जन्म हुआ तो हम फिर मिलेंगे… और फिर दुनिया की कोई ताकत मेरी सिमरन को मुझ से जुदा नहीं कर सकेगी ….

मुझे खड़े हुए अभी कुछ ही देर हुई थी कि मुझे वो आती हुई दिखाई दी, उसने आज भी साड़ी पहनी थी और बिना बाहों का गहरे रंग का ब्लाऊज पहना था जिसमें मुझे उसकी चूचियों की गोलाई का साफ़ पता चल रहा था.

रोयें खड़े हो जाते !बस यही सोचते हुए मैं निकल पड़ी, रास्ते में वो दोनों तैयार खड़े थे।हम नदी की ओर चल पड़े, रास्ते में हम बातें करते जा रहे थे।तभी विजय ने सुधा से पूछा- बताओ. इतना लम्बा लण्ड मैं पहली बार देख रही हूँ!उसकी बात सुन कर मैं पागल सा हो गया।उसकी चूचियाँ मेरे चूसने से बिलकुल सुर्ख लाल हो गई थीं। अब मैं उसकी पैन्टी पर मुँह रख कर चूम रहा था, फिर मैंने उसकी पैन्टी भी उतार दी।वाह. तो उन्हें ज़रा भी शक ना हो कि हमने रात क्या किया है और तुमने मुझे उनके बारे में कुछ भी नहीं बताया ओके!रानी- लेकिन पापा अगर उन्होंने दोबारा मेरे साथ करने की कोशिश की तो?पापा- देख तू मना करेगी तो वो तुझे मारेंगे और मैं नहीं चाहता कि तेरे जिस्म पर ज़रा भी खरोंच आए और वो भी जवान हो गए हैं उनका भी लौड़ा फड़फड़ाता होगा, तुझे क्या है उनसे भी मरवा लेना.

बुरा मत मानना, तुम्हें देख कर लगता नहीं कि तुम इतने पहुँचे हुए खिलाड़ी हो।मैंने उसे घूर कर कहा- अच्छा?नहीं. कुछ ही क्षणों में मैंने देखा कि रिया आहें एवं सिसकारियाँ भरने लगी है और अपनी सलवार के ऊपर से ही अपनी शर्मगाह पर हाथ रख कर उसे दबाने लगी थी.

”मैं ताऊजी से जोर से चिपक गई। मैं तो दुबारा झड़ गई थी। फिर 2-4 धक्के मारने के बाद ताऊजी की भी पिचकारी अंदर फूट गई। ताऊजी गूं… गूं…. ! अच्छा हुआ मैंने पहली बार तुमसे चुदवाया, नहीं तो मेरी सहेली ने मुझे बहुत डराया था कि पहली बार में तो लड़की दर्द से बेहोश ही हो जाती है, जबकि मुझे तो तुम से भी ज़्यादा मज़ा आया…!चुदाई के बाद हम दोनों होटल से अपने अपने घर चले गए।उसके बाद तो उसको कई बार चोदा। अब उसकी और कामनाएँ भी थीं जो मैं आपको फिर कभी लिखूँगा, फिलहाल तो मुझे आपके ईमेल का इन्तजार है।[emailprotected]. एक हफ्ते पहले फ़ेसबुक पर मैं आरुष नाम के एक लड़के से मिली थी, मैंने दो दिन तक उससे याहू पर बात की और फिर उसने मिलने के लिए पूछा.

सपना चौधरी मर गई है क्या

भाभी ने मुझे तैयार होने को कहा, मैं तैयार हो रही थी, आदिल मेरे कमरे में आ गया, मैं पेंटी ब्रा में थी, वो मुझे देखने लगा.

फिर उसकी रानों को चूमने लगा।फिर मैंने उसकी टी-शर्ट ऊपर की और उसकी चूचियों को मुँह से चचोरने लगा, अपना दूसरा हाथ मैंने उसके लोअर में डाल दिया।फिर क्या था उसने कहा- आराम से. हमारी चुदाई की घच्च घच्च और फ़ुच फाच् की आवाज़ से कमरा भर चुका था, हम दोनों के बदन पसीने से लथपथ थे पर बस एक ही ख्याल हमारे दिमाग में था, विनायक मुझे और चोदना चाहता था और मैं उससे और चुदना चाहती थी. अंकल- अरे कहाँ बेटा, बस जरा सा तो बताया है… बाकी तो तुमको आती ही है… अच्छा अब तुम दोनों एन्जॉय करो, मैं चलता हूँ…मैं- अरे अंकल रुको ना… खाना खाकर जाना…सलोनी- पर मैंने अभी तो कुछ भी नहीं बनाया.

एयाया उफफफफ्फ़…!सचिन भी झड़ गया, पर रेहान तो गाण्ड का भुर्ता बनाने में लगा हुआ था। राहुल एकदम स्पीड बढ़ा देता है और अपना पूरा पानी आरोही की चूत में छोड़ देता है।राहुल- आह उफ़फ्फ़ मज़ा आ गया रेहान सब झड़ गए… अब तू भी पानी निकाल दे यार. !’ मैं मस्ती से चिल्लाई।तब तक हिमेश बाथरूम से वापस आया।हिमेश- अनिल, है ना यह मस्त चीज़, मेरा तो इस मक्खन जैसे बदन को छूते ही जल्दी निकल गया, तू आराम से चोद, मैं अब मीना को चोदता हूँ।यह कह कर वो कमरे में जाकर पलँग पर बैठ कर आंटी के मम्मे दबाने लगा। इधर अनिल ने मेरे मम्मों के चूचुक अपने मुँह में लेकर चूसने लगा।‘म्म्म्मलम… आईउ. बीएफ फिल्में इंग्लिश मेंमुझे कोई जल्दी नहीं थी इसलिये मैं जितना हो सके उतना आराम से धक्के पे धक्का मार रहा था और वो भी मेरे हर धक्के का जवाब अपनी चूत की गहराईयों में उस पर अपनी चुत का दबाव बना कर प्रदर्शित कर रही थी.

रात को बॉस फिर आ गए और उनके आते ही हम तीनों कमरे में पहुँच गए और कल वाला सेशन फिर चालू हो गया रात भर हम दोनों दीदी को मन लगा कर चोदते रहे. मैंने भी अपनी टी-शर्ट उतार दी, अब मैं पूरा नंगा खड़ा था, कविता सोफे पे बैठ गई थी और बुरा सा मुँह बना कर कभी हमें देखती तो कभी टीवी.

फिर उसने मेरा लंड चूसना शुरु किया, वो मेरे लंड को गपागप चूस रही थी और मेरे मुँह से कामुक आवाज़ें निकल रही थीं… आअह्ह्ह ओह्ह्हा आह्ह और चूस मेरी जान मेरे लंड को पूरा मुँह में ले. ।मैंने उसकी चूत में अपना सारा का सारा माल उढ़ेल दिया।माल छोड़ने के बाद 5 मिनट तक मैं उसके ऊपर ही लेटा।फिर उसने कहा- चलो. कुछ देर बाद मैंने भाभी को अपने नीचे लिटा लिया और भाभी की जबरदस्त चुदाई की और भाभी के सारे कस-बल निकाल दिए.

!अब मैंने और तेज़ी से उनकी चूचियों को चूसना शुरू कर दिया। उन्होंने अपने एक हाथ से मेरा लण्ड पकड़ लिया और दबाने लगी।मैं उनकी चूचियों को चूसते हुए नीचे की तरफ आया, देखा तो उनकी चूत पर हल्की-हल्की झाँटें थीं, शायद 2-3 दिन पहले ही साफ़ की होंगी।मैं उनकी चूत के चारों तरफ अपनी जीभ फेरने लगा तो वो और मस्त हो गई।अब मैंने अपनी ज़ुबान उनकी मक्खनी चूत पर फेरनी शुरू की… हाय. शुरू शुरू में रीटा को मोनिका की गुन्डी हरकत पर बहुत गुस्सा आया, पर बाद में जब शातिर मोनिका ने रीटा की टांगों को चौड़ा कर जबरदस्ती रीटा की चूत को आम की गुठली की तरह चूसा तो रीटा मोमबत्ती सी पिघलती चली गई. मैं थोड़ी देर आराम करने के बाद उठ कर पेशाब करने चली गई, पर बाथरूम में मैंने आईने में खुद को देखा तो सोचने लगी कि यदि कोई मर्द मुझे इस तरह से देख ले तो वो पागल हो जाएगा.

उन्होंने मेरे लंड को मुँह में ले रखा था और जोर-जोर से चूस रही थीं और मेरा 8 इंच का लंड पूरा तन चुका था।मैंने अपने आपको उनसे दूर किया और भाभी को कहने लगा- यह आप क्या कर रही हैं भाभी जी?तो वो मेरे ऊपर आ गई और मुझे चूमने लगी.

मेरा भी दिल कर रहा था कि अब रोहित ने मुझे पूरी नंगी कर दिया है तो में भी रोहित को अपने हाथो से नंगा करूँ. मुझे काफ़ी मेल आईं, उसके लिये मैं सभी वासना के पुजारियों और काम की देवियों का हार्दिक धन्यवाद करता हूँ.

अपनी कहिए।रणजीत- अपनी ही तो कह रहा हूँ कि अब बस रहा नहीं जाता।उसने झुक कर रानी के होंठों को चूम लिया।रानी- अरे. मैंने उन्हें बिस्तर पर सुला दिया अब सोच रही थी कि मैं अगर बिस्तर पर सो गई, तो हेमंत कहा सोयेगा?तभी हेमंत बोला- तुम बिस्तर पर सो जाओ, यह सोफा काफी बड़ा है, मैं यहाँ सो जाऊँगा. इन 4-5 दिनों में वो कई बार मेरे सामने भी अपनी चूत को खुजलाती रहती थीं और खुजलाते समय मेरी तरफ़ बड़े ही मोहक अंदाज में, गहरी नज़रों से देखती भी जाती थीं.

मैं सोनिया के सामने खड़ी होकर बोली- मैं बिना जींस के नंगी होकर घर नहीं जा सकती, अगर तुम चाहती हो तो मैं यहाँ सबके सामने अपनी पेंटी उतार देती हूँ. !मैंने सोचा कि लड़की तो मुझसे भी आगे है। उसके बोलते ही मैं समझ गया कि बुर का जुगाड़ हो गया और उसको कसके दबाया।मेरा लण्ड तो कुतुब मीनार की तरह खड़ा था, मैंने उससे पूछा- दोपहर को पक्का आओगी ना?वो बोली- तुमसे ज्यादा मुझे इंतज़ार ही दोपहर का. लेकिन अभी यह कहानी पूरी नहीं हुई, मेरे फोटोस देख उस कण्डोम कंपनी के साथ मेरा अगला एक्सपीरियेन्स मैं आपसे बाद में शेयर करूँगी।तब तक के लिए गुड बाय मुआह!!.

बीएफ इंग्लिश फिल्म वीडियो में फिर उसने अपने घर का पता मुझे मेसेज किया…मैं भी इस पते पर जाने के लिए तैयार हो गया… मैं अच्छे से तैयार होकर उसके घर जाने को निकल गया. मुझसे सब्र नहीं हो रहा…नारायण ने मधु के पावों के बीच आ गया और उसके बुर को चाटने लगा। मधु अब सीधी लेट गई और अपने दूध दबाने लगी। उसके मुँह से सिसकारियाँ आने लगी’। नारायण अपनी 2 उँगलियाँ मधु के बुर के अन्दर डाल कर अन्दर-बाहर कर रहा था।मधु सिसकारी लेते हुए बोली- बस.

मारवाड़ी सेक्स फिल्म सेक्स

उसने अपना लन्ड मेरे मुँह में से निकाला और बोला- बोल साली पहले रन्डी किधर डालूँ?मैं बोली- आज तक मैंने अपनी गाण्ड एक ही बार मरवाई है, आज तू इसको दुबारा चोद दे।वो बोला- चल मेरी रानी. बताओ ना प्लीज़ !विमला- यहाँ से 60 किलोमीटर दूर एक गाँव है सोनीपुर (बदला हुआ नाम) वहाँ एक छोटे से घर में बाबा जी रहते हैं। मुझे मेरी नौकरानी ने बताया था।उनके बारे में तब मैं शारदा को वहाँ लेकर गई। तीन दिन में उन्होंने शारदा के दिमाग़ को अच्छा कर दिया। अब भगवान का शुक्र है, सब अच्छा हो गया है !राधा- ओह ये तो अच्छी बात है, पर तुम ऐसे घबरा क्यों रही थी !विमला- व. वो रो रही थी। जब मैंने अपना लंड उसकी चूत से निकाला तो उस पर खून लगा था, उसकी सील टूट चुकी थी।मैंने अब उसे चूमना शुरू कर दिया, थोड़ी देर बाद उसके आंसू रुक गए, मैंने फिर अपना लंड धीरे-धीरे अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया। अब वो भी मेरा साथ दे रही थी।अब मेरा झड़ने वाला था, मैंने उसको बोला- मेरा निकलने वाला है।वो बोली- प्लीज.

भतीजे के लाड़ दुलार चल रहे हैं, उसे मलाई खिलाई जा रही है, चलो अच्छा हुआ, मैं भी कहूँ कि ये कहाँ का न्याय है कि बहू पे इतनी मुहब्बत जता रहे हो और बेचारे भतीजे को सूखा सूखा छोड़ दिया कल रात !’ चाची की आवाज आई।कहानी चलती रहेगी।2873. हम दोनों साथ ही नीचे आये और वो अपने कमरे में जाकर सो गई और मैं अपने कमरे में सो गया…कहानी जारी रहेगी।[emailprotected]कहानी का दूसरा भाग:एक दूसरे में समाये-2. डॉग और लड़की का बीएफवो भी मुझे बहुत प्यार करते उन्होंने मेरे लिए दुबई से काम छोड़ कर आ गये लेकिन मैं उनके प्यार को समझ ना सकी.

वो अपनी गांड उठाकर चुदवाने लगी, तो मैं समझ गया कि ये झड़ने वाली है और मैं जोर-जोर से चोदने लगा लेकिन मैंने अपने लंड पर थोड़ा नियंत्रण किया.

के दूसरे वर्ष में था। मेरे पड़ोस मे एक लड़की रहती थी और वो 12वीं में थी। उम्र 19 के आस-पास थी, पर लगती कॉलेज की लड़कियों जैसी मस्त गोल-मटोल, अपनी माँ की तरह उस के बड़े-बड़े मम्मे, मस्त गोल-गोल कूल्हे, ऊँचाई साढ़े 5 फुट की रही होगी, पर देखते ही लण्ड खड़ा हो जाए. उसके कामरस में इतना उबाल था कि मैं भी पिंघल गया और पूरी तेज़ी के साथ चोदते हुए उसकी चूत में ही झड़ने लगा.

नहीं तो मैं खाली हाथ न जाता।मैंने रूचि से बोला- मैं अभी थोड़ी देर में आता हूँ।तो वो बोली- भैया आप कहाँ जा रहे हो? भाई अभी आता ही होगा, केक काटने में पहले ही इतनी देर हो चुकी है और देर हो जाएगी।मैंने उससे बोला- मैं तुम्हारी माँ के लिए कुछ गिफ्ट लेने जा रहा हूँ. सिर्फ़ वही दिखती थी।आखिर वो दिन आ ही गया जब उसने मुझे अपने घर बुलाया बात करने के लिए। एक बात बताऊँ वो मेरी सीनियर थी, मेरी गांड फ़ट रही थी कि कहीं मेरे घर में बता न दे।मैं एक टॉपर स्टूडेन्ट था इसलिए मेरे सभी इज़्ज़त करते थे। मैं उसके दरवाजे पर पहुँचा तो मुझे 104 डिग्री बुखार था।उसके छोटे भाई ने मुझे कागज़ का एक टुकड़ा दिया और बोला- दीदी ने आपको देने को कहा है।उस पर लिखा था- आई लव यू. तभी सोनिया बोली- रुक जा साली, यहाँ देख!मैंने सोनिया की तरफ देखा और उसने एक शैतानी हंसी के साथ मेरी नंगी चूत की तरफ इशारा किया.

सच, मैं कुछ नहीं कहूँगी… मुझे अच्छा ही लगेगा।नलिनी भाभी- कितनी बेशर्म होती जा रही है तू?सलोनी- अरे इसमें बेशर्मी की क्या बात है… अगर मेरे प्यारे पति को और मेरी प्यारी भाभी… दोनों को अच्छा लगे तो मैं तो खुद उनका डंडा आपकी इस मुनिया में डाल दूँ… हा हा…नलिनी भाभी- चल दूर हट मेरे से… मुझे ये सब पसंद नहीं… तू ही डलवा… अलग अलग डंडे… चल ये सब बातें छोड़.

आप धीरे-धीरे डालिएगा!’मैंने कहा- चिंता मत करो सुनन्दा! मुझे भी तुम्हारी चिंता है!कह कर उसकी गांड पर थोड़ी क्रीम लगाई अपने लंड पर कण्डोम लगा लिया और गांड पर रखकर एक झटका मारा, आधा लंड घुस गया।सुनन्दा की चीख निकल गई और वो रोने लगी- मालिक निकाल लो…! मालिक बहुत दर्द है. ओह…!सचिन ताबड़-तोड़ लौड़ा पेलता रहा और आरोही तड़पती रही। बीस मिनट की चुदाई के बाद दोनों झड़ गए।अन्ना- कट… मस्त एकदम हॉट… मज़ा आ गया… इसे कहते है पर्फेक्ट शॉट…!आरोही ने सचिन को धक्का दिया, हटो भी अब. उतना खाइए !उस समय टीवी पर सावधान इंडिया आ रहा था, तो हम दोनों देखने में मस्त हो गए।तभी ब्रेक के बाद मैं बोला- गीता जी चलें, आपको देर न हो जाए !तो उसने कहा- अभी 4.

कपड़े बीएफप्यारी कामरस से लबालब भरी हुई चूत की मालिकनों को इस कामरस से लबालब भरे हुए लंड के मालिक का 69 के आसन से प्रणाम।एक ही जैसी कहानियां. आह… आह… आह… की सिसकारियाँ निकाल रही थी और मुझसे बार बार लंड को उसकी चूत के अन्दर डालने के लिये आग्रह कर रही थी.

जबरदस्त हॉट सेक्सी वीडियो

रीटा ने राजू के अकड़े लण्ड को जोर से दबा कर छोड़ दिया राजू के लण्ड की सख्ती भांप कर रीटा की सांसें भी तेज़ हो बेतरतीब हो गई. बैठो ना बेटा… वो सॉरी… ये सारे मेरे दोस्त ऐसे ही हैं।पता नहीं वो क्यों झेंप सा रहे थे, शायद अंदर हुई बात के कारण?मैंने उनका डर दूर करने के लिए ही बोला- अरे क्या अंकल आप भी… ये सब तो चलता ही है और मुझे बहुत मजा आया… यकीन मानिए, हम लोग तो इससे भी ज्यादा मजाक करते हैं। बस प्लीज अपने दोस्तों को यह मत बताना कि मैं सलोनी का हस्बैंड हूँ, बाकी सब मजाक तो चलता है. ‘My Father’पर सन्ता घबराया नहीं…उसने होशियारी दिखाई और याद किये हुए निबंध में Friend” शब्द की जगह Father” लिख कर आ गया.

मुझे शादी का माहौल बहुत पसन्द है, जी भर के मौज-मस्ती, खाना-पीना, नए लोगों से मिलना और सबसे खास चीज़…’कट्टो’. !और फ़िर उसने मेरे चेहरे को ऊपर किया और अपना मुँह मेरे मुँह से लगा कर मुझे चूमने लगा। उसने मेरे होंठों को चूसना शुरु कर दिया। कुछ देर बाद वो अपनी जुबान मेरे मुँह के अन्दर करने की कोशिश करने लगा।पहले तो मैं विरोध करने जैसा करती रही, फ़िर अपना मुँह खोल दिया। उसने अपनी जुबान मेरे जुबान से छूने की कोशिश करने लगा।कुछ देर जब उसे कामयाबी नहीं मिली, तो उसने कहा- सारिका अपनी जुबान बाहर करो. और वो लंबी भी है तो छोटी सी मिनी स्कर्ट में उसकी लंबी टाँगें और चिकनी जांघें दिखने से वो गजब की सेक्सी लग रही थी।जब उसने कपड़े चेंज करने के लिए मेरे सामने अपनी ब्रा और पैंटी उतारी तो उसे देख कर मेरे बदन में कुछ कुछ होने लगा.

वो अपने बदन पर क्रीम लगा रही थी, अपने चूचों को बड़े प्यार से मसल रही थी और सिसकारियाँ भर रही थी- आहह आहह. मैं समीर उत्तर प्रदेश में बरेली शहर में रहता हूँ।मैं अन्तर्वासना का दो साल से पाठक हूँ और अब सभी कहानियाँ पढ़ता हूँ तो सोचा कि मैं भी अपनी कहानी आप सब में शेयर करूँ।यह मेरी पहली चुदाई की कहानी है, आप सबको पसंद आएगी।सबसे पहले मैं अपने बारे में बता दूँ, मेरा नाम समीर, उम्र 24 साल, लम्बाई 5 फ़ुट 11 इंच है। दिखने में स्मार्ट और सुंदर हूँ, मेरा लंड 9 इंच लम्बा और 2. जानू तेरी चूत बहुत बार मारी है, मैंने आज मैं तेरी गाण्ड मारूँगा।इतना कह कर उसने निशा को कुतिया के जैसे बनाया और पीछे जाकर उसकी गाण्ड में लंड पेल दिया।इस पर निशा जोर से चिल्लाई- साले हरामी… धीरे कर मैं कोई रण्डी नहीं हूँ भोसड़ी के.

रीटा ने अपनी जीभ से लण्ड की गरारी को छेड़ कर पूरे जोर से चुस्सा मारा तो लण्ड ने भरभरा कर सारा रस रीटा के मुँह में छोड़ दिया. दोस्तो, मैं संजना लुधियाना वाली, आप सबके लिए एक नई कहानी लेकर आई हूँ। यह कहानी बिल्कुल काल्पनिक है। यह सिर्फ़ उन लड़के-लड़कियों के लिए है, जिनके कोई गर्लफ्रेंड या बॉयफ्रेंड नहीं हैं और वो इस कहानी को पढ़ कर अपने हाथ से अपनी काम की भूख शांत करेंगे। इसमें कोई ग़लत बात भी नहीं है क्योंकि मैं भी छोटी उम्र से ऐसा ही करती रही हूँ, तो मस्ती कीजिए.

!मैंने अब उसकी चूत पर हाथ फिराना शुरू कर दिया और धीरे से उसकी जीन्स निकाल दी, उसने अपनी पैन्टी खुद ही निकाल कर फेंक दी।वो बार-बार कह रही थी- मेरी चूत को चाटो और चाटो.

और मैं धीरे धीरे लण्ड ऊपर नीचे करने लगा, उसे भी थोड़ा मज़ा आने लगा। लण्ड अभी पूरा अंदर नहीं गया था इसलिए धीरे धीरे छेद को चौड़ा करने लगा. बीएफ आ जानापर वो धक्के लगाने से पीछे नहीं हट रहा था क्योंकि वो भी जानता था कि मैं सहयोग नहीं करुँगी।करीब 20 मिनट के बाद मुझे महसूस हुआ कि अब वो झड़ने को है. bhai सेक्सी बीएफछोटी सी चूत बड़े से बड़े आदमी को कुत्ता बना देती है, अब ये तीनों बाप बेटे मेरे गुलाम बनने वाले थे।कहानी जारी रहेगी।मुझे आप अपने विचार यहाँ मेल करें।. उसकी टांगें कांप रही थी और दिल को छू जाने वाली सिसकारियाँ अपने मुँह से निकाल रही थी जिसे सुन कर मेरा जोश और बढ़ रहा था.

इससे पहले सेक्स के नाम पर मैं सिर्फ पोर्न वीडियो देख कर मुठ मार लेता था।पर जब से अम्बिका की चुदाई की, तब से दिल में बस वो ही बस गई थी कि अब मुठ नहीं, बस अब सिर्फ चुदाई.

! सारी रात पिए मैंने उसके दूध और वो मुझे पिलाती रही !वो दिन दोस्तो, मेरा ऐसा था कि मैं उसे कभी भूल नहीं पाया। उसकी अगली रात को तो उससे भी खतरनाक हुआ मैं सोच भी नहीं सकता कि ऐसा भी हो सकता है, पर दोस्तो, वो सब भी हुआ जो आप सोच रहे हो!इस कहानी के बाद यदि आपका प्यार मुझे मिला तो जरूर मैं अगली रात के बारे में लिखूँगा। तब तक के लिए मुझे आज्ञा दीजिए।आपका दोस्त आदित्य शुक्ला[emailprotected]. छोटी सी चूत बड़े से बड़े आदमी को कुत्ता बना देती है, अब ये तीनों बाप बेटे मेरे गुलाम बनने वाले थे।कहानी जारी रहेगी।मुझे आप अपने विचार यहाँ मेल करें।. फ़िर मैंने अपने होंठ उसके एक कान पर रखे और जीभ थोड़ी सी बाहर निकाल कर उसके कान के सुराख में घुमाने लगा, उसके मुँह से तो बस सिसकारियाँ निकल रही थी और लम्बी-लम्बी साँसें ले रही थी, उसके दोनों हाथ अपने आप मेरे सिर पर आ चुके थे.

वो उठ कर चल दी तो उसके जाने के बाद मैंने सोचा ऐसे किसी अनजान घर में हूँ तो कपड़े पहन लूँ, इसलिए लाइट ऑन करने के लिए स्विच खोजने लगा. बढ़ाओ स्पीड उफ्फ आह…!रेहान अब स्पीड से झटके मारने लगा था। लौड़ा अब भी टाइट ही जा रहा था। जूही को दर्द तो हो रहा था, पर वो ओर्गज्म पर आ गई थी। वो दर्द को भूल कर चुदाई का मज़ा ले रही थी।जूही- आआ एयाया आआ फास्ट…फास्ट अई आ आ उ आ ई व्हाट ए बिग कोक आ…हह. देख लो बेटा इसका बदला ले लूँगी।रश्मि- कोई बात नहीं मैं तैयार हूँ और दोनों खिलखला कर हँस पड़ीं।फिर नेहा ने कहा- कोई बात नहीं.

सिस्टर सेक्स वीडियो

मास्टर एक किताब में से उसे कुछ पढ़ा रहा था पर लड़की का ध्यान किताब में नहीं था वो अपने मास्टर की तरफ़ कामुक नज़रों से देख रही थी. कुछ दिन बाद हमारी फोन पर भी शरारत भरी बातें भी होने लगी, जैसे क्या पहना है, क्या साइज़ है कितने बड़े है, किस रंग का है, और भी बहुत कुछ! इसमें यह भी मालूम चल गया की गाँव में उसका एक बॉय फ्रेंड भी बन गया था, और एक बार चोद कर छोड़ दिया था. करीब 20 मिनट हो गए और मेरा लंड पानी छोड़ने का नाम नहीं ले रहा था, मैं बिल्कुल थक चुका था और पसीने से भी तरबतर हो चुका था।मैंने जल्दी जल्दी झटके लगाने चाहे पर खड़े खड़े थक गया था, मैंने कहा- यार, अब नहीं होगा मुझसे ! मैं थक चुका हूँ, मैं लेट जाता हूँ, आप दोनों आकर बारी-बारी से मेरे लंड पर बैठ कर झटके लगाओ, मेरी और हिम्मत नहीं रही अब.

पर तूने अपने पति को क्या समझाया कि वो चुदाई न करने को राज़ी हो गया?शिखा रानी ने हंस कर कहा- हमने उनसे कहा कि हम कुछ दिन सिर्फ लंड चूस के आपका माल पीना चाहते हैं। आपको हमने चार साल तक मुँह में न झड़वा कर जो आपका मज़ा चूर किया हम उसकी भरपाई कम से कम दस पंद्रह दिन सिर्फ आपको चूस चूस कर आपकी मलाई ही पी कर करेंगे.

रीटा को अब एक मूसल सा लण्ड चाहिए, जो रीटा की सुलगती जवानी की ईंट से ईंट बजा दे और अपनी जवानी के झन्डे गाड़ के रख दे.

अब मैं घर में हूँ तो दीदी वैसे भी कुछ करने वाली तो है नहीं, तो बाहर निकल कर ही देख लूँ कि कौन आया है।जैसे ही मैंने अपने कमरे का दरवाजा खोल कर बाहर देखा कि एक बड़ा ही खूबसूरत रईस दिखने वाला आदमी खड़ा है. उस दिन घर आकर मैंने दसियों बार ब्रश किया होगा…अब मेरा भाभी से और दानिश से कोई लेना देना नहीं था… महीनों बीत गए दोनों से बात किये हुए।बस घर पर पढ़ाई. बरेली बीएफ वीडियोआज मेरी तमन्ना पूरी हो गई।” मैंने उसके कान में लेटे लेटे हल्के से कहा।हाँ, तुम्हे तो मज़ा आएगा ही ! मैं तो मरने ही वाला था। अब तुमसे कभी नहीं मिलूँगा।” उसने मुझे ताना मारते हुए कहा।वैसे वरुण और मैं अभी भी मिलते हैं, मेरे लंड को शुरुआत में अन्दर लेने के बाद उसे बहुत दर्द होता था, लेकिन अब उसकी गांड लचीली हो गई है और वो मज़े ले लेकर मेरे लंड से अपने गांड मरवाता है।.

मुझे मारियो बहुत पसंद है।फिर उसने बोला- ठीक है चलो तुम्हें मारियो खिलाते हैं, तब तक मैं तुम्हारी माँ के साथ खेलूँगा. जब बेटे ने दूध पीना बंद कर दिया तो मैंने उसे बेड पर लिटा कर पापाजी के पास उनके साथ चिपक कर उन्ही के बेड पर लेट गई. तुम मुझसे प्यार करती हो तो मेरे लिए इतना दर्द तो सह ही सकती ही हो न…?उसने कहा- मैं तुम्हारे लिए दुनिया का कोई भी दर्द सह सकती हूँ!फिर मैंने चूत मे लंड से हल्का सा झटका मारा तो उसके मुँह से ‘आह्ह.

पता नहीं ये सब सही भी है कि नहीं क्योंकि तुम मुझ से छोटे हो।मैंने उनको कहा- मैं आपसे छोटा हूँ पर मैं बच्चा नहीं हूँ. मुझे आज पहली बार इतना मज़ा आया है… मुझको और ज़ोर से चोदो!मैंने भी अपनी रफ्तार और बढ़ा दी और वो फिर झड़ गई और उसकी चूत ने सारा पानी बाहर फेंक दिया।अब रूम में ‘चफ.

उह उह अबे चुप साले मादरचोद इस रंडी को पूछ… मज़ा आ रहा है या नहीं… उह उह कहाँ ऐसा लौड़ा मिलेगा इसको… उह आ आ…!जूही- आ.

अब तो मेरा भी दिमाग ख़राब हो रहा था, जब भाभी उससे चुद सकती है तो मुझसे क्यूँ नहीं? अब भाभी को दूसरी नजरों से देखने लगा और मेरा दोस्त साला रोज रात की कहानियाँ बताया करता था. पहले मैंने कुछ सावधानी बरतने की सोची, मैं कमरे से बाहर निकला और सीढ़ियों से नीचे की ओर देखा के कोई आ तो नहीं रहा, फिर मैंने सोचा के नीचे चल कर देखता हूँ कि पूजा क्या कर रही है और उसे कितना वक्त लगेगा आने में. मेरा इससे क्या मतलब है !’उसने न तो मुझे खाने के लिए पूछा और धोती से अपना लंड निकाल कर मुझे दिखाते हुए कहा- चूस इसे.

लंड बीएफ वीडियो !और वो जोर-जोर से हँसने लगा। मैंने उसको शान्त किया कि कोई सुन ना ले।फ़िर मैंने उससे कहा- ऐसी बात नहीं है. !मैं सुनन्दा को प्यार भरी नजरों से देखता रहा, वो बोली- क्या देख रहे हो मालिक?मैंने कहा- तुम्हें देख रहा हूँ.

!वो बस मुझे चोदे ही चले जा रहे थे कि तभी एक झटके से अपना लण्ड बाहर निकाला और मुझे सीधा लिटा दिया, जब तक कुछ सोच पाती मनोज भैया के लण्ड से सड़के की नहर निकल पड़ी, जो मेरी चूचियों और पेट पर फ़ैल गई।हम दोनों की पस्त और निढाल हो कर गिर पड़े। मैंने प्यार से मनोज भैया का लण्ड हाथों में लिया और कहा- बहुत जान है तुम्हारे लण्ड में. फिर छीनाल मोनिका ने रीटा की चूत और गांड को एक बार फिर से कोल्ड क्रीम चुपड़ कर छः ईंच के बैंगन से जबरन चोद दिया तो रीटा को दिन में तारे नज़र आ गये. !”वो मना करने लगी और बोली- मैं तुमसे इस लिए चुदवा रही हूँ, क्यूँकि तुमसे मुझे एक बच्चा मिलेगा और तुम तो अपने मज़े के लिए ये करवा रहे हो.

इंग्लिश सेक्सी हॉट वीडियो

भईया क्या अब मैं सचमुच बड़ी हो गई हूँ?‘अच्छा देखें तो तुम कित्ती बड़ी हो गई हो?’ राजू ने हाथ रीटा की रेशमी जांघों को सहलाते सहलाते ऊपर सरकाने लगा, किन्तु हरामी रीटा ने अपनी जांघों को भींच कर हाथ को मंजिल तक पहुंचने से रोक दिया. !मैं उनकी तरफ़ा देखता रहा और उन्होंने फिर ‘काश’ के बाद कुछ ना कहा।उन्होंने कहा- मैं खुशनसीब हूँ कि तुमसे ‘करूँगीं’. लो…लो!यह कहते हुए ही मेरा पानी उसके लण्ड पे बहना शुरू हो गया।उसने मुझे एक जोरदार झटका लगा कर गालियाँ देते हुए अपनी स्पीड बढ़ा दी- आह.

!तो वो और जोर से हँसने लगे और बोले- अरे मेरी भोली रानी, यह जो तुम्हारे नीच छेद है इसे ही चूत कहते हैं. एक बार इनको तो दिखा दो वरना सपने में आते रहेंगे।रिया- ओह… तभी क्यों नहीं कहा? अब देर हो जाएगी… फिर देख लेना…मैं- फिर कब? पता नहीं मौका मिले या नहीं?रिया- क्यों अब नहीं आओगे? अरे सात दिन बाद शादी है और कई फंक्शन यहाँ भी हैं, आपको सभी में आना है, ओके… और हाँ शादी में जरूर साथ चलना, वहाँ बहुत मजा आएगा।मैं- क्यों? कहाँ जाना है? क्या बरात यहाँ नहीं आएगी?रिया- नहीं.

मेरा बाबू जी जितना मोटा तो नहीं है, पर बहुत लंबा है।’सुरेश ने अपनी पैन्ट खोल कर अपना लंड हवा में लहरा दिया।‘ओह्ह गॉड.

अब तुम जाओ।मैं ऑफिस से बाहर आ गया। उसके बाद 2-3 दिन हमारे बीच कोई बात नहीं हुई।यहाँ यह बात बता दूँ कि हमारा सेन्टर शनिवार और रविवार को बन्द रहता है, शुक्रवार को जब मैं अपनी क्लास खत्म कर जाने लगा तो मैडम बोली- अभिजित कल तुम 11. फच’ की आवाज आ रही थी और वो मुझे जोर-जोर से अपने मुँह में मुँह डाल कर चूस रही थी।मुझे तो अभी झड़ने में कुछ वक़्त था, तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ाते हुए उसके पाँव अपने कंधे पर लेकर अपनी स्पीड बढ़ाते हुए फिर चोदने लगा।अब वो भी फिर से तैयार हो गई थी और उसे काफी मजा आ रहा था। शायद मेरी स्पीड के साथ वो भी अपनी गांड उठाने कर स्पीड बढ़ा रही थी और फिर मैं झड़ने ही वाला था।मैंने उससे पूछा- कहाँ. मैं शर्म से पानी पानी हुई जा रही थी और आँखे झुकाए सोनिया के सामने खड़ी थी, अपने हाथों से अपनी नंगी चूत छुपाने की कोशिश कर रही थी.

कुछ देर बाद वह फिर सिसकारियाँ लेने लगी और मैंने फिर एक झटका लगाया तो लौड़ा पूरा अन्दर चला गया।मैंने फिर उसे चूमने लगा और फिर वो भी साथ देने लगी।उसके बाद क्या था. देखो कैसे आज चूत को चिकना किया है और इसकी चूत कैसे पानी छोड़ रही है। आप तो बस आ जाओ… घुसा दो लौड़ा इसकी चूत में और मुझे भी गाण्ड मारने दो. लग तो ऐसा ही लग रहा है जैसे खूब खिला पिला रही है इसको?सलोनी- नहीईइइइइइ इइइइइ प्लीज सर मत करिए…अरे यह क्या.

साली बहुत मस्त माल है… अगर इसकी लेनी हो तो मुझे बता देना।दोस्त ने पूछा- भाई किसी को चाहिए मस्त माल??अब आपको तो मर्दो की कमज़ोरी पता ही है… चोदने को कौन मना कर सकता है…हम घूमना छोड़ कर सीधे उस दलाल के पास गए.

बीएफ इंग्लिश फिल्म वीडियो में: हाय! माँ कित्ता मजा आ रहा है! रीटा ने अपनी गुलाबी-गुलाबी छोटी छोटी नीम सी नीमोलियों से निप्पलों को अपनी थूक से सनी उंगली और अंगूठे में घुमाने से कमसिन बदन झनझना उठा और चूत पिनपिना उठी. मुझे भी अपने ऊपर शर्म आ रही थी, मैंने सोचा कि उससे बात करूँ कि यह सब बस भावावेश में हो गया और मैं उसके पीछे हो लिया.

!ममता- लीजिए प्रसाद खाइए।रणजीत- मेरा प्रसाद तो ये है।उसके ममता के एक मम्मे को दबा दिया।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !ममता- उई माँ… क्या करते हो. ना…’मैंने चूत ढीली छोड़ दी…उसने अब मेल इंजन की तरह अपना लंड पेलना शुरू कर दिया।मुझे भी अब तेज गुदगुदी उठने लगी- हाय. इस चड्डी को उतार कर फ़ेंक दो और अपने माल को ले लो।इतना कहकर वो शरमा गई।मैंने उसकी पैंटी को उतारा तो उसकी बुर बिल्कुल गोरी.

मैं आपका पति हूँ।वो बोली- तो मैं कुछ कह रही हूँ क्या…? अब आप ही मेरे सब कुछ हो… मेरा सब कुछ आपका ही है.

यह 28वीं मंज़िल पर था और इसकी बड़ी बड़ी खिड़कियों से पूरी पोवाई लेक दिखाई दे रही थी।जॉय ने लाइट्स दीं कर दी और म्यूज़िक चालू कर दिया. ऐसे हमारी बातें दिन ब दिन ज्यादा होने लगी, मैं कभी सोचती थी कि मुझे रोहित से बात नहीं करनी चाहिए लेकिन मैं अपने आप को रोक नहीं पाती थी और मुझे भी वो बहुत अच्छा लगने लगा !धीरे धीरे हमारी बातें सेक्स के विषय पर भी होने लगी और जब भी रोहित सेक्स की बातें करता मुझे बहुत अच्छा महसूस होता, मेरे दिल की धड़कन बढ़ जाती और साँसें तेज हो जाती. वो सलोनी को पूर्णतया नग्न अवस्था में देख चुके थे, उसके सभी अंगों को भरपूर प्यार कर चुके थे …सबसे बड़ी बात… वो जब दिल चाहे उनसे मजे लेने आ जाते थे…अभी कुछ देर पहले ही मेरे सामने उन्होंने सलोनी के हर अंग… मतलब उसकी रसीली चूचियों को सहलाते हुए ब्लाउज पहनाया था.