देसी बीएफ वीडियो भोजपुरी

छवि स्रोत,मराठी भैया

तस्वीर का शीर्षक ,

फुल सेकसी: देसी बीएफ वीडियो भोजपुरी, उधर सुरेश भी परेशान हो रहा था कि कालू का कोई दोस्त उसको उलझाए हुए था.

ब्लू फिल्म गूगल

जब से मेरी अम्मी दुकान पर बैठने लगी थीं, तब से हमारी दुकान और भी अच्छे से चलने लगी थी. भाभी और देवर की सेक्ससुरेश- क्यों डार्लिंग, रात को मज़ा आया ना?सुमन- आएगा क्यों नहीं, कल रात तो आप अलग ही मूड में थे.

गीता आगे कुछ और बोलती, मुखिया ने उसका हाथ पकड़ा और अपने पास खींच कर गोदी में बैठा लिया. कुंवारी लौंडिया की सेक्सीवो तो मर गया ना … तो अब वो क्या करेगा!मीता- नहीं बाबूजी सिर्फ़ रीता ही नहीं, गांव की कई लड़कियों को वो ले गया है.

अब मुझे कब जाना है?मुखिया- आज रात को जाना है … और उसको ना बताना कि तू चुदी हुई है.देसी बीएफ वीडियो भोजपुरी: चुदाई की उत्तेजना में वो मेरे बोबे कस कर मसल देता, जिससे मैं चीख पड़ती.

मैं किचन के अन्दर जा कर सरसों के तेल की बोतल ले आया क्योंकि जैल कम बची थी.मैं भी चुदाई के जोश में लगभग ये भूल ही गया था कि बगल में भानजी भी सो रही है.

चुदाई वाला फिल्म - देसी बीएफ वीडियो भोजपुरी

5 मिनट तक जोर से पेलते हुए मैं उनकी योनि में झड़ गया और मैंने अपना मुंह उनके बूब्स पर टिका दिया.उसकी गर्मी का अंदाजा इस बात से लग रहा था कि जब भी मैं उसके कान की लौ को चूमता, तो वो मुझको कसके अपनी बांहों में जकड़ लेती.

तो दोस्तो, मेरी मौसी की चुदाई की ये गर्म कहानी कैसी लगी? आशा करता हूं कि सभी लौड़े पानी छोड़ चुके होंगे और चूतों ने भी उंगलियों से चुदवाकर अपना मुंह लाल कर लिया होगा. देसी बीएफ वीडियो भोजपुरी कामवासना अब हम दोनों के ही अंदर भड़क चुकी थी। बस अब दोनों ही जल्दी से चुदाई का मजा लेना चाहते थे। उसकी आँखें मूक सहमति दे चुकी थीं। उसने कंडोम के बारे में पूछा तो मैंने कहा कि मैं दवाई ला दूंगा.

मैं बोली- इकबाल मैं तेरे अड्डे पर काम करने तैयार हूँ, तू टाइमिंग बता.

देसी बीएफ वीडियो भोजपुरी?

उसने मुझसे कहा- मैं तुम्हारी आंखों पर पट्टी बांध देती हूँ, तुम मुझे चोदना, तभी मैं उसको अन्दर बुला लूंगी. वासना की कहानी में पढ़ें कि कैसे डॉक्टर अपनी बीवी की चूत चुदाई की तैयारी में था कि गाँव का मुखिया आ गया. आप यकीन नहीं मानोगे मेरा यह सेक्स का पहला अनुभव था और मेरी सील टूटी नहीं थी.

धीरे धीरे उसकी चूचियों को दबाकर भाभी को उत्तेजित किया और फिर उसे नंगी करके उसको चूस डाला. जब अम्मी घर आईं, तो मैंने उनसे पूछा- आप कहां गई थीं?अम्मी बोलीं- बेटा, मैं नाजिया आंटी के घर किसी काम से गयी थी. सुमन- कौन है ये हरी … और उस कुत्ते को मैं ही क्यों पसंद आई?मुखिया- बहुत बड़ा चोदू है मादरचोद … उसने तुम्हें देख लिया होगा तो उसका तुम पर दिल आ गया.

अखबार पढ़ते पढ़ते उन्होंने मुझसे कहा- बेटा, आज शाम को ऑफिस से निकलने के बाद मेरा एक काम कर दोगे?मैं- जी हां पापा बेशक, आपको पूछना नहीं चाहिए, आप बस हुक्म कीजिए. भाभी की चूत तक मैं पहुंच कर भी उनकी चूत में लंड डालने से चूक गया था. कुछ दिन हम लोग गाँव में रहे और उसके बाद दिल्ली आ गए और अपना जीवन खुशी से जीने लगे.

मैंने पोर्न में देखा था, गांड में लंड लेने से भी बहुत मजा आता है, लेकिन वो अगली बार लूंगी. तब धीरज बोला- क्या आप लंड की मालिश करती हो आंटी!अम्मी बोलीं- हां मैं करती हूँ, लेकिन उसका पांच सौ रूपए एक्स्ट्रा चार्ज लगता है.

वो जल्दी से हाथ छुड़ाकर बोलीं- बेशर्म …ये कह कर वो अपने कमरे में भाग गईं और वहां से मुस्कुराने लगीं.

मैंने पूरा लंड घुसा दिया और अब वो लगभग बेहोशी के कगार पर पहुंच गयी.

फिर वो सिसकारते हुए बोली- अब डाल दे हरामी मादरचोद … कर ले अपनी हसरत पूरी … तूने मुझे भी आज चुदने पर मजबूर कर दिया है … जल्दी से चोद दे अब मुझे … कई दिन से तेरे पापा के लंड को मिस कर रही थी. दिव्या के लम्बे बाल हवा में झूल रहे थे और मैं उसके पतले पेट को पकड़कर उसके चूचुकों को चूसते हुए उसकी चुत चुदाई कर रहा था. मैं उसको बेड के एक कोने पर ले गया और उधर तेल की शीशी उठा कर उसकी बुर में … और अपने लंड में लगा लिया, ताकि उसको दर्द न हो.

बलराम- जा … लेकिन कभी कभी चौकी पर भी आया करो, तुम्हारे गांव में नया आया हूँ. मैं खुद नहीं कहती कि मैं सुन्दर हूं लेकिन मेरे हुस्न के दीवानों की संख्या ही ये कहती है कि मैं सेक्सी और हॉट हूं. एक बार मेरी चूतफाड़ चुदाई कर दो तो मेरी चूत की खुजली शांत हो जायेगी.

अब आप जल्दी बताओ मैं क्या करूं … क्या अब मैं अपने कपड़े निकालूं?उसको चुदने की बहुत जल्दी हो रही थी.

भाभी ने मेरा सारा रस निचोड़ लिया और लंड को चाटकर अच्छे से साफ भी कर दिया. अपने एक हाथ से मैं उसके 34 इंच के चूचों को दबाने लगा, तो उसकी कामुक सीत्कार निकलने लगी. खूब अच्छी तरह से अब्बू का लंड अपनी चूत में उतरवाने के लिए वो फ्री हो गई थीं.

रणजीत- वाह रे मुनिया, तू तो बहुत बड़ी हो गई रे, तेरी भाबी बता रही थी तू भी उसका काम में बराबर साथ दे रही है. मैंने पैंटी निकाल कर पैंटी में लगे रस को भी चाट लिया और पैंटी को दूर फैंक दिया. मैं जिन्दगी में पहली बार किसी जवान लड़की की चूचियों की इस तरह से अपनी आंखों के सामने नंगी देख रहा था.

मैंने भी अपने लोअर को नीचे खिसकाने का उपक्रम किया, तो उसने अपने हाथों से मेरे लोअर को चड्डी समेत नीचे कर दिया.

दो बार चोदने के बाद फिर मैं वहां से आ गया क्योंकि बैंक में जाकर हाजिरी लगाना भी जरूरी था. उसकी गांड में लंड लगाकर मैं उसकी पीठ को चूमने लगा और वो जोर जोर से सिसकारने लगी.

देसी बीएफ वीडियो भोजपुरी फिर अंदर ही अंदर लौड़े को चूसने लगी और जब बाहर निकाला तो मेरा लंड एकदम से साफ था. मुझे पोर्न देख कर बगल चाटने, थूक अदला बदली जैसी फेटिश चीजें बहुत पसंद हैं.

देसी बीएफ वीडियो भोजपुरी आधे घंटे के बाद सोनिया अपनी क्लास से वापस आ गयी और रूम का दरवाजा खटखटाने लगी. तीनों एक ही घर में रहते हैं और नजदीक के कस्बे में कपड़ों का शोरूम चलाते हैं.

मैंने अपनी गांड को आगे पीछे करते हुए उसकी चूत में लंड को अंदर बाहर करना शुरू कर दिया.

सेक्सी गर्ल्स बीएफ एचडी

आंटी की चूत का सारा पानी मैंने पी लिया और चूत को चाटकर साफ कर दिया. मैंने रंडी के साथ सेक्स किया हुआ था लेकिन आप तो जानते हैं कि रंडी और बंदी में कितना अंतर होता है. मुखिया- चुप हरामखोर, मेरा पाला हुआ कुत्ता आज मुझ पर ही भौंक रहा है.

इस सेक्स चुत चुदाई कहानी में पढ़ें कि कैसे हवेली में डॉक्टर की बीवी को किसी लड़की की आवाज सुनायी दी. मधु ने मुझसे यह सब बताया और कहा कि आज तुम्हारी किस्मत है, तुम संजना की भी ले लेना … लेकिन तुमको अपनी आँखों पर पट्टी बांध के उसकी लेनी पड़ेगी. उन्होंने मेरा लंड पकड़ा और घुटने के बल बैठ कर मेरा लंड मुँह में ले लिया और चूसने लगीं.

इतना मजा दुनिया की किसी और चीज में नहीं है जितना कि एक जवान सेक्सी लड़की की चुदाई करने में है.

मुझे असलियत और सपने में फर्क पता ही नहीं चला और मैं बड़ी भाभी के निप्पल को चूसता चला गया. फिर मैंने एक जोर का धक्का मारा तो मेरा 4 इंच लंड उसकी गांड में अंदर बढ़ता हुआ घुस गया. वो बोली- तू फिर आज अंदर आ गया? अब कौन सी आफत आ गयी?मैं बोला- भाभी, बाहर कोई भी नहीं है.

जैसे ही उसने मुझे देखा कि वो तुरंत ही चिल्लाती हुई घबरा गई और दौड़ कर अपने रूम की ओर भागी. वो भी मेरी निक्कर की ओर मेरे लंड को उछलते हुए देखकर मुस्करा रही थी. भाभी मेरी ओर देखकर बोलीं- क्या कहा!मैं भाभी के पास को गया और उनकी नशीली आंखों में देखने लगा.

मेरे बदन में झटके लगने लगे और मैंने उसकी गर्म कुंवारी चूत में अपना गर्म गर्म वीर्य भर दिया. आह्ह मजा आ रहा है … ओह्ह … अम्म … और जोर से!कुछ देर चूत को चाटने के बाद मैंने उनकी चूत में अपनी उंगली घुसा दी.

राहुल ने उससे पूछा- तुम्हें मैं कैसा लगा?रूचि ने शर्मा कर अपनी नजरें उठाईं और राहुल के सीने से लग गई. फोन को जेब में रख कर बाइक स्टार्ट करके अभी थोड़ा आगे ही पहुंचा था कि मेरी बाइक के पिछले पहिये में से हवा निकल गई. अब हरी की जीभ अपना कमाल दिखा रही थी और सुमन की चुत को कुरेदने लगी थी.

मेरी माँ की चूत पूरी क्लीन थी और वो माँ की चूत में उंगली देकर उनकी फिंगरिंग करने लगा.

रोशनी आई, तो सबने उससे बोला कि तू हमारे साथ रह सकती है, पर तूने किसी को बिगाड़ा या गलत संगत में डाला, तो अच्छा नहीं होगा. मैंने उसकी गांड के नीचे तकिया रखा और उसकी चूत को चाट चाट कर गीली करने लगा. फिर मैं मेरा हाथ नीचे उसकी चूत पर ले गया और एक हाथ से चूचे दबाते हुए दूसरे से उसकी चूत को सहलाने लगा.

अब मेरी मानसिकता का स्तर भी बढ़ चुका था। थोड़ा सा अहं भाव भी आ गया था. मैंने राजेश को फोन किया कि वो कितने बजे तक आयेगा तो उसने बोला कि डेढ़ दो घंटे में वो पहुंच जायेगा.

ये देसी लड़की की चुदाई कहानी मुझसे कुछ साल छोटी एक प्यारी सी लड़की की है, जिसका नाम सुशी (बदला हुआ नाम) है. उसके ब्लाउज के साइड से कंधे के ऊपर उसकी लाल ब्रा की पट्टियां भी मुझे दिख रही थीं. मैं इसके आगे नहीं बढ़ पा रहा था … क्योंकि मुझे अन्दर हाथ डालने की जगह नहीं मिल रही थी.

इंडियन बीएफ इंडियन बीएफ हिंदी

एक दिन मैं ऐसे ही ग्रिंडर पर सर्च कर रहा था, तो मुझे एक प्रोफाइल दिखी.

वो ऊं … ऊं … हुफ्फ … फू … फू … करके अपनी चूत में उठे दर्द को बयां करने लगी. सन्नो- साला कमीना कितना अकड़ता है, मैं तो खुशखबरी देने गई थी, उल्टा मुझे ही भगा दिया, अब तो मैं उसको थोड़ा और तड़पाऊंगी. आपको मेरी भाभी हॉट चीटिंग सेक्स स्टोरी कैसी लगी, प्लीज़ मुझे मेल करके जरूर बताएं.

मगर इतने में ही वो हलचल करने लगी और मैंने घबराकर अपना हाथ तेजी से बाहर खींच लिया. मैं भी नाश्ता खत्म करके अपने कमरे में आ गया, क्योंकि मेरा फोन बज रहा था. भाभी का बफमेरे हर अंग को अच्छे से चूसो जान, आज मेरे अन्दर की सारी आग को बुझा दो जानू … आह मेरे बड़े बड़े चूचों को चूस कर खा जाओ.

मुखिया अपने मुनीम के साथ कोई जरूरी बातें कर रहा था, तभी सन्नो और मुनिया उनके पास चली गईं. मैं बोला- बेटा असली मजा तो अभी लेना बाकी है, नेक्स्ट राउंड में तू उसकी चुत मारेगा.

एक दिन मैं ऐसे ही ग्रिंडर पर सर्च कर रहा था, तो मुझे एक प्रोफाइल दिखी. शबाना- अरे तुम कब आए?मैं- मैं बस अभी ही आया हूँ, तुम नहीं गई शादी में?उसने इस बात का कोई जवाब नहीं दिया, वो बस एक मुस्कान के साथ रसोई में चली गई. मुझे अपनी चुत में हूक सी उठ रही थी कि कब समधी जी अपना लंड पेल कर मुझे ठंडा कर दें.

हम दोनों ने कुछ देर फिर से एक दूसरे को चूसा और फिर मैंने भाभी की साड़ी को नीचे से उठा दिया. शायद उसका दर्द अब कम हो गया था। अब उसे दर्द कम और मजा ज्यादा आने लगा था।करीब 20 मिनट तक जोरदार चुदाई चली. मैं बोला- ना, मेरी नीला … मेरी रानी है, उसे मैं ही अकेले नहला क़े, तैयार करके घर भेजूंगा.

उसकी चूत का छेद अब खुल चुका था और मेरा लंड सटासट उसकी चूत में अंदर बाहर हो रहा था.

बस मेरा लंड एकदम से अकड़ा और मैं दीदी की ब्रा में ही वीर्यपात कर बैठा. वो जैसे ही टॉवल उठाने झुकी तो ओह्हहह ये क्या दिखा दिया सिमरन ने … उसकी टाइट चूत और टाइट गांड के छेद दिख गए.

वो दिन में दो तीन बार मुझे कॉल करके बातें भी कर लेती, रात को रोज हम वीडियो कॉल एक दूसरे को देखते और चुदाई की बातें करने लगे थे. वो खुद भी मेरे साथ इस दौर की चुदाई की मस्ती को भरपूर जीना चाहती थी. वो चित लेट गया तो मैंने उसके पैर अपने कंधे पर लिए और एक ही झटके में पूरा लंड उसकी गांड में घुसा दिया.

उसने जाते टाइम मेरे हाथ में एक छोटा सा बैग पकड़ा दिया और गले लग कर मिली. थोड़ी देर तक दोनों बातें करते रहे और सुरेश ने मीता को कुछ बातें समझाईं, जैसे फुन्नी को चुत कहते हैं और अगली बार उसको अलग मज़ा देगा वगैरह. मैंने उनको गालों पर चूमा और उनसे कहा- अब आप मेरे लंड पर धीरे-धीरे ऊपर-नीचे होइए।वो गति में आ गयीं और मैं उनकी कमर को पकड़ कर ऊपर-नीचे होने में उनकी मदद करने लगा.

देसी बीएफ वीडियो भोजपुरी भाभी ने चुदास भरे स्वर में कहा- जानू जल्दी से मेरी प्यास मिटा दो, मैं ज़िन्दगी भर तेरी जान बनकर रहूंगी. उनकी ऐसी काम क्रीड़ाओं से मैं शीघ्र ही पुनः गर्म होने लगी और मेरी कमर अपने आप ही ऊपर उठने लगी.

सेक्स सेक्सी बीएफ चाहिए

यहां तक कि मैंने कभी उनकी ब्रा और पैंटी को छत पर सूखते हुए भी नहीं देखा था. फिर धीरे धीरे से नीचे होते हुए मेरे लंड पर बैठती चली गई और मेरा लंड उसकी चूत में घुसता चला गया. जब मैं रोशनी की सेक्सी चूत के दाने को मसलते हुए उसकी चुत की दीवारों को चाटता, तब वो पागल होकर अपनी गांड उठाने लगती थी.

मेरी सुहागरात की चुदाई कहानी में पढ़ें कि मेरी शादी से पहले मेरी मंगेतर ने कुछ शर्तें रख दी. मैंने उसे घुटनों पर बिठाया और खुद खड़ा होकर कंडोम निकाल कर उसके मुँह पर लंड लगा कर मुठ मारने लगा. देसी ट्रिपल एक्सदोस्तो, मेरी दीदी की मदमस्त जवानी मेरे लंड से चुदने के लिए तड़फ रही थी.

थोड़ी ही देर में हम दोनों सहेलियां एक दूसरे से लिपट कर नंगी ही सो गईं.

ये मेरी पहली शर्त रहती थी कि लंड चूसने के 5 मिनट बाद चूत में लंड लेना ही पड़ेगा. हैलो फ्रेंड्स, मैं पिंकी सेन आपको अपनी सेक्स कहानी के इस पहले एपिसोड के तीसरे भाग का मजा देने आ गई हूँ.

जब तक सुरेश मीनू के मुँह में लंड डालता, उससे पहले रघु ने लंड को चुत पर टिकाया और घाप से लंड चुत में पेल दिया. सुरेश की बात सुनकर गीता घबरा गई क्योंकि वो तो जानती थी कि ये सब चुदाई के कारण हो रहा है. फिर कुछ देर बाद बुआ ने मुझसे कहा- तुम टीवी देखो, मैं नहा कर आती हूँ.

काफी देर तक ऐसा करते करते मैंने मौसी की साड़ी को ऊपर उठाया और अपना एक हाथ सीधे उनकी चूत पर रख दिया.

मुझसे और नहीं सहा जा रहा था, तो मैंने उसकी कोमल टांगों को हाथों से फैला कर एक जुल्मी की तरह एक झटके में आधा लंड अन्दर डाल दिया. उसी रात में सोते समय मुझे अंकिता की याद आई, तो मैंने उसके बारे में सोचा कि अगर वो पट जाए तो मजा ही आ जाए. सबने उससे शामिल करने से मना किया, पर मैंने बोला- यार वो ये सब पहले करती थी, अब नहीं करती है.

ಸೆಕ್ಸ್ ಚಿತ್ರಗಳುमैं उन्हें कमर के ऊपर से हाथ लेकर दबा रहा था। मैं उनके ऊपर झुक कर मामी के भूरे बूब्स को जी भर कर पी रहा था। अब मैं मामी की चूत में लौड़ा डाल देना चाहता था।मैं दोबारा उनकी सीट पर आया और लौड़ा चूत में लगा दिया. वैसे अचानक ये कुत्ता भड़क कैसे गया?कालू- आप तो जानते ही हो मालिक, ये हरी एक नंबर का बेवड़ा और रंडीबाज है.

बीएफ सेक्सी नेपाली बीएफ सेक्सी

तभी एक दिन अंशुमन भैया ने बताया कि अगले 3 हफ्तों में उनके सेमेस्टर की परीक्षाएं खत्म हो जाएंगी और अगला सेमेस्टर शुरू होने से पहले एक महीने की छुट्टियां हैं. दो मिनट बाद अचानक से भाभी ने दरवाजा खोल दिया और मैं वहीं पर लंड को बाहर निकाल कर हाथ में लिये हुए मुठ मार रहा था. गाँव के डॉक्टर की बीवी मुखिया जी का बिस्तर गर्म कर रही थी और डॉक्टर की नजर कुंवारी लड़की पर थी जिसे उसने दवाखाने में अपनी मदद के लिए रख लिया था.

उसके चेहरे पर शिकन आ गयी थी और वो मेरे लंड के धक्के अब मुश्किल से बर्दाश्त कर पा रही थी. फिर पानी निकालने ने टाइम मैंने लंड खींचा और उसको नीचे बैठा कर उसके मुँह में लंड दे दिया. मैंने जान बूझकर हाथ बैग पर न लगा कर उसकी टांगों को लगाया और पकड़ कर कहा- ये तो काफी मुलायम बैग है.

उन ब्रा में से मुझे उनकी जाली वाली ट्रांसपेरेंट ब्रा बड़ी मादक लग रही थी. बहुत दिन से भाबी को मर्द का प्यार नहीं मिला था इसलिए वो तड़प गयी थी. सन्नो ने मुनिया को समझा दिया कि कैसे उसको रात को आना है … और वो रणजीत को बिना बताए उसका लंड चुसवाएगी.

शिखा बोली- कैसा लगा जान कल रात को?मैंने कहा- सच बताऊं, तो एक अलग ही अहसास हुआ. पर मेरे साथ वो एकदम खुली रहती थी और जो उसके मन में आता था, करती थी.

ये एडल्ट सेक्सी चैट ऑन फोन दो साल पहले की उस समय की है, जब मैं इक्कीस साल का था.

मैं अब तक कइयों का लंड ले चुकी हूं, लेकिन किसी ने मुझे आज तक लंड डालने से पहले इस तरह मजा नहीं दिया. देसी मैडम की चुदाईमैंने हंसते हुए कहा- हां … वो तो मैंने चख कर देख लिया … बहुत मीठा रस था … हाहाहा. உயர்த்தி செக்ஸ் வீடியோमैं बोला- भाभी, मुझे तुम्हारी चूत चाहिए … मैं तुम्हें चोदना चाहता हूँ. मैंने उसे कैसे चोदा?दोस्तो, मैं प्रेम अन्तर्वासना पर आपका स्वागत करता हूँ.

एक दिन अचानक चाची (भाभी की सास) सीढ़ियों से फिसल कर गिर गईं, जिसके कारण उनका एक पैर टूट गया.

मैं नीला भाभी से एक फैमिली फंक्शन में मिला था, पहली ही मुलाकात में मुझे वो भाभी पसंद आ गयी थी और शायद मैं भी उसे. जब मैंने लंड को बाहर निकाला तो जो पोलीथीन लंड पर पहनी थी वो उसकी चूत में ही रह गयी. हालांकि मैं अपनी पसंद की बात कहूँ, तो मुझे थोड़ी सांवली लड़की ज्यादा हॉट लगती है.

मैंने उनको थोड़ा और टाइटली हग किया, जिस कारण उनके बूब्स मेरी छाती में दब गए. मैंने रोबीना से पूछा- अपना पानी कहां निकालूं?तो मेरी बीवी समीना बोली- इसके मुंह में निकालो. वो अभी भी हल्की सी कराह रही थी लेकिन धीरे धीरे उसका दर्द अब मजे में तब्दील हो रहा था.

द्वारका बीएफ

तो बुआ ने मुझसे पूछा- किधर जा रहे हो?मैंने बोल दिया- मेहमानों के लिए एक फ्लैट लिया है, उसमें कुछ काम है बुआ, शाम तक आ जाऊंगा. इधर सुरेश भी कोई तगड़ा मर्द नहीं था, वो तो पहले ही बहुत ज़्यादा उत्तेजित था. कभी मैं उसकी चूत में उंगली से चोदने लगता तो कभी फिर से जीभ डालकर चूसने लगता.

प्यार से मनाकर मैंने उसको नीचे लिटाया और फिर से उसके बदन को सहलाने चूमने लगा.

मैंने एक बार फिर से नताशा को बेड पर पटका और जोर से उसके गुलाबी होंठों को चूसने लगा.

एक दिन मैंने चूत में माल डलवाने के बाद कहा- आप रोज पांडेय सर को लाने की बात कहते हो लेकिन कभी लेकर नहीं आते. फिर वो खाना बनाने लगीं और मुझसे मेरी लाइफ के बारे में बात करने लगीं. सेक्स सेक्स सेक्स सेक्स सेक्सी वीडियोजब शाम के 7 बजे के आसपास मेरी नींद खुली और मैं अपने रूम से बाहर आया.

रीमा मैडम इस बात से बिल्कुल जैसे बेफिक्र थी कि उसका पति भी उसको चुदते हुए देख रहा है. ग्रेजुएशन करने के बाद मैंने देश के एक प्रतिष्ठित महिला कॉलेज में एम. जैसे ही हम शहर से बाहर सुनसान सड़क पर पहुंचे मौसा जी ने मुझे छेड़ना सताना शुरू कर दिया.

कुल मिलकर पोज़ ऐसा बन गया था कि मुखिया का लंड गीता की गांड के छेद पर टिका हुआ था और वॉल खोलने के बहाने मुखिया धीरे धीरे झटके मार रहा था. उधर मेरे पति नमन का फोन भी लगभग रोज ही आता कि जल्दी आ जाओ … बची हुई छुट्टियां कैन्सिल कर दो.

हा … अहा!शबाना दर्द से तड़फने लगी- आह … खुदा के वास्ते निकाल लो … नहीं तो मैं मर जाऊँगी.

रघु समझ गया कि मीता के सामने डॉक्टर साब कुछ बताना नहीं चाहते, तो वो चुपचाप उठा और अन्दर चला गया. एक ने कहा कि तू परमार की वजह हमारे साथ है, वर्ना हम सबने तो मना कर दिया था. उसके चेहरे पर शिकन आ गयी थी और वो मेरे लंड के धक्के अब मुश्किल से बर्दाश्त कर पा रही थी.

क्सक्सक्स भाभी वो आँख बंद करके सिसकारी लेने लगा- उह्ह … आह्ह … स्स् … आह्ह … हाय … चूस … मेरी जान … और चूस।कुछ देर चूसने चाटने के बाद मैंने अपनी गांड को उसके मुंह पर रख दिया और वो मेरी गांड को चाटने लगा. उसी रात मेरे हस्बैंड मुझे एकदम नंगी करके मस्ती से चोद रहे थे लेकिन जब से पांडेय सर ने मेरी मस्त जवानी पर अपना जादू चलाया था तब से मैं तो उन्हीं से चुदाई के सपने देखने लगी थी.

मेरे मुंह से सिसकारियां निकलने लगीं- आह्ह … मामी … उफ्फ … ओह्ह … मजा दे रही हो आप तो बहुत … आह्ह चूसो मामी … पूरा चूस जाओ. वो कहते हैं ना कि जब आप किसी को दिल से पाना चाहते हो, तो भगवान भी आपकी मदद करता है. मैं अपने कंधे से रवि का हाथ हटाकर उसको बेड पर सुलाने की कोशिश करने लगा.

सेक्स बीएफ चुदाई एचडी

मैंने आंटी को बेड पर गिरा लिया और उसकी मैक्सी में हाथ देकर उसकी चूचियों को दबाने लगा. दीक्षा- अच्छा दे दूंगी, पर बाद में भेजूंगी ओके!मैं- थैंक्यू दीदी सो मच. उसने अपने हाथ से एक चूची मेरे मुँह में ठेल दी और मैं उसकी चूची की मिठास लेने लगा.

सुमन को पता था मुखिया जी छिप कर सब देख रहे हैं, इसलिए वो और भी ज़्यादा सेक्सी अंदाज में लंड को चूसने लगी. सुरेश- आह बस रघु … अब मेरा निकलने वाला है … तू आ जा और मीनू की चुत को संभाल … मैं अपना रस इसके मुँह में निकाल दूंगा.

जाने से पहले वो एक बार फिर मेरे गले से लग गयी और मुझे एक लम्बा सा फ्रेंच किस किया.

मेरी ये बात सुनकर नीला बाहर आ गई और बोली- मुझे और कितना चोदोगे हरामजादो, जो भी करना है, करो … पर शाम को मुझे टाइम से घर छोड़ देना, नहीं तो फिर कभी ऐसा मजा नहीं दूँगी. लेकिन मुझे क्या पता था कि मुझे यहां मेरे जीवन की सबसे प्यारी सी लड़की की चूत मिलने वाली थी. कुछ देर बाद वो बाथरूम से लौट कर आया, तो मैंने हंस कर पूछा- तो कैसा लगा मेरे माल का टेस्ट?वो कुछ नहीं बोला और स्माइल करके बेड पर मेरे बाजू में लेट गया.

देसी फैमिली सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं अपनी मौसी के घर गया तो मेरा मन बहकने लगा. मैं ये सोचने लगा कि काश मेरी भी ऐसी वाइफ मिले, तो जिंदगी जन्नत बन जाए. अम्मी घड़ी में टाइम देखकर बार बार मुस्कुरा रही थीं, मैं समझ गया कि हो न हो … ये बेसब्री अब्बू के लिए है.

कई लड़कियों के तो बॉय फ्रेंड्स भी थे जिनके साथ वो यौन क्रीड़ा करके आनंदित होती रहती थीं.

देसी बीएफ वीडियो भोजपुरी: मुखिया- क्यों मेरी रानी, तुझे मेरा लंड बहुत पसंद आ गया क्या … जो सिर्फ़ मुझसे ही चुदेगी, उससे नहीं?गीता- ऐसी बात नहीं है मालिक, आपने एक बार कर लिया, ये बात सिर्फ़ आप तक है. यदि आपको ट्रेन सेक्स कहानी पसंद आयी हो तो मैं आपके लिए आने वाले समय में भी कईरियल लाइफ एक्सपीरियंसलेकर आऊंगा.

मैंने जैसे ही उसकी चुत पर अपनी जीभ को रखा और उसकी क्लिट को कुरेदा, तो वो एकदम से चिहुंक उठी. मगर फिर भी रसीली चूतों का मैं बहुत बड़ा भोगी हूं और मुझे ऐसी चूतें बहुत पसंद हैं. फिर मैंने धीरे से उनकी एक चूची पर मुंह रख दिया और उसको आराम से चूसने लगा.

सुरेश- अरे बाप रे, इतना अंधविश्वास … चल जाने दे, इसके बारे में बाद में बात करेंगे.

तभी एक दिन मैंने देखा कि अम्मी करीब 6-30 बजे रूम से आकर पहले मेरे कमरे में आईं. उसकी चुत का पानी निकल गया था, वो झड़ने के बाद एकदम से निढाल सी हो गई थी. भाभी की सिसकारियां लगातार बढ़ती जा रही थीं और मैं भाभी की चूत का भरपूर आनंद ले रहा था।मैंने बहुत देर तक भाभी की चूत में उंगली से चोदा और एक बार फिर से उसकी चूत को चाटने लगा.