इंग्लिश बीएफ मोटी

छवि स्रोत,देहाती बीएफ बीपी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी बीएफ हिंदी मे: इंग्लिश बीएफ मोटी, मैं उनकी पीठ पर हाथ से उनकी नर्म त्वचा को मसलते हुए उनके माथे पर किस कर रहा था.

देसी नंगी ब्लू

तुम लोग भी आओ, तो मैं बोलता भाई को!हम लोग बोले- नेकी और पूछ पूछ… सारे भाई एक दिन ही वर्जिनिटी तोड़ते हैं. सेक्सी बीएफ जंगल कीउसे मैंने सौ रुपए देना चाहे, उसने नहीं लिए, बोला- आज रहने दें, मेरी तरफ से!दूसरे दिन वो फिर आया.

ऐसा लगा जैसे वो किसी अदृश्य शक्ति से बातें कर रहे हैं, फिर उन्होंने वल्लिका से कहा- पवित्र शक्तियाँ आदेश दे रही हैं कि मुझे ही यह अशुद्धि नियोग करना होगा और वो भी आज ही. सेक्स नंगी फिल्म हिंदी मेंजब परेड खत्म हुई लगभग 7:00 बजे तो हम भाई बहन उसी गाड़ी से वापस आने लगे तो उस गाड़ी वाले ने उस गाड़ी में कुछ ज्यादा ही पैसेंजर बैठा लिए, उस गाड़ी में बहुत भीड़ हो गई थी.

कुछ देर बाद मैंने उनसे पूछा- भाभी आप कितनी देर से वहा पे खड़ी थीं?उन्होंने कहा- जब तुम मुझे याद कर रहे थे.इंग्लिश बीएफ मोटी: मैं बोली- बस इन दोनों के कपड़े उतार कर नंगी लिटा देना है, फिर दुल्हा-दुल्हन एक साथ सोएंगे और दोनों एक दूसरे को मिलकर चोदेंगे.

मैं अब सुरेश के बारे में सोचता था कि सुरेश अपनी फैमिली से दूर हैं तो उन्हें भी रात को उनके पत्नी की याद आती होगी.मैंने हां बोला, तो भाभी मेरे लंड को चूसने लगीं और 7-8 मिनट में ही मेरे लंड से पानी निकल कर भाभी के मम्मों पर गिर गया.

नंगा नंगी का वीडियो - इंग्लिश बीएफ मोटी

मैं डर गया और उन्हें रोकने की कोशिश करने लगा, पर उनका मर्दों जैसा भारी शरीर मुझ पर ही भारी पड़ रहा था.आंटी जिस जोश से चुदवा रही थीं, उससे ऐसा लग रहा था कि इनके लिए तो दो-तीन लंड भी कम हैं.

मैंने पूछा- क्या?वो बोला- ठंडा दे दो या फिर सादा पानी ए प्या दो।मैंने कहा- ठीक है, तुम नहा तो लो तब तक?उसने पूछा- गुसलखाना कित है. इंग्लिश बीएफ मोटी मैं आराम करने लगी, मुझसे 3 दिन तक ठीक से चलते नहीं बना था और हल्का हल्का दर्द भी हो रहा था.

मयूरी उठती हुई- ये गर्मी कही मेरी वजह से तो नहीं?मयूरी जब उठ रही थी तो उसने अपनी चूचियों को जान बूझकर उसके चेहरे में सटा दिया और ऐसे नाटक करने लगी जैसे गलती से हुआ हो… विक्रम को मयूरी की चूचियों की वो मुलायम सी छुअन बेचैन कर गयी और जाते वक्त मयूरी ने अपनी गांड को भी उसके चेहरे पर सटा दिया।विक्रम मयूरी के इन आघातों से पूरी तरह घायल हुआ जा रहा था.

इंग्लिश बीएफ मोटी?

अब मैंने धक्के तेज कर दिए धचच फच्च ध्च्च फच्च मैं पूरे जोर से लगा था, मेरी सांस जोर से चलने लगी. मुझे परेशान समझ कर वो मेरे पास बैठ कर अपने हाथों से मेरे माथे को और मेरे चेहरे को सहलाने लगीं और मैं गहरी नींद में होने का नाटक करते हुए धीरे धीरे बड़बड़ाने लगा. अब रितु ने बोलना शुरू किया- मैं गयी … मैं गयी!और मैंने अपने धक्के बढ़ा दिए और जोर जोर से चोदने लगा.

वो जोर जोर से सिसकारियां ले रही थीं और उनके मुँह से आवाजें निकल रहीं थीं- उँह उंह आह आह. फिर एक दिन उन्होंने मुझे कॉल किया और बताया कि उनकी बाइक स्टार्ट नहीं हो रही, क्या मैं उनके बच्चे को क्लब से घर पे लेकर आ सकता हूं. फिर धीरे से थोड़ा पीछे और फिर अन्दर की ओर दबाया लेकिन चूत बहुत टाइट थी और लंड अंदर जा नहीं रहा था.

फिर सोते वक्त मौका देखकर उन्होंने अपना फोन देते हुए कहा कि जल्दी से नम्बर सेव कर दो. वो अपने लंड पर कंडोम लगाया था और उसका खड़ा लंड कंडोम की वजह से एकदम चमक रहा था. उसने उसी पल अपना मुँह ऊपर उठाकर मुँह खोला और आवाज निकाली- आ… आ…हा… ओह… अम… गई…फिर वो मेरे सीने पर गिर गई, गिरते ही वो तीन बार थरथराई.

मुझे लड़कों के साथ सेक्स करने में उतना ही मज़ा आता है, जितना कि किसी लड़के को लड़की के साथ करने में आता है, मुझे भी लड़कियों में इंट्रेस्ट उतना ही है. मेरी चुत को आज पहली बार सही में कोई लंड मिल रहा था और वो भी बहुत लंबा और मोटा.

कुछ दिन दीदी रुकी, फिर दीदी को छोड़ने के लिए मैं और मम्मी दीदी की ससुराल गये। वहां पर हम सब से मिले.

तब उसने बोला- मतलब तुम अभी तक कुंवारे हो??मैंने भी हाँ में सर हिला दिया तो उसने कहा- मैंने भी काफ़ी टाइम से सेक्स नहीं किया है.

मैं भी उसको देख देख उत्तेजना में बह गया और दीवाल की आड़ ले सुस्ताने लगा, राज भी अंतिम पड़ाव में था, उसने मंजू की टांगें खींच कर बेड से बाहर की और उसकी दोनों टांगों के बीच खड़ा हो गया. मैंने पहली बार दो हट्टे कट्टे मसकुलर मर्दों को इस मस्ती से एक दूसरे की गांड मारते मरवाते देखा था. मैंने आंखें बंद कर लीं और टोपे तक मुँह ले आती और फिर पूरे ज़ोर से मुंह खोल कर जितना मुँह के अंदर लिया जाता, ले जाती।मुँह के झटके मैंने मुठ्ठियां भींच कर मैंने तूफानी रफ्तार में शुरू कर दिया।मैं चाहती थी कि वो झड़ जाए ताकि मुझे थोड़ा वक्त मिल सके खुद को तैयार करने में। लेकिन वो झड़ा नहीं, 10 मिनट में मेरे जबड़े दर्द करने लगे.

आज तक देखी नहीं, मैं भी तो जरा देख लूँ कि ये ब्लू फिल्म होती कैसी है और सुन बढ़िया वाली ही देना. उसके बाद अब उसने अपने लंड पे लोशन लगाया और मेरी गांड के छेद पर भी लगा कर अपना लंड मेरी गांड के छेद पर फिट कर दिया. क्योंकि जब ऊपर वाले ने लंड के लिए इतनी बढ़िया चीज़ चुत दी है, तो गांड पे क्यों ध्यान दें.

भाभी 15 मिनट तक मेरे लौड़े की सवारी करती रहीं और मैं उनकी चूचियों को दबा दबा कर पीता रहा.

भाभी- मेरी गाड़ी ख़राब है, क्या मुझे बाजार तक छोड़ दोगे?मैंने खुश होते हुए कहा- जी भाभी जरूर. मैंने भाभी के कपड़े खींचते हुए उतारने शुरू किए, जिस कारण उसकी ब्रा फट गई लेकिन मैं रुका नहीं. मैं मादक कराहें तेज स्वर में निकालते हुए उसके सर को अपनी चूत में दबाने लगी.

खैर कुछ ना कुछ करना ही पड़ेगा, जिससे उसका लंड भी अपनी चूत में घुसवा कर मज़े ले सकूँ. तू उम्र को क्या चूत से चाटेगी, तुझे तो लंड से मतलब है कि उम्र से चल. अतः लड़कियां जैसे बने तैसे अपनी जवानी के मजे लूटने लगती हैं, इसमें कोई बुराई भी नहीं.

उसके लौड़े के साईज से मुझे ये मालूम हुआ कि आज के बाद सारी भूख मिटने वाली है.

जैसे ही हम अपने घर के लिए निकल रहे थे तो आंटी ने मुझसे कहा कि बेटा तुम अपना नंबर दे दो. उसने कहा- अब और मत तड़पाओ!तो मैंने अपना लंड धीरे से उसकी चुत में डाल दिया, उसकी चुत बहुत कसी हुई थी तो लंड अंदर नहीं जा रहा था, फिर मैंने एक ज़ोर से धक्का दिया तो लंड चूत को चीरता हुआ पूरा अंदर चला गया और वो रोने लगी.

इंग्लिश बीएफ मोटी तभी सैमी ने मुझे बेड पर लिटा दिया और मेरे मम्मों को अपने हाथों में लेकर उनको निचोड़ना शुरू कर दिया. इस बार सुरेश जी ने मेरी कमर को कस के पकड़ रखा और एक जोरदार धक्का मारा तो उनका लंड फिर से मेरी गांड के जड़ तक पहुंच गया.

इंग्लिश बीएफ मोटी देवेश का लम्बा मोटा लंड सुमेर की गांड में जाता निकलता बार बार मुझे दिखाई दे रहा था और सुमेर के वे आकर्षक चूतड़ जो लय ताल से सिकुड़ फैल रहे थे, मेरा दिमाग खराब कर रहे थे, चैन छीन रहे थे. अपनी उंगलियों से उसके चूत के फांकों को फैलाते उसकी गुलाबी गीली चूत की गहराइयों में रस पीने लगा, उसकी चूत की गरमी अपनी ज़ुबान पे महसूस कर रहा था.

मैंने भी देर न करते हुए स्वाति को लेटा दिया और अपना लंड उसकी चुत पर रगड़ कर डालने लगा.

खाने वाली बीएफ

एक मस्त औरत के मुँह से चुदाई की बात सुनकर तो मैं सातवें आसमान पर उड़ने लगा और अगले ही पल मैंने अनीता दीदी को अपनी बांहों में भर लिया. एक ओर उनके रस भरे यौवन को चखने के लिए मन व्याकुल था, वहीं दूसरी ओर रिश्तों की मर्यादा का भी ख्याल था. इसी के साथ ही मैंने मेरी उतरी हुई ब्रा पेंटी, धीरे धीरे सब उनके रूम के दरवाजे के सामने ही लगी रस्सी पे सूखने डाल दीं.

तेरा लौड़ा बहुत मस्त है, लगता है बस तू मुझे चोदता ही रहे उंहहह ऊंहहह उंहहह दिनेश आहहहह. तब मैंने उसकी गीली चूत पर अपना लंड रखा और उसकी तरफ देख कर हल्का सा झटका दिया. पहले तो उसने मना किया, परन्तु मेरे कहने पर कुछ देर बाद जूली ने वह धीरे धीरे पी लिया.

मैं ऐसा तो नहीं कहूंगा कि मैं बहुत ही हृष्ट-पुष्ट गबरू जवान हूं, पर हां मेरा शरीर ठीक ठाक है.

रास्ते में मेडिकल स्टोर से से कॉण्डम का बड़ा पैकेट लिया और सेक्स टाईम बढ़ाने वाली गोलियां ले लीं. ऐसे ही बातें करके उन्होंने पूछ ही लिया कि मेरी प्यास बुझाने कब आओगे?पहले तो मैंने टोक दिया और कहा कि मैं कोई कॉलब्वॉय नहीं हूँ. ”जितनी देर पद्मिनी बापू को टीचर के बारे में बोल रही थी, बापू तब तक पद्मिनी को कभी चूतड़ों पर मसल रहा था, तो कभी उसको सुनते हुए उसकी चूचियों दबा रहा था, तो कभी किस किए जा रहा था.

अंदर सोनू के कमरे का दरवाज़ा आधा खुला था और वो बिस्तर पे सिर्फ अंडरवियर पहन के लेटा था और अंडरवियर के ऊपर से ही उसका लौड़ा लम्बा मोटा और सख्त है, यह मुझे महसूस हो गया था. अब तो उनमें जो मेल आते जाते थे, उनमें लिखा होता था कि मेरा लंड खड़ा होकर तुम्हारी चूत को याद करता है. सुरेश जी ने अपने हाथ में साबुन लेकर मेरी गांड में लगाने लगे और साबुन का फैन अपनी उंगलियों से मेरी गांड में डालने लगे.

फिर वो लेट गईं और मैं उनकी बगलें चाटते हुए उनकी ब्रा के साइड में आ गया. मैं उसको बाथरुम साथ लेकर गया और उसको कहा- तुम खुद ही साबुन से इसको अच्छी तरह से वाशबेसिन में साफ करो.

पर एक साल बाद किसे याद रहता है, तो आपको फिर से बता दूँ कि निक्की एक 5’8″ लंबी अच्छे और भरे हुए शरीर की मालकिन है. मेरे हाथ अपने आप कमलेश सर के बालों पर चले गए और मैं कमलेश सर के बालों को पकड़ कर अपने ऊपर दबाने लगी. उधर विकी मेरे निप्पलों को बुरी तरह से मसले जा रहा था और मैं भी उसके लौड़े को जबरदस्त तरीके से खींच रहा थी.

फिर उसने थोड़ा रुक कर जोर का झटका मार कर अपना पूरा लंड मेरी बुर में पेल दिया.

मैं आपको एक बात बता दूँ कि भाभी की गांड भी बहुत चुदी हुई थी, वे अपने पति से अपनी गांड भी बहुत चुदवाती थीं. मैंने उसके मुँह से हाथ हटा दिया, उसकी कमर पकड़ के तेज़ी से चोदने लगा. मैंने उसके बारे में पूछा तो उसने बताया कि वो अहमदाबाद की रहने वाली है.

इसके बाद मुझे उसने वहीं सोफे पर लिटा दिया और मेरे मम्मों को ब्रा के ऊपर से ही जोर जोर से दबाने लगा. लेकिन अब रोज़ ऑफिस से आते हुए हॉस्पिटल होकर जाता था। मेरे सबसे अच्छे दोस्त को मेरी ज़रूरत थी। और मैं भी उसको इस हालत में अकेला नहीं छोड़ना चाहता था। उसके दस्त बंद हो गए और हालत में पहले से काफी सुधार होने लगा था।उसका बर्थडे भी आ गया लेकिन अभी हॉस्पिटल से छुट्टी नहीं मिली थी।सागर का फोन आया कि प्रवेश तू कब तक आएगा?मैंने कहा 6 बजे ऑफिस से छुट्टी होती है और 8 बजे तक मैं पहुंच जाऊंगा।मैं 8.

जब मेरा दोस्त अपने मोबाइल में जब मुझे नंगी नंगी लड़कियां दिखाता है, तब बहुत अलग लगने लगता है. जब हमारी व्हॉटसैप की बातें सेक्स तक पहुंची और मैंने जान लिया कि एक ना एक दिन विकी से चुदना तो तय है. अब रितु ने बोलना शुरू किया- मैं गयी … मैं गयी!और मैंने अपने धक्के बढ़ा दिए और जोर जोर से चोदने लगा.

हिंदी में नई नई बीएफ

इस चुदाई के खत्म होने के 10 मिनट बाद मैंने भेज दिया।अब अगर आप को ध्यान दिया होगा तो मैंने कहानी के शुरू में कहा था कि ‘आपका प्यार अंधा हो सकता है, लोग नहीं।’दो बार चुदाई की भरपूर मस्ती हम दोनों को तड़पाने से बाज़ नहीं आ रही थी.

मैंने उसको फ़ोन किया और कहा कि तुम एक काम कर दो तो शायद हम दोनों एक हो जाएंगे. ये लड़की तो लगता है पूरी अपनी मां पे गई है, जैसी मां छिनाल है, साली वैसी ही बेटी है. जब मुझे लगने लगा कि मेरे कपड़े फट जायेंगे तब मैंने कहा- अच्छा बाबा.

अब रूबी को कंट्रोल करना मुश्किल हो रहा था, वो बोल रही थी- अब चोद दो मुझे… चोद दो मुझे!मैंने अपना लंड तैयार किया और उसकी चूत पे सहलाने लगा, अपने लंड के टोपा उसकी चूत के फांकों में घुसाने लगा. आंटी सिसकारियाँ भर रही थी- आह्ह अह्ह्ह औउ हां विकी अह्ह्ह यस्स…मैं समझ गया कि अंकल कभी यहां तक आये नहीं हैं. अक्षय कुमार की बीएफमैंने महसूस किया कि दीदी का हाथ उनकी चूत पर था और उनकी चूत के दाने को स्वयं अपने हाथों से रगड़ने लगी थी.

उनके मादक और चुदास भरे शरीर को सहलाते सहलाते मेरा हाथ उनकी योनि पर आ चुका था. मुझे पूरी रात नंगी रहने की वजह से और मेरी टांगों के बीच मुँह मारता रहता था, जिससे मैं पूरी गर्म हो जाती थी.

मैं अल्फाज भोपाल मध्य प्रदेश से हूँ, वैसे मूल निवास इटारसी मध्य प्रदेश है. बापू अपने मज़बूत हाथों से पद्मिनी के हाथों को वहां से हटा रहा था, पर पद्मिनी पूरा ज़ोर लगा कर, दोनों जांघों को एक दूसरे के ऊपर क्रॉस करके अपनी पेंटी छुपा रही थी. जब उन्होंने कुछ नहीं कहा तो मेरी हिम्मत बढ़ गई और मैंने धीरे से उनके दोनों चूतड़ों के बीच में हल्का सा किस कर दिया.

यह मेरा पहला सेक्स अनुभव था कि करीब 48 घंटे तक मैं पूरी तरह नंगा किसी औरत के साथ चुदाई का खेल खेलता रहा. मैंने भी हरीश की मम्मी से बातें करना शुरू कर दिया और उन्हें जन्मदिन की बधाइयां दीं. मैंने उसके होंठों को अपने होंठों से चूस रहा था और एक हाथ से उसके मम्मों को दबा रहा था और मेरी कमर अपना काम कर रही थी.

कोमल थक चुकी थी, वो बोलने लगी- अब रहने दो!लेकिन मेरा अभी झड़ा नहीं था तो मैं कोमल को बेड पर लेटा कर खुद उसकी टांगों के बीच मिशनरी पोजीशन में आ गया.

ललिता मैडम की उम्र यही कोई 35 साल की होगी, पर उनका बदन ऐसा तराशा हुआ था कि बड़े बड़े तीस मारखां लंड भी झटके से पानी छोड़ दें. नजर लगाएगा क्या?मैंने भी कह दिया- नींबू मिर्च लटका लीजिए अपने जूड़े में, वर्ना पक्का मेरी नजर लग जाएगी.

मैंने कहा- ओके…फिर मैंने उसको बताया आज शॉप पे काम ज्यादा था, इसलिए जल्दी नहीं आ पाया. फिर गुस्से में आकर उसने मेरे मुंह पर थप्पड़ भी मार दिया, वह दर्द से चिल्ला रही थी परंतु मैं उसकी एक भी नहीं सुन रहा था, मैंने अपने लिंग को अंदर बाहर करना शुरू किया. पर जब मेरा सामना कंपनी के मैनेजिंग डाइरेक्टर से हुआ, तो सब सपनों पे मिट्टी फिर गई.

मुझे सबसे ज्यादा अजीब लगा कि दीदी के ससुर मम्मी हाथ पकड़ पकड़ कर मजाक कर रहे थे। दीदी के ससुर की उम्र 43 साल थी, वो हेल्थी आदमी थे, उनकी वाइफ नहीं है, घर में सारे मर्द थे बस मेरी दीदी ही थी उस घर में।रात दीदी ने सबको खाना खिलाया, फिर सब लेटने की तैयारी करने लगे. भाभी के पैरों में सैंडल और हाथों में कंगन यूं लग रहा था, जैसे खुदा ने किसी अप्सरा को जमीन पे उतार दिया हो. जब मैंने उससे पूछा कि अब कैसा फील हो रहा है?तो उसने मुस्कुराकर कहा- बहुत अच्छा.

इंग्लिश बीएफ मोटी लेकिन वो पुरुष कहाँ से लाऊं, जो मंत्रों का उच्चारण कर सके?बाबा मौन रहे. तो आंटी बोली- मैं क्या अचार डालूं इस चाबी का? चलानी तुम्हें ही है…मैं तो खुशी के मारे पागल हो गया, मैंने स्कूटी को सेल्फ मारी, आंटी मेरे पीछे बैठी और क्या बताऊं दोस्तों क्या फीलिंग थी? आंटी की गांड एक तो बड़ी है, और मैंने भी मस्ती किया, जितना पीछे हो सके उतना बैठा था.

ब्लू फिल्म बीएफ वाली

शिवदयाल जी का लंड… असल में यह स्टोरी मेरी माँ और शिवदयाल जी की है और काफी हद तक … काफी हद तक क्यों बोलूँ … बिल्कुल सौ प्रतिशत रीयल है. मैं कामुक आवाजें निकलने लगी पर मैं उससे बोली कि मैं ये सब नहीं कर सकती. वो लेट गया, मैंने लोशन अपने लंड पे लगाया और उसकी गांड के छेद पर भी लगा दिया.

मैंने मन बना लिया कि आज इसे चोदकर ही रहूंगा और मेरा पूरा दिन बड़ी मुश्किल से गुजरा।रात हुई, सब खाना खाकर सोने चल दिये लेकिन मेरे और पूनम के दिमाग में बस कल वाली रात घूम रही थी. फिर मैंने अपना लौड़ा उसकी गांड में डाल दिया और दस मिनट तक मैंने उसको चोदा. इंडियन देसी सेक्सी एचडीसाथ ही आपको बता दूँ कि मेरी प्यारी बीवी को मुझसे चुदवाना बहुत ही ज्यादा पसंद है.

तब जल्दी से पद्मिनी ने अपने हाथों को बापू के हाथ पर रखा और अपने बापू को ज़्यादा आगे नहीं बढ़ने दिया.

मैं शुरू से ही मम्मी पापा को साथ साथ वक्त गुजारते हुये देखती रही हूँ. उसने मुझसे माफी माँगी क्योंकि स्कूल के अन्दर मेरी चुदाई करने की वजह से ही उन बच्चों ने हमें देखा था और मैं फिर चुद गयी थी.

मेरी पिछली कहानी थीबीवी की चूत चुदाई उसके भाई सेआज मैं आप को अपना एक और किस्सा सुनाने जा रहा हूँ. पूरे बीस मिनट तक मुझे कुतिया सा समझ कर चोदा और अचानक सुरेश जी की गति बढ़ गई. मैंने ऐसा चुतियापा वाला सवाल पूछा था और जवाब भी चुतियापा वाला पाया.

मैंने पूछा- उसके बाद कभी किया?उसने बताया- उसके बाद मैंने उसे कभी नहीं करने दिया.

इन दोनों को थोड़ी देर आराम करने के बाद विक्रम मयूरी के रसीले होंठों को चूसने लगा… रजत ने मयूरी की पास ही पड़ी पैंटी से उसकी चूत को साफ़ किया. थोड़ी देर लंड चुत पर रगड़ने के बाद मैंने अपने लंड को उसकी चूत में घुसेड़ना शुरू किया. जेम्स की तो लाटरी निकल आयी, वह बहुत खुश हुआ और रितु को भी अच्छा लगा.

बीएफ सेक्सी ससुर बहू की चुदाईवो मुझे बेशर्म लगता था, लेकिन क्या करूँ बुआ का लड़का था तो मैं उससे बातें कर लेती थी लेकिन मैं उसके साथ अकेले घर में नहीं रहना चाहती थी. मैंने हँसते हुए कहा- रेखा तू इतनी भोली तो न बन… तू दूध पीती बच्ची नहीं है… यहाँ होटल में बुलाया था तो इतनी तुझ में भी समझतोहै कि होटल में रामायण का पाठ तो नहीं करेंगे… पाठ तो होगा ज़रूर लेकिन कामदेव का.

डॉग के बीएफ

” मैंने अपने सूखे होंठों पर जीभ फेरते हुए जवाब दिया।वह लड़की मेरी बात सुनकर जोर से हंसने लगी।तू खाना कहाँ खाता है? मेरा मतलब है तू होटल में खाता है या खुद बनाता है?” उसने मेरी और मुस्कुरा कर देखते हुए पूछा।मेरी नौकरानी खाना बना के रख देती है. मैं पहली बार कहानी लिख रहा हूँ और वो भी मोबाईल से, तो कुछ शब्द सही से नहीं लिख पाया हूँ. मैंने कहा- इसकी ट्रेनिंग की रिपोर्ट तो आपने लिखनी है, तो आप इससे बात कीजिए और पूछ लीजिए कि यह मेरे कमरे में आ सकती है या नहीं?अभिलाषा मुझसे मुस्करा कर कहने लगी- आपने मसाज करवानी है या मसाज करनी है?मैंने अभिलाषा से कहा- अभिलाषा! मैं मसाज करवाता भी हूँ और करना भी पसंद करता हूँ.

मेरी प्यारी बीवी मुझसे लिपट कर सो गई और हमें कब नींद लगी, हमको पता भी नहीं चला. उसने मेरी चूत को ऊपर से ही सहला कर इतना गीला कर दिया था कि अब मेरी चड्डी भी पूरी तरह से गीली हो चुकी थी. मगर चाचा लगे रहे, शायद उनका समय भी आ गया झड़ने का … अचानक चाचा ने शाज़िया की चूत से लण्ड निकाल कर उसके मुंह में दे दिया और धक्के मारने लगे.

मैं फ्री था इसलिये मुझे भेजा जा रहा था।मैं खुशी से पागल हो गया, मैंने फोन करके मौसी को बताया कि मैं कल आ रहा हूँ, तैयार हो जाओ. राहुल नीचे की तरफ़ ताबड़तोड़ धक्के दिए जा रहा था और मैं भी उसका साथ अपनी गांड और कमर उठा उठा कर दे रही थी. मैंने जैसे ही हाथ चुत पर रखा तो चाची कसमसाने लगी, ‘आह्ह्ह्ह उह्ह्ह…’ करने लगी.

जहाँ भी जाता था, वहाँ पर वो मुझे अपनी गोद में बिठा कर मेरे मम्मों को दबा दबा कर मजा लेता रहता था. चाचा ने एकदम से मेरे दोनों मम्मों को पीछे से पकड़ कर कसके दबाने लगे.

आंटी बोलीं- कोई आ जाएगा?पर मैंने बोला कि आप जल्दी से कुर्ता नीचे करके सोने का नाटक करने लगना और मैं चला जाऊंगा.

काफी देर तक वो मुझे चोदता रहा, फिर अचानक उसने अपनी स्पीड बढ़ा दी और 2-4 झटके के बाद उसने अपना लंड निकाला और मेरे पेट पर सफेद बहुत सारा पानी गिरा दिया. बीएफ सेक्सी चोदा चोदी वीडियोसुधा भाभी- राज, यू आर सो क्यूट … पूरे मर्द हो, मुझे एक बात बताओ, मुझमें क्या कमी है. हिंदी में हिंदी में बीएफमैं बोला- यू डर्टी बिच! (तुम गन्दी कुतिया हो!)वो बोली- येह, आई अम फक्किंग डर्टी बिच. हम एक जंगली की तरह एक दूसरे को चूम रहे थे, जैसे अब कभी हमको यह मौका मिलेगा ही नहीं.

कमलेश सर ने मेरे सर के बाल पकड़ लिए और अब वे अपना लंड मेरे मुँह में जोर जोर से अन्दर बाहर करने लगे.

उसे बाय कह कर जब मैं लौटने लगा तो मैंने देखा कि उसकी चाल बदल गई थी. काम वासना से सराबोर कर देने वाली मेरी चुदाई की कहानी पर आप अपने विचार मुझे मेल से भेज सकते हैं. ऐसे ही कब मेरा पूरा लंड उसकी चूत में जाने आने लगा, पता ही नहीं चला.

अब उठाओ भी मुझे!मैंने जब उन्हें नीचे से उनकी गांड को थामते हुए अपनी गोदी में उठाया तो मेरे अन्दर एक सनसनी सी दौड़ गई. मंजू ने भी अब दोनों हाथों से राज को जकड़ लिया और उसे जोश में काटने लगी, ओहह… ओह… की आवाज से ही राज ओर मैं जोश से लबालब हो गए!मंजू अब राज की गोद में बैठ कर अपनी कमर को हिलाये जा रही थी! कभी राज की छाती नोचती, कभी उसके गालों को काट देती, मानो बरसों की प्यास आज बुझने वाली हो. मैं अपने दोस्तों और सेक्सी भाभी और सभी जवान हॉट लड़कियों को धन्यवाद करता हूं कि वो सब मेरी स्टोरी पढ़ कर मेल करते हैं.

बीएफ वीडियो एक्सएक्स

मैंने उससे कहा- ठीक है, तुम इसको अपने हाथ में पकड़ लो और इससे मजा लो. फिर मैंने मनोज के सिर पकड़ कर अपनी चूत पर दबा दिया ताकि वो हिल ना पाए. कुछ देर बाद पिछले दरवाजे से 2 लड़के आए तो उन्होंने अपने खड़े हुए लंड पेंट से बाहर निकाले हुए थे.

मैंने दीदी की ब्रा को ऊपर उठाया और दोनों कबूतरों को आज़ाद किया, गजब का नशा था.

कुछ ही देर में चाची ने अपने शरीर को ऐंठ लिया और जोर जोर से चिंघाड़ने सी लगीं.

थोड़ी देर ऐसे ही करने के बाद वो मेरी बुर पे हाथ ले गया, पर पेटीकोट की वजह से ठीक से नहीं सहला पाया तो उसने मेरे पेटीकोट और ब्लाउज को भी उतार दिया. वो अपने लंड पर कंडोम लगाया था और उसका खड़ा लंड कंडोम की वजह से एकदम चमक रहा था. ఇలాంటి సెక్స్ వీడియోमेरे डैड बहुत बिज़ी रहते थे तो मेरी पढ़ाई के लिए मुझे बोरडिंग स्कूल भेज दिया गया.

कुछ देर बाद पिछले दरवाजे से 2 लड़के आए तो उन्होंने अपने खड़े हुए लंड पेंट से बाहर निकाले हुए थे. मुझे लड़कों के साथ सेक्स करने में उतना ही मज़ा आता है, जितना कि किसी लड़के को लड़की के साथ करने में आता है, मुझे भी लड़कियों में इंट्रेस्ट उतना ही है. मैं सोफे पर बैठ गया, वो मुस्कुरा कर बोली कि मैं अभी आपके लिए चाय बना कर लाती हूं.

टेबल लैंप की रोशनीवासना को बहुत तीव्र करने वाली होती है इसलिए होटलों में बेड की दोनों तरफ टेबल लैंप रखे जाते हैं. अब मैं आपसे तभी बात करूँगी जब मुझे मेरे भाई और भाभी से उनकी रज़ामंदी मिलेगी.

उस दिन शाम को मैंने उसे काल किया और बहुत सारी बातें की, उसके परिवार के बारे में पूछा तो उसने बताया कि उसकी एक बड़ी बहन है और दो भाई एक छोटा और एक बड़ा।उसके बाद फिर उसने सब मेरे बारे में पूछा, इस तरह हमारी बातें फोन पर भी होने लगी.

फिर एक प्लान तैयार करके मैंने होटल में एक रूम बुक करवाया और मुस्कान को लेने के लिए हर बार की तरह मेट्रो स्टेशन पहुंच गया. वो बोली- अंदर ही निकाल दे बहनचोद, मैं भी बस आई।और एक मिनट बाद मैं उसकी चूत में झड़ गया और वो भी साथ झड़ गई।और हमारी हालत अब खराब थी, मैंने उसे उठाया तो देखा नीचे तकिया खून में लाल पड़ा है वो डर गई मैंने उसे समझाया कि अब तू फ्री हो गई है सील टूटी है तेरी!हम भाई बहन एक दूसरे को कामुक नजरों से देख रहे थे।मैं उसे बाथरूम में ले गया, पेशाब कराया, उसे दर्द बहुत हो रहा था. दोस्तो, मेरा नाम नितिन है और मैं अपनी वकालत की पढ़ाई के लास्ट ईयर में हूँ.

वीडियो ब्लू वीडियो ब्लू पिता को पद्मिनी को अपने गोद में बैठाकर बात करने की आदत थी, तो उसको अपने गोद में बिठा लिया. मैं बहुत ही घबरा गया और मेरा लिंग भी सुकड़ कर छोटा सा हो गया और उसने एक हाथ से लाइट जला दी.

जैसे ही मेरा लंड का टोपा सोनम की चुत के अन्दर दाखिल हुआ, सोनम जोर से चीखने लगी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’फिर मैंने जल्दी से सोनम के मुँह पर हाथ रखा और फिर से मैंने एक बार और तेज धक्का दे मारा. मगर मैंने झट से उनके होंठों को मेरे होंठों से लगाकर उनकी आवाज़ दबा दिया. मयूरी के लिए यह पहली बार था जब वो किसी का लंड अपने हाथ में ले रही थी.

एचडी सेक्सी ब्लू बीएफ

उसने मेरे लंड को अपने हाथ में लेकर महसूस किया और फिर उसे बड़े ध्यान से देखने लगी, वो कहने लगी- आज पहली बार किसी का हाथ में पकड़ा है. अब मैंने उसको बिस्तर पे लेटा कर उसकी ब्रा और पैंटी को आजाद कर दिया. जो मज़ा इन कहानियों को पढ़ने में है वो पोर्न फिल्म देखने में नहीं है.

तो मैं अपने लंड को भाभी की गांड में डालने लगा और भाभी को जब दर्द हो रहा था तो बोलीं कि बहुत मोटा है, यार ऐसे नहीं ले पाऊंगी. अभी मैं खाना खाकर उसी के बारे में सोच रहा था कि तभी मेरा फ़ोन बजा, मैंने उठाया- हैलो कौन बोल रहा है?अरे मैं मधु बोल रही हूँ.

लगभग 8:30 बजे हम होटल पहुंच गए, हमें बहुत भूख लगी हुई थी, सबसे पहले हमने खाना ऑर्डर किया अब मेरी बहन बाथरूम में नहाने के लिए चली गई और गर्म पानी से नहाने लगी.

अब जब वह पीता है तो पद्मिनी भी अपनी माँ की तरह उसको डाँटती है और जब बापू पद्मिनी से डांट खाता है, तो बस हँसता रहता है. घर पर नीचे पार्किंग में पहुँच कर राहुल ने मुझसे कहा कि अन्नू मुझको तुम्हारे बर्थडे वाले दिन तुम पर बहुत गुस्सा आ रहा था क्योंकि तुमने पूरी रात मेरा फोन नहीं उठाया था. मैं उसको मना कर रही थी कि नहीं मैं ये नहीं करूँगी तो वो बोला कि उसकी गर्लफ्रेंड उसका लंड बड़े मजे से चूसती है, इसमें मजा आता है.

तभी डोर बेल बजी, मैंने दरवाजा खोला तो राजू की बहन अनीता दीदी बाहर खड़ी थीं. फिर मैंने पूछा- कि तुम्हारे दिल में मेरे लिए क्या फीलिंग्स हैं?उसने कुछ सोचा फिर बताना शुरु किया- जब मैं आपसे बात करती हूं तो मैं सब कुछ भूल जाती हूं, ऐसा लगता है कि मुझे सब कुछ मिल गया, ज़िन्दगी में बस तुम पास हो तो मुझे ज़िन्दगी से कुछ नहीं चाहिए. साली ये चुत तेरे लंड की दीवानी हो गयी है… बस सारी रात मेरी चुदाई करते रहो.

पूरा लंड चाटने के बाद ललिता मैडम ने बॉस के टट्टे चाटने शुरू कर दिए.

इंग्लिश बीएफ मोटी: उसने पूछा- क्या ड्रिंक करते हो?वो बोला- मैडम झूठ नहीं बोलूँगा, करता था मगर अब इतने पैसे ही नहीं है कि पीने की सोच भी सकूँ. वो फिर से मेरे लंड पर आहिस्ता आहिस्ता बैठने लगीं और किसी तरह उन्होंने मेरा पूरा लंड अन्दर ले लिया.

उसे चॉकलेट बहुत पसंद थी तो मैंने उसके लिए दो तीन किस्म की चॉकलेट और एक बुके ले लिया. ज्यादा से ज्यादा समय मिले इसलिये सुबह चार बजे ही निकलने का प्लान था. इस तरह अरुण ने चूमते चूमते आशिना के कान के निचले हिस्से को काटा, आशिना एकदम से गनगना उठी.

इसके बाद धीरे धीरे हम एक दूसरे से काफी क्लोज होते गए और सभी तरह की बात करने लगे.

उस दिन मेरे घर पर कोई नहीं था तो मैंने उसको फोन करके बुलाया, वो एक बजे आ गया. लेकिन एक दिन भांडा फूट ही गया और आगे क्या हुआ, उसके लिए अगली कहानी का इंतजार कीजिएगा. अब तक आपने मेरी इस कहानी में पढ़ा था अपनी बदले की आग को बुझाने के लिए मैं भी रंडी बनने की राह पर चल पड़ी थी.