भारतीय एक्स एक्स बीएफ

छवि स्रोत,सेक्स मीनिंग इन हिंदी

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ ब्लू डॉट कॉम: भारतीय एक्स एक्स बीएफ, मैंने उस के लटकते संतरों को अपनी मुठ्ठियों में भींचा और धकापेल लंड पेलना जारी रखा.

कंगना राणावत सेक्सी वीडियो

वो इस सबसे कराह उठी और बोली- अब मैं केवल तुम्हारी हूँ तो थोड़ा आराम से करो ना. मंदाकिनी की नंगी फोटोजीजाजी अंदर आकर धीमे से बोले- बेड झाड़ लीजिए बुआजी!बुआ झुक कर बेड झाड़ने लगी… उनके भारी चूतड़ जीजाजी की जाँघों से टकरा रहे थे.

मेघा बेबी रात भर ले लेगी… थकेगी तो नहीं?”नहीं थकूंगी अंकल, आप अभी मुझे यहीं हाईवे पर कार में चोदिये न!”जानती है बेबी मैंने तुझे बीस हज़ार रूपए क्यों दिए हैं. साली की चुदाईवैसे तो सभी लोग माँ की बड़ी इज्जत करते हैं लेकिन जब मम्मी ही इतनी बेशर्म हो जाएं कि वो तो हमेशा लंड के चक्कर में ही रहें, तो इसमें बेटे का क्या कसूर है.

मामी गांड उठा कर चुदाई का बहुत मजा दे रही थीं और साथ में गाली देते हुए बात भी कर रही थीं- चोद मादरचोद.भारतीय एक्स एक्स बीएफ: ”मैं दीदी के ऊपर लदते हुए उन्हें जोर जोर से कुतिया की तरह चोदने लगा.

कल तो तू लुल्ली बोल रही थी और अब बड़े आराम से लंड बोल रही है, इसका मतलब तुझे पहले से पता था इसको लंड कहते हैं क्यों?नीतू ने शर्माते हुए कहा- हाँ दीदी, मगर सच्ची मैंने बस सुना था और एक-दो बार दूर से देखा भी था.मेरी चुत लंड सेचुदने को बेकरारथी, पर वह अपने लंड को चुत के चारों तरफ़ रगड़ने लगा.

काली लड़की की चूत - भारतीय एक्स एक्स बीएफ

मेरे हिप्स अपने आप हिलने लगे, मेरा पूरा लंड आंटी के मुँह की सैर कर रहा था.इसी बहाने में सुमन भाभी को निहारने लगा और जाने-अनजाने बनते हुए उनको इधर-उधर हल्का-फुल्का छूने का मजा भी लेने लगा.

अमित कुछ बोलता, इसके पहले ही माया अपनी ब्रा और पेंटी उतार के अपने ड्रावर में छुपा चुकी थी. भारतीय एक्स एक्स बीएफ ये कह कर वह मम्मी के बगल में आकर लेट गया और मम्मी की एक टांग को अपने हाथ से उठा कर मम्मी के मम्मों की तरफ किया और एक टांग को अपनी जांघों में लेकर लंड को चूत के पास ले आया.

दर्द के मारे मेरे मुँह जोर की चीख निकली और मेरी आँखों में आंसू आ गए.

भारतीय एक्स एक्स बीएफ?

उसके बाद मैंने धीरे से अपना लंड उसकी गांड के छेद के ऊपर रखा और हल्का सा झटका लगया तो पहले तो लौड़ा फिसल गिया. वहाँ बैठने की जगह नहीं थी, बस एक स्ट्रेचर ट्रॉली थी मरीजों वाली, जिस पर मोनिका लेटी थी. चाटकर पूरी चुत का रस तो साफ़ किया ही साथ में मैंने दीपक भैया का वीर्य भी साफ कर दिया क्योंकि वो भी तो रीना की चूत में था.

इस भीड़ में अपने मम्मों पे हाथ पाके रूपा ज़रा घबरा गई और सिर पीछे करके दबे होंठों से पप्पू से बोली- शुक्रिया पप्पू… पर तेरा इरादा क्या है? भीड़ का इतना भी फायदा लेने का… ऐसे? मैं कुछ बोलती नहीं. वो जानबूझ कर ऐसे बैठी कि उसके मम्मों की झलक गुलशन जी को दिखती रहे और वो उनको सिड्यूस कर सके. पहले तो उसने गुलशन जी को आवाज़ दी कि वो सोए या नहीं, मगर कोई जवाब नहीं आया तो उनको थोड़ा हिलाया मगर वो वैसे ही बेसुध पड़े रहे.

मैं समझ नहीं पा रहा था कि हर बार जब भी वो मेरे लंड के साथ खेलतीं तो वो साला लंड और बड़ा हो जा रहा था. दूसरी बात ये भी थी कि जबसे मैं सप्लाई करने लगा तबसे उसके स्टेशनरी के खर्च में काफी कमी आ गई हालाँकि मैं बिल उसके कहे अनुसार ही देता और इससे उसकी अपनी कमाई में बढ़ोत्तरी हो गई. बीच में क्या हुआ कितनी बातें हुईं … इन सबको लिखने का कोई मतलब नहीं है अब सीधे चुदाई का मजा लें.

सुमन उठ कर जाने लगी तो गुलशन जी ने उसे पकड़ लिया और बिस्तर पे गिरा कर खुद उसके ऊपर आ गए और अब दोनों की गर्म साँसें एक-दूसरे के होंठों पे पड़ रही थी. मैं पूरे जोश में थी और मेरी जोश भरी सिसकारियां रूम में गूँज रही थीं.

मैं कराह उठी लेकिन अब लंड अन्दर हो गया था इसलिए मुझे भी सुकून सा हुआ था.

सन 2015 में दीपावली से 2 दिन पहले यानि के धनतेरस के दिन मैं अपने घर के मेन गेट को पानी से धोकर साफ़ रहा था.

तो उसने मेरा लंड मुंह में ले कर चूसना शुरू कर दिया।हाय… मैं तो मानो सातवें आसमान पर था। मेरी सिसकारियां निकलने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… चूस यार कनिका… मजा आ रहा है. अरे एक ही चूत को चोदकर अगर तुम्हें कुछ अच्छा नहीं लग रहा तो मैं अपनी एक फ्रेंड को बुला लूँ?”मैं चौक गया. कोई 5 मिनट तक चाटने के बाद एकदम से उसने मेरे मुँह पे लात मारी और मैं नीचे गिर गया.

क्योंकि इसका लंड बहुत बड़ा है और मैं देखने चाहती हूँ कि आपको कितना दर्द होता है. बेड की चरमराहट और जोर जोर की आवाजें सुन कर वैशाली फिर अंदर आ गई, वह बोली- आवाजें बाहर सुनाई दे रहीं हैं, धीरे बोलो. मैंने भी बाथरूम में अपना लंड साफ़ किया, उस पर थोड़ी क्रीम लगाई और आकर बेड पर लेट गया.

तब दीपक उठा और रीना जो मेरे लंड पर उछल रही थी उसकी गांड में लंड लगा दिया.

वो जिसको सबसे पहले पकड़ता, उसे उस बच्चे को अपनी पीठ पर बैठा कर काफी दूर तक घुमाना पड़ता था, इसलिए सभी बच्चे ऐसी जगह जाकर छुपते कि जल्दी से नहीं मिल सकें. उसकी जीभ लगते ही मेरे लंड को झटका सा लगा और मेरे पूरे बॉडी में करंट सा दौड़ गया. आप भी उन लड़कों जैसे छेड़ रहे हो, वो लड़के मुँह से छेड़ते हैं और आप हाथ से.

मुझे तो जैसे जन्नत ही मिल गई थी क्योंकि नेहा दी का फिगर क्या बताऊँ… वो एकदम गोरी थी, उनका मांसल शरीर एकदम लचीला था, जब वो ठुमक कर चलती थीं, तो उनकी चुचियां और गांड ऐसे हिलते हैं कि कलेजा मुँह में आ जाता है. चाचाजी ने भी पोजीशन को समझते हुए चुत के अन्दर ही जीभ को लपलपाना शुरू कर दिया, जिससे मेरा मजा दुगना हो गया ‘आआह ईईई आआआआह आआआह. मैंने एक अपनी उंगली उसके मुँह में डाली और गांड के छेद में रगड़ने लगी.

मैं देख रहा था कि अब मम्मी रबर की गुड़िया की तरह उनके इशारों पर कर रही थीं, जैसे वो चाह कर रहे थे.

जब मैंने देखा तो मुझे 440 बोल्ट का झटका लग गया, मौसी नीचे कुछ भी नहीं पहने हुए थीं. अब मेरी बहन को भी मजा आ रहा था, वो हर धक्के के साथ अपनी गांड पीछे धकेल कर पूरा लंड जड़ तक लेने की कोशिश कर रही थी.

भारतीय एक्स एक्स बीएफ मैंने कहा- तुम ऐसे ही सोते हो क्या? तुम्हें शर्म नहीं आती?वो बोला- सॉरी भाभी गहरी नींद में सोने की वजह से अकसर मेरी लुंगी खुल कर इधर उधर हो जाती है. क्योंकि काफी अरसे के बाद चुदने के कारण उसे प्रथम चुदाई का अनुभव हो रहा था.

भारतीय एक्स एक्स बीएफ तो वो मुझे मैसेज या कॉल करती थी और मैं अपने लौड़े से उसकी खुजली को बुझा देता था।दोस्तो, कैसी लगी मेरी इंडियन सेक्स स्टोरी. उसकी चूचियाँ मुँह में लेकर बारी बारी से उसकी दोनों चूचियां चूसने लगा.

थोड़ी देर बाद उसी टॉयलेट से लड़का सिसकारने लगा जिससे यह तो सुनिश्चित हो गया कि वो दोनों उस टॉयलेट में सेक्स कर रहे हैं।मैंने टॉयलेट के दरवाजे के पास खड़ी हो कर पूरे सेक्स को महसूस किया जिससे मेरी पैंटी बुर की जगह से पूरी गीली हो गई और बुर का गीलापन इतना ज्यादा था कि मेरी स्किन टाइट सलवार पर भी निशान बन गया जैसे कि मेरी पेशाब निकल गई हो.

सेक्सी बीएफ व्हिडिओ सेक्सी

मेरा लंड कभी भांजी की गांड में जाता तो कभी अपनी सगी बेटी की गांड में घुसता. चाय पीने के बाद कुछ देर तक हम बातें करते रहे और अब हमारे लौड़ों में फिर से जान आने लगी थी और हम दोनों के लौड़े फिर से फड़कने लगे थे. उसका नीचे का होंठ थोड़ा मोटा होने के कारण चूसने में बड़ा मजा देता है.

मैंने साबुन उठा कर उनकी गांड पर बहुत सारा झाग बनाया और उनकी गांड के छेद में धीरे धीरे अपनी उंगली अन्दर बाहर करने लगा. मैंने कहा- भाभी मैं कुछ कहूँ तो बुरा तो नहीं मानोगी न?वो बोली- नहीं. मैंने आइसक्रीम को उसके शरीर पर लगाना शुरू कर दिया और फिर उसके पूरे शरीर को चूसने लगा.

भाभी अपनी झिझक खत्म करने के लिए शराब का सहारा ले रही थीं और भैया जी अपनी बीवी चुदवाने का गम भुलाने के लिए दारू को हलक के नीचे उतार रहे थे.

उधर कॉलेज में टीना ने संजय को बता दिया कि सुमन क्यों नहीं आई उसके अलावा वहां कुछ खास हुआ भी नहीं… बस टीना ने फ्लॉरा को अपने साथ आने का बोल दिया और दोपहर को वो दोनों घर आ गईं. मैंने उसकी गांड में ठोकर मारते हुए कहा- ले ले रानी मजा, बहुत मजा आएगा…अब तक मनोज और सोनिया अपनी चुदाई बीच में छोड़ कर हमारे पास आ गए थे. इधर हमारे पास ही मनोज ने सोनिया को घोड़ी बना लिया था और उसके ऊपर से उसकी चूत में अपना लंड डाल रहा था.

तो उस का वेट कर सकती हो। वैसे मैं भी अकेले बोर हो रहा हो।वो बोली- ओके. मगर दूसरे ही पल मैं सोचने लगी कि जो भी हुआ, इन सबने मेरी पहली चुदाई को यादगार बना दिया था. हाय दोस्तो, मेरी यह स्टोरी भाई बहन सेक्स की है यानि भाई बहन की चुदाई की…मेरा नाम पल्लवी है और मेरी उम्र 28 साल है.

किसी अनजान या यहाँ तक कि किसी जानकार को भी अनजान बनाते हुए अपने, अपनी साथी के नंगे बदन को, या बदन की नग्नता से भरपूर झलक दिखने का अहसास… यह अहसास सच में बहुत ही उत्तेजक होता है. और अपने स्तन के ऊपर साड़ी का पल्लू भी नहीं डाला, वैसे ही खुला रहने दिया.

मैं अपनी गर्ल फ्रेंड के साथ था तब वो मेरा लंड लगभग रोज़ चूसती थी पर कभी मेरा माल नहीं निकाल पायी. मेरी भाभी का रंग गोरा, कद 5 फीट 3 इंच, उन का फिगर करीब 34-28-32 का है. इसी के साथ आयशा निढाल होकर लेट गई और मैं भी उस के नंगे बदन के ऊपर लेट गया.

तो मम्मी ने कहा- तो अपने बॉयफ्रेंड यशवंत को बुला ले…मैंने यश ( यशवंत को मैं प्यार से यश कहती हूँ) को फोन लगाया उसने फ़ोन उठाया और कहा- क्या बात है? इतनी रात को नींद नहीं आ रही?तो मैंने कहा- नहीं, तुम्हारी याद आ रही है…तो यश ने कहा- तो मैं मिलने आ जाऊं?मैं तो यही चाहती थी, मैंने झट से हाँ कह दिया.

वो मेरे लंड को थोड़ी तेजी से ऊपर नीचे करने लगी, जिससे मुझे मजा आ रहा था. दोनों कपड़े देख कर नीता बोली- यह कपड़े अंकल? यह शॉर्ट्स तो बिकिनी से भी छोटी है, बनियान कितना छोटा और टाइट है अंकल. घबराते हुए रूपा पप्पू का हाथ कमर से हटाते हुए बोली- पप्पू हाथ हटा कमर से, पता नहीं चलता यहाँ रास्ते में कितने लोग आते जाते हैं.

मैंने पूछा- क्यों … क्या भाभी को शादी के बाद कुंवारा लंड नहीं मिला था?आदमी ने हंस कर लिखा- हां मैंने शादी से सेक्स कर लिया था, इसलिए मेरी बीवी को कुंवारा लंड नहीं मिल सका था. सुमन- आह… सस्स पापा इससे तो बहुत मजा आ रहा है… अब दर्द कम है… आह… करो और अन्दर तक घुसा दो ओफ्फ… आह…सुमन की उत्तेजना देख कर अब गुलशन जी ने दो उंगलियां एक साथ चुत में घुसा दीं और उसका अंजाम वही हुआ… सुमन के मुँह से दर्द भरी आवाज़ निकली, मगर वो सहन कर गई और वैसे ही पड़ी रही.

सुमन की चुत रिसने लगी थी, इस बात का अहसास गुलशन जी को तब हुआ, जब दोबारा उनकी उंगली चुत से टकराई. मेरे अंडरवियर में मेरे खड़े हथियार को देख कर सुमन भाभी ने कहा- सैम तुम्हारा तो बहुत बड़ा है, मेरी जान निकल जाएगी. एकाएक मेरी गुलाब जामुन ने धक्का मार कर मुझे गिरा दिया, अपनी चूचियों को निकाल कर मेरे मुँह में घुसेड़ दिया.

बीएफ हिंदी चुदाई बीएफ

फिर मैंने मम्मी की चूत को देखा तो देखता ही रह गया साले ने क्या हालत बना दी थी.

विजय दशमी के ठीक तीसरे हफ्ते मामी ने फोन कर के मुझे आने का बुलावा भेजा. उधर अमित अब दो उंगलियां माया की चुत में डाल चुका था और साथ ही साथ चुत के दाने को चूस रहा था. मॉंटी- ठीक है दीदी आप बताओ… मैं क्या करूँ?सुमन ने मॉंटी को अपने जाल में फँसा लिया और उसको कुछ टिप्स बता दिए, जिससे टीना को काबू में करना आसान हो जाए.

मैंने उससे पकड़ कर ज़ोर की किस करना शुरू किया और साथ ही उसके बदन पे हाथ फेरना शुरू कर दिया. तभी सलमा उस अजनबी के बदन से अलग हुई और वे दोनों हम लोगों के पास आ गए. काजल अग्रवाल का सेक्सीतो मैंने एक दिन नैना से पूछा कि आरती इतनी शांत और चुपचाप सी क्यों रहती है?नैना ने मुझे बताया कि आरती का एक बॉयफ्रेंड था अवि, वो उस को छोड़ कर चला गया.

वो भी मुझे पसंद करता था क्योंकि मैंने उसे तिरछी नज़रों से अपनी ओर घूरते देखा है. उसके लंड की धार बहुत तेज थी, जिससे आधा वीर्य अपने आप पेट में चला गया.

अब अंजलि नीचे से ऊपर आ गई और अंजलि मेरा लंड मुँह में लेकर चूसने लगी. चाची के पैरों को समेट कर एडजस्ट किया, जिससे उनकी गांड पूरी तरह से खुल गई. चाचाजी ने मेरी इच्छा को फ़ौरन समझ लिया और नीचे चुत की तरफ चले गए और एक हल्की किस के साथ मेरी चुत को फुल लेन्थ में चाटना शुरू कर दिया.

माया की साड़ी उसकी गांड से लगभग ऊपर उठाते हुए उस्मान बोला- लेकिन उन सबमें इसके जितने बड़े मम्मे किसी के नहीं है सर. फिर क्या था, वह बड़े आराम से अपना लंड मेरी गांड के अंदर बाहर करने लगे। लेकिन यह अनुभव मेरे लिए कल्पना से परे था, मुझे बहुत आनन्द मिल रहा था, मेरे मुख से हलकी हलकी दर्द मिश्रित आनन्द भारी सीत्कारें निकल रही थी. एक साथ 2 लंड का मज़ा लो और मैं तो कहता हूँ हम सबके साथ प्यार का मज़ा लो, तुम सारी जिंदगी ये रात भूल नहीं पाओगी.

दूधिया गोरा बदन, टमाटर जैसी छोटी-छोटी चूचियां, चने की दाल के बराबर निप्पल और बिना झाँटों वाली चिकनी चूत, ख़रबूज़े जैसी गांड.

टॉयलेट के साथ में एक और खुला कमरा सा था जहाँ पुराना फरनीचर और कुछ आलू की बोरियां पड़ी थी. अनुभव तो बहुत हैं जो आप लोगों से शेयर करना चाहता था लेकिन पहले हिंदी में टाइप करने में हमेशा दिक्कत होती थी, लेकिन अब तो दुनिया भर के तरीके आ चुके हैं, तो अब कब तक आप से छुपाउंगा.

फिर अचानक मुझे ख्याल आया कि मैंने ब्रह्मचर्य का नियम लिया है, मैं कैसे फिर से कैसे ऐसा कर सकती हूँ. उसने कहा- मैं लड़कों में रुचि नहीं रखता और मैंने कभी लड़कों के साथ सेक्स किया भी नहीं है, लेकिन आज तुमने इस अजगर को जगा दिया है तो इसको सम्भालना तो पड़ेगा ही. एक दिन मैं क्लास में पढ़ा रहा था तो मैंने देखा कि सामने वाली क्लास से अर्चना मुझे देखे जा रही थी.

काजल ऊपर से आधी नंगी सी थी, उसकी दोनों चूचियां ब्रा के अन्दर से साफ़ नज़र आ रही थी और वो अपने ही भाई का लंड चूसते हुए पकड़ी गई थी. वो जानती थी कि उसकी माँ सुंदर है पर यह नहीं पता था कि मर्द उसे भी छेड़ते थे. आज आप मुझे जवानी का पूरा खेल सिखा देना जैसे मेरी मम्मी को सिखाया है.

भारतीय एक्स एक्स बीएफ अन्तर्वासना पर ये मेरी पहली इंडियन सेक्स स्टोरी है और पूरी तरह काल्पनिक है. क्या ये सच है कि तेरे पति ने ही तुझे चोद के वो बच्चे पैदा किये… रूपा?पप्पू से तारीफ और बातें सुन के रूपा को अच्छा भी लगा और शर्म भी आई.

सेक्स बीएफ जंगल

रेखा बोली- यार पिंकी, तुम क्यों इतना परेशान होती हो? मैं भी इस लंड से चुदने के लिए बेताब हूँ. मैंने कहा- हां मैं रोज आपके बारे में सोच के सोता था इसीलिए सुबह मेरा नुन्नू बड़ा हो जाता था. पर इस बार दूध बहुत ही कम निकला, पर चूचियां चूसने का भी तो अपना ही मजा है.

मैंने कहा- छोड़ो… क्या कर रही हो?लेकिन वो तो उल्टा मेरी चूचियों को जोरों से दबाने लगी. विनीता ने अपने दोनों हाथों से मेर सर को पकड़ लिया और अपनी चूत पर दबाने लगी. देहाती सेक्सी जंगल कीसागर बोला- लेकिन उस बात से मेरा क्या लेना देना है?मैंने कहा- यही तुम्हारी बहन का वीक पॉइंट है हमें इसका फायदा उठाना है.

सफर की थकान की वजह से हमने कुछ देर आराम करने का तय किया और दोपहर के खाने के बाद ही घूमने जाने का तय किया.

फिर 15 दिनों के बाद जब वो ऑफिस जाने लगे तो उन्होंने मुझसे कहा- जय की बहुत देर तक सोने की आदत है. मोहन बोला- कुसुम यार, मजा आ गया बहुत दिनों के बाद तेरी चूत चोद कर!मम्मी बोली- हरामी, तुझे पहले कभी मना किया था? आज मुझे जल्दी जाना था और तूने देर करवा दी.

मैंने सोचा कि वो साला तो बाहर चुदाई करके मजे करता फिर रहा है, मैं भी क्यों ना मजे करूं. पापा… आप बड़े वो हैं…मैं मिरर के सामने इस तरह खड़ा था कि मेरी बैक साइड मिरर की तरफ थी. हम दोनों ने एक दूसरे को रगड़-रगड़ कर नहलाया और एक दूसरे के लंड को भी नहलाते गए.

अमित बोला- मजे कर बहन की लौड़ी, जोर से चिल्लाएगी तो पूरे स्टाफ को चूत देनी पड़ेगी.

वे मुझे ऐसे देख रहे थे कि जैसे उन्हें पता ही ना हो मैं यहाँ क्यों हूँ. अपनी अपनी बीयर की बोतलें गटक कर तीनों यार देश दुनिया से बेखबर एक साथ मामी पर टूट पड़े. इसके बाद रवि अंशु के घर पहुंच गया, घंटी बजाने पर दरवाजा अंशु के पिता जी ने खोला.

कपल शायरी फोटोआपका बेटा तो ऐसे संभल संभल कर करता है कि कहीं चूत को चोट न लग जाए, उसे पता ही नहीं कि चूत को जितना बेरहमी से ‘मारो’ वो उतनी ही खुश होती है. तो मैंने भी अपना लंड आगे करके उसके होंठों से छुआ दिया और उसने बड़े प्यार से मेरे लंड पे किस कर लिया और धीरे धीरे मेरे लंड को चूसने लगी.

देसी चोदने वाला

तुझे मेरी चुदाई देखने का बड़ा मन हो रहा है या ऐसा कहो ना फ्लॉरा की चुत का सोच कर तुम्हारा लंड झटके खा रहा है. उस्मान की तरफ पीठ करके माया जैसे ही अपनी चुत में उस्मान का लंड लेने के लिए बैठने लगी, उस्मान ने अपना लंड पीछे सरका दिया, जिससे लंड लगभग दो इंच माया की गांड में चला गया और फुर्ती से अमित ने अपना लंड माया के मुँह में ठूंस दिया. नीता के सीने पे नज़र गड़ा कर वो बोला- बोल बेटी, मैं कैसे मदद करूँ तेरी? वार्डरोब तोड़ डालूँ क्या तेरे लिए बेटी?नीता को पप्पू की बात और नज़र से ख्याल आया कि वो टावल में पप्पू के सामने खड़ी है, पर अब वो बिना झिझक उसी हाल में रूम में घूमते हुए सोचने लगी.

विवश होकर आप मेरे ऊपर चढ़ गए और मुझमें बलपूर्वक मेरी इस में समा गए जैसे ही आपका विशाल लिंग मेरी प्यासी योनि में घुसा था, मैं समझ गयी थी कि मैं छली जा चुकी हूँ, कि मेरे साथ मेरा पति नहीं कोई और ही है क्योंकि आपके बेटे का लिंग आपसे बहुत छोटा और पतला सा है. वो मेरी पकड़ से छूटने की कोशिश करने लगी, पर इसका कोई फायदा नहीं हुआ. एक दिन जानबूझ कर मैंने चायनीज फिल्म लाकर दे दी, जिसमें नंगा करके चोदना छोड़कर सभी कुछ दिखाते हैं.

कुछ पल बाद मैंने अपने होंठ अलग किए और उसके भागते ही मैं भी अन्दर आकर बैठ गया. मैं बोला- तुम तो कह रही थीं कि किसी लड़की के पास सोने से वीर्य निकलता है. धीरे से अपना हाथ मोनिका की चुत पर फेरा, जो मुझको आज भी फ्रेश लगती है.

अब बारी थी भोला की, वो भी उसी पोजिशन में मम्मी के ऊपर चढ़ गया और ठाप मारने लगा. नेहा की चूत से उसकी जवानी का रस बह रहा था और उसकी चूत से निकल रहे रस से मनोज के टट्टे तक भीग गए थे.

वो चिहुँक उठी और मेरा मुँह अपनी चूत में दबाने लगी। मैं तब तक उस की चूत चाटता रहा.

सबसे पहले मौसी ने मुझे बताया- वो जो तेरा नुन्नू है… उससे लंड कहते हैं और ये जो मेरी है… जहाँ तुमने कल उंगली डाली थी, इसे चुत कहते हैं. xn xx 2018 मईये दो किरदार गेस्ट अपीयरेन्स हैं, तो बस एक दिन के लिए इन्हें आपके सामने लाई हूँ. भाभी देवर के नाजायज संबंधफ्लॉरा- यार सच बता उनका सच में बहुत बड़ा है क्या?सुमन- हाँ, बहुत बड़ा है; अगर अभी वो होते ना तुझे मैं दिखा देती. अब शायद मुझमें और मामा में एक जंग छिड़ी हुई थी कि कौन मामी को अच्छे से निचोड़ेगा.

ये बोलकर वो मेरे गले लग गई और कान में बोली- आप कुछ नहीं बोलोगे?मेरे अन्दर एकदम से करंट सा दौड़ गया, मैंने उसे कस कर हग किया और ‘आई लव यू टू मेरी जान.

अब मैं अपने लंड को चूतड़ों को ज़ोर से हिलाते हुए शीतल की चूत में पेल रहा था और वो भी अपने चूतड़ हिला कर मुझे पूरा साथ दे रही थी. काजल ने अपनी टांगें ऊपर उठा कर सुरेश को अपने कपड़े उतरने में मदद की. अपना फीड बैक मुझे जरूर दें ताकि मैं अपनी अगली सेक्स स्टोरी को उसी हिसाब से सुधार कर आपको सुना सकूं.

अगले दिन जब मैं वहां पहुँचा तो मेरी आँखें सिर्फ़ अनुराधा को ही तलाश रही थीं. रीतिका हंसने लगी, कहती- मेरी भोली ननद रानी जी, जब कल तुम फोन पर आज का प्रोग्राम बना रही थी तो मैंने सब सुन लिया था. रात को पिंकी और रेखा ने मिलकर खाना बनाया और हम लोगों ने नंगे ही मस्ती करते हुए खाना खाया.

एक्स एक्स एक्स भोजपुरी वीडियो एचडी

तभी मैंने कहा कि वह अपना शर्ट मेरे सर पर डाल दे, जिससे मुँह चुदाते समय मुझे उसके शर्ट से जिस्म की खुशबू आती रहे. भाभी तो कामुकता से जैसे पागल सी होने लगीं, उनके मुख से बस ये आवाज़ें निकलने लगीं ‘आमम्म. मेरी ट्रू सेक्स स्टोरी के पहले भागक्सक्सक्स फिल्म दिखा कर साली को मनाया चुदाई के लिये-1में अभी तक आपने पढ़ा कि कैसे अपनी गुस्सैल साली को क्सक्सक्स ब्लू फिल्म दिखा कर चोदा था.

शरीर अब भी कांप रहा था तो मौसी ने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और हम सो गए.

फिर गांड का बाजा बजाइए, आपको मेरे शरीर से जो भी आनन्द चाहिए, वो लेने के लिए आपको खुली छूट है.

हमने तो सोचा था आज तुम दोनों की ही चुत मिलेगी, मगर तुमने तो तीसरी चुत का बंदोबस्त करके पार्टी की रौनक बढ़ा दी. अब मनोज का लंड नेहा की चूत में घुस चुका था और इधर मैं नेहा की गांड मार रहा था. fancy साड़ी का रेटमाँ ये नहीं देख पा रही थी, उसका मुँह दूसरी ओर था रहमत का लंड करीब 8 इंच का होगा.

थोड़ी देर बाद हम लोगों ने डिनर लिया और डिनर के बाद थोड़ी देर के लिए आराम करने को बैठे. आप सोचो वो लोग कैसा बोलते होंगे कि में आपको उनकी बात का एक भी शब्द नहीं बता सकती. फिर चूड़ियों की आवाज़ से ही मेरी नींद खुली… घड़ी देखी, चार बज रहे थे, मैंने रस्सी पर टाँगे कपड़ों के बीच से झाँका तो मेरी सिसकारी निकलते निकलते रह गयी.

मैंने इस मदहोशी के आलम में भी वो मुझसे चूत में लंड पेल कर चोदने के लिए कहने से बच रही थी. अब चूँकि मैं उत्तर प्रदेश का रहने वाला हूँ तो दोस्तों बता दूँ हमारे यहाँ आज भी बिजली की किल्लत होती हैं और उन दिनों सुबह 4 बजे से 10 बजे तक बिजली गायब रहती थी.

मेरे घर के जीने बाहर से हैं, तो कोई भी आये जाए किसी को पता नहीं चलता.

पप्पू! पर बदले में तू भी मेरी गालियाँ सुनने और मेरी मार खाने के लिए तैयार रह… मुझे भी चुदाई के वक्त वहशियाना अंदाज अच्छा लगता है… पप्पू तू मेरी जैसी औरत को रंडी क्यों बोलता है? पति के अलावा मैं कई साल बाद किसीअजनबी संग चुत चुदाई का मजाले रही हूँ… इसलिए रंडी बोलता है क्या मुझे? मेरी उम्र से तू ही अंदाजा लगा मेरी बेटियों की उम्र का. रात को बाहर क्यों आऊं?मैंने उसी पल अपने दोनों हाथों से उसका चेहरा पकड़ा और उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए. राज ने मुझे बिस्तर पर लिटा दिया और मेरे दोनों पैरों को फैला कर मेरी चूत को चाटने लगा.

साड़ी वाली की चुदाई दिखाओ मुझे ये मानने में भी कोई संकोच नहीं होगा कि चूँकि ये मेरा पहला अनुभव था तो मुझे चुदाई का ‘चु’ भी नहीं पता था. मैं फटाफट रसोई में गया और कॉफ़ी के साथ कुछ खाने का भी लेकर के आ गया.

एक दिन निर्मला भाभी सुबह खाना बनाने के लिए आ गई, तो मैंने उससे कहा- अभी सिर्फ़ सुबह का ही खाना बनाओ और शाम को फिर से खाना बनाने के लिए आ जाना. उनके बड़े मम्मों को जोर-जोर से दबाने लगा और एक चूचे को मुँह में लेकर किस करने लगा. मैं नीचे उतरी और किशोर को इशारे से नीचे बुला कर कहा- जल्दी सेफ जगह ढूंढो.

सेक्सी बीएफ नंगी पिक्चर

फिर अचानक आंटी ने मेरा लंड अपनी चूत के अन्दर निगल लिया, मुझे लगा जैसे मेरा लंड किसी बड़ी सी गुफा में घुस गया हो. सभी लोगों ने एक साथ डिनर किया, मामा जी ड्यूटी पर चे गए और मामी मुझे अपने साथ कमरे में लेकर बन्द हो गईं. वो मेरे मुंह के पास अपनी जांघें ले आया और उसने फ्रेंची मेरे मुंह पर लगा दी, बोला- ले चाट बेटा… जी भर कै…मैं थोड़ा होश में आया और उसकी फ्रेंची को अपने मुंह में लेकर चूसने लगा जिसमें बीयर की गंध भरी थी और साथ में ही उसके कामरस का भी स्वाद आ रहा था.

वह मुझे बांहों में दबोच कर कपड़ों के ऊपर से ही तेज तेज झटके मार रहा था. शायद आंटी को उसका पता चल गया था, जिससे आंटी भी थोड़ी गरम हो गई थीं.

मुझे हमेशा अपने लंड पर घमण्ड रहा है परंतु उस हसीना की चूत, जांघें और उस की हाथी के सूंड के आकार जैसी गोरी टांगों को देख कर मेरे लंड का घमंड ख़त्म हो गया.

पर अंजना रुकी नहीं, उसे अपने हाथ में एक हैवी लन्ड महसूस हो रहा था- तुम मेरे मम्मों से खेलो, मैं तुम्हारे लन्ड से!इतना कह कर उसने अपने गर्म गर्म होंठ राहुल के होंठों पे रख दिए और चूसने लग गई. कहीं अपना पूरा लंड मेरी बेटी की चूत में पेल दिया तो बेचारी मर ही जाएगी. मैंने पूरे दिन के लिए रूम लिया था तो दो बार चुदाई करने के बाद हम रूम बंद कर के बाहर घूमने चले गए और खाना खा कर लौटे.

कुछ देर तक लिपकिस करने के बाद चाचाजी ने मेरे कान के पास आके धीरे से कहा- शाहीन मेरी जान अब तुम्हारी बारी है. उसके निप्पल उसकी चुचियों के रंग से मिलते जुलते रंग के बस थोड़ा गुलाबीपन लिए हुए थे. बेचारी किस्मत की मारी अभी तक वर्जिन थी और अपनी जवानी के भार से मरी जा रही थी.

पहली बार पूर्णतया: विकसित चुचियों का आभास पाकर मेरा लंड तो अपना होश खो चुका था.

भारतीय एक्स एक्स बीएफ: दोस्तो, मैं दिनेश, मेरी पिछली कहानीमेरी मामी के साथ सहेलियों का लेस्बियन सेक्समेरी साली ममता की सहेली सुधा की थी, भूल गए तो बता दूँ कि मेरी साली ममता बड़ी नखरे वाली थी, उसे मैंने बड़ी मुश्किल से पटा कर चोदा था. शिवानी कहने लगी- यार, मैं तो 4-5 बार झड़ चुकी हूँ, राज के झड़ने के बाद खाना खाते हैं.

मामी ने एक बार एक से अधिक लड़कों से एक साथ सेक्स के लिए प्लान बनाने के लिए कह दिया था. और उन दोनों के टॉयलेट के निकलने से पहले ही मैं उस पार्टी को छोड़ कर चल दी और होटल से बाहर आ गई. अब मैंने विनीता के तलवों से ले कर जांघों तक चूमना और चाटना शुरू कर दिया.

रात का सफ़र था और ट्रेन बीच में कहीं रुकती भी नहीं थी इसलिए मैंने शिशिर से कहा कि रास्ते के समय को काटने के लिए कोई मैगजीन ले आए.

रवि से बोली- भीतर बठा ले फेर इसनै (इसको अंदर बैठा ले फिर)कहकर वो रसोई में वापस चली गई. उंगली से वो दाना दबा कर सिसकरियाँ भरती और दूसरे हाथ से मम्मे मसलती हुई आँखें बंद करके मस्ती कर रही थी. एक दिन उसका मुझे सुबह फोन आया कि आज मेरे घर कोई नहीं है, सब शादी में गए हैं.