चोदा चोदी वीडियो बीएफ चोदा चोदी

छवि स्रोत,प्रियंका चोपड़ा का बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी विडियो ह: चोदा चोदी वीडियो बीएफ चोदा चोदी, मामी ने मुझसे कहा- तुम पढ़ाई करना और अर्पित आ जाए, तो दोनों खाना खा लेना.

हिंदी में ब्लू फिल्म हिंदी में बीएफ

मैंने फ़ौरन अपने दोनों हाथ वसुन्धरा के कंधों पर रखे और कोमलता से धीरे-धीरे ‘v’ के आकार में नीचे की ओर लाने लगा. जेंट्स बीएफफिर मैं धीरे से उसके कमरे में आया और एकदम से उसके रूम की लाइट जला दी.

जून 2014 को मैं और मौसी जिनका नाम पुष्पा है, अपनी नानी के घर ट्रेन से जा रहे थे. सेक्सी बीएफ चोदा चोदी वालामैंने कहा- ठीक है तू मुझे जम के चोद, मेरी टांगें उठा कर चोद, फाड़ दे मेरी चूत को आह्ह …इधर मैं जीजा को भी इशारे कर रही थी.

इसी सब में मैंने पांच मिनट और निकाल दिये और अब टीवी स्क्रीन पर जबरदस्त चुदाई का सीन चल रहा था.चोदा चोदी वीडियो बीएफ चोदा चोदी: मैंने उसकी चूत में तेजी से जीभ को तीन-चार बार अंदर-बाहर किया तो वह अपने चूचों को मसलते हुए सिसकारने लगी.

कूलर को मैंने अपने कमरे में लगाने के लिए मानसी से पूछा तो वो बोली- ठीक है.यह सुनते ही उसने मेरी चूत में अपनी जीभ डाल दी, फिर अपनी दो उंगलियों को एक साथ मेरी चूत में घुसाने लगा.

बिएफ सेक्स - चोदा चोदी वीडियो बीएफ चोदा चोदी

इसे भी कुछ सामान लेना था और मुझे अपने कपड़े ड्राइक्लीन के लिए देने जाना है.सुमन अपनी चूत को मेरे होंठों पर धकेलते हुए आह-आह करते हुए अपनी चूत चुसाई का मजा लेने लगी थी.

मैंने उसकी तरफ सवालिया निगाह से देखा तो उसने मेरे से बोला- तुझे एक नहीं दो लौड़ों से एक साथ चुदाई करनी होगी. चोदा चोदी वीडियो बीएफ चोदा चोदी मेरा घर गांव में है, इसलिए मुझे सिटी में रूम किराए पर लेकर रहना पड़ता था.

उसके किस करते ही मेरे मुँह से आवाज़ निकलना बंद हो गई और मैं भी चुदाई का मज़ा लेने लगी.

चोदा चोदी वीडियो बीएफ चोदा चोदी?

सौरव मेरी चुचियों को चूसता हुआ नीचे आने लगा मेरी नाभि से खेलने लगा. मैं वाशरूम से हाथ मुँह धोकर वापस रूम में आया, तो वो टॉप पहन रही थी यानि सिर्फ़ ब्रा में थी. तब भी मैंने उसकी तरफ सवालिया नजरों से देखा तो उसने मुझसे बोला- मैं तुमको पसंद करने लगा हूँ.

हालांकि अंकल के उस हब्शी लौड़े को मैंने अपने हाथ में जरूर पकड़ लिया था. मैंने उसके गालों पे किस करते हुए और उसे छेड़ते हुए पूछा- कॉलगर्ल मतलब क्या?उसने मेरी तरफ गुस्से से देखा, मैं उसे देख के मुस्कुरा रहा था. पति- यार तुमने आज सेक्सी आवाज के साथ मुझे उत्तेजित कर दिया, मुझे भी आज तुमने आज सड़का मारने के लिए मजबूर कर दिया.

मगर उसके चेहरे के भावों से इतना पता चल ही रहा था कि वह कल की रात वाली हसीन चुदाई से मुझसे गुस्सा नहीं थी. मैंने दरवाजे के पास कान लगाकर सुना तो अंदर से सेक्सी आवाजें आ रही थीं. दोस्त की बात सुनकर मेरा लंड भी खड़ा हो गया और अब मुझको भी उसे चोदने का मन हो गया था.

अब मेरे से भी कंट्रोल नहीं हो रहा था, तो मैंने चूत की फांकों में लंड रखा और ज़ोर लगा दिया. इस नए घर में जाने के कुछ दिन बाद मेरी मुलाकात मेरे बाजू में रहने वाली पड़ोसन वनिता से हुई.

दो तीन पलों में ही वो मेरा सिर चुत पे दबाए जा रही थी और एक हाथ से अपने गद्दे को नोंच रही थी.

मैं- क्या करूं मौसी?मौसी की हालत खराब हो चुकी थी, उनके लिए अब और इंतजार करना मुश्किल हो गया था.

मैंने सोचा काजल सो गई होगी, पर नजदीक जाकर देखा, तो वो मोबाइल में कुछ देख रही थी. जब मुझसे लंड चुसाओगे तो और क्या होगा?” मैं तेज आवाज में बोली।वो पास आ गया. मगर उस बोतल को बाथरूम‌ में लाकर मैं उसमें जितनी भी शराब थी वो सारी पी गया।जब तक मैं वो शराब खत्म‌ करके बाथरूम से बाहर निकला, तब तक‌ मोनी ने खाना बना लिया था.

मैंने अपनी दोनों उंगलियां चुत में डाल दीं और चुत की मलाई चाटने लगा. बाली रानी अंजलि रानी से इतना प्यार करती है कि उसने ज़िद पकड़ ली यह कहानी अंजलि रानी को ही समर्पित हो. मैं तो एकदम चुदास से भर उठी और मेरी चूत ने टसुये बहाना शुरू कर दिया.

यूं तो मेरी और सुधा, दोनों की अंतरंग होने की ना तो कोई इच्छा होती, ना ही भरे-पूरे घर में ऐसा करने का कोई मौका होता लेकिन फिर भी वसुन्धरा का हम पति-पत्नी के बीच में बार-बार ऐसे काबिज़ होना तो अव्वल दर्ज़े का क़ाबिले-ऐतराज़ कुकर्म था.

जैसा रानी ने आदेश किया था, वैसे मैंने लंड बाहर निकाला तो, कितना खींचना है उसका अंदाज़ा सही न होने के कारण, वो पूरा का पूरा सड़प्प की आवाज़ से रानी की बुर से बाहर हो गया. मैंने उसकी कमर से उसकी पैंटी को खींच कर नीचे करना शुरू किया और उसकी भूरे रंग के हल्के बालों वाली चूत मेरे आंखों के सामने बेपर्दा होने लगी. जब सुबह के चार बजे के करीब मैं अपने केबिन में वापस गई तो मैंने देखा कि पूनम भी वहाँ अस्त व्यस्त सी बैठी थी.

माँ सिसिया कर बोलीं- आह क्या कर रहे हो … उम्म्ह… अहह… हय… याह… आऊ आआअ … आपने ये सब कहां से सीखा? उम्म्मह … आज तो आपका लंड और जीभ दोनों कमाल कर रहे हैं. मेरी कुंवारी चूत और पहली बार में ही चार लंड … सोच कर ही गांड फटने लगी थी. राजेन्द्र ने मेरी तरफ देखा तो मैंने बताया कि वनिता का फोन था और वो इधर ही आ रही है.

मगर एक दो बार उसकी गांड को चोदने के बाद माँ को भी पीछे लेने में मजा आने लगा.

उसके बाद वो मेरे पास आई और बोलने लगी- जो तुमने मेरी गांड और चुत में आग लगाई है, मैं उसको बुझाना चाहती हूँ. मैंने बोला- आपने पापा के अलावा किसी और के साथ भी चुदाई की है क्या?मां बोली- हाँ शादी से पहले जब मैं अपने घर में थी तो वहाँ पर एक लड़के ने मेरी चूत चोदी थी.

चोदा चोदी वीडियो बीएफ चोदा चोदी सगे बाप के साथ दोनों बहनों को गंदी हरकतें करते देखकर मुझे अजीब सा मज़ा आया और मेरी चूत में सनसनाहट सी होने लगी. मैंने कहा- आप बनाती रहो, मैं कब मना कर रहा हूँ?दीदी खाना बनाने लगी और मैं पीछे से दीदी की चूची को दबाने लगा। थोड़ी देर में खाना तैयार हो गया।दीदी बोली- चलो पहले खाना खा लिया जाए, फिर तुम अपनी इच्छा पूरी कर लेना।मैं बोला- दीदी मैं पहले नहा लेता हूं.

चोदा चोदी वीडियो बीएफ चोदा चोदी मेरी यह सेक्सी स्टोरी कैसी लगी, इसके बारे में अपने बहुमूल्य विचार रख कर कहानी को सार्थक बनायें. तो मैं फिर बोला- बाबू, मैं तुम्हें बहुत पसंद करता हूँ, मेरी गर्लफ्रेंड बनोगी?उसने अपना सर उठाया और बोली- मुझे घर जाना है.

मम्मी डांटती थीं कि पापा के कपड़े मत पहना कर; पर मैं पापा की लाड़ली परी थी, मुझे पापा का पूरा सपोर्ट था सो मैं हर तरह की मनमानी करती रहती थी.

मराठी xxx video

मैंने अपना लोअर नीचे खिसका दिया, उसकी पैन्टी भी खिसका दी और अपने लण्ड का सुपारा उसकी चूत पर रगड़ने लगा. वसुन्धरा के दोनों होंठ मेरे होंठों की गिरफ़्त में थे और जैसे ही मैं उसके ऊपर या नीचे वाले होंठ पर अपनी जीभ फेरता, वसुन्धरा का पूरा शरीर तन जाता और सिहरन की लहरें वसुन्धरा के शरीर में उठनी शुरू हो जाती. मैं बाथरूम जाकर वापस आया और फिर हम दोनों एक दूसरे से लिपट कर एक दूसरे के नंगे बदन का अहसास करते रहे। वे धीरे धीरे मेरे लंड को हिला रही थी.

मन तो मेरा भी था कि रात भर वहीं रुक के उसके तगड़े लंड से चुदती रहूँ. ऐसे ही तीन दिन निकल गए, चौथे दिन रविवार था और मैं जल्दी उठ गया, लेकिन बुआ पहले ही उठ चुकी थीं. उसकी पेंटी के साथ-साथ मेरी हथेली भी भीगती चली गयी।अब मैं ठहरा चूत चाटने का रसिया। मोनी की चूत से बहते इस गर्म गर्म कामरस को महसूस करके मुझसेरहा नहीं जा रहा था इसलिये मोनी को छोड़कर मैं अब उससे थोड़ा अलग हो गया। मोनी पहले ही नीचे से दूसरी तरफ मुड़ी हुई थी जो कि मेरे छोड़ते ही अब करवट बदलकर दूसरी तरफ हो गयी। मगर मोनी ने करवट बदलकर बस अब अपने मुँह को ही दूसरी तरफ किया.

वो चेयर पर बैठी हुई बस मजे से सिसकारी ले रही थी- आरव प्लीज़ हाथ खोलो मेरे … मुझको दर्द हो रहा है.

अभी तक आपने पढ़ा कैसे मैंने सारा आपा के हलाला से पहले नूरी खाला को चोदा और फिर मेरा निकाह सारा आपा से हुआ. मुझे भी मज़ा आ रहा था, शराब भी थोड़ी चढ़ी हुई थी, इसलिए मैं और बेकाबू हो रही थी. जनवरी के पहले ही दिन से स्कूल में ठंड की वजह से दस दिन की छुट्टी हो गयी थी.

अन्दर बाहर करते करते अब वो समय आ गया कि अब पैसेन्जर ट्रेन को राजधानी बनाने की इच्छा होने लगी. उन्होंने पहले खुद वो दारू पी और फिर वो गिलास मेरे होंठों से लगा दिया. अगर टेंडर समय की पाबंदगी के साथ ठीक 4 बजे भी खुलता जो सरकारी दफ्तरों में कभी होती नहीं तो भी शाम 7-8 तो मुझे मिनिस्ट्री में ही बज जाने थे.

इधर मेरे मोटे लंड को सहन न कर पाने के कारण दिशा की आंख से आंसू निकल आए थे. कूलर को मैंने अपने कमरे में लगाने के लिए मानसी से पूछा तो वो बोली- ठीक है.

जब पूरी तरह से मेरी फुद्दी गीली और गर्म होकर फूल गई तो जीजा जी कहने लगे कि जान … थोड़ा सा दर्द हो सकता है पर मैं आराम से डालूँगा. इससे उसकी आह निकलने लगी और वो अपने होंठों को अपने दांतों से पकड़ने लगी. उसके बाद बुआ ने अपने चूचे ताऊ के मुंह पर ले जाकर रखते हुए उनकी छाती पर लेट गई.

”वसुन्धरा ने बड़ी हैरतभरी नज़रों से मेरी ओर देखा और आँख मिलते ही मैं निर्दोष भाव से मुस्कुराया.

दोस्तो, कैसे हो आप सब? मेरा नाम अंकित पटेल है और मैं अहमदाबाद (गुजरात) से हूँ. अब अनिल ने मेरे मुँह से लंड निकाल दिया और बोला- लंड का मजा आ रहा है. करीब 10 मिनट में मैं झड़ गई और मेरे बाद उसने भी अपना पानी मेरी जवान चुत में छोड़ दिया.

उसके बाद मैंने चाची को बोला- इतनी स्वादिष्ट होती है चूत … मुझे मालूम होता तो मैं पहले ही आपकी चूत को खा गया होता. अगले दिन फिर रीना सुबह साढ़े ग्यारह बजे आ गयी, मैंने उसे अपनी बाइक पे बिठाया.

दोनों पैर बेड पर, दोनों खड़े हुए घुटनों को अपने दोनों बाजुओं से क्रास पकड़ कर अपनी ठोड़ी घुटनों पर रख कर मेरी ओर गहरी नज़रों से देख रही वसुन्धरा किसी और ही आयाम की लग रही थी. तभी जैक ने भी नीचे आकर मेरी चुत में हल्की सी जगह बना कर अन्दर डाल दिया. हालांकि वसुन्धरा की पलकें तो झुकी हुई थी लेकिन आवाज़ में हल्की सी सत्तात्मक लरज़ बता रही थी कि शेरनी वापिस चैतन्य हो रही थी.

सेक्सी ब्लू सेक्सी

शाम होने के बाद रात को सबने खाना खाया और कुछ देर तक साथ में टीवी देखने के बाद बच्चे सो गये थे.

जब सब लोग संभले तो मेरी जांघ पर मेरा ध्यान गया जिस पर काजल का हाथ मेरी पैंट को कस कर खींचे हुए था. मामी बोली- अगर तुम दोनों अगर लड़ाई नहीं करती तो शायद बत्ती भी गुल न होती. मैंने कहा- भाबी, मैं सोच रहा हूँ क्यों ना आज हम आंगन में चुदाई करें?ये कहते हुए मैं हंसने लगा.

धीरे धीरे मुझे थोड़ा आराम मिलने लगा, तो थोड़ी देर बाद भाई ने फिर से एक धक्का मारा. मैंने एक फर्जी कॉल की, थोड़ी देर बात करने के बाद डॉली को बताया कि रात को रुकना पड़ेगा, चलो दीदी के घर चलते हैं, तुम अपनी मम्मी को बता दो. हिंदी बीएफ जबरदस्ती वालीदो मिनट तक मेरे होंठों को चूसने के बाद उसने अपनी टांगों को मेरी कमर पर लपेट दिया.

फिर वो दोनों जाने लगे और मैं उनको बाहर टैक्सी स्टैंड तक छोड़ कर वापस घर आ गया. वो मेरे से कस कर चिपकी हुई थी और मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत पर रगड़ रही थी.

एक तो तुम नंगे होकर नहाते हो, फिर ऊपर से दरवाजा भी बंद नहीं करते हो. उनके लिए कमर आगे पीछे करना थोड़ा मुश्किल था क्योंकि कमर आगे पीछे करने के लिए उन्हें अपने हाथों को मेज़ का सहारा लेकर अपनी कमर उठा कर आगे पीछे करना पड़ रहा था. फिर क्या था मैंने स्वीटी को लिफ्ट दी और उसे जल्दी से न पहुंचाने की जगह बात करने के लिए ज्यादा समय मिल जाए, इसलिए थोड़ा घुमा फिरा के स्वीटी को घर के पास छोड़ दिया.

मैंने कहानी लिखना शुरू किया और सिर्फ 20 से 25 मिनट में सब लिख दिया और बिना वापस पढ़े पब्लिशर को ईमेल भी कर दिया. मैं अपने लंड का दबाव मामी की चुत पर बढ़ाने लगा, जिससे मेरे लंड का टोपा मामी की चुत में चला गया. मेरे हिसाब से मनीषा को बाथरूम में होना चाहिए था तो फिर वह किचन से कैसे बाहर आई?मैंने बाथरूम की तरफ देखा तो जागृति बाहर हॉल की तरफ चली आ रही थी.

आते वक्त मैंने बाहर से कुछ कंडोम और निरोध की गोलियां ले लीं क्योंकि मैं जानता था कि आज दीदी मुझसे जरूर चुदेगी.

मैं उसकी चूत को देख कर अपने आप पर कंट्रोल नहीं कर पा रहा था और मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिये. मैं इतनी गर्म थी कि बोली- कुत्तो, तुम दोनों चूत का भोसड़ा बनाओगे या इस गर्म गांड का भी कुछ करोगे.

आह … उसका गोरा जिस्म … कड़क उठे हुए चुचे, उन पे गुलाबी निपल्स, सपाट पेट, नंगी पीठ, गोरी बांहें, सुराही दार गर्दन, पतली कमर, उठे हुए चूतड़ और कसी हुई गांड. इतना कहने के साथ ही नम्रता ने लंड चूसना छोड़ दिया और सीधी होकर अपने कूल्हे को और फैला कर मेरे मुँह पर बैठ गयी. अब कम्यूटर मेरी लाइन थी और वसुन्धरा के पापा अंदर के आदमी थे तो उन्हें मेरा ख़्याल आया, इसीलिए वो मेरे पास बिज़नेस ऑफर ले कर आये थे.

सुमेर बोला- इसे तुम जब मर्जी चोद लेना पर ये राज किसी पर जाहिर मत करना, बेचारी लड़की बदनाम हो जाएगी. मैडम बाहर आई और मुझे एक तरफ कोने में ले जाकर पूछने लगी- क्या इरादा है?मैंने कहा- इरादा तो नेक है, अगर आप हाँ कर दो तो!वह मुस्करा कर मेरी तरफ देखने लगी. मैंने कोल्ड ड्रिंक का गिलास अदिति की तरफ बढ़ाया तो उसने शर्माते हुए गिलास पकड़ लिया.

चोदा चोदी वीडियो बीएफ चोदा चोदी हम दोनों फ़ोन पे बात करने लगे कि न्यू ईयर का क्या प्लान है, पार्टी करते हैं. वो इतनी बड़ी चुसक्कड़ निकली कि मेरी चूत से निकले नमकीन शहद की एक एक बूंद चूस रही थी, निगल रही थी.

ब्लू फिल्म सेक्सी फिल्म वीडियो में

मैंने कुछ देर तो उसकी चूत को ऊपर से ही सहलाया और फिर उसकी जांघों के बीच उसकी चूत और जांघों का जो त्रिकोण सा बना था वहाँ से धीरे धीरे मैंने अपनी उंगलियों को अन्दर घुसाना शुरू कर दिया। मोनी ने अपनी जाँघों को जोरों से भींचा हुआ था. लगभग 20 मिनट के बाद मेरा पानी निकलने वाला था, तो मैंने उसको कहा- हिना जी, मेरा पानी निकलने वाला है, कहां निकालूँ. मैं बस खुद को किसी तरह रोके हुए था नहीं तो मेरे मन में उसके चिकने बदन के प्रति इतना आवेग उठा हुआ था कि मैं उसको जानवरों की तरह पकड़ कर चोद दूं.

तो रात को लगभग आठ बजे खाना खाने के बाद सब सोने चले गए तो सुमेर मुझे चुपचाप छिपा कर उसी जगह ले गया. पहली बार मैंने मौसी के सामने लंड और चूत जैसे शब्दों का प्रयोग किया और इस वजह से मौसी मुझे बड़े ही आश्चर्य से देखते हुए बोलीं- क्या क्या बोल रहा है तू … और कहां से सीखा ये सब?मैं- इसमें सीखने का क्या है मौसी, दुनिया में तो सिर्फ दो ही जाति के इंसान होते हैं … औरत और मर्द. मारवाड़ी भाभी की चूत की चुदाईउसके बाद मैंने उसकी गीली पैंटी को भी खींच कर उसकी जांघों से निकालते हुए अलग कर दिया.

उसके बाद आई होली, होली का दिन मेरी लाइफ का सबसे अच्छा दिन रहा या ये कहूँ कि उसकी लाइफ का सबसे बुरा दिन रहा.

ब्लाउज के अन्दर दबे हुए कबूतर उसकी धड़कनों के साथ ऊपर नीचे हो रहे थे. मुझे पूरा भरोसा है कि जब वो आएगी तो मेरा लंड अपनी गांड में बड़ी आसानी से ले लेगी.

वो बोली- साले हरामी, मुझे दिखा वो कहानी कहां पर है?मानसी के कहने पर मैंने अंतर्वासना सेक्स स्टोरीज ओपन की अपने फोन में और उसको कहानी दिखाने लगा. उसके बाद मैंने बाथरूम में जाकर लंड को अच्छी तरह से साफ किया और उस पर ठंडा पानी डाला. मैं जानता था कि दीदी मुझे देखने तो नहीं देगी मगर मेरी बात पर गुस्सा भी नहीं करेगी.

ये कहानी मेरी भतीजी नैना की मेरे द्वारा की गई पलंगतोड़ कामक्रीड़ा की है.

मैंने उसी समय फिर से एक झटका दे मारा, जिससे कि मेरा पूरा लंड उसकी छोटी सी चुत में चला गया था. सुरसुराहट क्या, कामोत्तेजना तो तभी से शुरू हो चुकी थी, जब मैं और नम्रता मेरे घर आ रहे थे. लेकिन आज तेरा असली लंड लेकर मैं भी अपनी चूत की प्यास बुझाना चाहती हूं.

जवान लड़की का बीएफ सेक्सीमैंने अपने बेटे को अपने जवान जिस्म के कुछ जलवे दिखाए और उसके साथ शिमला घूमने जाने का कार्यक्रम बना लिया. प्लान के मुताबिक फार्म हाउस पहुंचने के बाद मेरे फोन पर मेरे एक तीसरे दोस्त का फोन आया.

ब्लू सेक्सी वीडियो भेजो

जैसे ही मैं घर के अन्दर गया, तो भाभी ने मुझे ड्रॉइंग रूम में बिठाया और नैना को आवाज़ दी कि पानी ले आ चाचा के लिए. दीदी से चूत चटवाने में इतना मज़ा नहीं आता, जितना आप से … ओह पापा मैं भी दीदी के साथ रात में लड़के से चुदवाऊंगी. मेरे लिए यह मौका पहली बार था कि मैं किसी लड़के के साथ हॉल में मूवी देखने आई थी.

अबकी बार मैं उसके लंड को ऐसे प्यार से चूस रही थी, जिससे उसे भी मज़ा आए. कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि मैं अपनी पड़ोसन की बेटी मोनी की चूत को चोदने के लिए तड़प रहा था. उनके लिए ये सब नया था, वो बोलीं- क्यों जी, आज तो कुछ अलग ही रंग दिखा रहे हो.

धीरे-धीरे मैंने अपने दोनों हाथों की उँगलियों में वसुन्धरा के दोनों हाथों की उंगलियां पकड़ ली और वसुन्धरा के शरीर पर लंबवत लेट गया. तभी वनिता मुझे बुलाने आई और मुझे देख कर बोली- वाओ … बड़ी मस्त लग रही हो … लगता है आज ससुर जी को दीवाना बना ही दोगी. मुझे लंड चूसना आदि कुछ आता नहीं था इसलिए मैं सही से लंड चूस नहीं पा रही थी.

एक दिन मैं एक खाली पीरियड में लाइब्रेरी में पढ़ाई करने का नाटक करते हुए ऊँघता हुआटाइम पास कर रहा था, तो स्कूल का सबसे सीनियर चपरासी रामजी लाल मुझे ढूंढता हुआ आया- राजे … तुम्हें बाली मैडम ने बुलाया है … स्टाफ रूम में … चलो फटाफट!रामजी लाल को सब लोग ताऊ कहा करते थे. लंड बुर से बिल्कुल चिपक के अंदर बाहर हो रहा था। मैं आअह आअह उम्म्ह… अहह… हय… याह… अह्ह ऊऊऊ उईई ईईई उफ अह कर रही थी.

भाबी के इस तरह गांड को उठा उठा कर लंड पर बैठने की अदा मुझे बड़ी भा रही थी.

चारों ने खाना खत्म किया और हाथ धोकर मैं राधिका को अपने साथ उठाकर अपने कमरे में ले गया. किनर सैकसमगर वो अपनी गांड को मेरे लंड पर चलाती रही और मेरे लंड से चुदती रही. सेक्सी बीएफ बीएफ एचडी वीडियोमैंने फट से गिलास नीचे रखा और उसके करीब होते हुए उसके कंधे को सहलाते हुए बोला- मैं सच में तुमसे बहुत प्यार करता हूँ अदिति. मैंने उससे मजाक में पूछा- मुझे चोदने का मन है?नहीं नहीं मेमसाब, ऐसा मैं सोच भी नहीं सकता!” वो डर के बोला.

खैर मैंने कपड़े नहीं खरीदे, जो मेरे पास थे, उन्हीं को पहनने का मन बना लिया.

आपकी तबियत भी ठीक नहीं है।मम्मी को भी मेरा विचार ठीक लगा और हम कार में बैठकर छाया(बुआ) के घर चलने लगे।घर पहुंच कर चाय नाश्ता करने के बाद छाया(बुआ) ने मम्मी से कहा- भाभी, आप आराम करो. उसको देख कर ऐसा लग रहा था जैसे खेत में खरपतवार के बीच में कोई सूरजमुखी का फूल खिला हुआ है. अब जब दीदी के साथ इतनी सारी बात हो ही गई थी तो मैंने सोचा क्यों न इससे आगे बढ़ा जाये?मैं- मगर दीदी मैंने तो आपको केवल कपड़ों में ही देखा है.

सोनल के चिल्लाने से राधिका उसके पास आ गई और वो दिशा को साइड में करके सोनल को किस करने लगी. तो मेरी सभी सालियाँ, सारा जरीना की सभी बहने मुझसे अपनी पहली चुदाई के बारे में बताने के लिए कहने लगी और पूछने लगी- किसे चोदा, कब चोदा, कहाँ चोदा, कैसे चोदा? सब तफसील से बताना!लीजिये पेश है मेरी पहली चुदाई की कहानी:स्कूल के पेपर ख़त्म होने के बाद मैं अपने एक दोस्त सुमेर के घर गया था. कोई 5 मिनट बाद वो आयी और चहकती हुई बोली- चाचू अमेरीकन पाई: बुक ऑफ लव देखनी है.

देसी सेक्स विडियोज

काजल की चूत मेरे वीर्य से भर गई … और उसके साथ ही काजल भी और एक बार मेरे साथ ही झड़ गई. उसने खुद ही मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत पर लगा दिया और मैंने बिना देर किये उसकी चूत में लंड को धकेल दिया. मुझे समझ आ गया कि वो झड़ गई … क्योंकि चुत से नमकीन पानी का स्वाद आने लगा था.

रितेश सब जान चुका था कि मैं चुपके से छिप कर जीजा-साली की चुदाई देख रहा हूं.

फिर मैं कुछ बोलता, उससे पहले ही उन्होंने मेरे लिप्स पे अपने लिप्स रख दिए और मुझे स्मूच करने लगी.

थोड़ी देर बाद काजल उठी और बाहर से सूखे कपड़े लेकर आई और मेरी तरफ मुस्कुराकर देखते हुए ऊपर चली गई. मेरा मन इसे हाथ में पकड़ कर देखने को कह रहा है … क्या मैं देख लूँ?मैंने कहा- भाभी, आप ये क्या कह रही हो. इंग्लिश सेक्सी वीडियो एक्समैं बी-टेक के फाइनल ईयर में था, तो मैंने सोचा क्यों ना पार्ट टाइम में कोई जॉब कर लिया जाए.

उसकी हल्की सी आह निकली लेकिन मैं रुका नहीं और इसके बाद मैंने अपने लंड को उसकी चुत में एक हल्के से झटके के साथ अपनी कमर को हिलाया. जब मुझसे लंड चुसाओगे तो और क्या होगा?” मैं तेज आवाज में बोली।वो पास आ गया. मेरा लौड़ा तुरंत खड़ा हो गया और मैंने उसके होंठों को वहीं पर चूसना शुरू कर दिया.

जब सुमन गर्म होने लगी तो उसने मुझे अपनी बांहों में अच्छी तरह पकड़ लिया. वो चिहुंक उठीं- धीरे रेरे … आह आई आह म्मम्म … चूसो उन्हें … अपने हर्षल के बाद किसी ने नहीं चूसा उन्हें … मसलो और दूध पियो मेरा आज … म्म्मह … मेरे राजा आ अअआअ.

मैं भाभी के मना करने के बाद भी कभी कभी लम्बा झटका दे देता, तो भाभी की चीख निकल जाती.

मैं अपने दोस्तों के पास नहीं बल्कि आज मानसी के चूचों को दबाने की प्लानिंग कर रहा था. काफी देर बाद अपनी कुंवारी चूत चुदाई का मज़ा लेते लेते मुझे मेरी चूत के अन्दर कुछ अहसास हुआ. आंखें बंद करके हम दोनों ही दोस्त इन आनंद के पलों का मजा ले रही थीं.

बीएफ मूवी सेक्स हिंदी मैंने देखा कि मेरी माँ के बूब्स बहुत ही मोटे थे और उसके निप्पल बिल्कुल भूरे रंग के थे. फिर मैं पीछे आया और उसकी गांड पे हाथ फेरते हुए मैंने उसके चूतड़ पर एक जोर की चपत लगा दी.

उसके बाद मैंने देखा कि उसकी चुत से खून निकल कर मेरे लंड औऱ उसकी चुत व जांघों पर लग गया था. क्या कर रहे हो! जल्दी से अपना लंड मेरी चूत में डाल दो प्लीज!मैं उसकी चूत में जीभ डालकर उसकी चूत को अपनी जीभ से ही चोदने लगा. मैं उसके शर्ट को निकालना चाहता था मगर इंस्टिट्यूट में उसको नंगी करने में खतरा था इसलिए उसके कमीज को उसके चूचों के ऊपर करके मैंने उसकी ब्रा को भी ऊपर सरका दिया.

चूत की चुदाई चुदाई

इसके तुरंत बाद आंटी ने मेरी गोद से हट कर मेरा लोअर, चड्डी समेत नीचे खींच दिया. वसुन्धरा के दोनों हाथों से मुझे अपने साथ कसे हुए थी, मेरा दायां हाथ अभी भी वसुन्धरा के ब्रा के ऊपर से ही वसुन्धरा के बाएं वक्ष के निप्पल के साथ अठखेलियां कर रहा था. जिस चूत को मोटे लंड से आधा आधा घंटा रगड़वाने की आदत हो, उस चूत में उंगली क्या काम करती.

मैंने अपने दोस्त को बताया कि रेशमा चुदाई के लिए मान गयी है, तो उसने अपने रूम की चाबी दी. रानी ने घंटी बजाते ही दरवाज़ा खोल दिया जैसे वह भी मेरी बाट लगाए तैयार बैठी थी.

यह कहकर उसने मेरे होंठों को चूस लिया और फिर अलग होकर बोली- जब तुम्हारा मन करे तुम मेरे पास आ जाना.

उसने कहा- बहुत मज़े किये हैं तूने तो!उसके लंड से मेरा पूरा मुंह भर गया था. मैंने सोचा कि अगर किचन का काम खत्म हो गया और जागृति बाहर आ गई तो आज उसे फिर से हमारी चुदाई का पता लग जाएगा. फिर रवींद्र और वनिता की चुदाई का प्रोग्राम भी मेरे ही घर होना तय हुआ.

फिर आज मैंने भी सोचा कि अपनी आप बीती एक सच्ची घटना को अन्तर्वासना पर लिखूँ. उसने मुझे गाली देते सुना तो उसने मुझे भी गाली देते हुए बिस्तर लाके पटक दिया और मेरी टांगें फाड़ते हुए लंड सैट किया. जब भी वो अपने मायके वाले गांव जाती थी, तब मैं उससे मिलने चला जाता था.

लंड चूत में पूरी गहराई तक ठुंस जाता है और चूत के एक एक इंच के दबाब को, एक एक इंच से छूटते रस को महसूस करता है.

चोदा चोदी वीडियो बीएफ चोदा चोदी: तभी अंकल बोले- देख … क्या ऐसा लंड है तेरे पति का? वो हम दोनों जैसा मज़ा दे सकता है तुझे?शायरा अंकल का लंड हिलाते हुए आंटी बोलीं- नहीं कभी नहीं … तभी तो आपके पास चुदने आती हूँ. ” रानी की आवाज़ फंसे फंसे गले से आती सुनाई दी- मादरचोद जान निकलेगा क्या … आजा राजा ऊपर आजा अपनी रानी के पास … देर न कर जल्दी से आजा मेरे रज्जजा!मैं भी तब तक बहुत तीव्र वासना के तूफान में घिर चुका था.

तो वो बोले- अरे तू तो मेरी बीवी की एक्टिंग कर रहा है, तो शर्मा क्यों रहा है? वो तो इसे बड़े प्यार से चूमती है और लॉलीपॉप की तरह चूसती है. मेरा कम से कम 6-7 बार पानी निकल चुका था, पर गोली खाने की वजह से उनमें से किसी का मुठ नहीं निकला था. भाबी भी पूरी मजबूती से लंड को पकड़ कर हिलाने का काम शुरू कर दिया था.

माँ- मेरे राजा ऐसी चुदाई रोज किया करो मेरी … म्म्मम्म … तुम्हारा रस भी कितना टेस्टी है … म्म्मम्म … चाट लो मेरी चूत को … आह … आह … 20 सालों के बाद आज मैं संतुष्ट हुई हूं.

स्कूल से मेरे घर तक के रास्ते में कई स्पीड ब्रेकर्स थे जिनके पास आवारा लौंडे खड़े रहते थे. उसे वैसे ही उठाए हुए मैं हॉल में ले आया और डाइनिंग टेबल पे लिटा दिया. यह मेरी पहली कहानी है … मैंने इधर सभी बातों को ध्यान में रखते हुए लिखा है.