हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ ब्लू

छवि स्रोत,बीएफ चोदने वाली वीडियो में

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी एचडी सेक्स बीएफ: हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ ब्लू, उसने कहा- ऐसा क्यों?मैंने कहा- क्योंकि मैं जानता था कि आज कुछ ना कुछ ज़रूर होगा.

बीएफ वीडियो हिंदी देखने वाली

अचानक मैंने गौर किया कि प्रिया की काँखें एकदम रोमविहीन हैं, वहाँ एक भी बाल नहीं था और बग़लों के नीचे की त्वचा एकदम नरम और मुलायम थी. बीएफ फिल्म नंगी हिंदीकुछ टाइम बाद मुझको फील हुआ कि वो अपनी पिछाड़ी को पीछे से धीमे धीमे उछाल रही थी.

अगला रविवार भी आ गया और हम लोग पटना में बोरिंग रोड के एक साइबर कैफ़े में आ गए. एक्स एक्स वीडियो बीएफ एचडी हिंदी!मैंने कहा- पहले माल तो दिखाओ मेरी जान, आगे का खेल तो बाद में होगा.

वह मुझे गालों पर चाटें मारने लगीं और फ़िर जोर जोर से मुझे किस करते हुए काटने भी लगीं.हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ ब्लू: इसके बाद मैंने उसे सोफ़ा पर लिटा लिया और उसकी टांगें अपने कन्धों पर रख कर कुछ मिनट तक उसे धकापेल चोदा और उसके अन्दर ही झड़ गया.

तभी उन्होंने अपनी रफ़्तार बढ़ दी और आअह्ह हहह हहहह कर के झड़ने लगी- लव यू शिव… लव यू शिव… बोल कर मेरे ऊपर गिर गयी.बुआ बोलीं- ठीक है मैं तेरे घर बोलने आती हूँ कि तुझे हमारे यहां सोने भेज दो.

ससुर बहू की चुदाई बीएफ वीडियो - हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ ब्लू

मामी जी भी मेरा साथ देने लग गई थीं। धीरे धीरे मेरा हाथ मामी जी के स्तनों पर जा पहुंचा, मैं ब्लाहुज के उपर से ही स्तनों को सहलाने लगा.मैंने लंड घुसेड़ा तो भाभी एकदम से चिहुंक उठीं लेकिन उनकी चुत मेरे लंड की सहेली थी तो अपने यार को उनकी चुत ने जज्ब कर लिया और भाभी मेरा साथ देने लगीं.

उसने पेंटी भी वो वाली पहन रखी थी, जिसमें पीछे से पूरी गांड खुली होती है, बस आगे से चुत ढकी होती है. हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ ब्लू तब मैं उससे बोला- यार तुम मेरी वाइफ को भी अच्छे लगे, वो मुझे बोल रही थी कि तुम बहुत अच्छे लगते हो.

मेरे मुंह से निकलने लगा- आआह जमाई… जी… आआह… उमआआआ…वो भी बोले- हां हां… सासु… जी… बोलो ना?मैं बोली- धीरे… आउच… धीरे… पियो ना… मेरे बूब्स को!वो भी अपने दांतों में मेरे निप्पलों को दबा रहे थे।फिर वो मेरी नाभि के ऊपर जुबान फिराने लगे, मैं मचलने लगी.

हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ ब्लू?

फिर कुछ समय बाद मेरी शादी हो गई क्योंकि हम ज्यादा अमीर नहीं थे तो दहेज़ न दे पाने के कारण मेरी शादी एक ठीक ठाक से दिखने वाले लड़के से करवा दी गई. आंटी को लगा कि आज वो बहुत दिन बाद मिली है इसलिए उसको ऐसे तड़पा कर चोद रहा हूँ. तो मैंने भाभी को उनके कमरे में पीछे से पकड़ लिया और उनकी गर्दन को चूमने लगा.

उनका सहयोग से भरा हुआ जबाव पाकर मैंने उनको अपनी बांहों में भर लिया और उनकी उठी गांड को अपने हाथों से मसलने लगा. तभी रमेश अंकल के उन दोस्त का पानी निकल गया, जो अपना लंड मां की चूत में पेला हुआ था. लंड चूत में घुसा तो कुसुम के मुंह से एक हल्की सी आह निकली और विक्रम का पूरा लंड कुसुम की चुत में कहीं खो सा गया.

इस वक्त शराब का हल्का हल्का सुरूर चढ़ने लगा था और अब मुझे साली की नशीली आँखें थी लंड खड़ा करने पर मजबूर कर रही थीं. तो मैंने कहा- यार मैं ज़रा हाथ पैर धोने के लिए गया था, गर्मी लग रही थी ना!अब हम दोनों भाई बहन बिस्तर पर बैठ कर टीवी देखने लगे और साथ साथ चाय भी पी रहे थे. मैं जैसे ही दरवाजा की खिटकिली अंदर से खोलने लगी, जीजा ने फिर से पकड़ लिया पीछे से और मेरे हाथ से चाकू छीनकर ऊपर रैक में फेंक दिया, और मुझे फिर से उठाकर बिस्तर में पटक दिया.

उसके मुँह से जमीन पर चुदाई की बात सुनकर मुझे लगा कि इधर इसने हल्ला किया तो माँ जाग सकती हैं. भूखे को रोटी, लालची को पैसे, बीमार को डॉक्टर और खड़े लंड को हर जगह चुत ही नज़र आती है.

ऐसे ही काफी दिन बीत गए और एक दिन रात में बात करते वक़्त मैंने उसे प्रपोज़ कर दिया, जिसमें उसका जवाब न तो हाँ था.

वो अपना मुँह तकिए में दबा कर सर इधर उधर करने लगीं, लेकिन मैं नहीं रुका और लगातार धक्के लगाता रहा.

मैंने भी उसके लंड के हर धक्के का जवाब अपनी गांड उठाते हुए तगड़े धक्कों से देना शुरू किया. उन्होंने चित लेटते हुए मुझे अपने ऊपर आने के लिए अपने हाथों से मुझे इशारा सा दिया और मैं अपनी को चोदने के लिए उनके ऊपर चढ़ गया. दोस्तो, हमने शुरूआत की, तो दो की कह कर कई पैग वोडका के खींच लिए… जिसके बाद हमें नशा होने लगा.

मैंने उसे हाथ हटाने को कहा तो वो खड़ी हो गयी और अपनी साड़ी खोलने लगी. मैंने सोचा अब तो मेरी बैंड बज गई, घबरा गया मैं… मुझे लगा कि ये भाई और भाभी को सब बता देगी. शाम को कॉलेज से आते टाइम मैंने मैनफ़ोर्से कंडोम का एक 20 पीस वाला पैकेट ले कर रख लिया, क्योंकि मुझे पता था कि अब कभी भी कुछ भी हो सकता है.

भाभी आधी लेटी हुई थी, सूट पहन रखा था और मैं उनके पैरों के पास बैठ गया और हम बीयर पीने लगे.

अन्तर्वासना के पटल पर एक और कहानी का समापन।कैसी लगी मेरी प्रेमिका की चुत चुदाई कहानी?आप मुझे मेल कर सकते हैं![emailprotected]. मैंने उन्हें चूमा तो उन्होंने बैठ कर मेरे लंड को ब्लोजॉब देना चालू कर दिया. तभी वो आ गई और उसने मेरा पैग उठाया और एक ही सांस में पूरा पैग पी गई.

मुझे भाभी के चेहरे पर खुशी नज़र आ रही थी।उसके कुछ दिन बाद भाभी फिर अपनी ससुराल में आ गई. उसका 34-28-36 का फिगर, जो मुझे बाद में पता चला, इतना दिलकश था जो अच्छे अच्छों का मन विचलित कर दे. मैंने उससे पूछा तो इस पर उसने एक अनुभवी औरत की तरह कहा था- चुत में लौड़ा डालने के लिए उसका साईज बड़ा होना जरूरी होता है और उसके लिए स्तन दबाना, उसे चूसना भी उतना ही आवश्यक होता है.

अब मुझे भी शक हुआ क्योंकि मुझे मालूम था कि पंकज एक सेक्स एडिक्ट था.

मैंने धीरे से अपने हाथ उसकी पतली कमर पे रखा और धीरे धीरे फिराने लगा. कुछ देर बाद दीदी की चुत का दर्द खत्म हो गया और वो चिल्लाने लगीं ऊऊ.

हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ ब्लू फिर अचानक मेरी बुर के अन्दर कुछ गर्म गर्म निकल गया, जो अवी का वीर्य था. इसका असर आशीष पर क्या हुआ, वो तो मुझे नहीं पता, मगर मेरी तो जान ही निकल गई.

हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ ब्लू मैंने कहा- आप उसे किस तरह से जानते हैं?तो वो बोला- मैं उसी की शिकायत को लेकर यहां पर छानबीन करने के लिए आया हूँ. घर पर क्या कहोगी?उसने कहा- वो मेरी प्रॉब्लम है इससे तुम्हारा कोई लेना देना नहीं है.

जैसे मेरे हाथों के नीचे का हिस्सा पूरा खुला था, हाथों पर ही कुछ दूर तक आ रही थी.

सेक्सी एक्स एक्स एक्स व्हिडीओ

इसी तरह उसे किस करते हुए मैंने उसको बेड पे लिटा दिया और उसके मम्मों को बारी बारी से ब्रा के ऊपर से ही चूसने लगा. उधर पंकज कभी रेखा के होंठों को चूमता कभी उसके निप्पलों को चूसता, कभी उसकी कान की लौ को चूसता तो कभी उसकी हाथ की बगलों को चाटता, जिसे लोग कांख भी कहते हैं. अब मैं वापस रूम में आया और अन्दर से लॉक कर दिया और इस बार मैंने अपना पूरा पेंट और अंडरवियर उतार कर शर्ट को ऊपर करके कहा- रोशनी हम तीनों का लंड देख कर बताओ, किसका बड़ा है?इतने में पिंकी ने मेरी एल शेप की झांट देखकर एकदम से बोली- सर ये आपने कैसे बनाई?मैंने हँसकर कहा- तुम्हारी दीदी की भी वी शेप में बनाई हैं.

मैंने एक लड़का ढूँढा हुआ है, जो 50000 तक देने को तैयार है मगर उसकी शर्त यह है कि उसे कोई कुंवारी (वर्जिन) लड़की ही चाहिए. मैंने कहा तो वो मना करने लगी और बोलने लगी कि उसका पति भी उससे करवाता है लेकिन उसको पसन्द नहीं है ओर उल्टी सी आती है. देख जैसे मैं नंगी होती हूँ उसी तरह से नंगी हो जा और मैं भी देखती हूँ तू कैसे होती है.

ऊपर एक बहुत खुला हुआ टॉप था, जिसके नीचे मेरे मम्मे बिना ब्रा के पूरे नंगे थे.

अगले दिन जब हम रूम में अकेले थे तो चिंटू ने गेट बंद कर दिए और मुझे अपने बिस्तर पर बुला लिया. दोस्तो, मेरी माँ के साथ सेक्स सम्बन्ध की मेरी रियल स्टोरी कैसी लगी, प्लीज़ रिप्लाई जरूर करना. और फिर मैं मैं उसको अपने साथ बाथरूम में नहाने के लिए ले गया, वहाँ जाते ही मैंने हम दोनों के कपड़े उतार दिए.

मैंने उसके मम्मों को उसके साड़ी से और उसके ऊपर के ब्लाउज से अलग कर दिया और फिर मैंने देखा. भाभी ने बोला- ये क्या कर रहे थे? मैं तेरी भाभी हूँ, तेरी गर्लफ्रेंड नहीं. जैसे ही ब्रा खुली उसके मदमस्त दोनों कबूतरों को उछलते थिरकते देख कर मैं पागल ही हो गया और उन पर टूट पड़ा.

मेरे प्यारे दोस्तो, मेरा नाम नीरज है, मैं मध्य प्रदेश में एक छोटे से गांव का रहने वाला हूँ. मैं कब से आपसे चुदवाना चाहती थी, पर बॉयफ्रेंड के चक्कर में नहीं चुदवा पाई.

वैसे उसकी 6 महीने की गुड़िया भी है, जिस वजह से उसके चूचों में दूध भी आता है. सेजल भाभी ने दो चाय के कप भरे और एक मुझे दिया और एक से खुद चाय पीने लगीं. अब मैंने दिव्या के कपडे उतारने शुरू किये, उसे पूरी नंगी किया और बिस्तर पर लिटा कर उसके ऊपर आ गया.

दरअसल ये मेरे लिए एक गाली न होकर मेरी योग्यता को दर्शाने के लिए लिखा है.

दीदी तेज़ तेज़ अपनी गांड हिला हिला कर झड़ रही थीं और साथ ही वो करेले को तेज़ तेज़ चुत में अन्दर बाहर करने लगीं. और हाँ लोगों को खुद कार चलना आज कल ट्रॅफिक को देखते हुए बहुत मुश्किल होती है. हां ड्रॉइंग रूम में ड्राइवर तुम्हारा इंतज़ार कर रहा होगा तुम उसको जहाँ बोलोगी, वो वहीं छोड़ कर आएगा.

मेरी बीवी की चुत से अब बहुत खून निकलने लगा और पूरे घर में फछ फछ की आवाजें आने लगीं. शायद उनका इस तरह से पहली बार था पर साला मेरे मुँह से भी आवाज़ निकल गई, दर्द मुझे भी हुआ.

यह देख जूही ने उसे लिप किस कर के जितना हो सका वीर्य उसके मुंह से चाट लिया।अब हम तीनों थक गए थे, थोड़ी देर हम ऐसे ही पड़े रहे कि तभी नाज के दिमाग में पता नहीं क्या सूझा, वो उठ कर मेरा लंड मुँह में लेकर चूसने लगी. वो बोली- डार्लिंग आज तुम्हें मैं पूरा लाइव शो दिखाऊंगी, तू भी क्या याद करेगी कि किससे पाला पड़ा है. मैंने खुद को घुटनों पर टिकाया, अलका रानी के मुलायम पांव उठाकर अपने कन्धों पर जमाये और रानी की पतली कमर को थाम के ज़ोरदार धक्कों की झड़ी लगा दी.

हिंदी सेक्सी मुसलमानी

भाभी हँसने लगी और बोली- यार यहाँ तो बहुत भीड़ है, सुना है कि होटल में भी रूम बुक है.

मैंने धीरे धीरे हिलना चालू रखा और इसी तरह पूरा लंड चाची की चूत के अन्दर चला गया. जैसा कि अस्पताल नया ही बना था, इसलिये काफ़ी सफाई थी और सामने डॉक्टर के नये क्वाटर बने हुए थे जो लम्बी बिल्डिंग के रूप में थे और इन घरों में अभी कोई रहता नहीं था… मतलब ज्यादा भीड़भाड़ नहीं थी वहाँ पर!दूर से बस एक लगभग 25 साल का मर्द दिखाई दे रहा था, जो अस्पताल की सीढ़ी के साईड में बनी ओटली पर बैठा फोन पर किसी से बात कर रहा था. मेरे ऊपर तो वैसे ही कामुकता चढ़ी हुई थी, मैं तो अपनी बहन को पूरी नंगी करना चाह रहा था.

एक वक़्त तो ऐसा आलम आ गया था जिस घड़ी उससे बात नहीं होती थी, उस दिन मन ही नहीं लगता था. उधर सुरेंद्र जीजा ने भी मेरे कूल्हों को पकड़ कर मेरी गान्ड को फैलाया, फिर पीठ पर हाथ रखकर पीछे से कमर पकड़कर पीठ पर जोर लगाकर एक जोर से धक्का मारकर मेरी गान्ड में अपने लन्ड को घुसा दिया. हिंदी बीएफ देसी सेक्स वीडियोआप दोनों यह बताओ कि आज सुबह सुबह मेरे घर कैसे आना हुआ?तो रेहाना बोली- मैं अपना अधूरा काम जो कल पार्लर में नहीं हो पाया था, उसे पूरा करने आई हूँ मतलब मैं आपसे चुदना चाहती हूँ.

बीवी मुश्किल से ही दस दिन में एक बार ही चोदने देती है और भाभी के साथ चुदाई का सैटिंग बहुत ही कम हो पाती है. फिर उसके खून से भरे लंड ने मेरे पेट पर से मेरे गले तक वीर्य की पिचकारी से लथपथ कर दिया.

मैंने अपना एक हाथ उसकी टी-शर्ट के अन्दर डाला और उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसके मम्मों को दबाने लगा. यही कारण रहा कि हम दोनों रोज़ रात को एक दूसरे के लिए तड़प तड़प के रह जाते थे. हम लोग कई मिनट तक ऐसे ही एक‌ दूसरे की बांहों में सिमटे हुए मजा लेते रहे, एक दूसरे को किस करते और लव बाईट कर लेते.

अपने हाथों मेरी ब्रा निकाल कर मेरी चूचियों के निप्पलों को अपने मुँह में लेकर अपने अरमान पूरे कर लो. फिर पंकज नीचे लेटा और रेखा पंकज का लंड गप्प से मुँह में लेकर चूसने लगी. फिर वो कमरे से अपनी ड्रेस में चली गई और उधर से दो मिनट बाद ही सेक्सी सा लाल गाउन पहन कर बेडरूम में आ गई.

लेकिन यह भी सच है कित्रिया चरित्रम् पुरुषस्य भाग्यम्, देवो न जानति कुतो मनुष्यम्”देखते हैं कि जिंदगी आगे क्या-क्या रंग दिखाती है?अगर आगे ऐसा कुछ हुआ तो आप सब से अपने अनुभव जरूर बाँटूगा.

मैंने पूछा- कुछ परेशान सी लग रही हो आप?तो उन्होंने बुझी सी आवाज में बोला- तुम नहीं समझोगे. फिर वो मुझे थैंक्स बोलने लगीं, तो मैंने बोला- अरे भाभी इसमें थैंक्स की क्या बात है, मेरी जगह कोई भी होता तो यही करता.

दिव्या हंसी- मुझे पता है, उसका दोस्त था उसका बॉस नहीं और तू इतना छिनालपने में बिजी थी कि एक बार घर नहीं आ सकी और कपड़े क्या पहने तूने रंडी. उसके कुछ देर बाद उसका लंड फिर से खड़ा हो गया और उसने मुझे लिटाया और अपना काला मोटा मूसल जैसा लंड मेरी चुत की फांकों में सैट करके जोर से धक्का दे मारा. मैंने खुले आम लंड और चुत का नाम सुना तो मेरी आंखें शर्म से झुका गई थीं.

मैंने थोड़े झाके जोर जोर से उसकी चूत में लगाए और हम दोनों एक साथ स्खलित हो गए. मैंने कहा- क्या पंकज तुम्हें खुश नहीं रखता?स्मिता ने बताया- पंकज का नीचे वाली किरायदार रेखा के साथ चक्कर चल रहा है. यहाँ मेरी और अम्मी के पेट की भूख मिटने के बाद अब बारी थी जिस्म की जानकारी लेने की, अम्मी ने मुझे अपने रूम में ले जा कर बैठा दिया और बताने लगी कि कैसे आदमियों को कहाँ छूने से वो पागल हो जाते हैं और मर्द औरतों को कैसे छूते हैं, कहाँ छूते हैं तो औरतें जल्दी गर्म होती हैं.

हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ ब्लू पहले मैंने अपनी जीभ से उसके होंठ को चाटा, फिर उसके नीचे के होंठ को अपने दोनों होंठों के बीच दबा कर चूसने लगा. वो दस मिनट में मेरे पति की लुंगी बाँध कर बाहर आ गया उसका नंगा चौड़ा सीना देख कर मेरी चुत में कुलबुली होने लगी.

सैक्स विडियो मारवाड़ी

मुझे बहुत अच्छा लग रहा था, मन कर रहा था कि और अन्दर तक जीभ को डाल कर मेरी चूत चुसाई हो. मैंने मन बना लिया था कि निशा भाभी आखिर मुझे प्यार करती है और मुझे भी उसको खुश रखने की जिम्मेदारी निभानी चाहिए. वाह… क्या चुदाई थी यार… सबसे बढ़िया… उसके बाद मैं वैसे ही उसके ऊपर लेट लिया.

अब मैंने चाची का सर ऊपर किया और उनके रसीले होंठों पर अपने होंठ रख दिए. 5 मिनट के बाद ही मेरा लंड फिर फुफकारने लगा और भाभी बोली- बहुत गरम हो यार तुम तो? इतनी जल्दी फिर से मूड में आ गए?मैंने कहा- भाभी, अभी असली काम करना तो बाकी है ना तो गर्म तो होना ही था. हिंदी सेक्सी वीडियो सेक्सी बीएफमैं पता नहीं क्यों इतनी कामुक हो चुकी थीं बड़े लंड से डरने के बावजूद भी उसको मना नहीं कर पाई.

मैंने पूछा- मैं बिना किसी को बताए क्यों आऊं?सर ने कहा कि तुम अगर अपनी माँ को बताओगी तो वो तुम्हें आने नहीं देंगी और अगर तुम नहीं आओगी तुम्हारा काम 35 हो जाएगा.

थोड़ी देर में मैं ऐसे ही सो गई।जब सुबह मेरी नींद खुली तो मैंने देखा कि जमाई जी मेरी बगलमे नागे पड़े सो रहे थे. उस कुर्ती में पीछे से उसकी काली ब्रा के शरीर में छपने के निशान और पैंटी की भी रबर के निशान दिख रहे थे.

आआआआ… ऊऊऊऊ… मस्त! चलो और तेजी से चोदो मुझे! आआआ… चलो पूरा घुसेड़ दो अपना हब्शी लंड मेरी चुदक्कड़ गांड में… ओओओओओ… ओए हाउ स्वीट! बस रुकना मत! हाँ ऐसे… ऐसे… ऐसे… ऐसे… और जोर से, और… और! आआआआआ…”और आर्थर ने अपने खंजर को मेरी पत्नी की गांड में जापानी बुलेट ट्रेन की रफ़्तार से घुसेड़ना शुरू कर दिया. मैंने धीरे से अपने हाथ उसकी पतली कमर पे रखा और धीरे धीरे फिराने लगा. अब मेरा एक हाथ उसकी पीठ पे घूमते हुए उसे सहला रहा था, दूसरा हाथ उसकी कमर को अपनी तरफ खींचे जा रहा था.

मैंने प्रिया को सख्ती से अपनी बाहों में कस लिया और प्रिया की योनि के अंदर मेरे लिंग से वीर्य की जोरदार एक बौछार हुई… फिर दूसरी… फिर तीसरी.

उसका भी दर्द कम हो गया। अब उसने रोना बंद कर दिया और मुझे जोरों से चूमने लगी। मैं समझ गया कि ताबड़तोड़ चुदाई का वक्त आ गया है।मैंने धीरे से धक्के लगाने शुरू किए। उसे मज़ा आने लगा तो वो मुझे और जोर से किस करने लगी और मेरे कमर की लय में अपने कमर को भी हिलाने लगी। अब मैंने बिना रहम किया जो चोदा. अब तक आपने पढ़ा था कुसुम मुझे अपने ग्राहक के सामने बैठा कर लाइव चुदाई की फिल्म दिखा रही थी. मैं अपनी बीवी के ऊपर से हट कर एक ओर हो गया और कुछ सोच कर वाइफ से बोला- क्या कोई और पसंद है?तो वो बोली- नहीं, ऎसी तो कोई बात नहीं है.

कामसूत्र बीएफ हिंदी मेंबीच बीच में वो बोल देती थी- यस राजेश उम्म्ह… अहह… हय… याह… फक मी हार्ड. मैं दरवाजा खुला छोड़ कर किचन में गई, तब तक वो अन्दर आ गया और उसने दरवाजा बंद कर दिया.

ब्लू फिल्म हिंदी वीडियो सेक्सी

अब मैंने फिर से चुदाई शुरू कर दी और देखते ही देखते कुछ मिनटों में मेरी स्पीड बढ़ती गई और साथ ही बढ़ते गया मेरे लंड़ का आकार और कड़ापन।मेरी दूसरी शुरुआत को लगभग दस मिनट होने वाले थे और आंटी जी के शरीर में ऐंठन चालू हो गई। इसका मतलब ये था कि अगर उस समय मैं स्खलित ना होता तो आंटी भी दो चार मिनट ही साथ दे पाती।उन्होंने मेरे शरीर को खुद की तरफ खींचना शुरू कर दिया और बड़बड़ाने लगी. मैंने कहा- मैं आपके साथ कमरे में हूँ, बोलिए क्या करना है मुझे?वो बोला- ठीक है. जब कुसुम पूरी नंगी हो गई तो उसका डांस क्या बताऊं, बहुत ही गर्म कर देने वाला था.

इतना सुन कर मैंने आंटी को बांहों में भर लिया और बेड पर लिटा कर उनके बालों में हाथ फेरने लगा. मैं शाम को अशोक के कहे हुए बस स्टैंड पर चली गई और मुझे वहां ड्राइवर वहाँ वेट करता हुआ मिला. फिर अपनी प्यास को शांत करने के लिए मुठ मार लेता और अपनी गांड में फिंगरिंग भी कर लेता था.

सुबह उठ कर सबसे पहले मैंने एमडी को फोन लगाया और कहा कि सर मैं आज रिज़ाइन भेज दूँगी क्योंकि मैं नहीं चाहती कि मैं ऑफिस में बदनाम हो जाऊं. मगर अभी 5 मिनट भी नहीं बीते थे कि विक्रम का लौड़ा फिर पूरा शवाब पर था. सच में पिंकी जैसी पिंक थी वो, उसके निप्पल एक छोटी सी पिंक कलर की गोल गोल रसभरी जैसे थे.

मैंने अंदर जाकर पूछा- आप सोई नहीं अभी तक?तो बोली- तुम्हारा वेट कर रही थी!मैंने कहा- अच्छा जी, तो क्या हुक्म है मेरे आका? आपका गुलाम हाजिर है!तो वो हँसने लगी और बोली- बियर पी ली तुम लोगों ने?मैंने कहा- नहीं पी, अरुण कह रहा था कि कोई पूजा होनी है. फिर मैंने धीरे से उचका कर उसके कन्धों को हल्का सा नीचे को दबा दिया.

फिर मुझे उसने प्यार से अपने पास बिठाया और मेरी गोद में सिर रख के लेट गई.

मैंने अपने हाथों को उसके मम्मों पर टिका दिया और धीरे से दबाना शुरू कर दिया. मसाज करने वाली बीएफतो मैंने उसके होंठों पे अपने होंठ रख के उसे शांत किया और फिर से धीरे धीरे चुदाई करने लगा. सेक्सी बीएफ दे बीएफमैंने अपनी स्पीड और बढ़ा दी, उसकी सिसकारियां और चूचों में से दूध साथ साथ निकल रहा था, जिससे उसकी चुचियां एकदम दूधिया सी हो गई थीं. मेरा सर उसकी चूत के करीब होने कारण चूत की गर्मी साफ़ मुझे एहसास हो रही थी.

मैंने उसको बिस्तर पर लेकर 69 की अवस्था में आकर चुत और लंड की चुसाई की.

कुछ देर बाद परीक्षित ने अपने लंड को मेरी चूत में डाला और फिर चिंटू ने गांड में पेल दिया. माँ- तुम अपनी माँ की फिगर साइज़ को इतने अच्छे से कैसे जानते हो?मैं- मैं माँ के साथ अक्सर खरीदी पर जाता हूँ. जितने अपने काम के लिए आप चाहो। अगर विश्वास न हो तो अपना अकाउन्ट नम्बर भेज दो। मैं पहले ही डलवा दूँगी।’उसकी आवाज में उदासी सी आ गई। मैंने सोचा एक बार देखता हूँ कि ये सही में रूपये देने को तैयार है या फिर बस मजे ले रही है। मुझे अभी तक विश्वास नहीं हुआ था कि कोई मुझे चुदने के लिए पैसे देने को तैयार है।मैं बोला- अब रात काफी हो गई है.

मैं वहां से उठकर जाने लगा, तभी उसकी माँ ने महक से कहा कि यदि तुझे पढ़ना है तो तू समीर के घर पर चली जा. अब कुछ दिनों से मेरे कालेज में एक असिस्टेंट प्रोफेसर होम साइंस डिपार्टमेंट में नई नई आई थी, उसका नाम नीति (बदला हुआ नाम) था. माँ के चूतड़ों की उस मदमस्त छुअन के अहसास ने मेरे अन्दर जैसे आग सी लगा दी.

सनी लियोन की एक्स एक्स एक्स फिल्म

हम तीनों जमीन पर पलंग के पास बैठ गए फिर मैंने रोशनी और पिंकी दोनों की जाँघों को पकड़ कर अपनी तरफ खींचा, उनके घुटनों को मोड़ कर पैर जमीन पर रख दिए. वो- ओह… और…मैं- जब तुम अपने बाल सुखाती हो तो सोचता हूँ कि काश मैं तेरे पास हो कर उन पानी की हर बूँदों को महसूस करूँ जो तेरे बालों से उड़ रही हैं. मैंने कहा- दर्द कर रहा है क्या?वो बोली- दर्द तो कर रहा है लेकिन उसके हज़ार गुना ज़्यादा मज़ा आ रहा है.

मुझको पता नहीं क्या हो गया, मेरा दिमाग सुन्न हो चुका था, मुझको यकीं नहीं हो रहा था कि मेरी घरेलू बीवी गैर मर्द के साथ मजे ले रही थी.

पूजा और भाभी दोनों ने मुझसे अपनी खूब चूत चुदाई करवाई, बहुत चोदा और मजा भी हर बार दुगना हो जाता.

उसका ब्लाउज खुलते ही उसकी मदमस्त चुचियां बाहर आ गईं, क्योंकि उसने ब्रा नहीं पहनी हुई थी. एक बार तो उन्होंने अपनी बगल में खुजलाते हुए चुनरी के नीचे से हाथ नीचे ले जाकर मेरी चूचियों को भी सहला दिया था. बीएफ व्हिडिओ बीएफ बीएफ व्हिडिओमॉम की आँखें बड़ी हो गईं और आह की आवाज़ के साथ मॉम का मुँह खुला का खुला रह गया- ओह.

मैं अपनी ज़ुबान से उसकी चुत चाटने लगा और उसकी चुत के होंठों को अपने होंठों में दबा के चूसने लगा. मैं- तुम्हें अच्छा नहीं लगा क्या??सेजल भाभी- सच कहूँ तो इतना मज़ा लाइफ में कभी नहीं आया यार. वो एकदम से चिल्लाने लगी- आअहह… बहुत दर्द हो रहा है… आहह… नहीं… उम्म… आह… हह!मैं रुक गया और वैसे ही रुका रहा.

साफ़ जाहिर था कि दीदी बड़ी चुदक्कड़ थीं, उनकी कामवासना बहुत प्रबल थी, दीदी मेरे जीजाजी के अलावा और भी कई लड़कों से वो चुदवाती रही थीं. जब हम उसके रूम में पहुँचे तो मैंने उससे नेहा की मुलाकात करवाई और यह कहा कि यह मेरी सबसे अच्छी फ्रेंड है और इससे मैं कुछ भी नहीं छुपाती, यहाँ तक कि मैंने आपके साथ कल रात में क्या क्या किया, वो भी इसे बता दिया है.

जब वो कमर मटका कर चलती थी तो सभी लड़कों की नज़र उसकी थिरकती गांड पर ही होती थी.

अभी तक चाची मेरा बिल्कुल भी साथ नहीं दे रही थीं, लेकिन मैं कहां छोड़ने वाला था. और फिर जैसे ही मैंने एक तगड़े धक्के के बाद लंड को रोक के तुनका मारा, रानी चरम सीमा पर पहुंच गई और अपनी कमर उछालते हुए कुछ धक्के मारे. वो हंसते हुए बोली- अच्छा मेरे प्यारे देवर, आपको पता भी है कि सेक्सी का क्या मतलब होता है?मैंने कहा- हां मुझे मालूम है.

सेक्सी देहाती वीडियो बीएफ फिर भी भाभी ने मुझे छोड़ा नहीं और मैं भी भाभी के मम्मों से खेलने लगा और भाभी मेरे बालों को सहलाने लगी. वो बोलने लगी- प्लीज़ अब मुझको और ना तड़पाओ, मैं बहुत दिनों से प्यासी हूँ.

जब मेरा लंड छोटा होकर उसकी चूत से बाहर निकला आया तो मैं उठा, देखा तो उसकी चूत में से मेरा वीर्य बह रहा था. मैंने उससे कहा- कंचन, हमने अभी अभी जो कुछ भी किया, ये बात किसी को भी मत बताना. फिर मैं अपनी रफ्तार बढ़ाता रहा, अब आंटी की फुद्दी पूरी तरह से खुल और खिल चुकी थी.

राजस्थानी ट्रिपल सेक्स वीडियो

अगले एक मिनट में मैं थोड़ा पीछे हट गया जिससे मेरे और मेरे छोटे भाई के बीच में काफ़ी जगह बन गई. वाह… क्या चूत थी मामी की… एक मख़मली और बहुत ही बड़ी शायद कामसूत्र में कही हुई ‘हथिनी योनि’ जैसी!मुझसे रहा नहीं गया और मैं मामी की चूत के होंठों पर अपने होंठ रख दिए और चूसने लगा. दरअसल ये मेरे लिए एक गाली न होकर मेरी योग्यता को दर्शाने के लिए लिखा है.

मैं- सच मैं मुझे आपसे बात करना बहुत अच्छा लगता है, टाइम का पता ही नहीं लगता. ये सेक्स स्टोरी एकदम रियल है और इसमें केवल प्राइवेसी के कारण मेरे नाम के अलावा सबके नाम चेंज कर दिए गए हैं.

भाभी भी एकदम गरम थी, पर कुछ शर्मा रही थीं, वे बोलीं- मैं मनन के सामने नंगी नहीं हो सकती.

उसने भी एक हाथ से मेरा अंडरवियर नीचे किया और मेरे कड़क लंड देख कर एकदम से खुश होकर बोली- वाउ इतनी कम उम्र में इतना मस्त लंड. तब मैंने मॉम की चुत में लंड अन्दर डाले हुए ही बांहों में उठा कर बाथरूम से अटॅच बेडरूम के बेड पर ले आया. सुनिधि भाभी सुनयना से बता रही थी- हमारा एक बाथरूम ऐसी जगह था, जिसका दरवाजा स्टडी में खुलता तो एक दरवाजा उनके रूम में खुलता था.

मैंने उसे बेड पर उल्टा लेटने को कहा और धीरे से उसकी कमर को सहलाना शुरू किया. फिर उसे उल्टा कर उसकी टांगें चाटीं, घुटने के पीछे, जाँघों पर, कूल्हों पर भी खूब जुबान चलाई. बिंदु ने उसका बहुत गरम जोशी से स्वागत किया और बोली- तुम अपना घर ही समझ कर यहाँ आया करो.

थोड़ी देर में वो आई तो मैंने आते ही उसे पकड़ लिया और बहुत ज़ोर से हग कर लिया.

हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ ब्लू: अब मैं चाहती थी कि जल्दी से लंच खत्म हो और हम घर चले आएं ताकि आगे का काम शुरू हो जाए, जिसका मुझे बेसब्री से इंतज़ार था. उसने कहा कि मैडम फोन तो मिल जाएगा मगर एक बात याद रख लो जो भी कुछ उस फ़ोन में कॉन्टेक्ट्स और बाकी की डिटेल हैं, मैंने वो सब कॉपी कर लिए हैं.

क्योंकि दो साल पहले मैं भी सीधा सादा दब्बू सा लड़का था और आज चूत चैंपियन बॉडी शोडी के साथ हूँ।खैर हमारे बीच यहाँ वहाँ की बातें हुई और फिर हम मेरी कार में बाहर चले गए. मैंने उससे कहा- गांड मार लेने दे,वो नहीं माना, मैंने उसको पैसे का लालच दिया तो वो मान गया. हालांकि मेरा मन तो नहीं था, फिर भी मैंने स्मिता से कहा- चलें यहां से?उसने कहा- नहीं थोड़ी देर और रुकते हैं.

जैसे ही वो बोर्ड पर लिखती तो उसकी चूतड़ों की वो लाइन सबको पागल कर रही थी.

उनकी बातों से ऐसा लग रहा था, जैसे प्रीति के सेक्रटरी ने प्रीति को प्रमोशन के बहाने चोदा है. फिर मैं उसकी स्कर्ट उतारने लगा तो उसने अपनी गांड ऊपर उठा के स्कर्ट उतारने दिया. मैंने बिना कुछ सोचे समझे उसको खींचा और कहा- इसकी सूजन सिर्फ चुदाई से ही खत्म होगी.