की बीएफ फिल्म

छवि स्रोत,बीएफ देसी बीएफ सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू हिन्दी पिक्चर: की बीएफ फिल्म, मैं उनके पैरों की तरफ जाके बैठ गया और मेरा हाथ मैंने अपनी पैंन्ट के अन्दर डाल कर लंड सहलाने लगा.

बीएफ देसी गांव की चुदाई

एक नर्स से फोन सेक्स के बाद चुदाई-1मंगल की सुबह हम दोनों ने दोपहर में मिलने का तय किया और मैंने समय से पहले ही होटल पहुंच कर अपनी तैयारी कर ली. स्मार्ट लड़की की बीएफकाफी दिनों से मुझे अपनी कहानी यहाँ पर पोस्ट करने ही इच्छा थी मगर हिंदी टाइपिंग न आने की वजह से ना कर पाई.

फिर धीरे से पूरा लंड एक झटके में अन्दर धकेला वो तो गला फाड़ कर चीखने ही वाली थीं कि मैंने उनके होंठों को अपने होंठों से बंद करते हुए किस किया. वीडियो दिखाएं बीएफ वीडियोमैं भी अदिति के साथ अपने उस रिश्ते को भुलाने की कोशिश करता रहा और समय के साथ धीरे धीरे वो सब बातें भूलती चली गईं.

मन तो कर रहा था कि वहीं पर पटक कर चोद दूँ, लेकिन खुद पर काबू रखते हुए मैं उसे अपने दोस्त के घर ले गया.की बीएफ फिल्म: हमने रूम साथ में बुक कराया और कमरे में घुसते ही मैंने उसे अपनी बांहों में भर लिया.

तू मेरा बहुत अच्छा दोस्त है और हर चीज़ को करने के लिए थोड़ा समय चाहिए होता है.उसका एक हाथ मेरे सिर को कस कर पकड़े था और दूसरा मेरे बदन पर ऊपर से नीचे घूम रहा था.

जापानीस बीएफ - की बीएफ फिल्म

कोमल- जमीला को दिखाओ ना?तो मैंने जमीला को दिखाया जो मेरा लण्ड चूसने लग गई थी.उस गर्म पिचकारी से मैं पागल सा हो गया और पीछे मुँह करते हुए मैंने उसके कान को अपने मुँह में भर लिया जिसमें उसने बाली पहनी हुई थी.

अबकी बार वो मान गई और मैंने उसको बोला- ब्लैक टॉप और जीन्स पहन के आना. की बीएफ फिल्म मैंने भाभी की मालिश शुरू की, तभी उन्होंने हाथ पीछे करके ब्लाउज और ब्रा को खोल दिया.

उसको विरोध ना करता देख मेरी हिम्मत बढ़ गई और मैं फिर एक बार बात करने के बहाने सरिता की कमर को पकड़ कर दुकान वाले की तरफ झुक कर बात करने लगा.

की बीएफ फिल्म?

आज एक नहीं दो महिलाएं भी दवा खाकर आ जातीं, तो मैं उन्हें संतुष्ट कर सकता था. संजय उसको कुछ कहने वाला था, तभी वो बोल पड़ी- मामू प्लीज़ ये बात आप मॉम को या किसी को मत बताना कि मैंने आपके ऊपर सूसू किया. क्या कर रहे हो? दूध कपड़े से छान कर पी रहे हो क्या?हाँ जानू!”मैं अब चूत के चारों और पजामे के ऊपर से ही किस कर रहा था.

आप क्यों बोल रहे थे चुत फट जाएगी?संजय- अरे पागल अभी इतना समझाया कुछ नहीं फटी. सबसे पहले उनके पास बैठकर मैंने उनकी जुल्फों को थोड़ा पीछे की और सरकाया और फिर उनके गालों पर अपनी उंगलियाँ फेरते हुए उनके गालों पर अपना पहला चुम्बन करते हुए हल्के से काट लिया. दोस्तो, आपने मेरी कहानी में अब तक पढ़ा कि मैं मेरी चचेरी बहन अनुराधा से नाराज था क्योंकि उसने मुझे चुम्बन देने से इनकार कर दिया था, अब मुझे मनाने के लिए मेरे घर आई हुई थी और बहुत रो रही थी.

पापा- देख सुमन, तू मेरी बात सुन आज नहीं तो कल तुझे चुदाई करनी ही होगी. वो बीच बीच में स्तन को मुंह में लेकर निप्पल को खूब चूसते थे और कभी कभी दांत से स्तन पर हल्के से काट लेते थे. मैंने कॉफ़ी बनाई और उसके बाद उसने बोला- लैपटॉप कहाँ है तुम्हारा? कुछ देखते हैं.

उम्म्ह… अहह… हय… याह…”संगीता ने उत्तेजनावश अपना हाथ बढ़ा कर चन्दन के लंड को अपनी मुट्ठी में ले लिया. पापा- अरे नंगी चुत को चटवा सकती है तो पापा की ख़ुशी के लिए बोल नहीं सकती.

टीना की ये बात सुमन के समझ में नहीं आई वो बस सवालिया नज़रों से उसकी तरफ़ देखने लगी.

मैं- अकेले बोर नहीं होती आप?भाभी- हाँ लेकिन क्या कर सकते हैं, मुझे ज्यादा फ्रेंड बनाना भी पसंद नहीं हैं न.

फिर कुछ देर बाद मैंने पाया कि वह मुझे जकड़ रही है तो मैं उसे और तेज़ चोदने लगा और हम दोनों एक साथ झड़ गए. वो बोली- मुझे पता है, आप मुझे ही देख रहे थे न?मुझे पता चल गया कि ये कुंवारी लड़की भी चुदाई की बहुत प्यासी है. उसके बाद मैं और साली केक लेने चले गए, और केक लाने बाद जब हम हॉल में पहुँचे तो कार्यक्रम शुरू होने में अभी टाइम था.

ये स्टोरीज मेरी ज़िन्दगी का ऐसा हिस्सा हैं, जिसे मैं किसी के साथ शेयर नहीं कर पाती थी. मेरे प्यारे साथियो, आप मुझे मेरी सेक्स स्टोरी का आनन्द लें और कमेंट्स करें. जैसे ही मोना ने गेट खोला, उसके चेहरे पर हल्की सी मुस्कान आ गई क्योंकि उसके सामने उसकी खास सहेली मीना थी.

मुझे सेक्स स्टोरी पढ़ने के बाद लगता है कि मुझसे कोई लड़की सेक्स क्यों नहीं करती है.

एक पेड़ की तरफ पेड़ थोड़ा खाली था और दूसरी तरफ दीवार थी, हमने सोचा कि हम थोड़ी देर तक उस पेड़ के पीछे बैठ के थोड़ी किस्सिंग कर लेते हैं क्योंकि माहौल गर्म था!पेड़ के पीछे कुछ देर बैठने और बतियाने के बाद हमारी किस्सिंग स्टार्ट हो गई. वैसे मेरे पति का भी मन है कि मैं किसी और के साथ भी सेक्स का मजा लूँ. जैसे ही मैंने भाभी के एक हाथ को छुआ और उनकी कमर में हाथ डाल कर उनको उठाया.

सुमन रेडी हो गई, उसने नाश्ता बना दिया और पापा के साथ नाश्ता करके वो टीना के घर की तरफ़ निकल गई. उनके बीच वो मर्यादा का परदा अभी भी था और टीना को तो सुमन ने अभी तक कुछ बताया भी नहीं था. मैं जैसे ही वहां पहुंचा तो उसने कहा- अरे जीजू, यहाँ कैसे आना हुआ?तो मैंने कहा- कुछ नहीं.

ऐसे कैसे पता लगेगा?सुमन- अब आपको क्या बताऊं दीदी मेरा मूड तो रात से खराब है.

मैंने उसको देख लिया कि वो मुझे देख रहा है लेकिन उसने आंखें दोबारा बंद कर लीं और अपने दोनों हाथ अपनी थाई से हटाकर अपने सिर के पीछे बांध लिये आराम से सोने लगा. मैंने भाभी की मालिश शुरू की, तभी उन्होंने हाथ पीछे करके ब्लाउज और ब्रा को खोल दिया.

की बीएफ फिल्म साली ऐसे चुत खुली लेकर घूमेगी तो मेरे जैसे कुत्ते का लंड खड़ा होगा ही ना उहूँ हू हूँ।पूजा- अच्छा दिखा तो तेरा लंड कितना बड़ा है और कितना मोटा है?पूजा चलकर संजय के पास आई और उसी पोज़िशन में झुक कर लंड को चूसने लगी।संजय- हा हा हा कुतिया. मैंने अपना लंड उसकी चूत से निकाला, तो वो मेरी तरफ घूमी, उसकी आँखों में हल्का पानी सा नज़र आया मुझे.

की बीएफ फिल्म कुछ देर बाद अँधेरा घिरने लगा था तो मैंने उसके माथे पर किस किया और हम लोग वहाँ से निकल गए. इसके बाद नाश्ता आदि करने के बाद मामा ने ऑफिस के लिए निकलते हुए कहा- रोहित का ख्याल रखना, वो अभी एक महीने के लिए हमारे घर पर ही है.

वहाँ मेरी लाइव चुदाई देखकर रिया ने कामुकता वश अपनी उंगली खुद की ही चूत में दे रखी थी.

सेक्स करवाना वीडियो

जैसे ही मैं अपने कमरे से बाहर निकल कर आगे बढ़ा, दीदी के कमरे का दरवाजा खुला. एकदम अंग्रेजों जैसा गोरा रंग, काली मोटी मोटी आंखें, सुंदर नयन नक्श, बड़ी बड़ी चुचियाँ, सुंदर पट और भरी हुई गोल गाण्ड. सविता भाभी ने मुस्कुरा कर बताया कि वो पहले एक बार ब्रा बेचने मेरे घर आया था और उसने ब्रा बेचने के अलावा भी मेरे साथ बहुत कुछ किया था.

हमने डोसा खाया, वह पैसे देने लगी तो मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और खुद पेमेंट कर दी. अब तक की इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि गुलशन और अनिता के बीच क्या रिश्ते थे. मैंने इसी तरह उनके चूतड़ों पर लगातार 8-10 बार मारा जिससे उनके चूतड़ों पूरी तरह लाल हो गए।उसके बाद भी वे मुझे छोड़ने को बिल्कुल तैयार नहीं थी।फिर मेरे मन में आया कि जब शुरू हो ही गया है तो एक नए एंजॉयमेंट के साथ इसे पूरा करें।मैंने उन्हें पूछा- सफीना जी, आपके घर में शहद है क्या?तो उन्होंने बोला- शहद और चॉकलेट … तुम्हें जो भी चाहिए, ले सकते हो.

मैं उसकी चूत में अपनी उंगली डालने लगा तो वह एकदम बिगड़ कर बोली- ये क्या कर रहे हो? यही तो मेरा हस्बैंड करता है,चूत में लौड़ाडालो.

वैसे तो मेरा लंड कुछ खास नहीं है, पर हाँ यही कुछ 7″ लम्बा और काफी मोटा है. हालांकि इनका असर स्पष्ट नहीं दिखता, पर लंबी अवधि के बाद आप स्वतः अपनी कमजोरी को जान जाओगे. बदले में मैंने उसके निप्पल खींच कर कहा- तू भी पूरी की पूरी बाजारू लग रही है.

अब मैंने उसे पूछा- जान एक बात बता… अगर तू मुझसे प्यार करती थी तो पिछली रात गुस्सा क्यों हुई थी?स्मृति बोली- यार, मेरी बगल में वो मधु जागी हुई थी. नताशा ने भवें झुका कर मुझसे पूछा- क्या सचमुच तुम्हें ऐतराज़ है डियर?‘अगर तुम्हारा मन है खेलने का तो मुझे कोई ऐतराज़ नहीं!’ मैंने सहर्ष स्वीकृति दे दी. दोनों ओर से पूरा जोश था… वो मेरी पीठ पर अपने नाखून गड़ा रही थी, मेरे कंधों पर दांतों से काट रही थी.

एक दिन की बात है, सुबह 9 बजे रमेश आँगन में सिर्फ लुंगी पहन कर नहा रहा था. दोस्तो, मैं दिखता तो मासूम टाइप का था, पर अंदर से बहुत ही कमीना था, मैंने नजरों में ही उसके शरीर का माप ले लिया, उसका शरीर कुछ 34-30-32 होगा.

उधर एंड्रयू ने मेरी बीवी की गुलाबी सुगन्धित चूत को चाटना शुरू कर दिया था. दोस्तो, यह कहानी भी काल्पनिक है जो केवल आप लोंगो के मनोरंजन के लिये ही है. इन 7 सालों में मैंने मौसी के बदन का हर वो सुराख जिसमें मेरा लंड घुस सकता था, मैंने चोद दिया.

पीछे से रिया मुझे थाईलैंड में क्या क्या मजे हो सकते हैं, इसका ब्यौरा दे रही थी.

चाय मैं बाद में पी लूँगा, पहले तुम थोड़ी देर मेरे पैरों की मालिश कर दो. मैंने की-होल से झाँक कर देखा तो मैं दंग रह गई क्योंकि मेरा बेटा मेरी पैन्टी लेकर मुठ मार रहा था, वो भी लॅपटॉप पर पोर्न वीडियो देखते हुए लंड को हिला रहा था. भाभी कस के चिल्लाईं- आआह… मर गई माँआ…मैं झुक कर भाभी के होंठ चूसने लगा और उनके चूचों को मसलने लगा.

मैंने मौके की नजाकत को समझते हुए गर्म लोहे पर चोट मारी।सन्नी ने कहा- इस बात की क्या गारंटी है कि ये तुम्हारी बात मान जायेंगी?मैंने कहा- मैंने बोल दिया ना बस!तभी विकास बोला- और दूसरी वाली के बारे में क्या ख्याल है… क्या वो भी चूसने देगी?मैंने कहा- उसके बारे में मैं ये कह सकता हूँ कि उससे मैं अपना लंड चुसवा सकता हूँ. मैंने महसूस किया कि पूजा के होंठ मेरा लंड मुंह में लेते ही बंद हो गए और उसकी जीभ मेरे लंड के सिरे को कुरेदने लगी.

कुछ देर छेदों के साथ खेलने के उपरांत चंगेज़ ने रुस्लान को प्रेमिका का छोटा छेद सौंप दिया और रुस्लान घुटनों के बल लेट चुकी अभिनेत्री के चूतड़ों के ऊपर खड़ा होकर उसकी गांड मारने लगा. एक रात सुधीर ने भी ज़िद की क्योंकि वो कुछ महीनों के लिए इंडिया से बाहर जा रहा था तो मोना ने उसके साथ भी मज़ा किया था और उस रात नीतू ने भी चुदाई देख कर खूब मज़े लिए थे. गुलशन जी की बात सुनकर सुमन को बहुत दुख हुआ और वो अपनी माँ को कोसने लगी.

सेक्सी बीपी वीडियो भेजो

अनिता पढ़ाई में तेज थी तो गुलशन जी ने उसे पढ़ने के लिए एक अच्छे बोर्डिंग स्कूल भेज दिया ताकि वो खुल कर गीता के मज़े ले सके.

‘ओओओओ… कितना शानदार! उम्म्ह… अहह… हय… याह… मजा आ गया! कितना गर्म है तुम्हारा!’ चूत के अन्दर पूरी खुराक मिलते ही मेरी नताशा बड़बड़ाने लगी. एक पेड़ की तरफ पेड़ थोड़ा खाली था और दूसरी तरफ दीवार थी, हमने सोचा कि हम थोड़ी देर तक उस पेड़ के पीछे बैठ के थोड़ी किस्सिंग कर लेते हैं क्योंकि माहौल गर्म था!पेड़ के पीछे कुछ देर बैठने और बतियाने के बाद हमारी किस्सिंग स्टार्ट हो गई. फिर उन्होंने धीरे से मेरे लंड के ऊपर हाथ फेरा, मेरा लंड काफी लंबा है और इसकी मोटाई भी अच्छी है.

ये कहते हुए भाभी खड़ी हो गईं और उन्होंने अपना नीचे वाला नाइट सूट उतार दिया. जॉन धीरे-धीरे उसके मम्मों को सहला रहा था और साथ ही साथ उंगली से उसके निप्पलों को भी छेड़ रहा था. भोजपुरी आंटी बीएफअब गुलशन जी भी अपने चरम पे थे, किसी भी पल उनका लावा भी फूटने वाला था.

यह कैसे हुआ?आइए बताता हूं आपको उसके सच की कहानीशुरुआत के दिनों में उससे मेरी काफी बात हुई तो धीरे-धीरे उसने खुलते हुए बताया कि उसकी माँ बहुत ही अय्याश किस्म की औरत है, उसका अफेयर तो नहीं है किसी से लेकिन बहुत से मर्द को वह घुमाती है. गुलशन जी का लंड अकड़ रहा था, जिसे सुमन ने भी महसूस किया मगर वो तो अनजान बन कर बस अपने पापा को सिड्यूस कर रही थी.

उसकी उत्तेजना उस वक़्त चरम पर थी तो वो बस मोना की चुत को जोर-जोर से चाटने लगी. हालांकि चाची के बेटे की उम्र 4 साल ही थी, पर फिर भी उसके सामने ये सब करना गलत तो था ही. तुम सेक्स का मजा लेकर ऐसा कहोगी कि सारी दुनिया एक तरफ़ और सेक्स का मज़ा एक तरफ़.

इस पर कविता बोली- चलो, मैं अंदर कर लेती हूँ, बच्चा पैदा करके तुम्हें दे दूँगी. मैंने अब उसकी चूत के मुंह पर अपने दोनों होंठ लगा दिए और बिना जीभ का इस्तेमाल किये बिना चूसना शुरू कर दिया. प्रोग्राम के मुताबिक वह मुझे अपनी स्कूटी की चाबी दे देगी और मैं उसकी स्कूटी ले कर सोसाईटी से बाहर आ जाऊंगा और उसको बैठा कर खाली प्लॉट्स में ले जाऊंगा.

कॉलेज खत्म होते ही मुझे एक कंपनी में कम्प्यूटर इंजीनियर की जॉब मिली.

क्या लंड था मादरचोद का… नौ इंच लम्बा और 3 इंच मोटा (ये मैंने बाद मैं नापा). पड़ोसन भाभी की चुदाई चुदाई की देसी सेक्स स्टोरी पढ़ने के बाद आप अपने विचार नीचे कमेंट्स में ज़रूर लिखें, ताकि आपके लिए और भी सेक्स स्टोरी ला सकूँ.

मेरे सीने के मर्दाना चूचुकों को प्राची भाभी ने जब दांतों से काटा, तो मैं सिहर गया. अब सबसे पहले सबीना और जमीला ने मेरे को चाट कर बीयर साफ़ की, फिर मैंने उन दोनों के शरीर को चाट कर साफ़ किया और सब किचन में ही दोनों एक साथ फिर मेरे मस्ताना को चूस चूस कर खड़ा करने लगी. चुदाई मेरी निखिल करता था लेकिन तेरा लोड़ा एक घोड़े के लोड़े जैसा बन जाता है, मैं तो उसी वक्त चाहती थी कि तू भी मेरी चुदाई करे लेकिन निखिल यह बात हरगिज बरदाश्त नहीं करेगा.

सभी लोग अपने पोज से उठ खड़े हुए, एंड्रयू ने अपनी जिप खोल कर अपना धुआं उगलता लंड बाहर निकाल लिया और उसे सहलाते हुए नताशा के होठों से छुआ दिया. शहज़ाद ने धीरे धीरे मेरे बूब्स को छेड़ना शुरू कर दिया तो मैंने भी उसके लंड को हिलाना शुरू कर दिया जिससे वो फिर से खड़ा होने लगा. और अपनी गांड दिखा के बोली- देखो भाभी कैसे गांड सुजा दी इस बहन के लौड़े ने गांड मार कर!कोमल- हेलो सबीना, हम मस्त है पर कभी जमीला ने बताया नहीं तेरे बारे में!मोहन- हेलो सबीना, मस्त सेक्सी लग रही हो, कभी मुझे भी रस चखवा दो अपनी रसीली का!सबीना- अभी तो राजेश को चुसवा रही हूँ, आप भी भाभी को लेकर आ जाओ हम सभी खूब चुदाई करेंगे.

की बीएफ फिल्म मैंने उसको गौर से देखा, वो कोई नीग्रो जैसा बंदा था, हालांकि जैसे आम नीग्रो होते हैं, वैसा काला कलूटा नहीं था। काफी हट्टाकट्टा था, कपड़े अच्छे पहने थे, बंदा शरीफ लग रहा था. मैंने बारी-बारी से उनके दोनों निप्पल काटे, वो बस आँख बंद करके चूचियां चुसवाने का मजा लेते हुए मोन कर रही थीं.

सेक्सी चलता है

मीना ने उसको कुछ टिप्स दिए जिसे सुनकर मोना के चेहरे पर ख़ुशी के भाव नज़र आने लगे. ऐसे कैसे पता लगेगा?सुमन- अब आपको क्या बताऊं दीदी मेरा मूड तो रात से खराब है. अब बता तूने आज करने को क्या सोच रखा है?पूजा- मामू बिस्तर पर तो रोज ही करते हैं.

वो सिसकते हुए बोल रही थी- ओह बेटा, ऐसे ही, हाँ ऐसे ही चोदो, अपनी माँ को ओह ओह हाँ हाँ और जोर से, बस पूरा पूरा पेल के आह आह हां बेटा उईई ईईई आईई इसी तरह से ज़ोर-ज़ोर से धक्का लगाओ, इसी प्रकार से चोदो मुझे… आह… सीईईई. फिर मैंने अवनी की साड़ी खोल दी, अब वो मेरे सामने सिर्फ ब्लाउज और पेटीकोट में थी, उसकी फिगर और भी सेक्सी लग रही थी. जिओगेम्स बीएफअब उसकी साँसें तेज चल रही थीं और उसके चूचे साँसों के साथ ऊपर-नीचे होने लगे.

”आआअ… सारा दूध पी जाओ!”आआआ स्सस्सस्स… काटो मत… गुदगुदी मत करो न!”स्स्स्सस्स… तुमने फिर से गुदगुदी क्यों शुरू कर दी, डालो न नीचे!”तुम्हें चूसना नहीं क्या?”चूसना है पर नीचे कण्ट्रोल नहीं हो रहा, मर जाऊँगी मैं!”उसका इंतजाम कर लिया था मैंने… ये वाईब्रेटिंग डिल्डो है, आर्टिफीशियल लंड… जो चुदाई के काम आता है.

कई तरह से अपनी सासू माँ को चोदने के बाद जमाई ने संगीता को वापस बिस्तर पर लिटा कर सासू माँ की चूत में अपना रस डाल दिया. वो अभी अभी नहा कर आई थी अतः उसके बदन की ताजगी, नमी और भीनी भीनी सुगंध मुझे उतावला करने लगी.

तुझे बैठने से कौन रोक सकता है?सुमन- पापा पहले आप मुझे गोद में बिठा कर मेरे सर की मालिश करते थे ना. थोड़ी देर उसने लंड को देखा फिर अपने हाथों से पकड़ा और उसे प्यार से सहलाने लगी और अगले ही पल घप से उसने लंड को मुँह में ले लिया. अरे वो ज्ञान तो ऐसे ही था, असल बात ये है कि जहाँ चुत मिले ठोक दो साली को, बना दो उसको कली से फूल मगर प्यार से हाँ.

‘ऐसे क्या देख रहे हो अंकल?’‘तुम्हारा निश्छल सौन्दर्य निहार रहा हूँ रानी.

मैं- ओह! ये बात थी, वैसे जमीला ने तुझे बस अपनी ही चूत की कहानी सुनाई. मेम भी जागी हुई थीं, बाहर तेज बारिश की आवाज आ रही थी।मैंने मेम से बोला- चलो बाहर बारिश में चलें।‘कहाँ बारिश में?‘हूँ. उसने मेरा हाथ पकड़ के अपनी ओर खींचा, उसने मेरी पेंट में कुछ रखा और कहा- तुम्हारे लिए गिफ्ट है, घर जाके देखना.

बीएफ सेक्सी हिंदी चुदाई पिक्चरमैं आपको अपने कुछ कपल्स के साथ हुई शानदार सेक्स की घटनाओं में से एक पुणे के अविवाहित कपल के साथ किए गए सेक्स की घटना बता रहा हूँचुदाई की कहानी पसंद आई या नहीं, मुझे[emailprotected]पर मेल करेंइस कहानी में झूठ या कुछ मिलावट का अंश मात्र भी नहीं है. बाद में मैंने उससे बात की तो उसने कहा कि उसे सेक्स का बहुत शौक है लेकिन वो चुदाई से डरती थी, इसीलिए अभी तक चुदाई नहीं की थी किसी के साथ… बस थोड़ा बहुत मौज मस्ती ही थी ऊपर ऊपर से…अब मैं उसे कभी भी चोदना चाहूँ तो चोद सकता हूँ, वो मेरे लिए हमेशा तैयार रहती है.

सेक्स करते हुए नंगे

आज सुमन मुझसे बिना बोले चली गई, पहले तो ये ऐसी नहीं थी। लगता है इसे भी बाहर की हवा लग गई है. पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…मेरे पड़ोस में दो बहनें रहती थी, बड़ी वाली को मैंने पटा लिया और आधी रात को उससे मिलने उसके घर जाता था, वहां उसकी छोटी बहन भी होती थी. ‘मादरचोद, आराम से चोद उस साली से बोल पूरे गाँव से नहीं चुद रही है, जो इतना आवाज कर रही है.

मेरे पास आकर उसने मेरे हाथ में एक गोल्डन नोज रिंग पकड़ाई और कहा- चल इसे अपने नाक में पहन. मेरी इस दिलचस्प सेक्स स्टोरी पर आपके कमेन्ट और मेल मुझे मिलते रहने चाहियें. ऋतु- तुमने तो मेरे दिल की बात छीन ली… मैं रात होने का इन्तजार करुँगी.

गुलशन जी भी समझ गए कि शायद उन्होंने कुछ ज़्यादा कर दिया, तो वो चुपचाप बाहर निकल गए और अपने कमरे में चले गए. मैंने पूछा- क्यों?तो उसने एक बार फिर बोला- रख दे बे!मैंने उसकी बात को इग्नोर करते हुए किताब का पन्ना खोला तो पहले ही पन्ने पर एक खूबसूरत लड़की थी जो केवल पैन्टी पहने हुए थी और अपने मम्मे को अपने हाथों से न छिपाने के बराबर छिपाये हुए थी. रजनी खड़ी हुई और कमरे का दरवाजा खोला, बोली- सर, आप यहाँ खड़े होकर क्या कर रहे हैं?मुझे थोड़ी शर्म सी महसूस हुई, मैंने कांपती हुई आवाज में कहा- कुछ नहीं.

अब मैं कोई भी कैमरा आसानी से चला लेता था और मेरे पास शादियों के पोज़ शूट करने की बहुत अच्छी जानकारी थी जिसके कारण स्टूडियो के सभी साथी मुझसे चिढ़ते भी थे. उसने वैसा ही किया, रोहन बोला- मुझे सर दर्द हो रहा है, मैं सोना चाहता हूँ.

” मैंने उसके बूब्स चूसने शुरू किये और पजामे के अंदर हाथ डाल के चूत को सहलानी शुरू की.

फ्लॉरा ने जॉन को हटाने की बहुत कोशिश की, मगर जॉन अपने काम में लगा रहा और थोड़ी ही देर में फ्लॉरा भी उत्तेजित हो गई. हावड़ा के बीएफदो घंटे के सफर के बाद हम सब चंडीगढ़ नहीं, बल्कि पंचकुला गए, वहाँ पे हमारा एक और दोस्त था, जिसे हमने सारी ज़िम्मेवारी सौंपी थी. एचडी हिंदी मूवी बीएफवैसे मैं अपनी इंजिनियरिंग की पढाई के लिए पिछले 2 सालों से दिल्ली में ही हूँ. अब तक कितने लोगों से मैं सेक्स कर चुकी हूँ, कैसे कैसे लोग मुझे मिले, सब बताऊँगी.

अब तू आँखें बंद करके आराम से लेट जा और पैर पूरे खोल दे, फिर देख आज तेरा सारा दर्द कैसे बाहर निकालता हूँ.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग:पड़ोसन भाभी ने अपनी बहन की चूत दिलायी-2. उसकी उत्तेजना उस वक़्त चरम पर थी तो वो बस मोना की चुत को जोर-जोर से चाटने लगी. ऋतु- वैसे एक बात बताऊँ… मुझे काफी उत्तेजना हो रही थी कि कल तुम मुझे छेद से वो सब करते हुए देख रहे हो… काफी मजा आ रहा था.

मैंने देर न करते हुए उसके निप्पल को मुँह में ले लिया और इतना चूसा कि उसकी ब्रा गीली हो गई. कविता ने आज बहुत दिनों के बाद व्हिस्की ली थी तो उसे सुरूर सा हो रहा था. उसने लंड सहलाते हुए मुझे इशारा किया, तो मैं बिकनी उठा कर वॉशरूम में जाने लगी.

ಹಿಂದಿ ಫಿಲಂ ಸೆಕ್ಸ್

मैंने देखा कि कैसे एक छोटी लड़की, कैसे अपनी चूत को खुद से पहली बार चुदाई के लिए तैयार करती है. उसने भी अपना हाथ मेरी चड्डी में डाल कर मेरा लंड पकड़ा हुआ था और ज़ोर ज़ोर से सहला रही थी. उनके मदमस्त मम्मों को चूसते हुए, चिकनी गांड को सहलाते हुए, लंड उनकी चूत की दरारों को भेदता हुआ अन्दर जाता है.

मैंने अपनी तरफ से भी पूरी तैयारी कर ली थी; वैसे मुझे तैयारी करनी भी क्या थी.

इसलिए मैं जब भी चाची को नहाते हुए देखता या ऐसे ही उनकी चूचियां देख लेता तो मेरा लंड खड़ा हो जाता था.

मैं करीब 2 साल से टयूशन पढ़ा रहा हूँ और मेरे पास कई स्टूडेंट्स पढ़ने आते हैं. यही सब सोच सोच कर मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और मैं छुटने के बिल्कुल करीब पहुँच गया. बीएफ सेक्सी देवीपता नहीं हमारे बदन पे कितने हाथ रेंग रहे थे, कौन कहाँ हाथ लगा रहा था ये भी ढूंढना मुश्किल था.

रूबी रसोई से बाहर आई, हमारा परिचय करवाया और हम एक दूसरे को दुबारा हैलो कह कर सोफे पर बैठ गए. मम्मी और बुआ मान गईं, फिर 5 मिनट में रूपा के घर जाने से पहले मैंने उसे गर्म करने के लिए कहा- आज मेरे दोस्त ने एक नई फिल्म फोन में भरवाई है, मैंने तो नहीं देखी, तू देखेगी? शायद कोई एक्शन वाली फिल्म होगी. मैंने उन्हें उठा कर बिस्तर पर पटक दिया और बोलने लगा- बोल खुद से चुदेगी या जबरन मसल दूँ तुझे?अगले ही पल उन्होंने मुझे एक आँख भी मारी और मेरा लंड दबा दिया.

वो बोलने लगा- उई आह आह चुद चुद साली चुद गई तू मादरचोद आह आह उफ़…मनोज का काम हो गया था तो उसने अपना लंड बाहर निकाल लिया. वो कुछ नहीं बोली और मैं उसे गले पर चूमने लगा और उसके मम्मों को दबाने लगा.

उनमें से एक ने आवेश में मेरे होंठ चूमे और कहा- बेबी, तुम इस दुनिया की सबसे गर्म चूत हो!इतना होने तक जो मेरी गांड मार रहा था, वो भी निढाल हो गया.

उसकी सांसों से बहुत ही मधुर सुगंध आ रही थी… वह कामदेव की पत्नी रति लग रही थी. दीदी अब पूरी गर्म हो चुकी थी और सुमित के लंड को ऐसे चूस रही थी जैसे बरसों से भूखी हो. हालांकि मुझे अदिति बहूरानी के साथ बिताये वो अन्तरंग पल याद आते तो मन में फिर से उसकी चूत चाटने और चोदने की इच्छा बलवती हो उठती; उसके मादक हुस्न और भरपूर जवां नंगे जिस्म को भोगने की छटपटाहट और उसकी चूत में समा जाने की ललक मुझे बेचैन करने लगती.

बॉलीवुड का सेक्सी बीएफ ’अब मैं अपना मुँह धीरे से पेट पर चूमते हुए उसकी चुत पर लेकर गया और अचानक से सीधा चुत को चूमने लग गया. मैंने देखा था कि एक साइड जीजू और फिर दीदी और फिर कोने में रीना सो रही थी.

कभी बदन अकड़ सा जाता क्योंकि सेक्स किये बिना मुझे 2 महीने से ज्यादा समय हो चुका था. मैंने स्मृति को पिछली रात के लिए सॉरी बोला और दुख जताना शुरू किया तो वो मेरे मुखड़े को फूल की भाँति अपने हाथों में लेते हुये बोली- तू बहुत अच्छा है. चाची- मेरी बच्चेदानी भर दी… उईई ईई!फिर उसने मुझे बोली- साला, कितना निकाल रहा है कण्ट्रोल कर!मैंने चाची के कान में कहा- नहीं होता… ईई?वो मुस्कुराने लगी.

सेक्स सनी लियोन

तो वो मेरी बाइक के पीछे आ कर बैठ गयी, मैंने बाइक स्टार्ट की, हम चलने लगे. कहीं तू अपने पापा से चुदवाने के चक्कर में तो नहीं है ना?सुमन- छी: छी: दीदी आप कैसी बातें कर रही हो. इसी सबको को लेकर सविता की सहेलियों में उनसे मजाक करते हुए पूछा था कि जब तुम्हारा ब्याह हो जाएगा तो तुम एक लंड से कैसे काम चलाओगी.

शायद जल्दी ही मिलेगी, उसके बाद लिखेंगे कुछ हुआ तो!तब तक आप बताओ कि मेरी रियल सेक्स स्टोरी आपको कैसी लगी?मेल आईडी[emailprotected]कहानी का अगला भाग:ऑनलाइन लड़की पटा कर रूम पर चोदा-2. अन्तर्वासना के सभी प्रेम पुजारियों को आशिक राहुल की तरफ से एक बार फिर से नमस्कार!प्यारे दोस्तो, मेरी पिछली सेक्सी कहानीतड़पते यौवन को भाई का प्यार मिलामें मैंने बताया था कि कैसे एक रईस परिवार की शादीशुदा कामुक नारी ने अपने एक चचेरे भाई के साथ अपनी काम वासना को संतुष्ट किया था.

जब चाचा चाची को छोड़ने गए, उस दिन दीदी और मैं बिल्कुल अकेले थे, उस दिन मैं कॉलेज से आया तो दीदी बाजार जाने के लिए तैयार होकर बैठी थीं.

मगर मुँह छोटा होता है, मेरा पूरा लंड उसके मुँह में अंदर नहीं जा पा रहा था, शायद उसको सांस लेने भी तकलीफ हो रही थी. अब यार मैं तो माहिर हूँ ना! तो मैंने अपने तरीके से दवा का इस्तेमाल किया और मोबाइल चार्ज पर लगा कर सो गया. मैंने तो मज़ाक में ही कहा था- मौसी, मुझे पेशाब आ रहा है, तेरे मुँह में कर दूँ?वो सच में ही मुँह खोल कर बोली- चल कर मगर धीरे धीरे से करना, कहीं मेरे कपड़े गंदे कर दे.

एक रोज मैं अपनी कार से घर जा रहा था तो सड़क के किनारे एक महिला को ऑटो वाले से बातें करता देखा, वह ऑटो में बैठी नहीं और ऑटो चला गया. पहले मैंने शावर लिया, उसके बाद मैंने अपना मेकअप किया और मैं ब्रा पहनने लगी. कोमल- सच? मैं नहीं कहूँगी, पर अभी हम दोनों स्काइप पर नंगे हैं, तुम क्या कर रहे हो?मैं- मैं अभी जगा हूँ यार, 12 बजे तक तो चुदाई की, फिर थोड़ा रिलेक्स होने के लिए सो गए थे, बस अभी जगा ही हूँ.

थोड़ी देर में सबीना की गांड की स्पीड पीछे की ओर बढ़ गई और उसने जमीला की चुचियाँ पकड़ के जोर से दबाते हुए उसकी चूत चूसने लगी.

की बीएफ फिल्म: मेरी आँखों में शरारत थी!यही कहानी लड़की की मधुर आवाज में सुनें!अन्तर्वासना ऑडियो सेक्स स्टोरीज सुनने के लिए सबसे अच्छाब्राउज़र क्रोम Chrome है. मैंने आँखें तरेर कर पूछा- ए, क्या इरादा है तेरा?रिया के होटों पे एक कमीनी सी हंसी आई और उसने कहा- रंडी बनने का!रिया ने मेरा हाथ पकड़ा और वो मुझे फिर से डांस फ्लोर पे ले गयी.

संगीता ने अपनी टाँगें चौड़ी कर दीं, अब चन्दन सासू माँ की चूत को अच्छी तरह देख सकता था, उनकी चूत मस्त गुलाबी, बिना बालों की एकदम फूली हुई थी, जिसमें से जमाई के लिए परिचित सी खुशबू आ रही थी. मैंने अपना लंड उनकी चुत पर रखा और एक धक्का लगा दिया तो आधा लंड भाभी की चुत में सरसराता हुआ अन्दर चला गया. उधर एंड्रयू ने मेरी बीवी की गुलाबी सुगन्धित चूत को चाटना शुरू कर दिया था.

मेरे कपड़े तो उतार ही दिए हैं आपने, वो भी कब घुसा दो कोई भरोसा है आपका?”अरे मैं कुछ नहीं करूंगा; अभी तो तेरी झांटें शेव करनी हैं न!”तो पहले अपनी चड्डी और लोअर पहन लो आप.

अब आपसे विदा लेती हूँ और जाते जाते फिर कहती हूँ कि हिन्दुस्तान हमारा है, इसकी सबसे बड़ी ख़ासियत ही रिश्ते नाते हैं. फिर मैंने उसे सीट के ऊपर झुकने को कहा और वह सीट पर हाथ रख कर झुक गई, मैं उसके पीछे आकर खड़ा हो गया और जैसे सुहागरात को पति अपनी बीवी का घूंघट उठाता है उस तरह उसके पीछे बैठ उसकी साड़ी धीरे धीरे ऊपर करने लगा, उसकी गोरी गुदाज जांघ देखकर तो शायद किसी के भी होश उड़ जाते दोस्तो…धीरे धीरे मैंने उसकी साड़ी उसकी गांड के ऊपर उठा दी. बीच बीच में मैं अपनी जीभ उसकी गांड के छेद पर भी फिरा देता, तो वो एकदम सिहर उठती.