बिहार के भोजपुरी बीएफ

छवि स्रोत,टेलर सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

इंसान और जानवर के बीएफ: बिहार के भोजपुरी बीएफ, कुछ ही समय बाद मैं अपने अंतिम चरम पर आ गया था, इसलिए मैं लंबे लम्बे झटके लगा कर जेनिफर को चोद रहा था.

हिंदी सेक्सी पिक्चर वीडियो फिल्म

वीडियो पर जब वो घूम कर अपनी गांड दिखाती थी तो मुझे हद से ज्यादा मजा आ जाता था. देसी आइटमसपना और मैं रोज रात में चुदाई करते थे लेकिन पता नहीं क्यूं वो मेरे साथ नहीं खुल रही थी.

अब मैं उनको भी ये खुशखबरी देकर आती हूं कि मैं उनके बच्चे की मां बनने वाली हूं. বাংলা ফকিং ভিডিওवैसे अभी मेरा मूड नहीं है … इसलिए आज तुमको अपनी दीदी के बिना ही सोना पड़ेगा … आज नो सेक्स.

मैंने कहा- भोसड़ी के हां हां मत कर … चुत का इंतजाम तुझे ही करना पड़ेगा.बिहार के भोजपुरी बीएफ: उसने मेरे बालों को पकड़कर अपना पूरा लंड मेरे मुंह में डाल दिया जिससे मेरे मुंह से थूक निकलने लगा।और वह मेरे मुंह को धकाधक चोदने लगा.

फिर उसने मुझे बेड पर पेट के बल लिटा कर पीछे से मेरी कोली भर ली और अपना लंड मेरी चूत में घुसाकर चोदने लगा.तेजी से डिल्डो लेते हुए आलिया के बदन में एक लहर सी उठी और उसकी चूत से पहला स्खलन हुआ.

भीष्मा फुल मूवी - बिहार के भोजपुरी बीएफ

प्लीज कभी धोखा मत देना।मैंने कहा- तुम्हारी कसम जान, मैं तुम्हें कभी धोखा नहीं दूंगा।और इस तरह हमने रात भर चुदाई की। अगली सुबह जल्दी मैं वहां से निकल गया। कविता बहुत उदास हुई।बाद में फोन पर रोने भी लगी।दोस्तो, कविता को मैंने कभी धोखा नहीं दिया.मुझे इन सब बातों से बड़ा डर सा लगता था।कॉलेज खत्म होते होते मेरी शादी की बात चल निकली.

वह केवल सेक्स की भूखी थी और बेटा जवान लड़की की चूत चोदने की बजाय मेरी चूत चोद कर ज्यादा खुश होता था. बिहार के भोजपुरी बीएफ जैसे ही उसने बॉक्सर उतारा उसका मुँह खुल गया, कहा- ओ माई गॉड … इतना बड़ा?मैंने कहा- सिम्मी बेबी, ये आप का ही है.

दीदी की चूत मेरे मुंह पर थी और वो नीचे की ओर मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी.

बिहार के भोजपुरी बीएफ?

उसके बाद क्या हुआ?मेरे प्रिय दोस्तो, मैं आपकी प्रियंका अपने जीवन की एक सच्ची कहानी आपके सामने लाई हूंमेरा नाम प्रियंका है. उसके जाने के बाद मैं फिर से फोन उठा कर वही साइट पर वो पेज खोला और देखने लगी. किसी तरह बहाना बना कर मैंने झूठ का सहारा लेकर बात को संभालने की कोशिश की.

मनु मेरी ओर घूमा और मैंने अपनी जांघ हटाते हुए अपना हाथ उसकी जाँघों में घुसा दिया और अपनी उंगलियों को उसके लंड और झांटों की ओर किया. सपना बोली- मेरे भाई को हमारे बारे में पता चल गया है, अभी वो बाहर गया हुआ है और मैं उसके पीछे से तुम्हें फोन पर बात कर रही हूं. कुछ देर बाद उन्होंने मेरी निक्कर उतार दी और स्वयं भी नग्न होकर अपने लिंग को मेरी गुदा की दरारों में रगड़ते हुए मेरे ऊपर लेट गए.

चाची मेरे लंड को मुंह में लेकर लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी। हम दोनों 69 पोजिशन में आ गए। वह मेरे ऊपर थी और मैं उनके नीचे. जेनिफर की चुत इतनी मस्त थी कि मैं जोश में तेज तेज धक्के लगाने लगा था. कुछ देर टीवी देखने के बाद मैंने कराहने की आवाज सुनी, तो दीदी की तरफ देखा.

यहां वैसे भी हम लोगों को कोई नहीं जानता है, हमें डरने की जरूरत नहीं है. फिर मैं उनके होंठों को चूसने लगा ‘उम्म्म पुच्च्च पुच्च्च उम्म्म्म …’ बहुत मजा आ रहा था उनके होंठों को चूसने में!‘उम्म्म्म पुच्च्च्च पुच्च्च’फिर आंटी बोली- देर हो रही है.

मैंने उसको किस किया और नीचे लंड पर इशारा करते हुए उसको लंड मुँह में लेने को कहा.

उसने मेरे लिए होटल में कमरा बुक किया और मैं उससे मिलने के लिए वहां पहुंच गया.

”अरे कुछ नहीं होगा, तुम तो बेकार ही घबरा रही हो, यहां हमें कोई नहीं देख रहा, वैसे भी इतनी रोशनी कहां है कि किसी को कुछ दिख जाये” मैंने उसका विश्वास जीतने की कोशिश करते हुए कहा. मैंने अपना अपना लंड उनकी चूत में घुसा कर जोरदार चुदाई स्टार्ट कर दी. भाभी मेरे लंड को ऐसे प्यार कर रही थी जैसे वो लंड नहीं कोई छोटा बच्चा हो.

और एक पतिदेव जिन्हें साल में सिर्फ 3 बार।यार हद हो गयी ये तो!मैं तो बहुत चिंतित हुई। मैंने थोड़ा बहुत जानने की कोशिश करी कि चक्कर क्या है?तो मुझे इस बात का अंदेशा हुआ कि पतिदेव की फैक्टरी में लड़कियां काम करती हैं. फिजा के बारे में जफर साहब अच्छी तरह जानते थे कि वो लम्बी रेस की घोड़ी है. उसकी इस तरह की आवाजों से मेरा जोश और बढ़ गया और मैंने अपना हाथ ऊपर करके उसकी ब्रा खींच कर निकाल दी.

उसको पता था कि मैं छिप कर सब कुछ देख रहा हूं पीछे खड़ा हुआ लेकिन फिर भी वो उन गैर लड़कों से बेशर्म होकर अपने भाई के सामने ही अपनी चूत को चुदवा रही थी.

भाभी के ब्लाउज का एक बटन भी शायद खुला हुआ था इसलिए उनके मम्मों के भरपूर दीदार हो रहे थे. चोपड़ा बोला- नसरीन तुझे प्रॉब्लम हो तो राजीव को हॉस्टल में…मैं उसकी बात काटते हुए बोली- जी नहीं राजीव मेरा भी बेटा है … और तुमने मेरे लिए इतना सब किया, तो क्या मैं राजीव को नहीं रख सकती. मैंने देखा कि उसके शरीर पर कई जगहों पर लव बाईट बने हुए हैं।मेरे इस प्रकार लव बाइट देखने से वो भी उन्हें देखने लगी.

एक मिनट बाद जेनिफर को लंड अच्छा लगने लगा और उसने मुझे गांड हिला कर इशारा दे दिया. इसीलिए मैंने यह स्टोरी अंतर्वासना में डाली है कि आप सभी व्यूअर्स मुझे बताएं कि मैंने सही किया या नहीं?मुझे कमेंट करिए और भाभियों एवं कुंवारी लड़कियों से मेरा निवेदन है कि वे भी मुझे अपनी भावनाएं बताएं. पहले तो मुझे हल्का सा शक था लेकिन एक दिन मैंने उनको अपनी आंखों से चुदाई करते हुए देख लिया था.

यदि में नीचे दिए मापदंड से व्याखित करूँ तो समयानुसार सदैव 4-5 सूचकांक ही रहा है.

मैंने जोर से उसकी ब्रा को जैसे निचोड़ते हुए उसके बूब्स को इतनी जोर से दबाया कि भाभी की दर्द भरी सिसकारी निकल गयी और वो कराहते हुए बोली- आह्ह, आप तो बहुत ही ज्यादा मजबूत हो. ये सब इतना जल्दी में हुआ कि फिजा को संभलने का मौका नहीं मिला और वो अब आसिफ की बांहों में कैद हो गयी थी.

बिहार के भोजपुरी बीएफ मैंने उसको बांहों में भर लिया और उसके होंठों पर अपने होंठों को मिला कर चूसने लगा. सुबह हम उठे, दी नाश्ता बना रही थी तब तक मैं गोलू को स्कूल ड्राप कर के आया और आते ही दी को पकड़ कर सोफे में अपनी गोद में बिठा लिया।दी कहने लगी- नहा कर तो आने दो!मैंने कहा- साथ में नहाएंगे.

बिहार के भोजपुरी बीएफ मैं उनकी गांड देख कर सोचने लगा कि आज भाभी की चुत में लंड पेल कर ही दम लूंगा. मैं रुक गया और दीदी ने मुझसे बोला- पहले मेरे होंठों को चूसो और फिर धीरे धीरे अन्दर बाहर करो.

मैंने रेखा भाभी के मुँह से लंड बाहर निकाला और उनको किस करते हुए लेट जाने इशारा किया.

हिंदी वीडियो ब्लू बीएफ

घर पहुंच कर मैंने मेरी बीवी को बोला कि हरप्रीत को फ़ोन करके बोल दो कि मैं घर पहुंच गया हूं. मेरी कंपनी का क्लाइंट मेरी बीवी की मोटी और भारी भरकम गांड को ताड़ रहा था. शिवकुमार बोला- ठीक है, मैंने तो इसलिए पूछ लिया था कि आकाश ने बताया था आपके बारे में कि किस तरह आप दोनों ने शादी की थी और आकाश ने किस तरह से आपकी मदद की है.

मैं समझ गया कि दीदी को चुदाई का पूरा मजा लेना है, इसलिए वो इस खेल को देर तक चलने देना चाहती हैं. उसके मोटे मोटे दूध जब मेरी छाती से लगे तो इतने ही इशारे में लंड महाराज भी खड़े हो गये. मैं काफी समय से अन्तर्वासना साइट पर सेक्स कहानी पढ़ता चला आ रहा हूँ.

अभय ने हंस कर अपना मुँह उसके चूत पर लगा दिया और मस्ती से 5 मिनट तक चुत चूसता रहा.

मैं- साली भैन की लौड़ी … बहुत परेशान किया है … बहुत परेशान किया है … तुझे तो मैं शादी में ही चोद देना चाहता था … लेकिन नहीं कर पाया. जैनब ने मुस्कुराते हुए मुझे देखा और सबसे पहले अपने बॉक्स में से एक पेन निकाल कर मेरी तरफ बढ़ा दिया. फिर दीदी ने कहा- आह शिव … तेज करो और तेज …मैंने धक्के की रफ्तार बढ़ाई, तो दीदी पन्द्रह मिनट में झड़ गईं और उन्होंने खुद ही नीचे होकर लौड़ा बाहर निकाल दिया.

मैंने पूछा- ज्यादा दर्द हो रहा है क्या मेरी जान?दी ने कहा- हाँ, धीरे करो. मैंने संकोच के साथ कहा- डैड क्या हुआ … आप और मॉम ठीक तो हो न!डैड- हम दोनों ठीक हैं. मां की चूचियों को दबाते हुए मैंने कहा- लवली तुम्हारे आगे कुछ नहीं लगती मुझे.

कई बार हमने सुना होगा कि वो वहां सेक्स करते पकड़े गए, उनकी पिटाई हुई. वैसे अभी मेरा मूड नहीं है … इसलिए आज तुमको अपनी दीदी के बिना ही सोना पड़ेगा … आज नो सेक्स.

मैंने अपनी उंगली पर तेल लगाया और उसकी गांड में उंगली करते हुए उसकी गांड को चिकनी करने लगा. मुश्किल से 5 मिनट भी नहीं लगे, अंदर निकाल कर वापस अब्बू कमरे में चले गए. मैं नहीं चाहता था कि कोई गैर हमारी माँ बेटा सेक्स स्टोरीज़ के बारे में जाने.

मैंने दीदी की ओर देखकर कहा- बस मैं और दीदी फिल्म देख रहे हैं और जीजा जी कमरे में जरूरी काम कर रहे हैं.

इसके बाद की कहानी में श्रुति भाभी और सीमा सिंह के मैंने एक साथ में मजे किए. मैंने उनका हाथ हटा कर उनकी चूत की दोनों फांकों को चूमना शुरू कर दिया. कुछ समय पश्चात् विपिन का शरीर कम्पन करने लगा और वो निढाल होकर मेरे ऊपर लेट गया.

जिसमें एक बड़ी उम्र की लड़की एक अपने से छोटे उम्र के लड़के के साथ अपनेखेतों में चुदाई के मजेकर रही थी. अगर सेक्स कहानी जगत में लेखक मस्तराम नहीं होता तो मेरी कहानी भी नहीं होती.

घर पहुंच कर मैंने मेरी बीवी को बोला कि हरप्रीत को फ़ोन करके बोल दो कि मैं घर पहुंच गया हूं. खैर उस वक़्त टीवी शो में कोई हॉरर मूवी चल रही थी, जोकि मुझे बिल्कुल पसंद नहीं होती. चौथे दिन आखिरकार उसने मेरी रिक्वेस्ट ले ली और मैंने उसकी कई सारी फोटो अब मैं देख सकता था.

देसी लड़कियों की हिंदी बीएफ

कुछ ही देर में भाभी मेरे मोटे और लम्बे लंड से चुदाई का मजा अपनी चूत में लेने लगी.

मां ने एक बार मेरी आंखों में देखा और फिर अपने हाथ से अपनी आँखों को ढक लिया. वह मुझसे बढ़कर किसी और चीज को अहमियत ना दे।बात यह भी है कि यह बात मैं अपने पति से कह भी नहीं सकती कि सच में मुझे किसी दोस्त की तलाश है. जब उनका लिंग लगभग दोगुने आकार का हो गया तो वो मेरे ऊपर से उतर कर मेरी बगल में लेट गया और अपनी हथेली में थूक लगाकर मेरी मांसल गुदा को सहलाने लगा.

चूत को चूसने का आनंद बहुत निराला होता है दोस्तो, ये बात उस दिन मुझे समझ में आ गयी थी. क्योंकि साथ में पढ़ने वाले सभी लड़के उसके जिस्म के उभारों से आकर्षित थे, न कि उसकी सूरत या सीरत से थे. सेक्सी स्टीकरउसकी नशीली आंखें, सेक्सी स्माइल, सुनहरे बाल किसी को भी मोहित कर देने में काफी हैं, वो एक मॉडर्न ख्यालत वाली है.

उसने मेरा चाय का कप कुछ ज्यादा ही झुक कर उठाया और वो मेरी आंखों में आंखें डाल कर बोली- दूध ले आती हूं. उन्होंने कहा तो ये था कि वो पहली बार किसी का लंड चूस रही हैं … लेकिन उनकी अदा बता रही थी कि वो लंड चूसने की कला में महारत हासिल किये हुए हैं.

अल्पना- हम्म … जैसे तू बहुत दूध की धुली है? तू भी तो अपने बॉयफ्रेंड का मजे से लेती है।मैं- अच्छा अच्छा सुन … तेरे बॉयफ्रेंड का लण्ड बहुत मस्त है. तो वो चली गई … मतलब घर से 8 घंटे के लिए दूर।हमारे पास काफी समय था क्यूंकि मेरी भी उस दिन छुट्टी था।भाभी ने मुझे फोन करके अपने घर बुला लिया और कहने लगी- छत की तरफ से आना।मुझे समझते देर ना लगी कि मेरा काम बन गया. हम दोनों किस्मत से पहली बार सेक्स कर रहे थे और हम दोनों को ही ज्यादा नॉलेज नहीं थी.

महिलाओं को पुरूषों के देखने के नजरिये से भी पता लग जाता है कि सामने वाला उसके बारे में क्या सोच रहा है या उसके मन में किस तरह के विचार चल रहे हैं. आपको बता दूं कि मनु घर में सिलाई किए अंडरवियर पहनता था, जिसकी वजह से मुझे उसके लंड का स्पर्श पास से महसूस हुआ. मैं ये भी समझती थी कि मुझे देख कर किसका मन नहीं टूटेगा … चाहे वो कोई भी हो.

फिर हम एकदम से 69 की पोजिशन में आ गए और जब वो काफी गर्म हो गई तो मैंने अपनी पोजिशन बदली और उसकी चूत में लंड डाल दिया.

सम्भवत: इसी कारण मैं अंग्रेजी व हिंदी को बाकी सब हमउम्र छात्रों से अधिक अच्छे से पढ़ पाता था. मैंने कहा- क्यों?सौम्या बोली- पहले आप मेरी कसम लो कि कभी मुझे धोखा नहीं दोगे.

अब मैंने उसकी दोनों टांगों को पकड़ लिया और उसकी चूत में तेजी के साथ धक्के लगाने लगा. चूमाचाटी में ही हम दोनों की वासना ने अपना रंग दिखाना शुरू कर दिया था. उसकी आंखों में आंसू आ गये थे और वो बोलने लगी- इसे एक बार बाहर निकालो प्लीज… इतना मोटा लंड नहीं बर्दाश्त हो रहा है चूत में, एक बार निकाल लो हैप्पी.

पांच मिनट तक मैंने उसके होंठों को चूसा और फिर उसके ब्लाउज को खोलने लगा. उसने कहा- क्या ऊपर से सब कर लोगे?मैंने उसके ब्लाउज को खोलकर नीचे गिरा दिया और उसकी ब्रा के ऊपर से ही भाभी के चूचुकों को चूसने लगा. पूजा और मां आज भी मेरे साथ सोती हैं और मैं दोनों को लगभग रोज चोदता हूं।दोस्तो, आपको मेरी यह माँ बेटा सेक्स स्टोरीज़ कैसी लगी मेरी कहानी पर कमेंट करके जरूर बताना.

बिहार के भोजपुरी बीएफ वो अपने दोनों हाथों से मेरा सर को अपनी चूत में ऐसे दबाती जा रही थी, जैसे मैं उसकी चूत में घुस जाऊंगा. उसी समय मैंने एक प्लान बना लिया और उस मिस्त्री का ध्यान अपनी ओर खींचते हुए ज़ोर ज़ोर से अपनी बीवी को चोदने लगा.

हिंदी पिक्चर बीएफ मराठी

रानी बोली- अच्छा, अगर मैं तुम्हें इतनी पसंद आई तो फिर इस हॉट और सेक्सी लेडी को तुम मस्त कर दो ना?इतना कहते हुए उसने मेरे होंठों पर एक किस कर दिया और मेरी गोद में अपनी गांड को रखते हुए मेरी जांघों पर आकर बैठ गयी. आधा वीर्य हवा में पिचकारियों के साथ उड़ कर बगल में आकर गिरा और पीछे का वीर्य मेरे लंड और झांटों पर फैल गया. अब रिया जी थोड़ा रोमांटिक मूड में बोलने लगीं कि आज का क्या प्लान है?मैं थोड़ा सा अचंभित हुआ कि साली चुदने के लिए तो आई ही है और पूछ रही है कि क्या प्लान है.

हो सकता है इसको लिखते हुए मुझसे कुछ गलतियां हो जायें, इसलिए आप गलतियों पर ध्यान न दें और इस सेक्स कहानी का मजा लें. मैं- साली भैन की लौड़ी … बहुत परेशान किया है … बहुत परेशान किया है … तुझे तो मैं शादी में ही चोद देना चाहता था … लेकिन नहीं कर पाया. वर्टिगो का देसी इलाजमैं बोली- बेटा मुझे अगर नहीं करवाना होता, तो मैं तुम्हें बस में ही थप्पड़ जड़ देती.

भाभी मेरे आगे आगे चल रही थीं और मैं उनके पीछे-पीछे उनके मटकते हुए चूतड़ों को देखते हुए चलने लगा.

मेरी कहानी के पिछले भागभाई-बहन का लिव इन रिलेशन-1में मैंने आपको फिजा और उसके भाई आसिफ के बारे में बताया था. उसके बाद हम दोनों ने एक दूसरे को नंगा किया और फिर बाथरूम में घुस गये.

फिर आकाश ने मेरी चूत में अपना लंड डालने की कोशिश की लेकिन मैं नहीं हिली. यही सोच कर मैं कोचिंग से जब भी घर जाने के लिए निकलता तो जैनब के पीछे पीछे कुछ दूरी बनाता हुआ उसे उसके घर तक पहुंचा कर ही अपने घर जाता था. सेजल अपनी बच्चों को लेकर कहीं और गई थी किसी रिश्तेदार के वहां! घर पर सिर्फ भूमिका थी.

मैं बोला- रात में तो तुम मजे से लेती हो अपनी चूत में, फिर दिन में परहेज क्यों कर रही हो?फिर वो कुछ नहीं बोली और मैं उसको छेड़ता रहा.

मुझे इसके बारे में ज्यादा नहीं पता था तो मैं उनसे कुरेद कुरेद कर पूछने लगा. सुमित ने मेरे हाथ को अपने हाथ में थाम रखा था और हम दोनों साथ में चलते हुए ज़ू में घूम रहे थे. मैं धक्के लगा कर थक गया था … तो मैं सोचा कि अभी रुक चुदाई शुरू करूंगा.

मराठी सेक्स स्टोरीजअसल जिंदगी में नहीं तो आप को ही मेरी माँ समझ कर आपका पेशाब निकाल दूंगा. कभी उसके होंठों को पी रहा था और कभी उसके कानों पर दांतों से काट रहा था.

लंदन का बीएफ

उसने मेरे कंधों को पकड़ लिया और मेरे से सीने से लिपटते हुए चुदने लगी. एक तरफ तो किसी को पता नहीं था कि हम भाई बहन के बीच में क्या रिश्ता है. अब उसने सोनिया को नीचे लिटाया और उसकी चूत में लंड को लगा कर उसके ऊपर लेट गया.

उन्होंने थोड़ी देर लंड चूस कर मुझसे कहा- तुमको मेरी चूची नहीं चूसनी है?मैंने सोचा कि दीदी की चूचियां चूसूंगा, तो मेरे लंड को दर्द नहीं होगा. मैंने कहा- क्या कर रहा है हरामी, मुझे क्यों तड़पा रहा है ऐसे?वो बोला- मम्मी, क्या तुम मेरा लंड लेना चाहती हो?मैं कुछ नहीं बोली. लेकिन समस्या थी कि इस किट के बारे में उसके अब्बू को कैसे बताये।तो ये ज़िम्मेदारी आसिफा ने ली कि वो अपनी अम्मी से इस बारे में बात करेगी।उसके बाद से उसके बातों में अलग ही प्यार नज़र आ रहा था। उसके बाद एक दिन आसिफा ने बताया कि उसने अम्मी से बात की किट के बारे में इस प्रकार:आसिफा की एक सहेली जिसका नाम ज़रीना है, उसकी शादी को 1 साल ही हुआ है.

इस समय दीदी इस ड्रेस में खूबसूरत लग रही थीं मानो धरती पर अप्सरा उतर आई हो. इसी मौके का मैं फायदा उठा रहा था और मैंने मां की चूत में मुंह लगा दिया. मैंने कपड़ों के ऊपर से ही अपना लंड उसकी गांड पर रगड़ दिया, तो वो मुड़ कर गुस्से में बोली- शिव … अभी मजाक नहीं … अभी जल्दी करो, वरना कोई आ जाएगा.

शाम को एक बार फिर बीच पर गए और होटल मैनेजर को बोल दिया कि रूम थोड़ा अच्छी तरह सजा देना. सोनिया बोली- अरे भैया, आखिर मां किसकी है!उन दोनों की इस बात पर मैं मुस्करा दी.

ऐसा करते ही उसका लंड जोर जोर से ऊपर नीचे होने लगा और फिर मेरे सामने ही उसका माल निकल गया और उसके कपड़े गंदे हो गए.

अब मोनिका की कमर खुद ही हिल रही थी, तो मैं उसके मम्मों को दोनों हाथ से पकड़ने लगा और पूरा उसके ऊपर झुक गया. आदिल में तुझे रख लूंमैं लवली की मां को साथ में ले गया और मां को मैंने होटल में ही आराम करने के लिए कह दिया. बड़ी जयपुर से मंगवाईमैं उसके बेड पर उसके साथ लेट कर उसकी चूचियों को दबाने लगा और बातें करने लगा. मेरी सेक्सी स्टोरी के पिछले भागबहन की ग़लती, मां का राज़-4में आपने जाना था कि मैंने अपनी बहन की मांग में सिंदूर भर दिया था.

मैं अब उसकी चूत चाटने लगा और मेरी नाक उसकी गांड के छेद पर टिका हुआ था.

वो गुस्सा होकर उठ गयी और बोली- चलिये, नहीं तो यहीं से हाथ पकड़ कर ले जायेंगे हमको. जब वो खेत पर आती तो रोज शाम को मैं उससे बात करने के लिए बहाने से बेवजह कोई न कोई बात छेड़ने की कोशिश किया करता था. एक दो पल उसने हैरत से मेरे लंड को देखा और फिर भाभी ने अपने हाथों से अपने चेहरे को ढक लिया.

मैं राधिका को बेहद पसंद करता था मगर मुझे मोनिका की चुदाई करने में भी बड़ा मजा आता था … क्योंकि अब तक एक वही थी, जिसकी मैंने गांड भी मारी थी. उसका एक शादीशुदा भाई है जो अपनी पत्नी के साथ इस परिवार से अलग रहता है. हमारा संबंध 4 साल तक रहा। इस दौरान वह जयपुर से वापस उसके घर चली गई लेकिन कभी कबार वहां बहाना बनाकर मुझसे मिलने आती थी। और फोन पर सेक्स चैट भी किया करते थे.

बीएफ ब्लू फिल्म सेक्सी ब्लू

मैंने उनका हाथ हटा कर उनकी चूत की दोनों फांकों को चूमना शुरू कर दिया. मेरी बीवी चिहुंक गई और उसने अपने दोनों हाथों से कस कर मिस्त्री को गले से लगा कर चिपक गई. ”इतना कहकर मैं उठा और रीना के करीब जाकर उससे सटकर बैठ गया और अपना हाथ उसकीं जांघ पर रखते हुए बोला- अब तो डर नहीं लग रहा?आपको जब पहली बार देखा था तो डर लगा था कि यह भारी भरकम शरीर, बड़ी बड़ी मूछें.

मैंने कहा- शिवम से गांड चुदाई करवाती हो तो तुमको दर्द नहीं होता है? शिवम तो तुम्हारी गांड बहुत बड़ा प्रेमी हो चुका है.

बहन हंसने लगी और बोली- अच्छा नहीं लग रहा क्या मेरे ऊपर ये मां का ब्लाउज?मैंने कहा- मैं तो तुम्हारे कपड़ों से ज्यादा तुम्हारे जिस्म का दिवाना हूं.

फिर हम तीनों ने साथ में नाश्ता किया और उसके बाद मैं दोनों को अलविदा कहकर अपने घर आ गया. आधा वीर्य हवा में पिचकारियों के साथ उड़ कर बगल में आकर गिरा और पीछे का वीर्य मेरे लंड और झांटों पर फैल गया. हरियाणवी सेक्सी वीडियो फुल एचडीमैंने भाभी से लेटने के लिए कहा, तो भाभी मुझसे बोलीं- मेरे घर के बाहर का दरवाजा लॉक कर जाना … मैं उठ नहीं सकूंगी.

खाना खाने के बाद मैं और जैक घर के पीछे बैकयार्ड में जाकर सोफे पर बैठ गए. अब मैंने भाभी की चुदाई की स्पीड बढ़ा दी और तेजी के साथ उसकी चूत में लंड को अंदर बाहर करते हुए उसकी चूत को बुरी तरह से रौंदने लगा. आपके साथ कभी ऐसा हुआ है तो मुझे अपने मैसेज के द्वारा अपने विचार बतायें.

अब मैं एक हाथ से उसके बूब्स को दबा रहा था और दूसरा हाथ कभी उसकी चूत पर छूकर आता तो कभी उसकी पीठ, कभी पेट और गांड को दबा कर वापस से उसकी चूचियों पर पहुंच जाता था. फिर 69 की पोजीशन में आकर हम दोनों एक दूसरे के यौनांगों को चूसने लगे.

मैं जहां काम कर रहा था, उधर मेरे कई सारे दोस्त हैं लेकिन उन सबमें एक मेरा खास दोस्त है, जिसका नाम जैक है.

वो मेरे लंड को अपने गले में अन्दर तक घुसा कर लॉलीपॉप की तरह चूस रही थी. फिजा के बारे में जफर साहब अच्छी तरह जानते थे कि वो लम्बी रेस की घोड़ी है. जिस तरह से आसिफ फिजा के बदन को देखता था उसकी नजर सीधे फिजा के जिस्म में अंदर तक उतर जाती थी.

हिंदी में सेक्सी वीडियो फुल मैंने और रिशा ने मम्मी से बात की और उसके इस फैसले के साथ खड़े होते हुए आपको पापा मान लिया. पापा ने मुझे नोयडा छोड़ने आना था तो उन्होंने अपने मालिक से कहा- मुझे छुट्टी चाहिए.

मुझे बहुत खुशी हो रही थी कि हम दोनों ने एक दूसरे के साथ जीने मरने के वादे किये हैं और दोनों ही इस वादे को निभाना चाहते हैं. उसने मेरी चूचियों को ब्रा के ऊपर से दबा दिया और फिर सोनिया से मोबाइल देने को कहा. अब आलम ये था कि आलिया सेक्स के बारे में और ज्यादा देखने और पढ़ने लगी थी.

साउथ अफ्रीका बीएफ वीडियो

खैर हुआ तो कुछ नहीं, मैं अपनी बंदी के साथ कॉलेज चला गया और सीधा शाम को घर आया. उसकी सांसें बहुत तेजी से चल रही थीं और उसके ऊपर नीचे होते सीने पर उठे उसके बूब्स भी साथ में ऊपर नीचे हो रहे थे. मैंने अपना हाथ नीचे करके उसका लोअर उतार दिया और उसने मेरा साथ देते हुए अपनी लोअर को अपनी टांगों से खुद ही नीचे निकाल दिया.

उसके दर्द को कम करने के लिए मैं उसके होंठों को चूसने लगा और उसकी चूचियों को सहलाने लगा. मेरे बाजू में दीदी दर्द के मारे सिसियाते हुए अपनी चुत को सहला रही थीं.

उनको चोदने के बारे में सोच सोच कर मेरा लंड भी अकड़ गया था और दर्द करने लगा.

राजू आह भरता हुआ बोला- मां तुम तो कयामत की देवी लग रही हो … अगर तुम मेरी मां नहीं होती, तो मैं तुमसे शादी कर लेता और जम कर चोदता. कुछ देर बाद बीवी कराहते हुए उठी और उसने मिस्त्री के मोबाइल से चुदाई की वीडियो डिलीट कर दी. तभी उसी वक्त पद्माकर ने मेरी गांड के छेद पर घी लगाया और अपने लंड का सुपारा मेरे छेद पर रख कर लंड अन्दर डालने की कोशिश करने लगा.

मैंने बोला कि क्यों?भाभी बोलीं- ये वही थी, जिसने मुझसे तेरा नम्बर लिया था. मैं भाभी के मम्मों को अपने हाथों में दबाते हुए उनके चुदाई में मस्त था और भाभी भी गांड उठा उठा कर अपनी चुत में लंड ले रही थीं. उसे ऐसा देख कर मन कर रहा था कि इसे पकड़ कर अभी चोद दूं … लेकिन मैंने खुद पर कंट्रोल किया और उसके सामने बाथरूम में जाकर मुठ मार कर आ गया.

वो चाहता तो कॉलेज की कोई भी लड़की पटा लेता लेकिन सनी बहुत सीरियस लड़का था और राजनीति में रुचि होने के कारण ज्यादा ध्यान कॉलेज के कामों में रहता था.

बिहार के भोजपुरी बीएफ: कुछ दिन बाद तो ऐसा हुआ कि मेरे दोस्त के घर रहते हुए ही मैं भाभी की चुदाई करने लगा था. मैंने कहा- दीदी, क्या सख्त लंड मजा नहीं देता है?दीदी ने कहा- नहीं रे … लंड की सख्ती ही तो औरत की चुत की आग को ठंडा कर पाती है.

अब भाभी इतनी गर्म हो चली थीं कि वो एक ही इशारे में चुत खोल कर मुझसे चुद जातीं. फिर मैंने उनको बिस्तर पर पटक दिया और उनकी जींस उतार दी … जींस काफी टाईट थी, इसलिए उसी के साथ में मैंने भाभी की लाल रंग की पैंटी भी उतार फेंकी. वो मजे से मेरा लौड़ा चूस रही थी। थोड़ी देर में मैंने उन्हें सोफे पर आड़ा लिटाया और ऊपर से उनके मुँह में अपना लौड़ा डालने लगा.

मैंने बोला- काफी दिनों बाद याद किया?भाभी बोलीं- फोन खराब हो गया था और ससुराल में बात करने का टाइम ही नहीं मिलता था.

मैंने पहले पेशाब की और फिर अपने लंड को पानी से धोकर तौलिया से साफ किया. मोनिका बोली- शिव, मुझसे भी न हो सकेगा … मैं बहुत थक गई हूँ … मगर मैं तुम्हारे लंड को अपने मुँह में लेकर झाड़ दूंगी … तुम मेरे पास आ जाओ. मेरा लंड उसकी चूत में था और सिर उसके चूचों पर!उसने भी मुझे जकड़ लिया.