सेक्सी बीएफ हिंदी में एचडी वीडियो

छवि स्रोत,डॉट कॉम सेक्सी व्हिडीओ डॉट कॉम

तस्वीर का शीर्षक ,

एक्सएक्सएक्सएक्सेक्स: सेक्सी बीएफ हिंदी में एचडी वीडियो, इसलिए मैं भी इस पल का आनन्द उठाने का सोच रही थी।अब उसने अपना हाथ मेरी जांघ के बगल में किया और ऊपर मेरी कमर तक ले गया। शायद वो उधर मेरी पैन्टी पहने होने का अंदाज कर रहा था.

सेक्सी करते हुए विडियो

राधे ने कमर पर दबाव बनाया और थोड़ा लंड और अन्दर घुसा दिया। वैसे तो मीरा की गाण्ड बहुत टाइट थी मगर घी से लौड़े को फिसलने में आसानी हो रही थी।राधे- उहह मीरा तेरी गाण्ड है. बहन भाई की सेक्सी देहातीमैंने उसे दूर किया और ताकत लगाकर उसे दरवाजे से बाहर किया और दरवाजा बंद कर दिया।मैं अब आराम करने लगा। फिर मुझे एक हफ्ते की छुट्टी मिली.

वो अपनी बहन टीना से बहुत प्यार करता है, इन दोनों के बीच दोस्तों जैसा रिश्ता है।आप सोच रहे होंगे कि मैं यह क्या बता रही हूँ. भोजपुरी सेक्सी वीडियो बिहार कीमैंने अब फैजान को बाहर धकेला और खुद भी बाहर आ गई और अपने पीछे दरवाज़ा बंद कर दिया। जाहिरा ने दरवाज़ा लॉक किया और उसने ड्रेस चेंज करके दोबारा अपनी शर्ट पहन ली।कुछ देर के बाद वो बाहर आई तो उसका चेहरा सुर्ख हो रहा था और फैजान के चेहरे पर ऐसे आसार थे.

बहुत देर तक गाण्ड मारने के बाद मैंने अपना गर्म रस उसकी गाण्ड में ही छोड़ दिया।इस तरह उस दिन मैंने उसे 3 बार चोदा.सेक्सी बीएफ हिंदी में एचडी वीडियो: और ‘डायरेक्ट शूट पोजीशन’ में उसे जोर-जोर से चोदने लगा।वो जोर-जोर से सिस्कारियां लेते हुए मुझे जोश दिला रही थी और कह रही थी- शाबाश और जोर से.

इसलिए यह तो साफ़ था कि वो ऐसा जानबूझ कर कर रहा था।उसके हाथ से मेरी सोयी हुई उत्तेजना फिर से जाग गई और मैंने मन ही मन सोचा कि देखते हैं.’ करके एक जोरदार किस किया।मैंने भी उसे ‘आई लव यू’ कहा और उसे बिस्तर पर चित्त लिटा दिया।मुझे उसकी चूत देख कर ऐसा लग रहा था कि मेरा 7 इंच का लौड़ा इस जरा सी फांक में नहीं जाएगा.

आदिवासी सेक्सी जंगल में मंगल - सेक्सी बीएफ हिंदी में एचडी वीडियो

सीधे रोमा के पास ले चलती हूँ।आज रोमा का चेहरा किसी गुलाब से भी ज़्यादा खिला हुआ था क्योंकि रात उसकी मॉम ने उसको बात ही ऐसी बताई थी.उसमें वो एकदम सेक्स बम्ब लग रही थी।उसको देखते ही मेरा तो उसके चूचे दबाने का मन करने लगा। बहुत मुश्किल से खुद को संभाला और उसका स्वागत अपनी बाँहों में लेकर किया। मेरा लंड जबरदस्त टाइट हो गया था और उसकी नाभि पर रगड़ खा रहा था।उसको भी मेरे लौड़े की सख्ती का पता चल गया.

मेरे लंड रखते ही आंटी ने जोर का झटका दिया और मेरा पूरा लंड एक झटके में ही अन्दर ले लिया।इधर खुशबू आंटी के मम्मों का रस पी रही थी और मैं आंटी की चूत के रस को निकाल रहा था।लगभग 40-50 झटके मारने के बाद आंटी की चूत में मैंने अपना रस खाली कर दिया. सेक्सी बीएफ हिंदी में एचडी वीडियो नीरज वहाँ से चला गया और दोबार पीने के लिए दारू की दुकान पर जाकर बैठ गया।उधर रात के खाने के बाद राधे और मीरा कमरे में बैठे बातें कर रहे थे।मीरा- राधे अब बताओ ना.

तो मैं भी चालू हो गया। मैंने भी उसका साथ दिया और हम दोनों एक-दूसरे को पागलों की तरह चूम-चाट रहे थे।फिर मैंने उसके टॉप को और उसने जो जींस पहनी थी.

सेक्सी बीएफ हिंदी में एचडी वीडियो?

’ के साथ चीखी और मुझसे लटक कर ढीली पड़ती चली गई।मैंने अपने लौड़े पर उसके गरम पानी को महसूस किया और साथ ही मेरे धक्कों के साथ रस के कारण ‘छपछप’ की आवाजें आने लगीं. एक ही स्पर्श में उसकी चूत रो पड़ी थी और उसमें से बहुत पानी निकलने लगा था, वो पानी उसकी गाण्ड की तरफ बह रहा था।अब आगे. वहाँ आंटी खड़ी थीं।मैं डर गया और अपने हाथों से अपने लंड को छुपाने लगा।आंटी बोली- ये सब क्या हो रहा है?मैं बोला- क.

मैं तुरंत ही उठा और उनके चूचे मसलते हुए बोला- अब इनके बारे में क्या सोचोगी।तो उन्होंने बिना बोले ही अपनी नाइटी उतार दी और मेरे गालों को चूमते हुए मेरे सीने तक आईं और फिर दोबारा ऊपर जाते हुए मेरी गरदन पर अपनी जुबान को फेरते हुए धीरे से बोलीं- अब सोचना नहीं बल्कि करना है. भाभी मैं तो आपके बचे हुए पैसे वापिस करने आया था।उन्होंने मुझे अन्दर आने को कहा और मेरे लिए नाश्ता लेने रसोई में चली गईं।वह जैसे ही टेबल पर नाश्ता रखने झुकीं तो मुझे उनके पूरे दूध झलकते हुए दिख रहे थे. ??वो अपने चूतड़ों को उछाल-उछाल कर मेरे लंड को अपनी चूत में क़ैद करने के लिए मरी जा रही थी। उसकी चिकनी चूत पर एक भी बाल नहीं था। चूत का पानी पूरी चूत के ऊपर फैला हुआ था.

घुटने के बल झुकी और पूरा का पूरा मेरा आठ इंच का लिंग अपने मुँह में ले लिया।मैं उसके बालों में उंगलियाँ फिराता रहा। और फिर उसने जो मजे दिए. उसको इतना पैसे वाला पति मिल रहा था।शादी की शॉपिंग में मैं और अनीला भी बहुत काम कर रहे थे और अनीला भी मेरे नज़दीक आ रही थी। वो मेरी बात-बात पर हंस देती. मैं भी एकदम थका हुआ लगने लगा।फिर उन्होंने चाय बनाई और हम दोनों ने चाय पी। थोड़ी देर बाद मैं फिर गरम हो गया और उन्हें एक बार और ठोका।फिर उन्होंने मुझे ज़ोरदार किस किया और मैं अपने घर चला आया।यह मेरी पहली चुदाई टीचर थी। उसके बाद मैं हफ्ते में दो-तीन बार मैम की चूत को ज़रूर बजाता था।यह थी मेरी सच्ची चूत चुदाई घटना जो कि मैंने आपके सामने रखी.

घुटने के बल झुकी और पूरा का पूरा मेरा आठ इंच का लिंग अपने मुँह में ले लिया।मैं उसके बालों में उंगलियाँ फिराता रहा। और फिर उसने जो मजे दिए. ?आपा- हाँ, तुम्हारे जीजू रोज मुझे चोदते हैं, कम से कम एक orgasm होने तक, कभी कभी दो orgasm भी करवाते हैं। तूने अब तक चुदावाया नहीं है क्या?मैं- नहीं!आपा- वहाँ अपनी चूत में उंगली करती हो?मैं- हाँ !आपा- मज़ा आता है?मैं- जब जब वो छोटे दाने से touch होता है ना!आपा- वो छोटे दाने को clitoris क्लिटोरिस कहते हैं… आदमी के लण्ड मुकाबले का अंग है वो.

पर फिर मैंने सीधे बोल दिया।मैं- भाभी मुझे आपसे सेक्स करना है।भाभी चुप हो गईं।फिर 2 मिनट बाद बोलीं- देख राहुल.

तो उसने अपने सारे वस्त्र उतार दिए और रास्तों पर नंगी ही फिरने लगी।लोग उससे तरह तरह के सवाल पूछने लगे.

इसको देख कर कई लड़कों की पैन्ट में तंबू बन जाता है क्योंकि इसका फिगर ही ऐसा है 32″ के नुकीले मम्मों को देखें जरा. उसके गर्म अहसास से रोमा की चूत भी बहने लगी। अब दोनों ही मस्ती में झड़ने लगे थे।जब नीरज अलग हुआ तो उसका लंड वीर्य और खून से सना हुआ था. जैसा कि मैंने कहानी के पहले भाग में आपको बताया था कि मेरी माँ यशोदा एक स्कूल में टीचर है और पिता जी का देहांत हो चुका है। मेरी सौतेली दीदी पद्मा कॉलेज में पढ़ती है और वो बहुत सेक्सी है।हम दोनों के पिता अलग-अलग हैं तब भी हम दोनों में सगे भाई-बहन जैसा ही प्यार है।अब कहानी के आगे का सच जानिए।उसी रात अनिल ने मुझे एक बार में बुलाया और दो पैग व्हिस्की के पीने के बाद मुझसे बोला- यार.

और तेज आवाज से मैं जग सकता हूँ।चूंकि वो शादीशुदा थीं और चूत पूरी तरह से गीली थी इसलिए ना मुझे और ना उन्हें ज्यादा परेशानी हो रही थी. कुछ देर बाद नीरज ने रोमा को नीचे लेटाया और लौड़ा उसकी चूत में पेल दिया। वो बहुत ज़्यादा उत्तेजित हो गया था. किसी को मेरा जन्मदिन याद ही नहीं था।वो उदास होकर बोल रही थी।मैं- मैं हमेशा याद रखूँगा।सुमन- ज्यादा ठरकी मत बन.

जिसे देखते ही सबका लंड खड़ा हो जाए।मेरा तो दिल कर रहा था कि इसे यहीं पकड़ कर मसल डालूँ… लेकिन मजबूरी थी, कुछ नहीं कर सकता था।फिर वो ‘हैलो’ बोल कर चली गई और मैं उसके बारे में सोचता ही रहा।जैसे-तैसे करके ऑफिस का समय पूरा किया और फ्लैट पर आ गया। खाना खाया और लेट गया। लेकिन नींद तो गायब हो गई थी। उसके बारे में ही सोचता रहा। रात दो बजे तक नींद नहीं आई और फिर मुठ्ठ मार कर लेट गया।उसके बाद पता ही नहीं चला.

हाइट 5’4″ और फिगर 30-26-30 है।भोपाल आ जाने के बाद मेरा दिल नहीं लगता था दिल मिलने के लिए बेकरार रहता था. फिर मैंने उसके दोनों हाथ बांध दिए और फिर पैर भी जकड़ दिया और फिर उस पर मैंने जम कर चांटे बरसाने शुरू कर दिए।उसे बहुत मज़ा आ रहा था. क्यों न अपनी उंगली भी इनकी चूत में डाल कर मज़े को दोगुना किया जाए।तो मैंने वैसा ही किया और दोनों सागर रूपी तरंगों की तरह लहराते हुए मज़े से एक-दूसरे को मज़ा देते हुए पसीने-पसीने हो गए।फिर एक लंबी ‘आहह्ह्ह्ह.

अब एक छोटी सी काली पैन्टी उसके कमर पर चिपकी थी।मेरी तरफ देख कर वो हल्के से मुस्कुराई और उसने नीचे झुकते हुए पैन्टी उतार दी. अब देख मैं क्या करता हूँ।टोनी- हाँ जानता हूँ… तू पैसे के दम पर मुझे मरवा देगा या मेरी बहन को उठा लेगा. आज रात को मुझे बिल्कुल नींद नहीं आएगी।मैंने पूछा- ऐसा क्यूँ?पूजा- आज तुमने मुझे इतना प्यार दिया है कि मैं इसे जिन्दगी भर नहीं भूल पाऊँगी। काश मैं आपसे शादी कर पाती लेकिन जिस भी लड़की की शादी आपके साथ होगी वो बहुत खुशनसीब होगी कि उसे आपके जैसा पति मिलेगा।यह कहते-कहते पूजा की आँखों में आंसू आ गए।मैंने पूजा को जोर से गले लगाकर उसे चुप कराते हुए कहा- मैं कहीं जा थोड़े ही रहा हॅू.

अलग ही मज़ा आ रहा था।फिर उसके बाद उसने अपनी सलवार निकालने के लिए मना नहीं किया।उसको नग्नावस्था में मैंने ऊपर से नीचे तक देखा तो ऐसे लगा कि क्यों इस लड़की के साथ ये कर रहा हूँ। कितनी हसीन है ये.

नहीं तो अब तक तो बबाल हो जाता।अब माया इतनी तेज़ गति से उछाल मार रही थी कि मेरा अंग-अंग भी बिस्तर के साथ हिल रहा था ‘अह्ह्ह ह्ह्ह्ह. तो उन्होंने कहा- अब मैं नहीं चुसूंगी।तब मैंने ज़बरदस्ती उनके मुँह में अपना लंड पेल दिया और वो फिर से लौड़ा चूसने लगीं।करीब 10 मिनट लवड़ा चुसवाने के बाद मैंने मौसी को सोफे पर उल्टा लिटा दिया और उनसे कहा- आज हमारी सुहागरात है.

सेक्सी बीएफ हिंदी में एचडी वीडियो मैंने अन्तर्वासना पर बहुत सी कहानियाँ पढ़ी हैं और उन कहानियों को पढ़ कर मैं भी अपने जीवन में घटी एक सच्ची घटना आप सब के सामने पेश करने जा रहा हूँ।घटना एक हफ्ते पहले की है जिस दिन मैंने अपनी चाची को एक रंडी की तरह चोदा था।मैं आपको अपनी चाची के बारे में बता दूँ. उसको देखा और बस देखता ही रह गया।वो हल्के आसमानी रंग की साड़ी में बिल्कुल हूर की परी लग रही थी।उसको देखते ही मेरा लौड़ा खड़ा हो गया मैंने उसे वहीं से अपनी गोद में उठा लिया और चूमने लगा।फिर उसके कमरे में ले जाकर उसे पलंग पर लिटा दिया।मैं बड़ी बेताबी से उसके होंठों को चूमने लगा और उसके मस्त और उठे हुए मम्मों को दबाने लगा।उसे भी मज़ा आ रहा था।मैं उसकी गर्दन.

सेक्सी बीएफ हिंदी में एचडी वीडियो हालांकि इस बात का फर्क हमारी शादीशुदा लाइफ या सेक्स लाइफ पर नहीं पड़ा… पर मुझे यह बात सही नहीं लग रही थी।एक दिन वरुण ने मेरे साथ सेक्स करते हुए. और बोल रही थीं- पहली बार के हिसाब से तुम काफी अच्छे हो।मैं बस मुस्कुरा के रह गया।मेरे लिंग में अब भी जलन हो रही थी.

यहाँ तक की सोते-सोते भी ‘उसी’ के बारे में सोचता रहता है।यह बात करके वे दोनों हँसने लग गईं।मैंने भी कमेन्ट मार दिया- आंटी.

डब्लू डब्लू डॉट कॉम सनी लियोन

मुझे मेरे दोस्त की बात पर बहुत गुस्सा आया और मैंने उसको बाहर जाने को कह दिया।लेकिन मेरे दोस्त के शब्द मेरे ज़हन में टिक गए. फैजान मुस्कराया और उठ कर बाहर की तरफ चला गया और जाहिरा भी पीछे-पीछे डोर लॉक करने और उसे ‘सी ऑफ’ करने के लिए चली गई।गेट पर भी फैजान ने जाहिरा को अपनी बाँहों में जकड़ा और उसे किस करने लगा, बोला- डार्लिंग थोड़ा सा मुँह में लेकर इसे नर्म तो कर दो. मगर उसने मेरी एक नहीं सुनी और मेरी गाण्ड को बेदर्दी से चोदने लगा। मैं दर्द के मारे मरी जा रही थी और वो चोदने में लगा हुआ था। करीब 10 मिनट चोदने के बाद मैं भी गाण्ड मरवाने का मजा लेने लगी।उसने मेरी गाण्ड तो पूरी फाड़ ही दी थी और अब वो इसके साथ में मेरी चूत में भी उंगली करने लगा और गाण्ड मारने लगा।मुझे भी जोश आ गया.

हम लोग यहीं तो तुम्हारे सामने बैठे हैं।जाहिरा उठी और कैन्टीन की तरफ बढ़ गई। फैजान जाते हुए उसकी गाण्ड को ही देख रहा था. मुझे तो खुद अपनी गाण्ड के लिए अरविन्द भाई का लंड चाहिए होता है।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैं उनकी और बातें सुन ना सका और गुस्से से भरा हुआ मिसेज कुकरेजा के कमरे में गया- आंटी. वो भी एक-दूसरे की प्लेट से खाना लूट-लूट कर और फिर हम सोने चले गए।अगले तीन दिनों तक मैंने बहुत कोशिश की.

जिसे दोस्त के हाल ए दिल जानने को ज़िक्र की ज़रूरत हो। हम तो आँखों से दोस्तों की नब्ज़ पहचान लेते हैं।फिर वो मेरा हाथ पकड़ कर स्टेज पर ले जाते हुए मुझसे बोली- आईए इस भीड़ से आपकी पहचान करवा दें।बीच में एक स्टेज बना हुआ था.

मैं भी अन्दर जाकर चुदवा लूँ।फिर कमरे का गेट बंद हुआ और अन्दर ठुकाई चालू हो गई।मैं बाहर आई और देखने लगी और चूत में फिर से उंगली डालने लगी।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !तभी थोड़ी देर बाद वही मोटा आदमी मेरे पीछे से आया और मेरे हाथ पकड़ कर उंगली से मेरी चूत को तेज़-तेज़ रगड़ने लगा और मेरे मम्मों को दबाने लगा।मैं एकदम से घबरा गई. वो इतने मज़े से मेरा लंड चूस रही थी कि मैं मस्ती में सीत्कार कर रहा था।वो अपने हाथ से मेरे लंड को साथ ही साथ मसल भी रही थी। ये मेरा पहला सेक्स था. तो वो दोबारा नीरज को तैयार करने लगी और जल्दी ही दोनों फिर से चुदाई की दुनिया में खो गए।इस बार नीरज ने रोमा को पहले अपने लौड़े पर कुदवाया.

नीरज की बात सुनकर राधे का पारा सातवें आसमान पर चढ़ गया। वो गुस्से में नीरज की तरफ गया। नीरज ने उसको अपनी तरफ आते देखा तो वो हँसता हुआ बिना पीछे देखे. ताकि वो थोड़ी सामान्य हो जाए और आहिस्ता-आहिस्ता इस नई ड्रेसिंग की आदी हो सके। अगर तुमने कोई ऐसी-वैसी बात की. एक ब्वॉय-फ्रेण्ड के होते हुए भी तुमने पुनीत से रिश्ता बना लिया?वो भी तैश में आते हुए बोली- हाँ है तिल.

एक लड़की आलिया भट्ट मंदिर में भगवान के आगे हाथ जोड़ कर प्रार्थना कर रही थी- भगवान जी, प्लीज़ मेरी दोनों चूचियाँ बड़ी बड़ी और चूत कसी हुई कर दो!पास ही मंदिर का पुजारी खड़ा था, आलिया भट्ट की बात सुन कर धीरे से उसको बोला- रानी, धीमी आवाज में प्रार्थना करो, तुम्हारी प्रार्थना का सीधा असर मेरी धोती में हो रहा है!***आलिया भट्ट एक दन्त चिकित्सक के पास गई. मैं अभी आती हूँ।मैं अपने कमरे में गई और उसके भाई का एक बरमूडा और अपनी एक स्लीबलैस टी-शर्ट उठा लाई और बोली- जाहिरा.

मेरा नाम आदित्य चौहान है, मैं लखनऊ में रहता हूँ, मेरी उम्र 24 वर्ष है और अब मैं एक कालब्वॉय हूँ।मैं बहुत दिनों से अन्तर्वासना की कहानियाँ पढ़ रहा हूँ. तो पूरे ज़ोर के साथ अपना लण्ड उसकी चूत में पेल दिया।उसका असर यह हुआ कि वो ज़ोर से चीखी और अपने राइट पैर से मेरे सीने पर इतने ज़ोर से मारा कि पूरा लण्ड उसकी चूत से बाहर निकल गया।अब वो ज़ोर-ज़ोर से रोने लगी और बोलने लगी- देखो. हम दोनों ने नहाते समय एक-दूसरे के जिस्म का भरपूर मज़ा लिया। मैंने उसके मम्मों की गोलाई को मस्त नापा। उसने भी मेरे लंड की लंबाई को नाप कर मज़ा लिया।फिर मैं उसे अपने बेडरूम में ले गया। उसे बिस्तर पर पटक कर अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया। वो भी मेरे लंड को मज़े से चूसने लगी। करीब 15 मिनट तक लौड़ा चुसवाने के बाद.

मतलब मैं और मेरी पत्नी डिम्पल ने threesome का मजा नहीं लिया था, दोनों इसको बहुत याद कर रहे थे, मैं तो कुछ ज्यादा ही याद कर रहा था.

मैं इसी आवाज़ का इंतजार कर रहा था। मैं घर में कह कर खुशबू के घर पहुँच गया। उसके घर में दो कमरे और रसोई घर था. फिर वो तैयार हो गई और ज़ाने लगी।मैंने अगले दिन उससे फोन किया और मिलने का प्रोग्राम बना लिया। वो भी ठीक वक्त पर आ गई। वो अपना नया सूट पहन कर आई थी. बस मजा आ रहा था। उन्होंने अपने और मेरे मुँह को जोर से दबाया और ‘फचाक’ से झटके के साथ लौड़े पर बैठ गईं।मेरे लौड़े का धागा टूट गया और मेरी जान निकल गई, मेरी चीख उनके हाथ के कारण दब गई। मैंने देखा कि दीदी के भी आँसू निकल आए थे।दोनों की सीलें एक साथ टूट गई थीं।हम दस मिनट तक रुके रहे.

इसी के साथ वे झड़ गईं।मैंने उनका सारा रस पी लिया और फिर उन्हें किस करने लग गया।अब आंटी मेरे ऊपर आ गईं और मेरे लण्ड को मसलने लगीं। उन्होंने मेरा लौड़ा अपने मुँह में ले लिया और उसे चूसने लग गईं।मैं तो जैसे जन्नत के मज़े ले रहा था।फिर आंटी ज़ोर-ज़ोर से मेरा लण्ड हिलाने लगीं और मैं झड़ गया. वो नंबर की चालू माल थी, उसके कई लड़कों के साथ अफेयर चलते थे।एक बार रिचा ने स्कूल के रास्ते पर चलते-चलते मुझसे कहा- प्लीज़ मुझे आज अपने घर को इस्तेमाल कर लेने दो न.

और भी कुछ लिया है या तुम दोनों ऐसे ही फिरती रही हो?फैजान की बात सुन कर जाहिरा घबरा गई। मैंने जाहिरा को इस स्थिति में देखा तो मैं मुस्कराई और उसकी घबराहट का मज़ा लेते हुए फिर हैण्ड बैग में अपना हाथ डाल दिया।जाहिरा ने इशारे से मुझे रोकना चाहा. लेकिन ‘हाँ’ इस बात का पता किसी को और कभी नहीं चलना चाहिए।वो मेरी इस हरकत से मानो अभिभूत हो गई थीं, बोलीं- ठीक है मेरे पतिदेव. धीरे-धीरे उसे मजा आने लगा, वो भी मेरा साथ देने लगी।चूत वास्तव में बहुत ही ज्यादा टाइट थी इसलिए मजा भी दुगना आ रहा था, पहली बार किसी कुँवारी चूत चोद रहा था इससे और जोश बढ़ गया।‘आहहह.

हिजड़ा की चुदाई वीडियो

तो हैरानी से जैसे मेरी आँखें फट सी गईं। मैंने देखा कि फैजान की नजरें टीवी की बजाय अपनी सग़ी बहन की नंगी टाँगों को देख रही हैं।मुझे इस बात पर बहुत ही हैरत हुई कि फैजान कैसे अपनी छोटी बहन की नंगी टाँग को ऐसे देख सकता है।उसकी आँखों में जो हवस थी.

तब इनकी शादी कर देंगे।बस अब तो दोनों को मिलने के लिए कोई दिक्कत नहीं थी। मगर ‘हाँ’ आयुष ने कभी रोमा के साथ कोई गंदी बात नहीं की। यहाँ तक की एक किस भी नहीं किया। उसका मानना था. मैंने उसे अपनी छाती से चिपका लिया और उसके बड़े-बड़े मम्मे मेरी छाती में चुभने लगे थे।उसकी बैचेनी देख कर समझ आ रहा था कि वो बहुत दिनों से लंड की प्यासी है।मैंने उसको घुमाया और उसकी पीठ पर किस करना शुरू कर दिया। उसकी पीठ बहुत ही खूबसूरत. वो आज मेरे सामने मुझे जन्नत का सुख दे रही थीं।मैं मामी के मम्मों को छोड़ कर उनके पेट तक आया और पूरे पेट पर हौले-हौले चुम्बन करके चाट भी रहा था। मेरी चुम्बन करने की स्टाइल से मामी तड़प रही थीं।वे चादर को हाथ से मसल कर छटपटा रही थीं।अब मामी ने मुझे हटाया और मुझे लेटा कर मेरी ज़िप खोली और जींस को नीचे खिसका कर मेरे लौड़े को बाहर निकला, पहले तो उसकी साइज़ देख कर उन्होंने मेरी ओर देखा.

जिसे मोनिका भी छुप कर देख रही थी।मोनिका के पति ने कहा- आप एक तरह मोनिका के पति ही रहोगे और वो आपकी पत्नी बनकर रहेगी।मैंने कहा- मैं आपकी सारी बात मानने को तैयार हूँ. कुछ देर बाद रोमा को कुछ याद आया तो वो झटके से बैठ गई।नीरज- क्या हुआ मेरी जान?रोमा- ये अपने क्या कर दिया. सेक्सी वीडियो भेजो चोदा चोदीतो पूरी दुनिया तुम्हें ही देखेगी, अब निर्णय तुम्हारा है।वो थोड़ा शरमाते हुए बोली- पर अंकल अगर किसी को इस बारे में पता चला तो मेरे लिए बहुत दिक्कत हो जाएगी और थोड़ी देर पहले आपने सही कहा था कि आज तक मेरे स्तनों को छूना तो दूर उन्हें किसी ने देखा भी नहीं है। इसलिए मुझे बहुत शर्म भी आ रही है।मैंने उसकी बात को बीच में ही काट कर कहा- देखो.

ब्रा, पैन्टी सब उतार दिया।विपरीत 69 के कारण हम दोनों एक-दूसरे का सामान चूसने लगे। लौड़ा चूसते-चूसते उसने मेरा माल निकाल दिया और पी गई।मैं भी कहाँ मानने वाला था। मैंने भी उसकी बुर चूस कर उसे झाड़ दिया और सारा रस जीभ से चाट गया।इतने में उसने कहा- राजा. पहले से सुंदर हो गई थीं।मैं दीदी के साथ उनके कमरे पर गया ये फ्लैट दीदी और उसकी एक दोस्त को कंपनी ने ही दिया था.

आपकी बहन आज से सिर्फ़ आपकी है।मैं भी पद्मा दीदी की बात सुन कर जोश में आ गया और अपनी दीदी के होंठों को चूमने लगा। उसके होंठों पर जीभ फेरते हुए उसके नंगे जिस्म से लिपटने लगा। हमारे जिस्म जल रहे थे. फिर उसने मुझे कुछ पैसे दे दिए।मैं अब सोसाइटी से बाहर आ चुका था। आज तक मैंने शायद ही कभी घर पर कोई काम किया था। सो थोड़ा अजीब सा लग रहा था. सो मैं जाकर मॉम के बगल में लेट गया और हवा का आनन्द लेने लगा।डैड रोज रात को अपने पुराने दोस्तों के साथ अद्धा मारने जाते और कभी-कभी वहीं रुक जाते थे।थोड़ी ही देर में मॉम मेरी तरफ को आ गईं और जैसे ही उनका बदन मेरे जिस्म से टच हुआ.

’ कह कर जाहिरा बाहर सहन की तरफ चली गई और अब मैं अपनी स्कीम के मुताबिक़ हो रहे ड्रामे के अगले हिस्से की मुंतजिर थी।बाहर तेज बारिश हो रही थी. उसने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए और फिर मुझे वो बेडरूम में ले गई।मैं बिस्तर पर लेट गया और फिर वो मेरे पास आकर लेट गई।फिर उसने मुझे ‘लिप-चुम्बन किया और मैं तो जैसे जन्नत में पहुँच गया. तब तक थोड़ी देर रोमा के पास चल कर देख आते हैं वो क्या कर रही है।अपने कमरे में एकदम नंगी लेटी हुई किसी को फ़ोन लगा रही थी।किसी को क्या नीरज को ही लगा रही होगी और आधी रात को किसको लगाएगी.

वो डर गई और पत्थर की मूर्ति की तरह खड़ी रह गई। मैंने उसकी गर्दन पर चुम्बन किया तो उसके मुँह से हल्की सी सिसकारी निकली और वो झटके से सीधी हो कर मुझे देखने लगी और अगले ही पल वो शरमा गई।लाज से उसकी नजरें नीचे हो गईं.

यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !राधे बिस्तर के पास जाकर खड़ा हो गया और मीरा पेट के बाल लेटी हुई लौड़े पर जीभ घुमाने लगी।राधे ने मस्ती में आँखें बन्द कर लीं और मीरा पूरे लंड को लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी. जिनकी जवानी के दीवाने छोटे-बड़े सभी हैं, भाभी जी एक दो साल के बच्चे की माँ भी हैं।उनका बच्चा ऑपरेशन से हुआ था.

जबकि मेरी चाची जी शहर की रहने वाली तेज-तर्रार किस्म की महिला हैं।इसलिए शुरू से ही चाचा-चाची की कभी नहीं पटी।जब मैं उनके पास शहर में पढ़ने के लिए आया. उसे देखते ही लड़कों के लंड खड़े हो जाते थे और उसे कोई देख ले तो उसके नाम की एक बार तो जरूर मुठ मारने लगे।पिंकी एकदम मस्त माल थी. करीब 15 मिनट हमने उस पोजीशन में सेक्स किया होगा।अब मन तेज़ी से ‘हाइ-स्पीड’ में सेक्स करने का हो रहा था.

उसकी चूचियाँ मेरे सीने में दब गई थीं। वो बहुत कस कर लिपटी हुई थी। मैंने पीछे से उसके ब्लाउज के हुक खोल दिए।अब वो बिस्तर पर बैठ गई. आओ राधे के पास चलते हैं।ममता मजे से राधे के लौड़े को चूस रही थी और राधे आँखें बंद किए पड़ा हुआ था।राधे- ओह्ह. तो तुम मेरे कमरे में ये सब कर सकते हो।मैंने उन्हें ‘थैंक्स’ बोला और अपना क्वार्टर लेकर उनके कमरे में आ गया।उन्होंने फ्रिज से ठन्डे पानी की बोतल और गिलास टेबल पर रख दिया और बातें करने लगीं।अब मुझे सुरूर होने लगा था.

सेक्सी बीएफ हिंदी में एचडी वीडियो तो वो नीचे बैठ गईं और लण्ड को जोर से चूसने लगीं।मेरा लण्ड पूरी मस्ती में था और जल्दी ही सारा रस भाभी के मुँह में बहने लगा. पहले सारा काम खत्म करने में मदद कर।अब मैं और वो जल्दी-जल्दी काम खत्म करने लगे और काम खत्म करके हमने दोपहर का खाना खाया और फिर मैंने कहा- अब सिखा दो।तो उसने अपने होंठ मेरे होंठों से लगाए और मुझे किस करने लगी.

ब्लू फिल्म नंगी करते हुए

ये बारात भी दीवानों की ही है।वैसे भी मैं क्या करता, मुझमें इतनी हिम्मत नहीं थी कि मैं तृषा की शादी होता देख सकता। मैं रवि के साथ ही चल पड़ा।बारात पास की ही थी। रवि और उसके दोस्तों के साथ थोड़ी देर के लिए ही सही. ’मैंने यह कहते ही अपनी पैन्ट उतार दी और अपना 9 इन्च वाला मोटा लंड पद्मा को दिखाते हुए उसके हाथ में दे दिया।मेरा मोटा लंड मेरी काली झांटों के बीच से किसी काले नाग की तरह फुंफकार रहा था।‘दीदी अब बताओ. अन्तर्वासना के सभी पाठक-पाठिकाओं को प्यार भरा नमस्कार। दोस्तों आपने हमारी कहानियां ‘चूत की सील टूटने का अहसास’ व ‘चूत-चुदाई की सेवा’ पसंद की.

यहाँ मेरे लिए एक चौंका देने वाला काम हो चुका था।उसकी जींस की चैन खुली हुई थी और उसका लौड़ा पैन्ट से बाहर लहरा रहा था। मैंने फिर उसके चेहरे की ओर देखा. कि उसने दर्द के मारे उसे बाहर निकाल दिया।मैंने उसे सवालिया निगाहों से देखा।बोली- लग रही है।मैंने लौड़े को फिर से उसकी चूत पर लगाया. सेक्स पिक्चर ब्लू सेक्सीमगर उसकी चूत इतनी टाइट थी कि चूत और लण्ड के पर्याप्त चिकना होने के बावजूद मैं अपना लण्ड उसकी चूत में नहीं डाल पा रहा था।अबकी बार मैंने थोड़ा सा जोर लगाकर लण्ड को आधा.

आज मैं अपनी मौसी से शादी करके उन्हें अपनी दुल्हन बनाऊँगा।मैं जाकर दो फूल माला ले आया और एक मोम्बत्ती जला दी.

हम लोगों ने हल्का-फुल्का हँसी-मजाक करते हुए कोल्ड ड्रिंक खत्म की।बाद में पूनम और मेरा दोस्त बेडरूम में चले गए।मैं और नंदिनी सोफे पर ही बैठे रहे।मैंने नंदिनी से पूछा- तुम्हें पता है. तभी सोच लिया था कि मेरी कुँवारी चूत की सील इसी लंड से टूटेगी। उस दिन के बाद से सिर्फ़ इसी लंड को सपने में देखती हूँ और अपनी चूत का पानी निकाल देती हूँ।मैंने कहा- तो फिर आज इसे अपनी चूत में डलवा ही लो.

जो 2 साल में एक बार आते हैं 2 महीने रुक कर वापस चले जाते हैं।माँ सुमीता यादव बहुत सीधी-शादी घरेलू औरत है. वो भी गरमा उठी थी और मेरा बराबरी से साथ दे रही थी।फिर मैंने उसके दोनों बोबों को अपने हाथों में लिया और दबाने लगा। लेकिन जैसे ही उसको अपनी नशीली आँखों से देखते हुए उसके एक चूचे को अपने मुँह में लिया और चूसने लगा. वो अधिकतर टाइट जीन्स और टॉप पहनती है जिसमें से उसकी सेक्सी गाण्ड और चूचियों का उभार देखते ही बनता है।बेशक पद्मा मेरी बहन है.

तो मैं दिखावा करता हुआ राजी हो गया।भाभी ने अपने कमरे में मेरे लिए चारपाई पर बिस्तर लगाया और अपने व बेटे के लिए नीचे जमीन पर बिस्तर लगाया।मैं खाना खाने के बाद उनके कमरे में सोने चला गया।वो मेरे दोस्त के साथ फिल्म देखने लगी।थोड़ी देर में उनका बेटा सो गया।वो उसे लेकर अपने कमरे में आ गई, उसने मुझे आवाज दी- राज सो गए क्या?मैं- नहीं भाभी.

तो देखा वो टायलेट में पजामा नीचे कर मूतने बैठी थी, उसका मुँह मेरी ही ओर था।दरवाजा खुलते ही मेरी नजर सीधी उसकी चूत पर ही पड़ी जो सीटी की आवाज के साथ पेशाब बाहर निकाल रही थी।मुझको देखते ही वह एकदम से खड़ी हो गई और अपना पजामा ऊपर खींचने लगी. कि एक बार चूसना शुरू करो तो उनका रसपान ही करते रहो।वो रोज़ मेरे पॉवर हाउस पर आती थी। धीरे-धीरे मैंने उस से बातचीत करना शुरू की. उस रात को मेरी आधी रात को आँख खुली तो मुझे टॉयलेट जाने की ज़रूरत पड़ी। मैं अपनी जगह से उठी और उन दोनों बहन-भाई के बीच में से निकली और उठ कर वॉशरूम में चली गई।जब मैं वापिस आई तो अचानक ही मेरे ज़हन में एक ख्याल आया। मैंने जाहिरा को देखा.

कुंवारी लड़की की सेक्सी दिखाएंऔर मेरी तरफ करवट ले ली। अब उसने मेरे ऊपर अपनी बाँहें डाल लीं।इस अचानक हुई हरकत से फैजान भी थोड़ा बौखला गया और फ़ौरन ही पीछे हट कर लेट गया।लेकिन मुझे पता था कि इस वक़्त चुस्त लैगी में जाहिरा के खूबसूरत चूतड़ फैजान के बिल्कुल सामने होंगे और उसके लिए खुद को रोकना मुश्किल होगा।उसे छूने से जैसे ही जाहिरा ने मुझे हग किया. ऐसी तूफानी रात में यहाँ क्यों खड़े हो? और इस औरत को क्या हुआ है?गाँव वाला- बाबूजी ये बेचारी जा रही थी.

देवर भाभी की सेक्सी बीएफ

अभी तक बहे जा रही है।जब मैंने ध्यान दिया तो वाकयी में चूत से बूँद-बूँद करके रस टपक रहा था।मैंने हैरानी से देखते हुए उनसे पूछा- ऐसा क्या हो गया आज. क्या कहती हो नाज़नीन? चलोगी ना?आपा- वहाँ दूसरे दोस्त भी आएंगे और ग्रुप चुदाई करेंगे, मजा आएगा… नाज़नीन है ना?मैं- मैंने कभी ऐसा किया नहीं है।मैंने मना कर दिया और जब तक मैं अमदाबाद में रही, आप और जीजू के साथ उनके बेडरूम में ही सोती थी!. मैंने दीदी से कहा- दीदी मेरा नीचे वाला अंग परेशान कर रहा है।तो दीदी ने कहा- कौन सा?दीदी मेरे मुँह से लंड शब्द सुनना चाहती थीं।यह कहानी आप अन्तर्वासना पर पढ़ रहे हैं।मैंने भी बोल दिया- दीदी लंड.

क्या कमाल की लग रही थी जब वो चुद रही थी… जब मैं उनकी चुदाई कर रहा था तो साथ में चूचों की बिटनियों को भी मसल रहा था जिसके कारण वो अपने मुँह से तरह तरह की सिसकारियाँ निकाल रही थी।कुछ देर के बाद उन्होंने अपनी कमर उचकाने कि स्पीड तेज कर दी और आईई… आईई… आःह…आःह. इन सभी की अच्छे से मसाज करनी है।मैं मन ही मन सोचने लगा कि चलो एक साथ 12000 कमाने का मौका मिला। मैंने सिर हिला कर हामी भर दी और ये पता किया कि पहले किसकी करनी है।तो एक लड़की ने जवाब दिया- एक साथ तीनों की करनी है और तीनों एक कमरे की तरफ चल दीं।सुमन ने मुझसे कहा- देखो राज ये जैसे कहें. ना ही मैं उनसे मिलने गया। पर जब तक साथ रहा तब तक दोनों ने खूब मजे किए।उसके बाद पड़ोस की दूसरी भाभी को कैसे चोदा। यह कहानी भी जल्दी ही पेश करूँगा।आपको कहानी कैसी लगी। अपनी राय मेल कर जरूर बताइयेगा।[emailprotected].

तुमने क्या समझा?तो मुस्कुरा कर उसने अपना हाथ मेरे हाथ के ऊपर रख दिया और रगड़ने लगी।मुझे भी अच्छा लगा तो मैंने भी कुछ नहीं बोला।फिर जब उसने मेरा हाथ पकड़ा तो उसने मेरे हाथ को अपने पेट के पास कर दिया सच मानो यारों. तभी ज़ेबा ने मुझे तुम्हारे बारे में बताया था। फिर हम दोनों ही मौके की तलाश में थे और ऊपर वाले ने आज हमारी सुन ली।मैं बोला- कोई बात नहीं. लेकिन मेरा तो बस उसे चोदने का ही मन था। फिर एक दिन मॉम-डैड कहीं बाहर गए हुए थे और मैं घर पर अकेला था।अचानक मेरे मन में आया कि क्यों ना आज शिवानी को घर पर बुला कर चोदूँ.

मगर मेरे दिमाग से अंजलि जाने का नाम ही नहीं ले रही थी।तो मैंने फिर से मौका देख कर अकेले में अंजलि का हाथ पकड़ लिया और वो फिर बोली- हम आपके हैं कौन?मैंने इस बार हाथ नहीं छोड़ा और एक झटके से उस अपनी ओर खींचा. जो मुझसे कुछ पूछ रही थीं।लेकिन मैं तो चुदाई के सपने देख रहा था और मेरा दोस्त मुझे ये सपने दिखा रहा था.

लेकिन मैंने बड़ी मुश्किल से उसे मना ही लिया कि वो आज अपने भाई के सामने भी यह लेग्गी पहनेगी।जैसे ही डोर पर फैजान की बेल बजी.

वहाँ पर कपड़े देखते हुए मुझ एक मॉडल पर पहनी हुई एक बहुत ही कामुक किस्म की ड्रेस नज़र आई। इसमें चूचियों का भी ऊपरी हिस्सा नंगा हो रहा था. सेक्सी वीडियो डाउनलोडिंग कॉमपता नहीं क्या होगा।तो मैंने अपना उसे अन्दर ही निकाल दिया और उसके ऊपर ही लेट गया।उसने बताया कि अब तक वो चार बार झड़ चुकी है।जब हम उठे तो बिस्तर पर हमने काफी सारा खून देखा. पढ़ने वाली लड़कियों का सेक्सी वीडियोये बात आप सर को बता दीजिए।मुझे मालूम था कि वो 4 बजे लाइब्रेरी जाते हैं और रात के 10 बजे वापिस आते हैं।मैंने ये बात जानबूझ कर उसके सेल फोन पर कहा था। ये मेरी तरफ से इशारा था. शायद उसने इसलिए किया था ताकि मैं पहले हाथ धोऊँ।मैं वाशबेसिन के पास जाकर हाथ धोने लगा और रूचि से इशारे में पूछा- क्या हुआ?तो वो फुसफुसा कर बोली- जान कुछ होगा.

तो वो मुस्कराती हुई उठ कर वॉशरूम में चली गई।कुछ देर के बाद जाहिरा बाथरूम से तौलिया से अपना चेहरा पोंछती हुई बाहर आई.

पर उसने अपने मुँह से मेरा लंड बाहर नहीं निकाला।मैंने उसे अपने ऊपर से हटाया और पूछा- कैसा लगा?तो वो बिना कुछ बोले मुझे चुम्बन करने लगी।फिर उसकी आंखों में आंसू आ गए, मैंने पूछा- क्या हुआ?तो बोली- आज चुदाई का सच्चा सुख मिल रहा है मुझे. पर मैं सीधे अपने कमरे की तरफ जा रहा था।तभी पता नहीं शायद उन लड़कियों में शर्त लगी होगी कि आज इसे कौन छेड़ सकता है।तो उसमें से एक हॉट लड़की मेरे गले से लगी और मुझसे कहने लगी- किस मी. मैं तुझे दिखाता हूँ।पुनीत बैठ गया और अपने मोबाइल में एक वीडियो चालू करके मुनिया को फ़ोन दे दिया।उस वीडियो में एक लड़की एकदम नंगी खड़ी एक आदमी की मालिश कर रही थी जो एकदम नंगा था। पहले तो मुनिया को अजीब सा लगा.

क्या देसी इंडियन मसाला आंटीस, हाउसवाइव्स और ऐसे ही सेक्स करवाने वाली सभी देसी मुर्गियों से ज्यादा होती है?यही सब सोचकर. मैंने वाल-डांस की धुन बजाई और तृषा को बांहों में ले स्टेप्स मिलाने लगा।यह डांस तृषा ने ही मुझे सिखाया था, एक-दूसरे की बांहों में बाँहें डाले. मैं तुम्हें कभी कॉन्टेक्ट नहीं करूँगा।वो इतना सुनते ही ज़ोर से मेरे गले लग गई और हम दोनों ने गहरा चुम्बन लिया एक-दूसरे के होंठों को मुँह में ले लिया और जीभ को चाटने लगे।फिर मैं वहाँ से चला गया.

सट्टा मटका बीएफ

आज का शॉट सच में जबरदस्त था।मैं- कमाल की अदाकारा तो आप हैं। कब इस दिल में खंज़र उतार देती हैं और कब इस पर मरहम लगाती हैं. मैंने उसे जोर से बिस्तर में पटक दिया और उसके ऊपर चढ़ गया।अब मैंने अपने होंठ उसके होंठों से चिपका दिए और उसे चुम्बन करने लगा। मैं उसकी गर्दन पे किस करने लगा. तो वो रो रही थी, मम्मी डांट कर बाहर चली गईं और रीना भी चली गई।मैं अपने दिल में यह सोच रहा था कि मुझसे गलती हो गई है.

जिसकी वजह से उसकी गाण्ड चिकनी हो गई।तेल और उसकी चूत से टपकते पानी से लंड को अन्दर जाने में कोई दिक्कत नहीं हुई।एक-दो झटकों में ही लंड आसानी से अन्दर चला गया।मेरा मोटा लौड़ा अन्दर जाने से दर्द के मारे उसकी चीख निकल गई। मैं उसके मुँह पर हाथ रख कर तेज़ी से धक्के मारता चला गया।थोड़ी देर बाद जब लौड़ा सैट हो गया तो उसे भी मजा आने लगा।जैसे-जैसे वो ‘आह.

कल से हम लोगों के टेस्ट हैं तो आज पूरा दिन मैं टीना के साथ स्टडी करूँगी।तो उसकी माँ ने कहा- तो ठीक है.

और अपने दाने को मसलने लगी। थोड़ी ऊँगली भी चूत में अन्दर डाली और हाथ से खुद को शांत किया।वासना की आग को कुछ हद तक कुछ पलों के लिए शांत किया. मैंने उसे अपने मुँह में भरा और चूसने लगा।फिर वो उठी और अलमारी में से एक जैल और कन्डोम ले आई।उसने मेरे लौड़े को मुँह से चूसा और उस पर कन्डोम लगा दिया। फिर उसने थोड़ा जैल अपनी गाण्ड पर और कन्डोम पर लगा दिया. सेक्सी किन्नर डांसतो मेन-गेट के बगल से सीढ़ियों से होते हुए सीधे अपने कमरे में चली गई।शायद भैया-भाभी को पता नहीं चला कि मैं आ गई हूँ।मैं रोज़ की तरह जाल के पास गई.

अब क्या मुँह भी फाड़ोगे?बोलते हुए मेरा पूरा लण्ड मजे से लेकर मुँह में चूसने लगी।ऐसा करते-करते मैंने उसके मुँह में ही अपना माल झाड़ दिया. जिनको सुन कर पद्मा का रंग लाल होने लगा।मनाली पहुँच कर अनिल बोला- आशु तुम साथ वाले कमरे में ही सो जाओ और मैं अभी अपनी बीवी की चूत चुदाई के मज़े लेता हूँ।उसकी बात सुन कर पद्मा शर्म से लाल हो उठी।शराब पी होने की वजह से अनिल का लंड जो थोड़ा बहुत खड़ा होता था. मेरी तरफ ऑफिस में घूर-घूर कर देखने वाले को आज भगवान ने मेरे ही सामने बिना कपड़ों का खड़ा कर दिया…नयना- हा हा हा हा.

फिर उसने मुझे ‘आई लव यू’ कह दिया और मैं इतना खुश हुआ कि क्या बताऊँ यारों कि जैसे मुझे कोई परी मिल गई हो. इन सभी की अच्छे से मसाज करनी है।मैं मन ही मन सोचने लगा कि चलो एक साथ 12000 कमाने का मौका मिला। मैंने सिर हिला कर हामी भर दी और ये पता किया कि पहले किसकी करनी है।तो एक लड़की ने जवाब दिया- एक साथ तीनों की करनी है और तीनों एक कमरे की तरफ चल दीं।सुमन ने मुझसे कहा- देखो राज ये जैसे कहें.

??मैंने उन्हें झट से बिस्तर पर पटका और उनकी टाँगें खोल दीं। अब अपना लंड मैंने उनकी फुद्दी पर लगाया और एक झटका मार कर अपना खड़ा लंड अन्दर डाल दिया और जोर-जोर से धक्के लगाने लगा।वो ‘आह.

तो भाभी को आया देख कर मैंने उन्हें चाय के लिए पूछा- भाभी मैं चाय बना रहा हूँ आप पीएंगी?पहले तो वो मना करने लगी. लेकिन क्लीवेज या चूचियां नज़र नहीं आती थीं।ज़ाहिर है कि अभी वो इतनी बोल्ड नहीं हुई थी कि अपनी चूचियों को मेरी तरह से शो करती. तो सोना ही बाकी है।उनकी आवाज़ साफ़ सुनाई दे रही थी क्योंकि मेरे कमरे के पास ही उनका बाथरूम था और उसका 1 गेट मेरे कमरे में भी खुलता था।तो मैंने पूछा- आप इसी रूम में सोती हो क्या?वो बोली- हाँ.

सेक्सी ब्लूटूथ सेक्सी सेक्सी यह सुनते ही वो मेरी तरफ आईं और बोलीं- इतना सा कहने में इतने दिन लगा दिए?फिर मैंने उनको अपनी गोद में उठा कर बिस्तर पर गिरा लिया और फिर मैंने उनको नंगा कर दिया. मैंने कहा- चल ठीक है।तब तक मोनिका भी बाहर आ गई, फिर हम दोनों ने साथ में खाना खाया।अब तक उर्मिला भी जा चुकी थी। जैसे ही मैं चलने के लिए कपड़े बदलकर बाथरूम से बाहर आया.

पर एक सुनसान रास्ते पर एक लड़की को खड़े देख कर उसे लिफ्ट देने का विचार आया और मैं मुड़ कर वापस उसके पास आ गया।मैंने पूछा- कहाँ जाना है?उसने उसकी जाने वाली जगह का नाम बताया. फिर क्या मैंने अपना शर्ट निकाला और बिस्तर पर उसको पकड़ कर लेट गया। उसके होंठों को किस करने लगा। उसके होंठ थोड़े छोटे थे. उसकी बातें मुझे गुस्सा दिला रही थीं।मैंने उसके बाल पकड़ अपने पास खींचा- जान लेने का कोई नया अंदाज़ है क्या यह?तृषा- इस्स्स्स.

ब्लू सेक्सी पिक्चर दिखाइए हिंदी में

तृषा मुझसे लिपट गई, थोड़ी देर रुक के वो मुस्कुरा के मुझसे अलग हो गई। पता नहीं आज उसकी आँखें मुझसे बहुत सी बातें कहना चाह रही थीं. मेरी मम्मी तृषा के पापा को ‘भाई-साहब’ कह कर ही बुलाती थीं।‘अब तो हमें अच्छी सी पार्टी चाहिए।’आंटी- अरे इसके लिए भी कहना होगा क्या. उसे लेकर मेरे फ्लैट पर आ जाओ।तब तक उर्मिला नाश्ता बना चुकी थी, मैंने उससे कहा- मोनिका और उसके घर वाले आ रहे हैं। हम सब बाहर जाएंगे। मैं तुम्हें शाम को फोन करूँगा.

मुझे पता ही न चला।मेरे सीधे लेटते ही कोई मेरे बहुत करीब आया और मेरे होंठों में अपने होंठ रखकर मेरे सीने से अपने सीने को रगड़ते हुए चूसने लगा। इतना हुआ नहीं कि मैं कुछ होश में आया और बंद आँखों से ही मैंने सोचा कि जरूर ये माया ही होगी. पर मैंने बाद में उर्मिला से पूछा तो उसने मुझे बताया- हाँ मैं पैसा लेती हूँ।उस दिन से फिर मुझे भी मेरा हिस्सा मिलने लगा और धीरे-धीरे मैंने खुद ही अपनी ग्राहकों को ढूँढना शुरू कर दिया।मोनिका मेरे बच्चे की माँ बन चुकी है और अब भी वो मुझसे मस्ती से चुदती है।डउसे भी मालूम चल चुका है कि मैं एक जिगोलो बन गया हूँ.

कमर और पीठ को लगातार सहला रहे थे। उसका मखमली बदन ऐसा लग रहा था कि जैसे मैं कोई अप्सरा के साथ हूँ।फिर उसने मुझे बिस्तर पर लिटा दिया और मेरा लंड मुँह में भर लिया। वो जोरों से उसको लॉलीपॉप की तरह चूस रही थी.

आज मेरे घर का माल मेरे हाथ में था। मैंने मुँह से थूक निकाला और उसकी बुर के होंठों को पूरा गीला कर दिया और मेरा सुपारा उसकी मासूम कली के मुँह में लगा कर धीरे से ज़ोर लगाया. जिसमें उसके जिस्म की निचले हिस्से की पूरी गोलाइयां उसके भाई की नज़रों के सामने आ जातीं। काफ़ी बार मैंने उससे कहा. उतना मुझे भी पता चल गया था।वो आकर मेरे सामने बैठ गई और मैं उसे देख रहा था और देखते-देखते मेरा फिर से खड़ा हो गया।जब मेरा लंड खड़ा हुआ.

मैंने पूरा गोटियों तक लंड उसके मुँह में डाल दिया और अन्दर-बाहर करने लगा।थोड़ी देर बाद मेरा सफेद पानी निकल गया. पुनीत और रॉनी की नजरें आपस में मिलीं और एक इशारे में दोनों ने बात की।उस औरत को पीछे की सीट पर लेटा दिया. इसके साथ ही वापस एक तगड़ा झटका मारा तो मेरा आधा लंड उसकी बुर में काफी अन्दर तक जा चुका था।सोना बहुत ही तेज स्वर में उन्न्न.

कुछ देर बाद रोमा को कुछ याद आया तो वो झटके से बैठ गई।नीरज- क्या हुआ मेरी जान?रोमा- ये अपने क्या कर दिया.

सेक्सी बीएफ हिंदी में एचडी वीडियो: कमरे में प्रवेश करते ही मैं उस पर टूट पड़ा। उसको चुम्बन करने लगा और वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी।एक लंबी सी ‘फ्रेंच-किस’ करते हुए हम बिस्तर पर ढेर हो गए।मैं उसके मम्मों को दबाने लगा और वो मेरे लौड़े को पैन्ट के ऊपर से सहलाने लगी। फिर मैंने उसकी कमीज़ उतार दी और सलवार भी निकाल कर फेंक दी। अब वो सिर्फ़ ब्रा और पैन्टी में थी. और यहाँ सभी तरह की चीजें उपलब्ध हैं।तो अब मैं बस में बैठ कर उधर जा रहा था। मैंने उसको फोन किया तो उसने कहा- मैं 4:00 बजे तक फ्री हूँ.

वो भी मेरा साथ पूरा दे रही थी। आज उन्होंने मेरा हाथ पकड़ कर खुद अपने मम्मों पर रख कर सहलवाने लगी।मेरा लंड रॉड की तरह हो गया था, मुझे लौड़े की अकड़न बहुत परेशानी हो रही थी. लेकिन आज मुझे एक अलग ही मज़ा आ रहा था। मुझे उसकी मखमली टाँग को सहलाने का मौका जो मिल गया था।फिर मैंने अपने ख्यालों को झटका और उसकी टाँग पर मूव लगाने लगी।थोड़ी ही देर में फैजान गरम पानी की रबर की बोतल ले आया और मेज पर रख दी।अब वो दूसरी सोफे पर बैठ कर दोबारा से टीवी देखने लगा. मैं समझ गया था कि दीदी वर्जिन है और अपनी ही सग़ी बहन की सील तोड़ने में बहुत मज़ा आएगा।दीदी अब गरम हो चुकी थी.

नहीं तो मैं आज मर ही जाती।तो मैंने कहा- मैं अभी झड़ा नहीं हूँ और नहीं झड़ने के लिए ही लंड निकाल लिया है।अब मैंने एक सिगरेट जला ली और मौसी के मुँह के पास खड़ा होकर लंबे कश लेने लगा।मैंने मौसी से कहा- लो डार्लिंग.

मैंने कमरे के पर्दे लगा रखे थे और सिर्फ़ एक लाल रंग का बल्ब जला रखा था।मैंने पंखे वाले हुक से एक रस्सी टाँग रखी थी।भाभी- यह रस्सी किस लिए राहुल?मैं- अभी बताता हूँ भाभी. मुझे उसके मम्मों की रगड़ से बड़ा सुख मिल रहा था और मेरा लवड़ा खड़ा होने लगा था।फिर कुछ देर बाद हम क्लिनिक से वापस आ गए। जब घर पहुँचे. पर ऐसे तड़पोगे तो तृषा भी बेचैन ही रहेगी।वो मेरे बाल सहलाने लगी, मैं धीरे-धीरे सो गया।सुबह निशा की आवाज़ से मेरी नींद खुली- सोते ही रहोगे क्या? सुबह के दस बजने जा रहे हैं।मैं अंगड़ाई लेता हुआ उठा और फ्रेश होने चला गया। मैं फ्रेश होकर जब वापिस आया तो देखा.