नैनीताल की सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,हेलो गूगल आई लव यू

तस्वीर का शीर्षक ,

चोदी चोदा एचडी वीडियो: नैनीताल की सेक्सी बीएफ, मैंने भाभी से पूछा- भाभी, दर्द तो नहीं होगा?भाभी कहने लगी- शुरु शुरु में थोड़ा बहुत हो तो सह लेना, लेकिन उसके बाद आनंद ही आनंद होगा.

चीन का सेक्स दिखाएं

वह समझ गया कि वो टेस्ट में फेल हो गया है; इसलिए शर्मिंदा हो गया था. मधु तृषा वायरल वीडियोड्राइवर को बुला कर उसे चाय दी और मैं उसके साथ बैठ कर चाय पीने लगी।ड्राइवर- यार आज तो मज़ा आ गया तुम्हारी चूत मार के! तुमको कैसा लगा?मैं- मुझे भी बहुत मज़ा आया.

शीला ने राजेश को कहा कि अगर राजेश को कोरोना के डर के कारण कोई आपत्ति न हो तो शीला रोज की तरह उसका काम कर सकती है. बड़े बड़े स्तनमैं- तो क्या हुआ, क्या शादीशुदा गर्लफ्रेंड नहीं हो सकती!भाभी- किसी बिना शादीशुदा को पटाओ … हा हा हा हा … वैसे भी रजत को पता चलेगा तो जान ले लेंगे … हा हा हा हा.

फिर उसने मुझे उठाया और बिस्तर पर नीचे पैर लटककर बैठा दिया और बोला- मेरी पेन्ट उतारो.नैनीताल की सेक्सी बीएफ: अगली सुबह मिलने की जगह तय हुई उधर में अपनी होंडा कार लेकर पहुंच गया.

रमेश- रति… रति क्या हुआ? तुम ग़ुस्सा क्यों हो?रति- जाओ, जाकर अपना बिजनेस देखो.अब प्रिंसीपल ने मेरे कंधे पर हाथ रखते हुए बोले- तुम परेशान मत होना, मैं तुमको तब तक समझाऊंगा, जब तक तुमको समझ में आ नहीं जाएगा.

नई पिक्चर डाउनलोड - नैनीताल की सेक्सी बीएफ

चैट सेशन शुरू करने से पहले मैंने बेडरूम के पर्दे गिरा दिये और मेन गेट बंद कर दिया ताकि मेरे मजे में कोई खलल न पड़े और मैं अपने कामुक क्षणों का पूरा मजा ले सकूं और पकड़ा भी न जाऊं.मेरी पहले की सारी कहानियां पढ़ पढ़ कर जिसे जो मिला, जिसका मिला वही घुसा लिया.

इसके साथ ही मैंने नेहा की नाइटी को थोड़ा आगे से उठाकर अपने दोनों हाथों से उसकी जांघों को पकड़ लिया और एक हाथ से उसकी चिकनी चूत को सहलाने लगा. नैनीताल की सेक्सी बीएफ खुद मेरा और सलहज का सामान उठाने के लिए मैंने बस के स्टाफ को बोला कि यह सामान लेकर हमारे साथ आओ.

फिर जिस दिन मेरे शौहर ने फ़्लाइट पकड़ी, उसके अगले ही दिन का हमने प्रोग्राम फिक्स कर लिया.

नैनीताल की सेक्सी बीएफ?

मैंने नेहा को थोड़ा स्लैब पर ही झुकाया और पीछे से लण्ड को चूत में ठोक दिया. वैभव- तो क्या इसका पति नामर्द था?इस बारे सुरेश से पहले अनीता बोल पड़ी- तुमको मेरे से मजे लेना है या शादी बनानी है?इतनी पूछताछ तो रेड में पकड़ने पर पुलिस भी नहीं करती. ”ओ मेरे प्यारे जीजू …” साली जी के मुंह से भी निकला और वो मुझसे अचानक जोर से, पूरी ताकत से लिपट गयी और उसने अपनी कमर को चार पांच बार जोर जोर से उछाला और अपनी चूत मुझसे रगड़ने लगी फिर उसने अपनी टांगें मेरी कमर में लपेट दीं.

उसकी मादक कराहें सुनकर मैंने पूरे जोश से एक जोरका झटका मार दिया और एक ही धक्के में लंड आधे से ज्यादा चुत में घुस गया. अब जब मैं पेशेवर रंडी का काम कमीने कर रही हूँ, तो खुद को रंडी कहने में कहने में कैसी शर्म. ये किसी किसी में अपवाद होता है। उसकी बुर को मैंने ऊपर से नीचे तक चाटा.

उसने वो जैली निकाली और अपनी दोनों हथेलियों में लेकर मेरे लंड के सामने आकर बैठ गई. पर उसके ज़ोर से मेरे लण्ड को ही दिशा मिली जिससे वो जरा अंदर को जगह बनाता दिखा।किट्टू समझ गयी कि उसकी सब मेहनत व्यर्थ है और मैं ऐसे नहीं मानने वाला. मेरी भतीजी नीचे को सरकी और मेरी चादर के अंदर घुस कर मेरा लंड अपने मुंह में ले लिया।अब कहाँ तो साली भोंसड़ी देखने को नहीं मिलती थी.

मैंने उसकी तरफ सवालिया निगाहों से देखा, तो बोली- सब्र रखो, आज लंड को खा ही जाऊंगी. वो बोली- वैसे नहीं बता सकता क्या?मैंने कहा- वो बात कहने के लिए गर्लफ्रेंड भी तो होनी चाहिए.

मैं पूरी ताकत से उसकी चूत में धक्के मारते मारते उसकी चूत के अन्दर ही झड़ गया.

बहुत बार सोचा कि किसी के साथ सेक्स कर लूं, पर डर लगता है कि कहीं घर में किसी को पता ना चल जाए.

मैं उनके सामने आकर अपने पैरों को फैला कर झुक झुक कर उनको अपनी मखमली गांड दिखाने लगी. अभी इससे पहले जो चुदाई उन्होंने मेरी की थी वो बहुत ही दर्द देने वाली थी जिसको मैं बर्दाश्त नहीं कर पायी थी. लेकिन जो भी हो फ़ायदा तो मेरा ही था। मेरी सुहागरात मनाने की प्रेक्टिस जो होने वाली थी। तो लीजिये अब हमारी चुदाई की दस्तान जरा विस्तार से सुनिए-फिर क्या था, मैंने उसे गले लगा लिया और बेड पर लिटा दिया। फिर अपने होंठों को उसके सुलगते हुए होंठों पर रख दिया तो वो मुझसे लिपट गई। फिर तो जैसे तूफ़ान आ गया, पता ही नहीं चला कि हमारे कपड़े कब हमारे जिस्मों से अलग हो गये.

शक होता है तो मुझे कुछ नहीं लेना लेकिन इसकी मेरे सामने मुंह खोलने की हिम्मत नहीं है. जैसे जैसे मैं उसके जिस्म का निरीक्षण कर रहा था वैसे वैसे मेरी मां के बारे में मेरे मन में शरारत भरे ख्लया आ रहे थे. थोड़ी देर बाद मैंने मनजीत से पूछा- अब दर्द तो नहीं हो रहा?नहीं, दर्द नहीं हो रहा लेकिन मेरी टांगें दुखने लगी हैं, थोड़ी देर सीधा लेट जाने दो.

उसने एक ब्लैक पैंटी पहनी हुई थी जिसकी पट्टी उसकी गांड की पहाड़ियों के बीच फंसी हुई थी.

मैं- भाभी मेरे मन में बहुत सारी बातें होती हैं, जो मैं कह नहीं पाता हूँ. मौका देखकर मैंने शांति को एक हजार रुपये दिये और कहा- ये पैसे तुम्हारे लिए हैं, सोमवार को काम पर आना तो सज संवर कर आना. मैंने चूत से जीभ निकाली और भाभी की चूचियों पर गांड टिकाकर लंड उसके मुंह के सामने कर दिया.

वैसे नैना ये बात सुन कर खुश थी और बोल रही थी कि जब रब ही तुम्हें दूर नहीं भेजना चाहता है. मैंने फिर से अपने बूब्स को दबाया और विक्की ने मेरी चूत को चाटना शुरू कर दिया. गाड़ी रुकते ही पायल ने उस आदमी से कहा- ये हमारे स्पेशल गेस्ट हैं, इन्हें दूल्हे जी से मिलवा दीजिए और इनका ख्याल रखिएगा.

मुझे उसकी चूत के टच होने का अहसास अपने लंड पर हो रहा था जो मुझे पागल कर रहा था.

एक बार हम दोनों कैंटीन में थे तो मैंने उसे मेरे लिए खाना लाने को कहा. किसी मशीन की तरह से ही शमा ने शाही सर के मुँह में फंसा 200 का नोट अपने मुँह में पकड़ लिया.

नैनीताल की सेक्सी बीएफ उसने रिमोट से गाने सिलेक्ट करना शुरू कर दिए और मैंने उसकी पसंद के गाने सुने. मैं अपनी जीभ उसकी चूत से निकाल कर उसकी चूत के उपरी लाल रंग के भाग और जी स्पॉट तक रगड़ता और चूत और गांड के बीच के भाग तक जीभ को घुमाता और वहां तक अपनी जीभ से उसकी चूत गीली कर देता.

नैनीताल की सेक्सी बीएफ नैन्सी ने फटाफट चूत साफ़ करी और फ्लश चला दिया और गाउन डाल कर बाहर आ गयी. थोड़ी देर में ही रेगिस्तान के रेतीले समुद्र में एक तेज धारा चूत से बहने लगी और वो झड़ने लगी.

मेरे इतना बोलते ही उसने मेरी मिडी को खींचा और मेरी चुचियों को बाहर निकाल कर चूसने लगा.

न्यू सेक्सी वीडियो पोर्न

चूँकि सरोज का कद मुझसे काफी छोटा था इसलिए लण्ड चूत के क्लिटोरियस को बुरी तरह से रगड़ रहा था. तुम्हारे जैसे मस्त माल को मैं अपने जीवन में कभी चोद ही नहीं सकता, इसी लिए तुम्हारे ये सेक्सी से मम्मों को देख कर लंड हिला कर खुद को शांत कर लेता हूं. वो एक दम से बोली- हाय दैया! मुझे शराब पिलाओगे? मतलब कितना और बिगाड़ोगे मुझे?मैंने उसे बांहों में जकड़ लिया और उसे छेड़ते हुए कहा- मज़ा तो बिगड़ने में ही है मेरी जान … और फिर तुम ही तो कह रही थी कुछ नया करने के लिए!इस पर वो थोड़ा झुंझलाते हुए बोली- नहीं ये नहीं, नये का मतलब ये नहीं था कि तुम शराब पिला दोगे! मैं शराब नहीं पी सकती.

भाभी ने खीरा अपने हाथ में लिया और तेजी से 10-12 बार आगे पीछे करते हुए और जोर जोर से आहें भरती रही. जीजू ऐसे क्यों कह रहे हो; इस जिस्म के मालिक हो अब आप जैसे चाहो वैसे भोग लो मुझे पर अपने मन में कोई इच्छा शेष मत रखना!” साली जी भाव विव्हल होकर मेरे सीने से लग कर बोली. पायल और आंचल का मेरे प्रति खुले व्यवहार का कारण भी अब स्पष्ट हो गया था.

उसने अपने हाथ ऊपर उठाकर आकाश के घुंघराले बालों को पीछे से पकड़ कर उसको अपनी ओर झुका लिया.

नेहा ने जरूर अपना रस त्यागा था, पर चुदाई का समापन नहीं था … ये तो शुरूआत थी. इस पर गुड्डी रानी ने झल्ला कर कहा- हरामज़ादे क्या मुझे उछाल के टॉस करेगा या बेबी को?मैं हँसते हुए बोला- रानी तुम दोनों को तो मैं लौड़े पर उछालूंगा जान … सुन … मैं तुम दोनों की तरफ पीठ करके खड़ा हो जाता हूँ. राजेश ने नीचे बहते थूक का सहारा लेकर अपनी एक उंगली शीला की गांड की दरार में घुसा दी.

रवीना ने कविता की चूत पर टॉवल लगा दिया और उससे कहा कि वो थोड़ा आराम करे. एक मेरे गाल को चूम रहा था और दूसरा मेरी गर्दन और मेरे लिप्स को अपने मुंह में लेकर चूसने की कोशिश कर रहा था। मैं उन दोनों के बीच में जैसे छटपटा रही थी।आज एक भारतीय नारी एक कमरे में दो मर्दों के बीच में मजा करने वाली थी। इस तरह की इच्छाएं हर किसी के मन में होती हैं. मगर एक दिन जब मैं शाम को छत पर टहल रही थी तो मैंने गौर किया कि एक लड़का अध्यापक जी के घर के सामने अपनी बाइक पर बैठा मुझे ही देख रहा था।पहले तो मैंने ध्यान नहीं दिया मगर वो बस मुझे ही देखे जा रहा था। कई बार वो मुझे देख कर मुस्कुरा भी रहा था।फिर कुछ देर बाद मैं अंदर चली आई।इसके बाद तो मैं रोज ही उसे वही देखती.

रमेश ने हल्का धक्का लगाया और आधा लंड उसकी बीवी की चूत के अंदर घुस गया. हॉट सेक्स चुदाई स्टोरी के पिछले भागजवानी की अधूरी प्यास- 1में आप लोगों ने पढ़ा कि कैसे मैंने अपने जिस्म की हवस को शांत करने के लिए पहले सचिन से दोस्ती की.

15 बजे रमेश ने घड़ी की ओर देख कर कहा- यार, वह रंडी अभी तक आयी नहीं?रवि- आ जायेगी, वैसे भी सब्र का फल मीठा होता है।रमेश- ठीक ही कहा तूने। अच्छा तब तक मैं बाथरूम से फ्रेश हो कर आता हूँ।रमेश बाथरूम में घुस गया. लगभग तीन मिनट बाद भाभी ने मुझे अपने हाथ से थोड़ा सा धकाते हुए साइड में लिटा दिया और अपना सिर मेरी छाती पर टिका लिया. करीब एक घंटे बाद में फिर से उन्हें बताने गया कि अंकल जी का फोन आया है और वह कुशल मंगल चंडीगढ़ पहुंच गए हैं.

मैं राकेश अपने दोस्त रमेश की कहानी का तीसरा भाग आपके लिए लेकर आया हूं.

मैं मज़ाक करते हुए बोली- इतनी बड़ी क्यों ले आए?मेरा भाई भी मज़ाक करते हुए बोला- सही बोल रही हो दी, कुछ ज्यादा ही बड़ा साइज़ आ गया है. निष्ठा अपनी आंखें मूंदें चुपचाप मेरा लंड अपने दोनों हाथों से दबाये लेटी थी. बेबी रानी चिढ़ के बोली- मुझे नहीं करनी किसी से बात … इसको चुदना हो चुदे, नहीं तो साली माँ चुदवाये … तू छोड़ इस रंडी को.

उसकी मादक कराहें सुनकर मैंने पूरे जोश से एक जोरका झटका मार दिया और एक ही धक्के में लंड आधे से ज्यादा चुत में घुस गया. वो जांघों में मेरी गर्दन भींच कर गांड उठा उठा कर मेरे मुँह पर हल्के हल्के झटके देने लगी.

बस इसके बाद भार्गव ने कार इतनी तेज भगाई कि उसने जल्दी जल्दी में ऊबड़- खाबड़ वाला रास्ता पकड़ लिया. मौका देखकर मैंने शांति को एक हजार रुपये दिये और कहा- ये पैसे तुम्हारे लिए हैं, सोमवार को काम पर आना तो सज संवर कर आना. उसने मेरे गालों पर पप्पी ली और कहा- हैंडसम लग रहे हो … हमेशा की तरह.

മല്ലു ചേച്ചി

मैं करीब एक घंटा उन दोनों के साथ रहा और दोनों लोग मेरे बहुत अच्छे दोस्त बन गए.

मैं- अगर तुमको अपनी नौकरी जाने का इतना ही डर है, तो ऐसा काम ही करते ही क्यों हो?चपरासी मेरी ब्रा में कसे मेरे मम्मों को घूरता हुआ बोला- मैं क्या करूं … मेरी बीवी घर पर कुछ करने नहीं देती और बाहर मुझ जैसे गरीब से कौन लौंडिया चुदेगी. लेकिन मुझसे सब्र ही नहीं हुआ और मैं चार मिनट होते ही खड़ा होकर कमरे में चला गया. मगर मैं उसे पूरा मजा देना चाहता था, इसलिए मैं खुद को काबू में किये हुए था.

मेरी चूत बिल्कुल गीली हो चुकी थी जिससे मेरी सलवार का चूत के ऊपर का हिस्सा भी गीला हो गया था. उस किताब पर एक नंगी लड़की की फोटो छपी थी और अंदर भी काफी सारी फोटो थी. नंगी नंगी ब्लू फिल्ममैं रोजाना के सेक्स और अनिद्रा से पहले ही थका हुआ था, सो बिस्तर पर जाते ही ऐसी नींद पड़ी कि दूसरे दिन सुबह दस बजे ही नींद खुली.

अब मेरे हाथ उसकी पैंटी की ओर चले तो उसके हाथ मेरी कमर पर मेरे अंडरवियर की ओर बढ़े. मैंने भी संकोच छोड़ कर डांस करना शुरू कर दिया … क्योंकि शादी में नाचने का मैं अभ्यस्त था.

अब लड़कों का क्या है … पीजी में तो हॉस्टल से भी ज्यादा मस्ती होती है. अब गीत ने मेरा लंड छोड़ कर संजय का लौड़ा पकड़ लिया और नेहा उठ कर घूमी और मेरी तरफ़ आ गयी. रानी के मुंह पर एक मुस्कान सी दीखने लगी और बुर में फिर से रस बहने लगा जिससे लंड को भी मज़ा आने लगा.

अगले दिन मैं स्कूल गयी और मुझे स्कूल के एक अलग कमरे में ले जाकर फिर से टीचर ने चोदा. मैंने उस अंधेरे में उसका हाथ पकड़ा और संभल कर चलते हुए अपने बेडरूम में आ गया. मुकेश कुछ देर बाद मांजी को लेकर जाने वाला था … लेकिन मैंने उसे धीरे से अपना प्लान बताकर कहा कि डॉक्टर मनोज गुप्ता से मेरी पहचान है, तो मैं उनको फोन कर देता हूँ.

मैंने गहरी सांसें लेना शुरू किया और अपने लंड को छेड़ना बंद कर दिया.

फिर मैंने नेहा से कहा- नेहा, तू साली पाजामा ही पहन कर बैठ गयी? जीन्स या कोई और ड्रेस पहन लेती?वो हँसते हुए बोली- कुछ भी पहन लो, क्या फर्क पड़ता है. ऐसे भी किसी खूबसूरत बगीचे में किसी एक फूल की प्रशंसा अच्छी बात नहीं, सारे फूलों की महक एक साथ मिलकर ही वादियों मदहोश कर रही है.

मैंने आगे टुनयाया- बोलो न डार्लिंग … किधर आग लगी है?वो मुझसे वासना भरी आंखों से घूरते हुए बोली- मेरी चुत में आग लगी है … अब मुझे जल्दी से तुम्हारा लंड लेना है. शीला ने पूछ लिया- क्या देख रहे हैं साब?तो राजेश सकपका के बोला- तुम्हारे तलुवे बहुत गंदे हो रहे हैं. फ्री देसी सेक्स गर्ल स्टोरी में पढ़ें कि मैं अपनी कामवाली की जवान बेटी को पटाने के चक्कर में उसे दाने पे दाना डाले जा रहा था.

उसने अपने मुँह से एक बार मेरे लंड को झाड़ कर अपनी चुत की शामत बुला ली थी. पर तुम्हारी शादी है, तुम सोच लो कि क्या करना है और क्या होगा।खुशी ने फिर कहा- तुम सचमुच बुद्धू हो, अरे यार तुम्हारा लिंग मुझे अपने लिए नहीं अपनी सहेलियों के लिए चाहिए. यहां तक कि उसहैदराबादी वेबकैम मॉडल वानीके साथ एक दो बार चैट करने के बाद मैं अपनी वाइफ के साथ भी अच्छा सेक्स करने लगा हूं.

नैनीताल की सेक्सी बीएफ मतलब हम मोहतरमा को छूकर देखना चाहें, तो ये आपकी दोस्त कोई ऐतराज तो नहीं करेंगी. फिर मैं सोचने लगा कि हो सकता है पायल मुझसे सिर्फ जिस्मानी संबंध बनाना चाहती हो और मैं कुछ ज्यादा ही सोच रहा होऊं.

सेक्सी दिखाइए जल्दी से

कभी निप्पल चूसती, तो कभी होंठ … तो कभी कान की लौ चूमने लगती, तो कभी गर्दन पर गर्म सांस छोड़ते हुए होंठ फेरने लगती. जैसे ही उसने हाथ उठाये तो रवि ने उसे रोक लिया और बोला- रुको! तुम यह ब्रा और पैंटी अब नहीं पहन सकती।रिया ने आश्चर्य से पूछा- क्यूं नहीं पहन सकती?रवि- क्योंकि ये ब्रा और पैंटी अब मेरे दोस्त रमेश की हो गयी हैं. मैंने उसकी रजामंदी देखी, तो मेरा हाथ सीधा उसकी टांगों के बीच में जाकर चुत पर सट गया.

बाथरूम की पीली लाइट्स की रोशनी में उसकी दूधिया त्वचा सोने के जैसी चमक उठी. मैंने उसके कंधे पर सर रख दिया और रोना शुरू कर दिया और रोते हुए उसे सारी झूठी कहानी बता दी. साड़ी वाली भाभी कावो भी बोली- आह रणदीप मां के लौड़े चोद मुझे … भोसड़ी के मैं तुम्ह़ारी ही रांड हूँ.

लेकिन आपने कभी बताया नहीं कि कभी इन्होंने आपकी भी मारी थी?सलीम- हां.

इसलिए मैंने रंजु की कमसिन चूत से टपकता वीर्य लेकर भाभी की गांड के छेद पर लगा एक ज़ोर का धक्का लगा दिया. उसने लंड को मुट्ठी बांध कर पकड़ा और मेरी आंखों में देखकर कहा- सच में संदीप … तुम और तुम्हारे लंड पर मैं अपना पूरा जीवन वार दूँ … तब भी कम है.

फिर मैंने एक हाथ से उसके चूचों को आज़ाद किया और चूचों को सहलाने लगा। उसके निप्पलों को बारी बारी मसलने लगा और दूसरे हाथ से बालों को सहलाते हुए लगातार उसके होंठों को अपने होंठों में जकड़ने की कोशिश करने लगा. लेकिन एक बात तो सच है कि तुम्हारा अनुभवी प्यार किसी का भी दिल जीत सकता है. आगे भाभी की चुदाई की कहानी कैसे हुई, पूरे विस्तार से भाभी सेक्स का वर्णन करूंगा.

मेघा के पेज पर विजिट करने के लिए ऊपर उसकी असली फोटो पर क्लिक करें और उसके साथ मज़ा करें।.

मैंने गीत की चूचियों पर किस करना शुरू कर दिया और कुछ देर उसकी चूचियां चूसने के बाद मैं भी उसकी चूत चुसाई पर आ गया. मैं सोफे पर बैठकर उन्हें पीछे से देख रहा था, उनके चूतड़ मस्त हिल रहे थे और वो काम किए जा रही थीं. उसके चूतड़ हल्के हल्के से थिरकने लगे थे, जैसे लंड चूत में गया हुआ हो और चूत उस लंड को अपनी समस्त गहराई तक भीतर घुसा लेना चाहती हो.

किसिंग पिकउसकी कामुक सीत्कारें मुझे मेरे लंड को जोर से रगड़ने पर मजबूर कर रही थीं. उसने लंड चूसते हुए मेरी गोलियों को दबाया और लंड को चुंबन देकर वहां से उठ गई.

ऐश्वर्या राय porn pic

उन्होंने अपने लंड को निक्कर की ऊपर वाली इलास्टिक से दबा रखा था, लेकिन कब तक छुपाते. इतने में मेरे भाई ने मेरी बगल में बैठते हुए मेरे हाथ में एक पैकेट थमा दिया. अरे यार ये कसम वसम मत दिलाया करो, अब बताना भी तो आसान नहीं कैसे बताऊं?” मैंने टालते हुए कहा.

यह क्रिया मैं कई रानियों के संग बहुत बार कर चुका था इसलिए लंड बुर में घुसे घुसे ही हम पलट गए. उसे बेड पर गिरा दिया मैंने और खुद पूरा नंगा होकर उसे बांहों में लेकर लेट गया और मस्ती करने लगा. ये सब खुलासा होने के बाद मेरा भाई और राजीव आपस में बिल्कुल फ्रेंक हो चुके थे.

थोड़ी देर के बाद उसने मुझे ऊपर आने के लिए कहा। मैं नीचे लेटा गया और वो मेरे लंड के ऊपर बैठ कर झटके लगाने लगी और मुस्करा कर बोली- मुझे इस पोज में बहुत मजा आता है क्योंकि ऐसा लगता है जैसे मैं तुम्हें चोद रही हूं. सलीम भाई मेरी बात पर हंसने लगे और मुझे माशूक की नजरों से देखने लगे. आज चांद भी प्रीति के हुस्न को देख कर जल रहा था।चाँदी जैसी चूत है उसकी, उस पर सोने जैसे बाल,एक प्रीति ही धनवान है यारो, बाकी सब कंगाल,जिस रस्ते से वो गुजरे, सबके लण्ड खड़े हो जाएँ,उसकी चूत की कोमल आहट, सोते लण्ड उठाये.

तभी मेरे भाई ने मेरी गांड पर लंड टिकाया और मैं जब तक कुछ बोलती, इससे पहले उसने जोरदार झटका दे मारा. इसी अवस्था में हम कम से कम 10 से 15 मिनट बने रहे और पानी में लगभग हमने 30 मिनट तक मज़ा लिया। इसके बाद हम लोग टब के बाहर निकल आये.

मैंने कहा- अरे यार यहां कहां तुमने कार रोकी है … अंधेरे में मुझे बहुत डर लग रहा है … ये बहुत डरावनी जगह है.

अब मैं जान गयी कि तेरी इतनी बड़ी रानियों की फ़ौज कैसे बनी … प्लीज़ राजे मसल दे अपनी गुड्डी रानी को … इस कली को फूल बना दे आज … आजा मेरा राजा. इंग्लिश पिक्चर सेक्सी ब्लूघर पर हमेशा डर लगता था कि कहीं कमरे के बाहर आवाज न चली जाए, कहीं कोई आ न जाये, और तुम्हें भी जल्दी से अपने रूम में पहुँचना होता था, लेकिन आज कोई बंदिश नहीं थी. बहन की चुतकुछ ही देर में लंड फिर से टनटना गया और अब वो भाभी की सुरंग में जाने को तैयार था. मुझे गाड़ी चलानी नहीं आती तो मालकिन को मेरे साथ बाज़ार जाना पड़ता।जब एक हफ्ते बाद वो आया तो मेरी मालकिन ने उस पे बहुत गुस्सा किया.

अब तक हम दोनों अन्तर्वासना को लेकर इतने खुल चुके थे कि सीधा चूत लंड बोल कर बात कर रहे थे.

मनजीत अब पूरी तरह से समर्पित है, मेरे लिए अच्छा अच्छा खाना बनाती है और खुलकर चुदवाती है. एक तो वो अनुभवी होती हैं, दूसरी बात ये कि वो किसी तरह की कोई नखरा नहीं करती हैं … और भरपूर प्यार भी देती हैं. इतने में राजीव बोला- मैं बहनचोद नहीं हूं … रानी मैं तो तेरा पति हूं.

वो दोनों जोर जोर से मेरे बूब्स को चूसने लगे और मेरे निप्पलों को काटने लगे. मैंने अपना लंड धीरे धीरे नीरजा की बुर में अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया. यह बात सुनते ही जैसे उसका चेहरा खिल गया और उसने बोला- ठीक है मेम साहब, मैं सिखा दूँगा।मालकिन ने मुझे बोला- सारा काम खत्म कर के दोपहर में इससे सीख लेना।कुछ देर बाद वो अपने अस्पताल चली गयी.

தமிழ்நாடுsex

आंटी पूछने लगी- उस पशुशाला में कितनी भैंस थीं?मैंने कहा- यही कोई 25-30 भैंस होंगी. मेघा के पेज पर विजिट करने के लिए ऊपर उसकी असली फोटो पर क्लिक करें और उसके साथ मज़ा करें।. आह्ह … आज भी कितनी टाइट है तेरी चूत, आह्ह … इसको चोद चोद कर इसकी प्यास बुझा दूंगा.

फिर मैंने अपने हाथ में थोड़ा सा थूक लगाकर उसकी चुत पर लगाया और थोड़ा सा थूक लंड पर लगा कर उसकी चुत में लंड को पेलने लगा.

एक साथ छह मर्दों से चुदवाना कोई छोटी बात नहीं है … कोई खाला जी बाड़ा तो है नहीं कि सबके लंड ले लिए जाएं.

वो ऑफिस पहुंच कर मेरी बगल में आ कर खड़े हो गए और बड़े प्यार से पूछने लगे- बेटा तुम तो पढ़ने में अच्छी हो … ऐसे कैसे फैल हो गयी?मैं- सर मुझे इस विषय में थोड़ी दिक्कत होती है … मुझे रसायन समझ में नहीं आती है. पर दिल में एक खुशी भी थी।उसके बाद उन्होंने अपने हाथो से लंड को सहलाया और मेरे ऊपर आ गए।लंड के सुपारे को मेरी चूत के ऊपर दबा दबा कर रगड़ने लगे।इतनी ठंड में उनके गर्म लंड का अहसास ही अलग मजा दे रहा था। मेरी चूत रस से लबालब हो गई थी।वो अब मेरी चुदाई के लिए पूरी तरह तैयार थे और मैं भी।उन्होंने अपना लंड मेरी चूत पर लगाया और मेरे चेहरे के पास आकर मेरी आँखों में देखने लगे. लेडीज ब्लाउज डिजाइन फोटोफिर आगे क्या हुआ … पूरी रात भर हमने कैसे मजा किया … ये सब मैं अगले भाग में लेकर आपके सामने पेश करूंगा.

अब मैंने अपने शॉर्ट ट्राउजर निकाल दिये और अंडरवियर में होकर बैठ गया. आज अचानक कह रही हो तो सोचना तो पड़ेगा ना!खुशी ने फिर कहा- मैं शादी की तैयारियों में व्यस्त हो चुकी हूँ. मैंने चुटकी लेते हुए कहा- प्रीति, आज मैं तुम्हारी चूत में भारत पाक के बीच की सुरंग खोदने वाला हूँ.

साली की चूत में लंड लगते ही वो उससे बुरी तरह से चिपक गयी और सिसकार कर उस लड़के को बांहों में भर लिया. अशी की कॉलेज की छुट्टियों में वह मुंबई घूमने आना चाह रही थी। इसलिये उसके घर वालों ने उसे मेरे साथ भेजने का फैसला किया। इससे मेरे खाने पीने की दिक्कत भी ना रहती.

लेकिन लंड फिसल गया।मैं समझ गया कि भाभीजान पहली बार गांड में डलवा रही हैं.

मुझे सेक्स कहानियां पढ़ने का बहुत शौक था जो अभी भी वैसा का वैसा बना हुआ है. मैं ऊपर मुंह उठाये पिंकी रानी की आँखों में आंखें डाल कर उसको निहार रहा था. मैंने कहा- ये सब तो एक हफ्ते में सही हो जाएंगे … तुम बताओ, तुम्हें मजा आया या नहीं?वो खुश होकर हां बोलते हुए वहां से चला गया.

रायपुर का सेक्स उसका लम्बा और सख्त लंड मैं अच्छी तरह महसूस कर पा रही थी जो काफी गर्म हो गया था और बार बार झटके दे रहा था. हम लोग अब सानिया को अपने यहाँ पक्के तौर ही रख लेंगे। वह इधर-उधर की बातें भी नहीं करती और घर का काम करने में वह गौरी से भी ज्यादा होशियार है।”सच्ची?”और नहीं तो क्या? तुम्हें विश्वास नहीं हो रहा ना?”नहीं ऐसी बात नहीं है.

मैंने उसे बताया कि जब उसका पति उसकी चूत में लंड डालने लगे तो अपनी जांघें भींच कर चूत को कस लेना और दर्द होने का नाटक करना. फिल्म की आवाज़ और खाली बालकनी की वजह से न रजनी और न ही मैं कोई आवाज़ कर रहे थे. लेकिन रितु के साथ ऐसा नहीं था वो मेरे लंड को चाट कर हर पल और ज्यादा उत्तेजित कर रही थी.

தமிழ் ஸ்கூல் கேர்ள் செஸ் வீடியோ

मैंने खड़े खड़े नेहा को अपने लौड़े पर चढ़ाते हुए उसकी दोनों टांगों को अपनी भुजाओं में उठा लिया. साली जी की चूत के होंठ जो कभी आपस में सटे से रहते थे अब खुल चुके थे और उसकी चूत किसी नाव जैसा आकार ले चुकी थी और उसके भीतर का एक एक अंग स्पष्ट रूप से दिख रहा था; मैंने गांड के छेद पर लंड को पुनः सेट किया और उसकी गांड में लंड को पहिना दिया. मुझसे ठीक नीचे वाली फ्लोर पर रजत भैया रहते थे, जो एक बड़ी कंपनी में वाइस प्रेसीडेंट, सेल्स थे.

मैं नाश्ता लगाती हूँ।रमेश- अरे नहीं, तुम लोग नाश्ता करो, मैंने तो कर लिया है. मैं उस पर घुटनों केबल थूक लगाया और थोड़ा सा थूक उसकी गांड पर लगाकर लंड टिका दिया.

मुझे समझ नहीं आया वो हंस क्यों रही है।फिर मैंने आईने में देखा तो पता चला कि उसकी लिपस्टिक मेरे होंठों पर लगी हुई थी।फिर मैं भी हँसने लगा।मैंने उसे पौंछने के लिए तौलिया उठाया तो उसने रोक दिया और कहा- मत पौंछो.

बस इतना बता दूं कि साली जी से लंड चुसवाने के बाद पूरे दम से उसकी चुदाई की फिर एक बार उसकी गांड मारने का भी मज़ा लिया. आंखें बंद करके मम्मी कहे जा रही थीं- आह … कितना कड़क और गर्म लोहे जैसा लंड है तेरा हर्षद … सच में मैं मर गई रे. रति की दोनों टांगें फैला कर वो उनके बीच में बैठ गया और अपना लंड उसकी चूत पर सेट कर दिया.

फिर रात बारह बजे के बाद मुझे नींद सताने लगी, तो मैंने कमरे में जाकर आराम करना उचित समझा. राजेश ने कहा- दिखाओ क्या लाई हो?तो बोली- साब, जब पहनूंगी तब दिखाऊंगी. तभी नेहा बोली- उसके लिए हम दोनों ही काफी हैं, गोरी की जरूरत नहीं है.

कुछ जोश भरे झटकों के बाद ही मेरे लंड से वीर्य की पिचकारी निकल कर टेबल पर जा लगी.

नैनीताल की सेक्सी बीएफ: फिर बस एक स्टॉप पर रुकी, तो कंडक्टर आने वाली सवारियों से बोला कि सिर्फ पुणे जाने वाले ही बैठना. मगर रति के सामने वो नाटक करते हुए बोला- आ गयी मेरी बिजनेस वूमेन बेटी।रिया- जी डैड।रमेश- बेटी कैसा रहा तेरा इवेंट?रिया ने रमेश के छिछोरे सवाल पर उसे देखा और मुस्कराती हुई बोली- बहुत बढ़िया डैड, बहुत मजा आया।रमेश- गुड, कल के इवेंट में किधर से ज्यादा मजा आया? आगे से या पीछे से?रमेश के सवाल का मतलब रिया अच्छी तरह जानती थी.

वो बोली- तुम्हारी कोई है?मैंने कहा- नहीं यार … मुझे कौन पसंद करेगी?वो बोली- क्यों नहीं करेगी?मैंने कहा- तो तुम कर लो!इस पर वो हाथ छुड़ा कर हंसती हुई भाग गई और मैं अपना लंड मसल कर रह गया. उसके घने काले काले बाल उसके कंधों पर, कुछ चेहरे पर अठखेलियां कर रहे थे. मेरे बदन में गर्मी इस तरह बढ़ गई कि मेरी गर्मी से टब में भरा पानी भी गर्म होने लगा.

चक्रव्यूह का आखिरी दरवाजा हमारा जांघिया था, चाचा ने उसका नाड़ा भी खींच दिया था.

कहते हुए उसने अपने बायें हाथ से सेक्स डॉल के लंड को अपनी गांड में घुसा लिया. किन्तु मैंने संभलते हुए कहा- तुम पास होतीं तो तुम्हारे आगोश में ही रहता. मैं तुरंत बोला- तो शोऑफ करो न, बेबी आज का ज़माना शोऑफ करने का है!गीत बोली- चाय पी लो, फिर देखते हैं.