बीएफ सेक्सी हिंदी में भोजपुरी

छवि स्रोत,किचन सेक्स व्हिडिओ

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो चीन में: बीएफ सेक्सी हिंदी में भोजपुरी, चिन्ना जैसा औरतखोर चाहे कितना भी नरमी से पेश आ रहा था पर उसने पिछले दो दिनों में देख लिया था कि इस सांड के लण्ड को हर रात चूत का पानी चखने की आदत है.

मैरी कॉम बॉक्सर

फिर वो भी हल्के से मुस्कराई और तब तक अजय ने फिर से उसकी गर्दन को अपनी ओर घुमा लिया. परभात सटामुझे बहुत ग्लानि महसूस हुई और फिर मैं उन्हें पूरा सहयोग देने लगी क्योंकि उनका व्यवहार और मेरे प्रति आसक्ति बहुत ज्यादा है.

ये पोट्रेट भाभी की शादी का था, जिसमें भाभी वाक़ई में कमाल लग रही थी. देहाती सेक्स का वीडियोमेरी चालू मां जो कि अभी अंकल का लंड लेकर आई थी, उसको यह उंगली भी काफी अच्छी लग रही थी.

मगर तूने एक झटके में अंदर कर दिया था इसलिए थोड़ा सा दर्द हो रहा है.बीएफ सेक्सी हिंदी में भोजपुरी: वो नंगी रांड नीचे फर्श पर बैठ गई और मैं उसके सर के ऊपर से पेशाब करने लगा.

इसके बाद उन्होंने मेरे दोनों हाथ सिर के ऊपर रखवा दिए और मेरे पैरों को भी फैला दिया.हुआ तेरे भाई का लंड शांत?मीनू ने कहा- चालीस मिनट हो गए, नहीं हो रहा.

एडल्ट स्टोरीज - बीएफ सेक्सी हिंदी में भोजपुरी

तो हम दोनों भी तैयार हो गये और नीरज नाम का वो लड़का भी तैयार हो गया.आज मैं भी अपनी बहन की चूत गांड एक साथ मार मार कर खूब मज़े ले रहा था.

यहां तक कि मसाज का अनुभव भी काफी सुखद और बिना किसी झिझक या असुविधा के पूरा हो सकेगा. बीएफ सेक्सी हिंदी में भोजपुरी मैंने उसे गोद में उठाया और पूजा की मम्मी के रूम में लाकर बिस्तर पर लिटा दिया।बिस्तर पर सफेद चादर बिछी थी और गेंदे के फूलों की पंखुड़ियों से दिल और तीर का निशान बना था, उसके बीच में गुलाब की पंखुड़ियों से आर और एन लिखा था।रूम का दरवाजा बंद करने के लिए जैसे ही मैं दरवाजे के पास आया, तभी निधि पीछे से आकर मुझसे लिपट गयी.

मैं सीधा रूम में आकर पैग खत्म करके बिना उसको बताए उसके घर से निकल गया.

बीएफ सेक्सी हिंदी में भोजपुरी?

दीदी का कोई ब्वॉयफ्रेंड नहीं था … यह तो मुझे पता था, लेकिन दीदी ऐसा भी कर सकती हैं … यह मैंने कभी सोचा नहीं था. उसने मेरी तरफ देख कर कहा- सिर्फ देखोगे या कुछ करोगे भी?मैंने उससे कहा- मुझे कुछ नहीं आता, ये मेरा फर्स्ट टाइम है. उसकी गर्दन को चूमा, उसकी चूचियों के उठे हुए उभारों को चूमते हुए मैंने नीचे उसकी बेबीडॉल की डोरी को खोल दिया.

मैंने भी देर न करते हुए उसको थोड़ा आगे खींच कर उसके दोनों पैरों को अपने कंधे पर रख लिया. मेरे चाचा और चाची ऊपर वाले फ्लोर पर हैं जबकि हम लोग नीचे वाले फ्लोर पर रहते हैं. मैं बेड पर उलटी साइड लेटा था ताकि मुझे बहू का मुझे देखना सब दिखाई दे.

आज भी मेरी बहन को थोड़ा सा दर्द हुआ … मुझे भी हुआ क्योंकि चमड़ी का जख्म अभी भरा नहीं था. अभी मैं भाभी से आगे कुछ बोलता, उससे पहले उन्होंने अपने होंठों मेरे होंठों से चिपका दिए. मैंने चूची चूस कर उसको मस्त किया और धकापेल चुदाई करके माल बाहर निकाल दिया.

चूंकि उसने चुदने के लिए मना कर दिया था इसलिए मुझे अब कोई और तरकीब लगानी थी. उसके अर्धविकसित चूचों का स्पर्श मेरे सीने पर बहुत ही आराम दे रहा था.

नेताजी आपका इन्तजार कर रहे हैं।करोना धड़कते दिल के साथ डाइनिंग एरिया में आ गई.

अब इस सेक्स का अगला पार्ट मैं आप लोगों के साथ साझा करने जा रहा हूं.

अनिल बोला- और पल्लवी, कॉलेज का पहला दिन कैसा गया?मैंने कहा- न ज्यादा अच्छा न बेकार, तुम बताओ बीवी वापस आई या नहीं?अनिल बोला- वो मादरचोद आना होगा तो आयेगी, मुझे उसकी जरूरत नहीं. उसने एक हाथ नीचे ले जाकर मेरे मुरझाए हुए लंड को पकड़ लिया और धीरे धीरे से सहलाने लगी मसलने लगी।मेरे लंड ने फिर से धीरे से अंगड़ाई लेनी शुरू कर दी और धीरे-धीरे उसने उसे अपने हाथ में भर लिया और धीरे धीरे मेरे लंड की मुठ मारने लगी. मैंने विशाल को मैसेज किया- कहां है तू?वो बोला- मैं अभी बाहर हूं, अभी थोड़ा टाइम लगेगा.

मैंने पूछा- वोवरान का इंजेक्शन लेना है क्या?वोवरान का इंजेक्शन एक दर्द निरोधक इंजेक्शन है … जो प्राथमिक उपचार के लिए घरों में रखा जाता है. वो कुछ इस तरह से बैठी थी कि वो आधी मेरी गोद में थी और आधी गाड़ी की सीट पर थी. उसकी बात सुनकर मुझे बुरा लगा और मैंने फिर उसे सॉरी बोलकर धीरे धीरे लंड अन्दर बाहर करना शुरू किया.

भाभी के होंठ गुलाबी, गाल फूले हुए, नागिन जैसे लहराते बाल गांड तक अठखेलियां करते थे.

मैंने कल्पना को किस किया और उसके कान को भी अपनी जीभ से छूने लगा, किस करने लगा. मैं पहले कभी ऐसे मिलने नहीं गया था लेकिन अब हम दोनों क्लोज हो गए थे. वो उसे धीरे धीरे सहलाने लगी। मैं भी एक हाथ से उसकी चूचियों को मसलते हुए दूसरे हाथ के उसके चूतड़ों पर हाथ फेर रहा था। धीरे-धीरे वो सिसकारियां लेने लगी।वह तो सुबह से ही गर्म थी, मेरे थोड़ा सा सहलाने में ही उसके मुंह से आवाजें निकलने लगी और बोली- यार जल्दी करो ना.

मैंने कहा- सच बताना शिप्रा कि तेरा मन नहीं करता नंगा होने का?मेरा तीर निशाने पर लगा. उसने कुछ नाराजगी दिखाई और खाना नहीं खाने का बोल कर अपने रूम में चली गई. दोस्तो, मेरी पिछली सेक्स कहानीपेट और चूत की आग ने रंडी बना दियापर मुझे आपके काफी सारे ईमेल मिले लेकिन मैं सबको रिप्लाई नहीं कर पाती हूँ.

इधर करोना अब अपनी दोनों टांगों को चिन्ना के कन्धों से उतर कर उसके कमर के इर्द गिर्द लपेट कर चिन्ना को अपने से दूर जाने से रोकने का प्रयास करने लगी और अपनी चूत को ऊपर की और उछाल कर चिन्ना के लण्ड से स्पर्श न टूटने देने की नाकाम कोशिश करने लगी.

मुझे अब बाहर के गैर मर्दों के लौड़ों से ही चुदने में मज़ा मिल जाता है. मेरे बेटे ने बहू की टाँगें खोल के पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत में अपना मुँह लगा दिया.

बीएफ सेक्सी हिंदी में भोजपुरी रिश्तेदारी की वजह से मैं बड़े ही सरल स्वभाव से अपनी जिंदगी व्यतीत कर रहा था. मैंने दुबारा से उन्हें कॉल किया, तो मैंने उन्हें अपनी कसम दी और बात बताने के लिए कहा.

बीएफ सेक्सी हिंदी में भोजपुरी अब तो मुझे दूसरे लौड़ों से चुदने में इतना अधिक मजा आने लगा है कि मुझे अपने पति से किसी तरह की चुदाई की चाहत भी नहीं बची है. मैंने देखा कि उसमें एक दुबला पतला लड़का मोटी औरत के साथ चुदाई कर रहा था.

थोड़ी देर में ही मैंने उसके उसकी टांगों को ऊपर की ओर उठाया और उसके दोनों पैरों को अपने कमर पर लपेट लिया.

मराठी सेक्सी xxx

मैंने महसूस किया कि उसकी सांसें तेज़ हो रही थीं और वो मुझसे चिपकती जा रही थी. मेरी पत्नी अनु काफी खूबसूरत थी जिसको पाकर मैं खुद को भाग्यवान समझने लगा. हमारी काफी देर तक बातें हुईं और न जाने कुछ ऐसी बात बनी कि हमने एक दूसरे के नंबर तक ले दे लिए.

बलविंदर साहब की आंखें भी छलक पड़ी और उन्होंने भी बोल दिया- मुझे नहीं पता बेटा … मुझे भी कभी कभार ऐसा ही लगता है कि मधु ने कहीं बाहर जाकर मुंह मारा है. डिस्चार्ज का समय करीब आते आतेहनी भी पूरे जोश में आ गई और अपने चूतड़ उछाल कर कहने लगी- मारो फूफा जी … और जोर से मारो. भाभी ने बाथरूम में ले जाकर मुझे अपने हाथों से नहलाया और मेरी अच्छी तरह से खातिर की.

अपने लंड को उसकी गांड के छेद पर सैट करके मैंने धक्का दिया, पर लंड फिसल कर ऊपर निकल गया.

मेरा खड़ा लंड उनकी जांघों के बीच में और उनकी चूचियां मेरे सीने में घुसने को बेताब थीं. सेजल को अब घबराहट हो रही थी कि उन्होंने इस फौजी को जगा तो दिया है लेकिन अब जब बंदूक चलेगी तो क्या सेजल सह भी पाएगी कि नहीं. अब जब भी वो किसी काम के लिए झुकतीं, मैं अपना खड़ा लंड उनकी गांड में रगड़ देता.

मेरे परिवार में मेरी मम्मी और पापा हैं, मेरा भाई जॉब में है, इसलिए वो अधिकतर बाहर रहता है. मामी बोली- पहले कभी नहीं देखा है क्या तुमने ये?मैंने कहा- मामी, देखा तो है लेकिन इतने पास से नहीं. तो वो भी हंस दी और आकर मेरी पीछे बैठ गयी और में निकल पड़ा उसे लेकर!मेरे एक दोस्त का होटल था, मैं उसे वहाँ ले गया.

हनी की कमर पकड़कर लण्ड को अन्दर बाहर करते करते एक बार मैंने जोर से धक्का मारा तो पूरा लण्ड हनी की चूत के अन्दर हो गया. इसी के चलते मैं ऑफिस से बाहर फील्ड पर निकल गया और शाम को घर आकर मैंने कल्पना को कॉल किया- कल जरा जल्दी आना … और देर तक रुकना.

वह आया और उसके मेरे पास पहुंचते ही जैसा कि मुझे इन्तजार था, उसने मेरी तारीफ करनी शुरू कर दी. मैं अब भी उनसे रिक्वेस्ट कर रहा था कि वो ये बात डैड को ना बताएं कि मैं आपको वीडियो में देखकर लंड सहला रहा था. मैंने सोचा कि यही मौका है, मैं बोला कि आज कोई नहीं देख रहा, तो तू भी अपने कपड़े उतार दे.

अपने हाथ में थूक लगा कर उनकी चूत पर लगा दिया और अपने लंड को उनकी चूत पर रगड़ने लगा.

पर मैंने उसे कस कर पकड़ा था और वैसे ही आज बहुत दिनों बाद ये कुंवारी चूत लंड के नीचे आयी थी तो इतनी जल्दी मैं उसे अपनी से कैसे अलग कर सकता था।मैंने थोड़ी देर उसके ऊपर वैसे ही अपने आप को रहने दिया थोड़ी देर उसके होंठों को चूसा उसकी चूचियों को मसलने लगा।वह धीरे से बोली- बाबू, प्लीज बहुत दर्द हो रहा है. आह्ह … ओह्ह … करके मेरी उत्तेजना और आनंद दोनों एक साथ मिल कर बाहर आने लगे. मैंने 16 तारीख तक बहुत कोशिश की कि बना बनाया मिल जाए, पर नहीं मिला.

एक दिन मैंने घर में कुछ ऐसा देखा कि अम्मी के बारे में मेरे विचार बदल गये. रचना भाभी ने मुझसे पूछा- तुम पहले क्या खाओगे?मैंने कहा- दही भल्ले मेरा पसंदीदा हैं, मैं दही भल्ले पहले खाऊंगा.

फिर थोड़ी देर बाद अंदर से एक लड़की निकल कर आयी। उसे देखकर मेरी तो आंखें फटी की फटी रह गई. जैसे ही मैं डिनर लगाने के लिए उठी, नवीन जी ने मुझे अपनी तरफ खींच लिया और जोर से मुझे किसिंग करने लगे. मैं नसरीन के चेहरे को ऊपर करके अपने होंठ नसरीन के होंठ पर रख कर किस करने लगा.

इंडियन गर्ल एक्स एक्स

अभी उसका पीरियड स्टार्ट तो नहीं हुआ था … लेकिन चुत में उभार आ चुका था.

उसने कहा- बस राजा … अभी पहुंच रही हूँ दो मिनट रुको … सिग्नल पर हूँ, आती हूँ. उसके मुंह से इतनी मात्रा में निकलने वाली लार ये जता रही थी कि उसके मुंह में लंड के लिए कितना पानी आ रहा था. अब तो मेरे मन में लड्डू फूटने लग गए कि हो सकता है आज शाम को मुझे माया की चूत चुदाई नसीब हो जाए.

मैं जब भी किसी लड़की के साथ कुछ करता हूं तो मुझे उसके चेहरे को देखने में बहुत मजा आता है. भाभी का नाम शानू है, भाभी दिखने में सांवली हैं, पर बहुत ही मस्त हैं. हिंदी सेक्स वीडियो कॉम एचडीफिर मैंने उसकी गांड पर एक किस किया और अपना खड़ा लंड उसकी चूत की फांकों में सैट करके एक तगड़ा शॉट मार दिया.

राजधानी एक्सप्रेस की स्पीड से पड़े धक्कों से मम्मी हाँफने लगी और हाथ जोड़कर रुकने का निवेदन किया. रचना भाभी ने बहुत आश्चर्य मुझसे कहा- तुम्हें कैसे पता? तुम कैसे जानते हो? तुमने मेरे बेडरुम में झांक कर देखा है क्या? तुम यह कैसे कह सकते हो?फिर मैंने कहा रचना भाभी को- भैया की उम्र 45 साल, आपकी उमर 36 साल.

यह आप लोग बहुत अच्छे से जानते हैं जो मर्द अपनी पत्नी को शारीरिक सुख नहीं दे पाता है, वही अपनी पत्नी पर शक करता है. जब भी वो मुझे डांटती या फटकारती थी तो मैं उसका पूरा बदला रात में निकालता था. फिर सभी लोग शादी वाली जगह जाने लगे थे, मैं भी उन्हीं में से किसी रिश्तेदार की एक गाड़ी से शादी की जगह पर आ गई.

एक दिन मैं अंजू के घर गया, अंजू, मेरा दामाद नरेश, सारिका व मेरे समधी समधन सब घर थे. जब मुझ से बर्दाश्त नहीं हुआ तो मैंने रचना भाभी को कहा- चलो अब यहां से!भाभी ने गांड पर लौड़ा सटाने की अनुमति दे दी, चूत देने में देर नहीं करेगी, ये मैं समझ गया था. अब मुझे गुस्सा आने लगा था कि ये मेरी चूत में अपना लंड घुसा क्यों नहीं रहे हैं.

मेरी गांड फट गई … एक साथ दोनों छेदों में लंड लेने का ये मेरा पहला अवसर था.

मैंने उससे कहा कि बेटू जैसे मैं घोड़ा बनकर तुमको अपनी पीठ पर घुमाता था, वैसे ही तुम घोड़ा बन जाओ. वो शावर लेकर आई थी और उसके बदन पर सिर्फ़ एक तौलिया ही था, जो उसके मोटे उठे हुए चुचों को मुश्किल से छुपा पा रहा था.

उसके बाद बहू मेरे पास आयी, बोली- डैडी जी, खाना खा लें?मैंने कहा- हाँ जरूर!फिर बहू मेरे लिए और अपने लिए खाना लेके आयी. फोन काटते हुए पंकज ने मुझसे कहा- यार, तू उसके पास एक बार जा तो सही, फिर तुझे असली जन्नत का मजा आएगा. मैं तैयार हो गया इस काम के लिए और एक एक करके दोनों भाभी के कपड़े उतारने लगा.

फिर मैंने उसको डांस के लिए इन्वाइट किया तो शुरू में उसने मना कर दिया … पर मेरे बार बार बोलने पर वो मेरे साथ डांस करने के लिए राज़ी हो गई. … उउह … चोद डालो मुझे … आह भोसड़ा बना दो आज मेरी चूत का … फक मी … फक मी हार्ड…’ इतना ही कह रही थीं. हम दोनों एक दूसरे को इतना अच्छे से जानते और समझते थे कि हम आँखों ही आँखों में इशारे समझ जाते थे.

बीएफ सेक्सी हिंदी में भोजपुरी उसकी चुत इतनी टाइट थी कि मेरा थोड़ा सा लंड उसकी चुत में ही गया और उसकी मुँह से चीख निकल गयी. जैसे ही चाची ने जीभ बाहर की मैंने चाची के थूक को अपने मुंह में खींचना शुरू कर दिया.

मौसम सेक्स

मेरा लंड अब बहुत दर्द कर रहा था क्योंकि वो बहुत देर से खड़ा था … पत्थर बन गया था. और यदि मेरा यह आर्टिकल पाठक पाठिकाओं को पसंद आएगा तो मैं आगे कुछ और यौन समस्याएं भी आपके साथ शेयर करूंगा. उसने मेरी छाती के निप्पलों को बड़े प्यार से चूमा और अपने होंठों में दबा कर चूसने लगी.

अम्मी उसे देखते हुए बोलीं- बेटी तू इस मुद्दे पर गंभीरता पूर्वक विचार कर. फिर बहू ने मेरा लंड पकड़ के अपनी चूत में डाल लिया और मैं उसकी जोरदार चुदाई करने लगा. জানোয়ারের সেক্সি ভিডিওपुष्पा आंटी कह रही थी- रेनू, तू आज बहुत सेक्सी लग रही है मेरी जान!तो मॉम भी कहने लगी- पुष्पा, तू भी बहुत रंडी लग रही है.

‘आह … भैनचोद … फाड़ेगा क्या?’मैंने उसकी बात को अनसुना करते हुए फिर से झटका मारा तो आधा लंड बहन की चुत को चीरता हुआ अन्दर धंस गया था.

फिर मैंने अंदर रूम में झांक कर देखा तो पाया कि परवीन अपने घुटनों पर थी. तभी दीदी नाइट सूट पहन कर बाथरूम से बाहर निकल आईं और अपने बालों को संवारते हुए मेरी ओर देखने लगीं.

हड़बड़ाहट में उल्टे सीधे बटनों पर हाथ मारने लगी जिस कारण लैपटॉप बंद नहीं हो पाया. दोस्तो, जब कोई लड़की आपका कड़ा लंड मुँह में लेती है ना … तो सच में ऐसा लगता है, जैसे आप किसी जन्नत में हो. क्या मस्त चुत थी … एकदम ताज़ी ब्रेड की तरह फूली हुई चुत मुझे मदहोश किए जा रही थी.

मुझे बार बार कल्पना की चुदाई का मन कर रहा था और मेरा लंड बार बार खड़ा हो रहा था.

सिम्मी ने कहा- आपको रोका किसने है? सिर्फ याद रहे कि मैं आपके साथ वो नहीं कर सकती. उनकी बातों में कुछ मौसम की गर्मी, मच्छरों की बहुतायत जैसी बातें शामिल थीं. मोहन ने मेरे बाल पकड़ कर मुझे खींचा और मेरे होंठों को चूसना शुरू कर दिया.

मेरी उम्र 14 साल हैबात उस समय की है जब हम लोग अपने गांव से 58 किलोमीटर दूर एक शहर में शिफ्ट हो गए. वो बोली- मुठ नहीं मारते क्या?इतना तो मैं जानता था कि मामी लंड के बारे में ही बात कर रही है लेकिन मुझे मुठ मारने का नहीं पता था.

वेलेंटाइन

एक हफ्ते बाद मॉम और डैड को तीन दिन के लिए डैड के दोस्त के बेटे की शादी में जाना था. वो बहुत जोर जोर से आह आह करती रही और मेरे सर को अपने बूब्स में दबाती रही।मैं उनके पेट पर उनकी नाभि पर किस करने लगा. वो देखकर बोली- ओह माई गॉड ये सब तुम कब लाये … और कहां से … रियली आई लाइक टू मच … आई लव इट यार … मेरे राजा यार तुम्हें मेरी पसंद इतने अच्छे से कैसे पता चली?मैं- मैं तुम्हें फर्स्ट टाइम देखकर ही समझ गया था कि तुम्हें क्या पसंद है मेरी जान … चलो अब जल्दी से पहन कर दिखाओ, तुम पर कैसे लगते हैं?नताशा इठला कर बोली- जब लाए हो, तो पहना भी दो न.

इसीलिए उनकी चूत के सील तोड़ने से पहले में उनके मुंह में कपड़ा ठूंस देता था ताकि मेरी भयंकर चुदाई की वजह से उनकी चीखो पुकार से तू डरकर भाग न जाये. पापा को भी यह बात समझ आ चुकी थी कि यह बाल गीले क्यों हैं … पर वो मुझसे पूछने लगे- क्या हुआ बहू … तुम्हारी योनि इतनी गीली क्यों है. रिश्तों में चुदाई की कहानी आपको कैसी लगी, कृपया कमेंट्स करके जरूर बताएं.

मैं भी उसे कपड़े बदलते देखना चाहता था तो मैंने अपनी आँख कीहोल पर लगा दी. उसके चूतड़ों से होते हुए बारी बारी उसके दोनों पैरों की जांघों से होता हुआ उसकी एड़ियों तक चूमते हुए आया।अब मैंने खड़ा होकर निधि को पलट कर अपनी बांहों में भर लिया और उसके चेहरे को चूमने लगा. करोना की रिसर्च के दौरान चुदाई के सब्जेक्ट का हर पाठ चिन्ना ने पूरी तल्लीनता के साथ करोना को पढ़ाया.

सफलता की ऊंचाइयां छूने के लिए सेजल ने अपने बदन का खूब इस्तेमाल किया. फिर मैंने अपने एक हाथ से रचना की चूत पर अपने लौड़े को सेट किया और फिर अपने दोनों हाथों से रचना के सिर को पकड़ लिया ताकि लौड़े का धक्का लगने के बाद रचना आगे की तरफ ना उछले.

उसने भी मस्ती के चक्कर में हां कर दी और बोला- तुम बाहर रूम में जाओ … मैं आती हूँ.

वो मेरे गले से लग कर मेरे होंठों को चूमने लगी और कहने लगी- तुम तो मेरे चचेरे भाई हो. मारवाड़ी सेक्समेरी छोटी बहन ने मेरा लंड देखा तो वो बोली कि भैया आपकी सूसू पर बाल नहीं हैं, मेरी सूसू पर तो बहुत बाल हैं. लव कुश कांड दिखाएंमेरा चिकना लंड धीरे धीरे सरकता हुआ नसरीन की चुत में घुसता जा रहा था. टी टी ने मोबाईल बंद कर दिया और मुझे बताया कि एक बाथरूम है बोगी में … वहां जा कर नहा ले, तब तक कपड़े मंगवा दूँगा.

चूत से पानी निकलने के कारण जब चूत में लंड जा रहा था तो रूम में पच-पच की आवाज होने लगी.

कुछ टाइम बाद उन्होंने मेरा हाथ दबाया और अपने पैरों को मेरे लंड पर दबाया. चूंकि मैं उनको ऐसी ड्रेस में अक्सर देखता रहता था, इसलिए मुझे कोई ताज्जुब नहीं हुआ. थोड़ी देर के बाद मां सहज हो गई और अब विशु अपनी पूरी फुल फॉर्म के अंदर आ गया था.

जब हम थोड़ी दूर चले गए, तब मैं जानबूझकर फिसल गई और पैर में मोच आने की नाटक करने लगी. करीब दस मिनट मुँह में लंड लेने के बाद वो बोली- अब और ना तड़पाओ … जल्दी से मेरी आग बुझा दो. मैं पहली बार इस तरह से अपने घर से बाहर अपने चाचा के यहां पर रहने के लिए गया था.

आदिवासी ब्लू फिल्म सेक्सी

आपको मेरी दीदी की चुत चुदाई की कहानी कैसी लगी, मुझे मेल करके जरूर बताइएगा. आज मुझे पहली बार चुदाई में ऐसा महसूस हुआ कि जैसे आज से पहले मैं चुदी ही नहीं हूँ. लेकिन तभी अजय अंकल का फिर से मूड बन गया और वे बोले- एक राउंड और कर लेते हैं.

अब मैं चाची की मदद करने के लिए चला जाया करता था क्योंकि चाचा को बेड से उठाने और बिठाने में मदद चाहिए होती थी.

हमारी फैमिली नॉर्मल ही है लेकिन नॉर्मल फैमिली में कई बार एबनॉर्मल बातें भी हो जाती हैं.

मैंने उसके एक स्तन को अपने हाथ से जोर से दबाया, तो उसके मुँह से तेज ‘आह … आउच … ऐसे मत करो ना जानू … मुझे दर्द होता है. धीरे धीरे मैंने उसकी टी-शर्ट को भी ऊपर कर दिया, जिससे अब मेरा हाथ उसके चूचों पर लगने लगा था. सेक्सी जुदाईचुदाई के लिए और क्या चाहिए?मम्मी अपने कमरे में चली गईं और मैं चुदाई का तान बाना बुनने लगा.

सुप्रिया दीदी आ गयी थी और मम्मी जैसे मुझे मारने को होतीं, तो वो मुझे कसके पकड़ कर खींच लेती. वो बोली- तो वो बोली कि बाथरूम में से क्या देख रहे थे, मैं तो बाहर भी दिख जाती हूँ. उनके हाथ में एक बैग था, तो उन्होंने कुछ इस तरह से रखा हुआ था कि किसी को पता नहीं चले.

थोड़ा- थोड़ा करके हरामी चिन्ना के अनुभवी हाथ करोना की चूचियों की घुंडियों की ओर बढ़ने लगे. हिंदुस्तानी सेक्स मूवी.

चल अपनी चूत फैला अब!उसने अपने लंड पर कंडोम लगाया और मां की टांगों को फैला दिया.

उसकी गांड में मैं जीभ से चाट रहा था और इसी दौरान वो खुद ही अपने हाथ से अपनी चूत को सहला रही थी. अगर तुझे मालिश ही करवानी है तो मैं कर देती हूं चल।मैंने कहा- नहीं अम्मी, आप क्यों तकलीफ करती हो. फिर मैंने उसके बारे में पूछा तो उसने बताया कि वो 29 साल का है और ठेकेदारी का काम करता है.

विष मटका गुएससींग अपने दोनों हाथों से मैंने उसकी अगल बगलों से उसकी चूचियों को पकड़ लिया और उसके ऊपर लेट कर उसकी गांड पर लंड को घिसने लगा. पहले तुम वादा करो कि किसी को नहीं बताओगी इस बात के बारे में।वो बोली- ठीक है नहीं बताऊंगी.

ये सुनकर मैंने ताबड़तोड़ 20-25 धक्के खींच खींच कर लगाए और अपना सारा माल उसकी चूत में ही उगल दिया. मेरी पत्नी से सम्बन्ध विच्छेद के बाद मेरा सेक्स जीवन ख़त्म हो गया था. तभी उसने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और मैंने लंड से अपनी चुदाई स्पीड और तेज कर दी.

एक्सएक्सएक्सी वीडियो

मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और अपनी स्पीड को थोड़ा बढ़ा दिया. पापा ने दीदी की चिकनी चूत में लंड दे कर धक्का दिया और दीदी की हल्की सी चीख निकल गयी. वैसे चाची के एक लड़का और एक लड़की थी लेकिन वो दोनों ही बाहर पढ़ाई कर रहे थे.

अब मैं नीचे से जोर जोर से झटके दे रहा था और वो अपनी गांड उछाल उछाल कर मज़े ले रही थी. बेटा अपनी कार में ऑफिस चला गया और बहू पास के जिम में!और मैं बाहर बने पार्क में टहलने लगा.

मैंने मम्मी का घूंघट हटाकर उनके माथे को चूमा, और उनके होठों पर अपने होंठ रख दिये.

मेरी इस हरकत से कल्पना अपनी चूत उछालते हुए और तेज मादक आवाजें निकालने लगी. फिर मैंने पान की दुकान से एक सिगरेट का पैकेट लिया और उसके घर आ गया. उसके बाद मैंने उसके हाथ को अपने लंड पर रखवा दिया और अपने हाथ से ही उसके हाथ को अपने लंड पर ऊपर नीचे करवाने लगा.

मैं तो उसमें इतना खो गया कि पूरा रस पी गया और मेरा पूरा चेहरा भी गीला हो गया. उसने मेरी तरफ देख और पूछा- क्या सहलाऊं?मैंने अपने लंड पर उसका हाथ रखा और कहा- इसे लंड कहते हैं. सारिका का हाथ हिलाकर उसे जगाते हुए मैंने पूछा- सारिका, ये जो पोर्न वीडियो में दिखाया जाता है, क्या ये सही में किसी स्कूल का किस्सा है?इतना कहते कहते मैंने मोबाइल सारिका को पकड़ा दिया.

रवि ने एक कम्बल निकाला और हमने उसे फैला कर कमर तक रख लिया और बीच में पत्ते फेंकने लगे.

बीएफ सेक्सी हिंदी में भोजपुरी: इसलिए जब मैंने उसकी झांटों की बीच से उसकी चुत की फांकों पर जब हाथ लगाया, तो उसने मेरा हाथ बाहर निकाल दिया. मैं उसके पास गया और काम निपटाकर वापस होने के लिए बाहर गली में खड़ा हो गया था.

कुछ दिन बाद उसने बताया कि वो लव लेटर किसी ने नहीं दिया था बल्कि मुझे फंसाने के लिये उसने खुद लिखा था।मैंने उसे कहा- तू बहुत बड़ी कमीनी निकली. तब से ही मेरा भी मस्ती करने का बहुत मन कर रहा था। फिर तुम मुझे अच्छे लगने लगे. मैंने उसकीं चूचियों पर व्हिस्की डाली और चूचियों के निप्पल से ही दारु की धार का मजा लिया.

मैं बता दूं उसका लंड 7 इंच का था, मेरे मुँह के अन्दर जा ही नहीं पा रहा था.

ढाबे में खाना खाने के बाद हम लोग फिर से घर की ओर चलने के लिए तैयार थे. मैंने पूछा- मामाजी और क्या करते हैं इनके साथ?वो बोली- इनको दबाते हैं. मैं थोड़ा सब्र से काम लेना चाहता था इसलिए मैंने मम्मी को सिनेमा चलने के लिए राजी कर लिया.