रांची बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ बीएफ सेक्सी वीडियो फुल एचडी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो.xxx: रांची बीएफ, कहानी को आगे बढ़ाने से पहले मैं अपने शरीर के बारे में भी बता देता हूं.

बिहारी सेक्सी गाने

नजरें मिलते ही एक पल रुकते और अगले पल हम दोनों फिर से चूमाचाटी शुरू कर देते. गांड में चुदाई वीडियोलगभग पांच मिनट की चुदाई के बाद उसे आराम आ गया और वो भी अपनी कमर को हिलाने लगी थी.

मैंने भी कोई ज्यादा ध्यान नहीं किया लेकिन रात 2 बजे तक वो ऐसे ही जाग कर करवटें ले रही थी. बीएफ ब्लू वीडियो एचडीमैंने बिना वक़्त गंवाए उससे पूछा- क्या मैं तुम्हें किस कर सकता हूँ, अगर तुम बुरा न मानो तो?कुसुम- बिल्कुल … तुम कर सकते हो.

उसने मुझे टेबल पर लिटाया और मेरी चुत पर थूक लगा कर अपने मोटे और बड़े लंड से चुत की फांकों से सहलाने लगा.रांची बीएफ: ऊपर से शुभम उन फिल्मों के सेक्स सीन की बड़ी विस्तार से चर्चा करके मेरी आग को और भी ज्यादा भड़का रहा था.

जब उसने शालू को मेरी बेटी अनु की शादी में देखा था तब से ही वो उसे पसंद करने लगा था.वो देखने में तो सही दिखता था लेकिन फिर भी वो मर्दों वाली बात उसमें दिखाई नहीं देती थी.

स्कूल या लड़की के बीएफ - रांची बीएफ

जिसके कारण उन्हें सर्दी लग रही थी।उसको कांपते देख कर मैंने कहा- शायद आपको सर्दी लग रही है.हालांकि इस उम्र तक मैंने कभी चुदाई नहीं की थी तो मुझे इन सब बातों के बारे में जानकारी नहीं थी.

उस दिन अंकल ने मुझे एक बार और चोदा और मेरी चुत की आग को अपने लंड के पानी से शांत कर दिया. रांची बीएफ मेरी ये सेक्स कहानी मेरी पड़ोस में रहने वाली भाभी के संग चुदाई की कहानी है.

शायद भाभी ने मुझे ये करते देख लिया था कि मैं उनकी खुली टांगों का निमंत्रण स्वीकार कर चुका हूं.

रांची बीएफ?

मैंने उसे वापस बिस्तर पर लिटा दिया और लंड चुसवा कर उसके मुँह में ही खाली हो गया. मेरी बहन राजश्री यह सुनकर परेशान सी हो गयी और बिना कुछ बोले अपनी क्लास में चली गयी. थोड़ी देर के बाद एक बुजुर्ग अपनी बकरी लेकर आया और बकरा देने का गुहार लगाई.

वो सब समझ गई थी कि मैंने उसकी फिंगरिंग करते समय की मादक आवाजें सुन ली हैं. पीछे एक हाथ लाकर उसने मेरे सिर को अपनी चूत की तरफ दबाना शुरू कर दिया. सुविधा बोली- मगर सर … मैं तो वकालत का नाम कमा कर बैठने की बात कर रही थी.

उसने मुझसे कहा- याद है मैंने तुम्हें उस दिन बुद्धू क्यों कहा था?मैंने कहा- नहीं, क्यों कहा था बताओ?उसने मेरे लंड को एक बार चूमा और कहा- मुझे ये वाली डेयरीमिल्क चाहिए थी. वो मुझसे बोलीं- राज अनाड़ी हो क्या? मैं कहीं भागी जा रही हूँ क्या … आराम से करो. अंदर जाकर वो पूछने लगी- तुम्हें पहले तो कभी इस बिल्डिंग में नहीं देखा.

चूंकि इस समय मम्मी बिल्कुल नंगी थीं, उनके चूचे साफ़ साफ़ चमक रहे थे और उनकी बालों वाली पिंक चूत भी साफ चमक रही थी. मैं एक मिनट के लिए दूसरी तरफ देखने लगा, पर जब अचानक से मैंने पलट कर देखा तो पाया कि मैनेजर और उसका स्टाफ मेरी पत्नी रानी की देख रहे थे.

मगर जब तक हम खंडहर में पहुंचे उसके बदन को बारिश ने गीला कर दिया था.

मैंने उसके होंठों को चूसना शुरू कर दिया तो उसने मुझे फिर से पीछे धकेल दिया.

वैसे तो मुझे डर भी लग रहा था लेकिन मैंने सोचा कि अगर चाची ने पुणे जाने के बाद मुझे अपने साथ सोने नहीं दिया तो चाची की नंगी फोटो मेरे काम आ जायेंगी. [emailprotected]भाभी की चुदाई कहानी का अगला भाग:अनजान भाभी की चुदाई उसी के घर में-2. भैया ने मुझे देखा और बोले- क्या हुआ सन्नी … कहां खो गया?मैंने कहा- बस भैया आपके ख्यालों में!वो हंस कर बोले- मेरे ख्यालों में क्यों?मैं बोला- आपके एब्स और पैक्स, चेस्ट और बाइसेप्स देख कर मेरा मन मचल उठा.

मेरा नाम साहिल खान है मेरी सेक्स कहानी के पिछले भागमामी की चूत चुदाई की सेक्स कहानी-1में आपने पढ़ा था कि मैंने अपनी रुकसाना मामी की चूत चोद कर लंड का माल उनकी बुर में ही डाल दिया था. जब वो चलती, तो उसकी एक टांग पूरी नंगी होते हुए चुत वाले एरिया तक दिखने लगती. जब वो अपनी गांड हिलाने लगी, तो मैं समझ गया कि इसने लंड से दोस्ती कर ली है.

10 मिनट में पापाजी ने अपना माल मेरे मुँह और मेरे चेहरे पर निकाल दिया.

दोस्तो, मुझे मम्मों को चूसना और निप्पलों को कुतरना बहुत अच्छे से आता है. मैंने उससे कहा- लंड ठीक से निकाल कर देख लो और तुम दोनों बारी बारी से लंड चूस कर मजा लो और मुझे भी मजा दो. क्लास में आने के बाद उन्होंने अपना परिचय देना शुरू किया- मेरा नाम तन्वी है और एक एक करके आप सब अपना परिचय दीजिये.

उसने सारे कपड़े उतार कर कार की छत पर रखे और अंदर आ कर मेरे उपर लेट गया. यश ने आगे बढ़ कर मेरी कमर पकड़ ली और प्यार से मेरे होंठों पर किस करने लगा. फिर एकाएक मेरे मुंह से जोर की आवाजें निकलने लगीं और मैं उसकी चूत में ही झड़ने लगा.

मैं तेजी से कार दौड़ा रही थी कि तभी मां का फोन बजने लगा कि पापा देर से आयेंगे और मां भी घर से देर से पहुंचेंगी.

वो मुझे ऐसे बोला, तो मुझे बड़ा अच्छा लगा और वो मुझे झाड़ियों में ले गया. अब आपका और ज्यादा समय न लेते हुए मैं अपना अनुभव आप लोगों के साथ शेयर करने जा रही हूं.

रांची बीएफ तभी पति ने मुझे बेड पर लिटा दिया और मेरी टांगें खोलकर देखने लगे जहां पापाजी का माल सूख चुका था. तो भाभी आँख दबा कर बोली- बहुत संभाल कर रखा है … कभी तो उसके दर्शन करवा दो.

रांची बीएफ मैंने उसके पीछे से जाकर लंड को सही जगह पर सैट किया और लंड अन्दर पेल दिया. तभी मैंने ज़ोर से एक चांटा उसके गाल पर मारा और कहा- आह ले साली रंडी चुद बहन की लौड़ी!मैं दनादन चुत चुदाई में लग गया और उसे चांटे मारता हुआ उसको गाली देने लगा.

क्या तुम अकेली हो घर पर?तो बोली- नहीं … अभी भैया और उनके भाई यही हैं.

राजाराणी रिजल्ट

यश ने मुझे पकड़ कर उठाया और अजीब तरह के पोज़ में खड़ा करके पीछे से फिर चोदने लगा. चूंकि मैं पहली बार किसी की चूत चोद रहा था इसलिए मैं ज्यादा देर खुद को काबू नहीं कर पाया. मैं उस समय तक कुछ इस विचारधारा का था कि सभी को अपनी सेक्स लाइफ खुल कर जीने का हक है और भाभी जी ने यदि कोई सेक्स क्लिप देखने के मोबाइल में रखी है, तो ये उनका निजी मामला है.

अम्मी के बाजार जाते ही मैंने बाहर का गेट बंद कर दिया और मामी को किस करने लगा. मैं अगली रात भी उस नर्स की चुदाई करना चाह रहा था लेकिन वो कुछ नखरे से करने लगी. तो दोस्तो, यह थीसेक्स स्टोरीआप लोगों को कैसे लगी? मुझे ईमेल करके बताएं.

उसके बाद मैंने ताबड़तोड़ उसकी चूत में लंड के धक्के लगाना शुरू कर दिया.

जो गुजराती जानते होंगे, वो समझ गए होंगे कि लंड के दर्द से फड़फड़ा रही लौंडिया क्या बक रही थी. यह किस्सा उस वक्त का है जब मैं कंप्यूटर की पढ़ाई पूरी होने के बाद ट्यूशन क्लासिस में नौकरी पर सैट हो गया था. पर तुम मुझे उनसे भी खूबसूरत लगती हो, तुम्हारी सील तोड़कर मैंने तुमको कली से फूल बनाया है। तुमको चोदने के चक्कर में तो बहुत लड़के पड़े होंगे.

वो बोली- किस न? ओके कर लो यार, तुमको जितना करना है … कर लो क्या भी याद करोगे कि किसी दिलरुबा से पाला पड़ा था. भाभी जी की आह निकल गई और वो टांगें खोल कर चुत की चुसाई करवाने लगीं. चड्डी मैं घर में पहनता ही नहीं। तो अब कमीज़ के नीचे से मैं बिल्कुल नंगा हो चुका था.

फिर पति बोले- मज़ा आया या नहीं?मैंने कहा- आपने सच कहा था; पापाजी का लंड वाकई बहुत मोटा है और मज़ा देता है. बड़ी तेजी से स्रावित हो रही थी और इसके साथ ही मुझे अपने छाती से भींचे जा रही थी.

मैंने उसको वहीं सोफे पर गिरा लिया और उसकी जांघों से पैंटी भी निकाल दी. मेरा लंड धीरे धीरे उसकी चूत में और अन्दर जा रहा था और उसकी कराहने की आवाज़ और भी ज़्यादा बाहर आ रही थी. मेरा लंड पहले ही टाईट हो गया था, उसके लंड पकड़ने से लंड एकदम से फनफनाने लगा.

मेरी बहन की कमसिन सी चूत के बारे में पढ़कर आपको मलाल होगा कि काश मैं भी दिनेश (बदला हुआ नाम) की बहन की चूत को चोद पाता.

उसके मुंह से कामुक आवाजें निकलने लगीं- आह्ह … और तेज … आह्ह … मजा आ रहा है … चोदो … देवा … और तेजी से … ओह्सश् मसल दो मेरी चूत को. एक दिन मैंने घर में एक अन्जान पुरूष को देखा तो जांच की तो पता चला कि किरायेदार की बीवी चालू है. वो बोली- यार क्या कर रहे हो … सही से डालो ना … इतना क्यों तड़पा रहे हो.

वापस लौटते समय मैंने फिर से गड्डे में बाइक के झटके लेते हुए उसकी चुचियों की रगड़न का मजा लिया, तो मोनिया ने मेरी ख्वाहिश समझ ली. उसके गीले बाल और उसकी तनी हुई चूचियां देख कर मैंने उसको खा जाना चाह रहा था.

मैंने चाची की उत्तेजना बढ़ते हुए देखी, तो मैंने उनकी पैंटी भी उतार दी. हिंदी सेक्स स्टोरी का पहला भाग:गर्म सलहज और लम्पट ननदोई-1शादी के बाद सुहागरात पर मेरे पति मेरी चूत का कुछ ना कर सके. शाम 6 बजे मेरी आँख खुली तो पापाजी सो रहे थे और उनका लंड खड़ा हुआ था.

सेक्सी वीडियो मूवी दिखाओ

अपनी स्टोरी के अगले भाग में मैं आपको बताऊंगी कि कैसे टोनी ने मेरी मस्त चूत की सील तोड़ी.

अम्मी के बाजार जाते ही मैंने बाहर का गेट बंद कर दिया और मामी को किस करने लगा. मैं एक प्राइवेट कंपनी में काम करता हूँ और उसी कंपनी की तरफ से कॉर्पोरेट क्रिकेट खेलता हूँ. मैं भी उठ कर मॉल के एक वाशरूम में गया और उधर जाकर उसकी चुत के नाम से मुठ मार ली.

फिर जब मुझे लगा कि अब किसी भी पल वीर्य निकल सकता है तो मैंने शीशी का ढक्कन खोल लिया. किस तो मिला नहीं लेकिन मामी ने मामा को वो बता दी और मुझे बहुत डांट पड़ी. गुवाहाटी सेक्सी बीएफधीरे धीरे वो फिर गर्म होने लगी … तो मैंने भी अपनी कमर हिलाना शुरू कर दिया.

ओह्ह … ओह्ह … आह्हह … की आवाज करते हुए अपना गरमा गर्म वीर्य मैंने उसकी चूत में भर दिया. चोद कपिल… मुझे अपने बच्चे की मां बना दे आज!मैं अब पूरी ताकत के साथ चाची की चूत में लंड को पेलने लगा.

मेरे मुँह से भी यही निकल रहा था- और जोर से चोदो पापा जी … फाड़ दो अपनी बहू की चूत!मेरे मुँह से ये बातें सुनके पति भी और जोश में आ गए और उनके धक्के और तेज हो गए. उसके बाद मैंने बिस्तर पर तकिया लगा कर उसके ऊपर चादर डाल दी और पीछे वाले दरवाजे रूम से बाहर आ गया. कुछ तो अन्यास लगा था, कुछ मैंने मौके का फायदा उठा कर उसके होंठों को अपने होंठों से दबा लिया.

फिर जब थोड़ी दूर आ गये तो शौहर ने बताया कि जब तुम चल रही थी तो तुम्हारा बुर्का तुम्हारी गांड में फंसा हुआ था. अगर तुमने इस क्रिया में व्यवधान पैदा किया तो प्रक्रिया पूर्ण नहीं हो सकेगी. वो मुझे समझाने लगी- तू उम्र में मुझसे बहुत छोटा है और ये सब सही नहीं है.

मैंने उससे मजाक करते हुए पूछा- क्या दिखा?वो बोली- वो!मैंने कहा- क्या वो?उसने मेरे लंड की तरफ इशारा किया- ये …मैंने पूछा- इसका कोई नाम भी होता है.

कुछ देर इसी स्पीड से चोदने के बाद मैंने उसकी चूत से अपना लंड निकाल लिया. कृति के बगल में लेटकर मैं उसकी चूचियां चूसने लगा और उसकी जांघों पर हाथ फेरने लगा.

अब मैं चाची की पैंटी को भी देख सकता था। चाची दरअसल मुझे हरी झंडी दिखा रही थी. उन्होंने फूलदार मैक्सी पहनी थी जो काफी फिटिंग की थी और गला भी बड़ा था जिसमें हल्के से ऊपर के चूचे दिख रहे थे. लंड को बाहर निकाल कर उस पर हार्ड डॉटेड कॉण्डोम चढ़ाकर उसकी चूत में डाला तो लम्बी सी आहह.

लेकिन अब अनीश से मेरी फिर से बात चालू हो चुकी है। अनीश मेरा भविष्य है और रजत शादीशुदा इंसान जो दूर का भाई भी है।मैं दोनों को एक दूसरे की बात बता नहीं सकती. हमारे मुहल्ले में एक विधवा महिला रहती थी जो किसी स्कूल में टीचर थी, उसकी एक बेटी थी लगभग 20 साल की. जो मुझे भी काफी अच्छा लग रहा था। मुझे उसके हाथ से गर्माहट भी मिल रही थी.

रांची बीएफ गाड़ी खड़ी करके उसने मुझे गुड मॉर्निंग बोला और कातिल नजरों से मुझे ताड़ने लगी. आह क्या मस्त बूब्स थे वो! लग रहा था जैसे काफ़ी फ़ुर्सत से किसी शिल्पकार ने उन्हें आकार दिया हो.

छत्तीसगढ़ी गाना डाउनलोड

मैं शुरू से ही सेक्स को बहुत पसंद करती हूँ और लंड देखते ही मुझे सेक्स चढ़ने लगता है. इस तरह हम दोनों ने चॉकलेट का आदान प्रदान करते हुए एक दूसरे को चूसना चाटना शुरू कर दिया. उसके बाद मैंने ताबड़तोड़ उसकी चूत में लंड के धक्के लगाना शुरू कर दिया.

अब मैंने उसको दोबारा बैड पे लिटाया और उसकी पूरी बॉडी को बेतहाशा प्यार से चूमने लगा और उसकी अंडरआर्म को चाटने लगा. बात दिसम्बर 2018 से शुरू होती है। सिगरेट पीने की आदत की वजह से मैं अक्सर सिगरेट खरीदने पास वाली गली में चला जाया करता था. काजल राघवानी की बीएफभारत जैसे विकासशील देशों के साथ ही कुछ विकसित देशों जैसे चीन, सिंगापुर या फिर पाकिस्तान और इंडोनेशिया सहित कई अन्य एशियाई देशों में पुरूषों के साथ यौन अपराधों की बात स्वीकार नहीं की जाती है.

अजय अंकल मेरी मां की जुल्फों से खेल रहे थे।तभी अंकल में माँ की साड़ी के पल्लू को नीचे किया और मॉम का ब्लाउज देखने लगे.

मैंने एक हाथ से उसके चूचे को दबाते हुए उसे छेड़ा, तो उसने भी मेरे लंड को मसलते हुए कहा- बेबी सब्र नहीं हो है न … मुझे भी जल्दी से ये चाहिए. इतना कह कर उसने राजश्री को सीधी लेटा लिया और उसके मुंह में लंड देकर चुसवाने लगा.

दिशा पटानी का दूसरा हाथ मेरे कंधे पर था। हम दोनों रोमांटिक म्यूजिक के साथ कपल की तरह डांस करने लगे।मुझे शराब का थोड़ा नशा भी होने लगा था।इस समय दिशा के कातिलाना बूब्स मेरी छाती को छू रहे थे. इसलिए अजय अंकल छत पर चले गए और मैं उनकी बातें सूनने उनके पीछे छत पर चुपके से आ गया. तो वो बोली- चुपचाप चुत चाट … नहीं तो तेरी शिकायत कर दूंगी कि तुम मेरे साथ जोर जबरदस्ती कर रहे थे.

मैंने कई बार मॉम को होटल में ले जाकर उनके लिए मोटे लंड की व्यवस्था भी की और उनके सामने लड़कियों को लाकर भी थ्री-सम चुदाई का मजा लिया.

आइ लव यू जीत … आह्ह।मैं भी उसकी चूत में लंड को अंदर बाहर करते हुए उसके चेहरे के रिएक्शन देख रहा था. मैं उसे कस कर पकड़ कर उसके कान में बोली- अमरीश आई लव यू टू!वो पागलों की तरह मुझे चूमने लगा, मेरे होंठ चूसने लगा।हमने एक एक बियर पी और निकलने लगे. मैंने उसके पेट की मालिश फिर से शुरू की … तो वो बोली- पीठ की तो पूरी मालिश की थी … पेट की क्यों अधूरी कर रहे हो?मैं कहने ही वाला था कि ब्रा खुली हो, तभी तो मैं पूरे सामने की मालिश कर सकूंगा … पर मेरे ऐसा कहने से पहले ही उसने अपनी ब्रा का हुक खोल दिया और मेरे सामने उसके मम्मे खुल कर फुदकने लगे.

इंग्लिश बीएफ चोदा चोदीवो बोली- मेरा प्रयास रहेगा कि आधे घंटे में मैं इसे फिर से चोदने लायक खड़ा कर दूंगी. उसने थोड़ा सा थूक मेरी चूत पर लगाया और थोड़ा अपने लंड के टोपे पर लगाया.

चेहरे को धोने का तरीका

मैंने उसको बेड पर पटका और उसकी चूत में जीभ देकर तेजी के साथ उसकी चूत को मुंह से ही चोदना शुरू कर दिया. मैं चुत चुसाई से एकदम सातवें आसमान पर थी और मादक सिसकारियां ले रही थी. सुबह मैं 5 बजे निकला और 6-7 घंटे के सफर के बाद मैं गांव पहुंचा। मुझे देखकर सब घर वाले खुश हो गये। गांव के घर में मेरी दादी, चाचा, चाची और उनके दो लड़के रहते हैं।चाची को देखकर ऐसा लग रहा था जैसे कोई काम की देवी साक्षात इन्सान का रूप लेकर मेरे सामने उतर आई हो.

हनी को उम्मीद नहीं थी कि मेरे मुंह से अनायास ही उसके हुस्न की तारीफ में इतने रसीले शब्द टपकने लगेंगे. राजा- अच्छा … ये बात … बोलो तो रात भर के लिए रुक जाऊं क्या?अंजलि- हां, प्लीज. बुआ- ठीक है, रुक मैं अभी आती हूँ।मैं- कहाँ जा रही हो आप बुआ जी?बुआ-गेट बंद करके आती हूँ।फिर बुआ गेट बन्द कर के सीधी मेरी रजाई के अन्दर घुस गयी। बुआ का मुंह मेरी तरफ और मेरा मुंह बुआ की तरफ था.

उसने एक मिनी स्कर्ट और बिना बांहों वाला टॉप पहना हुआ था, जिसका गला काफी गहरा था. क्योंकि जिस एरिया में हम दोनों आए थे, उसकी पहचान के बहुत सारे लोग उस एरिया में रहते थे. उसके घर में एसी फुल कूलिंग पर चल था, हम दोनों तब भी पसीने पसीने हो गए थे.

तो चाची ने अपनी बेटी को दूसरी तरफ लिटा दिया और मैं चाची के साथ सो गया. इस बात का पता मुझे बाद में चला था इसलिए मैंने उस इलाके के सुनसान होने का फायदा उठाने की सोची.

वो बार बार मेरे लंड पर अपनी गांड से सहला रही थी जिससे मेरे लंड में एक वेग सा उठते हुए उसमें जोर का उछाला दे रहा था.

मैंने उस महिला से पूछा- आपको कैसी मसाज लेनी है?इसका जबाव उसके पति ने दिया. प्रियंका चोपड़ा की एक्स एक्स एक्स बीएफतो मैं बोला- इतनी रात में कहाँ से लाऊं दूसरा लंड?मैं रसोई में गया और मोटा खीरा लेकर आया और उसकी चूत में डाल दिया. बीएफ एचडी हिंदी मूवीजब उसने देखा कि मुझे इसमें मजा आया तो उसने मेरे लंड को एकदम से मुंह में भर लिया. मुझे बहुत शर्म आ रही थी कि मैं चाची की पैंटी ढूंढने में उनकी मदद कर रहा था.

सारे पड़ोसियों को बता दूंगी कि तुम मेरे साथ जबरन सेक्स करने की कोशिश कर रहे थे.

मैम ने कहा- कोई बात नहीं … तुम्हें चोट तो नहीं लगी?मैंने कहा- नहीं मैम … मैं ठीक हूँ. दूसरे दिन भी दोपहर में कोई नहीं था, तो बाहर का गेट बंद करके हम दोनों मामी और भांजे चुदाई में लग गए. मैंने ये सुनते ही उसकी देसी अंदाज़ में उसको पकड़ा और चूमने लगावो भी अपनी तरफ से मुझे पूरी दम से चुम्मी दे रही थी.

’ सी घुटी हुई ऐसी आवाज आ रही थी, जैसे किसी ने उनका मुँह दबा रखा हो. चूत के समीप पहुंचते ही उसने मेरे सर का बाल पकड़े और मेरे मुँह को अपने योनि पर कस कर दबाने लगी. ”मैं उनसे चिपक कर उनके दूध में मुँह डाल कर सो गया और एक हाथ उनकी गांड पर रख कर।एक घंटे बाद मेरी नींद खुली तो मैंने देखा कि मामी मुझे अपने बदन से बिल्कुल चिपकाए हुए हैं और मेरे बालों को बड़े प्यार से सहला रही हैं.

संभोग कहानी

फिर मैंने अपने घर आकर मेरे बेटे को ट्रॉफी दी, तो वो बहुत खुश हो गया. जैसे ही उसने देखा कि उसकी बेटियां और बीवी किसी मर्द से चुद रही हैं तो उसने हल्ला करना शुरू कर दिया. मेरी गर्दन को चूमते हुए अपनी चूत को मेरे हाथ मेरे हाथ पर मसलने लगी.

मैं आप सभी पाठकों के लिए जल्दी ही फिर से कोई नयी सेक्स कहानी लेकर लौटूंगा.

मैं रात को नॉयडा की उस जगह परांठे खाकर स्टेंड पर खड़ा हो गया और कैब को बिना बुक किए उसका इंतजार करने का दिखावा करने लगा.

तभी पापाजी ने मेरी गांड में एक उंगली डाल दी और उसे अंदर बाहर करने लगे. अब तो भाभी खुल करगर्लफ्रेंड के साथ सेक्सकी बातें भी पूछ लिया करती थी. सेक्सी बीएफ हिंदी बिहार केरोहित भी ममता की रसीली मुनिया को पूरी तरह से चाट-चूस कर परमानन्द प्रदान कर रहा था.

कम ऑन फास्ट … और ज़ोर से … मेरे पति का लंड मुझे संतुष्ट नहीं कर पाता है … पर आज मैं बहुत खुश हूँ कि मेरे पति ने मुझे एक पराए मर्द से संतुष्ट करवा दिया … मुझे अपने पति पर गर्व है … तुम मुझे चोद कर संतुष्ट कर दो … आह आह. कुछ देर बाद उसने पानी छोड़ दिया और मुझसे बोली- भैया बस करो!तो मैंने कहा- बस थोड़ी देर और!मैं जोर से धक्के लगा कर उसको चोदने लगा।कुछ देर बाद मेरा शरीर अकड़ने लगा, मैं पीहू के ऊपर लेट कर और जोर से धक्के लगाकर उसे चोदने लगा. रानी की ये ड्रेस नीचे से एक तरफ से पूरी ओपन थी, जिस वजह से रानी की एक टांग उसकी कमर तक पूरी नंगी दिख रही थी.

ये सुनकर लंड के नीचे दबी छोटी हंसने लगी- जीजी, अभी तुम्हारे थनों में दूध किधर से निकलेगा. अब तो भाभी खुल करगर्लफ्रेंड के साथ सेक्सकी बातें भी पूछ लिया करती थी.

मेरे मन में ये सोचकर रोमांच पैदा हो रहा था कि ये लोग भी मुझे ऐसे ही देखा करेंगे.

इंस्पेक्टर ने अपने लंड के धक्कों की गति मेरी चूत में और बढा़नी शुरू की. उसने बताया कि वह अपनी किसी सहेली की शादी में दिल्ली गई हुई थी। उसके साथ उसकी तीन अन्य सहेलियां भी थी. उसके बाद मैंने उसके चाचा की दूसरी बेटी अनु की चूत चोदी और साथ ही उसकी बुआ की दूसरी बेटी मीनू की चूत भी फाड़ दी.

ब्लू फिल्म इंडियन ब्लू फिल्म इंडियन इससे होता ये है कि आपकी पार्टनर इस खेल में पूरी तरह से शामिल हो जाती है. मैं भी उसके जिस्म की गर्मी से आंखें सेंकने के लिए हाजिर हो जाता था.

फिर पापा ने मुझे नीचे गिराया और मेरी स्कर्ट ऊपर करके मेरी कच्छी को नीचे कर दिया. मेरे पति ने मुझे फोन करके मुझे जन्मदिन की बधाई भी देना जरूरी नहीं समझा. इसके बाद मैंने भाभी की गांड भी मारी और भैया को हमारे बारे में पता भी चल गया.

भूतनाथ दिन चार्ट

कुछ देर डॉगी स्टाइल में चोदने के बाद पापा जी ने मुझे फिर से सीधा लिटा दिया और अपना लंड फिर से डाल दिया. पापा ने मेरी बुर का गर्म रस चाटने के बाद भी मेरी चुत को चुसना नहीं छोड़ा. अन्तर्वासना के मामले में पुरुष ही सदा दोषी माना जाता है कि पुरुष ही हर वक्त सेक्स के लिए लालयित रहता है.

अब मैंने उसके पैर और जांघों की मालिश शुरू की, जिससे वो बहुत ज्यादा गर्म हो गई. मैंने नीचे जाकर शिल्पा की मां से पूछा- क्या ये आपके कोई रिश्तेदार थे?वो बोली- हां.

व्यवस्था इस प्रकार से बनी कि रात को हनी अस्पताल में रुकती, सुबह नौ बजे मैं अपनी पत्नी को अस्पताल ले जाता और हनी को अपने घर ड्राप करके अपने ऑफिस चला जाता.

तो वो बोली- चुपचाप चुत चाट … नहीं तो तेरी शिकायत कर दूंगी कि तुम मेरे साथ जोर जबरदस्ती कर रहे थे. मैंने जोर लगा कर धक्का दिया तो लकड़ी का वो दरवाजा धीरे से हटकर खुल गया. मैंने मां को थोड़ी देर और परेशान किया लेकिन अंत में मैंने मां की बात मान ली और नहीं गया.

टोनी ने उसकी टांगों को पकड़ कर लंड का धक्का दिया और उसकी चूत में टोनी का लंड घुस गया. हालांकि वो रोजाना नाइट ड्रेस पहनती है लेकिन आज वो पटियाला सलवार और टाइट फिटिंग की कुर्ती पहन कर ही सो रही थी. तभी वो हँसने लगीं और कहने लगीं- अरे यार तुम तो बहुत फट्टू हो … लंड खड़ा करना जानते हो, मुझे दिखाना जानते हो … पर जिगर ज़रा भी नहीं है.

उसने पीछे आकर मुझे अपने ऊपर खींच लिया और मुझे अपने बदन से लिपटाते हुए मेरी कमर पर नाखून चुभाने लगी.

रांची बीएफ: उसने रानी को लिटाया और टॉयलेट के पास आकर मुझसे कह दिया कि मैं आपकी पत्नी को रूम में छोड़ आया हूँ. उसके मुखे से निकल रहा था ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’फिर मैंने उसको चोदना शुरू कर दिया.

मैंने दरवाजे पर उसका नाम पढ़ा और कन्फर्म किया कि यही वो घर है, जिधर मुझे बुलाया गया है. मैंने सोचा कोई जल्दी नहीं है, आराम से काम करते हैं और मैं उसकी पीठ सहलाने लगा. मैंने चाची को चूमने के साथ ही हौले हौले उनके मम्मों को दबाना शुरू कर दिया.

उसके जाने के घंटे भर बाद ही उसका मैसेज आ गया जिसमें उसका पता लिखा हुआ था.

अभी भी मैं काफी फिट हूं क्योंकि फौज में खुद को फिट रखना बहुत जरूरी होता है. पहली बार में मेरा लंड उसकी बुर बहुत छोटी होने के कारण फिसल गया … जिससे वो हंसने लगी. वो लंड के स्पर्श से एक बार सिहर गई, पर दूसरे ही पल उसे चुत में चुनचुनी होने लगी और उसने नीचे से अपनी गांड उठा कर मुझे सिग्नल दे दिया.