हरियाणवी बीएफ हिंदी

छवि स्रोत,भाभी की सेक्सी भाभी की सेक्सी फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

करवा चौथ के गाना: हरियाणवी बीएफ हिंदी, 5 मिनट तक यूं ही हम चूत चटाई करते रहे और बीच बीच में उंगली से भी चोदते रहे.

ब्लू पिक्चर सेक्सी वीडियो हिंदी मूवी

उसने फिर से मेरी मम्मी से पूछा- तुमको अन्दर से गर्मी लग रही या बाहर से?मेरी मम्मी ने उसकी तरफ हंस कर देखा और पूछा- तुमको अन्दर से गर्मी लग रही है क्या?वो बोला- हां मुझे तो अन्दर से आग सी लग रही है. नायरा की सेक्सी पिक्चरभाभी के होंठों को चूमते हुए, मैंने उन्हें बांहों में भरकर करवट बदल ली और अब भाभी मेरे ऊपर आ गईं.

जिया एकदम से चीख उठी- आह … अम्मा … मर गई … मुझे मार ही डालेगा क्या!मैं लंड ठोकने लगा और बोला- साली, चुत चुदवाने से आज तक कोई लौंडिया नहीं मरी. इंडियन सेक्सी बातेंमैंने उनको गोद में लिया और फिर बेड पर पटक कर फिर उसकी चूत में लंड पेल दिया.

चूंकि गांव के बाथरूम कमरे से अलग कॉमन ही होते थे, तो ठाकुर की सास बाथरूम के अन्दर अपने आपको साफ कर रही थीं.हरियाणवी बीएफ हिंदी: अब वो मेरे घर भी आने जाने लगा था।एक दिन शाम को मैं अपने बेडरूम में सागर को अपनी बेड पर लिटा कर उसकी पैंट की चैन खोल कर उसका तगड़ा लौड़ा चूस रही थी.

मैं एक फैक्ट्री में नौकरी करता हूँ। कभी कभी मैं अपने पिता के साथ भी काम करवा देता था.मैंने भाभी से कहा कि जानेमन तुम एक बच्चे की मां की हो, पर तुम तो खूबसूरती के मामले में लड़कियों को पीछे छोड़ दे रही हो, आखिर तुमने खुद को इतना मेंटेन कैसे रखा है!भाभी ने मुझसे कहा- मैं पहले से ही ऐसी हूँ … और मैं अभी भी रोज सुबह योग करती हूँ.

मधु का सेक्सी भोजपुरी - हरियाणवी बीएफ हिंदी

उसकी इस बात पर मैं मज़ाक में बोला- अगर अकेले में नींद नहीं आ रही है तो बोलो तो मैं आ जाता हूँ.मैं पहली बार प्लेन से जर्नी करने जा रही हूं और एयरपोर्ट्स के बारे में कुछ भी जानकारी नहीं है; मुझे तो समझ ही नहीं आ रहा था कि यहां दूध कहां से मिलेगा और फिर ये सामान छोड़ कर कैसे दूध की शॉप तलाशने जाऊंगी.

क्योंकि उसे मालूम था कि कहीं फिर से मम्मी उसकी बात को हवा में उड़ा दें. हरियाणवी बीएफ हिंदी मौसी- तुम तो वहां जाकर मुझे भूल ही गए?मैं- नहीं मौसी, आपसे तो मैं बहुत प्यार करता हूं.

मैंने कहा- बाबूजी तो कहीं जाते नहीं और बाबूजी को अकेले घर छोड़कर जाना ठीक नहीं इसलिये तुम शुभम को ले जाओ.

हरियाणवी बीएफ हिंदी?

मेरी शादी के समय तुम्हारी सास भी तुम्हारे जैसी दुबली पतली थी और मुझे भारी बदन की, मोटे चूतड़ और बड़ी चूचियों वाली औरतें पसन्द हैं, इसलिये शादी के तीन साल में ही उसका बदन भर गया था. सबसे मिलने के बाद संजय का दोस्त बोला- यार भाभी तो बड़ी मस्त हैं … तुझे इतनी सुंदर बीवी कहाँ से मिली … हमें भी बता दो वहां का पता. फिर ज़ोहरा आपा अपना गाऊन सम्भालती हुई बोली- भाई, आधी रात को एक बार मेरे कमरे पर जरूर आ जाना!मैंने भी खुश होते हुए कह- ठीक है आपाजान!ज़ोहरा हंस कर- आपा को अपनी जान बना लिया? बदमाश कहीं का! अब तू जा … कहीं शनाज़ को शक हो गया तो गड़बड़ हो सकती है.

वो जोर जोर से मेरे लंड पर मुंह चलाने लगी थी और मुझे अब दोगुना मजा आने लगा जैसे मेरा लंड मुंह में नहीं बल्कि चूत में जा रहा हो. धीरे धीरे उसकी चुत में मेरा लंड जगह बनाता गया और वो दर्द की जगह मज़े में डूबने लगी. मैंने पूछा- कैसी सफाई?वो बोली- तभी तो कह रही हूं, रात को बात करेंगे, अभी यहां सारी बात नहीं बता सकती.

उसने एक जोर का धक्का मारा और सेठानी की आह्ह … के साथ कल्लू नौकर का लंड उसकी चूत में उतर गया. प्रियम[emailprotected]सेक्स वासना कहानी का अगला भाग:हवाई यात्रा में मिली एक हसीना- 2. शालिनी बोली- सुबह तक का इंतज़ार नहीं हुआ आपसे, जो रात में बुला लिया?मैंने कहा- अरे यार, कल मैं अपने बेटे के पास जा रहा हूँ.

उस बैग से उसने एक शराब की बोतल निकाली और एक ट्रे में चार गिलास डाल कर उसमें ढालने लगा. उसने लंड का सुपारे नंगा किया और अपनी जीभ सुपारे के चारों ओर घुमाने लगी.

उसका मोटा लम्बा बैंगन जैसा लंड मैंने देख लिया था और मुझे अब किसी भी वक्त चैन नहीं था.

अलीमा के पेट पर किस करते हुए बलविंदर उसके नीचे आ गया और अलीमा के स्कूल की ड्रेस के स्कर्ट को एक झटके से नीचे खींचते हुए निकाल दिया.

फिर मुझसे कहा- मैडम, आपका नाम लिस्ट में नहीं है और मुझे आपके शौहर कहीं नहीं मिले. मैंने किरण से पूछा- कभी दारू पी है?किरण ने बताया- कभी नहीं और निखिल भी नहीं पीते थे. फिर मैंने देखा कि ट्रेन छपरा से सोनपुर के 3 घंटे के सफर में 7 ट्रेन थीं तो मैंने भाभी से पूछा कि अगर आप चाहें तो हम इधर उतर कर किसी होटल या रूम में एक घंटे चुदाई का मजे कर सकते हैं.

मैंने उसकी चूत को सहलाते हुए कहा= अजय जी को एक दो दिन में कॉफी के लिए बुला लूं?इस पर उसने तुरंत हां बोल दी. उनके बारे में सोचते ही मेरे लिंग में तनाव आ जाता था और जब तक मैं अपने लिंग को हस्थमैथुन करके रगड़ नहीं लेता था तब तक मेरा लिंग मुझे चैन से नहीं रहने देता था. दीपू की कड़क गीली चूचियों को जोर जोर से चूसते हुए मैं उसके निप्पलों को काट रहा था.

फिर मैंने थोड़ा सा घी लेकर उसकी गांड में लगा दिया फिर सुपारे को गांड के छेद से सटा कर उसकी कमर मजबूती से पकड़ ली और लंड की मुण्डी को गांड के छेद से सटा दिया और धक्का मार दिया.

पर मैंने कुछ कहां नहीं और अगले दिन आने का कह दिया कि मेरे छोटे भाई की पत्नी यहां एक सरकारी ऑफिस में अधिकारी पद पर नियुक्त हुई है और सिर्फ उसे ही अपने छोटे बच्चे के साथ यहां रहना है, कल वही आकर देख के फैसला करेंगी. वो बोली- अपने लंड को मेरी बुर से टच करवाओ न!मैंने कहा- तुम्हें ये सब कैसे आता है?उसने कहा- मोबाइल में देख कर सीखा है. साले बहन को चोद कर मन नहीं भरा, जो मॉम की चुत बजाने के लिए सोच रहा है.

जैसा कि मैंने बताया कि न तो अफजल उसे जानता था और न ही वो अफजल को जानती थी. उसकी बीवी के गीले बदन को को चूसते और चाटते हुए उसकी चूत मारने में अलग ही मजा आया. क्योंकि मैंने अपनी बीवी को कम और ज़ोहरा आपा को पिछले दिनों ज्यादा चोदा था.

जवानी आते ही मुझे अपनी चचेरी बहन अच्छी लगाने लगी, मुझे उससे प्यार हो गया.

ऐसा देखकर मैंने अपनी ट्रेन चलाई तो प्रीति भी उचक उचक कर चुदवाने लगी. मैं आपा के कमरे में गया और उनकी डेट के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि उनकी डेट शनाज़ से 2 रोज पहले थी जो नहीं आयी थी.

हरियाणवी बीएफ हिंदी तो मैंने पूछा- अच्छा जी, तो कैसे थका देते हैं आपके पति आपको?उसने बोला- लगता है कुंवारे हो, तभी ऐसी बातें पूछ रहे हो. तो वो हँसती हुई बोली- नहीं भैय्या, मैं नहीं दूंगी।मैंने अपने हाथों का दबाब उसकी चूचियों पर थोड़ा और बढ़ाते हुए, जिससे उसे पता चल जाये कि मैं उसकी चूचियाँ दबा रहा हूँ, और अपने होंठों को उसके गर्दन से सटाते हुए बोला- ज्योति दे दो।ज्योति हँसती हुई बोली- भइया, मैं नहीं दूंगी.

हरियाणवी बीएफ हिंदी उसके बाद मेरे साथ बहुत कुछ हुआ लेकिन अभी मैं वो सब अगली कहानियों में बताऊंगी. फिर ठाकुर ने घरघराती हुई आवाज में मंजू से पूछा- चाय कब तक बनेगी?वो इठला कर बोली- बस पांच मिनट में.

अब मेरे मन में बस ये ही सवाल था कि नजमा दीदी ने उसको क्या करने के लिए बोला होगा?तभी राबिया भी टॉयलेट से वापस आ गई और रुबीना से बात करने लगी। मैं ये सोचने लगा कि अब ये दोनों क्या बातें कर रही होंगी.

एचडी में फुल सेक्सी

लंड के चुत पर स्पर्श होते ही वो मचलने लगी और उसकी गांड ऊपर उठ कर लंड लेने को बेताबी दिखाने लगी. नंगी लड़की की चुदाई कहानी अगला भाग:मेरी बहनों ने मेरे लंड का मजा लिया- 3. उसको उसके पापा स्कूल में छोड़ कर आते थे क्योंकि उसका स्कूल गांव से कुछ दूर शहर में था.

उसका एक कारण ये भी था कि अंजलि मां ने परिवार वालों के खिलाफ मेरे पापा के कान भर दिये थे. फिर मैंने कहा- तो फिर और कहां निकालूं? बाहर कहीं निकालूंगा तो सारे कपड़े गंदे हो जायेंगे. चाची मुझे वहां देख कर खुश हो गईं और बोलीं- अरे, बहुत जल्दी आ गए तुम तो!हम दोनों ने पहले तो एक रेस्तरां में नाश्ता किया.

अब मुझे पापा और दीदी की चुदाई के बारे में पता लग गया था और मैं भी अपनी बहन की चुदाई की प्लानिंग करने लगा था.

चूसते चूसते मैंने उसकी पैंटी उतार दी और उसकी चूत के अंदर उंगली करना चालू किया. चूंकि अलीमा बहुत ही अच्छे नेचर की थी, इसलिए उसने बलविंदर से तो कुछ भी विरोध नहीं जताया. मैंने मनजीत को दूसरे रूम में आने का इशारा किया और उठ कर दूसरे कमरे में आ गया.

मेरा मन करता था कि कब मेरी सीलबंद चूत में किसी का लंड जाए और वो मेरी जम कर चुदाई कर दे. वो ब्लाउज भी ऐसा था कि अगर मैं ब्लाउज ना पहनती तो वो उससे ज्यादा अच्छा होता. मैंने मनजीत को दूसरे रूम में आने का इशारा किया और उठ कर दूसरे कमरे में आ गया.

अब बारी पापा की थी, पापा ने तेल डाला पहले बेटी की गांड में … फिर अपने लण्ड में लगाया।मैंने पूर्वी के होंठों को अपने मुंह में भर लिया ताकि वो चिल्लाये न!फिर पापा ने अपनी बेटी की गांड में धीरे धीरे लंड डालना शुरू किया।पूर्वी छटपटाने लगी. फिर एक दिन ऐसे ही बातों ही बातों में उसने मुझसे कहा- कब मिल रही हो भाभी?मैंने भी हंसकर कह दिया- जब आप बोलो.

इस तरह से बारी बारी से मैं चाची और सोनी दोनों की चूत को चोद रहा था. मैंने अक्षय को देखा, तो उसकी आंखों में मुझे चुदाई की हवस दिखायी दी. और उसने मुझे अपने ऊपर खींच कर अपनी बांहों में भींच कर फिर से प्यार करने लगी और आई लव यू बोला।यह सुन कर मुझे भी बहुत अच्छा लगा।इसके बाद क्या हुआ फिर कभी बताऊँगा कि कैसे मैंने उसकी गांड मारी।आपको मेरा अब तक का अनुभव कैसा लगा मुझे बतायें। मुझे आपके मेल का इंतज़ार रहेगा।[emailprotected].

मैंने उसकी आंखों में वासना से देखा और आंखों की भाषा में ही उसको चोदने की लालसा जाहिर कर दी.

वो ठाकुर को अपने से अलग होने के लिए धकेल रही थी, पर बलदेव के बाहुबल के चंगुल से निकलना किसी भी नारी के लिए असंभव कार्य था. वो अपनी चूचियों को मसलते हुए मेरे मुंह पर अपनी चूत को आगे पीछे चलवाते हुए मेरी जीभ से चुदवा रही थी. फिर उसने कहा- तुम तो कह रहे थे कि तुम किसी से बातें नहीं करते … मगर तुम तो बहुत अच्छी बातें करते हो.

चड्डी उतारते ही वो मेरे 7 इंच के लन्ड को अपने हाथ में पकड़ कर आगे पीछे करने लगी।उसने पहले मेरे लन्ड के अग्रिम भाग (लन्ड के टोपे) पर अपनी जीभ लगाई जिससे मेरे शरीर में झुरझुरी सी दौड़ गयी।उसके बाद उसने मेरे लन्ड का टोपा अपने मुंह में डाल लिया और उसको प्यार से अपने मुँह में लेकर चूसने लगी।मेरे हाथ उसके सिर पर आ गए. गांड में लंड लेकर चाची भी मस्त हो गयी और मैं चाची की गांड को पेलने लगा.

फिर मैं जैसे ही नाभि से नीचे अपनी जीभ को लेकर जाने लगा, तो उसने अपने हाथ से मुझे रोक दिया. करीब 20 मिनट में मंजू का संघर्ष अंतिम चरम पर आ गया और उसकी चुत का ज्वालामुखी फूट पड़ा. हम दोनों के लंड और चूत पहले से हल्के गीले तो थे ही … तो उसने अपना लंड आसानी से फिर से मेरी चूत में डाल दिया और मुझे चोदने लगा.

मराठी कॉलेज सेक्सी

मेरी कहानी के पिछले भागपड़ोसन लड़की की बुर चोदन की तमन्ना-2में आपने पढ़ा कि मैंने मास्टर राजेश की बेटी तनु की चूत भी चोद दी.

मेरी सहेलियों की देखा देखी मैंने भी अपनी नाभि और अपनी गर्दन पर टैटू बनवा लिये. उस समय रात के 2 बज रहे थे, मैंने सोचा कि इतनी रात में इतना हॉट माल क्यों ऑनलाइन है. उसके बाद मैंने भाभी की कमर पकड़ कर उसी पोजीशन में भाभी को कुछ देर चोदा.

मुझे मुस्कराता हुआ देख कर मौसी पूछने लगी- क्या हुआ, क्यों मुस्करा रहे हो?मैंने कहा- कुछ नहीं मौसी. या फिर मैं ड्राइवर बनूंगा और तुम मेरी मालकिन बनोगी … और मैं तुम्हें लोंग ड्राइव पर ले जाऊंगा. सेक्सी पिक्चर कोरोनावायरसजब मैं कॉलेज में पहुंची तो पहले ही दिन एक लड़के ने मुझे सेट किया और उसके साथ मैंने पहली चुदाई का मजा लिया.

चूंकि मैं एक लड़की थी और दूसरे राज्य की रहने वाली थी इसलिए हॉस्टल भी जल्दी ही मिल गया. मैंने धीरे से उसके पैरों पर पैर रखा, जब कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई … तो मैंने धीरे से उसकी जांघ पर अपना हाथ रख दिया और उसको चलाने लगा.

क्योंकि बिस्तर पर भी जब उसकी चुदाई हुई थी, तो बलविंदर ने उसे सिर्फ और सिर्फ उसकी चुदाई पर ध्यान दिया था. अब तो मेरी मम्मी भी गैर मर्द के मोटे लंड से अपनी चुत चुदवाने का मजा लेने लगीं. उसने मुझसे कहा- पहले बच्चों को सोने दो, फिर मुझे चोद लेना।फिर हमने खाना खाया और फिर दोनों बच्चों को नीचे वाली सीट में सुला दिया और हम ऊपर वाली सीट पर सो गए.

मैंने इस बार पूछ लिया कि जब सुबह आप नाश्ता रही थीं, तो बार बार लोअर ठीक क्यों कर रही थीं?मैं डरते डरते उनके चेहरे को ही देख रहा था. विदेशी वाइन शॉप्स, लेडीज के अंडर गारमेंट्स वाली शॉप्स और न जाने क्या क्या. दर्द के चलते उसकी आंखें थोड़ी सी बाहर को आ गयी थीं और उसने अपने नाखून मेरी पीठ में गड़ा दिये थे.

मैं आराम से प्यार से उसकी चुदाई करता रहा और फिर वो अपनी टांगें मेरी कमर पर लपेट कर चुदने लगी.

मज़ार के सेवादार ने ज़ोहरा आपा को प्रसाद दिया- चिंता मत कर बेटी, इस जगह से कोई खाली हाथ नहीं लौटता. मुझे किसी के आने का डर नहीं था इसलिए मैं बेफिक्र होकर सेक्स कहानी का आनंद ले रहा था.

बहुत ही कामुक अहसास था; अपने सपनों की रानी की मैं ट्रेन में चुदाई कर रहा था. विवाह के दो साल होने के पहले ही उसके पति की दुर्घटना में मृत्यु हो गयी थी और वो उस टाइम दो महीने की गर्भवती थी. कुछ उसके मुंह में गया कुछ बालों में और कुछ उसके चेहरे और बूब्स पर जा गिरा जिसे उसने निगल कर बाकी साफ कर लिया.

मगर मुझे डर था कि कहीं वह मेरी इस हरकत के बारे में अपने घरवालों के सामने न बता दे. मैंने आपको जैसा पहले भी बताया था कि मैं हमेशा स्लीवलैस साड़ी पहनती हूँ, जिसका आगे और पीछे से गला काफी डीप रहता है और साड़ी भी नाभि के नीचे बाँधती हूँ. अलीमा के मन में मचल तो रहा था … लेकिन उसका सोच था कि पहली बार का हक सिर्फ मेरे हस्बैंड का होता है, इसी लिए अलीमा ने अब तक अपने आपको चुदाई से बचा कर रखा था.

हरियाणवी बीएफ हिंदी पहले धक्के में सुपारा और दूसरे में पूरा लण्ड गुरप्रीत की चूत में समा गया. अब मैं समझ गया था आज बुआ की कुंवारी चुत का गिफ्ट मिल रहा है, इसे मजे से ले लो.

महिलाओं को कितना लंबा पसंद है

काश मैं तुम्हारी बीवी होती।मैंने कहा- भाभी, मैं तो आपका हूं।तभी वो गुस्से में बोली- मैं तेरी भाभी नहीं हूं कुत्ते!मैं भी जोश में आ गया और लन्ड को तेज़ तेज़ करके चोदने लगा, बोला- साली गाली दे रही है? ले ले …वो बोली- राज, तुम आज मेरे पति हो; भाभी मत बोलो मुझे. तभी उसने मुझे चुप देख कर कहा- आपको बात नहीं करना है क्या?मैंने कहा- मैं हमेशा अकेला ही रहा हूं, तो मेरे ज्यादा दोस्त भी नहीं है और किसी से बात करने की आदत भी नहीं है. अब तेजी के साथ उसकी बुर को पेलने लगा और दो मिनट के बाद ही उसकी टाइट बुर में मेरे लंड से पानी निकल गया.

जिस दिन हम जल्दी आ जाते उस दिन हम दोनों प्रियंका के रूम में आराम से पुराने दिनों की सहेलियों की तरह ब्लू फिल्में देखा करती थीं. कुछ देर के बाद जब उसका दर्द कुछ कम हुआ … तो मैंने अपने लंड को अन्दर बाहर करना शुरू किया. ब्लू पिक्चर हिंदी में सेक्सी हिंदीउसकी साड़ी उठाकर मैंने पीछे से उसकी चूत में लन्ड घुसा दिया।वो आह्ह … के साथ लंड को ले गयी और मैं झटके दे देकर उसे चोदने लगा.

अब मैंने उससे लंड की तरफ इशारा करते हुए उससे लंड चूसने के लिए बोला, लेकिन उसने साफ मना कर दिया कि वो यह नहीं करेगी.

मैंने रूम सर्विस को फोन करके दो सोडे की बोतल और एक रोस्टेड पिस्ता का पैकेट आर्डर कर दिया. चूत में उंगली डाल कर मैं हिलाने लगा और भाभी की चूत लगातार गीली हो रही थी।अब मैं भाभी की चूत से उंगली निकाल कर उसके मुँह में दे देता था.

कुछ देर बाद मैंने भाभी की गांड से लंड खींचा और उनको सीधा लिटा कर अपने सामने कर लिया. मगर कुछ दिन के बाद फिर मकान मालिक एक दिन हमारे पास आया और मकान को खाली करने के लिए कहने लगा. मैंने मूड बना लिया था कि अब तो मैं हेमा चाची की गांड को ऐसा चोदूंगा कि उनकी चीखें निकलवा दूंगा.

और अब तक पापा का 7 इंच लण्ड भी टनटना चुका था जो पैंट के अंदर से ही पूर्वी की चूत पर गड़ रहा था और इधर पोर्न टीवी पर आवाज़ के साथ चालू ही थी।पापा ने पूर्वी से कहा- उठो।पर पूर्वी ने पापा का लण्ड पकड़ते हुए बोला- ये गड़ रहा है।पूर्वी के मुलायम हाथ पापा के लण्ड के ऊपर … पापा को एकदम भारी उत्तेजना हुई.

अनु ने बताया कि मम्मी बाहर गई है तो कल्लू अनु को देख कर वहीं ठहर गया. मैंने कहा- नहीं, तुम देख लेना, कोई बात नहीं।उतने में ही बाजी बाहर आ गई तो मैं अंदर घुस गया और गेट बंद करने लगा तो राबिया ने गेट अंदर की ओर धकेल कर कहा- क्या छुपा रहा है? हमारे सामने ही कर जो करना है बहनचोद. मैंने अपने हाथ उसकी कमर पर रख रखे थे और अपनी टांगों को हल्के से ऊपर उठाया हुआ था ताकि मुझे दर्द कम हो.

नयनतारा सेक्सी व्हिडिओलेकिन हम दोनों सिर्फ कॉलेज देखने आईं थी तो फीस के पैसे तो साथ नहीं लाई थी. काफी दिन बाद मुझे लंड चूसना नसीब हुआ था इसलिए मैं भी पूरी मस्ती से लंड को मुँह में अन्दर तक ले ले कर चूस रही थी.

राजस्थानी सेक्सी वीडियो गीत

कुछ देर बाद अक्षय से भी रहा नहीं गया और उसने फटाफट मेरी ब्रा और पैंटी को जिस्म से अलग कर दिए और फिर से 69 पॉजिशन में आ गया. मैं वहाँ से पीछे हट गई और फिर वहां आने की आवाज़ करते हुए ऐसे बिहेव किया जैसे मैंने कुछ नहीं देखा हो. मेरी देसी सेक्स कहानी के पिछले भागमेरे लंड की दीवानी गाँव की देसी बुर-2में आपने पढ़ा कि कैसे मेरी चाची के घर में गांड की कमसिन देसी लड़की पूरी नंगी होकर अपनी बुर की चुदाई करवाने के लिए मचल रही थी.

लेकिन जब मैंने उसको पिया तो उसके कुछ मिनट बाद मेरा सर एकदम घूमने लगा. उन्होंने मेरा लंड हाथों में पकड़ लिया और उसके सुपारे पर दो तीन किस की. मैं हफ्ते में दो बार नीचे के बालो की सफाई करती हूं और आज तो सुबह ही की थी.

मनमीत की पतली कमर पकड़कर लण्ड को अन्दर धकेला तो टप्प की आवाज के साथ सुपारा अन्दर हो गया. एक तरफ मैं अपनी जांघें फैलाये बैठा हुआ था और दूसरी तरफ उसका पति था. वैसे तो उनके घर का दरवाजा हमेशा खुला मिलता था लेकिन जब वो सोती थी तो दरवाजा लगा कर सोती थी.

दीदी बोलीं- यार वो तो मजबूरी थी मेरी क्योंकि साला किराया तो कम करता ही नहीं था. मैंने भाभी को फिर से बिस्तर पर लिटा दिया और उनके ऊपर चढ़ कर उनके चेहरे को अपनी हाथों में लेकर पूरे चेहरे को किस करने लगा.

अब मैं भी काफी ज्यादा उत्तेजित हो गया था, मैंने धक्कों की स्पीड को और बढ़ा कर भाभी को चोदना चालू कर दिया.

उन्होंने उत्तेजना में अपना थूक उस आदमी के मुँह में देना शुरू कर दिया. सेक्सी सेक्सी चोदा चोदी वालामैंने आज तक किसी के लंबे और देर तक चुदाई करने वाले लंड से चुदाई नहीं की है. एक्स एक्स एक्स हिंदी में सेक्सी फिल्मथोड़ी देर बलविंदर उसी स्थिति में खड़ा रहा और अलीमा के गले व गालों के पास लंड को घुमाता फिराता रहा. मेरे झटकों से पूजा कभी कभी लंड मुँह से बाहर निकल कर सिसकार रही थीं.

चूसती रहो अच्छे से!मैं और अच्छे से उसका लंड चूसने लगी क्योंकि मुझे भी अब लंड चूसने में काफी मजा आने लगा था.

जब भी चाची को कहीं बाहर जाना होता था, तो वह मुझे ही बाहर अपने साथ ले जाती थीं. उसने मेरी चुत को और मैंने उसके लंड को अच्छे से चाट कर साफ कर दिया था. मेरी उम्र 31-32 साल हो गई है, मेरी शादी को 10 साल हो चुके हैं, लेकिन मैंने आज तक सही ढंग से चुदाई नहीं करवा पाई है.

मैं तकलीफ भरी आवाज़ में बोला- लेकिन अंदर तो आपा सोई हैं, अगर आपा जाग गयी गई तो?शनाज़ बोली- कमरे में बिल्कुल अंधेरा है. सबके खाने के बाद मैं सोने के लिए ऊपर चला गया।आज तो रुबीना बाजी ने चारपाई मेरे पास ही बिछाई थी और दूसरी तरफ मेरी दोनों छोटी बहनें थीं।थोड़ी रात होने के बाद सब सोने लगे तो मैंने अपने हाथ से रुबीना बाजी का हाथ पकड़ा और उन्हें जगाने के लिए हिलाया. वो मेरी सलाह पर एक मोबाइल ले गयी, लेकिन अपनी मधुर और सेक्सी छाप मेरे दिलो दिमाग पर छोड़ गई.

मारवाड़ी गर्ल्स सेक्सी वीडियो

वैसे भी एक ज्यादा लण्ड एक साथ लेने का मजा कम और नशा ज्यादा होता है. मैं साड़ी भी नाभि के नीचे बाँधती हूँ, जिससे मेरी नाभि और पूरा पेट एकदम साफ दिखता है. 15-20 दिनों में ही मैंने ससुर जी को शीशे में उतार लिया था, ससुर जी की निगाहें इसकी गवाही देती थीं लेकिन बाबूजी यह नहीं समझ सकते थे कि मैं ऐसा जानबूझकर कर रही हूं.

दो तीन रुक के वापिस लौटना है मुझे!”फिर तो किसी होटल में ही रुकना होगा आपको?”हां एक होटल में ऑनलाइन रिजर्वेशन करवा रखा है.

उनके मुँह से आअह्ह … आआह्ह … की आवाज़ बहुत ही प्यारी लग रही थी।मैं उनको इस पोजीशन में 15 मिनट तक चोदता रहा.

मैंने उनसे कहा था कि मेरा एक दोस्त था जिसने मेरे साथ सेक्स किया था. वो मूवी देख रही थी जिसके सीन में दो सेक्सी लड़कियां पूरी नंगी होकर किस करते हुए लिपट रही थीं।प्रियंका शायद और बर्दाश्त नहीं कर पाई और मेरे बूब्स पर अपने हाथ चलाने लगी।मैंने कहा- साली क्या कर रही है ये? ज्यादा चढ़ गयी क्या?वो बोली- आज यह ट्राई करने का मन कर रहा है. सेक्सी वीडियो बिहार का लड़कीमैंने भाभी को बेड पर सीधा लिटा दिया और उनके दोनों पैरों को फैला दिया.

अब सारी शर्म उतर चुकी थी और हम दोनों एक दूसरे में खो जाने के लिए बेताब थे. भाभी बस जैसे इंतजार में थी कि कब मेरे लंड का धक्का लगेगा और लंड उनकी चूत में जायेगा. उस स्थिति में अगर पूरी ट्रेन के मर्द मेरी चूत से अपनी प्यास बुझा लेते तो भी मुझे अफसोस नहीं होता.

अब मैं गांड के बल बैठ भी नहीं पा रही थी, इतना दर्द हो रहा था मुझे!तो सागर ने मुझे दो पैग नीट दारू पिला दी जिससे मेरी सिर एकदम से घूम गया और मेरी गांड का दर्द जैसे गायब से हो गया।अब सागर मुझे गोद में उठाकर बाथरूम ले गया. बाजी मुस्कराकर बोली- तो आ जा … और चोद दे गांड को।साली रांड बुला रही थी तो मेरा लौड़ा कैसे मानता? मैं बाजी के पास गया और उनके चूतड़ों पर हाथ फेरने लगा.

चुदाई की ये प्यास इनको कहां तक लेकर जाती है?हैलो फ्रेंड्स, कैसे हो आप सभी!उम्मीद करता हूं कि आप सभी स्वस्थ होंगे और चुदाई का मज़ा ले रहे होंगे।मैं हरजिंदर सिंह रोपड़ पंजाब से एक बार फिर आप सभी का स्वागत करता हूं।आप मेरी पिछली कहानियां ऊपर लिखे मेरे नाम पर क्लिक करके सभी कहानियां एक ही जगह पर पढ़ सकते हैं.

अब रुबैया भी हर झटके का जवाब अपनी गांड पीछे धकेल कर दे रही थी।कुछ ही देर में हम अलग ही दुनिया में चले गये. दोबारा से मैंने कहा- जल्दी से दिखाओ, तुमने तो मेरा सब कुछ देख लिया. उस दिन मां ने जब उस आदमी को अपने पीछे आता देखा, तो वो कुछ सोचने लगीं कि कहीं ऐसा तो नहीं है कि आदमी मौका पाकर उनके साथ कुछ गलत कर दे.

हिंदी सेक्सी वीडियो यूपी का यह बात मुझे पक्का पता थी।कुछ देर के लिए हम एक दूसरे से अलग हो गए और थक कर लेट गए. मैंने उसकी चूत को हाथ लगाया तो वो भी ख़ुशी के मारे आंसू बहा रही थी।अब मैं उठ गया और पोजीशन ले ली.

अब हम दोनों बेकाबू हो रहे थे, ऐसा लग रहा था कि कब एक दूसरे में समा जाएं. बिस्तर भी हल्के हल्के हिलने लगा और अंजलि आंखें बंद करके स्वर्ग का सुख लेने लगी।मेरा लंड लेते हुए उसकी सिसकारियां निकलने लगीं. आपको यह हिंदी भाभी सेक्स कहानी कैसी लगी मुझे इसके बारे में जरूर बताना.

गांव का सेक्स

शादी के हफ्ते भर पहले दीदी रात को मेरे साथ मेरे ही बिस्तर में पूरे पांच दिन तक नंगी सोई थी. दोस्तो, आपको मेरी यह देसी सेक्स स्टोरी अच्छी लगी या नहीं? अपने विचार मुझे बतायें. मैंने भाभी से कहा- ठीक है जानेमन!मैंने उनकी टांगों को फैलाया और घुटनों के बल उनके बीच में बैठ गया.

फिर मैं उठकर बाहर आया तो सामने आंगन में कुछ लड़कियां और भाभियां बैठी हुईं मेंहदी लगा रही थीं. शॉवर का पानी रजक लाल के लंड से होते हुए, रोहन के चेहरे और मुँह को भिगो रहा था.

मां अब सिसकारियां लेने लगी थी- आह्ह … आह्ह … करके वो मस्त होकर अपनी चूचियां दबवाने का मजा ले रही थी.

दो दिन बाद उसका जन्मदिन था, तो मैंने उसके लिए दो गिफ्ट्स लिए और उसको फोन पर मैसेज करके पूछा कि तुम्हारे जन्मदिन पर हम कहीं नाईट आउट पर चलें. कुछ ही दिनों में मैंने उसकी मम्मी से अपनी शहर की कोचिंग के बारे में बताया. उसने अपनी नाइट पैंट और पैंटी को घुटनों तक नीचे किया और पेशाब करने के लिए बैठ गयी.

फिर उसकी छाती पर तीन चार जगह स्टेथोस्कोप लगाया और अंगूठे से उसका निप्पल दबा दिया जिसके जवाब में वो अपने पैर के अंगूठे से मेरी टांग कुरेदने लगी. हम दोनों साथ में गए और मॉल में एक जगह खड़े होकर आरजू का वेट करने लगे. आप सभी को मेरी सास दामाद की चुदाई कहानी कैसी लगी, प्लीज़ मुझे मेल करें.

कुछ दिनों बाद शादी होने वाली थी और मैंने उसको इस बारे में नहीं बताया.

हरियाणवी बीएफ हिंदी: गांड में लंड देने के बाद कल्लू फिर से राजधानी ट्रेन की रफ्तार से चोदने लगा।अनु मज़े से सिसकारी भर कर आवाज निकाल कर गांड चुदाई करवा रही थी।नौकर कल्लू ने आधे घंटे की चुदाई का फल उसकी गांड में ही निकाल दिया।लड़की की गांड चुदाई करके अब कल्लू दुकान पर वापस आया तो सेठ जी ने पूछा कहां गया था?तो कल्लू बोला- खांड खाने गया था. मैं- वो तो बाद की बात है मेरी जान … अभी तुम अपनी नंगी फ़ोटो भेजो, तो मूड बने.

उसने मुझसे कहा- विश्वजीत सिंह और डेजी परवीन, इन्टरकास्ट मैरीज है क्या?मैंने कहा- ये झूठ बोल रहे हैं. मैंने सोच लिया था कि उसके लंड को खड़ा करके अपनी चूत की प्यास तो मैं उसी के लंड से बुझवा कर रहूंगी. उसने नजर घुमाकर देखा, तो ठाकुर बलदेव उसे वासना भरी नजरों से देख रहा था.

उस दिन मुझे पहली बार अन्तर्वासना हिन्दी सेक्स स्टोरी के बारे में पता चला.

अमन ने एक तौलिये से अपना लंड साफ किया और मेरी चुत जो गीली हो गई थी, उसे भी उसने तौलिये से साफ करके सूखा कर दिया. पिछले भागममेरी बहन की गर्म चूत का मजामें आपने अब तक पढ़ा था कि रात को कमरे में मेरी मॉम के साथ मैं और राखी दीदी सेक्स करने में लगे थे. इधर अलीमा की चूचियों को दबाते दबाते बलविंदर अब उसकी आंखों में प्यार से देखने लगा था.