सेक्सी बीएफ वीडियो कुंवारी लड़की

छवि स्रोत,चुदाई करते हुए दिखाइए

तस्वीर का शीर्षक ,

नंगी बीएफ नंगी: सेक्सी बीएफ वीडियो कुंवारी लड़की, मैंने जबरदस्ती अपना मुंह उसकी चूत पे लगा दिया और अपनी जीभ उसकी चूर की दरार में फिराने लगा, वो एक दम सिहर गई, उस मजा आया.

हिनदी सेकस

फिर उसने बोला- भाई कुछ पढ़ा दो, समझ नहीं आ रहा!वो कुर्सी पे बैठी थी, मैं पीछे से गया और उसको पढ़ाने लगा और मेरा चेहरा उस की गर्दन के पास था, बार बार उस की गरदन को भी चूम रहा था और अपना हाथ उसके जांघ पे रख कर सहला रहा था. मायका सेक्सबार बार कॉल के बाद उसने फेसबुक पर मैसेज किया, तब मोनिका ने कहा- भाई यहाँ नहीं है.

मैंने भी उन्हें लंबा किस करने के बाद छोड़ दिया और उनके गालों को सहलाते हुए बोला- अब पानी तो पी लो… अभी तो तुम्हें और मेहनत करनी है. चोदीकचोदामैं नंगा होकर सोफे पे था और मेरे सामने किसी बार डांसर की तरह नंगी मुमताज़ अपनी गांड मटका रही थी.

मैंने मॉम की पेंटी उतारने लगा, जैसे ही थोड़ा खींची, वो हाथ से पकड़ने लगीं और रोकने लगीं.सेक्सी बीएफ वीडियो कुंवारी लड़की: ’तभी वो झड़ कर ढीली पड़ गई, लेकिन मैं तब भी उसे धक्के लगाता रहा और उसके मम्मों को चूसने लगा.

मैं उसे सहारा देकर उसके रूम में ले गया जहां उसकी बेटी बहुत चिंतित थी.अनुष्का ने अपनी टांगें थोड़ी खोलीं और मुझसे बोली- सैंडी उस दिन क्या देखने को बोल रहे थे तुम?मैंने डरते डरते ऊपर देखा तो नज़र सीधे उसकी टांगों के बीच में गई.

टी से लड़के का नाम हिन्दू - सेक्सी बीएफ वीडियो कुंवारी लड़की

मैं अब उस के नंगे जिस्म के ऊपर आ गया और मैंने उस की नाभि के पास चाटना शुरू किया तो उस को बहुत मजा आने लगा.अमित- अवी के बर्थडे में ऐसी लग रही थी कि उसकी पीछे की चैन खोल के किस कर लूँ.

मैंने अपने लंड को भाभी की चूत फंसा दिया और भाभी मेरे लंड की सवारी करने लगीं. सेक्सी बीएफ वीडियो कुंवारी लड़की सुभाष ने कहा- हां वो तो बात सही है लेकिन यार मैं चाहता हूँ कि एक साल के अन्दर हम कम से कम एक बच्चा पैदा कर ही डालें, क्योंकि यार बिना बच्चों की लाइफ में कुछ नहीं है.

मैं कुछ देर तक उसी स्थिति में उसके ऊपर पड़ा रहा और उसके होंठ चूसता रहा.

सेक्सी बीएफ वीडियो कुंवारी लड़की?

मैंने अपने हाथ दीदी की गान्ड पर रख दिए और तेज़ी से गान्ड को आगे पीछे करने लगा लेकिन कोई फ़ायदा नहीं हुआ तो मैंने दीदी को गान्ड पे हल्के से हाथ मारा और रुकने को बोला तो दीदी रुक गई और दीदी के रुकते ही मैंने खुद अपनी कमर को बेड से ऊपर उछालना शुरू किया और खुद तेज़ी से ऊपर नीचे होकर दीदी की चूत को चोदने लगा. वैसे दोस्तो मैं आपको बता दूँ कि ये किसी और की नहीं बल्कि मेरी खुद की कहानी है. मैंने मौका देख कर उसकी कमीज़ को उतार दिया और उसकी चूचियों को जीभ से सहलाने लगा.

मैंने भाभी को जल्द से चोदना बेहतर समझा और भाभी को नंगी करके उनकी टांगें फैला दीं. फिर मैंने आखें बंद कर लीं, अब अवी जग गया था उसने मेरी आखें बंद देखी तो उसी तरह चूची दबाता रहा ताकि मैं आँखें ना खोलूं. ”विकी, न जाने क्यों तुमसे बात करके मुझे हमेशा लगता था कि मैं एक अलग समय के इंसान से बात कर रही हूँ… और तुम्हारी बातें मुझे बहुत अच्छी लगती हैं जिसके कारण मैं तुमसे…” उषा ने बात बीच में ही छोड़ दी।मैं तुमसे क्या?” विक्रांत को लगा कि जैसे वो कहना चाहती हो मैं तुमसे प्यार करती हूँ।काफी देर कोई मैसेज नहीं आया।मैं तुमसे कहना चाहती थी कि मेरा नाम उषा नहीं है… मेरा सही नाम है अकीरा.

भी बहन की जांघों के आपस में टकराने से कमरे में फच फच पट पट की आवाजें अंजलि दीदी और मेरी चुदासी आवाजों से मिक्स हो रही थी. इस अवस्था में मेरा लंड उनकी जांघों के बीच में से उसकी चूत को छू रहा हो. अपनी जीभ को नोक सी बना कर अन्दर घुसाने लगा, पर वो थोड़ा सा भी अन्दर नहीं गई.

उसने पहले मेरा टॉप उतारा, उसके बाद मेरी जीन्स को धीरे धीरे उतार कर एक तरफ कर दिया. मैंने पैंटी सही की और सलवार कसके बांध ली कि अब फिर से आसानी से ना खुल जाए.

काफी समय तक ऐसा ही चलता रहा मगर तो मुझे तो लंड से चुदाई का मजा लेना था.

वो भले ही 5 साल का है, पर है तो मेरा बेटा ही… वो भले ही 40 का हो जाए मैं तो उसे तब भी दूध पिलाऊँगी.

मैं कामुकता वश चुत में उंगली करती, लेकिन लंड का स्वाद जिस चुत ने चख लिया हो, उसे उंगली से क्या मजा मिलता!इसी दौरान मेरी मां की सहेली अपने पति के साथ हमारे शहर में घूमने आयी. इससे मुझे यकीन हो गया कि ये मजा ले रही है जिससे मेरी भी हिम्मत बढ़ गयी और मैं उसे सहला कर गर्म करने लगा. फिर उसने धीरे से बड़े एक्सपर्ट तरीके से मेरा अंडरवियर नीचे खिसकाया, फिर मुझे लगा कि वह मेरी पीठ से चिपक गया.

अगले दिन मैं जब अपने घर के पीछे के हिस्से में गया, तो वो भाभी अपनी खिड़की पर खड़ी थीं, जो मेरे गेट के ठीक सामने थी. मैंने कहा- क्यों क्या बात है?सुभाष ने कहा कि यार रेणुका का कहना है कि शादी के 2 साल तक हम बच्चा पैदा नहीं करेंगे. मैं भी तंग हो गया कि साली मिलती ही नहीं है, मैंने उसे इग्नोर करना शुरू कर दिया.

मामी ने मेरे लंड खुद ही अपने हाथ से पकड़ा और चूत के छेद पर लगा कर धक्का लगाने को बोलीं.

किशोर दूसरे मजदूरों से बोला- तुम सब गोदाम से सीमेंट की बोरी भर कर ट्रैक्टर में लाओ, ट्रैक्टर गोदाम में कब से खड़ा है. मैंने कहा- तुमने देखा नहीं तुम्हारा पति इसकी चूची और जांघों को ऐसे देख रहा था, जैसे चोद ही देगा तो ये छोटी कैसे हुई? वैसे भी 18 पार कर चुकी है. मैं भी अब इतनी मदहोश हो चुकी थी कि पूरा जोर लगा कर उनको अपने अन्दर खींच रही थी.

वहां पर मैंने जहाँ भी देखा, वहां पर सभी जगह हर कोई लड़का अपनी गर्लफ्रेंड के साथ घूम रहा था. कुछ ही मिनट के बाद भाभी बोलीं- अब मुझसे और नहीं रहा जा रहा, इसे चूत में डालो. मैं बड़ी हो चुकी थी लेकिन कम उम्र की मासूम सी दिखती थी, इस लिए हर कोई मुझे ही चोदना चाहता था.

उसके जाते ही एड्रिआना मुझ पर झपटी और मेरे होंठों को कस कर चूमा और मेरे फ़ोन से अपना नंबर डायल किया और मुझे कल की रात के लिए थैंक्स बोला.

मैंने बोला- देख जानेमन आज तेरी को दुनिया की सबसे स्वादिष्ट चीज़ टेस्ट करवाता हूँ. और वो साला दर्जी मेरी नयी माँ के मम्में घूर रहा था, उन्हें छू रहा था.

सेक्सी बीएफ वीडियो कुंवारी लड़की मैंने बिना टाइम गंवाते हुए उसकी लैगी खींच कर उतार दी और उसकी चूत में उंगली डाल दी. फाड़ दो मेरी गांड को! आज मेरी सुहागरात है, आज फर्स्ट चुदाई की रात है.

सेक्सी बीएफ वीडियो कुंवारी लड़की लड़का बोला- नहीं मैंने ऐसा कहा क्या?लड़की बोली- घबराओ नहीं, मुझे बुरा नहीं लगेगा, अगर दिल में इच्छा है तो देख आओ. रीनू मामी भी पूरी पक्की थी, वो ऐसे ही सो रही थी जबकि उनके सामने एक नंगी औरत रंडियों की तरह चुद रही थी.

उस्मान ने तुरंत कैमरा अपने पीछे कर लिया और माया उससे कैमरा छीनने की कोशिश करने लगी.

सेक्सी लाइट

फिर वो एक हाथ पीछे ले गया, मुझे घुमा दिया तो मैंने देखा कि वो एक हाथ से अपनी अंडरवियर निकाल रहा था. अरे तेरे सहारे ही तो मैं ये भव सागर पार उतरूंगा ना!” मैं अपनी बीवी को चूमते हुए कहा. और अगर सच बोलूँ तो आज मैं तुम्हारे साथ कुछ यादगार समय बिताना चाहता हूँ.

वो हर दस मिनट में दस बार करवटें बदलती और हर आधे घन्टे बाद टॉयलेट में जाती और हर बार बहुत देर बाद वापस आती. मोनिका पर गांव के लड़के ट्राई मार चुके थे, पर मोनिका कसी से बोलना तो दूर किसी की तरफ देखती भी नहीं थी. मेरे कसे हुए लंबे तगड़े शरीर का एहसास उन्हें भी हो रहा था, वो मदहोश हो कर मुझ से चिपकी रहीं.

तभी अंकल बोले- आरती, मैं तुम्हें अभी एक बार पूरी नंगी देखना चाहता हूं.

शादी तो दस दिसम्बर की है न!”अदिति बेटा, कोई ऐसी ट्रेन देख न जिसमें छप्पन घंटे लगते हों दिल्ली पहुँचने में!” मैंने कहा. वो आँख दबा कर बोली- तो ऐसे ही काम चला रहे हो?फिर मैं बोला- क्या बोला तूने?वो ‘कुछ नहीं. वहां सब इधर उधर बिज़ी थे, तभी किसी ने मेरी मॉम को घर से कोई सामान लाने को बोला.

फिर सिराज बोला- देखो, मैं अकेला नहीं तय कर सकता कि आपको छोड़ देना है या नहीं। अगर किसी ने कंप्लेंट मार दी तो मेरी तो नौकरी गयी. मेरी यह पहली हिंदी में देसी चोदन की कहानी है, जो मैंने अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज के माध्यम से आप सभी को बताई, आप चाहें तो मेरी कहानी पर मुझे अपने सुझाव मेल कर सकते हैं. इसके बाद विनीत ने उसकी दूसरी चुची को बाहर निकाल दिया और चूसने लगा, जिससे आरजू की हल्की हल्की आवाज़ आने लगी- आह हाह हह हहाहा हा…और आरजू को मैं ऐसे ही देखता रहा.

” बड़बड़ाते हुए माया बाहर निकली और सीधे अपने केबिन में घुस गई, जहां अमित नहीं था. आकांक्षा और मैं दोनों ही इस खेल में ऐसे रम गए थे कि हमें आस पड़ोस की दीन दुनिया की फ़िक्र ही नहीं रही, मैंने उसकी जीन्स उतारने के लिए उसकी जीन्स के बटन को खोला तो उसने मेरा हाथ झटक दिया.

हाँ पर मुझे ये पता है कि काजल मेरी बेटी है क्योंकि इसके जन्म के 2 साल पहले ही तुम्हारे नाना गुजर गए थे. ’उन्होंने मेरी गांड को काफी देर तक बजाया साथ ही मेरी चूत के दाने को भी मींजते रहे. इस बार मैंने हाथ को थोड़ा मॉम की चूत की बगल में जाँघ के ऊपर रखा, जिससे मेरी फिंगर आगे से उनकी चूत को छू रहा था और बाकी हाथ उनकी जांघ पे था.

मैं बोलता तो वो अपने कान हथेलियों से ढक लेती; लेकिन धीरे धीरे मैं उसे अपनी मर्जी के अनुसार ढालता गया और वो ढलती गयी.

मैंने पूछा- तुम यहाँ अकेले ही रहते हो?तो रवि ने कहा- हाँ भाभी जी, मैं यहाँ अकेले ही रहता हूँ. अमित- वो मान जाएगी, लेकिन तू बता तू तैयार है क्या इसके लिए… जो मैं बोलूं करेगा तू?सन्नी- जी अमित सर उसके साथ सेक्स करने के लिए मैं कुछ भी कर सकता हूँ. मैंने सोचा कि मैं जरूर अच्छी दिखती हूँ, तभी तो दिव्या को कोई नहीं पूछता है.

फिर मैंने दोनों को अपने आगे बैठा दिया और अपना लंड पिंकी के मुँह में घुसा कर अपना बीज गिराने लगा. मैंने कहा- सरिता अगर बुरा नहीं मानो तो मैं अभी व्हिस्की के 2-3 पैग लगाऊंगा.

कुछ सवालों के जवाब संक्षेप में:सवाल- लड़कियां भी लड़कों जैसा पोर्न देखती पढ़तीं हैं?जबाव- जी हाँ दोस्त, जिस तरह से लड़के चोदना चाहते हैं. अब तो उनकी हिम्मत और ज्यादा बढ़ती जा रही थी, विनीत ने हमारे सामने ही आरजू का एक बूब बाहर निकाला और उसे अपने मुख में लेकर ज़ोर ज़ोर से चूसने लगा. घर आकर वाशरूम में मैं हाथ मुँह धोने गया, तब नजर मेरी बनियान पर पड़ी, जो नीचे से सारी खून में लाल सी हो रही थी.

कामोत्तेजक कहानी

चलो तुम एक बार डाल के देखो!जैसे ही अपना लंड मैंने उनकी गांड में घुसाया तो पहले तो गया ही नहीं; फिर मैंने मेम की गांड को चाटना शुरू किया; उनकी गांड को अपने थूक से भर दिया.

अब हम थक चुके थे तो बांहों में बांहें डाल कर नंगे ही सो गए!अगले दिन हमने फिर से सेक्स किया और बहुत किया. मैं वहाँ गया, उन दोनों को देख कर थोड़ा हिचकिचाया, पर जैसे ही मेडिकल स्टोर वाली भाभी आईपिल की गोलियां लाईं और दूसरी भाभी को देने लगीं, तो मेरी हिम्मत बढ़ गई और मैंने भी कंडोम मांग लिया. ” मैंने कहा और खुद को जोर से चिकोटी काट के सजा दी कि यह बात मुझे पहले क्यों नहीं सूझी कि बहूरानी मुझे ट्रेन से ही चलने के लिए क्यों जोर दे रही है.

वो बोली- हाँ, हर लड़की को एक अनुभवी मर्द से एक दो बार जरूर चुदवाना चाहिए. फिर कुछ देर बात करने के बाद ननद मेरी सास के साथ एक पड़ोसी के यहाँ चली गई. ससुर ने बहू के साथसिराज के मुँह से आवाजें निकलने लगी, उसके दूसरे साथी ने मेरीचुत में उंगलीडाली और मेरे एक निप्पल की वो भँभोड़ने लगा.

उसको बड़ी मुश्किल से काम के बारे में मनाया और अपने ऑफिस में उसको आने का न्यौता दिया ताकि कुछ और बातें हो सके और वो भी हमारे ऑफिस को देख ले. मेरी देवर भाभी की चुदाई कहानी के बारे में अपने विचार, सुझाव मुझे मेल करें.

अगले दिन मैं उसे पढ़ाने के लए नहीं जा पा रहा था क्यूँकि मुझे अपने किए पर अफ़सोस हो रहा था पर तभी उसका मेसेज आ गया कि आज पढ़ाने नहीं आना है क्या?साथ में ये भी मेसेज आया कि आज नहीं देखना क्या अपनी बहन के मम्मों को?मुझे अब ग्रीन सिग्नल मिल चुका था. अगले ही पल मैंने भाभी की चुत में लंड डाल दिया और जोर जोर से चोदने लगा, लेकिन अति उत्तेजना की वजह से मैं 2 मिनट भी टिक नहीं पाया और भाभी की चुत में ही बह गया. मैंने रोहण से कहा- बेटा, मुझे ब्रा पहना दो।रोहण ने कहा- ओ के माँ!रोहण मुझे मेरी ब्रा पहनने लगा और मुझे ब्रा पहना ली रोहण मेरे बूब्स को ब्रा के अंदर करने की कोशिश कर रहा था पर वो नहीं रहे थे क्योंकि मैंने 30 साइज की ब्रा पहनी थी और ब्रा मेरे बूब्स को संभाल नहीं पा रही थी.

मैं जब झड़ रहा था तो मेरी आँखें मजा के अतिरेक से बंद हो गई थीं और मैं अपनी सुध खो बैठा था. फिर मैंने धीरे से लंड का टोपा उसकी चूत के छेद पर टिकाया और एक धक्का लगा कर अंदर पेल दिया, उसकी एकदम से चीख निकल गई. मैं बोलता तो वो अपने कान हथेलियों से ढक लेती; लेकिन धीरे धीरे मैं उसे अपनी मर्जी के अनुसार ढालता गया और वो ढलती गयी.

मैंने भी अपनी स्पीड बढ़ा दी और मैं भाभी को शताब्दी एक्सप्रेस की स्पीड से पेलने लगा.

मैंने अपनी पैंटी को नीचे कर दिया और ननदोई जी मेरी चूत को अपनी जीभ से चाटने लगे. मेरे तो जैसे होश ही उड़ गए, मेरे हाथ पैर कांपने लगे, मैं डर गई थी कि इरफान को कुछ पता तो नहीं चल गया.

फिर मैं अपने चरम पर पहुँचने लगा तो मेरा निकलने वाला था, मैंने उससे पूछा- कहाँ डालूँ?उसने मुँह का इशारा किया. करीब दस मिनट बाद भाभी चरम सीमा पे आ गईं और चिल्लाने लगीं- आहा अह्ह्ह्ह अहह अह्ह्ह्ह्ह और जोर से अह्ह्ह्ह संजू. सबसे पहले तो मैं आदरणीय गुरु जी को धन्यवाद देता हूं कि उन्होंने मुझे इस योग्य समझा और इस विषय पर लिखने हेतु मेरा चयन किया.

कुछ टाइम बीतने के बाद जब बात ठंडी हो गई तो मैं उसके घर गया और उससे कहा कि मैं तुझसे तेरे घर के पीछे रात 10 बजे मिलना चाहता हूँ क्योंकि मेरी स्टडी पूरी हो गई है और मैं जॉब के लिए जा रहा हूँ. सीमा- मैं तो कब से तैयार थी तुझसे चुदने को, तेरा लंड तो मैं पहले ही देख चुकी थी, जब तू नहाने के बाद नंगा ही अपने रूम में कपड़े बदलता था, मैं तो तभी से तेरे लंड की प्यासी हूँ. मेरे लंड से पानी निकलने वाला था, मैंने कहा तो वो बोली- मेरे मम्मों पर पानी निकाल दो.

सेक्सी बीएफ वीडियो कुंवारी लड़की उसने तुरंत अपने पैर अकड़ा लिए, इतने में ही उसकी चुत से एक फव्वारा सा उड़ गया और माला ख़ुशी से पागल सी होने लगी. मुझे पता था कि कुँवारी गांड फाड़ना कुँवारी चुत फाड़ने से ज़्यादा मुश्किल है.

व्व्व क्सविडिओस कॉम

चाची की मदद से कैसे उनकी बहन की सील तोड़ी, वो भी आपको बताऊंगा, जिसके बदले उन्होंने अपनी गांड भी मुझसे मरवाई, यह सब आपको बताऊंगा. फिर हाथ से लंड को दबा कर बचा हुआ रस मेरी कमर मेरी गर्दन मेरी चुचियों के ऊपर के भाग में लगा दिया. भाभी ने यह सुन कर मेरी तरफ देखा और कहा- कोई बात नहीं, अगर आप माँ का प्यार नहीं दे पाई तो मैं दूँगी.

अब तो मंजरी पुलकित के लंड को खा जाने की हद तक चूस रही थी, कभी कभी तो वो उसका पूरा का पूरा लंड निगल जाती, और उसके लंड की जड़ में जा कर अपने दाँतो से काट देती. अब तो उनकी हिम्मत और ज्यादा बढ़ती जा रही थी, विनीत ने हमारे सामने ही आरजू का एक बूब बाहर निकाला और उसे अपने मुख में लेकर ज़ोर ज़ोर से चूसने लगा. सेक्सी चुदाई करते हुएउनके सर ने कहा- और जिससे अभी तुम बात कर रहे थे, उसे 10-15 दिन के लिए यहाँ बुलाओ, मैं उसके साथ घूमना चाहता हूँ.

यह वही अंकल थे जिन्होंने मेरी कई बार ली थी और आज रात के लिए बार बार कॉल कर रहे थे.

चुदास के मारे चूत एकदम गीली हो चुकी थी, उस पर मुलायम मुलायम बाल थे, जो मुझको बाद में हाथ फेरने से महसूस हुए. उस लड़के के घर जाकर पूछा कि वो कहाँ है?उसके घर वालों ने कहा कि कहीं बाहर गया है.

उनकी हाइट भी 5 फ़ीट 5 इंच की है… जिससे उनकी सुन्दरता बहुत बढ़ जाती है. और मुझे तो खुश होना ही था, मुझे एक बढ़िया सी चूत, वो भी बिल्कुल मुफ्त में, जो चोदने को मिल गयी थी. फिर जब मैंने कहा- अब चुदाई करें?तो उस ने जवाब दिया- नहीं हुकुम, पहले ही एक से चुद के देख चुकी हूँ, अब नहीं.

उसके बदन की खुशबू अब मुझे महसूस हो रही थी और उसकी पकड़ कसती जा रही थी.

ब्रायन जान बूझ कर ओपन बातें कर रहा था, ताकि मम्मी का डर जाता रहे और उन्हें आदत पड़ जाए. तभी मैंने दीदी को कमर से पकड़ा और खुद ऊपर उठ कर दीदी को भी ऊपर उठा दिया. दोस्तो, मैं आगरा से एक 25 साल का आकर्षक कद काठी का एक सजीला नौजवान हूँ और जिम जाने के कारण मेरा बदन गठीला है.

सेक्सी पायलमैं सोफे पर बैठा ही था कि उनके पति आए और बोले- बेटा, मैं नाइट शिफ्ट जा रहा हूँ. मेरा लंड 7 इंच का है और मैं हर रोज जिम जाता हूँ तो शरीर जिम जाने की वजह से काफी अच्छा है.

सेक्सी ओपन गाने

मैंने भाभी से कहा- भाभी ये आप क्या कर रही हो?भाभी बोलीं- मैं तुझे जनन क्रिया सिखा रही हूँ. मुझे बड़ी खुशी हो रही थी खून देख कर… मैंने पहली सील खोली थी, चूत की ना सही, गांड की सही लेकिन इसमें भी बहुत मज़ा आता था, बहुत नहीं बहुत ज़्यादा, लेकिन शिखा दीदी की चूत खुली हुई थी जबकि गांड की सील को आज मैंने खोला था और इसी बात से मुझे ज़्यादा मस्ती चढ़ने लगी थी और मेरी स्पीड तेज होने लगी थी. ‘अच्छा जब ऊके दोस्त चले जैं, तब आप रोशन से बात करहौ?’चाचा ने मजाक में उसे डांटा- हट बदमाश.

योगिता कई बार झड़ चुकी थी, उसके चेहरे पर संतुष्टि के भाव साफ दिख रहे थे, मैंने रफ़्तार बढ़ाई और उसकी चूत को जूनून से चोदने लगा. मैंने अपने हाथ को उनके नेकर में डाल कर उनके लंड को पकड़ लिया और सहलाने लगी. आप गाड़ी कैसे चला सकती हैं? ए जगत, वो दूसरी लड़की को देखना तो!जगत नाम का पुलिसिया लपक कर रिया के पास आया तो रिया ने खुद ही मुँह खोल दिया। दो पल उसकी सुंदरता देख कर जगत ने ऐलान कर दिया- ये लड़की भी बहोत पी हुई है जनाब!तब तक एक बन्दे को हमारी पिछली सीट पे पड़ी हुई बोतलें दिख गयी तो और बवाल मच गया.

मैंने बगल में पड़ी बोतल से तगड़ा घूंट भरा और रिया को चुटकी काट कर कहा- रियु, अब देख मैं तुझे कुतुबमीनार के दर्शन करवा देती हूँ. विवेक ने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए, अब विवेक और मैं दोनों बिल्कुल नंगे थे. दोस्तो, सच में उतना तो मज़ा नहीं आया पर फिर भी थोड़ी देर के लिए मैं उसकी चूत चाटता रहा और साथ में अपने एक हाथ से उसके चुच्चे भी मसलता रहा।वो मज़े में अपना सर इधर उधर पटकने लगी, मुझे लगा कि कहीं ये झड़ गयी तो फिर पप्पू के साथ धोखा ना हो जाए इसलिए जल्दी से उसके ऊपर आया और अपना पप्पू उसके छेद पर फिट कर दिया.

हम दोनों की साँसें बहुत तेज चल रही थीं, इसलिए हम एक दूसरे ऊपर ऐसे ही पड़े रहे. उसने वो पानी चाट लिया, मैंने स्माइल किया और हम बाथरूम में से बाहर आ गए.

पर क्यों उतारूं?वो बोली- इसलिये कि तू अभी दस मिनट पहले चूत चुदा कर और गांड मरा कर आ रही है, मैंने अपनी आँखों से तुम्हें एक मजदूर से चुदवाते हुए देखा है और अभी तुम्हारी सलवार के पीछे वीर्य की बूंदें साफ कह रही हैं कि तुम गांड मराकर आई हो.

जब तुमको दिखाने के लिए, मैं दूसरे लड़कों के साथ फ़्लर्ट करती थी और तुमको जलाती हुई देखती थी. खोज पोर्न वीडियोअकीरा ने अपने प्यार का इज़हार तब भी किया था और विक्रांत को भी वो अच्छी लगती थी. ब्लू पिक्चर दिखाओ ओपनबस फिर मेरे भैया ने उसी दिन शाम को पापा के पास कॉल किया और वही बताया, जो उनके सर ने कहा था. फिर कुछ ऐसा हुआ कि मैं जान बूझ कर रात को उसके घर से न्यूज़ पेपर माँग कर ले जाने लगा.

इस बीच एक बार उसने मुझसे ये पूछा कि आपका लंड इतना मोटा कैसे हो गया.

मेरीनौकरानी की चूतपर छोटे छोटे बाल था, जैसे उसने 3-4 दिन पहले ही चूत के बाल साफ़ किये हों. फक मी हार्ड नाउ पापा!”या अदिति बेटा, ऍम गोइंग टू ड्रिल योर चूत नाउ!” मैंने बोला और फर्श पर से उठ कर बहूरानी पर झुक गया और अपने लंड से उसकी रिसती हुई चूत को रगड़ने लगा. फिर वो मेरे दोस्त अमित से बोली- छोड़ना शुरू करो यार… मेरी चूत में धक्के मारो! चोदो मुझे!अमित मेरी बीवी की चूत में अपना लंड पेलने लगा मेरी बीवी आनन्द विभोर हो कर आहें, सीत्कारें भरने लगी.

तो मैं कहानी के बीच में आप सबसे यही कहना चाहूंगा कि अगर आप भी अपने भाई या बहन को चोदने की सोच रहे हैं तो सोच समझ कर करना या किसी अनुभवी व्यक्ति की सहायता से करें!अब मैं वापिस अपनी कहानी पे आता हूँ कि मैंने क्या किया उसके बाद!मैंने बहुत पढ़ने के बाद पाया कि लड़की की चुदने की वासना जगाना बहुत जरूरी होता है, अब मैं घर जाने की तैयारी में लग गया. इसलिए इस बात को यहीं भूल जाओ, अगर बहुत मजा आया तो मैं फिर से चोद दूँगा. विक्की ने यहाँ मुझे तैरने के लिए कहा तो मैंने कहा- इस ड्रेस में कैसे?विक्की ने कहा- मैं स्वीमिंग ड्रेस लाया हूँ.

सेक्स फोटो गैलरी

फिर मैंने मंगलवार सुबह 10:00 बजे होटल में चेक-इन कर लिया और अंदर जाकर सबसे पहले अपने नीचे के बालों को साफ किया और बेड पर मैगनेट परफ्यूम लगा दी क्योंकि दोस्तो, खुशबू में सेक्स करने मजा ही अलग है. मेरी हालत ख़राब हो रही थी उस गांव वाले लौंडे और अमित ने क्या दबाए होंगे, इतनी ताकत से मसले थे. दोनों को ही इंतजार करना मुश्किल हो रहा था और उधर ताई के आने का समय भी हो रहा था तो टाइम भी कम था.

जैसे ही मैंने भाभी की चुत में लंड झाड़ा वो फिर से गलियाँ देने लगीं- साले हरामी मादरचोद मेरी चूत में क्यों झाड़ा.

बताओ क्या बात है?मैं- जो बात आज की है, वो फिर कभी इस बारे में मुझसे मत करना या पूछना, जब तक मैं इस बारे में ना कुछ कहूँ, ठीक है?अमित- ऐसा क्यों?मैं- बस ऐसे ही मुझे प्लान बनाने का टाइम चाहिए.

आज माया ने साड़ी पहनी थी और जैसे ही माया ने फाइल उतारने के लिए अपना हाथ बढ़ाया, उसे अपने पेट पे एक हाथ महसूस हुआ. फिर वो मेरे पैरों के पास गया, चादर हटा दी और पैर पर हाथ रखके ऊपर की तरफ खिसकाने लगा. औरतों औरतों कीलेकिन जब तुम लास्ट टाइम इससे चुदवाने जा रही थीं तो मैंने तुम्हारे सेल में इसकी और तुम्हारी चैट देखी थी.

मुझे मेरी भाभी के भरे हुए मम्में चाटने हैं, उन्हें चूसना है, और मैं उनके मम्मों को जोर जोर से दबाता रहूँ. फिर मैंने सोचा कि बचने का तो कोई रास्ता है नहीं तो चुदवा ही लेती हूं, मजा तो मुझे भी मिलेगा. अमित- क्या कुछ ज़्यादा ही शरीफ लड़की है वो?सन्नी- जी अमित भाई… तभी तो डर लगता है… अगर चालू होती तो कब से सेट कर लेता उसको।अमित- साला यही पंगा होता है शरीफ लड़कियों का… पहले बात करने से डरती है और फिर खाने पीने में भी बहुत टाइम लग जाता है.

बहुत दिनों के बाद समझ आया कि जब तक हिम्मत नहीं करूँगा तब तक तो हाथ से ही काम चलाना होगा. चूमते हुए उसने मेरी ब्रा का हुक़ खोल दिया और ब्रा को मेरे शरीर से अलग कर दिया.

दीपिका समझ गयी कि इसका काम होने वाला है वो हल्के से झटके के साथ सीधी हो गयी और घुटनों के बल बैठ के केविन के लन्ड को मुँह में लिया और चूसना शुरू कर दिया.

पहले उसका टॉप उतारा, उसने नीचे ब्लैक ब्रा पहनी हुई थी, मैंने वो भी उतार दी. वो मेरे लिए दूध लाई तो मैंने उसको किस करते हुए कहा- मुझे तो आपका दूध ही पीना है. पहले तो पुलकित मंजरी की पीठ पर हाथ फेरता हुआ इधर उधर की बातें करता रहा, फिर उसने मंजरी का दुपट्टा उतार दिया.

दादा ने पोती को चोदा गोरा चिट्टा रंग, साढ़े पांच फुट की हाइट और ऊपर से उसका 36-28-34 का फिगर. ऊपर पिंक कलर की एकदम फिट टी-शर्ट पहनी थी, अन्दर शायद ब्रा भी नहीं पहनी थी क्योंकि मैं उसके कड़क निप्पलों को देख सकता था.

तो दोस्तो, यह थी मेरी गर्लफ्रेंड के साथ मेरी पहली चुदाई की कहानी… आशा है कि आप सबको पसंद आई होगी. सुल्ताना को अम्मी ने अभी कुछ दिन पहले ही काम पर रखा था, उससे पहले एक बूढ़ी अम्मा काम पर आती थी, जिन्होंने अब काम करना छोड़ दिया था. आज भी मॉम का सूट एकदम टाइट था तो बार बार मॉम के सूट पे पीछे से ब्रा कि झलक दिख रही थी, वो सीन मुझे और ज़्यादा एग्ज़ाइट कर रहा था.

देसी ककड़ी की खेती

अब मेरे अन्दर का शैतान जाग उठा था और मैंने डिसाइड किया कि पूनम को मैं कैसे भी कर के चोद कर ही रहूँगा. उधर विकास और पूजा तो एक दूसरे के साथ चिपक कर बारिश और पानी का पूरा फायदा उठा रहे थे. मेरे लंड ने भी लावा उगलना शुरू कर दिया उधर रानी की चूत तीसरी बार झड़ने लगी.

परन्तु मुझे अपनी पत्नी के अलावा भी और किसी से सेक्स करने की इच्छा होती है, खासकर अपनी रिश्तेदारी में कमसिन और कुंआरी लड़कियां से. अब वो फिर फटाफट से मेरा लंड मुँह में लेकर चूसने लगी और लंड चूस चूस कर ही साफ कर दिया.

फिर धीरे धीरे ट्रेन चलने लगी, तब गेट के पास मेरी नजर गई तो देखा कि एक अंकल वहां से चढ़े, जो बहुत ही खूबसूरत थे.

वो आह आह करती रहीफिर मैंने उसका टॉप उतार दिया और और मम्मों को ब्रा के ऊपर से ही मसलने और चूसने लगा. मैं बोली- दो बार फट चुकी है तीसरी बार भी फट जाएगी तो कोई चिंता नहीं, आप जल्दी करो, मम्मी ना आ जाए बस!बोले- एक साथ आरती तुम्हारी गांड में और चूत में डालें?मैं बोली- हां, गांड में भी डाल दो।जैसे ही मैंने यह कहा कि दरवाजे पर ख़ट खट हुई और मम्मी आवाज देने लगी. अपने इस काम में मैं भी खुश हूँ और मैंने ये सब उनकी खुशी के लिए किया, ना कि खुद के मजे के लिए!मेरी पूरी कहानी पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद, अगर कोई फीडबैक देना हो या मुझसे बात करनी हो तो आप मुझे मेरी ईमेल पर मेल कर सकते हैं, अपने विचार ज़रूर लिखिएगा, अन्तर्वासना पर हिंदी सेक्सी कहानियां पढ़ते रहिएगा.

अब मम्मी की चूत एकदम लाल दिख रही थी।मम्मी ससुर जी के साथ लेटी रही, उनके लंड को सहलाती रही तो वो कुछ देर में फिर से खड़ा हो गया. मैं राज दिल्ली से हूँ। मैं एक कंप्यूटर इंजिनियर हूँ, और यहाँ जॉब करता हूँ। यह नोन वेज स्टोरी मेरे जीवन की एक महत्वपूर्ण घटना है जिसे मैं आज आप सबके साथ शेयर करना चाहता हूँ। मैं पहली बार अपनी कहानी पेश कर रहा हूँ। आप मेरे किरदार और उनकी परिस्थिति को समझ सकें, उसके लिए बीच बीच में आस पास की चीज़ों का अंदाज़ा लगवाने की कोशिश मैं करूँगा।यह कहानी सेक्स से लेकर जीवन का भी ज्ञान करती है. दोस्तो, मैं तब बाईस तेईस साल का रहा होऊंगा, ग्वालियर शहर में पढ़ता था.

आगे क्या हुआ… यह मैं आपको इस हिंदी एडल्ट स्टोरी के अगले भाग में बताऊँगी।[emailprotected].

सेक्सी बीएफ वीडियो कुंवारी लड़की: !मोहन लाल- घर में एक बेटी भी थी और हम तुम लोगों के सामने कभी सेक्स को लेकर इतना सहज नहीं हो पाए बेटा. फिर मैंने उसको बेडरूम में लाकर बेड पर लिटा दिया और उसके ऊपर चढ़ गया.

रास्ते में चलते चलते एक बार तो उसका एक चूचा मेरी कोहनी से लग गया, उसने कुछ भी नहीं कहा और वो मुस्कुरा दी. दिव्या- तू आज पहन ले बस, फिर चाहे जो पहन लेना या उसके पास नंगी ही रहना. ट्रेन के रास्ते में कई बार भैया ने पूछा कि मैं कहां तक पहुँच गई हूँ.

तो मैं सुबह की ट्रेन से मम्मी पापा और दीदी को छोड़ने स्टेशन गया और वहीं से एग्जाम देकर मेरी प्यास बुझाने उषा काकी के घर जाने वाला था.

मैंने अंगड़ाई लेते हुए बोला- ननदोई जी, आप तो ननद को ठीक से प्यार भी नहीं कर पाते होंगे. मैंने मेरा पूरा लंड मामी के मुँह में डाल कर गले तक कर दिया और ऐसे ही रखा तो वो मुँह से बाहर निकालने की कोशिश करने लगी थीं क्योंकि लंड उनके गले में अड़ गया था. अन्नू भाभी बोलीं- ये क्या कर रहे हो?मैंने कहा- अलग अलग पोज़िशन में चोदने से मज़ा आता है.