एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ न्यू

छवि स्रोत,बीएफ ब्लू सेक्सी बीपी

तस्वीर का शीर्षक ,

गाना पिक्चर सेक्सी: एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ न्यू, मेरी फ्रेंची और लोअर मेरे टट्टों के नीचे जा अटकी और लंड निकल कर बाहर आ गया.

सेक्सी वीडियो बीएफ इंग्लिश एचडी

कुछ देर तक उसके पाइप को अपनी गांड मरवाने के बाद मुझे कुछ राहत सी मिलने लगी थी. बिहार की वीडियो बीएफफिर उस लड़के ने बताया कि अनु की मम्मी कोमल के पापा से खूब चुदती हैं.

इसके बाद मैंने उन्हें अपने नीचे जकड़ कर तेज रफ्तार में जोर जोर से झटके लगाए, जिसके बाद वो बुरी तरह उछल पड़ीं और फिर हम दोनों एक साथ झड़ गए. सेक्सी बीएफ डॉक्टर काहम हॉस्पिटल एक घंटे रुके, फिर मरीज देखने का समय खत्म हुआ, तो मैं और अंकल वापस घर आने को निकले.

भाभी वहीं बेड के पास खड़ी थीं तो भैया भी खड़े हुए और भाभी के पास आ गए.एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ न्यू: मेरी बहन के साथ लेसबीयन सेक्स और चचेरे भाई से चूत चुदाई की यह कहानी मेरी जुबानी सुन कर मजा लें!https://cdn.

मैंने मजाक में स्मायरा से कहा- आपको मेरे साथ डर तो नहीं लग रहा?वो बोली- मुझे आप मत बोला करो.वो देखने में तो सीधी-सादी दिखती थी लेकिन उसके पहनावे से पता लग रहा था कि उसको भी कुछ चाहिये है.

हाई-फाई बीएफ - एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ न्यू

मैं तेजी से दीदी की चूत में डिल्डो को डाल कर उसको आगे पीछे कर रही थी तो दीदी को एकदम से पेन होने लगा.फिर एक दिन की बात है कि दोपहर के समय में मैं अपने दोस्त के घर गया हुआ था.

मैं अपनी कार से अपने घर जा रहा था, अचानक रास्ते में एक कार की दूसरी कार से भिड़न्त हो गयी. एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ न्यू मैं जल्दी से उनकी उंगली अपने मुँह में लेकर चूसने लगा जिसे देखकर वो और ज़ोर से हँसने लगीं.

थोड़ी देर में लंड फिर खड़ा हो गया, तो उसने बोला कि मैं आज आपको अपना सब कुछ देना चाहती हूं.

एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ न्यू?

मैंने पूछा- क्या बात है आशा? तुम्हारी तबियत तो ठीक है न?वो बोली- हां सुधीर भैया, मैं तो ठीक हूँ. फिर मेरा लंड बाहर निकल आया, तो उसके साथ उसका और मेरा रस भी उसकी चूत से बाहर निकलने लगा. मैंने पूछा- जान अब ठीक लग रहा है?पर वो कुछ बोली नहीं और बस इशारे में जवाब दिया कि हाँ अब ठीक है.

तभी वो कमर की मालिश करने लगा उसका लंड पूरा टाइट हो चुका था, जो मालिश करते हुए मेरी कमर पर लग रहा था. भारी भारी गोल गोल उभरे हुए गोरे गोरे चूतड़ … जिन्हें अपनी हथेलियों से बड़े ही हल्के से दबाता हुआ अलग करता है … दरार चौड़ी हो जाती है … दरार के बीच थोड़ी सी डार्कनेस लिए गान्ड के छेद की चारों ओर का गोश्त … गांड की सूराख पूरी बंद हुई … पर चारों ओर का गोश्त एकदम टाइट! बन्द सूराख इस बात की गवाही दे रहा था कि गान्ड में कोई लंड अंदर नहीं गया है … और पूरी दरार चिकनी और चमकती हुई. बीच-बीच में वो कह रहा था- साली … आह्ह … तुझे तो जिन्दगी भर मैं अपनी रंडी बना कर रखूंगा.

मैंने कहा- हां बिल्कुल!तो उसने कहा- ठीक है, तो आज शाम को सात बजे तुम एकदम छोटे और सेक्सी कपड़े पहनकर तैयार हो जाना. कल्पना मेरे हर धक्के पर जोर से बोलती- आह मेरे राजा … और तेज … आज फाड़ दो मेरी चूत को … ताकि वहां मैं सुकून से रह सकूं. मैं भी एक बार फंसकर जान चुकी हूँ कि आप जो बोल रहे हैं वही सही है।मुकुल राय- देखो बेटी, पहली बार सेक्स करते समय थोड़ा सा दर्द होता है। तुम सिर्फ उस दर्द को बर्दाश्त कर लेना उसके बाद तुम्हें अपनी जिंदगी का सबसे ज्यादा मजा महसूस होगा।तुमको मुझसे एक वादा करना होगा कि तुम आज जो हुआ वह या तुम अपने सेक्स वाली बात किसी को भी नहीं बताओगी; अपनी किसी खास सहेली को भी नहीं.

कॉलेज के एक साइड के कुछ कमरे लड़कियों को और दूसरी तरफ के कमरे लड़कों के लिए तैयार थे. दोस्तो, मैं आपकी प्यारी सी दोस्त प्रीति शर्मा। मेरी पिछली कहानीमेरे पति का दोस्त मेरा दीवानाकई महीने पहले हमारी प्यारी सी साईट अन्तर्वासना पर प्रकाशित हुई थी.

आंटी प्लीज!”उसने उसे अपने चंगुल से मुक्त करने के लिए धक्का दिया और कहा- हम सीमा को पार कर जाएंगे और मैं ऐसा नहीं चाहती.

उसके बाद मीनू ने मेरे लंड को चूसना शुरू कर दिया और मैंने उसको बेड पर गिरा कर उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया.

मैंने फिर उसकी टी शर्ट के अन्दर हाथ डाल दिया, तो पाया कि उसने अन्दर ब्रा नहीं पहन रखी थी. पति को इशारा करते ही उन्होंने उन्होंने आधा लंड मेरी चूत में उतार दिया. अब वो जाग गई और बोली- ये क्या कर रहे हो?इस बार मैं डर गया और मैंने उसे छोड़ दिया.

मैं कई बार चाची की गांड और चूचों के बारे में सोच कर मुठ मार चुका था. पीछे से जीजा भी मेरे कान में आकर बोले- हां, तुम अपने यार से ऐसे ही बात करती रहो, उसे भी सुनने दो तुम्हारी तड़प. इतनी हॉट भाभी को बांहों में लेने के ख्याल से ही मेरा लंड खड़ा हो कर भाभी के प्रस्ताव को स्वीकृति दे रहा था.

दीदी ने मेरी उत्तेजना को देख कर मेरी ब्रा का हुक खोल दिया और मेरे बूब्स को चाटने लगी.

हालाँकि अभी इन सबको आये एक-डेढ़ महीना ही हुआ है पर आपस की मिलनसारी और खुलापन इन सबको परिवार की दूरी नहीं खलने देता. आप लोग तो जानते होंगे कि ठंड के मौसम में पार्क कितना अच्छा लगता है. वो बोली- हां सच्ची … मेरी मम्मी को भी अंकल ऐसे ही 7-8 मिनट तक करते हैं.

ट्रेन बहुत धीरे धीरे चल रही थी, बार बार रुक रही थी, इस वजह से ट्रेन काफी लेट हो गई. यह सुनकर मेरा जोश बढ़ गया और मैं उनके लंड को और भी जोर के साथ चूसने लगा. उसने बोला- मेरी गांड में ही निकाल दो … मैं इसको और इस पल को महसूस करना चाहती हूं.

अब मैं हैंडसम तो था ही, तो मुझे मेरी क्लास की लड़कियां मुझे खुद ही लाइन देती थीं, पर मैं किसी को भाव नहीं देता था.

उसका दिल भी दौड़ रहा था और उसे लग रहा था जैसे उसका सपना सच हो रहा है. मैं लंड से धक्के लगातार लगा रहा था और वो चूत उठा कर चुदाई के मजे ले रही थी.

एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ न्यू ज्योति ने दरवाजा खोला तो सामने वाली आंटी आई थीं, उनको ज्योति से कोई काम था. मम्मी बोलीं- तुम्हारी साँस फूली हुई क्यों है?मैंने कहा- अभी मेरी आंख खुली है, मैं कोई सपना देख रही थी … और शायद इसलिए ही ऐसा हो गया होगा.

एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ न्यू उसने शायद नीचे से ब्रा नहीं पहनी हुई थी क्योंकि अभी तक मुझे उसकी ब्रा की पट्टी नहीं दिखाई दी थी. फिर जीजा ने मेरी गांड के छेद को अपने थूक से भर दिया और फिर अपने लंड के टोपे को मेरी गांड के छेद पर लगाकर जोर देने लगे.

और समीर का भी क्या क़सूर … तुम हो ही इतनी ख़ूबसूरत कि तुम्हें देखकर किसी भी आदमी का खड़ा हो जाए!” महेश ने इस बार अपने हाथ को अपनी बेटी की पेंटी तक लाकर उसे सहलाते हुए कहा।पिता जी आप यह क्या कह रहे हैं? मैं आपकी बेटी हूँ.

गधा की सेक्सी बीएफ

इसके बाद दोनों ही अपनी अपनी चूत को चूसने लग गए और दोनों ने ही अपनी चुत वालियों के मम्मों को निचोड़ना शुरू कर दिया. इस बार वो लंड की गोटियां चूसते चूसते गांड के छेद तक जीभ घुमा रही थी. इससे पहले की वो मुझसे कुछ कहती मैंने उसको अपनी तरफ खींचा और उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये.

जब वो उचकते उचकते थक गई तो बगल में लेट गई और हाथ से करतब दिखाने लगी. मुझे अपनी कोमल नर्म जांघों पर उसके हाथों की छुअन अच्छी लग रही थी और मजा आने लगा था. फिर मैंने एक-एक करके उसके ब्लाउज के सारे हुक खोल दिये और उसका ब्लाउज निकाल दिया.

भाई के साथ मैंने भी जंगली सेक्स किया है और उसकी तो मैं दीवानी भी हूं.

वो जग रहा था पर उसने एक बार भी मुझे नहीं रोका।उस समय के लिये वह रात बहुत भयावह थी पर आज जब सोचता हूं तो लगता है कि काश आज फिर मेरे साथ ऐसा होता!तो भाइयो, जल्द ही अपनी अगली सच्ची कहानी लेकर हाजिर हूँगा और उसमें आपका परिचय अपने घर के सदस्यों से भी करवाऊँगा।उम्मीद है कि मेरे भाइयों को यह कहानी पसन्द आयेगी. मेरी इस हरकत पर दीदी थोड़ी सी हिली और उसने मेरा हाथ अपनी चूत से हटा दिया. मैं उठने ही वाला था कि वो भी कप उठाकर मेरे साथ ही किचन की तरफ बढ़ने लगी.

ममता को तो जैसे बहुत मज़ा आ रहा था और अंकल जी का लंड तो जैसे पूरा अकड़ रहा था. उसने मुझे देखा और रोने जैसी शक्ल बना कर बोली- देव … मैं आपसे शादी करना चाहती हूं. जैसे जैसे उसके होंठ मेरी चूत के नजदीक पहुंच रहे थे मेरे अंदर सेक्स की आग और तेज होती जा रही थी.

अंकित और सीमा कुछ ज्यादा ही सेक्सी थे तो कई बार अंकित अपने मोबाइल का ब्लूटूथ ओन करके पोर्न मूवी लगा देता जिस पर सभी एतराज तो करते पर देखते सब थे. चाची- आह अब आया मजा … मैं कितना भी चोद लूँ … मगर अभी जो तू चोद रहा है … उसके बराबर कोई मजा नहीं है.

मैं जॉब में हूं। नौकरी के ही एक डिपार्टमेंटल ट्रेनिंग में जबलपुर आया. दोस्तो, मैं आपके सामने एक बार फिर से अपनी एक नई हिंदी गे सेक्स स्टोरी लेकर आया हूँ. उधर परीशा के लिए अब इस गति से अन्दर बाहर हो रहे लंड को चुसना संभव नहीं था, वो तो बस अपने होंठों और जीभ के इस्तेमाल से जितना हो सकता लंड को सहलाने की कोशिश कर रही थी। खुद वो अपनी टांगें आपस में रगड़ कर उस सनसनाहट को कम करने की कोशिश कर रही थी जो उससे बर्दाश्त नहीं हो रही थी.

रात में जब हम लोग नीचे जमीन पर बिछे गद्दे पर सो रहे थे तो मैं भी उनके साथ ही लेटा हुआ था.

फिर देखते ही देखते भाभी ने पूरा का पूरा लंड अपने मुँह में ले लिया और तेज तेज चूसने लगीं. मैं जब भी उससे चुदाई करने की कहता तो वो कोई न कोई बहाना बना देती थी. मैं उसकी रेशमी ब्रा के ऊपर से ही उसके मम्मे दबा रहा था और उसके होंठों को किस कर रहा था.

अब सारिका ने राहुल का हाथ पकड़ कर कहा- चलो तुम्हें अपना फ्लैट घुमाती हूँ. वो मुझे अपने साथ अपनी सीट पे ले गए जहां भाभी और उनकी दो साल की बेटी भी थी।अब भाभी की खूबसूरती बयां करता हूँ.

”मुझे पता है कि यह मेरी ओर से गलत है क्योंकि आप मेरे सबसे अच्छे दोस्त की माँ हैं लेकिन आप मेरे लिए उससे कहीं बढ़कर हैं. तभी महेश ने एक झटका मारा और नीलम की चूत में पूरा लंड समा गया क्योंकि नीलम की चूत एकदम गीली थी इसलिए लंड फच्च से अंदर चला गया. अब मैं उसकी कुंवारी चूत को चाटने लगा … बिल्कुल साफ गुलाबी चूत थी उसकी … एक भी बाल नहीं था.

बीएफ शॉट दिखाइए

चूंकि मैं संजना की मदद नहीं कर पाया और उसकी मदद करने की बजाय उल्टा उस पर ही गुस्सा कर रहा था.

उसने दर्द से अपनी आंखें बंद कर लीं और होंठों को दांतों से दबा लिया. जब वो भी सेक्स के लिए उत्तेजित हो गये तो उनके लंड से नमकीन पानी रस कर बाहर आने लगा. मैंने ना में सर हिलाया, तो मॉम ने कहा कर लो बेटा, जो करना है, लेकिन आज भर ही बस … ये सब रोज रोज नहीं होगा.

लेकिन उसकी बातों को अनसुना करते हुए मैं एक ज़ोर का धक्का और मारा और अपना लंड उसके चूत में अंदर तक घुसा दिया और शांत हो गया. दस मिनट तक मैंने बड़े ही प्यार से उसकी कमर की मालिश की और इस दौरान कई बार उसके चूचों को छू लिया. बीएफ 16 साल की लड़की के साथपर मुझे पता था कि शायद मेरे और ईशिता, जो मेरी खास सहेली है … हम दोनों के मार्क्स शायद कम हों.

ऐसे करते करते दिन निकले और चार दिन बाद हम लोग अमृतसर के एक कॉलेज में गए. ” मैं मना कर रही थी पर अमित कहाँ मानने वाला था, वो मेरे स्तन दबाकर और किस करके मुझे मनाने की कोशिश करने लगा- एक बार भाभीजी … प्लीज … नीचे नहीं तो एक बार मुँह में ले लो … प्लीज … एक बार …उसका खड़ा लंड देख कर मैं भी पिघल गयी और पेट के बल सोते हुए मैं उसका लंड चूसने लगी.

वो बोली- क्या बात है जीजा जी, कुछ चाहिए क्या आपको?मैंने मन ही मन कहा- तुम्हारी चूत!फिर उसके सवाल का जवाब देते हुए बोला- बस खाने का इंतजार कर रहा था. मैंने एक बार मेरे पति से इसका जिक्र किया था, तो वो बोला था कि छी … कुछ भी करने के लिए मत बोल. उसके दोस्त ने कहा- कहा करती थी साले मार धक्के चूत को … यह काम क्या तेरा बाप करेगा?इसके बाद शिवानी पलट कर बोली- हरामी की औलाद … जब तुझे पता है तेरी मां अपनी चूत चुदवाते हुए क्या कहती थी, तो फिर किसलिए फालतू की बातें बोल रहा है.

उसने वो गोलियां अपनी फैमिली के सभी सदस्यों को रात में दूध में मिला कर खिला दीं. आज पहली बार उसकी चुदाई की तसल्ली उसके चेहरे पर साफ दिखाई दे रही थी. लेकिन जैसे ही लंड का सुपारा मेरी गांड में घुसा, तो ऐसा लगा जैसे मेरी गांड फट गई.

वह बुरी तरह मेरे पीछे चिपका था, उसने हाथ मेरे अंडरवीयर में डाल दिया.

मैंने उनके होंठ चूसने शुरू कर दिए और अपना लंड उनकी चुत के ऊपर घिसने लगा. मैंने चयन से कहा- यार एक कोई मिल जाए … जो लंड चूस ले, तो मज़ा आ जाएगा.

राहुल ने अपना पेग ख़त्म कर लिया था तो सारिका ने जबरदस्ती उसका पेग फिर भर दिया. ”अच्छा? फिल तैसे थीत हुए?” गौरी की आँखें जैसे चमक ही उठी। उसे लगने लगा था अब तो उसकी समस्या का समाधान अवश्य ही मिल जाएगा।यार प्राइवेट बात है. ये बोलते हुए स्मायरा अपने चूतड़ों को लंड के झटके की लय से लय मिलाते हुए उछाल रही थी.

उन्होंने मुझसे पूछ ही लिया- तुम्हारी कोई गर्लफ्रैंड नहीं है क्या?मैंने बोल दिया- नहीं है. मगर मैंने ज्यादा इस बात को तवज्जो नहीं दी क्योंकि आशा हमारी नौकरानी थी और वो हमारे घर के किसी भी हिस्से में जाने के लिए आजाद थी. शायद वो यह सोच रही थी कि अगर उसको गर्भ ठहर गया होगा तो ऐसी दवा खाने से नुकसान हो सकता है.

एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ न्यू मैंने कहा- मॉम मैं साफ कर दूँ?मॉम बोलीं- बेटा आज ऐसे ही कर ले, बुर साफ करने लगेगा … तो देरी होगी और सुमन, चांदनी आ जाएंगी. परवीन- ये क्या कर रही है? और हो क्या रहा है ये?चाची- कुछ नहीं … तुम अच्छे से मज़े लो.

लड़की का सेक्सी बीएफ

फिर रात में हम सबने साथ ही डिनर किया और अपने अपने कमरों में सोने चले गए. मैंने आंटी की गांड को अपने हाथों से पकड़ लिया और जोर से अपने लंड पर पटकने लगा. दीदी को पता नहीं क्या लगा कि वो बात खत्म करके उठते हुए मुझसे बोलीं- चल तू अब नहा ले.

उनके बच्चे वगैरह सब लोग अमेरीका में रहते थे, भारत में सिर्फ़ अंकल आंटी रहते थे. मेरे बाप ने कभी उसको टोका नहीं, शायद वो भी जानते थे कि उनकी कमाई से घर के खर्चे पूरे नहीं होते. बीएफ वीडियो हिंदी मूवी सेक्सीमैंने कहा- हां ये तो है … पर इस बात से तुम्हारा मतलब क्या है?उसने कहा- कुछ नहीं … आप लेटो, मैं रसोई का काम खत्म करके आती हूँ.

वो बोला- क्या हुआ?मैंने कहा- ये सब गलत है भैया!वो बोला- अभी तो तुमने ही सब किया है मेरे साथ तो फिर गलत कैसे हो गया.

मगर तुम ऐसे शरमाओ मत। जिस तरह मैं तुम्हारे जिस्म को अपनी आँखों में समाना चाहता हूँ वैसे ही तुम भी आज अपने इस दीवाने की तस्वीर अपनी आँखों में क़ैद कर लो. ग़लती से उन्होंने अपना दुपट्टा, जो कि मूतते समय उतारा होगा, उसे वही टंगा छोड़ कर ले जाना भूल गईं.

वो बोली- सब सो रहे हैं और पापा भैया हॉस्पिटल गए हैं, वे सुबह ही आएंगे. मैं आपकी हेल्प करूँगा।चलिये अब ज्यादा समय बर्बाद न करते हुए अपनी आज की कहानी की शुरूआत करते हैं। मैं अपने कुछ दोस्तों के साथ दमन(दीव) गया हुआ था. ” समीर अपना लंड बहुत तेज़ी के साथ अपनी बहन की चूत में अंदर बाहर करता हुआ झड़ने लगा।ओहहह स्स्स … भैया आप बहुत अच्छे हो, आह्ह्ह्ह मैं भी आई.

अगली स्टोरी में मैं बताऊंगा कि कैसे मैंने सुलक्षणा की मम्मी को भी चोद दिया.

तभी उसने तेल अपने हाथों में लिया और मेरी चिकनी टांगों पर लगाने लगा. वहां पर हम दोनों ने मिलकर ब्लू फिल्म देखी और फिर साथ में मुट्ठ मार कर अपने लौड़ों को शांत किया. वो अभी भी लेटी हुई थी और मेरी तरफ बड़ी ही प्यार भरी नज़रों से देख रही थी.

ब्लू बीएफ बीएफ बीएफ बीएफमुझे एक ख्याल आया कि ये लड़की खेली खाई है क्यों न इसकी गांड मार ली जाए. तभी भाभी का फोन आया और कहा- तुम अचानक चले क्यों गए?मैंने कहा- कुछ नहीं … बस ऐसे ही.

बीएफ सेक्सी मां बेटे की

सारिका शर्मा गयी और उसने मुस्कुराते हुए सॉरी बोला और वाशरूम की ओर चली गयी. पति ने चलते हुए ही अपना लंड दो-तीन बार मेरी गांड पर लगा कर ये बता दिया था कि आज मेरी गांड की चुदाई जमकर होने वाली है. मैं उसके लन्ड को सहला रही थी और वो मेरे जिस्म पर हाथ फिरा रहा था, कभी मेरे बूब्स पर से हाथ ले जाता हुआ मेरी कमर पर और फिर मेरी गांड पर ले गया.

परवीन- कहां जा रही है? कब आएगी? मुझे बुला कर अब अकेली छोड़कर जा रही है. मगर उसकी तरफ से कोई सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं मिलने के कारण मेरी भी हिम्मत नहीं पड़ रही थी. यह सुनकर मुझे काफी अच्छा लगा, मैंने भी ज्योति से फ्री होकर बैठने को कहा और घूंघट ना लेने के लिए कहा.

वो जोर से सिसकारियां लेते हुए चिल्ला रही थी- मर गई … उईई … आह्ह … हाय रे दैया! उसके आनंद को मैं उसके चेहरे पर साफ-साफ देख रहा था. उसके कहने पर मैं झुक गई और उसने पीछे से मेरी प्यासी, चुदासी और गीली चूत में अपना लंड घुसा दिया. सर ने मेरी निगाहों का पीछा किया और हम दोनों से भी पूछा- आप दोनों भी मुझे कंपनी दो ना.

अब मैं प्रशांत को हर दिन इसी तरह किसी न किसी बहाने से अपनी चूत के दर्शन करवा देती थी ताकि वो मेरी चूत को चोदने के लिए मचल जाये. चाची- तुम दोनों के जितने बड़े मेरे मम्मे भी हो जाएंगे … मेरे बेटे की वजह से.

आपको पता है … ये सब क्यों करते हैं?चाची- नहीं … क्यों?मैं- औरत ज़्यादा देर तक झड़ती नहीं है.

घर ढूँढने में मेरे पिताजी के सहकर्मी की बीवी ने हमारी सहायता की और उनके बाजू वाली बिल्डिंग में ही हमें एक घर मिल गया. बीएफ फीलमउनके लंड को हाथ में पकड़ कर मैं आगे चलने लगी और पति पीछे-पीछे चलने लगे. सेक्सी साडीवाली बीएफक्यूं, ऐसा क्यूं लगा तुझे?” मैंने अनजान सा बनने की कोशिश की।रहने दे, मैं बहन हूं तुम्हारी! मुझसे ज्यादा बनने की कोशिश करना बेकार है।” सुमिना ने जैसे मेरे मन में उठती प्यार की उमंग की पतंग की डोरी अपने शब्दों के हाथ से वापस अपनी तरफ खींचते हुए कहा।ऐसी कोई बात नहीं है, जैसा तू सोच रही है! चुपचाप अपना लंच कर और मुझे मूवी देखने दे. उसका गठीला बदन था और उसकी मजबूत बाजुओं में कस कर वो मुझे अपने अंदर ही समा लेना चाहता था.

उसका पूरा जिस्म मज़े से झटके खा रहा था और वह अपने हाथ को सीधा करने की कोशिश कर रहा था मगर ज्योति ने जल्दी से अपने मुँह को वहां से हटाते हुए अपने भाई के दोनों हाथों को अपने हाथों से पकड़ लिया।ज्योति अपने भाई के हाथों को पकड़ कर खुद नीचे हो गई और अपने होंठों को अपने भाई के होंठों के बिल्कुल क़रीब कर लिया। समीर को अपनी बहन की साँसें महसूस होने लगी.

मैंने खाना खाया और पूछा- फूफा जी कहां हैं?तो पता चला कि आज वो नाइट ड्यूटी कर रहे हैं और सुबह आएंगे. कुछ देर इधर-उधर की बातें करने के बाद मैं उसको फिर से उसी विषय पर ले आया जिस विषय पर उसके जाने के पहले हम लोग बातें कर रहे थे. जब तीन दिन गुजर गये तो मेरी बेटी ने कहा कि अब उसको कॉलेज जाना है नहीं तो फिर पढ़ाई का नुकसान हो जायेगा.

एक दिन करण ने मुझसे मूवी देखने चलने के लिए पूछा तो मैंने तुरंत हां कर दी क्योंकि मुझे उम्मीद थी कि मेरी चूत की नए लंड की प्यास शायद मिटने वाली है. मैंने पहले ब्लू फिल्म्स में देखा था ऐसा होते हुए, तो मुझे पता था कि अब क्या करना है. भाभी ने लंड का स्पर्श अपनी चूत की फांकों पर महसूस किया, तो उन्होंने अपनी टांगें फैलाते हुए हवा में उठा दीं.

साउथ के बीएफ वीडियो

”हम सब हँस पड़े।अंशु ने शैली की चुचियाँ पकड़ीं और ज़ोर से मसली- तू पहले से उपिंदर का लेती है?अंशु, उपिंदर तो तबसे मेरा जीजा है जब दीदी उसकी गर्लफ्रेंड थी, और जीजा के साथ तो आपको पता ही है. हमारे बेडरूम में से ही अन्दर वाले कमरे का दरवाजा बना हुआ था जिसमें अनीता सोती थी. हम जिस बेड पर लेटे थे, वो बेड थोड़ा छोटा था, तो मैं चाहकर भी सुमन से और ज्यादा दूर नहीं हो सका.

मैंने पूछा- हां फिर क्या कहा सर ने?वो बोला- चिंता करने की कोई बात नहीं … मैंने सब सैट कर दिया है.

नहीं बेटी, अब ऐसे नहीं डालूंगा, तुम्हें अपनी जुबान से कहना होगा कि पिता जी आप मेरी चूत में अपना लंड घुसाओ.

मैंने उसके गले पर काटना शुरू किया … इससे वो और ज्यादा उत्तेजित हो गई. फिर मैंने दीदी को यह बात बताई तो दीदी को मेरी बात पर यकीन नहीं हुआ क्योंकि ने दीदी ने कभी अपने भाई की तरफ ध्यान ही नहीं दिया था. ब्लू बीएफ सेक्स चुदाईये महसूस करते ही वो बोली- यार, तुम तो बहुत जल्दी मन की बात समझ लेते हो.

समीर के जाते ही नीलम ने भी अपनी आँखें खोल दीं। उसे कई दिनों से अपने पति पर शक था क्योंकि जहाँ हर रोज़ वह उसे चोदने के लिए मरा जाता था वह कई दिनों से उसके क़रीब तक नहीं आया था।नीलम जल्दी से उठकर दरवाज़े तक आ गयी और वह अपने पति को देखने लगी कि वह कहाँ जा रहा है। समीर सीधा अपनी बहन ज्योति के कमरे में घुस गया, नीलम को यह देखकर बहुत हैरानी हुई कि इतनी रात को समीर अपनी बहन के कमरे में क्या करने गया है. फिर थोड़ी देर बाद उसने मुझसे कहा- नाराज हो गए क्या?मैंने मन में सोचा कि मतलब अब सिग्नल ग्रीन है. तभी भाभी ने झुक कर अपने मम्मों को दिखाते हुए कहा- मेरा एक काम करोगे?मैंने कहा- हाँ क्या काम है बताओ?भाभी ने कहा- ये लो ट्यूब … इससे मेरे बदन की मालिश कर दो.

मेरे लंड का पूरा पानी मैंने उनकी चूत में ही छोड़ दिया, उनकी चूत से भी जबरदस्त धार लग गयी थी. इससे पहले कि वो अंदर जाती … मैंने उनका हाथ पकड़ कर खींचा और सीढ़ी के नीचे ले गया और उनको वहीं दिवार पर टिका कर उनकी गर्दन पर चुम्बन करने लगा। उन्होंने गुर्राते हुए मुझे डांटा … पर मैं नहीं माना और उनके बूब्स जोर से दबाने लग गया।उन्होंने अपनी पूरी ताक़त से मुझे धकेला और ‘तुझे समझ में नहीं आता बेशर्म … और अगर फिर से ऐसी कोई भी हरकत करी तो तेरे घर वालों के सामने ही तेरा सारा भूत उतार दूंगी.

सहेलियों को पता चल गया और उनके ज़रिये वहां खेलने वाले लड़कों को भी मेरे बारे में पता चल गया.

बगल वाले रूम में जगह है या नहीं, यह तो सबको पता होता ही है लेकिन फिर भी मैं हरएक रूम में झांककर जगह के बारे में पूछ रहा था. ”फिर मैंने उससे वन टाइम पासवर्ड लिया और गाड़ी शुरू कर दी, गाड़ी की ए सी में वह थोड़ा रिलैक्स हो गया।कहां पर जाना है आपको?”जी मुझे स्टेशन पर जाना है. तभी जैसे आंटी ने मेरा दर्द समझा और मेरी जींस का बटन खोल कर मेरी जींस और चड्डी को उतार दिया.

रोमांटिक बीएफ सेक्स सबसे पहले राहुल और शबनम ने नजदीकी बढ़ाई और लगभग चिपट कर धीरे धीरे हिल रहे थे. उसने मेरे बालों को पकड़ लिया और मेरे मुंह को अपनी चूत से वापस हटा दिया.

मैं उसकी दोनों टांगों के बीच में आ गया और अपने लंड को उसकी चूत पर सही जगह सैट कर दिया. इसीलिए तो मैं तुमसे यह सब नहीं कहना चाहता था। बेवजह तुम्हारी नज़रों में मेरी इज्ज़त और कम हो गयी. हाँ उस दिन किसिंग शुरू हो जाती और महफ़िल भी जल्दी बर्खास्त हो जाती क्योंकि सभी चुदासे हो जाते थे.

बीएफ सेक्सी एचडी वीडियो एचडी

मैंने भाभी को लेकर नीचे ही लेट गया और भाभी ने मेरे लंड को गले तक लेकर चूसना चालू कर दिया. फिर उन्होंने बताया- जब एक लड़का दूसरे लड़के के साथ प्यार करता है और सेक्स करता है, उसको गे बोलते हैं. बस वही मित्र मेल करें, जो मेरा हौसला अफजाई करें, मेरे बारे में और मेरी फ्रेंड्स के बारे में जानने की कोशिश करने वाले मेल ना करें.

आंटी के चूचे इतने बड़े थे कि मेरे दो हाथों की पकड़ में ही नहीं आ रहे थे. लेकिन जो भी हो, मुझे तो एक सेक्सी लड़की की चूत फ्री में चोदने को मिल ही रही थी.

अब हम दोनों चुदाई करने का मौका ढूंढ रहे थे कि कब हमें मौका मिले और कब हमको चुदाई का मजा मिले.

जब उसका पूरा ध्यान चुम्बन की तरफ था, तभी मैंने एक ज़ोर का धक्का उसकी चूत में मारा. कोई 5 मिनट चूसने के बाद भाभी बोलीं- इंद्र, अभी हमारे पास बहुत समय है, पहले अन्दर बैठकर कुछ बातचीत करते हैं, बाक़ी काम उसके बाद. राहुल ने सारिका को बेड पर लिटा लिया और उसके लगभग ऊपर लेटे हुए उसके बदन को कसमसाने लगा.

पहली परवीन आंटी, दूसरी हिना आंटी और तीसरी चाची रेशमा और चौथी जस्मीन. तभी उसने मेरा पूरा लंड अपने मुँह में ले लिया और मेरी सिसकारी निकल गयी. ये सोच कर मैं बगल में लेटी मेरी सास को दूर से ही छूने की कोशिश करने लगा.

वो पहले के जैसे लंड चाटने लगा और उसने मेरे लंड को चूस कर साफ कर दिया.

एक्स एक्स एक्स हिंदी बीएफ न्यू: ”हट!”हा हा हा … हम दोनों ही हंसने लगे थे।अच्छा गौरी वो तुमने कल वाली बात तो बताई ही नहीं?”तोंन सी बात?”ओह … तुम भी निरी भुलक्कड़ हो? वो कल शाम को तुम बता रही थी ना कि मधुर भी मेरे बारे में कोई बात बताती है?”ओह … अच्छा वो वाली बात?”हाँ?”आप बुला तो नहीं मानोगे?”किच्च”वो … वो … मधुल दीदी ने बताया ति वो आपसे बहुत प्याल तलती है. रात को सोते समय चाची ने अपनी चूत में खुजली होने के कारण खुद से मेरा लंड चूसा, जोकि उन्हें पसंद नहीं था.

फिर एक दिन मेरे और मौसी के घर वालों को किसी रिश्तेदार के वहां किसी की मृत्यु हो गई, तो मेरे माता पिता के साथ उन सबको भी वहां जाना पड़ा. जैसे ही वो दो कदम चली होगी, मुझे एक बेचैनी सी महसूस हुई कि शायद अब हम नहीं मिल पाएंगे. उसकी चुत चूसते हुए, कभी मैं उसकी चुत के दाने को सहला देता, कभी पूरी जीभ उसकी चुत में डाल देता, जिससे वो देर तक काबू न कर सकी और झड़ गई.

फिर सन्डे को स्मायरा का कॉल आया और उसने कहा- आज फ्री हो तो आप आ शाम को जाओ … साथ में बैठ कर चाय पिएंगे.

उसके बाद आंटी गेट बन्द करके आईं और फिर मुझे लेकर बेडरूम में चली गईं. बैंगलोर के एक प्रतिष्ठित कॉलेज में दाखिला मिल गया था, अतः घर छोड़ कर अपना भविष्य सुरक्षित करने के लिए चल दिया. कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि मेरी बिल्डिंग में रहने वाली औरत के साथ मेरी दोस्ती हो गई थी.